हिंदी बीएफ सेक्सी चुदाई फिल्म

छवि स्रोत,ओपन इंडिया सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

इंडियन बीएफ ओपन सेक्स: हिंदी बीएफ सेक्सी चुदाई फिल्म, फिर तभी अनामिका ने खुद ऊपर आकर प्रियंका को नीचे कर दिया और उसके चूचे चूसने लगी.

मां और बेटे की सेक्सी ब्लू पिक्चर

पार्टनर अगर दिल से प्यार करने वाला मिल जाए … तो बेड टूट जाते हैं और पार्टनर अगर जानवर बन कर प्यार करने वाला मिल जाए, तो चुत फटनी तय समझो. मारपीट वाला सेक्सीमैं आपको मेरी सच्ची कहानी बताने जा रहा हूं कि कैसे मैंने किरण की सील तोड़ कर उसे जन्नत की सैर करा दी।इस कहानी में जो नाम आप पढ़ रहे हैं वे बदल कर लिखे गये हैं.

तभी सामने बैठा एक आदमी मेरे पास आया और बोला- क्या आप होटल ढूंढ रही हो?मैं- हां. ससुर बहू की सेक्सी हिंदी आवाज मेंवो मुझे मेरे होंठों पर चूमने लगा और मेरे बूब्स की घुण्डियों को दबाने लगा.

राजू चाचा ने संध्या चाची के सिर को अपने लंड पर दबाते हुए कहा- तो तू कौन सी कम थी रंडी … मैं जब दीदी की चूची चूस रहा था तो तू भी उनकी चूत कैसे फैला फैला कर चाट रही थी.हिंदी बीएफ सेक्सी चुदाई फिल्म: इस फोटो में वो अपने पंजों की उंगलियों के बल अपने दोनों पैरों को खोलकर बैठी हुई थीं, जिससे उनकी फुद्दी उभरकर सामने आ रही थी.

कुछ नहीं … इतनी भूख लगी है क्या?मैं- हां … और फिर तुम्हारे हाथों में तो जादू है … बहुत दिन के बाद मिल रहा है ये टेस्टी वाला खाना … इसलिए कन्ट्रोल नहीं हो रहा.उसने अपनी गर्दन हिलाते हुए हामी भरी और उसकी सांसें बहुत तेजी से चलने लगीं.

कुत्ते की सेक्सी लड़की की - हिंदी बीएफ सेक्सी चुदाई फिल्म

अभी बाजार भी जाना है।जैसे ही पैकिंग का काम खत्म हुआ मौसी बोली- मैं नहाने जा रही हूं.उनकी चुम्मी से मेरा लंड तो बस लोअर फाड़ कर बाहर आने को बेताब हो गया था.

साथ में ये भी सोच रही थी कि मेरे बॉयफ्रेंड के साथ मेरी लाइफ कितनी अलग होती. हिंदी बीएफ सेक्सी चुदाई फिल्म मगर बस में भीड़ थी क्योंकि सब लोग एक साथ चढ़ आये थे और मैं जल्दी से अंदर घुस नहीं पाया.

तुम्हारे हां करते ही ये करूंगा, वो करूंगा सोचा था, पर एक्साईटमैन्ट में मैं अब कुछ नहीं कर पा रहा हूँ.

हिंदी बीएफ सेक्सी चुदाई फिल्म?

मैंने फिर पूछा- मामी, आपने बताया नहीं?मामी- अरे तुम वहीं अटके हुए हो … मैं अभी 26 की हो रही हूँ. तभी वो अचानक वापस आया और मेरे पास आकर मुझे एक किस करके बोला- मैं रात को वापस तुम्हारे पास आ सकता हूँ क्या? अगर तुम चाहो तो … या तुम्हें अगर रेस्ट करना है … तो हम कल मिल सकते हैं!मैंने उसे किस करते हुए कहा- दरवाजा खुला ही रहेगा … तुम्हें जब आना है, तब आ जाना. संजू उसका कड़ियल जिस्म देख कर बोली- वाह, आपका तो दोस्त बहुत शानदार है.

प्रियंका अनामिका की चूचियों को मसलते हुए बोली- रुको तो जीजू, आप अभी अपनी अनामिका साली के चूचे देख ही रहे हो … इसकी इच्छा है कि आप इसके साथ रोमांटिक सेक्स करना … प्यार ज्यादा … रोमांस ज्यादा … फोरप्ले ज्यादा … और दर्द थोड़ा कम … आप समझ रहे हो ना जीजू! इसे ब्वॉयफ्रेंड वाली चुदाई की फीलिंग चाहिए. विमला बोली- अगर तुम उसके साथ संबंध बना लो, तो मैं तुम्हें मुँह मांगा इनाम दूंगी. आप अगर मेरी सुहागरात की कहानी लिखने का मेरा मकसद नहीं समझे हैं तो मैं आपको थोड़ा और क्लियर कर देती हूं.

