बीएफ ब्लू सेक्स हिंदी

छवि स्रोत,हिंदी सेक्सी फुल हद वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ दिखाइएगा: बीएफ ब्लू सेक्स हिंदी, और हर किटी पार्टी में मंगल पूरे समय मौजूद रहता था, वही सब कुछ अरेंज करता था और एक पालतू नौकर की तरह से लगा रहता था.

शौचालय सेक्सी

मैंने अपने दोस्त से एक दिन शराब के नशे में सारी बातें पूछी, तो उसने बताया सोमेश भैया ने दीदी से और लड़कों के साथ मिलकर ग्रुप सेक्स करने को कहा था. ब्लू फिल्म सेक्सी साड़ी वालामैंने कहा- मैं भी तुम्हें खूब चोदना चाहता हूँ, तुम्हारी चूत को गुफा बनाना चाहता हूँ.

अर्ध नग्न मेरी बीवी की सफेद दूध जैसे तन कर कह रहे हों कि उनसे बस अब दूध टपकने ही वाला है. इंडियन देसी मूवी सेक्सीमैंने अब भी कुछ नहीं किया, तो चाची ने नीचे से गांड हिलाई और कहा- अब चोद बे … ऐसे ही डाले पड़ा रहेगा क्या?मैं धीरे धीरे से चूत में धक्के देने लगा.

अंधेरे में साफ नजर तो नहीं आ रहा था, लेकिन शायद वो पूजा थी, जो मिठाई लेकर आई थी.बीएफ ब्लू सेक्स हिंदी: बहू ने मेरी आंखों में देखा और हल्की सी मुस्कान के साथ मेरे बदन से लग कर खड़ी हो गई.

मुझे आंटी को चोदने में इतना मजा आ रहा था कि बस समझो जन्नत का सुख मिल रहा था.आगे इस सेक्स कहानी में मैं आपको सुरेश की मस्ती और सेक्स को लेकर कहानी का अंतिम भाग लिखूँगी.

सेक्सी पिक्चर बढ़िया वीडियो - बीएफ ब्लू सेक्स हिंदी

मैंने उसे समझाया कि इसका मतलब है कि तेरे पीरियड का ये आखिरी दिन है.कुछ देर के बाद बहू को जब उन मुस्टंडों से परेशानी होने लगी तो उसने पीछे मुंह करके मेरे कान में फुसफुसा कर कहा- बापू जी, ये जो सामने खड़े हुए हैं, मुझे इनके पास खड़ा होना ठीक नहीं लग रहा है.

फिर मैंने जल्दी से मैडम को हां कर दी और मैं रात को उनके घर पर ही रुक गया. बीएफ ब्लू सेक्स हिंदी मैंने पहले नीचे का पेटीकोट भी निकाला और भाभी को ब्रा पेंटी में ला दिया.

मैं संजय को अपनी बांहों में लेकर बिस्तर पर गिर गई और हम दोनों सो गए.

बीएफ ब्लू सेक्स हिंदी?

भाभी की आँखों में हल्के हल्के आंसू थे जो शायद खुशी के थे और मुँह पे कराह थी जो शायद काफी कम चुदाई का नतीजा थी।मैं भाभी को चोद रहा था और साथ साथ में भाभी को किस भी कर रहा था. फिर मैम ने पीछे मुड़ कर अपने चूतड़ों को हाथों से हिलाकर कर कहा कि ये सब मिला कर बनता है माल, जिस लड़की के चुचे, कमर और गांड को देख कर चोदने का मन करे … तो समझ जाओ कि वो लड़की माल है. आंटी ने जैसे ही मेरा 8 इंच लंबा और काला मोटा लंड देखा, वो एकदम से घबरा गईं और पीछे हट गईं.

शिफा ने अपना घाघरा ऊपर उठा कर, अपनी एक टांग सामने की दीवार पर रखी और अपने हाथ से अपनी फुद्दी मसलने लगी. मेरे लंड का साइज पहले से काफी बढ़ गया था और ये सब मोनिषा आंटी के कारण हुआ था. भाई के लंड पर लगा हुआ मेरी चूत के पानी का स्वाद भी मेरे मुंह में आने लगा था.

