सील पैक लड़की का बीएफ

छवि स्रोत,चाचा भतीजे की सेक्सी पिक्चर

तस्वीर का शीर्षक ,

फुल बीएफ सेक्सी फिल्म: सील पैक लड़की का बीएफ, मैं सेक्स वीडियो भी कई देख चुकी थी, पर आशीष के सामने बिल्कुल अनजान बन रही थी.

सेक्सी वीडियो घोड़ा घोड़ी की

मैंने धीरे धीरे करके उसकी गांड में लंड डाल दिया और उतने लंड से ही उसकी गांड मारने लगा. देसी सेक्सी वीडियो सुहागरात वालीमेरी ननद ने मेरे पति को देखते हुए कहा- भाभी, लगता है कि आज भैया ये भूल गए हैं कि उनकी सुहागरात है.

उसके बाद मैंने रीना की जींस पर उसकी चूत के ऊपर वाली जगह पर अपनी उंगली से सहलाना शुरू कर दिया. सेक्सी एचडी में चाहिएसोनू कहने लगी- मम्मी और पापा की चुदाई को देख-देख कर मेरा भी चुदने को मन करता था, परंतु मैं क्या करती?मैंने सोनू से कहा- फिर अब क्यों डर रही हो?सोनू कहने लगी- मेरे इस छोटे से छेद में जब भाई के लंड से मुझे दर्द हुआ था तो आपके इस लंड से तो मेरी जान ही निकल जाएगी.

शाम को मामी चाय लेकर आईं और उन्होंने मेरे गाल पर हाथ फेर कर कहा- मेरे लाल, पहले चाय पी ले, फिर पढ़ लेना.सील पैक लड़की का बीएफ: काफी लोग कहते हैं कि इतना बड़ा अन्दर गया, तो मैं आप को बता दूँ कि 8 इंच से ज्यादा बड़ा लंड चुत के अन्दर इंफेक्शन भी कर सकता है, जिनका ऐसा लंड है, उन्हें ये अच्छी तरह पता है.

उसके होंठ खुले थे, जिनमें से अब हल्की कामुक सिसकारियों की आवाज सुनाई पड़ रही थी.कुछ दिन के बाद फिर से वह रूम में आई और उसके बाद …अब आगे:शिखा एकदम से मेरे पास आकर मुझसे सट गई और मुझे उसने बिना कुछ सोचे समझे ही किस करना शुरू कर दिया.

सेक्सी फिल्म का गाना चाहिए - सील पैक लड़की का बीएफ

मैंने कहा कि फूल को फूल दे रहा हूँ … समझ नहीं आता, कौन ज्यादा खूबसूरत है.उसने इस वक्त ब्लैक जींस और रेड टॉप पहना था … जिसमें वो कयामत लग रही थी.

मैंने एक एक करके देखा सब फोटोज और प्रोफाइल भी पढ़ा, उसमें से मुझे 2-3 ही ठीक ठाक लगे, जो मैंने मम्मी जी को बता दिया. सील पैक लड़की का बीएफ मैंने उसे गरम करते हुए कहा- देखो मेरा एक दोस्त है जो तुम्हें चोद भी देगा और किसी से कहेगा भी नहीं.

ये लंड का दीवाना है, चलो आज इसको प्राइवेट प्रॉपर्टी से पब्लिक प्रॉपर्टी बना देते हैं.

सील पैक लड़की का बीएफ?

मेरी बात सुनकर उसके भीतर एक आत्मविश्वास सा जागृत हो गया और वो भीतर से प्रसन्न हो गयी. आपा भी दर्द के मारे चिल्लाने लगी … जो इर्द गिर्द गूँज उठी थी- आहहह आय मर गई … उउउइइ ओहह … बहुत दर्द हो रहा है … प्लीज इसे बाहर निकाल लो … मुझे नहीं चुदवाना तुमसे … तुम बहुत जालिम हो … यह क्या लोहे की गर्म रॉड घुसा डाली है तुमने मुझमें … निकालो इसे … नो प्लीज बहुत दर्द हो रहा है … मैं दर्द से मर जाऊंगी प्लीज निकालो इसे!सारा आपा की आँखों से आंसू की धारा बह निकली. वो मेरे बगल में दूसरी तरफ मुँह करके सिर्फ लोअर और पैंटी नीचे करके मेरा लंड पैंट से निकाल के रगड़ने लगी अपनी चूत पर.

