इंडियन बीएफ बीएफ इंडियन

छवि स्रोत,हरियाणा की सेक्सी औरत

तस्वीर का शीर्षक ,

मां बेटा का सेक्सी हिंदी: इंडियन बीएफ बीएफ इंडियन, आह्ह … चोद साले … इस चूत को तेरे जैसे शर्मीले लंड को लेने में बहुत मजा आता है.

हिंदी में ब्लू फिल्म सेक्सी चुदाई

चूंकि भाभी के घर में तो सब लोग मुझे जानते थे इसलिए मैं वहां नहीं गया क्योंकि मैं अपने घर पर दोस्त के घर जाने के बारे में बोल कर आया हुआ था. xxxxवीडियो सेक्सीमैं उसके होंठों से होंठ लगाए चुम्बन में मस्त थी और वो मेरी कमर पकड़ कर मुझे धक्के मारने में लगा था.

उसके छूते ही मैं कांप सी गई, पर उसने मेरी एक जांघ पर हाथ रख बिस्तर पर दबा दिया था. सेक्सी ओपन बीपी मराठीमेरे लंड को प्यार करते हुए वो मजे से मेरे लंड को मुंह में लेकर चूसने लगी.

उनका बदला हुआ रूप देख कर मैं बहुत ही ज्यादा डर गया और वहां से भाग आया.इंडियन बीएफ बीएफ इंडियन: मेरी जिन्दगी के 20वें साल में पहली बार मेरे लंड का इस्तेमाल किसी लड़की की चूत चोदने के लिए हुआ था.

जैसे ही उन्होंने मेरे खड़े लौड़े को देखा, तुरंत ही लंड को अपने हाथों में ले लिया और सहलाने लगीं.मगर जब जीवन में पहली बार गाँव की सेक्सी लड़की सामने आई, तो मेरी उससे बात करने की हिम्मत ही नहीं हो रही थी.

सेक्सी फिल्म दिखाओ नंगी वाली - इंडियन बीएफ बीएफ इंडियन

फिर भाभी बोली- लेकिन इतने पैसे देगा कौन?मैंने कहा- वो सब बात मैंने कर ली है.इस बार हमारे बीच इतनी अधिक नजदीकी बढ़ गई थी कि मैं हंसी मजाक के बहाने उसके शरीर को जहां तहां छू देता था.

मैं काजल की पूरी बॉडी को चूम रहा था ताकि उसे वो सेक्स के आनन्द से ऐसे भर सकूं, जो उसकी पूरी लाइफ में यादगार रहे … और वो चाहकर भी ना भूल सके. इंडियन बीएफ बीएफ इंडियन बिल्डिंग बन जाने के बाद में हम लोग फिर से हमारे इसी घर में ही रहने वाले थे.

मैंने ध्याने से देखा तो उसकी चूत का दाना भी अभी सही तरीके उभर भी नहीं पाया था.

इंडियन बीएफ बीएफ इंडियन?

मैं जिस लड़की को चोदने का सपना देखा करता था, वो आज मेरा लंड चूस रही थी, ये मेरे लिए एक सपना जैसा था. मेरी देसी फुद्दी की चुदाई कहानी में पढ़ें कि अंकल ने पहली बार मेरी चूत चुदाई की. कुछ देर एक दूसरे के होंठों को चूसने के बाद मैंने उसकी टी-शर्ट निकलवा दी.

कुछ देर तक मामा जी लेटे रहे फिर उठ कर एक तरफ होकर चादर तान ली और सो गये. उन्होंने मेरे बाल पकड़ कर मेरा मुँह ब्रा के ऊपर से ही अपने चूचों में दबा दिया. जब सब जगह नजर दौड़ाने के बाद मैंने ठीक ठाक पाया तो मैंने हल्के से अपने हाथ को भाभी के चूचों पर लाकर उनको छेड़ने लगा.

अब मैं उसके ब्लाउज को खोलने ही वाला था कि तभी मुझे लगा कि कोई हमें देख रहा है. मैंने कहा- सर, मुझे नहीं मालूम था कि आप लोग पैसे लेकर ये सब काम करते हो. मुझे भाभी की डीपी देखने की जल्दी थी लेकिन उनकी डीपी में कुछ उर्दू में लिखा हुआ एक धार्मिक सा लगने वाला शब्द लिखा था.

