बीएफ सेक्स सेक्स बीएफ बीएफ सेक्स

छवि स्रोत,இந்தியன் செஸ் ஸ்டோரீஸ்

तस्वीर का शीर्षक ,

बुआ जी का सेक्सी वीडियो: बीएफ सेक्स सेक्स बीएफ बीएफ सेक्स, इस चुदाई कहानी में मेरी अम्मी कीगैर मर्दों के साथ चुदाई की कहानीका रस भरा हुआ है.

अच्छा सिंह के सेक्सी

मैं- मैं तो रहना चाहता हूँ, पर आप रहने दोगी क्या?निशा भाभी झूठमूठ का गुस्सा दिखाते हुए बोलीं- दिमाग़ खराब है क्या?मैं- सॉरी भाभी. सेक्सी पिक्चर नंगी नंगी पिक्चरअन्तर्वासना पर सेक्स कहानी पढ़ते हुए मेरे मन में आया कि मैं भी अपनी कहानी साझा करूँ.

मैंने देखा कि मां सो गयी हैं, तो मैं भी उनके बारे में सोचते हुए सो गया. देहाती चाची का सेक्सीबात 15 दिन पहले की है।एक बार ऐसा हुआ कि जब मैं मेरी बीवी को सेक्स के लिए मना रहा था तब मेरी सास हमारी बातें सुन रही थी.

फिर मन में आया कि तुमसे मिल लिया जाये और भाभी के हाथ की एक प्याली चाय पी ली जाये।संदीप अपनी आंखों को मलते हुए- हां यार … क्यों नहीं, गर्म गर्म चाय तो हो ही जाए, आजा अंदर!मैं अंदर घर में आ गया.बीएफ सेक्स सेक्स बीएफ बीएफ सेक्स: ठीक उसी वक़्त शनाज़ के फोन की घंटी बजी, वो हंस कर अपनी अम्मी से फ़ोन पर बात करती करती बाहर चली गई.

मैं अपनी सास के बेड पर बैठ गया और उन्हें छूने की कोशिश करने लगा।उनकी तरफ से कोई हलचल ना होने पर मेरी हिम्मत और बढ़ गयी।फिर मैं अपना हाथ धीरे से उनके चूचियों पर ले गया तो … ये क्या … उनके ब्लाउज के एक के अलावा सारे बटन खुले थे और मैंने पहले ही बताया था कि वो अंदर ब्रा नहीं पहनती तो मेरा हाथ सीधा उनकी बायीं चूची को छू गया.एक घंटे बाद जब मैं अपने घर जाने लगा, तो सर ने बोला कि जो मैंने पढ़ाया है, उसको घर पर जा कर रिवाइज़ करना और कल होमवर्क करके आना … वरना सज़ा मिलेगी.

एक्स वीडियो इंग्लिश सेक्सी वीडियो - बीएफ सेक्स सेक्स बीएफ बीएफ सेक्स

खुशबू दो बार झड़ चुकी थी और अब एक बार फिर से उत्तेजित होकर मेरे लंड से चुदने के लिए मचल रही थी.पिन ढूंढने के बहाने से वो झुकी हुई ही अपनी गांड को मेरे लंड पर दबाने लगी.

मैं- ओह्ह … आपकी चुत तो बड़ी गर्म है … अब मुझे आपको डॉगी स्टायल में चोदना है. बीएफ सेक्स सेक्स बीएफ बीएफ सेक्स उसमें से एक सपना के दूर के चाचा थे, जिन्होंने मुझे ताड़ना शुरू कर दिया.

उसकी चूचियों को चूसने के बाद मैं उसकी जांघों को चूमते हुए उसकी पैंटी निकाल फेंकी.

बीएफ सेक्स सेक्स बीएफ बीएफ सेक्स?

मैंने कहा- चार साल से चुदवा रही हो और चिल्ला ऐसे रही हो, जैसे पहली बार चुदवा रही हो. फिर जब मुझसे रुका नहीं गया तो मैंने रानी की चूत पर लंड को लगा दिया और एक धक्का दे मारा. फिर मैं तैयार होकर जैसे ही नीचे पहुंची, तो सपना ने मुझे अपने पास बुला लिया.

चाची बस वासना से ओतप्रोत आवाजें निकाल रही थी और मजा लिये जा रही थी. मैं तो सोच रहा था कि मैंने उन लड़कियों को पटा कर चोदा है लेकिन असल में उन दोनों ने मुझे अपने जिस्म की प्यास बुझाने के लिए इस्तेमाल किया था. जोश जोश में मैंने उसकी चूचियों को इतनी जोर से मसल दिया कि उसकी बहुत तेज आवाज में आह्ह … निकल गयी.

