भोजपुरी बीएफ भोजपुरी बीएफ एचडी

छवि स्रोत,செஸ் வீடியோ இந்தியன்

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी बीपी हिंदी सेक्स: भोजपुरी बीएफ भोजपुरी बीएफ एचडी, फिर मैंने आंटी को अपनी ओर खींचते हुए कहा- आंटी, दो साल से आपसे प्यार पाने की राह देख रहा हूँ.

ट्रिपल सेक्स इंग्लिश पिक्चर

मैं तो बस उन तीन जवान मर्दों की लगायी लंड की प्यास को बुझाने के लिये किसी जवान चोदू लंड को खोज रहा था और अब मेरे पास इतना समय नहीं था कि एक नये मर्द की तलाश करूँ…मैं बिना कुछ बोले वहाँ से खड़ा हुआ और थोड़ी दूर पर लगी कुर्सी पर जाकर आराम की मुद्रा में बैठ गया, अब मेरा ध्यान उस पर नहीं था. भोजपुरी गाना वीडियो में सेक्सीजब मैं एक बार और झड़ी, तब मैंने परीक्षित और चिंटू दोनों से उनके रस को बाहर निकालने के लिए बोली, पर उन्होंने ध्यान नहीं दिया और बिना लंड को मेरी चूत और गांड से बाहर निकाले, मुझे बेड पर ले गए.

अब मैं टेबल के सहारे खड़ा हो गया और वो नीचे बैठ कर मेरा 8 इंच का लंड अपने हाथ में लेकर सहलाने लगी और आगे पीछे करने लगी. बिहारी बियफपहले मैंने अपनी जीभ से उसके होंठ को चाटा, फिर उसके नीचे के होंठ को अपने दोनों होंठों के बीच दबा कर चूसने लगा.

मैंने धक्के मारने शुरू कर दिए और करीब आधा घंटा तक मॉम की चुत को चोदा.भोजपुरी बीएफ भोजपुरी बीएफ एचडी: कुछ ही देर में हम दोनों एकदम नंगे होकर बिस्तर से नीचे आ गए और एक दूसरे को चूमते हुए डांस करने लगे.

मैंने और फिर जोश में आकर उसके कानों के पतले भाग को धीरे धीरे चूमना शुरू किया और साथ ही में मैंने अपने हाथों को उसके गले और मम्मों पर धीरे धीरे चलाना शुरू कर दिया.शायद उसकी चुदास भड़क उठी थी और वो आज अपना सर्वश्व लुटाने को तैयार थी.

एक्स एक्स एक्स पोर्न वीडियोस - भोजपुरी बीएफ भोजपुरी बीएफ एचडी

15 मिनट बाद जब मैंने उनका रिचार्ज करा दिया तो तुरंत बाद की भाभी की मेरे पास कॉल आ गयी और मुझे थैंक्स बोला।फिर धीरे धीरे हम दोनों में नार्मल बाते होने लगी।एक दिन अचानक उन्होंने मुझसे मेरी गर्लफ्रेंड के बारे में पूछा तो मैंने मना कर दिया कि मेरी अभी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है तो उनको मेरे पर विश्वास नहीं हुआ तो मैंने ऐसे ही झूठ बोल दिया- है… मेरी एक गर्लफ्रेंड है.भगवान् जाने… क्या चल रहा था लड़की के दिमाग में? मैं आहिस्ता से उठा और बैड से नीचे उतर कर फर्श पर खड़ा हो गया.

तत्काल प्रिया ने मेरे सर के पीछे से बाल पकड़ मुझे थोड़ा परे धकेलने की कोशिश की लेकिन मैं ऐसे कैसे पीछे हटता!मैंने अपनी वही पुरानी तक्नीक अपनायी, लिंग थोड़ा सा योनि से बाहर खींच कर जहाँ था, फिर से वही पहुंचा दिया, फिर थोड़ा बाहर निकाला और फिर जहाँ था, वही पहुंचा दिया, ऐसा मैं करता ही चला गया. भोजपुरी बीएफ भोजपुरी बीएफ एचडी मुझे आज भाभी के साथ लिपटना कुछ अलग ही सुख दे रहा था क्योंकि आज मेरे लंड को मालूम था कि आज बिना कंडोम केभाभी की चुतमें गोता लगाने का मौका मिलने वाला है.

ये सब सोच कर कि अब मेरी चूत को लंड मिलने वाला है, मेरी वासना जागने लगी थी.

भोजपुरी बीएफ भोजपुरी बीएफ एचडी?

मैं नहीं चाहता था कि वो इतनी जल्दी झड़ जाएं, इसलिए मैंने चूत चूसना छोड़ दिया और ज़मीन पर लेट गया. विवेक ने स्पीड बढ़ा दी, मेरी चुदक्कड़ चालू बीवी कामिनी बोली- वाह राजा, क्या जोश के साथ मेरी चूत ले रहे हो!और फिर विवेक ने मेरी कमीनी बीवी कामिनी की चूत में ही अपने लंड की पिचकारी छोड़ दी. वो अपनी चुत से लंड निकाल कर अपने हाथों और घुटनों के बल चौपाया जैसी बन गई.

