हिंदी सेक्स बीएफ चाहिए

छवि स्रोत,रोमांटिक बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

ब्लू बीएफ वीडियो मूवी: हिंदी सेक्स बीएफ चाहिए, सुबह जब मैं उठा तो देखा कि निशा पहले ही उठ चुकी थी, चाय बना रही थी.

நாட்டுக்கட்டை எக்ஸ் வீடியோ

तब पहले ने कहा- चल सौरभ, इसकी पैंट उतार और इसे नंगा कर… मेरा लंड तो आज सुबह से इसकी मारने के लिए खड़ा हुआ है लेकिन साला अब जाकर हाथ लगा है. बीएफ ब्लू मूवीसवो बाइक के साथ अपनी गांड लगाकर खड़ा हुआ था, उसने दोनों हाथ छाती के पास लाकर बांध रखे थे और उसकी खाकी पैंट में से उसका मोटा सा सोया हुआ सा लंड अलग से दिख रहा था जो आधी सोई हुई अवस्था में मालूम हो रहा था.

मैं बोली- आज रात वरुण फिर से ऐसा करेगा क्या?तो वो बोले कि कल रात जो काम आधा किया, आज वो पूरा करेगा, देख लेना… बस तुम कल की तरह चुपचाप सोती रहना!फिर क्या… रात हुई और मैं जमीन पर सो गई पर मैं सो नहीं रही थी आज तो मैं वरुण को देख रही थी कि क्या करता है. बिहारी सेक्सी भाभीइस तरह बाहर कहीं नहीं करती हूँ।’ आंटी ने अपने मम्मे रगड़ते हुए मुझे जबाब दिया।‘कम से कम दो मिनट के लिए तो आप कपड़े उतार ही सकती हो। न जाने क्यों मैं आपकी ब्रा के अन्दर क्या है, उसे देखना चाहता हूँ.

कोई गड़बड़ हो गई तो तू मुझे भी पिटवायेगी और तुझे भी यहाँ से कमरा खाली करना पड़ेगा.हिंदी सेक्स बीएफ चाहिए: और वो बाहर रंडियों के पास जाते हैं। बीवियां चुत की आग न बुझ पाने से प्यासी बनी रहती हैं।ऐसी भाभी और आंटी की चूत चाटने में मज़ा आता है।मेरी चुदाई की कहानी पर ईमेल जरूर करना।[emailprotected].

अवी मेरे स्तन अभी भी चूस रहा था।मैंने उससे कहा- आज जितना मज़ा आया, कल भी उतना ही मज़ा आएगा.जब वो झुकती तो उनके भारी बूब्स दिख जाते, मैं नज़र भर कर उनको देखता.

बीएफ हिंदी में सेक्स - हिंदी सेक्स बीएफ चाहिए

चलो तुम भी तो अपने नाग को आज़ाद करो। मैं भी तो देखूँ कैसा है वो?राजू तो जैसे हुकुम का गुलाम था.मैंने ऋषि को कहा- ऋषि जो हुआ, इसका किसी को कुछ पता मत चलने देना!यह कह कर मैं वहाँ से चली गई और हॉस्टल पहुंच गई.

माँ को भी मजा आने लगा, वो अब आवाज करने लगी थी- आआआ ई ई पेलो मेरे राजा आहह… ठीक से पेलो व्व्ह्ह्ह मजा आ रहा है बेटा वाह आअहह दोनों अच्छे से चोद रहे हैं… आआईयईईई अभी पानी मत निकालना आऐईय ईईईई… खूब चोदो रंडी की तरह!मैं और आलोक ज़ोर के झटके दे रहा था और माँ चिल्ला रही थी- आआअ उउउआआआअ… धीरे… मैं मर गई. हिंदी सेक्स बीएफ चाहिए मैं आवाज़ें करने लगी।तभी उसने मुझे अपनी गोद में उठाया और जाकर अपने बिस्तर पर पटक दिया। उसने अपनी टी-शर्ट उतार दी और मेरे पास आ गया। उसने मेरी कुरती उतार दी.

तभी मैंने रजनी की पेंटी के ऊपर होंठ लगाए और फिर उसकी पेंटी को अपने दांतों में फंसाया और धीरे धीरे उसकी पेंटी को दांतों में लेकर नीचे को करने लगा.

हिंदी सेक्स बीएफ चाहिए?

कुछ देर किस करने के बाद मैं उसके मम्मों को मसलने लगा, उसके कड़क मम्मों को मसलने का अलग ही आनन्द आ रहा था, जैसे मैं उसकी टीशर्ट के अंदर हाथ डालने लगा तुरन्त ही उसने किस करना बन्द कर मेरे गाल पर हल्का सा तमाचा जड़ दिया. मैंने स्माइल देते हुए कहा- लेकिन आप सर से काफी छोटी लगती हो उम्र में?तो उन्होंने बताया कि वो 22 साल की है और सर 29 के हैं. बेंच कहना गलत होगा, असल में उसने दो संदूकों को लम्बाई में जोड़ के एक लम्बा सा बेंच बना लिया है और उसके ऊपर गद्दे व सुन्दर सी चादर बिछा के उसको मस्त लव सीट बना लिया है.

साराह भी चीख रही थी- मजा आ गया जीजू… मैं तो अब रोज आपसे एक बार जरूर चुदुंगी. ले तेरी घोड़ी तैयार है आजा चढ़ जा!काका खड़ा हुआ और मोना के पीछे जाकर लंड को चुत पे सैट किया फिर मोना की कमर को कस के पकड़ के एक जोरदार धक्का मारा तो पूरा लंड एक हे बार में मोना की चुत में जड़ तक समा गया।मोना- आआईइ काका मार डाला रे. ’ गांड मारने की आवाज आ रही थी।मैंने आंखें बन्द कर लीं और अपना सर टेबिल पर टिका दिया। उसके हर धक्के पर मेरे भी मुँह से आवाज निकलती। ‘आ.

कमरे में जाते ही मैंने देखा कि कमरे में बेड को फूलों से सजाया हुया था. राजू ने समझते हुए, पास में पड़ी अपनी बेल्ट उठाई, और उसका एक सिरा नताशा के गले में बांध कर दूसरे सिरे से झटके देते हुए उसकी चूत में धक्के मारने लगा. हम तीनों की बेतहाशा बढ़ती हुई चुदास को देखते हुए मैंने सुलेखा को चोद देने का निर्णय लिया, मैं बोला- सुन सुल्लू रानी चल अब तुझे चोद देता हूँ… अब कर ले अपनी बरसों की मुराद पूरी… बहुत लंड चूस लिया… अब चुदने की तैयारी कर माँ की लौड़ी!तभी रीना रानी बीच में कूदी.

