एक्स एक्स भोजपुरी बीएफ

छवि स्रोत,ऐश्वर्या राय के सेक्सी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

मधु सिंह सेक्सी: एक्स एक्स भोजपुरी बीएफ, 36″ की एकदम बाहर को निकली हुई। उसकी मतवाली चाल भी एकदम किसी मॉडल जैसी थी।वीरू- हैलो सीधे कहाँ जा रही हो.

बीपी मूवी सेक्सी बीएफ

तुझे ज़्यादा मज़ा आएगा।राधा- हाँदेवर जी, आज चोद ही दो मुझे… पहले तो आप नहीं चोद पाए. सबसे मोटी बीएफकोठी के मालिक तीन साल के लिए किसी डेपोटेशन पर अगले सप्ताह विदेश जा रहे थे, तो जल्दी खाली करने की कोई चिंता भी नहीं थी.

चलिए आज मैं ही चाय बनाता हूँ।मैं किचन में चला गया। मैं चाय बनाने को बर्तन गैस पर रखा और मैंने जानबूझ कर कटोरी अपने ऊपर गिराते हुए चिल्लाया। मुझे भी दर्द हो रहा था. चोदने वाली बीएफ हिंदीइत्ता सा है और अभी से धमकी देना सीख गया, उससे क्या पूछता है जो पूछना है तू मुझसे पूछ! वो क्या कर रही थी और क्या नहीं.

फिर डॉक्टर ने एक छोटा सा लोकल एनेस्थीसिया का इंजेक्शन लगाया और ब्लेड से छोटा सा चीरा लगा कर स्किन को वहाँ से हटा दिया और दवाई लगा कर पट्टी कर दी.एक्स एक्स भोजपुरी बीएफ: ’ यह कहते हुए आंटी अंकल से लिपट गईं और अंकल उन्हें बेतहाशा चोदने में लगे थे। उनका लंड चुत में अन्दर-बाहर होते दिखाई दे रहा था। अंकल का कितना बड़ा लंड था.

मैं बना लूँगी। बस ये घर की साफ-सफ़ाई में दिक्कत होती है।गोपाल- एक बात कहूँ.इतनी बात सुन कर तो मेरी हवा सरक गई, मेरी गांड फट गई… दिमाग ने काम करना बंद कर दिया.

चोदने वाला बीएफ सेक्स - एक्स एक्स भोजपुरी बीएफ

इस खूबसूरत चहरे से हंसी कहाँ गायब हो गई है?तो मैंने कहा- रोहित (पति) के जाने के बाद मैं अकेली पड़ गई हूँ।तो वो बोला- आप अकेली कहाँ हो भाभी? कभी किसी चीज़ की जरूरत हो तो मुझे बता दीजिये।तो मैंने पूछने के अंदाज में कहा- कभी भी किसी चीज़ की जरूरत?वो मेरा इशारा समझ गया और बोला- हाँ भाभी.सुमन भी अपनी बुर का पानी निकाल कर सुकून में थी तो उसको जल्दी नींद आ गई.

उसने शीशी से काफी सारा तेल निकाला और मेरे लुल्ले पे लगा कर अपने हाथ से उसकी ऊपर नीचे मालिश करने लगी. एक्स एक्स भोजपुरी बीएफ थोड़ी देर बाद और विद्यार्थी भी आ गए तो हमने उस दिन की क्लास ख़त्म की और अपने अपने घर आ गए.

मैं उसके जीभ को छोड़ कर होंठों को चूमते हुये उसके निचले भाग की तरफ़ बढ़ने लगा.

एक्स एक्स भोजपुरी बीएफ?

प्लीज़ टीना बुरा मत मानना मगर तुम संजय की गर्लफ्रेंड हो किसी और की?टीना- गर्लफ्रेंड तो मैं संजय की हूँ मगर हम सब अच्छे दोस्त भी हैं तो सभी मेरे ब्वॉयफ्रेंड हैं. उसके बाद कभी मुझे दोबारा ऐसा मौका तो नहीं मिला, मगर मैंने अक्सर कीकू की चड्डी पर मुट्ठ मारी है. जिसमें गरीब छात्रों और बीमार लोगों को भरती करवाने पर कमीशन मिलता था.

मेरा तो लंड खड़ा हो रहा है। भाभी की एकदम सांचे में ढली हुई 38-30-38 की नशीली फिगर थी।फिर मैं भाभी के पूरे शरीर को चूमने चाटने लगा। भाभी भी काफ़ी हॉट हुई जा रही थीं।मैंने भाभी को उल्टा लेटाया और पास रखी आयिल की शीशी से तेल निकाल कर उनकी पीठ पर डाल दिया. फिर मैंने अपना लंड आंटी के मुँह में दे दिया वो पागलों की तरह लंड चूसने लगीं. थोड़ी ही देर में अनीता ने दरवाजा खोला वो एक ब्लैक नाइटी में थी और बहुत ही सेक्सी लग रही थी.

स्नेहा अभी भी अपनी चूत फैलाये हुए थी और मैं लंड को सटासट उसकी चूत की दरार में चलाये जा रहा था. तो मैं चला जाता हूँ फिर तू ही सारी रामायण सुना दे।विक्की- सॉरी यार. दिखने में मैं अच्छा-खासा हूँ।ये मेरी जिन्दगी की एक खूबसूरत कहानी है। बात तब की है.

तो मौसी बोली- तू कुछ न कर, बस ऐसे ही लेटा रह, मैं खुद ही सब कुछ कर लूँगी. राजे कमीना अभी भी सुड़क सुड़क करता हुआ उस फुव्वारे से जो निकलता वो पी जाता.

