गांव की कुंवारी लड़कियों की बीएफ

छवि स्रोत,नंगी सेक्सी हॉट

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी पिक्चर ब्लू टोका: गांव की कुंवारी लड़कियों की बीएफ, बुआ को ललिता जी के साथ मेरे ओवर टाइम के बारे में मैंने कुछ नहीं बताया.

हॉट सेक्सी चुदाई हिंदी में

फिर एक दिन कोशिश करके हिम्मत जुटा कर मैंने दीदी को फिर से सॉरी बोला और कहा- उस दिन वो सब गलती से हो गया था दीदी, मैं अब ऐसा कुछ नहीं करूंगा, प्लीज़ मुझे माफ कर दीजिए. बेवफा औरतउस वक़्त मुझे लगा शायद अभी सोनी का स्खलन नहीं हुआ था, पर अब मैं कुछ नहीं कर सकता था.

फिर उसने जल्दी से ऊपर छत पर जाकर मेन कनेक्शन को पक्का बंद कर दिया था, जिससे पूरा पानी बंद हो जाए. मां बेटे की चुदाई की सेक्सी कहानीचाची ने इठला कर कहा- हां, पर पहले आज तुम जी भरके अपनी चाची को चोद लो.

इससे उसको समझ आ गया कि मैं आज बहुत गर्म हो गई हूं और शायद उसकी बात बन सकती है.गांव की कुंवारी लड़कियों की बीएफ: उन्होंने टांगें फैला दीं और मैं पेटीकोट के अन्दर घुस कर चूत के दाने को मसलने लगा.

उसकी और मेरी दोनों की आंखें बंद होने लगीं और उसके बाद क्या हुआ, मुझे कुछ याद नहीं.मैंने कहा- क्यों ऐसा क्यों … क्या आपको मुझसे शर्म आती है क्या?भाभी बोली- हां अभी नई नई बहू हूँ न … तो कोई देख कर कुछ कहने न लगे.

सेक्सी वीडियो डॉट कॉम डॉट कॉम - गांव की कुंवारी लड़कियों की बीएफ

थोड़ी देर बाद मैं बुआ के ऊपर से उठ गया फोन में देखा तो 2 बज चुके थे.मैं आगे की तरफ हो गया लेकिन उसने मेरे चूतड़ों को पकड़ कर खींचा और पीछे खींचते ही पूरा लौड़ा मेरे अन्दर उतर गया.

तभी उसने मुझे मेरी गांड पर हाथ लगाते हुए थोड़ा सा और उठा दिया जिससे मैं थोड़ी सी हवा में उठ गई. गांव की कुंवारी लड़कियों की बीएफ मुझे दर्द हो रहा था पर उसे मुझे दर्द देने में मजा आ रहा था।मैने कुछ बोलने की हिम्मत नहीं की वरना मुझे और तमाचे मारता हरामी।उसने मेरी दोनों टांगें बिस्तर के कोनों से बांध दी.

स्नेहा ने कुणाल को रोका और कहा- चलो रूम में चलते हैं, हम सब वहीं करेंगे.

गांव की कुंवारी लड़कियों की बीएफ?

मेरा हाथ बार बार उसकी दोनों टांगों के बीच जा रहा था और बार बार वो मना कर रही थी. जॉन सुदिति से 6 साल छोटा था तो ये बात मुझे नहीं जमती थी कि उन दोनों में कोई चक्कर हो सकता है. मैं वाशरूम में गया, मुठ मारी और बेड के दूसरे किनारे पर लेट कर सो गया.

चुदाई के इस खेल में रीना भी अब बुरी तरह से गर्मा चुकी थी और उसकी भोसड़ी लौड़े की चुदाई के लिए तरस उठी. मैंने झट से कहा- अरे आप रहने दीजिए, मैं खुद जाकर उनको बुला ले आता हूँ. अब आगे गर्लफ्रेंड की गांड फक़:गीता और नीता दोनों मेरे लंड को देख रही थीं.

पहले तो मुझे अपने लिए खुद कुछ करना था और दूसरी बात मेरे पापा के रिश्तेदारों से एक पुणे में रहते थे और उनका एक फ्लैट भी था, जो खाली था. पिताजी बोले- हर्षद बेटा तुम घर पहुंच गए क्या?मैंने कहा- अभी मैं ऑफिस से बाहर आया हूँ और अब घर के लिए निकल रहा हूँ. नहाने के बाद मैं एक छोटी सी फ्रॉक बहन कर बिना पैंटी के नंगी ही सो गई.