मेरी उंगली जैसे ही अन्दर बाहर होती, वो ‘आह उईईईई मआ माँ सीईईईईई आह अमित धीरे करो. अब मामाजी बोले- अब ढीली हो गई!उन्होंने तेल भीगा अपना लंड मेरी गांड पर टिकाया, बोले- डाल रहा हूं, ढीली रखना, कसना नहीं, बिलकुल परेशानी नहीं होगी. उसकी मस्त बातों से मुझे भी जोश आने लग़ा और मैं नीचे को होकर उसकी चुत चाटने लगा.

यही मेरे लिए सबसे मज़े का काम होता, क्योंकि मैं माँ के साथ चिपक कर सोता. मीरा ने मुझे अपने आपसे, अपने सीने से ऐसे चिपका लिया, जैसे वो मुझे अपने अन्दर समाहित कर लेगी.

जब कभी जीन्स टी-शर्ट पहनती, तो कसे हुए कपड़ों में उसका बदन देख कर मेरा दिल करता कि साली को उठा कर ही ले जाऊं.

कुंवारी चूत चुदाई की कहानी में पढ़ें कि मैंने कोचिंग ज्वाइन की तो रूम किराए पर लिया.

पता नहीं था कि वो मेरे बारे में क्या सोच रही होगी, बस मैं अपनी हवस को किसी तरह काबू करने की जुगत में लगा था. एक और बात भी थी कि मेरी मॉम पापा के न रहने पर नहाने से पहले मुझसे मसाज करवाती थीं. उसे एक हफ्ते से बोल रहा था, तब किसी तरह दोपहर को गाय वाले घर में हम मिले.

मैंने कहा- गर्लफ्रेंड को नहीं चोदेगा तो क्या अपनी अम्मा को चोदेगा?अब भी उसने कुछ नहीं किया तो मैंने उसके चेहरे पर एक तमाचा मार दिया. अगर छोड़ देता तो दोबारा नहीं देती, इसलिए जोर से झटका दे मारा, एक बार में ही पूरा लंड अन्दर घुस गया था. दिन भर घूमने के बाद हम दोनों शाम को वापस घर जा रहे थे, तो मैडम ने कहा- चलो आज मेरे घर चलते हैं.

फिर उसने मेरी ब्रा और पेंटी निकाल दिए और मैं उसके सामने नंगी हो गयी.

अब वो मेरा लंड चूस रही थी और मैं उसकी नाज़ुक सी कोमल चुत में अपनी जीभ चला रहा था. मैं कोशिश कर रहा था कि चिल्लाऊं नहीं, पर थोड़ी बहुत आवाज निकल ही जाती थी. मेरी मॉम की कामुकता सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि उन्होंने कैसे मुझे अपनी वासना का शिकार बनाया.

फिर वो अपने पैरों से मेरे सर को अपनी बुर पर जोर से दबाने लगी और झड़ गई. कजरी बोली- ठीक है … शाम को 4 बजे इसी सरसों में आपके लंड का काम तमाम कर दूंगी. भाभी ने कहा- जब तुमने जानबूझकर फिसलने का नाटक करके मेरी चूची को दबाया था, मैं तभी समझ गई थी कि मेरे प्यारे देवर को मेरी चूत चोदने का मन है.

कभी वो अपनी चूत मेरे लंड पर रगड़ती, तो कभी अपनी गांड पर लंड का स्पर्श करा देती.

मैंने संध्या के मुँह पर हाथ रख कर उसे उठाया, वो समझ गयी कि आज उसको वो आनन्द मिलने वाला है, जो शायद वो जानती थी कि उसकी दीदी ले चुकी है. यह कहानी है मेरी जान से प्यारी पत्नी की पहली नजर में उसके मेरे दोस्त पर जज़्बात बहक गए.

बीएफ ब्लू सेक्स हिंदी मैं बैठा था और अंधेरा भी था, तो मैंने उसकी कमर पर एक हाथ और एक हाथ उसके कपड़े के ऊपर से चूत पर रगड़ा. विभोर मेरे होंठों को चूसने के बाद मेरे कान को चाटने लगा और उसके बाद मेरे गर्दन को चाटने लगा.

बीएफ ब्लू सेक्स हिंदी मैं अपनी जीभ निकाल कर बारी बारी से दोनों की चुत को जीभ से चोदने लगा. सौम्या की ब्रा का हुक खुलते ही उसके 34 साइज के चूचे आज़ाद होकर हवा में फुदकने लगे.

