हरियाणवी बीएफ सेक्सी वीडियो

छवि स्रोत,हिंदी वीडियो चुदाई

तस्वीर का शीर्षक ,

चाची की चोदाई: हरियाणवी बीएफ सेक्सी वीडियो, मैंने सीमा के कूल्हों पर पर अपनी जीभ फिराई। सीमा के शरीर के गुदगुदी जब चरम पर पहुंच गई तब उसने अपने आप को सीधा किया और मेरे मुंह को पकड़ कर अपने स्तनों पर लगा दिया.

मराठी आंटी का सेक्सी वीडियो

उन्होंने अपनी टांग को सीधा करते हुए साड़ी उठा दी और कहा- शायद जाँघों पर है. सेक्सी वीडियो चोदा चोदी दिखाइएअब आगे:मैंने ध्यान से देखा कि उसकी चुत पैरों में दबी होने के कारण बहुत हल्की सी दिख रही थी, लेकिन उसके चूचों को मैं बिल्कुल साफ़ देख सकता था.

स्नेहा की आँखें बंद थीं, होंठ खुले हुए थे और चेहरे पर संतुष्टि के भाव थे. ब्लू फिल्म हिंदी में एचडीमेरी सांसें बहुत गरम होकर तेज़ी से चल रही थीं और सर अन्दर डालने के वजह से उनकी चुत की महक मुझे और कामोत्तेज़ित कर रही थी.

मैंने उसकी गर्दन को कान को चूमना शुरू कर दिया और उसके दोनों चूचों को हाथ में लेकर दबा दबाने लगा.हरियाणवी बीएफ सेक्सी वीडियो: उस वक्त मुझे मेरे कॉलेज वाले दिन याद आने लगते हैं कि कैसे मैं अपने बॉयफ्रेंड से होटल में जाकर चुदवाती थी.

और मेरी गर्दन को चूमने लगा उसकी गर्म साँसें मुझे पागल बनाने लगी थीं.मामी के बांहों का घेरा, उनका स्नेहिल स्पर्श, उनके शरीर की गर्मी, उनकी भीनी-भीनी मादक सी महक और उनकी सांसों का थकान से लेना और मेरे चेहरे पर छोड़ना.

एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स सेक्सी - हरियाणवी बीएफ सेक्सी वीडियो

मेरे तो मन की कामना यही है कि जितना जल्दी हो सके एक साथ दो दो लिंग मुझे चोदें।रीना ने कहा- जी, सीमा सही कह रही है!श्लोक- जीजाजी, आज का दिन तो सामूहिक चुदाई का दिन ही रखा जाएगा। सब इसी के लिए लालायित हैं।तब मैंने कहा- तुम में से एक औरत को थोड़ी देर के लिए हमारे लिंग से वंचित रहना पड़ेगा.मैं रोज़ वॉशरूम में जाकर मौसी की ब्रा और पैंटी को सूँघता, मुझे इसमें बहुत मजा आता था.

बस मैंने फांकों में सुपारा फंसाया और उसके ऊपर झुकते हुए उसके होंठों को अपने होंठों में दबा लिया. हरियाणवी बीएफ सेक्सी वीडियो ” मैंने एक हाथ से उसकी चूची को सहलाते हुए कहा और साथ ही फिर से एक धक्का और लगाकर अपना पूरा लंड उसकी चुत में घुसा दिया जिससे प्रिया फिर से तिलमिला उठी- आआईईई … मम्मीईईई … ईईई!अब उसकी आंखों से टप टप आंसू बहने लगे.

मेरे सर की निगाहें हमेशा मेरे ऊपर रहती थीं, वो कैसे भी मेरी गांड पाना चाहते थे.

हरियाणवी बीएफ सेक्सी वीडियो?

मैं एक हाथ जांघों के बीच योनि में ही रखे बदन को सिकोड़े कब सो गई, मुझे पता ही नहीं चला. तो उसने मिसाईल मतलब मेरे लौड़े का निशाना अपने मम्मों की तरफ कर दिया. अरे कम्मो बेटा, तेरी इज्जत की परवाह मुझे अपनी जान से भी ज्यादा प्यारी है, तू बिल्कुल भी फिकर न कर.

मैं मन में ‘मिलने का मन कर रहा था या चुदवाने का मन कर रहा था’- ओके. उन दोनों के देखकर मैं चौंक गयी और दोनों को गले से लगा लिया, क्योंकि मैं उन दोनों से बहुत ज्यादा प्यार करती थी।फिर हम तीनों पूरा दिन मार्किट में घूमे, मूवी देखी, बाहर ही लंच डिनर सब कुछ बाहर ही किया. मेरी बात सुनकर कर उन्होंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और थोड़े ही देर बाद मैं भी झड़ गया.

