इंडियन बीएफ वीडियो पिक्चर

छवि स्रोत,रतिया सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी सेक्स वीडियो फुल: इंडियन बीएफ वीडियो पिक्चर, वो मेरी हर बात बिना कुछ पूछे ही मान रही थी और हर बात पर कातिलाना स्माइल दे रही थी.

बब्व सेक्सी वीडियो

लेकिन मैं काम में बिजी था इसलिए कॉल नहीं उठाया।जेठ जी कुर्सी में बैठ गए और मैंने खाना लगा दिया. बिहार की सेक्सी पिक्चर ब्लूचाची मेरी आवाज़ सुन कर सकते में आ गईं और अपनी दोनों टांगें भींच कर वहीं बेड पर बैठती हुई उठने लगीं.

मेरी पिछली Xxx कहानीकोचिंग क्लास की लड़की ने मुझे पटा लियाअंतर्वासना पर प्रकाशित हुई थी. बिहारी सेक्सी वीडियो जंगल वालाउसने मुझे कहा- तब तो बहुत ही मजा आएगा और मुझे तुम्हारी गांड मारने का भी मौका मिल जाएगा.

मैंने कहा- अभी कहां हो?उसने बताया कि घर से कुछ दूरी पर एक पार्क है, वहां बैठी हूँ.इंडियन बीएफ वीडियो पिक्चर: मुझे नहीं पता कि मम्मी कितने दिनों बाद झड़ी थीं, पर आप लोगो को जान कर हैरानी होगी कि मेरी मम्मी ने करीब एक स्माल पैग जितना पानी निकाला था.

फिर मैंने मम्मी को अपने नीचे लिया और उनकी चड्डी को उतार कर दूर फैंक दिया.अब आगे होम अलोन सेक्स कहानी:मुकेश ने मुझे पकड़ा, फिर भी मैंने अपना हाथ उसकी पकड़ से छुड़ाना चाहा.

हिंदी सेक्सी हिंदी आवाज़ मई - इंडियन बीएफ वीडियो पिक्चर

मैंने आंख खोलीं, तो देखा फ़लक मेरे ऊपर है और मुझे लगातार किस किए जा रही है.मैं उसके पीछे बाथरूम गया, उसे संभालते हुए मैंने उसे कुल्ला कराया और वापस रूम में ले आया.

मैंने टीना और दिशा से ड्रिंक के लिए बोला और थोड़ी देर रुकने को बोला तो टीना तो रुक गयी मगर दिशा चली गयी. इंडियन बीएफ वीडियो पिक्चर अब मुझसे रहा नहीं गया और मैंने कहा- आप बुरा न माने तो मैं एक चीज करना चाहूंगा.

ये दर्द होता है और खून भी निकलता है। अब आराम आराम से करोगी तो दर्द भी ठीक हो जाएगा.

इंडियन बीएफ वीडियो पिक्चर?

मेरे दूसरे झटके में मेरा पूरा लंड उनकी चूत में घुस गया और उनके मुँह से चीख निकल गयी. कुछ देर बाद पापा का फोन आते ही मैंने शाम को हॉस्टल से शिफ्ट कर लिया. उनको मैंने दोबारा कैसे चोदा, ये गरम सेक्स कहानी अगले भाग में लिखूँगा.

रेखा भी वासना से अपने दोनों हाथों से मेरा सर अपने मम्मों पर दबाने लगी थी. मुझे अपने लंड पर कसावट महसूस होने लगी पर मैंने धक्के मारने जारी रखे. वो भी मजे से मेरे होंठ चूस रही थी और अपनी जीभ मेरे मुँह में चला रही थी.

होटल रूम सेक्स कहानी में पढ़ें कि बस में एक गोरे अंग्रेज से सेट होकर मैंने उसके साथ उसके होटल में उसका गोरा लम्बा लंड खाने चली गयी. पर अब मुझे चाची की लेनी थी तो मैंने सोचा कि अब चारपाई पर नहीं सोना है. हम कहीं घूमने चलें अगर तुम्हें मेरे साथ बाहर घूमने में दिक्कत नहीं है तो!अच्छा … मुझे तो दिक्कत नहीं है.

