बीएफ वीडियो एचडी सील पैक

छवि स्रोत,सेक्सी ब्लाउज

तस्वीर का शीर्षक ,

देखना चाहते हैं: बीएफ वीडियो एचडी सील पैक, फिर मैंने उसे तुरन्त अपने सामने खड़ा करके उसका कमीज निकाल दिया और एक झटके में उसकी ब्रा खोल कर उसके दोनों दूध आज़ाद कर दिए.

दिल्ली का सेक्सी

वो जरा सी भी जुम्बिश लेती, तो उसके दूध यूं थिरकने लगते मानो उनमें कोई स्प्रिंग लगी हो. लड़की की बाथरूमअब एक तरफ मेरी किराएदार भाभी थीं, जो मेरे साथ काफ़ी फ्रेंक होती जा रही थीं.

फिर मैंने अपना पूरा लंड बाहर निकाल कर एक ही झटके में उसकी चूत में डाल दिया और तेज़ी में चोदने लगा. धात की दवाईउसने मेरी सेक्स कहानी को बहुत सराहा था और मेरी बहुत तारीफ भी की थी.

तुम ऐसी सब फिल्स देखते हो … और तुम रात में गेस्टहाऊस में अकेले रहते हो, तो कन्ट्रोल कैसे कर लेते हो.बीएफ वीडियो एचडी सील पैक: फिर रिट्ज मेरे पास आई और बोली- देखो मुझे मालूम है कि मेरी मम्मी की क्या हालत है, पापा से कोई उम्मीद नहीं है और वो मेरी वजह से दूसरी शादी भी नहीं कर सकती हैं.

हम एक दूसरे को बेतहाशा ऐसे चूमने लगे, जैसे हम दोनों अब कभी जुदा नहीं होना चाहते.मैं पहली बार चुदाई कर रही थी मगर अमित को देख कर ऐसा नहीं लग रहा था कि मैं उससे किसी भी तरह से कमजोर हूँ.

नंगी पिक्चर बताइए वीडियो - बीएफ वीडियो एचडी सील पैक

लंड बहन की गांड से बाहर आते ही उसकी गांड के छेद से पक्क की आवाज आई और छेद धीरे धीरे बंद होने लगा.बीस मिनट की चुदाई के बाद मैंने अपना पानी उनकी चूत में ही छोड़ दिया.

मैं उसे अपनी बांहों में लेकर किस करने लगा और अपने हाथ पीछे ले जाकर उसकी ब्रा का हुक खोलने लगा. बीएफ वीडियो एचडी सील पैक इधर सोनू ने भी सरिता भाभी के सामने आकर लंड को उसके मुँह में दे दिया.

मैं पैंटी को सूंघते हुए मैं उनके बाथरूम में मुठ मारने लगा और मेरा वीर्य वहीं ज़मीन पर पड़े उनके कपड़ों पर छूट गया.

बीएफ वीडियो एचडी सील पैक?

चूंकि छत पर अंधेरा था तो पता नहीं लग सकता था कि कोई इन्सान सो रहा है या जाग रहा है।दीदी ने देखने की कोशिश तो की और मैंने सोने का नाटक किया।मैंने सोचा कि दीदी अब मामा को कुछ बोलेगी. रोमी खूब जोर जोर से मम्मे दबा रहा था और सोनू खूब जोर से चुत चाट रहा था. मैंने पूछा- आपका रोज ही इस समय किधर जाना होता है?वो बोली- क्यों पूछ रहे हो?मैं उसकी इस बात से एकदम से हड़बड़ा गया और चुप रहा गया.

मैं आंटी को गुब्बारे देता और जब वो ऊपर होकर उसको लगातीं, तो उनकी नाइटी थोड़ी और उठ जाती. कुछ देर तक मैंने चाची की चूत चाटी और फिर मैंने उनकी चूत पर लंड रगड़ना शुरू कर दिया. अब मैंने उसे दरवाजे के साइड में दीवार से सटा दिया और उसकी फूली हुई चूत में उंगली करने लगा.