जैसे ही उनके साथ मैं रूम में गई, वो भी अन्दर आ गए और उन्होंने दरवाजा लॉक कर दिया. यह बात आज से करीब 2 साल पहले की है, उस वक्त मैं पढ़ाई के लिए अपने मामा के घर दिल्ली आया था. उन्होंने कहा था कि मुझे नहीं पता कि मैं खुद को कभी माफ़ कर पाऊंगा या नहीं.

तभी मैंने दूसरे हाथ से उनका लंड पकड़ लिया था जो कि पज़ामे के ऊपर से बहुत बड़ा लग रहा था. अब मैं नारी के नग्न सौन्दर्य का आनन्द लेते हुए उसकी मदमस्त जवानी के रस को भोगने में लग गया था.

पर बार बार माइक और मुनीर द्वारा पूछने पर अब मेरे दिल में हलचल सी होने लगी.

उनका नाम नीरज है और दूसरे का नाम परम भाईसाब है, उनकी उम्र 30 साल है.

वो लंड को चूसने के लिए मना कर रही थी पर मेरे कहने पर उसने मुँह में लंड ले लिया और कुल्फी की तरह लंड चूसने लगी. हम दोनों बस सब कुछ प्यार प्यार और बस प्यार के मजे में खो से गए थे, जब मैं सुबह उठा तो वो नंगी मेरे ऊपर हाथ रखकर सो रही थी. आपको मेरी दो जिस्मों के मिल्न की ये कहानी पसंद आई या नहीं? मुझे ईमेल कर सकते हो.

करीब 10 मिनट की धक्कमपेल चुदाई के बाद जूही झड़ गयी लेकिन मेरा चरमोत्कर्ष बाकी था।मैं उसे ड्राइंग रूम में लाया, उसे सोफे ले लिटाया और उसके पैर सोफे के पैर के ऊपर रख दिया, उंगली से उसकी भगनासा को रगड़ने लगा. उसने आज्ञाकारी बच्चे की तरह एक मिनट के लिए लंड मुँह में ले लिया और फिर निकाल कर मुझे नीचे की तरफ धक्का दे दिया. चूंकि हम खड़े थे, उसके ठीक सामने लगभग चार पांच कदम की दूरी पर गन्ने का खेत था, जो पानी से भरा हुआ था.

उसने जाते समय मुझसे अलग से घर बुला कर चुदाई की बात तय कर ली थी, मैं भी राजी था.

देखो अंकल जी ये हरा वाला गोला जिसमें फोन का निशान है यही है न भाटइसएप?” वो खुश होकर बोली. मेरे घर वाले को पता चल गया तो मेरी हालत खराब कर देगा।मैं समझ गया कि स्मिता आंटी चुदवा सकती है पर इसको थोड़ा मनाना पड़ेगा।शबाना आंटी ने बताया कि ये स्मिता आंटी उसी लड़की शालिनी की चाची हैं. और मैं किस मुंह से बहू से कहूंगा कि मुझे उसकी भतीजी कम्मो की चूत मारनी है तू जगह का इंतजाम कर दे? नहीं … मैं ऐसी ओछी और घटिया बात अपने मुंह से कभी नहीं निकाल सकता; अगर कह भी दिया तो एक तो बहू कभी मानने वाली नहीं है दूसरे मैं उसकी नज़रों से और हमेशा के लिए गिर जाऊंगा और जो उसकी चूत का सहारा अभी है वो भी छिन जाएगा मुझसे.

हाथ पे लगे तो सिग्नेचर… और दिल पे लगे तो नेचर तो, क्या इंसान भी बदल जाता है. जब मैंने पानी पी लिया तो मैडम ने कहा- आफिस में कब से हो? मुझे कभी दिखे नहीं?मैंने कहा- जी मैं दो साल से कंपनी में हूँ … टेक्नीकल पर्सन हूँ. मैंने प्रिया को अपने गले से लगा रखा था और उसके बदन के साथ ठिठोली भी कर रहा था.

उस रात हमने तीन बार चुदाई की और सुबह जब पूजा चाय लेकर आई तो मुझे किस करके उठाया और बोली- मेरे पतिदेव, अब तो खड़े हो जाओ, कोई आ जाएगा.

फिर उसने कान में बोला कि गाजियाबाद में मेरे रूम पर चलना तो खूब मज़ा दूँगा. बस जल्दी से आ जा और मेरे अन्दर पेल दे तू अपना, अब मुझसे और इंतजार नहीं होता.

हरियाणवी बीएफ सेक्सी वीडियो हम दोनों अब चुदाई करना चाहते थे, लेकिन चुदाई करने का मौका नहीं मिल रहा था. मैंने उससे पूछा- तुम्हारे घर वाले मानेंगे?वो बोला- हां मान जायेंगे मगर आपको उनके पास जाना पड़ेगा.

