देसी बीएफ दे

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो देखने वाली हिंदी में

तस्वीर का शीर्षक ,

சகிலா sex video: देसी बीएफ दे, खैर … पहली चुदाई की कहानी की बात करूं तो ये बात तब की है, जब मैं केवल 19 साल की थी.

ससुर का सेक्सी वीडियो

तभी अचानक से अक्षय ने एक जोर का झटका मारा दिया और उसका आधा लंड मेरी चुत में घुस गया. सेक्सी इंग्लिश वीडियो मेंआप लोगों ने मेरी पिछली कहानीमेरी विधवा बहन की जवानी का भोगपढ़ी होगी.

मैं अपने गाँव से बाजार जा रहा था तो घूँघट वाली एक भाभी ने मुझे लिफ्ट मांगी. वीडियो में सेक्सी फिल्म देखने वालीमैं समझ नहीं पा रहा था कि वो सच में मुझे सजा देना चाहती है या फिर मजा लेना चाहती है.

उसने उसको पैसे दिखाए और वो भिखारी उठकर गाड़ी के पास आने लगा तो रमेश ने मुझे इशारा कर दिया.देसी बीएफ दे: ये सुनकर मॉम शर्मा गईंदरअसल मेरी मॉम थोड़ा कम बोलतीं हैं … इसलिए वो चुप ही रहीं.

हम बात बात में किस कर रहे थे और एक दूसरे के सभी अंगों को सहला रहे थे.बुआ की मादक आवाजों ने मेरी कमर की गति को खुद ही रफ्तार दे दी थी और मैं ज़ोर ज़ोर से बुआ की चूत चोदने में लगा था.

12 साल की लड़की का सेक्सी वीडियो एचडी - देसी बीएफ दे

दस मिनट में रजक लाल ने जोर जोर से आवाज़ निकाली- आह रस आ रहा है … आ रहा है.और जहाँ तक मैं जानती हूँ कि प्रोफेशनल लड़का किसी की इंसल्ट नहीं करेगा क्योंकि सीक्रेसी और ग्राहक की संतुष्टि ही उसके धंधे का मुख्य स्तम्भ होता है और उसका धंधा इन्ही दो स्तंभों पर टिका होता है।इसलिए मैंने कॉलबॉय को ही हायर करने की सोची लेकिन मैं किसी कॉलबॉय को जानती नहीं थी तो मैंने कोमलप्रीत जी से थोड़ी सी हैल्प लेने की सोची.

अब मैं जैसे ही वहां पहुंचा तो मेरा अच्छा स्वागत हुआ।दिनभर हम सब काम में बिजी रहे. देसी बीएफ दे मेरे शौहर कुछ बोलने को हुए तो टी टी ने एक थप्पड़ मारा और कहा- मुंह खोला तो मार मार के मुंह लाल कर देंगे, एकदम मुंह बंद करके बैठ.

वह पूरी अंदर तक जीभ डालकर मेरी चूत को चूस रहा था।जाने उसके साथ मेरा ऐसा क्या हो गया था आप इसको कुछ भी कह दीजिए कि मैं उससे चुद रही थी।मैं इतने जोश में आ गई थी कि मैंने उसको अपने ऊपर से हटाया और उसको बेड पर लेटा कर उसके लंड को अपने मुंह में लेकर चूसने लगी.

देसी बीएफ दे?

मैंने जल्दी जल्दी अपने सारे कपड़े उतारे और पीछे से जाकर आकांक्षा को बांहों में ले लिया. फिर एक दिन ऐसे ही बातों ही बातों में उसने मुझसे कहा- कब मिल रही हो भाभी?मैंने भी हंसकर कह दिया- जब आप बोलो. अब मैंने दूसरे हाथ से उनकी दूसरी चूची भी पकड़ ली और दोनों चूचियों को मस्ती से दबाने लगा.

अब वह अपने लंड को मेरी मम्मी की चुत के ऊपर रख कर बोला- रेडी हो मेरी जान … अब मैं अन्दर डाल रहा हूँ. मेरी चुत चटाई के बाद समधी जी खड़े हो गए और मैं बिस्तर से उठ कर ज़मीन में उकड़ू बैठ गयी. फिर मैंने सोचा इसकी बहन तो पटने से रही क्यों न इसी डिम्पल को पटा कर काम चलाया जाए.

फिर उसने नीचे ही नीचे मॉम की चूत में लंड डाल दिया और चोदना शुरू कर दिया. प्रेसिडेंट बनने के बाद तो मुझे बहुत ज्यादा समय छात्रों की समस्याओं को लेकर निकालना पड़ता था. बड़ी मम्मी ने मेरे लंड को मसलते हुए मादक आवाज में कहा- चल उठ … आज तुझे भी जन्नत की सैर कराती हूँ.

