एडल्ट बीएफ फिल्म

छवि स्रोत,सोना कहां से निकलता है

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सीxxxxx: एडल्ट बीएफ फिल्म, थोड़ी देर बात करने के दरमियान बाहर से कुछ आवाज आ गई और बात आगे ना बढ़ सकी.

पर्यावरण को इंग्लिश में क्या कहते हैं

हमने एयरपोर्ट काउंटर से फ्लाईट की जानकारी ली और अनीशा ने दो टिकट ले लीं. सेक्सी पिक्चर इंग्लिश हिंदी मेंमैं ऊपर वाले से प्रार्थना करने लगा कि हे कामदेव आज मिहिका का पति नहीं आना चाहिए.

मेरे पिता जी बहुत दारू पीते थे जिस कारण उनका लिवर खराब हो और उनका देहांत हो गया. जानवर आदमी सेक्सउसने कहा- आपके अनुसार जो मुहूर्त आपने दिया था, वो दो दिन बाद का है.

तब मैं जैसे नींद मैं से जागा और उनका तौलिया उठाकर उन पर लपेटकर उनको उठाने का प्रयास किया.एडल्ट बीएफ फिल्म: तब तक कालू ने जहां कपड़े अपने रखे थे, वहां जाकर वो अपनी पैंट की जेब से तेल की शीशी निकाल लाया और मुझे देकर बोला- भाई साहब आपने मेरी तो थूक लगा कर रगड़ दी, पर इनकी पहले से ही गांड फट रही है.

मैंने आंखें बंद करके चार पांच करारे घस्से मारे और फिर एकदम से लंड बाहर खींच लिया.मैं जितनी बार लंड रगड़ता, वो कमर उछाल कर लंड गटकने की असफल कोशिश कर रही थी.

बुड्ढी औरत सेक्सी वीडियो - एडल्ट बीएफ फिल्म

पर उसके पति के बार बार पूछने पर सीमा के सब्र का बांध टूट गया, वो रोती हुई बोल पड़ी- तुम जो ख़ुशी नहीं दे पाते हो, वो मैं उससे ले रही हूँ.कुछ खा पीकर एक बार बेड पर जाकर रेस्ट कर लोगी, तो कल तक सही हो जाएगी.

यह सेक्सी फॅमिली की चुदाई कहानी मेरी बड़ी बहन अरुणिमा और मेरी मम्मी के ऊपर है. एडल्ट बीएफ फिल्म पापा बोले- बेटा उसकी जरूरत नहीं, मुझे भी ये याद नहीं रहा कि मैंने भी नसबंदी कराई हुई है.

चूंकि हम दोनों मस्ती कर रहे थे तो शायद भाभी का ध्यान इस बात पर नहीं गया.

एडल्ट बीएफ फिल्म?

‘आह आह ऊईईई ऊईईई धीरे धीरे आह आआऊच आह …’ऐसी आवाज पूरे कमरे में गूंजने लगीं. हर धक्के के साथ महंत अपना लंड अपनी ही बहन की बुर में अन्दर धकेलता जा रहा था. चुदाई के लिए उतावली अर्चना नीचे से कमर उछाल कर एक करारा धक्का लगाया और दो-तीन इंच लंड गटक तो लिया, लेकिन दर्द से बिलबिला उठी.

मैंने भाभी से कहा- भाभी, आपका भी तो मन करता होगा, आप भी तो जवान हो और कितनी खूबसूरत हो. मुझे शारीरिक सुख अभी तक किसी ने नहीं दिया था, न ही मैं किसी लड़की के संपर्क में था. मुझे उसके चेहरे पर अलग सी खुशी दिखायी दी, मैंने उसके होंठों को चूम लिया.

मैंने बिना टाइम गंवाए उसके सारे कपड़े उतार दिए और उसने भी मुझे पूरा नंगा कर दिया. कुछ देर बाद मैं अपने हाथ उसके पैरों तक ले गया और धीरे धीरे उसके गाउन को ऊपर उठाने लगा. आखिर में वो हंसती हुई बोली- दूसरे राउंड में तो तुम सुबह कर दोगे यार … मुझे चडीगढ़ नहीं घूमना देना क्या?मैंने उससे कहा- चलो अबकी बार पूरा करते हैं.