फ़िर मैंने उनको अपनी बांहों में उठाया और बेड पे सीधे लेटा दिया, वो बहुत ही मासूम लग रही थीं. वो भी इतनी गरम हो गई थी कि जैसे ही मेरे होंठ उसकी चुत को चूमते, वो अकड़ जाती. मैं आपको उसके शरीर के बारे विस्तार से बता दूँ, उसकी लम्बाई लगभग साढ़े पांच फुट के आसपास थी.

कमाल की बात ये थी कि उस दौरान हम दोनों मां बेटा के बीच में कोई बातचीत नहीं होती थी और बस खेल खत्म होने के बाद हम दोनों माँ बेटा की तरह सो जाते थे. लेकिन वो मेरे साथ ही चिपका रहा। मैं बेसुध होकर दर्द सहने लगी, उसने अपना सारा माल मेरी गांड में निकाल दिया।उसकी पिचकारी ने मेरी गांड में आग सी लगा दी। मुझे उसका गाढ़ा पानी अपनी गांड में निकलता हुआ फील हुआ. एक तो मेरी ड्रेस ऐसी थी कि उस ड्रेस में तो कोई भी लड़की हो, सब उसे ही देखेंगे.

तो मैं भी किचन में चला गया और वहीं खड़े रह कर बात करने लगा और भाभी से टच होने लगा. वो नाज़ को बोली- तू मेरी चूत चाट… ये तेरी चुत की चुदाई करेगा!मैंने नाज़ की चूत में खूब सारा थूक लगाया और अपने लंड में थूक लगा कर नाज़ की चूत में पहले झटके में लंड डाल दिया.

अब मैं जोर जोर से सेजल भाभी की चूत चूसने लगा और जीभ को नुकीला करके उनकी चूत की फांकों में घुसाकर मुँह से उनकी चुत चोदने लगा.

दीदी और जीजू हैं यहां, मुझको दर्द होगा, मैं ज्यादा चिल्लाना नहीं चाहती हूँ.

विनय को जोश आने लगा और वो मेरी टांगों को अपने कन्धे पर रख कर जोर जोर से मुझे चोदने लगा. इधर मेरे लंड का हाल भी बुरा हो रहा था, लेकिन मैं बिल्कुल भी जल्दबाजी नहीं करना चाहता था. कंडोम डॉटेड था तो कुछ रगड़ते हुए अन्दर गया, पर दर्द इतना होने लगा कि मैं कुछ और ना समझ पाई.

चाहे कामऱज़ की वजह से प्रिया की योनि पहले से ही खूब चिकनी हो रही थी, तदापि चित टांगों के साथ योनि भेदन में प्रिया को बहुत दर्द होना था तो मैंने प्रिया के दोनों पैर मोड़ कर प्रिया के नितंबों से करीब एक फुट की दूरी पर रख दिए; इससे प्रिया की योनि की मांसपेशियाँ थोड़ी सी ढीली हो गयीं जिस से मुझे प्रिया की योनि में अपना लिंग प्रवेश करवाने में थोड़ी सुविधा होने वाली थी. ! आज से मैंने तुम्हारी गर्लफ्रेंड!उसने इतना बोलते ही मेरे होंठों पर अपने दहकते हुए होंठ रख दिए. उसने मुझे अपना कार्ड भी दिया और उस पर अपने फ्रेंड का नम्बर भी लिख दिया, तब मुझे पता लगा कि जिसे वो चोदूराम कह रहा था, उसका नाम विमल है.

फिर कुछ देर बाद मैंने अपना हाथ उसके टॉप के गले से अन्दर डाल कर उसकी चूची को पकड़ लिया और मस्ती से दबाने लगा.

आज के बाद हम दोनों की जिंदगी में क्या क्या मोड़ आएं… मैं नहीं जानती लेकिन जो अभिसार अभी आप के और मेरे बीच में होने वाला है, मैं चाहती हूँ कि उसका स्वरूप एक पति-पत्नी के अभिसार का हो… ना कि प्रेमी-प्रेमिका के अभिसार का. मैंने उनसे कहा- सेजल भाभी, आपकी चूत बहुत कसी हुई है?उन्होंने कहा- तेरे जैसा कोई मिला नहीं जो इससे फाड़ डाले. मेरी काफी नानुकर के बाद भी जब वो नहीं माना और उसने अपनी मजबूत बांहों में मुझे जकड़ लिया.

और वो आनन्द से चिल्लाने लगी- असाह्ह आआह आह्ह ह्ह स्सशआ आह्ह्ह… भाई… आह!दस मिनट की चुदाई के बाद मैं झड़ने ही वाला था तो मैंने उसे बताये बिना अपना लंड अपनी बहन की बुर से बाहर निकाल कर उसके पेट पर अपना माल छोड़ दिया. फिर मैं अपने काम में लग गया था और वह भी घर में साफ़ सफाई करने लग गई थी. जब तक उनको अंदाज़ा हो कि क्या हुआ, उससे पहले ही बर्फ का टुकड़ा उनकी चूत की गहराई में उतर गया.

