गर्ल की बीएफ

छवि स्रोत,ताकि सेक्सी फोटो

तस्वीर का शीर्षक ,

पति और पत्नी सेक्स: गर्ल की बीएफ, पहली चुदाई के बाद हम दोनों काफी थक गए थे इसलिए कुछ देर यूं ही शिथिल पड़े रहे.

देसी राजस्थानी सेक्सी बीपी पिक्चर

देसी भाभी की अपनीहिंदी सेक्स कहानीपर आपके विचारों से भरे आपके मेल की प्रतीक्षा में. सेक्सी पिक्चर दिखातीमैंने मना किया कि प्लीज ये मत करवाओ मुझसे!तो बालू बोले हर लड़की का ये ड्रीम होता है कि उसे मस्त लन्ड चूसने को मिले! और तू कैसी बात कर रही है, कौन सा मेरा पहली बार चूस रही है, ले साली चूस!और मेरे होठों पर लन्ड को रगड़ने लगे.

वो एकदम से चिल्लाने लगी- आअहह… बहुत दर्द हो रहा है… आहह… नहीं… उम्म… आह… हह!मैं रुक गया और वैसे ही रुका रहा. राजस्थानी सेक्सी फिल्म जबरदस्तीरमेश अंकल मां के चूचों को चूसने लगे थे और उनके एक दोस्त मां की चूत को अपनी जीभ से चाटने में लग गए थे.

तभी मैंने दूसरा शॉट ओदे मारा और इस बार वो उछल पड़ी और मुझे रुकने को कहने लगी.गर्ल की बीएफ: हम दोनों वासना की आग में जल रहे थे और ऐसे एक दूसरे से खेल रहे थे, जैसे कोई जंगल में शेर और शेरनी सेक्स करते वक्त खेलते हैं.

उसके एक दोस्त ने मेरे होंठ को किस करते हुए काट लिया और मेरे टॉप को थोड़ा और नीचे कर दिया.मेरी नोन वेज स्टोरी के पिछले भागचाची को चाचा के सामने चोदा-1में आपने पढ़ा कि कैसे चाची की बदचलनी के बारे में जान कर चाचा ने चाची को डांटा और फिर मुझे मेरी चाची की कामुकता का इलाज करने को यानि चाची की चुदाई करने को कहा.

पंजाबी सेक्सी पिच्चर - गर्ल की बीएफ

मैंने तत्काल अपना हाथ छुड़ा कर कार साईड में रोकी और प्रिया की ओर मुड़ा, उसकी ठुड्ढी उठा कर देखा तो प्रिया की आँखों से गंगा-जमुना बह रही थी.जिससे चाची को थोड़ा बुरा सा लगा और वो झल्ला कर बोलीं- ये क्या किया?मैंने कहा- सॉरी चाची मैं अपने आपको रोक नहीं पाया, मुझे माफ़ कर दो.

अब मैं भी मादक सिसकारियां लेने लगा था- ओह्ह्ह्ह… अह्ह्ह…पूरे समय हम दोनों बस सिसकारियां ही ले रहे थे और कोई भी कुछ भी बोल नहीं रहा था. गर्ल की बीएफ नमस्ते दोस्तो, कैसे है आप सब… मेरा नाम समीर है, मैं 25 साल का हूँ और काफी गोरा व दिखने में स्मार्ट और हैंडसम हूँ.

फिर हम लव पाईंट से बाहर निकल आए और कॉलेज के पार्क में बैठ गए और बातें करने लगे.

गर्ल की बीएफ?

अगले दिन वो मेरे पापा से बोली कि देखो जी नेहा को कई बार इधर उधर जाना होता है और मुझे भी. मैं इस देसी हिंदी कहानी की सबसे बड़ी साईट अन्तर्वासना पर रोज मजेदार कहानियां पढ़ता हूँ और मुठ मारता हूँ. इस तरह मेरी इस कमजोरी को समझ कर मुझे एक लड़के ने प्यार के जाल में फंसा लिया.

नीला की खुली बिंदास बातों को सुनकर मेरा लंड खड़ा हो गया और मैं नीला की चूचियों को मसलता हुआ राजी हो गया. हम दोनों कभी आते जाते एक दूसरे को छू लेते, कभी यहां तो कभी वहाँ हाथ लगा लेते. और अपने मुँह को पूरा दबा लिया, कमरे में मेरी चूड़ियाँ और झांजरों की छन-छन सी होने लगी।वो मेरे ऊपर पूरी तरह सवार हो गया और अपने खड़े लंड को धक्के मार कर मेरी गांड में ‘इन-आउट’ कर रहा था। मेरी गांड की टाइट ‘रेक्टम’ और ‘मसल्स’ उसके लंड को मज़ा दे रही थीं।मैंने सोचा कि अब यह नहीं हटेगा… उसके मुँह से सिसकारियाँ निकलने लगीं.