मैंने किस करते करते अपना एक हाथ उनकी दायीं चूची पर रख दिया और हल्का हल्का सहलाने लगा. मेरी न्यू अन्तर्वासना स्टोरी में पढ़ें कि कैसे मैं अपनी इंस्टीट्यूट के ऑफिस के एक लड़के की ओर आकर्षित हो गयी. अगर मेरी जगह कोई मेहमान या रिश्तेदार होता तो क्या इज्जत रह जाती हमारी?मेरी बात पर उसके होश सफेद हो गये और वो गिड़गिड़ाने लगी- नहीं साहब, गलती हो गयी.

मैंने जैसे ही ये देखा तो समझ गया कि इसको लंड देखना अच्छा लग रहा है. आई लव यू अन्नु।मैं- चारू मेरी जान … मैं नहीं बता सकता आज तुमने मेरी इस अभिलाषा को पूर्ण करके मुझ पर कितना बड़ा उपकार किया है.

जब भी भाभी के पति घर आते, तो वो मुझसे बात करने के लिए बाथरूम में चोरी से फोन लेकर जातीं.

एक पर शिल्पी और नीता को सोना था और एक पर मुझे। कुछ देर तक तो हम लोग बातें करते रहे और फिर धीरे धीरे शिल्पी को नींद आने लगी और वो हमें गुड नाइट बोलकर सो गयी.

मैं आंटी की चुत चोदने का मजा क्या बयान करूं … हाय रे बड़ी मस्त आंटी लंड के नीचे थी. ये बोलकर वो अपने घर की तरफ गांड मटकाती हुई चल दी।मैं उसकी मस्त बॉडी और गांड को देखकर हमेशा आहें भरता रहता थी लेकिन मेरी किस्मत देखो … कभी जिस भाभी को चोदने के सपने भी नहीं देख सका वो आज सामने से कितना गजब का ऑफर दे रही थी. मैंने जोश में कहा- मैं नहीं मानती?उसने मेरे निप्पल को काट कर कहा- कभी अपनी मां को कहना कि खन्ना अंकल दवा की दुकान वाले कुछ बता रहे थे शादी वाली बात, बोल रहे थे कि गिफ्ट देना है तुम्हारे पापा को.

मगर अब मैंने उनकी कुर्ती में हाथ डाला और ब्रा के ऊपर से ही मम्मों दबाने लगा, जो कि थोड़ा अजीब लग रहा था. क्योंकि जो पिछले 15- 20 मिनट में जो हम कर रहे थे वो माँ बेटे के बीच सामान्यतः नहीं होता है।माँ चौंक गयी थी. चाचा जी ने मेरे मुँह से मेरी पैंटी निकाली और अपना लंड मेरे मुँह में डाल कर चुसवाने लगे.

मुझे पता लगा कि मौसी ने नीचे से पैंटी भी नहीं पहनी थी।मैं धीरे धीरे अब मौसी के पूरे चूतड़ पर हाथ फिराने लगा।मेरा लंड खड़ा हो गया था और अब मन कर रहा था कि मैं मौसी की गांड की दरार में भी हाथ से सहलाऊं.

उसने कहा कुछ नहीं बस कार के पीछे गया और पेन से कार का नम्बर नोट किया. वो बोली- गांव आइयेगा तब पहचानियेगा न … शहर में रह कर आप लोगों को गाँव पसंद ही नहीं आती है. अम्मी ने बाहर निकल कर कमरे का दरवाजा बंद किया और फूफा जी के कमरे में पहुंच गई.

वो लंड चूसने में इतनी माहिर हैं कि उनका एक भी दाँत मेरे लंड को नहीं चुभा।उन्होंने मेरा लंड चूस चूस के मुझे पागल कर दिया. मैंने उसकी चूचियों को दबाते हुए और उसके होंठों को चूसते हुए धीरे धीरे अपने लंड को उसकी चूत में पूरा का पूरा धकेल दिया. यह सोच कर मैंने कुर्सी की फोम निकाली और उसमें आग लगाकर खुद को सेंकने लगा.

मेरी गांड की चुदाई की यह कहानी कैसी लगी? मुझे बताइयेगा जरूर![emailprotected].

मैं जब घर में जाकर सोफे पर बैठ गया तो भाभी जी ने पूछा- पानी पिओगे?तो मैंने बोला- नहीं अभी पानी नहीं पीना. एक दिन मैं अपनी छत पर टहल रहा था कि तभी भाभी और उनकी बहन छत पर आ गईं.

बीएफ सेक्स सेक्स बीएफ बीएफ सेक्स मैंने कहा- छोड़ो … पागल हो क्या … ये क्या कर रहे हो … मैं अभी घर में सब को बता दूंगी. मैंने दीदी की चूत पर होंठों से चूमा और उसकी चूत की खुशबू मुझे आने लगी.

