बीएफ फिल्म हिंदी में देखने वाली

छवि स्रोत,सेक्सी लड़कियों की फोटो दिखाइए

तस्वीर का शीर्षक ,

సారీ సెక్స్: बीएफ फिल्म हिंदी में देखने वाली, वो अपनी मॉम की चूत की फिंगर फकिंग कर रहा था और मैं भी बेफिक्र हो कर इस का मजा लेने लगी.

देसी भाभी मुह मे लन्ड चुस्ती फोटु

फिर अचानक ही उन्होंने मुझसे सवाल किया- तुम्हें कैसी लड़की पसंद है?मैं भाभी की बात को सुन कर चौंक गया. मुठ मारने का तरीकाजैसे ही मैंने अपने तपते होंठो में प्रिया के उरोज़ का निप्पल लिया तत्काल ही प्रिया के मुंह से एक तीखी किलकारी सी निकली और फ़ौरन ही प्रिया ने अपना दायाँ हाथ नीचे ले जा कर पजामे के ऊपर से ही मेरा लिंग सख्ती से दबोच लिया और उसे आगे-पीछे हिलाने लगी.

जो पाठक मुझे नहीं जानते हैं, उन्हें बता दूँ कि मेरा नाम रोहित है, मैं 28 साल का हूँ. लड़का लड़की का नंगा फोटोफिर उसने तेल लेकर लंड और मेरी गांड पर लगाया और धीरे धीरे लंड अन्दर पेलने लगा.

मैं डर गया, तभी मुझे रोशनी की गांड पे चमकते हुए मोती जैसे गाढ़े जूस की दो बूँदें नजर आई- अरे वो रोशनी तुम्हारी गांड पर भी जूस लगा है.बीएफ फिल्म हिंदी में देखने वाली: पर मैं न जाने क्यों उतने में गुस्सा हो गया और ज़ोर से चिल्ला कर बोला कि जल्दी से पानी दे.

मेरे हाथ अब उनके चूचों को गेहूँ के आटे की तरह गूंध रहे थे और चाची भी मेरा पूरा सहयोग कर रही थीं.फिर उसने कुछ कहा तो मुझे कुछ समझ नहीं आया, मैंने उसे कहा- क्या?और उसने कहा- आपको नहीं!अरे माफ़ करना दोस्तो, मैंने उसका तो नाम ही नहीं बताया, उसका नाम उसने पूनम बताया था मुझे बाद में!उसकी उम्र भी मेरे जितनी ही थी, 19 साल और वो पुणे अपने भाई से मिलने जा रही थी.

हनीमून वीडियो - बीएफ फिल्म हिंदी में देखने वाली

मेरी अह्ह्ह अह्ह निकलने लगी, वो मेरे चूतड़ों पर जीभ फिराने लगा, दांतों से चूतड़ काटने लगा.पहले दिन में ही उससे हाय हैल्लो हुआ था, बस उसके बाद ना तो उसने बात की और ना ही मैंने.

तो मैंने बेल नहीं बजाई बल्कि बाजू में जाकर खिड़की के एक छोटे से छिद्र से देखा तो घबरा सा गया. बीएफ फिल्म हिंदी में देखने वाली कुछ देर बाद मेरा फिर से खड़ा हुआ तो मैंने कहा- हो जाये एक और राउंड?उसने साफ मना किया और कहा- अगली बार करेंगे! मुझे लेट हो रहा है.

अब बॉस लंड को अन्दर डाले ही मेरे पीठ पर लेट गए और हम दोनों अपनी सांसों को काबू में करने लगे.

बीएफ फिल्म हिंदी में देखने वाली?

मैंने उन्हें वह फोल्डर बता दिया, जिसमें ब्लू फ़िल्में थींइसके बाद मैं निकल गया. इसलिए उन्होंने अपनी चाहत जताई थी कि कोई माकूल व्यक्ति किसी दूसरे शहर में मिले और उन्होंने मेरी कहानी पढ़ने के बाद सोचा कि मुझसे बात करें. मैंने भी अपनी टाँगें उसकी कमर पे लपेटी और चूतड़ उठा उठा कर उसके हर धक्के का जवाब देने लगी.

ये सब देख कर मैंने पैसे कमाने के लिए अपनी गली में टयूशन देने की सोची. फिर उसने मेरी गांड मारने के लिए पूछा तो मैं घबरा गई, मैंने एकदम से ना कर दी. मैं उससे बोला- मेरे लीवर जिगर फिगर में हो तुम, वक्त बे वक्त आए फीवर में हो तुम.

