बीएफ वीडियो सेक्सी साड़ी वाला

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो घोड़ा और आदमी

तस्वीर का शीर्षक ,

गुड नाईट बाबू: बीएफ वीडियो सेक्सी साड़ी वाला, मैंने उसे बिस्तर पर सही से लिटाया और हम 69 अवस्था में लेट गए। यह देख कर उसके दिमाग की बत्ती जल उठी और रूचि खुश होते हुए बोली- यार वाकयी में तुम स्मार्ट के साथ-साथ होशियार भी हो.

हिंदी मूव्हीज सेक्सी

वो भी मेरे लंड को चूस रही थी और कभी-कभी टट्टों पर भी जीभ मार दे रही थी।दोनों की सिसकारियों से पूरा कमरा गूँज रहा था और तभी स्नेहा ने मेरा सिर अपनी जाँघों के बीच दबाना शुरू कर दिया।मुझे लग गया कि इसका निकलने वाला है. गावरान सेक्सी मराठी व्हिडिओराधे कुछ नहीं बोला और मीरा की शर्ट के बटन खोलने लगा।एक-एक बटन के साथ राधे की धड़कनें बढ़ती जा रही थीं.

तो चलो वहाँ का हाल देख लेते हैं।राधे ज़बरदस्ती मीरा को कमरे में ले गया और बिस्तर पर बैठा दिया।मीरा- राधे क्या है ये. नैनीताल की सेक्सीहैलो मेरा नाम कनु है, मैं पेशे से डॉक्टर हूँ, मैं त्वचा-विकार, चर्म-रोग, कॉस्मेटिक सर्जरी और गुप्त रोगों से सम्बंधित बीमारियों का इलाज करता हूँ.

तो हम तीनों दोस्त एक सीट पर बैठ गए थे और वो तीनों एक तरफ बैठे थे।नियत समय से कुछ देर से हम आगरा पहुँच चुके थे.बीएफ वीडियो सेक्सी साड़ी वाला: अब हम दोनों गरम हो चुके थे। मैंने अपना हाथ उसके टॉप में घुसा दिया और उसके मस्त मम्मों को दबाने लगा।मैं एक हाथ से उसके मम्मों को दबा रहा था और दूसरे हाथ से उसकी स्कर्ट खोल रहा था।फिर मैंने उसे ज़मीन में लिटाया और उसके सारे कपड़े उतार दिए.

और अपनी बाहों में समेट लिया।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !थोड़ी देर में भाभी संभली और मुझसे दूर हो गई.पर अब भी शायद थोड़ी ये उम्मीद बाकी थी कि वो मेरी अब भी हो सकती है।मैं उसके इंच-इंच में इतना प्यार भर देना चाहता था कि चाह कर भी वो किसी और की ना हो पाए। आज मैं उसे खुद से किसी भी हाल में दूर नहीं होना चाहता था। जब-जब वो मुझे खुद थोड़ा अलग करती.

गन्ने के खेत वाली सेक्सी - बीएफ वीडियो सेक्सी साड़ी वाला

इससे मुझे भी कुछ तजुर्बा हो जाएगा।मेरी बीवी ने कुछ ज्यादा ही पी ली थी सो वो टुन्न सी हो कर बोली- तुम चाहो तो अपने जीजू के साथ सो जाओ.सात बार झड़ने के बाद उसने मुझे हटा दिया और तौलिया लपेटकर कमरे से बाहर आ गई।मैंने भी जल्दी से पैंट पहनी और उसके पीछे पार्लर वाली के कमरे में आ गया।िनादिया ने रो-रो कर अपनी चूत की हालत बताई। नादिया की बात सुनकर वो लोग भी हैरान हो गए।आधा घंटा चुदाई.

?’जीजा साली आपस में गले मिले !अविनाश ने मुझे अपने आलिंगन में लेकर प्यार से मेरी पीठ पर हाथ फेरा।‘क्या बताऊँ बिन्दू. बीएफ वीडियो सेक्सी साड़ी वाला तो उसके उठे हुए मम्मे कयामत ढा देते थे।उसकी याद में सारी रात करवटों में ही गुज़र गई।वो रविवार का दिन था.

पर शायद उसे मेरे दिल की धड़कन कभी सुनाई ही नहीं दी। इस जिस्म के अन्दर जो दिल था उसे वो कभी समझ ही नहीं पाया.

बीएफ वीडियो सेक्सी साड़ी वाला?

।तब सासूजी थोड़ा शर्मा कर बोलीं- मुझे जानना है कि ऐसी कोई विधि है कि जो करने से ज्योति और उसके पति और पास आएं और जल्द से जल्द ज्योति माँ बन जाए. इसीलिए मैं उनके पाँव के बीच में बैठ गया और अपने दोनों हाथों में बर्फ ले कर आराम से थोड़ा-थोड़ा दबाते हुए बर्फ घुमाने लगा और घुमाते-घुमाते बर्फ को उनकी गाण्ड तक ले जाने लगा।जब-जब मेरे हाथ उनकी गाण्ड तक जाते तो उनकी पैन्टी की किनारियाँ मुझे महसूस हो रही थीं।मैं अब अपने आपे से बाहर होता जा रहा था। एकदम सेक्सी चाची और मैं इस स्थिति में. अगले भाग में कहानी समाप्य है।मुझे अपने विचारों से अवगत कराने के लिए मुझे ईमेल अवश्य लिखें।[emailprotected]कहानी का अगला भाग :चूत और गांड की सीलें टूट गईं-2.

कुछ खास तो नहीं।मुझे उसकी आँखों में दिख रहा था कि वो किसी बात को लेकर परेशान है, मैंने उससे कहा- घबराओ नहीं. मेरी चूत फट न ज़ाए…उसकी चूत पूरी शेव की हुई थी।अब मैं पूरे जोश में आ गया था। उसे ज़ोर-ज़ोर से धक्के देने लगा. फिर उन्होंने अपनी झांट युक्त बुर को फैलाया… जो लसलसाहट से भर गई थी। मैंने लवड़ा चूत पर सैट करके धक्का मारा तो दो धक्के में ही पूरा लण्ड अन्दर घुस गया।आखिर उसने दो पुत्रियों को इसी भोसड़े से तो पैदा किया था.

उसने लिखा कि अन्तर्वासना पर वह मुझसे बात करना चाहती हैं।मैंने भी उत्तर लिखा कि आप जो बात करना हो स्पष्ट बोलें।प्रतिउत्तर आया कि वह एक 50 वर्ष की शादीशुदा महिला हैं और अपने पति के साथ रहती हैं. एक-दूसरे के ऊपर-नीचे पड़े हुए थे।फिर मैंने उठकर उसके गालों को किस किया और अपने कपड़े पहनने लगा।वो बोली- आज रात यहीं रुक जाओ।तो मैंने उसे अपना सूजा हुआ लंड दिखाया और जाने की मज़बूरी बताई. देख कर मेरा लवड़ा आज कुछ ज्यादा ही अकड़ गया था क्योंकि आज साथ बेबो भी थी।मैंने चन्ना के मम्मों पर अपनी जीभ फेरनी शुरू की.

