गांव की देहाती बीएफ सेक्सी वीडियो

छवि स्रोत,सेक्सी क्राइम अलर्ट वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

कुवैत सेक्स: गांव की देहाती बीएफ सेक्सी वीडियो, यह सब कुछ क्षण भर में, सब घर वालों के सामने ही हुआ और किसी को भनक तक नहीं लगी.

भाई बहन की चुदाई वाली सेक्सी वीडियो

मेरी बहूरानी की आँखें वासना से गुलाबी हो गयीं थीं और वो इस खेल को खूब एन्जॉय करने लगीं थी. भोजपुरी एक्स एक्स एक्स वीडियो सेक्सीक्या भैया से कटवाने के बाद से जंगल खड़ा कर लिया?सुकुमारी भौजी ने कराहते हुए कहा- इस चैत(होली के बाद का महीना) में तोसै (तुझसे) झांटें कटवाऊँगी.

मैंने पूछा- क्या आपके पति आपके साथ इस तरह से सेक्स नहीं करते हैं?उन्होंने बोला- सेक्स तो वीक में एक दो बार हो जाता है. ननंद और भाभी की सेक्सी वीडियोकुछ देर धक्के देने के बाद ही जोया के मुँह से हाँफने की आवाजें आने लगीं.

थोड़ी देर मैं ऐसे ही उसके ऊपर पड़ा रहा और उसके पूरे जिस्म को सहलाता सहलाता, उसके होंठों पर किस करने लगा.गांव की देहाती बीएफ सेक्सी वीडियो: फिर उसने खुद ही बोला कि सिर्फ मुझे नंगा करोगे, अपना कुछ नहीं दिखाओगे?उसके इतना कहते ही मैंने भी अपनी टी-शर्ट खोल दी और उसकी लैगीज को उसके पैरों से निकाल दिया.

उसने बताया कि दोनों घरों के बीच एक दरवाजा है उसको दोनों तरफ से खोल लो तो भाभी को इधर लाया जा सकता है.कैसे हो? ज्यादा देर इंतजार तो नहीं करना पड़ा?अवी- नहीं बाबू, तुम्हारे लिए इंतजार कैसा और तुम बताओ.

हिंदी भाभी की सेक्सी मूवी - गांव की देहाती बीएफ सेक्सी वीडियो

मैंने अपने ऑफिस के मेनेजर से छुट्टी ले ली और चाचा से मिलने होटल में चली गयी.वो तीनों दीदी से रहम की भीख मांग रहे थे, पर दीदी ने और क्रूरता से उन पर कोड़े बरसाए.

फिर भाभी ने मेरा हाथ पकड़ा, अभी मैंने कोई और प्रतिक्रिया नहीं की थी, सिर्फ़ हाथ ही पकड़ा था. गांव की देहाती बीएफ सेक्सी वीडियो इतने में अवी पीछे से आ गया और मेरे कंधे पर हाथ रखते हुए बोला- यही वो लड़की है दोस्तों.

कल्याणी शर्मा गई- तुम हमारे बारे में क्या सोच रहे हो कि कैसे बेशरम लोगों से पाला पड़ा है.

गांव की देहाती बीएफ सेक्सी वीडियो?

ये थी मेरी बीवी की बेवफाई की कहानी कि कैसे मैंने अपनीबीवी की नंगधड़ंग चुदाई देखी. ससुर बहू के सेक्सी खेलों भरी गर्म कहानी आपको कैसी लग रही है, मुझे मेल कर के अवश्य बताएं![emailprotected]. अब वो धीरे-धीरे मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगीं बिल्कुल पोर्न मूवीज की अभिनेत्री की तरह.

मुझे शीशे में उसके चेहरे के भाव और उसके हिलते हुए मम्मे नज़र आ रहे थे. मेरी रियल सेक्स स्टोरी के पिछले भागदोस्त की दीदी की क्सक्सक्स मूवी से चुदाई-1में आपने पढ़ा कि मेरे दोस्त की दीदी बहुत सेक्सी थी, उसकी एक क्सक्सक्स वीडियो मेरे हाथ लग गई तो उसकी नंगी जवानी देख कर मेरी कामुकता जाग गई. रीना की इच्छा को जान कर मैंने एक एक कर उसके दोनों 34 साइज के चुचों को पकड़ा और उन्हें मसलता और होंठों को चबाता रहा.

इतना कहकर मैंने उनके दोनों मम्मों को पकड़ते हुए फिर से अपनी जीभ को उनकी नाभि में फिराना शुरू कर दिया. इसे आप यहाँ से download करें!कोलकता बंगाल की सेक्सी लड़की श्वेता से हिंदी अंग्रेजी और बंगाली भाषा में सेक्स चैट और वीडियो सेक्स करने के लियेसेक्स चैट गर्ल श्वेतापर आयें और सेक्स की मजेदार बातें करके श्वेता का नंगा बदन अपने मनचाहे तरीके से देख कर मजा लें!. मैं तो बहुत खुश हुआ, पर मम्मी ने कहा कि रात के 10 बजे से पहले घर पे आ जाना वरना खैर नहीं और हां, सोनी का ध्यान रखना.

