ब्लू फिल्म भेजो हिंदी में बीएफ

छवि स्रोत,राजस्थान की सेक्सी वीडियो पिक्चर

तस्वीर का शीर्षक ,

बड़े लंड में सेक्सी: ब्लू फिल्म भेजो हिंदी में बीएफ, वह हंसने लगा … और उसने झट से दरवाजा खोल कर मुझे हाथ पकड़ कर अन्दर खींच लिया.

पंजाबी सेक्सी बताइए

आने के बाद हम लोगों को बातें करते हुए काफी देर हो चुकी थी, करीब 2 बजे रात मैं सब काम निपटाकर कमरे में पहुंची, तो देखा महराज नंग धड़ंग, अपने लंड को हाथ में लिए मुठ मार रहे थे. कार वाला गेम भेजोफिर क्या था … बंटी जी मेरी गांड पकड़ कर सनी जी को कहा- चुसाया तुमने पहले था … अब इसकी गांड पहले मैं मारूँगा.

जैसे ही वो घर आयी तो मैंने तुरंत उसको चलने के लिए कहा क्योंकि मूवी का टाइम होने ही वाला था. सेक्सी+विडियोमैंने हल्के से थोड़ी सी आंख खोल कर देखा तो मौसी मेरी फ्रेंची पर हाथ फिराते हुए मेरे लंड को सहला रही थी.

मैं देख रहा था कि उन्होंने मुझे लण्ड सहलाते हुए देख लिया।वो बोली- नहीं मैं खुद कर लूंगी.ब्लू फिल्म भेजो हिंदी में बीएफ: लेकिन जब से सीमा भाबी ने मुझे नताशा भाभी के साथ चुदाई करते देखा था.

मैंने और तेजी से लंड को मसला और मेरे बदन में करंट के झटके के समान लहर सी दौड़ी और लंड ने बंदूक की गोली की गति के समान वीर्य का शॉट बाहर फेंक दिया जो पता नहीं ऊपर हवा में उछल कर कहां पर जाकर गिरा … और फिर पिचकारी दर पिचकारी लंड से वीर्य के रूप में उसका लावा बाहर आने लगा.लो चाय पी लो वर्ना ये ठंडी हो जाएगी।मैं- पुष्पिका, भाई कहां है?पुष्पिका- वो दोनों तो कॉलेज चले गए.

सेक्सी वीडियो डॉग - ब्लू फिल्म भेजो हिंदी में बीएफ

वसुंधरा चौदहवीं के चाँद के मानिंद चमक-दमक रही थी लेकिन जैसे चाँद में भी दाग होता है वैसे ही इस मुज्जसिम हुस्न में भी एक कमी थी और वसुंधरा को शायद इसका एहसास नहीं था लेकिन मैंने वो कमी पकड़ ली थी.उसके बाद से जब भी उसके पति अजय का बाहर जाना होता, भाभी के बिस्तर में मेरी बर्थ पक्की रिजर्व रहती.

मैंने पर्दे को थोड़ा खिसका कर अन्दर झांका, अन्दर झांकते ही मेरी गांड फट गई. ब्लू फिल्म भेजो हिंदी में बीएफ जैसा उससे बात हुई उसके अनुसार आज चूंकि सपना की तबियत खराब थी, इसलिए वो घर पर ही थी.

शिशिर मेरी चूत में कभी अपना पूरा लंड डाल कर मेरी चूत को चोद रहे थे, तो कभी वो अपना लंड मेरी चूत से बाहर निकाल कर मेरी चूत में उंगली कर रहे थे.

ब्लू फिल्म भेजो हिंदी में बीएफ?

मैंने कपड़े उतारे और अंडरवियर बनियान में बितर पर सोने को गया तो अम्मी के खर्राटे सुन कर मुझे कुछ अहसास हुआ, मैंने मोबाइल की लाईट चालू करके देखा तो वहां पर मेरी अम्मी सो रही थी. फिर मूवी देखने गए थिएटर में बहुत काम लोग थे, तो मैंने दीक्षा का हाथ अपने हाथ में लेकर सहलाना शुरू कर दिया. थोड़ी देर ऐसे चोदने के बाद मैंने उसको अपने ऊपर ले लिया और उसके मम्मों को अपनी छाती में लगाकर उसके गालों को चूमते हुए नीचे से तेज तेज धक्के देने लगा.