आंटी ये सब नोटिस कर रही थी मगर अपने कपड़े ठीक नहीं कर रही थी, मुझे ऐसा लगा जैसे आंटी मुझे सिड्यूस कर रही हैं. वो मना कर रहे हैं। मुझे कुछ शॉपिंग करनी है।तो मम्मी मुझे फोर्स करने लगीं।मैं तो तैयार ही था, फिर मैं तैयार होकर उसके साथ बाइक से निकल लिया। सिटी हमारे घर से 8 किलोमीटर दूर है। उस दिन प्रीति ने एक टाइट जीन्स और ब्लैक कलर की टॉप पहन रखा था।जब हम कुछ दूर निकल गए तो उसने मुझे अपनी बांहों में पकड़ लिया। उसने अपने चेहरे पे दुपट्टा बाँध रखा था, जिससे उसे कोई पहचान ना सके।क्या बताऊं फ्रेंड्स.

उसने दरवाजा खोल दिया मगर मेरी हिम्मत उसके घर में जाने की नहीं हुई और मैं वापस अपने घर आ गया.

सच में बहुत मज़ा आ रहा था मगर लास्ट मौके पे आपके भाई ने सब गड़बड़ कर दी।टीना- अरे गड़बड़ कैसी? तूने उसके लंड की इतनी मस्त चुसाई की थी कि अच्छे-अच्छे लंड पानी फेंक दें, फिर ये तो अभी छोटा है।सुमन- दीदी उसमें अजीब सी गंध थी और स्वाद भी कितना अजीब था, शुरू में तो वो ठीक सा लगा.

‘बड़ा मीठा हैं जीजू का लंड तो… ऐसा लगता है जैसे शहद में भिगो के अंडरवीयर में छिपा के रखता हो…’मैंने मुँह को थोड़ा और खोला और लौड़ा मेरे मुँह में मस्त पेला जा चुका था. जैसी ही उसे लगा कि मैं उसकी तरफ देख रहा हूँ, उसने शरमा कर आँखें नीचे कर ली तो मैं भी अपने काम में लग गया. वो भी जल्दी से पूरा नंगा हो गया और मेरे ऊपर चढ़ गया। वो मुझसे छोटा था इसीलिए वो बड़े मज़े से मुझे किस कर रहा था। मैं भी उसका साथ दे रही थी.

मैंने फोन कट कर दिया।उसके बाद मॉम-डैड भी जॉब से वापस आ गए और भाई भी उठ चुका था। फिर सबने ब्रेकफ़ास्ट किया और मैं कॉलेज चली गई. उसकी वजह से मैं काफी उत्तेजित हो चुका था। शायद मैंने पतलून में ही माल छोड़ दिया था।दोपहर को खाना खाने के बाद हम लोग आराम फरमा रहे थे। हम लोग बाहर के कमरे में सोए हुए थे और आंटी और उनके पति अन्दर सोए हुए थे। वह कमरा अन्दर से बंद था। मुझे पेशाब करने जाना था। अन्दर क्या हो रहा था. फिर मेरे लंड को मुंह में भरकर चूसने लगी साथ ही वो मेरे चूतड़ों को दबाती जा रही थी और अपनी उंगलियाँ मेरी दरार में चला रही थी.

मुझे बस बॉल से खेलना है।’मैंने सोची कि थैंक गॉड ये मेरे साथ कोई ज़बरदस्ती नहीं करने वाला।मैंने मूक सहमति दी और अब हम दोनों मेरी बर्थ पर आ गए। हम दोनों कम्बल के अन्दर आ गए।‘मुझे तुम्हारे दूध देखना है और दबाना है।’‘नहीं.

मगर जब गाढ़ा सफेद रस आया तो उससे मुझे घिन सी आ गई।टीना- अरे शुरू में अजीब लगता है मगर बाद में उसे चाटने के लिए दिल बेताब हो जाता है. रयान ने उसे समझाया कि वो अपना फ्रेंड सर्किल बढ़ाये और मस्त रहे… दोनों के बीच यह तय हुआ कि हर पंद्रह दिनों के बाद दो दिन के लिए रयान यहाँ आयेगा और तीन दिनों के लिए निष्ठा वहाँ रहेगी. मैं फिर गांड में तेल की उंगली डाल कर अन्दर बाहर करने लगा।अब मैंने कहा- जान, तैयार हो जा, अब डाल रहा हूँ!भाभी ने गर्दन हिला कर हाँ का इशारा दिया.

माँ ने कहा- इसलिए तो मैं तुमसे चुदाई करवा रही हूँ, ठीक से चोद पाओगे न?‘साली, अभी दिखाता हूँ मैं तुझे मेरी हैसियत!’आलोक ने माँ को बेड पर लिटा दिया, फिर पेटीकोट का नाड़ा खोल कर अलग कर दिया और माँ की चूत पर हाथ फेरते हुए उसने अपना मुंह माँ की चूत पर रखा और चाटने लगा, माँ जोर से चिल्लाने लगी- आह औऊ हम्म… हहह हाह हय उम्म्ह… अहह… हय… याह… और कर ना बहुत अच्छा लग रहा है. वो आदमी चड्डी भी उतारता है, लड़की विरोध करती है, अपने पैर सिकोड़ के भींच लेती है लेकिन वो आदमी ताकत से उसकी चड्डी भी उतार कर फेंक देता है और उसके पैर खोल कर उसकी चूत पर मुंह लगा देता है. रीमा मेम साहब को क्या पता नहीं, गीता के पेट में किसका बच्चा था, जो उसने पैसे देकर सफाई करवाई है.

तो इनकी बेटी कितनी सुंदर होगी।मैं आंटी के पास को गया, तभी अंकल ने आंटी से कहा- रमा चलो अब ज़रा घोड़ी बन जाओ.

किसी ने सच ही कहा है- आधी छोड़ सारी को ध्यावे, सारी मिले न आधी पावे. भाभी जी ने मेरा नम्बर सेव किया और सीढ़ियों पर पहुँचते ही पलट कर पूछने लगी- आपका व्हाटसप नम्बर भी यही है ना?मैंने ‘जी भाभी जी…’ कहते हुए उन्हें घूर कर देखा.