मैंने चूत को अच्छे से धोया और सूखे कपड़े से पौंछ डाली, फिर भी मेरी चूत से खुशबू आ रही थी.

इस दौरान मैं और मेरी मौसेरी बहन दिशा (बदला हुआ नाम) पति-पत्नी बनते थे.

अब मेरा शक यकीन में बदल गया कि ये दोनों मेरा ही पीछा कर रहे हैं… मैं और तेज-तेज चलने लगा, कच्चे रास्ते में ऊंचे नीचे गड़ढों में बैलेंस करना मुश्किल हो रहा था क्योंकि रास्ते में अंधेरा छाने लगा था और नहर की पटरी पर उगे घास-फूस में झींगुरों की झीं झीं की आवाजें तेज़ हो रही थीं जिससे माहौल में और भय फैलता जा रहा था. तो मैं बोला- सबीना को पता है रफीक के बारे में?सबीना बोली- हाँ मुझे पता है कि भाई लण्ड के चुस्सु भी है और गांड भी चुदवाते हैं. मेरी बहन तेज़ी के साथ बिस्तर पर से उतर गई और अपनी स्कर्ट को उसने चूतड़ों पर चढ़ा लिया.

‘क्या देख रहा है? बीयर ग्लास में डाल कर ला!’‘आपके लिए बना देता हूँ!’‘नहीं, दोनों के लिए!’‘नहीं, मैं नहीं पीता हूँ!’अंगड़ाई लेकर मैडम बोली- तो आज पी ले… और सुन सब दरवाज़े बंद कर ले, जल्दी से आ जा!मैंने पांच मिनट में बीयर ख़त्म की और बोली- खत्म हो गई, और डाल!मैं समझ गया था कि मैडम का मूड बन चुका है, मैंने भगवान को धन्यवाद कहा, बहुत दिनों के बाद चोदने को मिल सकता है. यह नज़ारा देखकर कुछ पल के लिए मैं अपने होश खो बैठा था और चाह रहा था कि संदीप मेरे ऊपर चढ़ जाए. और लंड के टोपे पर ज़ुबान फिराई।मुझे लगा मैं भाभी के मुँह में ही झड़ जाऊंगा तो मैंने उन्हें पीछे को हटाया तो वो हाथ से मुँह साफ़ करते हुई लेट गईं और टांगें खोल कर बोलीं- प्लीज एक बार मेरी चुत चाट दे न.

सही सही बोलो, क्या बोल रही हो?तो भाबी बोलीं- आप ब्लू फिल्म देख रहे हो ना?उनके मुँह से ये बात सुन कर मेरे हाथ-पैर कांपने लगे ओर मेरे मन में गुदगुदी सी होने लगी।मैंने हिम्मत करके भाबी से बोला- क्यों आपको भी देखनी है क्या.

नेहा ने हमारी पहचान उनसे करवाई तो वो तीनों हम दोनों को आँखें फाड़ फाड़ कर देखने लगे. फूफा जी पम्मी को याद करते हुए कभी मेरे होंठ चूसते तो कभी मेरे मम्मों को चूसते. इस पर ऋषिका बोली- बहुत बुरा लग रहा है या भले बनने की कोशिश कर रहे हो?रयान कुछ नहीं बोला, बस मुस्कुरा दिया.

मैंने उसको ब्रा पेंटी और नाइटी पहना कर बेड पर बैठा दिया और चुनरी से उसका मुँह ढक दिया. उसने कोई रिएक्शन नहीं दिया और पानी वाले के पास पानी की बोतल लेने लगा. ’ करने लगी।एकाएक मैंने बोला- इमेजिन करो ना कि वो बूढ़ा हमें छुपकर देख रहा है।वो बोली- नहीं.

हैलो दोस्तो… एक गांड की गे सेक्स स्टोरी भेज रहा हूँ।इस शहर में मैं चार वर्ष और रहा मैंने बी.

मैं- तो आपको मजा नहीं आता होगा?मैडम- बिल्कुल नहीं…‘आज मुझसे चुद के देखो मैडम पर आप दीवानी हो जाओगी. फिर मैंने फूफा जी के कच्छे से अपनी चूत को साफ किया और फूफा जी का सोया हुया लंड अपने मुँह में लेकर चाट चाट कर साफ करने लगी.

एक्स एक्स भोजपुरी बीएफ मैडम घर में पजामा और कुरता पहनती है, और क्लिनिक में साड़ी पहन कर जाती है. मेरे पास पहुंचते-पहुंचते उसका लंड लगभग आधा तन चुका था जो कपड़े के अंदर किसी केले की शेप जैसे लग रहा था.

एक्स एक्स भोजपुरी बीएफ राजे ने मेरे पति की तरफ देख के पूछा- क्यों मेजर साहिब… आ गया मज़ा अपनी वाइफ को मुझसे चुदवाती देख के? कोई कसर तो नहीं न रह गई?सुमित और फरीदा की आँखें हमारी तरफ ही लगी थीं, सुमित का लौड़ा खड़ा था और फरीदा उसे सहला रही थी. कुछ समय तक तो मेरा लंड खड़ा नहीं हुआ तो वो बोली- क्यों रे तू हिजड़ा तो नहीं है?मैं- नहीं यार, मुझे भी लंड पसंद हैं.

वो देखने में बहुत ही सुन्दर था और उसका जो बॉडी थी, बहुत ही अच्छी!वो मुझे देखते रहे, मैं भी उसको देखती रही.

