बंगाल की बीएफ फिल्म

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो जाने

तस्वीर का शीर्षक ,

बेस्ट सेक्स व्हिडिओ: बंगाल की बीएफ फिल्म, मुझे भी पता नहीं क्या चुल्ल मची कि मैं सामने से भीड़ में घुस कर पर्चा लेने चली गयी.

ಕನ್ನಡ ಫುಲ್ ಸೆಕ್ಸ್ ಮೂವಿ

फ़लक पूछने लगी- सर, प्रैक्टिकल कैसे होगा?मैंने कहा- वह सब मैं तुम्हारी मम्मी को बता दूँगा. बंगाली का सेक्सीइसके बाद उसने लंड चुत में पेल दिया और लगभग आधे घंटे में मुझे बहुत फटाफट … लेकिन बढ़िया से चोद दिया.

भाभी मादक आवाज़ के साथ कहने लगीं- साले बहन के लौड़े … अब तक किधर था तू?मैं बोला- भाभी जी, आपका लंड है, आपके नाम की मुठ मार कर काम चला रहा था. ইন্ডিয়ান বাংলা সেক্সअब कम से कम बृज को लता की तरफ तो कर दूंगी … जब वो अगली बार मुझसे कोई फालतू की फरमाइश करेगा.

उन्होंने मुझसे बात की और कहा- तू आज घर पर ही रहियो … और उर्वशी को कुछ भी जरूरत हो, वो उसे दे देना.बंगाल की बीएफ फिल्म: वो फिर से धीरे धीरे गर्म होने लगी और बोली- अपना हथियार तो दिखा … मैंने सुना है गांडुओं के हथियार बहुत छोटे होते हैं.

कभी वो अकेले ही घूमने चली जाती, अकेले ही फ़िल्म देखने चली जाती, घर में किताबें पढ़ती रहती … लेकिन उसके अन्दर की आग उसे चैन से जीने नहीं दे रही थी.चाची- मैं कुछ कर सकती हूँ क्या?मैं- नहीं चाची … ज्यादा कुछ नहीं हुआ.

સેકસી સોંગ - बंगाल की बीएफ फिल्म

मैं आपकी रंडी और रखैल बन कर रहूंगी ज़िन्दगी भर। आप जिससे बोलोगे उसी से चुदूँगी!फिर उन्होंने मुझे घोड़ी बनाया और अपना लम्बा मूसल लौड़ा मेरी चूत के मुँह पर रख कर एक हल्का सा झटका दिया।ऐसा लगा मुझे जैसे आज मेरी सुहागरात है।मुझे हल्का सा दर्द हुआ तो मैंने बर्दाश्त कर लिया।फिर उन्होंने एक ओर झटका दिया जिससे आधा लंड मेरी चूत को चीरता हुआ अंदर चला गया।इस झटके ने मुझे दिन में तारे दिखा दिए थे.इसके बाद हम अलग अलग जगहों पर जाने वाले थे और बाकी के समय हम वहीं अलग अलग जगह रुकने वाले थे.

पोजीशन कुछ ऐसी थी, मैं मामी जी के ऊपर झुका हुआ था और मेरा लंड मामी जी की चूत में घुसा हुआ था. बंगाल की बीएफ फिल्म मैं- तो क्या मैंने तेरी मुठ मारी नहीं थी?अफ़रोज़- आपा, यह बात नहीं है.

मिहिका बोली- आंह … के तेरा ना हुआ है अभी … जल्दी कर ले … बहुत दर्द हो रहा है.

बंगाल की बीएफ फिल्म?

भाभी मादक आवाज़ के साथ कहने लगीं- साले बहन के लौड़े … अब तक किधर था तू?मैं बोला- भाभी जी, आपका लंड है, आपके नाम की मुठ मार कर काम चला रहा था. तब मैं दीदी के पास जाकर उनको चैक करता था … उनके मम्मे खुले पड़े रहते थे. मैंने कहा- एक बार इधर ही आपके ऊपर चढ़ जाता हूँ … मुझे एक बार और चोदना है.

मुझे बस स्टैंड लेकर गए और बोले- गोरी, मैं छोड़ ही आता तुझे लेकिन काम था. अगले दिन सुबह दस बजे मैं चित्रा के घर पहुंचा तो बहार कालेज जा चुकी थी. भाभी- यदि उन्हें, मुझे देखने में मजा आता है तो आने दो, कम से कम किसी के लिए अच्छा तो हो रहा है.