मानेसर पार करने के बाद मैंने राव होटल पर गाड़ी रोक दी और हमने चाय नाश्ता लिया. शायद उन्होंने समझ लिया था कि मैं झड़ चुकी हूँ तो उन्होंने भी जोर जोर से ठापें लगाना शुरू कर दीं और मेरी चुत में ही अपने लंड का लावा उगल दिया. फिर उसने कुछ देर बाद मेरे मुँह पर उसकी चूत ने एक जोरदार पिचकारी छोड़ दी जिससे मेरा पूरा मुँह भीग गया जिसे रेहाना ने अपनी जीभ से चाट चाट कर साफ कर दिया.

एक एक पल ऐसे कट रहा था मानो जैसे एक दिन बेसब्री से इंतजार था मुझे कि कब दस मिनट हों और कब मैं इस हुस्न की रानी को बांहों में भर के प्यार करूं. वो मेरे इस अचानक हुए अटॅक को समझ न पाई और मुझसे कहने लगी- प्लीज़ लीव मी.

क्योंकि जब भी करने की सोचता तो अपनी इज्जत का ख्याल दिमाग में आ जाता था.

मुझे बालू के ऊपर बड़ा गुस्सा आता, जो मेरे हाथ कंधे सब दबाये मेरे मुंह में लंड डाले उल्लू की तरह गधा साला मुंह में मेरे लन्ड डाले पागल है, मुझे दो तीन बार लगा था कि कोई है… परदा हिला था, मोबाइल भी थोड़ा चमका था, मैं बोली भी थी कि लगता है कोई है।पर बालू बेवकूफ ने हर बार मुझे चुप करा दिया कि तुम फालतू में डर रही हो, मूड खराब कर रही हो.

तो उन्होंने पूछा- और शादी के बाद कितनी को शहीद किया?मैंने कहा- अब लड़कियों में मजा नहीं आता भाभी… अब तो बस आप जैसी कोई भाभी ही मिलती है. माँ- तुम अपनी माँ की फिगर साइज़ को इतने अच्छे से कैसे जानते हो?मैं- मैं माँ के साथ अक्सर खरीदी पर जाता हूँ. अब मैं और नीचे उनकी चूत तक आ गया और उनकी चूत को अपनी गीली जीभ से लप लप चाटने लगा.

नदी के नजदीक आते ही उसने सीधा ही मुझे आदेश दिया- चलो जल्दी से अपने कपड़े उतार दो. थोड़ी देर बाद सैम बोला- शालू यहाँ की लहरों का मज़ा नहीं लोगी क्या?मैं- लूँगी. बाहर निकलने पर भाईसाहब मुस्कुरा कर पूछने लगे- कैसा रहा पाठा का लंड.

मैंने पहले भी लड़की चोदी थी, लेकिन यकीन मानिए इस रिश्ते को शायद इस असीम शान्ति के लिए ही पवित्र रिश्ता कहा जाता है.

मैंने उनकी चुत का नमकीन पानी गटक लिया और भाभी की पकड़ ढीली पड़ने लगी. उसने मेरा पजामा व टी-शर्ट उतार दिया और अन्डरवियर के अन्दर हाथ घुसाकर लंड को सहलाने लगी. मैं उसके होंठों को जब चूम रही थी तो उसकी गर्म सांसें मेरे नाक में आ रही थी और मुझे पागल बना रही थी.

मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रख दिया और धीरे धीरे उसकी चूत में पेलने लगा. वह बूब्स को जोर-जोर से खींच कर जम के मसलने लगा और बोला- मादरचोदी, बहुत टाइट और जबरदस्त दूध हैं रे वन्द्या तेरे!इधर आशीष का लन्ड मेरे मुंह में घुसा था जिसे मैं चूस रही थी. कोई डेढ़ महीने बाद मैंने उस लड़की से कहा कि मैं अभी पैसे नहीं दे पाऊंगी.

भैया इस बात से थोड़े हक्के बक्के रह गए और बोले- हां यार बात तो ठीक है.

हनुमन्त भाई साहब अकेले हो गए थे, मैं रंग लेकर उनको लगाने बढ़ी, तो उन्होंने रंग के डर से अपनी आँखें बंद कर लीं. जब भी कोई पूछे कि वन्द्या क्या हुआ तो मैं उसे बोलती कि बस से पांव फिसल गया और गिर गई तो थोड़ा चोट लग गई थी।और फिर 10 दिन बाद मेरा फिर अपने आप फिर से बहुत मन करने लगा और वही अंकल और जीजा ने जिस तरह से किया था बार-बार वही सब दिमाग में और ख्यालों में चलने लगा.

