बीएफ असली चुदाई

छवि स्रोत,सेक्सी फिल्म नगरी

तस्वीर का शीर्षक ,

राशि खन्ना सेक्स: बीएफ असली चुदाई, वो उससे कुछ फुसफुसाकर बोल रही थीं कि तभी मैं भी पीछे से उठ कर उनके कमरे में जाने लगा था.

कॉलेज सेक्सी वीडियोस

मैं देखना चाहती हूं कि इन तीनों की हालत मुझे चोदते हुए देखकर कैसी होगी. सेक्सी मूवी चुदाई सेक्सी मूवीमगर शायद पिछले दो दिनो के वार्तालाप में शेखर ने धारा को ये ज़रूर अहसास दिला दिया था कि उसे धारा की परवाह थी और आधी जंग तो वो जीत ही चुका था.

इसी तरह से मैं शहजाद से काफी खुल गई थी और उसके साथ बिस्तर में लेट कर उसे अपने करीब लाने की कोशिश करने लगी थी. सेक्सी गर्ल वीडियो चुदाईनिखिल बीनबैग पर आगे पीछे होने लगा और अपनी कमर हिलाते हुए अपनी मौसी मीरा की चुत चोदने लगा.

मेरे देवर का दोस्त तो मुझे लेटाकर मेरे बूब्स को बुरी तरह से चूसने लगा; मेरे होंठों को अपने होंठों में लेकर चूसने लगा.बीएफ असली चुदाई: वो मेरे शरीर को और खड़े लंड को ऐसे देख रही थी कि बस अब मुझे खा ही जाएगी.

अब तक शेखर को नशा भी काफ़ी हो चुका था और उस नशे की हालत में ही शेखर अपने बिस्तर से उठा और बालकनी में जाकर बेचैनी में इधर-उधर घूमने लगा.दोस्तो, आपको कुंवारी लड़की की सेक्सी कहानी कैसी लगी, प्लीज मुझे मेल करें.

सेक्सी मूवी 2022 - बीएफ असली चुदाई

मैंने ये सुनकर भाभी की तरफ देखा तो भाभी ने आंख मार दी और बोलीं- आज मेरे साथ ही रह लो … मुझे तुम्हारे साथ अच्छा लगेगा.अब आगे कुंवारी लड़की की सेक्सी कहानी:हम दोनों सेक्स चैट अब लगभग रोज ही करने लगे थे.

मैंने भी मौका देख कर अपने गीले बालों को इस तरह झटका देते हुए घुमाया कि उसके चेहरे पर मेरे गीले बाल लग गए. बीएफ असली चुदाई थोड़ी देर बाद मैंने लंड निकाल लिया और शन्नो ने पहले लंड चूसा, फिर एक बार में पूरा गिलास पी गई.

आ इधर बैठ जा … बोल तुझे क्या चाहिए?वो बोला- मैंने तेरा सब कुछ देख लिया है और अब मुझे तेरे साथ चुदाई करना है.

बीएफ असली चुदाई?

मैं मुठ मारने में इतना मगन था कि मैंने बाथरूम का दरवाजा भी बंद नहीं किया था. उनका सिर्फ एक तिहाई लौड़ा ही मेरे मुँह में समा पा रहा था।वे बोले- वाह हरामजादी वाह … क्या बात है, साली तू तो काफी मजेदार तरीके से लंड चाटती है, अहमद को तो मजा आता होगा बहुत!मैं लंड को हाथ से रगड़ते हुए बोली- अरे जेठ जी, उनका लंड तो आपके लंड से आधा भी नहीं है. मेरे लिए इस सारी जानकारी का कोई मतलब नहीं था, सिवाय इसके कि मेरी पत्नी को स्कूल की एक एक बात बताने की आदत है और मुझे सुनना पड़ता है.

वो सेक्सी आवाज में बोली- मुझसे कौन करेगा दोस्ती!मैंने हंसते हुए कहा- मैं हूं ना … और मैं भी तो यहां अकेला हूं, मुझे भी आप जैसी एक हसीन दोस्त मिल जाएगी. वह लड़की भी मुझे देखे जा रही थी … लेकिन मेरी हिम्मत उससे बात करने की नहीं हो रही थी. मगर ऐसे आपका नाम लेना क्या सबको अजीब सा नहीं लगेगा!वो बोली- ठीक है, पर अकेले में तुम मुझे मेरे नाम से ही बुलाया करो.