बीएफ सेक्स सेक्स बीएफ बीएफ सेक्स और फिर मामी का पेटीकोट उठा कर उसमें घुस गया और उनकी रसीली रस टपकाती चूत को अपने होंठों और जीभ से चाटने लगा।यह सुखद अनुभव शायद मामी ने पहली बार लिया था क्योंकि इस अनुभव को पाकर उनकी कामुकता भरी ‘उफ़ हह ओह्ह फ़क आह आह आह हह उई मा आह आह’ की सिसकारियाँ पूरे घर में गूँजने लगी. भाभी की आंखों के आंसू एकदम से सूख गये और वो मेरी जीभ की छुअन के मद में वासना की ओर बढ़ने लगी.

तभी रिंकी बाहर आई और बोली- तुम यहां?तो मैंने बोल दिया- हां, अंकल तुम्हारा ध्यान रखने लिए बोल कर गए हैं.

तेरे नाल प्यार हो गया

और मैं रात तक वहीं कुएं पर नहाकर खेत पर बने छोटे से कमरे में रुकता।रात को 8 बजे मौसी आती और वो रात भर वहीं रुकती खेत की रखवाली करने।मैं और माँ घर पर सोते थे।हमारा खेत गांव से काफी दूर था. उसमें से एक दिनेश अंकल थे, जो पापा और मॉम के काफ़ी अच्छे दोस्त भी थे. हम दोनों ने पहले तो किस किया और फिर वो मुझे लिटा कर मेरे चूचे दबाने लगा.

आप लोगों की इस बारे में क्या राय है मुझे अपने विचार और सुझाव कमेंट्स जरिये जरूर बतायें. उसकी सिसकारियों ने मुझे भी झड़ने पर मजबूर कर दिया और हम दोनों एक साथ झड़ गए. कुछ मिनट बाद उसको भी मज़ा आने लगा और वह अपनी गांड उठा उठा कर चुदवाने लगी.

कुछ देर बाद उसकी चीखें आना बंद हो गईं और वो अब लंड के मजे लेने लगी थी.

शकील ने हंसते हुए कहा- तुम मेरा लंड कई बार खा चुकी हो, मैं हर बार तुम्हें रंडी की तरह चोदता हूं. वीर्य निकलने के साथ ही मेरा जोश एकदम से कम होता चला गया और मैं निढाल होकर मामी के ऊपर ही पड़ गया. फिर जैसे ही भाभी वापस जाने के लिए मुड़ती थीं, मैं अपनी निगाहें भाभी के मटकते चूतड़ों पर गड़ा देता था.

फिर शांता बर्तन धोने के लिए चली गयी और मैं सोने के लिए चला गया।अभी तो रात बाकी थी. अब तो आलम ये ही गया था कि रोज रात को दोनों बुआएं बच्चों को सुला कर उनका कमरा बाहर से बंद करके मेरे कमरे में आ जाती थीं और हम चुदाई करते हुए मजा लेने लगते थे. एक शाम मॉम के बॉस डिनर पर हमारे घर आये और …नमस्कार दोस्तो!यह एक रियल सेक्स स्टोरी है.

तेज धक्कों से माही रोने लगी और बीच बीच में मुझे गालियां देती रही- आआहह उम्म्ह… अहह… हय… याह… मादरचोद कुत्ते साले अह्ह आईईई … भैन के लंड धीरे चोद साले … थोड़ा धीरे कर … मैं तेरी कोई रांड नहीं हूँ … धीरे कर साले!उसकी गालियां सुनकर मुझे और जोश चढ़ रहा था. उस फौजी ने कहा- मैं भी झड़ने वाला हूँ सोनाक्षी!बस 5 मिनट की धकापेल चुदाई के बाद दीदी झड़ गईं और साथ ही वो भी झड़ गया.

मैं पास ही में हुई क्रिसमस पार्टी से आ रहा था कि बीच रास्ते में ही बारिश होने लगी. पर आराम से डालना आप!मैंने कहा- ठीक है।उसकी कमर को मैंने कस कर पकड़ लिया और लन्ड पर दवाव बनाया तो उसका सुपारा उसकी गांड की छेद के अंदर चला गया।उसके मुँह से एक जोर की चीख निकल गयी- उईइ माँ मर गयी … निकालो भैया!उसने लन्ड अपनी गांड में से निकलने की कोशिश की. मैं भाभी की चूत को चाट रहा था, तभी उनकी चूत ने पानी छोड़ दिया और मैंने वो पूरा पानी पी गया.

वो सर्दियों की छुट्टियों में आई हुई थी और मैं तो बहुत खुश था उसको देखकर.