मैंने जब देखा कि वीरेन्द्र जी ऑफिस के चेम्बर में जावेद को डांट रहे थे. मैं आशा करता हूँ कि आप सभी को मेरी यह Xxx कुकोल्ड हस्बैंड सेक्स कहानी पसंद आयी होगी.

उसे अस्पताल में भर्ती कराया, जांच में पाया कि उसे गर्भ ठहर गया है, इसी से उल्टियां हो रही हैं.

कुछ दिन बाद उसने अपनी सहेलियों को भी मेरे पास भेजना शुरू कर दिया था.

तभी उसने मेरी बीवी को अपने ऊपर पलटा लिया और अब इसराना के मम्मे पूरी तरह से फकीर के सीने पर रख गए थे. उनकी आंखों से आँसू निकल रहे थे और वो मुखिया जी को अपने से दूर करने की कोशिश करने लगी. भाभी अपने पति का लंड पकड़ कर बोलीं- लो देखो, बोल रहे थे खड़ा है, इसे खड़ा कहते हैं … आपका इससे ज्यादा कभी नहीं हो पाता है.

[emailprotected]देहाती चुदाई की कहानी का अगला भाग:रिश्तेदारी में कुंवारी लड़की की बुर चुदाई- 2. सामने अपने पति को देखते ही वो मुझसे एक पल में ही अलग हो गई और अपने ज़मीन पर पड़े हुए कपड़े उठा कर अपने बदन को ढकने लगी. वो चाय बनाने लगी तो मैंने उसके पीछे खड़े रहकर अपनी बांहों में कस लिया.

चूंकि विनोद के घर की भैंसें मेरे घर के सामने ही एक कमरे में बंधती थीं.

तब मैंने पूछा- क्या तुमको ज्यादा चोट लग गई है?वो बोली- हां … पीछे कमर के पास दर्द हो रहा है. मुझे उसकी आवाज तो सुनाई दी लेकिन मैं अपने ख्यालों में अञ्जलि को वस्त्रहीन नग्न देख रहा था. मैंने थोड़ी देर बाद फिर उसकी चादर में हाथ डाल दिया और उसकी चूचियों पर हाथ घुमाने लगा.

वो कभी लंड चूसती, कभी जीभ से टोपे को चाटती हुई अपने हाथ से आण्ड सहलाने लगती. यह सुनकर मेरी मौसी बोलीं- जो लंड मेरी चूचियों को देखकर खड़ा हो जाता है, उसे मुझे खड़ा करने में ज़्यादा दिक्कत नहीं होगी. लगभग 15 दिन की मशक्कत के बाद सोनम ने पापा को लाईन देने के लिए हामी भरते हुए कहा- अगर हुआ तो चुद भी जाऊंगी.

उसके पसीने की खुशबू शब्बो को पागल कर रही थी, उसका एक हाथ अब खुद ब खुद उसकी सलवार के ऊपर से उसकी फुद्दी रगड़ने लगा.

सना ने ये देख लिया और उसने मुझसे कहा- ऐसी गुस्ताखी क्यों … आप हमसे मांग लें, हम खुद ही आपको अपनी बेहतरीन अदाकारी दिखा देंगे. मैंने कहा- पहले जीजा को हरी झंडी दो और उसका परिणाम क्या आया है, वो मुझे बताओ, तब मैं आगे बताऊंगा.

एडल्ट बीएफ फिल्म सुबह वो चला गया और सब घर वाले चले गए और मेरा भाई भी दोस्त के मम्मी पापा को देखने के लिए सुबह घर से निकल गया. उसने दो गिलास में दूध भरकर एक मुझे पकड़ा दिया और दूसरा खुद ने ले लिया.

एडल्ट बीएफ फिल्म अमित ने ये भी बताया कि उसने सविता को घर पर पूरी नंगी होकर चुदते हुए देख लिया था. उसकी आवाज सुनकर शब्बो बाहर आयी और उसने वीरू को देखा।पसीने से गीला उसका बदन और दर्द से बिलबिलाते हुए उसे देख वो उसके पास दौड़ी आई।उसके माथे का पसीना पौंछते हुए बोली- हाय छोटे बाबा, ये अचानक क्या हो गया आपको? कहां से आ रहे हो आप? रुको मैं अभी आपके लिए पानी लेकर आयी।शब्बो ने झट से पानी का ग्लास लाकर वीरू को दिया और वो फिर से उसका पसीना साफ़ करने लगी.