मगर इस पल में मुझे कुछ हो गया, इसे नशा कहो या उसका आकर्षण था कि मैं उसे गले से हटाना नहीं चाहता था और ना ही वो हटने का प्रयास कर रही थी. धारा की चूत एक बार फिर से अपना लावा उगलने के लिए तैयार थी, उसने भी सिसकारियाँ लेते हुए शेखर को और चोदने के लिए ललकारना शुरू किया. दोस्तो, चोदने के लिए जैसे लड़कों का लंड खड़ा हो जाता है, वैसे ही चुदवाने के लिए औरतों के निप्पल बड़े हो जाते हैं.

मैं भी उनके पीछे चला गया और मैंने उनसे कहा- आंटी, वो क्या था?आंटी ने कहा- नितिन तुम प्लीज़ यह बात किसी को मत बताना. जीन्स और टॉप पहने हुए इतनी मस्त लग रही थी मानो अभी हां बोले, तो साली को अभी लेटा कर चोद दूं.

वरना कल तेरा सामान बाहर फेंक दूंगा और चोरी के इल्ज़ाम में जेल की हवा अलग.

जैसे ही मैंने कपड़े उतारे तो वो चोरी चुपके से मुझे पूरा नहाते हुए देखता रहा.

मैंने कैसे एक दार्जिलिंग की एकदम कुंवारी लड़की को चोदा, इस सेक्सी ऑफिस गर्ल की चुदाई कहानी मैं आपको उसी चुदाई के बारे में बताना चाहता हूं. मौसी- क्यों कैसा है मेरा शेर?मैं- मैं ठीक हूँ आप बताओ … आज फोटो क्यों भेजी आपने!मौसी- सोच रही थी कि तुझे थोड़ा तरसाऊं!मुझे पता चल गया कि फिलहाल मौसी गर्म हुई हैं. मीरा ने लंड को अपनी चुत में ले लिया और लंड चुत में लेते ही उसने मादक सीत्कार निकाल दी.

फिर उसने जैसा जया के साथ किया था, वैसा ही वो चमेली के साथ करने लगी. साले कई कई रानियां रखते थे … एक अगर पीरियड में हो, तो दूसरी ठोकने को मिल जाती थी, क्यों दी?तन्वी अन्दर घूमते हुए बोली- अदिति, मेरी एक बात मानेगी?अदिति- यस माय डियर सेक्सी दी … कहो क्या बात है?तन्वी अपना हाथ आगे बढ़ाते हुए बोली- तू मुझे दीदी बोलना छोड़ दे, मैं तुझसे ज्यादा बड़ी नहीं हूँ. अब ये बताओ कि गर्लफ्रेंड कितनी हैं आपकी!मैंने फिर से हड़बड़ाते हुए कहा- एक भी नहीं.

चाची- आआहह मां मर गई … मादरचोद धीरे नहीं पेल सकता था भोसड़ी के … आह फाड़ दी मेरी चूत.

मैं मानती हूँ कि इस खेल में रोमांच तो है लेकिन कहीं ना कहीं मेरे मन में मजबूरी वाली भावना भी होती है. मैंने कहा- रात का क्या प्लान है?तीनों ने एक साथ कहा- चुदने का प्लान है. मेरी शन्नो रंडी भी अपनी गांड पटकने लगी और लंड पर उछल उछल कर चुदवाने लगी.

ये घटना मेरी और पड़ोस की लेडी डॉक्टर के बीच की है जो बहुत पहले घटी थी. चिराग- आई लव यू ज्योति … मजा आया!ज्योति- बहुत … आज पहली बार कोई अच्छा काम किया तुमने … आई आल्सो लव यू जानू. पूरे कमरे में भाभी की मादक सिसकारियां गूँज रही थीं- आह यह आ आह … ऊह आआआ उ!मैंने भाभी से मुँह से लंड निकाला तो वो बोलीं- दीपक, प्लीज अब देर न करो … मेरी चूत में अपने मोटे लंड को डाल दो.

चूंकि मेरे पेट में दर्द था और घर पर किसी और का रहना भी जरूरी था इसलिए मैंने घर पर रहने का फैसला कर लिया था.

सुपारे पर जमी कामरस की सारी बूँदें धारा ने चट कर दीं और फिर पूरे सुपारे को अपने होंठों के बीच लेकर क़ुल्फ़ी की तरह चूसने लगी. वो भी गाली देते हुए बोला- साली रंडी … चुत चोदने का असली मजा तो ऐसे ही आता है.

बीएफ असली चुदाई कुछ देर बाद मेरे शौहर का फिर से कॉल आया और वो बोले- कुछ देर में शहज़ाद आ रहा है. वो लोग कभी मेरी नंगी छाती दबाते थे और कभी मेरी चूत को छूने लगते थे.