कहानी के पिछले भागभाभी की चचेरी बहन की पहली चुदाईमें अब तक आपने पढ़ा था कि मैंने शिल्पा को चोद कर लंड का माल इसके पेट पर गिरा दिया था और उसके बाजू में लेट गया था. उसकी स्कर्ट पहले से कुछ ज्यादा ही उठी हुई थी, जिससे उसकी ग्रे कलर की पैंटी मुझे साफ दिखाई देने लगी.

उसकी उठी हुई गांड, चौंतीस की साइज के चूचे, एकदम गोरा बदन और वो कातिल सी मुस्कराहट मेरे दिल को घायल कर गई.

मैंने ऐसे ही सरिता को बेड पर लिटाया और उसके सर के नीचे तकिया रख दिया.

हालांकि मैं अपने पति से गांड मरवा चुकी थी, तो मेरे लिए गांड मराना कोई नई बात नहीं थी. दोस्तो, मैं रवीश कुमार आपको अपनी सेक्स कहानी के पहले भागगर्लफ्रेंड अपनी भाभी को मेरे पास सेक्स के लिए लायीमें बता रहा था कि प्राची नाम की चुदक्कड़ लड़की को मैं बहुत चोदता था. अपना एक हाथ उठाकर उसने मेरे सीने पर रख दिया और धीरे से बोली- एक औरत के साथ बिना सेक्स किए भी झाड़ना आता हैं तुम्हें … अब तुम अपने हथियार को युद्ध के लिए मैदान में डाल दो … बस अब और कुछ नहीं, मैं तुम्हारे उसको अपने अन्दर महसूस करना चाहती हूं.

जैसा कि आपने पिछली कहानी में पढ़ा था कि नैना और मैं सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहे थे. जब उन्हें आने में काफी देर हो गई,तो मैंने बाथरूम का दरवाजा थोड़ा सा खोला. पर अगले ही पल वो वापस मुड़ी और दूर से ही बाई करके हंसती हुई अन्दर चली गई.

मुझे आज उसकी गांड मारनी थी, चाहे कुछ भी हो जाए … और चाहे वो कुछ भी बोले.

फिर भैया को ध्यान आया कि जिस काम से उन्होंने मुझे बुलाया था वो तो बताना ही भूल गए. तो मैं यूं ही रुक गया और फिर धक्का मारा तो मेरा सुपारा उसकी चूत में घुस गया. फिर कुछ देर बाद न जाने कैसे मेरा हाथ मेरे लंड पर आ गया और मैं एक बार को सब भूल गया कि भाभी के साथ मेरी क्या गड़बड़ हुई थी.

मैंने कॉल उठाया और कहा- क्यों आंटी नींद नहीं आ रही है क्या?उन्होंने मुझसे कहा- तुम भी तो नहीं सोए. आपकी पहचान सिर्फ मुझ तक और सिर्फ मुझ तक रहेगी, मैं अपनी ज़ुबान देता हूं. वो इस बात से बड़ी खुश थी कि मैं उसके जिस्म की तारीफ़ करते नहीं थकता हूँ.

फिर मैंने उसकी पैन्ट और अंडरवियर उतार दिया और जय ने अपनी शर्ट उतार दी और पूरी तरह से नंगा हो गया.

मैंने भी अब जोश में आकर आंटी के बाल पकड़ लिए और अपना लंड आंटी को चुसवाने लगा; उनके कोमल मुँह को अपने लंड से चोदने लगा. चाची ये सुनकर खुश हो गईं और बोलीं- चल मुझे आज कुंवारे लंड से चुदाई का मजा मिल जाएगा.

इंडियन बीएफ वीडियो पिक्चर पांच मिनट बाद जय ने मुझे बिस्तर पर लेटा दिया और मेरी टांगें खोल कर अपना लन्ड मेरी बुर पर सेट किया और धक्का लगाने लगा. आज समझ आया कि दीदी की आवाज कमरे से इतनी मीठी मीठी क्यों आती थी, जब भी आप उन्हें चोदते थे, मैं आप दोनों की सब आवाजें सुना करती थी.