उसने अपने नाखून मेरी पीठ पर गड़ा दिए थे। मैंने धक्के लगाने चालू रखे. वो मुझे आश्चर्य से देखता रहा तो मैंने उसके पैन्ट के ऊपर से उसके लण्ड को सहला दिया और कहा- अब यकीन है?उसने कहा कि उसे यकीन है. अब कभी वो आगे होतीं, तो कभी पीछे होकर मेरे खड़े लंड को अपनी गांड के साथ रगड़ देतीं.

लेकिन मैं इस बात से एकदम अनजान अपनी आपा की चूत में अपनी बीवी की चूत समझ कर उंगली कर रहा था. कोई पांच मिनट चूत चोदने के बाद मैंने उसे अपनी गोद में बिठा लिया और लंड को चूत में डालकर उसकी चूचियों को मसलने लगा.

बुआ ने थोड़ी दूर जाकर मुझसे कहा कि तू यहीं कर ले, मैं थोड़ा आगे जाती हूं. इसी लालसा के कारण शादी में भी मैं अब चारू को किसी न किसी प्रकार से अपनी ओर आकर्षित करने की कोशिश कर रहा था. वो आँखें बंद करके मज़ा ले रही थी।इसके बाद मैंने बाये हाथ से उनके साया की डोरी को खींच दिया और वो खुल कर नीचे गिर गया। फिर उनको पलट कर मैंने अपने सीने से लगा लिया और उनके होंठों को अपने होंठों में लेकर चूसने लगा।वो भी मेरे होंठों को चूस रही थी.

न्यू सेक्सी वीडियो हिंदी में

तभी बातों ही बातों में मैंने भाभी से कहा- आप दोनों की जोड़ी बहुत अच्छी लगती है … तभी आप दोनों ख़ुश रहते हो.

इस पर उल्फ़त हंसने लगी और बोली- तो अपनी इसी तीखी मिर्ची से फ्रेंडशिप कर लो. दरवाजा खोलते ही वह मुझसे लिपट गयी खूब तेजी से हम दोनों एक दूसरे से लिपट गए और अपनी धड़कनों को सुनने लगे. मम्मी- आह आह उफ उफ …मेरी जीभ, मम्मी की चूत की नमकीन दीवारों को चाट रही थी.

और अगर बात खुल जाती तो बदनामी होती। अच्छा है घर में ही लन्ड मिल जाएगा तो बाहर नहीं जाएगी और घर की बात घर में ही रह जायेगी।यह कहते हुए उन्होंने मेरा लोवर और अंडरवियर नीचे सरका कर मेरे लन्ड को अपने हाथों में ले लिया और बोली- साइज़ तो अच्छा है. मैं आंटी की चुत चोदने का मजा क्या बयान करूं … हाय रे बड़ी मस्त आंटी लंड के नीचे थी. सेक्सी नाइट ड्रेसउस समय वो मस्त माल लग रही थी जैसी कि इंडियन सेक्स वेब सीरीज में रसीली भाभियां दिखाई जाती हैं.

मैंने पूछा- क्या हुआ?तो नजमा बाजी मुझे वहां से अलग दूसरी ओर ले आईं. भाभी करीब 2 मिनट बाद जब वॉशरूम से आई … तो मैंने गौर किया कि भाभी का अंदाज़ कुछ बदला हुआ सा था.

अपने फर्स्ट टाइम सेक्स की भाभी की चुदाई की यह मजेदार कहानी यही ख़त्म करता हूँ. तभी लड़की ने नीचे बैठ कर उस आदमी के लंड को अपने मुंह में भर लिया और जोर जोर से चूसने लगी. मैंने अपनी छाती के निप्पल सहलाते हुए कहा- ऐसा क्या ख़ास देख लिया है भाभी जी?भाभी ने एक मादक अंगड़ाई लेते हुए कहा- मेरी जवानी आपका भोग लगाने को मचलने लगी है.

मैंने उसके मुँह से लंड निकालना चाहा, मगर उसने लंड बाहर निकालने ही नहीं दिया. इसी के साथ उसने अपने होंठों को खोल दिया और उसी समय मेरी जीभ ने उसके मुँह में हमला कर दिया. मेरे मुँह में उसकी चुत की फांकें रस छोड़ रही थीं और उसके मुँह में मेरा लंड अपनी कबड्डी खेल रहा था.

उस समय भाभी नहाकर आयी थी तो उसके बाल भी खुले हुए थे और आँखों में काजल डाला हुआ था।हालांकि वो नहाकर हल्का मेकअप करती हैं तो उस समय उसने वो किया हुआ था।वो मेरे लण्ड पर एकटक नजर गड़ाये खड़ी हुई थी.