गर्ल की बीएफ मैं चित होकर पड़ी थी।कुछ देर वो मुझे किस करने के बाद बोले- अब आपकी नथ भी उतार दूँ सासु जी?मैंने कहा- क्यों नहीं… उतार दो मेरी नथ जमाई जी… कर लो अपनी हसरत पूरी!फिर उन्होंने मेरी दोनों टाँगों को हवा में करके मेरी चूत को खोल दिया, फिर अपने लंड को उसमें धांसने लगे. सभी मित्रों का शुक्रिया, आप सब लोगों ने मेरी माँ की चूत की पिछली कहानीचुदक्कड़ मां की चूत चुदाई देखी मैंनेजो कमेंट्स किए कि आपको मेरी कहानी बहुत अच्छी लगी… इसके लिए आप सभी का बहुत धन्यवाद.

गर्ल की बीएफ इसी कारण से जब भी मैं लड़की बनता तो अपने मम्मों को भी दबा लेता था और नितंबों को भी दबाता था. उसकी इस बात पर हम दोनों जोर से हंसे और फिर मैंने कार स्टार्ट की और हम दोनों एक बढ़िया कॉफ़ी शॉप में आ गए.

मैंने कुछ ही पलों में उसकी नाभि पर अपनी वासना के रस में डूबी जीभ फेर रहा था और उसके पेट पर किस कर रहा था.

कामसूत्र सेक्सी वीडियो हिंदी

तो बोली- जरा डिटेल में बताओ?और बोली- चेयर में ठण्ड लग रही होगी, रजाई में आ जाओ. मैंने झट से अपना हाथ उसके मुँह पे रख दिया और मैं कुछ देर के लिए रुक गया. दोस्तो, जैसा कि आपने पिछलीसेक्सी कहानी मकान मालकिन की चुत चुदाई कीमें पढ़ा था कि किस तरह मैंने और निशा ने सेक्स की शुरुआत की.

उसे बहुत मज़ा आ रहा था और नीचे मेरा बुरा हाल हो रहा था, उसका लंड फँस फँस कर अन्दर बाहर हो रहा था।मैं- ओह माय गॉड. अब मैंने चाची का सर ऊपर किया और उनके रसीले होंठों पर अपने होंठ रख दिए. कैमरे के रियल टाइमर के हिसाब से ये सुबह के आठ बजे की रिकॉर्डिंग थी.

मीषा के बारे में मैंने उससे भी कहा था कि मैं मीषा को चोदना चाहता हूँ.

भाभी ने मुझसे कहा- मनन, सच तो यह है कि मेरा छेद थोड़ा टाइट है और तुम्हारे भैया इसे बड़ा नहीं कर पाते हैं, हमारा मन तो बहुत करता है. पर जल्दी ही उसे एहसास हुआ कि हमारे पास टाइम नहीं है तो उसने जल्दी से मेरा मेकअप, फाउंडेशन, लिप ग्लॉस. इससे मुझे काफ़ी बुरा फील हो रहा था क्योंकि क्लास में बैठे लड़के और मेरे वो हरामी टीचर, पढ़ने के बहाने मुझे देख रहे थे.

वो भी शरमा के तिरछी नजर से देखते हुए सिर्फ मुस्करा रही थी और मेरे बारे में पूछने लगी- अपनी वाइफ को क्यों नहीं लाये?तो मैं बोला- मेरी बेटी तबियत ठीक नहीं थी, इसलिए मैं अकेला ही आया हूँ. खैर अपनी बात पर आते हैं… अभी कुछ दिन पहले त्योहारों का मौसम था और बाज़ार में जब भी जाना होता था कई जवान नये नवेले सेक्सी लौंडों के दीदार हो जाते और दिल करता कि यहीं पर इनकी जवानी का जाम पी लूँ और इस खूबसूरत जिस्म से लिपट जाऊँ… लेकिन क्या करें, ऐसे सड़क पर चलते किसी के साथ ऐसा तो नहीं कर सकते. आज सुहागसेज पर उसने मेरा साथ देने का मन तो बना लिया था लेकिन वो मेरे लंड के बड़े साइज के कारण थोड़ी डरी हुई थी.

अगली सुबह हम फिर सुबह छत पर मिले, तो मैंने उनसे पूछा कि बेटा कैसा है आपका?वो बोलीं- ठीक है, सोया हुआ है अभी. वो नहा कर आईं और इठला कर बोलीं- अब खुश!मैं भी नहाया और हम दोनों एक ही बेड पर सो गए.

वो हमेशा की तरह मेरे मम्मों को टच कर रहा था, पर लाइट्स ऑफ होने की वजह से किसी और को ये दिख नहीं रहा था. मैंने उनकी चुत पर लंड रख कर एक झटके में अपना पूरा लंड उनकी चुत में घुसा दिया. फिर मैंने उसे कुतिया की तरह खड़ा दिया और अपने लंड पर तेल लगाकर उस लड़की की देसी चूत में लंड पेल दिया.