वह मेरी चूत को तेजी के साथ पेलने लगा और फच-फच की आवाज पूरे कमरे में सुनाई देने लगी. मैं- क्या देख रही हो?श्वेता- बहुत सालों बाद लंड देखा है, पांच साल हो गए मेरे तलाक को, उसके बाद आज लंड देख रहीं हूं. मैं जैसे जैसे दीदी के स्तन को सहलाए जा रहा था, वैसे वैसे दीदी ज़ोर ज़ोर से सिसकारियां ले रही थीं.

तो मैंने उससे कहा- मोनिषा, अगर मैं आपकी कोई हेल्प कर सकता हूं तो आप मुझे बताओ?वो मेरी तरफ बड़ी वासना भरी नजरों से देखने लगी. उस दिन मैंने सोनू को कोचिंग की छुट्टी करके क्लास बंक करने के लिए मना लिया. उसने कहा- जीजाजी, अब आप किसका इन्तजार कर रहे हैं?मैंने राधिका का कुरता निकाल दिया, जिससे वो सिर्फ एक लाल रंग की ब्रा में रह गई थी.

अब हम दोनों रोज रात को छत पर मिलते, सबकी नजर बचा कर एक दूसरे को किस करते और फिर सो जाते. मैं डॉगी स्टाइल में उसके ऊपर आ गयी और विक्की मेरे पीछे आकर मेरी चूत को चाटने लगा.

लेकिन मैं अपनी तरफ से कोई पहल नहीं करना चाहता था क्योंकि वो एक तो हमारी रिश्तेदारी में थी और दूसरा मैंने कभी उसके साथ सेक्स के बारे में इस तरह से सोचा भी नहीं था.

मैं बेड पर बैठा हुआ था, उसे अपने पास बुलाया तो मेरे सामने आकर खड़ी हो गई.

आह्ह … उम्म्ह… अहह… हय… याह… ओह्ह … उफ्फ … आआ … करते हुए मैं उसके लंड से चुद रही थी. उसने स्पीड बढ़ाई तो मैंने कहा- बीच बीच में मुंह लगाकर गीला कर लिया करो और जब मैं कहूँ मुंह में ले लेना, मैं तुम्हारे मुंह में डिस्चार्ज करुंगा, उसे गटक जाना, यह सबसे अच्छा पेनकिलर है, कानपुर पहुंचते पहुंचते ठीक हो जाओगी. कुछ ही देर बाद हम दोनों चरम पर आ गए और मैं सुमन भाभी की चूत के अन्दर ही झड़ गया.

इसके बाद हम दोनों ने एक एक पैग खींचा और सिगरेट का मजा लेते हुए एक दूसरे से चिपक कर सो गए. दोस्तो, मैं इमरान अन्तर्वासना का एक पुराना लेखक … मेरी 200 से ज्यादा कहानियां इस सेक्स स्टोरी साईट पर आ चुकी हैं. फिर वो तारीख़ मुझे आज भी याद है जब 18 नवम्बर 2017 को मैंने उसे एक नए नम्बर से व्हाट्सैप मैसेज किया.

मेरे कूल्हों पर हाथ को रगड़ते हुए उन्हें फैला कर उसने अपनी उंगली मेरी गांड में डाल दी.

फिर भाभी ने देखा कि मैं भी उनको देख रहा हूँ तो वो फिर शरमा कर वहां से उठ गई और भाग कर अंदर चली गई. मैंने सीधा निशाना लगाते हुए जोर दिया और लंड पच के आवाज के साथ घुस गया. अब्बू ने पहने और फिर कौसर से बोले- कैसा लगा?कौसर मुस्कुरा कर नंगी ही उठ बैठी और अपना चेहरा अपनी चूचियों और घुटनों में छिपा लिया.

मेरा मन कर रहा था कि इसके स्वाद को चाट कर देखूं कि भाई के लंड से निकला हुआ माल चखने में कैसा है. काफी देर बाद जब मेरी नींद खुली … तो सब लोग खाना खाने के लिए मुझे बुलाने लगे. मुझे अपने ब्वॉयफ्रेंड के लंड से चुदने में इतना मजा कभी नहीं आया जितना कि तुम्हारे लंड से आया.

मैं घर का काम करती हूँ और कभी कभी मम्मी को स्कूटी से बाजार करवाने के लिए लेकर जाती हूँ.