தமிழ்நாடு காலேஜ் செக்ஸ் வீடியோ

वो मेरी बातों से और जोश में आकरमेरी चूत की चुदाईकरता जा रहा था। काफी देर बाद मेरा पानी निकल गया। मैं रिलेक्स फील करके चिल्लाने लगी- बस बस कर. सुमन- पहली बार में बहुत ज़्यादा दर्द होता होगा ना दीदी?टीना- अरे किसने कहा. तू इसे ही चोद लेना।राजू- नहीं भाभी आपकी सुन्दरता ने मुझे अपना दीवाना बना लिया है, बस आपको एक बार काका की तरह जमकर चोदना चाहता हूँ। उसके बाद आप चाहे मेरी जान भी मांग लोगी तो मैं हंसते-हंसते दे दूँगा।मोना- ये बात है.

सच कहूँ तो प्यार का अहसास उस पल जो हुआ वो तो शायद किस्मत वालों को ही नसीब होता है पर उस प्यार को हम पक्की दोस्ती ही समझ बैठे. खैर, मैंने उनकी टाँगें नीचे उतारी और टांगों को चौड़ा करके चोदने लगा और एक बार फिर जबरदस्त चुदाई करने लगा. अभी छोड़े देता हूँ।मैं उसके बगल में बैठ गया।वह फिर बोला- देखेंगे।तब तक और दोस्त आ गए, हम सब शाम को घूमने निकल गए।मेरे रूममेट का नाम सुकांत सिंह था.

शुक्रवार शाम को हमने घर में कह दिया कि हम लेट नाईट शो देखने जा रहे हैं.

यानि मैं समझ गया कि इसका लंड काफी लंबा और मोटा है जिसको मूतते समय पकड़ने की जरूरत भी नहीं पड़ती है. सुबह उन्होंने मुझे एक गिफ्ट दिया जो थोड़ा मंहगा था और उनकी सारी बातों को सीक्रेट रखने का प्रोमिस किया और बोलीं कि अगली बार वो फोन लगाएंगी. मैंने सीमा दीदी से कहा- शायद जल्दी के चक्कर में मेन गेट बंद करना ही भूल गया.

मेरे प्यारे साथियो, आप मेरी इस देसी चुत की कहानी पर कमेंट्स कर सकते हैं. ‘आहहऽऽऽ…!!! अशोक उईई अशोक मत करो मेरी फट रही है मैं नहीं झेल पाऊँगी ऊईई ईई छोड़ो!!’ कहते हुए पैर पटकने लगी थी. जब से मेरा मन आपसे चुदाई करने को तड़प रहा है। मैं आपके लंड के लिए बेकरार हो गई हूँ अंकल चोदो मुझे भी.

सुमन अब किसी रंडी की तरह बर्ताव कर रही थी, उसने पूरे पैरों को फैला दिया और चूत को मॉंटी के सामने कर दिया ताकि वो उसको आराम से चूस सके. जब वो टीना को चोद कर वापस घर आया था। उसका लंड फिर खड़ा हो गया था तब उसने पूजा की चड्डी पर मुठ मारी थी, तब कहीं उसको सुकून आया था।पूजा- मामू बताओ ना.

हालांकि उसका फोन नएम्बार मेरे पास था लेकिन मैंने उसे फोन करना ठीक नहीं समझा. संजय ने अपने हाथ छुड़ाए और पूजा को नीचे पटक कर उसके ऊपर आ गया और उसको गुदगुदी करने लगा।गुदगुदी करते हुए संजय के हाथ उसके संतरों से भी टकरा गए. मैं मोबाइल लेकर बाथरूम में गया और उसके नाम से मुठ मारी और बाहर आ गया.

थोड़ा वेट करो, संजय को फ्रेश होने दो। तब तक चलो आज सुमन को भी तो कुछ नया करना है.

’ कर रही थी। उसकी कमर बार-बार ऊपर-नीचे हो रही थी। दोनों हाथ मेरी बगल से नीचे से निकाल कर मुझे बुरी तरह जकड़े था। उसके गाल मेरे गाल से सटे थे. पूरा फर्निशड मकान कहाँ मिलता रयान को… वो ऑफिस मैं बैठा सोच ही रहा था कि कोई एक बेडरूम का किराया शेयर कर ले तो बात बन जाए!तभी ऋषिका केबिन में आई, वो बोली कि उसे तो कोई ऐसी जगह नहीं मिल पा रही जहाँ सिंगल बेड रूम और किचन हो. मैंने रफीक को बताया कि इसकी बहन सबीना बेचारी 6 महीने बिना चुदाई के रहेगी तो कहीं बाहर चुदवाने जायेगी तो बदनामी होगी तो इसने मुझे उस से सम्बन्ध बनाने को कहा और ये भी अपनी बहन की चुदाई के जलवे देखना चाहता है इसलिए ये कैमरे हर जगह छिपाकर लगवा दिए.

अपने रूम में आने के बाद मैंने छेद से देखा तो ऋतु भी अपनी जींस पहन कर पढ़ाई कर रही थी. अब हमारा रोम-रोम एक-दूसरे से मिला हुआ था और बहुत ही लय से चुदाई हो रही थी.

मुझे तो जैसे स्वर्ग मिल गया था, मैं कब से मना रही थी कि ये युवक मुझे चोद डाले. उसमें अभी वक़्त है, तू जल्दी ठीक हो जा बस।काका- अरे क्या बातें हो रही हैं. ऋतु बोली- मजा आ गया…लंड चूसने में तो मजा हैही… रस पीने का मजा भी अलग ही है.