फ़िर सेजल भाभी ने मुझे कंधों से पकड़ के बैठा कर दिया और अपनी टांगों को मेरी कमर पे लपेट कर धीरे धीरे धक्के लगाने लगीं.

वो बोली- तुम भी अपना शर्ट उतारो ना… नंगे जिस्म से चिपकाने में मजा आयेगा. कुछ देर बाद मिंकी ने अपने दोनों हाथ मेरी बगल से निकलते हुए मेरी पीठ पर कस लिये और मुझे जोर जोर से मेरे चेहरे पर चूमने लगी. अब आगे:इधर थोड़ी देर रेशमा की चूत चाटते हुए उसकी गांड में उंगली डाल रहा था।इस समय हम सभी में मस्ती छाती जा रही थी; सभी के मुंह से उम्म्ह… अहह… हय… याह… की आवाज आ रही थी जो कि उस कमरे के वातावरण को वासनामय बना रही थी। बीच बीच में मैं अपने लंड को मसल भी रहा था.

उनके घर में 3 लोग ही थे, उनके पति का दूसरी सिटी में तबादला हो गया था, वो सरकारी जॉब में थे. मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रख दिया और धीरे धीरे उसकी चूत में पेलने लगा.

अचानक मेरी आँख खुली तो मैंने देखा कि सामने वाली वंदना मुझे घूर रही है. आप कहानी पढ़ कर अपनी प्रतिक्रिया मुझे मेरे ई-मेल[emailprotected]अवश्य दें. कभी मैं भाभी के मम्मों को दबाता, कभी भाभी की चूत में उंगली करता, कभी उनकी चूत को चूमता.

सेक्सी सेक्सी पिक्चर डाउनलोड

मैंने कहा- आप उसे किस तरह से जानते हैं?तो वो बोला- मैं उसी की शिकायत को लेकर यहां पर छानबीन करने के लिए आया हूँ.

ऊपर नीचे दो हाई क्वालिटी मटेरियल से बनी बर्थ थीं, नीचे वाली बर्थ सोफे में भी कन्वर्ट हो जाती थी; कोच में बड़ी सी खिड़की, पर्दे और बड़ा सा शीशा लगा था, साथ में ऐ सी का टेम्प्रेचर अपने हिसाब से कंट्रोल करने के लिए स्विच थे, फर्श पर बढ़िया मेट्रेस बिछी थी. मैंने अपनी चुदाई की जो कहानियां कुंवारी उम्र में सोची थीं, आज वो आस इस लोहे के लंड से पूरी होने वाली थी. परीक्षित ने मुझे बिस्तर पर लेटाकर अपने लंड को निकाल कर मेरे मुँह में डाल दिया.

हम दोनों यूं ही देर तक चूमा चाटी करते रहे; मैं उसके मम्में नाइटी के ऊपर से ही दबाता रहा और वो मेरी पीठ को सहलाती रही. मैंने उसके लंड की गोटियों पर भी हाथ फिराना और सहलाना चालू कर दिया, जिससे उसकी गरम आवाजें निकलने लगीं. सेक्सी बाबाजीजिस भी लड़के को या मर्द को वो देखती थीं, सबसे पहले वो उसके लंड के बारे में सोचती थीं और अगर मौका मिल जाता तो वो उससे जरूर ही चुदवा लेती थीं.

तो थोड़ा आराम कर लेता हूँ।सास बोली- हाँ बेटा, तुम आराम करो।मधु बोली- चलो. आज वो दिन आ गया है, जब तुम्हारा और मेरा मिलन होगा और आज मैं तुम्हें जमकर अपने आप में समा लूँगी.

फिर मैंने पास वाले मेडीकल स्टोर से एक गर्भनिरोधक और दर्दनिरोधक गोली लाकर दी. जैसे ही मेरा कोई हाथ उसकी पीठ सहलाते सहलाते उसकी दायीं या बायीं बगल की ओर बढ़ता तो प्रिया उत्तेजनावश मुझे अपने आलिंगन में और जोर से कस कर मेरे मुंह पर यहाँ-वहाँ चुम्बनों की बारिश कर देती. वो मुझे दूध पिलाते हुए बड़बड़ाने लगी- आह मेरी जान, साले पी जा, मेरी चूचियों को खा जा कमीने… कितने दिनों से मन होता था कि तुझे अपना दूध पिला दूँ… आह निचोड़ ले साले… मजा आ रहा है…मैंने भी उसकी एक चूची को अपने मुँह में पूरा भर लिया और दूसरी चूची को अपने हाथ से मसलते हुए उसकी जवानी के रस का मजा लेने लगा.