” मैंने कहा और आगे हाथ लेजाकर बहू को मम्में दबोच लिए और उन्हें चोदने लगा. 38 साल की बुढ़िया चोदने के बाद 18 साल की छमिया चोदकर मेरा लण्ड निहाल हो गया और बरखा की बुर में वीर्य छोड़ दिया. उस लड़के ने उंगली के इशारे से मेरी मम्मी को करीब बुलाया और अपने बाजू में बिठा लिया.

मैंने अपना दाहिना हाथ उसकी चूची पर रखा और उसको उसके टॉप के ऊपर से धीरे-धीरे दबाने लगा. बहू ने भी धक्के लगाना बंद करके मुझे अपने दूध पिलाने लगी, नीचे उनकी चूत से रिसता दूध भी मेरे लंड को नहलाता हुआ झांटों को भी नहला रहा था.

मेरे घर एक बार मेरे ननदोई जी आये तो हम दोनों की वासना ने हमें आपस में सेक्स करने के लिए उकसा दिया.

ये वही शबनम चाची हैं जिन्हें मैंने अपने टीचर से चुदाई कराते देखा था, फिरचाची की चूत और गांडमैंने भी मारी थी.

वो कुछ नहीं बोला तो मैंने उसे ताना मारते हुए कहा- ला मुझे दे मोबाइल … मैं पढ़ती हूँ. मैंने चूमते चूमते उसकी चोली खोल कर ब्लाउज़ उतार दिया और ब्रा में चूचियों को दबाने लगा. बरखा की बुर के लब खोलकर गुलाबी महल के रास्ते पर नजर डाली और अपना लण्ड क्रीम की शीशी में डाल दिया.

सर बोले- शबनम मादरचोद … काफी दिनों बाद तेरी चुत चोदने मिली है कुतिया … आह तेरी चूत रगड़ने में मजा आ गया … आह क्या मस्त चुत है बहनचोद तेरी. रमेश ने बोला- प्लीज लेने दे यार … तेरी जैसे सेक्सी जवानी को दुनिया से छिपा कर रखना भी तो पाप होगा. मेरी चीर (क्लीवेज) पर टिके मंगलसूत्र को साईड करते हुए सुरजन ने जीभ से चाटना शुरू किया और बोला- साली, जिसका मंगलसूत्र पहना है वो शराबी तो गांडू है, बहुत बड़ा लंड खाने वाला गांडू।मैं बोली- क्या बोल रहे हो तुम ये?वो बोला- हाँ भाभी, वो गांडू है.

मेरे ऐसा करने से शीना ने मेरा सर हाथों में पकड़ कर अपनी बुर पर दबा दिया और अपनी गांड को उठा कर मेरी जीभ का वेलकम किया.

मम्मी ने कहा- साली रांड … पहले मुझे अपना आइडिया तो बता!चाची बोलीं- मेरी जान, तेरी चूचियां इतनी खूबसूरत हैं कि कोई बुड्ढा भी देख कर जवान हो जाए, फ़िर तेरा बेटा तो पूरा गबरू जवान है. मैंने फ़लक का पेपर यामिना की ओर बढ़ाते हुए कहा- मैडम फ़लक को तो कुछ भी नहीं आता है, थ्योरी के पेपर में तो ये बुरी तरह से फेल हो गई है. तब उर्वशी ने बताया कि बाथरूम से निकल कर बाहर आ ही रही थी कि मेरा पैर फिसल गया.

उसने मुझे घुमा फिरा कर ये बता समझा दी थी कि अगर मैं उससे चुदवाने में नाटक करूंगी … तो वो रोहित से हुई मेरी चुदाई की बात को पापा से बता देगा. दोस्तो, आपको यह फर्स्ट टाइम सेक्स की कहानी पढ़ कर मजा आया होगा? तो अपने कमेंट्स जरूर करें. वो बोलीं- पहले दरवाजा तो बंद कर देने दे … बावला क्यों हुआ जा रहा है.

मैं पूरी कोशिश करूंगी कि अपनी दूसरी सेक्स कहानी जल्द ही आपके लिए ला सकूं.

और फिर रोमिल ने नीचे तकिया लगाया और राशि दीदी की चूत में लन्ड घुसा कर गपागप गपागप अंदर बाहर करना चालू कर दिया।दीदी ‘आह उम्मह ओहहह … चोद मुझे … और चोद … मेरा भाई कितना मस्त चोदता है. शीना- अकेले क्यों रहोगे? मैं जो हूं आप के साथ!यह बोलकर शीना मेरे गोद में आकर बैठ गयी और मुझे किस करने लगी.

बंगाल की बीएफ फिल्म ममता चुत से मूत की धार गिराते हुए सोचने लगी कि क्या मैंने भैया से चुदवा कर सही किया … वैसे भैया की बात भी सही है. कुछ देर तक यूं ही रसीली और हॉट करने के बाद हम दोनों ने किसी दिन फिर से मिलने का प्रोग्राम बनाया.