इंडियन बीएफ वीडियो पिक्चर मैं खड़ा हो गया और उसे घोड़ी बना दिया, पीछे से उसकी चूत को चाटने लगा. थोड़ी देर बाद चाची फिर से मेरा लंड चूसने लगीं और मेरा लंड फिर से सलाम करने लगा.

हालांकि फ़ोन पर बातें हुआ करती थी लेकिन मिलना कभी नहीं हुआ था उस कॉलेज वाले कांड के बाद से।मीनल की शादी का कार्ड और उसकी डेट देख मैंने सीमा को फ़ोन कर बताया कि कुछ खुराफ़ाती करने को मन मचल रहा है और उससे मिलना भी चाहती हूँ.

भारतीय स्कूल की सेक्सी

मैं बार-बार उसके चेहरे की तरफ देखती … और जब मुझे लगता था कि वह मेरी तरफ देख रहा है तो मैं इधर-उधर देखने लगती. निशा- ओके आप क्या करते हो?मैंने बताया, तो बोली- आज दो अक्टूबर को भी छुट्टी नहीं है?मैंने कहा- है तो … पर काम करने से ओवर टाइम का पैसा मिल जाता है. दिन का समय तो मैं अपनी जेठानी कंचन और उनके बच्चे के साथ बिता लेती हूँ पर रात को जल्दी नींद नहीं आती.

शायद काफी टाइम से उसको मर्द का अहसास नहीं मिला था इसलिए उसके छेद से पानी का आना शुरू हो गया था. उसने अपनी जीभ मेरे लंड के सुपारे पर फिरानी शुरू की, जिससे मेरी उत्तेजना और बढ़ती जा रही थी. Xxx गांड हिंदी स्टोरी में पढ़ें कि एक अमीर आदमी की बीवी उसे छोड़ गयी तो उसे लड़कों की गांड मारने की लत लग गयी.

उसने वो जल्दी से छुपा ली, फिर इधर उधर देखती हुई पर्ची पढ़ी जिस पर लिखा था आज लंच बाहर करेंगे, बाहर आ जाओ.

मेरे कपड़ों में क्या लगा दिया था, ज़रा बताओगे मुझे?मैंने गर्दन नीचे कर ली और चाची से सॉरी कहने लगा. इससे मुझे बेहद सनसनी होने लगी और ऐसा लगने लगा कि मैं जल्दी से इसका लंड अपनी चुत में ले लूं. अगर आपने इससे ज्यादा कुछ किया, तो मैं पागल हो जाऊंगी और मेरी आवाज निकलने लगेगी.

वह चिल्ला उठी- आह मर गई … निकालो बाहर निकालो … मुझे नहीं चुदना!मैंने आव देखा ना ताव, पूरा लंड उसकी बुर में घुसेड़ दिया और कुछ पल वैसे ही पड़ा रहा. बाथरूम में आकर मैंने अपने सारे कपड़े निकाल दिए और पूरा नंगा हो गया. अब वो भी कमर हिलाकर मेरा जोश बढ़ा रही थी- और चोदो … भाई … आज फाड़ दो अपनी प्यारी बहन की चूत … ये बहुत दिन से आपसे चुदना चाहती थी ये … आज इसकी सारी गर्मी निकाल दो … चोद-चोद कर भोसड़ा कर दो.

फिर मुझे पूछने लगा- क्या मुझे भी मौका मिलेगा तुम्हारी गांड चोदने का?तो मैंने सर हिला कर उसको स्वीकृति दे दी. तो मैं अपनी पूरी रफ्तार से रुचिता की चुदाई में लग गया और वो दर्द और मजे के मिश्रण के साथ आवाज निकालने लगी.

मैं सुपारे को धीरे धीरे अन्दर बाहर कर रहा था और मिनी की चुत में जगह बना रहा था. बात है उन दिनों की है जब मैं 21 साल का था और मेरी बहन 25 साल की थी. मुझे पहले थोड़ा सा सोचना पड़ा, फिर मैंने अपने मन में सोचा कि देखा जाएगा.

तभी उसमें से एक ने बोला- रंडी साली कुतिया मादरचोद … भाई के सामने चुदवा सकती हो, उसमें शर्म नहीं आई और भाई का लंड चूसने में तुझे दिक्कत आ रही है.