मैं अभी भी उसकी गर्दन पर किस कर रहा था।चुदते चुदते वो फिर से गर्म हो गई और अपनी गांड आगे पीछे करने लगी।मैंने लन्ड उसकी चूत से निकाल लिया।वो मेरी तरफ आश्चर्य भाव से देखने लगी।मैं उसी बेड पर लेट गया।रुबैया को कुछ भी समझाना नहीं पड़ा। वो दोनों तरफ टांगें करके चूत को लन्ड पर रखकर एक झटके में ही पूरा लंड चूत में डालकर उछलने लगी. वो एक हाथ से चूची दबा रही थी और दूसरे से अपनी चूत को रगड़ती जा रही थी.

लेकिन बुआ ने अपनी जल्दी चुदाई करने को लेकर अपनी दोनों टांगें फैला दीं और मेरा लंड पकड़ कर अपनी चूत की फांकों में घुमाने लगीं.

वो ऐसे चूस रही थी जैसे बहुत दिनों बाद किसी बच्चे को लोलीपोप मिला हो।मैं भी उसके बूब्स और उसकी गान्ड को सहला रहा था।वो बहुत मस्त लौड़ा चूस रही थी जैसे रेखा आंटी चूसती हैं।मुझे रेखा आंटी की याद आ गई थी।राखी भाभी लंड को अंदर तक ले रही थी और अपनी लार से लंड को गीला कर दिया था।मैं भी बहुत खुश था और जोश में आ गया और झटके मारने लगा.

वो लंड की काफी प्यासी लग रही थी क्योंकि इस तरह की कामुक हरकतें वही महिलाएं करती हैं जिनको महीनों भर से लंड नसीब न हुआ हो. मैं शहद की मिठास का मजा लेने लगी और कामातुर भाव से अपने साजन को देखने लगी. उसकी चूत रह रह कर सिकुड़ रही थी और मेरे लंड से रस की एक एक बूंद निचोड़ रही थी.

मामला पहले से ही गर्म था इसलिए मैंने देर न करते हुए उसकी चूत को चूसना शुरू कर दिया. मैं घर से बाहर निकली, तो मैंने साड़ी का पल्लू साइड में कर लिया और सामने से थोड़ा हटा लिया, जिससे मेरे दूध अच्छे से दिखने लगें और नाभि को भी दिखाते हुए जाने लगी. पर उसने सोचा कि गांव में रहकर उसके बच्चे की अच्छी शिक्षा नहीं हो सकती और न ही उसका भविष्य संवर सकता है इसलिए वो विभिन्न नौकरियों के लिए तैयारी करने लगी और सफल भी हुई.

फिर वो थकने लगा तो मैंने उसको नीचे लेटा दिया और मैं उसके लंड पर बैठकर आगे पीछे होने लगी.

फोन रखने के बाद मैंने फिर से कैमरे में देखा तो उसने अजय के कपड़े उतार दिए थे और वो दोनों फिर से बेड पर आ गए थे. फिर हमने एक प्लान बनाया कि वो तीन दिन बाद शॉपिंग करने शहर आयेगी और मैं भी उसी दिन पहुंच जाऊंगा. रूम को भी थोड़ा साफ किया और सिगरेट जला कर आराम से बैठ कर जो हुआ, उसके बारे में सोचने लगा.

वो आदमी मेरी मां की जीभ को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा और दोनों एक दूसरे की लार पीते रहे. और ब्रा ना पहनने की वजह से मेरी चुचियां उस कपड़े में इस तरह से लग रही थीं कि किसी ने मम्मों के साथ कपड़ा ठूंस दिया हो. मैंने सोचा कि काश ये आज सेक्स करने से पहले ही मुझे झड़वा दे तो अच्छा रहे क्योंकि मैं अच्छा प्रदर्शन करना चाहता था.

वो एक हाथ से मेरी चूची साड़ी के ऊपर से दबाने लगा और दूसरे हाथ से मेरी नाभि और पेट।कुछ आगे और सन्नाटा था तो सागर ने मुझसे गाड़ी रोकने को बोला.

इस पर भाई ने कहा- जब अकेले शुभम को ही जाना है तो इसके तीन चार जोड़ी कपड़े दे दो, मैं इसे संडे को वापस छोड़ जाऊंगा. जब मैं आरती की चूचियों को चूस और मसल रहा था, तो आरती बड़ी मस्ती से ‘आह उह्ह आह्ह राहुल उह्ह बेबी’ की आवाजें निकाल रही थी.

