देसी बीएफ वीडियो ओपन

छवि स्रोत,शैगी हे सेक्सी लेडी

तस्वीर का शीर्षक ,

खुल्ला बीएफ: देसी बीएफ वीडियो ओपन, मैं उस पर एकदम से सवार हो गया और उसकी चूचियों को मसलते हुए जोर शोर से चोदने लगा.

सेक्सी ब्लू ब्लू ब्लू सेक्सी

मैंने सही मौका देखकर तुरंत उनको अपनी बांहों में लेकर खूब जोर से अपने से चिपका लिया, उनके बड़े बड़े मम्में मेरी छाती से टकरा रहे थे. वेब सीरीज हॉटफिर जब हमारी शादी हुई तो हमने सुहागरात वाले दिन ही डिल्डो का प्रयोग करने का प्लान बना लिया.

उसकी एक झलक देख कर मेरे तो होश ही उड़ गए थे क्योंकि वो तो मेरी दीदी थी. कियारा आडवाणी सेक्सीफिर अचानक वो मेरी तरफ घूम गयी और उसने कहा- अब तक मेरे हज़्बेंड के सिवाए कोई और पराया मर्द, मेरे इतने करीब नहीं आया है … पता नहीं क्यों पर मुझे आपका स्पर्श अच्छा लगता है.

तभी शावर में एक मस्त मसाजर आ गया और बोला- कैन आई ज्वाइन यू?मैं बोला- आ जाओ.देसी बीएफ वीडियो ओपन: अनिल भी अब तक पूरा नंगा हो गया था, वो मीनाक्षी से बोला- आ जा मेरी कुतिया … मेरी जान … चूस मेरा लंड.

इसलिए मैंने अपने लंड और गुड़िया की बुर पर वैसलीन लगाकर एक और धक्का दिया, लंड का टोपा ही घुसा था और गुड़िया ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ चिल्लाने लगी.मैंने दोनों से बातचीत शुरू की, तो समझ में आया कि वे दोनों फ्रेंड हैं तथा दिल्ली से है.

सेक्सी पिक्चर सेक्सी पिक्चर डाउनलोड - देसी बीएफ वीडियो ओपन

मेरा जोश बढ़ता ही जा रहा था। बहुत दिनों बाद मुझे इतना मस्त माल हाथ लगा था, इसलिए मैं उसका पूरा मज़ा ले रहा था.असली मज़ा तो अब आएगा!मुझे बेड पर लिटा कर चाची मेरे लंड को हाथ से हिलाने लगी और कुछ देर फिर से चूसने लगी.

मैंने शिवा से आवाज लगाते हुए कहा- ज़रा नयी मैडम को कहो कि वो मुझे रिपोर्ट करें. देसी बीएफ वीडियो ओपन मैंने उससे पूछा- तुम क्या चाहती हो?वो बोली- रात की बात को देखकर तो मैं तुम्हारी और दीवानी हो गई हूँ.

इतने में अनवर अपना लंड पूरा खींच लिया और जोर से पकड़ कर मेरी जांघों को फैलाकर अपने लंड का सुपाड़ा मेरी चूत में जैसे ही फंसाया, मैं कस के लिपट गई.

देसी बीएफ वीडियो ओपन?

इस तरह उस दिन मैंने मकान मालकिन के आने से पहले ऊषा को एक बार और चोदा. उसने नेहा की शर्ट एकदम से फाड़ दी और उसके एक दूध को अपने मुँह में रख कर चूसने लगा. मैंने देखा कि मॉम ने कट वाली नइटी पहनी हुई थी, जो घुटनों तक ही आती थी.

देखिये मास्टर जी ये जो हो रहा है, ये ठीक नहीं है, भले मेरे पति मुझे संतुष्ट ना कर पाते हों, पर किसी पराये पुरुष से हमबिस्तर होना गलत है. काम करते हुए और गायों को पानी पिलाते हुए उनके हाथ पानी से काफी ठंडे हो चुके थे. अगर फंस गया तो पहले तू मज़े करना और बाद में मुझे भी मज़े करवा देना.

इसलिए मैंने अपने लंड और गुड़िया की बुर पर वैसलीन लगाकर एक और धक्का दिया, लंड का टोपा ही घुसा था और गुड़िया ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ चिल्लाने लगी. आह्ह … उई माँ … आह्ह … कहते ही भाभी की चूत ने एक बार फिर से पानी छोड़ दिया. मैंने कभी बाहर की औरत से सम्बंध नहीं बनाये, लेकिन पत्नी अगर आपको बहुत दिनों तक लिफ्ट नहीं दे, तो मन भटकता है.

