बीएफ गांव के

छवि स्रोत,प्रिंसिपल की सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

bhabhi वीडियो सेक्सी: बीएफ गांव के, मैं सोच रहा था कि अपना लंड हाथ में लेकर उनके सामने जाकर खड़ा हो जाऊं मगर फिर मैंने सोचा इतनी जल्दी क्या है, यहीं खड़ा रहकर देखता हूँ कि और क्या-क्या करती है मेरी चुदक्कड़ माँ!कुछ देर तक बैंगन को चूसने के बाद वह 3 बड़े-बड़े बैंगन और एक मूली लेकर अपने रूम की तरफ जाने लगी.

रिकॉर्डर द्वारा सेक्सी वीडियो

और जाते जाते ध्यान आया कि वो कपड़े बदल रही हैं तो मैं दरवाजे पे ही रुक गया. एचडी सेक्सी फिल्म मारवाड़ीचुदाई करते हुए हर पल के साथ ऐसा महसूस हो रहा था कि छेद और अधिक फैलता जा रहा था.

हमारे पहुँचते ही अदिति बहूरानी हमारे पास आ गयी और कम्मो के हाथ से बैग्स लेकर देखने लगी की क्या क्या लाये थे. गुजराती लेडीस सेक्सीसोमवार को जैसे ही मैं घर में दाखिल हुआ, उससे बातचीत हुई, तभी उसकी बहन आ गयी.

बची हुई कमी को रेवती की कमर, उठ उठ कर गिरती हुई उसकी गांड और उसके उछलते हुए चूचे पूरा कर रहे थे.बीएफ गांव के: उनके जाने का सोच कर श्रीमती जी एकदम से बिस्तर से उठीं और मुझे आवाज देते और टटोलते हुए मेरे बिस्तर पर आ गई.

अंकल का लंड मेरी बुर से बाहर आया तो उस पर वीर्य और मेरी चूत का पानी लगा हुआ था.उसने बोला- क्या?मैंने कहा- जो भी मैं तुम्हें बताऊंगा, वो तू सिर्फ अपने तक ही रखेगी.

दीपिका सिंह का सेक्सी वीडियो - बीएफ गांव के

दूसरे दिन मैं कॉलेज से आया तो वो मेरे घर पर मेरी माँ से बात कर रही थीं.मैंने उन्हें लिख कर संदेश दिया कि मैं खाना कर आऊँगी, तब तक वो भी थोड़ा सुस्ता लें.

मैंने उस पर भरोसा करके उसे आपके प्रेग्नेंट होने की पूरी बात न बताते हुए, एक इशारे में समझाई, लेकिन उसने वो बात मॉम को बता दी. बीएफ गांव के वैसे भी मुझे अपनी बहूरानी को दिखाने के लिए कम्मो को कपड़े दिलवाने ही थे नहीं तो वो जरूर टोकती कि अपनी नातिन को फोन दिलाने ले गये थे तो उसे अपने पैसे से कपड़े तो दिला ही देते कम से कम.

मैंने अपना लंड चूत में से बाहर खींच लिया और बहन को सीधी करके उसके होंठों को चूमने लगा.

बीएफ गांव के?

मैं अब साली की चूत में लंड डालकर रुका हुआ था, धक्के मारने बंद कर दिए थे तो अब नीरू का दर्द कुछ कम हुआ. मेरे पास अब लम्बा मोटा और ताक़तवर लंड था जो किसी भी औरत की चीख निकाल दे. उसने मुझसे बोला- तू तो बहुत गर्म है … अभी मन है क्या तेरा?मैं कुछ नहीं बोली पर चुदने के लिए अन्दर से मैं बहुत पागल थी … क्योंकि मुझे उन दोनों चूतियों ने भी अधूरा चोद कर छोड़ दिया था.

फिर मैंने बिना बोले कार की सीट को पीछे करके स्लीपिंग मोड में डाला और उसको अपने ऊपर ला कर किस करने लगा. हुआ ये कि मैं पढ़ाई के सिलसिले में शहर में रहता था, तो मैं शहर में एक रूम भाड़े पर लेकर रहता था. लिंग खींचते ही मेरी योनि से गाढ़ा वीर्य बह निकला और बिस्तर पर फैल गया.

जनरल चीज है, लोग करते ही हैं, अगर तुम करती होगी तो कौन सी कयामत टूट पड़ेगी।”क्या आप यह चाहते हो कि मैं अभी इसी वक्त यहां से चली जाऊँ।” उसकी आँखों से गुस्सा झलकने लगा।तुम्हारी मर्जी है. मैं टॉवल उतार कर अभी सलवार डाले मैं नाड़ा बांध ही रही थी कि उसने दरवाज़ा खोल दिया. नेहा और प्रिया की चुदाई से मैं काफी थक गया था, इसलिए पता नहीं, कब मुझे नींद आ गयी.