उसकी सिसकारी सी छूट गई और वो मुझसे लिपटने की कोशिश करने लगी।फिर मैंने उसके होंठों को अपना निशाना बनाया और वहां भी एक सील लगा दी।अब उसका खुद की साँसों पर कोई कण्ट्रोल नहीं रह गया था. मैंने और जोर से उसे पेलना चालू कर दिया। थोड़ी देर बाद उसे मजा आने लगा और वो भी अपनी गांड उछाल कर मेरा साथ देने लगी।फिर क्या था.

अपने सुझाव देने के लिए मेरे मेल आईडी पर संपर्क कीजिएगा और इसी आईडी के माध्यम से आप मुझसे फेसबुक पर भी जुड़ सकते हैं।मेरी चुदाई की अभीप्सा की ये मदमस्त कहानी जारी रहेगी।[emailprotected].

मैंने लौड़ा पीछे खींच कर फिर से कचकचा कर पेल दिया और वो अवरोध टूट गया। मैंने लंड को बाहर निकालकर देखा तो खून के बूँदें लगी थीं।वो दर्द से तड़प रही थी.

जहाँ एक लड़का लड़की को देख कर ही पागल हो जाता है, चाची की उम्र ज्यादा ना होने की वजह से मेरा उनकी तरह आकर्षित होना स्वाभाविक था।चाची के बारे में अगर कहूँ. बहुत दर्द हो रहा है।वो झड़ चुकी थीं मेरा भी होने वाला था। मैंने तेजी से चुदाई करता रहा और एक झटके में झड़ गया… और उनके ऊपर ही लेट गया।वो मुझे चुम्बन करने लगीं और मैं भी उनको चूमता रहा था। फिर पता नहीं कब. भाभी मस्त हो रही थी और उसने अपनी टाँगें रण्डियों के जैसे फैला दीं।अब उसकी चुदासी चूत मुझे साफ़ नज़र आने लगी और मेरे लौड़े का भी बुरा हाल हो रहा था।मैंने ऊपर वाले का नाम लेकर भाभी की बुर के मुहाने पर अपना लण्ड रख कर एक तेज धक्का लगा दिया.

वो मुझसे चुदवाने के लिए बेताब हो चुकी थीं और मुझसे विधि के नाम पर चुदवाना चाहती हैं।लेकिन मेरे मुँह से सुनना चाहती थीं. मैंने भी उनकी चूत का पानी और पेशाब पिया।मैंने ऐसा इतनी बार किया कि उनकी चूत और मेरे लंड में उफान मच गया। मैंने अपनी प्यारी मौसी को हर पोज़ में चोदा और कुछ नए पोज़ में भी चोदा। हम दोनों को इतना मज़ा आ रहा था कि क्या कहूँ।हम लगातार चुदाई करके थक चुके थे। हमें पता ही नहीं चला कि कब दस दिन गुजर गए। फिर मौसा जी का फोन आया कि मैं कल आ रहा हूँ. उनको देख कर मैं तो पागल सा हो गया।मैं उसके एक निप्पल को मुँह में लेकर चूसने लगा। उसकी सांसें तेज होने लगी थीं.

वो तो सुन्न हो रखा था।मैंने उसे उठाया और बिस्तर पर ले गया और उल्टा लेटा दिया फिर उसके पेट के नीचे हाथ लगाकर उसे घोड़ी बना दिया.

मुझे लगा कि इसे जल्दी है तो मैंने उसके होंठों पर होंठ रख दिए और मस्ती से चूसने लगा, वो भी मेरा अच्छे से साथ दे रही थी, मेरे हाथ उसके कंधे को मजबूती से पकड़े हुए थे और मैंने अपना मुँह उसके मम्मों पर रख दिया।उसके ब्लाउज के ऊपर से ही जैसे मम्मों को खाने को बेताब हुआ. अपने बाथरूम में अपने लण्ड को पकड़कर आगे-पीछे हिला रहा था।मैं बड़े गौर से उसे देख रहा था कि तभी उसने मुझे देख लिया. ये क्या कर दिया तूने बुआ?’ मैं तड़प कर बोली।इसके बाद मेरी ऊँगली बुआ की चूत में वैसे ही नृत्य कर रही थी.

तुमने उसे तो कुछ भी नहीं बताई हो न? वो बेकार में ही परेशान हो जाएगी।मैं बात कर ही रहा था कि निशा वहाँ आ गई।निशा- श्वेता जी ने मुझे बताया कि कल तुम किस हाल में थे. 5 इंच मोटा है, मुझे सेक्स करने का बड़ा शौक है शुरू से ही… पर कभी मौका नहीं मिला।12 क्लास में मैंने बहुत सारी लड़कियों के नाम पर बहुत मूठ मारी थी। अब आपको ज़्यादा बोर ना करते हुए सीधा कहानी पर आता हूँ।मेरी मौसी की दो लड़कियाँ हैं, बड़ी की शादी हो चुकी है और छोटी अभी B. मेरी कहानी पसंद आई और सैकड़ों मित्रों ने मुझे पत्र लिखा। आप सबका हृदय से धन्यवाद।अपनी कहानी का उसी क्रम में आगे बढ़ाते हुए.

मैं तो बस उसे देखता ही रह गया।फिर ऐसे ही सपना के साथ उसका भी मुझसे मिलना शुरू हो गया और पूजा और मेरी कुछ सामान्य सी बातें होने लगीं।एक दिन मैंने उससे पूछा- तुम्हारा कोई ब्वॉय-फ्रेण्ड है?उसने बोला- हमारी सपना जैसी किस्मत कहाँ.

मैंने गुस्से में उसे देखा, उसने अपना सर नीचे किया और हम घर जाने लगे।मैंने बाइक खड़ी की और मैं अपने घर जाने लगा तो दीप्ति बोली- प्लीज राहुल हमारे घर चलो. मेरी यह मज़ाक वाली आदत उनकी गर्ल-फ्रेंड्स को भी पता थी। धीरे-धीरे वो भी मुझसे कभी बात करने लगी थीं। उन्होंने मेरा फोन नम्बर भी ले लिया था, जब भी उनकी लड़ाई होती.

बीएफ वीडियो सेक्सी साड़ी वाला हम दोनों एक-दूसरे को बहुत प्यार करेंगे। कभी कोई कमी महसूस नहीं होने देंगे। मुझे बहुत अच्छा लग रहा था। मैं बड़ी हूँ. ये तो चुदाई करने वाले ही अच्छी तरह बता सकते हैं।दोस्तो, उम्मीद है कि आप को मेरी कहानी पसंद आ रही होगी.

बीएफ वीडियो सेक्सी साड़ी वाला ? मैंने सुना था कभी कि बांटने से दर्द हल्का होता होता है।मैंने उससे कहा- कभी मैंने भी किसी को चाहा था. मैं अपना नाम नहीं बताना चाहता हूँ। मुझे आपके कमेंट्स का भी कोई इन्तजार नहीं है हालांकि मेरे मन में था सो मैंने आप सभी को बता दिया है.

