बीएफ सेक्सी स्पेशल

छवि स्रोत,हॉट सेक्सी वीडियो हिंदी एचडी

तस्वीर का शीर्षक ,

क्सक्सक्स विडिओ स: बीएफ सेक्सी स्पेशल, अभी 3 दिनों तक घर पर कोई आने वाला नहीं है तो कल मेरे एग्जाम देकर आने से पहले तुम तैयार रहना.

सेक्सी इंग्लिश वीडियो एक्स एक्स

एक दिन जब साहिल स्कूल आया तो उसे देखते ही मेरी बॉडी में करंट दौड़ने लगा. मजेदार सेक्सी बातेंवो पूरी करनी पड़ेगी?भईया बोले- बोल ना?मैंने बोला- जो साली मेरे को बॉथरूम ले गई थी, उसका नंबर लगेगा.

इसी तरह से हम दोनों लोग चुदाई करते करते पूरी मस्ती से एन्जॉय कर रहे थे. हिंदी फिल्म सेक्सी अंग्रेजीमेरा दिमाग पूरा सुन्न पड़ा था, पर अब उधर बैठने की वजह से मुझे कोई कुछ नहीं कर रहा था.

सरदारजी का लिंग अभी तक मेरी योनि में था और मुझे ऐसा महसूस हो रहा था जैसे कोई साँप दम तोड़ता है, वैसे ही अकड़न ढीली कर रहा.बीएफ सेक्सी स्पेशल: मैं- ह्म्म्म … पर क्यों मम्मी जी? क्या हितेश की जिंदगी में कोई और है क्या? क्या ये शादी हितेश की मर्जी के खिलाफ हुई है?सासू माँ- नहीं बेटा, ऐसी बात नहीं है.

भाभी थोड़ी देर बाद मेरे रूम में आई और बोलीं- मेरे रूम में ही सो जाओ.मतलब वो पैंतीस साल की थी, उसके चुचे 36 इंच के थे और उसकी गांड 37 इंच की थी.

हिंदी देसी हॉट सेक्सी वीडियो - बीएफ सेक्सी स्पेशल

वो जोर से चिल्लायी और वैसे ही मैंने अपना वीर्य उसकी चूत में छोड़ दिया.मैंने जानबूझकर बाथरूम का दरवाज़ा लॉक नहीं किया था ताकि भाभी मेरे बाथरूम में नहाने के लिए आए और मुझे इस हाल में देख ले.

बस पापा ने थप्पड़ मारने को हाथ आगे किया, तो किशोर गुस्सा होकर बोला- ऐसे ही मैं यहाँ नहीं आया … तुम्हारी बेटी को मेरा लंड पसन्द है बुड्डे … तेरी बेटी की तो मुझे शक्ल तक पसंद नहीं है, वो खुद ही मेरे पीछे पड़ी है लहसुन खाकर … हट जा बुड्डे … नहीं तो आज समझ लेना. बीएफ सेक्सी स्पेशल हालांकि उसकी और मेरी उम्र में 8-9 साल का अंतर होगा फिर भी हम दोस्तों की भान्ति व्यव्हार करते हैं.

जी … मुझे नहीं पता कुछ भी …” मैंने शर्मिंदा सी होकर जवाब दिया।अच्छा … तुझे अब कुछ भी नहीं पता … यू.

बीएफ सेक्सी स्पेशल?

वो फिर से पूरी तेज़ चिल्लाई उम्म्ह… अहह… हय… याह… और दर्द से कराह उठी. हिम्मत करके मैंने फिर से प्रिया के सॉफ्ट बालों में हाथ घुमाया, तो उसकी नशे के मारे आंखें बंद हो गईं. दोनों ने अपनी अपनी जगह बदल ली और पद्मा ने बैठे हुए लंड को साफ़ किया और चूस चूस कर उसे खड़ा करके अपने मुँह की चुदाई करवाने लगी.

मेरे लंड को देखते ही भाभी एकदम से बोली- राज! तुम लगते तो छोटे हो परंतु तुम्हारा लंड इतना बड़ा कैसे हुआ?उन्होंने लंड को अपने हाथ में पकड़ा और बहुत देर तक उसको आगे पीछे करके देखती रही. कुछ ही देर में मुझे ऐसा लगने लगा कि वो मेरे होंठों को चूसते हुए मेरी चूत को भोसड़ा बनाने के नजरिये से चोदे जा रहा था. वो कराहते हुए बोली- अरे दबा लेना, पहले यह बताओ तुमको कैसी लगी मैं?मैं बोला- एकदम गांड फाड़ माल हो यार … तेरी चुचियां देख कर तो कल ही पागल हो गया था मैं … आज चुचियां सामने हैं, तो समझ नहीं आ रहा है, क्या करूँ, चूस लूँ या दबाऊं इनको.