सुबह जब वो दूध देने आता, तब सरिता भाबी जानबूझ कर दूध वाले के सामने रात की खुली हुई नाईटी में आती और झुक कर दूध लेती. जोरदार धक्के लगाते हुए मैं उसकी पीठ को काटने लगा और उसके गांड दबाने लगा. मैं चूत में लंड सोच रही थी, मगर हरामी ने मेरी गांड भी मारने में कसर नही छोड़ी.

मैं नवीन की बातों में आकर्षित होने लगी और उसके साथ रोज चैट करने लगी. वो बोली- ब्रा को खोल दे। फिर आराम से मालिश कर देना।मैंने दीदी की ब्रा के हुक को खोल दिया.

इतना कहते ही मैं बेड पर लेट गया औऱ बिल्लो अपना चेहरा मेरी तरफ करके मेरे लंड पर बैठ गयी.

कुछ देर कोशिश करने के बाद जब मुझे बहुत दर्द होने लगा तो मैंने उसको मना कर दिया.

कुसुम ने कमरे के बाहर से ही रोहन को ब्रेकफास्ट के लिए नीचे आने का बोला और नीचे चली गई. ऐसा लगने लगा था कि अब सरिता भाभी शांत हो गई थी और वो अपनी गांड मराने का मजा लेने लगी थी. इस बीच बहुत सारी बातें हुईं और मैं और मौसी उसी संबंध को महसूस करने लगे जो कुछ वक्त पहले मेरे और मौसी के बीच में था जब हम एक दूसरे के साथ खूब मस्ती मजाक करते थे।उसके बाद मौसी किचन में खाना बनाने के लिए चली गयी.

पहली बार ससुर के लंड से चुदाई और उनका मोटा लंड आज भी जब मैं सोचती हूं तो मेरी चूत गीली हो जाती है. वो अब कभी अपने हाथ मेरी नंगी जांघ पर रखता और कभी मेरे हाथों को पकड़ता. जब मैंने पूछा कि क्यों काटा, तो वो बोली कि मुझे भूख लग रही है, इसलिए तुमको खाने का मन कर रहा है.

नीचे से मेरी गीली चूत में सत्यम का लंड छप छप की आवाज़ करते हुए मस्त संगीत बिखेर रहा था.

उसने मेरे लंड को लोअर के ऊपर से ही हाथ में भर लिया और फिर पास आते हुए मेरे कंधे पर सिर रखकर मेरे कान में धीरे से सुबह के लिए सॉरी कह दिया. भाभी बोलीं- क्यों नहीं बनाई जीफ!मैंने कहा कि मुझे लड़कियों से बात करने में बहुत शर्म आती है. खाना खाने के बाद जैसे ही जेठजी उठे, मैं उनके बगल में साइड से उनके साथ खड़ी हो गई.

रविवार को मेरा ऑफिस ऑफ रहता है, मेरी बीवी को उस दिन शॉपिंग के लिए मार्किट जाना था. मैंने उसको टाइट वाला हग किया और उसके मुँह को अपने मुँह से पूरी तरह दबा लिया. वो मेरी तरफ देख कर बोली- आज मैं तुम्हारे फोन का इंतजार करूंगी … जरूर करना.

पर मैं हर किसी को नहीं दिखा सकती।अब आगे देसी सुहागरात Xxx कहानी:मैंने खुश होकर उसके क्लीवेज को ही चूम लिया और उसके ब्लाउज़ के हुक खोलने लगा।उसने बिल्कुल भी मना नहीं किया.

आप इसी सीट में अड्जैस्ट करके सफर कर लीजिए।अब मेरी नींद खुल चुकी थी।टीटी चला गया था।मैं अपनी सीट में बैठ गया और उससे बोला- आप ठीक से बैठ जाओ।फिर हमने थोड़ी देर बात की. इस बार मैंने उसकी चूत में दो उंगलियां डाल दीं और अन्दर बाहर करने लगा.

बीएफ वीडियो एचडी सील पैक मैंने जेठजी के कच्छे का नाड़ा खोल दिया और अब जेठजी पूरी तरह नंगे मेरे सामने खड़े थे. उन्होंने मेरे नंगे चूतड़ों की दरार में लंड फिरा कर एक ज़ोर का झटका दिया और अपना लम्बा लौड़ा पूरा मेरी खुली गांड में उतार दिया.