जैसे ही बेडरूम में आए, मैंने सोनाली को अपनी बांहों में कस लिया और उसके गाल, होंठों और माथे पर चूमने लगा. मैंने रोहित को पानी दिया और पूछा- फिर आप लोग आज रात को यहीं रुकोगे न?वो बोला- जी, हम यहीं पर दरी बिछा कर सो लेंगे, हमारा तो ये रोज़ का काम है. अब मैंने अपना एक पैर पत्नी की जांघ के उस पार उसकी कमर के बाजू में बेड पर रख दिया.

दीदी मुझसे बोलने लगीं- राहुल कितने दिन से इस पल का इंतजार कर रही हूँ. उसने मुझसे कहा- क…कोई बात नहीं देवर जी … मेरे पति के कपड़े रखे हैं.

उसने एक सफेद कपड़ा लेकर अपनी चूत को साफ किया, तकिया और बेडशीट पर फैला हुआ सब कामरस साफ़ कर दिया. इन भावों के साथ उनको चुदते हुए देखकर मैं धीरे धीरे स्खलन की ओर बढ़ रहा था. मैं उसके पास जाकर कुर्सी पर बैठ गया और उसकी तरफ देखकर बोला- सरिता, आज बहुत सुंदर और खुश दिख रही हो.

सेक्सी सेक्सी आर्केस्ट्रा

वो साल मेरा कॉलेज का आखिरी साल था इसीलिए मुझे फेयरवेल पार्टी में डांस परफ़ॉर्मेंस के लिए चुना गया था.

मौसी के नंगे बदन को देखकर मैं तो जैसे पागल सा हो गया था और पागलों की तरह मौसी की नंगी चूत को चाटने में लगा था. जीजा जी मुझसे बोले- राजू मैं शराब की बोतल लेकर आया हूँ … अगर तुमको परेशानी ना हो तो मैं इस कमरे में पी सकता हूँ?मैं- हां जीजा जी, क्यों नहीं, आइए ना. तो विशाल ने रवि की कमर एक हाथ से पकड़ी, दूसरे हाथ से एक जोरदार चांटा रवि की गांड पर मारा और बोला- साली मोनिका भाग कर कहां जाएगी, आज तेरी गांड फाड़ कर ही दम लूँगा.

टीना ने अपने घर पर दिशा के घर रुकने का कह दिया और दिशा को भी कह दिया कि घर से कोई फोन आए तो बता देना कि मैं तुम्हारे घर पर ही रुकी हूँ. शिखा बोली- भाई मैं आपकी बहन हूं, कोई सड़कछाप रंडी नहीं, हम यह नहीं कर सकते. मराठी सेक्सी चलने वालीअपना सिर भाभी के कंधे पर झुकाया तो उन्होंने भी अपना सिर मेरे कंधे पर झुका दिया.

मुझे उसी भाभी की कुंवारी चूत कैसे मिल गयी?दोस्तो, मेरा नाम आलोक है और मैं जयपुर से हूँ. मेरे ब्लाउज के बटन खुलने के कारण मैं सिर्फ ब्रा में उसके सामने आ गई.

उस वक्त मुझे इतना अधिक सेक्स चढ़ा कि मैंने आशिमा दीदी की याद करके मुठ मार ली. ट्रेन अपने राईट टाइम पर आ गयी और मैं अपनी पसंदीदा विंडो सीट पर जाकर बैठ गया. अब मैंने चाची के होंठों को चूसना शुरू किया और धीरे धीरे उसकी चूत में लंड के धक्के लगाने लगा.

ऊपर से जैसे मैंने शुरूआत में बताया था कि लड़कियों से बात करने में भी मुझे हिचक होती है. समय कम था तो कुछ बातों के बाद चुम्मा चाटी और कपड़े निकालना भी शुरू हो ही गया. वो दिया खुद ही लेकर कमरे में आ गया ताकि वो प्रियंका को नंगी देख सके.

