हिंदी सील पैक बीएफ

छवि स्रोत,देसी बीएफ पार्क

तस्वीर का शीर्षक ,

deepu सेक्स: हिंदी सील पैक बीएफ, ये देख कर बलदेव ने अपना लंगोट निकाल कर फेंक दिया और 8 इंच लंबा और ढाई इंच चौड़ा लंड फनफनाता हुआ बाहर आकर हिलने लगा था.

एक्स एक्स एक्स भोजपुरी हिंदी वीडियो

उन दोनों बहनों के साथ मैंने रात की मस्ती कैसे की, वो मैं अगली सेक्स कहानी में बताऊंगा. बीएफ सेक्सी खुलीमेरी मां ने कभी दो मर्दों के लौड़े एक साथ गांड और बुर में नहीं लिये थे.

आप मेरी मेल आईडी पर मेल भेजिए ताकि मैं आपको बता सकूँ कि आगे क्या हुआ. बीएफ देहाती सेक्सी फिल्मजब मैंने उसे चोदा तो …नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम जीत है और मैं दिल्ली एन.

मैं 28 साल का हूं और राजस्थान के जोधपुर में रह रहा हूं और वहां जॉब करता हूं.हिंदी सील पैक बीएफ: पर जब कभी वो मेरे सामने आतीं, तो मैं उन्हें जी भरकर देखता और लाइन मारने की कोशिश करता रहता था.

शायद सोनाली ने हमारी हरकतों को भांप लिया था और उसने मजाक के अंदाज में कहा- डरो नहीं, आराम से कर लो.पति महोदय भी पहली बार चोदते समय इस बात को समझ गए थे कि मैं पहले ही चुदाई का मजा ले चुकी हूँ.

सनी लियोन की बीएफ हिंदी - हिंदी सील पैक बीएफ

उन्होंने जोर जोर से शोर मचा दिया जिससे रुबीना शर्मा गई और दूसरे कमरे में चली गई.एक मेड मेरी राजदार थी, जो मेरे लिए बाजार से मेरी निजी जरूरत का सामान लाती थी.

मैंने कहा- अरे यार, मैंने तुम्हें वो मूवी दिखाई थी ना … उसमें कैसे लड़कियां लंड चूसती हैं. हिंदी सील पैक बीएफ मेरी एक क्लासमेट मेरे साथ बैठी थी और मेरी कोहनी उसकी चूचियों से टच हो गयी.

अब मेरी चरम सीमा आ चुकी थी तो मैं झड़ गयी और निढाल होकर अक्षय को सहलाने लगी.

हिंदी सील पैक बीएफ?

भाभी की चुदाई करके मैंने अपने लंड की प्यास कैसे बुझाई?मेरा नाम महेश है। यह मेरी पहली कहानी है। यह उस समय की बात है जब मैं 24 साल का था और पुणे में रहता था। मेरे घर में मां-पापा और मैं रहते थे. मैंने एक रात को चाची को मैसेज किया, तो थोड़ी देर में चाची का रिप्लाई आया. ’फिर मैंने इधर उधर देखा, तो तख्त के सिरहाने मुझे पोंड्स क्रीम दिखी.

थोडे़ देर निप्पल चूसने के बाद उसने धीरे से मेरे स्तनों के उपर काट लिया. इसके बाद मैं अपनी जिंदगी में आगे हुई प्रियंका के साथ और भी चुदाई की कहानी को लिखूंगा कि कैसे मैंने उसे उसके घर में चोदा. जैसे ही उसने लंड को अंदर से बाहर निकाला वो देखते ही बोली- हाय रे … इसके लिए ही तो मैं मरी जा रही थी.

देव अंकल- तुम दोनों बात करो … मैं बाजू वाले रूम में आराम करने जा रहा हूँ. उसने अंगड़ाई लेते हुए कहा- मेरे मालिक अब आपकी और क्या इच्छा बाकी है. फिर दीदी धीरे धीरे अपनी गांड हिलाने लगी, तो मैं समझ गया कि अब वो चुदने को तैयार है.

फिर उसने चुदासी सी आवाज में बोला- जान अब देर ना करो … डाल दो अन्दर. अब हम दोनों ही बहुत ज्यादा गर्म हो चुके थे और वासना की आग में जल रहे थे.