तब मैं उसको अपने मोबाइल पर उस कैमरे से ली गई रेकोर्डिंग दिखाने लगी. मामी के कन्धे पर सर रख कर मैंने कहा- मामी, आपकी किस ने तो कमाल ही कर दिया, अब देखना मैं पक्का टॅाप करूँगा. मामी जी ने भी मस्ती में आकर अपनी जांघों को थोड़ा सा खोल कर दीवार पर अपनी हथेलियों को जमा दिया.

एक दिन भाई दो दिनों के लिए दिल्ली से बाहर गया था तो भाभी ने रात को मेरा लंड पकड़ लिया जब मैं मुठ मार रहा था. उसका नाम था समीरा!जब मैं पहली बार उससे मिला तो मुझे लगा कि इसको कुछ प्रॉब्लम है. पहले ये तो देखूं कि कितना बड़ा हो गया है तू?उसने मेरी बेल्ट खोल दी और फिर बटन ओर चैन और मेरे लंड को कच्छे से बाहर निकाल लिया.

वो बोली- बैठो … क्या लोगे … चाय या कॉफ़ी?मैं उसकी तरफ देख कर मुस्कुरा दिया. दूसरे दिन भाई नहीं आया तो दूसरे दिन भी पूरी रात हमारा चुदाई का कार्यक्रम चला, इस रात को हमने जो किया जैसे किया वो मैं अगली कहानी में लिखूंगा.

फिर सुदीप ने मेरी चूत को अपने होंठों से चूमते हुए कहा- आह साली क्या मस्त चिकनी चूत चोदने को मिली है, आज तो मैं इसे फाड़ ही डालूँगा.

रात को जब खाने का टाइम हो गया और हम तीनों ही साथ में बैठ कर खाना खा रहे थे.

मैंने उनको ऐसे ही पलटा कर उनके पैर को चौड़ा किया और लंड को उनकी चुत पर रगड़ने लगा. मेरी लंड ने एक सलामी के सा‍थ अपनी उपस्थिति का संकेत दिया और मैं मुस्करा दिया. उसका गोल चेहरा, लंबी नाक, गुलाबी होंठ, ऐसा लग रहा था मानो कोई पहाड़ी कश्मीरी महिला हो, जिसे देख किसी भी मर्द का मन मचल उठे.

हमने एक दूसरे के फ़ोन नंबर ले लिए थे और जरूरत के अनुसार बातें भी होती थी. मैंने उन्हें अपने पड़ोसी होने के नाते खाने पीने के लिए अपने ही घर में बोल दिया. मैंने उसके निप्पल छोड़ कर उसके होंठों को चूसना शुरू कर दिया और धकापेल चुदाई करने लगा.

सोनम से मैंने कहा- तुम अब मेरे को कब मिलोगी?तो उसने कहा- दोपहर में घर आ जाना.

मैं उसके बोबों को दबा देता था, कभी उसकी गांड पर हाथ फेर देता था लेकिन इससे चुदाई की प्यास और ज्यादा बढ़ने लगी थी और अब मैं उसको कॉलेज भी छोड़ने चला जाता था. वो उस वक्त नाईट सूट में थे और वे अपने एक हाथ में शराब का गिलास लिए हुए थे. पर हर बार मैंने ध्यान दिया कि सुखबीर मेरी ओर बड़ी आशा से देखता, जो मुझे बैचैन कर देता.

अब मैंने उनके मुँह में फिर चादर डाला और उन्हें एक और झटका दिया और लंड एकदम से अन्दर घुस गया, पर भाभी दर्द से रोने लगीं. मैं राजनीति शास्त्र का छात्र हूं, इसी अभ्यास के दौरान मुझे एक माह के लिए इन्टर्नशिप करनी थी, जिसमें मुझे मेरे ग्रुप के साथ अलग अलग जगह पे काम करना होता था. फिर मैंने उसके नाइटी पहनने को लेकर पूछ लिया कि आप घर पर ऐसे ही रहती हो क्या?तो वो बोली- आज तुमसे मिलने का प्लान था.

मौसम ज़्यादा ठंडा था, तो मुझे भी उसके साथ बैठने में कोई प्राब्लम नहीं हुई बल्कि मुझे अच्छा लग रहा था.

एक हाथ से नीचे मेरे लंड को सहलाती रही और मैं एक हाथ से उनकी पाव रोटी की तरह फूली चिकनी चूत को सहलाता रहा, उसके बीच में अपनी उंगली चलाता रहा, चूत बिल्कुल पानी छोड़ चुकी थी. उसने किसी बच्चे की तरह नीना को अपनी गोद में उठा लिया और फ्रंट पोज से उसी पुराने अंदाज में पेलता रहा.