निशा- ओके आप क्या करते हो?मैंने बताया, तो बोली- आज दो अक्टूबर को भी छुट्टी नहीं है?मैंने कहा- है तो … पर काम करने से ओवर टाइम का पैसा मिल जाता है.

इस पर मुकेश बोला- तो फिर जीनी तुम मुझसे कहां मिलने आओगी?मैंने कहा- कहीं नहीं. मेरे मुँह से मीठी कराहें निकलने लगीं- अहहह उंहाअ समीर … क्या कर रहे हो … आह धीरे करो न … सीईईईईफिर कुछ मिनट बाद वो नीचे बैठ गया और मेरी चुत चाटने लगा.

तभी मैंने चाची की पैंटी एक तरफ सरका कर चुत में उंगली डाल दी और चुत को उंगली से गर्म करने लगा. मैंने अपनी डेस्क से जैसे ही फाइल उठाई, तो देखा वहां एक पर्ची पड़ी हुई है, जिस पर एक फोन नम्बर लिखा हुआ था. अब शनाया ने हार्दिक के लंड को अपने मुँह में ले लिया और उसे चूसने चाटने लगी.

उसने अपनी टांगें मेरी टांगों से ऐसे चिपका दीं, जैसे वो बहुत सालों से लंड की भूखी हो. उनमें से एक ने मुझसे पूछा- कहां जा रहे हो राहुल?मैंने कहा- बाजार जा रहे हैं. क्या बात है?हर्षद मैं मां बनने वाली हूँ और ये सब तुम्हारी मेहरबानी है हर्षद.

इंडियन बीएफ वीडियो पिक्चर जैसे ही वो शांत हुई, मैंने फिर से जोर लगा कर शॉट मारा और अपना पूरा लंड पेल दिया. वो समझ गया और बोला- अच्छा मतलब उसे टाइम पास आइटम समझती हो?मैं हंस दी और उससे बोली- हां तुमने सही समझा है.

राजस्थानी सेक्सी वीडियो चित्र

उसको मिल कर ऐसा लगा कि बांहों में भर कर मसल दूँ, उसके बूब्स चूस लूं. सेक्सी चाची की चूत मारी मैंने! और यह सारा खेल चाची और उनकी बेटी ने मिलकर रचा था. आज मेरा यहां आने का कारण मेरे बहुत से अनुभवों में से एक को साझा करने का है.

बाहर मैंने आंटी से कहा- थैंक्स आंटी, आपके चलते मेरा और मेरी मॉम का सपना पूरा हुआ. उन क्लिप्स को देखने का और अपनी वासना को भड़का कर शान्त रह जाने का सिलसिला चलने लगा. ब्लू पिक्चर की नंगी फोटोभावेश के पापा काफी हट्टे-कट्टे थे और अपनी धुन में ज्यादा ही रहते थे.

मैंने पम्मी आंटी का पैर अपने मुँह तक उठाया और हल्के से उस पर एक चुम्बन कर दिया.

रात के समय तो हम दोनों पूरे नंगे ही रहते हैं इसलिए कपड़े निकालने का तो कोई सवाल ही नहीं था।उसके बाद … आप समझ गए होंगे।2 दिन बाद एलिस्टेयर को काम से दूर जाना था तो मैंने भी सोचा कि लांस और केविन से मिलकर एलिस्टेयर का भी काम कर लूंगी. मैंने उसकी चुत में उंगली घुसेड़ी, तो अन्दर से चूत में पानी आया हुआ था.

इसी के साथ मैंने हाथ का कमाल दिखाते हुए उंगलियों को उसकी लैगी के कमरबंद के पास पहुंचा दिया था. उसी समय एग्जाम का टाइम था तो घर के सारे बच्चों को यहीं रुकने को बोल दिया गया. मैं वापिस घर की तरफ आने लगा, तो मैं जानबूझकर लड़कियों की तरह चलने लगा.

उसकी चुत ने कितने इंतजार के बाद मेरे लंड का स्पर्श अपने मुँह पर पाया था.

अम्मी, खाला और जेबाँ एक ही कमरे में उसी बेड पर सोती थीं जिस बेड पर मैंने खाला को चोदा था. विलास बोला- आंह आहिस्ता से घुमाओ हर्षद … मैं पहली बार ही ये सब कर रहा हूँ. उसने बेडशीट निकालकर दूसरी डाली और मुझसे बोली- हर्षद अब तुम थोड़ी देर सो जाओ.

