बीएफ मूवी बीएफ मूवी बीएफ मूवी

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो मौसी की चुदाई

तस्वीर का शीर्षक ,

ब्लू २०१७ फिल्म: बीएफ मूवी बीएफ मूवी बीएफ मूवी, मैंने उसको पकड़ कर ज़ोर से एक धक्का मारा तो पूरा लंड उसकी चूत में घुस गया.

एक्स एक्स एक्स hd com

जाते वक़्त चाची की आंखों में एक अजीब सी उदासी और खिंचाव महसूस हो रहा था, जैसे उन्हें मेरा जाना ठीक नहीं लग रहा हो. भाई और बहन का सेक्स वीडियोकुछ दिन और ऐसे ही बीत गए मगर कहीं पर भी किसी सेफ जगह का जुगाड़ नहीं हुआ.

उनकी‌ दोनों जांघें जोरों से मुझ पर कस गईं और ‘आह्ह् … ईश्श आह्ह् … ईश्श … आआह्ह् … ईश्श … आआआह्ह …’ की आवाजें निकालते हुए वो अपनी चुत से गाढ़े गाढ़े सफेद रस को मेरे लंड पर उगलने लगीं, जोकि मेरे लंड के‌ सहारे बहते मेरे‌ कूल्हों तक‌ पहुंचने लगा. एक्सएक्स videoआपका फिगर साइज क्या है?आंटी बोलीं- मतलब?मैं बोला- बूब्स का साइज?आंटी का जबाब था- पूरा 38.

मैंने बातों में पूछ लिया- मैडम आज मौसम काफ़ी सुहाना है … बारिश हो ही रही है … हल्की ठंड भी है.बीएफ मूवी बीएफ मूवी बीएफ मूवी: लेकिन कुछ दिनों के बाद वापस भाभी का कॉल आया- आप कहां हो? मैं अजमेर के रेलवे स्टेशन पर खड़ी हूँ.

मैं सहेली के भाई से बात कर रही थी कि तभी उसने मुझसे मेरा नंबर माँगा.फिर मैंने मालिनी का ब्लाउज उसके बदन से अलग किया और उसने लाल ही कलर की ब्रा पहन रखी थी, मैं समझ गया कि मालिनी ने पहले से ही सब प्लान कर रखा है.

मुंबई की लड़कियों का सेक्स - बीएफ मूवी बीएफ मूवी बीएफ मूवी

मेरी सहेली मुझसे बड़ी चुदैल है, वो अपने बॉयफ्रेंड्स से चुदवाने के लिए होटल तक में चली जाती थी.इधर आप समझ सकते हो कि जो महिला मेरे साथ बंद कमरे में दारू पीने को राजी हो गई हो, वो भला चुदाई का मूड न बना चुकी हो ये कैसे सम्भव था.

अगर वो कोई असली लंड भी होता तो भी इतनी मुश्किल नहीं होती क्योंकि लंड जल्दी से अन्दर बाहर होता है, जिससे वो एक जगह टिक कर नहीं बैठता. बीएफ मूवी बीएफ मूवी बीएफ मूवी दोस्तो, किसी शादीशुदा औरत को देखकर मुठ मारने में भी बहुत आनन्द आता है.

अब उन दोनों काले सांडों ने बड़ी तेजी से मेरी चूत और गांड को एक साथ चोदना शुरू कर दिया.

बीएफ मूवी बीएफ मूवी बीएफ मूवी?

हाय दोस्तो, मैं विराट आप सबके लिए अपनी कहानी को आगे बढ़ाते हुए एक बार फिर से हाजिर हूँ. नाईटी में से उनके चुचे साफ़ दिखाई दे रहे थे, उन्होंने अपनी जुल्फें खुली छोड़ रखीं थी. अगले ही पल मैंने भाभी के ब्लाउज को खोल दिया और उसकी पीठ को पीछे से चाटने लगा.

मैं अपने दोस्त से बोला- कोई बात नहीं भाई देखते हैं, एक बार मुलाकात हो जाएगी तो वो समझ जाएगा कि अब केस मेरे पास आ गया है. जब वो बाल्टी लेकर चलने लगते, तो मैं लंड को छोड़ देता और जब उस बाल्टी का पानी गाय पीती, तब तक मैं उनके लंड को सहलाता और मौका मिलने पर एक दो बार चूस भी लेता. मगर मेरे सब्र की अब इन्तेहा हो गयी थी, इसलिए मैंने नेहा के होंठों को छोड़ दिया और अपने हाथों के बल होकर अपनी पूरी ताकत और तेजी से धक्के लगाने लगा.