आनन्द ने कहा- देखा नेहा, सोमेश ने तुमको धोखा दिया … तुम्हें अब उसे छोड़ देना चाहिए.

बीएफ नंगी सेक्सी

फ्रिज से पानी निकाल कर पीने लगा और वापस जाते हुए मैंने फिर से मामी की गांड पर हाथ मारा. करीब 15 मिनट बाद उन्होंने मुझे आवाज़ दी और कहा- मैं अपनी तौलिया वहीं भूल गई हूँ … तुम मुझे दे दो. अब मैं पागलों की तरह उसके दोनों मम्मों को चूसने लगा; बीच बीच में हल्का सा काट भी लेता.

मैंने सोचा के बाकी घर के तो सब बिज़ी हैं, क्यों न अपना थोड़ा सा प्रोग्राम फिट किया जाए. मैं सेक्स करने को तैयार भी थी फिर भी मुझसे जब तक हो रहा था मैं विरोध करती रही. मैंने उससे कहा- ऐसा क्या है मोनिषा आंटी में … जो तू उसे चोदना चाहता है?उसने कहा- भाई इस टाइम मोनिषा को देखा है तूने … कितनी हॉट और सेक्सी हो रही हैं.

भाभी ने हंस कर कहा- हां हां क्यों नहीं … मैं तो खुद बेसब्री से तुम्हारा इंतज़ार करूंगी.

अन्तर्वासना पर कहानियां पढ़ते-पढ़ते मैंने भी सोचा कि मैं भी अपनी जिंदगी की एक सेक्स कहानी आपके साथ शेयर करूँ. इस चोदा चोदी के चक्कर में हम वो खून वाली चादर साफ़ ही नहीं कर पाए और अगले दिन माँ पापा आ गए. मैंने मां के बारे में बताया तो चाची ने कहा कि ठीक है मैं फिर बाद में आऊंगी.

मैंने एक एक पैग और बनाया और हम दोनों दारू पीने के साथ साथ खाना खाने लगे. यह सुनकर ज्योति सोफे से उठकर मुझे कसकर अपने गले से लगा लिया और बोली- मैं तुम्हारे सच्चे प्यार के लायक नहीं हूं … क्योंकि मेरे आयुष के साथ शारीरिक सम्बन्ध हैं. उस वक्त मुझे यह जान कर अजीब लगा था क्योंकि मुझे उस बात पर यकीन नहीं हो रहा था.

मैंने पूछा- कैसा लगा?भाभी हंस कर बोलीं- मैं बता नहीं सकती … कितना अच्छा लगा. फिर तेरस के दिन मैं मॉम को गंगा स्नान करवाने के लिए ले गया, लेकिन रास्ते में मैंने कोई ऐसी हरकत नहीं की, जिससे अनिल को शक हो कि मॉम और मेरे में कुछ चल रहा है.

हम लोग गांव में जब रहते थे, तब मैंने सुना था कि सुरेश मॉम को चोदता था. फिर अचानक रात को उन्हें दर्द होने लगा, तो मैंने उठकर फिर से हाथ से प्यार से सहलाने लगा और उन्हें सुलाने लगा. उनके पति जॉब में रहते हैं तो किटी पार्टी मनोरंजन का एक बहुत ही अच्छा विकल्प है.

वो लंबी लंबी गर्म सांस ले रही थी … क्योंकि मैं उसके ऊपर नंगा लेटा हुआ था.

वैसे भी मुझे कोई खासा फर्क तो पड़ने वाला नहीं था क्योंकि मैं खुद काम की प्यासी रहा करती हूं. जिधर कोठे की मालकिन के यहां एक पुलिस वाला मेरी बीवी को दस दिन के लिए अपने साथ ले जाने की कह रहा था. मैंने उसका हाथ पकड़ कर अपने लंड पर रख दिया और आंखों से चूमने का इशारा किया, तो उसने झुक कर मेरे लंड के सुपारे को प्यार से चूम लिया और फिर चली गई.

वो बस अपनी गांड हवा में उठा उठा कर मेरी जीभ को अपनी चुत में अन्दर तक ले लेना चाहती थी. जब मैं मॉम की पीठ पर तेल लगा रहा था, तब उनके मम्मों तक हाथ ले जाता था.