फिर उसने धीरे-धीरे अपनी चूत से अपनी पैंटी का पर्दा हटाना शुरू कर दिया. उसने पैंट नीचे की तो उसके अंडरवियर में उसका लंड बहुत बड़ा लग रहा था.

उधर राकेश चुपचाप कुर्सी पर बैठ कर हम दोनों को एक दूसरे के होंठों के साथ खेलते हुए देख रहा था.

मैंने उसके पूरे शरीर को चूमना शुरू किया और वो भी मेरा भरपूर साथ दे रही थी.

जैसे ही मेरा लंड अन्दर गया, मुझे ऐसा लगने लगा कि उसकी चुत में ज्वालामुखी फटने वाला हो. बस 10, 9, 8, 7, 6, 5, 4, 3, 2, 1 धूमम … म्म … की … आवाज आई और राजशेखर ने उस बोतल को खोल दिया. उन्होंने मुझसे कहा- पागल परेशान न हो … तेरा हथियार तो तगड़ा है, पर तेरा पहली बार था, इसलिए जल्दी निकल गया.

ऐसे ही किस करते करते अभी हमें पांच मिनट ही हुए होंगे कि उसने मेरा एक हाथ पकड़ कर अपने एक बोबे पर लगा दिया. अम्मा पहले तो चिल्लाईं और बोलने लगीं- उम्म्ह … अहह … हय … ओह … मर गई रे … आ … और जोर से … मजा आ रहा है … और जोर से घुसा अपना लंड मेरी गांड में … मार बेटा आज अपनी अम्मा की गांड मार … मजा आ रहा है मुझे … आह और जोर घुसा दे बेटा … और जोर से मार दे मेरी गांड … पूरी कर दे मेरी गांड ढीली बेटा … और जोर से चोद. कारण ये रहा कि मेरे अम्मी अब्बू को लड़की कुछ समझ में नहीं आई … और इसी लिए मेरी उससे सगाई टूट गई थी.

मैंने भी आंटी के मम्मों को बातों ही बातों में कभी टच किया, तो कभी हाथ लगा दिया.

रवि इतना अधिक उत्तेजित था कि उस झटके के पल भर बाद ही वो तेज़ी से धक्के मारते हुए आगे बढ़ने लगा. आप मुझे बताएं कि मेरा ऐसा करना सही है या गलत? मुझे समझ नहीं आ रहा है कि मैं अपनी इस गंदी आदत को कैसे छोडूँ?मैं अपना इमेल आईडी नहीं दे रहा हूँ ताकि मेरी पहचान छिपी रहे. इससे बड़ी विडम्बना और क्या होगी कि सब कुछ है मेरे पास लेकिन सब कुछ होते हुए भी जैसे कुछ भी नहीं है।मैं उसकी बात का मतलब समझ ही नहीं पाया.

उसकी चूत को चाटते हुए मुझे ऐसा लग रहा था जैसे मैंने उबलते दूध को छू लिया हो. मां मेरे लंड को पकड़ कर सहलाती रही जैसे बहुत दिनों से उन्होंने लंड का स्पर्श मिला ही न हो. मैं जल्दी से तैयार होने लगा और घर पर मैंने बोल दिया कि मैं अपने दोस्त के घर पर जा रहा हूं.

दूसरे हाथ से राजशेखर का लिंग पकड़ कर उसने मेरी योनि में प्रवेश करा दिया.

वो मेरे होंठों को चूसते हुए अपनी चूत में लंड को लेती रही और मैं उसकी चूत में धक्के लगाता रहा. कमलनाथ- आ जाओ अब तुम्हें बताता हूं कि शादी के बाद लड़का लड़की क्या करते हैं.

इंडियन बीएफ बीएफ इंडियन एक फायदा ये भी था कि उस वक्त तक बाकी सभी लोग भी सो चुके थे और बोगी में लोग भी कम थे. उसके ऐसा करने से उसकी फ्रॉक तो ज़्यादा ऊपर नहीं हुई, लेकिन उसकी पैंटी मुझे सीधी दिखने लगी.

इंडियन बीएफ बीएफ इंडियन कुछ देर के बाद कविता ने असहजता दिखानी शुरू कर दी, क्योंकि उस अवस्था में संभोग कर पाना सबके लिए सरल नहीं होता है. मगर इस सारे खतरों को दरकिनार करके मैंने फरजाना की फुद्दी में अपना पूरा लंड डाल दिया.