अब यहीं पर बात करनी है या जिस काम के लिए बुलाया है, वो भी करना है?मैंने उससे कहा- सुहानी तुम्हारी बात सही है, पर यार पहले मैं नहाऊंगा, फिर खाना खाऊंगा. अब आगे न्यूड टीन गर्ल हॉट कहानी:पैंटी को वापस उसी जगह डालते हुए वो स्वीटी के कमरे की तरफ बढ़ा।दरवाज़े को हौले से धकेलते हुए जैसे ही उसकी नज़र स्वीटी पर पड़ी उसके होश उड़ गए।उसने कमरे के अंदर दो कदम और आगे बढ़ा दिए.

वो जोर से चिल्लाई- आह जीजू … बहुत दर्द कर रहा है … यार मुझसे सहन नहीं हो रहा है.

तभी राकेश ने मेरे पास आकर मुझे अपने हाथ से हिलाया, तब मेरी निद्रा टूटी.

मुझे तो अपने आप पर गर्व हो रहा था कि मैं इतनी तेजी से उछल कूद भी कर सकती हूं. हम दोनों का बैलेंस नहीं बन पाया और हम दोनों उन समेटी हुई दरियों पर ही गिर गए. अर्णव ने पहले कई चुम्बन बंद चूत पर लिए, फिर वो चूत के इर्द गिर्द चूमने लगा.

मैंने चाची की नजर बचा कर सरोज भाभी के कड़क निप्पल देखे और आंख दबा दी. उसकी ये हरकत देख कर रीना बोली- ओये बहन के लौड़े … कितना लौड़े चूसेगा मादरचोद … अब घुसा दे लौड़ा मेरे भोसड़े में हिजड़े … देख कैसे आज फिर से तेरी बीवी गैरमर्द की रांड बनकर चुदेगी. कुछ देर तक चूत चुसने के बाद कुणाल ने अपना लंड स्नेहा की चुद पर सैट किया और एक ही झटके में पूरा लंड अन्दर डाल दिया.

खासतौर से मम्मी की गांड देख कर ऐसा लगता था कि बिस्तर पर घोड़ी बना कर पूरा लंड एक ही बार में डाल दूँ.

फिर उसने ट्यूबवेल की हौदी की तरफ इशारा करते हुए कहा- देखो दीदी, ये होता गांव का स्विमिंग पूल. एक दिन हम लोग सो रहे थे तो करीब रात 12 बजे मम्मी मुझे मोटी चादर उढ़ा रही थीं. वो इठला कर बोली- फिर क्या किया था?मैंने कहा- तुम खुद ही सोच सकती हो कि मैंने क्या किया होगा?वो आंख नचाती हुई बोली- मैं कैसे कुछ सोच सकती हूँ?मैंने कहा- अच्छा चल मैं प्रेक्टिकल करके दिखा सकता हूँ.

मैं आप सभी की कामुक बीवी अनन्या शाश्वती एक बार फिर से अपनी चूत उठाए आपके सामने खड़ी हूँ. मेरे हर झटके के साथ उसकी गू गू की आवाज आ रही थी।फिर मैंने उसके हाथ पैर खोल दिये और वह मज़े से गांड मरवाने लगा।जब कुछ देर बाद मैं थक जाता तो लण्ड बाहर निकाल लेता … लेकिन मैंने अपना पानी नहीं निकलने दिया. अब मैं रोज़ अम्मी की ब्रा और पैंटी पर अम्मी को याद करके मुठ मारकर माल निकालता और अम्मी को गले लगाता या उनके गाल चूमता तो पूरा ठरक से काम लेता.

मेरे अन्दर उस वक़्त मानो भूकंप आ जाता, पर जैसे तैसे मैं खुद को काबू में कर लेता.

हॉट सिस फक़ सेशन में दीदी के मुँह से बस एक ही आवाज निकल रही थी ‘कम ऑन भाई और जोर से चोदो …’मैं भी बुलेट ट्रेन की रफ्तार से लंड चूत में चलाये जा रहा था. दुनिया में तुझसे बड़ी रंडी कोई हो ही नहीं सकती और अगर होगी भी तो भी तू उसका मुकाबला करके उसको हरा देगी.