बीएफ वीडियो एचडी सील पैक इस पर मैं बोली- नंबर तो 8 बजे ही लगता है अंकल … लेकिन ये सब दूर से आने वाले सुबह से आ जाते हैं. अंजलि मोटे लंड के कारण चीख पड़ी और बोली- उई मां मर गई रमेश धीरे … आह मार ही दोगे क्या.

अब मैं यास्मीन की चुत रोज पेलता हूँ और यास्मीन की दोनों जवान बेटियों पर भी मेरी नजर थी.

करण और प्रीता

हिंदी भाभी सेक्स कहानी में पढ़ें कि मेरे दोस्त की शादी में मेरी मुलाक़ात दोस्त की किसी रिश्तेदार भाभी से हुई. जो भी मुझे एक बार मेरी इस हिलती हुई गांड को देख लेता है, तो बस देखते ही रह जाता है. रमेश मेरे बगल में आ बैठा और बोला- मैं रमेश गूजर हूँ … मेरी उम्र तो तुझे नासिर ने बता ही दी है.

मैंने उसकी बुर के होंठों को खोल कर अपनी जीभ बुर में घुसा दी और बुर चाटने लगा. मैंने कहा- बड़ी बेचैन हो रही हो डार्लिंग!वो बोली- इसे बेचैनी नहीं, तड़प कहते हैं. मैं और मंजू इस चुदाई को देख कर गर्म हो गए और मैं मंजू को लेकर दूसरे रूम में चला आया.

मैंने लंड को फुद्दी के छेद पर रखा और धक्का दे दिया, पर लंड चुत के अन्दर नहीं गया और स्लिप कर गया.

मैंने उनको चूमा और कहा- भाभी आपको भी मज़ा आया और मुझे भी … अब क्या हुआ?पर भाभी कुछ नहीं सुन रही थीं. मैंने पायल पहनी मम्मी की; लाल लिपस्टिक लगाई, नेल पेंट लगाया और बढ़िया से किसी दुल्हन की तरह सज संवर कर तैयार हो गई. एकदम से मेरी आंखें बंद होने लगी और लंड से निकलकर आग अंजुमन की चूत में भर गई.

मैंने पायल पहनी मम्मी की; लाल लिपस्टिक लगाई, नेल पेंट लगाया और बढ़िया से किसी दुल्हन की तरह सज संवर कर तैयार हो गई. मैं भी अपने हाथों को पहले उनके कंधे पीठ कमर पर लाया फिर उनकी मोटी मोटी गांड पर सहलाते हुए मसलने लगा. उसका लंड अभी भी चड्डी के अन्दर ही था मगर मुझे उसका अहसास हो रहा था.

जैसे ही पीयूष ने अपनी सगी बहन की बुर से लंड बाहर खींचा, तो पटाके चलने जैसी आवाज आयी. सरिता भाभी धीरे से बोली- अभी मैं घर जा रही हूँ, दोपहर में फिर आऊंगी.

वो बोल रही थी कि शायद उसे याद भी नहीं है कि कब मेरी जमकर चुदाई हुई थी. मैं अपनी छोटी बहन को भी चोद चुका हूँ, उसकी चुदायी की कहानी आपको बाद में बताऊंगा, लेकिन अभी तो मॉम की चुदाई की कहानी पर फोकस करते हैं. अब हम दोनों ने ये तय किया कि चुदाई को ज्यादा रोमांचक बनाने के लिए एक दूसरे के लिए एक एक पार्ट्नर और खोज लेना चाहिए.

इससे मुझे और जोश चढ़ने लगा उसकी टांगों को मैंने और ज्यादा चौड़ा कर दिया और मैं और ज्यादा गहराई तक अपनी जुबान चूत के अन्दर डाल रहा था.

मेरा हाथ चंचल की चूत तक जा ही रहा था कि मुझे मेरी वाइफ के कदमों के आने की आवाज सुनाई दी. पहले तो रोहन अपना नाम सुनकर चौंक उठा … फिर वो तुरंत वापस मुड़ा और अपनी मॉम के पता चलने से पहले अपने रूम में आ गया. ऐसा उसे इसलिए लगा क्योंकि इतने सालों में कुसुम ने पहली बार शेखर को सामने से अपनी चूत चोदने के लिए बोला था.