अब आगे:प्रोफेसर साहब और उनके दोनों बच्चे सुबह 8 बजे स्कूल और कॉलेज चले जाते थे. साथ ही में वो बोली- रमित क्या कर रहे हो? मैं तो रात से पागल हुई पड़ी हूँ तुम्हारा यूँ मेरे लिप्स पे किस करना मुझे पागल सा कर गया, मैं रात से आग में जल रही हूँ और तुम मुझे छोड़ के जाने की बात कर रहे हो. मैंने चाची की दोनों चुचियों को जोर जोर से मसलते हुए जोर से धक्का मारा.

उनकी इस चुदाई की इच्छा भरी कामुक मस्ती के जवाब में मैं भी अपना करतब दिखाने को व्याकुल था. तब मैं बोली कि अंकल तुम जो चाहो अभी कर लो, मेरा बहुत मन बिगड़ गया है.

मैं अपने मम्मों को अपने हाथ से सहलाते हुए खुजाने का नाटक करने लगी और साथ ही उसके हिलते हुए लंड को देखने लगी.

मैंने पूछा- भाभी कहाँ निकलूं?भाभी बोली- अन्दर ही निकालो … मेरी चूत में ही भर दो.

फिर टैक्सी से बातें करते हम होटल जा पहुंचे जो कि पहले से ही बुक किया हुआ था. मेरे लंड के नेहा की चुत में अन्दर बाहर होने से फच् …फच्च … की आवाज तो आ ही रही थी, अब मेरे जोरों से धक्का लगाने और नेहा के कूल्हों को उचकाने से मेरी और नेहा की जांघें आपस में टकराने लगी थी. मुझे नींद खराब होने पर गुस्सा तो आया, लेकिन उसकी खूबसूरती और उसकी 32-26-34 की मादक फिगर को देख कर मजा भी आ गया.

मैंने बोला- कौन रेखा?तो बोली- अभी आप आए थे न … मैं बिरजू जी के घर से बोल रही हूँ. थोड़ा ना नुकर के बाद तो उसे भी अच्छा लगने लगा और मैं दो का मजा एक साथ ले रहा था. अब इधर उधर की बात करते करते मैंने बोला- आप भी बहुत सेक्सी दिख रही थीं.

मन ही मन में मैं उनको गालियाँ दे रहा था। हम लोग कॉफी पीकर वापस अपने फ्लोर पर चले तो फिर उसी लिफ्ट में गए और फिर से एक दूसरे को किस करने लगे.

कभी वो मेरे दाने को च्युंगम की तरह खींचती, कभी वो अपनी जीभ से सहलाने लगती. मैंने रमेश को पास वाली टेबल पर बैठकर नजारा देखने के लिए कहा और रमेश ने हां में सर हिलाते रूपा की साड़ी उठाई और चुपचाप बैठ गया. मैंने भाभी की चूत के पास लंड को रगड़ना शुरू किया और भाभी मस्त होने लगी.

मेरी मेल आईडी है[emailprotected]इस कहानी के बाद आप लोगों को बताऊंगा कि भाभी और उसकी सिस्टर को भी मैंने कैसे कैसे, किस किस स्टाइल में चोदा. मैं बोली- जहां डालना हो डाल दो जगत … पर अभी मेरी चूत में डाल दे, बर्दाश्त नहीं कर पा रही हूँ. दो तीन कश मारे होंगे कि मेरे बाजू वाले कमरे से पियू भी बाहर आ गयी, उसने मुझे स्मोक करते हुए देख लिया और मेरे पास आकर धीरे आवाज़ में मुझे डाँटने लगी कि मैं स्मोक क्यों करता हूँ, ड्रिंक करता हूँ उतना काफ़ी नहीं क्या!मैंने उसे बता दिया कि ड्रिंक के साथ स्मोक की आदत है और बहुत कम स्मोक करता हूँ.

तभी मुझे खिड़की पर किसी के होने का आभास सा हुआ, जिससे मेरी नजर खिड़की पर चली गयी, जो कि हल्की सी खुली हुई थी.

चाची को अपने बांहों में भरके पागलों की तरह उनके बदन को सहलाने और मसलने लगा. इतने में बुड्ढे ड्राइवर ने अपना पूरा लौड़ा जोर से गांड में डाला और अकड़ गया.

बीएफ मूवी बीएफ मूवी बीएफ मूवी कुछ ही देर में उनका लंड सिकुड़ने की वजह से बनी हुई जगह से हम दोनों का कामरस बहकर नीचे चादर गीली कर रहा था. मैंने कहा- खाला इसकी फ़िक्र न करें, आप सबसे सुन्दर, गोरी और मेरे से बड़ी होने के बावजूद मस्त माल हो.