सीमा वाल पकड़ कर प्रैक्टिस कर रही थी पर उसके पैर सीधे नहीं हो पा रहे थे. पूरा कमरा सीमा की सीत्कारों से भर गया- उम्म्ह… अहह… हय… याह… और चोदो … और जोर से राहुल … आज तो फाड़ ही दो तुम मेरी चूत को …उसकी चीत्कार राहुल की स्पीड और बढ़ा देती.

ब्लू फिल्म भेजो हिंदी में बीएफ करीब आधा घंटे के बाद एक बार फिर से हम दोनों में चुदाई समारोह हुआ और हम दोनों ने एक दूसरे को पूरा मजा दिया और लिया. ” नितिन मेरे इस व्यवहार से थोड़ा चौंक गया, मुझे दूर धकेलते हुए उसने पूरा दरवाजा खोला।बाहर देखा तो और दो लोग खड़े थे और मुझे देख कर मुस्कुरा रहे थे, मुझे बहुत शर्मिंदगी महसूस हुई।वो दोनों नितिन के कलीग थे, नितिन ने उन दोनों की पहचान कराई वे वही पर नितिन से थोड़ा दूर खड़े थे।ये मेरे कलीग हैं, जहाँ पर मेरी ट्रेनिंग थी, ये वहीं पर काम करते हैं.

ब्लू फिल्म भेजो हिंदी में बीएफ बारिश में ही जैसे-तैसे टायर बदला लेकिन इस सारी कार्यवाही में तक़रीबन चालीस-पैंतालीस मिनट लग गए. अब मैं अपने हाथों को ऊपर करके उसकी कमीज के ऊपर से उसके मम्मों को दबाने लगा.

नंगी बांहों के साथ साथ उसके खुले गले में से उसकी चूचियां बाहर झांक रही थीं.

सेक्सी पिक्चर श्रीदेवी

क्योंकि ज्यादातर लोग काम धंधे के चक्कर में बाहर अन्य शहरों में कमाने चले गए थे. मैं दोपहर को अपने घर वापस आई तो मेरी सहेली भी मेरे साथ मेरे घर आई थी. कोमल बोली- ताऊ जी, क्या मैं आपके शरीर की मालिश कर दूं?यह सुनकर ताऊ जी बांछें खिल गईं, उन्होंने झट से बोला- ये तो बड़ा अच्छा होगा तुम कर दोगी, तो मुझे चैन मिल जाएगा.

वह हंसने लगा … और उसने झट से दरवाजा खोल कर मुझे हाथ पकड़ कर अन्दर खींच लिया. पहली बार जब भाभी को शादी वाले दिन चोदा था तो इतना मजा नहीं आया था मगर आज जब भाभी पूरी नंगी थी और मैं भी पूरा नंगा था तो चुदाई का मजा भी अलग ही आ रहा था. उसके मोतियों जैसे सफेद दांतों के ऊपर उसके होंठों पर खिली हंसी देख कर दिल को बड़ा सुकून मिल रहा था.

फिर मैंने देखा कि अजय ऋतु की पैंट को निकलवा रहा था लेकिन मेरी बीवी ने उसका हाथ बीच में ही पकड़ लिया और उसको अपने ऊपर खींच लिया.

वो भी मेरे सर को अपने हाथों से दबा कर मुझे अपने दूध चूसने का पूरा मजा दे रही थी. मैंने अपने ऊपर से नम्रता को हटाया और वहीं बैठते हुए नम्रता से छत पर चलने की फरमाईश कर दी. उस के बदन की तमाम गोलाइयाँ, गहराइयाँ और ऊंचाइयां पहले के मुकाबिले कहीं ज़्यादा शिद्दत से उजाग़र हो रहीं थीं.

मेरे कंठ से मस्त आवाज उसको जोश दिला रही थीं- आआह आह मेरा बेटा आह आई लव यू सन. लास्ट एग्जाम होने के बाद मैंने घर में दोस्तों के साथ एक पार्टी भी रख ली. हम दोनों के ही दिल कह रहे थे कि समय ठहर जाए, पर वो मानने वाला नहीं था.

मेरे लंड का नाप 6 इंच ही है, पर ये इतना मजबूत है कि किसी भी भाभी और लड़की की चीख निकालने के लिए काफी है. उसने मुझे हिम्मत बंधाई और फिर जो लंड चूत पर रख कर पेला, वो सटाक से चूत अन्दर घुसता चला गया.