मैं अपनी सास के बेड पर बैठ गया और उन्हें छूने की कोशिश करने लगा।उनकी तरफ से कोई हलचल ना होने पर मेरी हिम्मत और बढ़ गयी।फिर मैं अपना हाथ धीरे से उनके चूचियों पर ले गया तो … ये क्या … उनके ब्लाउज के एक के अलावा सारे बटन खुले थे और मैंने पहले ही बताया था कि वो अंदर ब्रा नहीं पहनती तो मेरा हाथ सीधा उनकी बायीं चूची को छू गया. फिर मैंने अपने लंड को रानी की चूत से निकाल दिया और पिंकी को रानी के ऊपर ही घोड़ी बनने के लिए कहा.

मैंने पूछा- भाभी आप अपने पति और बेटे को क्या बोलोगी?तो वह बोलीं- मैं उन दोनों को मना लूंगी कि मैं अपनी सहेली की शादी में जा रही हूं. ब्लाउज में चाची के मोटे चूचे देख कर मुझे अपनी आंखों पर यकीन नहीं हुआ. मैंने फिर से उसकी रस से भरी गन्दी कच्छी उसके मुँह में डाल दी … ताकि चीखने की आवाज ज्यादा जोर से नहीं आए.

लेकिन मेरा फिर से मन भी करता है कि कोई ऐसा मेरी लाइफ में फिर से आए जो अच्छा हो, सच्चा हो और मेरे लिए हमेशा खड़ा रहे!तो दोस्तो, यदि मेरी चूत चुदाई की कहानी थी, आपको कैसी लगी? प्लीज मुझे ईमेल कर कर जरूर बताएं. दो मिनट ही हुए थे कि उस लड़की ने बूढ़े के गाल पर जोर से तमाचा मारा और बोली- अब चूसते ही रहोगे या और कुछ भी करोगे?इतना बोल कर लड़की ने बुड्ढे की पैंट की चेन को खोल दिया और उसके लंड को बाहर निकाल लिया. अब समीर मेरे पीछे आ गया और अज़ीम के वीर्य से लथपथ मेरी गांड में उसने अपना लंड डाल दिया और मेरी गांड मारने लगा।इतने में अज़ीम मेरे आगे आ गया.

बीएफ सेक्स सेक्स बीएफ बीएफ सेक्स मैंने भाभी के मम्मों को चूस चूस कर एकदम लाल कर दिया और दांतों के निशान भी मम्मों पर बना दिए. उसने अपनी जीभ को मेरे लंड पर फेरना शुरू किया और फिर धीरे धीरे मेरा पूरा लंड अपने मुँह में ले लिया.

జపాన్ ఈ బ్లూ ఫిలిం

मैंने भाभी से कहा- क्या वह मुझे चोदने देगी?भाभी ने कहा- मैं उसे तैयार करूंगी. मेरी नजर उसकी मोटी गांड और मोटी मोटी चूचियों को ताड़ने में ही लगी रहती थी. तभी चाची ने अपने हाथ पीछे ले जाकर ब्रा का हुक खोल दिया और ब्रा को एक तरफ रख दिया.

मेरा लंड बहुत सख्त था और लड़की की चूत एकदम से गीली हो गयी थी इसलिए लंड एकदम से उसकी चूत में जा घुसा. फिर जब मैं निकलने को हुआ, तो उसने मुझे गाल पर एक चुम्बन दे दिया और एक रूपए से भरा लिफाफा मेरे हाथ में थमाते हुए बोली- अगर फिर से तुम्हारी जरूरत पड़ेगी, तो मैं तुम्हें कॉल कर लूंगी. महाराष्ट्र गावरान सेक्सी व्हिडिओमैंने उसकी एक न सुनी और अगले ही थोड़ा सा लंड बाहर निकाल कर एक ही बार में पूरा लंड उसकी गांड में अन्दर डाल दिया.

उसके दोनों पैर मेरे छाती और कंधे से लगे हुए थे और मेरे हाथ उसके चुचे सहला रहे थे.

शकील अम्मी से- और सुनाओ क्या हाल है मेरी जान?मम्मी शकील से- हाल तो बहुत बुरा है तुम्हारी जान का!शकील- क्यों टाइम पर खुराक नहीं मिल रही क्या?मम्मी- इसी बात का तो रोना है. उस लेडी ने एक लाल रंग की नाइटी पहनी हुई थी, जो बस नाममात्र के लिए उसके शरीर को ढके हुए थी.

गांड मरवाने की कहानी शुरू करने से पहले मेरे बारे में थोड़ा जान लें. मेरे दूसरे मामा यानि कि सबसे बड़े मामा से दूसरे नम्बर के मामा अक्सर हमारे घर आते जाते रहते थे. अब मैं लण्ड शांता की गांड की दरार में रगड़ने लगा।शांता गर्म होने लगी।अब मैंने अपने लण्ड का सुपारा गांड के छेद पर रख दिया और अंदर डालने की कोशिश की.

वो मेरे दोनों स्तनों को नाईटी के ऊपर से पकड़ कर मसलने लगा और मेरे होंठों को चूमने लगा.