दीदी की पीठ भी हल्के झटके खाने लगी थी।रियल सेक्स स्टोरी जारी है, कहानी पर अपने विचार दे सकते हैं।मेरा ईमेल है-[emailprotected]. मैं हूँ ही अच्छी! तो अच्छी ही लगूंगी ना!मैं बोला- तुम समझी नहीं यार… यार… मैं तुम्हें चाहता हूँ, तुमसे बहुत प्यार करता हूँ. अब वो धीरे-धीरे मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगीं बिल्कुल पोर्न मूवीज की अभिनेत्री की तरह.

मैं भी बड़ा जोश में था, तो अपनी एक उंगली उसकी चूत के दाने पर रगड़ने लगा. नंगी होने के वावजूद तुमने पहले अपनी पैंटी पहनी और अपनी चूचियों पर दुपट्टा डाला, उसके बाद ही मेरे पास आई.

मैंने संजय को उठा कर अपनी बांहों में ले लिया और हम दोनों ने एक दूसरे के होंठ चूसना शुरू कर दिया.

आज तक मैंने किसी औरत को इतने करीब से कभी नहीं छुआ था और फिर औरत भी पूरी हुस्न की मालकिन, जिसको देख कर ही अच्छे अच्छे लोगों की हालत खराब हो जाए.

मैं दरवाजा बन्द करना भूल गया था, जिससे वह लड़का सीधे कमरे में आ गया. उनके सपने ऊंचे है क्योंकि वे अपने रिश्तेदारों को देखते हैं तो उनका मन भी वैसे ही रहन सहन को करता है. भाभी ने अपनी टांगें खोल दी थीं और मेरा सर पकड़ कर मुझे दूध चुसाने लगी थीं.

एकदम से नर्म चुचे पर मेरे सख्त पैर का दबाव महसूस करते भाभी ऊपर को हो गईं और मेरी तरफ देखने लगीं. अब मैं आपको मेरी कहानी बताती हूँ जो मेरी सच्ची चुदाई की कहानी है कि कैसे चाचा ने मुझे चोदा. मामी- क्या ब्रा के ऊपर से ही मालिश करोगे?मैं- नहीं वो तो निकालनी पड़ेगी न.

मैंने सोचा इस बार बोल देता हूँ और हिम्मत करके कुछ करने की सोच ही रहा था कि फ़रवरी महीना स्टार्ट हो गया.

मैं समझ गया कि वो झड़ रही है, मैं और तेज़ चाटने लगा उसकी टांगें कंप गईं और वो जोर से अकड़ते हुए झड़ गई. अगर उन्होंने गर्भपात की दवाई की पर्ची लिख कर दे दी तो काम बन सकता है. जिस दिन से मैंने तुमको रमेश के लिए पसंद किया था, उसी दिन से हमेशा ही सपना देखा है कि काश मुझे तुम्हारी ये गांड मारने को मिल जाए.

क्या पूरा ऑफिस ही दीदी का गुलाम था? ये बात पूरी रात मेरे दिमाग में घूमती रही और मैंने अब ठान लिया था कि मैं भी दीदी का ऐसा ही गुलाम बनके उनकी सेवा करूंगा. यह सुन कर मैंने पैंटी और ब्रा भी निकाल दी और जो नई थी उस पैंटी को पहन लिया. वैसे माँ की हाइट 5 फ़ीट 10 इंच है लेकिन उनकी चूचियाँ 38 इंच की थी जो उनके लम्बे बदन पे चार चाँद लगा रही थी.

मैंने कल्याणी के दोनों पैरों के नीचे से हाथ डाल कर उसी कमर को उठाया और खुद खटिया पर बैठ गया.

मैं ऐसे रिएक्शन से घबरा गई और अपने आपको देखने लगी कि कहीं मेरी ड्रेस में कोई दिक्कत तो नहीं है. एक हाथ से उनके चुचियों को मसलने लगा दूसरे हाथ से उनकी चुत को सहलाने लगा.

बीएफ फिल्म हिंदी में देखने वाली वरुण बाहर गद्दी पर ही था, फ्लैट छोटा था, वन रूम और किचन वाला सैट था. मेरी सास ससुर का कमरा नीचे है और हमारा कमरा ऊपर वाले फ्लोर पे…मेरे देवर का कमरा भी ऊपर ही है.

बीएफ फिल्म हिंदी में देखने वाली तू ऐसे क्यों पूछ रहा है, जैसे तुम्हें कुछ समझ नहीं आ रहा है?मुझे अब रहा नहीं गया और जल्द ही अपनी लुंगी को खींच कर फेंक दिया और उससे कहा- मुझे सब समझ है. रोज सुबह 8 बजे पापा अपने फैक्ट्री के ऑफिस चले जाते, हमारी एक बड़ी कास्टिंग इंडस्ट्री है.

किसी भी पल उसके अन्दर की आग बाहर आने को बेताब थी और महेश बस चूत को कुरेदे जा रहा था.