अब मेरी बेचैनी इतनी बढ़ गई कि मैं पूरा जोर लगा पलटकर सीधी हो गई और वो मुझे भूखे शेर की तरह घूरने लगा.

फीचर फिल्म सेक्सी

फिर मैंने पूछा- कौन?तो उसने कहा- पहचाना नहीं?मैं समझ गया कि ये चाची ही है. मम्मी बोलीं- बेटा बहुत दिन तक अगर चूत की चुदाई ना हो, तो चूत का मुँह चिपकने लगता है … इसलिए चूत टाईट हो गई है. इसी बीच वो फिर से चार्ज हो गई और गांड उठा उठा कर लंड के मजे लेने लगी.

मैंने भाभी को इशारा किया कि अब नहीं रहा जाता, बस जल्दी से चुदवा लो. ऐसे ही किस करते करते अभी हमें पांच मिनट ही हुए होंगे कि उसने मेरा एक हाथ पकड़ कर अपने एक बोबे पर लगा दिया. एक औरत को झड़ते देख कर किसी भी मर्द को अपनी मर्दानगी पर गर्व होता है.

दोस्तो, मेरी इस हॉट भाभी की गांड चुदाई कहानी में आपको मजा आया या नहीं … मुझे बतायें.

उसके लंड का और मेरी चूत के पानी मिला जुला स्वाद बहुत अच्छा लग रहा था. मैंने हम दोनों के ऊपर एक चादर ओढ़ ली और उसकी सलवार को ढीला करते हुए पैंटी को नीचे सरका दी. मेरे लंड पर उनके कोमल हाथों का अहसास मेरे दर्द को एक सुकून में तब्दील कर रहा था.

कमलनाथ ने मेरे चूतड़ों को पकड़ लिया और मुझे धक्के लगाने में सहायता करने लगा. उसने मेरा लंड चूसने से मना कर दिया था इसलिए एक कसक सी मन में रह गयी थी. तुम ये बताओ कि तुम चाय लोगे या कॉफी?उसने एक हल्की मुस्कान के साथ मुझसे पूछा.

राजशेखर और मैं दोनों ही बहुत गर्म थे और शायद इस बात की कोई फ़िक्र नहीं थी कि हम किस अवस्था में सम्भोग कर रहे हैं. तीन-चार मिनट के भीतर उसको गांड चुदाई करवाने में मजा आने लगा और वो भी मेरा साथ देने लगी.

फिर वो मेरी बात सुन कर मुस्कराने लगी और अपने बैग से चिप्स का एक पैकेट निकाल कर उसे खोला और चिप्स खाने लगी. वह रोते हुए बोलने लगी- यह क्या हो गया … ऐसा खून क्यों बह रहा है?मैंने उससे कहा- कुछ नहीं तुम्हारी सील टूटी है … तुमने आज पहली बार सेक्स किया है ना … इसलिए ऐसा होता है. पर जब मैंने गौर से अपने पेट को देखा, तो सच में बहुत लज्जा सा महसूस हुई कि मेरा पेट इतना बड़ा दिख रहा है और दूसरी के मेरी योनि उस लेगिंग में उभर कर दिख रही थी.

मैं बोला- अरे यार … ये भी कोई कहने की बात हुई? तुम निश्चिन्त रहो, यह बात सिर्फ हमारे बीच रहेगी, किसी को कानों कान खबर भी नहीं होगी।उसके बाद हमने चुदाई के मजेदार खेल का समापन किया, मैंने उसे काफी देर तक प्रगाढ़ चुम्बन करके अपना प्रेम प्रदर्शित किया.

मैंने वापस आ कर देखा कि ड्राइंग रूम में भाभी की दो सहेलियां अपने 4 बच्चों के साथ आई हुई थीं. फिर कमरे में ला कर मैंने दीदी को पेनकिलर गोली दी, ताकि ज्यादा दर्द ना हो. पर मेरी सहेलियों और बाकी सभी ने तय किया कि राहुल की जगह किसी और क्लासमेट को तैयार कर लेते हैं.

