सेक्स सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ

छवि स्रोत,कॉल गर्ल व्हिडीओ

तस्वीर का शीर्षक ,

मालिक बीएफ वीडियो: सेक्स सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ, फिर मैंने उसके गले पर से बालों को एक साइड किया और उसके गले पे किस करने लगा.

हॉट भाभी की सेक्सी

शनै:शनै: प्रिया के शरीर में एक अकड़न सी उभरने लगी और मुंह से अस्पष्ट से शब्द निकलने लगे ऊँ… ऊ… ऊँ… ऊँ… हाँ… आँ… हा… हाय… उ… हक़्क़… ई… ई… इ… ई… ई. ब्लू पिक्चर हिंदी सेक्सी पिक्चरमैंने उसकी एक टांग को ऊपर उठा लिया और दूसरी टांग के दोनों तरफ अपनी टांगें रख दी.

सेजल भाभी ने मेरे बालों को पकड़ के जोर से नोंचा और एक आह भरी ‘उम्म्म… आह्ह्ह… ऐसे ही उफ्फ…’मैं यह सुन कर जोश में आ गया और भाभी के कूल्हों को मैंने जोर से भींचा और उन्हें मेरे मुँह की ओर खींच लिया. सेक्स क्सक्सक्स बफहम दोनों एक दूसरे से बहुत मस्ती करते थे और चुदाई करने को छोड़ कर ऊपर ऊपर से सब कुछ कर लिया करते थे.

जैसे कोई मछली पानी से बाहर निकलने पर जोर जोर से मुँह खोलते बंद करते हुए हांफती या फुदकती है.सेक्स सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ: मेरी सेक्सी स्टोरी के पिछले भागबहाने से दोस्त की बीवी को चोदा-1में आपने पढ़ा कि मेरे दोस्त की नई नई शादी हुई, मैंने उसके दिमाग में बीवी की अदला बदली की बात डालने के लिए उसे अन्तर्वासना की अदला बदली वाली कहनी पढ़वा दी.

मैंने रजाई हटा दी और चूत को फैला कर चाटने लगा, वो मजे से चूत चटवाने लगी, उनके मुख से ‘सीईईई… सीईए… सीएस…’ की आवाज आ रही थी.मुझे भाभी के चेहरे पर खुशी नज़र आ रही थी।उसके कुछ दिन बाद भाभी फिर अपनी ससुराल में आ गई.

चोदा बाटी सेक्सी वीडियो - सेक्स सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ

जैसे ही मैंने उनकी कमर को हाथ लगाया तो उनके मुँह से एकदम सिसकारी निकल गयी। फिर मुझ से भी रहा नहीं गया तो मैंने उनकी ब्रा के हुक खोल दिए और उनके मम्मों को पकड़ लिया और जोर जोर से भाभी के मम्मों को दबाने लगा जिससे भाभी को मजा आने लगा.उसने कहा- ऐसा क्यों?मैंने कहा- क्योंकि मैं जानता था कि आज कुछ ना कुछ ज़रूर होगा.

वैक्स करते करते उसने बहुत बार मेरे कूल्हों को और उनके पास बहुत टच किया. सेक्स सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ उसने बताया इधर वो कभी कभी मूड फ्रेश करने आती है, उसका ये फ्लैट सिटी से 10 किलोमीटर दूर था.

मेरी स्टोरी आपको कैसी लगी? आप मुझे मेरी मेल आईडी पर मेल करके बता सकते हैं।[emailprotected].

सेक्स सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ?

मैं भी उस वक्त पता नहीं किस मूड में आ गई थी कि मुझे उसका ये जबरन पकड़ कर चूमना बुरा नहीं लग रहा था. मेरी कहानी के पिछले भाग में आप सभी ने पढ़ा था कि मैं अब एक पक्की कॉलगर्ल बन गई थी. खाने पीने के बाद आर्थर और एरिक मेरे शुक्रगुजार होते हुए मुझसे विदा मांग अपने घर चले गए और मैंने फ्लैट की सफाई शुरू कर दी.

तभी जीजा बोले- साली कुतिया रंडी, चिल्ला मत मोहल्ले को इकट्ठा करेगी क्या? पूरा मोहल्ला आ जाएगा फिर मुझे कोई कुछ नहीं बोलेगा समझी, सब तेरी चूत को ही चोदेंगे ये समझ ले तू! वन्द्या चुप रह 2 मिनट, बस घुसने ही वाला है, थोड़ा दर्द होता है, उसके बाद तो जन्नत का मज़ा है. उसने मुँह को हटाने का प्रयास किया, पर मैंने उसका मुँह पकड़ कर सारा का सारा माल उसके मुँह में डाल दिया. तब वो बोली- चलो मैं ही तुम्हें बताती हूँ, जिसे तू उसका बोल रही हो, वो लंड होता है और खड़ा होकर पूरा लौड़ा बन जाता है.