ठेका बीएफ

मैंने एक ज़ोर का धक्का मारा, तो मेरा पूरा लंड एक बार में ही उनकी चूत में घुस गया. जब हम सब ट्रेन से उतरने के लिए ट्रेन के दरवाजे पर खड़े थे तो वो मेरे बिल्कुल आगे खड़ी थी और भीड़ होने की वजह से मेरा पप्पू जो ऐसे टाइम पर हमेशा ही खड़ा रहता है, उसकी बड़ी सी गांड को भेदने को तैयार बार बार उससे टकरा रहा था, बल्कि कपड़ों के ऊपर से उसकी गांड की दरार में सेट हो गया था. मैं झट से उठा और अपने कपड़े उतार कर नंगा होकर दीदी के कमरे में आ गया.

मैं भी उसके गले लग गई क्योंकि मैं जान गई थी कि इस तरह मुझे देख के कंट्रोल करना आसान नहीं है. मेरा टोपा उसकी चूत के मुँह पर था और पानी की चिकनाहट से फिसल रहा था. मेरा अभी झड़ना बाकी था तो मैंने उसे डॉगी स्टायल में झुकाया और पीछे से उसकी चुत चोदने लगा.

उसी बीच में लंड को चूत पर रगड़ते रगड़ते मैंने एक जोर का झटका लगाया तो मेरा आधा लंड उसकी चूत में उतर गया.

तो मम्मी ने कहा- बेटा, हम औरतें, अगर वहाँ चोर आयेंगे तो क्या कर लेंगी? कोई तो पुरुष होना जरूरी है. फ़िर मैंने उनके बाजू में रखी क्रीम की शीशी उठाई और अपने लंड के साथ साथ उनकी चूत पे भी क्रीम लगा दी. मेरी छोटी बहन वर्षा की चुदाई करवाने के बाद मुझे उस पे बहुत तरस आया, मैंने सोचा अब से मैं उसको कभी नहीं तड़पाउंगी, मुझे उस बेचारी पर बहुत तरस आता और वो भी अब मुझसे प्यार करती थी.

अब मेरे पास तीसरी ड्रेस नहीं थी और उसके पापा मुझे बाहर नहीं जाने दे रहे थे. कुछ देर बाद कमल बेड पर मेरे पास आकर मेरे ऊपर आ गया और मुझे किस करने लगा. ऐसे में रीना के दिमाग ने कम्प्यूटर से तेज काम किया और उसने रंजु को बुआ के पास सोने के लिए भेज कर एक फूलप्रूफ प्लान बना लिया, जिसमें बारी बारी से कोई एक बुआ के साथ रात में सोये और बाकी तीन चुदाई का आनन्द लें.

फिर मैं दीदी को उठा कर दूसरे रूम में ले गया क्योंकि वहाँ उनकी बेटी सो रही थी. सब लोग पार्टी का मजा लेने में व्यस्त थे और मैं सपना को ढूंढ रहा था.

मोना के घर वाले भी उस लड़की के साथ मोना को भेजने के लिए तैयार हो गए. मैं ऊपर खिसकता गया, दोनों हाथ निकर पर आ गए, मैंने निकर पकड़ी और खींच ली. ऐसे आनन्द ने उसे 10 मिनट तक चोदा और उसने मोना के पेट पर अपने गर्म वीर्य की पिचकारी दे मारी.

कॉलेज के बहुत से लड़के उसके सामने प्रोपोज कर चुके थे मगर उसने किसी को घास नहीं डाली मगर कॉलेज के पहले दिन से जब से उसने राहुल को देखा, उसे प्यार करने लगी थी पर उसके लिए पढ़ाई सब चीज़ों से पहले थी.

तेरी माँ भी बोल रही थी कि आजकल तू बड़ा चुपचाप रहता है किसी से ठीक से बात नहीं करता, क्या हुआ है? मुझे बता, शायद मैं तेरी कोई मदद कर सकूं. मैंने कल्याणी के दोनों पैरों के नीचे से हाथ डाल कर उसी कमर को उठाया और खुद खटिया पर बैठ गया. मैंने ‘ठीक है…’ कह कर बाम की शीशी को खोला और उंगली में बाम ले कर दोनों हाथों से मीना जी के माथे पर आहिस्ता आहिस्ता रगड़ने लगा.

वो दोनों अभी भी मेरी बीवी को चोद ही रहे थे, फिर तीसरे दोस्त ने अपना लंड ‘ले साली. लगभग दस मिनट चलने के बाद मेरी बैटरी लो हो गई, उधर सुकुमारी भौजी भी हांफने लगी थीं.