हम दोनों को थोड़ी शर्म सी भी आ रही थी कल रात को जो भी हुआ उसके बाद।मगर फिर थोड़ी देर में सब कुछ नॉर्मल हो गया.

वो मेरे मम्मों को कुछ इस तरह से चूसने की प्रक्रिया अपना रहा था, जिससे मुझे अद्भुत सनसनी होने लगी थी.

इतना बोलते हुए दो मिनट बाद मामी झड़ गईं और बोलीं- अब बस करो बहुत लग रही है. मैं खुद को समझा ही नहीं पा रहा था कि मेरी जान किसी और की हो चुकी है. तो अम्मी और आपा दोनों ने अपनी झोली फैला कर मजार में औलाद के लिए दुआ मांगी.

मैंने छाती से अपना हाथ तुरंत बुआ की गर्दन के पीछे ले गया और उनको अपनी तरफ खींचते हुए उनके होंठों को अपने होंठों से जकड़ कर किस करने लगा. मेरे मन में यही विचार था कि शादी में चुदाई तो करके ही आऊंगा चाहे किसी भी तरह से लड़की पटानी पड़े. मेरे लंड में आज भी इतना दम है कि एक बार किसी औरत को चोद दिया तो वो अपने पति की चुदाई भूल जाती है.

मेरे बेटे ने बताया कि पापा के जाने के बाद उसके एक दोस्त ने इस गम को दूर करने के लिए दारू का नशा लगा दिया था.

मैंने 4 बियर के कैन ले लिए और हम गाड़ी में उनको पीते हुए होटल के लिए निकल पड़े. ज़ोहरा नशीली आवाज़ में बोली- अशफ़ाक भाई … जब रफ़ीक़ वापस चले जायेंगे तो मैं फिर से आऊंगी तेरे साथ रहने!इतना बोलकर ज़ोहरा ने अपनी चूत की ओर देखा. ये सुनकर वो खुश हो गया और मेरे पास आकर उसने फिर से मुझे नीचे गिरा लिया.

आशु का बदन सेक्स की छुअन से थिरक रहा था और मैं उसको अच्छे से फील कर सकता था. हॉट मामी की चूत की कहानी में पढ़ें कि मेरी मामी हमेशा चुदासी सी दिखने वाली माल लगती हैं. उसने कुछ जवाब नहीं दिया, बस थोड़ी सी आंखें खोलीं और वापिस बंद करके अपने चेहरे को दोनों हाथों से ढक लिया.

उन्होंने गुलाबी और हरे रंग की साड़ी पहन रखी थी, उसमें वो किसी गुलाब के फूल से कम नहीं दिख रही थी.

आज इससे अपनी प्यास बुझाऊंगी।मैंने कहा- इसने बहुत लोगों की प्यास बुझाई है. फिर एक तूफानी धक्के के साथ पूरा लंड नीरजा देवी की बच्चेदानी से जा टकराया.

हिंदी सील पैक बीएफ मुझे निधि की गांड बजाने में बहुत मज़ा आ रहा था और निधि को भी लंड गांड में लेने में मजा आने लगा था. जब भी गरिमा मिलती थी तो मैं उसकी चूत में उंगली किये बिना उसको नहीं जाने देता था.

हिंदी सील पैक बीएफ वहां जाकर मैंने देखा कि मनजीत के पास एक लड़की सुमन (जिसका नाम मुझे बाद में पता लगा) बैठी हुई है. जब मैं आकांक्षा के पास पहुंचा, तो मैंने उससे बोला- कहीं और चलते हैं … आगे मूवी बोरिंग है.

मैं शुरू से ही हॉस्टल में रहा हूँ, तो गांव वालों की नज़र में मैं बिल्कुल शरीफ और समझदार लड़का था.

हेलो सेक्सी बीएफ

एक बार ऐसा हुआ कि जिया मेरे केबिन में आयी और बोली- असलम सर, मुझे आपसे एक हेल्प चाहिए. क्या मैं उसकी गांड मार सका?प्यारी सेक्स कहानी के पिछले भागआखिर सहयात्री को चोद ही दियामें आपने पढ़ा कि मैं हवाई यात्रा में बनी दोस्त को एक बार चोद चुका था. वो मुझे अपनी जीभ का रस पिलाने लगी और खुद भी मेरी जीभ को चूसते हुए मजा लेने लगी.