हरियाणवी बीएफ सेक्सी वीडियो दोस्तो, मैं आपको बता दूँ कि मैं तब तक वर्जिन था और अपनी मौसी के साथ पहला सेक्स के लिए पगला रहा था. उसने बड़े मजे से मेरे लंड के रस को निगल लिया और फिर से चूसना चालू रखा.

उसने पैंटी नहीं पहनी हुई थी तो उसके अंतःअंगों का सीधा स्पर्श उसके पापा के होंठों और नाक से हो गया.

मारवाड़ी बीपी पिक्चर

तो मैं बोला- अरे आप अंकिता दी और प्रिया दी हो?तो बोली- हाँ…अब मुझे थोड़ा रिलॅक्स फील हुआ. मैं एक मंजे हुए खिलाड़ी की तरह उसके अधरों के रस को कोमलता से चूस रहा था. थोड़ी ही देर में उसने अपना दूसरा हाथ, जो बेटी की गांड के छेद में व्यस्त था, को वहां से आजाद कर उसको मयूरी की चूचियों पर लगा दिया, इस तरह से अशोक अब पूरी तरह अपना ध्यान उन विशाल और बहुत ही आकर्षक गोरी चूचियों को चूसने और मसलने में व्यस्त हो गया.

ऐसा कहते हुए बड़े ही कामुक अंदाज़ में अपना हाथ अपनी पैंटी में डालकर अपने चूत को छेड़ने लगी. चार ताकतवर लोगों से गांड मरवाने के बाद क्या होता है यह तो वही समझ सकता है जिसने मरवाई हो. जैसे ही वो स्खलित हुईं, मैंने अपना लंड तैयार किया और उनकी रस छोड़ती हुई योनि में लगभग तीन इंच तक घुसा दिया, जिससे वो एकदम फड़फड़ा उठीं, वो कराहते हुए बोलीं- अबे भोसड़ी के,मादरचोद.

शायद नींद में वो मुझे अपना पति राज समझ रही थीं, जो कि मुझे बाद में पता चला.

[emailprotected]कहानी का अगला भाग:गर्लफ्रेंड के साथ मेरा पहला सेक्स-3. पायल मुझे ड्रिंक कंटीन्यू करने के लिए बोली और कहा- मैं कुछ बना के दे दूँ क्या?मैंने ना बोल के उसके लिए टीवी शुरू कर दिया और दोस्तों के साथ चालू हो गया. मैंने उस झाड़ के कुछ पत्ते तोड़े और उनका रस निकाल कर दिया, जिसे भाभी अपने हाथों से कमर पर मालिश करने लगीं.

मैंने छेद से देखा कि मनीषा उसी ब्लैक पेंटी पे लगा मेरा माल चाट रही थी. वो अपने पति से वो सब पाना चाहती थीं, लेकिन पति के द्वारा समय न दे पाने के कारण वो हमेशा ही प्यासी बनी रहती थीं. स्नेहा- अकेले में? तो फिर फोन से भी तो हो सकती थी ना?मैं- जो मजा मिलके बात करने में आता है … वो मजा फोन में कहां?स्नेहा- बातें बनाना तो कोई तुमसे सीखे … चलो अब आ ही गए हैं तो बताइए जनाब अकेले में क्या गुफ्तगूं करनी है आपको?मैं उससे पीछे से जाकर चिपक गया.

बस अपने बदन से बदन को ऐसे लिपटाए, चिपकाए और चिपटे रहे कि बीच में हवा के लिए भी जगह नहीं थी. गांव की मेहनतकश लड़कियों के जिस्म में मजबूती और मांसपेशियों का सौन्दर्य अलग ही छलकता है.

उस पर ऑनलाईन वीडियो चल रहा था जिसमें एक लड़का एक लड़की को बड़े प्यार से चोद रहा था।मैंने प्रीति से कहा- प्रीति, तुम जो करती हैं वो ग़लत नहीं है क्योंकि इस उम्र में अक्सर हॉस्टल की जवान होती लड़कियां ऐसा करती हैं और आपको यह अकेले करने की कोई जरूरत नहीं है।तब वो बोली- क्या मतलब?फिर मैंने कहा- जब तुम यह सब कर रही थी तो मैं भी लेटे लेटे अपनी चूत में उंगली कर रही थी. अगर ऐसा नहीं होता तो वो अब तक मयूरी को जोर से डाँट चुके होते उसकी ऐसी हरकतों के लिए. यह तो वही जाने लेकिन नितम्ब से नीचे उसकी गोल पुष्ट टांगे जांघों से ही नंगी थीं और ऊपर कंधे, बांहों के साथ सीना भी इस हद तक तो खुला था कि उसकी क्लीवेज दिख रही थी।चलो शुरू करो.