मुझे अपनी बहू की कैमल टो बहुत सेक्सी लगी तो मैंने अपना स्मार्ट फोन निकाल कर उसकी पैंटी की एक फोटो खींच ली. फिर मैंने दीदी से कहा कि दीदी पूरी नंगी देखना है, तो वो बोलीं- नहीं मुझे शरम आ रही है.

दोस्तो, मेरा नाम रवि है और मैं अहमदाबाद से ही हूँ और जयदीप जी का मित्र हूँ.

मैं वापस से उसके ऊपर आया और अपने लंड को वापस से एक झटके में ही पूरा अन्दरपेल दिया.

मैंने तो ये कहा कि पहला इम्प्रेशन इस सीने का ही होता है हम लड़कियों पर; मर्द का चौड़ा मजबूत सीना हम फीमेलज़ को सेक्सुअली अपील करता है. माधुरी और माणिक उनका ही इन्तजार कर रहे थे, उनके आते ही वे दोनों जल्दी से शादी में चले गए. इसके लिए दिल से थैंक्यू माया दीदी!मेरे प्यारे दोस्तो, मुझे मेल करके बताना मेरी रियल चुदाई कहानी आपको कैसी लगी.

खाली पैकेट गैस स्टोव पर जला दिया और उनके लिए दाल भात, रोटी और दही ले आई. कार शहर के बाहर निकल गई और करीब बीस मिनट के बाद एक सुनसान फार्म हाउस के सामने आकर रुकी. विक्की को एक सूरज जैसी गर्मी का आभास हुआ और उसका लंड पूजा की ज्वालामुखी में फंसता चला गया.

वो कुछ बोले, उससे पहले मेरे भाई ने कहा- हां हां चलो, मुझे तो झूला झूलना है.

थोड़ी देर बाद मेरा पानी निकलने वाला था, उन्होंने वीर्य अन्दर ही छोड़ने के लिए कहा. उसने ना सिर्फ किशमिश, मेरे पूरे होंठों को भी अपने मुँह में भर लिया. फिर मेरा लंड सीधा उनकी बच्चेदानी में जा कर झड़ गया और मैं उनको अपने जिस्म से सटा कर किस करने लगा.

एक दिन उसने मुझे बताया कि उसका एक पेपर लखनऊ में है, लेकिन समस्या यह थी कि वह अकेली नहीं आ सकती थी. उस पूरी रात को मैं सो नहीं पाया, बस दीदी को यहाँ वहाँ छूता रहा और मेरा लंड तन कर लोहे की रॉड जैसा हो चुका था और पानी सा छोड़ रहा था. मैंने उससे थोड़ा गुस्से से कहा- ओह तो तुम ये पेंटिंग बनाने के लिए रोज मुझे बाल्कनी से छुप छुप के देखते हो.

मैंने अपना चेहरा साफ किया और कमल के पास आ गई, उसने मुझे गले लगा लिया और मेरे कान को अपने दांतों से चुभलाते हुए बोला- सरिता आई लव यू.

इस वक्त हमें बहुत भूख लगी थी, तो स्वाति ने रूम सर्विस से खाने को स्नैक्स मंगवाये और बोल दिया कि खाना दरवाजे के बाहर ही रख दें, क्योंकि वो अभी नहाने जा रही है. फिर मैंने उनसे दोस्ती करने की तरकीब सोची, जिससे मैं उसके और करीब जा सकूं और उसके साथ सेक्स कर सकूं.

गांव की देहाती बीएफ सेक्सी वीडियो इस कोशिश में उसने थोड़ा वक़्त लिया और अपनी गांड जानबूझ कर हिला हिला कर मटकाती रही. अरे ये तो सर दर्द वाला बाम है, ओह्ह तो रोशनी तुमने हमारे कंडोम पे बाम लगा रखा था.

गांव की देहाती बीएफ सेक्सी वीडियो उनका जवाब आया- सरप्राइज़ है तो सब्र तो करना ही पड़ेगा और हाँ खाना मत खाना… यहीं आकर खाना…मैंने भी सोचा कि सब्र का फल मीठा ही होता है तो कुछ घंटे और सही… तब तक मैं अपना प्लान बना लेता हूँ. पहले तो वो मेरे कड़ियल जिस्म को देख रही थी, तभी उसकी नज़र मेरे शॉर्ट्स पे गई, जो लंड के कड़क होने के कारण उठा हुआ था.

उसको बहुत तेज पेशाब आ रही थी, तो वो उठ कर जाने लगी, मैंने उसका हाथ पकड़ कर रोक लिया और मेरे सामने वहीं मूतने को कहा.