मैं भी आलस से उठ कर खड़ा हो गया और नेहा को अपनी बाँहों में लेकर चूम लिया. जो मेरे बारे में नहीं जानते हैं, उनके लिए बता दूँ कि मेरी फिगर बहुत अच्छी है.

फिर मैं उठी और दरवाजा बन्द कर लिया अन्दर से और उसे अपने सीने से लगा लिया.

कुछ देर में अनिल आया तो मैंने पूछा कि कहां थे इतनी देर से … मैं 10-15 मिनट से जाग रहा हूं.

उसने शर्ट के बटन खोले और ब्रा उठा कर अपना एक बूब का निप्पल अपनी बेटी के मुँह से लगा दिया. ऐसा कहते हुए मैंने जोर से पुनीत का लंड पकड़ कर अपने मुँह में भर लिया और जोर जोर से चूसने लगी. बात करीब छह महीने पहले की है, मेरा और नेहा का एग्ज़ाम था और हमारा एग्ज़ाम सेंटर एक ही शहर में था.

कुछ देर के बाद मेरे जेठ ने अपना हाथ मेरे सीने पर रखा, कुछ देर मेरे ब्लाउज के ऊपर से मेरे मम्मे मसलने के बाद उन्होंने मेरे ब्लाउज के हुक खोलना शुरू कर दिए. वो घबराकर बोली- क्या?मैंने मुस्कराते हुए कहा- कलेक्शन अच्छा है तुम्हारे पास, मुझे पसंद आया. पर उस रात ऐसा नहीं हुआ, अगले दिन जब वो मेरे को छोड़ कर जाने लगी, तो मेरी मम्मी ने बुआ से वंदना को घर पर ही छोड़ने के लिए कहा.

पर उधर जो द्वारपूजा के समय मेरे अन्दर निहाल और उन दो लड़कों ने मेरी अधूरी चुदाई की आग लगाई थी, उसी के कारण मैं चली आई.

इधर मेरी चूत अन्दर से बिल्कुल गीली हो गई थी, जगत अंकल मेरे कान में धीरे से बोले- वन्द्या तुम्हारी चूत मात्र दस मिनट में गीली हो गई. पहले हम घरवालों के साथ संयुक्त परिवार में रहते थे, पर पिछले एक साल से हम कहीं अलग किराए के घर में रह रहे हैं. आखिर कैसी होगी इसकी चुदाई की नई दुनिया? फिर तो करते हैं प्रशांत की नई दुनिया का सैर.

पर उसकी और मैंने ध्यान ना देते हुए जोर जोर से अपनी कमर चलाकर अपना लंड रूपा की चुत में उतारने निकालने लगा. उसके बाद मैंने सोचा कि क्यों न नई-नई चूतों को चोदने का मजा लिया जाए. कुछ दिन बाद भाभी वापस आईं और उसी दिन उनसे फोन पर बात हुई तो मैंने उनसे किस माँगा.

बस 5 मिनट तक किस करने के बाद मैंने सोचा जल्दी से चुदाई कर ली जाए क्योंकि मकान मालकिन कभी भी उसे बुला सकती थी.

मेरी सांसें बहुत तेज हो गयी थीं, शायद बहुत दिनों बाद बदन को रगड़वाने वाली जो थी इसलिये. वो चुप रही, तो मैंने कहा- यदि तुमको पीनी है तो मेरे पास मेरी गाड़ी में रखी है.

देसी बीएफ वीडियो ओपन बाथरूम से आकर वो मेरे ऊपर ही लेट गयी और हम दोनों काफी देर तक इधर उधर की बातें करते रहे. उन्होंने तकिया को अपने मुँह में भर लिया और मेरे सिर को अपनी चूत पर दबाने लगीं.

देसी बीएफ वीडियो ओपन मैंने कहा- आप मजाक तो नहीं कर रही हो?तो बोली- व्हाट्सएप्प पर वीडियो कॉल करके देख लो. मैंने हर बार तुम्हारे लंड को देखा है, जब भी तुम यहां आते हो, पर तुम मुझ पर ध्यान ही नहीं देते हो.

पर पियू बोली कि वो कुछ नहीं खाएगी, उसे उल्टी होने से अच्छा नहीं लग रहा, वो थोड़ी देर और आराम करेगी.