सील पैक लड़की का बीएफ जैसे ही वो अंदर गया ऐसे लगा कि जैसे किसी ने गर्म तपती हुई लकड़ी मेरी चूत में घुसा दी है. देखो, चिकन के साथ दोनों चिकनी भी खिला कर आ रही हूँ, वर्ना आप ही कहने लगतीं कि मेरे पति का तो कोई ख्याल ही नहीं रखता.

सील पैक लड़की का बीएफ उषा ने जान-बूझकर अपने पैर हवा में उठा लिये थे जिससे लंड अंडरवियर सहित सीधे चूत के ऊपर जाकर लग जाये और उसकी चूत की तपिश को महसूस कर सके. उसने ज़ोर से झटका दिया, तो उसका आधा लंड रिया की चूत के अन्दर चलागया था.

मैंने सोचा कि यदि मैं अपनी लुल्ली दिख देता हूँ, तो फिर मैं रवि मामा से अपना लंड दिखाने की जिद कर पाऊँगा.

औरंगाबाद सेक्सी व्हिडिओ

आपके मेल का इंतज़ार रहेगा और कुछ दोस्त फेसबुक आईडी भी पूछ रहे थे तो दोनों दे रहा हूं. मेरा लण्ड सही जगह रख कर मैंने धीरे-धीरे दबाव बनाना शुरू किया तो मेरा सुपारा थोड़ा अंदर गया … मेरी आंखें सलोनी के चेहरे पर ही थीं. इसी के साथ मुझे चाचाजी की धोती में कुछ हरकत सी होती दिखी, जिससे मेरे होंठों पर एक कातिलाना मुस्कान बिखर गई.

मेरा अब मामा के घर जाना बहुत ज्यादा हो गया था और किसी को कोई शक भी नहीं था इसलिए जब भी मौका मिलता हम एक दूसरे को किस कर लेते थे. अपने कपड़े उतार लो प्लीज…वह बोली- नहीं, मेरे तो पीरियड्स चल रहे हैं अभी. और आखिरी बात, आप अभी ये तो बिल्कुल मत समझिए कि मैं आपके लिए कोई अनजान व्यक्ति हूँ.

करीब तीन चार मिनट बाद जाने मुझे क्या होने लगा, मुझे खुद नहीं पता, पर उसकी आंखों में आंखें डालने से मेरे बदन में गर्मी आ गयी और हल्की ठंडी के बावजूद पसीना-पसीना होने लगी.

ये कहानी मेरी और मेरे पड़ोस में रहने वाली भाभी की है। भाभी के बारे में बताऊं तो वो एक काम की देवी है। उसके बूब्स और उठी हुई गांड जो भी देखे, देखता ही रह जाए और भगवान से प्रार्थना करे कि ये सुंदरी अभी मिल जाए और इसके चूचे चूस लूं … गांड में लण्ड डाल दूं।देखने में भाभी का रंग गोरा चिट्टा, बिलकुल चिकनी चमेली है वह. भाभी तुरन्त मेरे नीचे आईं और मैंने भाभी की चूत में अपना लंड लगा कर उनके होंठों में अपने होंठ रख कर धक्के मारने लगा. जैसे ‘वह देखो उस लड़की की गांड बहुत सेक्सी है … रीमा के बूब्स बहुत मटक रही है … ज्योति की तो कमर लाजवाब है.

एक ने उसके दोनों हाथ पकड़ लिए, दूसरे ने स्टॉकिंग्स भी फाड़ कर अलग कर दिए. आआ आआआह हहह हहह … सच में इससे ज़्यादा नशा चढ़ाने वाला कोई भी और द्रव हो ही नहीं सकता. दादाजी तो वैसे दिखने में दादाजी नहीं लगते थे, पर चूंकि वे रिश्ते में दादा लगते, तो उन्हें दादाजी ही बुलाना पड़ता था.

अब मैं उसकी चुत को चाटते हुए उसकी गांड पे उंगली भी घुमा रहा था, जिससे वो और उत्तेजना में आ गयी. वो भी दिखने में सेक्सी है, लेकिन उसकी जो बेटी है, उसका नाम है माला.

उसने जाते जाते मुझसे मेरा मोबाइल नंबर मांगा, मैंने झट से उसे नम्बर दे दिया. मैंने एक बार फिर लंड बाहर निकाला औऱ फिर दूसरे जोरदार झटके के साथ पूरा लंड अन्दर उतार दिया. तब मैंने ख़ुद ही अपने लिंग को पकड़ा और सारा की चूत में डालने की कोशिश की.