एक झटके में उसने चूत में लंड को अंदर घुसाने की कोशिश की लेकिन उसका काफी चिकना हो चुका था और मेरी चूत भी बेहद गीली हो गयी थी. मैंने उसे जफ्फी डाल ली और हल्के हल्के से हाथ उसके हाथों में ले लिया. अन्तर्वासना पर मेरी पिछली सेक्स कहानी थीकंस्ट्रक्शन साइट पर जवान लड़की की चुदाईयह एक दिलचस्प देसी हिंदी Xxx कहानी है और बिल्कुल सच्ची है.

थोड़ी पुरानी है क्योंकि ये आज से 15 साल पहले की बात है जब मैं कॉलेज में पढ़ा करता था.

उन्होंने कॉल किया- आ रहा है या नहीं?मुझे कुछ पता नहीं था कि मेरे साथ क्या होना था. मैंने पाया कि भाई के हाथ मेरे बूब्स पर थे और वो पीछे से अपना लंड मेरी गांड पर चुभा रहा था. मैं आपा के कमरे में गया और उनकी डेट के बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि उनकी डेट शनाज़ से 2 रोज पहले थी जो नहीं आयी थी.

उसने धीरे-धीरे करके अलीमा की पैंटी को नीचे सरकाया और उसकी मदमस्त कुंवारी चुत को नशीली नजरों से देखते हुए टांगों से पैंटी को अलग कर दिया. मैं तो जैसे सातवें आसमान पर उड़ रही थी … आह!कभी वो मेरी जीभ चूस रहे थे, कभी मैं उनकी जीभ चूस रही … कभी होंठों को काट रहे थे. उन दोनों बहनों ने घर से बाहर कदम कैसे रखा ये तो मुझे नहीं पता था लेकिन किसी तरह भी करके गरिमा मुझसे मिलने आई.

मुझे तो उनका बेपनाह कसा हुआ हुस्न देख कर लग रहा था कि मेरी मम्मी को चोदने वाला ये फुसा निश्चित की बड़ा भाग्यशाली ही है. फिर उसने मेरे ऊपर बैठते हुए अपनी चूत मेरे होंठों पर रख दी और मेरे मुँह के ऊपर बैठ गयी।मैं तो पागल सा हो गया.

फिर मैंने थोड़ा सा घी लेकर उसकी गांड में लगा दिया फिर सुपारे को गांड के छेद से सटा कर उसकी कमर मजबूती से पकड़ ली और लंड की मुण्डी को गांड के छेद से सटा दिया और धक्का मार दिया. मेरे पति के जाने के बाद मुझे कितनी परेशानियों का सामना करना पड़ा, मेरी आपबीती को मैं विस्तार से आपको लिख रही हूँ. पापा की दूसरी शादी हमारे परिवार वालों को रास नहीं आई और परिवार ने पापा से बोलचाल बंद कर दी.

मैंने अब उसके एक निप्पल को तसल्ली से चूसा और दूसरे बूब को ढंग से ज़ोर लगा कर दबाया.

अब भी वो चोली पहन कर झाड़ू लगा रही थी। उनका बाकी जिस्म अब भी नंगा था. अरे मुनीम का काम सेठ जी के रुपये पैसे का हिसाब रखना, उसका सही तरीके से लेन देन करना ही तो होता है न; और यही काम मैं एक बैंक में करता हूं. अंकल ने कहा- तुम अपनी बाइक पर चले जाओ … हम तीन लोग बाइक पर नहीं जा सकते.

अब मैंने मनजीत के एक कबूतर का निप्पल इस तरह से मुँह में ले लिया, जैसे कोई छोटा बच्चा दूध पीता है. इस बात पर मेरी मॉम ने मुझे ज़ोर से गाल पर काट लिया और धीरे से मेरे कान में बोलीं- अब ज़्यादा बातें नहीं.

मैं अपनी गर्भवती बेटी की देखभाल के लिए गयी तो वहां क्या हुआ?मेरी पिछली कहानी थी:जिस्म दिखाकर लिया सेक्स का मजाआप सबका मेरी इस फैमिली Xxx कहानी में स्वागत है. वो दूधवाली गुलाबी रंग के सलवार सूट में थी और बहुत ही सेक्सी लग रही थी. मैंने उनसे कहा- ये अफजल है, तुम दोनों में आरजू कौन है?आरजू एक दुबली पतली सांवली सी लड़की थी.