मेरा एक दोस्त मुझे देख कर बोला- बधाई हो रवि, अब तुम रोज अपनी आंखें अच्छे से सेंक पाओगे.

हिंदी सेक्सी वीडियो दे सेक्सी

रात के 11 बज चुके थे और हम दोनों ही नशे में एक दूसरे के बगल में बैठे हुए थे. अब तुम मुझे बताओ कि तुम मुझसे क्या चाहते हो?मैं उसे अपनी इच्छा बताने से डर रहा था. एक दिन उसने फेसबुक पर अपनी फोटो को अपलोड किया तो मैंने कमेंट बॉक्स में लिखा- लगता है अभी तक पूरी तरह ठुकाई नहीं हुई है.

दूसरे दिन मैंने फिर से उंगली की- दीदी क्या सोचा आपने?दीदी- कुछ नहीं. मैंने एक सब्जी की दुकान भी फिक्स कर रखी थी, जिसको एक कांटा औरत चलाती थी, उसका नाम रेखा था. अच्छा रूचि कैसा लगा मेरा ये दोस्त?रुचिका बोली- मम्मी, आप भी कमाल की चीज हो.

अन्तर्वासना पर मैं ज्यादातर कुंवारी लड़की की सील तोड़ने से संबंधित कहानी पढ़ता था.

हम एक साथ पढ़ते थे, दोस्त थे, पारिवारिक सम्बन्ध थे भाई बहन जैसे! मैंने उस लड़की की सील तोड़ी. मैंने कहा- फिर कैसे गांड में लंड पेलूँगा?वो बोला- मेरी सलवार नीचे करके मार लेना. तुम्हारा पति तुम्हारी गांड मारेगा भी या नहीं!मेरे कुछ देर समझाने के बाद वो बैक डोर सेक्स के लिए राजी हो गई.

मैं जीवन में नियमित रोजगार के लिए सरकारी नौकरी पाने हेतु कड़ी मेहनत में व्यस्त था. अन्दर ब्रा नहीं होने के कारण मेरे दोनों दूध एक झटके में उछल कर उनके सामने तन गए. फिर से एक बार मेरे होंठों पर किस किया और फिर से केक को लेकर मेरी गर्दन से लेकर मेरी छाती पर फैला दिया.

साथ में उसने अपनी दोनों टांगों से मेरी कमर को जकड़ कर अपनी चूत पर दबाव बनाए रखा. वो बोली कुछ नहीं, लेकिन बस निचला होंठ का अंदरूनी हिस्सा अपने दांतों में दबाये हुए एकटक लंड को प्यासी नजरों से देखती रही.

उसकी पकड़ लंड पर थोड़ी और टाइट हो गयी और उसने लंड की मुठ मारने की स्पीड थोड़ी तेज़ कर दी. घर के काम समेट कर अर्चना दीदी ममेरे भाई बहनों की रातभर चोदम चोद की रिकॉर्डिंग को एडिट कर रही थीं. मेरा लंड खड़ा ही था, मैंने सही जगह पर लगा दिया और झटका देकर अन्दर पेल दिया.

आज तक मैं इस प्रकार की कहानियों पर ज्यादा यकीन नहीं करती थी क्योंकि ज्यादातर कहानियां मुझे बनावटी ही लगती थीं.

अब उस मास्टर के चोदे ने भाभी को बिस्तर पर लिटा दिया और खुद पूरा नंगा हो गया. वो बोली- उनको ये सब करते शर्म नहीं आई होगी?मैं बोला- इसमें शर्म की क्या बात है?ये सुन कर वो कुछ बोली नहीं. मैं अब फ्री होने वाला था कि उसने मुझे लंड चूसने की याद दिलाते हुए अपने ऊपर से हटाया और मुझे खड़ा करके मेरे लौड़े को मुँह में लेकर चूसने लगी.