बीएफ असली चुदाई स्नेहा- मतलब!नेहा- अभी तो एक से बढ़कर एक चिकनी सेक्सी चूतें, भोसड़ी … और अभी तो चाची, मामी की झांटों से भरे भोसड़े चुदना बाकी है … मेरी चिकनी चमेली. ये सब देख कर मैं पीछे हट गया और अब आगे जो होने वाला था, उसे देखने के लिए बेताब हो रहा था.

अभी भाभी चुदने के लिए तैयार नहीं थीं पर मैंने एक झटके में पूरा लंड चुत के अन्दर डाल दिया.

सेक्स चूत सेक्सी

अब वो ज़्यादा हिलते हुए साथ तो नहीं दे रही थीं, पर हर झटके के साथ उनके होंठों की पकड़ मेरे होंठों पर और भी मजबूत होती जा रही थी. जब भी इस तरह का टॉप पहन कर कोई लड़की सामने से झुकती है, तो सबकी नज़रें उसके मम्मों पर ही टिक जाती हैं. अब आगे दोस्त की बीवी की चुदाई कहानी:प्रशांत मेरी हथेली सहलाते हुए बोला- ठीक है भाभीजी अच्छे से सोचकर बता देना … पर आज तो हम दोनों की मांग पूरी कर दो.

शायद उसे ये मालूम ही नहीं था कि अभी मेरा केवल आधा ही लंड चुत के अन्दर ही गया है. मैं लड़कियों को चोदने में माहिर खिलाड़ी था, तो वो भी बिस्तर पर खेलने वाली बहुत बड़ी खिलाड़ी लग रही थीं. प्रिया का हाथ चुत से अलग हुआ तो वो जया की चुचियों पर जोर से हाथ मारने लगी.

कुछ देर बाद लंड चूत की दोस्ती हो गई और अब वो भी कहने लगीं कि बड़ा अच्छा लग रहा है … आअहह एमेम … बस ऐसे ही राजा … आह और चोदो मुझे … ओफफ्फ़ आह.

सविता भाभी के साथ खेलिए क्रिकेट का खेल!सविता भाभी वीकएंड में भी पति के घर में ना रहने के कारण काफी बोर महसूस कर रही थीं किसी काम में मन नहीं लग रहा था।इस समय वो सिर्फ एक पेटीकोट और काफी खुले गले का ब्लाउज पहने थी. ‘पूरा पैसा खाते में कैसे जाएगा?’मैं समझ गया कि भाभी दोअर्थी बात कर रही थीं. ”सितारा जी, मैं बहुत सीरियस हूँ, अगर आप एक बार मिलने का मौका दीजिये तो मैं अपने दिल की बात कह दूँ.

तो मैंने बांध दी और ये पूछने को हुई कि ये खोली क्यूँ?पर तभी मेरा फोन बज गया. फिर मैं बोली- इतनी ज्यादा नाराजगी!गौतम बोला- मुझे आपसे बात नहीं करना. लेकिन अब जिस तरह मेरी बेटी जवान होते ही एकदम खिल गयी थी, उससे मुझे लगने लगा था कि अब तो इसके चुदने के दिन आ गए हैं.

मैं बेड पर बैठा था, वो सामने से गांड मटकाती हुई आ रही थी और मैं उसे देखकर गर्म हुआ जा रहा था. मैंने भी जोश में भाभी की ब्रा फाड़ दी- ले रंडी … इसी तरह तेरी गांड भी फाड़ूँगा.

उसका नशा तो इस बात को सुनकर ही फुर्र हो गया था कि उस तरफ़ ललित नहीं धारा बैठी थी. उसे समझ आ गया था कि उसका होने वाला दामाद चुदाई के मामले में एक सांड जैसी ताकत रखता है. फिर मेरी मां ने दो मिनट में ही सैम के लंड को झड़ा दिया और अन्दर बाथरूम में चली गईं.

उसने मुझे 10 मिनट तक अलग अलग तरीके से चोदा और अपना माल मेरे अन्दर ही छोड़ दिया.

सविता भाभी की चूत को लंड की जरूरत थी शायद … उन्होंने समय बिताने के लिए टीवी चला लिया।अभी वो टीवी के सामने बैठी ही थी कि खिड़की के शीशे को तोड़ते हुए एक गेंद कमरे में आ गिरी।सविता भाभी को गुस्सा आया झल्ला और वो गली के शरारती बच्चों को कोसने लगीं।फिर अचानक दो नौजवान लड़के आये और उनसे माफ़ी मांगते हुए अपनी गेंद मांगी. मैंने आव देखा न ताव, एक हाथ से भाभी का मुँह खोला और दूसरे से सर को लंड की तरफ दबा दिया. मेरे मन में उसके लिए प्यार उमड़ने लगा था … मगर मेरे फट्टू स्वभाव के चलते हम दोनों की गाड़ी अटक सी गई थी.