गांव की कुंवारी लड़कियों की बीएफ सुहानी ने मेरे सीने पर मेरे निपल्स को भर लिया और बोली- पंकज रुक जाओ, प्यार से करो. कुछ देर आगे से मां चोदने के बाद मैंने कहा- मां पलट जाओ, अब मुझे पीछे से करना है.

गांव की कुंवारी लड़कियों की बीएफ हम दोनों ही इसका आनन्द ले रहे थे लेकिन उत्तेजना के कारण अगले पांच मिनट में ही हम दोनों का पानी निकल गया. मेरे आने की ख़ुशी में रीना और पॉल ने झट से मुझे अगले ही हफ़्ते गोवा आने का निमंत्रण दे दिया.

रीना ने भी अपनी दो उंगलियां अपने फुद्दी में घुसाते हुए मेरा बचा-खुचा वीर्य भी बाहर निकाल दिया.

राधा नाम के लोग कैसे होते हैं

मैंने कहा- तुझे आज पूरी रात हम दोनों चोदते रहेंगे, साली आज तुझे जरा सा भी आराम नहीं करने देंगे. कुछ देर के बाद मेरा पानी निकलने वाला था, तो मैंने स्नेहा की गांड में ही सारा पानी निकाल दिया और लंड निकाल लिया. दोस्तो, मैं आपसे अगली सेक्स कहानी में मिलूंगा, जिसमें मामा के रहते मैंने मामी को कैसे चोदा.

नेहा मादक सिसकियां लेने लगी ‘उम्म … उम्म … उम्म …’वो अपने होंठों को काट रही थी. कुछ पल बाद मां की आवाजें आना बंद हो गईं तो मैंने गांड में लंड अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया. एक हाथ से रीना के बाल और दूसरे हाथ से उसकी पीठ को नीचे दबाते हुए मैंने रीना के बदन पर पूरा अधिकार जमा लिया और बड़ी बेरहमी से उसकी चूत में धक्के लगाता गया.

मैंने अम्मी की कमर पकड़कर अम्मी की आंखों में देखते हुए कहा- नगमा, मैं और मेरा हथियार इतना बड़ा हो गया है कि बिस्तर पर रात भर तेरी चीखें निकलवा सके.

खैर … उस रात तो मैं अपने रूम पर आ गया था, पर मेरे छोटे उस्ताद को चैन नहीं मिल रहा था. इस आसन में चूत का हिस्सा कुछ नीचे हो जाता है, इस बात का मुझे अनुभव नहीं था. उसके दोनों लड़के हॉस्टल में रह कर पढ़ाई करते हैं और वो अपने पति का सर्राफे की दुकान चला रही है.

जैसे ही मैंने उसकी बुर के भगनासे को अपने जीभ से छुआ, सोनी ने सिसकारी लेते हुए मेरे सर को पकड़ कर अपनी बुर पर दबा दिया. मैं बारी बारी से दोनों चूचियों पर अपनी जीभ गोलाकार घुमाकर क्रीम चाटने लगा. उधर एक लड़की थी, वो बोली- क्या चाहिए भाभी जी?मैंने कहा- कोई नई डिजायन की नाईटी दिखा दो.

चाची घर की साफ सफाई कर रही थी उन्होंने एक टाइट सूट पहन रखा था जिससे उनका फिगर साफ दिख रहा था. दोनों ही मुझसे चिपक गईं और मेरे बदन पर किस करने लगीं और मेरे बदन को चूसने चाटने लगीं.

भैया ने मुझे चूमते हुए मुझे उसी सोफे पर लिटा दिया और मेरी दोनों टांगों को फैला दिया. फिर मंयक ने अपनी अल्मारी को खोला और एक लिफाफा निकालकर मुझे देते हुए बोला- ये मेरी तरफ से तुम्हारे लिए. पहले वो वहां हाथ से सहलाता रहा, फिर उसने हल्के से एक दूध को दबा दिया.

हॉट डॉक्टर सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे मेरी पहचान की डॉक्टर ने मुझे अपने घर बुलाया अपनी चूत चुदवाने के लिए.

‘क्या शातिर दिमाग पाया है तुमने रेशमा …’ कहते हुए मैंने भी उसके करीब जाकर उसको गले से ही लगा लिया. जब मैं चूत में झटका मारता था तो अपनी कमर को कुछ पल के लिए रोक कर फिर उठ जाता था. बात उस टाइम की है जब मेरे नाना नानी के घर उनके बड़े की बेटी की यानि मेरे बड़े मामा की बेटी की शादी होने वाली थी.