स्टेशन के बाहर आकर हमने नाश्ता किया और ऑटो करके उसकी बहन के रूम पर आ गए. कुछ और ऑर्डर करना चाहेंगे सर?” वेटर ने पूछा।मैंने उन दोनों सहेलियों की तरफ देखा तो उन्होंने ‘ना’ में मुंडी हिला दी. मैडम की उत्तेजना पे ज्यादा ध्यान ना देते हुए मैं लगातार कमर चला रहा था.

कुछ ही देर में मेरे लंड से वीर्य का फव्वारा छूटा और उसका मुंह मक्खन मलाई से भर जिसे वो गटक गई.

दो सुलग़ते हुऐ जवां ज़िस्म, ये नज़दीकियां और सबसे क़ातिल तो यह तन्हाई … आसार अच्छे नहीं थे. मेरे मुंह से जैसे ही उसने आहहह … की आवाज सुनी तो एकदम पीछे की तरफ देखा अचानक मेरे गिरे हुए पल्लू से उसे मेरे बड़े बड़े बड़े बूब्स नजर आए. शादी के बाद मैं कभी उससे नहीं मिला, हालांकि मेरे पास उसका कॉल आया था.

हर औरत का हक़ होता है कि वो जिसके बच्चे की माँ बने, उससे सबसे ज्यादा प्यार करे. [emailprotected]Instagram : @handsome_hunk2307चुदाई की कहानी जारी रहेगी.

जीजा-साली की चुदाई को वह लॉज का मैनेजर बाप-बेटी की चुदाई समझ रहा था. मैंने मोनिषा को सीधा लेटाया और लंड उसकी चुत पर सैट करके उसकी गांड पकड़ कर अन्दर की तरफ धक्का दे दिया. इस तरह सलहज को भी एक साथी मिल गया और मेरे जीवन में पत्नी की कमी भी पूरी हो गई है.

अमरपाली xxx

बात तब की है, जब मैं किसी कंपनी में जॉब कर रहा था और छुट्टी लेकर घर गया हुआ था.

हमने अपने अपने गिलास में दोबारा शैम्पेन डाली और और मैं दीवान पे लेट गया और अदिति पास ही सोफे बैठ के बात करने लगी. मैंने उसकी सहेली के बारे में पूछा, तो वो बोली- नहीं वो नहीं आई, उसका बॉय फ्रेंड फ्लैट पे आएगा और फिर दोनों वो मस्ती करेंगे, इसीलिए तो वो मेरे साथ आयी नहीं है. कोमल ‘आआह … आआह्ह्ह … मर गई … ऊओआह … ऊऊह्ह ईईस्स्स ईईसस्स …’ की आवाज के साथ सिसकी लेने लगी.

जब सारी शराब ख़त्म हो गई तो बॉस बोले- चलो, मैं अब चलता हूँ।फिर वे मुझे बोले- अगर कोई प्रोब्लम हो तो मुझे फ़ोन करना. जब दो मिनट के बाद वो शांत हुई तो मैंने धीरे-धीरे उसकी चूत में लंड को अंदर-बाहर करना शुरू किया. गुलाब सुंदर फूलों की फोटोफिर भोला ने मेरी गर्दन पकड़ ली और अपने लौड़े को तेजी के साथ पूरी ताकत लगाकर मेरी चूत में घुसा कर अंदर-बाहर करने लगा.

सर्दी का मौसम चल रहा था और मैं रोज सुबह अपने घर के पास टहलने के लिए जाया करता था. तो अब आगे बढ़ते हैं उसी कहानी के अगले भाग की तरफ:मैं और मेरे बॉस रात की चार बार चुदाई से थक कर सो गए.

नम्रता दरवाजे को धक्का देते हुए बोली- दरवाजा क्यों बंद कर रहे हो?मैं- कुछ नहीं यार प्रेशर बन रहा है, इसलिए पेट खाली करना है. मैंने एक बार फिर अपनी आंखें बन्द कर लीं और जो भी कुछ रेखा मेरे साथ कर रही थी, उसी आनन्द में मैं सरोबार होने लगा. मैं- तुम ठीक कह रही मेरी जानेमन, लेकिन उसके पहले लंड महाराज तुम्हारी चूत का बाजा तो बजा ही डालता है.

मैंने दोनों हाथ उसके कमर पकड़ के खींचा, वो मेरे नंगे बदन से और सट गयी. जिसे देख कर अदिति ने अपने होंठ गोल करके विस्सल बजायी और बोली- जनाब का इरादा क्या है?यह कह कर वो खिलहिला के हंसने लगी. उस वीडियो को देख कर तो मेरा यही मन करने लगा कि मैं रूपाली के घर ही चली जाऊं और उसके भाई के मोटे लंड से चुदवा लूं.