ये मेरा क्लब एक प्राइवेट क्लब है और इसमें केवल मैं और मेरा दोस्त ही हैं. बेड के सिरहाने पर लोहे की रॉड लगी थीं, इससे उसके हाथों को मैं आसानी से बांध सकती थी. राजू चाचा- ले तेरी मां को चोदूं साली मेरी रंडी भाभी … कब से तरस रहा था तेरी गर्म चूत मारने के लिए, साली मेरी रांड … ले अपने देवर का मूसल ले.

ज्यादा जल्दी हो रही है, तो मैं जाऊं? असल में पिंकी का हाथ रवि के लंड से ऊपर से टकरा रहा था. फिर मैंने पास में रखी तेल की शीशी उठाई और उसकी चूत व अपने लंड पर तेल लगाने लगा.

चाचा जी का लंड मेरी चूत के खून से सना हुआ था और बेड की चादर पर भी खून की बूंदें गिर गयी थीं.

तो मैंने सायरा के कूल्हों को कसकर पकड़ा और उसकी गांड के बीच अपनी नाक लगाकर सूंघने लगा.

मैं तो खाने पर अब ऐसे टूट पड़ा जैसे कि पता नहीं कब से खाना ना खाया हो, जिससे शायरा मेरी तरफ देखती रह गयी. मैंने अपनी गीली पैंटी को उतार दिया और अपनी गीली गर्म चूत को उससे रगड़ कर साफ कर दिया. तुमने उस समय बात क्यों टाली छुपाई क्यों?मैंने कहा- बुआ यदि मैं सच कहूंगा, तो आप बुरा तो नहीं मानोगी?बुआ ने कहा- हां कह तो मैं क्यों बुरा मानूंगी!फिर मैंने कहा- वो ही मेरी गर्लफ्रेंड हैं … और वो मुझे किसी से शेयर नहीं करना चाहती हैं.

वह मेरे ऊपर आकर मेरा लंड हाथ में लेकर सहलाने लगी और उसे अपनी बुर पर सैट करके उस पर बैठ गई. उसके मुंह से बार बार एक ही शब्द निकल रहा था- आई लव यू हैप्पी … आई लव यू जान!मैं भी उसके चूचों के ऊपर लेटा हुआ बहुत राहत महसूस कर रहा था. संजू पूरी मस्त होकर जोर जोर से सीत्कार भरने लगी, जिसे विक्रम सुन रहा था.

मानवेन्द्र भी इशारा समझ गया और अपना चश्मा हटाते हुए भूखे शेर की तरह मेरी तरफ देखा.

फिर वो कमरे में अन्दर गई, तो मैं उसे रेडी होने का बोल कर नहाने लगा. ट्यूब लाईट की दूधिया सफेद रोशनी में उसकी झांटें अलग ही चमक रही थीं. उसकी चुत के खारा पानी का टेस्ट मुझे नहीं जमा … तो मैं उससे दूर हो रहा था.

इसके बाद मैंने कई बार गाँव की लड़की को चोदा है और अब भी चोद रहा हूँ. फिर धीरे धीरे वो मेरे लंड को सहलाने लगी और मैं चूत को।दस पंद्रह मिनट की चूमा चाटी के बाद मेरा लंड फिर से तनाव में आने लगा और पुण्या भी दोबारा से गर्म होने लगी. वो- नहीं, मार लो‌ थप्पड़, नहीं तो मुझे तुम रोज रोज यही सुनाते रहोगे.

इसके बाद मैं सीढ़ी से उतर कर अपने रूम में नंगी ही आ गई और सटासट दो उंगली डाल कर अपनी चूत ठंडी की और नंगी ही सो गई.

मैं भी उनकी लाइफ में नहीं घुस सकता … क्योंकि उनकी प्राइवेसी का खतरा रहता है. शुरू में तो मैंने धीरे धीरे उसके लंड पर अपनी बड़ी सी गांड को ऊपर नीचे करना शुरू किया और देखा कि कहीं मेरी गांड उसके शरीर पर टच न हो.