करीब 15 मिनट चुम्मा चाटी के बाद हम अलग हो गए।मैंने उसे कहा- बाथरूम में आ जाओ, यहां बच्चे उठ जायेंगे. मैं अपने दोस्त के साथ रहता था, आज वो दूसरे दोस्त के कमरे में सोने गया था. मैंने उस चीज को हाथ से महसूस किया तो पता चला कि दीदी ने अपनी चुत में एक बैंगन घुसा रखा है जिसको वह अन्दर बाहर कर रही थीं.

जब मैं खड़ा हुआ तो मेरा लंड पूरा खड़ा हुआ था और चाची मेरे खड़े लंड की तरफ़ देख कर थोड़ी हैरान सी हो गईं. तो मैंने भी देर न करते हुए भाभी की एक टाँग को उठा लिया और चुत के छेद पर अपना लंड टिकाया।भाभी की चुत से इतना पानी आ रहा था कि तेल की कोई जरूरत ही नहीं पड़ी और पहले ही धक्के में 3 इंच अंदर घुस गया और भाभी को हल्का सा दर्द होने लगा.

तभी रमेश अंकल के उन दोस्त का पानी निकल गया, जो अपना लंड मां की चूत में पेला हुआ था.

थोड़ी देर बाद उसको मज़ा आने लगा और वो अपनी गांड को हिला हिला के मेरे लंड को अन्दर बाहर लेने लगी.

फिर मैंने पूछा- स्कूल?उसने कहा- मैंने स्कूल से आज की छुट्टी ले रखी है. मैंने अपनी गांड हल्की सी पीछे की और कर दी ताकि वो आसानी से अपना हाथ डाल सके. मैंने कहा- क्या आज बिजली गिराने का इरादा है?वो इठला कर बोली- सब आपके लिए है जीजू.

फिर अगले दिन ही सभी विद्यार्थियों को कमरे अदला बदल करने को कहा गया और उसी दिन शाम में सभी को दूसरे कमरे आबंटित भी कर दिए गए. एकाएक मैंने अपने दोनों हाथ उसके मम्मों पर रख दिए और ज़ोर से दबाने लगा. ये सुनते ही मैंने उनको अपने नीचे पटका और चाची से कहा- चाची कंडोम है क्या?वो बोलीं- देखो वहीं अलमारी में पड़ा होगा.

उन दोनों ने मेरी चूत से और गांड से लंड को बाहर निकाला और दोनों ने ही एक एक करके मेरे मुँह को चोदा.

वो जैसे टीवी को कवर पहनाते हैं, ठीक वैसे ही थी कि ऊपर से ही डाल लो. उसने मुझे एक हग किया और मैं दरवाजा खोल कर अपने पढ़ाई वाले रूम के पास आ गया. मेरी आँखों में पानी आने लगा, मेरी गांड में बहुत दर्द हो रहा था, मैंने बेडशीट कस कर पकड़ ली और दाँतों से तकिया दबा लिया।फिर मैंने अपने दोनों हाथ पीछे ले ज़ाकर गांड को खोला, उसने अपने दोनों पैरों को मेरी टाँगों पर रख दिया, वो पूरा ज़ोर लगा कर लंड को अन्दर करने लगा, उसके पैर मेरे टांगों से एकदम चिपके होने के कारण स्लिप नहीं हो पा रहे थे।तभी मुझे उसके आंड अपनी गांड पर बजते हुए महसूस हुए.

मैंने उसके एकदम करीब होकर उसे अपनी जवानी की महक सुंघाते हुए पूछा- सर कितने बजे आऊं और इस बात का किसी को पता तो नहीं लगेगा ना?उसने मुझे एकदम करीब से फुसफुसाते हुए कहा- आप मुझे शाम को 7 बजे फोन कर देना. आंटी की चुत में एक साल से लंड नहीं गया था, इसलिए उन्हें दर्द हो रहा था. फिर अचानक उसके एक्स बॉयफ्रेंड को कहीं से पता चल गया कि रुचिका मेरे साथ चुदती है, फोन पर बात करती है.

मैंने अलका रानी के होंठ छोड़ के उसकी तरफ देखा, वो भी अब गरम हो चली थी, उसने आधी मुंदी हुई मस्त आँखों से मेरी तरफ बड़े प्यार से देखा, दोनों हाथों मेरा चेहरा पकड़ा और फिर अपनी तरफ खींच के मेरे होंठ चूसने लगी.

मेरे तो होश ही उड़ गए… पर उसने कुछ कहा नहीं और मुस्कुराती हुई अपने घर में अन्दर चली गई. मां की चूत ने तो लंड को लील ही लिया था अब उन्होंने अपने मुँह में भी पूरा लंड घुसा लिया और अपने दो छेदों की चुदाई करवाने लगीं.

सेक्स सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ घर में बिल्कुल सन्नाटा था, सिर्फ सुबह की चिड़ियों के चहचहाने की आवाज़ें आ रही थीं… किचन भी बिल्कुल खाली पड़ा हुआ था. उसके कमरे में आते ही मैंने अपनी बहन को चूमना चालू कर दिया और पागलों की तरह उसका चेहरा तो कभी उसका गला चूमने लगा.