हिंदी गुजराती बीएफ

वैसे भी उस रात के बाद, प्रिया का और हमारे परिवार का साथ भी थोड़ा ही रहा. उनका बंगला भी काफी बड़ा था, वहाँ जाने के बाद वो भी मुझे देख कर काफी खुश हुईं. फिर मैं मम्मी के कमरे में गया, तो देखा कि वहां पर फूफा जी मम्मी से बातें कर रहे थे.

तो मेरा रक्तचाप बढ़ गया। उसने अपने मिनी शॉर्ट्स को पकड़ा और अपनी चिकनी टांगों से नीचे खींच दिया।नजारा देख कर मानो मेरा कलेजा हलक में आ गया। उसने शॉर्ट्स के नीचे पैंटी नहीं पहनी हुई थी। एकदम नंगी मधु मेरे सामने पीठ किए हुए खड़ी थी और मेरा लवड़ा फटा जा रहा था।तभी उसने अपनी गाण्ड को खुजाया और फिर सर झटकाते हुए बाथरूम में चली गई।मैं बेसुध सा खड़ा था. मैंने मुठ्ठी को पीठ के चारों और थपथपाते चैक किया, तभी मीना जी खामोशी तोड़ते हुए बोलीं- क्या ढूँढ रहे हो?वो हंसने लगीं. फाइनली वे मुझे काम पे रखने के लिये रेडी हुई और उन्होंने मुझे मिलने के लिए उनके ही घर में बुलाया.

फ़ोन सेक्स करते हुए मैं उससे बोलता था कि अपनी चूत में उंगली डाल कर अन्दर बाहर करे, जैसे उस दिन मैंने की थी.

मेरे लंड का टोपा कुछ ज़्यादा ही मोटा था, जिससे वो भाभी की चुत में अन्दर नहीं जा रहा था. मेरे चूतड़ दुख रहे थे, मैं मेरे हाथों से उसके हाथ हटा रही थी, उसने मुझे घुमा दिया और वो पीछे से मेरी गर्दन पे मेरी गले की नसों को ऐसे चूसता कि मेरा खून चूस लेगा. फिर हम दोनों 69 की अवस्था में आ गए, मैं उनकी चूत को चूस रहा था और भाभी के मुंह में लंड था मेरा वो मेरे लंड को चचोर रही थीं.

क्योंकि मैं भी और लड़कों की तरह लड़कियों पे पैसे उड़ाना चाहता हूँ, मैं भी बाइक पे अपनी गर्लफ्रेंड को बैठाना चाहता हूँ. अब चूँकि एक बार स्खलित हो चुकी थी तो वर्षों की प्यास कम हो चुकी थी, पर पूर्ण शांति नहीं हुई थी. मैंने पूछा तो भाभी ने बताया कि तेरे भैया आज रात के लिए बाहर गए हैं, वो अब कल सुबह ही आएंगे.

मैंने मन में कहा कि साली लंड तो ऐसे चूस रही थी जैसे पुरानी चुदक्कड़ हो. प्यासी जवानी की मेरी सेक्सी कहानी के पिछले भागबॉय से कॉलबॉय का सफर-1बॉय से कॉलबॉय का सफर-5में अभी तक आपने पढ़ा…चुदाई की प्यासी मधु की चूत की चुदाई के बाद मेरा मन उसकी गाण्ड मारने का भी था। मैं मधु को चुदाई के साथ बातों में भी खोलना चाह रहा था।अब आगे.

अब मैं भी चाचा का साथ दे रही थी, नीचे से अपनी गांड उठा उठा कर चाचा से चुत चुदवा रही थी. मैंने ज्यादा ना तड़पाते हुए कंडोम लगाया और ऊपर से एक्स्ट्रा तेल लगा कर चुत के अन्दर डालने लगा. साले उस दिन शकूर का लंड चुपचाप ले गए कि नहीं? उनका हथियार तो मेरे से ड्योढ़ा है.

मगर अन्तर्वासना की कामुक कहानियाँ पढ़ पढ़ कर और ब्लू फ़िल्में देख देख कर काफ़ी एक्सपर्ट हो गया था। अब मैंने भी अपनी शर्म त्याग कर उनका साथ देना ही ठीक समझा क्योंकि यही एक रास्ता मेरे लिए बच गया था।मैम मेरे पास आई ओर मुझे किस करने लगी, उनके होंठ मेरे होंठ से लगते ही मेरा लंड बिल्कुल खड़ा होने लग गया।मैंने भी अब उनका साथ देना शुरू कर दिया और उनको किस करने लगा।वाह क्या होंठ थे.

मैं पहले आपको अपने बारे में बता दूँ, मैं दिखने में बहुत सेक्सी हूँ और मैं दिल्ली की रहने वाली हूँ और कॉल सेण्टर में जॉब करती हूँ. रोशनी ने उठ कर हम दोनों के लंड पर पप्पी लगाई और कपड़े पहन के नीचे चाय बनाने चली गई. वो भी तनिक लजा कर बोली- मैं भी तुमको पसन्द करती हूँ पर कभी कह नहीं पाई.

