बीएफ की नंगी चुदाई

छवि स्रोत,ऑल इंडियन बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी सुहागरात वाली बीएफ: बीएफ की नंगी चुदाई, हम दोनों चुदाई में कितने खोए हुए थे कि हमें पता ही नहीं की हम कहां थे … हम भूल गए कि बाहर कोई बैठा हुआ है.

काठमांडू बीएफ

वहां जाते ही हमने धीरे से दरवाजा बंद किया और एक दूसरे को बेतहाशा चूमने लगे. हिंदी मे बीएफ चुदाईमुझे कुछ समझ नहीं आया, मैं उस रात सो नहीं पाया और सुबह का इंतजार करने लगा.

कुछ देर बाद वो उठा अपने कपड़े सही किए और मुझे अपनी एक बांह के बगल पकड़ बाहर निकल गया. सेक्सी वीडियो बीएफ भाई बहन काक्योंकि वो सिर्फ मैडम को ज़िम्मेदार मानता है कि मैडम के अन्दर कमी है.

जैसे जैसे मैं उसके मम्मों को जोर से दबाता और मसलता, वो और तेज़ तेज़ से मेरा लंड चूसने लगती और उसे पूरा अन्दर तक ले जाती.बीएफ की नंगी चुदाई: कुछ दिन बीत जाने के बाद नानी ने मेरी मां के पास फोन किया और मेरे आने के बारे में पूछा क्योंकि मामा जी कुछ दिन के बाहर जा रहे थे और नानी ने मां को कह दिया कि वो मुझे यहां मामा के घर जल्दी ही भेज दें क्योंकि वहां पर घर की देखभाल करने वाला कोई नहीं था.

अंदर मैंने देखा कि अरशी का मुंह दूसरी तरफ था और वो अपनी ब्रा के हुक लगा रही थी.दरअसल ये खेल ऐसा है, जिसमें लोग अपनी अपनी काल्पनिक भूमिका में नाटक करते हुए संभोग की क्रियाएं करते हैं.

बीएफ मेरठ - बीएफ की नंगी चुदाई

एक दिन मेरे ससुर ने मुझे फोन किया कि आपके साले और उसकी बीवी को आपके पास दिल्ली भेज रहा हूँ.मैंने उसके बालों को पकड़ लिया और उसके मुंह को अपने लंड पर दबाने लगा.

वो मुझे किस करने लगा और मेरी चूत में अपना लंड डाल कर कुछ देर के लिए रुक गया. बीएफ की नंगी चुदाई फिर उन लोगों के जाने के बाद हम दोनों ने समुद्र किनारे बैठकर एक बियर मंगवाई.

मेरा लंड तन कर पूरा टाइट हो चुका था और उसकी चूत को फाड़ने के लिए तैयार था.

बीएफ की नंगी चुदाई?

उन कपड़ों को देख राजेश्वरी बहुत खुश हुई और बोली- यार, मैंने भी यही कपड़े आज के रात पहनने की सोची थी. अंगिका- आपका अपॉइंटमेंट थोडा जल्दी मिल सकता है क्या?मैं बोला- मैम, मैंने 5 आर्डर बुक किये हैं और 3 का तो एडवांस भी आ चुका है. मैंने कहा- नहीं भाभी, मैंने ऐसा कब कहा! मैं तो बस आपको खुश देखना चाहता हूं.

मैं उनकी तरफ देखकर मुस्कराते हुए बोली- अब कैसे करेंगे आप?वो बोले- अब मैं नहीं, अब तू करेगी. मुझे अभी शायद 5 से 7 मिनट हुए होंगे झड़े हुए कि मैं फिर से झड़ने को तैयार हो गई थी. बहुत दिनों से मुझे मेल प्राप्त हो रहे थे जिनमें पाठकों की शिकायत थी मेरी कहानियां काफी समय से प्रकाशित नहीं हो रही हैं.

गर्लफ्रेंड … और मेरी? हो ही नहीं सकता है मैडम!” मैंने उसकी बात का जवाब देते हुए कहा. कोई 15-20 झटके मारता हुआ वो अपना प्रेम रस कविता की योनि में छोड़ने लगा. मां को देख कर मेरे मुंह में भी एक बार तो पानी सा आ गया और मेरा लंड भी खड़ा हो गया.