बंगाल की बीएफ फिल्म लेकिन हम दोनों को गले मिलने के लिए कोई जगह नहीं थी तो मैंने उसको अपने कमरे में ही आने के लिए बोला. थोड़ी देर बाद सर ने लंड चाची की गांड से निकालकर कहा- शबनम मादरचोद … आज तेरी गांड मारने में मजा आ गया.

इससे पहले कि वह कुछ बोलती, मैंने उसका मुँह हाथ से बंद कर लिया और उसके कान में कहा- ये मैं हूं.

कैटरीना के सेक्सी वीडियो

कॉलेज में ज्यादातर फस्ट ईयर के स्टूडेंट जा रहे थे पर सीनियर स्टूडेंट भी थे. सोनिया भाभी का हाथ मेरी जांघ पर था, जो कि बाइक पर अक्सर आम होता है. मैंने कहा- वाह मेरी जान, क्या किस करती हो … तुम तो हिना से कई गुना अच्छी माल हो.

मैं भी झड़ने के करीब था इसलिए मैं और तेज़ी से मामी जी की चूत में अपना लंड पेलने लगा. दो दिन तो ऐसे ही चला, फिर मां ने मुझसे कहा- बेटा, मेरा महीना अब आने वाला है, तो हम कुछ दिन चुदाई नहीं कर पाएंगे. तभी उन्होंने अपना लंड मेरी गांड से निकाला और झट से मेरे मुंह में दे दिया.

मैंने भाभी से कहा- भाभी जी, मेरे लिए आप अपनी जैसी कोई लड़की ढूंढ दीजिए.

जब कुछ सालों बाद रुबिका की शादी उसके अब्बू की मर्जी से किसी दूसरे शहर में किसी और से हो गयी तो वो अपनी ससुराल चली गई. भाभी भी सिसकारियां और तेज हो गईं- ओह्ह ओह्ह यस्स ओह्ह!वे जोर जोर से चिल्लाने लगी थीं कि पूरे घर में उनकी आवाज गूंज रही थी. मैंने शन्नो को बिस्तर पर उल्टा लिटा दिया और उसकी टांगों को चूचों पर मोड़ कर उसकी गांड में लंड डालकर चोदना शुरू कर दिया.

नगमा अब अपने घुटनों के ऊपर जा बैठी और उसने एकदम ही सांस में पूरे लंड को अपने मुँह में भर लिया. तभी रोहन अंकल ने मेरी मॉम के दूध दबा दिए और उनके कान में बोले- सुन मेरी रश्मि रंडी … आज से तू हमेशा मेरी ही गोद में बैठेगी समझी. भाभीजी हल्की मुस्कान के साथ बोली- ठीक है, चलो … फिर मैं तुमको मेरे वेस्टर्न ड्रेस का कलेक्शन दिखाती हूँ.

आंटी बोलीं- यह क्या … तू चड्डी नहीं पहनता क्या?मैंने कहा- आंटी आज चड्डी गीली हो गई थी … इसलिए नहीं पहनी. उसने मेरी तरफ देखते हुए आगे कहा कि उनके पास बहुत पैसे हैं, पर कोई प्यार करने वाला नहीं है.

उस सेक्सी मूवी में जब सनी लियॉन का किस सीन आया तब वो भी थोड़ा ज्यादा चिपकने लगी. आशा है आप सभी स्वस्थ होंगे और अपनी सेक्स लाइफ का भरपूर आनन्द उठा रहे होंगे. पहली बार सेक्स की कहानी के पहले भागमैं अपनी इच्छाओं को दबा के जी रही हूँमें आपने पढ़ा कि मैं भाभी के साथ उनकी सहेली की शादी में उनके मायके आयी थी.

इस बार मैं पिघल गया और मैंने मैसेज किया- गीत, मैं 15 मिनट में तुम्हारे घर आ रहा हूँ.

उस टीटीई ने मेरा नंबर ले लिया था और बोला था कि कभी घूमने के लिए वो दिल्ली आया, तो मुझसे मिलेगा. फिर एक दिन जब मैं पर्चा लेने गयी, तो एक 40 साल का आदमी मुझे बहुत घूर कर देख रहा था. मौसी की चूत मारते मारते मैं उनके मम्मों और होंठों पर किस कर रहा था और उन्हें चाट रहा था.

दोस्तो, मेरी देहाती विधवा मां की वासना इतनी अधिक बढ़ चुकी थी कि वो अपनी चुत रगड़ने लगी थीं. उधर पार्क में भी बहुत सारे लोग थे इसलिए हम चुदाई की बात ही नहीं कर पाए.