हिंदी सेक्स बीएफ चाहिए एक से बड़ी एक छिनाल रहती है यहाँ, ऊपर से बड़े नेक, शरीफ और अंदर से एक नंबर की रंडियाँ साली!मैंने पूछा- इनके साहब लोगों को नहीं पता क्या?रामू काका बोले- क्यों नहीं पता, वहाँ भी सेटिंग है, कोई एक दूसरे को नहीं पूछता. अब दोनों ही बर्दाश्त नहीं कर पा रहे थे तो फटाफट टॉवल से पौंछ कर बेड की ओर भागे.

हिंदी सेक्स बीएफ चाहिए ये उसे आज ही पता लगा।राजू- मुझे माफ़ कर दो काका, मैंने आपको गलत समझा। भगवान के लिए ये बात किसी को मत बताना मेरी दीदी का घर बिखर जाएगा।काका- अगर बताना होता तो अब तक बता चुका होता। तू भी आज की बात भूल जाना. मैं उसको उकसाता हुआ बोला- किसको शक भी नहीं होगा।बहुत रिक्वेस्ट के बाद वो बोली- सोचकर बोलूँगी।फिर हम दोनों सो गए।अगले दिन दुकान के आने के बाद देखा नीलू ने नहाकर एक सेक्सी सलवार-कमीज़ पहन रखी है।मैं बोला- नीलू क्या बात है आज तो एकदम सेक्सी माल लग रही हो।उसने थोड़ा गुस्सा दिखाया और चली गई।शाम को हम दोनों ने खाना खाया.

उसमें बैठ गए। मैडम बिजली घर मुख्यालय के पास रूकीं वहां उनका छोटा भाई रहता था। उसने ही दरवाजा खोला हम दोनों उतर गए।भाई मेरा हमउम्र ही था, वो बिजली विभाग में ही था। उसने नाश्ता कराया। वहां से चल कर मैं इन्दर गंज चौराहे पर आ गया। वर्कशॉप बारह बजे से थी.

बीएफ देखना है हिंदी में

मगर लंड का अहसास उसको हो रहा था, उसने हल्के से होंठ खोल दिए, जिससे काका का लंड उसके मुँह में घुस गया। अब काका धीरे-धीरे मोना के मुँह को चोदने लगे। थोड़ी देर ऐसा करने के बाद काका का लंड एकदम कड़क हो गया. चूचुक के मुंह में आते ही मैंने उसका दूध पीने लगा और वह अपने हाथ को मेरे सिर के बालों में फेरने लगी तथा थोड़ी थोड़ी देर के बाद मेरा माथा भी चूम लेती. लगभग बीस मिनट के बाद जब दरवाज़े की घंटी बजी तब मैंने भाग कर उसे खोला तो वहाँ अम्मा गोदी में एक बालक को लिए खड़ी थी और उसके पीछे माला सिर झुकाए अपने को छिपाने की चेष्टा कर रही थी.

उन सभी चूत वालियों को स्पेशल खड़े लंड से प्यार जिन्होंने मेरी कहानी पढ़ कर मेरे नाम से अपनी चूत का रस निकाला, उनमें से कुछ के नाम मैं यहाँ बताना चाहूँगा: नेहा, रूचि, नीलू, प्रिया और प्रियंका, जिन्होंने मुझे फ़ोन करके अपनी चूत पे हाथ रखते हुए मेरी कहानी की तारीफ़ की. वो मुंबई की रहने वाली एकदम गोरी… उसका बदन तो ऐसा है कि देख कर ही पानी निकल आए. तीसरी और सबसे महत्वपूर्ण बात यह कि मेरी मान प्रतिष्ठा मोहल्ले में बहुत अच्छी थी अतः मैं किसी भी तरह की कोई भी रिस्क लेने के खिलाफ था या स्थिति में ही नहीं था तो मैं स्नेहा का चक्षु चोदन करके और उसे ख्यालों में लाकर अपनी बीवी को चोद चोद कर या मुठ मार कर ही खुश था.

मैं उठकर बैठ गई और आदित्य से बोली- आ गए आप…!मैंने आदित्य को अपने साथ बेड पर बिठा लिया.

इतने वर्षों से राजे से चुद के मुझे काफी अंदाज़ा होने लगा था कि वो कब झाड़ेगा. पर जल्दी कर लें।‘अबे ले तो रहा हूँ।’वह फिर बोला- जल्दी करें।मैं धकापेल शुरू हो गया. दोस्तो, आज मैं आपको अपने साथ घटी एक अनोखी घटना के बारे में बता रही हूँ, जिस से मेरी लाइफ में बहुत बदलाव आ गया.

कोई गर्लफ्रेंड है?मैंने कहा- हाँ है।तो उन्होंने हंसते हुए कहा- फिर तो तुम्हारे मज़े हैं।मैंने सादा सा चेहरा बनाते हुए कहा- कहाँ आंटी, कुछ मजे नहीं हैं।आंटी ने कहा- क्यों तेरी गर्लफ्रेंड तुझे खुश नहीं रखती?मैंने कहा- नहीं आंटी।तो उन्होंने पूछा- तुम्हें खुश होने के लिए क्या चाहिए. माँ उचकी, बोली- तुम लोग आज मेरी जान ले के छोड़ोगे!माँ बोल ही रही थी कि हम दोनों ने एक साथ बुर में लंड घुसा दिया. लेकिन मुझे समझ नहीं आ रहा था कि उसे चोदने के लिए कैसे कहूँ। मैं भी जानती थी कि वो मेरे बड़े-बड़े मम्मों को घूरता है.

हमारे होंठ कुछ यूं मिले कि पंद्रह मिनट तक अलग होने का नाम ही नहीं लिया… वो और मैं सिर्फ सांस लेने के लिए अलग होते और अगले ही पल फिर हमारे लब एक दूसरे से चिपक जाते. मगर भाभी ये सब देख कर बस मुस्कुरा कर रह जाती थीं।अब मैंने ठान लिया था कि सोना भाभी को चोदना ही है। मैंने एक दिन मौका देख कर किचन में भाभी की गांड पर हाथ फेर दिया.

निकिता बोली- कमरे पर कर लेना!मैंने कहा- नहीं, यहीं करना है, तुमको भी अच्छा लगेगा, मुझे अभी किस चाहिए!उसने धीरे से मुझे होंठों पर किस कर दिया. ’ बोलने लगी।बाद में वो ठीक हो गई और उसका दर्द खत्म सा होने लगा। अब मैंने खुल कर झटके देने शुरू किए तो वो बोलने लगी कि और जोर से झटके मारो।मैंने दे दनादन चुदाई चालू कर दी. तभी मुझे लगा की मैं झरने वाला हूँ, मैंने मौसी से कहा- मेरा पानी पियोगी?तो उन्होंने हाँ की, मैंने झट से लण्ड चूत से निकाल कर उनके मुख में डाल दिया और सारा माल उनके मुख में ही छोड़ दिया.