मेरी स्नातक की पढ़ाई की दौरान मेरा भी दोस्तों का एक समूह था, जिसमें कुछ लड़कियां भी थीं. मैं भी उनका सामने से शुक्रिया करते हुए बैग से पेटीकोट निकालने लगी और सर से बात करने लगी.

मनीषा को भी शायद ध्यान नहीं रहा था कि उसकी ब्रा पैंटी ऊपर सूखने पड़े हैं. उसके कंधे पर किस करने के बाद मैं अपने घुटनों पर बैठ गया और सोनी की नाभि को चूमने लगा. फिर सुबह मम्मी जब उठती थीं तब बिल्कुल ऐसे बन जाती थीं जैसे कभी चुदाई करवाई ही न हो.

सेक्सी images

मैंने अपनी एक उंगली उसकी चूत में डाल दी तो वो थोड़ी उचक गई और कहने लगी- मैं वर्जिन हूँ, थोड़ा आराम से करो जानू!थोड़ी देर उंगली करने के बाद उसका पानी निकल गया क्योंकि वो काफ़ी गर्म हो रही थी.

मैंने उससे कहा- जाओ नहा धोकर फ्रेश हो जाओ, फिर तुम्हें घर दिखा देता हूँ. दूसरे दिन सुबह उठकर मैं तैयार हो रही थी, तब भैया ने मुझे एक बात बताने लगे- सौम्या, तुम चुदवा तो रही हो, पर तुमको ऐसा नहीं लगता कि कुछ और किया जाए?उस पर मैंने बोला- आपकी बात तो सही है भैया, पर कुछ और मैं क्या कर सकती हूँ? आप ही बताएं. साथ ही मैंने एक हाथ से उसकी पैंटी उतार दी और धीरे से उसकी न्यू चूत सहलाने लगा.

आह आह आह बहुत मजा आ रहा है जीजू … आज पूरी रात मुझे ऐसे ही मजे देना … चोद लो मुझे … आज मुझे छोड़ना मत जीजू … मैं कितना भी मना करूं … आपको जो करना है, सब करना मेरे साथ. मैंने खुद फर्श पर खड़े होकर उसकी दोनों टांगें अपने कंधे पर रख लीं और अपना लंड पकड़कर उसकी बुर पर रगड़ने लगा. सेक्सी बीपी नवीन व्हिडीओअगले दो दिन हमारे बीच में क्या हुआ, कैसे हम चारों ने मिलकर कामवासना एक अलग अध्याय लिखा, इसके बारे में जानने के लिए मेरी अगली सेक्स कहानी का इन्तजार कीजिये.

लेकिन काजल उठने के बाद ठीक से चल नहीं पा रही थी तो मैंने उसको लेटे रहने को ही बोला. जब मैं उससे चिपकने की कोशिश करती तो मुझे उसका लौड़ा खड़ा महसूस होने लगता था.

पापा- अरे वाह भाभी, क्या बात है … आपकी साइज़ तो मेरी बीवी से काफ़ी बड़ी हो गयी है. दूसरी बार मिस्टर इन्द्रेश का बेटा ईशान जब शराब के नशे में अपनी लाइफ बर्बाद कर रहा था, तब मेरे पापा ने ही उसे गाइड करके उसे अपनी तरह एक सफल बिजनेसमैन बना दिया था. मैं उसके दूध को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा और साथ साथ दूसरे दूध को हाथ से सहलाने लगा.

मैं जोर जोर से उसका मुँह चोदने लगा और एकदम से उसके मुँह के अन्दर ही मेरा वीर्य निकल गया. मेरा लौड़ा पूरा तन कर खड़ा हो गया था जो मां की गांड में बार बार टच हो रहा था. आज मैं सोनी को पूरी तरह गर्म करके चोदना चाहता था ताकि उसे भी चुदाई का भरपूर आनन्द मिले.

इस बार मैं अपने घुटनों के बल बैठ गया और उनकी टांगों के बीच में लपलप करती हुई उनकी चूत को चाटने लगा.