जैसे ही उस औरत ने कहा ‘एक्सक्यूस मी …’ मैं चिल्लाकर उससे बोला- क्या है?वो औरत थोड़ा डर गयी और वहां से चली गयी. उत्तेजना तो मेरे बदन में भी भारी हुई थी लेकिन वो अंकल की उम्र से मुझे थोड़ी हिचक हो रही थी. मेरी सास ने अपने सारे बाल हटा कर अपनी चूत बिल्कुल चिकनी कर रखी थी, पर मेरा मन था कि उनकी रसीली चुचियों और कमर से हट ही नहीं रहा था.

मेरी जो क्लोज सहेलियां थीं, उन्होंने मुझसे कहा- सच बता वन्द्या, मौसी के यहां तूने बहुत ऐश की क्या … कोई ब्वॉयफ्रेंड बना लिया और उसे सब कुछ करने की इजाजत दे दी, क्योंकि तेरे दूधों के साइज बड़े हो गए हैं और पीछे गांड में भी बहुत उठान आ गया, जो अलग ही दिख रहा है. इसलिए मैंने उसके क्लीनिक में काम करने वाले लड़के को पटाया। उसी से मुझे पता लगा कि भाभी जी उसके पास बहुत समय से आती है और वो डॉक्टर उसे अपने ही क्लीनिक में पेलता है।मैंने उसे पैसों का लालच दिया और उसे उनकी एक पिक देने को कहा.

उसके बाद मैंने लंड को बाहर निकाल लिया और भाभी की टांगों को थोड़ी चौड़ी करते हुए उनकी चूत को चाटने लगा.

शाम के बारे में बातें करते करते वाणी गरम होने लगी और बोली- इससे पहले कि मैं तुम्हारा जबर चोदन कर दूं, चलो जल्दी से हम कुछ खा कर कुछ पी लें.

रात को खाना खाने के बाद उसका रिप्लाई आया, उस वक्त लगभग 9 बजे होंगे. फिर संध्या ने मेरी किसिंग चालू कर दी और मेरे लौड़े को सहलाना चालू कर दिया. अबकी बार गांड पर लंड लगाने के बाद मैं उसके ऊपर लेट गया और लंड को थोड़ा थोड़ा आगे पीछे करने लगा.

पहले तो थोड़ी दिक्कत हुई, पर धीरे धीरे जीवन की गाड़ी पटरी पर आ गयी. अगले दिन हम कोई अच्छा सा इंस्टिट्यूट देखने गए, हमने बहुत सारे इंस्टिट्यूट्स देखे, पर कोई खास पसंद नहीं आया. वह दादा साहेब ठाकुर ने अपने लंड का जोर से झटका मेरी चूत में मारा, तो मैं चीख उठी … चिल्ला उठी.

मैंने सोचा कि कैसे भी नजर बचाकर थोड़ी देर के लिए उनके साथ चली जाऊंगी और इनसे चुदने में भी क्या जाता है.

मैं कराहते सिसकते छटपटाने लगी, पर उसने भी कोई रहम नहीं दिखाया, मेरे पूरी तरह झड़ के शांत होने के बाद भी वो उंगली भीतर बाहर करता ही रहा. मैंने बोला- भैया, टेंशन न लो, हम खुद भिड़ा लेंगे, आप देखो, कहीं आप भाभी को देखने की जगह, भाभी की सहेलियों या साली को न देखने लगना. लेकिन एक बार लंड निशाने पर लगा, तो वो दांत भींच लंड पर बैठती चली गई.

मैं क्या अगर कोई बूढ़ा भी उसको देख ले तो उसका लंड भी टन्न से खड़ा हो जाये, इतनी सेक्सी लगती थी वो देखने में. मैंने उन्हें अपनी तरफ सीधा किया और उनकी तरफ देख कर बोला- आज आप मेरे साथ हैं, जो आप करना चाहें, हो सकता है. उधर एक जगह जहां डीजे लगा था, सभी लड़कियां बोलीं- चलो डांस करते हैं.

माँ बाप कब चल बसे, मुझे खुद नहीं पता, किसी रिश्तेदार का मुँह कभी नहीं देखा, बस खुद को जब से याद करता हूँ तो एक जोड़ी कपड़े में आधे भूखे पेट ही याद करता हूँ.