वो बोला- और क्या चाहिए…चुदाई वाली…मूवी?मैंने पूछा- तू देखता है क्या?वो बोला- और क्या…मेरे पास तो कई सारी हैं. चूंकि उस वक्त वो बैठी होती और मैं खड़ा होता था, इसलिए ऊपर से मुझे बहुत अच्छी तरह से उसके चुचे दिखाई दे जाते थे.

अब मैं देख रही थी कि उस दिन के बाद ज्यादातर राज अंकल मेरी मम्मी के आस पास नजर आते और उन्हीं से बातें करते रहते.

मुन्ना अंकल बोले- क्या हुआ वन्द्या, मेरा लौड़ा चाहिए क्या?मैं बोली- हाँ अंकल … अंकल मुझे अपना लंड दे दो.

पूजा जैसे जैसे मेरे लंड को चूस रही थी, उसके मुँह से घुटी घुटी आवाज़ निकल रही थी. मैं बिहार का रहने वाला हूं, उम्र 21 वर्ष है, रंग गोरा है तथा मैं 5 फुट 10 इंच लम्बे कद का हूं. तो उसने लिखा कि तो तुम कौन हो और मुझसे क्या चाहते हो?मैंने लिखा- मैं तुम्हारा दोस्त बनना चाहता हूँ.

उसने पेंटी पहनी हुई थी और अब वो सिर्फ पेंटी में मेरे सामने खड़ी थी।अभी तक मैंने अपना एक भी कपड़ा नहीं उतारा था। अब मैंने उसकी उंगलियों को अपनी उंगलियों में फंसाया और दोनों हाथों को ऊपर करके एक बड़े से पत्थर से टिका दिया और पूरे जोर से उसके निप्पलों को चूसने लगा, चाटने लगा। वो जोर जोर से सिसकारियां ले रही थी। अब उसकी पैंटी गीली हो चुकी थी, मैं उसक़ी पेंटी के ऊपर से उसकी चूत को सहलाने लगा, मसलने लगा. मैंने बोला ओके … कैसा रहा सारू?वो मुझे चूम कर बोलीं- टॉप ऑफ़ द वर्ल्ड!फिर दस मिनट हम दोनों ऐसे ही लिपट कर सोये रहे. फिर मैं पेपर उठाने नीचे झुका, तब तक सोनल नीचे झुककर पेपर उठाने लगी थी.

इतना सुनते ही वे दोनों जोश में आ गए और बोले- यह बहुत बड़ी आइटम है … इसको हम दोनों के लंड से कोई फर्क नहीं पड़ेगा … तू डाल हिमांशु.

मेरे बारे में जानने के बाद कुछ पाठक यह भी सोच रहे होंगे कि मेरे इस काम में तो मैंने कई औरतों के साथ सेक्स किया होगा तो यही कहानी क्यों लिख रहा हूँ. बस जब ऐसा लगेगा कि मुझे जग चाहिए, तो उस वक़्त तुम्हारे बारे सोचूंगी, बाकी मैं अपने पति की हूँ. तारा मेरी तरफ आयी तो मैंने बिना कुछ कहे अपनी टांगें उठा कर सोफे पे रख कर टांगें फैला दीं.

मेरा मन कर रहा था कि हम एक-दूसरे को यूं ही बांहों में जकड़े हुए पड़े रहें. हम फिर से कब करेंगे?मैंने बोल दिया- जल्दबाज़ी ठीक नहीं … और गलती से भी किसी को न बता देना कि हमने ऐसा किया है. थोड़ी देर मजे लेने के बाद हमने दुबारा अपनी पोजीशन संभाल ली और चुदाई बदस्तूर चालू रखी.

उन दिनों मेरा दिन का स्कूल होता था तो मैं दोपहर में स्कूल में होता था.

मयूरी- माँ… अगर उनको पता चल गया तो मैं वादा करती हूँ… कि मैं उनको समझा दूंगी. उससे बोल चाल बंद होने का नतीजा कुछ इस तरह से सामने आया कि पूरे घर में इसका असर दिखने लगा.

बीएफ गांव के नीचे उसने कुछ नहीं पहना था। उसके दोनों चूचे आज़ाद हो गए और मैंने उत्तेजना में आकर उसके चूचे ज़ोर से दबा दिए। उसके मुंह से सिसकारी निकल गई. इस सेक्स कहानी के पहले भागमन्जू की चूतबीती-1में आपने मेरी चुदाई की शुरुआत, मेरी सुहागरात और मेरे ननदोई से मेरी चुदाई के बारे में पढ़ा.

बीएफ गांव के इस वक्त मेरी जान निकली हुई थी कि उसने मुझे कहीं मुठ मारते देख तो नहीं लिया, अगर देख लिया तो मॉम और डैड को बता देगी और फिर मेरा क्या हाल होगा. मेरे बूब्स उसके लिए बहुत छोटे छोटे से थे, फिर भी उसने कस के मेरे एक दूध को दबा दिया.