उसी बारे में सोचते रहने के कारण उस लड़के में मेरी दिलचस्पी और बढ़ने लगी. आपको सेक्स कहानी के अगले भाग में सोनी की चूतफाड़ चुदाई की कहानी लिखूँगा.

न जाने मेरे मन को क्या हुआ … मेरी आंखें बंद हो गईं और मैं उस पैंटी को बेतहाशा सूंघ रहा था. बीच में मैं, रागिनी और रजनी थे तथा पीछे सासुजी एवं वसुंधरा भाभी थीं. मेरी आंखों में मैंने उनकी आंखों में एक प्यास देखी, वो अधूरापन देखा.

कुछ देर बाद अम्मी की चूत से पानी निकला गया, तो मैंने अम्मी से पूछा- अम्मी, कुछ मज़ा आया?अम्मी- उउममम … आह … आदिल अहह बेटा … आह …अम्मी की चूत गीली होने पर मैंने बिना थूक लगाए ही मेरा 8 इंच का लंड अम्मी की चूत के मुँह पर सैट किया और एक जोर का झटका देते हुए कहा- लव यू अम्मी जान. अब मम्मी अगर वीक में चार बार चोदने का कहतीं, तो पापा एक बार ही चोदते थे. हर बार की तरह इस बार भी मैंने सोनी के एक एक करके सारे कपड़े निकाल दिए और खुद का भी अंडरवियर छोड़ कर सारे कपड़े निकाल दिए.

गांव की कुंवारी लड़कियों की बीएफ पर अभी रात के 9 ही बजे थे और दूसरे मकानों में लोग छत पर घूम रहे थे. वैसे तो अजमेर से कोटा की बहुत सी ट्रेन हैं पर मैं कार लेकर जाना पसंद करता हूँ.

सेकसी बीडीयो

अब क्योंकि हम एक ही जगह सोनीपत हरियाणा से थे, तो अम्बाला से सीधी ट्रेन जाती है. थोड़ी दूर जाने के बाद नीता ने अपने एक हाथ से मेरी कमर को कस लिया और दूसरा हाथ मेरी जांघों पर रख दिया. इसलिए लच्छो ने कई बार मुझसे कहा कि मेरा और जगह पर भी काम लगवा दीजिए, जिससे मैं कुछ ज्यादा पैसे कमा सकूं.

रीना जैसी भरी हुई औरत के मुँह में लंड जाते ही मेरे लौड़े में गुदगुदी होने लगी, लंड की नसों में फिर से ख़ून दौड़ने लगा और कुछ ही देर में मेरे लौड़े का आकार बढ़ गया. अब वो तो जैसे हवा में उड़ रही थी जुबान से एक भी शब्द नहीं निकल रहे थे और वो कुर्सी पर बैठी बैठी ही डोल रही थी. बीजेपी के सेक्सी वीडियोमैं इसी सोच में डूबी हुई थी कि रोहित के लौड़े से मैं एक साल के बाद अपनी प्यासी चूत चुदवाऊंगी.

मौसी- तुम मुझे जानते हो? कभी हमारी मुलाकात हुई है?मैं- नहीं, बस आपकी आवाज सुन कर अच्छा लगा, तो सोचा कि आपसे दोस्ती करूं.

अभी उसने चुम्मी ली तो मैं और गर्म होकर उसके होंठों को चूसने लगा था. मैंने आज तक इस भावना को कभी भी महसूस नहीं किया था कि मैं इतनी ज्यादा उत्तेजित हो जाऊंगी कि मुझे खुद के ऊपर कोई नियंत्रण ही नहीं रहेगा.

उसकी बंद आंखें, खुले बाल, आधा खुला मुँह … और उस मुँह से अभी अभी निकली उसकी मादक सीत्कार ‘आआह …’वो आवाज़ इतनी कामुक थी कि पूरे कमरे में गूंज गई और मेरा लंड जो पहले से ही खड़ा था, वो झटके मारने लगा. मैं अपने फ्लैट पर अकेली थी, तो मैंने फौरन से एक प्लान बनाया कि अपने ब्वॉयफ्रेंड रोहित को यहां पर बुला लूं और इन छुट्टियों में रोहित के लौड़े से अपनी चूत की खुजली मिटवा लूँ. मैंने अपने मम्मों को अच्छे से छुपाया और मंयक को गले लगाकर थैंक्यू बोला.