वो लंड के सुपारे को मां की चूत पर रगड़ने लगा और चूत पर सीधे अपने मुँह से थूक कर लंड से थूक को फैला दिया और धीरे धीरे उसने अपना लंड मां की चुद में घुसा दिया. अचानक ही प्रिया जैसे होश में आयी और मेरी सख्त पकड़ से खुद को छुड़ा कर प्रिया ने मुझे ठीक अपने ऊपर, अपने आगोश में ले लिया और मेरे सर के बालों में अपनी उंगलियाँ फेरने लगी. तभी अचानक उन्होंने मेरी बोतल में हल्का सा हाथ मारा और कहने लगे- जब मैं पढ़ा रहा होऊं तो कोई बीच में किसी तरह से डिस्टर्बेंस ना करे.

लड़की- मुझे अरेरा कॉलोनी जाना है क्या आप बताएँगे यहाँ से कैसे जा सकते हैं?मैं- आप यहाँ से ओला कॅब या ऑटो रिक्शा से जा सकती हैं.

मैंने झट से खींच कर पेंटी उतार दी और अपनी जीभ आंटी की बुर पे रख कर चाटने लगा. मैं वहां से उठकर जाने लगा, तभी उसकी माँ ने महक से कहा कि यदि तुझे पढ़ना है तो तू समीर के घर पर चली जा.

अन्तर्वासना पर हिंदी सेक्स स्टोरीज पढ़ने वाले मेरे प्यारे दोस्तो, मेरा नाम एडी है, मैं 23 साल का हूँ. मॉम थोड़ी सी सांवली हैं लेकिन उनके नैन नक्श ऐसे हैं कि सांवले रंग के उनके मांसल जिस्म पर नजर पड़ते ही किसी का भी लंड खड़ा हो जाए. मेरी नंगी, चिकनी चूचियां देख देखकर कानूनगो साहब अपनी आंखें सेंकने लगे.

रीमा- महक तो अच्छी आ रही है, कोई परफ्यूम लगा रखी है क्या?मैं- नहीं, साबुन और पसीने की मिलावट होगी. ”प्रिया ने मुदित आँखों से मुझे देखा, मुस्कुरायी और फिर प्यार से मेरे होंठों को चूम लिया. बात करते करते मैंने उससे कहा कि मुझे तुमको जोर से किस करने को मन कर रहा है.

गर्ल की बीएफ उसकी तीन बहनें थीं, एक‌ दिन अचानक मैं उसके घर गया और मैंने उसे आवाज लगाई तो उसकी बड़ी बहन निकली. रेंट बहुत कम था क्योंकि वो डैड के फ्रेंड का ही फ्लैट था, सो हमें ज़्यादा रेंट नहीं देना था.

सेक्सी गांड में चुदाई

बाहर क्यों जा रहे हो?मेरे फ्रेंड के मुँह से आवाज़ नहीं निकल रही थी, वो मेरी वाइफ को देखता ही रहा, उसी के सामने मेरी बीवी ने कपड़े चेंज कर लिए. फिर मैंने आंटी को अपनी ओर खींचते हुए कहा- आंटी, दो साल से आपसे प्यार पाने की राह देख रहा हूँ. उसने फिर से मेरी कमर को पकड़ कर पूरा लंड निकाला और फिर झटके से पूरा लंड अन्दर तक पेल दिया.

मुझे अब समझ आने लगा था कि नीला ने मुझसे नदी पर चल कर नहाने के लिए क्यों कहा था. उस बहन की चुदाई कहानी में मैंने आपको बताया था कि मैं अपनी दोनों बहनों को चोदता हूँ. 7 मार्च सेक्सी वीडियोजिनेन्द्र ने बताया कि उसके कुछ फ्रेंड्स भी यहीं रहते हैं, तुम्हें मस्ती करनी है तो उन्हें आज बुला लेते हैं.

जो लड़कियां इस कहानी को पढ़ रही हैं, वे सही समझीं क्योंकि मेरा लंड बहुत लंबा और मोटा है.

वो हंस कर बोलीं- तुझे अच्छे लगते है मेरे ये सब आइटम?मैंने कहा- बहुत ज़्यादा. थोड़ी देर बाद उनको भी इस जंगली सेक्स में मज़ा आने लगा और वो मेरे लंड का स्वागत चूतड़ उठा कर करने लगीं.

मेरे शरीर का आकार कुछ इस तरह है मेरी गांड 32″ कमर 28″ सीना 36″ रंग गेहुंआ आंखों का रंग भूरा और बाल सामान्य भूरे रंग के हैं. हम लोग कार से निकले और कार में रोमांटिक गाना लगा कर मस्ती से कार चलाने लगा. आप लोगों के‌ बहुत से मेल आए, दिल‌ को अच्छा लगा, कि मेरे चाहने वाले भी बहुत लोग हैं.