अब मेरी पत्नी ने मुझसे कहा- अब आप धीरे से धीरे धक्के मारने शुरू करो ताकि नीरू को मजा आना शुरू हो!और मुझे हिदायत दी- यह मेरी बहन है, बहुत प्यार से करना है … धक्का जोर से नहीं लगाना … नहीं तो इसको दर्द होगा और फिर आपको इसकी चूत नहीं मिलेगी अगर आपने इसको दर्द दिया तो!अब मैंने अपनी पत्नी का कहा मान कर नीरू की चूत में धीरे धीरे धक्के मारने शुरू कर दिए.

मोहतरमा सोंग

पढ़ाई के बाद मुझे शहर में ही नौकरी मिल गयी और मैंने काल सेंटर ज्वाइन कर लिया था. शीतल- अच्छा…मयूरी- अच्छा माँ?शीतल- हाँ?मयूरी- एक बात पूछूं?शीतल- हाँ पूछो. एक बार मेरे ससुर जी को बाहर उनके बेटे के पास जाना पड़ा तो वो मेरी बीवी को भी अपने साथ ले गए.

थोड़ी देर तक ऐसे ही उसके जिस्म के साथ खेलने के बाद रजत उठा और मयूरी के रसभरे कम्पकपाते होंठों पर अपने होंठ रख दिए. मैं सूरत गुजरात का रहने वाला हूँ। मैं अन्तर्वासना का पिछले 8 साल से पाठक हूँ। मैंने कई लेखकों की कहानियाँ पढ़ी हैं। अन्तर्वासना की कहानियाँ मुझे बहुत अच्छी लगती हैं। मैंने भी सोचा कि क्यों ना मैं भी अपनी कहानी लिखूँ।ये बात तब की है जब मैं 12वीं में था. उसने आंखों से कुछ इशारा भी किया और श्यामा उठ कर उस डीवीडी को लिए दूसरे कमरे में चली गई और फिर जल्दी से वापिस भी आ गई.

धर्मेन्द्र- ओके, बताओ क्या चाहती हो?मैं- आपको पूरा नंगा देखना चाहती हूँ.

मैंने उसके होंठों पे अपने होंठ रख कर बोला- आज इन होंठों को ही खाना है. वो बहुत खुले विचार वाला समझदार लड़का था, जो अपने अन्दर उठती यौन शक्ति का सही इस्तेमाल करके दूसरों को और अपने को शारीरिक मानसिक और आध्यात्मिक सुख देता था. घर जाकर मैंने देखा कि रेवती के घर किसी पूजा का कार्यक्रम चल रहा था.

कुछ और धक्के पड़ते रहे, उधर अब माइक भी हांफते हुए आवाजें निकालने लगा; ‘ओह्ह ओह्ह ओह्ह. फिर कुछ देर बाद उसने मेरे लंड को चड्डी की कैद से आजाद करते हुए हाथ में लेकर चूसना शुरू कर दिया. तो इस पर वो बोलीं- वैसे भी बेटा … अब इस उम्र में मेरे पास तुम्हें दिखाने लायक कुछ है भी नहीं.

तभी वो बोली- ओके तुम टेंशन मत लो … मैं किसी से कुछ नहीं कहूंगी, पर मेरी एक शर्त है?मैंने बोला- मुझे तुम्हारी हर शर्त मंजूर है … पर प्लीज़ किसी को मत बोलना. कुछ सेंकड तक ऐसे ही हल्का हल्का हिलने के बाद मैंने धीरे से लिंग को थोड़ा सा बाहर खींचा और फिर एक पल से भी कम समय में वापिस पूरा अन्दर धकेल दिया.

फिर एक पल रुकने के बाद मैंने उसके पैर को अपने कंधे पर रखा और उसकी गांड में नीचे तकिया रख कर एक ही झटके में अपना पूरा का पूरा लंड अन्दर डाल दिया और ज़ोर ज़ोर से धक्के देने शुरू कर दिए. भाभी भी आहिस्ता आहिस्ता सीत्कार करते जा रही थीं, पर उस टाइम भी भाभीजी अपनी आंखें बन्द किए हुए थीं. अब आगे:जब पूरी चुदाई हो चुकी तो सुमन ने अमीषा से पूछा- कैसा लगा?उसने कुछ जवाब नहीं दिया।तब सुमन ने इठलाते हुए कहा- मेरे भाई का लंड है ये, एक बार ले लिया तो बार बार माँगोगी।अमीषा ने पूछा- तुमको कैसे पता कि इसका लंड कैसा है?मैं तो कई बार इससे चुद चुकी हूँ अपने तजुर्बे से बता रही हूँ.

वो क्या मस्त आइटम लग रही थी लहंगा में … एकदम हीरोइन के जैसे … और साथ ही उसके बाल खुले हुए थे … वाऊ … मैं तो पागल हो गया.