भाभी अपना हाथ मेरे सिर पर बालों में फेरती हुई मुझे आना दूध पिला रही थीं. मैं लण्ड अंदर डाले फ़लक के ऊपर लेटा रहा और जगह जगह से फ़लक को चूमता रहा.

उसने पैर और फैला दिए जिससे उसकी गुलाबी चूत के अन्दर तक दर्शन होने लगे. अनिकेत भैया बाथरूम के गेट पर आकर खड़े हो गए और दरवाजे को खटखटाने लगे. मुझे हचक कर चोदने के बाद इसने अपने लंड का गाढ़ा माल मेरी गांड के अन्दर छोड़ दिया.

सेक्सी मसाज इंडियन

अब फ़लक के शरीर पर केवल आधी बाजू की आगे से खुली शर्ट रह गई थी, बाकी सब नँगा हो चुका था.

अब आगे स्टोरी ऑफ़ सेक्स इन रिलेशनशिप:लौड़े पर चाची का हाथ पहुँचते ही मैंने भी नाईट गाउन से बाहर आई चाची की जांघ पर अपना हाथ रख दिया. वो मेरे पास आया और मुझे बांहों में भर कर मेरे होंठों पर होंठ रख दिए. वो आई और गाड़ी में बैठ गई, उसके पास सामान के नाम पर सिर्फ एक सूटकेस था.

फिर मुझे एक आईडिया आया और मैंने उनसे कहा- आंटी टीवी चालू कीजिए ना!उन्हें शायद याद ही नहीं था कि सीडी प्लेयर चालू है. इंडियन गांड सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने पहली बार गांड मरायी, वो भी एक लम्बे मोटे लंड से. सेक्सी school girlमैंने लंड पेलते हुए कहा- शन्नो अब तू मेरी रंडी है … और मैं तुझे रोज ऐसे ही चोदूंगा.

धारा- चलिए फिर, फ़िलहाल तो आप ऑफ़िस में होंगे, रात में बात करते हैं. इधर मैं बता दूँ कि मेरा परिवार गांव में रहता था और मैं अकेला यहां पर रहता था.

शेखर रोमांच से इतना भरा हुआ था कि उसने लगभग अपनी पूरी ताक़त से धारा की चूचियों को मसल ही दिया. मौसी- अब मैंने फ्रेंची के ऊपर से ही तेरे लंड को हाथ लगाया तो साला कोबरा सा फुंफकारने लगा. मैं उसके घर से वापस जाने लगा तो उसने मुझे फ़ोर्स करके अपने घर रोक लिया.

धारा ने दो मिनट का समय माँगा था।इस बीच शेखर ने एक बड़ा सा पैग बनाया और एक ही साँस में गटक लिया. वो इतने जोश में आ गए थे कि मेरी नाइटी को जल्दी से निकाल देना चाहते थे और इसी जल्दबाजी में उन्होंने मेरी नाइटी फाड़ डाली।अब मैं केवल चड्डी में ही रह गई थी. मैंने उसकी चूचियां मसलते हुए कहा- शन्नो, तू तो किसी रंडी से भी मस्त होकर चुदवाती है.

जैसे ही मैंने कपड़े उतारे तो वो चोरी चुपके से मुझे पूरा नहाते हुए देखता रहा.

लगभग एक घंटा हुआ होगा, तभी मुझे अहसास हुआ कि कोई मेरे लंड को पैंट के ऊपर से सहला रहा था. इसी के साथ चाचा ने दूसरा धक्का मार दिया और अपना पूरा लंड चाची की चूत में जड़ तक घुसेड़ दिया.

मैं बेड से नीचे खड़ा हो गया और चाची के गोरे और चिकने चूतड़ों पर हाथ फिराना शुरू किया. लेखक की पिछली कहानी:रंडी क्लासमेट ने मुझे कॉलबाय बनायामेरा नाम रवीश कुमार है, मैं रांची झारखंड से हूं. दस मिनट के बाद फिर से भाभी का शरीर अकड़ने लगा तो मेरा भी काम उनके साथ हो गया और हम एक दूसरे पर पड़े रहे.