मेरी चूत में जलन हो रही थी लेकिन समीर नहीं रुक रहा था।मैं उसको पीछे धकेलना चाह रही थी।वो चोदते हुए बोला- साली, जब लंड लेने का मन कर रहा था तब नहीं सोचा कि दर्द भी होगा चुदने में? आज मैं तेरी चूत को फाड़ता रहूंगा। मैं तेरी चूत की प्यास मिटा दूंगा।ये बोलकर वो फिर से चोदने लगा. इस बार पहले से ज्यादा अंदर उंगली जाते ही उसकी आवाज भी ज्यादा दर्दभरी हो गयी।उसने अपना हाथ, जो मेरे नीचे से पीछे की ओर था, मेरी पीठ पर मारा और कसकर मांस को पकड़कर नाखून गड़ा दिये।अब मैं उंगली धीरे धीरे अंदर बाहर को करने लगा.

उसे बंद पड़े मकान में मैंने कैसे चोदा?हैलो फ्रेंड्स, मैं नील अपनी देसी बिल्लो रानी की चुत चुदाई की कहानी के पिछले भागलॉकडाउन में देहाती जवानी मिलीमें बता रहा था कि कैसे ही बिल्लो ने मेरा लंड हाथ में लिया वो एकदम से चौंक गई. मेरे लंड को चूसते हुए ही प्रिया ने मेरी जीन्स को मेरी टांगों से बिल्कुल ही खींचकर अलग कर दिया था. थोड़ी देर बाद वो नीचे फर्श पर अपने घुटनों पर बैठ गई और मेरे पेट को चूमने लगी.

अमेरिका सेक्सी व्हिडीओ

बस तेरे आमों का रस पीना है इसलिए तुम मेरे लौड़े की सवारी करो और मुझे मैंगोशेक पिला दो.

उस टाइम उसके बोबों की साइज 34 इंच थी और बलखाती और लहराती नागिन सी उसकी कमर 28 इंच की थी. इसमें कोई शक नहीं कि रीना उसके दिमाग में रहती है, मगर सारा से नशे में वो रीना कह गया और सारा ने कुछ नहीं कहा. दोस्तो, इस सेक्स कहानी के अगले भाग में मैं आपको अपने दिल में रानी की दिलकश जवानी की चाहत लिए उसे कैसे चोद सका, ये लिखूंगा.

मैं आकृति आंटी के पास पहुंचा और हम टूट कर चुदाई करते हुए बात करते जा रहे थे. तो मैंने घुटनों पर बैठकर उसकी पेंट उतार कर नीचे कर दिया और पूरी उत्तेजना से उसके लन्ड को चूसने लगी, उसकी गोलियों को मुंह में लेकर चूसने लगी. नंगी लड़कीनीचे उतरते ही उसने मेरी बीवी से कहा- अच्छा तुम रुको, मैं ज़रा टॉयलेट से आती हूँ.

बहन ने एकदम से दरवाजा खोला, तो मैं लेटे हुए झांक कर उसको देख रहा था. एकता इतनी अधिक मादक लगती थी कि जाने भगवान ने किस फुर्सत की घड़ी में बड़े ही आराम से गढ़ा हो.

भाई बहन Xxx कहानी में पढ़ें कि शादी के बाद मैं अपनी बहन को लेने गया तो लॉकडाउन में हम दोनों फंस गए. मैंने आपका वो देखा था, जो मुझे बड़ा दिखाई दे रहा था और आपकी जेब से चाची की ब्रा का थोड़ा सा हिस्सा दिख रहा था. इस गहरे गले वाले ब्लाउज से मेरे मम्मों की क्लीवेज बड़ी ही दिलकश दिखती है.

आप सबको मेरी ये देसी GF सेक्स कहानी कैसी लगी, कृपया कमेंट/ फीडबैक अवश्य दें. मगर जब आज खुद बकरा कटने को मिमिया रहा हो तो जल्दबाजी की क्या जरूरत थी. भाभी ने मुझे फिर से कंडोम लगाया और हम दोनों एक बार फिर से शुरू हो गए.

उसकी इस अदा से मैं एकदम से कामुक हो गया और सुहैला को अपनी गोद में उठा कर बेडरूम में ले गया.