मिया खलीफा की बीएफ सेक्सी

दीदी का कॉलेज मेरी कॉलेज के रास्ते में पड़ता है, तो रोज मैं उसे अपनी बाइक से छोड़ता हुआ जाता हूँ.

अगर उसने तुम्हारी भाभी और दीदी की चुदाई करने की सोची तो उनका क्या हाल होगा! वो चुदाई में बिल्कुल भी रहम नहीं करते हैं. वीर्य की गर्मी से, अशोक का लंड और तन गया ये और बड़ा और मोटा दिखने लगा था. मैं उठ गई और वो 69 में ही मेरे नंगे बदन पर लेट गई और मेरी बुर को चाटने लगी.

वो तब तक उसके मुँह को चोदता रहा, जब तक रोहन उसका सारा वीर्य पी नहीं गया. मैं तो पहले से अपने मिलन के सपने ले कर चुदने आई थी, तो मुझे तो अच्छा लग रहा था. सेक्सी फिल्म बीएफ चुदाई वालीपार्क के अन्दर जाने पर मैंने देखा कि एक लड़का अपना लंड चुसवा रहा था.

उस दिन मेरी सहेली के साथमेरा पहला लेस्बियन सेक्सहुआ और अब हमारा रिश्ता और ज्यादा गहरा हो गया. वो मेरे कंधे पर हाथ से पीछे धकेलने मगर मैंने उनके हाथ को पकड़ कर रोक दिया और लंड अंदर ही रहने दिया.

उनका लड़का तो कनाडा में पढ़ाई करने के लिए गया हुआ था जबकि लड़की यहीं पर रह रही थी. कुछ देर लंड चुसवाने के बाद मैंने उसकी टांगों को फैला दिया और उसकी मैक्सी उसकी चूचियों तक चढ़ा दी. मैं उसके चेहरे और गर्दन को ऐसा चूस रहा था मानो बूब्स को चूस रहा हूं.

फिर वो बहाने से मेरे साथ बात करने लगा और हम दोनों की फ्रेंडशिप हो गयी. मेरी गर्लफ्रेंड की माँ कहने लगी- डाल दे जानू!मैंने अपने लंड को उनकी चूत में डाला. मैं पहली बार प्लेन से जर्नी करने जा रही हूं और एयरपोर्ट्स के बारे में कुछ भी जानकारी नहीं है; मुझे तो समझ ही नहीं आ रहा था कि यहां दूध कहां से मिलेगा और फिर ये सामान छोड़ कर कैसे दूध की शॉप तलाशने जाऊंगी.

अब मैंने फिर से उसे अपने नीचे लिया और उसकी जोरदार चुदाई चालू कर दी.

[emailprotected]जवान लड़की की Xxx स्टोरी का अगला भाग:पापा के दोस्त से पहली मस्त चुदाई- 3. मैंने माधवी भाभी के पैरों को चौड़ा किया और उनकी चुत में एक ही बार में पूरा लंड डाल दिया.

जैसे ही उसने लंड को अंदर से बाहर निकाला वो देखते ही बोली- हाय रे … इसके लिए ही तो मैं मरी जा रही थी. मैंने दीदी को फिर से एक बार चोदा और हम दोनों नशे में नंगे ही सो गए. मैंने आगे हाथ बढ़ा दिए और भाभी की चूचियों को पकड़ कर उन्हें दबादब चोदने लगा.

मैंने बाजी की पैंटी नीचे खींच दी और घुटनों तक सरका दी।राबिया बोली- अरे उतार दे. उत्तेजना के कारण उसके निप्पल छोटी बेरी के बेर की गुठली की तरह सख्त और फूले हुए लग रहे थे. जब भी वो रजक लाल को देखता और रजक लाल रोहन को देखता, उन दोनों के बीच आंखों ही आंखों में बातें हो जाती थीं.

हिंदी सील पैक बीएफ उसकी आह्ह … निकली और उसकी चूत ने गर्म गर्म पानी मेरे मुंह में छोड़ दिया. चूंकि उसकी चूत पानी छोड़ रही थी, इसलिए लंड फिसल कर उसकी चूत में पूरा चला गया.