आप मुझे हमेशा याद रहोगे! कोशिश करूंगी ललितपुर आने की!’ रानी मुझसे बोली.

मैं भी उसके ऊपर यूं ही पड़ा रहा, उसकी चूत संकुचित हो हो कर लंड से वीर्य की एक एक बूँद निचोड़ती रही. अब हल्के हल्के धक्के से उनका दर्द कुछ कम हो रहा था और वो मज़े की और अग्रसर हो रही थी और मेरा साथ दे रही थी. तो इसकी बॉडी भी अच्छी बनी हुई है।तीसरा विक्की जोशी उम्र 24 ये ठीक-ठाक सा ही है.

तो इसकी नसें अब ढीली पड़ गईं। अब ये जल्दी पानी फेंक देता है और खड़ा भी देर से होता है।राजू की बात सुनकर मोना को बड़ा गुस्सा आया वो तो कामवासना की आग में जल रही थी और ये ऐसी बातें कर रहा था। उसने राजू को जोर से धक्का दिया और चिल्ला कर बोली- कमीने नामर्द कहीं के. वो मोटा भी काफ़ी था। वैसे तो टीना कई बार उसको अपनी चुत में ले चुकी थी मगर आज ये कुछ ज़्यादा ही तना हुआ था।टीना- ओ माय गॉड.

आराम से, आज की पूरी रात है हमारे पास!भाभी ने मेरी टी-शर्ट उतारी और फिर उन्होंने थोड़ा सा केक अपने हाथों में लिया और उसे मेरी गरदन और मेरी छाती पर लगा दिया और फिर उसे चाटने लगीं।मैं- आआअहह. करीब 15 मिनट में मस्ती के बाद हम सेक्स करने के लिए फिर से तैयार हो चुके थे। मैंने फिर से उसको घोड़ी बनाया और काफी देर तक लगातार चोदा।फिर उसको प्यार के साथ विदा कह दिया।ऐसे हमारा अक्सर मिलना शुरू हो गया. उसकी चूत पे बाल भी थे, मुझे अपनुई बहन की चूत बहुत अच्छी लगी तो मैं चाटने लगा.

ट्रिपल ब्लू सेक्स

इसलिए वो अक्सर अपने बिज़नस टूर की वजह से काफी काफी दिनों तक बाहर भी रहते हैं.

मैं सोच में पड़ गया कि इससे दोस्ती कैसे बढ़ाऊँ मैं… ना जान पहचान!मैं तो अभी सोच ही रहा था कि वो खुद ही बस का वक्त पूछती हुई मेरे पास आई. दोस्तो, मेरी पिछली कहानीमामी की चुदाई की अधूरी दास्तानमें अधूरी रही कहानी पिछले सप्ताह पूरी हो गई है जिसके बारे में आज मैं आपको बताने जा रहा हूँ. मैडम बोली- उईईई उफ्फ कुत्ते साले… तेरा बहुत बड़ा है! थोड़ा मेरे ऊपर रहम कर! आह्ह्ह्ह!मैं थोड़ा रुककर ऐसे ही अपने लंड को डाले कुछ देर रुका रहा, फिर मैंने मैडम के दोनों बूब्स को एक एक हाथ में पकड़ा और बूब्स को दबाते हुए बूब्स के बीच में अपनी जीभ से चाटने लगा.

ऐसे जल्दबाज़ी में काम बिगड़ सकता है। टीना तुम सुनो शाम को मैं तुम्हें एक बुक दूँगा, उसके हिसाब से ही तुम सुमन को टास्क दोगी, अपनी तरफ़ से कोई एक्सट्रा काम ना करना. मेल कीजिएगा।[emailprotected]कहानी जारी है।चूत की चुदाई करवा ली एक अजनबी से-2. कॉलेज गर्ल्स एक्स एक्स एक्सउसने मेरे एक टट्टे को अपनी मुट्ठी में भरा और कुछ ऐसे दबाया कि मेरी जान ही निकल गई.

उसके बाद हमने बहुत बार सेक्स किया जो आज भी जारी है, उसने हमसे उसकीसहेली को भी चुदवाया, जिसकी कहानी मैं बाद में लिखूंगा. फिर रीना पहले चुदी और आखिर में रात के डेढ़ बजे मेरी चुदाई की बारी आई.

अब हल्के हल्के धक्के से उनका दर्द कुछ कम हो रहा था और वो मज़े की और अग्रसर हो रही थी और मेरा साथ दे रही थी. फ़ोन पर बात की तो उसने बताया- मेरी शादी को तीन साल हो गए हैं पर मेरे पति ज्यादातर काम से गुजरात में रहते हैं तो वो मेरे बदन की जरूरत पूरी नहीं कर पाते,मैं प्यासी हूँ लंड के लिएइसलिए मुझे आपसे दोस्ती करनी है. दोस्तो, मैं सोनाली एक बार फिर से आप सबके लिए बीवी की चुदाई एक नई कहानी लेकर उपस्थित हूँ, उम्मीद है आपको यह कहानी मेरी पिछली कहानियों की तरह काफी पसंद आएगी।आप सब लोगों नेमेरी पिछली कहानियों को तो पढ़ा ही होगाकि किस तरह मैंने एक घरेलू औरत से एक इंसेस्ट क्वीन बनने का सफर तय किया.

फिर एक जोर का झटका लगा, क्योंकि गाड़ी ब्रेकर में जोरों से उछली थी, मेरी भी नींद खुल गई, मेरा रुमाल सरक कर गोद में गिर गया था। खिड़की से तेज रोशनी भी आ रही थी।फिर मैंने सोचा कि मुझे तो बदली जैसा अहसास हो रहा था. अब कहानी उन्हीं के शब्दों में उनकी ही जुबानी…सेक्स शब्द मात्र से ही तन मन में रोमांच पैदा हो जाता है तो सोचिये जिसने एक बार ये स्वाद चख लिया हो तो वो इसके बिना कैसे तड़पता होगा?मैं निशा मल्होत्रा हरियाणा के कुरुक्षेत्र शहर से 34 28 36 फिगर की 28 वर्षीय नटखट अल्हड़ जवान शादीशुदा उच्च शिक्षित महिला आप सभी सेक्स दीवानों का अभिवादन करती हूँ. कुछ समय बाद मुझे मौसम में परिवर्तन महसूस हुआ, शायद बदली आ गई थी, और अब चेहरे पर सूरज की गर्मी का अहसास कम हो रहा था। अब तक सभी के गर्म कपड़े निकल चुके थे, मैंने भी स्वेटर निकाल कर रख दिया था।मैं अचेत होने जैसी मुद्रा में.