बीएफ मूवी बीएफ मूवी बीएफ मूवी फिर 15 मिनट के बाद सोहन के घरवालों का फोन आया कि उसकी बहन का एक्सिडेंट हो गया है और वो तुरंत हॉस्पिटल पहुंचे. भाभी- तो क्या मैं बाहर अकेले नहीं रह सकती क्या?मैं- क्यों नहीं … ज़रूर, लेकिन ऐसे आप बाहर रहोगी तो आपको किसी की नज़र लग जाएगी.

साली अनु ने मेरा लंड कभी भी इस तरह से नहीं चूसा था … और आंड तो आज तक नहीं चाटे थे.

वीडियो में सेक्सी बीएफ दिखाइए

थरथराता जिस्म … जिसके एक-एक अंग को मैं धीरता के साथ चूमता जा रहा था. मेरा पति मेरी नज़रों में बिल्कुल चूतिया था और आज भी वैसा ही है।उस दिन भी मैंने उसको बड़ी ही आसानी से चकमा दे दिया. उसने अपने दोनों‌ हाथों‌ से मेरे सिर को पकड़ कर अपनी चूची पर से हटा दिया.

भाभी को चोदते वक्त एक दो बार मुझे लगा भी था कि शायद खिड़की से कोई हमें देख रहा है, मगर सुलेखा भाभी के साथ मस्ती के चक्कर में मैंने ही ध्यान नहीं दिया था. राहुल ज्यादातर मेरे पति के पास ही रहते थे। जैसे ही राहुल सो गए वैसे ही पति ने नीचे आकर मुझे दबा लिया और मेरी साड़ी व पेटीकोट ऊपर करके मेरी चड्डी उतार दी और अपना लण्ड मेरी चूत पर लगा दिया और 2 मिनट में ही मेरे ऊपर ढेर हो गए. अब जगत अंकल ने मेरी जांघों के ऊपर अपनी हथेली रख दी और धीरे से उसे चलाने लगे.

उससे पूछा कि उसे कोई प्रॉब्लम तो नहीं है?उसने बताया कि उसे अंग्रेजी में कुछ प्रॉब्लम आती है.

इस पर अनु ने गुस्से में नहीं, बल्कि प्रेम से बोली- करण रुको ना, प्लीज़ खाना तो बनाने दो. मैं अपने दोस्त के पास गया तो देखा कि वो अपनी गर्लफ्रेंड के मम्मों को दबाने में बिज़ी था. उसकी चूत काली झांटों से भरी हुई थी, जिसे देख कर मेरा लंड हवा में झटके खाने लगा.

फिर मेरी जिद पर उन्होंने तब तक उसे मुँह में लिया, जब तक वो पूरी तरह खड़ा नहीं हो गया. अगर कोई आपसे काम के लिए कहता है या मजबूरी में आपको करना पड़ता है, तो बात अलग होती है. जैसे ही मेरी जीभ रूपा की चूत की दोनों फांकों के बीच में से रगड़ खाती हुई उसकी चूत के छेद पर लगी, तो रूपा के मुँह से मस्ती से भरी हुई सिस्कारियां निकलने लगीं- अहह बहुत मज़ा आ रहा है मालिक … उम्म्ह… अहह… हय… याह… ह्ह्ह…रूपा की कामुक सिसकारियां सुन कर मैं और भी जोश में आ गया और रूपा की चूत के फांकों को फैला फैला कर उसकी चूत के छेद को अपनी जीभ से चाटने लगा.

मैंने उसकी पैंटी भी उतार दी और उससे चूमते चूमते लिटा कर उसकी चूत को भी चाटने लगा. रोशनदान थोड़ी ऊंचाई पर था, पर एक प्लास्टिक का छोटा स्टूल था, जिस पर चढ़ कर देखा तो वो आसानी से दिख रही थी.

वो दुखी होकर बोलीं- अपना दूध कैसे निकालूंगी मैं?मैं बोला- मैं निकाल दूँगा ना. मैंने एक झटके में लंड उसकी चूत में दे मारा, वो दर्द से चिल्लाने लगी. फिर सुनील ने पूछा- मैं अभी डाल दूं? चुदवाएगी न?मैंने फिर से हां में सिर हिला दिया तो महेश बोला- अबे पूछता क्या है, डाल दे न यार … देख बेचारी की चूत हालत देख कैसे बह रही है.

शायद मेरे इतने बड़े लंड को एक बार में ही अपनी चुत में लेने से सुलेखा भाभी को पीड़ा हुई थी, मगर वो सारा दर्द पी गईं और खुद ही मेरे दोनों हाथों को पकड़कर अपनी चूचियों पर रखवा लिया.