कुछ देर तक प्रिया वैसे ही पड़ी रही और फिर धीरे से उसने करवट बदल कर अपना मुँह मेरी तरफ कर लिया.

मैं जब पीछे मुड़कर उसको देखती थी तो वो मुझे देख कर मुस्कुरा देता था. उनका ऐसा कमरतोड़ संभोग देख मेरा मुझे भी नहीं रहा गया और मैंने भी दो उंगलियों को अपनी योनि में घुसाया और जोर जोर से अन्दर बाहर करने लगी. मेरी बीवी ने हम दोनों से एक साथ चुदाने की इच्छा जाहिर की और हमने उसकी तमन्ना की कद्र करते हुए उसके बदन से खेलना शुरू कर दिया.

उसके बाद मैं अपने लंड को उनकी चूत पर रख कर सहलाने लगा, सिर्फ ऊपर से सहलाने लगा. फिर मैंने अपने लंड पे शहद लगाया और उसके चूत पे टिका दिया और लंड को ऊपर-नीचे उसकी चूत पे रगड़ने लगा.

धर्मशाला में अंधेरा ही था क्योंकि सारी बत्तियां मैंने जानबूझ कर बुझा दी थीं. पाठकों को यह बता देना मेरा फर्ज समझता हूँ कि मेरी सारी कहानियाँ काल्पनिक होती हैं. तो मैंने उसके होंठों पर किस करना शुरू कर दिया और हाथों से कमर को पकड़कर सहलाना शुरू कर दिया.

भाभी की गांड की चुदाई

सेल्सगर्ल भी मुझसे मजे लेते हुए हुए बोली- साइज बताइए सर?आप जितना पहनती हैं उतना ही दिखाइए?” मैंने कहा।मैं 32 नम्बर की ब्रा पहनती हूं!” सेल्स गर्ल ने बेबाकी से कहा।अबकी बार चौंकने की बारी मेरी थी.

मैं खुश थी बहुत कि आज मेरी लंड की भूख और मेरी चूत की प्यास खत्म होगी और मज़े करूँगी बहुत! फिर हम दोनों उसके दोस्त के रूम में मिलने गए, जो कॉलेज के ही पास में था. मैंने उससे कहा- तुम ज़रा भी ना घबराना, मैं तुम्हारे चाचा को वो सबक सिखाऊंगी कि पूरी जिंदगी भर याद रखेगा. शायद वो खुद मुझसे कुछ पूछना चाहती थी, इसलिए बोली- तुम अपनी सीट पर चलो.

अब तो मैं थोड़ी थोड़ी देर में नजरें चुराकर उसकी चूत को देखने का आनन्द ले रहा था. मगर उस दर्दनाक हादसे और उसके बाद जो तुमने किया वो मुझे बहुत हैरान कर देने वाला था. देसी जंगल में चुदाईबस ये सोच कर ही मैं भाभी पर टूट पड़ा और साइड से उनके मम्मों को दबाने लगा.

मैं बस यही सोचती कि काश कैसे भी आकर मुझे कोई अपनी बांहों में भर ले, और मेरे जिस्म को मसल दे … आज मेरी तमन्ना पूरी कर दे … मेरी प्यास बुझा दे, मेरे साथ जमकर सब वो करे जो मेरे गर्मी को शांत कर सके।परंतु ऐसा कोई नहीं मिला, कैसे मिलता जब तक कि कोई बातचीत ना हुई हो. तेरी दोनों बहन भी बहुत चुडक्कड़ हैं, जब लालजी को मैं दारू पिला देता हूं, तो लालजी नशे में मुझे सब बताता है.

सबसे सेक्सी थी अंग उसकी लगभग नंगी और मोटी मांसल टाँगें और उनके बीच जांघों में, निक्कर में फंसी और उभरी हुई उसकी चूत, जिसे देख कर मैं पागल और बेहाल हो गया था. चाची की एक चुची को मुँह भर रख कर चाचा जोर जोर से चूसने लगे और चूतड़ के मांस को मुठ्ठी भर पकड़ कर अंधाधुँध चोदने लगे. मगर सच में बहुत दर्द हुआ क्योंकि मेरा भी फर्स्ट टाइम था और उसके तो आंसू ही नहीं थम रहे थे.

‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ वो सीत्कारते हुए मुझे और ज़ोर से चुदाई करने को बोल रही थीं. फिर मैंने उसके होंठों को किस किया और वह भी मुझे पागलों की तरह किस करने लगी. साहिल ने मेरे बूब्स पकड़ लिए और अपना लंड जीन्स से बाहर निकाल लिया और उसे मेरे हाथ में पकड़ा दिया.