आपके मेल मिलने के बाद मैं दूसरी सेक्स स्टोरी भाभी और आंटी के बारे में डिटेल में भेजूँगा.

मुझे जब उन दोनों के अफेयर की बात पता लगी तो मुझे बहुत बड़ा सदमा लगा. इन आँसुओं की वजह से वो इतनी गीली हो चुकी थी कि लंड कैसे अंदर फिसल गया कुछ पता ही नहीं लगा. वह कहती रही कि एक बार निकालो, मेरी जान निकल रही है, बहुत जलन हो रही है, ऐसा लगता है जैसे चूत के अंदर सबकुछ फट गया है.

मैं तो उनके इस तरह अपने बदन को चाटने से मचल उठी, मुझे इतनी गुदगुदी हो रही थी कि मैं बार बार कसमसा रही थी, ज़ोर ज़ोर से हंस रही थी और प्रोफेसर साहब को रोक भी रही थी. रिश्तों में चुदाई की मेरी कहानी के पहले भागमामी की जवानी को लूटा-1में अब तक आपने पढ़ा कि मैं मामी के साथ शादी में जाने वाला था और इसी वजह से मामी मेरे साथ बाजार शॉपिंग करने गई थीं.

तुम्हें मैं कैसा लगा?मैंने मुस्कुराकर आंखें नीचे कर लीं तो उसने बोला- जवाब दो … मुझे सिर्फ तुम ही तुम दिख रही हो. हम दोनों ही एक दूसरे से बहुत प्यार करते हैं और हमारी सेक्स लाइफ भी बहुत ही अच्छी है. लेकिन इस बार मुझे दर्द होने लगा तो मैंने उनका हाथ हटाने की कोशिश की.

हरयाणा देसी सेक्सी वीडियो

खैर … नीना ने प्रशांत को बेड पर लिटा दिया और खुद ने इस तरह से लंड की सवारी करने का पोज बनाया, जिससे वह चूत में अपने मनमाफिक लंड घुसवा सके.

मैं- धन्यवाद! तुम कहाँ देखा मुझे?बैडमैन- तुमने ही तो अपनी फोटो दी है. उसके बाद जब मैं कपड़े पहनने के लिए उठने लगी तो जीजा जी ने मेरा हाथ पकड़ लिया और मेरी चूची को दबाते हुए कहने लगे कि एक राउंड और कर लेते हैं. मेरी सारी बातें सुनकर प्रीति संतुष्ट और उत्साहित सी दिखी और अब उसने ठान लिया कि वो अपने पति का मन बदल देगी.

आशीष ने बिस्तर में रखी दो तकिया मेरी कमर के नीचे लगा दिए और फिर बोला कि ओह बंध्या क्या मस्त तेरी छोटी सी चुत है. बुड्डे रमेश से रूपा के भरे हुए बदन को ठीक से संतुष्ट करना नहीं हो पाया, तो रूपा ने अपने आस पड़ोस के मजदूरों के साथ संबंध बना लिए थे. बहु ससुर के सेक्सी वीडियोलड़की होने का अधूरा अहसास उसको हो चुका था और अब बारी थी उसको लड़की होने का पूरा अहसास कराने की.

कहते हैं कि लोग जिस प्रवृति के होते हैं, उन्हें उन्हीं के जैसे लोग मिलते हैं या दोस्ती होती है. जोश में आकर मैंने भी उसका पूरा साथ दिया और एक बार उसके होंठों को काटा.

तो मैंने उससे पूछा- आपको कैसा सेक्स पसंद है?उसने बताया कि मैं आज हर तरह का सुख लेना चाहती हूँ, लेकिन इससे पहले तुम मेरी मसाज कर दो. उसने भी मेरी टी-शर्ट और लोवर को उतार दिया और जॉकी के ऊपर से ही मेरा लंड सहलाने लगी. ”वैसे भी दिन के समय सभी या तो आराम के लिए सोये होते हैं या डयूटी पर होते हैं.

आज मैं छब्बीस साल का हो गया हूं, दिल्ली में नौकरी करता हूं और मैंने मामी के बाद चार चूत और चोदी हैं, लेकिन मामी की चूत चुदाई का मजा ही कुछ और था. वो … मैं … कह रही थी कि उसका भी पेपर खराब हुआ है … अगर आप …” मैं बीच में ही रुक गयी, ये सोच कर कि समझ तो गये ही होंगे।चल ठीक है. फिर उसको गोद में लाकर मैंने बेड पर लिटा दिया। उसके होंठों को चूमने लगा.