सेक्स सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ वो कालेज ऑफ़ होने के बाद 5:30 शाम सीधी मेरे रूम पर पहुँची, जहां उसकी आँखों में एक अजीब सी चमक थी. तो मैं उसकी यह बात मान गया क्योंकि दिल तो मेरा भी कुछ करने को कर रहा था लेकिन मेरे मन में में थोड़ा भय सा बना हुआ था.

आख़िर इसमें किसी और कि नहीं, अपनी होने वाली बीवी की ही मदद कर रहा हूँ.

एक्स एक्स एक्स नंगा बीएफ

मैं भी बालू की बात सुनकर खुश हुई कि मस्त मर्द है ओपेन माइंड का, ऐसा ही पति होना चाहिए।बालू आशीष को बोला- यार आशीष, अब देर मत कर भाई, जमकर चोदो तुम, मुझे भी वन्द्या को चुदते मस्त देखना है!तब बालू और आशीष ने हाथ मिलाया और आशीष ने बालू को थैंक्स बोला, फिर कहा- तू मस्त है भाई! अब देख कैसे तेरी होने वाली बीवी को आज चोदता हूं।तभी बालू बोले- यार आशीष, तेरा लन्ड मेरे लन्ड से तीन गुना बड़ा है. विवेक बोला- यार धीरे से… लंड उखाड़ लोगी क्या?कामिनी बोली- जब से खुद निप्पल चूस चूस के मम्में रगड़ रगड़ के लाल कर दिए तब कुछ नहीं हुआ? मेरा बस चले न तो मैं तुम्हारे लंड को अपने पास ही रख लूं!और हंसने लगी. आंटी ने पहली बार लंड का पानी पिया था, उन्हें बड़ा मजा आया और वो बड़ी खुश हुईं.

वो मेरी आँखों में आँखें डाल कर बोला- मतलब?मैंने कहा- मतलब कि किसिंग विसिंग. मैं उसकी गर्दन पर चूमने चूसने लगा और चुचियों की घुंडी को चूसने लगा. अलका ने एक किलकारी मारी और मज़े से बेहाल होकर अपना सिर इधर उधर हिलाने लगी.

आपका ज्यादा समय खराब न करते हुए अगली कहानी आपके सामने रखता हूं कि कैसे अंजलि ने अपनी शादीशुदा ननद पारुल की चूत की प्यास बुझवाई.

चाय खत्म होते ही मेरा लंड फिर से अपने विशाल रूप को धारण करने लगा तो काव्या को मैंने उंगली के इशारे से अपना लंड दिखाया. मॉम के पास एक स्कूटी है, जिससे वो अपना स्कूल और बाकी काम करने के लिए लेकर जाती हैं. मैंने लंड थोड़ा और उसके मुँह में घुसा दिया, जिससे उसको उल्टी आने को हुई, वो लंड मुँह से निकालने को ज़ोर लगा रही थी.

माँ- और सेक्स कितनों के साथ किया है?मैंने माँ को गरम किया- तीन को चोदा है. और चाय का एक सिप लेकर मैंने उसको कहा- चाय में चीनी कम है!और मैंने उसको मेरे कप में से चाय को चखकर देखने को कहा. मैंने गुस्से से उनके बाजू पकड़े और उनको बेड पे पटक कर लंड फ़िर से उनकी चूत में डाल दिया और जोर जोर के झटके देने लगा.

उधर अब्बू का लन्ड अम्मी के मुंह में था और वो लपलप कर के लन्ड को चूसे जा रही थी. मुझे नींद नहीं आ रही थी तो मैं बेड पर करवट लेकर लेटा हुआ माँ बेटे की चुदाई स्टोरी पढ़ रहा था.

जब मैं 10वीं क्लास में था तो तब से अन्तर्वासना पर सेक्स स्टोरी पढ़ना शुरू हो गया था और तब से ही मेरे मन में सेक्स करने का विचार आने लगा था. तो मैंने अपना मोबाइल निकाला और फुल एचडी मोड में वीडियो रिकॉर्डिंग स्टार्ट कर दी. दोस्तो‌, मैं राज एक बार फिर आप लोगों के सामने अपनी एक बिल्कुल मौलिक देसी कहानी लेकर उपस्थित हुआ हूँ.

फिर वो बोलती है कि डॉक्टर इलाज कब से शुरू होगा?तो मैं झूठ बोल देता हूँ कि आज से.

सॉरी, मैंने अभी तक आप सबको भाभी के बारे में तो कुछ बताया ही नहीं… उनका नाम सुमन था, वो करीब 35 साल की होंगी, उनके दो बच्चे हैं, बड़ा 10 साल का और छोटा 7 साल का!वो अपने छोटे बेटे के साथ आयी थी. मैंने भी साथ चलने के लिए थोड़ी ज़िद की और थोड़ा मनाया भी, उन्होंने भी हाँ कह दिया. मैं अकेली ही थी।उस आदमी के आते ही मैंने सिर पर चुन्नी ले ली।उसने पैसों के बारे में पूछा.