देसी बीएफ दे एक दो बार तो उसके हाथ मेरी आधी चूचियों पर आ गये और वो मेरी चूची दबाकर फिर से हाथ ऊपर ले जाकर पीठ की मालिश करने लगता था. मैं पीना तो नहीं चाहता था लेकिन मेरे हाथ सोनाली की चूचियों पर थे तो इसी उत्तेजना में पी गया.

देसी बीएफ दे आपको शर्त मंजूर हो तो मानो … वरना मैं तुम्हारे बारे में तुम्हारे घर पर सबको बता दूंगी और रूत्विका जी के बारे में मैं उनके पति को भी कह दूंगी. जिस पर वो कसमसा गई और जोर से मुझे पकड़ लिया और भरपूर तरह से किस करने लगी।लगातार 20 मिनट के ताबड़तोड़ चुम्मा-चाटी के बाद माहौल काफी गर्मा गया था और हम दोनों की सांस बहुत तेज़ तेज़ चल रही थी.

अब खाना खाने की वजह से सर्दी कुछ ज्यादा लगना शुरू हो गई थी, तो वो ठिठुरने लगी.

रोमांटिक सेक्सी भोजपुरी

मैं दिल्ली तो ट्रेन से मैं सुबह ही जा पहुंचा था तो होटल में रुक कर थोड़ा आराम किया; फिर तैयार होकर जल्दी ही एअरपोर्ट के लिए साढ़े ग्यारह बजे निकल लिया. मैंने एक रात को चाची को मैसेज किया, तो थोड़ी देर में चाची का रिप्लाई आया. ट्रेन के हिलने का फायदा लेकर मैंने एक हाथ उनकी गांड पर रख दिया, वो कुछ नहीं बोलीं.

तब मैं अपने प्रियतम सागर का इंतजार करने लगी।अब आगे की गांड मारी कहानी:ठीक 8:00 बजे सागर का फोन आया. भाभी के पूरे बदन पर एक तरह से मैंने चुम्बनों की बौछार ही कर डाली थी. उसने हाथ मेरी तरफ बढ़ाया और गाड़ी की चाबी घुमा कर गाड़ी बंद कर दी और चाबी निकाल कर वो गाड़ी से नीचे उतर गई.

अब मैं उसके ऊपर ऐसे ही लेटा रहा और उसे प्यार करने लगा; उसे चूमने और चाटने लगा.

अब वो मेरे चूत की खुदाई अपने मोटे लन्ड से करने लगा।दर्द के मारे मेरी जान निकली जा रही थी लेकिन मैं ना तो उसको रोक सकती थी और ना ही कुछ बोल रही थी।इसी तरह सागर ने काफी झटकों में अपना मोटा लन्ड मेरी चूत के पार किया. मैंने कहा- नौरीन या तो तुम समझ नहीं पा रही हो या फिर जान बूझकर नहीं समझने का नाटक कर रही हो. गर्मियों के दिन थे और बगल की छत पर मेरा चचेरा भाई अक्सर मुझे शाम को टहलते हुए दिख जाया करता था.

चाची भी मेरे लंड को देख कर बोली- हां, इस बुर का पहला काम ही है लंड को अंदर लेना. अब उसके हाथ मेरी पीठ पर से मेरी बगलों के पास मेरी चूचियों की जड़ तक आ रहे थे. मैंने अपना हाथ सूट के ऊपर से ही उनकी चूत पर रखा, तो वो और नीचे हो गईं.

कुछ ही देर बाद मुझसे रहा न गया, तो मैंने भाभी को 69 में ले लिया और एक दूसरे के आइटम को चूसने की पोजीशन बना ली. मैंने चाची से कहा कि मैं सोनी की बहन की चूत भी चोदना चाहता था लेकिन नहीं चोद पाया.

सेठ जी गुस्से से बोले- अरे पुरानी बोरी में से ही खा लेता, नई बोरी क्यों फाड़ दी?ये सुनकर कल्लू की गांड फट गयी. मेरे पास जितने पैसे थे वो तो मैंने एडमिशन और एक बिजनेस में लगा दिये. फिर मुझे लंड पर चिकनाई महसूस और मुझे लगा कि बाजी की चूत का पानी निकल गया.

आप मेरी मेल आईडी पर मेल भेजिए ताकि मैं आपको बता सकूँ कि आगे क्या हुआ.