ताबड़तोड़ चुदाई के बाद मैंने अपना लंड चुत से निकाला और उसके पेट पर माल छोड़ दिया. इसलिए मैंने सोचा आज तेरे लिए मटन बना दूँ, ताकि तुझसे ताकत बनी रहे और तू जल्दी थके नहीं. मलाईदार चूत थी उसकी … एकदम क्लीन शेव्ड और प्यारी सी छोटी सी एकदम गर्म गर्म … मुझे मजा आ गया था और मैं चुत को पकी अमियां के जैसे चाटे जा रहा था.

जानवर का सेक्स करते हुए

उसने ज़ोर ज़ोर से झटके दिए और बाहों में कस लिया।मैं भी उसमें समा गयी और बोली- आह्ह … भर दे राजा … आह्ह मेरी चूत में औलाद की बरकत कर दे।उसने जब लंड निकाल कर मुँह के पास किया तो पूरा सफेद हुआ पड़ा था.

वो बहुत अच्छे से मेरा लंड चूसने लगी, लंड चूसने की वो पुरानी खिलाड़ी लग रही थी।बीच बीच में थोड़ी बीयर पीती … फिर मेरा लंड चूसने लगती,ऊपर से मैं भी बीच बीच में बीयर पिता रहता. मेरा दाहिना हाथ सरकते हुए उसके लहंगे के अन्दर चला गया और मैं उसकी मखमली सी गांड दबाने लगा. अब उसने सामान्य आवाज में कहा- नहीं यार आज़कल हो नहीं पाता … बीच में मैं कुछ बीमार पड़ गया था, उसके बाद मेरा लंड अब खड़ा ही नहीं होता है.

भाभी कुछ शांत हुईं, तो मैंने धीरे धीरे उनकी चुत में लंड पेलना चालू कर दिया. इस बात से मुझे बड़ी गुदगुदी होती है और मैं अपने अन्दर ही अन्दर मुस्कुराती रहती हूँ. सेक्सी कुर्तासनी बोला- क्या प्लान है?मैं- अगर मैं गर्भ धारण करने समय अलग अलग लोगों का स्पर्म लूं … तो कैसा रहेगा!सनी बोला- क्या बात कर रही हो दीदी! पहले ही आप कितनों से चुद चुकी हो … अब क्या पूरे मोहल्ले का लंड लोगी?मैं बोली- हां … जरूरत पड़ी तो ले भी लूंगी.

अभय ने देर ना करते हुए फटाक से अपने होंठ उसकी गीली चूत पर रख दिए और जीभ निकाल कर बाहर से ही बहन की चुत चाटने लगा जिससे ममता हवा में उड़ने लगी. वो यहीं से बारहवीं की प्राइवेट परीक्षा दे देगा।चाची ने भी हामी भर दी।मेरा मन ही मन मूड ख़राब हो गया कि वो घर पर रहेगा तो मैं नंगी कैसे रहूँगी?वैसे मेरा भाई बहुत ही सीधा औऱ मासूम था.

और मुझे पता था कि उसके मन में मुझसे मिलने की तड़प जरूर होगी और वो मुझे शादी में ग्वालियर बुलाने का कोई न कोई रास्ता निकाल ही लेगी. राजेश ने कहा- यार बात तो सही है, पर कोई शरीफ घर की औरत इसके लिए कहां से लाएंगे. इससे पहले कि मैं कुछ समझ पाता, कुच्ची उस लड़की से बोला- अब बोलो, क्या कहती हो!ये कहते हुए कुच्ची का इशारा मेरी तरफ था.

मैं थोड़ा रुका, फिर मैंने वापस अपने हाथों को मां के दूध से हटा कर उनकी जांघों पर रख दिया और उनकी जांघों को मसलने लगा. इस पोजीशन में मैं उसकी बुर चाट रहा था और उसके मुँह में लंड डाल कर धक्के देने लगा. उसने मेरे लंड को अपने एक हाथ में पकड़ा और कसके दबाया, मगर मेरा लंड बहुत टाईट हो चुका था … इसलिए वो ज्यादा दबा ही नहीं पाई.

थोड़ी देर में मेरा पूरा लंड उसकी चूत में चला गया कुछ रह गया था तो बाहर लटकते दो आंड!जब मेरा लंड उसकी चूत में पूरा चला गया तो मैंने उसकी दोनों टांगें हवा में उठा ली और उसे जोर से चोदने लगा।उसके हाथों में पड़ी चूड़ियां खन खन और उसके पैरों में पड़ी पायल छम छम कर रही।चुदाई का ऐसा मधुर संगीत चल रहा था जैसे किसी बहुत बड़े संगीतकार ने चुदाई राग छेड़ दिया हो।कुछ देर में नीतू को भी मजा आने लगा था.