कुछ मिनट धीरे धीरे गांड की चुदाई से मेरा दर्द कम होने लगा और अब मैं भी उसका साथ देने लगी. बात करते करते मैंने उससे कहा कि मुझे तुमको जोर से किस करने को मन कर रहा है.

कुसुम ने बाहर जाते हुए कहा- जल्दी नहीं है अभी मेरे पैसे वापिस करने को तुम्हारे पास एक वीक है. उसका मानना था कि जिंदगी एन्जॉय के लिए मिली है, प्यार व्यार सब बकवास बातें हैं. मेरी सारी निजी बातें उनको पता थीं और मुझे उनकी सारी बातें मालूम थीं.

चूत मारते हुए दिखाओ बीएफ

फिर उसने कुछ देर बाद मेरे मुँह पर उसकी चूत ने एक जोरदार पिचकारी छोड़ दी जिससे मेरा पूरा मुँह भीग गया जिसे रेहाना ने अपनी जीभ से चाट चाट कर साफ कर दिया.

भले ही मैं सारी ज़िन्दगी उसे खुश करता रहूँ, लेकिन वो कभी भी इस चीज़ को नहीं समझेगी. फिर आई लव यू बोल कर सेक्स के लिए थैंक्स बोला और कहा- तुम पहले इंसान हो जिसने आज मेरी चूत देखी. अब स्वाति मेरे सामने सिर्फ पैंटी में थी और मैं उसकी चूचियों को देख कर अपने लंड को मसलने लगा.

एक एक पल ऐसे कट रहा था मानो जैसे एक दिन बेसब्री से इंतजार था मुझे कि कब दस मिनट हों और कब मैं इस हुस्न की रानी को बांहों में भर के प्यार करूं. ये बात उसने अपने पति से भी छुपाई हुई है और उसने वादा किया है कि वो जब जक जिएगी उसके पास हमारी ये निशानी बनी रहेगी. हिंदी सेक्सी देहाती ब्लूथोड़ी देर बाद जब उनकी चीखें मादक कराहों में बदलीं, धीरे धीरे उनकी योनि में जोश वापस आया और वो कुछ जरूरत से ज्यादा टाइट हो गई जिससे मुझे धक्के देने में दिक्कत हुई तो उन्होंने मुझे नीचे लिटाया और मेरे लिंग को अपनी योनि में डाल कर मेरे ऊपर बैठ गईं और किसी पोर्नस्टार की तरह अपनी कमर को उछालते हुए चुदने लगीं.

वो मुस्कुरा दी और बोली कि मैं पहले भी बता चुकी हूँ कि प्यार व्यार कुछ नहीं होता. जब मैं बाथरूम से फ्रेश होकर आई तो मैंने सोचा देखूं कि अशोक क्या लिख रहा था.

कमरे में पूरा सन्नाटा छाया हुआ था। मैंने एक लंबी साँस ली और एकदम सावधान सी हो गई।उसने थोड़ा सा और धक्का लगाया. मैं थोड़ी देर में उसके घर पहुंच गया और नाज़ को देख कर वापस जाने का नाटक करने लगा तो जूही ने मेरे को रोकते हुए कहा- आ गए हो तो चाय पी कर चले जाना!और वो चाय बनाने के बहाने किचन में चली गयी. मेरे मुंह से अपने आप लगातार सिसकारियां निकलने लगी, जीजा ने अब अपनी एक उंगली भी मेरी चूत में घुसा दी और उसे अंदर बाहर करने लगे.

जब मुझे लगा कि यही सही मौका है, तो मैंने एक धक्का मारा और आधा लंड निशा की गांड में घुसेड़ दिया. विनय- अच्छा क्या मेरा लंड तुमको पसन्द आया?मैं- वो तो टेस्ट करके ही पता चलेगा. लेकिन वो दोनों नहीं माने, फिर हम तीनों साथ में कॉलेज के पीछे चल दिए.

उनको पता ही नहीं लगा कि उनकी मुसीबत उनकी बीवी और बेटी की चूतों ने दूर की है.

अपनी शर्ट वन पीस के ऊपर ही पहन ली और एक एकदम लूज़ जैकेट, जो मैं अपने साथ ऐसे ही किसी मौके के लिए ले कर आई थी, पहन ली. दूसरी तरफ ये भी लग रहा था कि घर में ही माँ की दबी हुई वासना को शांत करके ठीक किया.

मेरी चुदाई करते हुए उसने पूछा- जिससे फोन पर तुमने बात की थी, उसे कैसे जानती हो. फिर आई लव यू बोल कर सेक्स के लिए थैंक्स बोला और कहा- तुम पहले इंसान हो जिसने आज मेरी चूत देखी. जैसा कि मैंने कहा कि उसने मुझे जादू के सहारे अपनी तरफ खींच लिया था.