लौटते टाइम भी मैंने बहुत ब्रेक लगाए और दीदी के मम्मों का आनन्द उठाया. फिर जैसे ही बलविंदर ने अपनी उंगली को अलीमा की चुत की फांकों के बीच रखी, अलीमा अपनी दोनों टांगों को कसके भींचने लगी. उसके बाद मैंने फ्लैट में आने के बाद किस किस तरह से मौसी की चुदाई की वो सब मैं आपको अपनी आनेवाली कहानियों में बताऊंगा.

उन्होंने मेरा लंड हाथों में पकड़ लिया और उसके सुपारे पर दो तीन किस की. मेरी पड़ोसन भाभी का पति सेक्स के मामले में ढीला था और वो भाभी को औलाद का सुख नहीं दे पा रहा था.

वो मेरे पति हैं, मैं उनकी दूसरी पत्नी हूँ, दस साल पहले इनकी पत्नी की मृत्यु हुई तो इनकी चार छोटी छोटी औलादें तीन लड़कियां और एक बेटा थे, हमारे रिश्तेदारों ने इनसे मेरी शादी करवा दी. अगली रात फिर कोई फंक्शन था और नौरीन उस रात में तो कयामत की खूबसूरत लग रही थी और मैं तो उसे देख कर जैसे पागल सा हो गया था. दो मिनट लंड चुसवाने के बाद अजय ने माया को बिस्तर पर 69 में ले लिया और लंड चुत की चुसाई शुरू हो गई.

राजस्थान की सेक्सी ब्लू पिक्चर

कुछ देर में आरजू मेरे पास आई, तो मैंने कहा- अब यहां खतरा है और 8 भी बज रहे हैं.

जवान ने मेरे शौहर से कहा- हां! अब तसल्ली हो गई, तुम लोग बिल्कुल क्लीन हो. दीदी ने बोला- आज रात को मूवी देखें?मैंने बोला- कल पेपर है दोनों का. मैं डाइनिंग रूम में सोफे पर बैठ और सागर जो मेरे बाजू में बैठ गया और मैंने आधे घंटे में 2-3 पेग मारे.

वो ब्लाउज भी ऐसा था कि अगर मैं ब्लाउज ना पहनती तो वो उससे ज्यादा अच्छा होता. मैं अभी नहा कर निकली हूँ तो आप प्लीज़ अब यहां से बाहर जाइए, मुझे कपड़े पहनना है. सेक्सी साउथमैं अपनी स्टोरी आपके लिये लाया हूं जो मेरी जिन्दगी में हुई सच्ची घटना है.

उसने हाथ से लंड के सुपारे की चमड़ी को पीछे किया और सुपारे पर जीभ फिराने लगी. यार तेरी चूत इतनी टाइट कैसे है, लगता ही नहीं कि तू शादीशुदा है और एक बच्चे की माँ है?” मैंने उसके दूध मसलते हुए कहा.

मुझे भी चुदाई का बहुत मन करता था मगर कॉलेज में किसी भी लड़के से मैं दूर ही रहती थी. पर कई बार मुझे लगा तुम्हारी भी मर्जी शामिल थी, ठीक बोल रहा हूं न मैं?मैंने कहा- हां. पर कैमरे में तो कुछ और ही रिकॉर्ड हुआ था मैंने तुरन्त पूर्वी को रिकॉर्डिंग दिखायी।उसमें हम भाई बहन ने देखा कि पापा अपनी बेटी पूर्वी की उतारी हुई ब्रा और पैंटी को सूंघ रहे हैं और उससे अपना लण्ड रगड़ रहे हैं.

प्रीति के चेहरे के भाव बता रहे थे कि वो पूरा लण्ड लेने को बेताब है. उसके बाद हेमा चाची ने पलंग से लगे ड्रावर में से एक गोली निकाली और खा ली. वो रजक लाल के वीर्य को अपने चेहरे से उंगली से लेकर चाटते हुए अपने लंड को हिला रहा था.

रास्ते में मैंने पूछा कि कोई कोल्ड ड्रिंक या जूस पीना है?उसने कहा- मुझे बियर पीनी है.

तभी एक अप्रत्याशित घटना हुई और बड़ी मम्मी का हाथ मेरे खड़े लंड पर चला गया. मैं घर से बाहर निकली, तो मैंने साड़ी का पल्लू साइड में कर लिया और सामने से थोड़ा हटा लिया, जिससे मेरे दूध अच्छे से दिखने लगें और नाभि को भी दिखाते हुए जाने लगी.