मैंने भी अब देर करना ठीक नहीं समझा, कमर ऊपर करते हुए मैंने भी आखिर के कुछ दमदार धक्के देकर अपना लौड़ा पूरी तरह से रेशमा की बच्चेदानी में घुसा दिया.

थोड़ी देर में अली ने मेरे लंड को निक्कर के ऊपर से पूरा पकड़ लिया और दबाने लगा. उसकी बात सुनते ही मैंने उसकी कमर को कसके पकड़ा और एक जोरदार धक्का दे मारा. पांच मिनट बाद मैंने बिना पूछे सुहानी की चूत में अपना माल निकाल दिया और उसके बूब्स चूसने लगा.

பிரதர் சிஸ்டர் செக்ஸ்हमारे बीच एक जोरदार फ्रेंच किस का आगाज़ हुआ जिसमें हम दोनों एक दूसरे के होंठों को मानो खाने से लगे थे. बस कुछ ही दिनों की बात थी जब मेरा ब्वॉयफ्रेंड मुझे अच्छे से रगड़ रगड़ के कर चोद देगा और मेरी पूरी तरह से खुजली मिटा देगा.

बच्चों के चुटकुला

टी-शर्ट अन्दर से गंदी हुई थी क्योंकि वो ऊपर पलटी हुई थी तो टी-शर्ट को नीचे कर लिया. हम दोनों इस बात को लेकर बहुत ज्यादा खुश थे कि हम दोनों का मिलन फिर से हो जाएगा. मेरी चीख निकलते ही सुरेश ने अपना लौड़ा मेरे मुँह के अन्दर ठूंस दिया जिससे मेरी चीख अपने मुँह के अन्दर ही गुम हो गई.

अर्णव ने मोहिनी को अपनी तरफ घुमा कर उसके होंठ चूमने चाहे तो मोहिनी को थोड़ा होश आया कि वो ये सब बाल्कनी में हो रहा है. ‘आअह उम्म्म्म मां मर गयी बहनचोद …’ जैसी कामुक आवाजें और गालियां देती हुई रीना भी मस्ती से चुद रही थी कि तभी मेरे लौड़े ने मुझे धोखा दे दिया. वो सब कैसे हुआ, मैं पोर्न स्टूडेंट सेक्स कहानी के अगले भाग में लिखूँगी.

तो मैंने भी अपने कपड़े उतार कर फेंक दिये और उसका लण्ड पकड़ कर सहलाने लगी, पेल्हड़ भी चूमने लगी. कुछ देर में उसका दर्द कम होने लगा और वह मजे से आहें भरने लगा, साथ साथ ही मेरा लण्ड उसके गांड में जगह बनाने लगा. ऐसे बारिश के मौसम में एक लड़की साथ में हो, तो सफर में कितना मजा आएगा.

फिर उसने बताया कि वो करीब 3 महीने मेरे साथ रहा लेकिन फिर वो मेरे साथ सेक्स की ज़िद करने लगा तो मैंने उसे छोड़ दिया. मुझे ऐसा लगने लगा था कि मैं कभी किसी लड़की के साथ सेक्स नहीं कर पाऊंगा क्योंकि मेरी कोई गर्लफ्रेंड भी नहीं थी.

साथ ही पूरे लॉकडाउन में मैं आकाश के घर में ही रहा और फ्रेंड वाइफ के साथ खूब मजे किए.

हैलो फ्रेंड्स, मैं संजू आपको अपनी शादीशुदा दोस्त अंकिता की सेक्स कहानी सुना रहा था. इंग्लिश सेक्सी मूवी फुलअब आगे एनल फक़ का मजा:थोड़ी देर बाद गीता ने अपनी टांगें मेरी कमर से हटा दीं और फिर से फैला दीं. जान मारे लहंगा लखनऊ हुआदोस्तो, आपने मेरी पहली कहानीसौतेली मां के साथ चुदाई की लालसापढ़ी थी. मैं कब से सोच रहा था कि तुम देखी हुई लग रही हो, अब मुझे सब याद आ गया.

मैं आज तुमसे चुदने के लिए तैयार हूँ, लेकिन मेरी एक शर्त है!ये सुनकर तो मेरे मन में खुशी की लहर दौड़ गई.