’मैंने उसको और तड़पाया और उसकी चूत में लंड डालने से पहले उसके मम्मों को दबाना शुरू किया, साथ ही क़िस करना भी शुरू कर दिया. कुछ देर ऐसे ही चलने के बाद मेरी साली ने खुद ही कमीज के ऊपर के गले से अपने एक चुचे को बाहर निकाला और उस लड़के के मुँह में दे दिया. दीदी के दोनों चुचे बड़े और टाइट होने की वजह से बीच में इस तरह एक दूसरे से चिपके हुए थे कि दोनों चूचों के बीच एटीएम कार्ड स्वाइप करने जितनी जगह भी नहीं थी.

सेक्स सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ कईयों ने तो अपने कहानी लिखने का भी अनुरोध किया, मैं सबकी कहानी तो नहीं लिख सकता लेकिन एक मेल ने मेरा ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया. इसके बाद मैं कितनी ही बार उसका नम्बर लगाया लेकिन उसने कॉल रिसीव नहीं किया.

उत्तम की बीएफ

करीब उसने 3-4 मिनट में 30-40 बार लंड को मेरी चूत में अन्दर बाहर किया होगा. उसकी बुर से एक अजीब सी दुर्गंध आई, जैसे लगा कि वो बुर को साफ नहीं करती थी. चलती गाड़ी में कोई आपका लंड चूस रही हो तो उस फीलिंग को शब्दों में बयाँ नहीं कर सकते।और ऊपर से कोई लड़की पहली बार लंड का स्वाद चख रही हो तो कहना ही क्या!मेरे लंड की चुसाई और गाड़ी की स्पीड दोनों लगातार बढ़ रहे थे। आखिरकर मेरे लंड ने कुछ मिनट बाद हार मान ली और एक गरम धार अर्पिता के मुख में डाल दी.

उसने खुद को समर्पित कर दिया था और मैंने भी उसे अपनी नंगी छाती से चिपका लिया हम दोनों के तन की गर्मी ने एक दूसरे को प्यार का अहसास करना शुरू कर दिया था. मैं अपने घर चला गया और रात को नींद में सपने में बुआ का वो नज़ारा फिर से दिखा. सनी लियोन सेक्सी मूवी एचडीअब इस ऑफर में भैया के बॉस का मूड था वो आपको अगले और अंतिम भाग में जानने को मिलेगा.

मैंने एक लड़का ढूँढा हुआ है, जो 50000 तक देने को तैयार है मगर उसकी शर्त यह है कि उसे कोई कुंवारी (वर्जिन) लड़की ही चाहिए.

ग्राउंड फ्लोर में मेरे पापा और मम्मी रहते हैं, मेरे बड़े भैया बैंगलोर में जॉब करते हैं. विनय- नेहा, मेरे लंड को देखोगी, जो पूरी रात तुम्हारी याद में रोता रहा है?मैं उठ कर बैठ गई और विनय की चड्डी के ऊपर से ही उसके लंड को सहलाने लगी.

मैं घप घप की आवाज़ के साथ ज़ोरदार चुदाई कर रहा था और आंटी के चेहरे पर साफ झलकती हुई खुशी देख रहा था जिस कारण मुझे भी बहुत खुशी हो रही थी कि आज मेरी वजह से किसी को खुशी मिली. कि मेरी जान सी निकल गई।अब जाकर कहीं मैंने उसके चेहरे की तरफ गौर से देखा। उसका चेहरा शर्म से बिल्कुल लाल हो गया और उसके होंठों पर साड़ी की मैचिंग की लिपिस्टिक लगी थी। कुल मिलाकर उसकी तारीफ के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैं।मैं बोला- इसमें बेशर्म वाली कौन सी बात है?मधु बोली- क्यों. मैंने अपने हाथों से उनके मुँह को ऊपर किया और एक जोरदार लिप किस करके थैंक्स बोला.

फिर पंकज ने रेखा को नीचे लिटा कर उसके ऊपर चढ़ गया और रेखा की चूत पर अपना लंड सैट करके एक ही धक्के में अपना पूरा लंड रेखा की चूत में डाल दिया.

पर पहले दिन सिर्फ इधर उधर की बातें हुईं जैसे कॉलेज के बारे में, अपने बारे में आदि इत्यादि. यह घटना अभी कुछ दिन पहले ही घटित हुई है, मैं अपनी इंजीनियरिंग की पढ़ाई 2015 में समाप्त करके जॉब की तलाश मैं दिल्ली आया, यहां मैं नॉएडा में रहता हूँ. सुबह मेरा दोस्त चला गया, पर मेरी वाइफ रात भर की चुदाई से खड़ी नहीं हो पा रही थी.