मगर आप 8 बजे मेरे ऑफिस में आ पाओगी?मैंने कहा- ज़रूरत मेरी है… अगर आप ऑफिस में तो क्या जहाँ भी बुलायेंगे, मैं पक्का आऊंगी.

बुआ और जोर से हंस पड़ीं और बोलीं- तेरा पहली बार है इसलिए आधी बातें जानता है. वो भी अपनी गांड उठा कर मेरा पूरा साथ दे रही थीं और अपनी कमर उठा उठाकर मेरे लंड को अपने अन्दर तक ले रही थीं. फिर मैं 2 दिन बाद सुबह के समय उसके स्कूल के पास पहुँच गया, पर वो तब तक नहीं आई थी.

16 साल की लड़कियों की सेक्सी चुदाईमैंने एकदम से कहा- विक्की यदि तुम लोग गाली भी दो तो सिर्फ इंग्लिश के शब्द उपयोग करो. मेरे मेरी माँ के साथ सेक्स सम्बन्ध कैसे बन गए, यह मैं आपको बता रहा हूँ मां की चुदाई की इस कहानी में!मैं वरुण हूँ, यह मेरा रियल नाम है.

हिंदी सेक्सी पहली पहला

पर जैसे ही ये सोचा कि मुझे बाहर जाना है, ये सोच कर मेरी हालत खराब हो गई. मैंने जल्दी से वहीं पानी पिया और उसको अपनी गोदी में उठा के बेडरूम में लाकर बिस्तर पर पटक दिया. मैंने अर्जुन के बाजू पर अपना सिर रखा और एक हाथ अर्जुन के कमर पर! अब मुझसे और बर्दाश्त नहीं हो रहा था तो मैंने धीरे धीरे अर्जुन की टी शर्ट में अपना हाथ डालना शुरू किया और सेक्सी बॉडी को छूकर मेरे अंदर करेंट दौड़ गया जिससे मेरे लंड ने फुंकारें मारना शुरू कर दिया.

जब मैं इंजीनियरिंग के पहले वर्ष में गया तो मेरे पापा ने आँगन में मेरे लिए पढ़ाई के लिए रूम बनवा दिया, जिसमें मैं रात भर पढ़ाई करता था. तेरा जो दिल करे, कर ले मेरे साथ, मैं तुझे किसी बात से नहीं रोकूंगी… चोद ले अपनी बहन की चूत दिल भर कर!मैं अपने कपड़े उतारने लगा. आज तक किसी भी लड़की या भाभी ने ऐसे मेरा लंड नहीं चूसा था, जैसा मीषा ने आज लिया था.

एक दिन वो फोन किसी से चुदाई करवाते हुए गलती से उसी ग्राहक के पास ही रह गया. जैसे ही वो उठीं, तो उनसे चला ही नहीं गया औऱ लड़खड़ा गईं, उन्होंने एकदम से मुझे पकड़ लिया. उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपने ऊपर खींच लिया और अपने हाथ मेरे अंडरवियर में घुसा कर मेरे लंड को हिलाने लगी.

”हह… कितने दिन बाद लंड चूसने को मिला है… बहुत टेस्टी लंड है… आआह… स्स्स्स…”आह… क्या मस्त चूस रही हो… आह धीरे धीरे प्यार से लंड चूसो मेरी जान…”आआह… मैं तो खा जाउंगी स्सस्स…”चूस लो… आह…”तुमने तो मेरी पूरी चूत को पानी पानी कर दिया है… अब जल्दी से अन्दर डालो मुझसे रहा नहीं जा रहा है. अब मुझे यकीन हो गया था कि लड़की पट चुकी है, बस मौका मिला तो काम बन ही जाएगा.

फिर उसने अपने दोनों हाथों से मेरे चूतड़ के पट खोले और मेरी गांड का छेद देखने लगा.

आपका मैं क्या इलाज करूँगा?तो वो कहती हैं- मुझे तो तुम्हारी दवाई पीनी है. हिंदी सेक्सी हैमेरी एक बहन स्वाति की चुदाई की कहानीअपनी चालू बहन को चोदाआप पहले ही पढ़ चुके हैं. सोने वाली सेक्सी पिक्चरमैंने उनको पीछे से पकड़ लिया और उनको उठाने लगा, पीछे से मेरा लंड टाइट हो गया था, पैन्ट से बाहर निकलने को कर रहा था और बुआ को गांड में रगड़ रहा था. उसके साथ साथ मैं उनके निप्पल अपनी चुटकी में लेकर बेरहमी से मसल रहा था.

बिंदु ने मुझे आंख मार कर कुछ इशारा किया तो मैंने कहा- ओके, मैं तुमको नौकरी पर रख लूँगी, क्योंकि यह मेरे मम्मों का दीवाना है.