मैं अभी उसकी चुत देखने का तरीका सोच ही रहा था कि उसने पैर उठाते हुए मुझे अपनी पैंटी दिखाई और कहा- यार, मेरी कमर का दर्द जा ही नहीं रहा है, आज तो और भी ज्यादा दर्द है. सिर भाभी ने एक स्टॉल सा डाला हुआ था लेकिन वो भी पूरी तरह से ढका नहीं हुआ था.

मेरे पास आकर किरण मुझसे कहने लगी- जब भी तुम्हारा मन हो तुम यहां पर मेरे फ्लैट में आकर बेझिझक मुझसे मिल सकते हो. जब वो पूरी तरह से शांत हो गयी तो मैंने धीरे से प्रिया बहन की चूत में धक्के लगाने शुरू किये. अंगिका बैठी हुई अपनी व्हिस्की की सिप मार रही थी और मेरे से बात कर रही थी.

सेक्स वीडियो देखने वाला

उसी में उन्होंने मुझे भी आमंत्रण दिया और मुझे भी नए साल को यादगार मनाने की जिज्ञासा थी तो मैंने हां कह दी थी.

जब मैं वापस आया तो मैंने देखा कि उसने अपनी सलवार को घुटनों तक नीचे कर लिया था. उसके बाद मैं बाथरूम में चला गया और काव्या भी अपने कपड़े ठीक करके बैठ गयी. इसी बीच दीदी का आंचल जरा सरक गया था और उनके गहरे गले वाले ब्लाउज में कसे हुए उनके दूध दिखने लगे थे.

मैं भी किसी वेश्या की भांति नखरे दिखाते हुए नेताजी के गले में हाथ डाल बैठ उनके मनोरंजन के लिए तैयार हो गई. साड़ी को मेरी कमर से बांध कर उसने आगे का हिस्सा एकदम नाभि के नीचे खौंस दिया. बिहार की फुल सेक्सीकामुकता से भरपूर इस सेक्स कहानी के पांचवें भागखेल वही भूमिका नयी-5में अब तक आपने पढ़ा था कि मेरी सहेली के पति ने मुझे रात तीन बजे तक रौंदा था, जिस वजह से मुझे बड़ी थकान हो गई थी.

वो गर्म होते हुए मेरे लंड पर तेजी से हाथ चलाते हुए उसके टोपे को ऊपर नीचे कर रही थी. राकेश ने रिसेप्शन पर ही एक दारू के लिए बोल दिया, जो कि बहुत महंगी थी.

उसने मुझसे कहा- इस क्रीम की वजह से तुम सुरक्षित रहोगी और तुम गीली नहीं भी होगी तो संभोग के समय परेशानी नहीं होगी. वो गर्म होते हुए मेरे लंड पर तेजी से हाथ चलाते हुए उसके टोपे को ऊपर नीचे कर रही थी. मैंने अपने भाई के लंड को अपने हाथ से टटोलते हुए उसके लंड को अपने हाथ में पकड़ लिया.

उनका मुंह एक बार मेरी गांड में घुस जाता और अगली बार फिर होंठ मेरी चूत को चूस जाते. बहुत ही जल्दी आपके सामने इस मसाज़ सेक्स कहानी का मैं दूसरा भाग प्रस्तुत करूंगा. और लड़के सोचते हैं कि चूत में लन्ड डाल कर उसका भोसड़ा बना दें, इतना चोदें, इतना चोदें कि उसकी चूत के परखच्चे उड़ा दें मगर अफसोस ऐसा हो नहीं पाता.

इस बार मैंने थोड़ी जोर से ट्राई किया और मेरा लंड का सुपाड़ा उनकी चूत के अन्दर चला गया.

दूसरी तरफ मुझे ऐसा लग रहा था जैसे उसे बहुत लम्बे समय बाद आज नींद आई हो. मुझे कुछ समझ नहीं आया, मैं उस रात सो नहीं पाया और सुबह का इंतजार करने लगा.

मुझे अब तक बहुत मजा आ रहा था लेकिन अब मेरी गांड भी फटने लगी थी कि कहीं भाई देख न ले और प्रिया को छेड़ने का सारा इल्जाम मेरे सिर पर आ जाये. अनु भी पढ़ने नहीं गयी क्योंकि मैंने उसको रात में ही सारा प्लान बता दिया था. रवि के इस आक्रामक रूप देख कर मैं समझ गई कि अब वो चरमसीमा से ज्यादा दूर नहीं है.