निर्मला की योनि भीतर से तो गीली थी, मगर ऊपरी चमड़ी और पंखुड़ियां शायद सूखी थीं, इसी वजह से उसे तकलीफ हो रही थी. मुझे यह कहते हुए यकीन भी होने लगा था कि आज तो यह चूत देने के लिए मूड में ही लग रही है.

प्रिय पाठको, आपको मेरी ये चुदाई की कहानी कैसी लगी, मुझे मेल करके जरूर बताइएगा, ताकि आपकी बातों को ध्यान में रखते हुए मैं अपनी अन्य घटनाओं को कहानियों में ढाल कर आपके सामने पेश कर सकूं.

आपके मेल मिलने के बाद मैं आपको अपनी बहन की कुछ और सहेलियों की चुदाई के किस्से लिखूंगा.

मैंने जब अपने नीचे देखा, तो उस वस्त्र के कटे हुए हिस्से की वजह से मेरी एक टांग बिल्कुल नंगी दिख रही थी और एक तरफ से मेरी योनि के बाल भी दिख रहे थे. उसकी टांगों के बीच में बैठकर अपनी हाथ की उंगलियों से उसकी चूत की दरार को फैलाया. अब आगे की हॉट गर्ल अनल सेक्स स्टोरी:मैंने नजमी से बोला कि एक एक पैग और हो जाए.

वह मेरी तरफ करवट किए मेरे से चिपका था, उसकी जांघें मेरे ऊपर मेरी जांघ पर रखी थी. चूंकि मैं भी काफी उत्तेजित था तो मेरे लंड से भी काफी चिपचिपा पदार्थ निकल चुका था. जल्दी ही आपको किसी नई लड़की की एक नई देसी फुद्दी की चुदाई कहानी बिंदास ग्रुप की ओर से देखने को मिलेगी.

तभी कांतिलाल ने तेज़ी से कविता को उठाया और बिना लिंग बाहर किए खुद पीठ के बल गिर गया.

अंदर मैंने देखा कि मेरा भाई अपने लंड को हाथ में लेकर सू-सू करने की पोज में खड़ा हुआ था लेकिन वो सू-सू करने की बजाय अपने लंड को आगे और पीछे की तरफ किये जा रहा था. होटल पहुंच कर मैंने उससे पूछा भी कि आखिर क्या बात है … और मुझे किस लिए इतना सजा-धजा रही हो?उसने मुझे अपनी बात बतानी शुरू की, उसके हिसाब से वो मुझे एक खेल खेलने को कह रही थी. इसी बीच मुझे उनके नाम पता चले और वे कहां कहां से आए थे ये भी मालूम हुआ.

इस ग्रुप सेक्स कहानी के छठे भागखेल वही भूमिका नयी-6में आपने पढ़ा कि न्यू इयर की पार्टी मनाने का माहौल तैयार होने लगा था. मैंने उसकी गांड भी बहुत मारी अपने लंड से! मैंने उसकी बुर और गांड को कली से फूल बना दिया. मैंने उसे और उत्तेजित करने जैसा व्यवहार शुरू कर दिया और रवि की गति बढ़ने लगी.

मैं जोर से उसकी चूत को फाड़ देना चाहता था लेकिन ऐसा नहीं कर पा रहा था.

जब वह मेरे लंड को चूस रही थी तो मेरे अंदर से भी जोश पैदा होने लगा।रिहाना ने मेरे लंड को अपने मुंह से निकालते हुए कहा- आपका लंड बड़ा ही मजेदार है, इसे मुझे अपनी चूत में लेने में बहुत आनन्द आएगा।मैंने उससे पूछा- क्या तुमने आज तक कभी किसी से अपनी चूत मरवाई है?वह कहने लगी- हां … मेरे चाचा ने मुझे चोदा है. सच में दोस्तो, कल्पना करो कि एक मस्त गोरी लड़की, जिसकी चुचियां 36 की और गांड 38 की हो, तो वो क्या लगती होगी.

बीएफ की नंगी चुदाई मैंने भी उसे उत्तर दिया- रमा ने ही मेरा सब कायाकल्प किया है … वरना मैं तो पहले की ही तरह हूँ. इतने में ही आंटी घूम गई और आंटी के घूमते ही मेरे होंठ आंटी के होंठ से मिल गए.