सेक्सी वीडियो चुदाई चूत लंडकुछ ही देर बाद उसकी निगाहें भी मेरे ऊपर पड़ गईं और उसकी कातिल निगाहों ने जैसे मुझे चीरकर रख दिया. वो इठला कर बोली- जिधर चाहे ले चलो मेरे बलमा … बस मुझे तो तेरे उसका प्यार चाहिए.

सेक्सी फिल्म हिंदी वीडियो देखने वाली

भाबी जी ने मेरा लंड चूसना जारी रखा था और मैंने उनकी चूत में उंगली करना शुरू कर दिया था. मैंने इधर उधर देखा, कोई नहीं दिखा तो मैं उनके पीछे से बाथरूम में आ गया और चाची को पकड़ लिया. उसने अपने लैपटॉप में वही पोर्न फिल्मों से एक फिल्म चलायी, जो 2 घंटे की थी.

मैं हौले हौले से चाची की मैक्सी को ऊपर सरकाने लगा और उनकी टांग की चमड़ी से अपनी टांग को रगड़ सुख देने लगा. पांच मिनट बाद डाक्टर रेखा बाजू होकर बोली- हर्षद अब अपनी पैंट पहन लो. मेरी पिछली कहानी थी:जेठ जी का लंड कर लिया अपनी चूत के नामआज की कहानी मुझे मेरी एक महिला मित्र ने भेजी है.

भाभी की इस स्वीकारोक्ति के बाद मैं समझ गया कि इसकी चूत को लंड चाहिए. इससे वो बिन पानी मछली की तरह तड़पने लगी और मेरे बालों में हाथ डालकर मुझे चूत की तरफ दबाने लगी. मैं उसके पीछे से होकर रैक में हाथ डालकर टमाटर को उतारने ही वाला था कि उसके पैर से चूहा छूकर गुजरा और वो चिल्ला कर मेरे सीने से चिपक गयी.

और उसने मम्मी की चूचियां इतनी मसली कि उनसे निकले दूध से डाक्टर की छाती भीग गई. जब मैं वहां अन्दर गई तो मैंने देखा कि जय अन्दर अपने लन्ड की मुठ मार रहा है.

मैं कुछ देर रुका और दूसरे धक्के के साथ अपना पूरा का पूरा 7 इंच का लंड मौसी की चूत में उतार दिया.

उसने मुझे बोला- बेबी धीरे धीरे डालना।मैंने उसकी दोनों टाँगों को खोलकर धीरे-धीरे लंड डालना शुरू किया आधा लंड डालकर मैंने झटके मारने शुरू किए।उसकी चूत गीली होने के कारण आधा लंड अंदर चला गया. मराठी सेक्सी एचडी सेक्सअदिति के एग्जाम के बाद उसकी मम्मी पापा और भाई की एक एक्सिडेंट में मौत हो गई थी. kaki सेक्सीमैंने उसे बताया, तो वो मेरे लंड का सुपारा देख कर श्रेया बोली- चलो आज इसका भी इलाज कर दूंगी. पहले प्रियंका ने पानी पिया और फिर रिंकू ने सड़ा सा मुँह बनाया मगर पी गया.

अब जब भी हम दोनों का मन होता है, हम दोनों चुदाई का खेल खेल लेते हैं.

शायद आंटी को भी अब ये खेल अपने आवेश में लेने लगा था क्योंकि अब वो भी सोफे में और नीचे की ओर खिसक कर लेटने सी लगी थीं. हॉट लड़की की देशी सेक्स कहानी में पढ़ें कि हमारे घर में पड़ोसियों के रिश्तेदार ठहरे तो उनमें एक लड़की मेरी उम्र की थी. पहली बार में उसकी चूत का रस कुछ ही मिनट में निकल गया लेकिन मैं रुका ही नहीं, मैंने ताबड़तोड़ चुदाई चालू रखी.