डॉली की चूत पर लौड़ा रगड़ते रगड़ते मेरे लौड़े का सुपारा और डॉली की चूत दोनों ही लाल लाल हो गए थे. यह मेरी रियल स्टोरी आपको कैसी लगी मुझे जरूर बताना। मैंने अपनी मेल आईडी नीचे दी हुई है. वह रोते हुए बोलने लगी- यह क्या हो गया … ऐसा खून क्यों बह रहा है?मैंने उससे कहा- कुछ नहीं तुम्हारी सील टूटी है … तुमने आज पहली बार सेक्स किया है ना … इसलिए ऐसा होता है.

इंडियन बीएफ बीएफ इंडियन यह इंडियन सेक्स स्टोरी मेरे मकानमालिक की घरेलू नौकरानी के साथ चुदाई की है. मैंने अपने लंड की स्पीड कम कर दी और उससे पूछा कि क्या हुआ?उसने कहा- झड़ गई हूँ … आप रुक जाइए.

बेबी शावर

उसकी बात सुनकर मुझे सुकून सा आया कि कम से कम किसी होटल में हो सकने वाली बदनामी का डर तो खत्म हुआ. मेरी बीवी के मुँह से ये सुनकर सुरेश ने उसे सीधा कर दिया और उन दोनों ने एक दूसरे के सारे कपड़े उतार दिए. उसने अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया और जोर से धक्का मेरी चूत में मारा था तो मैं चीख उठी और कुछ देर में मैं सीत्कारें भरने लगी- आह उई उई आह!और वो अपना लंड मेरी चूत में डाल कर मेरी चूत को चोदने लगा.

रात में मैंने युक्ता और शोभा की चूचियों और चूत के बारे में सोच कर मुट्ठ मारी. मन कर रहा था अभी भाभी को नंगी करके चोद दूं लेकिन जैसे तैसे मैंने खुद को कंट्रोल करके रखा हुआ था. ચાઇના સેક્સजैसे ही उसका दर्द कुछ कम हुआ तो एक जोरदार धक्के के साथ मैंने अपना पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया.

मैंने उसके लहंगे का नाड़ा खींच दिया और वो एक पैंटी में मेरे सामने आ गई.

फिर वो मेरे ऊपर आ गया और दोबारा से मेरे चूचों को अपने मुंह में भरने लगा. मैं जल्दी से उसकी गोद में बैठ कर लिंग को योनि में प्रवेश कराते हुए उसकी गोद में उछल उछल कर संभोग को आगे बढ़ाने लगी.

मेरे पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि मेरे एक दूर वाले अंकल की तबीयत खराब है, तो उन्हीं को देखने और उनसे मिलने वे दोनों अस्पताल जा रहे हैं. फिर चार पांच महीने बाद ही मेरा कम्पनी के एम डी से मेरे कमीशन को लेकर पंगा हो गया और मैंने जॉब छोड़ दी, लेकिन साराह मैम से मेरी बात होती रही. मैंने उस दिन शेव किया, थोड़ी ज़्यादा एक्सर्साइज़ की, लंड की मालिश की और अच्छे से तैयार होकर मिलने स्टेशन पहुंच गया.

फिर मैं उसको धीरे से गोदी में उठा कर बाहर ले गया और उसे सोफे पर पटक कर एक बार फिर से उसकी चूचियों को पीते हुए उसकी चूत पर लंड लगा दिया.

धीरे धीरे कांतिलाल मेरे नजदीक आ गया और तकिए पर सिर रख बातें करने लगा. ऐसा मैं इसलिए कह रही हूँ क्योंकि मर्दों के अक्सर एक बार झड़ने के बाद दोबारा झड़ने में काफी समय लगता है. सच कहूं तो मुझे वास्तव में ही उनके अंदर कोई रुचि नहीं थी इसलिए मैं उसकी हरकतों को अनदेखा कर दिया करती थी.

ब्लू पिक्चर सेक्सी हिंदी चुदाईजब मैं वापस आया तो मैंने देखा कि उसने अपनी सलवार को घुटनों तक नीचे कर लिया था. भाभी कहने लगी- हमने कई जगह टेस्ट कराया लेकिन कुछ पता नहीं लग पा रहा है कि कहां पर कमी है.