करवाचौथ वाले दिन तक मैंने न पूजा की तरफ देखा और ना ही कोई बात की।करवाचौथ वाली शाम को पूजा मेरे घर आई और मेरी मम्मी के बारे में पूछा तो मैंने भी गुस्से में बता दिया कि वो प्लाट में गयी हैं, आधे घंटे बाद आयेंगी.

वो बोली- दीदी आप कितनी अच्छी हैं, जो मेरे को बिना कहे ही उसके दिल की बात सुन लेती हैं. मैंने पहले उसके ऊपर का होंठ चूसना शुरू किया, फिर नीचे का होंठ अपने होंठों में दबा आकर हल्का सा चुभलाने लगा.

”इससे पहले की मैं कुछ बोलती, वो मुझसे बोली कि यार सच सच बताना कि तुमने वाकयी कभी कोई लंड नहीं लिया?मैंने कहा- लिया है. लेकिन मैंने अपने हाथों से अपनी चुचियों को ढकने की कोई कोशिश नहीं की. चूंकि उसने एकदम टाइट जीन्स पहन रखी थी, तो मैंने उसे खींच कर उतार दिया.

अध्याय – 0 – मन का बीजतो बात आज से करीब 6 साल पहले की है यानि की मयूरी की शादी के लगभग 5 साल पहले. उसकी गोरी जांघें बिल्कुल साफ नज़र आ रही थी जो देखने में एकदम चिकनी लग रही थी. और मैंने आपके लिए एक सुंदर सुशील लड़की भी देखी है, वो भी मैं आपको दिखा दूँगी.

हरियाणवी बीएफ सेक्सी वीडियो कुछ दिनों बाद मुझे एक केस दिया गया, जिसकी रिपोर्ट बना कर मुझे देनी थी. तारा ने कुछ देर और मेहनत की और फिर बड़े ही उग्र और मादक शब्दों में पीछे से सम्भोग करने को कहने लगी.

सेक्सी वीडियो देहाती सेक्स

मैं उसके गले में किस करने के साथ उसके मस्त गोल बूब्स को कपड़े के ऊपर से दबा रहा था. अभी भाभी कुछ समझ पातीं मैंने अपने लंड का सुपारा उनकी चूत की फांकों में फंसा दिया और रगड़ने लगा. अचानक मनीषा ने मुझसे पूछा- पंकज तेरी कोई गर्लफ्रेंड है क्या?मैंने मना कर दिया, फिर पूछा- आज ये क्यों पूछा, कोई ख़ास वजह?वो बोली- नहीं.

मेरी नंगी चूचियों पर अंकल अपना हाथ फिरा कर चूचियों के आकार और कसाव को देख रहे थे, जबकि मेरी इच्छा थी कि वे चूचियों को अब ज़ोर ज़ोर से मसलें. मैंने लंड के लिए तड़प रही उसकी चुत पर सुपारा रखा और फांकों को लंड से सहलाने लगा. सेक्स वीडियो दे दोये मेरा अंतिम फैसला है… तुम चाहो तो अपने कमरे में जाकर आपस में बातचीत कर के सुलह कर सकते हो… मैं यही तुम्हारा इंतज़ार करुँगी.

वह पहले से ही कम कपड़ों में थी, सिर्फ जींस और टॉप में … अंदर ब्रा और पेंटी कुछ नहीं पहनी हुई थी.

उसकी गोरी गोरी जांघों पे मैंने हाथ फेरना शुरू कर दिया और उसके पेट पर चूमने लगा. मैं तड़प उठी और सीधे अंकित का लन्ड कस कर पकड़ लिया और मुंह में डालने लगी.

इधर दूर दूर तक कोई नहीं था, केवल पेड़ों पर बंदर और चिड़ियों की हलचल हो रही थी. वे मुझे पेलते हुए बोले- सीमा तुम मेरी लाइफ में 22 वीं औरत हो, जिसे मैं चोद रहा हूँ. कुछ देर तक प्रिया वैसे ही पड़ी रही और फिर धीरे से उसने करवट बदल कर अपना मुँह मेरी तरफ कर लिया.

कहानी पढ़ते समय मैं अपने मन में एक छवि बना कर उस कहानी के नायक को अपने ऊपर महसूस करके अपनी चुत की आग को शांत कर लेती हूं.

साथ ही उसके मखमल मुलायम जैसे टाईट दूधों को भी कपड़े के ऊपर से दबा कर सहलाने लगा. हिमानी ने छोटी सी चिपकी हुई पतली सी लगभग 6 इंच की निक्कर पहन रखी थी तथा ऊपर एक स्लीवलेस टॉप पहन रखा था. वो बोलीं- हां इस हालत में आपके घर से निकलकर अपने घर जाऊँगी, तो आस पास वाले लोग बोलेंगे कि ये बिन मौसम कहां से भीग आयी.

xxx मराठी व्हिडिओइस अचानक हुई घटना में कुछ भी हो, मुझे तो बहुत मजा आया और किसी की मदद हुई सो अलग. रजत- हाँ… शायद!मयूरी- अब?रजत- अब तो बाकी का काम बाद में करना पड़ेगा.