कभी बायीं को सहलाता तो कभी दायीं को!थोड़ी देर में वो पूरी तरह से जग चुकी थी और अपने पैरों को आपस में रगड़ रही थी. इस बार मेरा लंड सीधा बच्चादानी तक जाने लगा था तो ललिता भाभी ऊईईई ऊईई आहहह आहहह करने लगी थीं.

मैंने उनसे पूछा- कोई ज्यादा तकलीफ तो नहीं हो रही है?वो बोलीं- नहीं नहीं ठीक है, आप करो. भाभी को दर्द बहुत हुआ वो ज्यादा चिल्ला नहीं पाईं क्योंकि मैंने उनके होंठों को अपने होंठों से दबा रखा था. मैं उसके सादगी भरे रूप यौवन का अपने नेत्रों से रसपान करके मदहोश हो गया था.

ब्लू हिंदी सेक्सी चुदाई

मैंने भी पूरा जोर लगा कर मेरा मुँह और उसके फुद्दी पर दबाव दे दिया और पूरी जीभ उसके गीली चूत में घुसाकर चूतरस का मजा लेने लगा.

मेरी फ्रेंड वाइफ सेक्स कहानी पर अपनी राय व्यक्त करने के लिए आप कोमल की ईमेल पर मेल कर सकते हैं. इसके बाद जब सोनम सलवार सूट में पापा के सामने जाती तो किसी कुंवारी कली से कम नहीं लगती थी. मैं अचानक चौंक गया क्योंकि मेरा लंड एकदम सीधा उनकी चूत के छेद के उपर आ गया.

बातें कैसे शुरू हुईं, कुछ पता ही नहीं चला था मगर अब वो मुझे चूमने लगी थीं. लंड पर थूक मला मेरी गांड पर टिका कर बोले- जब तक डाक्टर लौट कर आता है, उसके पहले जल्दी से निपट लेते हैं. सेकसी कोमवो ऑफिस से बाहर निकलती हुई बोलने लगी- सर मैंने तो सोचा था कि कोई 45-50 वर्ष के आस पास का कोई अफसर होगा, लेकिन आप तो अभी 30 के भी नहीं लगते.

ये सब मैं अपनी देसी वर्जिन गर्ल हॉट स्टोरी के अगले भाग में लिखूंगा. वो बोली- क्या तुमने कभी उसके साथ रात बिताई है?मैं जानकर अनजान बन रहा था.

जिस हिसाब से वो मुझे चोद रहे थे उससे मुझे पक्का यकीन हो गया कि ससुर सेक्स के एक माहिर खिलाड़ी हैं और इनके साथ मुझे बहुत मजा आने वाला है. मैंने उससे कहा- तुम डरो मत … मैं तेल लगा कर लंड घुसाऊंगा, तुझे ज़्यादा दर्द नहीं होगा. अब आगे गे फ्रेंड सेक्स कहानी:वो बोला- यार हर्षद आज बहुत दिल कर रहा है कि रात को तेरा लंड गांड में ले लूं.

सुबह जब मेरी नींद खुली तो देखा मौसी नाश्ता बना रही थीं और उनके बेटे कोचिंग चले गए थे. मैं उनसे छूटने के लिए जोर लगाने लगी और बोली- ये क्या कर रहे है आप पापा जी … छोड़िये ये सब गलत है. मेरा एक दोस्त मुझे देख कर बोला- बधाई हो रवि, अब तुम रोज अपनी आंखें अच्छे से सेंक पाओगे.

मां का गदराया बदन, मोटी विशालकाय चूची पीछे निकली हुई मोटी गांड, भाई को ही नहीं, पूरे गांव को दीवाना बना देता था.

मैं काफी पहले से अन्तर्वासना और फ्री सेक्स कहानी की स्टोरीज पढ़ती आ रही थी, तो मैंने सोचा कि क्यों न मैं आप सभी के अपनी कोई नई स्टोरी लेकर हाजिर होती हूँ. राकेश ने ये सब बात करते करते मेरा लंड पकड़ लिया व दो तीन बार सड़का भी मारा.