उसने कहा- तुमको जल्दी क्या है … डर रहे हो क्या? आराम से बात करते हैं ना. फिर रिट्ज मेरे पास आई और बोली- देखो मुझे मालूम है कि मेरी मम्मी की क्या हालत है, पापा से कोई उम्मीद नहीं है और वो मेरी वजह से दूसरी शादी भी नहीं कर सकती हैं.

तभी मैंने देखा कि सामने वाली भाभी ने भी मेरे पैरों को अपने पैरों से रगड़ना शुरू कर दिया. बस ये बोलो कि तुम्हारे मन में और कोई कीड़ा हो … तो उस साले को भी आज खत्म कर देते हैं. जेठ से चुदाई का मजा कहानी के पिछले भागजेठानी के कमरे में जेठजी संग सेक्समैंने पति को बताया कि जेठ जी के मोटे लंड का सुपारा मेरी आंखों के सामने आया तो मैं इतना मोटा सुपारा देख कर घबरा गई थी.

रमेश भी अब अंजलि की साड़ी का पल्लू हटा कर उसके ब्लाउज के ऊपर से ही मम्मों को दबाने लगा था. आगे दो मोटे गोल मम्मे हल रहे थे और पीछे मोटी गांड को दबाए भाभी के दो भरे हुए कूल्हे सच में क्या गजब का तराशा हुआ शरीर था. मैं थोड़ी देर ऐसे ही उनको चोदता रहा, फिर मैंने उनको आगे पलटा दिया और उनके मम्मे पीते हुए उनको चोदने लगा.

बीएफ वीडियो एचडी सील पैक कुछ पल बाद शेखर ने उसे सीधा कर दिया और अपना लंड उसकी चूत पर टिकाकर एक जोरदार शॉट मार दिया. मैं हल्के से मुस्कुरा दिया और मायरा के चेहरे पर गिर रही उसके ज़ुल्फों को अपनी उंगली से हटा कर उसके सुंदर से चेहरे को देखने लगा.

सेक्सी वीडियो हीरोइन की

कुछ देर बाद उसने अंजलि की चुत पर जीभ रख दी और चुत की फांकों में जीभ फेरने लगा. मैं अपना सर नीचे की तरफ मोड़ कर जीभ निकाल कर अपने लाल हुई चूची को चाटने लगी. अब लकी ने सारा को नीचे लिटाया और उसकी टाँगें फैला कर उसकी चिकनी चूत में अपनी जीभ घुसा दी.

हमें सही वक्त भी नहीं मिल रहा था क्योंकि उस टाइम हम दोनों के एग्जाम थे तो हमने एग्जाम खत्म होने पर सेक्स करने का फैसला किया. उसके कोमल होंठ और जीभ के स्पर्श से कुछ ही समय में फिर से मेरे लंड में तनाव आ गया. दांत दर्द का दवामैं खुद चाहता था कि ऐसा मौका कब मिले और मैं उसको अपने अन्तरंग भाव से मिला सकूँ.

लंड की गर्मी से वो मचल उठी और गांड उठा कर अन्दर लेने की कोशिश करने लगी.

मैंने अब जुआ का धंधा छोड़ दिया है और ये रूम जो हैं, वो मैं किराए पर देता हूँ. हैलो साथियो, मैं सुनील सिंह एक बार फिर अपनीबीवी की चुदाई की कहानीको आगे लिख रहा हूँ.

तो मैंने उसे बाइ कह कर रास्ता क्रॉस किया और आगे जाकर छिप गयी ताकि मेरा ब्वॉयफ्रेंड समझे कि मैं चली गई हूँ. मैं भाभी को चोदने की प्लानिंग करने लगा था लेकिन मुझे ये पता नहीं था कि वो मुझे पसंद करती है या नहीं. अब पीयूष ने अपने प्लान के मुताबिक उसको एक लोशन दे दिया और लगाने के लिए कह दी.

मैं बोला- आज क्या … तुम दो दिन अब लंड नहीं मांगोगी, लेकिन मुझे तुमको कल भी चोदना है.