सेक्सी वीडियो देसी मारवाड़ी

मेरे घर वाले को पता चल गया तो मेरी हालत खराब कर देगा।मैं समझ गया कि स्मिता आंटी चुदवा सकती है पर इसको थोड़ा मनाना पड़ेगा।शबाना आंटी ने बताया कि ये स्मिता आंटी उसी लड़की शालिनी की चाची हैं. जैसा आप लोगों ने मेरी सेक्स कहानी के पहले भागतनहा औरत को परम आनन्द दिया-1में पढ़ा कि पूर्वी मैडम को मेरे साथ सेक्स करके बहुत मज़ा आया और अब वो मुझसे सप्ताह में कम से कम एक बार तो ज़रूर ही मिलती हैं और हम दोनों जम कर सेक्स करते हैं. इस बार मैंने उसके होंठ चूस लिए और उसकी पीठ से हाथ डालकर उसकी गांड को सहलाने लगा.

मैंने फिर से एक जबरदस्त धक्का मारा और मेरा पूरा लंड उसकी चूत में समा गया. हम दोनों बैठ गए, फिर उन्होंने मुझे एक गुलाब जामुन मेरे मुँह में डाला. मगर उसके अपने सिद्धांत थे, क्या सिद्धांत हो सकते हैं एक गांड मारने वाले के.

तो फिर तू पहले की तरह बैठ न मेरे बिल्कुल पास, इतने सालों बाद मिली है आज!” मैंने कहा और उसकी कमर में हाथ लपेट कर उसे अपने से चिपका लिया. मैं सर से पांव तक काँपने लगा, मुझे अपने पैरों पर खड़ा होना मुश्किल हो रहा था. मैंने जैसे ही चुत पर जीभ फेरी, भाभी की तो मानो मुराद पूरी हो गई, उन्होंने मेरे सिर को पकड़ा और जोर से अपनी चुत पर दबा दिया.

क्या आप मेरे पति हैं?सत्यम- हाँ मैं तेरा पति हूँ, तू मेरी पत्नी है. उसमें भी कोई कोई लड़की के अन्दर बहुत ज्यादा सेक्स की इच्छा होती है, उन लड़कियों में से है ये वन्द्या.

मैंने उसके कंधे पकड़कर थोड़ा जोर लगाया तो लण्ड आधा अंदर घुस गया और हिमानी की जोर से चीख निकल गई- उम्म्ह… अहह… हय… याह… मर गयी मैं!भाभी के कमरे की तरफ की कुण्डी नहीं लगी थी, हिमानी की चीख सुन कर भाभी अन्दर आ गई और हमें उस पोजीशन में देख कर बोली- देवर जी! जरा धीरे, कहीं ऐसा न हो कि चूत बिल्कुल ही न फट जाए.

मैंने लंड को उसकी चूत के अन्दर ही रखा और हर 5-6 सेकेंड बाद बाहर निकाल कर जोर से अन्दर डाल देता. xxx+वीडियोमैंने बहुत दिनों से सेक्स नहीं किया था, इसलिए मेरा लंड बहुत जल्दी झड़ने वाला हो उठा था. हरियाणवी xxxउधर से उन्होंने बोला- ठीक है तो 3 बजे तुम दोनों बाहर आजो, मैं तुम्हें शॉपिंग के लिए ले जाऊंगा. खैर अब वो शहर छोड़कर जा चुकी हैं लेकिन उनका दिया वो तोहफा अभी भी है.

इधर मनोहर ने अपना लंड मेरे मुँह में घुसा दिया, जिससे मेरी आवाज़ अब निकल नहीं पा रही थी.

चूंकि हमारा ही घर था, तो चाचा के पास कुछ सप्ताह रुकने के बारे में सोचा. मैंने यहीं उदयपुर में रह कर अपनी इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की है और यहीं एक मल्टीनेशनल कंपनी में काम कर रहा हूँ. उसके मम्मे कड़क हो गये थे और चूचुकों ने अपना सिर उठा लिया था और वे मेरी छाती के नीचे पिसने को मचलने लगे थे.

मैं पूरी तरह से उसके ऊपर हावी था … उसकी चूचियां मेरे मुँह में थीं तथा मेरा एक हाथ उसकी चूत के ऊपर था. इसी तरह चोदते वक्त एक बार तो उसने मेरी चूत में पूरे लंड के साथ साथ एक उंगली भी घुसा दी. उसी समय जाने किस तरह से हुआ कि जो मेरी चूत में अंकित का बहुत मोटा लंड जाने से दर्द हो रहा था, वह दर्द एक दम से गायब होने लगा और 2 मिनट बाद बचा हुआ दर्द भी जाने कहाँ चला गया.