राज अंकल धीरे से मेरे कान में बोले- तू सोनू अलग गाड़ी में बैठना और मम्मी को अलग बैठा दूंगा. कौशल्या भी 6-7 बार अह अह के बाद एक जोर से आहह करती … अब उसका दर्द मजे में बदलने लगा था. मैंने मेरी बीवी को एक दिन बहुत धमकाते हुए कहा- तुम उस करण पाल से रोज क्या बातें करती हो … और मुझे ये सब अच्छा नहीं लगता.

यह कहकर मेरे मुँह से लंड निकाल कर, मेरे पीछे खड़े होके पुनीत मेरी गांड की तरफ आ गया. नीरू की चूत में लंड घुसा कर मैंने पायल को अपने पास बुलाया और नीरू के चूतड़ों की दरार को फैलाकर पायल से उसकी चूत में समाए अपने लंड को देखने को कहा.

’लेकिन वो नहीं मानी, उसके घर वाले भी बोलने लगे और उन्होंने मुझे जबरदस्ती 500 रुपये दे दिये. मैं सोच रहा था कि अभी उनके पास चला जाऊं और उनकी मैक्सी उठा कर उनकी गांड में अपना लंड डाल दूं. उसने देखा कि गाड़ी में हमारे अलावा कोई नहीं है तो उसने मुझे एक ज़ोर का हग किया और बोली- तुम्हें सबकी कितनी फिकर है.

एचडी बीएफ हॉट बीएफ

तभी अचानक नंगा नामित पीछे को मुड़ गया और मॉम उसका लम्बा लंड देखते रह गईं.

अब आगे:मैंने भी अब उसे ज्यादा नहीं तड़पाया और अपनी जीभ को नुकीला करके उसकी संकरी गुफा में पेवस्त कर दिया, मगर जैसे ही मैंने अपनी जीभ को उसकी चुत की गहराई में उतारा, मेरा मोटा सुपारा उसके मुँह में होने के बावजूद वो ‘उह … उउऊऊ … अह्हहहं …’ कहकर जोरों से सिसक उठी और अपनी चुत को मेरे मुँह पर जोर से दबा दिया ताकि मेरी जीभ अधिक से अधिक उसकी चुत की गहराई में उतर जाए. उनको देखा तो मुझे कंट्रोल नहीं हुआ और मैंने सारिका को अपनी तरफ खींच लिया और अपने करीब लाकर उसके होंठों पर किस करना शुरू कर दिया. थोड़ी पीने के बाद…‘अब मैं नए कपड़े पहन के तैयार हो जाऊं?’उसने मुझे बांहों में भरा एक चुम्मी ली मेरे होठों पर और बोला- आज से पहले किसी का लौड़ा चूसा था?‘नहीं.

उधर नेहा की मुँह की लार और मेरे लंड से निकलने वाला रस नेहा के मुँह से रिसकर मेरे लंड के सहारे अब मेरी भी जांघों पर फैलने लगा था. मैं एक हाथ से उसकी चूचियों को दबा रहा था और उसके गले के पास किस करने लगा. सेक्सी व्हिडिओज कॉमकुछ देर की चुदाई के बाद मुझे मेरी चूत में एकदम से अकड़न सी हुई और कुछ गीला गीला सा महसूस हुआ.

थोड़ी देर बाद उन्होंने पानी छोड़ दिया, लेकिन मैं उन्हें कुतिया बनाकर तब तक पेलता रहा, जब तक कि मैं नहीं छूटा. पायल ने पहली बार बुर शब्द का इस्तेमाल किया उसके मुंह से यह सुन मुझे मजा आ गया.

मुझे मेरे बालों से पकड़ा और उनको खींचते हुए घुटनों के बल ज़मीन पर अपने सामने बैठा लियाले … तू चूस … बता इसको कितना मज़ा आ रहा है तुझे …” कहकर उन्होंने मुझे आगे खींचा और अपने लंड को मेरे होंठों पर रगड़ने लगे. मेरी उम्र 19 साल की है, रोजाना जिम जाता हूं और अपनी पर्सनालिटी का ध्यान रखता हूं. नमस्कार दोस्तो, मैं राज रोहतक (हरियाणा) से फिर एक बार अपनी एक और हकीकत लेकर आप सबके सामने हाजिर हूँ.

ऊपर से रोड पर हर 2-3 मिनट में एक मोटरसाइकिल हमारे नज़दीक से गुजरती थी. 5 इंच का ही है और मेरी बीवी ने उस डिल्डो के साइज़ का लंड कभी आज तक देखा ही नहीं था. कुछ दिन बाद एग्जाम हो गए और परीक्षा में पास होने के बाद उसकी कॉल मेरे पास आई, तो मैंने उससे पार्टी मांगी.