मैंने पीछे से उसके बाल पकड़ कर मुँह आगे को किया और पूरा मुँह में डाल कर तेज तेज आगे पीछे करने लगा. मैं आंख बंद करके लेट गया तो चाची उठीं और उन्होंने अपनी मैक्सी को ठीक किया और फिर से सो गईं. लंड सकिंग सेक्स स्टोरी लोकल ट्रेन में मिली एक भाभी के साथ चलती गाड़ी में अश्लील कारनामों की है.

सेक्सी चुदाई भाई बहन की चुदाई

मैं उनके होंठों को चूमते हुए लंड अन्दर बाहर करते हुए और अन्दर पेलने लगा. फिर हम कभी कैसे, कभी कैसे बेड पर लेटे … पर हमें नींद नहीं आ रही थी. दूसरे हाथ को मेरे सीने पर हाथ रखते हुए मेरे मम्मों को हल्का हल्का दबाने लगा.

अंकल ने मुझे बोला- बेटा, तू आज के लिए सन्नो के कपड़े पहन ले, मुझे पता है कि तू लड़का है, पर मेरी तबियत सही रहे … इसके लिए तू लौंडियों के कपड़े पहन ले.

वहां हम दोनों घूमे, वहां पर काफी चीजें ट्राई की, वहां से कुछ चीजें भी खरीदीं.

मैं सोचने लगी कि ‘रे बाबा अब क्या हुआ?’लेकिन कुछ और होने वाला था!जेठ जी ने मेरे दोनों पैर अपनी कमर पर फंसा कर रखे और चूत में लन्ड को घुसाया।फिर उन्होंने मुझे इस पोजीशन में अपने गोद में उठा लिया. अब आगे सेक्सी कॉलेज गर्ल Xxx कहानी:अपनी कल्पना वाली इस मशीन से वापिस आने के बाद मैंने अपनी मम्मा सौम्या को अच्छे से चोदा, लेकिन मेरी मम्मा को न जाने क्यों खुशी नहीं हुई. लेडीस सेक्सी हिंदी मेंसिमरन, उसकी मम्मी-पापा और उसका भाई, जो कि बाहर हॉस्टल में रहने चला गया था.

मेरा लंड उनके घर में घुसते ही खड़ा होने लगा और दो ही मिनट में ही पूरा खड़ा हो गया. चाची मेरे लंड को दबाती हुई बोलीं- ये आज तेरा लंड बड़ा बड़ा सा और मोटा क्यों लग रहा है. मगर मैं देख रहा था कि उनकी नज़र किचन में कम … और मेरे कमरे में ज़्यादा थी कि यहां पर क्या क्या हुआ है.

ऐसे ही मैंने भी सोचा कि जिस तरह मेरा लंड फुंफकार रहा है, क्या पता उसकी चुत में भी आग लगी हुई हो. उसे काफी दर्द हो रहा था पर वो गर्म भी होती जा रही थी तो उसे अपने दर्द का अहसास कम होना शुरू हुआ.

20 मिनट बाद रूम को किसी ने नॉक किया तो मैं समझ गया कि फ़लक आ गयी है.

अब मेरे मन में ख्याल आने लगे थे कि चाची अब चाहें न चाहें, मगर अब मैं इनको नंगी करके चोद ही दूंगा. फिर से मैंने अपने लंड को चूत के छेद पर लगाकर एक धक्का लगाया तो लंड का सुपारा चूत में घुस गया. मैंने कहा- क्या हुआ, सब ठीक तो है न … किसी डॉक्टर को दिखाया!वो बोली- अरे बाबा इतना सब नहीं … ये तो रेगुलर है कुछ ख़ास नहीं.

सेक्सी दो गुजराती जैसे ही वो शांत हुई, मैंने फिर से जोर लगा कर शॉट मारा और अपना पूरा लंड पेल दिया. मैं- अरे जब सामने इतनी हॉट साली हो, तो कहीं और क्यों नजर जाएगी साली साहिबा.