अगर ऐसी हॉट लड़की को देखकर भी कोई अपने लंड को खड़ा ना कर सके, तो वो किस मर्द कहलाने लायक ही नहीं है. मैं उठ कर बाथरूम में चली गयी, फिर वापस आयी तो देखा कि जग भी कमरे से चला गया था. अन्दर चाचा चाची की गांड देख कर चाचा बोले- क्या गांड है तेरी … काश … कुछ और बड़ी गांड होती तेरी … तो और कितना मजा आता चोदने में!चाची- अब और कितनी बड़ी गांड चाहिए आपको … मेरी गांड भी तो बड़ी है.

उसका ब्लाउज एक नूडल स्ट्रिप वाला ब्लाउज कम ब्रा ज्यादा लग रहा था जिसका गला लगभग पूरा खुला था जिससे उसके आधे से अधिक मम्मे साफ़ दिख रहे थे. मैं बोला- तुमको ये सब कैसे पता है कि मैंने अपनी दीदी के साथ क्या किया था?इस पर वो बिंदास बोली- मुझे तुम्हारी बहन ने ही बताया है कि रात में मैंने अपने भाई का वर्जिन लंड अपने मुँह में लिया था, बहुत मज़ा आया था.

आपको तो मैं रोज चोदूँगा … बस आप प्लीज आप बड़ी चाची को मेरे लंड के लिए मना लो. राज ने तीनों अंकल के पैर छुए और अंकित ने भी!जिनका घर था, उनके पास अंकित गया और बोला- अंकल जी, अब दरवाजा बंद कर दीजिए, कोई दिक्कत तो नहीं है?वे अंकल बोले- बिल्कुल कोई दिक्कत नहीं, मेरी बीवी और बेटी बहुत अन्दर सो रही हैं. अगर कोई भी जवान या बूढ़ा लंड मुझे देखेगा तो मुझे देखकर ही झड़ जाएगा.

हिंदी साड़ी वाली सेक्सी वीडियो

बीच बीच में मैं उनके कान पर दांतों से हल्का सा काट देता था, जिससे वो सिहर रही थीं.

मैं अंकल के हाथ को बड़ी ताक़त से बुर के अन्दर ठेलवा रही थी, लेकिन केवल बीच वाली उंगली ही बुर में पूरा घुस नहीं रही थी. मुझको बहुत मजा आ रहा था और मैं भी अपनी कमर हिला हिला के अपना लौड़ा उनके मुँह में डाल रहा था. उसके मुँह से आवाजें निकलने लगीं- आअह्य … अहह … हाहह्य …उसकी कमुक आवाजें सुनकर मैं और तेजी से उसकी चूत चाटते हुए उसके बड़े-बड़े मम्मों को जोर से दबाने लगा.

वो बहुत खुले विचार वाला समझदार लड़का था, जो अपने अन्दर उठती यौन शक्ति का सही इस्तेमाल करके दूसरों को और अपने को शारीरिक मानसिक और आध्यात्मिक सुख देता था. शायना भाभी आँख मुझे मारते हुए उठीं और बिना कुछ बोले नंगे ही बेटे को दूध पिलाने लगीं. एक्स एक्स वीडियो सेक्सी देखने वालीऔर हां, अभी तुमने बोला कि शादी बाद तुम लगातार तीन तीन बार नहीं झड़ीं, इसका मतलब तुम शादी के पहले एक साथ तीन तीन बार झड़ी हो?मेरी बातों को सुनकर पूजा शरम से लाल हो गयी और बोली- छोड़ो ना ये बात.

यह कहकर वह घुटनों पर बैठकर मेरे लंड पर किस करने लगी और धीरे धीरे चूसने लगी. वो पूरी तरह उत्तेजित हो चुकी थी और मेरा सर अपनी चुत में दबा रही थी.

मनीष ने दोनों हाथों से भाभी की गांड फैला रखी थी, जिससे उनकी चूत पूरी फ़ैल गई थी और भाभी को पूरा मजा आ रहा था. मैं मम्मी के कमरे से आई, तो मेरे दिमाग में वहीं मम्मी वाला पूरा सीन चल रहा था. वो अब जानबूझकर मानसी की चूचियाँ जोर जोर से मसलने लगा ताकि उसे दर्द हो!मानसी- आहिस्ता अहह आह … आहिस्ते डॉक्टर साहब!दीपक- चुप रंडी, कितनों से चुदवा चुकी है … तुझ पर कोई असर नहीं होता!बोल कर और जोर से उसकी चूची को मसल दिया और जोर जोर से धक्का लगाने लगा।इधर मैंने सुशीला की चूत से मुँह निकाला और अपना लंड उसके मुँह में दे दिया.