आपको कैसी लगी यह सब आप मुझको मेरे मेल कर बता सकते हैं या कमेंट देकर भी बता सकते हैं.

रूपा अपने एक निप्पल पर मेरे होंठों को महसूस करके और गरम हो गयी और उसके मुँह से कामुकता से भरपूर सिसकारियां निकलने लगीं- उम्ह्ह ह्ह मालिक ओह धीरे चुसोओ. लगभग 5 मिनट की खड़े खड़े चुदाई करने के बाद मैंने उसे लिटा दिया और उसके ऊपर आ के अपने लंड की स्पीड को बढ़ाते हुए चोदने लगा.

अब तक की इस मस्त सेक्स कहानी में आपने पढ़ा था कि नेहा अब खुलती जा रही थी उत्तेजना के वश उसने अब शर्म हया छोड़ दी और खुद ही अपनी चुत को मेरे मुँह पर घिसना शुरू कर दिया था. मेरी हरकत को देखते हुए रवि मामा ने कहा- यार अभी गांव है, अभी कोई हरकत मत कर. अब मेरी पत्नी और नीरू ने पायल को बेड के कोने पर कर लिया और दोनों ने उसकी टांगें ऊपर उठाकर एक एक टांग फैलाकर पकड़ ली और मुझसे उसकी बुर पर अपना लंड लगाकर अंदर डालने को बोला.

उसने मुझे बैठने का इशारा किया, तो मैं कन्फर्म हो गया था और उसने अपने आपको थोड़ा उठाया और मेरा लंड बाहर निकाल कर लंड पर बैठ गई. मैं उन्हें अपनी छाती से जमकर रगड़ रहा था और उनके कान में बड़बड़ाये जा रहा था- मैं आपके बिना नहीं रह पाऊंगा!फिर मैंने अचानक से उनकी गर्दन पर किस कर दिया जिसकी वजह से वो एकदम मचल गई और उसके बाद मैंने अपने हाथ उनके बूब्स पर घुमाने शुरू कर दिए. उस वक्त मैं 21 साल की हुई थी और मामा के घर पर ही रहती थी उस वक्त मेरा फिगर 34-28-34 के करीब था.

बीएफ मूवी बीएफ मूवी बीएफ मूवी फिर से मैंने जोरदार चुम्मा लिया और लंबा फव्वारा सरिता की चूत के अन्दर छोड़ दिया. मैं खाला को बेकरारी से चूमने लगा और चूमते चूमते हमारे मुँह खुले हुए थे जिसके कारण हम दोनों की जीभ आपस में टकरा रही थीं.

साड़ी वाली बीएफ मूवी

हम दोनों अभी भी फ़ोन पर बाते करते रहते हैं लेकिन अजय के साथ वो चुदाई का अनुभव मेरा स्वर्णिम अनुभव था. उस शॉप का मालिक तो मैं ही हूँ लेकिन शॉप में मेरे साथ ही एक औरत भी काम करती है. उसने मेरे होंठों पर अपने बहुत बड़े और बहुत गरम होंठों को रख दिया था.

दादाजी ने उसकी कमर को जोर से पकड़ कर उसके दाने को मींजना चालू कर दिया. मैंने उसको चूसकर ठंडा कर दिया और दुकान खराब न हो इसलिए उस दिन मुझे पानी पीना पड़ा. सेसी बीपीथोड़ी देर में एक और बंदा इस रूम में आया और मेरी गांड के छेद को सहलाने लगा.

मैं कन्धे और घुटनों पर हो गया तो वो जोर से हंसी और बोली- ये मेरी पोजीशन है … मुझे आती है, तुम आदमी की तरह लेट जाओ.

फिर दोनों लगभग साथ ही झड़ गए और अनिल ने अपना सारा पानी मीनाक्षी के गांड और उसकी पीठ पर छोड़ दिया. मैं- क्या बात है … आज रात में याद किया?भाभी- क्यों … क्या मैं आपको याद नहीं कर सकती?मैं- कर सकती हो भाभी जी, लेकिन अचानक याद किया, तो कुछ खास बात होगा तभी ना!भाभी- नहीं वैसे कुछ नहीं है, बस आपकी याद आ रही थी, तो मैंने सोच कॉल कर लेती हूँ.

ये सब मैं रवि से नहीं बताना चाहता था कि मेरी बहन उसकी बहन से भी बड़ी चुदक्कड़ है और वो पैसे के लिए चुदती है. मैं बाइक के पीछे बैठा था, जैसे ही निकले … मैंने पीछे मुड़कर देखा तो वो अन्दर जा चुकी थी. करीब पन्द्रह मिनट तक मेरी गांड चोदने के बाद गांड से लंड निकालकर उन्होंने मेरी कुलबुलाती चुत में घुसेड़ दिया.