चाची सुबह सुबह उठ गईं और रोज़ की तरह स्कूल के लिए तैयार होने के लिए बाथरूम में चली गईं.

वो अपनी चुत जोर से मेरे मुँह पे दबा देती और जोश में मेरे लंड को जोर से दांतों से काट लेती. एक बात कहूँ!वो बोले- हां बोल ना?लेकिन फिर भी मैं चुप ही रहा तो उन्होंने मुझे हिम्मत दिलाते हुए कहा- अरे बोल पागल… बोल दे.

रास्ते भर में कोमल मुझसे चिपक कर अपने बोबों को मेरी पीठ पर सहला रही थी. हैल्लो फ्रेंड्स!मेरी पिछली कहानी आपने पढ़ीभाई के साथ मस्तीमैं एक बार फिर से हाजिर हूँ एक नयी कहानी लेकर जो कि मेरी एक फ्रेंड की है। उसके कहने पर मैं ये कहानी आप लोगों तक पहुंचा रही हूँ। मज़ा लीजिये इस कहानी का, आगे की कहानी मेरी फ्रेंड के शब्दों में ही सुना रही हूँ।मेरा नाम रचना है. उन्होंने मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चूत के छेद पर ऊपर नीचे रगड़ा और फिर छेद में थोड़ा सा घुसाकर टिका दिया.

सुहागरात में जब आशा कमरे में सेक्सी नाइटी में मेरा इंतज़ार कर रही थी. मैं कोमल को रात भर अपने पास रख कर उसके बदन के साथ खूब मस्ती करना चाह रहा था. मगर इस बार मुझे ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ी और मैं ज्याफ देर तक रुका भी नहीं.

सील पैक लड़की का बीएफ मैंने अपने चूतड़ों को पीछे खींचते हुए सलोनी को संभलने का मौका दिए बगैर एक जोरदार धक्का दिया और मेरा लण्ड पूरा चूत की जड़ तक समा गया. जल्दी ही हम भी झाड़ियों में अपनी जगह ढूंढते हुए एक जगह गए जहां कोई हमें देख न सके.

सेक्सी पिक्चर जुदाई

आपको बता दूं कि उसके मम्मे की साइज काफी मस्त है, ये 36 डी नाप के हैं. रिया अब चिल्लाने लगी- बचाओ बचाओ …लेकिन कोई आसपास था ही नहीं … तो कौन हेल्प करने आता. क्यों मीना, उससे कोई काम था क्या तुझे?नहीं नहीं … मैं तो यूं ही पूछने लगी!” व्यथित दिल से मीना वापस आने के लिए मुड़ी कि तभी उसकी जेठानी ने कहा- चिन्टू शायद कल आयेगा.

दादी उन्हें पिछले पंद्रह साल पहले ही छोड़ कर चली गई थीं, तब मैं सिर्फ 3 साल की थी. मैं सोचती थी कि अंकल पे सिर्फ मेरा हक होना चाहिए, ऐसा मुझे हमेशा लगता था. सेक्सी फोटो रेखामैंने गांड में हाथ डालना चाहा, मगर नाड़ा टाइट बंधा था, तो मैंने कुर्ता ऊपर किया और पीछे से उसकी पीठ पर हाथ फेरने लगा.

मेरे दिमाग में यही सब प्लानिंग चल रही ही थी कि इतने में कल्पना आ गईं.

तो मैं उसका साथ देते हुए उठी और उसके लंड में अपनी चूत सेट कर के बैठ गयी और ऊपर नीचे हो कर धक्के लगाने लगी. मैंने अपने दोनों हाथों से उसके पजामे को नीचे सरकाने की कोशिश की मगर वह अभी पजामा उतारने के लिए तैयार नहीं थी.

मामी बोली- तो फिर आप से गलती हुई है तो आप सजा के भी हकदार हो जाते हैं. मैंने कहा- हां मुझे उधर की देसी चुदाई की कहानी पढ़ने से बड़ी उत्तेजना होती है और मेरा मन किसी चूत को चोदने का करने लगता है. मामी जी- आह मेरे लंडधारी पतिईईई … सीईईई … ओ मेरे राजज्जा कल रात को ही तो आपने मेरी कुंवारी गांड की सील अपने विशालकाय लंड से तोड़ी है.

मैंने पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत सहलानी चाही, तो उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोली- अंकल वहां हाथ क्यों डाल रहे हो.