ऐसा कई बार हुआ दोस्तो… पर वह सेक्स तो पॉसिबल नहीं था इसलिए मेरा लंड और मैं दोनों कब सो गये, पता नहीं चला.

इतना बड़ा और मजबूत तो मैंने आज तक नहीं देखा, क्या करते हो इसे इतना सख्त करने के लिए?मैंने कहा- कुछ नहीं मैडम जी, बस थोड़ी बहुत कसरत कर लेता हूँ. बस पार्टी करती रहती हो शाम से मॉम की तबीयत खराब है।टीना- अरे पागल तो मुझे कॉल नहीं कर सकता था तू.

मेरी सुन्दर पत्नी अपनी मुस्कुराती आँखों से मुझे देखते हुए सिस्कारियां भरती रही. बचपन से ही चाचाजान हमारे घर पर आते जाते रहते हैं, वो हमेशा तब आते थे जब अब्बू घर पर नहीं होते थे. लेकिन मैं यह सब तुम्हारी माँ को नहीं बोलूँगी अगर तुम मेरा एक काम करोगे तब?मैं- हाँ बताओ आंटी वो क्या काम है?शीना- ठीक है.

पर अभी आंटी की चुत ठण्डी नहीं हुई थी।फिर आंटी ने मुझे इशारा किया तो मैंने जल्दी ही उनके चुत पर अपना लंड रखा और धक्के देने लगा।दस मिनट बाद मेरा भी माल निकलने वाला था तो आंटी से पूछा कि कहाँ निकालूँ?तो उन्होंने कहा- मेरे मुँह में गिरा दे।मैंने जल्दी से उनके मुँह में मेरा लंड दे दिया और हाथ से हिलाने लगा. चल अब सो जा, मॉम उठ जाएंगी, तो फिर तू मुझे ही कहेगा।दोनों चुपचाप अपने कमरे में चले गए और अपने अपने बिस्तर पे सो गए।आप सोच रहे होंगे कि ये मॉंटी कहाँ से आ गया, तो भाई मैंने पहले ही बता दिया था कि टीना का एक भाई है और सुमन आई, तब ये स्कूल जा चुका था। ज़्यादा सोचा मत करो यार. मैंने बस से नीचे उतर कर संदीप को फोन लगाया तो उसने सेकेण्ड्स में ही फोन उठा लिया जैसे मेरे ही फोन का इंतज़ार कर रहा हो.

हिंदी सेक्स बीएफ चाहिए वैसे वो खुले विचारों की है, उसने बताया था एक बार कि ऐसे तो उसके हसबैंड भी खुले विचारों के ही हैं, परन्तु मैं अभी तक उसके हसबैंड से मिला नहीं हूँ, और न ही कभी फोन पे बात हुई है. काजल ने मुझे झटके से अलग किया और कहा- प्रेम तुम बेशरम हो, अपनी दोस्त के साथ ऐसे करोगे?‘काजल, मैं क्या करूँ.

कटरीना कैफ sex

उसके मुँह से तेज़ आवाज़ निकली। कुछ देर बाद जब उसका दर्द कम हुआ तो मैंने तेज़ रफ़्तार के साथ उसको चोदना चालू किया। हम दोनों की साँसें भी उतनी ही तेज़ी से चल रही थीं।दस मिनट की उस तेज़ रफ़्तार की चुदाई के बाद मैंने उसको घोड़ी बनाया और उसके चूतड़ों में से लौड़े को छेद में डाला।करीब 10 मिनट इस स्टाइल से चोदने के बाद हम दोनों झड़ गए और हमने थोड़ा सा आराम किया. हैलो फ्रेंड्स, मैं आप लोगों को अपनी ज़िंदगी के पहली बुर की चुदाई की हिंदी पोर्न स्टोरी बताना चाहता हूँ कि कैसे मैंने अपनी ममेरी बहन की बुर की चुदाई की. बहुत ही टेस्टी खाना बनाया था उसने, गजब का स्वाद था उसके हाथों में!किसी नवयौवना के साथ नंगे बैठ के साथ साथ खाना खाना, एक दूसरे को अपने हाथों से खिलाना और एक दूसरे को छेड़ना बहुत ही अच्छा अनुभव लगा मुझे!खाना खाने के बाद हम लोग एक बार फिर बिस्तर पर गुत्थमगुत्था हो गये और दूसरे दौर की घनघोर चुदाई के बाद नंगे ही लिपट कर सो गये.

मैं जब जागा तो 5 बज गए थे, निकी अभी सो ही रही थी तो मैंने उसे सीधा किया और चुत पर लंड लगा कर धक्का दिया नींद में ही… और उसकी नींद खुल गई. नताशा भी पूरे उत्साह के साथ हम दोनों के लंड अपने रुसी मुंह में लेने का भरसक प्रयत्न करने लगी. हिंदी बीएफ फुल सेक्स वीडियोटीना और सुमन समझ गईं कि मॉंटी अब फँस गया है, वो किसी को कुछ नहीं बताएगा.

पूरे रूम में फचफच की आवाज गूंज रही थी।मूवी में अब लड़की टीचर के लण्ड से उतर कर एक बार लण्ड चूस कर टीचर की टांगों की तरफ मुँह करके लण्ड पर बैठ कर हाथ पीछे टीचर के सीने पर रख कर उछल उछल कर चुदने लगी और टीचर उसके बूब्स दबाने लगा।बिमलेश ने लड़की की तरह ही योगीराज से उतर कर उसको चाटा, चूसा और फिर मेरे योगीराज पर टांगों की तरफ मुंह करके सवार हो गई और चुदने लगी.

अब उसे गोद में उठाकर बेड पे ले गया और उसके पैर, जाँघ से होते हुए उसकी नाभि तक चाटने लगा. उसने चूस चूस कर ही मेरी प्यासी चूत का कामरस निकाल दिया और फिर अपने तनतनाते हुए लंड को मेरे मुख के करीब ले आया.