मैंने सबकी बातें सुनी, पर ना तो मैंने उन्हें कुछ बोला और ना ही सोनी को कुछ बताया. तब उन्होंने मुझे मस्ती करने का एक प्लान बताया जिसे सुनकर मैं जोश में आ गयी और उनके प्लान में साथ देने को राज़ी हो गई. वो मुस्कुराती हुई बोली- अच्छा! मुझे पता है, तुम कुछ और ही देख रहे थे.

कुछ देर बाद मैंने अपनी जीभ को बुर के मध्य कड़क हो चुके भगनासे पर फिराना शुरू कर दिया और साथ ही अपनी एक उंगली को बुर के छेद में घुसा दिया. थोड़ी देर बाद मैं अम्मी के पास आया और अम्मी का नाम लेकर बोला- नगमा, तुम मेरी बात का बुरा मत मानो … मैं तुमको बहुत प्यार करता हूँ और खुश देखना चाहता हूँ. मेरा एक प्रोजेक्ट चल रहा था जिसे मुझे हर हाल में अपने कमरे में रह कर ही पूरा करके देना था.

कॉल गर्ल लड़कियों के नंबर

एक दिन मैं वैसे ही बैठा फेसबुक चला रहा था क्योंकि उस समय लॉकडाउन लगा हुआ था. अब गीता मेरी तरफ गांड करके नीचे झुककर अपने घुटनों और पैरों को साबुन लगाने लगी तो मेरा तना हुआ लंड उसकी गांड के छेद पर रगड़ने लगा. पॉल की तरफ देख कर मैं भी उसे कोसने लगा, पर पॉल को इस बात का जरा भी बुरा नहीं लगा.

रीमा की गांड मेरे लंड से टकरा रही थी, जिससे मेरा लंड फिर से उफान पर आ गया.

कुछ 5 मिनट की ताबड़तोड़ फायरिंग के बाद मेरे लंड ने उनकी चूत को अपने वीर्य से लबालब भर दिया.

मैंने कहा- कोई दिक्कत है क्या?वो बोला- नहीं बे … बस काम का समय खत्म होने को है. वो बोला- मजा आता होगा ना?मैंने कहा- हां, मजे के लिए ही तो घोड़ी चढ़ता हूँ. बुधवार पेठ पुणेफिर शाम हो गई और मेरा मन तो रात होने का इन्तजार कर रहा था क्योंकि आज तो मेरी और भी जम कर चुदाई होने वाली थी.

लेकिन लड़कियों की कुछ ऐसी जरूरतें भी होती हैं, जिसे वो किसी से बता नहीं सकती. मैंने उनकी ब्रा खोल दी और उनके दूध चूसने लगा … जोर जोर से दबाने लगा. अगला पूरा दिन उस हॉट मैरिड गर्ल के बूब्स के बारे में सोचते सोचते मैंने शाम को सोचा कि अंकिता को मैसेज करके उसे चाय के लिए पूछूं.

कुछ देर ऐसे ही लेटने के बाद भाभी उठ कर कमरे में जाने लगीं और मुझसे बोलीं- अक्की मुझे अकेले सोने में डर लगता है, तो तुम आज रात मेरे कमरे में ही सो जाना. पिछली बार की सेक्स कहानीएक दिन में दो लंड से गांड चुदाईमें सनी से गांड मरवाने के बाद मुझको काम के सिलसिले में दूसरे जिले में जाना पड़ गया.

अली मुझे देख रहा था तो मैंने उससे पूछा- ओ भाई, क्या हुआ?वो हंस दिया और बोला- यार, बड़ी मस्त बॉडी बना रखी है.

छह महीने तक अंतर्वासना की पाठिका रहने के बाद उसको अपनी चूत चुदवाने की आग लग गई. मैंने कई बार उसे सहवास के लिए मनाने की कोशिश भी की, पर हर बार सोनी साफ साफ मना कर देती. एक बार मेरी वाइफ को किसी काम के लिए घर जाना था, तो वो 4-5 दिनों के लिए चली गयी.

प्रियंका चोपड़ा हॉट सेक्सी मैं जहां हमेशा मुंबई में रूकता था, उस होटल वाले को भी बढ़िया कमरा देने की बात करके मामला फिट कर दिया. मैं उसकी बातों का मतलब समझ रहा था क्योंकि वह काफी समय से अकेली रह रही थी और बहुत प्यासी थी.