मैं मस्ती से भाभी के मुँह को चोदने लगा और वो भी मेरा पूरा साथ देने लगीं. अभी किसी को कुछ दिखाई नहीं दे रहा है, इस बात का फायदा उठा ले, जब लाइट आएगी तो उठ जाना.

बीएफ सेक्सी स्पेशल मैंने भाभी को धीरे से जाकर पीछे से अपनी बाहों में पकड़कर उनके कान में कहा- क्या बताओगी आप मेरे बारे में भाई को? यही कि आप मेरे रूम में नहाने आया करती हो?मेरी गर्म सांसों के कारण भाभी के रोंगटे खड़े होने लगे थे. राजिंदर बोला- तो मैं कामिनी को ले जाऊं?‘भाई ये तो हमारा फैमिली माल है, ले जाओ.

बीएफ सेक्सी स्पेशल मैं कुछ बोलना चाहती थी, पर मुँह में लंड होने के कारण बोल नहीं सकती थी. फिर उसके बाद मुझे थकान महसूस होने लगी और अचानक से पंकज धक्के भी तेज होकर धीमे होना शुरू हो गए.

फिर मैं पीछे से आगे की तरफ हाथ डाल कर उनके मम्मों को दबाने लगा और साथ ही उनके गले पे लगातार किस करता जा रहा था.

देहाती बीएफ पिक्चर देहाती बीएफ

उसने भी मेरे पूरे शरीर पर किस किया, मेरी छाती मेरी कमर, गर्दन, गाल, होंठों पर खूब चूमा. तभी वह जम के मेरे पिछवाड़े में लहंगे के ऊपर से ही अपना लंड दबाने लगा और दबाते दबाते 2 मिनट के बाद मेरे कान में बहुत दबी सी आवाज में बोला कि उधर चल … बहुत जम के करेंगे. अब मैंने जीभ चूसते हुए कपड़ों के बाहर से ही उसके बड़े और टाइट मम्मों को जो अड़तीस साइज़ के थे, पूरे जोर से दबाने लगा.

एन्जॉय करो … क्यों ऐसे मौके को हाथ से जाने देना चाहती हो? मेरी ड्यूटी रात 1:30 बजे तक चार स्टेशनों बाद खत्म हो जाएगी. मन बहुत बेचैन हो रहा था, इस बीच मेरी बहू ने पूछा- क्या हुआ पापा जी तबियत ठीक है ना … आपको इतना पसीना क्यों आ रहा है?नहीं नहीं बेटा, बस आज इवनिंग वाक कर के थोड़ा थक गया हूँ, उम्र होती जा रही है ना. ’ ज़रीना उत्तेजना में चिल्ला रही थी और अपने कूल्हे उछाल-उछाल कर मेरे धक्कों का साथ दे रही थी.

उत्तेजना के कारण कुछ ही देर में मेरे लंड ने बहुत सारा गाढ़ा वीर्य नीचे गिरा दिया.

” सर ने अपनी मजबूरी जता दी।जी ठीक है …” मैं कहकर बाहर निकली और ऑफिस के सामने पहुँच गयी. उसने खुद को ढीला छोड़ दिया और अपने मम्मों को मसलवाने का मजा लेने लगी. उसने मेरी चूत को चाटने के बाद अपना लंड मेरी चूत पर रखा दिया और लंड के सुपारे को मेरी चूत की फांकों पर रगड़ने लगा.

कई बार सोचा कह दूँ; लेकिन एक बार कोमल ने ही पूछ लिया उसने कहा- भैया, आजकल आप अपसेट से लग रहे हो, क्या हुआ?मैं- बस यूँ ही मन नहीं लगता आजकल. तो शायद इससे वह समझ गया कि मुझे यह अच्छा लग रहा है इससे वह अब सीधे लहंगे के ऊपर से मेरी जहां चूत थी, वहां मुट्ठी से पकड़ कर निहाल दबाने लगा. अब मैंने अपना ग्लास उठाकर एक घूँट अपने मुँह में भर लिया और अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए.

करीब 5-7 मिनट बाद ही मेरे दरवाज़े की घण्टी बजी, उस वक्त मेरे लंड से लता भाभी की चूत में वीर्य की पिचकारियां चल रही थीं, अतः कपड़े ठीक करते हुए दरवाज़ा खुलने में टाइम लग गया. मैंने उसको मुँह में कपड़ा डाल दिया और एक हाथ से उसके दूध दबाने लगा.