फिर भाभी की चुत पर उंगली रख कर चूत सहलाई, भाभी को जैसे झटका लगा हो वैसे ही एकदम से उनकी सीत्कार निकल गई- उह्ह. पूरा कमरा मेरी मम्मी की चुदाई की सेक्सी सेक्सी आवाजों से गूंजने लगा. वो चिल्ला रही थी… मैंने उसके मुँह पर अपना मुँह रख कर उसका मुँह बंद कर दिया और नीचे से लंड अंदर डालने लगा.

हिंदी पुराना बीएफ

वह बोला- अबे यार, मैं भी तेरे पर मरता हूं, पर अभी तेरी नहीं मारूंगा.

अन्तर्वासना पर इंडियन सेक्स स्टोरीज पढ़ने वाले आप सभी पाठकों को मेरा नमस्कार. इसलिए मैं किसी को जानता भी नहीं था। एक दिन सोचा शाम को थोड़ी मस्ती की जाए. मैंने अपने उसी दोस्त को फ़ोन किया और उसे बता कर उन्हें लेकर चल पड़ा और खेतों के रास्ते से ही कोठड़े (खेत वाले कमरा) पर ले आया.

इस बार मुझे मजा आने लगा, वो मेरी गांड से पूरा लंड बाहर निकालता और फिर एकदम से डाल देता. मैं उसकी जांघों के बीच के बरमूडा ट्रायंगल को चूमता हुआ उसकी नाभि तक पहुँचा और उसके नाभि के छेद में अपनी जीभ डालकर उसको सहलाता हुआ. पिक्चर सेक्सी ब्लू पिक्चर सेक्सीभगवान ने तुम्हें क्या चीज़ बनाया है, तुम्हारा हुस्न और फिगर किसी को भी दीवाना बना दे.

मेरी चूची बहुत बड़ी हैं, मैं जब भी चाचा के साथ कार में जाती थी तो वो मेरी बड़ी बड़ी चुचियों को देखते थे और मजे लेते थे. मेरी ताई ने एक साड़ी पहन रखी थी, उनका ब्लाउज काफी टाइट था, जिसमें उनकी चूचियाँ बाहर की तरफ आ रही थीं.

उन का इरादा यह था कि प्रिया मेरे सुझाये किसी अच्छे इंस्टिट्यूट में 2-3 घंटे की क्लास अटेण्ड करे और रोज़ घर वापिस लौट जाए पर मैंने उन लोगों को ऐसा समझाया कि C++ लैंग्वेज़ सीखने में बहुत मेहनत और समय चाहिए और समय ही हमारे पास कम है तो अच्छा रहेगा कि प्रिया रोज़ घर आने जाने के चक्कर में ना पड़ कर 3 महीने यहीं शहर में रहे और सीखे. इसलिए मैंने ज्यादा ध्यान नहीं दिया और वैसे भी बहन को मैंने चोद कर संतुष्ट भी कर दिया था. मेरी चाची ने खुद को काफ़ी मेंटेन किया हुआ है, उनका मस्त बदन की क्या बताऊं आपको.

मैं नहा कर बाहर आया तो सिर्फ़ टॉवल लपेटी हुई थी और नीचे कुछ भी नहीं पहना था. कुछ मिनट लंड चुसवाने के बाद मैंने अपना लंड उसकी चुत की दरार पर रखा. मुझे कभी किसी बात की कमी नहीं होने दी, फिर भी मेरी जिंदगी ने कुछ ऐसा मोड़ लिया, जो मैंने कभी ख़्वाब में भी नहीं सोचा था.

चचा माँ माल मेरी चूची और पेट पर गिरा जिसे चाचा ने मेरी ही पेंटी से पौंछ दिया.

फिर दो तीन दिन बाद अमित ने कॉल किया- कहाँ हो मिनी तुम्हें अपना काम याद है ना?मैं- हाँ याद है बताओ कब और कहां उनके पापा से मिलना है?अमित- हाँ वही बताने के लिए कॉल किया है. हम दोनों ने वहाँ पर पिज़्ज़ा ऑर्डर किया और कुछ इधर उधर की बातें कर रहे थे.

दीदी मेरी बात समझ गई कि मैं क्या बोल रहा हूँ, मेरा मतलब था कि मैं दीदी की मर्ज़ी के बिना उनकी चूत में लंड नहीं डालूँगा. वो योग गुरू आनन्द मेरी बीवी मोना के होंठों के रस को पी रहा था और मेरी बीवी के हुस्न की दावत उड़ा रहा था. मेरी कनपटियाँ वासना से तप रहीं थीं लंड बहुत देर से खड़ा था जिससे मेरे पेट की निचले हिस्से मेंहल्का हल्का दर्द भी होने लगा था.