कुछ देर तक मैंने उसकी चूत में जीभ को अंदर बाहर किया तो वो इतनी गर्म हो गई कि मुझे अपने ऊपर खींचने लगी. साथ साथ मैं आहिस्ता आहिस्ता मोसी की चुदाई करने लगा।अब धीरे धीरे मोसी भी मेरा साथ देने लगी और मैंने मोसी की चुदाई की गति तेज़ कर दी और उनकी दमदार टाईट और रसीली चूत को जोर से चोदने लगा. बताइए आप क्या चाहते हैं?आदमी- देखिए मैं चाहता हूँ कि आप मेरी बीवी के साथ भी सेक्स करें.

देसी नंगी सेक्सी फिल्म

हालांकि वो रोज़ मेरी चुदाई करते हैं, पर सोते वक्त सीधा गाउन उठा कर चोदने लगते हैं … लेकिन 5 मिनट में झड़ जाते हैं और मैं अधूरी रह जाती हूं.

पेशाब करने के बाद कजरी एक उंगली चुत के अन्दर डाल कर चुत को ठंडा करने लगी. वैसे भी मुझे कोई खासा फर्क तो पड़ने वाला नहीं था क्योंकि मैं खुद काम की प्यासी रहा करती हूं. ये तो मर्द और पुरुष की अलग अलग विशेषता होती है, इसलिए मुझे सुरेश से कोई शिकायत नहीं थी.

मैंने धीरे धीरे लंड घिसते हुए एक झटका मारा और मेरा लंड उसकी चूत में घुस गया. मैडम अपनी मोटी गांड को संभालती हुई कार से बाहर निकली और दरवाजा पट की आवाज के साथ बंद करती हुई आगे चली गई. इंग्लिश सेक्सी वीडियो देखोक्योंकि महिलाएं भी थकती हैं और यदि पुरुष झड़ने की अवस्था में हो और जरा भी कमी हुई, तो पुरुष झड़ तो जाएंगे … पर जो लय और तीव्रता उन्हें चाहिए होती है, वो नहीं मिल पाता.

मैंने कहा- कोई परेशानी तो नहीं होगी न?वो बोला- मैं पहले उससे बात कर लेता हूँ. मैंने उसको पहचान लिया और एक सुनसान सी जगह पर जाकर मैंने उसको बाइक पर बैठा लिया.

बस यही है क्रॉस ड्रेसर की गांड की पहली चुदाई की दास्तान!अगली बार फिर तब आऊँगी जब नया लंड खाऊँगी किसी नए मर्द का!तब तक मस्त चुदाई भरी रातों का मज़ा लीजिये. अब रात हो चुकी थी, तो मैंने उससे खाने के लिए भी पूछ लिया और रात 9 बजे तक मैंने खाना बना लिया. फिर बुआ ने कहा- खाना खा लें क्या?मैंने कहा- बुआ आप बुरा न मानो, तो आज मैं थोड़ा एन्जॉय कर लूं?बुआ ने आंखें नचाईं और पूछा- कैसा एन्जॉय?मैंने अंगूठा उठाया और दारू पीने का इशारा किया.

लड़के के जाने के बाद उसने मुझसे कहा- आप खाना खा लीजिए, फिर बात करते हैं. मेरी दीदी सेक्स कहानी पर अपनी प्रतिक्रिया देकर बताएं कि आपको कहानी कैसी लगी. मैंने धीरे से पीछे से हाथ डालकर उनके दोनों मम्मों को दबा दिया, उनके मुँह से हल्की से सिसकारी निकली.

मेरी गोद में आते ही हम दोनों के होंठ एक दूसरे के मुंह से कोल्ड ड्रिंक का मिठास चूसने लगे.

हालांकि मैं हर एक टीचर का प्रिय था, मगर एक अध्यापिका थीं … जिनका नाम वंदना था. जब वो आयी तो मेरा हाथ मेरा लंड हिला रहा था और सामने स्क्रीन पर चूत चुसाई का सीन चालू था … जिसको उसने कुछ 5-6 सेकंड देखा होगा, फिर वो बिना कुछ बोले चली गयी.