वो लंड कहते समय थोड़ा सा उचक गईं लेकिन 10 मिनट की चुदाई में मेरा माल निकल गया. पापा को चुप पाकर मैं घबरा गई, मन में डर सा लगने लगा कि तभी पापा बिल्कुल मेरे ऊपर लेट गये, उनका सीना मेरे सीने से चिपक गया, उनकी कमर मेरे कमर के ऊपर और पापा का मुंह मेरे चेहरे पर और सीधे पापा मेरे होंठों को चूमने लगे.

मैंने प्रिया का दायाँ निप्पल अपने मुंह में चुमलाते चुमलाते ज़रा अपने बायीं ओर करवट लेते हुए अपना दायें हाथ नीचे कर के अपने पजामे का नाड़ा खोल कर और पजामा घुटनों तक नीचे सरका कर प्री-कम से सराबोर अपना लिंग प्रिया के हाथ में थमा दिया. मुझे अमित से मिले एक हफ्ता हो गया था तो उसने मुझे एसएमएस किया- मालिश के लिए कब आ रही हो इस हफ्ते में आई नहीं हो?मैं- हाँ समय नहीं मिल पा रहा है. पर मेरे मन में कुछ और ही था… और वो ये कि मेरी चुत और गांड की खुजली इन दोनों से दूर की जाये!अरे यारो, मेरी चुत और गांड चटाई की पूरी ऑडियो स्टोरी मेरी सेक्सी आवाज में सुनकर मजा लें!अन्तर्वासना ऑडियो सेक्स स्टोरीज सुनने के लिये सर्वोत्तमब्राउज़र क्रोम Chrome है.

भोजपुरी बीएफ वीडियो फुल एचडी

दीदी ने एक स्वीट स्माइल दी और लंड पर हाथ चलाती रही, तभी मैंने खुद का पूरा भार दीदी के जिस्म पे डाल दिया जिस से दीदी का हाथ मेरे लंड से हट गया और मैंने खुद अपने हाथ से लंड को पकड़ा और दीदी की चूत के ऊपर अपने लंड की टोपी को रगड़ने लगा और फिर से दीदी के बूब को मुँह में भर लिया.

जिस बहूरानी को मैंने हमेशा अपनी सगी बेटी जैसी ही समझा, जिसकी तरफ मैंने कभी नजर भर के नहीं देखा, मेरी वही कुलवधू मेरे घर की लाज, मुझ पिता समान व्यक्ति के नंगे जिस्म से अपना नंगा जिस्म रगड़ते हुये मेरे लंड पर अपनी गीली चूत घिस रही थी. फिर उसने खुद ही बोला कि सिर्फ मुझे नंगा करोगे, अपना कुछ नहीं दिखाओगे?उसके इतना कहते ही मैंने भी अपनी टी-शर्ट खोल दी और उसकी लैगीज को उसके पैरों से निकाल दिया. फिर क्यों पिंकी की गांड मारोगे?अच्छा तू अपनी चूत तक नहीं मारने देती, तू कैसे अपनी गांड देगी मुझे?”राहुल मुझे दर्द होता है, मुझे तुम और कुछ भी कहो, मैं करूँगी.

”इतना कह कर मामी ने मेरी नाईट ड्रेस ला लोअर उतार दिया और मेरी अंडरवियर के ऊपर से ही लंड पकड़ कर कस के दबाने लगीं. इस फंसी सी स्थिति में लंड इतना अच्छा तो नहीं आ रहा था लेकिन एक चालू गाड़ी में अपनी सगी बहन को चोदने का मजा ही कुछ और था. ப்ளூ பிலிம் செக்ஸ்जैसे ही मुझे लगा कि मेरा होने वाला है मैंने अपनी स्पीड तेज कर दी और मैं उसके अन्दर ही झड़ गया और उसके ऊपर से हट गया.

इसलिए मैं अपनी पॉकेट-मनी से रोज दीदी के लिए फास्ट फूड या कभी कुछ ओर खाने के लिए लाने लगा. शहजाद अब सिर्फ मेरे नाम के ही शौहर हैं, कभी कभी तो शहजाद की मौजूदगी में भी कुछ बहाना बना कर मैं संजय के कमरे में चली जाती हूँ और हम चुदाई का भरपूर आनन्द लेते हैं.

रास्ते में बारिश की वजह से ठंडी ठंडी हवा चल रही थी, जिससे ठण्ड लग रही थी और ठंड की वजह से वो बार बार मेरे पास को हो रही थी. थोड़ी देर बाद मेरा पानी निकलने वाला था, उन्होंने वीर्य अन्दर ही छोड़ने के लिए कहा. बहूरानी के मुंह से घुटी घुटी सी चीख और दर्द की कराहें निकलने लगीं- मर गयी रे, फट गयी मेरी तो… मार डाला आपने आज तो” बहूरानी ने आर्तनाद किया और मुझे परे धकेलने का प्रयास किया.