जब मैंने पहली बार जाना कि मेरी सोनाक्षी दीदी तो एक बड़ी रांड है, तो मैं हैरान रह गया. फिर मैंने दो उंगलियों को अन्दर डाला, तो उसकी आंखों में दर्द का अहसास झलका, लेकिन वो उंगलियों का मजा लेती रही. उनको मैंने अपने शरीर पर पड़े सत्यम के दांत और उंगलियों के निशान दिखाए.

इंडियन सेक्सी व्हिडिओ फुलइसके बाद करीब डेढ़ महीने बाद ही मेरी बीवी भी डिलीवरी के लिए अस्पताल गयी और हमें भी बहुत प्यारी पुत्री का वरदान मिला।लेकिन मेरी मम्मी सोच रही थी कि पण्डित जी की भविष्यवाणी गलत कैसे हो गयी. और उसने एक सीनियर लड़की का नंबर दिया और कहा- सेटिंग मत कर लेना वरना फंस जाएगा और पिटेगा।हमारे ग्रुप में तो कोई लड़की थी नहीं, इसलिए ये सब काम हमें खुद ही करने थे.

হেবার রুকন কয়টি ও কি কি

ज़ोहरा अपने मन में हैरान परेशान सी सोच रही थी कि इतना बड़ा लंड इस दुनिया में किसी इंसान का नहीं हो सकता. मैंने एकदम से लंड को बाहर खींच लिया और उसकी चूचियों की ओर लंड को करके एक दो बार हिलाया और मेरे लंड से वीर्य की पिचकारी निकल कर उसकी चूचियों पर गिरने लगी. मम्मी ने बताया भी था कि ये बहुत मस्त चोदता है, चुत को बिल्कुल पानी पानी कर देता है.

मैं जानती थी कि तुम शादी के समय से ही मुझे रिझाने की कोशिश कर रहे थे … लेकिन अन्नु, मैं संदीप के साथ शादी के बंधन में बंध गयी थी. उसकी हिलती हुई चूचियां मेरे सीने को अपनी रगड़ का पूरा मजा दे रही थीं. मुझे अच्छी तरह याद है कि मेरे जीवन में मेरे जन्मदिन पर एक ही बार किसी ने मुझे सरप्राइज दिया था.

उसका पैर मेरे पैर से टच हो रहा था और मुझे पता ही नहीं चला कि कब मेरा हाथ उसके हाथों में आ गया था. मोटा लंड लेने से उसे दर्द हो रहा था … लेकिन वो मुझे अहसास नहीं होने देना चाहती थी. लेकिन मम्मी की सोफे पर बैठते ही वो जाग गया और मम्मी से पूछा- क्या हुआ?तो मम्मी बोली- अंदर गर्मी बहुत है.

आंटी मेरे सर को पकड़ कर अपने चूचों पर दबाए जा रही थीं और मैं उन दोनों रसीले आमों को जी भरके पी रहा था. मैं धोने का नाटक करती रही और मैंने धीरे धीरे बाबा के लंड की ओर अपनी गांड पास में कर दी.

वो घोड़ी बनी तो मैंने उसके पीछे से लंड उसकी चूत में घुसाकर धक्का दे दिया.

उसके होंठों का सारा रस चूसने के बाद मैंने उससे बोला- जीभ बाहर निकालो न … मुझे तेरी जीभ चूसना है. सेक्सी व्हिडिओ चुदाई चुदाई चुदाईहम दोनों ऊपर से तो पूरे नंगे थे लेकिन नीचे से मैंने पैंट पहनी हुई थी. वीडियो सेक्सी ब्लू फिल्म हिंदीमेरा लिंग 7″ के लगभग है तो उसे काफी दर्द हो रहा था। वो भी पहली बार किसी का लन्ड ले रही थी. उसने अपनी गांड उठा दी और मैंने पूरी साड़ी निकाल दी।अब मेरे सामने ज्योति साया और ब्लाउज में पड़ी थी। मैंने अपना टीशर्ट और बनियान निकल दिया।मैं झुककर ज्योति के पेट को चूमने लगा और उसकी ठोढ़ी को चाटने लगा.

हमने सोचा था कि घर में कोई नहीं है तो हमें चिंता की कोई बात नहीं है.

शादी एक गांव में थी तो मैं अपनी मम्मी को लेकर 4 दिन पहले ही पहुंच गया. वो अम्मी से इतना घुल मिल गयी कि अपनी सारी बातें अम्मी को बताने लगी. मैं भी शादी में गया लेकिन मुझे भाभी के साथ चुदाई भी करनी थी इसलिए मैं ज्यादा देर रुका नहीं और तबियत ठीक न होने का बहाना करके वापस घर आ गया.