हिंदी बीएफ सेक्सी चुदाई फिल्म जब आयशा अपने रिश्ते में किसी की शादी में गयी थी … तो मैंने जीजू को अपनी चूत को शांत करने के लिए बुलाया था. ऊपर से नीचे दबाने से चुचे लटक जाते और चूचियों की शेप भी बिगड़ जाती है, वो ढीले हो जाते हैं.

हिंदी बीएफ सेक्सी चुदाई फिल्म वो- तुम … तुम्हें कैसे पता था कि उस रात मुझे इस वजह से ही पेट दर्द हुआ था?मैं- उस दिन मैंने कचरे में तुम्हारा यूज किया हुआ सैनेटरी पैड देखा था. उन दोनों को मैंने होटल में भी चोदा, उन दोनों को मेरी चूत चटाई बहुत पसंद आ गई थी.

तुम बताओ हिना, पहले कैसे पसंद करोगी?एक एक करके! कहते वक्त वह कुछ शर्मा सी गयी थी।तुम लोग साईड में हो बे.

देहात का सेक्सी वीडियो

जैसा कि आपने मेरी पिछली कहानी में पढ़ा था कि बारहवीं कक्षा में कम‌ अंक आने के कारण मुझे कहीं भी दाखिला नहीं मिल रहा था. मैं एक बार बाथरूम में चली गयी और जब मैं वापस आयी तो अभिषेक भी सो चुका था. उसकी बात पर मुझे यकीन नहीं हुआ क्योंकि आज के टाइम में कोई भी लड़की निठल्ला पति तो नहीं चाहती है.

हैलो मैं सन्नी वर्मा, एक बार फिर से थ्रीसम सेक्स में चुत चुदाई का मजा लेकर हाजिर हूँ. आज शायरा मेरी हो जाने वाली थी, इसलिए शायरा के ऊपर आकर मैंने पहले तो उसके होंठों पर प्यार से एक किस किया, फिर अपने कूल्हों को उचकाकर एक जोर का धक्का लगा दिया. अगर आपने मेरी पहले की‌ कहानीबस से बिस्तर तक का सफरपढ़ी होगी, तो आप ममता जी को जरूर जानते होंगे.

देखिए आपके छूने मात्र से ये कैसा हो गया है?मामी ने थोड़ा तेल लिया और मेरी अंडरवियर के बगल से लंड को निकाल कर उसकी मालिश करने लगीं.

हिंदी ग्रुप सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि मैं चुदाई के लिए नए लंड की तलाश में शिमला गयी. मैंने पूछा- अब इसको क्यों उतारना है?तो वो बोला कि तुम अपने मम्मों को जिस शेप में चाहती हो, उसके लिए कुछ टेस्ट करने पड़ेंगे. मैं भी मासी से लग गया और हम दोनों ने अगले दस मिनट तक एक दूसरे के अंगों को सहला कर, मसल कर किस आदि करते हुए निकाले.

होटल रूम सेक्स कहानी में पढ़ें कि भाभी ने अपनी सहेली को होटल के कमरे में बुला लिया. इससे पहले रस सूखता, उसे वापस उसी तरह अंदर धंसा दिया। इस बार पहले की अपेक्षा कुछ आसानी से गया और अपने हाथ उसकी जांघों पर टिका कर बड़ी आराम से धीरे-धीरे अंदर-बाहर करने लगा।योनि एडजस्ट हो गयी और तो उसने अपना हाथ हटा लिया और अब आंखें बंद कर के धीरे-धीरे सिसकारने लगी।जोर-जोर से पेल न बे! शिवम ने उकसाने की गरज से कहा।शुरुआत में ऐसे ही ठीक है. मैंने भी ना चाहते हुए भी सनी के सर को पकड़ लिया और उससे स्मूच करने के लिए आगे बढ़ी.

ऑनलाइन चैट सेक्स कहानी उस समय की है जब मेरी जिंदगी एकदम बोरिंग चल रही थी. वैसे वो थी भी इतनी खूबसूरत की कोई एक बार देखे, तो‌ बस उसे देखता ही जाए इसलिए तो मैं भी उस पर फिदा हो गया था.

वैसे शायरा को पटाने में मुझे इतना टाईम कभी नहीं लगता … पर मुझे उससे प्यार हो गया था. सेक्स स्टोरीज पढ़ते हुए मेरी नजर एक विज्ञापन पर गयी जिसमें लिखा था- खुले विचारों वाली वेबकैम मॉडल शनाया को अपनी चूत गीली करवाना पसंद है. सूरज को भी चुदाई में बहुत मजा आ रहा था और चाचा जी अपना लंड सहला रहे थे.