நடிகையின் செக்ஸ்படம்

अंकल जी देर हो रही है देखो बारात पहुँचने वाली होगी!” उसने कमजोर सी आवाज में कहा उसकी आवाज में वो दृढ़ता वो आत्मविश्वास नहीं था अब. बारात के यहां से निकलते ही मुझे सारे कमरे लॉक करके चाभियां अपने पास रखनी हैं फिर सारे कमरे हमारे; हम कुछ करें, यहां पर कोई देखने टोकने वाला नहीं रहेगा” मैंने खुश होकर कहा. शुरूआत में तो नहीं लेकिन किशोरावस्था की दहलीज पर कदम रखते ही उन्हें लेकर मेरी नजरें बदलने लगीं.

[emailprotected]कहानी का अगला भाग:विशाल लंड से चुदाई का नया अनुभव-2.

उस पूरी रात मैंने उनके नाम की दो बार मुठ मारी और सुबह 4 बजे सो पाया.

उससे मैंने कहा- तुम अभी चलो मेरे घर पर … सब कुछ तुम्हारे सामने ही बोलूंगी, तुम्हें पता लग जाएगा।उसने कहा- नहीं, कल चलूँगा आज नहीं. छुट्टी के बाद वापस आने के बाद मैं झट से रूम पर जाकर बैग रखकर सिटी से बाहर निकल आया और तय स्थान पर सपना का इन्तजार करने लगा. गोरी गोरी चूत की चुदाईमैं यहाँ मेरी कामवासना कहां बुझाऊं, उसके बारे मैं सोच सोच कर कई बार मुठ मार लेता हूं.

भाभी की दोनों बगलों को जी भर के चूसने के बाद फिर मैं थोड़ा नीचे आया और भाभी की पतली कमर पर हाथ फिराकर चूमने लगा. मैंने उसकी आँखों के आँसुओं को पौंछते हुए उससे कहा- अब सब भूल जाओ, भगवान ने एक हंसता खेलता बेटा हमारी गोद में डाल दिया है. आप ही इसे कल मार्केट ले जाना और कोई अच्छा, सिम्पल सा स्मार्ट फोन इसे दिलवा देना जिसे ये अच्छे समझ सके!” अदिति बहूरानी मुझसे बोली.

वो- तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है क्या?मैं एकदम से चौंक गया क्योंकि किसी कस्टमर ने आज तक मुझसे ऐसा नहीं पूछा था. उन्हें देख कर मेरी हालत भी बुरी होती जा रही थी, मेरे हाथ भी तेज़ चलने लगे थे.

अन्तर्वासना के सभी पाठकों को जॉर्डन का प्यार भरा नमस्कार।मेरी कहानी के पिछले भागअनजानी दुनिया में अपने-3में आपने पढ़ा कि मैं दिव्या की मां कामिनी की कामवासना को संतुष्ट कर चुका था और हम दोनों साथ साथ लेटे बातें कर रहे थे.

प्रिया उत्तेजित हो गयी थी और मज़े से हल्की हल्की सिसकारियां भरने लगी थी. फिर मैं उसके मम्मों पर आ गया और उसके मुँह में मैंने अपना 7 इंच का लंड निकाल के दे दिया. उस पत्र में मैंने लिखा था:मनोज (मैं तुम्हें प्रिय नहीं लिख रही हूँ क्योंकि मैं नहीं जानती कि मैं इसकी हक़दार हूँ)यह तो तुम्हें पता ही है की मेरी शादी मेरी मर्ज़ी के बिना तुम्हारे बाप से कर दी गई थी.

सेक्सी वीडियो जान इसके दो प्रमुख कारण थे- एक तो उनका साइज और आकर बहुत बड़ा था और दूसरा कि मयूरी ने सपोर्ट के लिए अंदर ब्रा भी नहीं पहनी थी. उसके वो रोंएदार बाल ऐसे लग रहे थे, मानो उसने अभी तक कभी यहां शेविंग ही नहीं की हो.

फिर उन्होंने मेरी तरफ झड़ जाने को लेकर देखा, तो मैंने उनको हां में इशारा कर दिया. मैं अभी आती हूँ क्योंकि यहां पर तो कोई ना कोई आता ही रहेगा, वरना यह फोन तंग करेगा. मैंने भी हंसते हुए उससे फिर से माफी माँगी, फिर उसको गले से लगाया और कहा कि वैसे तुझे भी मज़ा आया ना.