जब उसने मुझे देखा, तो उसने एक हाथ से चूचियों को दूसरे हाथ से अपनी देसी बुर को ढक लिया और सर नीचे करके दीवार से सट कर खड़ी हो गई. मोनिषा आंटी ने हंसते हुए कहा- अब तक तुमने कितनी बार मुठ मारी है?मैंने कहा- मोनिषा आंटी, पिछले पांच दिन में आपके नाम की करीब पच्चीस बार मुठ मार चुका हूं. उस दिन जब मैं अंग्रेजी साहित्य का पेपर देकर अपने घर जा रहा था तो रास्ते में ही सानु का कॉल आ गया.

मैंने कहा- भाभी अगर आप बुरा न मानो, तो मैं आपकी समस्या को दूर कर सकता हूँ. मुठ मारने में इतना मजा कभी नहीं आया जितना मामी के मुंह में लंड को देकर आ रहा था. मेरे अच्छे व्यवहार से उनके घर में धीरे धीरे उनके मम्मी पापा को अच्छा लगने लगा.

बीएफ ब्लू सेक्स हिंदी अभी हालात ही ऐसे हैं कि इन सब रिवाजों का भार अपने कंधे से कुछ समय के लिए उतार दो. उसे खुद औरत होते हुए भी नंगी औरतों को देखना और उनके जिस्म से खेलने का बहुत मन है.

एक्स ब्लू हिंदी में

अपनी आंखें बंद करते ही उसके साथ संभोग के एक एक दृश्य मेरे सामने आने लगे. मोनिषा आंटी की चीख निकल उठी ‘उम्म्ह … अहह … हय … ओह …’उन दोनों की इतनी उत्तेजना देख मेरा लंड भी खड़ा हो गया. फिर मैंने झट से उनको लेटा दिया और उनके ऊपर आकर फिर से चुत में लंड सैट करके जोर से धक्के देना शुरू कर दिया.

रोनिता की आँखों में आँसू थे, वो ज़ोर से चिल्ला रही थी- निकालो प्लीज … बाहर निकालो … मुझे नहीं चुदवाना प्लीज निकालो …रोनिता को उस समय बहुत तेज दर्द हो रहा था. आंटी ने डरते हुए मेरे लंड को छुआ, तो लंड ने एकदम से फुंफकार मारी, जिससे आंटी ने घबरा कर लंड छोड़ दिया. सरसों की सेक्सी वीडियोलेकिन इसी बीच मेरे पति को शक होने लगा था कि मैं उनके जाने के बाद किसी से बात करती हूँ.

अब चौकीदार में मुझे मेरी मम्मी का पति मालूम होने लगा, जो उनकी शारीरिक जरूरतों को पूरा कर रहा था.

मैं अब कुछ नहीं कर सकती थी, उसने जबरदस्ती खींच कर मेरी ब्रा भी मुझसे अलग कर दी थी. रीता की चुत की माँ चुद गई वो बहुत जोर से गाली देते हुए चीख पड़ी- आह … मादरचोद … चुत चुदवाने के लिए बुलाया था भैन के लौड़े … फाड़ना नहीं है.

मगर मैडम का स्वर ऐसा था कि बाहर तक आवाज भी न जाये और हम दोनों डर भी जायें. काम वाली कुछ देर के बाद मेरे घर काम करने आई तो वो काम करके चली गयी. मैं- क्या बात भाभी?भाभी बोलीं- मैं तुमसे पहले ही क्यों नहीं चुद गई.

मैंने बहुत बार कोशिश की कि उनकी चूची को दबा दूँ, लेकिन न मौका मिला और न हिम्मत हुई और मैं भाभी की चूचियां न दबा सका.

मैंने बहन की चूत को मुंह लगाकर चाटा तो वो मेरे सिर को अपनी चूत पर दबाने लगी. आज लिख रहा हूँ लेडीज किटी पार्टी में बढ़ती अश्लीलता पर! सब औरतें अब अपनी सेक्स फेंटेसी पूरी करना चाहती हैं और वह भी खुलकर बेशर्मी से!अन्तर्वासना के सभी दोस्तों को बहुत समय बाद एक बार फिर से अरुण का नमस्कार. मेरी जांघें इतनी अधिक फैली थीं कि हर धक्का मेरी बच्चेदानी पर चोट कर रही थी.