पार्टी करते हुए आप किसी भी लड़की से दोस्ती करके उसके साथ एक रात बिता सकते हैं और ये बहुत ही आसान है यहां पर.

फिर 15 दिन बाद वो मुझसे मिलने कोटा आया और हम दोनों एक होटल में मिले. अब जब मेरा उतावला मर्द मेरे ऊपर आ गया था और उसका बदन मेरे बदन पर था तो मैंने भी अपनी बांहें खोल दीं और उनके बदन को हाथों से सहलाते हुए प्यार देने लगी. अबकी बार मेरा लंड का सुपारा शायरा की चूत की फांकों को चीरता हुआ सीधा अन्दर धंस गया … और एक बार फिर से शायरा के मुँह से घुटी घुटी सी कराह निकल गयी.

यदि ऊपर दिया गया लिंक काम नहीं कर रहा है तो आप इसकेवैकल्पिक लिंकपर क्लिक करके मुझसे संपर्क कर सकते हैं और बात कर सकते हैं. मैं- देखो अब तुम्हारी दोस्ती के चक्कर में क्या क्या करना पड़ रहा है, अगर प्रेमी होता … तो तुम्हें कहीं बाहर लेकर जाता और हम किसी अच्छे से होटल में कैण्डल लाईट डिनर कर रहे होते.

तो दोस्तो, इस तरह से मेरी पहली चुदाई के बाद ये बॉयफ्रेंड सेक्स स्टोरी शुरू हुई। आप मुझे रिव्यू देकर बतायें कि आपको कहानी कैसी लगी?मेरा ईमेल नीचे है।[emailprotected]. खैर … जैसे तैसे सुबह हुई और वो शुभ दिन आ ही गया, जब मेरी बरसों की दिल की तमन्ना पूरी होने वाली थी. वो बोली- साबित कर सकते हो कि शरीफ हो या बदमाश हो … ये बात कैसे चैक हो सकती है?मैंने भी हंस कर कह दिया- किसी दिन बुला कर चैक कर लो कि मैं शरीफ हूँ या बदमाश हूँ.

दिसावर का फुल चार्ट

उसका मेरे नितम्बों को दबाना मुझे अत्यधिक उत्तेजित कर रहा था।मुझसे और सहा नहीं गया और मैंने दोबारा उसे चूमना शुरु कर दिया।उसने भी मेरा फिर से पूरा साथ दिया और जीभ को मेरी जीभ से मिला दिया।किस करते हुए ही मैंने अपना हाथ उसके सीने पर रखा और उसकी शर्ट के बटन खोलने लगी। सारे बटन खोलने के बाद मैंने उसकी शर्ट को नीचे उतार फेंका।अब वो ऊपर से नंगा हो गया। उसकी छाती काफी आकर्षित करने वाली थी.

कुछ देर बाद मैंने अपनी स्कर्ट थोड़ी ऊपर कर ली, जिससे मेरी जांघ और थोड़ी नंगी दिखने लगी. म्यूजिक चला कर प्रिया ने पत्ते बांटे, अजय ने लड़कियों से पूछ कर सिगरेट जला ली. मैंने उसे गोदी में उठाया और कमरे में आकर बोला- चल लेट जा, तेरी मालिश कर दूं.

उसमें से एक लड़के ने मुझे लार्ज पैग बना कर दिया और दूसरे ने मुझे चकना दिया. इसलिए अब मुझे अपनी धक्के मारने की गति बढ़ा देनी चाहिये, पर इसके लिए मेरा दिल मुझे इसकी इजाज़त नहीं दे रहा था. 2020 का सेक्सी वीडियो सेक्सीकुछ देर उसके मोम्मे चूसने के बाद, मैंने उसका शॉर्ट भी उतार दिया और उसे पूरी नंगी कर दिया.

पीछे मौसी खड़ी थीं- अबे ओये हरामजादी … लंड से हाथ दूर हटा कुतिया!उनके हाथ में एक बर्तन था. भाभी के मस्त गोल गोल चूतड़ों में मैं अपना लन्ड रगड़ने लगा और उनकी चूचियों को दबाने लगा.

मैंने बिन्नी की चूत की दरार में अपनी बड़ी उंगली चलाई और उसके क्लिटोरियस पर रख दी. अब एक‌ बार तो मुझे लगा कि कहीं मेरे सारे किए कराये पर‌ पानी तो नहीं फिर गया. रवि बोला- मैं बेड पर ही तो नाम ले रहा हूँ, सच्ची में थोड़े ही अनिल को बुला रहा हूँ.