उसके दोनों स्तन मैंने अपने हाथों में भर लिए और जोर जोर से दबाने लगा. जब मैं उनके घर गया तो उन्होंने बताया कि आज रिट्ज का जन्म दिन है और उन्होंने सोचा है कि आज उसको घर ही में एक सरप्राइज पार्टी दी जाए. ये देख कर ज़रीना ने देर ना करते हुए मुझे नीचे लिटाया और फिर से मेरे लंड के ऊपर आकर चुदाई के मज़े लेने लगी.

सेक्सी चोदने वाली सेक्सी चोदने वालीमैं भी अपने स्तनों को अपने दोनों हाथों से कस कर दबाते हुए जोर जोर से झटके लेने लगी. वो बोली- रमेश, तुम्हारा लंड बहुत बड़ा है और मोटा भी … इसलिए मुझे दिक्कत हो रही है.

डिसला कैमरा

हम दोनों गरम हो गए थे और उसकी गान्ड की थप थप थप की आवाज से पूरा कमरा गूंज उठा।अब मैंने उसकी गान्ड से लंड निकाल लिया और मैं सोफे में बैठ गया. वह दर्द में चिल्लाने वाली थी पर उसके होंठ पर मेरे होंठों ने पकड़ बना रखी थी, जिस वजह से उसकी आवाज़ को निकलने से रोक दिया गया. कुछ मिनट बाद जब हम दोनों के होंठ अलग हुए, तो दोनों के दिल जोर से धड़क रहे थे.

मैंने पूछा- जब उसके पास जाएगी और बात करेगी, तो क्या सेक्स नहीं करेगी?वो बोली- मैं कुछ न नहीं करूंगी, जो करेगा, वो ही करेगा. लेकिन उसने कभी किसी लड़के का लंड नहीं लिया था।सच कहूँ दोस्तो, मैं तो 69 का मतलब ही नहीं जानता था. मैंने कुछ देर लंड को गांड के अन्दर ऐसे ही रखा और बाद में धीरे-धीरे अन्दर बाहर करने लगा.

सारा चीखी- साले पराया माल है तो क्या फाड़ ही देगा?मगर अगले ही पल वो सिसकारते हुए बोली- आह … मजा आ गया जानू … अब धक्के लगा. राज़- मेरी जान दर्द को सहन करो, तुमको तो पता है कि मुझे चूत से ज़्यादा गांड मारना पसंद है. मैंने उस लड़के को अभी अपना नाम तक नहीं बताया, मुझे बहुत डर लग रहा है कि कहीं वह लड़का ऐसा वैसा ना निकले.

अभी इतना काफी नहीं था कि तभी जेठजी ने दोनों तरफ बाकी की दो दो उंगलियां, दोनों तरफ से मेरी चूत में डाल दीं. तभी मामाजी मुझसे बोले- मुझे अपने एक मित्र के साथ बिजनेस के सिलसिले में मिलने जाना है.

उसने पहले मेरी चूत पर उंगली फेरी और अगले ही पल वो मेरी चूत ने मुँह डाल कर ऐसे चाटने लगा, जैसे कोई बच्चा आइसक्रीम चाटता है.

उन हसीन पलों के बाद मामी और मैं फिर से मिले और जी भर के प्यार किया. sonu की चुदाईतो दोस्तो, अब मैं आपका समय बर्बाद न करते हुए सीधी ससुर और बहू की चुदाई की कहानी पर आती हूं जो मेरे साथ 9 जनवरी की रात घटी थी।मेरा नाम नेहा है और मैं 24 साल की शादी शुदा औरत हूं. भाभी की बहन की चुदाईथोड़ी देर बाद जब अचानक आंखें खोलीं, तो उसने पाया कि मैं उसके बोबों को घूर रहा हूं. मैंने उसे देखते हुए कहा- तुम भी चिंता मत करो … मैं भी मम्मी को सब बता दूंगा.

जब चंचल अपने पजामे को ढक रही थी उतनी देर में मैंने चंचल की बेडशीट के नीचे रखी किताब को बाहर निकाल कर अपने हाथ में ले ली.

कोई तीन चार मिनट की चुत चटाई से ही आपा की चुत रोने लगी और वो मेरे मुँह में ही झड़ गई. अभय मुझसे अभी भी बात करता है लेकिन हमारे बीच पहले जैसी दोस्ती नहीं है. मैंने उससे शादी के बारे में तफसील से पूछा, तो मालूम चला कि वो मेरे शहर से बस 30 किलोमीटर की दूरी पर ही एक कस्बे में वो रहती थी.