मैंने झटके से उसके मुँह पर हाथ रख दिया और कहा- अबे चिल्ला मत … भाभी जाग जाएगी, तो सब लफड़ा हो जाएगा. दस मिनट बाद वो भाभी के दोनों पैर एक तरफ करके उन्हें साइड से चोदने लगा. हम दोनों आधे घंटे एक-दूसरे को पकड़ कर ऐसे बेहोश पड़े थे, जैसे शरीर में जान निकल गई हो.

लंड का रस एक बार भाभी के मुँह में निकल चुका था तो लंड भी एकदम खूंखार हो गया था. मैं अपने घुटनों के बल आ गई और जोर जोर से उसके लंड को मुँह में गले तक लेकर चूसने लगी. फिर सोनम की चूत पर हाथ फेरते हुए पापा ने सोनम के शरीर से बची हुई रिबन पैन्टी भी अलग कर दी और सोनम को नंगी करके अपनी गोद में लिटा लिया.

एडल्ट बीएफ फिल्म थोड़ी देर बाद वो मुझसे बोली- तुमने मर्डर मूवी देखी?मैंने बोला- हां देखी है. उसने बहुत प्यार से खाना खिलाया और बाद में कहा- बैठो, मैं चाय बनाती हूँ.

ब्लू फिल्म का सेक्सी सीन

तभी अचानक मेरे कानों में किसी की आवाज सुनाई दी- हैलो!यह वही लड़की थी जिसे मेरी निगाहें ढूंढ रही थीं. भाभी- तोड़ दो कसम और जल्दी से अपना लंड मेरी चूत में डालकर मुझे चोद दो. मैंने कहा- हां यार विलास, मेरा भी मन कर रहा है तेरी गांड में अपना लंड डालने का, लेकिन ये कैसे होगा? भाभी तो तेरे पास ही सोएगी.

अब मैं हफ्ते में एक दो बार कोशिश करती कि उनका मन चुदाई के लिए बनाऊं. गांड मारने के मारने के बाद मैंने उठ कर अपने कपड़े पहने और उसको भी पहनाए. हाई ब्लड शुगर लेवल्स चार्टउनकी इस तरह की बातों से मेरा मुरझाया हुआ लंड चुत में फिर फड़कने लगा.

लड़की ने मुझे बाइक के बारे में सब जानकारी दी कि लोन कैसे हो सकता है … और लोन चुकाने की ईएमआई क्या होगी.

इसके बाद मैंने उसके पैरों को अपने कंधों पर रख लिया और लंड को चूत पर सैट किया. इधर खाना बनाने का समय होता जा रहा था और किसी तरह से मैं नजरें नीचे किए हुए बाहर निकली.

टब में नहाने का ये मेरा पहला अनुभव था तो मैं बहुत ही आनन्द ले रहा था. दोस्तो, कहानी का ये भाग ज्यादा लंबा होने के कारण आप आगे हॉट लड़की की वासना अगले भाग में पढ़ें. एक दो कश मार कर मैंने उसे सिगरेट वापिस की और उसे पीते हुए देखने लगा.

श्रुति का ध्यान करते ही मैंने इस बारे में शनाया से बात करने की ठान ली.

वैसे तो मेरे पास में थीं लेकिन उनके पति कहीं नहीं जाते थे उस वजह से मैं भाभी को नहीं चोद पाया. मैंने उसकी बात को सुनते हुए उसके माथे पर माल की धारा गिरा दी और वह धीरे धीरे उसके स्तनों तक जा पहुंचा. अन्तर्वासना के सभी पाठको, यह मेरी कोई काल्पनिक सेक्स कहानी नहीं है, ये मेरी सच्ची आपबीती है.

गुण मिलान टेबलमैंने भी गुस्से से पूछा- क्यों मेरी रांड? मजा आया असली लौड़ा लेकर? कुतिया साली बड़ी आयी थी रांड बनने. बीच बीच में मैं उसके गालों और होंठों को चूमता जा रहा था और वो भी अपनी जीभ निकाल कर मेरे मुँह में डाल रही थी.