उसके पैर दोनों घुटनों से मुड़े हुए सामने की तरफ थे और हाथ घुटनों पर रखे थे.

वो बोली- क्यों ऐसा क्यों हुआ, तुम अच्छे परिवार से हो … अच्छे खासे दिखते हो, फिर तलाक क्यों हो गया?मैं चुप रह गया. एक बात है दोस्तो, कभी भी चुदाई करो … जब सब कुछ हो जाए, तो अपने पार्टनर को अपनी बांहों में भर कर सोना, वो बहुत खुश हो जाएगी.

फिर देखते ही देखते अजय का लंड पूरा तन गया और उसका आकार बहुत बड़ा हो गया. मैंने पूछा कि वो कभी मिलने आता है?सपना ने बताया कि मुझे आपके पापा मम्मी से डर लगता है, इसलिए मैं अपने ब्वॉयफ्रेंड को रूम पे नहीं बुला सकती हूँ. जब वो चलती थी तो उसकी गांड इतनी जबरदस्त मटकती थी कि लंड आन्दोलन करने लगता था.

5 इंच है जो किसी औरत या भाभी की प्यास बुझाने के लिए काफी है। अब आपको बोर न करते हुए सीधे कहानी की शुरूआत करते हैं।कहानी है आज से एक साल पहले की. दूसरे दिन जब मैं और मम्मी उनके घर गईं, तो आंटी बहुत शांत शांत सी थीं. इसलिए वो हमेशा ही मुझे कहती है कि आप अपनी वासना की भूख मिटाने के लिए किसी लड़की को खोज लो, मैं इसमें कोई आपत्ति नहीं करूँगी, बल्कि आपका सहयोग ही करूँगी.

ब्लू फिल्म भेजो हिंदी में बीएफ तीनों ने अपने-अपने कॉफी के कप उठा लिये और गर्म-गर्म कॉफी का लुत्फ लेने लगे. शायद मैंने थोड़ा तेज दबा दिया या अपने दांतों से काट लिया कि वो चीख पड़ी और मुझे रोक दिया.

मेहंदीपुर बालाजी की फोटो

उसने मेरे बालों को कस के पकड़ लिया और खींचने लगी, जिससे मुझे दर्द होने लगा. उसकी जवानी को देख कर लग रहा था कि मेरा भाई अब किसी की चूत की प्यास बुझाने के लायक हो गया है. मैंने मोनिषा को अपने लंड पर बैठाने की इच्छा जाहिर की, तो मोनिषा उठकर अपनी हुई फूली हुई चुत को मेरे लंड पर टिका कर बैठ गई.

मुझे अपने आप पे गुस्सा भी आ रहा था कि मैंने उसका मोबाइल नंबर क्यों नहीं लिया. उन्होंने बोला- नहीं रहने दो, वैसे भी हमें कौन सा यहां हमेशा के लिए रहना है. हिंदी सेक्स फुल एचडीवैसे तो वो गांड को ढीला करके काफी जगह बना चुका था, पर मैं डर के मारे अपनी गांड सिकोड़ रहा था … जिस कारण उसे लंड डालने में दिक्कत हो रही थी.

हम दोनों लोग जल्दी जल्दी एक दूसरे का साथ देने लगे और उसके बाद हम दोनों लोग जल्दी जल्दी सेक्स करते करते झड़ गए.

दूसरे राउंड में पचास मिनट तक उसने मेरी जबरदस्त चुदाई की और फिर हम दोनों साथ में ही झड़ गए. वो अपनी कहानी बताते हुए मेरा हाथ पकड़ कर रोने लगी और कहने लगी कि क्या मैं उसका दोस्त बन सकता हूँ?उसने जो पूछा, मैं तो पहले से ही उसके इंतजार में था.

उसने मेरी गांड पर एक ज़ोर का थप्पड़ मारा और पूरे ज़ोर से अपना लंड मेरी गांड में डालने लगा. अपनी गर्लफ्रेंड के बाद मुझे अगर किसी की चूत इतनी प्यारी लगी, तो वो थी कीर्ति की चूत. फिर मैंने उसको बेड पर पटक दिया और अपना लंड उसकी चूत पर लगा कर एक जोर का धक्का मारा.