जब मैंने पास पहुंच कर उन दोनों को आवाज दी तो उन्होंने मेरी ओर देखा. मैंने अपनी पैंटी निकाल दी और बाबा ने धोती उठाकर अपना लंड मेरी गांड पर रगड़ना शुरू कर दिया. मैं अपने रूम में अकेला ही रह गया था और पापा ने मुझे उनके दोस्त के यहां रुकने की सलाह दी.

भोजपुरी सेक्स वीडियो एचडी

’भाई ने मेरे कान में पूछा- मजा आ रहा है?मैं हंस दी और उसे चूम कर कहने लगी- आंह … तुम बड़े बेदर्दी हो भाई … पर अब मजा आने लगा है. अब मुझे तो संडास जाना ही नहीं था, मैं तो सिर्फबुआ की गांडदेखने आया था. मेरी गांड इतनी गीली हो गई कि बहुत ज्यादा! मैं जानती थी कि अब मेरी गांड की चुदवाने की बारी है।तो उसने अपनी पूरी उंगली गीली करके मेरी गांड में डाल दी.

उसी दिन वो रात में मेरे रूम में आ गई और मेरे लंड को मुँह में लेकर ब्लोजॉब देकर चली गयी.

ठीक है … मैं तेरी गर्लफ्रेंड बनने के लिए तैयार हूँ … पर ये बात तू किसी को नहीं बताएगा.

मैंने उसके बोबे चूसते हुए उसकी चूत पर हाथ घुमाया, वो कंपकंपाने लगी, उसकी सिसकारियों की आवाज तेज हो गयी- आह्ह्ह उम्म्ह… अहह… हय… याह… ओह्ह ओह्ह्ह्ह करो, चाचू मुझे करो. मैं बहुत से शहर घूमा हूँ, पर पिछले तीन साल से तो गुड़गांव में ही रह रहा हूँ. హీరోయిన్ సెక్స్ సెక్స్उनकी और अपने परिवार की बदनामी की वजह से मैंने कभी बाहर मुँह नहीं मारा, लेकिन तुम्हारे पापा के जाने के बाद लोग मुझे अक्सर मेरे पहनावे और मेरे बाहर काम करने को बुरा कहने लगे थे.

साथ ही साथ वो अपने चूतड़ आगे खिसका कर लण्ड चूत के अन्दर लेने की कोशिश कर रही थी. उसकी चीख निकल पड़ी- आहह आहह ऊईई आहह ऊईई ऊईई सीईई आहह!वो बोली- राज, मैं मर जाऊंगी निकाल बाहर!मैंने उसकी एक न सुनी और झटके पे झटके लगाने लगा. ’भाई ने मेरे कान में पूछा- मजा आ रहा है?मैं हंस दी और उसे चूम कर कहने लगी- आंह … तुम बड़े बेदर्दी हो भाई … पर अब मजा आने लगा है.

मुझे उस रात देर तक नींद नहीं आई क्योंकि मैं शाम को ही तो सो कर उठी थी. भाभी का खिला चेहरा देख कर मुझे उसमें बीमारी वाली कोई बात नहीं दिखी.

उल्फ़त ने मेरा खड़ा लंड देखा और आइला से बोली- आइला, देख लो तुम्हारे सगे भाई का लंड तुम्हारी चूत को देखकर कैसे चुदाई का मन बना रहा है.

उसकी चूत ने लंड को अब आराम से रास्ता दे दिया था और वो भी ऊपर नीचे होने की कोशिश कर रही थी. मैंने सोचा कि मॉम मेरे साथ टाइम बिताना चाहती हैं इसलिए उन्होंने लम्बी छुट्टी ले ली है. और जब औरत 30+ हो जाती है तो उसके गर्मी और बढ़ जाती है और अगर वो नहीं निकली तो चर्बी चढ़ने लगती है।मैं- तो पापा को गए हुए तो 12 साल हो गए हैं.

यानी की सेक्सी वीडियो मैंने उन पर अपना थूक लगाया, फिर अपने लंड का माल लगाया और उसके मुँह में चूसने के लिए दे दिए. पर मुझे आज कुछ अजीब सा लगा क्योंकि मॉम ने कभी हमें इतनी जल्दी सोने को नहीं बोला था.

मैं भाभी के ऊपर चढ़ा था और उनके दोनों पांव हवा में ऊपर की ओर उठ गए थे. भाभी ने मेरा लंड चूस कर उसका सारा वीर्य पी लिया और मेरे लंड को साफ़ कर दिया. इस वेबसाइट मेरी यह पहली कहानी है जो मैं आप लोगों को बताने जा रहा हूं.