आकांक्षा कसमसा रही थी और धीरे धीरे सिसकारियां ले रही थी, जिससे मेरा जोश बढ़ता ही जा रहा था. अब जब मेरे डिस्चार्ज का समय करीब आया तो मेरा लण्ड फूलकर और टाइट हो गया, बेड के किनारे रखा कॉण्डोम का पैकेट उठाकर मैंने एक कॉण्डोम निकालकर अपने लण्ड पर चढ़ा लिया और मेरे लण्ड की ठोकरें खा खाकर लाल हो चुकी किरण की चूत में पेल दिया और शताब्दी एक्सप्रेस की रफ्तार से अन्दर बाहर करने लगा. हां, यहां खाने की चीजें अच्छी ही मिलती हैं!” मैं चिप्स मुंह में डालते हुए बोला.

इसी तरह समय बीतता गया और जब कभी मुझे और हेमा चाची को साथ में रात गुजारने का समय मिलता, तो हम दोनों चुदाई करके भरपूर मजा ले लेते थे. फिर धीरे धीरे उसके हाथों की पकड़ मेरी चूचियों के नीचे बढ़ने लगी थी. मुझे मां के बारे में यह सब तब पता चला जब मैंने उसकी मेल आईडी यहां पर पढ़ी थी क्योंकि वह आईडी मैंने ही उसको बनाकर दी थी.

देसी बीएफ दे वो रजक लाल के वीर्य को अपने चेहरे से उंगली से लेकर चाटते हुए अपने लंड को हिला रहा था. उस हालत में बिखरे हुए, फर्श पर नशीली हालत में हम दोनों बेसुध पड़े थे.

खून निकलते हुए सेक्सी वीडियो

आगे से अशोक का लंड उसके मुँह में मजा दे रहा था और पीछे गांड में रजक लाल का लंड चल रहा था. कुछ ही देर में चाची की गांड में मैंने अपना पानी निकाल दिया और मैं चाची के ऊपर ही गिर गया. मैंने ओके कह दिया और साथ ही मैंने उसे हिदायत दी की अपने आने के बारे में अपने घर वालों को मत बताना कि कब आ रही हो और दो दिन हम किसी होटल में रहेंगे.

हम दोनों की चूत गीली हो गयी थीं और आपस में चूत टकराते हुए बड़ा मजा आ रहा था. रंडी के घोड़ी बनते ही मैंने अपना भनभनाता हुआ लंड उसकी गांड में पेल दिया और उसको अलग अलग पोजीशन में कोई 25 मिनट तक चोदा. सटका मटका न्यू गोल्डन डेकल्लू लंड अंदर पेल कर जोर जोर से चोदने लगा तो सेठानी को नए लंड से खेलने में मज़ा आने लगा.

बाजी मुस्कराकर बोली- तो आ जा … और चोद दे गांड को।साली रांड बुला रही थी तो मेरा लौड़ा कैसे मानता? मैं बाजी के पास गया और उनके चूतड़ों पर हाथ फेरने लगा.

कई बार जब उसको गांव से बाहर शहर जाना होता था तो वो मुझे ही लेकर जाती थी. मैंने पूछा- कहां चोदते हो?वो बोला- अपने क्वार्टर में ले जाता हूं, जो बेसमेंट में है.

मैंने जैसे ही चूत से मुँह हटाया तो संगीता बोली- मुझे भी लन्ड राजा के दर्शन कराओ. वो किराये के मकान में रहता था।वो सुबह साढ़े आठ बजे घर से निकल जाता था और शाम को छह बजे वापस आता था।उसका घर से बाहर काफी औरतों के साथ चक्कर था। उसकी बीवी हरप्रीत कौर 30 साल की थी. फिर ठाकुर ने मंजू के एक दूध को अपने होंठों में दबा कर उसका दूध पीना शुरू कर दिया.

वो भी मेरे जिस्म को चूस और काट रहा था और तेजी के साथ अपने लंड को मेरी चूत में पेल रहा था.

फिर मैंने अपने लंड को धीरे धीरे हेमा चाची की चूत में डाला निकाला तो चाची को उस समय ऐसी चरम सुख की अनुभूति हुई कि उनकी आंखें ऊपर की ओर चढ़ने लगी थीं. फिर मैंने थोड़ा जोर लगाया तो लंड उनकी चूत में पूरा का पूरा उतर गया. इस बात पर मकान मालकिन बोल उठीं कि आया की कोई जरूरत नहीं; बच्चे को वो लोग खुद संभाल लेंगे.