उसका गोरा बदन और मस्त फिगर मुझे मदहोश कर रहा था। अब उसने भी मेरे कपड़े उतार दिए और मेरा 7″ का लंड हाथ में लेकर आगे-पीछे करने लगी।मैंने उसको मुँह में लेने को कहा.

सपना बीएफ सेक्सी

मैं रुक गया।वो उठी और फ्रिज के पास जाकर फ्रिज में से स्लाइस की एक बोतल निकाल लाई और वो बोतल उसने मुझे देकर कहा- आज मैं अपनी जिन्दगी का फुल एंजाय करना चाहती हूँ. तो वहीं काली अँधेरी रात भी होती है।’जिसने इस रात में हौसला बनाए रखा उसकी नईया पार और जिसने हौसला खो दिया. उनकी तो चीख ही निकल पड़ी और आखों में हल्के आंसू आ गए। वो मेरे लण्ड की ठोकर से एकदम से उछल पड़ी थीं, फिर एक-दो पलों बाद वो बोलीं- धीरे-धीरे छूट चूत चुदाई की रफ़्तार बढ़ाना.

हैलो मेरा नाम कनु है, मैं पेशे से डॉक्टर हूँ, मैं त्वचा-विकार, चर्म-रोग, कॉस्मेटिक सर्जरी और गुप्त रोगों से सम्बंधित बीमारियों का इलाज करता हूँ. तो लोअर के साथ जांघिया भी घुटने तक आ गया।इससे मेरा लौड़ा खुल कर सामने आ गया। उन्होंने मेरे झाँटों से भरे लंड देख लिया और वो मुस्करा दीं। मुझे शर्म सी आने लगी. पर डर रही हैं। मैं उन्हें खींचते हुए सामने बाथरूम में ले गया। दरवाजा बंद करके उन्हें बाहों में भर लिया और बोला- मेरी गर्ल फ्रेण्ड बनोगी भाभी.

उसका ब्वॉयफ्रेंड ने मुझे धक्का दे दिया। मेरा गुस्सा अब सातवें आसमान पे था। मैंने पास में रखा माइक उसके सर पर दे मारा।मेरा इतना करना था कि वहाँ खड़े कुछ लोग मुझे उनसे दूर करने की कोशिश करने लग गए।मैं अब तक जोर-जोर से चिल्ला रहा था- अब दिखा न साली.

क्योंकि आज उनकी सास का फोन आया था और अगले हफ्ते उसे ले जाने की बात कर रही थीं, लेकिन…लेकिन” कह कर सासूजी चुप हो गईं. मैं एक शरीफ बच्चे की तरह तृषा पर ध्यान न देते हुए सीधा आंटी की ओर मिठाईयों का डब्बा लेकर चला गया।मैं- आंटी जी ये मिठाई. मेरी टी-शर्ट में पीछे से हाथ डाल दिया और दूसरे हाथ से मेरे बाल पकड़ लिए।मेरा सर पीछे की ओर हो गया। दीदी ने पहले मेरे सर को बड़े प्यार से चूमा। फिर मेरी दोनों आँखों को बारी-बारी से चूमा… फिर वे मेरे गालों को चूमने लगीं।उन्होंने मेरे कान को चूमा और मेरे कान में अपनी जीभ डाली.

तो उसने ही अपने कबूतरों को आज़ाद कर दिया। अब मैं जोर-जोर से उसके निप्पल चूसने लगा, दीप्ति चुदास से गरम हो गई थी. क्योंकि उस वक्त मेरे लण्ड का बुरा हाल था वो चूत चुदाई चाह रहा था।मैं उनकी पारदर्शी नाईटी में से उनके चूचुक और बड़ी-बड़ी गोरी जांघें. तो उसने देखा कि पूरा बिस्तर खून से रंगा हुआ है। इसे देख कर वो डर गई तो मैंने समझाया कि पहली बार ऐसा ही होता है।उस रात हम दोनों रात भर नहीं सोए और मैंने उसे दो बार और चोदा।उस रात बहुत मज़ा आया था.

पीनी है क्या अभी? वो भी दिन में?उसके जवाब ने मुझे उसकी ओर और अधिक आकर्षित किया- जब तुझे चोदने आए हैं. कि आज वो एक कहानी बन गई।हुआ यूँ कि अब मैंने मम्मी को पहले रांची छोड़ने के बाद बुआ के यहाँ जाना तय कर लिया और रांची पहुँच भी गया।पर वो कहते हैं कि नियति जो एक बार खेल रच देती है.

उसे साफ़ करते-करते ही मैंने उसे फिर से गरम करना चालू कर दिया।उसने मेरा लंड हाथ में लेकर उसकी मुठ मारना शुरू कर दिया और फिर मुँह में लेकर लौड़े को चूसने लगी। मैंने उसकी गर्दन को पकड़ कर पूरा लंड डालना चाहा. प्रिय पाठको, अब तक आपने पढ़ा था कि मेरे पति के 15 दिनों के लिए बाहर चले जाने से मुझे बहुत ही चुदास चढ़ने लगी थी। पन्द्रह दिनों के बाद जैसे ही मेरे पति विलास घर वापस आए तो हम दोनों तो जैसे एक-दूसरे में घुस जाने जैसा व्यवहार करने लगे थे. फिर 4 बजे की बस से रोहतक वापिस आ गए। वापसी में बस में फिर से हमने एक-दूसरे को छेड़कर पानी निकाला।पूजा को चोदने में बहुत मज़ा आया दोस्तों.

मैं हमेशा दीप्ति को देखता रहता था।एक दिन मैं पूरे जोश के साथ दीप्ति के पास गया और बोला- मुझे तुम बहुत पसंद हो।दीप्ति बोली- तुम कौन सी क्लास में हो?मैंने कहा- 9 वीं कक्षा में.

लेकिन यह सब मेरे मुँह से सुनना चाहती थीं।इस तरह मैंने चाची सास को दासी बनाने के लिए तैयार किया और मन ही मन खुश हुआ कि अब तो सासूजी मेरी दासी हैं तो मैं उनसे कुछ भी करवा सकता हूँ।लेकिन फिर भी मैं दिल से तो यही चाहता था कि सासूजी अपने मुँह से मुझे चुदाई का न्यौता दें. वो मुझसे चुदवाने के लिए बेताब हो चुकी थीं और मुझसे विधि के नाम पर चुदवाना चाहती हैं।लेकिन मेरे मुँह से सुनना चाहती थीं. तुम्हारे जैसा प्यार करने वाला नसीब वालों को ही मिलता है।इतना कहते ही वो रोने लगी।मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था। मैं उसे चुप कराने की कोशिश कर रहा था.

पुनीत निहारिका को छोड़ने चला गया।तब राहुल से मैंने कहा- यार निहारिका थोड़ी बड़ी नहीं लगती?राहुल ने भी ‘हाँ’ कहा और फिर मैंने भी कह दिया- मुझे तो पूरी चुदक्कड़ सी लगती है. पर मैं भी छोड़ने वाला नहीं था, मैं उसके निप्पल चूसने लगा और थोड़ी देर में उसे भी मजा आने लगा। अब वो अपनी गाण्ड उछाल-उछाल कर मेरा साथ देने लगी।ऐसे करते-करते हम दोनों झड़ गए।मैंने अपना माल दीप्ति की चूत में छोड़ दिया.