योनि टाइट कैसे करें

चलो‌ मेरे लिए ये तो अच्छा ही हो गया‌ था‌ कि नेहा और प्रिया को भी सुलेखा भाभी के बारे में मालूम हो‌ गया‌ था. मेरे गले लगाने और उनकी पीठ को सहलाने पर भाभी ने मुझे कुछ नहीं कहा तो मैं अपना हाथ उनकी पूरी पीठ पर फेरने लगा. मैं पायल की चूत चाटे जा रहा था और नीरू और मेरी पत्नी ने उसके दोनों उरोजों को अपने अपने मुंह में ले चाटना चूसना शुरू कर दिया.

जहां तक तुम्हारी बात है तो मुझे ऐसा लगता है कि तुम्हारी उम्र की औरतें जैसा मजा दे सकती हैं वैसा कोई जवान औरत नहीं दे पाती. वह मेरे जिस्म से खेल रहा था और मेरी चूत को अपने लंड से इस तरह चोद रहा था जैसे कि मैं कोई बहुत बड़ी रंडी हूँ. मैंने उसे नेट चलाना सिखा दिया था तो नतीजा यह हुआ कि एक दिन मैंने देखा कि वह ‘पत्नी को दोस्त से चुदवाया’ नाम की कहानी पढ़ रही थी.

मुझे समझ नहीं आया कि कोई भी इंसान इस स्टेज पे आकर किसी को चोदने या चुदवाने से कैसे रोक सकता है.

फिर हम लोगों ने सुबह खिड़की के ऊपर का वेन्टीलेटर खोल दिया जिससे कि रात को मम्मी पापा को हम सेक्स करते हुये देख सकें. दस-बारह अप-डाउन के बाद प्रशांत को शरारत सूझी और बात नीना के कंट्रोल से बाहर हो गई. मैं अपने ब्वॉयफ्रेंड से भी चुदवाती हूँ लेकिन मेरी इस सहेली के भाई का चोदने का अंदाज कुछ दूसरा था.

खैर उसकी चुत के रस से भरी फांकों को देखने के बाद मुझसे अब रहा नहीं जा रहा था. तुझे मैं बस रोज ऐसे ही चोदूंगा और तुझे ऐसे ही मस्त लौड़ों से चोदते देखूंगा. तभी जगत अंकल ने अपने नीचे वाले हाथ से मेरी पैंटी की इलास्टिक को खींचने लगे.

मैं उनको देखने लगा, तो उन्होंने हंस कर कहा कि मैं तो न जाने कब से तेरे लंड को लेना चाहती थी. मैंने जल्दबाजी करना ठीक नहीं समझा और ब्लाउज के ऊपर से ही उसके चूचे दबाने लगा.

प्रिया की चुत भी उसकी बहन नेहा के जैसी ही लग रही थी बिल्कुल‌ छोटी सी और काफी फूली हुई. पर असल में अरुणा को मजा आ रहा था उसने अपना हाथ अंकल के शरीर पर रख दिया था. इस वक्त मैंने उसके लंड को अपने मुँह से निकाल दिया था और बस अपनी चूत चटवाने का मजा ले रही थी.

हम दोनों अन्दर आ गए, चाचा ऑफिस गए हुए थे और उनका बेटा स्कूल गया था.

फ़िर एकदम से उसने मेरी कमर पर से टांगें नीचे कर के मेरे पैरों में फंसा लीं. उसके बड़े-बड़े मम्मे देखकर मेरा लौड़ा वापस खड़ा हो गया और मैं उसके मम्मे चूसने लगा. प्रशांत ने जड़ तक लंड डालकर मेरी चुदक्कड़ बीवी की चूत में गचागच कई धक्के मार डाले.

मैं प्रिया के बारे में सोच ही रहा था कि तभी नेहा ने अपनी चुत को मेरे पूरे चेहरे पर जोरों से दबाकर रगड़ दिया. मुझे नींद खराब होने पर गुस्सा तो आया, लेकिन उसकी खूबसूरती और उसकी 32-26-34 की मादक फिगर को देख कर मजा भी आ गया.

मालिनी के मुँह से एक हल्की सी आवाज निकली, तब मुझे लगा कि मालिनी लौड़ा सहन कर लेगी, इसलिए मैंने एक तेज झटका मारा और अपना आधे से ज्यादा लौड़ा उसकी चूत में पेल दिया. उसने हंसते हुए कहा।मैं बेशर्म होते हुए बोला- यार कैसे शांत करती हो चूत को … चूत को तो लंड ही शांत कर सकता है. नैना भी अपने चूतड़ ऊपर उठा कर अपना लोअर निकालने में मेरी मदद करने लगी.