தெலுகு செஸ் படம்सुमन जितना वीर्य निगल सकती थी, उतना उसने निगला बाकी का उसके होंठों से बाहर बहने लगा. अगली बार इस सेक्स कहानी के भाग में आपको ठाकुर के लंड की ताकत का अहसास एक नई चुत की चुदाई की कहानी के साथ लिखूंगा.

पंजाबी सेक्सी सेक्सी ब्लू पिक्चर

तब से मैं लगातार उसके संपर्क में हूँ। उसके पारिवारिक जीवन मैं मैंने कभी दखल नहीं दिया परन्तु पहला सच्चा प्यार कभी कोई भुला नहीं पाता है।उससे मेरी बात होती रहती है।अहमदाबाद में केवल निशा और उसके पति वो दोनों ही अपने नए फ्लैट पर रहते हैं। उसने मुझे बताया कि उसका पति अपने ऑफिस के कार्य से 20 मार्च 2020 को 4 दिनों के लिए मुंबई जायेगा और वह अकेली ही रहेगी. मैं- देखिए पूजा जी, मुझे इस बात की जानकारी है … और मैंने देव सर से वायदा भी किया है, आप निश्चिन्त रहिए. उसके बाद बड़ी मम्मी बगल में लेट गईं और बड़े पापा उनकी चुचियां किसी बच्चे के जैसे चूसने लगे.

हमने राबिया की तरफ देखा तो वो अपनी सलवार में हाथ डालकर चूत रगड़ रही थी. अब वो रोने लगी और चिल्लाने लगी- उई माँ … आआ … आह्ह … ऊईई … नो हह्ह … मर गई. बॉयफ्रेंड से चुदाई में भी मुझे इतना मजा नहीं मिला जितना पापा से मिल रहा था.

फिर मैंने उसकी चूत को लंड से सहलाया और वो अपनी चूचियों को मसलते हुए चूत को लंड पर रगड़वाने लगी. चुत से खून भी निकल आया था, पर अब सास पर वासना फिर से हावी हो गई थी. मैं आँखें बंद करके लेटी थी लेकिन मिचमिचाती आँखों से मिरर में सब देख रही थी.

मैं तेजी से उंगली को चलाने लगा और एकदम से उसकी चूत ने गर्म रस छोड़ दिया. मैंने जल्दी से पार्किंग से बाइक निकाली आकांक्षा को बिठाया और दोस्त के रूम पर पहुंच गया.

मतलब जैसे हीरोइन लोग पहनती हैं, ऊपर से नीचे तक एक रहता है … लेकिन ऊपर कंधे से बस डोरियों पर रुका होता है.

मैंने उनसे कहा- ये अफजल है, तुम दोनों में आरजू कौन है?आरजू एक दुबली पतली सांवली सी लड़की थी. गर्भाशय आकारवो समझ गई थीं कि मैं जगा हुआ हूँ … पर इसके बावजूद वो नहीं रुकी और अपनी चुत चुदवाना जारी रखा. সেক্সি ফুল এইচডিमैंने कहा- पापा, हम लोग डांस ही तो कर रहे हैं इसमें क्या बदनामी का डर है … वैसे भी हमें यहां पर कौन जानता है!पापा के साथ मैं डांस करने लगी. मैंने अपने बैग से व्हिस्की की बोतल निकाली और एक सुपर लार्ज पटियाला पेग ढाल लिया.

अपने घर में अपने शौहर की दूसरी बीवी को आने से रोकने के लिए अगर उसी गलती को मैं जानबूझकर करूँ तो … तो मुझे यकीन है कि रफ़ीक़ के आने से पहले ही मैं भाई से चूत चुदाई करवा कर प्रेगनेंट हो जाऊँगी.

अगर कोई सड़क से गुजरा भी तो उसको क्या पता चलने वाला है, तुम सेक्स की मस्ती का मजा लो. उनके मुँह से आअह्ह … आआह्ह … की आवाज़ बहुत ही प्यारी लग रही थी।मैं उनको इस पोजीशन में 15 मिनट तक चोदता रहा. फिर दो मिनट के बाद मेरा बदन अकड़ने लगा और मैंने पूरा लंड श्वेता के गले तक उतार दिया.

वो खुद मेरे सामने बैठ गया और मेरे दोनों जाँघों के बीच अपने पैर के तलवे रख दिये और मेरे जाँघों के अंदर की तरफ और योनि को तलवों से सहलाने लगा. तो क्या तुम पंजाब आ सकती हो? वो लड़का तुमको फ्री में चोदेगा।मैंने सोचा कि जो लड़का मेरी चूत की सील फ्री में तोड़ेगा. मम्मी ने उससे बातें करते हुए चाय बनाई तथा उन दोनों ने साथ में चाय पी.