मैंने मन ही मन सोचा कि साली ड्रामा कर रही होगी इसलिए मैं नहीं रुका और तेजी से धक्का लगा दिया, तो लंड पूरा अन्दर घुसता चला गया. किस लिए?शहजाद- अरे कुछ नहीं, बस ऐसे ही… मेरे ऑफिस में एक नया लड़का आया है. फिर हमने दूसरी बार कोशिश कि इस बार लंड का अगला हिस्सा उसकी बुर में घुस गया.

मुठ मारने के बाद लोगों की वासना वैसे ही कम हो जाती है मगर मेरे भीतर की आग उस मोटी गांड को देखकर चार गुने उत्साह से धधक रही थी.

एक दिन मानवी नहा रही थी और मैं हर रोज़ की तरह मानवी से मिलने ऊपर चला गया. नीचे खड़े किड ने बिना ज्यादा सोचे अपनी जीभ मेरी क़ानूनी पत्नी के मुंह में घुसेड़ दी, जिसे गोरी वेश्या लपालप चाटने लगी.

मेरी और सुधा की प्रिया को समझाने की लम्बी कोशिश (जिस में असली मुद्दा तो यह था कि आस्ट्रेलिया जा कर प्रिया अपने मां-बाप की दकियानूसी रोक-टोक से आज़ाद रहेगी और कुछ अपना अपने तौर पर कर पाएगी. इधर मेरे दोनों हाथ सुकुमारी भौजी की चूचियों पर, उधर सुकुमारी भौजी का एक हाथ उनकी चूत की रगड़ में और दूसरा हाथ मेरे बालों को खींचते हुए मचल रहे थे. ’ करने लगी और बोल रही थी- चोद डालो मुझे समीर आई लव यू…मैंने भी उसको ‘आई लव यू टू.

अब वो जोर जोर से हांफता हुआ मेरी धर्मपत्नी की गांड मारने लगा था, जमैका बगल से आकर सोफे की हत्थी पर टेक लगा लंड को सुन्दरी के मुंह में घुसेड़ने लगा. मैंने मौके का फ़ायदा उठाते हुए थोड़ा सा ज़ोर लगा कर सुपारा अन्दर किया तो भाभी छटपटा गई और कहने लगी- आराम से पेल भैनचोद. अब मुझे शर्म आ रही थी क्योंकि वो मुझे घूर रहा था।फिर उसने मेरी पेट की मसाज की.

गांव की देहाती बीएफ सेक्सी वीडियो सुबह पांच बजे ही मैं जग गया और मोबाइल उठा कर रात वाली वीडियो देखने लगा. घर वालों के जाने के कुछ देर बाद ही भाभी घर पे आईं और मुझसे हाल चाल पूछने लगीं, पर मैंने कुछ नहीं बोला.

बीएफ बिडिओ

अब मुझे वो आदमी काफ़ी भला और शरीफ लगा, तो मैंने कहा- मैं बहुत थक चुकी हूँ, मुझे आप आगे किसी भी ऐसे स्टैंड पर छोड़ दीजिएगा, जहां से मैं पब्लिक ट्रांसपोर्ट ले सकूं. चचा मुझसे पूछने लगे- कैसा लगा पिंकी?मैंने कहा- चाचा, अच्छा लगा पर बहुत दर्द हुआ. यहां मैं बताना चाहता हूं कि मुझे मेरी बीवी के बारे में पता पहले चला था कि उसका जो ये साथी है, वह उससे काफी खुल चुकी है.

पहले मैं अपने बारे में बता दूं, मेरी हाइट 5’6″ है और मेरे लंड का साइज़ का 6 इंच का है. मैंने अजय को बता दिया कि यहीं पास में एक होटल है, वहां पर दिन में खाना खा लेना. राजस्थानी सेक्सी एक्स एक्स एक्स वीडियोक्या लग रही थीं वो… पूरी गहने से लदी… आँखों में सुरमा… एकदम लाल होंठ… गोरे गाल…मैंने चॉकलेट साइड में रख दी और अपनी जेब से अंगूठी निकाल कर उनका हाथ पकड़ते हुए अंगूठी उनकी उंगली में पहना दी और हाथ चूमते हुए कहा- मेरी जान के लिए यह छोटा सा तोहफ़ा इस नाचीज़ की तरफ से.

वैसे तो ये सब बातें फोन पर लगभग रोज होती ही रहती हैं लेकिन आमने सामने मिलने पर चाहे औपचारिकता वहश ही सही, दोहराई ही जाती हैं.

कुछ बात जिसका अंदाजा मयूरी नहीं लगा पा रही थी, वो था मोहन लाल का अतीत या उसका गुजरा हुआ कल. उसने हाथ पकड़ कर मेरे हाथ पर किस कर लिया और कहा- बहुत अच्छा लगा तुमसे मिल कर.