सेक्सी कॉलेज की वीडियो

वो दो दिन तक वापिस नहीं आने वाले! तो तुम आ जाओगे ना?मैं बोला- नेकी और पूछ पूछ? ऐसा नहीं हो सकता कि मैं ना आऊँ. तो माँ ने हंस कर कहा- ठीक है।माँ के मुंह से लण्ड चुसवाते मैं झड़ने वाला था और पापा भी।पूर्वी पलंग से नीचे घुटनों के बल बैठ गयी तो मैंने कहा- माँ आप भी आ जाइये न!तो माँ भी वहीं पूर्वी के बाजू में घुटनों के बल बैठ गयी. थोड़ी देर बाद मॉम आईं, तो उन्होंने मुझे पीछे होने को कहा और खुद मेरे पैरों के बीच में आकर बैठ गईं.

तो हमारे बीच क्या क्या हुआ?मेरा नाम सैम है, मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ. शाम को अंकल आंटी आ गए और मैं उनकी तबियत के बारे में पूछ कर ऊपर आ गया.

सीने को चूमने के बाद मम्मी मेरे बायें और दायें निप्पल को मुंह में लेकर चूसने लगी। उसके बाद वो मेरे सामने घुटनों के बल पर बैठ गई और मेरे लोवर और अंडरवियर को मेरे पैरों में से निकाल कर मुझे पूरा नंगा कर दिया।फिर मेरे दोस्त की मम्मी मेरे लन्ड को अपने मुंह में लेकर चूसने लगी।कुछ देर मेरा लन्ड चूसने के बाद उन्होंने अपनी पैंटी उतारी और सोफे पर बैठ गयी.

अचानक ही मेरा लिंगमुण्ड उसकी गुफा के अन्दर किसी गढ्डे में अटक गया था. वैशाली भाभी ने तुरंत नीचे जाकर लंड को अपने मुँह में ले लिया और अपनी जीभ से उसको चाटने लगी. उसकी गर्म गर्म चूत में लंड को पेलते हुए मुझे जो आनंद उस समय मिल रहा था, उसको मैं शब्दों में नहीं बता सकता हूं.

मेरा मानना है कि सेक्स दो लोगों के बीच की बात है और इसमें दोनों को बराबर सुख मिलना चाहिए. अब तो मैं अक्सर ही सुनसान सड़क पर कार से जवान मर्दों की बाइक को ठोकती रहूंगी, बदले में फिर …आप तो जानते ही हैं … मेरी ठुकाई भी होती रहेगी. फिर अन्दर ही एक सीढ़ी से होते हुए वो मुझे ऊपर ले गयी, जहां उनका प्राइवेट बार, उसके पति का कमरा और कुसुम का बेडरूम था.

थोड़ी देर बाद मॉम आईं, तो उन्होंने मुझे पीछे होने को कहा और खुद मेरे पैरों के बीच में आकर बैठ गईं.

बीएफ सेक्स सेक्स बीएफ बीएफ सेक्स: मैंने अब धीरे से अपनी एक उंगली को उसकी योनि की दरार के बीच में हल्का सा अंदर किया. तेरी दीदी तो मजे से अपनी गांड चुदवाती है।”उनको करने दो, मुझे माफ़ करो।”एक बार तो कर … अगर मजा नहीं आया तो नहीं करूंगा।”किसी तरह से जीजा ने साली की गांड चोदने के लिए मना ही लिया।उस वक्त जीजा का लंड बिल्कुल ढीला पड़ा था.

अब मैं यह सोच रहा हूँ कि अपना कौन सा अनुभव आप लोगों के साथ शेयर करूँ. उसके मुंह से अब तेज तेज आवाजें आ रही थीं उम्म्ह… अहह… हय… याह… जिनमें दर्द और आनंद का मिला जुला सा रूप था. भाभी का खिला चेहरा देख कर मुझे उसमें बीमारी वाली कोई बात नहीं दिखी.

जब मैंने उससे ये पूछा, तो उसने बोला- अरे यार मैं घर पर बोर हो रही, तभी तो इधर आई हूं … और अब तुम भी जा रहे हो.

मेरे नंगा होते ही उसने मुझे अपनी ओर खींच लिया और मेरे लंड को अपने हाथों में थाम लिया. सागर ने अपना वीर्य उनकी गांड में ही छोड़ दिया और उनका पैर नीचे करके उनके ऊपर ही लेट गया।अब मामी सागर के बाल सहलाते हुए उसके चेहरे को चूमने लगी और बोली- बहुत मस्त लौड़ा है तुम्हारा! और इतने प्यार से तुमने मेरी गांड मारी कि मुझे बहुत ज़्यादा दर्द नहीं हुआ।सागर भी उनको चूमने लगा. मुझे एहसास हुआ कि मेरा कड़क लंड उसकी गांड के छेद के बिल्कुल ऊपर था और मैंने उसको तड़पाने के लिए उसे और घिसना शुरू कर दिया.