सेक्सी चाहिए सेक्सी फोटो

मुझे तुम्हारे पानी की गर्मी मेरे अंदर ही महसूस करनी है।मैंने अपनी स्पीड तेज कर दी. उसके बाद …फ्रेंड्स, मेरा नाम सुनील शर्मा है और मैं अपने कॉलेज की सेक्सी कुंवारी लौंडिया की चुत की सील तोड़ने की रसभरी चुदाई की कहानी में आपका फिर से स्वागत करता हूँ. मामी के गले पर जैसे ही सागर के होंठ छुए, मामी एकदम से उत्तेजित हो गयी.

मुझसे अब रहा नहीं जा रहा था। मैं उसकी टांगों के बीच में आकर बैठ गया और धीरे से उसकी चूत के होंठों पर अपना लन्ड लगा दिया।मुझे डर था कि उसका पहली बार है तो वो रोने ना लगे।मैंने हल्का सा धक्का दिया और पच … से मेरे लंड का सुपारा उसकी चूत के अंदर चला गया.

दोस्तो, इस नौकर सेक्स स्टोरी के पात्रों से आपका परिचय करवा देता हूं.

इधर मैंने जैसे ही थोड़ा दबाव डाला, तो मेरा लंड बड़ी मुश्किल से अन्दर गया. मैंने अपनी गांड उठाकर अपनी टांगों को थोड़ी फैला दिया और पेट को सिकोड़ा ताकि वो पूरी चेन खोल ले और उसका हाथ आराम से मेरी पैंट में चला जाये. सिस्टर सेक्सीआखिर में मैंने आरजू की एक टांग अपने कंधे पर रख ली और अब जो निशाना लगाया, तो वो बच न पाई.

मैंने भाभी की चूत की फांकों को फैलाते हुए अपने लंड के सुपाड़े को उसकी चूत पर रखा और लंड को अंदर धकेल दिया. संजय बोला- अरे मम्मी वो मैं पीता नहीं हूँ … बस आज पी ली … प्लीज आप नीरजा को मत बोलिएगा. दोस्त बोला- तो एक बार कोशिश तो कर!मैं बोला- अबे पागल है क्या? वो बहू है मेरी.

रुखसाना और धर्मपाल एक साथ बैठ गए।हरदीप उन सबके लिए कोल्ड ड्रिंक ले आई। वो आकर लखविंदर के पास बैठ गई।सभी अब साथ में बैठ कर कोल्ड ड्रिंक पीने लगे।लखविंदर का पूरा ध्यान रुखसाना की तरफ था. मैंने उनका सर अपनी चुत पर दबाना शुरू कर दिया, वो समझ गए … पूरे खिलाड़ी थे, हट गए.

जब हम लोग शहर से वापस गांव की ओर आ रहे थे तो बीच रास्ते में ही बारिश शुरू हो गयी.

जब तुम जागे, उसके बाद तुम्हारे साथ दुबारा चुदाई करवाने के लिए तैयार हो गयी और गांड मरवाने के लिए भी. इसका भुगतान मुझे ही अपनी चूत और गांड से करना पड़ेगा, यह मुझे मालूम था. ससुर जी ने मेरे हाथ दीवार पर टिकाकर मुझे घोड़ी बना दिया, मेरी साड़ी पेटीकोट उठा दिया, मेरी पैन्टी नीचे खिसकाई और मेरी चूत में लण्ड पेलकर बरसते पानी में खुली छत पर चोद दिया और बोले- हर तरह का एक्सपीरियंस करना चाहिए.

सोना मेरी शहजादी इस बार मेरा आधा लंड उसकी चुत को चीरता हुआ उसकी टाइट चुत में धंस गया और वो छटपटाने लगी. चूंकि ये मेरी पहली सेक्स कहानी है इसलिए ग़लती को नजरअंदाज करते हुए इस देसी बुआ सेक्स कहानी का आनन्द लीजिएगा.

मैं इसी तरह दो मिनट लंड पूरा चुत में डालकर लेटा रहा और मनजीत की चुत की गर्मी महसूस कर रहा था. टॉप ऊपर करके मैंने उसकी चूचियों को नंगी किया और उसके चूचों पर मुंह लगाकर चूसने लगा. वो कल्लू की नजर को भांप गयी और अपनी चूचियों पर हाथ फेरते हुए बोली- चाय पिओगे क्या?कल्लू बोला- दूध नहीं है क्या तुम्हारे पास?कातिल मुस्कान के साथ अनु ने कहा- वो तो तुम्हें निकालना पड़ेगा.