कामिनी अब गर्म हो चुकी थी, उसने बिना देर लगाए विवेक की शॉर्ट्स का हुक खोल दिया और खींचने लगी. अब अंकित और माया दोनों ही कभी भी झड़ सकते थे लेकिन अंकित इस खेल को और खेलना चाहता था. मैं पूरा का पूरा उसे पी गया, मुझे एक अजीब सी मदहोशी आने लगी और मेरा लंड और तन गया.

बीच में ही वो रुका और मेरा एक पैर उठा कर उसने बोनेट पे रखवाया। ऐसा करने से उसे और ज्यादा जगह मिल गयी और उसका चोदने की स्पीड बढ़ गई.

मैंने पीछे से घुटनों के बल चल कर पिंकी के दोनों गुब्बारे जैसे पुट्ठों को पकड़ कर फैला दिया. आख़िर उसने लंड को चूत पर सैट करके ज़ोर लगाया तो सुपारा अन्दर घुस गया और मुझे बहुत ज़्यादा दर्द हुआ. अरे बेटा दिन रात से क्या फर्क पड़ता है, चल आ जा!”बहू रानी ने पहले कूपे को चेक किया कि वो अन्दर से ठीक से बंद है या नहीं… फिर पहले अपनी बाहें ऊपर उठा कर अपना कुर्ता और सलवार का नाड़ा खोला और सलवार भी उतार डाली.

राजेश सेक्सी वीडियोइसमें मुझे जो भी देखता तो उसे ये तो लग ही जाता कि मैं बाहर ही रहती हूँ. है ना सही बात?मैं- अच्छा ठीक है यदि 15 दिन का काम है तो इतने दिन कर लूँगी.

सेक्सी वीडियो बीएफ एचडी में सेक्सी

उसकी चूत एक सूरजमुखी के फूल जैसी खुल गई और मेरे तने हुए लंड की तरफ देखने लगी. वह भी मेरा साथ दे रही थी और मेरी जीभ मुँह में जाने पर उसको चूसने लगी. मेनका- अतुल, क्या मैं तुझे अच्छी नहीं लगती?मैं- लेकिन दीदी, आप मेरी दीदी हो!दीदी ने एक किस और की और कहा- भाई, प्यार रिश्ते नाते देख के नहीं होता, बस हो जाता है.

मैं जब भी छुट्टियों में घर आता, पायल भाभी हमारे घर ज़रूर आतीं और मुझसे मेरी कॉलेज और पढ़ाई के बारे में पूछतीं. उसने मेरे से ये गिफ्ट माँगा कि उस रात मैं उसके साथ रुकूं और हम एक हो जाएं. भाभी के चूचे ज्यादा बड़े तो नहीं थे, पर उनके शरीर के अनुसार एकदम परफेक्ट थे.

मोना- आह काट क्यों रहे हो जानू?आनन्द- अच्छा नहीं लगा जान?मोना- बहुत अच्छा लगा. सुमित चहकते हुए बोला- अमित सर ने कहा है कि पेंटी में खुद उतारूं, नहीं तो वो आपकी पेंटी नहीं लेंगे. आप सभी के उत्तर देने का भरसक प्रयास करता हूँ पर खेद है कि मैं सभी के उत्तर नहीं दे सका.

ओ भगवान! यह कहाँ ला कर पटका मुझे?’मुझे, मेरे जानने वाले बहुत ही प्रैक्टिकल सोच वाला व्यक्ति मानते हैं लेकिन यह सोच तो हरगिज़ प्रैक्टिकल ना थी. एक दिन सुबह जब मैं बरामदे में कपड़े धो रही थी, तो मुझे महसूस हुआ कि कोई ऊपर के कमरे की बाल्कनी में है, जो संजय के कमरे की थी.

जैसे ही लंड पे चुत का पानी लग गया, मैंने लंड भाभी के चुत में डाल दिया.

मैंने टी-शर्ट और बरमूडा पहन रखा था क्योंकि जून का महीना था और गर्मी बहुत ज़्यादा थी. मां बेटे की सेक्सी कहानी हिंदी मेंवो एकटक मयूरी की उन दो मनमोहक चूचियों को देखता ही जा रहा था, ऐसे जैसे उनको नोंच खाएगा. బాయ్ సెక్స్फिर बोला- मज़ा आया जान?मोना- बहुत मज़ा आया जानू, तुमने तो मुझे जन्नत की सैर करा दी. तो मैंने सोचा कि छोड़ न यार! माँ चुदाने दे साली को!तीन दिन बाद मेरे दोस्त का फ़ोन आया और बोला- खेत में आ जा, आज रंडी बुला रखी है!मैं वहां गया तो देख कर दंग रह गया, देखा तो वो प्रियंका थी, वही औरत जो मुझे खेत में मिली थी.

फिर मेरे शांत होने पर उसने जोर से झटका मारा और इस बार पूरा लंड अन्दर चला गया.