मुझे बीएफ दिखा सकती होतभी चिंटू ने परीक्षित से कहा- मुझे भी तो इसकी गांड का मजा लेने दो, तुम अकेले ही इसकी गांड का मजा ले रहे हो. अगर थोड़ा बहुत अपना चेहरा आ भी गया तो कोई बात नहीं, हम किसी से एडिट करवा लेंगे.

सेक्सी भाभी की चुदाई सेक्सी बीएफ

मुझे उसका लंड अच्छा लग रहा था, काफी बड़ा और मोटा हो गया था तो थोड़ा ही मुँह में घुस रहा था. उन्होंने अपने आप को इतना मेंटेन कर रखा था कि कोई उन्हें 25 साल से ऊपर तो कह ही नहीं सकता था. रोशनी चेयर पे नीचे मुँह करके बैठी रही और उसके चेहरे से पसीना आने लगा.

पर कुछ देर बाद उनका पीरियड ख़त्म हो गया और नेक्स्ट पीरियड के बाद छुट्टी हो गई. इधर मैंने भी उसको समझाया कि पहली बार जब चुत की सील खुली थी, तब दर्द हुआ था कि नहीं. मैंने बाहर आकर एक सिगरेट मार कर मेरी बाइक निकाली तो वो पंक्चर थी, मैं धक्का मार कर उसे धकेलते हुए लेकर जा रहा था.

मैंने भाभी के एक चुचे को मुँह में लेकर चूसना शुरू कर दिया और दूसरे चुचे को अपने हाथ से दबाना शुरू किया. मम्मे चुसवाने के कारण उसकी चुत ने पानी छोड़ दिया था और उसकी चुत एकदम रस से भीगी हुई थी. जाने क्या हुआ कि मेरी आंखें बंद होने लगी और बालू तो जैसे पागल होने लगे, फुल जोश में आ गए और मुझे बहुत गंदी गालियां देने लगे- और चूस रंडी… ले मेरे लंड को… तू साली पूरी छिनाल है… तुझे एक साथ कई लंड चोदेंगे, तब तेरी प्यास बुझेगी!उसकी ये बातें मेरे जोश को और बढ़ा रही थी.

वो बोले- देखना साली, तू आज खुद बोलेगी कि मेरी चूत में लंड डाल दो अपना!तो मैं बोली- यह नहीं होगा… चाहे मेरी जान निकल जाए! बस मैंने सोच लिया कि चाहे सबसे चुदाई करवाती रहूं नहीं रहा जायेगा तो… पर तुझसे सुहागरात के दिन ही चुदवाऊँगी. अब मैं अपने होंठों को उसके फेस के करीब ले गया और उसके माथे पे किस किया.

मेरे राजा।ऐसा बोल कर वो मेरे सर चूत में दबाने लगी। मुझे समझ आ गया कि इसे चोदने का टाइम आ चुका है।मैंने अपना मुँह उसके चूत से हटा लिया। वो बिन पानी की मछली की तरह तड़प उठी।बोली- रुक क्यों गए और करो न प्लीज!मैंने कहा- मेरे को भी तो मज़ा चाहिए।उसने- और क्या करोगे तुम.

मुझे देखते ही वो अपना लंड सहलाते हुए बोला- तुम्हारी माँ बहुत ही मॉडर्न हैं और मुझे लगता है वो तुम्हारे पापा को पूरा मस्त करके रखती होंगी. सेकस करने का तरीकामैंने जानबूझ कर पूछा- मां कहां जा रहीं हो?मां कोई दवा खाते हुए कहने लगीं- स्कूल का जरूरी काम है… मुझे जाना है और कुछ टाइम लग सकता है. भोजपुरी चुदाई दिखाइएवो मेरा जरा सा भी विरोध नहीं कर रही थीं बल्कि वो भी मस्त होकर मेरा साथ दे रही थीं. मगर मैं कहना चाहती हूँ कि मैं एक शादीशुदा औरत हूँ और अपने घर को और अपने परिवार को सबसे पहले देखना ज़रूरी होता है.

प्रिया का मंगेतर 10 नवंबर को आने वाला था और शादी 19 नवंबर की फ़िक्स थी.

अगले कुछ ही पलों में वासना का ऐसा तूफ़ान उठा कि मैंने उन्हें पूरी तरह नंगा कर दिया और खुद भी हो गया. पिंकी लगता है तुम्हारी किसी ने चुदाई की है, तुम्हारी चूत तो पूरी खुली हुई है. अभी ऑटो वाले ने मेरे को बहुत घुमाया, अगर आप उसी तरफ जा रहे हों, तो मुझको छोड़ सकते हैं क्या?मेरा तो दिमाग़ ठंडा हो गया, जिससे मैं बात करने का सोच रहा था, वो मेरे साथ बैठ कर जाना चाहती है.