बीएफ की नंगी चुदाई तभी खेलते खेलते अचानक प्रीति का फ्रॉक अपने आप उठ गया या पता नहीं उसने जानबूझ कर उठा दिया था, ये सिर्फ उसे ही पता था. उधर राजशेखर के मुँह से भी आवाजें आने लगीं … और हमारे जोरदार सेक्स की आवाजें भी कमरे में गूंजनी शुरू हो गईं.

फिर मैंने मैडम को गोदी में उठाया और उनके बेडरूम में जाकर उनके बेड पर पटक दिया.

लौंडे लौंडे

मैं लगातार उसकी बुर को चाटता जा रहा था और बीच बीच में अपनी जीभ उसकी बुर के काफी अन्दर तक डाल कर उसे अन्दर ही घुमाता और चूत की दीवारों को अपनी खुरदुरी जीभ से चाट देता. उसके बाद मैंने उसकी ब्रा को खोला और जब मैंने उसकी चुचियां देखीं, तो क्या बोलूं यार. फिर उसने मेरे पजामे को भी निकाल दिया और मेरी पैंटी को निकाल कर मेरी चूत में उंगली करने लगा.

भाई के जाग जाने के कारण अब हम दोनों में कोई भी हरकत नहीं करना चाह रहा था. उनकी मुस्कराहट से मुझे समझ में आ गया था कि वो शायद मेरी हालत समझ चुके हैं क्योंकि वो मेरे पापा की उम्र के थे और इन सब चीजों से गुजरे हुए थे. उन्होंने पहले मालिश से शुरुवात की, फिर तरह तरह की क्रीम बदन पर मले.

एक दिन की बात है जब मां ने मुझसे अपने साथ मार्केट में चलने के लिए कहा.

वैसे तो चूत में धक्के मारते टाइम बूब्स ही मसलते हैं … किंतु मैं थोड़े अलग अंदाज में उनकी गांड मसल रहा था. फिर मैंने उसके चूचों को पकड़ लिया और उसको कस कर बांहों में भरते हुए उसके चूचे भी साथ में दबाने लगा. वो बोली- सर क्या ये स्पर्म निकला हुआ है?मैंने कहा- नहीं, यह तो चुदाई की तैयारी के लिए चिकनाहट के लिए निकलने वाला पदार्थ है.

फिर उसने मुझे पूछा- रात कैसी कटी तुम्हारी?मैंने उत्तर दिया- ठीक रही. वो भी जान चुका था कि मुझे कैसे अपने वश में करना है … क्योंकि उसने मुझे पहली मुलाकात के समय भरपूर पढ़ा था. मेरी यह हॉस्टल गर्ल की चुदाई की सच्ची स्टोरी अच्छी लगी या नहीं … मुझे बताइये ताकि मैं आपको मुंह की चुदाई वाली जो चाहत जोकि उसके घर में जाकर की, मैं उसे बता सकूं।धन्यवाद.

मेरी देसी फुद्दी की चुदाई कहानी के तीसरे भागकॉलेज गर्ल चुदी पड़ोसी अंकल से- 3में मैंने आपको बताया था कि कैसे मेरे पड़ोसी अंकल ने मुझे गर्म करके मेरी चूत पर लंड लगाया. नहाने के बाद वो कपड़े बदलने के लिए उसी स्टोर रूम में जाती थी और दरवाजे को अंदर से बंद कर लेती थी.

मेरी लोअर में मेरा लंड तना हुआ था जिसे पिंकी अपने हाथ से सहला रही थी. अपनी बुर पर उगंली रखने की मेरी हिम्मत नहीं हो रही थी, कुछ करने की तो बात ही बहुत दूर की थी. दो मिनट के भीतर ही मैं अपनी जांघें चिपकाने का प्रयास करने लगी और योनि बिस्तर के किनारों पर दबाने लगी.

सब कुछ अच्छा चल रहा था, लेकिन एक दिन कुछ ऐसा हुआ कि जिससे सब कुछ बदल गया.

मैंने उसे और उत्तेजित करने जैसा व्यवहार शुरू कर दिया और रवि की गति बढ़ने लगी. उसी वक्त अम्मा ने मेरा हाथ पकड़ा और अपनी साड़ी और पेंटी के अन्दर घुसा कर मेरी उंगली अपनी चुत में घुसा दी. इंशा को लंड चूसते देख कर शिफा भी पास आ गई, तो मैंने उसे भी अपनी ओर खींच लिया.