और फिर मैं मैं उसको अपने साथ बाथरूम में नहाने के लिए ले गया, वहाँ जाते ही मैंने हम दोनों के कपड़े उतार दिए. वो जैसे ही मुझसे अलग हुई उसने कहा- होंठों पर किस के मामले में तो तुम इमरान हाश्मी के भी बाप हो. सर ने मुझसे पूछा- तुम्हें कितनी सेलरी मिलती है?मैंने कहा- सर 25000 मिलती है.

वो मुस्कुरा कर बोली- ऐसे क्या देख रहे हो?मैं बोला- तुम बहुत सेक्सी लग रही हो. उसकी इस हरकत से न जाने क्यों मुझे नीला का स्पर्श अच्छा लगने लगा था. वो पतले पतले गुलाब की पंखुड़ियों जैसे होंठ, वो उठे हुए गोल गोल मम्मे, चिकनी सी कमर.

सेक्सी ब्लू फिल्म चुदाई चुदाई

मैंने उससे कहा कि तुम्हारी बहन मायके जा रही है और मैं 2 दिन बाद तुमसे मिलने आऊंगा, जहाँ तुम नौकरी करती हो. लेकिन उद्घाटन अजय और पवन को ही करना था, उन दोनों ने अपनी पैंट उतार दी. जैसे ही मैंने ये जाना कि अब मुझे चूमना छोड़ देना चाहिए और बाकी चीजों पर ध्यान देना चाहिए, तो मैंने उसके होंठों से धीरे धीरे चूमते हुए कान की ओर अपना रुख मोड़ लिया.

मैं आपको दे दूँगी।मैं बोला- वो तो ठीक है परन्तु तुम मिलोगी कहाँ?वो बोली- मैं घर से बाहर तो आ नहीं सकती। इसलिए आपको मेरे घर ही आना होगा। कैसे.

मैं इस देसी हिंदी कहानी की सबसे बड़ी साईट अन्तर्वासना पर रोज मजेदार कहानियां पढ़ता हूँ और मुठ मारता हूँ.

फिर मैंने आंटी के गले पर किस करना चालू किया और जोर जोर से उनके मम्मे दबाने लगा. कुछ समय के बाद अचानक बारिश होने लगी जिससे बचने के लिये वह अपनी जगह से उठा और जाने लगा. डॉक्टर और लड़की का सेक्सी वीडियोलिंग का सिरा आगे से फूला हुआ था थोड़ा बहुत खून भी लगा था तो चाची बोलीं- टांका टूटा है… चल इसे धोकर आ! और ये पेनकिलर लेकर थोड़ी देर सो ले!तो मैं सो गया, उन्होंने उंगली से अपना पानी निकाला।रात को डिनर के बाद उनके बच्चों को दूसरे कमरे में सुला कर हमने दोबारा कोशिश की लेकिन इस बार सब कुछ शानदार तरीके से आराम के साथ बिना कोई तकलीफ हो गया.

मैंने उससे अलग हो कर अपने कपड़े भी उतार दिए थे और मैं सिर्फ़ अंडरवियर में आ गया था. अगले ही पल मैंने अपनी पैंट को घुटने तक सरका दिया और मैं नंगा हो गया. शायद उनका इस तरह से पहली बार था पर साला मेरे मुँह से भी आवाज़ निकल गई, दर्द मुझे भी हुआ.

उसका जलता हुआ जिस्म मुझे धीरे धीरे एक दुनिया से दूसरी दुनिया में ले जा रहा था. मकान मालिक बोले- सुन, मुझे राजेश वर्मा कहते हैं, बहुत फेमस हूं, उड़ती चिड़िया के पंख पहचान लेता हूं.

पहले मैंने अपनी जीभ से उसके होंठ को चाटा, फिर उसके नीचे के होंठ को अपने दोनों होंठों के बीच दबा कर चूसने लगा.

जब वो कॉफी लेकर आई तो एक मस्त सेक्सी नाइटी में थी, मैं तो देखता ही रह गया. बिंदु ने मुझे आंख मार कर कुछ इशारा किया तो मैंने कहा- ओके, मैं तुमको नौकरी पर रख लूँगी, क्योंकि यह मेरे मम्मों का दीवाना है. मेरी साँसें बहुत तेज़ चल रही थीं और पीछे से वो अपना मुँह मेरे कान के पास लाया.

सेक्सी फिल्म लड़की सेक्सी मेरी चुत इस पोजीशन में और भी ज़्यादा खिल रही थी और मुझे बहुत मजा आ रहा था. जो उसके चलने से मटक से रहे थे। मेरा दिल कर रहा था कि पकड़कर मसल दूँ। ये सोचते सोचते मेरा लण्ड फिर खड़ा हो गया।वो पहली मन्जिल पर एक कमरे के सामने रुकी और बोली- ये है आपका रूम.