यूपी फोटो सेक्सीक्रॉस ड्रेसर आम तौर पर वे बॉटम गे मर्द होते हैं जो लड़कियों के कपड़े पहनना पसंद करते हैं और गांड मरवाते हैं. उसकी बात का जवाब देते हुए मैंने कहा- जो मामा जी को देती हो वही …वो बोली- अगर वो दूंगी तो कितना करोगे?मैंने कहा- जितना आप साथ दोगी, उतना ही करूंगा.

बीएफ सेक्सी फिल्म दिखाइए वीडियो

वो अन्दर क्या पहने थी, ये मेरी पारखी नजरों ने बड़ी आसानी से भांप लिया था. मैंने जैसे ही राजशेखर का लिंग हाथ में पकड़ा, मुझे ऐसा महसूस हुआ जैसे मैंने कोई मोटा गरम सरिया पकड़ लिया हो. आंटी ने जैसे ही मेरा 8 इंच लंबा और काला मोटा लंड देखा, वो एकदम से घबरा गईं और पीछे हट गईं.

वो बोली- क्यों?मैंने कहा- बस मुझे तुमको लाल रंग की ब्रा पैंटी में देखने का मन कर रहा है. वो मुझे देखते ही मेरे सीने से चिपक गई और जोर से मेरे लबों को चूसने लगी. मैंने कॉल उठाया तो वो बोली- तुम मेरे घर के पास से गुजर जाते हो लेकिन कभी मुझसे मिलने नहीं आते घर पर!उसके बुलाने पर मैं उसके घर पर चला गया.

वे बोलीं- मैं अकेली हूं और पहली बार ट्रेन से दिल्ली के लिए जा रही हूं, तो जिस ट्रेन से आप जाओ, मुझे भी बता देना. क्योंकि अब उन को सब पता है कि उनके पति भी बाहर बहुत मस्ती करते हैं इसलिए उनका भी हक है कि वह अपनी निजी जिंदगी के मजे उठाएं. मेरे लेटते ही साहब ने अपनी कमीज भी निकाल दी और फिर मेरे ऊपर टूट पड़े.

मैं- वे 5 औरतें कौन कौन हैं?सुरेश- पहली मेरी पत्नी, दूसरी एक कामवाली थी हमारे घर पर, तीसरी एक लड़की थी दफ्तर में, चौथी सरस्वती और पाँचवीं तुम. ये चाची सेक्स कहानी कुछ ऐसी हॉट है कि लड़कों व लड़कियों का पानी निकलवा देगी.

वक्त के साथ मैं भी समझ गया कि जितनी मेरी माँ चुदक्कड़ है, मेरी बहन की वासना भी उससे कम नहीं है.

उसकी सांसें तेज़ हो गई थीं और मुँह से सिसकारियां निकल रही थीं- आह आह … हां यश और चूसो … उम्म्ह … अहह … हय … ओह …मैं उसे यूं ही चूमते चूसते हुए नीचे की तरफ आ गया. घोड़ा सेक्सी दिखाओएक दिन सोमेश भैया अपने दोस्तों के साथ दारू पी रहे थे … मैं भी उनके साथ बैठ कर दारू पी रहा था. मैक्सी में सेक्सी वीडियोउतने में संध्या ने भी चौंकते हुए कहा- कल शाम तक तो आप ठीक थीं, ये अचानक कैसे हो गया?पूजा ने मेरी तरफ देखा, मैं हल्का सा मुस्कुरा दिया. ये सुनकर मॉम बोलीं- मतलब अब तुम मुझे पैसों के लिए चुदवाओगे?मैंने कहा- नहीं … किसी से कोई काम निकलवाना होगा, तो उससे चुदवाऊंगा.

जब बुआ नहाने जाती थीं, तो मैं बाथरूम के छेद से चुपके से उन्हें नहाते हुए देखता रहता था.

आप यही सोच रहे होंगे कि मेरी आंटी के कारण मेरे लंड का साइज कैसे बढ़ सकता है. मैं फेसबुक पर अपनी क्रॉसड्रेसिंग आईडी से काफी लोगों से बात करती थी. वे बड़ी देर तक मेरे ऊपर लेटे रहे, पर जब उनका लंड सिकुड़ गया, एकदम ठंडा पड़ गया, तब बाहर निकले.