मैंने उसे फेसबुक पर रिक्वेस्ट डाल दी और उसका व्हाट्सैप नंबर भी ले लिया. जब मुझे महसूस हुआ कि उसका एक हाथ मेरी जांघ पर आ चुका है तो मेरा लंड मेरी पैंट में खड़ा होकर तन गया. मैं उस दिन बहुत ही खुश था और बार-बार सुषी के साथ हुए सेक्स को याद करके मेरा लंड खड़ा हो जा रहा था.

दोनों का एक साथ जोश खत्म हुआ और वे आ कर मुझ से लिपटते हुए बोलीं- सॉरी लेकिन हमारी ये करने की बहुत इच्छा थी और हमारे पति मानते नहीं थे कि किसी औरत की पेशाब इतनी दूर जा सकती है.

’वो मेरे चेहरे के नीचे उल्टा लेट गया- कामिनी, मेरी गांड का स्वाद ले. मैंने मैसेज में एक फोटो भेजा, एक औरत का जिसने नीचे साया और ऊपर लो नेक का डोरी वाला ब्लॉउज पहना हुआ था. साथ साथ मैंने उसका हाथ अपने हाथ में पकड़ रखा था और उसे सहला भी रहा था.

इसलिए बस जानकारी के लिए बता दिया कि मेरे शौहर अब इस दुनिया में नहीं हैं. सुषी ने मुझसे रूम में चलने के लिए कहा और बोली- तुम अंदर चलो, मैं अभी आती हूँ.

मैं ज़रीना को पागलों की तरह चूमने लगा और बोला- मेरी ज़रीना, मैं पहली झलक में ही तुम्हारा तो दीवाना हो गया था. मेरे घर वालों ने अपने हिसाब से लड़के वालों के बारे में पूरी जानकारी जुटाई. अगर आप लोगों को पसंद आती है … तो ही मैं दूसरा पार्ट लिखूंगा, जिसमें धारा की गांड चुदाई हुई और कैसे मैंने श्वेता को अपने लंड के ज़ाल में फंसाया.

बीएफ दिखाईये

फिर मैंने पोजीशन बनाई और अपने खड़े लंड को भाभी की गर्म चूत पर लगा दिया.

मैंने भी दूसरी साइड जाकर उस कमरे की तरफ देखा तो साइड में से सब अन्दर का दिख रहा था. फिर खुद को समझाने के लिए यही सोचा कि हो सकता है दोस्तों के बीच कहीं बिजी होंगे इसलिए. मेरे मामा, मामी और मेरी जान … कोमल!कोमल की उम्र 19 साल थी और मेरी उम्र 24 साल.

फिर मैंने उनसे अपना लंड चुसवा कर साफ़ करवाया और उनकी चूत चाट कर साफ़ की. अत: अमित ने खुद ही अपने नितम्बों को ऊपर उठाते हुए अपनी बेल्ट को खोलकर अपनी पैंट को नीचे खींच दिया. सनी लियोन की सेक्सी चोदने वालाभैया भी मेरे पास आ के खड़े हो गए और मुझे और मेरे पूरे नंगे शरीर को देखने लगे.

इस बीच हम दोनों ने किचन में जाकर जाकर नंगे ही रेडीमेड फूड के साथ चाय बनाई और पेट भर लिया. मैंने उससे पूछा- क्या तुम्हें तकलीफ़ हो रही है?उसने दबी सी आवाज में कहा- आप अपना काम कर लो.

हम दोनों ने सेक्स करते हुए अपनी पोजीशन को बदल दिया और अब मैं अपने बॉयफ्रेंड के ऊपर आ गयी. इसी तरह से हम दोनों में नजदीकियां बढ़ने लगीं और हम दोनों की एक दूसरे से बात होने लगी. मैं झड़ने को हुआ, तो उससे पूछा कि माल अंदर गिराऊं या बाहर निकाल लूँ, उसने इशारे से कहा कि अंदर ही डाल दो.

जैसे ही वो गए, मैंने भाभी को सोफे पर पटका और उन्हें पागलों की तरह किस करने लगा, अब वो भी पूरा साथ दे रही थीं. मैंने आहिस्ता आहिस्ता उसके सारे कपड़े उतार दिए और अपने भी निकाल दिए. रूम में जाकर मैंने कपड़े बदले और थोड़ी पढ़ाई की और कुछ देर के बाद मैं सो गया.

3 फीट है और मेरे लण्ड का साइज़ 7 इंच है। मैं एक गाँव का ही रहने वाला हूँ और देखने में अच्छा दिखता हूँ.

दोस्तो, मेरा नाम है चार्ली! मैं कोल्हापुर, महाराष्ट्र का रहने वाला हूँ. मुझे ऐसा लग रहा था, जैसे मेरी चूत की खुजली को मिटाने में उसका लंड बड़ा ही मस्त मजा दे रहा था.