मैं हमेशा ख्वाब में किरण चाची को चोदा करता हूँ … और जब भी चाची के यहां आता हूँ … तो छुप छुप कर चाचा चाची की चुदाई देख कर मुठ्ठ मार लेता हूँ. क्या कर रही हो?उफ्फ … बस अब चोद भी दो … मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा!”नहीं मीता … तुम कह रही थी कि …”कहना कुछ नहीं … बस अब डाल दो!”और यह कहकर मीता ने जोर से अपने कूल्हे उछाले. फिर 3-4 मिनट तक ऐसे ही संभोग करने के बाद मैंने लिंग बाहर निकल लिया और बेड की बैक से टेक लगा कर बैठ गया.

उसका साथ पाकर मैंने उसके दोनों चूचों को बारी बारी से खूब मसला एवं बीच बीच में शाल में मुँह घुसा कर उसके निप्पलों को मुँह में लेकर चूसा.

मुनीर ने अपनी टांगें फैला दीं और अपनी हल्के बालों वाली योनि तारा के मुख की तरफ उठा दी. मैं बोला- चिन्ता ना करो मेरी जान … आज तो आपकी चूत को फाड़ ही डालूँगा.

मुझे उम्मीद है कि आपको इस हसीन तरीन पूजा के संग समय काटने के साथ साथ उसकी रंगीन जवान चूत चुदाई की कहानी भी मजा दे रही होगी. कुछ देर बाद मैंने देखा कि दीदी मेरी तरफ देख कर एक लड़की से बातें कर रही थीं. राज अंकल बोले- शादी के बाद तो चुदाई ही होती है… फिर क्यों नाटक करवा रही है.

मैंने न केवल उसको अपने हाथ के दबाव से नीचे ही बैठे रहने दिया, बल्कि फुर्ती से उसके दोनों हाथ कुर्सी से बांध दिए. एसी चालू करके बेड पर चादर डाल कर मम्मी बोलीं- सोनू तू आराम से सो… हम लोग थोड़ा उधर वाले रूम में बातें कर रहे हैं. एक तरफ अन्दर की बेतोड़ चाहत और दूसरी और बाहर की दुनिया की लादी हुई शर्मो हया.

बीएफ गांव के लगी शर्त!मैं- हां लग गयी और अगर दिख गए तो?मीतू- तो तू मेरे बूब्स को टच कर सकता है. मेरा पूरा लंड नीरू की चूत में जाता हुआ देख पायल मस्त हो गई थी, उसकी आँखें नीरू की चूत पर टिकी हुई थी.

माधुरी दीक्षित का सेक्स फोटो

जब एक ताजा जवान शक्ति से भरपूर लंड उसके यौवन दवार को खोलता हुआ मज़ेदार घर्षण करता हुआ उसके अन्दर की औरत को जगा रहा था. मैं जब भी उनके सामने जाता था, तो वो मुझे घूर घूर कर और कुछ अजीब सी ही नजरों से देखने‌ लगती थीं. सोनू ने पहले एक होटल में एक कमरा लिया, फिर नाश्ता कर के करीब 10 बजे हम मार्किट गए और वहां जाकर मैंने एक लहंगा लिया.

उधर अपनी चूत की फांकों में मेरे लंड की गर्माहट से नीता आंटी कामुक सिसकियां लेने लगीं- ह्ह्ह अह्ह्ह ह्ह्ह ओह्ह्ह!मैंने भी अपना लंड उनकी चूत में सैट किया और धीरे से उनकी चूत में डाल दिया. वे बोले कि वन्द्या अब तीन महीने तक तुम्हें कोई प्रॉब्लम नहीं होगी, चाहे तुम कितना भी कुछ करो … चिंता करने की जरूरत नहीं है. रेल सेक्सी वीडियोएक दिन मैंने उससे पूछा- तू शादी क्यों नहीं करती है?तो उसने कहा- मुझे शादी की क्या जरूरत है.

अब तक आपने पढ़ा था कि मैं एक मॉल में थी, मेरी चूत और गांड में उस मॉल के दो वर्कर लड़कों के लंड घुसे हुए थे.

जिन लौड़ों के जरा से घुसने से दर्द हो रहा था, वे ही लंड अब छोटे लगने लगे और अपने आप मजा महसूस होने लगा, मेरा मन करने लगा कि हर जगह लंड घुस जाए और जमकर अन्दर डाल कर मुझे मसल दें. वहां एयरपोर्ट सी ऑफ करने के बाद मैं और भाभी दिल्ली के एक मॉल में कुछ शॉपिंग करने लगे.

ओययय … छोड़ … छोड़ मुझे …” प्रिया ने कसमसाते हुए कहा और मुझसे छुड़ाने का प्रयास करने लगी. मानसी की तो हालत बहुत बुरी हो चुकी थी, लग रहा था कि उसमें जान ही नहीं है. मैंने कहा- तो मैं मेरे रूम में जाता हूँ मेम … आप रेडी हो जाओ तो कॉल कर देना.

मैं- क्या हुआ चाची … दर्द हो रहा है क्या?चाची- आह … तुम दर्द की फिकर मत करो … पूरा लंड घुसाओ.