हमने प्रोग्राम तो पहले से ही तय कर लिया था कि अंजलि और पारुल मुझे एक चौंक पर मिल जायेंगी.

चुत चुदाई के बाद बाद उसने कहा- ज़रा बाथरूम में जाकर साफ़ सफाई कर आओ. काफी देर तक मेरे दोनों निप्पलों को चूसने के बाद विनय ने निप्पल चूसते हुए ही मेरी जींस के बटन को खोल दिया और निकलने लगा.

भोजपुरी बीएफ भोजपुरी बीएफ एचडी मैंने भी उसके लंड के हर धक्के का जवाब अपनी गांड उठाते हुए तगड़े धक्कों से देना शुरू किया. उसके बाद मैं भी घर के लिए निकल गया और जब घर पहुँचा तो देखा किसी का मिस कॉल पड़ा था.

भोजपुरी बीएफ भोजपुरी बीएफ एचडी ऊपर नीचे दो हाई क्वालिटी मटेरियल से बनी बर्थ थीं, नीचे वाली बर्थ सोफे में भी कन्वर्ट हो जाती थी; कोच में बड़ी सी खिड़की, पर्दे और बड़ा सा शीशा लगा था, साथ में ऐ सी का टेम्प्रेचर अपने हिसाब से कंट्रोल करने के लिए स्विच थे, फर्श पर बढ़िया मेट्रेस बिछी थी. उसने वैसा ही किया।रात करीब दस बजे में डिम्पल के कमरे में गया और उसके साथ लेट गया।मैंने उसे लेटे लेटे हग किया, वह खुश हो गई.

इस बीच वो भी मेरा मुँह अपने पेट पर जोर से रगड़ रही थी… मैं तो खुद को रोक नहीं पा रहा था.

पंजाबी सेक्सी ब्लू पिक्चर फिल्म

[emailprotected]इस सेक्स स्टोरी हिंदी का अगला भाग :मुझे किस किस ने चोदा-3. वैसे तो उनकी उम्र 35-36 साल थी मगर वो बहुत खूबसूरत और पूरी हट्टी कट्टी भरी हुई दिखती थीं. नवीन ने जैसे ही अपना पजामा उतारा, उसका सात इंच लम्बा बिल्कुल काला लंड नाग की तरह फनफना रहा था.

जो तुमने मेरे लिए अपने शरीर की कुर्बानी की है, उसे मैं कभी भी भूल नहीं सकूँगा. उनकी चूत पर एक जोर का थप्पड़ मारा वो चिल्लाईं- जंगली कुत्रा दुखे छे मने. फिर मैंने उनकी जर्सी उतारनी चाहा तो उन्होंने मेरे हाथ पकड़ लिए और बोलीं- क्या मैं ये सही कर रही हूँ.

इस तरहकुंवारी बुर की सील सगे भाई ने तोड़ी… मेरी बहन मेरी चुदाई की पार्टनर बन गई, हम दोनों मौका मिलते ही चुदाई का मजा लेने लगे.

माँ- क्या उम्र थी उनकी?मैं- एक 23 की थी एक 24 की और एक 42 साल की थी. फिर उन्होंने मुझसे बात करना शुरू कर दी और पूछने लगीं कि कौन से कॉलेज में हो. भाभी भी एकदम गरम थी, पर कुछ शर्मा रही थीं, वे बोलीं- मैं मनन के सामने नंगी नहीं हो सकती.

उसके बाद उन दोनों में क्या क्या हुआ मुझे नहीं पता, मगर अब मेरी चुत पूरी तरह से गीली हो चुकी थी और मम्मों की घुन्डियां भी अकड़ गई थीं. रानी ने भी मज़े लेते हुए अपने नितंब हिला के धक्के के जवाब में धक्के लगाये. वो जल बिन मछली की तरह तड़प रही थी और मुझसे खुद को छुड़ाने की नाकाम कोशिश कर रही थी.

एक दिन उसने मुझसे कहा- मैंने तुम्हारे पापा से बदला लेने के लिए तुम्हें ज़रिया बनाया था क्योंकि मुझे लगने लगा था कि तुम्हारे पापा मेरे बेटे को नहीं पसंद करते. उसका लंड इतना मोटा था कि उस रात हम दोनों ने लाख कोशिश के बाद भी एक इंच भी अन्दर नहीं गया था, उस पर से जो दर्द हुआ था वो अलग.

मेरी तरफ से ग्रीन सिग्नल देखकर उसने अपना पूरा हाथ मेरी पेंटी में डाल दिया और वो मेरे कूल्हे दबाने लगा. यूं तो मेरी बीवी को सेक्स में ज्यादा रूचि नहीं थी, वो बहुत ही ठंडी औरत है, मगर मेरी प्यारी भाभी की कृपा से मेरी लाइफ ठीक चल रही थी. आंटी इतनी बार चुदी होने के बाद भी जोर से चिल्लाईं- उई ममाँ मर गई रे.