झाड़ू पोछा वाली बीएफ

मैडम मेरे दिल में उतर गयी थी … पर मैं करता भी क्या … वो एक ट्रेनी ऑफिसर थी. मैं सोफे पर बैठा था, तभी मेरी नजर मामी के मोबाइल पर पड़ गई और मैं उठा कर देखने लगा. दरअसल मुझे ये जानकारी मां की डायरी से मिली थी कि एक बार उनकी चुदाई की शुरुआत एक गैर मर्द से कब हो गई थी.

” उसने खुश होकर बताया मुझे!अरे यार पूरी बात बता न जल्दी से?”अच्छा रुको … ध्यान से सुनना मैं सब बताती हूं. उनके हाथ मेरे मोटे मोटे चूतड़ों पर आ गए, जिनको वो बड़ी ही मस्ती से मसलने लगे. हिजड़े की चुदाई दिखाओपर इस मंजुला की उफनती जवानी को देख देख कर मेरे मन में उसे चोदने की तीव्र इच्छा जरूर होने लगी थी कि काश इस हसीना की प्यासी चूत में मेरा लंड एकाध बार डुबकी लगा लेता.

लगभग दस मिनट तक वो दोनों मेरे स्तनों से खेलते रहे और मुझे छोड़कर वापस चले गये.

मगर समर को अभी भी चैन नहीं था; वो मेरे बालों को खींचते हुए पूरे लंड को अंदर धकेल देना चाहता जबकि उसका लंड पहले ही मेरे गले में जाकर फंसा हुआ था. मैंने कहा कि जब तक मैं नहा कर आती हूं तुम जरा सेट टॉप बॉक्स को देख लो.

मैंने उसके होंठों पर अपने होंठों को रखा और उसके मम्मों को सहलाने लगा. भाभी ने अपने मम्मे उठाते हुए कहा कि अच्छा बताओ … मुझमें क्या अच्छा लगता है?तो मैंने कहा कि भाभी आपका पूरा बदन, आपका चेहरा. वह अब तेजी से मेरे लन्ड पर ऊपर नीचे होने लगी जिससे मेरा लन्ड उसकी चूत में पूरा का पूरा अंदर बाहर होने लगा।अब मैंने उसकी चूचियां छोड़कर उसके कूल्हों को पकड़ लिया.

क्या तुम बताओगी?तो उसने कहा- नहीं।तब मैंने कहा- बस तो जिंदगी के मज़े लो! क्या तुम्हें मज़ा नहीं आ रहा है?तो बहन ने कहा- भाई, बहुत मज़ा आ रहा है।तब तक मम्मी ने नीचे से आवाज दी और ज्योति ने मुझसे कहा- भैया मुझे जाना होगा.

ससुर जी ने मेरी बांह पकड़कर मुझे करवट से सीधा करना चाहा तो नींद में ही मैं सीधी हो गई और करवट से सीधा होते समय मैंने अपना शरीर ढीला रखा और सीधा होते होते एक टांग इतना फैला दी कि मेरी चूत खुल गई. फिर अचानक से मुझे मेरा स्खलन नजदीक आता मालूम पड़ा और मैंने गरिमा को चेताया. रात में लगभग ग्यारह बजे कमरे का दरवाजा खुला और मेरी बहन ज्योति अंदर आकर दरवाजा बंद करने लगी।इतने में मैं उठकर उसके पास गया और पीछे से बहन की दोनों चूचियाँ पकड़ कर दबाते हुए बोला- कितना इंतज़ार करवा कर तड़पा रही थी!तो उसने कहा- भईया, जब सब सो गए तो मैं आयी हूँ।ज्योति को पलट कर मैं उसके पूरे चेहरे पर किस करने लगा.

सेक्सी ब्लू पाकिस्तानलेकिन डर भी रहा था कि अगर बात बिगड़ गयी थी सबसे हाथ धोना पड़ जाए!फिर उन्होंने मुझसे कहा- किस सोच में पड़ गए तुम? उस बॉडी लोशन को लाओ और मेरे हाथों में लगाओ, पैरों में लगाओ. मेरी बीवी ने मामी (मनजीत कौर) को यह बोलकर रोक लिया कि शाम को मैं उनको इनसे छुड़वा दूंगी.