माइक मुझे देखे जा रहा था और अपनी कमर हिलाते हुए लिंग अन्दर बाहर कर रहा था. वह मुझे अपने कमरे में ले गया और बोला लो कर लो जो चाहो, मैं आधे घंटे के लिए तुम्हारे हवाले हूँ. जब मेरी जीभ सुलेखा भाभी के हाथ लगती, तो वो उसे जोरों से चूसने लगतीं … और जब मुझे सुलेखा भाभी की जीभ हाथ लगती, तो मैं उसे चूसने लगता.

ओपन सेक्सी पिक्चर सेक्सी पिक्चरजब कोई नहीं दिखा तो चुपके से जा कर मैंने अपना तौलिया बिस्तर पर डाल दिया और फिर वापस बाथरूम में आ गई. कुछ देर बाद जब मुझसे भी नहीं रहा गया तो मैं भी अपने जीजू को किस करने लगी.

कुत्ता से लड़की का सेक्स

मगर मैं ऐसा नहीं सोचती क्योंकि मुझसे अधिक बहुत सी खूसूरत लड़कियां हैं. शायद उसे दुनियादारी मालूम नहीं थी क्योंकि 12 वीं कक्षा के बाद उसने आगे पढ़ाई नहीं की. शीतल- हमें कुछ नियम तय करने होंगे… क्योंकि ये हम जो भी कर रहे हैं, वो समाज के नियमों की खिलाफ है… इसलिए…विक्रम- क्या नियम पापा?अशोक- हम, जितना चाहें अपने परिवार में चुदाई करें, कोई दिक्कत नहीं… पर ये बातें, कभी भी, गलती से भी घर के बाहर नहीं जानी चाहिए.

किचन की खिड़की में एक प्लास्टिक लगा हुआ है वाइट कलर का, जिससे रात में अन्दर लाइट रहने पर अन्दर (किचन) का सब दिखता है और बाहर का कुछ नहीं दिखता. मैंने अपनी पैन्ट की जिप खोली और अपनी चड्डी से लंड बाहर निकाल कर उसको दिखा दिया. एक दिन फिल्म देखते हुए बोली- क्या तुम अपनी मूतने की जगह मुझे दिखा सकते हो?मैंने कहा- पहले तो समझ ले कि ये मूतने की जगह है और इसे लंड बुलाते हैं.

इतने में मैंने देखा कि एकता भाभी ने अपनी गांड उठा कर मुझे आंख मारी और मैं मुस्कुरा दिया. अब आप सभी को तो पता ही है कि एक बार इन सबके बारे में पता लग जाए, फिर तो बस दिमाग में एक ही बात चलती है कि एक बार कोई चोदने को मिल जाए बस. तभी उसकी चुत से दुबारा जो फव्वारा निकला … बाप रे!मैं उसकी चुत का पानी पी रहा था लेकिन बहुत ज्यादा पानी बाहर आ रहा था.

तो मैं हमेशा की तरह ब्लू फिल्म की सीडी लगा कर हाथ से अपना लंड हिला रहा था. वो बोला- साली बहुत मस्त गांड है तेरी … गजब चुदवाती है भैन की लौड़ी … बहुत मजा आ गया तुझे चोद कर वन्द्या … मैं धन्य हो गया.

मैंने आगे कहा कि पति अपने मूतने की जगह को अपनी पत्नी के मूतने की जगह में डालता है, उसे सेक्स कहते हैं.

उसने बाहर के लिए कदम रखा और वहीं से उसको अपनी गोद में उठाया, वो भी मुझे देख कर बड़े प्यार से लपक कर मुझसे लिपट कर मेरी गोद में चढ़ गई. सनी लियोन सेक्सी वीडियो हिंदी आवाज मेंलेकिन सिर्फ इतने भर से ही मुझे संतोष होने वाला नहीं था, पता नहीं कम्मो लंड से चोदने को मिले न मिले क्योंकि जगह की समस्या बनी हुई थी; पर मैं उसकी नंगी चूत से तो खेल ही सकता था. देहाती सेक्सी वीडियो जवान लड़कीपति शब्द सुन कर दीमा बहुत निराश हुआ था, ऐसा मुझे नताशा ने बाद में बताया था. माइक नीचे झुका और पहले उसने मेरी जाँघों को चूमा फिर योनि को चाटने लगा.

दोस्तो, मेरा नाम रोहित है। मैं एक छोटे से गांव में रहता हूं। कद-काठी, रंग जानने की आवश्यकता नहीं है, बस इतना जान लो कि लौड़ा 7 इंच का है।सीधे कहानी पे आता हूं। दोस्तो, मेरी सेक्स कहानी यूं ही कुछ 1-2 महीने पहले की है। मैं और मेरे भैया मवेशियों (पालतू जानवर) को लेकर जंगल की ओर चल दिए थे.