ভোজপুরি ডিজে গান ভোজপুরি ডিজে গান

आकाश मुझे सीधा बेडरूम में ले गया और जाते ही मुझे पीछे से पकड़ कर मेरे गले पर किस करने लगा.

मैं बॉस के लंड पर पैन्ट के ऊपर से ही हाथ रख कर लंड की लम्बाई का नाप लेती जाती थी जो बढ़ता ही जा रहा था. मैं- ऐसा क्या खास है आज?जमीला- राजेश डार्लिंग, आज तेरे लिए एक सरप्राइज है, घर चलो तभी पता चलेगा. उसने मेरा लंड पकड़ लिया और खुद अपनी चूत ऊपर कर के उसमें लंड को डालने के लिए करने लगी.

मैं आपको मना नहीं करूँगी।मैंने उसकी आंखों पर अच्छी तरह से कवर को बांध दिया. मैं नीचे लेटा भी उछल रहा था, मौसी ने मेरे लुल्ले को पूरी ताकत से अपने हाथ में पकड़ा हुआ था और ज़ोर ज़ोर से मेरे लुल्ले की चमड़ी नीचे को खींच रही थी. बीएफ हिंदी दिल्लीये मुझे कैसे मालूम होगा? तो तू ही उसके लिए अच्छे कपड़े पसंद कर दे।गुलशन जी की बात सुनकर एक बार तो सुमन को गुस्सा आया कि उसको तो पहनने नहीं देते और दूसरों के लिए उसी से शॉपिंग करवा रहे हैं। फिर उसने सोचा चलो इसी बहाने वो भी मॉर्डन कपड़े पहन कर देख तो लेगी कि उस पर जमते हैं या नहीं।सुमन- ठीक है पापा.

अगर तू मुझसे वादा करे कि कुछ भी गलत नहीं करेगा तो मैं तेरे साथ इधर उधर चलने की सोचूंगी. गुलशन- सुनो अनिता, मैं कल सुबह 11 बजे आऊंगा, तब तक तुम अपना फैसला मुझे बता देना.

उसकी स्पीड बढ़ने से मेरी आवाज़ भी बढ़ गई थी, मैं जोरों से दर्द से चिल्ला रही थी और वो और ज़ोर से चोद रहा था. मगर आज वो घर पहुँचा तो उसकी मॉम और डैड जाग रहे थे जिन्हें देख कर संजय की हवा टाइट हो गई।वो सीधा अपने कमरे में चला गया। उसकी इतनी हिम्मत भी नहीं हुई कि वो कुछ पूछ सके क्योंकि वो कितना भी बिगड़ा हुआ क्यों ना हो. अब जब भीआंटी की चुतको चुदाई की तलब होती है, वो मुझे याद कर लेती है.

फिर चाची बोली- अरे अशोक ये देख, दो दो आदमी चोद रहा है एक गांड में!मैं मुस्कुरा कर जबाब दिया- हाँ चाची, देखिये न!चाची देखते हुए बोली- अशोक, कितना मजा आता होगा!मैं- हाँ चाची… बहुत मजा आता है. उन्होंने मुझे जाते देखा तो बुला लिया और मुझसे बात करने लगीं। वो इस समय बिस्तर में अधलेटी सी थीं।आंटी टीवी देखते हुए मुझसे बोलीं- कभी अपनी गर्लफ्रेंड के साथ कुछ किए हो. इस काम में लड़कियों को उम्रदराज लोगों की यौन आवश्यकताओं को पूरा करना होता था और बदले में भरपूर पैसा मिलता था.

मैंने अपने खड़े लंड को उसकी गांड के छेद के सामने लगा दिया, चाची बोली- अब धीरे से पेलना!पर मैंने एक जोरदार धक्के के साथ अपना पूरा लंड उसकी गांड में एक ही धक्के में पेल दिया.

इतनी रात को तुम्हें क्या चाहिए?ऋतु ने कहा- क्या तुम फिर से मेरी बुर चाट सकते हो जैसे कल चाटी थी. फिर उसने अपनी गीली चूत मेरे मुंह पर रख दी और मैंने भी अपना पेट उसके रस से भर लिया.

मैंने धीरे से कहा- मैं चलता हूं अब!और अपना पायजामा ऊपर करके बाहर निकल गया पर वो दोनों अभी भी एक दूसरी में व्यस्त थी. तो मैंने उससे पूछा- क्या कर सकते हो मेरे लिए?तो वो बोला- जो आप कहें!मैंने भी बिना कुछ सोचे कह दिया- ठीक है, मैं दोस्ती करूँगी पर कुछ खर्चा करना पड़ेगा!वो तो खुश होते हुए बोला- जितना बोलो उतना खर्च कर देंगे आप के लिए!मैं भी बोली- देखते हैं कितना दम है तुम्हारे में!वो बोला- दम अभी देखा कहाँ है, समय आने पर वो भी दिखा देंगे. मैंने गद्दे को सरकाया तो उसके नीचे रवि की वही ब्लैक कलर की फ्रेंची दबी हुई थी.

मैं अन्तर्वासना के उन लेखकों का सम्मान करता हूँ जो बता देते हैं कि कहानी काल्पनिक है. मेरी रंडी बहनिया, मेरी कुतिया!और ऐसा कहते हुए मैंने अपनी जीभ उसकी बुर में ठेल दी. कोई नहीं आया, सब आस-पास घूमते, घूरते पर आगे आकर पूछने की कोई हिम्मत नहीं करता। यार दूसरे की क्या कहूँ मुझे खुद को डर लगता है.