यार अभी 2 दिन ही हुए थे और कभी कोई, कभी कोई मतलब दोनों हर 2 घंटे बाद आ जातीं और चुद कर दूसरे को लंड के पास छोड़ जातीं. मैंने उससे कहा- गांड मार लेने दे,वो नहीं माना, मैंने उसको पैसे का लालच दिया तो वो मान गया. अगर नौकरी चली गई तो करेंगे क्या… और खाएंगे क्या??उठो मयूर… तुम मेरे दोस्त जैसे हो.

इंडियन न्यू सेक्सी बीएफ

जब सुबह नहाने के वक़्त मैंने जीतू को आवाज़ दी कि चलो मेरे साथ नहा लो. मैं लपक कर माँ के पास गया और उनके होंठों पर अपने होंठों को रख कर लगभग चूसते हुए चूमा. मैं उसकी जांघों पर चुम्बन करने लगा और फिर पेंटी के ऊपर से उसकी चूत को सूंघा.

मैंने लंड के सुपारे को चुत की फांकों में घिसना शुरू किया, मुझे नहीं मालूम था कि चुत का छेद किधर होता है, बस यूं ही लगा था.

अपने लंड को चुसवाते हुए ही आर्थर ने मेरी हमसफर को ऊपर उठा लिया और खुद सोफे पर जा लेटा.

मैंने भाभी को फिर बांहों में भर लिया, वो बोलीं- अभी मन नहीं भरा क्या?मैंने कहा- भाभी, तुम हो ही इतनी मस्त कि मन भर ही नहीं सकता. शायद वो झड़ने को आ गया था, और इस तरह वो अपने वीर्य को निकलने को रोक रहा था. बड़े-बड़े चूची वाली बीएफमैंने सामान की पैकिंग तो ही कर ली थी, उसके बाद हम घर से गोवा के लिए चल दिए.

अब मैं सब कुछ दरवाजे के पीछे से देखने लगा और इस दौरान पूरी घटना की वीडियो रिकॉर्डिंग भी चल रही थी. मैं उनकी टाँगों के बीच में आ गया और चाची की चुत सूंघने लगा फिर चाटने लगा. मैंने कूपे को भीतर से लॉक किया और बहू रानी की पीठ से चिपक के उसको अपने बाहुपाश में कैद कर लिया और उसके स्तन मुट्ठियों में दबोच के उसकी गर्दन के पिछले हिस्से को चूमने चाटने लगा.

मेरा जी तो करता था कि साले को अभी पकड़ कर पटक दूँ और खुद अपनी साली पर चढ़ जाऊं. आप सभी ने मेरी स्टोरी को बहुत पसंद किया, उसके लिए मैं आप सभी का बेहद आभारी हूँ.

थैंक्यू वन्द्या आज के लिए!और फिर मैं तैयार होकर अंकल के घर से निकल गई, जीजा भी मेरे साथ आए और अपनी बाइक से मुझे बस स्टॉप तक पहुंचा दिया।जैसे ही बाइक से उतरी, चलने में बहुत तकलीफ होने लगी, मेरी कमर, पीछे गांड और आगे चूत में बहुत दर्द होने लगा, मैंने सामने मेडिकल स्टोर से पेन किलर की टैबलेट ली और खा ली, मुझसे 7 दिन तक ठीक से चलते नहीं बन रहा था.

उनकी चूत पर एक जोर का थप्पड़ मारा वो चिल्लाईं- जंगली कुत्रा दुखे छे मने. मैं उनकी टाँगों के बीच में आ गया और चाची की चुत सूंघने लगा फिर चाटने लगा. तो बस मेरे मन में चलने लगा कि ईशा आज अपनी ज़िन्दगी आखिरी बार खुल कर जी ले.

एक्स एक्स एक्स लड़की की जितने अपने काम के लिए आप चाहो। अगर विश्वास न हो तो अपना अकाउन्ट नम्बर भेज दो। मैं पहले ही डलवा दूँगी।’उसकी आवाज में उदासी सी आ गई। मैंने सोचा एक बार देखता हूँ कि ये सही में रूपये देने को तैयार है या फिर बस मजे ले रही है। मुझे अभी तक विश्वास नहीं हुआ था कि कोई मुझे चुदने के लिए पैसे देने को तैयार है।मैं बोला- अब रात काफी हो गई है. अब भाभी मेरी अंडरवियर खींचने लगीं और जैसे ही मेरा अंडरवियर मेरे लंड से हटा, मेरा 7″ का लंड किसी गुस्साए हुए नाग की तरह फन उठा कर हवा में झूलने लगा.

मैं लंड को बाहर खींचना चाहता था, पर माँ ने मुझे अपनी टांगों की कैंची से दबा रखा था. ऐसे दो हफ्ते निकल गए, वो मुझे कभी कभी योगा करते हुए छत पर मिल जाती थीं. मैं बेड पर एकदम नंगा था, जब भाभी मेरे पास आकर लेट गयी तो हम दोनों की जीभ फिर आपस में टकरा गयी। भाभी अपने हाथ से मेरे लंड को मसल रही थी और मैं उनकी गांड पर हाथ फिरा रहा था, कुछ देर बाद मेरा लंड दोबारा खड़ा हो गया, जब मैंने भाभी की चुत को अपनी उंगलियों से छुआ तो भाभी को चुत एकदम गीली थी.