उसने चूत चाट चाट कर पिंकी को गर्म कर दिया और फिर उसके ऊपर चढ़ कर उसकी चूत में अपना लंड पेल दिया. फिर मैंने मुँह से लंड निकालते हुए चाचा जी से कहा- चाचा जी, इसका लंड सोएगा तो नहीं!चाचा जी ने कहा- चल ठीक है, तू पहले इससे चुदवा ले, मैं तो बाद में भी चोद लूंगा. मैं चाहती थी कि अब वो भी अपने कपड़े उतारें और तब मेरे बदन पर लेटकर मुझे किस करें।मुझे उस पल के लिये ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ा।वो उठ खड़े हुए और अपनी शेरवानी के बटन खोलने लगे.

भीतर गुदा गुलाबी और मक्खन की तरह चिकनी थी चुत के ऊपर का दाना उत्तेजना के कारण एकदम ऐसे कठोर हो चुका था मानो एक छोटा सा लिंग हो.

हालांकि रूम हीटर चल रहा था, पर आज सर्दी कुछ ज्यादा थी और काफी देर से दरवाजा भी खुला हुआ था जिस वजह से रूम गर्म नहीं हो पाया था. ”इसमें मैं कुछ नहीं कर सकता, क्योंकि लंड इस समय तुम्हारी गांड की डिमांड कर रहा है.

मैंने बिना हिल-डुल किए वैसे ही भाभी की गांड में अपना लंड फंसा दिया और भाभी को कसके अपने हाथों से पकड़े रहा. मेरे सामने अभी भी वो नंगी खड़ी थी और बहुत कामुक और आकर्षक दिख रही थी. उसकी चूचियों के निप्पल मटर के दाने जैसे कठोर हो गये थे जिनको दो उंगलियों के बीच में लेकर मसलने में मुझे बहुत मजा आ रहा था.

फिर उसने मेरी गांड को मेरी जांघों के पास से पकड़ लिया और मेरी चूत में लंड को तेजी से ठोकने लगा. मेरी जीभ उसकी चूत की दोनों फांकों को अलग करती हुई अंदर तक जा रही थी और उसके कामरस का स्वाद ले रही थी. एक दिन वो टीचर क्लास में आईं और बोलीं- जिसको भी कंप्यूटर प्रैक्टिकल करना हो, वो गेम पीरियड में आ सकता है.

हिंदी बीएफ सेक्सी चुदाई फिल्म मुझे देखते ही डॉक्टर शक्ति अपनी चेयर से उठा और मुझे अपनी बांहों में भर लिया. मेरीचाची की चुदाई की कहानी का लिंकआपको अन्तर्वासना पर ही मिल जाएगा.

पिकप फोटो

माफ़ी चाहूंगा मेरी एक सरकारी ऑफिस में 2017 से जॉब लग जाने के बाद मैं काफी बिजी हो गया था. रवि पिंकी को गर्म करने के नए नए प्रयास करता, कई बार रात के अन्धेरे में उसने अनिल को भी बेड पर बुलाया, पर चूमाचाटी और इधर उधर हाथ लगाने के बाद वो किसी न किसी बहाने से पिंकी और अनिल को अलग कर देता. मेरा अंडरवियर फ्रेंची था … और मामी को चोदने के सपने के चलते लंड पहले ही टाइट था.

पिछले चौबीस घंटों में तीन चार बार चुदाई करने के कारण अब मेरा स्खलन का समय बढ़ चुका था. मामी ऊपर से कूद रही थीं और मैं नीचे से गांड उठा कर उन्हें मस्त चोद रहा था. लाइव हिंदी सेक्सीEmail id –[emailprotected]Telegram – Vivaan124हॉट लंड सेक्स स्टोरी का अगला भाग:गर्लफ्रेंड की सहेलियों संग रासलीला- 5.

उन्होंने जवाब में शुक्रिया के साथ कुछ शब्द और कहे … जिनके जवाब में मैंने अपनी एक फोटो भेजी … और लिखा- देख लो, अगर ये दुबला-पतला चूतिया आपको ठीक लगे … तो ही कुछ बात आगे बढ़ सकती है.

हमने चुदाई का एक जोशीला राउंड खेला और फिर दोनों ही झड़कर शांत हो गये. अपनी शर्ट के मैंने ऊपर वाले दो बटन खोल लिये थे और अब मेरी काली ब्रा सामने से साफ साफ देखी जा सकती थी.