मैं प्रिया के बारे में सोच ही रहा था कि तभी नेहा ने अपनी चुत को मेरे पूरे चेहरे पर जोरों से दबाकर रगड़ दिया.

तभी मनीषा के फोन पे मामा जी का कॉल आया और वो बोले- इतनी देर कहाँ लगा दी?तो उसने कहा- पापा, हम थोड़े ट्रैफिक में फंस गए थे आते समय, हम अभी आ रहे हैं 20 मिनट में!और फोन काटकर मनीषा ने मुझे किस किया और कहा- अब हमें चलना चाहिए. मेरी चूत बहुत गीली थी, उसका जो रस निकला था मैक ने उसे जीभ से चाट लिया. अभी तो तुम जितना मेरी चुचियों को रगड़, मसल सकते हो उतना रगड़ो और मसलो.

इंडियन सेक्स व्हिडिओ बीपीशाम को हम मुंबई घूमने गए, पब में भी गए, मुंबई की नाईट लाइफ के बारे में काफी सुना था, आज देख भी लिया. फिर वे दोनों अपने एक एक हाथ से मेरे लंड को पकड़ कर आगे पीछे करने लगीं.

बीएफ फिल्म सेक्सी फुल मूवी

रूपा अपने एक निप्पल पर मेरे होंठों को महसूस करके और गरम हो गयी और उसके मुँह से कामुकता से भरपूर सिसकारियां निकलने लगीं- उम्ह्ह ह्ह मालिक ओह धीरे चुसोओ. वो मेरे कान में बोला- वन्द्या, तेरे दूध तो बहुत कड़क हैं … पर थोड़े छोटे हैं. अब आपकी मीता को लंड का खून लग चुका था क्योंकि 5 मिनट तक नकली मोटा लंड मेरी चूत में भी रह कर गया था, इसलिए चूत की खुजली बहुत बढ़ गई थी.

में आपको कॉल करूँगी, तो आप आ जाना, फिर रात में हम लोग सुहागरात मनाएंगे. तभी उन्होंने कहा कि आपकी कोई गर्लफ्रेंड है क्या?उनकी एकदम से इस तरह की बात करने लग जाने से मैं चौंक गया कि मैम ये क्या कह रही हैं. आपने मेरी पिछली कहानियां पढ़ीं और सराहा उसके लिए आपका दिल से धन्यवाद.

मेरा लंड फिर से उसकी चुत फाड़ने को तैयार था और दुबारा चुदाई का वो दौर चला. मेरी चीखें इतनी तेज थीं कि अगर कोई भी खिड़की या दरवाजा जरा सा भी खुला हुआ होता तो बाहर से लोग अन्दर आ गए होते कि पता नहीं इस घर में क्या हुआ है. पहले दोनों यहाँ आती थीं, तो चुदवाने के लिए कितना फड़फड़ाती थीं, कभी कभी तो हमारे ब्वॉयफ्रेंड से ही चुदवा लेती थीं.

घर आते आते कुछ देर हो गयी थी और वो भी नशे में था, सो मैंने मदन से कहा कि आज रात तुम यहीं सो जाओ और अपने घर पर फोन करके बोल दो कि तुम आज अपने किसी दोस्त के घर में सो रहे हो. मैं तो पहले ही नंगा हो चुका था और मॉम को देखकर इतना उत्तेजित था कि जैसे ही नेहा आंटी ने मेरा लंड पकड़ा, मैंने तुरंत उनको भी नंगी कर दिया और सीधे उनके बूब्स चूसने लगा ‘उम्म उम्म उम्म ….

मैंने अपने मकान मालिक को मालिनी के बारे में कुछ नहीं बताया, मैंने सोचा जब मालिनी आ जाएगी तब बता दूंगा, वर्ना वो मकान किराए को लेकर ड्रामा करेंगे.

वे ये कह कर सोने चली गईं … क्योंकि कल रात की उनकी नींद बाकी थी और आज रात भी उन्हें मजे करने थे. जंगली चुदाईचूंकि मेरे मन में चोर था इसलिए मुझे यही लगा कि चाची को मेरे लंड की ठोकर लग गई. থ্রি এক্স মুভিअब पीछे से मेरी गांड खुल गई तो राज अंकल बोले- रवि भाई आप बुरा नहीं मानो तो मैं सोनू की गांड मार लूं. बस … मैंने धीरे से हाथ नीचे की तरफ सरका दिया … पैंटी में हाथ डाल कर उसकी चूत को सहलाने लगा.

ठाकुर अंकल ने मेरी चूत में हाथ लगाया और अपनी एक उंगली मेरी चूत में पेल दी.