पर क्यों पूछा?वो- तो चाची मैं पीछे से कर लेता हूँ।मैं फिर मजे में गनगना उठी, एक बार फिर मेरी गाण्ड बजने की स्थिति बन रही थी।मैं- अरे बुद्धू. पहले रुबीना मना करने लगी मगर मेरे कहने पर मान गई और फिर हम मेरे फ़्रेंड के कमरे पर पहुँच गए. रीना जाने लगी तो उसके मटकते चूतड़ों को देखकर दीपक भैया अपना लंड मसलते रहे.

बीएफ फिल्म हिंदी में देखने वाली मैं भी उसके गले लग गई क्योंकि मैं जान गई थी कि इस तरह मुझे देख के कंट्रोल करना आसान नहीं है. कुछ देर बाद कमरे की लाइट जली तो देखा कि फूफा जी थे, कुछ देर बाद मेरी मम्मी भी आ गईं.

बीएफ सेक्स देवर भाभी की

मैं कस कस के झटके दिए जा रहा था और वो उतनी ज़ोर से चिल्ला रही थीं- आह… आईईईई… ज़ोर से… और तेज… आह… करते रहो… आह…मुझे भी जोश चढ़ गया और मैंने तुरंत भाभी को दीवार से हटकर बेड पर आधा लेटा दिया. मैंने पूछा- हम वास्तव में कहां जा रहे हैं?कुणाल- ट्रेन वाली आंटी के घर. उसकी इस तरह की रंडियों वाली हरकतें देख कर मेरा शक यकीन में तबदील होता जा रहा था कि साली चालू चुदक्कड़ रैंड है ये तो!अब वो बोली- राजा, तुम्हारा जूस तो बहुत ही टेस्टी था.

रवि ने अच्छे से समझाया कि नहीं या और एक राउंड समझाने के लिए क़ह दूँ?कल्याणी- नहीं. उसकी गांड अब सूखने लगी थी और बोतल वाला जूस पूरी तरह से फेविकोल बनकर चिपक गया था. प्यासी दुल्हन’ मेरा पूरा तन और मन अब वासना की आग में डूब चुका था और मैं अपनी सारी मर्यादा भूल चुकी थी, मैं भूल चुकी थी कि मैं शादीशुदा हूँ और अपने शौहर से बहुत प्यार करती हूँ, मैं दो बच्चों की अम्मी हूँ, किसी के घर की इज्ज़त हूँ.

इधर मैं अपने आवेश में आ चुका था, मैंने फटाक से सुकुमारी भौजी की चोली खोल कर उनके दोनों मम्मों को सहलाने लगा, कभी जीभ से चाटता तो कभी मुँह पिचका कर उन निप्पलों को चूस लेता था.

अब सुरेश और मयूरी भी दरवाजे की तरफ खड़े अपने पिता और ससुर को देखने लगे. गुरप्रीत ने हंसते हुए कहा- जी हां आज तो पूरा मजबूत वाला रिश्ता बना कर ही रहूँगा.

जोया केवल ब्रा में ही रह गई थी, इससे उसकी मदमस्त चूचियां भी ब्रा फाड़ कर बाहर आने के लिए मचल रही थीं. राहुल इतना अधिक उत्तेजित हो गया था कि थोड़ी ही देर में उसने अपना पानी जोया के मुँह में छोड़ दिया. वह पर हम दोनों ने खाना खाया और उसके बाद चाचा बोले- आज हम दोनों होटल के रूम में चुदाई करेंगे!लेकिन मैंने अब फिर चाचा को मना कर दिया क्योंकि मैं नहीं चाहती थी मुझे और चाचा को कोई होटल रूम में जाते आते देख ले.

फिर थोड़ा सा बॉडीलोशन लेकर उनकी पीठ के ऊपर गर्दन पर लगाने लगा और धीरे धीरे हाथ को आगे की तरफ ले जाने लगा.

’ करने लगी और बोल रही थी- चोद डालो मुझे समीर आई लव यू…मैंने भी उसको ‘आई लव यू टू. कब तक और कुछ गलत सलत तो नहीं करना होगा?अमित- नहीं मिनी असल में उसके पापा ने जिद की है कि तू शादी कर ले तो उसने कहा है कि उसकी एक गर्लफ्रेंड है, जिसे वह प्यार करता है और उसी से शादी करेगा और उसकी अभी पढ़ाई पूरी नहीं हुई है. मैंने सीधे उसकी कमर पर हाथ रखा और अपनी ओर खींच लिया।उसके अंदर की सिहरन सिसकियों के जरिए बाहर आ गई और मेरे अदर की तड़प मेरी आँखों में चमक बनकर छा गई। मैंने उनके सुर्ख होंठों पर एक चुम्बन अंकित किया, और उसका जवाब भी उसी गर्मजोशी के साथ मिला.