एक्स एक्स भोजपुरी बीएफ मेरा पति 7 दिन के लिए गया है, मुझे लगता है 7 दिन में तू मेरी चुत को चोद-चोद के कबाड़ा कर देगा।मैं- मेरा मन कर रहा है. लड़की जब अपने हाथों से हस्तमैथुन करती है तो कण्ट्रोल खुद उसके हाथ में रहता है वो खुद को दर्द नहीं होने देती लेकिन लंड की बात अलग होती है.

सेक्सी रानी की

डॉक्टर को भी अच्छा लगा, वह उचक उचक कर मेरे लंड की सवारी करती रही और एक बार और झड़ गई. और ऑफिस जाने का ड्रामा करना, तेरी गाड़ी जैसे ही गेट से बाहर होगी सबीना यहाँ होगी उसके आधा घण्टा बाद तुम आ जाना हम तीनों बैडरूम में चुदाई में बिजी होंगे तुम धीरे से गेट खोल कर अंदर आ जाना और बैडरूम के दरवाजे से देखते रहना और जब सबीना चुद रही हो तो तुम बिल्कुल नंगे रूम में आना और आकर ऐसा वर्ताव करना जैसे तुमने सबीना को आज ही चुदवाते देखा है. बहन की चुत में अपनी पूरे लंड को पेलने के बाद उसने मेरी बहन की चुत को पूरे तीस मिनट तक चोदा, इसके बाद मेरी बहन की चुत में अपना बीज गिराने के बाद उसने लंड को निकाला और मेरी बहन के ऊपर से हट कर अलग हुआ.

वहां पर कन्डोम के पैकेट और ब्लू फिल्म की सीडी रखी थीं जिन पर ऊपर से नंगी फोटो बनी थीं. अब दूसरी बार भी मैं झड़ने के बहुत करीब थी इसलिए मैं भी अपनी गांड फूफा जी के झटकों के साथ मिलाकर हिलाने लगी. कॉलेज गर्ल सेक्स बीएफपर आपसे एक इल्तिजा है कि आप मर्यादित भाषा में ही कमेंट्स करें क्योंकि मैं एक सेक्स स्टोरी की लेखिका हूँ, बस इस बात का ख्याल करते हुए ही सेक्स स्टोरी का आनन्द लें और कमेंट्स करें।[emailprotected]कहानी जारी है।.

पहले मैंने उसका टॉप उतारा और उसके पीछे जाकर कान को हल्के-हल्के काटने लगा.

मगर मज़ा बहुत ज़्यादा आ रहा था… मेरी गीली चूत कुछ ही देर में लंड को आसानी से अंदर बाहर करने लगी और पूरा लंड मेरी चूत में चला गया. रोज की तरह गुलशन जी चाय पी रहे थे, आज सुमन भी जल्दी उठ गई थी, वो अपने पापा के पास आई और उन्हें ‘गुड मॉर्निंग’ कहा.

चोट मार देनी चाहिए।मैं उनके पीछे से आया और उनके दोनों चूचों को पकड़ कर मसलने लगा।पहले तो उन्होंने मेरा हाथ हटाने की कोशिश की. अगले दिन ऋतु को स्कूल छोड़कर जब मैं कॉलेज गया तो मेरा मन पढ़ाई में नहीं लगा. मैंने कहा- तो मतलब? कैसे?तो उसने बताया- एक बार घर में कोई नहीं था, हमारे घर में लाइट चली गई थी और मुझे नहाना था, अँधेरे में नहाने में थोड़ी घबराहट होती है इसलिए मैंने बाथरूम का दरवाज़ा थोड़ा खुला रख लिया और मैं नहाने लगी.

कुछ देर के बाद भाभी बोल रही थीं- अब और मत तड़पाओ मेरे राजा, जल्दी से अपना लंड मेरे चूत में डाल दो.

कुछ पल और चुदाई चली और मैंने शालू से पूछा- मैं झड़ने वाला हूँ पानी किधर लेगी?शालू- अन्दर ही छोड़ दो. इसका मतलब यह नहीं कि मैं उससे जाकर बोलूँ कि वो मेरे सामने मुठ मार सकता है या नहीं. मामाजी कभी मॉम की चूत में उंगली डालते और कभी चूमते। मामाजी ने ऐसे करके मॉम के पूरे शरीर को अपनी जीभ से चाट लिया।मामाजी ने चूत में घुसेड़ने के लिए लंड को हिलाया और मॉम ने भी अपनी टाँगे फैला दीं और मामाजी को लंड घुसेड़ने का सिग्नल दिया।इस वक्त मॉम की चूत मुझे साफ़ दिख रही थी.

बीएफ कुंवारी लड़कियों काप्लीज़ टीना बुरा मत मानना मगर तुम संजय की गर्लफ्रेंड हो किसी और की?टीना- गर्लफ्रेंड तो मैं संजय की हूँ मगर हम सब अच्छे दोस्त भी हैं तो सभी मेरे ब्वॉयफ्रेंड हैं. ‘ओह चोद, मेरे हरजाई कुत्ते भाई और ज़ोर से चोद, ओह कस कर मार और ज़ोर लगा कर धक्का मार, ओह मेरा निकल जाएगा, सीईईईई, कुत्ते, और ज़ोर से चोद मुझे, बहन की बुर को चोदने वाले बहन के लौड़े हरामी, और ज़ोर से मार, अपना पूरा लंड मेरी बुर में घुसा कर चोद कुतिया के पिल्ले… सीई… ईईई मेरा निकल जाएगा.