हालांकि मुझे दर्द हो रहा था लेकिन नशे के कारण मुझे मीठा मीठा मजा आने लगा था. निकालो … प्लीज़ … छोड़ दो … उम्म्ह… अहह… हय… याह… दर्द हो रहा है … अइया …’ जैसी दर्द भरी आवाजें निकालती रही, मगर मैं उसकी चूत को सहलाता रहा और अपने लंड को उसकी गांड में पूरा डाल कर लेटा रहा. लेकिन ये फर्स्ट टाइम था जब मैं किसी लड़के के साथ लिप किस कर रहा था.

फिर उसने धीरे धीरे ऋतु को चोदना शुरू किया और बाद में अपनी स्पीड बढ़ा दी. मैं उसके चूतड़ों को अपने हाथों से पकड़ कर उसका लंड अपनी चूत में धकेलने लगी. मैंने उसकी भावनाओं का ध्यान रखते हुए घर वालों से शादी की मना कर दी.

बीएफ सेक्सी स्पेशल गोल गोल हिरनी जैसी आंखें, भरे भरे गाल, सुडौल नाक, रसीले होंठ तो आह … मानो संतरे की फांकों जैसे रसीले होंठ हों. धीरे धीरे मैं इंदु के पेटीकोट का नाड़ा खोलने लगा, तो उसने मना कर दिया.

एक्स एक्स देसी फिल्म

कुछ पल के दर्द के बाद मैंने उसकी टांगें फैला कर गांड के रास्ते को चौड़ा करते हुए चोदना चालू किया. जी … मुझे नहीं पता कुछ भी …” मैंने शर्मिंदा सी होकर जवाब दिया।अच्छा … तुझे अब कुछ भी नहीं पता … यू. मैं अब जल्द से जल्द चूत में उसका लण्ड डलवा लेना चाहती थी पर वो बस मुझे तड़पाए जा रहे थे।वो मेरी चूत की पंखुड़ियों के बीच अपने लण्ड को रगड़े जा रहे थे। मुझे बहुत मजा आ रहा था।अब मैंने राहुल से कहा- प्लीज … अब मुझसे बर्दाश्त नहीं होता, जल्दी से अपना लण्ड मेरी चूत के अन्दर डालो और मेरी चूत का कीमा बना दो.

वो मेरी चूत को सहलाने लगा और मेरी चूत में अपनी उंगली डाल कर मेरी चूत को चोदने लगा. मैंने उन्हें नीचे उतार कर चूमना शुरू कर दिया और अपने होंठ उनके सुलगते होंठों पर रख दिए और बहुत देर तक उन्हें चूसता रहा. सेक्सी विडियो बिएफउसकी चूत ने थोड़ी ही देर में पानी छोड़ दिया, पर मेरा लंड अभी और बेकरार था, इसलिए मैंने चूत से लंड बाहर निकाल कर उसकी गांड में डाल दिया और पद्मा भी चूतड़ हिला हिला कर गांड मरवाने का मज़ा लेने लगी.

उसके बाद मैंने दिन फिक्स करने के लिए कहा तो वह बोली- दो दिन बाद आ जाना.

जब एक बार यह तय कर लिया कि उन दोनों को छूट देनी ही है तो फिर मन से सब नैतिक अनैतिक निकाल दिया। कभी शादी से पहले यह सब वीणा ने भी किया ही था और मेरी बेटी भी इंग्लैंड में रह रही है तो क्या करती न होगी। यह सब जवानी की सहज स्वाभाविक प्रतिक्रियायें हैं जिनका आनंद सभी ले रहे हैं। मैं नहीं ले पाया तो यह मेरी कमी थी. उसने भी मेरा साथ दिया और वो अपना हाथ मेरे हाथ के ऊपर रखके जोर जोर से अपने दूध दबवाने लगी.

मैं तो जन्नत के मजे ले रहा था। फिर मैंने उसका सिर पकड़कर लंड को उसके मुँह में आगे पीछे करना शुरू कर दिया. तब दोनों बोले- ओहहह इसीलिए रस बहा है … कोई बात नहीं, इस एज में ऐसा होता है, चलता है. मैंने उसे नीचे किया, उसकी दोनों टांगों को फैलाया और अपने लंड से जोर जोर से उसकी चूत पर चाबुक चलाने लगा.

मैंने दरवाज़ा खोला तो आंटी दरवाज़ा धकेल कर अंदर आ गई और उनके हाथ में फलों की एक प्लेट थी.