हिंदी में नंगी पिक्चर दिखाइए

मस्त फिगर है और वह बोलचाल में बहुत अच्छी है।मेरी उम्र 36 वर्ष है और मेरा फिगर 36सी 34 38 है।जैसा कि पहले आप मेरी स्टोरी पढ़ चुके हैं कि मुझे लेस्बीयन सेक्स बहुत ही पसन्द है.

मैं कुछ नहीं बोली तो ठाकुर अंकल ने ऊपर मेरे हाथ कर उन्होंने खुद से मेरे दोनों हाथ पकड़े और मेरी टी-शर्ट और समीज को उतारने लगे. जगत अंकल इतने कान्फीडेन्स से बोले कि अब मैं भी उनकी बातों में आकर बेपरवाह हो गई और अपने आपको उनके हवाले कर दिया. जब तू यहां से जाएगी, तो हम दोनों भाई दबा दबा के तेरे दूध बहुत मस्त कर देंगे.

पास ही के बाड़े में गायें बंधी हुई थीं, जिन्होंने हमारे आने पर रंभाते हुए अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई. उसके कोमल और मुलायम स्तन दबाने के बाद टाइट होने लगे थे। फिर उसके कुर्ते को निकल दिया और ब्रा के ऊपर से बूब्स को चाटने लगा. বিউটি সেক্সअनिल फुल मस्ती में हो कर मीनाक्षी को खूब गालियां दे रहा था- हाय मेरी कुतिया … मेरी रांड … खा जा रे मेरा लौड़ा … मजा आ रहा रे रंडी वेश्या!वो ऐसा बोलता जा रहा था.

कुछ देर उसी स्थिति में रुकने के बाद जब मैं कुछ सामान्य हुई तो उसने फिर एक ज़ोरदार झटका मारा और उसका पूरा लंड मेरी चूत में जा चुका था. रास्ते में में और एकता कार की बैक सीट पर थे और प्रमिला कार चला रही थी.

यह कहकर उसने मेरी बीवी के बाल पकड़कर उसके आराम से उसके होंठ खाने लगा. जैसा मैंने अपनी पुरानी कहानी में बताया था कि मैं एकता के साथ मुंबई आ गया. मैंने फिर पूछा और कहा- देखिए ट्रेन परसों सुबह कोलकाता पहुँचेगी, आप मुझे बेहिचक बताइए, क्या बात है?मेरे 2-3 बार कहने पर झिझकते हुए उसने कहा कि उसका बेटा 4 महीने का है.

मकान मालिक, मकान मालकिन और उनकी भतीजी नेहा 9 बजे तक अपने बेडरूम में जाके सो जाते. तभी जो बुड्ढे मियां ने अनवर को बोला- अबे यह लड़की पागलपन की हद से ज्यादा सेक्सी है. उन्होंने मुझे उठाकर पूरी सीट पर चित लिटा दिया और अपनी पैंट को भी उतार दिया.

बता बनेगी रखैल?मैं होश में तो थी नहीं, मुझे कुछ नहीं याद है कि क्या बोलूं.

उनका लंड पूरा तनकर खड़ा था और जेठ जी बेशर्मों की तरह उसे हाथ में लेकर के हिला रहे थे. मगर प्रशांत को छोड़ने से पहले नीना एक बार फिर उसके लौड़े की कुल्फी गटकना चाह रही थी.

उसके बाद अक्सर जब भी भैया बाहर होते और उसका बेटा नानी के यहां होता या स्कूल में होता, तो मैं उसकी चुदाई करता और उसे संतुष्ट कर देता. और खाना बनाने के बाद सबको खिलाया और खाने के बाद सब अपने कमरे में सोने चले गये. कोई 10 मिनट बाद मेरा भी काम हो गया और मैंने अपना माल उसकी चूत में ही छोड़ दिया।कुछ देर बाद मैंने उठ कर अपने कपड़े पहने और जाने को हुआ तो उसने मुझसे कहा- ये उनका लोन पास करने की पहली क़िश्त है.

लिहाजा कुछ ज्यादा ही नाटक करते हुए भड़क उठी और बोली- साले कुत्ते, समझता क्या है अपने आप को? शादी के पहले तीन-तीन लंड खाई हूं और तुझसे तगड़े लंड का मजा भी ले चुकी हूं. किसी किसी दिन जब मेरे यार का मूड होता था तो सर्फ ब्रा और पैंटी में ही रहती थी. वो बोली- क्या यार … आपको नहीं आना था तो बोल देते, मैं सुबह से आपके आने के सपने नहीं देखती.