अब अंकल मेरी चूत के पास के बालों सहलाने लगे और इधर एक हाथ जो पीछे से लाए थे, उससे समीज के ऊपर से ही मेरे मम्मों को धीरे धीरे दबाने लगे. ना ही हम इतनी दूर ट्रेन से जा सकते थे और ना ही बस से बैठ कर ट्रैवल कर सकते थे. वैसे तो मेरे कई लड़कियों के साथ रिलेशन्स रहे हैं लेकिन इस कहानी से पहले तक मैंने कभी किसी के साथ सेक्स नहीं किया था.

उनकी‌ दोनों जांघें जोरों से मुझ पर कस गईं और ‘आह्ह् … ईश्श आह्ह् … ईश्श … आआह्ह् … ईश्श … आआआह्ह …’ की आवाजें निकालते हुए वो अपनी चुत से गाढ़े गाढ़े सफेद रस को मेरे लंड पर उगलने लगीं, जोकि मेरे लंड के‌ सहारे बहते मेरे‌ कूल्हों तक‌ पहुंचने लगा. मैं चुपचाप उसके फ्लैट पे पहुंच गया, तो सुरभि भी कॉलेज जाने के लिए तैयार थी. मुझे आज ये बात समझ आ गई थी कि जब औरतों को लंड नहीं मिलता है, तो वे किसी से भी चुदवाने लगती हैं.

घोड़ा जानवर की बीएफ

उन्होंने मेरे बारे में पूछा तो मैंने कहा कि मेरे पति पुलिस ऑफिसर हैं. मनभरण अंकल बोले- मैं डाल दूं तेरी गांड में अपना लंड और चोद दूं?मैं बोली- पूछो नहीं अंकल अब सीधे डाल दो. मैंने सोनू से कहा- यदि फ्रेंडशिप करनी हो तो कल शाम को अपनी मम्मी से पूछ कर पढ़ाई के बहाने ऊपर मेरे कमरे में आ जाना.

मैं चाहता था कि जल्दी ही उसकी मां की चूत भी मुझे चोदने का मौका मिल जाए.

उसने मुझे बैठने का इशारा किया, तो मैं कन्फर्म हो गया था और उसने अपने आपको थोड़ा उठाया और मेरा लंड बाहर निकाल कर लंड पर बैठ गई.

उसकी मुनिया की अन्दर की गर्मी को महसूस करके मैंने भी अब अपनी पूरी उंगली को उसकी मुनिया में उतार दिया. दोनों हाथों से उसके निप्पलों को मसल मसल कर उसकी चुचियों को दबा रहा था. बीपी चुदाई सेक्सीपूजा चिल्ला रही थी- सालो … मेरी चूत फाड़ दी मादरचोद!उसकी चूत दो लंड के हिसाब से बहुत टाईट थी.

वो रात रात भर मुझे दिखने लगी और मेरा मन अब उसे चोदने के लिए बेकरार होने लगा. तभी अमित ने मुझे सीट पर लेटा कर मेरी पैंटी निकाल दी और चूत को अपने जीभ से चाटने और छेड़ने लगा।मेरे मुंह कामुक सिसकारियाँ निकलने लगी थीं- आह … अमित … उम्म … और चूसो … उम्म … बेबी अह्ह …मैं अपने चरम पर थी. नेहा आंटी झट से वहीं नीचे जमीन में बैठ कर मेरा लंड चूसने लगीं और मैं उनके बूब्स मसलने लगा.

फोटो देखी तो लंड हिनहिनाने लगा, कसम से क्या बताऊं यार आपको … एकदम गोरी चिट्टी हीरोइन जैसा फेसकट और आकर्षक शरीर की मालकिन थी. मैं समझ गया कि बेटा मुदित तेरा काम तो हो गया, तू अपना बोरिया बिस्तर समेट ले और यहां से निकल ले.

अनिल फुल मस्ती में हो कर मीनाक्षी को खूब गालियां दे रहा था- हाय मेरी कुतिया … मेरी रांड … खा जा रे मेरा लौड़ा … मजा आ रहा रे रंडी वेश्या!वो ऐसा बोलता जा रहा था.

थोड़ी देर तक चूत चाटने के बाद मैंने अपना लंड हिलाया और उसकी चूत की दरार में रख कर अन्दर डालने लगा. वो छटपटाने लगी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’कुछ 3-4 मिनट बाद उसकी चूत ने हल्का सा पानी छोड़ा. 30 बजे मैं उठा, ऊपर बर्थ पर ही मेरा टिफिन खोला और खाना खाकर फिर सो गया.