दो-तीन जोरदार धक्कों के बाद मैंने सारा लावा उसकी चूत में ही निकाल दिया।हम काफी देर तक एक-दूसरे के उपर नंगे ही पड़े रहे.

फिर हमने सुना कि उसके पापा ने हमारे स्कूल से उसका नाम कटवा लिया और पैसों के दम पर अमृता का मिडटर्म एडमिशन किसी दूसरे शहर के स्कूल में करवा दिया. यदा-कदा मेरी उंगलियां वसुंधरा की नंगी कमर को छू जाती तो मेरे और वसुंधरा के पूरे बदन में कंपकपी की एक लहर दौड़ जाती. अब आगे:दिन में उसके पास जो रोगी आये उसमें एक 35 साल की महिला थी संगीता, जिनको सर्वाइकिल की प्रॉब्लम थी और वो फिजियोथेरेपी अपने घर पर चाहती थी, मुंह मांगी फीस देने को तैयार.

हिंदी सेक्सी वीडियो आवाज मेंराधिका- सोनल सोच ले … तुम्हारी भी बारी आएगी, तब मैं भी अपना हिसाब बराबर करूंगी. मैंने उससे कहा कि मैं उसको पसंद करता हूँ और उससे रिक्वेस्ट की कि मैं उससे दोस्ती करना चाहता हूं.

इलेक्ट्रा

चाची के दूध देखते हुए पकड़े जाने के बाद मुझे खुद पर कोफ़्त तो हो रही थी लेकिन अभी भी वो मदमस्त नजारा मेरी आंखों के सामने चल रहा था. पर मैंने अपनी इस सोच को दिमाग से निकाला और आँख मूंदे दर्द का बहाना किये कराहती हुई सी इस पहली पहली चुदाई का भरपूर लुत्फ़, मज़ा उठा रही थी. मुकुल राय को भी तुरंत आभास होता है और वो एक झटके से अपना पूरा लंड परीशा के हलक से बाहर निकाल देता है। परीशा वही ज़ोर ज़ोर से खांसने लगती है.

मैंने कहा- रानी डरो मत, कोई कुछ नहीं उखाड़ सकता, जब तक मैं तुम्हारे साथ हूं. अब तक आपने पढ़ा था कि नम्रता और मेरी चुदाई सारी रात छत पर चलने के बाद कमरे में भी होने लगी. सुमन भाभी- मुझे विश्वास तो नहीं होता, पर तुम पर शक भी नहीं किया जा सकता है.

मेरी सीट सबसे आगे थी क्योंकि मैं यात्रा बस संचालक के साथ ही बैठ कर जाता था. रास्ते में ही मैंने उसे फोन करके सब बता दिया और वह मेरे पहुंचने से पहले ही दरवाजा खुला छोड़ बाहर चला गया था. जहां योगी परम-आनंद में लिप्त रहता है, न दीन, न दुनिया … न दुःख, न सुख … न आत्मा, न परमात्मा … जहां सिर्फ़ आनंद विराजता है … केवल आनंद!क्या देख रहे हैं?” मुदित भाव से वसुंधरा ने कार के करीब आकर ड्राइवर साइड थोड़ा झुक कर मुझ से पूछा.

यही सोच कर मैं अपने दोस्तों के साथ कई बार कुल्लू मनाली भी घूमने निकल गया था … क्योंकि आखरी साल में पढ़ाई का इतना प्रेशर नहीं होता है. कहाँ मैं 19 साल की और वो 50 साल के … वो भी शरीर में मुझसे लगभग 3 गुना ज्यादा!कुछ देर में बॉस भी उठे और हम दोनों फ्रेश हो गए.

आज मेरी चूत पर एक भी बाल नहीं था क्योंकि मैं अपनी चूत के बाल को साफ़ करके चुदने को रेडी हुई थी.

एक बार फिर नम्रता अपनी ऐड़ियों को टेबिल पर टिकाकर पैर फैला लिए और अपने दाहिने हाथ को चूत पर बड़े प्यार से फेरने लगी और उसी प्यार से मम्मों को सहलाने लगी. शादी मे जरूर आना फुल मूवीइसी आसन में चोदते समय यदि लड़की की टांगें अपने कंधे पर रख ली जायें तो क्या कहने. इंडियन फुल सेक्स व्हिडिओ[emailprotected]इससे आगे की कहानी:मकान मालकिन की बड़ी बेटी भी चुद गयी. जब उसने तुमको मेरे साथ देखा है मेरे घर वाले मुझे कहीं नहीं जाने देते.