फिर वो मेरे पास ही आ कर बैठ गई अचानक वो मेरे बहुत नज़दीक आ गई, हमारी कार में बहुत बातें हुई थीं, पर कोई भी सेक्स या ऐसी बात नहीं हुईं, सारी बातें एक दोस्त जैसी ही हुईं. उसने पूरा गिलास सोडा मिला कर मेरे आगे रख दिया और बोला- आप किस फटीचर कम्पनी में नौकरी कर रही हैं. विक्की तुम पिंकी की जूस को तुम्हारे गिलास में भरना और गोलू तुम रोशनी दीदी के रस को भरना ओके.

देसी देवर भाभी का सेक्सी वीडियो

तो मैंने उसका हाथ मेरे हाथ में लिया और बोला- यार, होता है कभी कभी हम धोखा खा जाते हैं. रात होते ही मैं अपनी वाइफ से बोला कि मेरा एक दोस्त आ रहा है, उसका लंड बहुत लम्बा और मोटा है, मैंने उससे बात की है. लास्ट वाली शर्त इसलिए कही कि कहीं ऐसा न हो, मैं दोनों तरफ से मारी जाऊं.

उसमें से बहुत अच्छी खुशबू आ रही थी और आज उसने वाइट कलर का टॉप और ब्लू जीन्स पहनी थी. और फिर ऐसे ही एक दिन मुझे मेरे एक बहुत ही खास दोस्त ने अपने घर पर उसका कंप्यूटर ठीक करने के लिए बुलाया, वह उसके घर पर अकेला ही था, उसकी पत्नी उसकी माँ के यहाँ गई हुई थी और उसकी मम्मी भी अपने भाई के घर पर गई हुई थी.

ऐसे धीरे धीरे मेरा आना जाना उनके घर में काफी बढ़ गया था हमारे फोन नंबर भी एक्सचेंज हो गए थे.

इसी के साथ ही साथ मैं उसकी सलवार के ऊपर से उसकी चुत पर हाथ फेरने लगा. आपका लव[emailprotected]कहानी का दूसरा भाग:सरकारी अस्पताल में मिला देसी लंड-2. बिंदु बोली- मैं तुम्हारे कहने से इसे छोड़ रही हूँ वरना अभी पुलिस बुला कर इस को अन्दर करवा देती.

कुछ देर बाद सैम आ गया मैं और वो नाइट क्लब गए, वहां सभी बियर पी रहे थे और डांस कर रहे थे. उसने भी मुझे मना नहीं किया तो मैंने उसे खींच कर अपने सीने से लगा लिया. जो सुख मुझे मेरी सगी बीवी, मेरे बेटे की माँ नहीं दे सकी थी वो सुख उसकी बीवी, मेरी पुत्रवधू… कुलवधू मुझे दे रही थी.

पल-भर के लिए मैं स्तब्ध रह गया- यह… यह क्या कर रही हो… प्रिया?कहते हुए मैंने प्रिया को दोनों कांधों से पकड़ कर उठाया।देखा तो काली कजरारी आँखों में आंसू बस गिरने की कगार तक भरे थे.

गर्ल की बीएफ: बताओ कहाँ निकालूँ?भाभी बोलीं- अमित सारा पानी मेरी चूत में ही आने दे. कोई लेखक हमारे क्षेत्र का नहीं मिला और हर किसी पर विश्वास भी नहीं होता। एक दिन ऐसे ही कहानियाँ पढ़ रही थी.

किसी भी सवाल को पूछने के लिए सर बार-बार मुझे ही खड़ा कर रहे थे और मैं शर्म की वजह से किसी भी सवाल का उत्तर नहीं दे पा रही थी. मैंने फोन से खाना ऑर्डर किया और अपनी मल्लिका को गोद में उठा कर बाथरूम में ले गया. मुझे देखने में तो बहुत मज़ा आया मगर मैंने कहा कि ऐसे थोड़ी ना हर किसी के आगे नंगी होकर उसका लिया जाता है.

चूंकि मैं निगाह रखे हुए था तो मैं तुरंत जान गया कि चिड़िया फंदे में फंस गई.

काम्या का सेक्सी शो चालू था, वो एक एक करके बड़े कामुक अंदाज़ में अपने कपड़े उतारती जा रही थी. मैंने चिंटू को लेटने को कहा और मैं उसके लंड के ऊपर झुक गया, लंड को एक हाथ से पकड़ कर उस पर अपने होंठ रख दिए. उसी समय मेरे पति को सर्दी और बुखार हो गया, इस वजह से उन्होंने और मैंने सेक्स से थोड़ा दूरी बना ली.