रानी चटर्जी के सेक्सी पिक्चर

कुछ डर बाद मैं भी झड़ने वाला हो गया था, मैंने उससे कहा- मेरा होने वाला है, रस कहां लोगी दीदी?उसने कहा- अपनी बहन की चूत के अन्दर ही छोड़ दे. हम दोनों ने कैसे फटाफट चुदाई का मजा लिया?साथियो, मैं आपका दोस्त हर्षद मोटे आपके लंड चूत में आग लगाने के लिए पुन: हाजिर हूँ. दोस्तो, मैं आशा करता हूं कि आप सभी पाठकों को मेरी यह Xxx हिंदी कॉम कहानी पसंद अवश्य आई होगी.

वो पूछने लगी- अब कहां जा रहे हो, कौन सी कम्पनी ज्वाइन कर रहे हो?इसी तरह की सामान्य बातचीत होने लगी. तभी उनके कुटुम्ब के चाचा सुन्दर जो उनके पड़ोसी भी थे, ने मुझे देख कर कहा- ये डाक्साब मेरे यहां सो जाएंगे, किशोर तुम परेशान न हो. मेरा लंड फूल कर अपनी औकात में आ गया था ये काफी लंबा और मोटा हो गया था.

प्यारी पाठिकाओं को बताने के लिए यदि मैं अपने लंड के बारे में बात करूं, तो मेरे लंड महाराज जी काफी लंबे और मोटे हैं. उसका लोहे जैसा सख्त लौड़ा मुझे ऊपर नीचे और आगे पीछे करने में मज़ा आने लगा था. उसे चोदते चोदते अचानक से मेरी नज़र उसके बेडरूम के दरवाज़े पर पड़ी तो मैंने देखा कि सीमा का पति वहां खड़ा था.

मैंने जस्सी से पूछा- यार, मुझे और एक इच्छा है … क्या तुम पूरी करोगी?वो बोली- क्या इच्छा है … बोल ना!मैंने बोला- तेरी गोल मटोल गांड मारने की इच्छा हो रही है. वह बोला- सुम्मी, तुम चिंता मत करो … आज तुम्हें ज़बरदस्त मजा आने वाला है.

लंड अन्दर घुसता चला गया और मैंने अगले ही पल अपने हाथ उसके दोनों मम्मों पर जमा दिए.

रेशमा जैसे ही मेरे पास आने को हुई तो मैंने झट से उठ कर मेरी पैंट उठायी और उसका बेल्ट निकाल कर फिर से सोफे पर बैठ गया. ಬಿಎಫ್ ಕನ್ನಡमैंने कहा- राहुल … और तुम्हारा?उसने कहा- नितिन!मैं- तुम्हें पहले कभी देखा नहीं यहां?नितिन- हाँ, मैं अपनी मौसी के यहाँ रहने के लिए आया हूँ. सेक्सी वीडियो आदिवासी एचडीलॉकडाउन की वजह से सब स्कूल और कोचिंग बंद हो गए थे तो उन्होंने मुझसे सम्पर्क किया कि हम तो एक ही बिल्डिंग में हैं तो कोरोना का ख़तरा भी नहीं है. उसको इंतजार था उसकी शब्बो चाची का!शब्बो असल में तो उनके घर की नौकरानी थी मगर आजकल वीरू और उसके बीच में आंख मिचौली चल रही थी.

मेरी चूत ओर गांड एकदम टाइट थी क्योंकि मैंने आज से पहले अपनी गांड में कभी लंड नहीं लिया था और चूत इसलिए टाइट थी क्योंकि मेरे दोनों बच्चे सर्जरी से हुए थे, तो चूत ढीली नहीं हुई थी.

उनका मुँह लंड चूसते समय ऊपर नीचे हो रहा था और छितरे हुए बाल उड़ रहे थे. अन्तर्वासना की स्टोरी पढ़ कर लंड को हिलाया, उसका पानी निकला, फिर सोया. मेरा लंड उसकी जींस फाड़ कर उसकी चूत में घुस जाने के लिए बैचैन हो रहा था.