ब्लू फिल्म वीडियो प्लेयर डाउनलोड

उधर मुन्ना अंकल भी मेरे मुँह में अपना लंड डाल कर पूरा अन्दर बाहर जोर से डालने लगे और करीब दस मिनट तक मेरे मुँह में मेरे अन्दर बाहर लंड करके मेरे मुँह को फ्रेंच स्टाइल में चोदता रहे. उसने दो उंगलियों को योनि में घुसा कर योनि को अच्छे से अन्दर बाहर किया, फिर मुनीर के पास जाकर उसे प्यार से चूमते हुए अलग होने को कहा. फिर अगले पल मैं खुद ही अंकल के गोद में आगे की ओर थोड़ी सी उचकी और अपनी समीज़ को दोनों हाथों से खुद ही निकालने लगी.

उसकी बात मुझे जम गई और हम दोनों कुछ ही समय में नहा धोकर कमरे से खाने के लिए बाहर निकल गए. इधर मनोहर ने अपना लंड मेरे मुँह में घुसा दिया, जिससे मेरी आवाज़ अब निकल नहीं पा रही थी.

अब वो मयूरी की दो विशाल चूचियों का बिकुल सामने से दर्शन कर पा रही थी, साथ ही साथ वो उसकी चूत और उसके आस-पास के क्षेत्र जैसे गोरी-गोरी जांघों को बिल्कुल सामने से देख पा रही थी.

पर यकीनन मजा आता होगा क्योंकि हर बार लंड बदली होने पर उसके मुँह से मजेदार सीत्कार निकल रही थी. दोस्तो, आप मुझे मेल करके लिखें कि आपको मेरी ट्रेन में चुदाई की स्टोरी कैसी लगी. इन्हीं के संग बैंगलोर से आई थी मैं; तुझे बताया था न अभी!” बहूरानी कम्मो से बोलीं.

मेरी गांड में बहुत सारा थूक लगा के मौसी ने मेरी गांड में उंगली डाल दी. मैंने कुछ लड़कों की भी गांड मारी और चालीस साल की औरत जो रंडियां हैं, उनकी भी गांड मारी. सबसे पहले मैंने अपना बैग खोल कर सेक्स वर्धक गोली निगल ली; ऐसी दवा मैं हमेशा अपने साथ इसी प्रकार की इमरजेंसी के लिए रखता हूं; हालांकि सामान्य तौर पर इसकी जरूरत नहीं पड़ती लेकिन जब लड़की ‘चोदना’ हो तो अपना हथियार भी भीषण युद्ध के लिए तैयार होना चाहिये ताकि सामने वाली से अपना लोहा मनवा सके और कामयुद्ध को निर्णायक रूप से जीत सके; ऐसा न हो कि मेरे लंड के नाम पर बट्टा लगे.

भाभी ने बोला- पास में एक झाड़ है, उसके पत्ते ले आओ, उनके रस से मालिश करूँगी, तो ठीक हो जाएगा.

हरियाणवी बीएफ सेक्सी वीडियो: इस बात से मेरी उन महिला पाठक को उत्तर मिल गया होगा कि रश्मि को बच्चा क्यों नहीं ठहर सकता था. एक दिन मैं क्लास में अपने मोबाइल पर गे सेक्स स्टोरी पढ़ रहा था, उस वक्त यही टीचर मुझे पढ़ा रहे थे.

मैं मेरे हीरो के सामने सिर्फ ब्रा और पेंटी में थी अपनी आंखों को मूँदे!वो मेरी चूत को पेंटी के ऊपर से ही चाटने लगे जो गीली हो चुकी थी फिर मेरी पेंटी को भी निकाल दिया. मैंने हिमानी को बेड पर लिटाया और उसकी टांगों को खोल कर चूत को चौड़ी करके देखा. कुछ देर बाद मैंने उसके दोनों चूतड़ों को अलग करते हुए उसकी गांड के छेद को अपनी जीभ से सहलाने और चाटने लगा.

साथ-ही-साथ ऊपर नीचे कूदने की वजह से उसकी छोटी सी स्कर्ट जो पहले ही पड़ी मुश्किल से उसकी चूत और जाँघों को ढक पा रही थी, बार-बार हवा में ऊपर ही रह जा रही थी और उससे मयूरी की जांघें और गांड बिल्कुल नंगी सामने से नजर आ रही थी.

एक दिन मैंने उसे मैसेज किया- क्या कर रही हो?तो वो बोली- फ्री बैठी हूँ. जब हम दोनों नहा लिये तो सर मुझे अपनी गोद में उठा कर कमरे में ले गए. उसे कपड़े वापस पहनने पड़े और वह नाईट बल्ब बुझाती हुई बाहर निकल गयी।करीब पंद्रह मिनट बाद वह लौटी और दरवाजा बंद कर के मेरे पास आ कर कपड़े उतारने लगी।अब चाहे नाइट बल्ब जला लो या पूरी रोशनी कर लो.