इसी बीच वो बोल रही थीं- आह राज … तेज करो आह … और तेज मेरे राज … साले तू बड़ा मस्त चोदता है. फिर एक दिन मैंने पायल से कहा- तुम मेरी अच्छी दोस्त हो, मेरी एक मदद करो.

मैंने मौसी की ताबड़तोड़ चुदाई करना शुरू कर दी और झड़ने को आ गया तो मैंने उनसे पूछा- कहां छोड़ूँ?मौसी ने अपना मुँह खोल दिया और जीभ बाहर निकाल दी. शाम को मैं उनके घर से जाने लगा तो इंडियन रंडी नगमा बोली- आज की रात घर में ही रुक जाओ … अब्बू अम्मी भी नहीं हैं. वो बोल रही थी- आह चोदो मुझे आह और चोदो मुझे फ़ाड़ दे मेरी आह आह हह!मैंने कहा- मैडम, आज तुमने मुझे खुश कर दिया.

कुछ देर बाद मैंने फिर से लंड चूत में घुसा दिया और चूत को चोदने लगा. वो मालिश समझ कर मजे ले रही थी जबकि मैं अपनी गिद्ध दृष्टि उसकी गुलाबी गोरी गांड पर लगाए हुए था. मैंने शन्नो को बोला, तो वो हंसते हुए बोली- राज तुम बेकार की बातें सोचकर क्यों परेशान हो रहे हो.

बंगाल की बीएफ फिल्म उन्होंने अपने दोनों हाथ मेरी शर्ट के अंदर डाल दिये और डालकर मेरे बूब्स को मसलने लगे. बहू सेक्स की कहानी का अगला भाग:मेरी बहू रानी को पुनः भोगने की लालसा- 3.

बिहारीपोर्न

मैंने रात में वहीं रुकने का प्लान बनाया और अपनी टीम को फोन करके बता दिया कि मैं आज रूम पर नहीं आऊंगा. उस रात को मैंने उन दोनों को अपनेलंड की सवारीकरवाई और मस्ती से चुत चुदाई का मजा लिया. आह … उफ्फ … ऐसे मत करो मेरे राजा; कोई देख लेगा तो मैं तो डूब मरूंगी!” बहूरानी अपनी गांड हिलाती हुई बोली.

असल में मेरी ननद की डिलिवरी का समय आ गया था इसलिए मेरे सास ससुर को एक हफ्ते के लिए जाना था. अब आगे ग्रुप में ओपन सेक्स की कहानी:उस मर्द लौंडे के अपने ऊपर से हटते ही मेरा ध्यान मेरे साथ वाली उस पड़ोस वाली भाभी पर गया तो मैंने देखा उनमें से एक लौंडा नीचे लेटा था और भाभी उसके लंड के ऊपर बैठी थीं. भोजपुरीगानाअपनी टांगें फैला कर चाची ने मेरे सर को अपनी चुत पर दबाया तो मैं चुत पर थूक लगा कर चाटने लगा, जीभ अन्दर डालने लगा, उनकी क्लिट से खेलने लगा.

मैंने जाकर देखा तो ये वही डॉक्टर था, जो कल शाम को मुझे चोदने की नजर से देख रहा था.

कंडोम लेकर मैं वापस घर आया तो मां ने बिस्तर लगा दिया था और वो टीवी देख रही थीं. भाभी की गीली हो रही चुत को देखकर लंड महाराज भी अपनी अकड़ में आ गए थे.

रीमा की बुरी हालत देख कर मीरा ने उसे उठाया और कहा- जवानी में ऐसा जोश आ जाता है, तुम मुझे अपना दोस्त ही समझो. वो अन्दर गया और रुबिका को पानी पिला कर उसको घोड़ी बना कर उसकी गांड में तेल लगाने लगा. अब मेरी दीदी को भी शायद मजा आ रहा था तो वो भी अपनी पैंटी निकालने के बहाने एक मिनट तक कुतिया सी बनी रहीं और रमेश के लंड का मजा लेती रहीं.

इसलिए तुझे जितना उछलना है, उछल ले!शायद उसने शिलाजीत या कोई दवाई ली हुई थी और आज वो पहले से मेरी लेने के मूड में आया था.