जंगल में की सेक्सी वीडियो

उन्होंने आंखें बंद कर ली थीं और मैं धीरे धीरे उनके सांवले हाथों को सहला रहा था. वो मेरे लंड को अन्दर तक लेकर चूसने में मस्त होने लगी और एक हाथ से मेरे आंडों को भी सहलाने लगी. फिर जब वो उल्टी लेट कर उठ कर करने वाली एक्सरसाइज करने लगी और उल्टा लेट गई.

उसने झुक कर मेरे लंड को चूम लिया और बोली- हां … मुझे सीधे केले से मलाई निगलना भी है. राज मेरे नीचे से बोल रहा था- पारुल जोर से कूद!वो जितना तेज करने को बोलता, मैं उतना ही जोर से उछलने लगती और जोर जोर से मेरी सिसकारियां निकल रही थीं. उसके गोरे गाल, मस्त गहरी नाभि और गुलाबी होंठ, काले लंबे खुले हुए बाल थे.

रवि ने निर्मला के विशाल चूतड़ों को दोनों हाथों से थपथपाया और अपना मुँह निर्मला की योनि से चिपका कर उसे चाटने लगा. वो अंदर आकर कहने लगी- मैं बहुत दिनों से देख रही हूं कि तुम मुझे गंदी नजर से देखते हो. श्रुति बोली- आह बना दे मुझे अपने बच्चे की मां … तेरे तगड़े लंड जैसा तगड़ा बच्चा होगा … मेरे चुतिया पति जैसा लुल्ला नहीं चाहिए मुझे.

मैंने उनको एक नजर भरके देखा, उनको देखा क्या, बस ये समझ लो कि ब्लाउज के ऊपर से उनके बोबे खा जाने वाली नजरों से देखा. मैं कभी उनके होंठ पर अपनी उंगली फेरता तो कभी गर्दन पर फिर धीरे धीरे मैंने अपने हाथ को आंटी के कुर्ते के अंदर डाल दिया और उनके बोबे को दबा दिया.

मैंने उसके होंठों को चूसते हुए एक जोर का झटका मारा, तो लंड के आगे का हिस्सा उसकी चूत में घुस गया और काजल चीख पड़ी- उम्म्ह … अहह … हय … ओह …उसकी आंखों में आंसू आ गए.

इतना ज़ोर ज़ोर से मैं कभी भी मुठ मारते हुए भी नहीं झड़ा था, ऐसा लग रहा था, जैसे आज में अपने लंड का पूरा माल उसी के मुँह में गिरा दूँगा. सेक्सी गाना फुल वीडियोब्लाउज के नीचे दबे हुए उनके बड़े बड़े बूब्स और पतली सी साड़ी के नीचे छुपी हुई उनकी बड़ी सी गांड मुझे उनके लिए सोचने पर हमेशा ही मजबूर कर दिया करती थी. सेक्सी पिक्चर इंग्लिश सेक्समैंने कहा- मम्मी आप हुक्म तो करो, मैं इतनी मेहनत करूंगा, इतनी मेहनत करूंगा कि आप पापा को भूल जाएंगी. आपके मेल की प्रतीक्षा में आपका धर्मेंद्र[emailprotected]चोदाई की कहानी का अगला भाग:मेरी पहली चोदाई की कहानी-2.

”मैं समझा नहीं?”हुआ यूँ था कि:कुछ समय पहले मेरे दांत में भयानक दर्द हुआ तो मैं पापा के साथ डेन्टल कॉलेज गई.

हम दोनों मस्ती से सेक्स कर रहे थे और साथ में एक दूसरे को किस कर रहे थे. लंड पूरा का पूरा चूत में उतर गया था और भाभी अब बल्लू के लंड पर उछलने की तैयारी कर रही थी. इतना बोल कर मैंने उसको दीवार से चिपका दिया, उसके दोनों हाथों को ऊपर करके पकड़ लिया और उसके होंठों को चूसने लगा.

मैंने देखा कि उनके मम्मे असल में बहुत बड़े थे, जिसके कारण ब्लाउज का एक बटन नहीं लगा था. मैं उसके होंठों से होंठ लगाए चुम्बन में मस्त थी और वो मेरी कमर पकड़ कर मुझे धक्के मारने में लगा था. मैंने उसे देखा, रमा में पहले के मुकाबले थोड़ा बदलाव आया था, अब उसके स्तन पहले की तरह सुडौल नहीं थे बल्कि झूल रहे थे, उसके चूचुक भी काफी लंबे दिख रहे थे.