उसमें भी वो ज्यादातर सेक्स कहानी भाई बहन की चुदाई की कहानी पढ़ना पसंद करती थी. मैं देहरादून की सबसे जानेमानी यूनिवर्सिटी में कंप्यूटर साइंस पढ़ता हूं।अपनी गोपनीयता बनाए रखने के लिए मैं अपनी यूनिवर्सिटी का नाम नहीं बता सकता मगर इतना बता सकता हूं कि वो बिधोली गांव के पास है।मैं पिछले 5 साल से अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूं और आज मैं अपनी सेक्स कहानी पहली बार लिख रहा हूं. मुझे मस्ती सूझी, तो मैंने उससे कहा श्रुति बोरोलीन अन्दर तक जाए इसके लिए मुझे फिर से लंड डालना चाहिए.

सटका मटका गोल्डन चार्ट

तभी मेरी बहन ने अपने बैग से रूमाल निकाला और अपनी चूत को पौंछते हुए नीचे रूमाल लगा दिया. अब मैं अपनी बीवी से मुखातिब हुआ- तो क्या करना चाहिये मुझे?मेरी बीवी ने कहा- अच्छा रहेगा, आप रानी को पढ़ा दोगे तो क्या दिक्कत है!मैं- ठीक है, तुम रानी से बात करके बता देना कि उसको पढ़ने के लिए कौन सा टाइम सही रहेगा. भाभी एक दिन मेरे पापा से बात करके हमारे यहां किराए पर रहने दुबारा से आ गईं.

पांच मिनट बाद भाभी झड़ने वाली थीं तो उन्होंने मुझे पीछे को किया और झड़ गईं.

हम दोनों लोगों की नजरें बचाते हुए कमरे में आए और हमने एक देर वाला लिप किस किया.

मैंने उसको फिर से कसके पकड़ा और इस बार लंड सैट करके कुछ ज्यादा ही ज़ोर लगा दिया. हम दोनों एक दूसरे को इस प्रकार से किस करने लगे मानो एक दूसरे को खा रहे हों. आलिया की सेक्सीजब तक आरिफा और जाकिरा की शादी नहीं हो गयी तब तक वो मुझसे चुदवाती रहीं.

जब उसका गुस्सा कुछ कम हुआ, तो उसको बड़े प्यार से आकृति आंटी की सारी बात समझाई. भाभी को मजा आने लगा और जैसे ही उन्होंने अपनी गांड के छेद को ढीला किया, उसी वक्त मैंने लंड गांड के अन्दर पेल दिया. मेरी बहन पूरी नंगी हो गयी थी।अब मामा उसकी चूत को सहलाने लगे। मीनू और तेज तेज सिसकारियां लेने लगी.

हम कचहरी पहुंच कर काम निपटाने लगे और करीब दोपहर दो बजे के आसपास हम दोनों घर वापस आ गए. मैंने अपने लौड़े की रफ्तार बढ़ा दी और तेज़ी से चोदने लगा अब वो भी साथ देकर आहह आहह चोदो मुझे … ले लो मेरी … आहह आहह चोदो … चोदो मुझे … आहह करके लंड लेने लगी थी.

हैलो, मैं समीर एक बार फिर से अपनी सेक्स कहानी में अपनी अन्तर्वासना को आपके सामने लिख रहा हूँ.

उसने मुझसे सिंदूर मंगाया और मेरी मांग भरते हुए बोला- लो आज से तुम मेरी पत्नी हो गई. वो लंड सहलाते हुए बोली- मैं उसकी गांड तुझे कैसे दिलाऊं भाई?मैंने कहा- कर ना यार कोई जुगाड़. फिर रिट्ज की शादी के बाद भी वो जब मायके आती तो मैं उसके लिए बुक रहता.

सुहागरात में क्या होता मैं भी उनके वफ़ादार डॉगी की तरह अपने घुटने पर बैठ कर अपनी मालकिन के पास आ गया. सरिता भाभी को अपनी गर्म चुत पर ठंडी आइसक्रीम का अहसास हुआ तो वो जोर जोर से सिसकारियां लेने लगी.