चूत में उंगली की तो चूत ने रस छोड़ दिया था, मतलब भाभी भी मजा ले रही थीं. उसने अपना खीरे जैसा मोटे लंड को नेहा की चूत पर रख कर उसे चोदना शुरू कर दिया. मैंने देरी ना करते हुए उसको अपने दोनों पैरों के बीच में ले लिया और उसके होंठों पर लंड टच करने लगा.

मैं सूरत गुजरात का रहने वाला हूँ। मैं अन्तर्वासना का पिछले 8 साल से पाठक हूँ। मैंने कई लेखकों की कहानियाँ पढ़ी हैं। अन्तर्वासना की कहानियाँ मुझे बहुत अच्छी लगती हैं। मैंने भी सोचा कि क्यों ना मैं भी अपनी कहानी लिखूँ।ये बात तब की है जब मैं 12वीं में था. मैं अपने हाथ धीरे से उनके पेट पर ले गया और उनकी नाभि में गुदगुदी करने लगा तो वो उछल पड़ीं. मैं अंकल के हाथ को बड़ी ताक़त से बुर के अन्दर ठेलवा रही थी, लेकिन केवल बीच वाली उंगली ही बुर में पूरा घुस नहीं रही थी.

बायकोची झवाझवी

वो मेरे होंठों को बड़ी मस्ती से चूस रही थी, तो मैं भी देर ना करते हुए अपने एक हाथ को उसके मम्मों के पास ले गया. रिचा ने एक बार बताया था कि जब चूत पहली बार फटती है, तो बहुत दर्द होता है. मैं लेटा हुआ लंड चुसाई करवाता हुआ सोनाली और ख़ुशी का लेस्बियन सेक्स देख रहा था.

तो उसने बोल दिया कि मैं तभी माफ़ करूँगी, जब तुम मुझे पूरी बात बताओगे.

पहले मैंने गौर नहीं किया, फिर मैंने देखा कि वो मेरी तरफ देख रही है.

कम्मो की वो दोनों ब्रा पैंटी तो मैंने अपने पास पैंट में छुपा रखीं थीं. दोस्तो, मैं पीहू …एक बार फिर से आप सभी के सामने अपना एक और सच्चा सेक्स अनुभव लेकर आया हूँ. रोमांस हॉट सेक्सीउधर तारा ने अपनी गिलास खाली कर के सामने लैपटॉप पर संगीत लगा दिया और झूमने लगी.

मैंने कहा- चोद मेरे राजा … और चोद मुझे …वह धक्के पर धक्के मारे जारे रहा था. अब नीरू की शादी हो चुकी है लेकिन वह जब भी मायके आती है हम तीनों साथ में ही चुदाई का मजा लेते हैं. मेरे होंठों पर एक पप्पी की और बोली- अब पार्टी के लिए मुझे उतारो तो सही.

फिर मैंने अपने अंगूठे को चूतरस से गीला करके उसकी चूत का दाना टटोलने लगा, अंगूठे से अनारदाने को छेड़ने लगा. लेकिन जब सब कुछ जान लिया तो समझ आने लगा था कि वो दरअसल क्या करते थे.

वह दोनों सीधे मेरे बेडरूम में पहुंच गई और नीरू ने मुझको अंदर बुलवा लिया.

मैंने पूछा- कब मिलना है आपको?तो उन्होंने बोला कि 1-2 दिन में बताएँगी सोच कर. वो बिल्कुल टाइट थे, उन मम्मों के ऊपर हल्के भूरे गुलाबी रंग के निप्पल तने हुए थे. उसकी ये बातें सुनकर मैं अपना हाथ उसकी तरफ करके शरारत करते हुए पूछने लगा- क्या बताया? यही कि पीहू ने पहले उनके बूब्स छुए … फिर मुँह में लंड डाला …ये सुन कर वो मेरी तरफ देखने लगी और बोली- हां जी … वो यही बोली और बोली कि अब मेरा भाई बड़ा हो गया है … रात में उसके साथ सेक्स करते समय उसका लंड मुँह में लेने में बहुत मज़ा आया था.

डीजे शायरी फिर अपनी ब्रा भी उतार दी और बोली- अब अच्छे से करो और इसका सारा दूध पी लो. बाद में जब हमें अकेले में टाइम मिला तो उसने पूछा- मुझे क्या हुआ था?मैंने बताया उसे कि तू मजे लेते हुए झड़ गई थी.

चेंज करके जब मैं हॉल में नीचे आई, तो वहां मौजूद कई मर्दों की निगाह मुझ पर थी. उन्होंने सोचा कि जब कोई और दिला रहा है तो क्यों न कुछ साड़ियां और ले ही लूं. दर्द के मारे वो छूटने की पूरी कोशिश कर रहीं थीं लेकिन मेरी पकड़ से कहाँ छूटने वाली थी.