मेरी चूत की आग बुझ नहीं पाती और मैं तड़प कर रह जाती हूँ और खुद को तो कभी पति को कोसने लगती हूँ कि ये मेरे साथ हो क्या रहा है.

मैंने कहा- क्या आज बिजली गिराने का इरादा है?वो इठला कर बोली- सब आपके लिए है जीजू. लेकिन फर्स्ट ऐ सी में वो भी प्राइवेट कूपे में यात्रा करने का वो मेरा पहला मौका था और बहूरानी के साथ आने वाले छत्तीस घंटे बिताने के ख़याल से ही मुझे रोमांच होने लगा था. दोस्तो, मेरी सेक्स स्टोरी कैसी लग रही है? मेल के माध्यम से मुझे अपने विचार बतायें।धन्यवादआपका अपना शरद सक्सेना[emailprotected][emailprotected].

कॉलेज खत्म हुआ और मैंने परमिट शॉप से जाकर एक वोद्का की बॉटल ले आया. अब आप आराम कीजिए और किसी चीज की जरूरत हो, तो मुझे बताना।मैं बोला- एक चीज की जरूरत है।क्या?”मैं उसके उठे हुए चूचों पर हाथ रखते हुए बोला- इनकी।वो शर्माते हुए बोली- बहुत बेशर्म हो गए हो आप।मैं बोला- यार मैं तो हूँ.

जब वो मेरे खजाने को देख रहा था उसी वक्त मैं उसके लंड की तरफ भी तिरछी नज़र लगाए रही. फिर उसकी पीठ पे हल्के हल्के जीभ फेरने लगा और उसकी पिछाड़ी तक आते हुए उसको चूमने लगा. ये सब सोच कर कि अब मेरी चूत को लंड मिलने वाला है, मेरी वासना जागने लगी थी.

सेक्सी सेक्सी दिखाइए वीडियो में

इसी कारण से जब भी मैं लड़की बनता तो अपने मम्मों को भी दबा लेता था और नितंबों को भी दबाता था.

कुछ दो मिनट तक धक्के लगने के बाद ही वो झड़ गई और उसका शरीर अकड़ गया, वो उठते हुए मुझसे लिपट कर ‘आआ. मैं बोली- ओके!अब बालू ने मेरे बूब्स ब्रा को ऊपर से ही दबा दिया, मुझे मस्त लगा, मैं बोली- ये मेरे छोटे हैं अभी मेरी सहेलियों से!बालू बोले- मस्त हैं सेक्सी… इन्हें मैं दबा दबा के बड़ा कर दूंगा। अभी भी बहुत मस्त हैं. मैंने अपने बैग से स्पेशल क्रीम स्प्रे निकाल कर उन्हें दी और कहा कि इसे भाभी की गांड पे लगा दो और खुद के लंड पे भी लगा लो.

उनके हाथ मेरे मम्मों को मसलने लगे और मुझे नीचे अपनी चुत पर उनका कड़क लंड चुभने लगा. वाह… क्या नशीला अहसास था वो… जैसे ही मैंने अपने जीभ को उसकी चुत के अन्दर बाहर करना शुरू किया, वो और ज्यादा सिसकारियां भरने लगी. સેક્સ ઓપનबीच बीच में वो बोल देती थी- यस राजेश उम्म्ह… अहह… हय… याह… फक मी हार्ड.

पहले जब मैं हस्तमैथुन करता था तो मैं हर बार बहुत जल्दी ही झड़ जाता था, पर पता नहीं आज क्या हो रहा था. मैंने अपना बायाँ हाथ पारुल के मम्मे पर रख दिया और दबाने लगा लेकिन मेरा पूरा ध्यान सड़क पर ही था.

चूंकि मैंने कंडोम नहीं लगाया था तो किसी भी प्रकार की गर्भ आदि की परेशानी से बचने के लिए मैंने अपना लंड एकदम से उसकी चुत से बाहर निकाल लिया और उसकी गांड पर अपना सारा माल निकाल दिया. भाईसाहब भी स्कूटी का स्पीड कम कर चला रहे थे, जिससे कि मारुति हम लोगों से आगे चली जाए. बदले में मैंने जवाबी कार्रवाई करते हुए उनको खींचकर दीवार के बाहर खड़ा कर दिया.

अच्छा तो ऐसा करते हैं कि ताश खेलते हैं, जो पहले जीतेगा, वो ही करेगा. मेरी उम्र 25 साल है, नवम्बर में ही मेरी शादी हुई है, मेरे पति अमेरिकन हैं. जैसे हर एक लड़के को लगता है कि उसकी कोई गर्लफ्रेंड हो, मुझे भी यही लगता था और मैं भी यही चाहता था कि वो मुझसे बहुत प्यार करे और मैं हमेशा उसके ही साथ अपने आपको खुश रखूं और उसे भी ख़ुशी दूँ.

उसका टेस्ट तोड़ा नमकीन था, पर मैं मजे से चाट गया और चुत की मलाई की अंतिम बूंद तक चुत को चाटता रहा.