मैंने पूछा- क्या हुआ? तुम नाराज हो क्या मुझसे?वह बोली- नहीं पागल, तुमने एक साइड से मेरी चूचियों को दबा दिया इसलिए दूसरी साइड मुझे दर्द हो रहा है. वह मेरी गांड को पकड़ कर खुद ही अपनी चूत में मेरे लंड को धकेलने की कोशिश करने लगी मगर मैं पूरा लंड आंटी की चूत में अंदर तक नहीं जाने दे रहा था. मुझे उस लड़के से चुद कर ऐसा लगा कि जिंदगी का मजा तो सेक्स में ही है.

बबली की सेक्सीवैसे मेरी नजर तो उस दिन से थी, जिस दिन में शादी में भाभी को स्टेज में देखा था. लेकिन जो प्यार मेरी तरफ से था क्या वो प्यार कोमल भी महसूस कर पा रही थी.

बीएफ सेक्सी वीडियो नंगी सीन

मैंने अब उसके पजामे में हाथ डालने की कोशिश की, तो उसने मना कर दिया. मैंने उनसे पूछा- आपके हब्बी तो आपको टाइम देते है न?तो वो एक लम्बी साँस लेकर बोलीं- बस टाइम ही तो नहीं है उनके पास … बाकी तो सब दे रखा है. हालांकि मैं होली नहीं खेलता लेकिन उस दिन की होली ने मेरी लाइफ बदल दी.

मैंने भी कुत्ते की तरह उनकी चूत में लंड डाल कर जोर जोर से झटके मारना शुरू किए और उनकी गांड पर दोनों हाथों से बारी बारी तमाचे मारने शुरू कर दिए ताकि वो अपनी चूत टाइट करती रहें और अपनी गांड ऊपर उठाती रहें. फिर मैंने अपनी उस उंगली से शिल्पा की गांड के छेद पर क्रीम लगा कर अपनी उंगली अन्दर डालने लगा. मुझे नशा सा हुआ तो मैंने सुनील को कहा- उफ आह मेरे राजा … खुलकर खेलो न मेरी जान.

और जब वो आगे को झुकी, तो मेरी निगाह उसके कमीज़ के गले के अंदर गई। अंदर दो दूध से गोरे, गोल मम्में दिखे। बस देखते ही मेरा तो मन मचल उठा, मैं सबसे नज़र चुरा कर बार बार उसकी कमीज़ के गले के अंदर देख रहा था। उसके मम्में देख कर मेरा तो लूडो के खेल से मन ही उठ गया। मैं तो अब कोई और ही खेल खेलना चाहता था। मगर चाह कर भी मैं सुमन से वो सब नहीं कह सकता था, जो मेरे मन में था. मैं सोच रहा था कि किसी तरह अगर मैंने कोमल से बात कर भी ली तो क्या उसके बाद हमारा वो रिश्ता किस कैटेगरी में आएगा. उसकी गहरी सांसें … और बंद आंखें बता रही थीं कि अपने काम उतेज़ना का पहला चरमोत्कर्ष सलोनी को मिल चुका था.

फिर जब मैंने अपना मुँह हटाया तो वो भूखी शेरनी की तरह उठी, उसने मुझे नीचे गिराया और मेरे ऊपर चढ़ गयी. सुखबीर अपनी गाड़ी खड़ी कर घर का दरवाजा बंद करने ही वाला था कि मुझे इस तरह परेशान देख तुरंत बाहर निकल आया, उसने बहुत व्यग्रता से मुझसे पूछा- क्या हुआ?वो भी शायद मुझे इस अवस्था में देख कर डर गया था.

मेरे पापा ने पूछा- फिर आप इसके साथ ये क्या कर रहे थे?वो बोले- हम ओशो के शिष्य हैं और सेक्स कभी ये नहीं देखता कि भाई बहन है या पिता पुत्री हैं.

मैं एकता की पीठ पर चुम्मा चाटी करने लगा और दोनों आपस में किस करने लगीं. जिम जाने वाली लड़कियों की सेक्सी वीडियोऐसा करते देख कर सारा ने खुद ब खुद अपनी टांगें फैला दीं और मेरे बालों में हाथ फेरने लगी. सेक्सी पाकिस्तानी व्हिडिओवह सोनम के दादा के उसी घर में जहां शादी चल रही थी, उसी घर के जस्ट बगल से उन्हीं की सार थी. भाभी- अच्छा है, तुम कल फ्री हो क्या?मैं- नहीं फ्री तो नहीं हूँ, वहीं ट्रैनिंग पे जाना है.

उसके मुंह में लौड़ा घुसाकर चुसाया, पर इसमें वो ज़्यादा जानकार नहीं थी.