फिर वो धीरे धीरे मोना के पेट को सहलाने लगा और मोना भी हल्की हल्की आहें भरने लगी. शावर चालू करके जैसे ही माया के बदन पे ठंडा पानी पड़ने लगा, उसे अच्छा लगने लगा. चाय बना कर बाहर आया था तो देखा निर्मला जी ट्रांसपरेंट गाउन पहन कर सोफे पर बैठी थीं.

अभी कुछ 4 पैग ही लगाए थे कि मुझे मेरी गर्ल फ्रेंड का फोन आया कि उसके घर वाले शादी में जाने वाले हैं और वो नहीं जा रही है. लेकिन वो मुझसे बातें करते करते कभी कभी वो मेरी चूची को देख कर मुझे स्माइल देते थे लेकिन मैं उनकी बातों पर ध्यान नहीं देती थी. मैं जब तक पीछे मुड़ी तब तक वो इतनी दूर निकल चुका था कि मैं उसे पहचान ही ना पाई.

वीडियो बीएफ एचडी फुल

खास कर अपनी चुत और गांड चटवाना…ऐसे ही एक दिन मुझे बहुत ही तेज खुजली हो रही थी मेरी चुत और गांड में… बहुत मन हो रहा था कि किसी से चटवा लूं. मैं जब भी कॉलेज जाता था तो वो पीछे के दरवाजे से मुझे स्माइल देती थी और मैं उसे देख कर चला जाता. मेरा मन तो था सारा पानी उसकी चूत में निकाल दूँ पर रिस्क नहीं लेना चाहता था.

वो भी किसी तरह लंड लील गई और अब हम दोनों की दमादम मस्त चुदाई होने लगी.

आज मैं किचन में देखने भी नहीं गया कि वो क्या कर रही है, वो भी कुछ पूछने नहीं आई कि क्या बनाना है.

खैर मैंने उसके दोनों मम्मों को हाथों में लिया और एक एक करके उन्हें चूसने लगा, मसलने लगा. पर अवी सुन कहा रहा था वो तो मुझे देख ही रहा था नजरें ही नहीं हटा पा रहा था- आता हूँ. सेक्सी वीडियो शाहरुख खानमैं और मेरा दोस्त वापिस कॉलेज आ गए तो मैंने अपने दोस्त को बोला कि सुमन के फोन पर कॉल करके बोल कि समीर को रिया से बात करनी है.

मैं भी ताव में था, मैं भी जोर जोर से चोदते हुए, मम्मों को पीछे से सहलाते हुए बोल रहा था- अह. चाची तो झड़ गईं, पर मेरा अभी नहीं हुआ था, उनकी चुत का गरम माल मुझे मेरे लंड पे महसूस हो रहा था. उसने अपने हाथ आगे बढ़ा के माया के बोबे अपने हाथों में भर लिए और निचोड़ने लगा.

मेरी पिछली देसी कहानीफुफेरी बहनों की रंगरेलियाँ और चुत चुदाईमैं गांव में अपनी फुफेरी बहनों की चुत चुदाई में उनके भाई के साथ शामिल था. फिर वो मेरी चूत पर आ गया और वो मेरी चूत को भी मसाज करना शुरू कर दिया.

ऐसे ही राजेंद्र अंकल ने पीछे मेरे कूल्हों को फैलाकर मेरी गांड में अपनी जीभ घुसा दी, मैं जोर से उंहहह बोली.

क्योंकि उनके घर में सब जॉब करते हैं और ताई भी एक एनजीओ चलाती हैं इसलिए मैंने कहा- ओके भाभी मैं कल भी आ जाऊंगा. मुझे आया देख वो किचन में चाय बनाने उठी तो लड़खड़ा कर गिरने लगी किन्तु मैंने उसे सम्हाल लिया. मेरे चेहरे की राहत देख कर संजय भी समझ गया कि कोई दिक्कत नहीं है और खुश होते हुए उसने मेरी चुत को जोरों से चोदना शुरू कर दिया.

హిందీ సెక్స్ వీడియో వీడియో तभी दीदी ने मेरे हाथ को छोड़ दिया और मेरे लंड को हाथ में पकड़ लिया फिर लंड पर हाथ को ऊपर नीचे करने लगी, मैंने भी मौका देखा और दीदी के ऊपर चढ़ गया। दीदी ने मुझे हैरानी से देखा मैंने भी सर हिला कर इशारा किया कि मैं कुछ नहीं करूँगा जब तक आप नहीं बोलोगी. रात के दस बजे थे कि वो मेरे कमरे में आई और मुझे बांहों में भर लिया और फूटफूट कर रोने लगी, बोली- दीदी मुझे माफ़ कर दो, मेरी चूत फिर से उसी तरह जल रही है दीदी.