देसी बीएफ वीडियो ओपन तभी मुझे ऐसा लगा कि अनिल आ रहा है, तो मैं वहां से झट से भागा और कमरे में आ गया. उसने कहा- मैंने कहा था ना कि मैं तुमसे अलग नहीं होंऊंगी, तो देखा … अलग नहीं हो रही ना!तब मैंने उससे पूछा- क्या मतलब?तब उसने कहा कि मैं 10 दिनों तक तुम्हारे साथ ही हूं.

भाभी साड़ी वाली

मैंने उसके पति के बारे में पूछा तो उसने बताया कि वह अपने पति के सामने शादी में जाने का बहाना करके आई है. मैं दर्द से तड़पती रही और करीब तीन चार मिनट बाद पता नहीं क्या हुआ कि मेरा पूरा दर्द गायब हो गया और मैं अपने आप अपनी कमर उठा कर चुदवाने लगी. उसका साथी भी बोला- हां यार, क्या मस्त उठी हुई गांड है, ये जिसकी भी बीवी होगी, उसका पति क्या लकी होगा.

इतने में जगत अंकल भी फुल जोश में आ गए और मेरी टी-शर्ट के अन्दर दोनों हाथ डालकर जोर जोर से मेरे दूधों को दबाने लगे. और हम मजा ले रहे थे … मैं अब उसकी मस्त चूचियों को उसके काँधे के ऊपर से हाथ डाल कर कसके मसल रहा था और वो मेरे लंड को … और फिर सबके सामने खुली भीड़ में ऐसे आनन्द लेने में बड़ा मजा भी आ रहा था. जिओसिनेमा सेक्सी पिक्चरमैंने दोनों हाथों से चाची की चूत को खोल के देखा, वो अन्दर से बिल्कुल गुलाबी और रस से भरी हुई थी.

मैं नहा कर ऑफिस जाने के लिए रेडी हो गया, तभी नैना का कॉल आ गया कि ब्रेकफास्ट रेडी है, जल्दी आ जाओ.

सुलेखा भाभी मेरे ऊपर निढाल होकर ढेर हो गयी थीं, मगर मेरे धक्के लगाने से वो अब फिर से कराहने‌ लगी थीं. रोजी ने हल्की सी सिसकारी ली ‘उस्स्स उस्स्स्स … स्स्स्स!दो चार हल्के हल्के धक्के लगाने के बाद मैंने उसकी टांगों को अपने कन्धों पर रखकर अगला धक्का थोड़ा तेज लगाया तो पूरा लंड उसकी चूत में चला गया.

”क्या करूँ मेरी जान तेरी चूत है ही इतनी टाईट … थोड़ा बर्दाश्त कर ले मेरी रानी … अच्छा रुक तेरी चूत थोड़ी गीली करता हूँ, फिर आराम से लंड उसके अन्दर जाएगा. मुझे उम्मीद है कि यह आप सभी पढ़ने वालों को बहुत अच्छी लगेगी, अगर कुछ गलतियां हो तो माफ करना!मेरे पड़ोस में एक बहुत ही हॉट सेक्सी चाची रहती है. कुछ बाद मैंने पाली बदल ली और इस बार एकता को लंड और प्रमिला की तरफ गांड कर दी.

मेरी चीखें इतनी तेज थीं कि अगर कोई भी खिड़की या दरवाजा जरा सा भी खुला हुआ होता तो बाहर से लोग अन्दर आ गए होते कि पता नहीं इस घर में क्या हुआ है.

आठ बजे ट्रेन पहुंच गयी, चूँकि मैंने पिछले 2 सालों से मालिनी को सिर्फ तस्वीरों में देखा था, इसलिए मैं भी काफी उत्साहित था. जैसे ही मैं अन्दर गया, मेरी आँखें खुली की खुली रह गई, भाभी एक पारदर्शी, स्लीवलेस, पिंक छोटी सी झालर वाली नाईटी में थी, जो केवल उनकी ब्लैक प्रिंट वाली पैन्टी को मुश्किल से ढके हुए थी. उन दोनों ने सबसे मुझे भी मिलाया, अन्नू और डोली को लगभग सभी जानती थीं.

काजल हीरोइन की सेक्सीउनकी मादक अदा देख कर मुझसे भी रहा नहीं गया, मैंने उठकर उनके होंठों को चूमने की कोशिश की, मगर सुलेखा भाभी ने मुझे धकेलकर फिर से बिस्तर पर गिरा दिया और दोनों‌ हाथों से मेरी टी-शर्ट को पकड़ कर उसे ऊपर खींचने लगीं. फिर मैं भाभी को ड्राइंगरूम में ले गया और सोफे पर खड़ी करके उसकी चुदाई की.