हिंदी सेक्सी बीएफ डांस

थोड़ी ही देर में सीमा की चुत बहने लगी, पर मैं लगातार चूत चुसाई करता रहा, वो अपने दोनों हाथों से मेरे सिर को अपनी चुत पर दबाने लगी. फिर मैं जिया से बोला- तुझे अब तक बच्चा क्यों नहीं हुआ?जिया बोली- बच्चा नहीं हुआ असलम … शायद मेरे पति में कमी है. उसी रात को अपने वायदे के मुताबिक मंजुला पूरी नंगी होकर आई और मेरे कपड़े भी उतरवा दिए और रसोई के प्लेटफोर्म पर मुझे बिठा कर मेरे सामने एक कुर्सी पर बैठ गयी और पूरी तन्मयता के साथ मेरा लंड प्यार से चाट चाट कर चूसने लगी.

मगर फुसा ने बिना रुके मेरी मम्मी की चुत में दस बारह तेज झटके मार दिए. लेकिन थोड़े दिन पहले प्रियंका का पति, चाचा के पास कुछ पैसे उधार लेने आया था. तभी आर पी एफ के जवान ने एक थप्पड़ मेरे शौहर को मारा और कहा- अब तू जेल जा या फाईन पटा, खर्चा पानी को हम लेंगे ही.

बस का सफर लम्बा था और रात का टाइम था, तो कोई आधा घंटे बाद उसे दोबारा नींद आने लगी. मैंने भी मौके का पूरा फायदा उठाया और उसकी दोनों गालों को पकड़ लिया और उसके होंठों का रसपान करने लगा. चलो जी ठीक है आप अपने हिसाब से समझ लो, पर मैंने भी कोई झूठ नहीं बोला आपसे!”तो किसी सरकारी काम से गुवाहाटी जाना हो रहा है आपका?”हां, बैंकिंग से सम्बंधित एक कॉन्फ्रेंस है उसी में भाग लेने जाना है.

मैंने हाथ को ऊपर किया, तो उसकी जिददी ब्रा ने मेरा हाथ मुकाम पर नहीं पहुंचने दिया. मैं नजरअंदाज करते हुए फ़ोन पर बात करने का बहाना करके बालकनी में चला गया और वहीं से अपनी बीवी की हरकत देख रहा था.

ये होटल बहुत ही अच्छा और सुंदर था … शहर से एकदम बाहर था और थोड़े से जंगल के बीच था.

मैं सिर्फ लंड घुसाए पड़ा था, बाकी का चुदाई का काम चलती ट्रेन ने किया. सेक्स वाली ब्लू वीडियोचुत की प्यास की कहानी में पढ़ें कि मेरी बीवी की सहेली के मन में सेक्स को लेकर काफी इच्छायें थी जो अधूरी थी. हिंदी मारवाड़ी बीएफ सेक्सीअब वो मेरे घर भी आने जाने लगा था।एक दिन शाम को मैं अपने बेडरूम में सागर को अपनी बेड पर लिटा कर उसकी पैंट की चैन खोल कर उसका तगड़ा लौड़ा चूस रही थी. मैंने दिल्ली के बारे में अपनी दोस्तों से बहुत सुना था इसलिए मैं काफी उत्साहित थी वहां पर रहने के लिए.

अब इसके आगे की सेक्स कहानी में आपको ठाकुर के लंड की ताकत का अंदाजा बखूबी हो जाएगा.

फिर वो निचली मंजिल की बालकनी में चला गया और वहां खड़े होकर सिगरेट पीने लगा. शनाज़ हंस कर बोली- सॉरी आपा … बचपन से ही उन्हें भाईजान कहने की आदत है ना!ज़ोहरा हंस कर- हाँ बोल … तू कुछ बोलने वाली थी?शनाज़- अशफ़ाक भाई जान … ओ सॉरी … अशफ़ाक रोज रात बिना किसी एहतियात के मेरे साथ हमबिस्तर होते हैं. या सर आप कहो तो एकदम यंग स्कूल गोइंग फ्रेश गर्ल बुला देती हूं … यू विल रेमेम्बेर हर आल योर लाइफ.

हम दोनों एक दूसरे में चूमाचाटी में इतने मस्त हो गए थे कि हमें ये तक पता नहीं चला कि उसकी दीदी कब बाहर आ गयी. ये देख कर उसने मेरी मम्मी के नीचे हाथ लगाया और उनके नीचे के कपड़े उतारने लगा. फिर शादी के दिन मेरी सभी सहेलियों ने मुझे अपने साथ घर से शादी में जाने के बहाने निकाल लिया.