मुझे ज्यादा मस्ती छाने लगी थी, मैं उसकी पैन्ट की चैन खोल के उसके लंड को बाहर निकल कर हाथ से हिलाने लगी, जिससे वो और जोर जोर से मेरे चूचों को काटने लगा और चूसने लगा. उनकी कामुक आवाजें मुझे और पागल कर रही थीं और मैं अपनी स्पीड बढ़ाने लगा. थोड़ी देर बाद उसने करवट ली और अपना पैर हटा दिया, लेकिन अब हाथ मेरे ऊपर रख दिया.

सेक्सी वीडियो में दिखा दीजिएवो अंदर गयी और जैसी उसने गिरने की एक्टिंग की तो विपिन उसको लपक कर बचाने लगे. फिर उसने रूपा की ओर देखते हुए कहा- रूपा जरा तब तक छोटी बहू को अपने खेत खलिहान घुमाने ले जाओ और हां, इनकी अच्छे से देख भाल करियो, हमारे यहां पहली बार आई हैं, खातिर में कोई कमी ना रहे.

સનમ તેરી કસમ

वंश ने मेरी चूत का रस चाट चाट कर मेरी चूत को फिर से गर्म कर दिया था. उसका जो अंडरवियर था, उसके अन्दर उसका छुपा हुआ लौड़ा बहुत फूला हुआ दिखा. तो आशीष ने बोला- अब तुम मुझे खुल के गाली देना … गंदी से गंदी बातें बोलना.

मैं समझ गया कि अब यह फिर से गर्म हो चुकी है और मेरे लंड को अपनी चूत में डलवाने के लिए बेताब है. चाची सुबह सुबह उठ गईं और रोज़ की तरह स्कूल के लिए तैयार होने के लिए बाथरूम में चली गईं. फिर बात को संभालते हुए कहा- जीजू, इस बारे में कुसुम दीदी को न बताएं.

मेरा लंड भी उसकी ऐसी हरकतों के कारण पहले ही उसे चोदने के लिए तड़प उठा था. फिर उसने अपनी स्पीड थोड़ी बढ़ाई और 4-5 जोर के झटके देकर वह थमता चला गया. मैंने देखा कि उसकी खुली छाती पर तने हुए उरोज अपने सिरे पर गुलाबी छतरी ताने मुझे ललचा रहे थे.

साथ ही अपने चेहरे यानि नाक, गाल, होंठ और ठुड्डी से लंड के हर कोने को रगड़ने लगी. रमेश- ह्म्म्म … ये तो मुझसे बेहतर कौन जानता है मालिक हा हा हा लेकिन आप छोटी बहू की भी चाल बदल देंगे, यह तो मैंने भी नहीं सोचा था.

अनन्त ने अपने लंड को दीदी के मुंह में तेजी के साथ धकेलते हुए अंदर बाहर करना शुरू कर दिया.

मैंने मामी की तरफ देखा वो सो रही थीं, तो मैंने अपना हाथ उनके ब्लाउज के अन्दर डाल दिया, लेकिन उसके अन्दर ब्रा थी, जो बहुत ही टाइट थी, जिससे मेरा हाथ अन्दर नहीं जा पा रहा था. सेक्स वीडियो इंग्लिश पिक्चर सेक्सीमैंने पैरों में चप्पलें डालीं और चकराते सिर के साथ ही कमरे से बाहर निकल कर गैलरी में बाहर चलने लगा. सेक्सी भेज दीजिए सेक्सीसेक्स करने के बाद हम दोनों यूं ही नंगे ही बिस्तर पर लेट कर एक दूसरे को किस करने लगे. इसके बाद मैंने उसकी बहन को और उसे गांव के खेत में कैसे चोदा, उसकी कहानी भी जल्दी ही लिखूंगा.

मैं बोली- मैं कभी आप पे गुस्सा हो सकती हूं क्या, आपने मेरी इतनी मदद की है.

वो बोली- आज तक कुछ किया भी है?मैं शर्मा गया और कुछ न बोला, तो वो बोली- दिन में घर पर आ कर मिलना, जब तेरी बुआ और भाई ना हो. मैंने अपनी कच्छी ठीक करके शर्ट के बटन बंद किए और नीचे बैठ कर उनकी आँखों में देखने लगी. कल्पना ने मुझे सोफे पर बैठने का इशारा करते हुए अपनी नौकरानी को आवाज दी- रत्ना, पानी लाना तो.

उसका मूसल जैसा लंड जब दीदी की चूत के अंदर जाता तो दीदी की चूत फैल जाती थी. आप मुझे[emailprotected]पर बतायें।आप मुझे फेसबुक पर komal advicer पर भी कांटेक्ट कर सकते हैं।आप लोगों का रेस्पोंस अच्छा रहा तो मैं बहुत ही जल्द अपनी अगली कहानी लिखूंगी।. सासू माँ- अब जो कुछ मैं तुझसे कहने वाली हूँ, उसे ध्यान से सुनना और समझना कि हम लोग तुझसे कितना प्यार करते हैं.