इसलिए मैंने मना कर दिया।उसे फिर गुस्सा आ गया और मुझे जोर से चाँटा मारा, फिर मैंने डर के मारे उसका मोटा लण्ड चूसना शुरू कर दिया।तब उसके दोस्तों ने भी अपने कपड़े उतारे। अब वो एक साथ बैठ गए. मैं उसकी चूचियों और होंठों को चूसने लगा।जब वो कुछ सामान्य हुई तो मैंने फिर से चोदना शुरू किया। मेरा लंड पिस्टन की भाँति चूत में सटासट चल रहा था।इस कड़ाके की ठंडी में भी उसके माथे पर पसीने की बूँदें चुहचुहा आई थीं।जब मैं झड़ने वाला था. मैं तो उनके इस सौंदर्य को देखकर स्तब्ध सा रह गया था।तभी उन्होंने चैन की सांस लेते हुए आँखें खोलीं और मुझे अपने में खोया हुआ पाया।तो उन्होंने मेरे लौड़े को मसलते हुए बोला- राहुल मेरी जान.

बीएफ सेक्स करने वाला वीडियो

तो वो बोली- इतना भी क्या बेसबर हो रहे हो?तो मैंने कहा- तेरी जवानी को चखने में मुझसे कंट्रोल नहीं हो रहा है।उसने मेरे हाथ को पकड़ कर अपनी ओर खींचा और मेरे होंठों पर अपने होंठों से चुम्बन किया।हम दोनों के होंठ चिपके ही रहे.

मैंने फ़ौरन उन्हें ‘हाँ’ कह दिया।जब मैं सिलिंडर उठाकर रसोई में लाया तो चूँकि जिम से तुरंत लौटने की वजह से मेरे डोले बहुत ही फूल गए थे तो उन्होंने मेरी बांहों पर हाथ लगाकर देखा और कहा- वाह तुम्हारे डोले तो वाकयी बहुत शानदार हो गए हैं. फिर उसने भी एक-एक करके मेरे भी सभी कपड़े निकाल दिए।हम दोनों इस वक्त पूर्ण प्राकर्तिक सौंदर्य यानि की नग्न अवस्था में एक-दूसरे को देख रहे थे। उसकी आँखें आधी ही खुली थीं. उसने अपनी टाँगें फैला ली थीं और उसका लौड़ा कुतुबमीनार की तरह सीधा खड़ा होकर मीरा को सलामी दे रहा था।काफ़ी देर तक मीरा लौड़े को एकटक देखती रही.

मैं बस ऊपर वाले का शुक्रिया किया और उनके पास जाकर बैठ गया।आसिफ़ ने मेरी शर्ट के ऊपर से ही मेरे छोटे-छोटे दूधों को दबाने लगा. ओह्ह…उन्होंने यह सब कहते हुए अपनी एक ऊँगली मेरी चूत में घुसा दी।मैं उहह” कर उठी और बोली- साले लण्ड डालो. इंडियन कार्टून सेक्सीहैलो दोस्तो, आपका बहुत-बहुत शुक्रिया कि आप लोगों ने मेरी पहली कहानी को पसंद किया और आपने ढेर सारे मेल भी किए.

तब मेरी उम्र 18 साल की थी। जबकि मेरी फुफेरी बहन सिम्मी एक जवान माल थी और फाईनल साल में पढ़ रही थी।उसका फिगर बहुत ही सेक्सी था। वो बहुत स्लिम थी. वो सविता ने अब्दुल्लाह को खिला दिया।एक दिन के लंड ने सविता और मेरी दोस्ती को तितर-बितर कर दिया।खैर छोड़िए… लंड साली चीज़ ही ऐसी है.

बस पल भर में अर्जुन का हाथ पैंटी के ऊपर पहुँच गया और नीचे के उभार को लाल पेंटी में से महसूस करने लगा. जबकि मैं पसीने-पसीने हो गई।तो मैं बोला- जान तुम्हारा डिस्चार्ज हो गया है और मेरा अभी नहीं हुआ है और असली मज़ा डिस्चार्ज होने के बाद ही आता है।उसने झट से बिना कुछ बोले- मेरे लण्ड को पकड़ा और दबा कर बोली- अच्छा. वो मेरे ऊपर से होते हुए आगे आ गई।अब मैं उसके पीछे चिपका सा उसके सर के ऊपर से देखने लगा।मेरा बायाँ हाथ उसके सर के नीचे तथा दायाँ हाथ उसके बगल से होते हुए सीने के आगे लगे बस की छड़ को थामे हुए था।बस अपनी पूरी गति से लहराते हुए चली जा रही थी और हम हौले-हौले हिचकोले खा रहे थे।हर हिचकोले पर इधर मैं उसकी पीठ से लगता और वो आगे को लचक जाती.

भाभी ने हल्के लाल रंग का डिजाइनर सूट पहना था।वैसे तो वह हमेशा ही सुन्दर लगती हैं क्योंकि वह है ही सुन्दर. पर धोती की चुन्नटों के चलते दिखाई नहीं दे रहा था।मुझे लग रहा था कि सासूजी भी शायद चुदासी थीं क्योंकि उनके चूचुक सख़्त हो चुके थे और ब्लाउज के कपड़े से साफ़ दिख रहे थे।आज कहानी को इधर ही विराम दे रहा हूँ। आपकी मदभरी टिप्पणियों के लिए उत्सुक हूँ। मेरी ईमेल पर आपके विचारों का स्वागत है।. फिर उसने मेरी पैन्ट भी उतार दी। मेरा लंड तो निक्कर फाड़ कर बाहर आने की कोशिश कर रहा था। लौड़े के अकड़ने के कारण निक्कर टेंट की तरह हो गया था। उसने मेरा लंड निक्कर में से बाहर निकाला.

उतने में पुनीत आ गया।अब बारी थी उससे पूछने की कि क्या-क्या हुआ?उसने बताया- उसने तो मेरा लौड़ा फाड़ने को रख दिया था।ऊपर से चुदाई का मूड भी था। कोई 5 मिनट तक चुम्बन करने के बाद दोनों ने कपड़े उतारे और निहारिका को खूब गरम किया।पुनीत ने बताना शुरू किया कि जैसे ही कमरे में गए.

आपका लौड़ा बहुत मस्त है अंकल…इतना सुनते ही वो मुस्करा दिए और बोले- मैं ही निकी की चूत का बाजा बजाऊँगा… कम ऑन फ्रेंड्स. हमारे इस ग्रुप में लड़कियां और लड़के सभी थे। हम सब लाइफ को अच्छे से एंजाय करते, कई लड़कियाँ मुझसे कभी-कभी फ्लर्ट भी किया करती थीं।एक बार हमारे ग्रुप में एक लड़की आई उसका नाम मेघा था उसे देखते ही मैं उसका दीवाना हो गया, मैं हमेशा उसी के पास ही बना रहता था।एक बार हम सब पिकनिक पर गए.