मालिक ने कामवाली को चोदा

एक बार मैंने जेठ जी के ऊपर बैठ कर उन्हें जम कर चोदा, तो जेठ जी ने भी खड़े खड़े मुझे दीवार से सटाकर चोद डाला. पर एक तरफ से ठीक ही था, क्योंकि जब से आए थे, वे अधिकांश समय घर पर ही रहते थे, तो मेरा मन कामवासना की ओर नहीं जाता था. यह देखकर उन्होंने अनुप्रिया के बूब्स पकड़ लिये और चूसने लगी और उसी अवस्था में बेड पर आकर गिर गयी दोनों!मैं उठी और मैंने दरवाजे को बन्द किया.

”मैंने कौशल्या के मुँह में अपना लंड दे दिया, शायद उसने अपने पति का लंड भी कभी नहीं चूसा था. कुछ बाद मैंने पाली बदल ली और इस बार एकता को लंड और प्रमिला की तरफ गांड कर दी. आप विश्वास नहीं करोगे कि आधे घंटे से ज्यादा देर तक मैं अपनी गांड चुदवाती रही थी.

ऐसा करते करते अचानक से दोनों ने पूरी ताकत से एक साथ ही लंड पेल दिए. मेरी तन्द्रा भंग हुई, वह नीचे झुका और अपनी अंडरवियर ऊपर खिसकाने लगा. पर वो बेचारी खुद को सम्भाल के बोली- मेरे पति विदेश में नौकरी करते हैं … साल में एक दो बार ही आते हैं.

मैं सारा काम बड़ी ही चालाकी से कर रहा था ताकि कोई देख ना ले, वर्ना सारे हवस के पुजारी उस पर टूट पड़ते. वो एक कुर्सी लेकर मेरे पास बैठ गयी और मैं उसे गेम सिखाने लगा। बीच बीच में मौका पाकर मैं अपनी कोहनी से उसके चूचे हल्के से दबा देता था.

मैंने उनको दीवार से टिकाया और उनकी नाइटी उठा के उनके घुटनों के पीछे के हिस्से को चाटने लगा.

उसकी लपलपाती जीभ को जैसे ही मैंने अपनी चूत पर महसूस किया, मैं एकदम से सिहर उठी. तेलुगू रिंगटोनउसने एक बार तो उसने इतनी जोर से चूसा कि मैंने उसे अपने ऊपर से हटा दिया. सेक्सी फिल्म इंग्लिश में ब्लूअब लगातार नागिन की तरह मेरी योनि में लहरा रही उसकी जीभ से मैं बेकाबू हो चुकी थी और अपने आपको सिसकारियाँ भरने से भी नहीं रोक पा रही थी,आह … सररर … आआआह …”पगली … सर की हालत भी तेरी ही तरह हो चुकी है … कुछ मत बोल अब … अब तो मुझे घुसाने दे जल्दी से!” बोल कर वह खड़ा हो गया. शायद चाची भी इस बात को जानती थी क्योंकि अक्सर उन्होंने मुझे उनके चूचों को घूरते हुए देखा हुआ है.

दोस्तो, मुझे नहीं पता कि एक घटना को कहानी के रूप में पेश करते समय सबसे पहले क्या कहना होता है, तो मैं बस आपसे सीधे मुखातिब होता हूँ.

मैं किसी भी तरह की झूठी कहानी लिखना नहीं चाहती थी इसलिए मैंने अपने पति के साथ अपनी सच्ची चुदाई की कहानी लिखना ठीक समझा. मैंने सोचा कि मेरी बहन तो बहुत बड़ी चुदक्कड़ है, इसे तो थोड़ी भी शर्म नहीं है. फिर वो मुझसे हाथ छुड़ा कर चली गयी और मैं भी सीधे बाथरूम में गया और मुठ मारने लगा क्योंकि मेरा लंड खड़ा हो चुका था.

अंकल बोले- आज मेरी प्यास बुझा दे बेटी … प्रॉमिस किसी को नहीं बताऊंगा. फिर थोड़ी देर के बाद घंटी बजी, मैसेज आया- सुन मैं क्या बोलती हूँ … आया आ जाएगी तो बेबी को संभाल लेगी. उसके मुँह से निकलती सिसकारी बता रही थी उसको कितना आनंद आ रहा है- प्लीज़ … हट जाओ, छोड़ दो प्लीज़ … सीईई … मत करो, आह्ह … उफ्फ!उंगली को चूमते चूमते मैं उसकी भरी हुई जांघों को सहला रहा था.