मैंने उसका सर पकड़ रखा था और उसके मुँह का रसपान करने के साथ साथ उसकी चूत को दबा के रगड़ रहा था। फिर जब उसके आँसू निकल आए तो मैं होश में आया और उसे छोड़ दिया।फिर उसका ब्लाउज निकाल दिया, वो बुरी तरह से हाँफ रही थी। फिर उसने थोड़ी देर रुकने को कहा, मैं उसके ऊपर से उतर गया और उसके खुले मम्मों को पकड़ कर सहलाने लगा।वो मेरी तरफ देख कर बोली- मुझे ऐसी चुदाई की आदत नहीं है. सुहाना निढाल सी पड़ी हुई थी उसने अपने दोनों हाथों को ढीला छोड़ दिया था, मैं धक्के पे धक्का पेले पड़ा था और सुहाना अपनी आँखें बन्द किये हुये थी. पूरा लंड, पकौड़े जैसे टोपे समेत नताशा के मुंह के अन्दर गायब हो गया, मुंह के बाहर सिर्फ उसके अंडे बच्चे ही दिख रहे थे!मेरी प्रतिभावान पत्नी ने कितनी जल्दी अपने मुंह को दस इंची लंड के अनुरूप ढाल लिया था!!!!इस बार राजू अपने दिल की पूरी भड़ास निकालते हुए अपने लंड को जड़ तक मेरी वाइफ के मुंह में ठेलता रहा.

पहले मुझे बहुत गुस्सा आ रहा था मगर अब धीरे धीरे मुझे भी मजा आने लगा.

मैंने उसको पूछा कि कहाँ तक छोड़ दूँ, तो उसने कहा- जहाँ भी कोई ऑटो दिख जाए, मुझे वहाँ ड्रॉप कर दीजिएगा।मैंने कहा- ठीक है!मैं गाड़ी चलाने लगा, वो भी शायद उसी रास्ते में कहीं आगे रहती थी जिस पर मेरा घर था। हम लोग चलते चलते मेरे घर के पास पहुँच गए लेकिन कोई ऑटो नहीं मिला. वो भी 9 बजे लुढ़क गईं। अब ये कैसे सोईं ये भी जान लो आप काका आज खुलकर मज़ा लेना चाहता था इसलिए दोनों को खाने में धतूरा के बीज खिला दिए थे। अब ये दोनों तो सुबह तक उठने से रहीं।काका जब मोना के पास गए वो नाइटी पहन रही थी, जिसे देख कर काका को हँसी आ गई।काका- हा हा हा अरे मेरी मोना रानी. उसने इतनी अदा से कहा कि मैं न जाने कैसे मान गया। फिर मैंने उसके मुँह की चुदाई की.

हिंदी बीएफ सेक्सी वीडियो भोजपुरीफिर मैंने उसकी ब्रा खोल दी और बेड पर उसके साथ लेट गया और किस्सिंग करता रहां. उसे चुदाई कहते हैं समझी।पूजा- हाँ मामू समझ गई मगर आप ये लंड मेरी चुत में कब डालोगे?संजय- सही वक़्त आने पर.

बीएफ सेक्सी वीडियो एचडी दिखाइए

चूंकि इस समय सभी बच्चे एंव टीचर बिल्डिंग से बाहर जा चुके थे, इसलिये मुझे भी डर नहीं था, मैं भी सीधा उनके पीछे उनकी नजर को बचाकर दरवाजे के पास पहुंचा तो मरियम की आवाज आ रही थी, वो सुधा से सलवार और पैन्टी उतारने के लिये बोल रही थी. मैं उनका सारा पानी पी गया।फिर अपने लंड को उनकी चुत की फांकों पर लगाकर उसे रगड़ने लगा. तो भगत खुद ही शाम को घर आ जाता। उसके आने पर फिर वही होता, माँ हम दोनों को दूसरे रूम या छत पर जाने को बोल देती थीं।वे बोलती थीं कि भगत जी 1-2 घंटे पूजा करेंगे.

अब माँ अपनी गांड पीछे धकेल धकेल के आलोक के धक्कों का जवाब देने लगी. मैडम मुझसे बोली- क्यों क्या हुआ बच्चू? दर्द हो रहा है?मैं बोला- क्या आज इसे तोड़ ही दोगी क्या?मैडम हँसने लगी. मैंने अब आंटी पे डाइरेक्ट लाइन मारना शुरू कर दिया, वो जब भी मेरे सामने से जाती, मैं उन्हें देखता था, आंटी ने कई बार मुझे अपने बेटे के साथ बात करते भी देखा था, आंटी मुझे डाइरेक्ट लाइन तो नहीं देती थी पर वो चुपके मुझे नोटिस करती थी.

मेरी दोनों तरफ से चुदाई हो रही थी, अब मुझे भी मज़ा आने लगा था, मैं अब मज़े से चुदवा रही थी, मुझे इतना मज़ा कभी नहीं मिला था मुझे चूत से ज़्यादा अब गांड मरवाना अच्छा लग रहा था. आज वो शरमा नहीं रही थी। मैंने आज पूरी नाइटी पहले ही उतार दी और जोरों से उसके मम्मों को अपनी मुठ्ठी में भर कर दबाने लगा।तो नीनू बोली- भैया क्या आज ही पूरा निचोड़ दोगे क्या? मैं कहीं भाग जाने वाली नहीं हूँ. मेरा नाम मीना है। मैं 39 साल की खूबसूरत अध्यपिका हूँ और मेरी फ़ीगर सेक्सी है। मैं आपको यह बताना चाहती हूँ कि पिछली गर्मियों की छुट्टी में क्या हुआ था। यह ऑडियो सेक्स कहानी मैंने रिकॉर्ड की है.

वैसे भी मोहल्ले की कोई कन्या जिसका नाम ले ले के हम सब मुठ मारते हैं या अपनी बीवी को उसी कामिनी का ध्यान लगा के चोदते हैं तो उसे इतने नजदीक से देखने बतियाने का मौका सालों में ही कभी आ पाता है. अचानक उठ कर ऐसा नाटक करो। ये सब तुम अपने भाई के सामने ऐसे ही चिल्लाते हुए पूरी नाइटी उतार देना और सिर्फ़ ब्रा-पेंटी में ही बनी रहना। बाद में शरमाना और साथ में घबराने का नाटक करना और बोलना कि भैया मैं तो तुम्हारे साथ ही सोऊंगी.

मेरे शौहर ने 6 महीने पहले मुझे चोदा था, उसके बाद से अब तक मैं प्यासी हूँ.