तो मैं कैसे चुदी उस जवान लड़के से?हैलो हाजरीन और खवातीन, मैं आपकी प्यारी सी सबीना आपको अपनी सेक्स कहानी में अपनी बेटी के लंड से अपनी चुत चुदाई के लिए मरी जा रही थी. अगले दिन दोपहर को शहज़ाद फिर मेरे घर आया और हमारे साथ खाना खाकर बाहर ही बैठ गया था क्योंकि मेरी बेटी उससे नाराज़ थी. संगीता ने तुरंत हम दोनों के लौड़े हाथों में लिए और जोर जोर से हिलाने लगी.

बीएफ असली चुदाई कुछ देर बाद लंड ने चुत में अपनी जगह बना ली और चुत ने भी थोड़ा पानी छोड़ दिया था जिससे लंड को चुत के अन्दर आने जाने में चिकनाई हो गई थी. आगे से मेरी चूत में उंगली जा रही थी और पीछे से मेरी गांड में। ऐसा लग रहा था जैसे वो अपने दोनों ही हाथ मेरे अंदर घुसा देगा.

anil सेक्सी

तो दीपा बोली- राजा, आज पूरी रात तुम्हारे साथ हूँ, सारी कसर निकाल लेंगे, जल्दीबाजी क्यों करते हो।मनीष वहीं सोफ़े पर बैठ गया और सिगरेट सुलगा ली।दीपा ने अपना टॉप उतार फेंका और मनीष की गोदी में जा बैठी. वहीं मेरा लंड भी था, रूचि लंड चुत दोनों पर जीभ की नोक से गुदगुदी करने लगी थी. थोड़ी देर बाद निखिल की ओर से कोई हरकत ना देखते हुआ मीरा ने अपना एक हाथ निखिल के पेट पर रख दिया और धीरे धीरे नीचे को खिसकाने लगी.

ताई ने लौड़े को मुँह में डालने की कोशिश की, लेकिन उनके मुँह में आधा लंड भी नहीं जा पा रहा था. मैंने कविता का हाथ अपनी फ्रेंची पर रखते हुए उसे नीचे खिसकाने का इशारा किया. देवर भाभी सेक्सी वीडियो चूतमगर ये मौका अपनी बेटी के यार के लंड को अपनी गांड में लेने का था तो मैंने अपनी गांड मराने का मन बना लिया.

मैंने शन्नो रंडी को बोला- साली तुझे लंड से चुदने का बहुत चस्का है?वो बोली- हां लंड मुझे बहुत पसंद हैं और मैं हमेशा सोचती थी कि मेरी चूत गांड में ऐसा लंड कब जाएगा.

मैंने उसकी सलवार और पैंटी एक साथ नीचे कर दी और उसे दीवार के सहारे खड़ा कर दिया. जब उसने झुक कर कप रखे, तो मैंने उसके मम्मों को देखा और समझ गया कि इसने ब्रा नहीं पहनी थी.

वो बोलीं- मेरे राजा, बाथरूम में जाने की क्या जरूरत है, अपने लंड का रस तुम मेरे मुँह में ही गिरा दो ना!मैंने आंखें बंद कर लीं और भाभी को लंड चूसने दिया. पटों और जांघों में पैंट इस कदर फँसी थी कि फ़लक की चूत की दोनों मोटी फाँकों को छिपाने की बजाए दिखा ज्यादा रही थी. अब मैंने लिंग को दोबारा से चूत के द्वार पर रख दोनों हाथों से नेहा के हाथ पकड़ लिए और झटके से नेहा की चूत में धक्का दे मारा.

पर्दा सरकाते टाइम उन्होंने हाथ ऊपर करके पर्दा बंद किया था … इस कारण मुझे उनकी एक बगल फिर से दिखाई दे गई थी.

मुझे हल्का दर्द होने लगा था पर मुँह में चड्डी की वजह से आवाज़ नहीं आ रही थी. मैं ‘आअह अआहह … मादरचोद जोर से झटके मार … आःह्ह रंडी के बच्चे मार मेरी चूत … आअह …’ करती हुई झड़ गयी. मुझे अपनी चूत चुसवाना, चूचियां दबवाना, निप्पलों को दांतों से कटवाना और कठोरतम चुदाई करवाना बहुत पसंद है.

हिंदी सेक्सी फिल्म चलाएंफिर कुछ देर के बाद मेरे देवर भी फिर से तैयार हो गए और उन्होंने अपना लंड मेरी गांड में डालना चाहा. भैया पूरे नंगे लेपटॉप पर ब्ल्यू फिल्म देख रहे थे और अपने मूसल जैसे काले लंड की मुठ मार रहे थे.