लगभग आधे घंटे यूं ही रोने में और एक दूसरे को संभालने में निकल गये, फिर मैंने उनका ध्यान भटकाने के लिए पूछा बाथरूम किधर है. मैंने मन ही मन सोचा कि इस समय कौन आ गया क्योंकि ममता आठ बजे आती है. कुछ ही पलों में मेरा विरोध सिस्कारियों में बदल गया और हम एक दूसरे को बेतहाशा चूमने लगे.

भारतीय देसी बीएफ

यह थी मेरी पहलीहिंदी सेक्स कहानी, आप को कैसी लगी प्लीज़ मुझे रिप्लाई करना ना भूलें. आओ ना…” प्रिया की गुहार सुन कर मैं बेखुदी के आलम से वापिस पलटा। मैंने बहुत ही नाज़ुकता से प्रिया को अपनी गोदी में बिठा कर आगे-पीछे हिलना शुरू कर दिया. कुछ देर उंगली करने के बाद चुत पे किस किया और इस बार भाभी ने मेरा सर पकड़ कर चुत पर दबा दिया.

बचपन में वो काफी शर्मीला था और लड़कियों से बात करते हुए काफी डरता था. अंधेरे में क्या पता चलेगा झड़े हो कि नहीं?”हाथ लगाकर देख लो ना फिर?”हट.

बहूरानी के मायके वाले हमें रिसीव करने आये थे, सब लोगों से बड़ी आत्मीयता से हाय हेलो हुई और हम लोग अपने ठहरने की जगह की ओर निकल लिए.

यह कहते हुए मैंने अवी को रोका, जो वो खींच रहा था, मैंने कहा- तुम चलो मैं अभी आती हूँ. चुत की सम्भावना में तलाश जारी रहती और धीरे धीरे आराम से हर जगह अपनी सैटिंग कर ही लेता. दोस्तो, यही वो पल था, जहां से पहली बार मेरे और मेरी बहन सोनी के रिश्ते ने कुछ अलग रास्ते को पकड़ लिया था.

और इसी वजह से मेरे पेंट के अन्दर मेरे लंड खड़ा हो रहा था, जिसे छिपा पाना भी मुश्किल हो रहा था. फिर उसने मेरी पेन्टी में हाथ डाल कर मेरी चुत पे अपनी कामुक होती उंगली फेर दी और धीरे धीरे संजय ने एक उंगली मेरी रस से तरबतर होती गीली चुत में डाल दी. मैं आ रही हूँ मेरे राजा…इतने में ही भाभी झड़ चुकी थी और उसका सारा पानी चादर पर निकल गया.

लेकिन अभी जो मिले थे, उन्ही से मुझे खुश होना था और मैं खुश था भी…और ऐसे ही 5 मिनट बाद मुठ मारने से मेरा पानी आ गया जो पूरा समीरा के हाथो पर ही गिर गया, उसके हाथ चिपचिपे से हो गए, उसने अपने आप को बाथरूम में जाकर साफ़ किया और कपड़े पहन कर के थोड़े टाइम बातें करती रही.

गांव की देहाती बीएफ सेक्सी वीडियो: मैंने दीदी की टाँगों को पूरा फैला कर अपना लंड उनकी चूत के मुँह पर रख कर हल्का सा धक्का लगा दिया, चूत पूरी गीली होने की वजह से मेरा लंड एक ही बार में पूरा अन्दर चला गया. फिर उसकी पूरी बॉडी टाइट हो गई थी और उसने अपनी टाँगें एकदम से कस ली थीं.

मैं बहुत खुश थी कि सब मुझे गिफ्ट देंगे खूब एंजाय करेंगे, पर मुझे क्या पता था कि उस रात में ही सबकी गिफ्ट रहूँगी. आंटी, भाभी, और लौंडियों के साथ मेरे चुदासे भाइयों को नमस्कार…मेरा नाम आयुष शर्मा है, मैं अन्तर्वासना चोदन स्टोरीज का नियमित पाठक हूँ. मैं फिर रुक गया, कमरे में गया, मैंने देखा कि कामिनी विवेक की बांहों में बेशर्मों की तरह लेटी थी, उसने अलग होना भी ठीक नहीं समझा.

क्या इनके लिए भी कुछ है?” उसने अपनी चुचियों को दोनों हाथों में थामकर पूछा.

फिर मैंने पूरे दिन इस बात के बारे में सोचा पर मेरा मन नहीं मान रहा था।रात को राजीव घर आ गए, रोज की भान्ति हम दोनों ने डिनर किया और फिर हम लेट गए।मैं पूरी रात काल बॉय के बारे में सोचती रही। सुबह हो गयी पर मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था।फिर हम फ्रेश हुए और राजीव ऑफिस चले गए. उन्होंने मेरे फ़ोन से पापा को फ़ोन किया और बात करने लगी, तब मैं कुछ रिलैक्स हुआ और चाय पीकर बाथरूम में चला गया. उसने अपना लंड मेरी गांड में एक ही झटके में आधा घुसेड़ दिया और जानवरों के जैसे चोदना चालू कर दिया.