सेक्सी व्हिडीओ पुर्ण सेक्सी व्हिडीओ

अपने कमेंट देना ना भूलें[emailprotected]पर… कृपया अपने सुझाव जरूर दें जिससे मैं अपनी ख़राब लेखनी में सुधार ला पाऊँ. मेरे पापा मम्मी को शायद इस बात की भनक पड़ गई और इसी चिंता को लेकर उन्होंने मेरी शादी करवा दी. काफी समय लगा कर मेरे लंड की सफाई पूरी करने के बाद थक कर मेरी गुड़िया बेड पर लेट गई और फिर हँसते हुए हम तीनों ने उसके साने हुए चेहरे पर अपने झड़ चुके लंड रख दिए और देर तक मजाक करते रहे.

उन्हें देख कर मैंने भी रुचिका के सर को सुलेखा के सर के बिल्कुल पास लगा कर लिटाया और पीछे से उसकी गांड उठा कर उसकी चूत पे किस करने लगा जिससे रुचिका तो बस अब गई कि तब गई वाली हालत में आ गई. फिर मैं मैडम की चूत से लंड निकाल कर कपड़े पहन कर बाहर आ गया, मैडम बेड पर लेटी रही. मुझे एक प्लान सूझा, मैंने भी पेट खराब होने का बहाना किया और शादी में नहीं गया.

पीटर भी क्या याद रखेगा कि उसने दो जंगली बिल्लियों को एक साथ सेक्स करते देखा? चल बदन पौंछ और बैडरूम में आ जा. इतने में जो लड़की बाहर रह गई थी, वो कार पार्किंग की तरफ जाने लगी मगर रास्ते में ही उसे उल्टी आ गई. मेरी तेज़ आवाज़ से सुलेखा जैसे नींद से जागी, चौंक के उसने मेरी तरफ देखा और फिर लपक के मेरे सामने फर्श पर घुटनों के बल बैठ कर लौड़े को गालों से लगा लिया.

उसके बदन की खुशबू मेरे अंदर तक जाने लगी… वो अपनी कमर से मेरे हाथ एकदम से हटाते हुए मुझे पलटा और कच्छा में खड़ा लंड मेरी गांड पर लगाते हुए पीछे से अपने दोनों हाथों से मुझे कवर करते हुए मेरी छाती पर लाकर मेरी निप्पलों को टटोलने लगा. मैंने देखा लड़की पीछे वाली सीट पर गिरी पड़ी थी, आँखें बंद… मुझे लगा अकेली लड़की, बेसुध, मैंने मौका देख कर पीछे को हाथ बढ़ाया और उसका एक बूब दबाया, नर्म, मुलायम बोबा.

अब तक गांड का दर्द कुछ कम हो गया था और अंदरूनी हौसले ने कदमों की तेजी को सहारा देते हुए उनमें जान फूंक दी थी.

हम तीनों दोस्त कपड़े पहन कर किचन में जाकर बियर पीने लगे और शानदार चुदाई को डिस्कस करना शुरू कर दिया. सेक्सी बीएफ घोड़ाअब जब भी मेरा मन गुलामी करने का या मार खाने का होता है तो उसके यहाँ चला जाता हूँ. एक्स एक्स बीएफ कॉमवो दोनों मेरे लंड को बाँसुरी की तरह बजा रही थी और मेरे लंड को अपने मुंह में रखकर दोनों ने फ्रेंच किस करना शुरू कर दिया. तो वो कुछ कन्फ्यूज हो गई।मेरे प्यारे साथियो, मेरी इस सेक्स स्टोरी का आनन्द लें और मर्यादित भाषा में ही कमेंट्स करें।[emailprotected]कहानी जारी है।.

पीटर ने हंसते हुए कहा- देख रिया, जोर आजमाइश तू कर या मैं करूं- चुदना तो तुझे ही है.

जिससे मुझे थोड़ा दर्द तो होता मगर मजा भी आता।भाई ने जैसे ही मेरी नाभि पर किस किया, मैं सिहर उठी. ! अभी तो उसे ही देख कर हम सेक्स करना सीख रहे हैं। अब तुझे भी सीखना है तो पुस्तक देख के सीख लेना। यार पर हम लोगों ने पुस्तक के सारे तरीके आजमा लिए। पर असल जिन्दगी में वैसा करना बहुत मुश्किल होता है। और पुस्तक में तो लिंग और चूत की साईज ऐसी दिखती है जो कि हमारी कल्पना से भी बाहर है। विशाल का लिंग तो उनके मुकाबले आधे से भी छोटा है। मुझे तो उस पुस्तक की तस्वीरें झूठी लगती है. उनके जाने के बाद मेरी सहेली ने मुझे सहारा देकर उठाया और मेरी चूत को क्रीम लगाकर मुझे तसल्ली दी.

हाथों में इतना अधिक सुधार देखकर मैंने एक उड़ती हुई निगाह सुलेखा के पैरों पर डाली तो मैं दंग रह गया. फिर उसने मुझे हस्त मैथुन के बारे में सब कुछ बताया, सेक्स क्या होता है, कैसे होता है, बच्चा कैसे होता है, पीरियड्स क्या होते हैं, सब समझाया, और ये भी बताया कि जब मेरे लुल्ले का दर्द बिल्कुल ठीक हो जाएगा, तब हम क्या क्या करेंगे. फिर मैंने कहा- बाबू इसको मुँह में डालो!पहले तो मना करने लगी, पर बाद में उसे मुँह में डाल कर प्यार से चूसने लगी, साथ ही धीरे-धीरे पूजा ने मेरे गोलियों को सहलाना शुरु कर दिया.