राजस्थानी मेवाड़ी सेक्सी वीडियो

वो पूरी ताकत से मेरी चूतड़ों को फैला ज्यादा से ज्यादा अपनी जीभ भीतर घुसाने का प्रयास करने लगा. और यदि हो सकता है तो फिर आज मेरे साथ भी कर लो, लेकिन वादा करो तुम अपनी गर्ल फ्रेड को याद करके रोओगे नहीं, मैं तुम को खुश देखना चाहती हूँ. मैंने एक हाथ उसके सूट के अन्दर डालकर उसके नंगे मम्मों को पकड़ लिया और धीरे धीरे सहलाना शुरू कर दिया.

मैंने उसकी गांड को अपने हाथ में पकड़ लिया ताकि वो आगे की तरफ छूट कर न भागे.

इसलिए मैं अपने जीवन में घटित हुई असल भाबी की चुदाई कहानी को आप सबके सामने प्रस्तुत कर रहा हूंःयह घटना आज से करीब 5 साल पुरानी गर्मी के दिनों की है.

अब जब शिफा और इंशा को मैं पहले ही चोद चुका था, तो बाद में भी चोदने में क्या दिक्कत थी. मुझे यकीन है कि जो आदमी अभी काव्या की जगह अपनी बीवी के साथ ऐसा होते हुए सोच रहा होगा, उसके लंड का हाल भी बहुत बुरा हो गया होगा … हैं ना दोस्तों …अब मैंने काव्या की चुचियों पर एक थप्पड़ मारा … वो दर्द से तड़प गयी. ब्लू फिल्म फुल मूवी सेक्सीउसने मुझे चॉकलेट दी, फिर दूसरी चॉकलेट वो अपने मुँह से लेने की जिद करने लगा.

कुछ देर में मुझे भी मजा आने लगा और अंकल के लंड से चुदते हुए मैं दो बार झड़ गयी. लगभग नंगे हो जाने पर उससे रहा ही नहीं गया और उसने मेरी ब्रा पकड़ कर खींच दी. मेरी कद काठी बहुत ही मस्त है, जिस कारण बहुत सी लड़कियां मुझ पर मरती भी हैं.

मुझे भी आपका साथ मिल जायेगा और आपको बाहर खाने के लिए भी नहीं जाना पड़ेगा. वह भी मेरा पूरा साथ दे रही लेकिन उसके चूत मारकर मुझे बड़ा मजा आया।उसके बाद तो जैसे वह मेरा परमानेंट जुगाड़ बन गई हो … जब भी उसका मन होता तो वह मुझे फोन कर दिया करती या फिर मेरा मं होता तो मैं उसके पास ही चला जाता।हम दोनों एक दूसरे की जरूरतों को पूरा कर रहे हैं.

वो नीचे बैठी हुई फूलों को देख रही थीं और अन्जाने में अपने संगमरमर जैसे जिस्म के दर्शन करा रही थीं.

इतना कह कर मैंने उसको पीठ के बल लिटाया और अपने लंड का सुपारा साली की चूत के मुहाने पर लगाया. ये सब कहानियां पढ़ने के बाद मैंने भी ये सोचा कि मैं भी अपनी बिंदास सेक्स लाइफ आप सब लोगों के साथ शेयर करूंगी क्योंकि हम आम जीवन इस तरह की बातें सबके साथ शेयर नहीं कर पाते हैं. सेक्स प्रेम प्यार का विषय है, जोर जबरदस्ती, जोश, आवेश, मर्दानगी दिखाने का नहीं!पति को चाहिए कि वो अपनी पत्नी की परेशानी को समझे.

सेक्सी वीडिये उसके बाद वीजू वंदना के कमरे की तरफ गया लेकिन वंदना भाभी ने अंदर से दरवाजा बंद कर लिया था. उसने दोनों हाथों से मेरे दोनों स्तनों को बेरहमी से मसलना शुरू कर दिया … तो मैं दर्द से कराह उठी ‘उम्म्ह … अहह … हय … ओह …’फिर वो मेरी जांघों के बीच झुकने लगा और एक हाथ से अपना कुर्ता ऊपर करके लिंग पकड़ मेरी योनि की ओर ले जाने लगा.