वो बोला- वही रोज रोज का लफड़ा यार!इस तरह वो दोनों बातें करने लगे और मैं राकेश को देखने लगी. सब लोग खाना खाते, मैं किचन में कुछ लेने के बहाने जाता और वहां उनके दूध दबा देता और उनकी साड़ी पेटीकोट उठा कर उनकी चूत में उंगली डाल देता. इस बार मेरी हल्की सी चीख निकली तो उसने तुरंत अपने होंठों को मेरे होंठों पर रख दिया और मुझे किस करने लगा.

gen युटुब डाउनलोड

हम दोनों की कामुक सिसकारियां एक दूसरे का जोश बढ़ा रही थीं और उसी जोश की वजह से मैं जल्दी ही स्खलित होने को आ गया. किरण भी अपनी कमर ऊपर नीचे करते हुए मेरे लौड़े पर कूदने लगी, सुपारा भी पूरे अन्दर तक घुसकर उसकी बच्चेदानी की चुम्मी ले रहा था. फिर जब तक राकेश मेरे घर के अन्दर आता, तब तक पूरे घर के अन्दर पानी फैल गया था.

मैंने लंड बाहर नहीं निकाला, बस रुक गया और अपने लंड को उसकी चूत में ही डाले रखा. मेरा लंड मेरे पैंट में खड़ा तम्बू सा लग रहा था जिसे भाभी ने देख लिया था.

कुछ पल के बाद मुझे मजा आने लगा था और मैं ज्योति को लेकर मदमस्त होने लगा था.

मैंने दो मिनट तक उसके एक निप्पल को चूसा, फिर दूसरे की तरफ गया तो वह तो जैसे एक बटन बन गया था. उसको ऐसे करते हुए देख कर बाकी दोनों को भी बहुत ज्यादा जोश चढ़ गया और वो दोनों झट से अपने अपने कपड़े उतारने लगे. वहां रेशमा का भी वही हाल था, उसके दिल में जो ख़ुशी थी, वो बार बार मुझे मैसेज के जरिए लिख कर बता रही थी.

मेरा ध्यान इस बात पर एक बार भी नहीं गया था कि मैंने सही से दरवाजा बंद भी किया है या नहीं. हम दोनों एक ही कमरे में थे और वो हसीन रात हम दोनों को सुलगा रही थी. हॉट माल सेक्स कहानी में मैंने 50 साल से ऊपर की एक सेक्सी लेडी को चोदा.

मम्मी बिल्कुल नंगी लेटी थीं और सिरहाने की तरफ उनका सर था और चूत मेरी तरफ थी.

गांव की कुंवारी लड़कियों की बीएफ: करीब 15 मिनट तक अली की गांड मारने के बाद मैंने उससे पूछा- मेरा होने वाला है. अंकित ने हैरान होकर कहा- तू उसका भाई है, एक बार फिर से सोच ले … तू अपनी बहन को चोदेगा?मैंने कहा- मुझे वो बहुत हॉट माल लगती है.

क्योंकि मैं जिनसे भी मिलता हूँ, उनकी कोई भी डिटेल किसी को नहीं दे सकता. मैंने पहली बार किसी लड़के का लंड देखा था, वो फिल्मों वाले लंड से बहुत छोटा था. वह घोड़ी बन गई और बोली- राज, अब मुझे जमकर चोद डालो प्लीज़!मैंने उसकी कमर पकड़कर पूरा लौड़ा अन्दर तक घुसा दिया और झटके लगाने लगा।अब धीरे धीरे वो भी अपनी गांड आगे पीछे करके ट्रेन सेक्स में मस्ती से चिल्ला रही थी- हहह आआह हहह उह हहह … ऐसे ही चोदो मुझे और और चोदो आहह आहह मजा आ रहा है!मैंने कहा- नाजिया, आवाज मत करो.

दोनों रंडियां एक दूसरे की चूत चूसती हुई एक ही बिस्तर पर दो मर्दों से चुदवा रही थीं.

मैं जब भी उनकी ब्रा या पैंटी छत पर पड़ी पाता तो उनकी ब्रा या पैंटी से अपने लंड को लपेट कर मुठ मार लेता था और लंड की गर्मी को शांत कर लेता था. उसने अपने पड़ोस के लड़के से दोस्ती करके पहले सेक्स का रास्ता साफ़ किया. चूमने के बाद जैसे ही मैं नीचे जाने लगा, सोनी ने मुझे पकड़ लिया और विनती करते हुए कहने लगी- बेबी प्लीज, बस करो.