अन्तर्वासना सेक्स स्टोरी पसंद करने वाले मेरे प्यारे दोस्तो, मैं एक कहानी लेकर आया हूँ. साड़ी को मेरी कमर से बांध कर उसने आगे का हिस्सा एकदम नाभि के नीचे खौंस दिया.

मैंने इससे पहले कभी अपने भाई को उस नजर से नहीं देखा था लेकिन आज उसका लंड देखने के बाद मेरे मन में कुछ अलग ही फीलिंग आ रही थी. उसके बाद तो जब भी मुझे मौका मिलता रहा मैं माँ की चूत चुदाई का मजा लेता रहा. मैंने इधर उधर देखा और झट से उनके घर के खुले दरवाजे के अन्दर घुस गया.

बीपी सेक्स ऑंटी

उन्होंने मुझसे कहा- क्या करता है? तेरा लंड इतना मोटा कैसे हो गया है? ये मेरे अन्दर जाएगा, तो मेरी पूरी चूत को छील देगा.

एक ने लंड को अंतरा के मुँह के पास जाकर उससे लंड को मुँह में लेकर चूसने को कहा. वो बोली- क्या हाथ देख लेते हो?मैंने कहा- हां तुम्हारे हाथ में खुद को ढूँढ रहा हूँ. दीदी की चूचियों की मस्त और सेक्सी क्लीवेज और ब्लैक ब्रा में कसे हुए दूधिया रंगत वाले दीदी के मम्मे मुझे गरम करने लगे थे.

मैं थोड़ा सा हिचक गया कि कहीं मैं जल्दी तो नहीं कर रहा हूं लेकिन दोस्तो बहुत बुरा हाल हो रहा था. कुछ पलों के धक्कों में मैं फिर से गर्म होने लगी और मेरी कमर अपने आप चलते हुए लिंग पर योनि धकेलनी लगी. बीएफ फुल एचडी सेक्सी वीडियोफिर उसने मेरे पजामे को भी निकाल दिया और मेरी पैंटी को निकाल कर मेरी चूत में उंगली करने लगा.

मैंने अपनी लोअर को भी निकाल कर एक तरफ डाल दिया और मैं केवल अब अपनी चड्डी में आ गया था. झड़ने के बाद मैंने उठ कर देखा, तो मेरी चुत से खून निकल रहा था और बहुत दर्द हो रहा था.

मैंने पूछा- मजा आया?वो बोली- मजा तो बहुत आया … पर आप बहुत बड़े बहनचोद हो … ट्रेन में ही चोद दिया. अब रवि ने अपने एक एक हाथों से उसकी दोनों जांघों को पकड़ा और अपनी कमर से दबाब देते हुए पूरा का पूरा लिंग रमा की योनि में उतार दिया. उसी दिन करीब 4 बजे फिर कॉल आया तो नलिनी बोली- मेरा आपसे मिलने का मन हो रहा है, क्या आप मिल सकते हो?मैंने उसकी अन्तर्वासना को पहचाना और तुरन्त हां बोला.

मेरे पूछने पर वो कहने लगे कि यार तू जितना कहेगा हम देने के लिए तैयार हैं लेकिन माल मस्त होना चाहिए. इधर राजशेखर ने जी भरकर मेरी योनि चाटने के बाद मुझे उठाया और मुझे कुतिया की तरह झुक जाने का इशारा किया. मैंने लेडी डॉक्टर से अपने शरीर की जांच कराई तो मुझमें कोई कमी नहीं मिली.

तभी मैंने महसूस किया कि भाबी ने मेरा हाथ उठा कर अपने एक स्तन पर रख दिया.

मैं बस ये देख रही थी कि तुम कितना सब्र रखते हो और कब खुद मुझे ये सब बोलते हो. खैर … उसकी विनती करने के बाद भी मैं मुस्कुराते हुए अपनी योनि को छुपाने के प्रयास करती रही.