बुलु फिल्म वीडियोअंकित ने अपना सारा माल माया के मुँह में ही निकाल दिया और माया ने एक बूंद भी बाहर नहीं निकलने दी. मैंने जब वो देखी तो मेरे होश उड़ गए और शॉक के मारे मेरी आंखें बड़ी हो गईं.

चूत की चुदाई बीएफ एचडी

चूंकि पति से कुछ होता जाता नहीं था, इसलिए मेरी निगाह वरुण पर ही टिकी थीं. तब भाभी ने पैर गोद में ही लिए हुए पहले डेटोल से साफ किया और जैसे ही दवाई लगाने झुकीं, मेरा पैर उनके चुचे से छूने लगा. अब मैं निर्मला की चूत में हाथ फिराने लगा, चूत की दरार को एक उंगली से सहलाने लगा.

थोड़ी देर में मेरा फव्वारा छूट गया और सारा वीर्य उनकी चुत में गिर गया. माया ने मेरी तरफ देखा और कहा- यह तुम्हारा वही दोस्त है ना जो स्टेशन में मिला था?कुणाल ने कहा- हां. मैं- बोलो दीदी, क्या बोलती हो, मेरा लंड भी अपने नर्म और पिंक लिप्स में ले के चूसोगी या मैं ये वीडियो करण को दे दूं?दीदी- सन्नी, मैं तेरी बहन जैसी हूँ; तू मेरे साथ ऐसी हरकत करना चाहता है?मैंने सोचा कि अब इसको क्या बताऊँ कि मैं तो अपनी बहन को भी चोदना चाहता हूँ- दीदी फालतू की बात मत कर बोलो, यस और नो?वो चुप रही कुछ देर!मैं- दीदी जल्दी बोलो, वर्ना मैं चलता हूँ, कॉलेज और सबको ये वीडियो दिखाता हूँ.

मैंने उसे मना किया- तुम ये क्या कर रहे हो?पर मैंने ज्यादा विरोध नहीं किया, बस उसको यूं ही मना करती रही. उस समय मम्मी सीढ़ियों से गिर गयी थी तो उनकी पीठ में फ्रॅक्चर हो गया और दो महीने के लिए बेड-रेस्ट के लिए बोला गया इसलिए पापा ने दीदी को बुला लिया. उसके मुँह से ये सुनकर अजीब सा लगने लगा कि इतने दिनों में उसने अपने दुखों का कभी जिक्र ही नहीं किया था.

चाचा ने दुबारा अपना लंड मेरी चूत पर सेट किया और एक जोर का धक्का मारा तो उनका आधा लंड मेरी चूत में चला गया और मैं चिल्लाने लगी क्योंकि उनका लंड बहुत मोटा था और मुझे बहुत दर्द हो रहा था. दोनों ने एक दूसरे को रगड़ रगड़ के साफ किया और बेड पे आकर एक दूसरे से चिपक कर बातें करने लगे.

अब तो आप मुझे जल्दी से चोद डालो पापा!”अभी तो तू कह रही थी कि चुपचाप पड़े रहना है… अब क्या हुआ?”पापा, मेरी चूत में बहुत तेज खुजली मच रही है… ये आपके लंड से ही मिट सकती है… फक मी हार्ड पापा डार्लिंग!” बहूरानी अधीरता से अपनी चूत ऊपर उचकाते हुए बोली.

थोड़ी देर हम दोनों ऐसे ही पड़े रहे और जब उसका दर्द कुछ कम हुआ तो मैं फिर से धक्के लगाने लगा. लड़की का फोटो दिखानामैं आपको अपने जीवन की सच्ची घटना बताने जा रहा हूँ जो कि आज से 5 साल पहले की है. ब्लू पिक्चर हिंदी ओपनएक दिन शायद फरवरी का आखिरी सप्ताह था, मैंने उसे अपने रूम में आने को कहा तो वो आने को मान गई. संजय- कहिये ना भाभीजी आपको कैसी लगी?मैंने शर्माते हुए कहा- बहुत अच्छी.

हम कार में बैठ कर रुबीना के घर की और चल दिए, पूरे रास्ते रुबीना मुझे प्यार से देखती रही.

सैम- तो शालू तुम्हें अगले 20 दिन तक मेरी गर्लफ्रेंड बनके रहना है बस और ऐसे करते मुझे अच्छा तो नहीं लग रहा है. उनका लड़का चिंटू दिखने में अपनी माँ पे गया था, वो ज़्यादातर मेरे संग खेला करता था. उसने भी वैसे किया वो मेरा लंड चूसने लगी और ढेर सारा थूक मेरे लंड पर लगा दिया.