मैं- भाभी आप कह रही थीं कि महीने मैं एक दो बार … आप ऐसा ही कुछ बोल रही थीं शायद?भाभी- तो तुमने वो भी सुन लिया!मैं- हां, पर मैं किसी को भी नहीं बताऊंगा. रेखा झूठा गुस्सा दिखाती हुई अपनी गांड मेरे लंड पर रगड़ती हुई बोली- हटो ना हर्षद … मुझे चाय बनाने दो. अब मुझसे एक पल भी रहा नहीं जा रहा था, मैंने धीरे से उसके कान में कहा- प्लीज विलियम फक मी … फक मी बेबी!उसने मेरे बड़े बड़े बूब्स को चूसना चालू कर दिया.

देसी फिल्म सेक्सी मूवी

मैंने लंड बाहर निकाला और आंटी को वहीं पड़ी चटाई पर लेटा कर फिर से उनके चढ़ गया. वो मुझे अपने शरीर से अलग कर रही थी लेकिन मैंने उसे हिलने भी नहीं दिया. मैं उन्हें चोदने के लिए बेचैन था, वो भी लंड की तलबगार थी पर डरती थी शायद!दोस्तो, मैं गौरव एक बार फिर से देसी आंटी सेक्स कहानी में आपका स्वागत करता हूँ.

सरिता मुस्कुराकर बोली- बहुत बदमाश हो … तुम दोपहर की बात अभी भी याद रखे हो. मैंने अपने होंठों और जीभ से उसकी चूत को चाटना और चूसना शुरू कर दिया.

वो अपनी चुत की गहराई में मुझे लगातार खींच रही थी और अपने गर्म चुत रस से मेरे लंड को नहला रही थी.

लेकिन मैंने सौम्या के होंठ अपने होंठों के अन्दर दबा लिए और सौम्या की चूचियों को दबाने लगा. जिस दिन मेरा सेकंड लास्ट एग्जाम था, उस दिन मैंने फेसबुक खोली तो देखा नैना का जन्मदिन है. दोपहर को हॉस्पिटल चैकअप में उनका प्लास्टर निकाल दिया गया और फिजियोथैरेपिस्ट ने उनके पैर का ध्यान रखने का बोला.

दीदी के आधे से ज्यादा बड़े बड़े दूध ब्लाउज के बाहर से ही झलक रहे थे. लगभग और दस मिनट की चुदाई के बाद जब मेरा पानी निकालने वाला था तो मैंने आंटी से पूछा- पानी अन्दर ही निकाल दूं … या बाहर?आंटी ने कहा- नहीं नहीं अन्दर नहीं … बाहर निकालना!मैंने कहा- ठीक है, मैं आपके मुँह में निकालूंगा. हम दोनों खो गए … इस हवस की आग में भूल गए थे कि मेरा दोस्त और उसकी मम्मी घर पर ही हैं.

मैंने भी उससे कहा- हम दोनों सब साझा करते हैं, अब जब भी तेरी इच्छा हो, तब शनाया को बुलाकर चोद लेना.

इंडियन बीएफ वीडियो पिक्चर: मैंने प्राची से दोस्ती बढ़ा ली थी, जिस वजह से प्राची ने मुझे बहुत से राज बताए. मैंने समझ लिया कि भाभी अपनी चुचियों के निप्पल को किशमिश कर रही हैं.

मैंने देर ना करते हुए एक धक्का लगाया तो मेरा आधा लंड अन्दर चला गया. हमारा ध्यान खाने पर नहीं था सिर्फ दिमाग में एक ही सवाल बार बार आ रहा था कि क्या मयंक राज़ी होगा?जब मीनल की विदाई हो गयी तब भी मयंक नहीं आया. शिल्पा ने एक पल को मुझे देखा और अगले ही पल वो जल्दी से बाहर चली गई.

उसकी गांड और गीली चूत मुझे बहुत लुभाती थी और इस तरह से हमारी गर्मी बढ़ती जा रही थी.

मगर वो बड़ी साहसी लौंडिया थी, उसने अपने दांतों को भींच कर मेरे लंड के हमले को सहन कर लिया था. बाथरूम में मैंने उसकी गांड की सिकाई बिल्कुल वैसे की जैसे उसकी चूत की. इतने में अचानक आंटी मेरा सर अपनी चूत से दूर धकेलती हुई उठ कर बैठ गईं.