हुआ कुछ यूं कि मुझे इनका एक मेल आया, जिसमें लिखा था- हैल्लो, मैं जोहरा हूँ. वो भी मेरे लन्ड को हाथ से सहला रही थी।हमारी जाँघें एक दूसरे से लिपटी हुई थीं और हम फिर से एक दूसरे को चूमने लगे।मैं उसके होंठों को काट रहा था और वो मेरे होंठों को काट रही थी. बहुत समय चाटने के बाद मां ने मुझे बांहों में भर लिया और चूमने लगीं.

मैं भाभी से बोला- भाभी, अब मुझसे रहा नहीं जाता है, पहले एक बार जल्दी से ले लूं … बाकी का खेल तसल्ली से करूंगा.

मैं बाथरूम में गया और अपनी अंडरवियर उतार कर लंगोट पहन ली।लंगोट मुझे बहुत ही सेक्सी लग रही थी।मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया था इसे पहनते हुए।इसीलिए थोड़ी देर बाथरूम में खुद को नार्मल किया और फिर बाहर आया।फिर मैं बनियान और लंगोट पहन कर बाथरूम से बाहर आया. रात के करीब दो बजे मामी मेरे कमरे आईं और सीधे मेरे कंबल में घुस कर मेरे लंड के साथ खेलने लगीं. रेशमा के होंठों को अपने एक हाथ से दबा कर लंड से जोर का झटका दे दिया.

सावधान इंडिया सेक्सी पिक्चरबस वो औरत को जब तक कुछ नहीं कहता या करता है तब तक वो खुद से हां नहीं करती है. अनिल मेरी हिचक को समझ गए और उन्होंने मेरा हाथ पकड़कर पंकज के लंड पर रख दिया.

सेक्सी पिक्चर फुल एचडी

फिर मेरी छाती की तरफ बढ़ते हुए मेरे मम्मों को अपने मुँह में भरकर बारी-बारी से पीने लगा. मेर मुँह से इतना सुनते ही वो कुछ देर रूकी, मेरी तरफ देखा … और लंड को अपनी चूत से बाहर करके 69 की अवस्था में आ गयी. अब ये बात सुन कर मैंने उसका लौड़ा अपनी गांड से निकाला और फिर से मुँह से लंड चूसने लगी.

भाभी हंस दीं और बोलीं- चिकनी और खुरदुरी को छोड़ो … जल्दी से धकापेल कर दो. इसी तरह बताते बताते अभिषेक ने एक बार गलती से मेरी जांघ पर हाथ रख दिया, तो उसने तुरंत ही हटा दिया. उसी वक्त चाची की चूत ने भी पानी छोड़ दिया और हम दोनों साथ में ही झड़ गये.

बाद में मैंने घर वालों से बोलकर बुआ लोगों को भी ले जाने के कहा, तो पापा झट से वो मान गए. वो मेरी चूत पर मुंह लगाकर मेरी पैंटी में चूत के रस की खुशबू लेने लगा. मुझे देखते ही डॉक्टर शक्ति अपनी चेयर से उठा और मुझे अपनी बांहों में भर लिया.

मैंने तुरंत उन्हें खड़ा किया और बेड से सटाकर उन्हें सामने से किस करने लगा मैं एक हाथ से मामी की चूचियां दबा रहा था और साथ ही चूमे जा रहा था. अब नंदिनी को भी आदत सी हो गई थी और वो इन बातों का बुरा नहीं मानती थी.

अब आगे लड़की की पहली चुदाई कहानी:चाचा जी ने मुझे सोफ़े पर कमर के बल गिरा दिया और रेंगते हुए मेरे मेरी छाती पर आकर मेरे मम्मों को भर भर कर चूसने लगे.

उसकी गांड थोड़ी छोटी थी तो मैंने धीरे से शुरुआत की और लंड को थूक में भिगाकर गांड में डालने लगा. ससुर ने बहु को चोदा सेक्सी हिंदीहम एक दूसरे से लिपट गए और बहुत देर तक जोर से एक दूसरे को जकड़े हुए खड़े रहे. एक्स एक्स एक्स सेक्सी खुलीमैंने कहा- कैसा मजा?वो बोली- तुम्हें नहीं पता?मैं बोला- नहीं, मैं तो तुम्हारे मुंह से सुनना चाहता हूं. न ही मुझमें लड़कियों की अदाएं हैं और न ही उनकी तरह लटके झटके आते हैं.

मैंने अपने बैग से एक मोटी जैकेट निकाल कर पहन ली और फ्रेश होने के लिए बाथरूम में चली गयी.