अलीगढ़ की सेक्सी

शन्नो बोली- आह राज चोदो मुझे … और चोदो … मुझे रोज लंड से चुदाई का सपना आता था. चाची लण्ड को पकड़े पकड़े नीचे बैठ गई और बैठते ही मेरे लण्ड को मुंह में भर कर चूसने लगी. देसी भाभी पोर्न कहानी पड़ोस में दूकान वाली साड़ी पहनने वाली भाभी की है.

मैंने उनके बारे में कभी भी गलत नहीं सोचा था क्योंकि मुझे पता था कि भाभी देंगी तो हैं नहीं. खैर, बुझे हुए मन से शेखर ने धारा को जवाब दिया- ठीक है धारा जी … आपका इंतज़ार रहेगा. परिवार में चुदाई स्टोरी के पिछले भागमेरी सेक्सी ताई और भाभी का नंगा बदनमें अब तक आपने पढ़ा था कि सर्दी भरी उस बारिश की रात में मैं पूरी तरह से नंगा बिस्तर पर कंपकंपा रहा था.

कुछ पल बाद मैंने अपने लौड़े की रफ्तार बढ़ा दी और तेज़ी से चुत में अन्दर-बाहर करने लगा. जब तक लड़की 19 साल की नहीं होती है, उसे लंड चुत और माल से दूर रखा जाता है. वहां से एक ज्यादा खूबसूरत तो नहीं, लेकिन बहुत ही अच्छे फिगर की मालकिन एक बंजारन लड़की अपने कबीले के साथ ट्रेन में चढ़ गई.

” घुटी हुई आवाज़ में दर्द दबाते हुए उन्होंने फिर से बात बदलने के लिए कहा. ऐसे किसी को पता चल गया तो लोग क्या सोचेंगे हमारे बारे में?तभी मैंने उससे पूछा- और कहीं ऐसी जगह हो जहां कोई जानता ही नहीं हो तो?नेहा ने मेरी तरफ आश्चर्य से देखते हुए पूछा- मतलब?मैं- मतलब यह कि यदि हम अपनी जान-पहचान में न करके कहीं बाहरी आदमी से करें तो न हमें किसी तरह की शर्म होगी न कोई जान-पहचान का डर.

मैंने उसके बालों की चोटी पकड़ कर घोड़ी की लगाम बना ली और उसे पेलने लगा.

उभरी हुई चूत का मुँह नीचे चाची की एड़ियों की ओर हो गया जिससे मेरे पेट की तरफ खड़ा मेरा लौड़ा चूत को उसी पोजीशन में अच्छी तरह ठोक सकता था. ट्रिपल एक्स सेक्सी मूव्ही हिंदी मेफिर मैंने उसे घोड़ी बना दिया और उसकी गांड में थूक लगा कर अपना लौड़ा घुसा कर उसे चोदने लगा. सेक्सी 16 साल की लड़की की चुदाईभाभी ने थैंक्यू कहा और मैंने बात को आगे बढ़ाते हुए बोल दिया कि भैया बहुत लकी हैं, जो आप जैसी पत्नी मिली. मैंने उससे कहा- अगर मैं तुम्हारे साथ चलूं तो तुम चलोगे?इस बात पर वो एकदम से खुश हो गया और बोला- ठीक है, आप चलिए.

मैंने उसके ऊपर आकर उसके गालों पर फिर से किस किया और उसकी जांघों के बीच लन्ड रगड़ा ही था कि नेहा ने तुरंत अपनी टांगें खोल कर मुझे लन्ड अंदर डालने की अनुमति दे दी.

क्योंकि मेरी चूचियां 36 इंच की हैं और अभी भी एकदम ऐसी तनी हुई रहती हैं, जैसे एक नवयौवना लड़की की होती हैं. साहिल बोला- ओके सर मैं कंपनी जा रहा हूं … आपको कुछ चाहिए हो, तो अम्मी को बोल देना. भाभी से रहा नहीं जा रहा था तो उन्होंने मेरा सर पकड़ कर अपनी चूत पर दबा दिया.

करीब दस मिनट बाद सैम का लंड फिर से खड़ा हो गया और उसने मेरी मां को घोड़ी बना दिया. लंड ने चुत की फांकों में मुंडी घुसाई और चाची अपनी चूत में लंड लगा कर घच्च से बैठ गईं. मुझे बहुत मजा आ रहा था, मेरा मन कर रहा था कि कोई जल्दी से मेरी चूत में लंड डाल कर मेरी चुदाई शुरू कर दे.