अब मैंने भाभी को बता दिया कि मेरा लंड अब उनको चोदने की सोचते ही खड़ा हो जाता है और मुझे हस्तमैथुन करना पड़ता है, जो ज़्यादा मुझे पसंद नहीं.

मैं बाइक पर आगे होने की वजह से कुछ ज्यादा ही भीग गया था, जबकि उसके कपड़े कम भीगे थे. उन्होंने मुझे एक हाथ से जकड़ लिया और दूसरा हाथ स्कर्ट के अन्दर डाल कर मेरी चुत को पैंटी के अन्दर से सहलाने लगे. मेरा लंड जो कुछ देर पहले तक तना हुआ था अब वो एकदम से सिकुड़ते हुए चूहा बन गया.

मैंने वैसा ही किया।रात के 11:30 हो चुके थे और एक बोतल बीयर भी खत्म हो चुकी थी. कुछ पल में वो एकदम नंगा उसके सामने हो जाता है।परीशा एकटक अपने पापा के लंड को देखने लगती है. मैंने पीछे से मौसी की चूत में लंड को पेल दिया और उनकी कमर को अपने हाथों से थाम कर तेजी से उनकी चूत की चुदाई करने लगा.

नंगा फोटो नंगा

अब मेरी आंखों के सामने एक गोल चिकनी गुलाबी गांड थी और उसके नीचे से झांकती एक बंद होंठों वाली मुनिया. मैंने उसे पीछे धकेलना चाहा, पर उसने मुझे थोड़ा टाइट पकड़ा था, तो मैं उससे छूट ना सका. दोस्तो, जब मैंने उसके मम्मों को छुआ, तभी पता चला कि उसके बोबे कितने बड़े थे और मेरे हाथ में भी नहीं आ रहे थे.

मैं अपने घर के आखिरी में रूम में सुबह 9 बजे सोया था और मेरा लंड खड़ा हो गया था.

बात उन दिनों की है, जब मैं पंजाब से अपनी इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा था.

उसने पूछा- कैसा लगा बहन मेरे लंड का पानी?मैंने जवाब दिया- अच्छा था. मैंने परवीन की मस्त गदराई गांड को ऊपर उठाकर उसके नीचे तकिया लगाया और अपने लंड पर कंडोम लगा लिया, मैं कोई रिस्क नहीं लेना चाहता था. सेक्सी वीडियो मूवी फुलअब मेरी चूत मस्त बज रही थी और फच फच फचाफाच फचाफाच आवाजें निकाल रही थी.

मुझे अपनी प्यारी कामुक पत्नी रीना को अपने से बड़े लंड से चुदते हुए देखने का नजारा प्राप्त होने वाला है. मुस्कान भी बहुत खुले विचार वाली लड़की थी, इसलिए मेरी और उसकी गहरी दोस्ती हो गई. नैना ने भी इंजीनियरिंग की थी तो हम दोनों बराबरी वाले थे, दोनों में खूब कॉम्पिटिशन होता था.

मैं आपको अगले पार्ट में बताऊंगा कि मैंने उसको कैसे बेड पे अच्छे से चोदा. उस दिन प्लान के मुताबिक रात में मानसी और मैंने मौसी के दूध में कामवर्धक दवा मिलाने का मसौदा तैयार कर लिया था.

00 ही बजे थे कि घर से कॉल आया कि पापा को अर्जेंट में आफिस के काम से जाना पड़ रहा है और छोटा भाई भी घर पर नहीं है.

अक्सर छोटी वाली।एक दिन मैं ऊपर कमरे से बाहर निकल कर सो रहा था क्योंकि गर्मी कुछ ज्यादा हो गयी थी. का ही इस्तेमाल करते थे। मोनी के पड़ोसी के घर फोन तो था परन्तु शायद उसकी लाइन खराब हो गयी थी. राहुल ने उसकी जांघें पकड़ कर उसे सपोर्ट दी तो पीछे से आकर रीमा ने उसके कान में कहा- इसकी बड़ी चिकनी है, हाथ लगा लो कुछ नहीं कहेगी, ये तो तुम्हारी दीवानी हो गयी है.

सेक्सी वीडियो एचडी लोडिंग मैडम की उत्तेजना पे ज्यादा ध्यान ना देते हुए मैं लगातार कमर चला रहा था. मानो मैं आंखों ही आंखों में कह रहा था अगर मौका दो तो मैं आज तुम्हारी चूत का भोसड़ा बना दूं.