मैंने भाभी को अपनी गोद में बिठाया और हम दोनों ने एक दूसरे को खाना खिलाया. ”चित्रा पूरी बात बताने लगी:दरअसल जब मैं कक्षा 12 में पढ़ती थी तो अपने स्कूल की तरफ से खोखो खेलती थी. मैंने गाड़ी पार्क की और वापस आ रहा था, तो देखा घर के बाहर पैसेज में भाभी खड़ी थीं, वो घर में अन्दर नहीं गई थीं.

सेक्सी वीडियो पेज नंबर 10मैंने दीदी की ब्रा पैंटी को खोल कर उनके तन से अलग दिया और दीदी को पूरी नंगी कर दिया. हर वक़्त एक नयेपन का अहसास होता है जैसे आप से पहली बार चुदवा रही हूँ।मैं- जान, पति का तो काम ही होता है कि अपनी पत्नी को पूर्ण रूप से संतुष्ट करवाए.

एक्सएक्सएक्सएक्स एक्सप्रेस 2021

मैंने अफ़रोज़ से कहा- मैं लड़की वाला डायलॉग बोलूंगी और तुम लड़के वाला. बस फिर क्या था … मैंने दीदी की टांगें फैलाईं और अपना लंड दीदी की चुत में पेल दिया. मैं बोली- ऐसे मत कर! सुन … तू अपनी एक उंगली मेरी चूत में डाल दे, मुझे अंदर बहुत खुजली हो रही है.

बुआ हल्की हल्की खांसती हुई मेरे लंड को निगलने की कोशिश में लगी थीं. दादा दादी ने बात भी मान ली क्योंकि उनके पास अब कुछ ऐसा था ही नहीं … जिससे उन्हें कोई शर्म आती. मामी की गांड देखते ही मुझे बहुत ही मस्त सा महसूस हुआ और मेरा लंड कड़क हो गया.

मैंने भी ज़्यादा नहीं पूछा क्योंकि मेरी चुत फिर से गीली होने लगी थी. उनके हस्बैंड अमेरिका में जॉब करते हैं और साल में कोई एक या दो बार ही आ पाते हैं. एकाएक उसने चूतड़ उठाकर लंड ऊपर की ओर किया और बोला- बस आपा … मैं गया.

आप सबसे विनती है कि अपने घरों में ही रहें और स्वयं को सुरक्षित रखने के साथ ही दूसरों को भी सुरक्षित रखें. फिर कुछ देर बाद मुझे घोड़ी बनाकर तेज़ तेज मेरी देसी गांड मारते हुए सुरजन भी झड़ गया।फिर मैं बड़ी मुश्किल से उठी.

साली सामने नंगी बुर चुदने को तैयार पड़ी थी तो मैं भी लंड खड़ा करने के लिए उसके ऊपर चढ़ गया; उसके पूरे शरीर में चुम्बन किए और उसके मम्मे दबाने लगा.

पिछली सेक्स कहानी में मैंने आपसे पूछा था कि आप लोग मेरे बारे में जो जानना चाहते हैं, वो बताएं. அம்மாசெக்ஸ்मैंने भी अपना सारा जिस्म उसको सौंप दिया और मैं भी उसके बालों और उसकी कमर पर हाथ फिराने लगी. बबलू डब्लूहाथ का स्पर्श पाकर मेरी चुत फिर से सिसकने लगी और मेरा पूरा हाथ गीला हो गया. मैं उससे चिपक कर लेट गया और मैंने उसके मम्मों पर अपने हाथ रख दिए और उसके दूध दबाने लगा.

मेरा लौड़ा खड़ा हो गया और लोवर में साफ दिखाई दे रहा था।उसने कहा- राज मेरे पास एक रास्ता है!मैंने कहा- मैडम क्या रास्ता है?वो बोली- 2 दिन में 50000 दो और तुम आज़ाद!मैंने कहा- इतने पैसे नहीं हैं मेरे पास!वो बोली- फिर दूसरे रास्ते पर चलने के लिए तैयार हो जाओ.

ये कहानी मेरी और मेरी मामी सिमरन (नाम बदला हुआ) के बीच हुई चुदाई की कहानी है. विजय, तुम्हारा लण्ड है या मूसल? मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि ऐसा भी लण्ड हो सकता है. वो सोच रही थी आज भैया से अपनी चूत चुदवा लूं … तो भैया का मुठ मारना भी बंद हो जाएगा और बाहर की गंदी औरतों से भी बच जाएंगे.