मैं पीठ के बल ललित गई अब मेरी तनी हुई चूचियां अयान के सामने आ गई थी. मैंने सन बताया तो बोले- मैं आपसे दो साल आगे था, मैंने आपको देखा है. मैंने हंस कर पूछा- पीछे का भी शौक रखते हो?उसने कहा- हां मैडम … आपकी पिछाड़ी बड़ी मस्त और उठी हुई है … इसका मजा नहीं लिया … तो मजा अधूरा रह जाएगा.

अब काम की अग्नि मेरे अंदर भी जलने लगी थी और मेरे पति की शेरवानी और उनकी पजामी मुझे हम दोनों के जिस्मों के बीच में खलने लगी थी. कुछ देर बाद मैंने उसका टॉप उतार दिया और उसे चूचों को ब्रा के ऊपर से ही दबाने लगा. हर किसी की निगाहें बरबस उसके मम्मों को एक बार देखे बिना नहीं रहती थीं.

सैकस सैकस

फिर …अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा नमस्ते।मैं निशा, कोटा (राजस्थान) की रहने वाली हूँ. प्रियंका ने उसी वक्त मुझको फोन लगा दिया- हैलो मेरे चोदू जीजू … आपकी एक और साली आपसे चुदने को बेताब है … उसे चोदने कब आओगे!मैं- जब तुम बुलाओ रानी … बस तुम प्लान करो … लेकिन यार उस सिंगल दीवान में ढंग से कुछ नहीं हो पाता है. रोनित और जैक ने निशि के मुँह में, वहीं रोनी और अरुण ने मेरे मुँह में अपना माल निकाला.

उसका तो बदन अकड़ ही गया था … लेकिन फिर भी वो अपनी मादक आवाजों से मेरा जोश बढ़ा रही थी.

मैं- बोल … अभी मेरा लन्ड मुँह में लेगी या एक और उंगली दे दूं चूत में?मीना- पहले तो तू उंगली निकाल … फिर तू जो बोलेगा मैं वो करुँगी।मैं- तुम बर्तन साफ करो, मैं मौसी को देख कर आता हूं.

मैंने भी रिप्लाई दे दिया- बता क्या बात है?वो बोला- मुझे कुछ चाहिेए है. लगभग पांच मिनट बाद वो भी चुदाई का मजा लेने लगी और फाइनली उसकी सिसकारियों में मुझे आनन्द के स्वर सुनाई देने लगे. साड़ियों की सेक्सी वीडियोदुबई सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि मैंने एक फ्रेंडशिप ऐप से दुबई में रहने वाली एक भाभी से दोस्ती की.

मैं कभी भी अपनी भाभी के बारे में गलत नहीं सोचा था … और न ही उनके लिए मेरे मन में कभी कोई खराब ख्याल ही आया था. मोहित हंसने लगे और बोले- मैंने स्वाति से कहा था कि तुम्हारा प्रोग्राम कल का रखते हैं, लेकिन वो बोली कि नहीं आज ही बुला लो. मैंने चाचा जी से कहा- क्या मैं लंगोट में ही सो जाऊं?चाचा जी ने कहा- हां सो जाओ।मैंने पूछा- कहीं रात को लंगोट खुल गयी तो?तो चाचा जी ने कहा- नहीं खुलेगी.

मैंने उनका सिर बालों से पकड़ा हुआ था और अपनी टांगों से भींच कर मैं अपनी चूत चटवा रही थी. फिर संध्या चाची को लिटा कर चाचा ऊपर चढ़ गए और एक चूची मुँह में भर कर चूसने लगे.

मेरे कहते ही उसने अपने होंठों और दांतों के भिंचाव को मेरे निप्पल्स पर चलाना शुरू कर दिया.

फिर पता नहीं क्या हुआ कि वो मुंह ऊपर करके मेरी आंखों में देखने लगी. शनाया मेरी ओर देख रही थी और मेरे लंड से एकदम से मेरा गर्म गर्म वीर्य निकल कर कंप्यूर स्क्रीन पर जा लगा. कुछ देर बाद वो आई तब तक मैंने मूवी को एक किसिंग सीन से कुछ मिनट पहले पॉज कर दिया था.

सेक्सी गाना खुला वो शायद सोच रही थी कि मैं उसे छेड़ रहा हूँ क्योंकि एक तो मैंने कल रात ही गड़बड़ कर दी थी. जैसे ही अरुण के लंड का टोपा मेरी गांड में घुसा, मेरी चीख निकल गयी और एक तेज दर्द की सिहरन मेरे जिस्म में दौड़ गयी.