जब 457 तक मेरी गिनती पहुंची, तो रवि अपना लिंग रमा की योनि में धंसा कर रुक गया और रमा की पीठ पर लेट गया. निधि को वाइल्ड सेक्स और रफ़ सेक्स भी पसंद है।मुझे कुणाल ने यह भी बताया था कि निधि के पहले भी कई सेक्स अफेयर रह चुके हैं और पहले भी बहुत लण्ड ले चुकी थी. उनको क्या पता था ये बच्चा अब उनकी जवानी के क्या क्या करने की सोचने लगा है.

उसकी न्यूड बॉडी देख कर मुझे ऐसा लग रहा था जैसे वो मिया खलीफा और सनी लियोनी का मिक्सचर हो!उसे नंगी देख कर मैं अपने आप को रोक नहीं पाया, मैंने उसकी चूत को अपने मुंह में ले लिया और खाने लगा. फिर एकदम से हम दोनों की नजर मिल गई और दोनों ही एक दूसरे को देखने लगे. मैं अपनी चूत को साफ़ करने बाथरूम में गयी, अपने आपको अच्छे से साफ़ किया और उसके बाद मैंने अपने कपड़े पहन लिए.

बीएफ की नंगी चुदाई चाची को अब गांड मरवाने में मजा आने लगा था और वो अब मेरे लंड पे अपनी गांड के धक्के मार रही थीं. मेरी सलाह पर मनु ने मेरे साथ मिलकर एक थोड़ा बड़ा घर किराए पर लिया और मैं मानव से रेगुलर ली अपनी चुदाई करवाने लगी।आगे हम लोगों ने अपनी चुदाई के तरीकों में क्या क्या बदलाव किए जिससे हमारी गे सेक्स लाइफ बहुत बेहतर हो गई.

মা ও ছেলে xxx

मैं तो जानती भी नहीं थी कि बियर क्या होती है … पर फ्रूट सुनकर समझी के फल का रस होगा. मेरा और चाचा के बड़े लड़के और प्रिया का बिस्तर दूसरी छत पर लगा हुआ था. वो मेरे लंड को ऐसे प्यार करने लगी जैसे उसने इतना बड़ा लंड पहली बार देखा था.

मैं उससे माफी मांगने लगा- मुझे माफ़ कर दो बहन, आगे से ऐसा कभी नहीं होगा. मैंने अपने बदन पे तेल की अच्छी मालिश की और लंड की भी बहुत अच्छी तेल मालिश की. नंगा बीएफ सेक्सीमैं रोज रात को अपनी चूत उंगली करती थी लेकिन अब मेरा उंगली करने से भी ज्यादा सेक्स करने का मन करता था.

अमन ने मेरी बीवी के बाल पकड़े और अपने हाथों से उसके गाल दबाते हुए उसका मुँह खोल दिया और अपना लंड उसके मुँह में डालने लगा.

मैं काजल के एक एक मम्मे को बारी बारी से चूसने लगा और एक हाथ से मसलने लगा. फिर मैंने जानबूझकर एक दो रंडियों से पूछा- तुम्हारा ये साइज कैसे बढ़ता है?उन्होंने बताया कि हमारी दिन रात चुदाई होती है … तो किसी भी लड़की का साइज चुदाई से बढ़ ही जाता है.

दोस्तो और सहेलियो, मैं आपसे सच कहूँ तो मैंने अन्तर्वासना सेक्सी कहानियां पर बहुत सी सेक्स कहानी पढ़ी हैं, ये सब मुझे बहुत पसंद आती थीं. वो बोली- लेकिन मैं आपसे कुछ और भी पूछना चाह रही हूं जिसकी वजह से मेरा दिमाग काफी उलझन में है. मुझे अपनी बांहों में भींच लिया और फट से अपना बरमूडा, अंडरवियर, टी-शर्ट निकाल कर फेंक दिए.

कभी कभी मज़ाक में वो मुझसे पूछ लेती है- क्यों फुफू आज कैसा मज़ा आया?मैं भी कह देता हूँ- बाकी सब तो ठीक है यार.

मैं भाभी की चूत या किसी आंटी की चूत चोदने का कोई मौका अपने हाथ से नहीं जाने देता हूं. उसके मुँह से ऐसी बातें सुनकर मैं थोड़ा सा सोचने लगा कि यह तो कितनी चालू लड़की है … कितनी बेशर्मी से बातें कर रही है. मैंने घर फोन लगा कर बारात के बारे में पूछा तो वो लोग अभी वहीं लड़की वालों के वहीं पर थे और विदाई हो रही थी.