अब मैंने फाइनल झटका दिया, तो नाज़ को देख कर ऐसा लग रहा था कि उसकी आंखें बाहर आ जाएंगी, 10 मिनट तक वो बिना हरकत किए पड़ी रही और मैं जूही को किस कर रहा था. फिर एक दिन मैंने रुचिका चौधरी से सीधे बोला- आपने कभी सेक्स किया है??तब उसने भी बिंदास बोला- हां.

स्ट्रोक लगने के कारण उसने जो आँखें बंद कर दी थीं, रुकने पर उसने आँखों को खोला और पूछा- क्या हुआ?मैंने कहा- मैं झड़ रहा हूँ. लेकिन अगले कुछ ही पलों में ललिता अपनी गांड उठा उठा कर लंड लीलने लगी. उनके जाने के बाद अब मेरे पास दिव्या को चोदने के अलावा और कोई रास्ता नहीं बचा था.

पंखे की हवा का प्रेशर इतना तेज था कि उनकी साड़ी उड़ कर उनके पेट पर पहुंच गई. कामिनी बस आअह्ह्ह आअह अह ऊऊह ऊह ऊऊह्ह्ह करती रही और कमरे में उं दोनों की सिसकारियों के साथ ‘फिच फिच फिच फिच फिच’ की आवाज भी गूँज रही थी. मैंने दूसरा धक्का और जोर से लगाया और मेरा पूरा लंड उनकी चुत घुस गया.

भोजपुरी बीएफ भोजपुरी बीएफ एचडी मैंने देर न करते हुए उसकी चूचियों के निप्पल पर अपनी जीभ सहलाना शुरू कर दी. कुछ देर बात करने के बाद मैंने उसे फिर से सहलाना शुरू किया और उस रात हम दोनों ने 3 बार चुदाई की.

ब्लू पिक्चर चाहिए सेक्सी पिक्चर

पानी का गिलास मुझे थमाते वक़्त प्रिया के होंठों पर वही ‘मोनालिसा मुस्कान’ देख कर मेरा मन तो कई बार मचला लेकिन क्या करता… वचन-बद्ध था. आंटी हैरान रह गईं और बोलीं- ये क्या है विकी?मैंने कहा- आंटी, बियर और सिगरेट है. वहां सब नये दोस्त थे तो उनके बीच अपनी इज्जत बनाना थी, न कि उनके हाथों अपनी इज्जत लुटवानी थी.

मैं बिल्कुल चिल्लाने लगी और बोलने लगी- छोड़ दो… निकालो! मैं मर जाऊंगी, बहुत दर्द हो रहा है, निकालो, मुझे नहीं कराना, मुझे मत करो बहुत दर्द हो रहा है।मेरी आंखों से आंसू निकलने लगे, अंकल नहीं माने, इधर सुरेंद्र जीजा ने भी मेरी गान्ड फैला कर जोर से 2-3 धक्के मारे. क्या अहसास था वो, मैं भाभी की चुत की झलक दूर से तो पहले ही देख चुका था लेकिन पास से भाभी की सफाचट चुत देखने का मजा ही अलग था. सेक्सी वीएफमैं विक्की का इशारा समझ गया और रोशनी भी तन कर अपने उभार को आगे की तरफ करने लगी.

दोस्तो, आपको मेरी ये फ्री चुदाई कहानी कैसी लगी, प्लीज़ मुझे जरूर लिखिएगा.

अचानक उन्होंने धक्के लगाने की स्पीड बहुत तेज कर दी और परीक्षित ने चिंटू से कहा कि वो अब अपना लंड निकालेंगे तो चिंटू ने भी धक्के लगाना रोक दिया. मैंने उसको सिगरेट ऑफर की तो उसने सिगरेट सुलगाई और मुझे सोफे पर बैठा कर मेरा लंड निकाल कर चूसते हुए सिगरेट के छल्ले उड़ाने लगी.

शरमाना क्या?मैं अब सिर्फ़ ब्रा और पेंटी में बाथरूम में उसके सामने खड़ी थी और वो सिर्फ़ अंडरवियर में था. एक तो पहले से ही नदी पर जाकर नंगे जिस्म घूरने का विचार मुझे कामुकता दे रहा था और अब नीला का स्पर्श पाकर मुझे गुदगुदी सी होने लगी थी. मैंने उसके बाथरूम के बाहर से आवाज दी- रोशनी तुम्हारी जीन्स दे दूँ क्या? तुमने रूम में ही उतार दी है.

हमने कुछ देर झूले पर झूल कर समय बिताया, फिर हमने टीवी चला लिया और साथ बैठ कर टीवी देखने लगे.

मेरी अन्दर भी पूरी मस्ती छाई हुई थी, तो मैंने सोचा कि इन पलों का कुछ मजा लिया जाए. मैंने गैरेज का शटर डाउन किया, मेन-गेट को अंदर से ताला लगाया और अंदर दाखिल हुआ, कपड़े बदले और किचन में जा कर कॉफ़ी बनायी।प्रिया… कॉफी पियोगी?” मैंने आवाज लगाई. मैंने उसकी तरफ सवालिया नजरों से देखा तो उसने मुझसे अपने प्यार का इजहार करते हुए मुझसे कहा कि यदि तुम मुझे पसंद करती हो तो मेरे प्यार को स्वीकार कर लो.