हिंदी सेक्सी वीडियो एचडी वाला

ताई की चुदाई कहानी में पढ़ें कि एक दिन मैं ताऊजी के साथ उनके कमरे में सो गया. जैसा कि उसने मुझे बताया था कि उसके पति को गुजरे हुए लगभग दो साल से ऊपर हो गये थे सो वो चुदाई की प्यासी भी जरूर होगी, क्योंकि ऐसी भरी जवानी में किसीनवयौवना की चूतकैसा तेज तेज करेंट मारती है और उसे चुदवाने को कैसे मजबूर करती है इसका अंदाजा मुझे था. वो किराये के मकान में रहता था।वो सुबह साढ़े आठ बजे घर से निकल जाता था और शाम को छह बजे वापस आता था।उसका घर से बाहर काफी औरतों के साथ चक्कर था। उसकी बीवी हरप्रीत कौर 30 साल की थी.

मैंने पूजा आंटी से पूछा- कैसा लगा मेरा साथ?उन्होंने जबाव दिया- जन्नत का सुख था. हम दोनों साथ में गए और मॉल में एक जगह खड़े होकर आरजू का वेट करने लगे.

सभी कॉलेज में टाइम से पहले पहुंचे।मैं सुबह जाते हुए 15 मिनट लेट हो गया.

अब बलदेव ने सास के दोनों निप्पलों को अपने दोनों हाथों की दो दो उंगलियों से मसलना आरंभ कर दिया. इस समय मेरा फिगर 36-34-38 का है और अभी भी मेरा ये फिगर किसी भी नई लड़की को फेल कर सकता है. उसने मेरी चूत पर लंड को रखा और अपने लंड के सुपाड़े मेरी चूत पर रगड़ने लगा.

एकदम ताजा शेव की हुई, डबलरोटी की तरह फूली हुई किरण की चूत रजनीगंधा के फूलों की तरह महक रही थी. अब उसको मजा आने लगा था, वो भी मुझसे चिपक गई और मेरा साथ देने लग गई। अब मैंने भी अपनी स्पीड तेज कर दी जिससे उसको भी मजा आने लगा था और नीचे से अपनी गांड उठा उठा के अपनी चुत में मेरा लंड लेने लगी।उसमें अलग ही जोश नजर आ रहा था जैसे बहुत दिनों से चुदाई की प्यासी हो।वह मेरी पीठ पर अपने नाखून चुभाने लगी और बोल रही थी- आह … ह ह … उह. वो भी मस्ती में जोर जोर से कामुक आवाजें निकाल निकाल कर अपनी चूत में हमारे लौड़ों को ले रही थी.

जिस पर वो कसमसा गई और जोर से मुझे पकड़ लिया और भरपूर तरह से किस करने लगी।लगातार 20 मिनट के ताबड़तोड़ चुम्मा-चाटी के बाद माहौल काफी गर्मा गया था और हम दोनों की सांस बहुत तेज़ तेज़ चल रही थी.

देसी बीएफ दे: मैं भी नजमा दीदी के घर जाता हूं।मैंने राबिया को कहा- थोड़ा और चूस दो प्लीज!राबिया ने मेरा लौड़ा चूसा और पानी निकाल दिया।फिर मैं आसिफा के घर गया और पाया कि दोनों जीजा जी चुके थे. गुवाहाटी से मेरी फ्लाइट शाम छह बजे उड़ी और सवा आठ पर दिल्ली पहुंच गयी.

वो अंदर ही अंदर चिल्ला रही थी क्योंकि चाची ने उसके होंठों को अपने होंठों से दबाया हुआ था. उसकी गोरी सी गांड पर वो लाल चड्डी देख कर मैं तो अपने आपे में नहीं रहा. वो बोला- आप इधर मज़ा करो, मैं थोड़ी देर में एक दो पैग दारू पीकर आता हूं.

भाभी के पति को एक सप्ताह के लिए कहीं बिजनेस के सिलसिले में बाहर जाना था और उसी वक्त उनके बच्चों को स्कूल से टूर पर तीन दिन के लिए जाना हुआ.

सेक्स लाइफ तो जैसे थी ही नहीं … और बीवी उससे भी नाराज़ रहती थी, बस वो बोलती नहीं थी. मैंने नीचे से चड्डी भी नहीं पहनी थी इसलिए लंड मेरी लोअर में साफ झलक रहा था. उसको तैराकी सिखाने के बदले में मैंने उससे कहा कि मैं उसको नंगी देखना चाहता हूं.