सेक्सी ट्यूशन

मोना ने चादर हटाई और गोपाल को किस करने लगी, जिससे गोपाल ने झूठ-मूट में उठने का नाटक किया. मैंने पहले सीडी चैक की, वो सब ब्लू फ़िल्म थी, देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया. पर मुझे तो उसमें मामा की जगह पापा ही सुनाई देगा।दीदी की चुदाई करके मामा और पापा एक साथ बनने की मेरी कहानी कैसी लगी?[emailprotected].

मैं जाने से दो सप्ताह पहले ही उसे रोज़ अपने साथ ले कर आऊंगी और उन दो सप्ताह में घर का सभी काम सिखा दूंगी.

उसकी चूची भी जमीला की तरह 38 इंच की, कमर 32 की और गांड तो शायद 40 की होगी.

उसने मुझे सीधे बेड रूम में चलने को कहा तथा मेरे लिए एक टेबलेट तथा पानी का गिलास लाई और कहा कि इसे खा लो. मेरे पास पहुंचते-पहुंचते उसका लंड लगभग आधा तन चुका था जो कपड़े के अंदर किसी केले की शेप जैसे लग रहा था. सेक्सी वीडियो बीएफ हिंदी आवाज वालीयह बात सुन कर मैंने लंड के झटकों की स्पीड बढ़ा दी और मैं उसकी चुत में ही झड़ गया.

’‘ओके मेरी जान!’ मैंने उसके दूध पकड़ कर उससे फिर से आने का वादा किया और सावधानी से बाहर निकल गया. साफ़ साफ़ बोल ना?’‘मेरी वेजाइना को लिक कर दो जैसे अभी किया था!’‘वेजाइना नहीं, इसे चूत कहते हैं. दोनों लड़के पूरी तन्मयता के साथ गांड का भक्काड़ा बनाने में लगे हुए थे.

अब वो मुझसे सट कर बैठ गईं और अपने बोबे मेरी बाजू से लगा कर रेडियो को देखने लगीं। मैं उनके सख़्त बोबे अपनी बाजुओं पर दबते हुए साफ़ महसूस कर रहा था. मेरे लंड ने पिचकारी मारनी शुरू कर दी और अपने सामने बैठी पूजा के मुंह पर, आँखों पर, माथे पर, नाक पर निशाने लगा-लगा कर उसका सांवला चेहरा अपने सफ़ेद वीर्य से भिगो दिया.

उसके बदन की खुशबू मेरे अंदर तक जाने लगी… वो अपनी कमर से मेरे हाथ एकदम से हटाते हुए मुझे पलटा और कच्छा में खड़ा लंड मेरी गांड पर लगाते हुए पीछे से अपने दोनों हाथों से मुझे कवर करते हुए मेरी छाती पर लाकर मेरी निप्पलों को टटोलने लगा.

मेरा काफी लम्बा और मोटा है, जैसा कि आप लोग जानते हैं कि सभी औरतें लम्बा और मोटा लंड पसंद करती हैं. मेरे को अहसाह हुआ तो मैंने उसकी तरफ देखा तो वो सकपका गई, मैंने टीवी बंद कर दिया और उससे कहा- अच्छा, ये देखते हो?और उसको अपने पास बैठने के लिए कहा और पूछा- लगता है मिस्टर रात को आकर ज़्यादा थक जाते हैं?तो वो मायूस सी हो गई. बस चुत के आस-पास हल्के से मखमली रोंए उगे हुए थे। पूजा की छोटी सी चुत एकदम फूली हुई थी और हाँ इसकी जांघें मोटी-मोटी और गांड बाहर को निकली हुई बहुत मस्त लग रही थी।ये देख कर संजय का लंड फुंफकारने लगा, उसमें आज अलग ही कड़कपन आ गया था।पूजा- क्या हुआ आ जाओ ना.

बीएफ इंडियन इंडियन शाम को भी नहीं मिलता और कॉलेज भी देरी से आता है।संजय- अरे कुछ खास नहीं, पापा ने काम में उलझा रखा है यार!सुमन- गुड मॉर्निंग फ्रेंड्स. पर उसके शहर में यह संभव नहीं था और बाहर आने जाने के समय उसके घर से कोई न कोई साथ होता था.

मुझे बहुत मजा आ रहा है… ओह भाई तुम कितना मजा दे रहे हो, ओहहह… चाटो… मेरी जान मेरे कुत्ते मेरे हरामी बालम!उससे मैंने कहा- आज तू मुझको जब तक गन्दी-गन्दी गालियाँ न बकने लगे, तब तक तेरी बुर को चचोरता रहूँगा साली. चलिए सेक्स स्टोरी के अगले पार्ट में देखते हैं।प्लीज़ आपके मेल भी मुझे अपनी इस स्टोरी पर मिलते रहने चाहिए।[emailprotected]कहानी जारी है।. ऐसे मैंने चड्डी इसलिए निकाली कि तेरे मज़ा रस से ये खराब ना हो।पूजा- वो तो ठीक है मामू मगर आपकी फुन्नी आर्यन से कितनी बड़ी और मोटी है!संजय- तूने कब देखी आर्यन की फुन्नी?पूजा- मॉम उसको नहलाती हैं.