मैंने मां से पूछा- मां आज इतनी जल्दी आपने बिस्तर लगा दिया, आपको नींद आ रही है क्या?मां बोलीं- नहीं बेटा, वो तो आज मैंने घर का सारा काम बहुत जल्दी ही कर लिया था … तो सोचा बिस्तर भी लगा ही देती हूं. और मैं मम्मी से सहेली के यहां जाने का बहाना बना कर चोरी छिपे यहां जंगल में आपसे मिलने आ गयी हूं; हमारे पास मिलने के लिए सिर्फ एक घंटा ही है. मैं मां को एक गंदी बस्ती में लाया, जहां बहुत से शराबी लोग घूम रहे थे.

छत्तीसगढ़ी माया पिक्चर

उस बोतल का पानी ठंडा था, मैंने अपने हाथ से चाची को थोड़ा पानी पिलाया और पानी से मधुमक्खी के काटे के स्थान को धोया. लंड 7 इंच का काफी मोटा है जो किसी की चुत में भी हाहाकार मचा सकता है. बातों बातों में उसने मुझे मेरी बगलों के बाल साफ़ करने के लिए राजी कर लिया.

दीदी ने अपने हाथ मम्मों से हटा लिए और रमेश ने मेरी दीदी की चूचियों पर एक बार फिर से अपनी हथेलियां जमा दीं.

अदिति ने अपनी सासू माँ से सब बातें बतायीं और पूछा कि आप कहो तो वो ग्वालियर चली जाये?अब बात थ्रू प्रॉपर चैनल मेरे पास तक तो आनी ही थी:जरा सुनिये, अखबार फिर पढ़ लेना!” रानी (मेरी धर्मपत्नी) ने अधीरता से कहा.

अगली सेक्स कहानी मैं आपको बताऊंगा कि कैसे मैंने उस नाजुक हसीना को चोदा. इसलिए मैंने बीच का रास्ता लिया और बनावटी ग़ुस्से से बोली- अरे ये क्या … तू तो ज़बरदस्ती करने लगा. ఐశ్వర్య సెక్స్ ఫొటోస్कुछ देर बाद चित्रा ने खुद ही अपना ब्लाउज व ब्रा खोलकर अपनी चूचियां मेरे सामने कर दीं.

कभी कभी उसकी मुनिया को पैंटी के ऊपर से चूम कर जल्दी से लौट जाता।बाहर से आती रोशनी उसके लहंगे में छन कर आ रही थी जिससे मुझे उसकी जांघें तो दिखाई दे रही थी लेकिन चूत नहीं।नीतू तो अपनी चूत चटवाने के लिए मरी जा रही थी इसलिये वो कई बार अपने हाथों से लहंगा उतारने की कोशिश करती. मैंने मामी की गांड के छेद को चाटने के साथ-साथ अपनी जीभ को ऊपर से नीचे और फिर नीचे से ऊपर पूरी दरार में फेरना शुरू कर दी. यह देख कर मुझे गुस्सा आ गया और शीना भी समझ गयी कि मैं गुस्सा हो गया हूं.

शीना की बुर की सील टूट चुकी थी, उसकी बुर से खून बहना शुरू हो गया था. मैं- अच्छा यह बता कि जब मैं तेरा लंड हिला रही थी तो तू अपने ख़्यालों में किसकी ले रहा था?अफ़रोज़- आपा शर्म आती है … मैं बाद में बताऊंगा.

मुझे सुबह से अभय भैया एक बार भी दिखाई नहीं दिए थे, तो मैंने मामी से पूछा- मामी जी अभय भैया कहां हैं, कहीं नजर नहीं आए सुबह से?मामी- हां, वो शहर गया है खेती के काम से … कल तक आ जाएगा.

उन्होंने स्नैक्स उठा कर अपने पास रख लिया और खुद स्नैक्स भी खाने लगीं. चूंकि मैं एक शादीशुदा मर्द हूँ और किसी दूसरे की वाइफ या लड़की में मेरा कोई इंटरेस्ट नहीं था. मेरे कम्बल में घुसते हुए सर बोले- अब तुम्हारी थकावट का इलाज कर दें.

इंडिया सेक्सी सुहागरात भाभी तीनों से चुदवाने के बाद मेरे पास आकर लेट गईं और फिर से सो गईं. वहां निखिल का मैसेज पाते ही रीमा ने भी अपनी चुत और बगलों के बाल की सफाई की और रात होने का इंतज़ार करने लगी.

दरअसल बात ये हो गई थी कि लंड झड़ जाने से दुबारा जल्दी खड़े नहीं हो पाए थे और उन लड़कियों के पास समय भी नहीं था. अभय ने हाथ बढ़ा कर ममता की चूत का दाना चुटकी से पकड़ लिया और मसलने लगा. पहली बार सेक्स की कहानी में आपको मजा आ रहा होगा ना?[emailprotected]पहली बार सेक्स की कहानी का अगला भाग:मेरी बहू रानी को पुनः भोगने की लालसा- 3.