वहां की प्रिंसीपल स्कूल के मालिक और मैनेजर साहब की पत्नी थीं, एक गठीले एवं पूर्ण विकसित शरीर की मालकिन थी. मैं उसकी चुत में उंगलियों को अन्दर बाहर करने लगा, तो वो भी मेरे लंड को धीरे धीरे दबाने लगी. उसने कार को घर के अन्दर किया, खुद पहले उतर कर घर का मेन गेट खोला और अन्दर जाने लग गई.

सनी ट्रिपल एक्स

वो मेरी आंखों में देखते हुए अपनी ब्रा और पैंटी को भी उतारने के लिए तैयारी कर रही थी. मैं अपनी बुआ के बेटे के साथ यानि चचेरे भाई बहन की चुदाई का मजा लिया. जिस प्रकार वो अपनी मदमस्त सुडौल थुलथुल चूतड़ों को हिला रही थी, उससे तो अंदाज लगाया जा सकता है कि राजशेखर शायद ही खुद को ज्यादा देर रोक सकता था.

मगर मैं भी जानता था कि दीदी कॉलेज में पढ़ाई का नहीं बल्कि चुदाई का प्रोजेक्ट पूरा कर रही थी.

मैंने जल्दी से लौड़ा उसकी रसीली चूत से टकराया और अंदर डालते हुए उसका चेहरा देखा.

वो हल्के से मुस्कुराईं और बोलीं- आज मुझे कुछ काम है … इसीलिए मैं जल्दी जा रही हूँ. माँ शर्माती हुई जब लाला के पास से गुज़री, तो लाला बोला- आप पता नहीं कब समझेंगी. गुजराती सेक्सी चुदाई दिखाओमैंने सारी साड़ियों पर नजर दौड़ाई और फिर एक रेड चिली कलर की साड़ी उठा कर मैडम की तरफ कर दी.

चूंकि चूत पर तेल लगा था और उसके लंड पर भी तेल लगा था इसलिए लंड आसानी से चूत में घुस गया. दोस्तो, मुझे इतना अच्छा लगा कि मैं भी उसकी तारीफ करने से खुद को रोक नहीं पाया. अब मैं मौके की तलाश में था कि कब दीदी के साथ कोई न हो … उसी दिन मैं दीदी को लेकर वहां उड़ीसा भाग जाऊं और किसी को कुछ पता न चले.

अब आगे:मैंने फोन उठाया, तो उधर से आवाज आई- डिस्टर्ब हो गयी … या फुरसत हो गयी?मैंने जवाब दिया- साली कुत्ती कमीनी कहीं की, इतनी रात क्यों फ़ोन किया?सरस्वती- अरे तूने बताया था न कि आज सुरेश आने वाला है तेरे घर … इसलिए सोचा कि पूछ लूं क्या चल रहा है. अब मम्मी ने मुँह खोलकर उसके लंड को मुँह में ले लिया और उसके लंड को चूसने लगीं.

मैं ज्यादातर माँ बेटे की सेक्स कहानियां पढ़ा करता था और मुठ मार कर रात को सो जाया करता था.

वो दोनों हाथों से मेरे चूचों को दबा रहा था और मैं उसके सिर को पकड़ कर उसके होंठों को चूसने में लगी हुई थी. हरामज़ादी इतनी नशीली लग रही थी कि मुझे अफ़सोस हुआ उसका भाई होने पर … ऐसी कामुक लड़की को तो रण्डी बनाकर बीच बाज़ार चोद देना चाहिए. उस दिन भी दीदी ने ड्रिंक की और मुझसे कहने लगीं- तू मुझे खुश नहीं करता है … तो मेरे लिए एक ऐसा बन्दा ला, जो मेरी प्यास बुझा सके.

हिंदी महिला सेक्सी वीडियो मुझे तो ऐसा लग रहा था कि इनको अभी ही गिराकर इनके ऊपर चढ़ जाऊं, इनकी गांड में जीभ डाल दूं और चाटने में लग जाऊं. ये तो मैं पहले ही बता चुका हूं कि उसे देख कर मेरा दिल क्या करने को करता था.