छोटी लडकी की सेक्सी पिक्चर

मुझे मजबूरन उसको पीना पड़ा क्योंकि और कोई चारा था ही नहीं मेरे पास!उसके दोस्त नशे में धुत हो चुके थे, उन्होंने मुझे अपनी तरफ खींचा और अपनी गोद में लेटाकर मेरी गांड पर हाथ फेरने लगे, दूसरे ने मेरी पैंट निकाल दी और अंडरवियर को फाड़ दिया. उन्होंने बोला- मैं कैसी लगती हूँ तुम्हें?मैंने तुरंत बोला- बहुत ही ज्यादा अच्छी और मैं आपको पसंद भी करता हूँ. पीटर ने मुझे कुतिया की तरह खड़ा किया और बीना किसी वार्निंग सीधा अपना लंड मेरी गांड के छेद में डाला। मैं जोर से चीख उठी ‘आआआह्ह ह्ह्ह्ह आआईईई… मार डाला मादरचोद ने… उफ्फ्फ निकाल उसे कुत्ते!मेरा बदन पसीना पसीना हो गया, दर्द के मारे मेरी पेशानी पे बल पड़ गए.

‘वैसे तो भाबी माँ मैं आपकी मदद कर दूँ क्योंकि मेरे दिमाग में एक से एक खुराफाती आइडियाज आते रहते हैं क्योंकि हमारा पूरा खानदान पागलों का है, सब एक नंबर के चुदक्कड़, चूत देखी नहीं कि वहीं पेली नहीं. वो ‘ऑक्…’ करके रह गई और मुस्कुराते हुए बोली- मजा आ गया।मुझे भी अब लगने लगा कि मेरा लंड से भी कुछ बाहर आने वाला है, इस चक्कर में सुधा को जोर-जोर से चोदने लगा, सुधा भी आह-ओह करती जा रही थी, हम दोनों के शोर से मरियम की आँखें खुल गई और वो हम दोनों की चुदाई देखने लगी.

आज वो खुद इस डबल पेनेट्रेशन औरग्रुप सेक्सको एंजाय कर रही थी।विक्की ने फ्लॉरा को लंड पर बिठा लिया और एक ही बार में पूरा घुसा दिया। उधर पीछे से साहिल ने भी उसकी गांड पे लंड टिकाया और एक ही बार में पूरा लंड पेल दिया।फ्लॉरा- आह.

नहीं बेटा नींद ही नहीं आ रही है… दूसरे स्थान पर नींद नहीं आती मुझे. अब जल्दी से मेरी इस सेक्सी कहानी पर मेल लिखो।कहानी जारी है।[emailprotected]. वो बिस्तर पर मचलने लगी और अपने चूतड़ उठा-उठा कर मेरे मुंह में अपनी चूत मारने लगी.

अब मेरी जीभ मेरे होठों पर बाहर निकल आई और उसने भी भांप लिया कि मैं उसके लंड को चूसना चाहता हूँ. मैंने अपने मोबाइल की रोशनी जला ली, रोशनी में मैंने उसकी चूत को देखा. मेरी छोटी सी गुलाबी चूत फूल कर लाल हो चुकी थी और मुझ से हिला भी नहीं जा रहा था.

‘आअह्ह्ह… ओह्ह्ह्ह… मर गई!’ मैंने आदी से कहा- आराम से चूसो ना…आदी ने कहा- भाभी, आराम से ही तो चूस रहा हूँ!और जोर से मेरी चूत को काट लिया और मेरी चीख निकल पड़ी।मेरी आँखों से आँसू निकल आये मगर मेरा देवर नहीं मानने वाला था। वो अपने काम में लगा रहा.

एक्स एक्स भोजपुरी बीएफ: अगले दिन सुबह ही हमारे घर की घंटी बजी तो मैं उठ कर गेट खोलने चली गई क्योंकि उस वक़्त हम दोनों ही सो रही थी. ‘क्या हुआ गुड़िया? रुक क्यों गईं’‘बस अंकल, मैं तो आ गई जोर से… अब मेरे बस का कुछ भी नहीं है.

साला आदत से मजबूर है ये!संजय- सुनो उस साली को मैंने सुबह ही ताड़ लिया था, अच्छी तरह चुदी चुदाई है. ऊपर चढ़े हुए रुस्लान का लंड तेज धक्कों के साथ मेरी बीवी की गांड को चोद रहा था लेकिन नीचे लेते हुए चंगेज़ का लंड सिर्फ टुकर-२ चुदाई ही कर सकने में समर्थ था. इतना कहकर संजय ने अपने कपड़े निकालने शुरू कर दिए, जिसे देख पूजा भी नंगी हो गई.

कोई सूसू थोड़े था जो घिन आती, वो तो मज़ा रस था उसमें बड़ा स्वाद होता है।पूजा- सच्ची ओह मामू आप सारा अकेले पी गए.

मैं जानता था कि पूजा पहली बार चुदाई करवाने जा रही थी इसलिए मैं आराम से पूजा को किस कर रहा था, क्योंकि अब मम्मी या बहन के आने का डर भी नहीं था औऱ हमारे पास सारी रात थी इसलिए मैं भी उसे प्यार से किस करने लगा और धीरे-धीरे दूसरे हाथ से उसकी गोल और बड़ी चूची को दबाने लगा जिससे उसको हल्का दर्द भी हो रहा था और मजा भी आ रहा था. और पूजा ने भी मौके की नजाकत को समझ कर हाँ कह दी।पूजा ने अपना होमवर्क करके संजय को एक-दो बार उठाने की कोशिश की, मगर वो गहरी नींद में था सो नहीं उठा, तो पूजा भी उसके पास ही सो गई।दोस्तो, शाम तक कुछ नहीं हुआ सब अपने अपने कामों में बिज़ी थे।रात को करीब 8 बजे गुलशन जी घर आए, तब सुमन और हेमा रूम में बैठी बातें कर रही थीं।हेमा- अरे आप आज जल्दी कैसे आ गए? सब ठीक तो है ना. वो भी पूरे शवाब पर थी, मैं चूत को चूस रहा था और एक उंगली से चोदे जा रहा था.