जब मुझे मामी के आने की आवाज सुनाई दी तो मैंने आंखें खोली ही थीं लेकिन उस वक्त मेरे हाथ में मेरा लंड था और मेरे लंड से वीर्य की पिचकारी निकल रही थी. मैंने अपने लंड को बाहर निकाला तो वो जोर जोर से सांस लेने लगी और थूकने लगी. मैंने उसकी चूत से धीरे-धीरे करके सारे के सारे लम्बे-लम्बे बाल हटा दिये और उसकी चूत एकदम साफ हो गई.

मारवाड़ी सेक्स ऑडियो वीडियो

रंडी बनने का बहुत शौक है ना तुझे, अब ले मेरा लंड और चुद कुतिया की तरह. मैंने धीरे से मामी के तन से चादर को हटाया और उनके बदन पर हाथ फिराने लगा. फिर हम चारों ने मिल कर एक प्लान बनाया कि हम सब कहीं बाहर घूमने चलते हैं.

उसका पानी निकलने से चुदाई में पच-पच की आवाज होने लगी और कुछ ही धक्कों के बाद फिर मेरे लंड ने भी वीर्य छोड़ दिया. अंडरवियर निकाल कर एक तरफ फेंक दिया और मेरा लंड उसके सामने फनफनाता हुआ लहराने लगा.

फिर एक दो बार मौसी की गांड के करीब पहुंच कर मैंने उंगली वहां पर टच की तो मौसी ने और आगे मालिश करने के लिए मना कर दिया.

बहुत दिनों से मुझे मेल प्राप्त हो रहे थे जिनमें पाठकों की शिकायत थी मेरी कहानियां काफी समय से प्रकाशित नहीं हो रही हैं. क्या आप काम कर सकती हैं?उसने तुरंत उत्तर दिया कि काम तो वो कर देगी मगर सबसे आख़िर में घर जाते हुए ही काम करने का समय रखना पड़ेगा. मैं अभी इतना तो अंदाज लगा सकती थी कि मेरे साथ उसे भी काफी मजा आ रहा था.

एक दिन मेरे दोस्त ने मुझसे कहा- वो तुझे जिस तरह से देखती है, उससे लगता है कि ये तेरे से पट जाएगी. रवि भी इतना अनुभवी था कि एक ही सीमा तक लिंग बाहर खींचता और एक ही ताकत से धक्का मारता … मानो जैसे उसे इस तरह की आदत हो. थोड़ी देर में ही हम सेक्स करते करते झड़ गए, हमारा पानी निकल गया था और हम दोनों थक कर बिस्तर पर लेट गए थे.

इस पर रमा बोली- सबकी बातों को बराबर ध्यान दिया जाएगा, पर आज जिसने पहले न्यौता दिया, पहला हक़ उसका बनता है.

इंडियन बीएफ बीएफ इंडियन: मैंने लंड से धक्का मारा, तो मेरा सुपारा आंटी की चूत की फांकों में घुस गया. हम दोनों आपस में बातें करते हुए ऐसे दिखा रहे थे कि सब कुछ नॉर्मल ही हो रहा है.

हालांकि अति उत्तेजना की अवस्था में महिलाएं ये पीड़ा भी झेल लेती हैं. उसने मेरे शांत होते ही मुझे अपने ऊपर से नीचे किया और फ़िर मुझे सीधा लिटा कर मेरी टांगें पकड़ अपनी ओर खींचता हुआ मुझे पूरा फैला दिया. निकल गई।मैंने भाबी से आखिरकार बोल ही दिया- कैसा लग रहा है भाबी जान?भाबी बोली- हाय मेरे राजा.

फिर मैंने धीरे धीरे अपने चूतड़ों को ऊपर नीचे करके लिंग को योनि में प्रवेश कराना शुरू किया.

एक दिन मैं घर पर अकेला था तो पता नहीं मेरा मन भी किया कि एक बार तो हस्तमैथुन करके देखना चाहिए कि कितना मजा आता है. मैं भी स्कूल से आते हुए उसे दिखा, तो उसने मुझे आवाज़ लगा कर घर बुला लिया. इस बार जब मैंने देखा कि विशाखा की चुचियां अब करीब 36 डी की हो गयी थीं, क्योंकि वो एक बेबी की माँ बन गयी थी.