सैकसी पोटो

एक पल मेरे मम्मों को घूर के देखने के बाद वो मेरी गोदी में इस तरह लेट गयी कि उसका मुँह बिल्कुल मेरे मम्मों के पास था. शायद उसको भी ऐसे ही मौके का इन्तजार था और इसलिये ही वो गांव भी नहीं गयी थी. क्या मस्त लड़की थी तुम? जैसे ओस की पहली बूंद, जो सवेरे सवेरे घास के पत्तों पर हल्के से गिरती है.

मैंने पूछा- अब चूत कैसी है?उन्होंने गांड उठाते हुए कहा- तुम खुद देख लो … तुम्हारे लंड के लिए तड़प रही है.

इधर रमीज ने जिनको लाया था, उन लोगों से बोला- भाई जान आप दोनों शुरू हो जाओ.

नीचे की तरफ उनकी गाड़ी खड़ी हुई तो ड्राइवर बोला कि मालिक आपका बंगला आ गया. गुलाब की पंखुड़ी जैसे उसके रसीले होंठ, बलखाती कमर, उभरे हुए चूतड़ … गहरे गले के ब्लाउज से छलकते हुए दूधिया स्तन उसकी झीनी साड़ी के पल्लू से साफ़ झलक रहे थे. चूची दबाने वाली सेक्सी वीडियोएक दिन सुबह जब मैं नहाने जा रहा था, तो ऊषा ने मुझे सीढ़ियों पर बुलाया.

मैं अपनी सहेली से इसलिए भी दोस्ती करे रहती थी क्योंकि वो हमेशा बाजार जाती थी, तो मेरा कोई काम भी करवा देती थी. हम दोनों कुर्सी पर बैठकर चाय तो पीने लगे, लेकिन मेरी निगाहें बार बार उसकी नाइटी में से अन्दर झाँकने की कोशिश कर रही थीं, जिसकी सूचना पूजा को मेरे खड़े लंड ने दे दी थी … जो तौलिया में उठा हुआ साफ देखा जा सकता था. हाइट में छोटी होने के कारण सोनू को गोदी में लेकर चोदते हुए मुझे बड़ा मजा आता था लेकिन वह मेरा लंड बर्दाश्त नहीं कर पाती थी इसलिए भी मुझे वापस उसको बेड पर लेटाना पड़ जाता था और वह भी उसी पोजीशन में चुदकर ज्यादा खुश होती थी.

कहानी लिखने का ये मेरा पहली बार का अवसर है … अगर कुछ गलती हो जाए, तो मुझे क्षमा कीजिएगा. मैंने अब उनकी मेक्सी को उतार दिया जिसकी वजह से अब वो सिर्फ़ काली ब्रा और पेंटी में मेरे सामने थी.

एक दो बार तो मेरा लंड उसकी गांड के ऊपर से इधर-उधर हुआ, जिसे देखकर वंदना कह रही थी कि मैंने बोला था ना.

मुझे तो कोई जल्दी थी नहीं … मैं भी उसे इसी तरह प्यार से चोद रहा था. मैंने अपने हाथ को उसकी जांघों के बीच सरका दिया और धीरे धीरे ज़न्नत के दरवाज़े की तरफ बढ़ने लगा … जैसे जैसे मेरा हाथ उसकी चूत की तरफ बढ़ रहा था, मुझे कुछ गीलापन और गर्मी महसूस होने लगी. राज अंकल ने एक स्कॉर्पियो में मुझे बैठा दिया और जिस गाड़ी में आए थे उसमें मम्मी को बिठा कर बोले कि इसमें आप बैठो.

सेक्सी मूवी नंगी सीन ऐसा करते करते अचानक से दोनों ने पूरी ताकत से एक साथ ही लंड पेल दिए. नाइटी पहनते वक्त मैंने ब्रा पैंटी भी नहीं पहनी थी, उसके चलते मेरा पूरा शरीर लगभग नंगा दिख रहा था.

मैंने अपना एक पैर बेड पर रख के अपने हाथ को पीछे करके प्रमिला का सर पकड़ के उसका मुँह अपनी गांड में डालने लगा. इस पूरे प्लान में मैं कहीं नहीं था क्योंकि इनका प्लान दीवाली के बाद जाने का था और दीवाली के वक़्त मेरा बिज़नेस जोर पर होता है तो मैं नहीं जाने वाला था. पर तभी ट्रेन ने एक हिचकोला सा लिया, तो उनका पूरा लंड मेरी चूत में घुस गया.