सेक्सी बात करने के लिए नंबर

मैं जैसे जैसे उसका लंड चूसती, वो वैसे वैसे मेरे बाल पकड़ के अपनी तरफ खींचता जाता और मेरे चूचों को दबाता जाता. वो मेरे सर को पकड़ के अपने बूब्स पे दबाने लगीं और मादक सिसकारियां भरने लगीं. पायल बोली- जीजू, मैं आपकी इज्जत करती हूँ और आपको पसंद भी, इसीलिए मैं कुछ नहीं बोली, लेकिन ये नहीं चलेगा, मैं सिर्फ आपके लिए हूँ.

हम कुछ देर वैसे ही पड़े रहे। करीब 15 मिनट बाद हम दोनों एक दूसरे से अलग हुए। हम दोनों ने दोबारा बाथ लिया और कपड़े पहन कर सामान गाड़ी में रख दिया और घर को चल दिए।रास्ते में भी हमने बहुत मज़ा लिया।दिल्ली से वापस घर तक की घटना अगली कहानी में बताऊँगी।दोस्तो, कैसी लगी आपको मेरी यह कहानी, मुझे मेल जरूर करना।धन्यवाद[emailprotected].

तो डॉली ने कहा- हां करो मदद … इनके मिस्टर तो पी के टुन्न हो गए हैं, वहीं नीचे हैं.

काफी देर लंड तना होने के कारण वो भी भाभी की मस्त चुसाई के कारण आखिरी मोड़ पर आ गया. कुछ देर बाद माला ने विजय का लौड़ा चाट कर साफ किया और लंड को दुबारा शॉट लगाने को खड़ा कर दिया. देसी मराठी सेक्सी पिक्चरफिर भी मैंने खुद को संभालते हुए कल्पना से पूछा- आप क्या चाहती हैं?कल्पना- ये कैसा सवाल है आपका कि मैं क्या चाहती हूँ? मैं क्या चाहती हूँ आपसे … ये आपको मालूम है और आपको और मेरे लिए कुछ करने की जरूरत भी नहीं है.

मेरे लिंग का उभार बढ़ता जा रहा था, जो की मामी के नितम्बों से टकराने लगा. मैं कुछ देर इंतज़ार करने के बाद अंदर चला गया और मैंने अंदर जाकर आवाज़ लगाई कि मैडम मैं आ गया हूँ।जो लड़की अंदर से बाहर निकलकर आई उसको देखकर मैं हैरान था. तभी मुझे ढूंढती हुई, लंगड़ाती हुई सारा आ गयी और कहने लगी- आमिर, आप मुझे छोड़ कर आप कहाँ चले गए.

बैडमैन मेरे कपड़े उतारने लगा, मैं भी उसके शर्ट की बटन खोल के उसके कपड़े उतारने लगी. उसके बाद मैंने उनको सोफे पर पीछे की तरफ आराम से लेटा दिया और भाभी की नाइटी को ऊपर कर दिया.

मामी ने अपने दांतों से होंठों को दबा दिया, आंखें बन्द कर दीं और मेरी पीठ पर नाखून रगड़ने लगीं.

लेकिन कुछ ही महीनों बाद एक दिन वो मायके लौट आयी और फूट फूट कर रोने लगी. उसके बाद उसने मेरे लंड को अंडरवियर के ऊपर से चूमना-चाटना शुरू कर दिया. मेरा स्टेमिना भी अच्छा है जिसके कारण मैं दिन में 3-4 कस्टमर तो डील कर ही लेता हूँ।तो दोस्तो, यह थी मेरी कहानी कि कैसे मेरी कस्टमर मेरी ही बॉस निकली.

हॉट देसी भाभी सेक्सी फिर मैंने सोनू से कहा- सोनू, यदि मजा लेना है तो थोड़ा सा दर्द बर्दाश्त करना होगा और अगर चीखना है तो तुम अभी उठो, अपने कपड़े पहनो और अपने घर जाओ. मैंने मामी को जोश ही जोश में निमंत्रण तो दे दिया मगर अब इस चैलेंज को पूरा कैसे करूँ उस सोच में बैठी हुई थी.