5 मिनट बाद, सर की वाइफ आ गई, उन्होंने मुझे देखा तो वो मंद-मंद मुस्कुराने लगी. संभोग की जानकारीउस पर तरस तो आया पर हिम्मत नहीं हुई उससे नज़रें मिलाने की… उसके इस सवाल के बाद!एक दिन मुझे कॉलेज की फीस भरनी थी तो मैंने पिता जी को फोन कर दिया. नया वीडियो बीएफथोड़ी सिकाई हो जाएगी।मैंने वही किया और थोड़ी देर बाद हम दोनों सामान्य हो कर नहा कर कमरे में आकर लेट गए। लेटते ही कब सो गए. पहले उसको किस किया, फिर सुपारे को थोड़ा मुँह में लेके चूसने लगी। एक मिनट चूसने के बाद उसने वापस लंड अन्दर कर दिया और हँसती हुई नीचे भाग गई।संजय- उफ़फ्फ़ साली इत्ती सी है मगर चुदवाने को बेताब है। इसका भी जल्दी कुछ करना होगा.

ले पूरा खा ले।काका भी अब नीचे से झटके मारने लगे थे और मोना गांड को ऊपर-नीचे करके मज़ा ले रही थी। अब कमरे में दोनों की आहें गूँजने लगी थीं और चुदाई का तूफान जोरों पे था।मोना- आह.

तुम रुको मैं बाहर ही आ रहा हूँ दो मिनट में!’ मैंने कहा और फोन काट दिया. मुझे कितना मज़ा आया कैसे बताऊं आपको? और मेरी लूली से कुछ निकला था ना?सुमन- चलो कोई बात नहीं. थोड़ी देर बाद मैंने कहा- आंटी कब तक आएँगे आकाश और अंकल?आंटी- उन्हें रात हो जाएगी.

उनके भरे हुए चूतड़ों के कारण उठी हुए गांड और मदमस्त भरी हुई चूचियाँ… गहरी नाभि, नंगा पेट देख कर मेरा लंड खड़ा हो जाता था. क्या मस्त कयामत लग रही थी। उसने घुटनों पर बैठ के मेरा लंड पकड़ लिया और चूसने लगी। वो लंड पकड़ कर ‘उउऊँ अहह ईईहह. थोड़ी देर बाद चाची झड़ गई और धक्के देने बंद कर दिए लेकिन मेरा अभी नहीं हुआ था, मैंने अपने धक्के जारी रखी, कुछ देर बाद मैंने दो चार धक्के मार कर उनके पेट पर अपना माल गिरा दिया और कपड़े से साफ कर दिया और उनको किस करके वहाँ से बिना कुछ कहे चला आया.

xxx सूहागरात

सुनो सुमन अगर तुम ऐसी लड़की नहीं हो तो ऐसी बनो, ये सब टास्क जाए भाड़ में. com/maa-beta/maa-ki-gand-ka-diwana/गांड का छेद तक बंद और खुल रहा था।वो गुप्ता जी को शाबाशी देते हुए बोली- हाँ बाबा ऐसे ही इस्सस. इतना भी भोले मत बनो।मैंने कहा- हाँ सब कुछ किया।फिर मैंने भाभी से उनके किसी ब्वॉयफ्रेंड के बारे में पूछा.

सबसे अलग-थलग बैठी थीं।मैंने मोबाइल निकाल कर यासमीन का नम्बर डायल किया तो उसी आंटी ने फोन उठाया तो मैं कन्फर्म हो गया कि यही है।मैंने फोन पर उससे कहा- सामने देखो, मैं दरवाजे पर खड़ा हूँ।तो उसने मुझे देख लिया।फिर मैंने करीब जाकर उसको देखा तो वो मुझे बहुत अच्छी लगी। उसका रंग गोरा और जिस्म भरा हुआ था। उसके चूचे भी बड़े-बड़े थे और गांड भी बाहर को निकली हुई थी। वो काफ़ी सेक्सी लग रही थी.

उसके बाद मेरे पूरे शरीर को चूमने लगा।यही कहानी लड़की की मधुर आवाज में सुनें!अन्तर्वासना ऑडियो सेक्स स्टोरीज सुनने के लिए सबसे अच्छाब्राउज़र क्रोम Chrome है.

तुम्हारा पानी निकलने के साथ ही लंड मुरझा जाता है, उसके बाद आधा घंटा वेट करती क्या?गोपाल- अरे जान. साली को अपनी चूत के जूस का स्वाद दे!जूसी मेरे मुंह पर चूत जमा के बैठ गई और राजे उसके चूचे मसलने लगा. औरतो का कंडोमवैसे तो हम उसे बहुत सालों से जानते हैं फिर एक डर सा मन में था, लेकिन उसका ऑफर सुन मेरे मन भी हवस भरी हुई थी तो मैंने उसे रात में जवाब देने के लिये बोल दिया.

आप बताओ क्या बात बता रही थीं?टीना- अरे मैं ये बता रही थी कि एक उम्र के बाद औरत में सेक्स कम हो जाता है. मेरा इशारा समझ वो सुपारा मुंह में ले गई और इसे खूब गीला करके चूसने लगी जैसे पाइप से कोल्ड ड्रिंक चूसते हैं. ताकि मेरा ध्यान उधर जाए, पर मैं भी जानबूझ के अनदेखा करने लगा। मुझे भी आंटी को गर्म करने मजा आ रहा था।थोड़ी देर में खाना खाकर मैंने कहा- आंटी बहुत नींद आ रही है.

अगर तुझे मेरी पत्नी अमिता पसंद थी, तू उसको चोदना चाहता था तो मुझे बोला होता. सच कहूं तो उनके पहले ही मेल में उनकी यह बात सुन कर मैं थोड़ा आश्चर्यचकित हुआ और मुझे उन पर यकीन नहीं हुआ.

मेरे मामाजी का लड़का जिसके साथ बचपन से ही मैं काफी खुली हुई थी, हम दोनों भाई बहन हर तरह की बातें कर लेते थे, वो घर आया और मेरी सास ने उसे ऊपर मेरे रूम में भेज दिया मिलने!वो मेरे बेडरूम में आकर बेड पर बैठा और मेरे अंदरूनी कपड़ों को देखकर उसका मन भी डोलने लगा शायद… वो मेरी ब्रा हो हाथ में लेकर चूमते हुए मेरे 34 साइज़ के भरे हुए बूब्स को फील करके उन्हें चूसने का अनुभव करने लगा.

वैसे तू भी नहीं भी कहती तो भी मैं उसको चोद ही देता… हा हा हा हा हा. फिर वो बोली- चल अब तेरी बारी, ले मज़ा जितना भी लेना है!मैंने अपने लंड पे थूक लगाया, उसकी फुद्दी पे अपना लंड रखा और हल्का सा झटका मारा…‘सस्स्सिईई ईईईईईई ईईईई…’ इस बार आवाज़ मेरे मुंह से निकली. इस बार मैंने उसकी द्वारा खाली हुई जगह को भरने का फैसला करते हुए अपना लंड अपनी भार्या की गांड में डालते हुए स्वान के विकराल लंड द्वारा उसकी भोसड़ा बन चुकी गांड की चुदाई करने लगा.