थोड़े से उन्माद में मैं भी भर चली थी पर लज्जा के मारे हल्का सा विरोध कर रही थी- आप क्या कर रहे हैं अमित जी … हम सिर्फ़ दोस्त बने हैं. राहुल ठोकर पर ठोकर मार रहे थे और मेरी चूत फचफचा रही थी। राहुल मैं झड़ रही हूँ … आहह्ह्ह … ठोको अपना लंड … चोदो … फाड़ दो मेरी चूत. थोड़ी ही देर में मेरा औजार फिर से खड़ा हो गया। अब अंताक्षरी खेलते-खेलते भी बहुत समय हो गया था.

मैं दिखने में एकदम हीरो जैसा हूँ, हां जरा दुबला पतला हूं, लेकिन लंड 8 इंच का मस्त मोटा है. शौहर ने मुझे छोड़ने से पहले मेरे साथ कुछ समय बिताया था, तब जी भर के मुझे मज़ा दिया था. लेकिन उनका कमरा सेक्टर में नहीं बल्कि सेक्टर के साथ लगते एक गांव में था.

फौजी बीएफ सेक्सी

उसने एक कातिल मुस्कान के साथ जवाब दिया।मगर मैं सोच रहा था कि सुषी के दिमाग में क्या चल रहा है? फोन पर तो इसने मुझे किसी और के बारे में नहीं बताया. अब मैंने उसका गाउन उसकी सहायता से उतार दिया और ब्रा के ऊपर से ही चूचियों को दबाने लगा और एक चूची को चूसने लगा और वो मेरे बालों में प्यार से हाथ फेरने लगी. और थक कर कुछ देर हम ऐसे ही आंखें बंद करके एक दूसरे की बांहों में पड़े रहे.

ये सब बातें सुनते ही मैं भी और जोश में हो गया और आंटी को पेलने लगा.

उसने पूछा कि ऐसे कैसे गांड में डालोगे?मैंने कहा- मुझे तुम्हारी चूत मारनी है.

अपना मुँह उसकी चूत पे लगा दिया और उसकी गुलाबी चूत को चाटना शुरू किया. मैंने चेहरा मर्दाने चूतड़ों के बीच में घुसाया और गांड से होंठ जोड़ दिए. नागिन सेक्सी फोटोतब मैंने अपने मन में खुश होते हुए बोला कि चलो अब चिड़िया जाल में फंस चुकी है.

उसने बस इतना कहा और मेरे उत्तर का इन्तजार किये बिना घर में अन्दर घुस आया. मुझे शरारत सूझी, मैंने एक उंगली पे ढेर सारा थूक लगा कर उसकी गांड में डालने लगा. वह जोर जोर से आवाजें निकाल रही थी- आह्ह … ऊऊऊ … आआआ … उम्म … ओह्ह … अम्म … मा … उफ्फ … करती हुई वह चुदाई का मजा लेने लगी.

तो मैंने हंस कर कहा- तो क्या हुआ? तुम्हारे भाई ने मुझे इस कमरे में न्यूड किया और मैंने तुम्हें! चलो अब उठ जाओ, नहीं तो मैं नाराज हो जाऊँगी. इसी बीच मैंने एक जोरदार झटका मारा और पूरा लंड उसकी चूत में जा घुसा दिया.

तो मैंने उसकी बात मान ली और अपनी साड़ी कमर तक उठा कर पैंटी निकाल दी.

एक दिन मैं ऐसे ही घर पर था और मेरी माँ किसी से फोन पर बात कर रही थी. आह्ह … ओहह्ह … आह्ह …मैंने चार-पांच जोर के धक्के लगाए और आंटी की चूत में अपना माल गिराना शुरू कर दिया. वैसे भी जिनके पास चूत और लंड का कोई इंतजाम नहीं होता है, उनके लिए अन्तर्वासना तो है ही.

सील पैक लड़की की सेक्सी मैंने कहा- जो मन चाहे खा लो, मैंने रोका है क्या?उसने बिना कुछ बोले मुझे बेड पे धक्का दे दिया और तुरंत झुक कर मेरे लंड को मुँह में लेकर कर पागलों की तरह चूसने लगी. मैंने सेफ्टी के लिए पंकज से पहले बाहर निकल कर देखा तो मेरी सास के कमरे का दरवाजा बंद ही था.