अब उसने कामिनी की गांड अपने हाथ में लिये लिये अपना मोटा लंड उसकी चूत में पूरा घुसा दिया. तो मैं खड़ी होकर उनकी कमर से लिपट गई। यश ने मुझे अलग किया और कमीज उतार दी। परन्तु आज मैं पीछे हटने वाली नहीं थी। मैंने यश को अपनी तरफ घुमाया और उनका सिर पकड़ कर होंठों पर चुम्बन करने लगी और उनका एक हाथ अपनी चूची पर रखकर दबाने लगी। ये सब मैंने एक बीएफ में देखा था. ऐसे आदमी को अपने वश में करना बहुत मुश्किल काम नहीं था, ये बात मयूरी अच्छे तरह से जानती थी.

गांडू का बीएफ

पिछली रात उसने चण्डीगढ़ आकर अपने पापा के दोस्त अपने महबूब से होटल के रूम में जम कर सेक्स किया. हर धक्के पे मोना के चेहरे पर प्यास और बढ़ रही थी और थोड़ी सन्तुष्टि का भाव भी दिख रहा था. चाची की ये बात सुन कर मुझमें थोड़ी हिम्मत आई और मैंने चाची को अपनी गोदी में उठा लिया.

रूम को देखते ही रोहण का और मेरा मूड बन गया और रोहण मुझे बेड पर ले जाने लगे।मैंने रोहण से कहा- रोहण रुकिए, पहले हम फ्रेश हो जाते हैं, फिर करेंगे.

मैंने कहा- चचीजान, इसमें शुक्रिया वाली क्या बात ये तो मेरा फर्ज़ था.

विवेक बोला- देखो जानेमन जो खुल्लम खुला प्यार करने में मजा है, वो डर डर के लेने में नहीं है. भाभी की चूत में उंगली करने के साथ मैं उनके मम्मों को भी चूस रहा था. कोरिया की सेक्सी वीडियोदीदी- ठीक है, तुम जाओ करण के रूम में… मैं ज़रा घर का काम करने लगी हूँ.

मैंने मानवी भाभी के मुँह पर एक चपत लगाई और उसके मुँह में अपना औज़ार जबरदस्ती डाल दिया. फिर बहूरानी जी मेरा लंड यूं अपनी चूत में घुसाये हुए मेरे ऊपर शांत लेट गयी. इन सबसे उसको कोई एतराज़ नहीं हुआ बल्कि वो इस सबको महसूस करके मेरा साथ दे रही थी.

मैंने उसे मना किया- तुम ये क्या कर रहे हो?पर मैंने ज्यादा विरोध नहीं किया, बस उसको यूं ही मना करती रही. थोड़ी देर में बाथरूम का दरवाजा खुला, मेरी नज़र उधर चली गई और जो देखा वो देख कर मैं हैरान रह गया.

जो मेरी थी। क्या तुम उसके साथ भी कर सकते हो?मैंने साफ मना कर दिया- मधु ये मेरा काम नहीं है.

मैं तेल की शीशी निकाल लाया और चाची से पूछा कि कहां पर दर्द हो रहा है. मुझको पता था कि इसके लिए पहले मुझको उसकी चूत को पानी निकाल कर चिकना करना था सो मैं उसके उसके बगल में लेटा और उसके शरीर को सहलाने लगा. आंटी- बेटा, ये तेरी ही है, मार ले जितनी मारनी है, तेरे अंकल पे तो कुछ बनता नहीं.

इंडियन 3x मैं जल्दी से उसके ऊपर चढ़ गया ओर अपना एक हाथ उसके मम्मों पर रख कर दूसरा हाथ उसकी चुत पर फेरने लगा. वो मुझसे भी पूछने लगीं कि तुम क्या करते हो?मैंने बोला- मैं एस एम एस हॉस्पिटल में काम करता हूँ.

उसी के साथ एक तेज गंध मेरे नाक में घुसी, जिसने मेरी कामोत्तेजना को और बढ़ा दिया. बाकी दोनों दोस्त उसकी चूचियों को मसलते और सहलाते हुए पूरे नंगे शरीर को चूम चाट रहे थे. चुत की सम्भावना में तलाश जारी रहती और धीरे धीरे आराम से हर जगह अपनी सैटिंग कर ही लेता.

बीएफ पिक्चर वीडियो स्टेटस हिंदी 2017

दीदी अब बहुत गर्म हो गई थीं और कामुक मादक सीत्कारें निकाल रही थीं-अहहा. मैंने अपने हाथ उसके वक्ष पर रख दिए और सीमा के छोटे छोटे उभारों को सहलाने लगा, हम दोनों की वासना उफान लेने लगी तो फिर प्यार में डूब कर हम दोनों ने अपने अपने कपड़े उतार दिए।मैंने सीमा को मेरा लंड चूसने को कहा तो उसने कहा कि वो चूस लेगी लेकिन सेक्स नहीं करेगी. अब जब हमने भी इसी शहर में रहना चालू कर दिया तो मेरा चाची के घर उठना बैठना शुरू हो गया.