देवर भाभी का हिंदी बीएफवो मुझसे बोलने लगी- तुम क्यों नहीं पहन रही हो?वैसे निर्मला इन कपड़ों में थोड़ी थुलथुली दिख रही थी और स्कर्ट उसके लिए बहुत अधिक छोटा था, जिसके वजह से उसका आधे चूतड़ दिख रहे थे. मगर अभी भी जब हम दोनों मिलते हैं तो वो मेरे लंड को लेने की इच्छा जाहिर करती है.

लडकी के साथ सेक्स

फिलहाल मैं अपना व्यापार करता हूँ, यह कहानी मेरी तब शुरू हुई थी, जब मैंने 2009 में मुम्बई की एक कम्पनी में जॉब शुरू की थी. वो बोलीं- बेटा अब मुझे मत तड़पाओ … जल्दी से अपना मोटा मूसल लंड अन्दर डाल दो और मेरी चूत को चोद दो. इस पर निर्मला ने उससे मजाक करते हुए बोला- तुम्हें भी रंडी बनना है क्या?राजेश्वरी ने उत्तर दिया- क्या यार कोई एक्टिंग कर लेगा, तो क्या वो सच में रंडी हो जाएगी क्या? मैं तो केवल सारिका की एक्टिंग देखना चाहती हूँ.

वो बोली- सर, क्या आपको यहां छूने से बहुत मजा आता है? उसने मेरे लंड के टोपे को मसलते हुए कहा. मैंने जैसे ही परी की चूत में अपनी जीभ घुसाई, उसको तो जैसे करेंट लग गया हो … वो मस्ती से चिल्लाने लगी- आह … अब नहीं रहा जाता … घुसा दो … मेरी चूत में अपना लंड … फाड़ दो इसे … चोदो मुझे चोदो. मैं एकदम चौंक गया कि ये कैसे हुआ।तब मम्मी ने बताया कि उसके घर से उसे कोई लेने नहीं आया तो उसने मम्मी से कहा कि वो हमारे घर में अपनी छुट्टियां बिताना चाहती है।मेरे तो मन में लड्डू फूट रहे थे.

फिर मैंने आस पास देखा कि कोई हमारी इस हरकत पर ध्यान तो नहीं दे रहा. फिर मैंने फेसबुक एक यार बनाया और …मेरे प्यारे दोस्तो, आज मैं अपनी हिंदी चुदाई स्टोरी लिखना चाहती हूँ. तो ज्यादातर गुसलखाने की खिड़की खुली ही मिलती है।मेरे घर में उस वक्त मेरी बीवी सुबह सुबह नाश्ता आदि बनाने के काम में लगी रहती है.

मेरे परिवार में हम दो भाई और माँ-पापा है। माँ हॉउस वाइफ है जबकि पापा किसान हैं। हमारे पास 30 बीघा जमीन है जो कि बिल्कुल नहर के पास है. फिलहाल आप इस कॉलेज गर्ल स्टोरी के बारे में मुझे बतायें कि आपको मेरी यह कैसी लगी.

मेरा बॉयफ्रेंड मुझे चोद रहा था और मैं उतावली होकर उससे चुदवा रही थी.

मैं जल्दी से तैयार होने लगा और घर पर मैंने बोल दिया कि मैं अपने दोस्त के घर पर जा रहा हूं. सेक्सी सेक्सी भोजपुरी बीएफफिर थोड़ी देर के बाद उसने अपना पेंट खोल दिया और लिंग बाहर निकाल मुझे चूसने को कहा. न्यू बीएफ सेक्समैंने अपने कपड़े उतारने शुरू किये और किरण ने अपने कपड़े उतारने शुरू कर दिये. वो एक तरह से सेक्स बम्ब है, जो भी उसे देखता है, उसका लंड खड़ा हो जाता था.

दीदी- ये क्या बोल रहे हो?मैं- अरे उसमें शरमाना क्या, दर्द से ज़्यादा ज़रूरी कुछ नहीं है.