अगले ही पल मेरे बगल से एक और लड़का मुझसे चिपक गया और मेरे कान में बोला कि मैं अपने मोबाइल की टॉर्च लगा रहा हूं, मुझे बस तेरा चेहरा भर देखना है. मैंने उससे पूछा- चुत चोदेगा?वो मुझसे लिपट गया और अब वो भी मेरा साथ देने लग गया. मेरा जब जी करे उन्हें चोद लेता था, दिन में देविका जी, तो रात में मोहिनी जी.

देहाती बीएफ व्हिडीओ

फिर मैंने नीचे से हाथ डाल कर उसके चूतड़ दबाये और कहा- सच्ची दीदी, ये बड़े मस्त हैं. रिशु ने मिशिका की ब्रा के हुक खोल दिए और उसने मिशिका दीदी के कबूतरों को खुला छोड़ दिया. उनके नंगे, गोल गुदाज बाजू और घुंघराले कन्धों तक सजे बाल गजब ढहा रहे थे.

बड़े शहर में एकदम से घर मिलना कितना मुश्किल होता है, ये तो आप जानते ही हो. बल्कि काम्या के मुकाबले बड़ी बड़ी चुचियां, चौड़ी गांड की वजह से मेरी सास ज्यादा सेक्सी लग रही थीं.

उन्होंने बताया कि मेरा एक लड़का है, जो अभी बारहवीं में है, हॉस्टल में ही रहता है.

उसे भी मज़ा आया और अबकी बार उसने घूंट भरा और मुझे अपने मुँह से पिलाने लगी. मैंने कहा- क्या बात है … दोनों ने पूरी बात एक एक शब्द सेम टू सेम बोला. इस बात का एहसास होते ही देर न करते हुए प्रशांत ने उसे अपनी बांहों में लपेट लिया.

बाद में उसके द्वारा पता चला कि इसका पहले से भी कोई था, जिससे प्रीति चुद चुकी थी. हम दोनों लोग की ये बात चलती रही और हम दोनों लोग एक दूसरे के करीब आते गए. मैं एक बार फिर मायूस सी होकर उठी और आन्सर शीट वहीं छोड़ कर ऑफिस के बाहर चली आई.

बेबी फ़क मी हार्ड … जोर से चोदो मेरे शेर … याआहहअ बेबी फक भड़वे … चोद दे … आह … निकाल दे इस चुत का रस … साली ने नाक में दम कर रखा है … ऊऊह … उम्मम्म … ओह्ह … आह … यू फक सो गुड …”उधर प्रमिला भी ‘ईईईस्स … ओह्ह्ह … सक माय पुस्सी.

बीएफ सेक्सी स्पेशल: फिर मैंने उसके पैरों को फैलाया और उसकी चूत को देखकर मेरा हाल बुरा हो गया … बिल्कुल साफ़ वाइट कलर की और उस पर पिंक कलर का क्लिट देख कर दिमाग़ खराब हो गया, उसने मेरे लिंग को देखा और बोली- वाह… इससे तो मज़ा आ जाएगा. जब मैं मस्ती से अपने बॉयफ्रेंड के लंड पर कूद रही थी, तो मेरी चूचियां हवा में हिल रही थीं.

फिर हम एक दूसरे से अलग हुए और मैं उसे गोद में उठाकर उसके बेडरूम में ले गया. मेरी बीवी की भोसड़ी पर एक भी बाल नहीं था और उसकी भोसड़ी पावरोटी जैसी फूली हुई थी. उसने मेरी चूत को चाटने के बाद अपना लंड मेरी चूत पर रखा दिया और लंड के सुपारे को मेरी चूत की फांकों पर रगड़ने लगा.

मुझे उस लड़के से चुद कर ऐसा लगा कि जिंदगी का मजा तो सेक्स में ही है.

मेरा लंड उत्तेजना के कारण ऊपर नीचे हो रहा था।फिर मैंने उसका हाथ पकड़ कर लंड पर रख दिया और धीरे से आगे पीछे करने लगा और लंड अपनी फुल साइज़ में खड़ा था और दर्द कर रहा था. मैं उनको देख कर पहले तो सकपका गया लेकिन उन्होंने जब मेरा चेहरा देखा और फिर नीचे मेरे लोवर की तरफ ध्यान दिया तो वे मुस्कुरा कर चली गईं और जाते हुए बोलीं- खाना खाने जल्दी आ जाओ. ”मुझे कोई परेशानी नहीं है … हाँ अगर तुम्हें कोई परेशानी है तो बताओ … अगर कहो तो तुम्हारे लिए दूसरा कमरा ले लूँ?”नहीं कमरे की कोई जरूरत नहीं है … आप बहुत अच्छे है … मुझे आपके साथ कोई परेशानी नहीं … मैं एडजस्ट कर लूँगी.