बीएफ सेक्सी चूत मारते हुए

मैंने लंड और उसकी गांड का छेद बिल्कुल सही पोज़ीशन में आ जाएं, उसके लिए निशा की कमर के नीचे दो तकिए लगा दिए. मैंने उससे कहा- चल पागल, ऐसा कहीं होता है क्या?उसने मुझे अपने रूम में ले जाकर लैपटॉप खोलकर ब्लू फिल्म दिखाई, जहां एक लड़की ने पूरा वीर्य पिया था. प्रिया ने हाथ बढ़ा कर मेरा मुंह अपनी ओर किया और मेरी आँखों में आँखें डाल कर बोली- लाखों, करोड़ों दुआएं क़ुबूल होने पर मिली मुराद जैसा उस रात का मिलन… एक बार! सिर्फ़ एक बार और… फिर से मुझे दे दीजिये.

आंटी मेरा 6 इंच का मोटा लंड देख कर खुश हो गईं, उन्होंने कहा- एक साल के बाद लंड के दीदार हुए. मैंने भी उन्हें बांहों में भर लिया, कुछ पल खुद को ये एहसास कराया कि हां मैं हकीकत का सामना कर रहा हूँ.

तो ये घर आज शाम तक खाली कर देना।मैं तो डर सी गई, मैंने हाथ जोड़े और कहा- प्लीज़ कोई और सेवा बता दीजिए.

ऐसा देख कर पहले तो वो थोड़ा नर्वस हुई लेकिन मैंने उसे उठाया और किस करने लगा. मैडम पढ़ा रही थीं कि लंड खड़ा कर रही थीं, किसी को कुछ समझ ही नहीं आ रहा था. घर के पीछे भी एक जाली लगी हुई थी, तो मैं बरामदे से घर के पीछे चला गया और जाली में से देखने लगा.

लड़की- मुझे अरेरा कॉलोनी जाना है क्या आप बताएँगे यहाँ से कैसे जा सकते हैं?मैं- आप यहाँ से ओला कॅब या ऑटो रिक्शा से जा सकती हैं. मैं समझ गया कि भाभी ने बोला था कि भाई का लंड छोटा और पतला था, तो इसका मतलब ये था कि भाभी की ठीक से चुदाई नहीं हुई थी. मगर मेरी बदकिस्मती थी कि अचानक मेरे पापा की तबियत खराब हो गई और मुझे उन्हें किसी नर्सिंग होम में ले जाना पड़ा.

कार पार्किंग से निकल कर आगे बढ़ा और उससे पूछा- अरेरा कॉलोनी में कहाँ जाएँगी?उसने अरेरा कॉलोनी का अपना मकान नम्बर बताते हुए कहा- आप चलिए, मैं बता दूँगी.

सेक्स सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ: पांच-सात मिनट बाद प्रिया थोड़ा सहज़ हो गयी और मेरी ताल पर अपनी ताल देने लगी, इधर मैं अपना लिंग उस की योनि से बाहर खींचता तो प्रिया अपने नितम्ब पीछे खींच लेती और जैसे ही मैं अपना लिंग उस की योनि में आगे धकेलता, प्रिया अपने नितंब ऊपर को उछालती।हर थाप के साथ मेरा लिंग, प्रिया की योनि में थोड़ा और ज्यादा गहरे समाने लगा. अगले दिन सुबह जब हम दोनों उठे, तो दीदी ने मुझे हमेशा की तरह एक हल्की सी मुस्कान दी और चली गईं.

उसके छोटे से मुँह में मेरा लंड नहीं समा रहा था, फिर भी वो बढ़े चाव से मेरे लंड को चूसे जा रही थी. इसके बाद मैंने बिस्तर से 3 फिट दूर खड़ा होकर वहां से उनको बिस्तर पर फेंका. अब तो लंड महाराज काम्या की चूत के अन्दर जाने के लिए बड़े बेचैन हो रहे थे.

उसने एक दो झटके लगाए, पर उसका लंड साली की चूत में नहीं घुस पाया क्योंकि मेरी साली थोड़ी ज्यादा ही सीधी खड़ी थी और मेरे हिसाब से इतने छोटे लंड को डालने के लिए उसे थोड़ा और झुकने की जरूरत थी.

लेकिन उसमें केवल कंधों पर से डाल लो बस नीचे कहीं से भी बंद नहीं होती थी. हाँ वो बीमार हैं तो उन्हें देखने आयी थी।”ठीक है, देख लिया हो तो अब आ जाओ!” पूजा बोली. उसकी चूत के ऊपर के और साइड के सारे बाल साफ़ करने से उसकी चिकनी मासूम सी कली अच्छे से नजर आने लगी, पर उसकी चूत का छेद नजर नहीं आ रहा था.