मगर इसका मतलब ये बिल्कुल नहीं था कि मैं अपनी इस जवान नौकरानी को छोड़ दूंगा. मेरी धड़कनें तेजी से चल रही थीं और मेरा मूड बहुत ही कामुक हो गया था. उनकी तारीफ में उनकी खूबसूरती और शरीर की तारीफ करते हुए मैंने लिखा कि आपकी खूबसूरती और शरीर की बनावट को देखकर आपकी उम्र का अनुमान लगाना काफी मुश्किल है.

हिंदी सेक्स वीडियो फुल हद

हम सब शाम होने और होटल जाने का ही इंतज़ार कर रहे थे … पर साला समय बीत ही नहीं रहा था. ये सब आपको दूसरी सेक्स कहानी में लिखूंगा कि कैसे मैंने मामी को लंड चुसाया और उनकी गांड मारी. मैंने आपका लंड देखा है और प्रियंका ने बताया भी कि आप कैसे चोदते हो.

आह्ह …आहिस्ता से यार … उफ्फ उफ्फ …’ करने लगी।फिर मैंने उसे अपनी ओर कर लिया और उसके स्तनों को मुंह में लेकर चूसने लगा. एकाएक विक्रम बोला- भाई, एक और काम करा दे, देख मेरे पास तो समय नहीं है … मुझे बुर का दर्शन किए एक साल हो गया.

पांच दिन में एक भी दिन तुमने उन्हें देखा मेरे साथ सोते हुए?मैं समझ गया कि मामी की चुदाई नहीं हो रही है.

देसी बहू की चुदाई कहानी में पढ़ें कि मैंने अपनी बहू को बच्चा देने के बाद उससे सेक्स की मांग नहीं की. ’प्रियंका ने मुझको इशारा करके पूछा- कैसी है!मैंने भी इशारों में ही बता दिया- बहुत मस्त माल है. पंकज के लंड को उसने तब तक अपने मुँह में लिए हुए चूसना जारी रखा जब तक कि वीर्य का एक एक कतरा निकलता रहा.

मेरी सेक्स कहानी के पहले भाग के लिए आप लोगों के मुझे ढेरों ईमेल आए और आप सभी को मेरी कहानी अच्छी लगी. पिंकी बैठी बैठी मुस्कुराती रही, तो रवि ने उकसाया- दे दो बेचारे को, कई दिन से भूखा है. फेंटेसीज सिर्फ ख्वाबों-ख्यालों में ही ठीक हैं, वर्ना जिन्दगी बर्बाद कर देती हैं.

इस आनंद को मैं बर्दाश्त नहीं कर पाया और मेरे माल की पिचकारी लंड से छूट पड़ी.

हिंदी बीएफ सेक्सी चुदाई फिल्म: लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ और सारे रास्ते वो मेरे मम्मों से खेलता हुआ आया. राजू चाचा- संगीता मेरी प्यारी भाभी, आज अपने इस देवर से एक बार चुदवा कर तो देखो … मैं आपको खुश कर दूंगा.

मेरा छोटा चिकना छेद, और सलीम भाई का मोटा भारी सा लंड, कोई बराबरी ही नहीं थी. मैं समझ गया कि अब रोहिणी मेरे लिए एक परमानेंट छेद के रूप में फिट हो गई है. जैसे ही मैंने प्रियंका की गांड में उंगली की, उसने मीठी सिसकारी भरते हुए अपनी चूत उठा दी और मेरा सर पकड़ कर अपनी चुत में घुसेड़ना चाहा.

प्रियंका बोली- वो चूत और गांड दोनों मारते हैं … अपने दोनों छेदों की अच्छे से तेल से मालिश कर ले.

चाची की सिसकारियां निकलने लगीं- आह्हह … तानु … ऊईई … आह्ह … और चूस … आह्ह … बहुत दिनों बाद चूत पर किसी मर्द की जीभ लगी है … आह्ह चूस … और जोर से … आह्ह … मर गयी मैं … उम्म … आह्ह!चाची के मुंह से निकलते कामुक शब्द मुझे वहशी बना रहे थे. भाभी ने अपना एक हाथ में मेरे हाथ पर रख कर अपने मम्मों को कुछ और जोर से दबा दिया. तो मानवेन्द्र ने अपने दोनों हाथ शॉवर रूम की दीवार पर रख कर मेरे ऊपर कुछ झुकाव ले लिया, जिससे कि शॉवर का पानी सीधा मेरे मुँह पर न गिरे.