एक्सएक्सएक्स सेक्सी हिंदी ’यह बहन की चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!पर मैं इतनी जल्दी बस थोड़ी करने वाला था।कुछ देर बाद उनकी चूत में मेरे लंड ने अपनी जगह बना ली थी और अब दीदी भी मुझसे कह रही थीं कि और ज़ोर से चोद दो. मैं तो उसे देखता ही रह गया। मैंने सोच लिया कि मैं उसे चोदूंगा जरूर.

ये तुम्हारी योनि के ऊपर उगे रेशमी मुलायम बाल, और सिर्फ एक लकीर जैसी योनि की दरार मुझे पागल बना रही है. पर बियर के नशे में सब अच्छा लग रहा था!तभी मेरे पति ने मेरी चूत को हाथ लगाया. कोई एक घंटा बाद काका जब वापस आए तो मोना करवट लिए नंगी ही सोई पड़ी थी।काका- हाय मोना रानी कितनी प्यारी है रे.

எக்ஸ் எக்ஸ் பிஎஃப் வீடியோ

आज मैं जो आपको कहानी सुना रही हूँ वो मेरी और मेरीसहेली की पहली गांड चुदाईकी है जो अन्तर्वासना के एक लेखक और उनके मित्र ने ही की थी. लेकिन मैं आपको जानती हूँ?मुझे लगा पता नहीं कौन सी लड़की है, मैंने पूछा- आप कौन हैं?बहुत देर तक भाभी नाटक करती रहीं, उसके बाद उन्होंने बताया कि मैं भाभी हूँ. उसके बाद चली गई।सुमन ने इन हरामियों से हाथ मिला कर क्या कर लिया था, ये सब आपको आगे इस सेक्स स्टोरी में पढ़ने को मिलेगा।आप मेल कर सकते हैं।[emailprotected]कहानी जारी है।.

उस दिन गीता आई तो रामू काका से मिल कर मेरी तरफ देख कर बोली- ये लड़का कौन है?रामू काका ने कहा- अरे नया लड़का आया है, मेरे साथ ही काम करता है और यहीं पर ही रहता है. मैं- फिर भी तुमको अपनी उम्र के कई दोस्त मिल सकते थे… मेरे साथ ही क्यों?अंजलि- आप सही कह रहे हो, मिल सकते थे… पर मेरी फ्रेंड्स के अनुभव इतने ख़राब हैं कि मेरा उनके साथ दिल ही नहीं किया.

मैंने अंजलि को इशारा किया कि वो अपनी बुर को मेरे मुँह पे रख दे…वो समझी नहीं… पर मेरे सिखाने पर मेरे चेहरे से बुर सटा दी.

क्या गज़ब का स्वाद था उस चिकने चूतामृत का!मैंने उठ के सुल्लू रानी को घसीट के बिस्तर पे डाल दिया और उसकी टांगें चौड़ी कर दीं. मैंने बिस्तर पर लेटाया और किस करने लगा, उसने भी मेरा लोवर उतार दिया धीरे धीरे मैं नीचे आया, उसकी चुची को चूसा और उसका पेटिकोट खोल कर निकाल दिया. इसलिए मैंने अपने पेपर का बहाना बनाकर इस बार 5-6 मामी के घर रुकने का फैसला लिया.

कुछ ही पलों में मैं भी नज़दीक आ गया- आआह्ह्ह… स्स्स्स स्साआ अह्ह्ह… म्म्म म्म्माआआह्ह… ओह येस… ओह येस… ओह येस… ओह येस बेबी सक इट… ओह येस बेबी सक इट अंजलि मेरा हो जायेगा!मेरे चूतड़ भी स्ट्रोक्स लगाने लगे, मैंने उसके मुँह से लंड को निकाला और ढेर सारा अमृत उसके चेहरे और चुची पर निकाल दिया और अपनी सांसों को व्यवस्थित करने लगा. हम एक ही सोसाइटी में रहते थे और हमारे परिवार भी बड़े थे इसलिए हम लोग कोई जल्दबाज़ी नहीं कर सकते थे. ऋषिका एक बार तो बोली- रयान, हम ये गलत तो नहीं कर रहे?पर रयान ने बजाए जवाब देने के उसका टॉप उतार दिया और अपना भी… धीरे धीरे दोनों ही बिना कपड़ों के चादर के अंदर चिपटे ही थे.

तभी मैंने उसके होंठों पे तीन चार लगातार किस कर दिए और प्यार से बोला- ओये होए मेरी जान, सब झेलने का पक्का मन बना कर आई है डार्लिंग!इस तरह हम कुछ देर बातें करते रहे और बीच में मैंने चाय का आर्डर दे दिया था, कुछ ही देर मैं चाय आ गई.

हिंदी सेक्स बीएफ चाहिए: वो अब थोड़ी शांत रहती थीं। अंकल ना होने की वजह से मम्मी मुझे उनकी हेल्प करने की कहती रहती थीं. पहले दिन सुबह मैं जब वहाँ गया तो देखा कि वहाँ 4 लड़के थे और इंस्टिट्यूट के सर थे.

तो उसने कहा- तो मैं कौन सा तुझसे शादी करने वाला हूँ, एक बार गांड दे दे जानेमन… लंड तो तू बहुत अच्छा चूसता है, एक बार मुझसे भी गांड की चुदाई करवा के भी देख ले कि मैं कैसे चोदता हूँ. गोल सुन्दर चेहरा, नशीली आँखें, रसीले भरे भरे होंठ… उम्र भी कोई तेईस चौबीस साल… सब कुछ मस्त लगा. और अपना एक हाथ उसकी लोवर में डाल दिया जिससे पिंकी कसमसाने लगी और ‘अअओ.

इसका यही नाम है तू किताबी नाम के पीछे पड़ी है। अब किताबों की दुनिया से बाहर आ जा.

उसने अपने होंठ मेरे होंठों पे रख कर उन्हें चूसना चालू कर दिया और दूसरे हाथ से मेरे बूब्स दबाने लगा. दूसरी विला में साराह ने अजय के ऊपर चढ़ाई कर दी थी और वो उछल उछल कर अजय को चोद रही थी. फिर रात हुई और मैं अपने बॉस के घर पर गया और वहां पर पहुंचने के बाद मैडम ने मुझसे पूछा कि क्या तुमने दिन में खाना खाया था?मैं बोला- जी बॉस, मैंने दिन में खाना खा लिया था.