मैंने सीमा की गाण्ड में ही अपना वीर्य छोड़ दिया और मेरे लंड महाराज जी छोटे से हो कर बाहर निकल आए। मैं भी थक कर उसके बगल में लेट गया, वह मुझ से चिपक गई।यह एक यादगार सेक्स था. और इसी वजह से वो एक साथ दो लड़कियों से प्यार कर बैठता है। वो भी दोनों सगी बहनें।उसके सच्चे प्यार की वजह से दोनों लड़कियाँ भी उसे अपना दिल दे बैठती हैं. अभी भी उसमें थोड़ी बियर बाकी थी। वो उठा और मीरा के पैरों को अपने कन्धों पर रखा। अब वो बियर चूत पर डाल कर चाटने लगा।मीरा- आह्ह.

तो बहुत ही मुलायम लगा।अब तो बार-बार मैं वहीं पर दबा रहा था।मेरे मन में आया कि क्यों ना मैं भी मौसी को तेल लगा दूँ. हाय जान… मैं जानती हूँ मेरे लास्ट कॉन्फेशन के बाद तुम भी यह जानने के लिए बेक़रार हो कि आखिर दरवाजे पर कौन था।मैं और मोहित इंटिमेशन के पीक पर थे, हम दोनों न्यूड चादर में लिपटे मॉन करते हुए एक दूसरे के गर्म शरीर को महसूस कर रहे थे। अचानक बैडरूम का दरवाज़े खोलकर कोई ग़ुस्से में अंदर आया।यू नो व्हाट… वो जैकी था। मेरा बॉयफ्रेंड. और ज़ोर से निचोड़ मेरे मम्मे… चटनी बना दे कमीने… हाँ हाँ हाँ हाँ हाँ… आअह आअह आअह… हाय मैं क्या करूँ…बता न बहन चोद…साले माँ चोद दे आज अपनी रीना रानी की….

बीएफ वीडियो सेक्सी साड़ी वाला मैं उनके पाँव के करीब नीचे ज़मीन पर तेल लेकर बैठ गया और उनका एक पाँव अपने पाँव पर रखा और उनके पाँव के तलवों पर तेल लगाने लगा। फिर मैं उनके पाँव की ऊँगलियों पर तेल लगाने लगा।सासूजी को बहुत शर्म सी लग रही थी. मीरा स्कूल चली गई और राधे कमरे में पड़ा रहा। उधर अपना नीरज भी स्कूल के सामने खड़ा हो गया।आज भी दोनों लड़कियाँ उसको देख कर उसकी बातें करती हुई निकल गईं।दोस्तो, एक-दो दिन ये सिलसिला चलता रहा रविवार को छुट्टी का दिन था तो राधे और मीरा ने खूब मस्ती की.

सेक्सी चूत लंड की बीएफ

उसने अपनी टाँगें फैला ली थीं और उसका लौड़ा कुतुबमीनार की तरह सीधा खड़ा होकर मीरा को सलामी दे रहा था।काफ़ी देर तक मीरा लौड़े को एकटक देखती रही. पलक गहरी नींद में होने के कारण उसका स्कर्ट घुटने से पूरी ऊपर उठ चुकी थी… मैं उसकी नंगी टांगें देखता ही रह गया. अब उसने मेरी कलाई को हल्के से पकड़ लिया और दूसरे हाथ से मेरा हाथ सहलाने लगा।मेरे दिमाग ने काम करना बंद कर दिया था… और मेरा सारा ध्यान मेरे अन्दर होने वाली हलचल पर हो गया था।पिछली बार पीछे खिसकने से जो रगड़ लगी थी.

दिल बाग़-बाग़ हो गया।उस दिन हमने 3 बार चुदाई की और ये चुदाई का दौर एक साल तक चला।इस एक साल में मैंने उसकी बुआ की लड़की को भी चोदा. जब तक उसका लौड़ा झड़ नहीं गया।हालांकि उसका मोटा लण्ड मेरी छोटी सी गाण्ड के छिद्र में प्रवेश नहीं कर सका था फिर भी 4 दिन शौच करने में बहुत तकलीफ हुई।अब मैं उसके पास नहीं सोता था। फिर कुछ दिनों बाद उन्हें कंपनी की तरफ से कॉलोनी में घर मिल गया. सेक्सी वीडियो बीफमैंने सोचा अगर चाचा जी का वीर्य इतना मस्त है तो चाचा जी का लंड भी बड़ा मस्त होगा और चाचा जी भी मुझे चोदना चाहते हैं तो क्यों ना उनके साथ चुदाई करके खूब आनन्द ले लिया जाए।बस अब एक इशारा बाकी था.

उन्हें बस चूमने का, चूत चुदाई मन कर रहा था।उनके चूतड़ों के बड़े होने के कारण पैन्टी चूतड़ों के बीच में घुस गई थी और थोड़ी पसीने से गीली भी थी। यह सब देख कर मेरा लण्ड एकदम कड़ा हो गया था और मैं उसे पैन्ट से निकाल कर सहलाने लगा।उनका पेट बहुत ही चिकना था और नाभि सुंदर और खूबसूरत थी.

राधे का लौड़ा ‘घपा-घप’ अन्दर-बाहर होने लगा और मीरा भी पूरे मजे लेकर चुदने लगी।करीब 15 मिनट के घमासान युद्ध के बाद दोनों ढेर हो गए. तो मैं उसको अपनी बाँहों में उठाकर उसके बेडरूम में ले गया जहाँ उसने एसी ऑन करके पूरी कूलिंग पर कर दिया.

अब हम दोनों नंगे खड़े थे।मैंने उससे कहा- तुम बहुत खूबसूरत हो और मैं तुम्हें बहुत दिनों से चोदना चाहता हूँ।उसने भी कहा- चुदवाना तो मैं भी चाहती थी. पर लंड बड़ा होने के कारण भाभी के मुँह में सिर्फ आधा लंड ही जा पा रहा था।मैंने कहा- भाभी आप तो सोनम से भी ज्यादा हॉट हो. फिर कोई 15 मिनट के बाद मैं और बेबो दोनों ही खल्लास हो गए।फिर मेरी चन्ना मेरे पास आई बोली- क्यों मेरे शेर तैयार हो.

और कामाग्नि में पूरी तरह डूब कर मेरे वशीभूत हो चुकी थी।कुछ ही पलों के बाद वो सिर्फ़ पैन्टी और ब्रा में बची थी और उसके बालों से गिरता पानी.