ट्रिपल सेक्स सेक्सी वीडियोआप के और मेरे बीच एक बार जो हुआ वो किस्मत थी लेकिन मैं सुधा मौसी को बहुत प्यार करती हूँ और हरगिज़-हरगिज़ नहीं चाहती कि मैं उन के दुःख का कारण बनूँ. ” करके नवीन की ओर देख कर चिल्ला रही थीं- जल्दी जल्दी चोद न कमीने… दम नहीं बची है क्या भोसड़ी के तेरे अन्दर हरामी मादरचोद.

सेक्सी बीपी व्हिडिओ गाणे

शनै:शनै: प्रिया के शरीर में एक अकड़न सी उभरने लगी और मुंह से अस्पष्ट से शब्द निकलने लगे ऊँ… ऊ… ऊँ… ऊँ… हाँ… आँ… हा… हाय… उ… हक़्क़… ई… ई… इ… ई… ई. मैं उन भाभियों का भी धन्यवाद करता हूं जिन्होंने मुझे अपनी अगली कहानी लिखने के लिए बार बार मेल किये; और मैं माफी चाहता हूं कि अपनी कहानी लिखने में लेट हो गया. करीब बीस मिनट बाद मेरे शरीर में ऐंठन सी होने लगी और मैं एकदम से शिथिल सी हो गई.

आज उसको देखा तो मुझे अपने ऊपर गुस्सा सा आया कि मैं मामा के घर क्यों नहीं गया. इसके बाद हम दोनों ने जल्दी से अपने कपड़े पहने और सामान्य होकर एक दूसरे को किस करने लगे. मैंने ऐसे शो किया जैसे मुझे कुछ नहीं सुनाई दिया और मैं कुछ इस तरह से झुक गई ताकि वो मेरे मम्मों के पूरे दर्शन कर ले.

मैंने स्पीड बढ़ा दी, करीब 20-25 धक्कों के बाद वो चीख कर झड़ने लगीं और कुछ मुझे भी लगा कि मैं भी जाने वाला हूँ, तो मैंने उनको पलट कर बैठा दिया और उनके मुँह में लंड पेल दिया कर जोर जोर से सजा भाभी का मुँह चोदने लगा. जिसमें से ब्रा मैंने निकाल दी और उनके बोबों को किसी छोटे बच्चों की तरह चूसने और दबाने लगा. उसने बड़ी मुश्किल से पेशाब की और फिर मैंने उसे गोद में ही उठा कर बेड पर ले आया.

साथ ही सभी लंडधारी अपना लंड बाहर निकाल लें ताकि हिलाने में दिक्कत ना हो. क्या उनका चालचलन ठीक है?मैं- मुझे पक्का नहीं मालूम, लेकिन अगर वे किसी के साथ एन्जॉय करती भी होंगी तो मुझे कोई दिक्कत नहीं है.

वो मुझे सहारा दे कर गाड़ी से रूम तक ले गया और मेरे बिस्तर पर लिटा कर मुझे चादर उढ़ा दी.

जैसे ही मैंने अपना लिंग पूरी सख्ती से प्रिया की योनि से बाहर खींच कर वापिस प्रिया की योनि की गहराई की आखिरी हद तक पंहुचाया, तभी मेरे अंदर… मेरे खुद का ज्वालामुखी फट पड़ा. जबरदस्ती एक्स वीडियोकामिनी बोली- धीरे से करो न प्लीज!पर विवेक ने कामिनी के मम्में मसलना चालू रखा. desi સેક્સमैंने हैरानी से अपनी पत्नी की आँखों में झाँका, तो वो एक आंख भींच कर मुस्कुरा दी!वाह! शानदार… गज़ब!” मेरे मुंह से निकला. यह कहानी आप लोगों को पसंद आई होगी… प्लीज़ मेरी मेल आईडी पर ज़रूर लिखिएगा कि चुदाई की कहानी कैसी लगी ताकि मैं अगली कहानी भी लिखने की सोचूँ, वरना यह मेरी आखिरी कहानी ही होगी.

सुपारा अंदर गया ही था कि उसकी चीख निकली और जूही की चूत में समा गई। नाज की आंखों में आंसू आ गए, वो अपने दोनों हाथों से मेरी कमर को पकड़ कर मुझे धकेलने लगी लेकिन मैंने एक और करारा झटका दे दिया.

नाज़ कुछ समझ पाती, तब तक तो मैं आधे से ज्यादा लंड उसकी चूत में घुसेड़ चुका था, जूही नाज के मुँह में बैठ कर उसके नाभि में किस करने लगी और उसकी चुची जोर जोर से दबाने लगी, जिससे नाज़ थोड़ा शांत हुई. उन्होंने जोर से आवाज लगा कर कहा- कौन है वहां?मेरी बहन ने जवाब दिया- मैं हूँ पापा, पानी पीने आई थी. तो वो बोली- चोदता तो है पर ऐसा नहीं चोदता… साला जल्दी निपट जाता है और मैं प्यासी रह जाती हूँ.