मैं समझ गया कि यही गांड की छेद है और इसमें ही अपना लन्ड डालना है।जब पहली बार दीदी के गांड में मेरा लन्ड गया तो मुझे बहुत दर्द हुआ. उन्होंने मेरे मम्मों पर हमला बोल दिया और अपने दांतों से मेरे निप्पलों और स्तनों को बारी बारी से काटने लगे. हर्षद क्या तुम मेरी एक तमन्ना पूरी करोगे?सोनाली अपने दोनों हाथों से मेरी पीठ और गांड को सहलाती हुई बोल रही थी.

बूढ़ी औरतों का

मैंने पूछा- दूसरा कौन है?तो उसने अपने किसी दोस्त का नाम लिया- उसका नाम संतोष है. उसने अपनी चूत को मेरे लंड पर सैट किया और उस पर कूद कर खुद ही चुदने लगी. मैं भी उठ गया और वो अचानक से मेरे गले से लग गई और मुझे चूम कर चली गई.

वो बिस्तर देख कर बोली- क्या रात को मेरे पीछे से किया था?मैंने उससे कहा- तुमने ही कहा था कि आज सभी तरह से करके बता देना.

मैंने उसे बताया कि मैं कुछ दिनों के बाद हॉलिडे के लिए दुबई जा रहा हूँ.

मैंने पूछा कि क्या गिफ़्ट लाई है?शनाया ने कहा- ये सरप्राइज है … और इस गिफ़्ट को लेने के लिए मुझे सुबह घर से बाहर रहना होगा. अदिति ने अपने दोनों हाथ मेरे सीने पर रख दिए और आहिस्ता आहिस्ता लंड का सुपारा अन्दर बाहर करके लेने लगी. भोजपुरी सेक्सी वीडियो हीरोइनमुझे काफी दिनों से नई चूत का स्वाद नहीं मिला था … तो मिहिका में मुझे उम्मीद दिखाई देने लगी.

इस पर उसने कुछ जवाब नहीं दिया और मैंने भी उससे कुछ ज्यादा नहीं कहा. मैंने उसे अपने सीने से चिपका लिया और सविता ने भी मुझे कस कर जकड़ लिया. मैंने सोचा कि आज तो मैं गया; भाभी पक्का मुझे घर से बाहर निकाल देंगी.

मगर इतना ज़रूर था कि डबल चुदाई में फंसी दीदी मेरे हर शॉट पर गरज रही थीं क्योंकि मैं लंड जब गांड में पेलता, तो महंत का हब्शी लंड भी चुत में जाकर बच्चेदानी में ठोकर मारने लगता. कुछ फोटो देखने के बाद तो मैंने बेशर्म होकर बोल दिया- इन्हें पाने के लिए तो मैं कुछ भी कर जाऊं.

इस पर मैंने बोला- अगर ऐसे खेत के मालिक हम होते, तो हल भी ठीक से चलाते, पानी भी टाइम से लगाते, बीज भी सही बोते और फसल पकने तक ध्यान भी रखते.

वो अपनी जीभ बाहर निकालने लगी और मैं उसकी जीभ को अपने मुँह में भर कर चूसने लगा. थोड़ा लोगों की नजरें पहचानने की योग्यता चाहिए और थोड़ा नाज नखरे और मर्दों को रिझाने की अदाएं चाहिए होती हैं, बस इतने में ही चूत का काम बन जाता है. थोड़ी देर में हस्बैंड को नशा होने लगा और मुझे भी थोड़ी थोड़ी मस्ती चढ़ने लगी.

चाचा भतीजी की सेक्सी कहानी मैंने उनसे पूछा- कोई ज्यादा तकलीफ तो नहीं हो रही है?वो बोलीं- नहीं नहीं ठीक है, आप करो. क्या पता तकदीर लिखने वाले ने उसके नसीब में क्या लिखा है?”नीता बोली- हां हर्षद, ये सच है नसीब के आगे हम क्या कर सकते हैं.

मैं उसे अपने बाजू में लिटाकर किस करने लगा और वो भी मेरा साथ देने लगी. मैंने कहा- भाभी, आप मुझे अच्छी लगती हैं और आप सब सच बोल रही हैं कि मेरे मन में आपको चोदने का विचार काफी पहले से ही था. मां दूर हट कर बात करने लगी और उसने पापा को खाने के लिए घर भेज दिया.