मुझे हर मज़े का अहसास करना है।मैंने रफ़्तार बढ़ा कर चूत में ही पिचकारी छोड़ दी और उसके ऊपर लेट गया।थोड़ी देर बाद मैं उठा. आदमी हूँ मशीन थोड़ी ना हूँ।मैं बोली- अभी पीछे से भी तो करवाना है मुझे तुमसे… इसलिए खड़ा कर रही थी।वो गुस्से में आँखे चुराता हुआ बोला- नहीं बस हो गया… वैसे भी मैं लंच में आया हूँ, मुझे फिर से ऑफिस जाना है पेसिफिक मॉल में ही जॉब है मेरी।मेरा मूड ख़राब हो गया. तब दीपिका ने मुझे बताया- मेरी पूजा से बात हो चुकी है और पूजा भी तुमसे चुदने के लिए तैयार है। तुम कमरे में पहुँचो, मैं आती हूँ।आज मुझे ऐसा लगा कि जैसे पहली बार किसी ने ऐसा गिफ्ट दिया हो।जब मैं कमरे की तरफ गया तो कमरे का दरवाज़ा खुला ही था… और पूजा बिस्तर पर बैठी थी।मैं बेधड़क अन्दर गया और उसके पास बैठ गया।‘हाय.

चूत लंड की ब्लू फिल्म सेक्सीमैं- मुझे तो खुद भी नहीं मालूम कि मैं किसी को दिखता भी हूँ या नहीं।मैं अब तक तृषा को ही देख रहा था।वो मेरी नज़रों को भांपते हुए बोली- आशिक लगते हो।मैं- मुझे तो खुद नहीं पता कि मैं क्या हूँ. सहलाता… मसलता रहा और दाहिने हाथ को नीचे लाते हुए उसकी स्कर्ट को सरका दिया।फिर उसकी जाँघों के बीच की संधि स्थल को छुआ, जिसे बुर.

सारी सेक्स बीएफ

मेरी पैन्ट फूलकर कुप्पा हो गई। मैं रसोई में उसके पीछे से चला गया और धीरे से सर उठा कर चाय के पैन की ओर देखने लगा. उन्होंने लड़का भी देख लिया है।मैं उसको सुन ही रहा था कि उसने मुझे कहा- तुम मुझे यहाँ से भगा कर ले जाओ।लेकिन मैं अभी शादी करने या उसे भगाने तो क्या. तो गजब हो जाएगा।राधे अंगड़ाई लेता हुआ उठा और मीरा को देख कर मुस्कुराने लगा।मीरा- जाओ ममता को जवाब दो.

और अपने कमरे में भाग गई और वहाँ से मुस्कुराने लगी।अगले दिन वो मुझे फिर छेड़ने लगी।मैंने कहा- भाभी मुझे बार-बार मत छेड़ा करो. क्योंकि अंजना और मेरे दोस्त के बीच में मैं और दूसरा दोस्त कवाब में हड्डी बने थे।इसलिए अंजना भी इस बात के लिए आराम से मान गई।अब सुबह हमारे साथ डॉली भी दौड़ने जाने लगी।दोनों दोस्त और अंजना तीनों दौड़ते थे. उसकी इमेज खराब हो जाएगी। मेरा तो मन करता है कि तुम सबकी जान ले लूँ।मैं- अभी भी जान लेने में कोई कसर बाकी रह गई है क्या?तृषा- तुम अब तक नहीं बदले। मुझ पर एक एहसान कर दो….

उसके कपड़े निकाल दिए और उसने मेरे उतार दिए।फिर भूखे शेरों की तरह हम दोनों एक-दूसरे के ऊपर चढ़ गए। उसके बड़े-बड़े मम्मे मुँह में आम की तरह दबा कर चूसने लगा और वो बोले जा रही थी- जान. और साथ ही सिसकारियां भी ले रही थी।तभी बाहर से कुछ आवाज़ आई और हम अलग होकर फिर पढ़ने लगे।उसका बाप आया था. फिर बेडरूम में चलते हैं।मैंने जल्दी से चाय खत्म की और वो मुझे बेडरूम में ले जाने के लिए उठी। मैं उसके पीछे-पीछे चल दिया.

पर मैं उत्तेजना के सागर में डूबा हुआ था और एक अजीब सा नशा छा रहा था।मुझे अब लगने लगा था कि मैं झड़ जाऊँगा. देखा तो विलास अलमारी से व्हिस्की की बोतल निकाल कर पैग मार रहे थे।उसने मुझको आँखों से इशारा करके कुछ खाने के लिए लाने को कहा.

तेल निकाल कर मैंने शीतल की चूत में अन्दर तक ऊँगली डाल कर खूब अच्छे से लगा दिया।फिर अपने 7 इंच के कड़क औजार पर तेल लगाया।मैंने शीतल की दोनों टाँगें चौड़ी करके उनके बीच में आ गया.

मुझे उनका खड़ा लण्ड छू कर बड़ा मजा आया। मैंने लंगोट को थोड़ा सा खिसका कर लण्ड को हाथ में लेकर आगे-पीछे करने लगा।उन्होंने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी. राजा पिक्चर सेक्सीउसकी गाण्ड काफी कसी हुई थी और लंड फंसता सा अन्दर जा रहा था।मेरे लंड में भी तनाव आता चला गया और मैंने जोर से चोदना शुरू किया. शिल्पा शिरोडकर सेक्सी वीडियोसासूजी ने अपनी आँखें बंद कर रखी थीं। वो ये सब बर्दाश्त कर रही थीं और मुझे अपने मन मर्ज़ी करने का मौका मिल रहा थाफिर मैंने सासूजी की साड़ी को घुटनों तक ऊँची उठाई. वो मुझसे चुदवाने के लिए बेताब हो चुकी थीं और मुझसे विधि के नाम पर चुदवाना चाहती हैं।लेकिन मेरे मुँह से सुनना चाहती थीं.

तो उसने ही अपने कबूतरों को आज़ाद कर दिया। अब मैं जोर-जोर से उसके निप्पल चूसने लगा, दीप्ति चुदास से गरम हो गई थी.

चाची फोरप्ले में ही झड़ चुकी थीं।मैंने उनके मुँह में अपना लण्ड लगा दिया वो ‘गप्प’ से मुँह में पूरे लौड़े को ले गईं. वरना ज़्यादा जलन होगी।तो मैंने कहा- नहीं मैं साफ कर लूँगा।पर उन्होंने ज़िद करते हुए मेरा हाथ पकड़ लिया और बोलीं- यह सब मेरी वजह से ही हुआ है. यह कहकर में घर आ गया।थोड़ी देर में दीप्ति मेरे घर पर आई, उस वक्त हमारे घर में मेरे अलावा और कोई नहीं था।मुझे गुस्से में देखकर वो मेरे पास आई, मेरे बालों में हाथ फेरा और फिर मेरे गाल पर चुम्मी ली और बोली- मेरे प्यारे दोस्त.

और मैं पूना से नौकरी छोड़ कर नोएडा (उ:प्र) में आ गया था। मुझे यहाँ एक अच्छी नौकरी मिल गई थी। आपको बताना चाहता हूँ कि मैं सेक्स का सुल्तान हूँ और अपनी मलिकाओं की पूजा करता हूँ। चूंकि मेरे लण्ड का साईज 7″ लम्बा और 3″ मोटा है. जिससे मेरा जिस्म नवयुवतियों और महिलाओं को पहली बार में ही लुभा लेता है।यह बात सिर्फ़ एक साल पुरानी है. ’ की आवाजें आ रही थीं।मैं उसकी मादक सीत्कारें सुन कर और जोर से उन आमों को चूसने की कोशिश करता।मैंने अपनी टी-शर्ट उतार फेंकी और उस के साथ चिपक कर उसको बेतहाशा चूमने लगा। उसके हाथ मेरी पीठ पर चल रहे थे.