इतना सुन कर मैंने आंटी को बांहों में भर लिया और बेड पर लिटा कर उनके बालों में हाथ फेरने लगा. तब मैंने मॉम की चुत में लंड अन्दर डाले हुए ही बांहों में उठा कर बाथरूम से अटॅच बेडरूम के बेड पर ले आया. ”अर्पिता- फिर?फिर क्या… धीरे धीरे उसकी जीन्स में हाथ डाला और वो भी मेरी जांघों से होती हुई मेरी जीन्स पर हाथ पहुँचा चुकी थी इस तरह से!” इतना बोल कर मैंने अर्पिता का हाथ अपने लंड पर रख दिया जो पहले से ही सलामी दे रहा था.

मजेदार हिंदी सेक्सी वीडियो

मैं अपने दोस्त के साथ रहता था, आज वो दूसरे दोस्त के कमरे में सोने गया था. अब देखो कब ऐसा मौका मिलता है कि मैं किराएदारन आंटी अपनी मॉम और बहन तीनों को एक साथ एक ही बिस्तर पर कब चोद पाता हूँ. मैं काफी देर तक उसकी चूत पैंटी के ऊपर से सहला रहा था, इतने में उसने मेरा हाथ पकड़ के सीधा अपनी पैंटी में डाल दिया.

लेकिन इसी बीच मैंने उसकी प्रोफाइल में जाकर उसे रिक्वेस्ट भेज दी और 2 सेकंड भी नहीं हुए कि उसने मेरी रिक्वेस्ट को एक्सेप्ट भी कर ली.

प्रिया बेसाख्ता मुझ पर चुम्बनों की बरसात किये दे रही थी और नीचे मेरा लिंग प्रिया की योनि को बिजली की तेज़ी से मथे दे रहा था.

जैसे ही नीचे होता जा रहा था, वैसे ही उसकी सिसकारियां और जोर से बढ़ने लगी. वो रपक रपक कर लंड से धक्के लगा रहा था और मैं मज़े से गांड हिलाकर उसके खीरे से लम्बे लंड का मज़ा ले रही थी. हिंदी सेक्सी ब्लू फिल्म हिंदीमैंने कहा- अब तो आप मेरी रखैल बन गई हैं और अब मैं आपको रोज़ रंडी की तरह चोदूँगा.

दीदी- अच्छा प्रीति, एक मिनट रुक…कहकर दीदी फ्रिज खोल कर उसमें से पानी निकाल कर लाईं और पीने लगीं. दो मिनट बाद जब वो मेरे गले पर गई तो मानो मुझे लगा कि मैं झड़ ही गया लेकिन नहीं… वो एक खूबसूरत अहसास था, जो मुझे मिल रहा था. खाने पीने के बाद आर्थर और एरिक मेरे शुक्रगुजार होते हुए मुझसे विदा मांग अपने घर चले गए और मैंने फ्लैट की सफाई शुरू कर दी.

दोस्तो, मैं आपकी प्यारी सेक्सी कामुकता से भरपूर बिलकीस बानू… उम्मीद करती हूँ कि आप लोग मुझे भूले नहीं होंगे। आपको तो याद ही होऊँगी. मैंने उसकी गुलाबी चूत के छेद पर लंड का सुपारा रखा और एक जोरदार धक्का लगा दिया.

कि तभी घर की घंटी बजी, चूंकि मैं लुंगी में ही था और कहानी पढ़ रहा था तो मेरा लंड तना हुअ था। घर की घंटी लगातार बज रही थी तो मैं झल्लाहट में यह भूल गया था कि मैं केवल लुंगी में ही हूं और कहानी पढ़ने के कारण लंड तना हुआ था, मैं गुस्से में उठा और कौन है कहकर मैंने दरवाजा खोल दिया.

यूं तो मेरी बीवी को सेक्स में ज्यादा रूचि नहीं थी, वो बहुत ही ठंडी औरत है, मगर मेरी प्यारी भाभी की कृपा से मेरी लाइफ ठीक चल रही थी. मगर मेरी बदकिस्मती थी कि अचानक मेरे पापा की तबियत खराब हो गई और मुझे उन्हें किसी नर्सिंग होम में ले जाना पड़ा. करीब 10 मिनट बाद भाभी का शरीर अकड़ने लगा और चीखती हुई झड़ गयी, और मैंने भाभी की चुत का सारा रस पी लिया जो बहुत ही टेस्टी था.

সানি লিওন কা সেক্স ভিডিও फिर उसने मेरी शर्ट के बटन जल्दी से खोल दिए जिसे मैंने खुद ही बनियान सहित उतार के फेंक दिया और बहूरानी के नंगे जिस्म को पूरी ताकत से भींच लिया. मैं उसे पढ़ाने बैठा तो बच्चे काफी शोर कर रहे थे, जिस वजह से पढ़ाई नहीं हो पा रही थी.