मैं समझ गई कि वो मेरी मस्त फूली हुई चूत को चोदने के लिए बेताब हो उठा है. उसने संवाहक को बोल कर अपनी सीट बदल ली और मेरी बगल में ही आकर बैठ गई. पिछले साल की बनिस्पत वसुन्धरा ने कोई छह-सात किलों वज़न कम कर लिया था लिहाज़ा उसके चेहरे के तमाम नैन-नक्श … ख़ासकर उसकी सुतवां नाक और होंठ ज्यादा कातिल दिख रहे थे.

दिल्ली वाली चुदाई

कभी उसके बालों को चूस लेता तो कभी उसकी चूत की फांकों को दांतों से पकड़ कर खींच लेता. जैसे ही मैंने दीदी की कुर्ती उतारी, मेरी आंखों के सामने मानो एक बिजली सी चमक उठी. मगर फिर मैंने सोनू की जीन्स की चेन खोल दी और उसकी पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को सहला दिया.

दोस्तो, मेरा नाम रोमेश है, मैं छत्तीसगढ़ के बैलाडिला का रहने वाला हूँ. ज्योति के मुंह से सिसकारियां निकलने लगीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… प्लीज … तन्मय मेरी जान … मेरे बॉयफ्रेंड ने या मेरे पति ने कभी मेरी चूत नहीं चाटी.

लेकिन मेरा लंड बाहर था पर वो मुझसे सट कर बैठी थी तो किसी की नज़र में आने का चांस कम था और हम ऐसे ही बैठे रहे.

जो महिलाएं अच्छा सेक्स करती हैं, उनको पता होगा कि झड़ने के बाद क्या हालत होती है. मेरा मन भाभी की गांड मारने का था तो मैंने भाभी को बोला, तो वे बोलने लगीं कि मैंने आज तक गांड नहीं मरवाई है. मैं मार्केट गया हुआ था और चूचे मसलने के बाद वह हीना को चोदने की तैयारी में था तभी मैंने आकर डोरबेल बजा दी थी और उसकी चूत चुदने से बच गई थी.

मुझे अहसास हो चुका था कि अंकल दरवाजे तक आ चुके हैं फिर भी मैं अनजान बनी रही. रेखा जब तक उछाल भरती रही, जब तक कि एक बार फिर से मेरे लंड ने अपनी पिचकारी का मुँह उसकी चूत के अन्दर न खोल दिया. मैंने भाभी से दोस्ती पक्की करने के लिए असली में किस करने के लिए बोला.

फिर बाद में कैसे अनुषी मुझसे चुद गई, उस रंगीन चुदाई की कहानी को आपके सामने पेश कर रहा हूँ.

ब्लू फिल्म भेजो हिंदी में बीएफ: उसने घर जाकर मुझे मेसेज किया- सच में तुम किसी को कुछ नहीं बताओगे न?मैंने कहा- मैं वादा करता हूँ कि मैं किसी को कुछ नहीं बताऊंगा लेकिन एक बात तुमको भी माननी पड़ेगी मेरी. मैं- आपसे बात किए हुए करीब एक साल हो गया चाची … मुझे आपकी बहुत याद आती रही.

कुछ देर बाद जब उसने बेड पर खून देखा, तो बोली- ये खून कहां से आया?मैंने उसको समझाया- येपहली बार सेक्सकरने के कारण निकला खून है, तुमने आज सेक्स किया है, तो आज तुम्हारी सील टूट गई है. अंकल ने अपना जांघिया उतारा, हथेली में तेल लेकर अपने लण्ड पर मला और मेरी टांगों के बीच आ गये. हम दोनों लोग एक दूसरे को किस करते करते बहुत गर्म हो जाते थे और उनका लंड टाइट हो जाता था, जिसको मैं महसूस करती थी.

चूंकि आज आंटी के चूचे मेरी पीठ पर टच हो गये थे इसलिए लंड बार-बार उनके बारे में अहसास करके खड़ा हो रहा था.

थोड़ी देर मेरी चूत को सहलाने के बाद उसने अपना लंड एक बार में ही मेरी चूत में डाल दिया और मेरी चूत को चोदने लगा. मैं अपने घर के आस-पास इस औरत को लेकर नहीं घूम सकता था … क्योंकि सब मुझे पहचानते थे. पहली बार मैंने अपनी आंखों के सामने इस तरह किसी लड़के के लंड को यूं तना हुआ देखा था.