बीएफ सेक्सी फिल्म भेज दो

तो फिर कुछ भी मुमकिन है।अब्दुल्लाह ने भी फुर्ती दिखाई और फट से सविता के बालों को पीछे से पकड़ा और उसका मुँह केक में घुसा दिया।उधर मेरे और पीटर के दिमाग में कुछ और ही खुराफात चल रही थी।हमने मुट्ठी से केक उठाया और सविता की साड़ी के अन्दर हाथ घुसा कर उसकी चूत और गांड में केक घुसा दिया।जैसे ही हमने हाथ घुसाया. उसने सारा रस पी लिया और मेरी तरफ अपनी चूत कर दी।उस दिन पहली बार मुझे नंगी चूत के दर्शन हुए। मैंने मन में सोचा- ये है वो करामती छेद. कृपया हमें अपनी चरणों में थोड़ी जगह दे दें। हमारी तो तकदीर ही संवर जाएगी।ज्योति ने उसी अंदाज़ में- मैं हर रोज़ आपके पैर दबा दिया करूँगी।तृष्णा- और जब आप थक कर घर आयेंगे.

तो वो तिलमिला कर खड़ी हो गई।मैं जल्दी से बाहर निकल गया और 2 घंटे बाद वापस आया।मैं तो डर ही गया था कि कहीं अगर उन्होंने शिकायत कर दी तो बात घर तक जाएगी.

तो उसने मना कर दिया और कहा- तुझे अपने फंक्शन में रुकना जरूरी है।मैंने उससे पूछा भी कि घर पर तेरे मॉम-डैड नहीं हैं क्या?तो उसने मुझे बताया कि वो कल ही बालाजी के मंदिर घूमने गए हुए हैं.

मेरी वाइफ अपनी माँ के घर गई हुई थी और मेरी मम्मी और बहन मार्किट गई थीं।मैंने जल्दी से उसके SMS किया- मैं घर पर अकेला हूँ. मैं मन ही मन बहुत खुश हो गया कि चलो अपने आप ही मेरा काम आसान हो गया।मैंने तुरंत ही खड़े होकर अपने लोअर को नीचे खिसकाकर अपने शरीर से अलग कर दिया. सेक्सी फुल एचडी वीडियो सॉन्गमुझे लगा था तुम्हें मुझसे हमदर्दी हुई है और इसलिए तुमने मुझे यहाँ बुलाया है।प्रिय साथियों कहानी को विराम दे रहा हूँ.

मैं 3 बोतल पी कर गाड़ी में ही सो गया।मैं तीन घंटे बाद उठा तो देखा तीनों लंच पर मेरा इन्तजार कर रहे थे. मैंने भी उनके आमों को खूब चूसा और चूस-चूस कर उनके चूचे लाल कर दिए। चाची इतनी गोरी थीं कि चूचों पर निशान साफ़ दिखाई दे रहे थे।फिर मैंने चाची की चूत को चूसना शुरू किया और उन्होंने मेरा लण्ड चूस कर लौड़े को फिर से खड़ा कर दिया. मैंने यह सब नोटिस कर लिया और सोचा कि यही सही मौका है, लोहा गर्म है हथोड़ा मार देना चाहिए।मैंने उससे पूछा कि तुमने कभी पॉर्न मूवीस देखी है?उसने थोड़ी देर तो कुछ नहीं बोला, चुपचाप लेटी रही तो मैंने उसके पेटपरहाथ रख दिया.

अपने सारे कपड़े खोल दिए और साइड में फेंक दिए।अब कूड़े वाला मेरे ऊपर चढ़ा और पैन्ट को खोलकर पॉटी करने की स्टाइल में अपनी गाण्ड को मेरे मुँह के ऊपर रखा और बोला- चाट इसे. सो मैंने झट से बोला- जरूर अंकल।तभी वो अन्दर गए और अपने हाथ में कुछ किताबें ले आए और बोले- देखो इन्हें.

जिसे वो पीना तो नहीं चाहती थीं लेकिन मैंने उसे जबरदस्ती पिलाया।इसके बाद मैंने उन्हें दस दिनों तक इतनी बार चोदा.

करीब 5 मिनट के बाद मेरा हाथ मौसी के शरीर पर रेंगने लगा और मैंने उनकी नाईटी ऊपर तक उठा दी और उनकी चूची चूसने और दबाने लगा।आधा घंटे बाद मैंने अपनी एक उंगली उनकी चूत में डाल दी और आगे-पीछे करने लगा। अभी कुछ पल पहले ही चुदने के कारण मौसी की चूत गीली थी और वो झड़ने का नाम भी नहीं ले रही थीं. मुझे बहुत अच्छा लग रहा था।दी ने धीरे से मेरे गालों को चूमा और वो फिर बार-बार चूमने लगीं। मैं भी उस दौरान उनकी पीठ सहलाने लगी।तभी. और नसीब ने साथ देकर मेरा आधा लण्ड उसकी चूत के अन्दर कर दिया, एक-दो धक्कों के बाद पूरा का पूरा लण्ड चूत की जड़ में अन्दर तक चला गया।जैसे ही लवड़े ने उनकी बच्चेदानी पर चोट की.

हिंदी सेक्स मूवी हिंदी सेक्सी मैंने उसके होंठों को चूमते-चूमते उसके सारे कपड़े खोल दिए। अब वो सिर्फ़ एक काली ब्रा और पैन्टी में थी।मैंने उसके ब्रा को एक झटके में निकाल फेंका और उसके भूरे निप्पलों को अपने होंठों से निचोड़कर उनका रस पीने लगा।वो गरम होने लगी. वो उठने लगी लेकिन मैंने बाएं हाथ को उसकी कमर में डाल कर उसे पूरी तरह अपने ऊपर ले लिया और तुरंत होंठों से होंठों मिलाकर चुम्बन करने लगा।वो मुझसे दूर होते हुए बोली- राकेश.

लेकिन अब उसके पति का ट्रान्स्फर हमारे शहर यानि गुड़गाँव में ही हो गया था।उसका ट्रांसफर जब होने वाला था उससे पहले. उसने वैसा ही किया।फिर मैंने जोर के एक धक्के में ही लंड को अन्दर डाल दिया।वो आँखें बंद करके मेरे होंठों पर होंठ रख कर चूसने लगी।मैं इस तरह उसे ज्यादा देर तक नहीं चोद पाया और उसे बिस्तर पर घोड़ी बना कर उसकी चूत में लंड पेल दिया।अब मैं उसके कन्धों को पकड़ कर उसकी चूत चोदने लगा. मुझे पता था कि सब घर पर ही होंगे।तभी मेरे घर से कॉल आ गया, मैंने रिसीव का बटन दबा दिया, पहली आवाज़ पापा की थी- हैलो.