ताऊ ते क्या है

फिर मैंने उनसे कहा- भाभी, आप उनको आज रात के 9:00 बजे तक बुला लीजिए. जब भी बुआ मेरे लंड के छेद को चाटतीं, तो जैसे मेरे बदन में एक बिजली सी कौंध जाती. मालिश के वक्त मैं सिर्फ़ अंडरवियर में रहता था और चाची के हाथों से अपनी टांगों की मालिश करवा लेता था.

वो मेरे सर पर हाथ रख कर कह रहा था- आह आह शालू … यू आर अमेजिंग डार्लिंग … आह सक माय टूल!मैंने हाथ में उसका लंड पकड़ा और उसे ऊपर करके उसकी गांड के छेद को चाटने लगी. वो एकदम ग़ुस्सा हो गई और बोलने लगी कि मैं कोई ब्लू फिल्मों की कोई ऐक्ट्रेस नहीं हूँ, जो तुम्हारे लंड को चूसकर खड़ा कर दूं.

अब यूं तो मेरी बहूरानी अदिति के और मेरे अन्तरंग संबंधों को लेकर मैंने पिछले तीन चार वर्षों में बहुत सी कहानियां लिखीं हैं जिन्हें आप सब का भरपूर प्यार मिला है.

मैं जब तक कुछ समझ पाती कि वो अपने दूसरे हाथ से मेरी चूचियों को दबाने लगा. अब में उसको रोज देखता और उसको लाइन मारता रहता और स्माइल भी देता, जवाब में वो भी कभी कभी स्माइल दे देती. मैंने अपना लौड़ा थोड़ा सा बाहर निकाला और अगले झटके के साथ पूरा लौड़ा चुत के अन्दर पेल दिया.

उसने जैसे ही अपनी जीभ बाहर निकाली, मेरे लन्ड से तेज पिचकारी निकली और शीना की जीभ, होंठ, माथा, नाक सब जगह मेरे माल से लबरेज हो गए. रमेश ने दीदी के दो-चार फोटो लेने के बाद उनसे कहा- अब तुम अपने पजामे का नाड़ा भी खोल दो. मैंने पूछा- उसकी उम्र क्या है?वो बोली- अरे वो अभी बहुत छोटी क्लास में पढ़ता है.

कमरे का दरवाजा और खिड़की बंद थी, तो मैं पीछे वाले खिड़की के पास गया.

बंगाल की बीएफ फिल्म: निखिल ने भी अपने मूसल लंड को अपनी मौसी की चूत में एक बार में ही पूरा उतार दिया. मगर मेरी चूत प्यासी है।अगली कहानी में मैं बताऊंगी कि कैसे मैंने आने बहाने मुकेश से नशे में गुलाब के कमरे का पता लिया और वहाँ गई भी।वहां गुलाब तो नहीं था.

ममता की चूत से सीटी की आवाज के साथ मूत बाहर आने लगा, जिसे अभय सुन कर मुस्कुराने लगा. मैंने कहा- तो सड़क के किनारे ही मजा ले लूं क्या?भाभी हंस दीं और इसी तरह से हम दोनों मस्ती करते हुए उनके घर की तरफ बढ़ गए. मैं मिहिका से बोला- तुमने तो गेट पर ताला लगा दिया … क्या सुबह तक यहीं रखोगी!मिहिका बोली- ना … घर की पिछली तरफ से दीवार कूदकर चले जाना, तनै पता है ना … गाम मे जो दूधिया दूध बेचते हैं वो सब 3-4 बजे दूध निकालने उठ ज्या हैं.

अभी जो पेपर पर आपसे साइन करवाए हैं ना, वो स्कूल के नहीं थे … बल्कि मेरे दोस्त के पड़ोसी रोहन अंकल ने दिए थे.

मैं- अबे मुझे क्या पता कि तुम लोग ये क्या खिचड़ी पका रहे हो, मुझे पहले क्यों नहीं बताया?कुच्ची ने कहा कि मैं पूरा मामला फिट होने के बाद ही तुझे बताना चाह रहा था. अबकी बार उसने मुझे घोड़ी बना लिया और अपने लंड पर थोड़ा सा थूक लगा कर अपना लौड़ा धीरे-धीरे करके मेरी चूत में डाल दिया. और उससे कह देना कि कोई सोने की चेन, ईअररिंग्स या ब्रेसलेट जो भी उसे अच्छा लगे गिफ्ट में देने के लिए लेकर जाय; और हां मेरा बोल देना कि पापा नहीं आ पायेंगे.