मैंने लंड की तरफ नजर दौड़ाई, तो पता चला कि मेरा लंड खून से सना हुआ था. थोड़ी देर में उन्होंने मुझसे पूछा- आपको कहां जाना है?मैंने बताया- मैं आंटी पेपर देकर आ रहा हूँ … मुझे भी दिल्ली जाना था. उसकी गांड का छेद टाइट था, मेरा लंड उसकी गांड में पहले तो थोड़ा सा गया … फिर थूक लगा कर मैंने पूरा अन्दर पेल दिया.

बिहारी आंटी का बीएफ

उस दिन उसके चूचों की शेप को देख कर मुझे तुरंत जाकर बाथरूम में मुठ मारनी पड़ी थी. वो बोली- क्या मैं तुम्हारे ‘उसको’ देख सकती हूं?मैंने अन्जान बनते हुए कहा- किसको?उसने शरमाते हुए मेरे झटके खा रहे लंड की तरफ देखा. मुझे मौन देख कर मास्टर साहब कहने लगे- अच्छा … पैसा नहीं तो आपके लिए पार्टी का इंतजाम कर लूं? व्हिस्की बीयर वाइन जो चलती हो, अपन झांसी में पार्टी रख लेंगे.

उसकी ब्रा से उसके गोल-गोल स्तनों के नुकीले दूध साफ़ दिखाई दे रहे थे. फिर मैंने कंडोम पहना और लंड घुसेड़ना चालू किया, पर वो जा ही नहीं रहा था.

फिर अपने हाथ पर थोड़ा सा तेल लेकर तेल से भीगी उंगली मेरी गांड में घुसेड़ दी.

मैंने उन दोनों की हरकतें देखी, मम्मी तो घर में अपनी वासना का इलाज करती थी. मामा ने मामी की टांगों को चौड़ी किया और उनकी चूत में लंड को लगा कर उसके ऊपर लेट गये. मेरा दिल करता कि पकड़ कर चोद दूँ, लेकिन डर था, क्योंकि घर में नानी रहती थीं और कहीं प्रियंका चिल्ला दी, तो सब रायता फ़ैल जाएगा.

मैडम ने मुझे घूरते हुए देखा तो उन्होंने खांस कर ताना मार कर कहा- अगर देख लिया हो तो जरा कार भी चला लो!घबराहट के मारे कार स्टार्ट तो हो गई लेकिन एक दो झटके खाकर ही फिर से रुक गई. उसके चूतड़ों पर पर मेरी जांघें लग कर फॅट फॅट की आवाज़ पूरे कमरे में गूँज रही थी. मेरी नाभि में अजीब सी सनसनाहट हुई और ऐसा लगा मेरी योनि की मांसपेशियां ढीली पड़ जाएंगी.

चाची एक रंडी के जैसे मेरे लंड के पास आईं और मेरे खड़े लंड को पकड़ कर चूसने लगीं.

बीएफ ब्लू सेक्स हिंदी: अब तो मैंने लगातार उसे ऐसे चोदा कि वो मदहोश हो गयी और उसके मुख से तरह तरह की आवाजें आने लगी थी. हरामज़ादी इतनी नशीली लग रही थी कि मुझे अफ़सोस हुआ उसका भाई होने पर … ऐसी कामुक लड़की को तो रण्डी बनाकर बीच बाज़ार चोद देना चाहिए.

हमने काफी देर बातें की, देर तक घूमे, एक ढाबे में हम तीनों ने नाश्ता किया. जब मैं अपनी पढ़ाई खत्म करके नौकरी की तलाश में था और बहुत परेशान भी था. उसके बाद मैंने अपने ब्लाउज को उसके सामने ही उतार दिया और मेरे चूचे उसके सामने लटक कर नंगे हो गये.

और अब खुद जॉयश की बारी थी खुद की सेक्स फेंटेसी बताने की!उसने कहा कि उसे दर्द और तकलीफ देने वाला सेक्स पसंद है.

मैंने कहा- तब तुम कौन से रंग की ब्रा पैंटी पहन कर आओगी?वो बोली- तुम सोचो. मैं अब अकेला था, लेकिन मुझे नहीं पता था कि मुझ पर कोई और नज़र रख रहा था. सुरेश अभी भी मेरे ऊपर ही था और हम दोनों उसी अवस्था में थे, जिस अवस्था में झड़े थे.