अब मैं अपना सारा दिमाग़ इस बात को सोचने में लगाने लगा कि कैसे अपने दिल की बात साली को बोलूं, पता नहीं वो भी मुझसे चुदना चाहती है या नहीं?ऐसा ना हो कि कुछ बवाल हो जाए!यही सोचते सोचते सारा दिन बीत गया. मैंने अपनी बीवी की पैंटी उठा ली और अपने लंड से पैंटी को लपेटकर हिलाने लग गया. पहले तो मां ने मना कर दिया लेकिन फिर बाद में मां ने गाउन निकाल दिया.

जिस प्रकार से वो धक्के मार रही थी, उससे उसके चूतड़ बहुत लुभावने दिख रहे थे. बल्लू का लंड भाभी की गांड के नीचे उसकी चूत में जाने के तड़प रहा था. हालांकि उसके बदन को आज पहली बार छूते हुए ही मेरा लंड पूरा खड़ा हो चुका था.

इंडियन भाभी सेक्सी वीडियो

एक ऐसी लड़की की जो मुझे अचानक मिली जिसको मैंने कभी देखा तक नहीं था न सोचा था कि ऐसी कोई जिंदगी में आई थी बाद उस टाइम की है जब मैं शुरू शुरू में जिम जाया करता था. डॉली की चूत की दोनों फांकों को मैं बारी बारी से दबा दबा कर खींचते हुए पी सा रहा था. अब मैंने उसके आंडों और गुदा द्वार के बीच वाले हिस्से की नसों को हल्के हल्के दबाते हुए सहलाना शुरू कर दिया.

अंकल ने मुझे चुदाई के सारे आसन सिखा दिये थे क्योंकि उन्होंने मुझे हर आसन में पेला था.

एक दिन ऐसे हुआ कि मेरी बीवी और बच्चे मेरी ससुराल में छुट्टियों में गए हुए थे.

दिन भर की चुदाई से उसकी चुत में सूजन आ गयी थी और मेरे लंड में भी काफी दर्द होने लगा था. दो मिनट के बाद अनु ने खुद ही मेरे लंड को मुंह में ले लिया और चूसने लगी. एचडी सेक्स बीएफ फिल्मफिर हम दोनों ने दिल्ली में ही मिलने का प्लान बनाया और हम होटल में मिलने आ गए.

वह कुछ नॉर्मल हुई, तो मैंने अपने लंड को थोड़ा अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया. एक दिन मेरे दोस्त ने मुझसे कहा- वो तुझे जिस तरह से देखती है, उससे लगता है कि ये तेरे से पट जाएगी. मैंने बच्चे को तो सुला दिया है ताकि वो मुझे काम करते हुए परेशान न करे.

मैंने मौसी के चूचों में मुंह दे दिया और मौसी की चूत में धक्के देने लगा. मैंने उसकी चूत में जीभ डाल कर उसकी चूत को अपनी जीभ से ही चोदना शुरू कर दिया.

मैं अभी शांत होने को ही थी कि उसने भी अपनी पिचकारी जोरदार धक्कों के साथ छोड़नी शुरू कर दी.

इसलिए उनसे दोबारा कांटेक्ट नहीं हो पाया और ना मैं दोबारा मिलने गया वहां, क्योंकि राजेश ने मुझे बताया था कि वो करोल बाग़ रहते हैं और द्वारका सोसाइटी फ्लैट में तो बस कभी-कभी वीकेंड पर ही आना होता है. पहले मैंने अकेले जाकर एक रूम बुक किया और उसको फोन करके अन्दर बुला लिया. मैंने कहा- तुम इस घोंसले को अपनी चूत के ऊपर हटाती नहीं हो क्या?वो बोली- मुझे ये सब करने का टाइम नहीं मिलता है.

बीएफ सॉन्ग वीडियो लगातार 15 मिनट चोदने के बाद मुझे लगा कि मेरा निकलने वाला है, तो मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और पूरी रफ्तार से उनकी चूत में ही झड़ गया. उसके बाद वो ऑफलाइन हो गया, लेकिन मैंने उसकी बीवी की पिक्चर सेव करके रख ली.