फिर बड़े ज़ोर ज़ोर से झटके लगा कर उसने अपना सारा माल मेरी गांड में ही छोड़ दिया. मैं बेख़ौफ़ चाचा जी के लंड को सुपारे तक अपनी चूत से बाहर निकालती और फिर एक ही बार में पूरा लंड चुत में ले लेती. फिर उन्होंने उठ कर मेरे लंड को अपने मुँह में ले लिया और बड़े प्यार से लंड चूसने लगीं.

मराठी सेक्सी बीपी नवीन

मैंने रेड ब्रा पेन्टी स्ट्रिंग वाली और ब्लैक कलर का घुटने तक का सिल्क का गाउन पहन लिया. उसके बाद मैंने प्रीति को लगभग 20 मिनट तक और चोदा और फिर मेरे लंड ने कॉन्डम के अंदर ही वीर्य निकाल दिया. दूसरी वाली भाभी को भी चुदाई के लिए पटाने में लगा हूँ, जैसे ही सफलता हाथ लगेगी, आप सब तक खबर पहुंचा दूंगा.

मैंने जल्दी ही उसके टॉप को ऊपर उठा दिया और उसने कोई ऐतराज भी नहीं किया. मैंने शादी की पहली रात के लिए जो सपने देखे थे वह सब धरे के धरे रह गए.

मुझे कुछ नहीं समझ आ रहा था कि ये मेरे साथ क्या हो रहा था और वह क्यों ऐसा कर रहे हैं.

मैं राजनीति शास्त्र का छात्र हूं, इसी अभ्यास के दौरान मुझे एक माह के लिए इन्टर्नशिप करनी थी, जिसमें मुझे मेरे ग्रुप के साथ अलग अलग जगह पे काम करना होता था. वो मेरे साथ ऐसा बर्ताव कर रही थी कि जैसे हम बचपन से एक दूसरे को जानते हैं, पर बिछड़ गए थे और आज सालों बाद मिले हैं. दोस्तो, सच कहूँ तो मैंने डिसाइड किया कि इनके साथ रोमांटिक और वाइल्ड का मिक्सअप करूँगा ताकि इन्हें अपनापन भी लगे और मज़े भी आएं और ये मुझे भूल न पाएं.

तो मम्मी ने मना कर दिया, वे बोलीं कि तुम उस घर को … उस बंध्या की मम्मी को नहीं जानते हो. जिससे प्रीकम की वह बूंद मेरी नाक में किसी दवा की बूंद की तरह चली गयी और साथ ही उनके चॉकलेटी लंड से आती मदहोश कर देने वाली वीर्य की महक मेरी नाक से होते हुए मेरे दिमाग में घुल गयी. अब मुझे लग रहा था कि इसको तो लंड मिल जाएंगे, लेकिन सालों ने मेरी गांड मार दी या मेरे साथ गलत किया तो मेरा क्या होगा.

हम्म … पर पेपर तो मेरा भी अच्छा नहीं हुआ … चल चलते हैं घर … रास्ते में बात करेंगे.

सील पैक लड़की का बीएफ: थोड़ा सा अड्जस्ट करते हुए उसने मेरी चूत में फिर से अपना लंड घुसा दिया. कुछ दिन रहने के बाद ननकू शहर चला गया पर मीना के दिल में भय सा बैठ गया.

अंकल ने मेरे गोरे गोरे गालों पर किस करना शुरू किया, वह मेरे मुँह पर हर जगह पर किस कर रहे थे. मैं भी उठ गया और अपनी मौसी के बेटे के साथ बोतल उठाकर शौच के लिए चला गया. उसने कहा- मैं क्या छोटा बच्चा हूँ अब?हम दोनों में झगड़ा शुरू हो गया.

उसकी जीन्स इतनी टाइट रहती थी कि उसकी बड़ी गांड की वजह से 3-4 मिनट तो पैन्ट खोलने में ही लग जाते थे.

मैं धीरे धीरे से अपने लंड को अन्दर बाहर करते हुए कहने लगा- तो क्या हुआ पहली बार थोड़ी ही ले रही हो मेरी जान … कल रात से ही तीसरी बार गांड में घुसवा रही हो मामी जी … ह्हम्म फिर भी आपकी गांड थोड़ी अभी भी कसी हुई ही लग रही है. कभी वो मेरे नीचे तो कभी मैं उसके नीचे, पूरी रात चोदाई का यह खेल चलता रहा।घोष बाबू- ओ प्रधान जी, कहाँ खो गए सर? रात की बात खत्म हो गई. मैंने मामी का कमीज ऊपर से उतारा और देखा कि दो मोटे-मोटे मम्मे मेरे सामने ब्रा के अन्दर कैद थे.