बुर चुदाई का सेक्सी वीडियो

उनकी चूचियां का आकार इतना मस्त कि जो भी देखे, उसका लंड पैंट फाड़ कर बाहर आ जाए, बूढ़ों के अन्दर भी कामवासना जगा दे. उसका छेद अपने आप सिकुड़ और फैल रहा था और मैं बिंदास तरीके से उसे चाट रहा था. तब शैली मामी ने बैठकर उसकी घायल बुर को देखा जो मुहाने पर कई जगह से कट गई थी.

आप लोग मेरे साथ अन्तर्वासना से जुड़े रहें और याद करें कि किस किसकी जिंदगी में ऐसे इत्तेफाक हुए हैं. इसके बाद मैंने सुमैत्री को उल्टा लेटाया और खुद उसके ऊपर लेट गया और सुमैत्री को गर्म करने लगा.

आज भी मेरा फ्रेंड वाइफ Xxx रिश्ता चल रहा है और कभी मेरे घर पर, तो कभी उसके घर पर … जब भी मौका मिलता है, हम दोनों चुदाई का मजा लेते हैं.

इन्हीं कुछ सेकेण्ड्स में वीरू का सारा माल कमोड में गिर गया और उसने फिर से खिड़की से बाहर देखा।शब्बो ने अपना सीना ढक लिया था।ये देख कर वीरू का मन उदास हो गया और वो नहाने चला गया।इस घटना के बाद शबाना ने अब वीरू के मन की बात समझ ली।अब वो जानबूझकर वीरू के सामने अपने चूचे दिखाने का प्रयास करती. वो बोला- चलिए आपको दिखाता हूँ!वो मुझे अपने साथ ऊपर ले जाकर दिखाने लगा. फिर वो मेरे लंड के ऊपर बैठ गई और लंड चुत में लेकर जोर जोर से ऊपर नीचे होने लगी.

काफी देर बाद जब उसकी चूत में मैं स्खलित हुआ, तब नंदा को भी अहसास हुआ. मैंने उसे बताया कि मैं कुछ दिनों के बाद हॉलिडे के लिए दुबई जा रहा हूँ. और दूसरी बात ये है कि हर्षद, जब से मौसी ने तुम्हें देखा है … तब से वो तुम पर फिदा हो गयी हैं और तुम्हें चाहने लगी हैं.

इतने में नीता के मोबाईल की रिंग बजी तो मैंने पूछा- किसका फोन है?वो स्क्रीन देखती हुई बोली- मेरी सहेली का है.

एडल्ट बीएफ फिल्म: मोनिका मेरी चूची मसल कर बोली- भाभी, केले का मजा आ रहा है या नहीं?मैं बोली- आह … बहुत मजा आ रहा है … आह राज जोर से पेलो. मेरी गांड फटती थी कि कहीं मैंने कुछ किया या कहा तो ये बुआ से शिकायत कर देगी और मुझे बुआ का घर छोड़ कर जाना पड़ेगा.

मगर अन्दर बहुत ज्यादा अंधेरा होने के कारण मुझे सिर्फ सफेद पोशाक दिख रही थी. वो बोली- हर्षद कैसा लग रहा है?मैंने उसके होंठों को चूसते हुए कहा- एकदम मस्त … जैसे कि मैं स्वर्ग में किसी अप्सरा के साथ नहा रहा हूँ. अनीशा की ऐसी ही एक मस्तसहेली की चुदाईकी कहानी आप अगली बार में पढ़िएगा.

मैं- सब्र कर मेरी जान, कहीं तेरे अम्मी ने देख लिया तो इधर ही तेरा निकाह पढ़वा देंगी.

थोड़ी देर पहले उसने मेरे लंड को अपने नाजुक हाथों से दबाया था, वो सुनहरा पल सोचकर ही मेरे लंड में तनाव आने लगा था. कुछ देर बाद भाभी ने मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चूत पर सैट किया और धीरे धीरे नीचे बैठने लगीं जिससे मेरा लंड भाभी की चूत में घुसता चला गया. वो अपने घुटनों के बल बैठकर मेरा लंड अपने हाथ में पकड़कर बोली- अब मुझे तुम्हारे इस अमृत को पीना है हर्षद.