कांतिलाल के मित्रों ने तो अभी तक मेरे साथ केवल संभोग किया था, पर कांतिलाल ने तो मुझे पूरी तरह से निचोड़ लिया था. मुझे अंदाज़ा हो चुका था कि वो झड़ने के क्रम में जो धक्के मुझे मारेगा, वो असहनीय होगा … पर मैं उसके वश में थी और मेरे पास बर्दाश्त करने के अलावा कोई विकल्प नहीं था. मतलब राजेश्वरी की पीठ का हिस्सा कमलनाथ की तरफ था और चेहरे का हिस्सा पैरों की तरफ था.

ई-मेल ब्लू फिल्म

अगले दिन जाने से पहले मैंने सोच लिया था कि आज मैं भी पीछे नहीं हटूंगा. कविता ठीक वैसे ही कराह उठी, जैसे कोई कुँवारी लड़की उस वक्त कराहती है, जब पहली बार किसी मर्द के जननांग को अपने भीतर महसूस करती है. पर कांतिलाल की ताकत के आगे मेरी एक नहीं चली और वो मुझे जोरों से पकड़ कर तेज़ी से मेरी योनि चाटने लगा.

उसने अपने घुटने को जांघों तक मोड़ लिया था और मैंने भी अपनी टांग उसकी जांघों पर चढ़ा दिया था. इसमें लोग जिस किसी का किरदार चुनते हैं, उसका अभिनय करते हुए खुद को संभोग क्रिया में पालन करते हैं.

मौसी ने मुझे देख कर स्माइल की और फिर अपने कपड़े लेकर दूसरे रूम में चली गई.

कुछ देर बाद मैंने अपना लंड उनके मुंह से बाहर निकाला और उनकी टांगों को फैलाया जिससे उनकी गुलाबी चूत दिखने लगी। मैंने तुरंत अपनी उंगली उसमें डाल दी और अंदर बाहर करने लगा।अब उनकी सांसें ज़ोर ज़ोर से चलने लगी. युक्ता के कोमल हाथ का लंड पर स्पर्श होते ही मुझसे रहा न गया और मैंने अपना लंड चेन खोल कर बाहर निकाल लिया. आज नजमी मेरे काबू में कैसे आई थी इसका पूरा मजा मैं आपको विस्तार से अगली अन्तर्वासना डॉट कॉम स्टोरी में लिखूंगा.

तीन महीने के बाद अगर उसको आगे भी करना होगा, तो वो उसकी मर्ज़ी से कमीशन पर रहेगा. फिर वो मुझको किस करते हुए मेरी शर्ट उतारने लगीं और मेरी शर्ट उतार कर मेरी छाती पर अपनी जीभ फेरने लगीं. उसने मुझे बिस्तर पर गिरा दिया और मेरे ऊपर चढ़ कर मुझे चूमने लगा, मेरे मम्मों की घुंडियों को चूसने लगा.

मैंने ध्यान दिया कि कांतिलाल बात करते हुए बीच बीच में मेरी जांघों के पास देख रहा.

बीएफ की नंगी चुदाई: उसके हाथ मेरी गांड पर पहुंच गये और वो मेरी गांड को अपनी चूत की तरफ खींचने लगी. वो लहंगा उठा कर मेरी जांघों पर बैठ गयी और झुककर फिर से लंड को चूसने लगी.

वो लगातार कामुक आवाजें करते हुए कह रही थी- आंह … उफ़ … और जोर से चूस लो …मैंने भी डॉली की चूचियों की चुसाई को तेज कर दिया. रोहण ने दीदी के कमरे में आते ही उसे पीछे से झटके से पकड़ लिया और होंठों को जबरदस्त चूसने लगा. एक दिन मैं घर पर अकेला था तो पता नहीं मेरा मन भी किया कि एक बार तो हस्तमैथुन करके देखना चाहिए कि कितना मजा आता है.

तो ये तय हुआ कि हर कोई थोड़ी थोड़ी देर संभोग करेगा, फिर साथियों की बदली होगी.

जब भाई मजे ले रहा है तो मैं क्यूं पीछे रहूं?मैंने कहा- तो मुझमें ऐसा क्या खास लगा तुमको?वो बोली- तुम काफी समझदार लगे मुझे. मैं उसको इतना जोर से हग करने लगा कि उसके नुकीले चूचे मुझे अपनी छाती में गड़ते से महसूस होने लगे. जिस प्रकार से वो धक्के मार रही थी, उससे उसके चूतड़ बहुत लुभावने दिख रहे थे.