मुसलमानी सेक्सी बीएफ एचडी

मेरे हरेक शॉट पर बुआ की चूचियां उछल उछल कर चुदाई की कहानी कह रही थीं. जब उसका निकलने को हुआ तो उसने मेरी चूत से लंड को निकाल लिया और उठकर मेरे मुंह में लंड दे दिया. मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और उसके ऊपर आ गया।अपने लौड़े को मैंने चूत में सेट किया और एक झटके में पूरा घुसा दिया।उसके मुंह से एकदम से निकला- आहह … मर गई मम्मी … ईईई … ऊईई … निकाल लो बाहर ….

आपको यह हिंदी भाभी सेक्स कहानी कैसी लगी मुझे इसके बारे में जरूर बताना.

अजय का लंड माया की चुत से टच होने लगा था और माया उसे बड़ी वासना से देख रहा था.

वो भी थोडे़ देर झटके लगाता रहा और रूक कर उसने मेरे होंठों को रस चूसने लगा. मैंने स्पीड में जाकर उसकी ब्रा के हुक को खोल दिया और उसके 2 गोरे गोरे गोल गोल बूब्स, जिन पर हल्का हल्का बेसन लगा हुआ था, मेरी आंखों के सामने आ गए. सेक्स सुहागरात सेक्समेरी कहानी के पहले भागएयरपोर्ट पर मिली भाभी से दोस्तीमें आपने पढ़ा कि दिल्ली से गुवाहाटी जाने के समय हवाई अड्डे पर ही मेरी मुलाक़ात एक भाभी से हुई.

वो इस हिन्दी सेक्स कहानी साइट पर अपनी चुदाई की कहानियां भी लिखती है. मामी- अम्मम हहहहह आआआ और तेज चोदो मुझे … आह और जोर से आह फाड़ ही दो आज मेरी चुत को. और मेरे तो बहुत हैं कई साल से!मैं बोली- हाँ, मेरे भी बहुत दिन से हैं.

मामी ने भी अपनी चूची दबा कर मुझे आंख मारी, तो मैंने उनके मम्मों के तरफ हाथ बढ़ाने की सोची. लगभग और दस मिनट बाद मेरा पानी जिया के मुँह में निकल गया और जिया भी झड़ गयी.

बाजी बोली- आज तो गांड का जायजा लेगा ये बहनचोद!मैंने बाजी को कहा- कुर्सी पर झुक जाओ.

मम्मी के गोरे चूचे बड़े ही मस्त लग रहे थे तथा किसी मर्द के हाथों से मसले जाने के लिए उतावले हो रहे थे. इसके बाद मैंने उसके एक निप्पल को मुँह में लिया ही था कि वो बहुत ज्यादा सिहरने लगी. अभी लो मेरी मंजुला रानी, पहले जरा एक बार इसे अपने मुंह में ले के गीला कर दो बस फिर तुम इसकी मालकिन!” मैंने ढीठ बनते हुए कहा.

एक्स एक्स साड़ी वाला वो आदमी बोला- मैं तो आपकी मदद कर रहा हूँ भाभी जी … मेरे लिए तो बहुत सी औरतें बिछने के लिए राजी हैं मगर आपके पास तो अपनी चुत में लेने के लिए किसी का लंड ही नहीं है. मैंने अपना लंड उसकी चूत से बाहर निकाला और अपना वीर्य उसकी चूत के ऊपर डाल दिया.

मैंने सिसकारते हुए पूछा- इसको अंदर लिया है क्या कभी तुमने?वो धीरे से बोली- नहीं, बस हाथ से किया है अभी तक. मैंने उसके टॉप को ऊपर करके निकाल दिया था और ब्रा के ऊपर से ही उसके कड़क मम्मों को मसल रहा था. उसने मुझसे कहा- तुमने मुझे क्या कर दिया … मैं होश में नहीं हूँ … जल्दी से कुछ करो … नहीं तो मैं मर जाऊंगी.