एक्स एक्स एक्स हॉट सेक्सी भाभी

तेरे मुंह में लंड दे देंगे … तेरी मां चोद देंगे … तेरी बहन चोद देंगे!और पता नहीं राज ने गुस्से में क्या-क्या कहा. कुछ देर बाद हम दोनों फिर से गर्मा गए तो उसने मुझे बिस्तर पर लेटने को कहा. अब तक मैं अंकल की मंशा समझ गया था और मैंने सोचा कि अब यहां मजा आएगा.

सबने अपने कपड़े पहन लिए और गगन के साथ घर से नजदीक नगर की चौपाल के पास बने स्टेज के पास आ गए.

मैं उसकी छोटी सी बुर को अपने लंड पर लगा कर उसके होंठों को चूसते हुए चुचियों को मसल रहा था.

चाची ने मुझे अपने गदराए चिकने शरीर पर भींच लिया और मेरे मुँह और होंठों को चूमने चूसने और काटने लगी. संगीता फुल गर्म हो चुकी थी … व्हिस्की का नशा भी हम तीनों पर छाने लगा था. काजल राघवानी सेक्सी डांसउसने मुझे बांहों में भर लिया, मैंने भी उसे आगोश में ले लिया उसे और एक दूसरे से लिपटे हम सो गये.

मैं कॉलेज के टाइम अन्तर्वासना पर चुदाई की कहानियां पढ़ता था, उसमें मां बेटे की चुदाई की कहानियां मुझे ज्यादा पसंद आती थीं. उसकी टांगें फ़ैल गई थीं और उसने मेरे लंड को अपनी चुत की फांकों में लगा दिया था. मैं अब स्मृति की कमर के आसपास चूमने लगा। एक उंगली उसकी चूत में डालकर अंदर बाहर करने लगा।स्मृति के मुंह से आह … आहह … करके सिसकारी निकल रही थी.

मैंने बिना समय गंवाए अपनी अंडरवियर उतार दी और उसके ऊपर चढ़ कर उसको चूमने लगा. और उधर धारा ने अपनी बांहें ऊपर करके शेखर के गले में उल्टी तरफ़ से डाल दी थीं और शेखरे के बालों को खींच कर अपनी उत्तेजना का इजहार कर रही थी.

इस बीच मैंने उँगली अंदर बाहर करना जारी रखा ताकि नेहा फिर से पैंटी उतारने में इनकार न कर पाए और इस बार मेरी मेहनत रंग लाई.

नमस्कार दोस्तो, मैं प्रवीण कुमार रायपुर से आपके सामने अपनी सेक्स कहानी लेकर हाजिर हूँ. अनामिका अब उसके होंठों से होंठ मिलाकर उसके होंठों का रस पीने लगी और इसमें समीर भी उसका बहुत अच्छे से साथ दे रहा था।मैं अब उठ गयी और समीर की निक्कर उतार कर उसका लौड़ा अपने मुँह में लेकर चूसने लगी।क्या स्वाद था उसके लन्ड का, जैसे अमृत था. अंग्रेज़ी में जिसे रिवर्स काऊगर्ल (riverse cow girl) पोजीशन कहा जाता है, उस पोजीशन में आने के लिए कहा.

माधुरी शर्मा की सेक्सी वीडियो मैं तुमसे वादा करती हूँ कि आज मैंने जो कुछ किया, ये मैं तुम्हारी ख़ुशी के लिए फिर करूंगी … लेकिन अभी फिलहाल इसे ज्यादा और कुछ नहीं. थोड़ी ही देर में भाबी झड़ गईं, लेकिन मेरा लंड तो अभी भी टाईट था और झटके दिए जा रहा था.

अब आगे कॉलेज लवर्स सेक्स कहानी:उधर दूसरी तरफ आकाश और स्नेहा आपस में बात कर रहे थे. लेकिन अब एक बात पक्की हो गई थी कि कुछ नया करने की शुरुआत हो चुकी थी. कुछ दूरी चलने के बाद भाभी प्यार से बोलीं- मेरा घर आ गया, यहीं रोक दो.

सेक्सी फिल्म हिंदी बॉलीवुड

उसने मुझे बांहों में भर लिया, मैंने भी उसे आगोश में ले लिया उसे और एक दूसरे से लिपटे हम सो गये. भाभी के मुँह से लार टपक कर बोबों पर आ रही थी, पर भाभी को मजा आ रहा था. मैंने कहा- हंसने का मतलब बात पक्की समझूँ?वो बोली- किस बात की बात पक्की समझना है.