ब्लू हॉट फिल्म मैं- लो भाभी जी, हमने क्या किया?सुशीला- देखो मुनीम जी, तुम जो हमारे साथ कर रहे हो, वो ठीक नहीं है।वो गुस्से से चिल्लाई. मैंने सुन रखा था कि राजवाड़े के सामने बने उद्यान में गे एक्टिविटी चलती रहती है.

उसने पानी बाल्टी में डाला, तो उस वक्त उसकी साड़ी का पल्लू थोड़ा खिसका और उसके मम्मे दिखाई दिए. स्टेशन से बाहर निकलकर हमने एक टैक्सी ली और एक होटल में जाकर रूम बुक करवा लिया. अजय देखने में भी काफी स्मार्ट था और उसका लंड भी जबरदस्त साइज़ का था.

बीएफ बीएफ एचडी बीएफ बीएफ एचडी

योजना कुछ ऐसे बनी कि पहले सब यहाँ से ट्रेन से पुणे तक जाएँगे, फिर वहाँ से बस करके महाबलेश्वर और बाकी जगह घूमेंगे जिसके लिए टिकेट्स और बस का अरेंजमेंट मुझे और मेरे दोस्त को मिलकर करना था. अगर आप में से कोई पाठक मेरे साथ बातें करना चाहता है तो मुझे इस मेल आईडी पर मेल कर सकता है. वास्तव में प्रशांत के गदहलंड की धक्कमपेल से बेचारी नीना की चूत का भुर्ता बन गया था.

नाश्ते के समय बड़े चाचा ने पूछा कि लाइट किसने बंद की थी?तो छोटी चाची ने तुरंत कहा कि वो मुझे अजीब सा लग रहा था. इसके बाद मेरे बेटे ने मुझे कैसे चोदा और नेहा के साथ हम चारों ने कैसे ग्रुप सेक्स का मजा लिया ये आपको अगली बार लिखूंगी.

मैंने भी नुपूर को अपने ओर करीब पास खींच लिया और उसके रसीले नर्म होंठों को चूमने लगा.

मैंने अपना लंड उसके मुँह से निकाल लिया और उसे बेड के किनारे पे सीधा लिटा दिया. मुझे आधा सा लिटा कर वे मेरी नाभि को चूमने लगे और अपने हाथ से मेरे दूधों को भी दबाते जा रहे थे. इसके बाद तो हमारी रोज़ घंटों फ़ोन पर बातें होने लगी और मुझे भी उससे बातें करना बहुत अच्छा लगता था.

”अरे मेरी रसगुल्ला … आज का प्रोग्राम अभी लम्बा चलेगा मेरी जान … इतने साल बाद कोई सील पैक माल मिली है … तुझे तो सारी रात चोदूँगा आज. मेरी हां सुन सुखबीर पूरी तरह से व्याकुल हो गया, पर इधर पति दोबारा कब जाएंगे, अभी उसका भी कोई ठिकाना नहीं था. अनुप्रिया नीचे थी और मैं अनुप्रिया के ऊपर थी कि तभी जोर कमर उछालते हुये अनुप्रिया मेरे मुँह में फच्च से झड़ गई.

कहीं ना कहीं मैं ये भी जानती थी कि जितना मज़ा मुझे मिल रहा है, उससे कहीं ज्यादा मज़ा मुझे नेहा को देना पड़ेगा.

बीएफ मूवी बीएफ मूवी बीएफ मूवी: मेरे पति ने मुझे एक दो बार अपने बॉयफ्रेंड्स से बात करते हुए देख लिया था, इसलिए हम दोनों लोग के बीच झगड़ा होने लगा था. दूसरे दिन मैं मुंबई एकता के घर पहुंचा तो देखा कि उसका घर काफी आलीशान था.

प्रिया ने ब्रा नहीं पहनी हुई थी इसलिये टी-शर्ट के ऊपर से ही मुझे उसकी ठोस चूचियों का अहसास बहुत ही अच्छे से हो रहा था. फिर उसकी सलवार को खोल दिया और पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को किस करने लगा. नेहा और मैं अब अपनी पूरी तन्मयता से एक दूसरे के अंगों को चूम चाट रहे थे.

मैं अपने सेक्स की दुनिया के पल याद करते हुए अपना लौड़ा ऊपर से सहला रहा था कि अचानक बस रुक गयी.

वैसे ही मुझे भी मालूम है कि तेरा लंड कैसे खड़ा करना है और इसका रस कैसे निकालना है. जब उसकी बहन की आंख से आँसू निकलने लगे, तब मैंने उसकी चुत से लंड बाहर निकाला. मन किया अभी जाकर बांहों में भरकर किस कर लूं लेकिन अपने जज्बातों को अपने अन्दर दफ़न करके मैं उसे आते हुए देखता रहा.