सेक्सी सेक्सी बीएफ सेक्सी सेक्सी सेक्सी

राधे इसके आगे कुछ ना बोल सका और ममता ने राधे का शुक्रिया अदा किया और वहाँ से निकल गई।दोस्तो, उम्मीद है कि आप को मेरी कहानी पसंद आ रही होगी. तब ही मैंने देखा कि उनकी ब्रा की लेस उनके ब्लाउज से बाहर दिख रही थी।मैंने सोचा इन्हें ये बात कैसे बताऊँ. मैंने उसकी सलवार के ऊपर से ही उसकी चूत पर हाथ रख दिया।उसने मुझे काफ़ी रोकने की कोशिश की लेकिन यारों मैं नहीं माना। फिर मैं धीरे-धीरे अपना मुँह उसके चूचों पर ले गया.

मैंने हा कर दिया।फिर थोड़ी देर बाद हमने शॉपिंग करने का फ़ैसला किया और हम निकल गये।एक मॉल में जाकर उसने मेरे लिए लेगिंग, जीन्स, कुरती, टॉप्स, 2 ड्रेस, 2 जोड़ी सॅंडल, पैंटी ब्रा सेट सब खरीद लिए। जब हम लौट रहे थे तो उसने कहा- मेरे लिए एक काम कर श्रुति। हॉर्मोन्स की गोलियाँ लेना शुरू कर दे. फिर भी हम दोनों ने सारी मर्यादाएँ तोड़ दीं। हम दोनों ने एक-दूसरे के कपड़े उतारे तो मुझे इस बात का अनुभव हुआ कि वो पैंटी और ब्रा में क़यामत लग रही थी।मेरा मन तो हुआ कि उसे ऐसे ही देखता रहूँ.

वो ऐसा बोल कर अपनी गाण्ड मुझसे चटवाता रहा।अब मुन्ना मेरी ओर बढ़ा और मेरी टाँगें ऊपर उठा कर खोल दीं। मैंने कुछ हरकत किए बिना उसे उसको अपनी मर्ज़ी का मालिक बना दिया और उसकी आज्ञा मानने लगा।अब उसने मेरा लण्ड पकड़ा और बोला- इसको क्यों लेकर घूम रहा है गान्डू.

5” का खड़ा लंड बाहर निकाला और सीधा चूत के मुहाने पर रख दिया। उसने भी किसी रण्डी की तरह अपनी टाँगें फैला लीं और चूत के मुँह पर मेरे सुपारे को टिकवा लिया. तो मैंने उसकी प्यारी सी चूत में ही अपना माल झाड़ दिया।फिर कुछ देर एक-दूसरे से चिपक कर लेटे रहे और फिर आख़िर में हम लोग चूमा-चाटी करके उठ गए. तो मैंने लंड बाहर निकाला और उसके मुँह में अपना लंड दे दिया और उसके मुँह से खूब चुसवाया।कुछ देर बाद मैंने उसके मुँह में ही मेरा सारा पानी छोड़ दिया, वो लंगड़ाती सी उठी और बाथरूम गई, फिर फ्रेश होकर अपने घर चली गई।फिर जब भी मौका मिलता तो वो और मैं खूब चुदाई करते।अब उसकी शादी हो गई है.

और अपनी चूत का मुँह मेरे लंड पर रख दिया।फिर धीरे-धीरे उस पर बैठने लगी, थूक की चिकनाई से लंड धीरे-धीरे उसकी चूत में पूरा समा गया।मुझे तो कुछ महसूस ही नहीं हो रहा था. मैं और तुम गर हम हो जाते।’पता नहीं रब को क्या मंज़ूर था।अब मैं अपने कमरे में आ चुका था। मेरे व्हाट्सएप पर तृषा का मैसेज आया था ‘अपने प्यार को यूँ दर्द में देखना इस दुनिया में किसी को भी गंवारा नहीं होगा। तुम्हें ऐसे देख कहीं मैं ना टूट जाऊँ। मुझसे लड़ो. मीरा ने उस पर अपना हाथ रख दिया और बातें करने लगी। एक घन्टे तक मीरा चपर-चपर करती रही उसकी बातों से राधे समझ गया कि वो एक बहुत ही भोली-भाली लड़की है।राधा- कितनी बोलती है तू.

वो मेरे लंड को घूर रही थी और फिर पकड़ कर लौड़े को छूने लगी।मैंने भी अपनी ऊँगली से चूत को फैलाया और धीरे से एक ऊँगली लगा दी।वो ऊपर को उठ गई और बोली- आआअह्ह.

बीएफ वीडियो सेक्सी साड़ी वाला: वो बोले- अन्दर के कमरे में हैं।यह कह कर अंकल बाहर किसी काम से चले गए।मैंने वहाँ देखा कि वो सो रही थी. मैं निशा और आप?मेरा ध्यान अब तक बाहर ही था, मैंने कुछ नहीं कहा, मुझमें कुछ भी बोलने की हिम्मत नहीं थी, मैं अब तक अपने शहर को ही देख रहा था।निशा- हाँ यार.

उसने मुझको नमकीन खाने को दिया।फिर उसने अपने लिए एक और पैग बनाया और धीरे-धीरे चुस्की लेकर पीने लगा।कुछ ही देर में मुझको चक्कर सा आने लगा. बाहर देख वरना पड़ोसी इकट्ठे हो जायेंगे।मैंने अपनी हालत को सुधार कर अपने कपड़े ठीक किए और चल दिया उनके कमरे की ओर. पहली बार में बिना किसी विरोध के कोई कैसे माल अन्दर ले सकता है?तो मैं आपको बता दूँ कि जैसे मैंने किया था.

गले पर और उसके नग्न कंधे को चूम रहा था।उस वक्त मुझे उसके जिस्म का इतना नशा हो गया था कि मैं उसके हर अंग की खूबसूरती को पी जाना चाहता था।मेरा लंड एकदम कड़क हो उठा था। रजनी की चूत भी पानी छोड़ने लगी थी।मैंने रजनी को बिस्तर पर गिराया और उसकी पैन्टी को उसकी टाँगों से अलग कर दिया और उसकी चूत की खुशबू को महसूस करने लगा।रजनी पूरी तरह गर्म हो गई थी.

तो एक बज रहा था और भाभी वहीं नंगी लेटी हुई मुझे देखे जा रही थीं।उसके बाद वो उठ कर रसोई में गईं और मेरे लिए दूध लेकर आईं। दूध पीने के बाद वो मेरे लौड़े से फिर खेलने लगीं और इसके बाद मैंने उस रात दो बार फिर से भाभी की चुदाई की।आज भी जब भी मौका मिलता है. यह सुनते ही मैंने अपनी रफ़्तार बढ़ा दी और साथ ही साथ अब मेरे लंड में तनाव भी बढ़ रहा था।तभी पूजा बोली- अहह. ये तो चुदाई करने वाले ही अच्छी तरह बता सकते हैं।दोस्तो, उम्मीद है कि आप को मेरी कहानी पसंद आ रही होगी.