फिर मैं धीरे से नेहा की पीठ पर चाटते हुए उसकी कमर पर जा पहुँचा और फिर धीरे धीरे उसकी गाँड पर चूमने लगा. दोस्तो, आज मैं अपनी पहली देसी हॉट सेक्स कहानी आप सबके बीच लेकर हाज़िर हूँ.

वह मेरे मुंह में लंड देकर जोर जोर से झटके देने लगा और अपने हाथ नीचे ले जाकर उसने मेरी गांड को चौड़ा कर दिया मेरी गांड में उंगली करनी शुरू कर दी.

मैं शाम को आ जाऊँगा।और इसके बाद मेरी माँ और जीजा जी हॉस्पिटल के लिए चले गए।मैंने घर के थोड़े बहुत काम करने के बाद खाना बनाया और फिर टीवी देखने लगी।करीब 7 बजे जीजा जी घर आये।जीजा घर आते ही दरवाजा बंद किये और मेरे गले लग गए।मैं भी उनसे चिपक गई. उसके बाद हम दोनों नीचे आ गए, नाश्ता करने के बाद वापस दोनों अपने कमरे में आ गईं. अब आगे सेक्स विद बॉस इन ऑफिस:अब ऑफिस जाकर काम करने का मन तो कर नहीं रहा था क्योंकि मेरी चूत से हल्का हल्का पानी भी टपक रहा था, पेंटी गीली हो चुकी थी।मैं 1 ब्रा और पेंटी को हमेशा अपने बैग में रखती हूँ.

मैंने जल्दी से अपनी उंगली हटा ली और कहा- ये क्या कर रही हो आंटी?आंटी बोलीं- कुछ नहीं, तू इसमें अपनी उंगली डाल और खुजली कर. खैर, धारा ने एक लम्बा चौड़ा मैसेज भेजा था, शेखर आँखें फाड़ कर मैसेज पढ़ने लगा:शेखर … पता नहीं मैं जो कहने जा रही हूँ वो पढ़ कर तुम क्या सोचोगे, लेकिन सच कहूँ तो तुमसे बात करके मुझे ऐसा लगा जैसे बरसों का बिछड़ा कोई दोस्त मिल गया हो। इसलिए तुमसे ये बातें कह रही हूँ. मैंने कहा- इक बारी मेरे साथ सेक्स कर लो आंटी … वैसे भी अंकल आपको खुश नहीं कर पाते हैं.

इतना बोल कर वो भी बाहर गाड़ी में आ गया और गाड़ी स्टार्ट करके आगे बढ़ा दी.

बीएफ असली चुदाई: नेहा- आपने कुछ लिया या नहीं?मैं- जी आप तो थे नहीं तो कैसे लेता? अब आप आ गई हैं तो ले लूंगा. चाचा- किसे बुला रही मेरी रंडी … अपनी मां को … आह बुला ले आज उसको भी नंगी करके चोद दूंगा.

उसने मेरी गांड देख कर कहा- वाह … गोरी-चिट्टी अनचुदी सेक्सी गांड देखकर मजा आ गया. मगर आज बात कुछ और थी एक तो महीनों से वो मुझसे दूर थी और बिना लंड लिए उसकी चूत भी मचल रही थी।वीडियो भेजने के कुछ देर बाद मैंने उसे कॉल की पूछने के लिए कि कैसी लगी वीडियो तो नेहा ने कहा- अच्छी लगी मगर वो दो-दो लंड एक साथ कैसे ले रही थी?उसके दो-दो लन्ड एक साथ लेने वाली बात से मैं समझ गया कि वो भी उत्सुक है और उस वीडियो की तरह ही कुछ वो भी करना चाह रही है शायद। मगर वो खुलकर कह नहीं पा रही है. मैंने कहा- हां भाभी आज मुझे अपनी और आपकी दोनों की जवानी की इस आग को बुझाना है.

जैसे ही उसके नंगे सीने पर मेरी चुचियों की नोक गड़ी और जब मैं उससे एकदम से चिपक गई, तो उसका लंड भी हिलने लगा.

मैंने भी अपना पूरा लंड थोड़ा रुक कर एक ही ज़ोरदार झटके में अन्दर डाल दिया. बाकी फिर कभी किसी कहानी में!यह जरूर बताइएगा कि मेरी हॉट बिजनेस वुमन सेक्स कहानी आप लोगों को कैसी लगी?[emailprotected]धन्यवाद. ज्योति- हट बेशर्म … सब लोग हैं यहां बस में … कोई देखेगा तो क्या सोचेगा?चिराग- बस इतना प्यार करती है मुझसे? और रही बात किसी के देखने की … तो कोई हमें नहीं देख रहा.