हॉट कज़िन की चुदाई कहानी में पढ़ें कि मेरे चाचा की लड़की ने मेरी चढ़ती जवानी की जरूरत को समझा और मेरी मदद की. उनकी 35 साल की उम्र और कामुकता से लबरेज सेक्सी बदन … मटकती गांड और तीखे नैन नक्श सब कुछ बयां कर देते थे कि भाभी की ये जवानी किसी को भी घायल करने को आतुर है. मैंने अपना लौड़ा उस घोड़ी की चूत में डाल दिया और अन्दर बाहर करने लगा उसको भरपूर आनन्द आने लगा.

ओपन सेक्सी सेक्सी

मैं तब भी वैसे ही सोया था लेकिन रात को कब मैं घूम गया पता ही नहीं चला. फिर एक दिन मुझे किसी काम से गोपालगंज जाना था तो मैं गाड़ी लेकर निकल गया. फिर मैंने उसे इमोशनल तरीके से कहा- देखो मैं कोई गैर तो नहीं हूँ, तुम मुझे बचपन से जानती हो … और फिर मैं तुम्हरा क्रश भी रहा हूँ.

मैंने इसी का फायदा उठाया और अपने दोनों हाथों से उसके चेहरे को पकड़ा और अपने प्यासे होंठों को उसके गुलाब जैसे होंठों से चिपका दिया. उस वक़्त उनकी फैंसी वाली ब्लैक पैंटी एकदम मदमस्त दिख रही थी और उनकी नुकीली गांड मेरे लंड को बेकाबू किये जा रही थी.

फिर वह दिन भी जल्दी आ गया, जिस दिन हम दोनों सात फेरों के बंधन में बंधे.

उस हॉट लड़की ने कहा- तुम सीधे लेट जाओ और मैं तुम्हारे मुँह के अन्दर पेशाब करूंगी. वो अचानक उठते हुए मुझसे चिपक गईं तो मैं समझ गया कि भाभी झड़ने वाली हैं. अब पीयूष बार बार शीना से टकरा जाता और शीना की गांड और चूचों को दबा देता.

मामी ने अपना ब्लाउज और ब्रा जल्दी से खोल दिया और चूचे आजाद कर दिये. तो मैंने लंड फिर से बाहर निकाला और उससे कहा- देख सरीना की गांड की बातों से कितना टाइट खड़ा हो गया. मेरी जान अब नीचे से बिल्कुल नंगी हो चुकी थी और मैं जोर जोर से उसकी चूत को चूसने लगा था.

मादक सिसकारियां लेती हुईं भाभी अपने दूध के निप्पलों को अपनी उंगलियों से मसलने लगीं.

बीएफ वीडियो एचडी सील पैक: पीयूष बोला- दिखाओ जरा!शीना बोली- नो भैया, वो दिखाने वाली जगह नहीं है. वो हल्की से हंसी और बोली- कैसा टेस्ट लगा?मैंने कहा- एकदम मस्त नमकीन मलाई जैसा.

उसने लंड निकालने की कोशिश की तो मैं समझ गई कि इसका पानी निकलने को है. अंकल बोले- बेटा तुम्हें कोई भी काम हुआ करे, मुझे बोल दिया करो, पापा को मत परेशान किया करो. अब मुझे कुछ कुछ लगने लगा था कि सुरेश मुझे नहीं चोदेगा, तो मैं बसंत से ही चुद जाऊंगी.

उसने अपनी टांगों से चुत को छिपाने की कोशिश की मगर मैंने उसकी दोनों टांगों को फैलाए रखा और अपनी जीभ से बहन की चुत को चाटना शुरू कर दिया.

भोपाल से वापस आने के बाद कुछ ऐसा हुआ कि मेरी बीवी रोज रात को मूड बना कर मेरे साथ छेड़खानी करने लगती थी और मैं भी गर्म होकर उसे चुदाई के लिए हर तरह से चूम-चाट कर गर्म कर देता था. उन्होंने अपने होंठों से मेरे होंठ चूम लिए और मुझे 5 मिनट तक फ्रेंच किस किया. मैंने उसी स्थिति में उसके एक पैर को अपने कंधे पर लिया, दूसरा पैर बेड पर फैलाया और उसको चोदने लगा.