मैंने सीधे उसकी कमर पर हाथ रखा और अपनी ओर खींच लिया।उसके अंदर की सिहरन सिसकियों के जरिए बाहर आ गई और मेरे अदर की तड़प मेरी आँखों में चमक बनकर छा गई। मैंने उनके सुर्ख होंठों पर एक चुम्बन अंकित किया, और उसका जवाब भी उसी गर्मजोशी के साथ मिला. वो बार बार ऐसे करने लगा और मुझसे बोला- देखो, तेरे गांड की पॉटी मेरे लंड पर लगी है.

मुझे दर्द भी हो रहा था लेकिन मेनका को दर्द में देख कर मैं अपना दर्द भूल गया था.

फिर हमने शाम को डिनर किया और मोना के साथ संभोग भी किया और दोनों सो गए. करीब पांच मिनट बाद मेरे ऊपर से उठे और मुझे थैंक्स बोला।पापा उन अंकल लोगों को बोले- अब तीनों मिल कर आरती को सेटिस्फाई करो, इसका बहुत गजब चुदाई करवाने का स्टेमिना है।तभी तीनों अंकल मेरे बेड में ऊपर आ गए और बोले- साली कुतिया,क्या चुदाई करवाती है!तभी मैं सुरेश अंकल को बोली- कमीने, बहुत जड़ी बूटी खाता है तो आ फाड़ मेरी चूत को!और मैंने उन्हें पकड़ कर अपने ऊपर चढ़ा लिया. फिर मैं धीरे धीरे अपने हाथ को उनकी चूचियों की तरफ़ बढ़ाने लगा और चुची तक आकर अपने हाथ को रोक दिया, फिर हिम्मत करके उनकी चूचियों को सहलाने लगा.

अरे बेटा, तू टेंशन मत ले… बस एन्जॉय कर मेरे साथ!” मैंने उनके पांवों के दोनों तलुए चूम डाले और अपना लंड उनके तलुओं के बीच फंसा लिया. ”ये कहते हुए मैंने एक किशमिश को अपने होंठों में दबा लिया और उसके मुँह के ऊपर झुक गया. मेरी इस सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा था कि मेरी दोस्ती अवी नाम के लड़के से हो गई थी और आज मैं उसके साथ पहली बार मॉल में जा रही थी.

तब तक के आपसे विदा चाहती हूँ। मुझसे अपने विचारों को साझा करने के लिए ईमेल कीजिएगा.

बीएफ फिल्म हिंदी में देखने वाली: मैं बाथरूम से आकर अपना ड्रेस पहन रहा था, तभी भाबी ने आकर मेरे कमरे के दरवाजे को बाहर से धक्का लगाकर खोल दिया. अभी मैं उन्हें ये सब समझा ही रहा था कि वो अचानक मेरे गले लग गईं और कहने लगीं कि अब मैं क्या करूँ, तुम ही बताओ?वो यह कहते हुए रोने लगीं.

जैसे ही पैंटी के ऊपर से उसकी चुत पर हाथ गया, वो तड़प उठी, वो मेरा हाथ बाहर निकालने की कोशिश करती रही मगर मैंने हाथ बाहर नहीं निकाला. दीदी- देखो सन्नी, मैं करण की बेहन हूँ तो तुम्हारी भी बहन हुई ना! क्या तुम अपनी बहन को ऐसे बदनाम करते कभी?मैं जानबूझ कर नाटक करते हुए बोला- मेरी बहन ऐसा कोई काम नहीं करती कभी, और अगर करती तो मैं उसकी जान ले लेता. तब तक मैं अपना लण्ड अन्दर नहीं डालूंगा। केवल उसकी चूत के ऊपर ही ऊपर से लण्ड फेरूंगा। मैंने उसे समझाया तो वो मान गई।बस फिर क्या था.

विक्की ने बोतल गोलू को पकड़ा दी, पर पिंकी ने अपनी टांगें खुद ही फैला दीं.

मैं भी धीरे धीरे बहकने लगी थी, पर जैसे तैसे मैंने अपने आप पर क्नट्रोल करते हुए सख्ती से संजय को अलग कर लिया. सुरेश ने काजल की टांगों को फिर से फैलाया और उसकी चूत के छेद पर अपना लंड सैट करके धक्का लगाना चालू कर दिया. मैंने देर न करते हुए उसकी पैंटी भी उतार दी, जिससे उसकी अनछुई चुत मेरे सामने आ गई.