रवीना xxx

इतना कहकर छत्तू ने मेरी पीछे से स्कर्ट पूरी ऊपर कर दी और मुझे बोला- तुम्हारी चूत बहुत गर्म है वन्द्या, बहुत बह भी रही है. मैं सोनू चूत में दोगुनी ताकत से धक्के मार रहा था और मेरा लंड उसके पेट में जाकर घुस जाता था. मैंने कंचन मैम से कहा- मैम मेरा होने वाला है … कहां डालूँ?मैम ने कहा- अन्दर ही डाल दो … मैं बाद में दवाई ले लूँगी.

पहले हम घरवालों के साथ संयुक्त परिवार में रहते थे, पर पिछले एक साल से हम कहीं अलग किराए के घर में रह रहे हैं. हमारी बातें अब तक सिर्फ़ फोन से ही होती थी, मिलना तो मुमकिन नहीं था पर एक दूसरे को आमने सामने आना भी नसीब नहीं होता, बस कभी फोन और वीडियो कॉल हो जाती थी.

तुझे मैं बस रोज ऐसे ही चोदूंगा और तुझे ऐसे ही मस्त लौड़ों से चोदते देखूंगा.

सब कुछ सही जा रहा था, सारी तैयारी पूरी हो गयी थी कि जाने के कुछ दिन पहले पता चला कि मेरे दोस्त के कजिन की बैंक की परीक्षा उसी वक़्त है और उसे अटेंड करना ज़रूरी है तो उसका जाने का प्रोग्राम रद्द हो गया. उन दोनों ने सबसे मुझे भी मिलाया, अन्नू और डोली को लगभग सभी जानती थीं. उसने दबा कर मेरे यौवन का रस चूसा औऱ पहली बार किसी लड़के का लंड देखा.

मैंने अपने चपरासी को आवाज़ लगाई- ये ऑफिस रूम में क्या खुसुर फुसुर चल रही है, ज़रा मुझे भी तो बताओ?मेरे चपरासी शिवा ने मुस्कुराते हुए कहा- सर, वो आज अपने स्कूल में एक नयी टीचर आई हैं, सभी उनके ही बारे में बातें कर रहे हैं. छत्तू अगर मुँह में हाथ नहीं रखते, तो मैं चिल्ला चिल्ला के सबको यह पता करवा देती कि मेरी चुदाई हो रही है. मैंने कहा- जान, कंट्रोल करो, अभी तो पूरी रात चुदाई होनी है तुम्हारी.

वो उपिंदर, हट्टा कट्टा सरदार, चौड़ा सीना मज़बूत जांघें और शानदार बदन.

देसी बीएफ वीडियो ओपन: इससे मेरा काम‌ अब और भी आसान‌ हो गया‌ था क्योंकि अब प्रिया नेहा और सुलेखा भाभी तीनों को ही‌ एक‌ दूसरे के‌ बारे में मालूम हो गया था कि उनके मेरे साथ चुदाई के सम्बन्ध हैं‌ और तीनों को‌ ही‌ इससे शायद कोई‌ ऐतराज भी नहीं था. फिर पुनीत मेरे मुँह को खोल के मेरी जीभ को चूसने लगा और मेरे दूधों को जोर से ताकत के साथ दबाने लगा.

वो बहुत अलग ही तरीके से मेरे होंठों में अपनी जीभ को धीरे धीरे ऐसे चला रहा था कि मेरी हालत उसकी हरकत से बिगड़ रही थी. यह कहते हुए उसने मेरे मुँह पर अपना मुँह रख कर जोर से दबाया और अपने हाथों से उस डिल्डो को मेरी चूत में घुसा दिया. ऐसा करने से उनके मुँह से एक लंबी आह निकली और एक बड़े झटके के साथ लंड मेरे कलेजे तक पहुंच गया.

धीरे धीरे करके जेठ जी ने अपना पूरा लंड मेरी चुत में पेल दिया और अब वे चूत में हल्के हल्के धक्के लगाने लगे.

चूत पर मेरा सेक्सी टच होते ही उन्हें जैसे करंट सा लगा, उन्होंने मुझे कस कर पकड़ लिया और मुझसे लिपट गईं. बहुत सेक्सी और हॉट है तू, वन्द्या कुछ भी कर, पर मुझे अपनी गांड से अलग मत करना. सबीना आंटी जब बुरके में चलती थीं तो उनकी मोटी मजबूत गांड मुझे आमंत्रित करती थी कि विक्रम आ जा.