लड़की ने कपड़े उतारे

कोई और होता तो मेरी लालसा का लाभ उठाता और मेरी चूत और गांड दोनों फाड़ देता. मैं कुछ नहीं बोला तो वो बोली- तेरा ध्यान कहाँ है, कुछ हुआ है क्या, मुझे नहीं बताएगा?मैंने कहा- भाभी, ऐसी कोई बात नहीं है आप टी. जैसे ही वो अंडरवियर में आया, मैंने देखा कि उसकी गजब की फिट बॉडी थी, ऐसा लगता था जैसे कोई मॉडल हो.

लेकिन जैसे ही उनकी नज़र स्टैंड के तरफ गयी, तो उनकी समझ में आया कि मैंने क्या किया है. फिर थोड़ा रुक कर वो गंभीर हो गई और बोली कि वो पहली बार उसी को दिल दे बैठी थी! मेरे कुरेदने पर उसने सारी स्टोरी बयां कर दी कि कैसे वो दीमा पर असक्त हो गई थी, लेकिन बदकिस्मती से दीमा का परिवार मास्को से कहीं और शिफ्ट हो गया, और उनका प्यार परवान चढ़ने से पहले ही मुरझा गया.

पीछे से खुद तारा की योनि में लिंग का मजा आ रहा था और इसी धक्के से तारा की जीभ मुनीर की योनि को रगड़ने का सुख रही थी.

मैंने कम्मो का हाथ पकड़ कर अपनी ओर खींचा तो उसने इन्कार में सिर हिलाया फिर मैंने जोर से खींचा तो वो मुझसे आ लगी और मैंने उसे फिर से चूम लिया. उनके साथ वही हैंडसम सा लड़का था और ड्राइवर के बगल से आगे वाली में वह स्टोर वाला बैठ गया था. वो फिर बोली- अच्छा दिखा दो ना?मैंने कहा- पहले तू!उसने कहा- ठीक है कब?मैंने कहा- कल जब घर पर कोई नहीं होगा.

फिर कुछ दिनों तक मेरी उनसे बात नहीं हुई व मुझे अपने अरमानों पर पानी फिरता हुआ दिखा. वो हंसी और बोली- तो उदघाटन समारोह कब होना है?मैंने कहा- बस मुहूर्त तो निकल ही गया है बस पर्दा उठाना बाकी है. मैंने ज़रा ज़रा लंड अंदर बाहर करना शुरू किया तो बाद में उसे भी आनन्द आने लगा तो मैं भी पूरी तरह से उसकी चूत की चुदाई करने लगा.

फिर उसके साथ मैंने ओरल सेक्स किया ताकि कहीं वो सेक्स के नाम से ही ना डर जाए.

बीएफ गांव के: मैंने चूत में उंगली डालकर थोड़ी चिकनी की और लंड के सुपारे पर लगाकर उसको चिकना किया. मैं उससे बातों-बातों में ही उसके बूब्स और गांड को स्पर्श कर देता था लेकिन वो कुछ रिएक्शन नहीं देती थी तो मुझे और भी हिम्मत आ जाती थी.

मैंने उसे और उकसाते हुए कहा- तुमको भी अच्छा लग रहा था, तुम्हारी उत्तेजना देख कर वे लोग भी उत्तेजित हो रहे थे. अपने सामने नंगी पड़ी रेवती को देखकर मैंने सोचा क्यों ना रूप की इस देवी को हमेशा के लिए अपने पास रख लिया जाए और मैंने उसी अवस्था में उसका एक फोटो अपने मोबाइल में ले लिया, जिसके लिए मैंने रेवती से इजाजत ली थी. तभी नीरू ने मेरा टी शर्ट और बनियान भी उतार कर मुझको बिल्कुल नंगा कर दिया और मेरा लंड अपने मुंह में लेकर चूसने लगी और एक मिनट बाद ही मेरा लंड अपने मुंह से निकाल कर पायल से बोली- इसको चूसने में कितना मजा है! इतना मजा किसी चीज में नहीं!और फिर नीरू ने 4-5 मिनट मेरे लंड को चूसा, फिर लंड मुंह से निकाला कुछ दूरी पर बैठी पायल को मेरे पास बुला लिया.

मैंने अपना सिर बिस्तर पर पटक लिया, मेरी आँखें बंद हो गईं और मेरी कराह मेरे अन्दर ही रह गयी.

भाभी की आवाज आयी- तुम्हारा मन पिक्चर में नहीं लग रहा है?मनीष- क्यों क्या हुआ?भाभी- तुम मुझे डिस्टर्ब कर रहे हो. मुझसे अब रहा नहीं जा रहा था इसलिए मैं अब सीधा ही उसके एक निप्पल को मुँह में भर कर गप्प कर गया और नेहा के‌ मुँह से एक‌ मीठी सीत्कार सी फूट पड़ी. मुझे अब उसके नर्म‌ नर्म होंठों की नर्मी व उसके मुँह की गर्मी अपने सुपाड़े पर महसूस होने लगी थी.