सेक्स बीएफ ओपन सेक्स

अंदर जाते ही मैंने सीधे उसका साया उठाया और उसकी पैंटी उतरवाकर अपना 8 इंच का लण्ड उसकी चूत में घुसा दिया और ज़ोर से धक्के देने लगा. कुछ पल यूं ही रहने के बाद भाभी ने इशारा किया, तो मैं सीधा होकर भाभी से चिपक कर लेट गया. अपने घर में अपने शौहर की दूसरी बीवी को आने से रोकने के लिए अगर उसी गलती को मैं जानबूझकर करूँ तो … तो मुझे यकीन है कि रफ़ीक़ के आने से पहले ही मैं भाई से चूत चुदाई करवा कर प्रेगनेंट हो जाऊँगी.

राहुल के साथ उसका कोई दोस्त भी आया हुआ था … मगर वो दूसरे कमरे में ठहरा हुआ था. आपके कमेंट्स और सुझावों से मुझे आपके लिए कहानी लिखने की प्रेरणा मिलती है इसलिए स्टोरी के बारे में अपनी राय अवश्य दें।मेरी ईमेल आईडी है[emailprotected].

मैंने उसकी आंखों में गुस्से से देखा और धीरे से कहा- चोदो न … क्यों तरसा रहे हो!मेरी इस बात को सुनते ही अमन ने मुझे कसके पकड़ा और लंड मेरी चुत के मुहाने रख कर जोरदार शॉट मार दिया.

जब माया अन्दर आयी तो मैंने कहा- इतनी सेक्सी मत लगा करो कि सोसायटी के लोगों को मुश्किल हो जाए. हॉट सेक्सी आंटी के चॉकलेटी रंग के निप्पल चूसने में मुझे बड़ा मजा आ रहा था. उन दोनों में ये तय हो गया था कि फोन से बात करके एक दूसरे को पहचान लेंगे.

मैंने उससे छूटने की कोशिश की लेकिन उसने मुझे बहुत कस के पकड़ रखा था. मैंने फिर से निशाना साध कर एक बार फिर से थोड़ा जोर से दबाव बनाया तो मेरा लंड आरती की चूत में घुस चुका था. आज से तुम मेरा रोज ऐसी काम करोगे।मैंने बॉडी लोशन आंटी की बाजू पर लगाया.

इसी अनबन के बीच में तेरी माँ को चोद नहीं पा रहा।फिर पापा मुझे सॉरी सॉरी कहने लगे।तभी पूर्वी आगे आयी और बनकर कहा- भैया अगर आप भी मुझे चोदना चाहते हो तो चोद लो.

हिंदी सील पैक बीएफ: लेकिन मैंने उनको हैंगआउट पर आने की विनती की लेकिन उन्होंने मुझसे 4 से 5 मेल में कुछ औपचारिक पूछताछ की. फिगर उसका मस्त है और 5’4″ की हाइट है। इसके साथ ही कातिलाना अंदाज में उभरे हुए चूचे और गोल गोल फूली हुई गांड। पूरा सेक्स बम लगती है वो!वहीं मेघा 20 साल की कच्ची कली है जिसके लम्बे काले घने बाल हैं जो उसके कूल्हों तक आते हैं.

ऐसी ही एक शादी हुई, जहां मैं और मेरी मम्मी सम्मलित होने के लिए गई हुई थीं. जैसे ही मैंने ऐसा कहा, माया ने मेरा खड़ा लंड अपने हाथ में ले लिया और मोनिंग करने लगी. मां बोली- लगता है कि तुम्हारी ये इच्छा पूरी करने के लिए मुझे एक आदमी का लंड और लेना पड़ेगा.

फिर आराम से हल्के हल्के घूंट चुसकने लगा और टीवी ऑन करके हिंदी न्यूज़ चैनल्स तलाशने लगा.

वह भी तुरन्त उठी, एक स्कॉच की बॉटल लेकर आई और दोनों के लिए पैग बनाने लगी।अब 2-2 पैग पीने के बाद हम दोनों एक दूसरे से खुल कर बात करने लगे और वह भी मस्त हो गई थी. यह समय मेरे लिए भी बहुत मजेदार था जब वह मुझे खड़े-खड़े चोद रहा था तो मैंने अपने हाथ दीवार से लगा रखे थे ताकि मैं उसके धक्कों के साथ आगे को ना जाऊं और उसके लंड को अच्छे से सह पाऊ. फिर उसने किसी से लड़ने झगड़ने कोर्ट कचहरी करने के बजाय खुद अपने पैरों पर खड़े होकर आने वाली संतान का भविष्य संवारने का फैसला किया.