अब मैं आराम से बिस्तर पर लेट गया और दिव्या को अपने ऊपर लेकर उसके लबों को चूमने लगा. मज़ाक मज़ाक में मैंने कहा- पर जब तुमको देख लेता हूँ, तो मेरी लाइफ कुछ दिन अच्छी नहीं चलती. मेरी चुदाई करते हुए उसने पूछा- जिससे फोन पर तुमने बात की थी, उसे कैसे जानती हो.

ट्रिपल सेक्सी इंडियन बीपी

जैसे ही मेरे लंड का सुपारा उनकी चूत से टच हुआ, उन्होंने होंठों को दांतों से दबाते हुए आँखें बंद कर लीं और अपने मुँह से कामुकता भरी मदमस्त सिसकारी निकालनी शुरू कर दीं ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’जिससे मेरा जोश बढ़ता चला गया. वो मेरी जुल्फों में उंगलियां डाल कर मेरे बालों को खींच रहा था, लेकिन मुझे बहुत अच्छा फील हो रहा था. वो कंप्यूटर के माउस को को चलाना सीख रही थी, उसको थोड़ी प्रॉब्लम हो रही थी.

मेरी मकान मालकिन आंटी 37 साल की मोटी सी कम हाईट की एक शानदार माल है. शायद वो इस बार तैयार थी, जूही ने गुस्सा दिखाते हुए मेरे गांड में 2 थप्पड़ जड़ दिए तो मैंने इसके बाल पकड़ कर अपनी तरफ खींच कर उसको होंठों पर किस करना शुरू कर दिया.

जब मैंने भाभी का गॉउन उतारा तो देखा कि भाभी ने तो पैंटी ही नहीं पहनी थी.

जब मेरा हाथ बहन की बुर पर पड़ा तो वो बेड से आधा फीट ऊपर उछल पड़ी और कराहने लगी. तो मेरी छाती से और ज्यादा दब जातीं। मुझे बहुत मजा आ रहा था; उसका चेहरा बिल्कुल लाल हो रहा था। मैं उसकी आँखों में देखने लगा. तभी माँ ने अपने हाथ चलाने शुरू कर दिए और मेरे खड़े और लम्बे मोटे लंड को अपने हाथ में पकड़ लिया.

मैंने बाद में उसको काफ़ी मनाया कि अब दुबारा अन्दर ले ले, अब दर्द नहीं होगा. इस बार वो चोदते समय मुझे गलियां भी दे रहा था- ले मादरचोदी रांड भैन की लौड़ी लंड खा साली कितने दिनों से तुझे चोदने की सोच रहा था. मैं धीरे धीरे उंगली अन्दर करता गया, आधी उंगली उसकी चुत के अन्दर चली गई थी.

सब कभी पीछे छोड़ कर हम दो भाई बहन अपनी मनोकामना पूरी करने में लगे हुए थे.

भोजपुरी बीएफ भोजपुरी बीएफ एचडी: आंटी ने उठ कर कपड़े पहने, मुँह हाथ धोए और मेरे होंठों पर किस करके बोलीं- मैं 11 बजे आऊंगी. मैंने सेजल भाभी के हाथ को कसके बाँधा तो वो चिल्लाने लगीं- दुखता है… ज़रा धीरे बांधो…फ़िर मैंने ऐसे ही कसके उनका दूसरा हाथ बाँधा, तो वो रोने लगीं.

मुझे भी चुदास चढ़ने लगी और मैं अपने चूचे मसलने लगी उस्सस्स उम्माह…”मैंने अपने मम्मों को उनसे चुसवाना शुरू कर दिया. मेरी सेक्स स्टोरी के पहले भागबस में मिली लड़की ने दिलाया ज़न्नत का मजा-1में आपने पढ़ा कि कैसे मुझे बस में एक विवाहिता युवती मिली, वो कामुकता से भरपूर थी, उसने मुझे बस में शारीरिक स्पर्श के मजे दिए फिर मुझे अपने घर ले गई और चुत चुदाई भी करवाई. पहले तो मैं उन सभी का शुक्रगुजार हूँ जिनको मेरी कहानी पसंद आई और उन्होंने मुझे मेल किया, उन सबका दिल से धन्यवाद… अगर आप लोग ने मेरी कहानी ना भी पढ़ी हो तो कृपया उसे जरूर पढ़ें.

’ की आवाजें भी रूम में गूँज रही थीं, रूम का माहौल एकदम रंगीन हो गया था.

तभी पीछे से रमेश अंकल आए और उन्होंने मेरी मां की गांड में अपना लंड घुसा दिया. मेरी पिछली कहानीआपा यानि बहन के साथ सुहागरातके लिए मुझे बहुत सारे मेल आए, आप सबने इतना प्यार दिया, जिसका मैं बहुत शुक्रगुजार हूं. दीदी अचानक मेरे दोनों ओर अपने पैर फैला कर बैठ गईं और मेरा लंड निकाल कर पूरा थूक से चिकना कर दिया.