हिंदी में फुल सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,2021 का बीएफ चाहिए

तस्वीर का शीर्षक ,

बेटा ने मां को चोदा: हिंदी में फुल सेक्सी बीएफ, धीरे धीरे मुझे भी मजा आने लगा तो मैंने कहा- सलीम जोर जोर से मेरी गांड मारो!और मैं मजे में आकर ‘आह आहह हह’ करने लगी.

बॉलीवुड हिंदी बीएफ

बहुत मस्त मजा आ रहा है बहुत अच्छा लग रहा है।अभय बोला- बंध्या, तू गजब की लड़की है. भारतीय बीएफ दिखाइएघटना जो मेरे साथ हुई उसको मैंने अपने पाठकों को रीयल हिंदी सेक्स स्टोरी के रूप में बताने का सोचा.

मुझे भी बॉयफ्रेंड बनाने के कोई जरुरत नहीं थी कि क्योंकि अब तो मुझे घर में लंड मिल रहा था. सेक्सी से सेक्सी बीएफवो भी अपने दोनों हाथों से मेरी पीठ को सहलाने लगी।मैंने कसकर उसे अपने सीने से लगा लिया।अब मैंने लंड पर थोड़ा दबाब देना शुरू किया.

बॉस ने आंखें खोल कर देखा, विनय नीचे बैठ कर मेरी गांड को मन लगा कर चाट रहा था.हिंदी में फुल सेक्सी बीएफ: लंड के अन्दर जाते ही वो हल्की हल्की आवाजों में चीखने चिल्लाने लगी- आ आआ आ आहहह … राज भर दो मुझे … मिटा दो मेरी प्यास … बरसों तड़पी है ये मेरी चुत … शांत कर दो इसे!वो उचकती रही और मेरे लंड को अपनी चुत में लेती रही.

मैंने उसकी गांड में थूक दिया और अपनी उंगली घुसा कर चलाई, जिससे उसे थोड़ा दर्द हुआ.”जॉली ने रिया के गले लगते ही उसकी पीठ पर बांहें लपेट कर उसे अपने से कस कर गले से लगा लिया.

बीएफ पिक्चर फुल एचडी सेक्सी - हिंदी में फुल सेक्सी बीएफ

साकेत भैया ने दीदी का हाथ फिर से पकड़ा और अपने लंड पर रख दिया, पर दीदी ने फिर से हाथ हटा लिया.इस तरह से जब तक मैं कानपुर में रहूंगा, मैं उन्हें मौका देख कर बार बार चोदूंगा और उनके मुँह से चुदासी औरत के मुँह से निकलने वाली कामुक आवाजें कुछ इस तरह की होंगी- आह … ह ह … उह.

मैंने चाची को भाभी के लंड देखने वाली बात बताई और कहा- वो जाते जाते मुस्कुरा कर गई थीं. हिंदी में फुल सेक्सी बीएफ फिर मैंने कुछ देर चाची के चुचे दबाये और थोड़ी देर लंड चुसवा क़र चाची को खड़े होने का इशारा किया.

लाइन तो बहुत लड़कियों ने मारी थी मुझ पर लेकिन एक हॉट लड़की खुद ही चुदने के लिए बेताब थी आज.

हिंदी में फुल सेक्सी बीएफ?

” नीलम ने चिंता जताते हुए कहा।बेटी तुम हो ही इतनी सुंदर कि तुम्हें देखकर कोई भी कण्ट्रोल खो बैठेगा. सामने संजय का लौड़ा तो फनफनाते ही जा रहा था और दूसरी तरफ संदीप का लंड पैंट में ही फुंफकारने लगा था. भाभी साइड में खड़ी होकर हम दोनों को चूमा-चाटी करते हुए देख रही थीं और अपनी सलवार के ऊपर से ही अपनी चूत को मसल रही थीं.

इसके बाद मैं मेम की गांड में उंगली करने लगा और उन्हें किस करने लगा. उसके बाद वो खड़े हो गये और खड़े-खड़े ही मेरी चूत में लंड को घुसाने की कोशिश करने लगे. मैंने भाभी को किस किया और कहा कि चिंता मत करो … मेरे रहने तक आपको कुछ नहीं होगा.

मैं उसकी कमर पर हाथ रखे हुए नाच रहा था, कभी कभी मैं उसके चूतड़ों पर भी हाथ घुमाता जा रहा था. जब मैं नहा कर बाहर आया, तब मैंने देखा चाची मेरी किताबों के पन्ने पलट रही थीं. फिर जब मेरा दर्द कम होने लगा तो उसने मेरी गांड में अपने लंड को हिलाना शुरू किया.

पर मैं कैसे बोलूं कि बहुत अच्छा लग रहा है मुझे।पर अचानक मेरा शरीर अकड़ने लगा और उन्होंने मुँह हटा कर कस के चूत का मुँह अपने हाथ से दबाकर बन्द कर दिया और अपने होंठों से मेरे होंठ बन्द कर दिए।अपनी ही चूत की खुशबू मुझे मदहोश कर रही थी। होंठ से होंठ लगे हुए थे, हमारी सांसें लड़ रही थी।और अचानक उनका लन्ड मेरी चूत के होंठ चूमने लगा। वो मेरे होंठ छोड़ ही नहीं रहे थे. उसने मुझसे ये उम्मीद नहीं की थी, लेकिन हां मेरे हाथ रखने पर उसकी सांसें तेज हो गयी थीं.

फिर सुनील ने अपना हाथ उसके मम्मों की ओर बढ़ाना चाहा तो दीपा ने हाथ पकड़ लिया पर पेट से हटाया नहीं.

मुझे समझते देर नहीं लगी कि जो भाव मेरे मन में उठे थे वही भाव अपनी साली को देख कर मेरे पति के मन में भी उठ रहे हैं.

मेरे अंदर आशीष को पाने के लिए ऐसा जुनून था कि मैं उसके लिए कुछ भी करने के लिए तैयार थी. मैं ज्यादा कुछ बात नहीं कर पाई मामी से … बस जल्दी जल्दी खाना खाकर कमरे में चली आयी. जब मुझे लगा कि अब चाची नार्मल हो गयी हैं, तो मैंने उनकी गांड को पकड़ कर हल्के हल्के झटके देना शुरू कर दिया.

आगे परिवार में सेक्स की स्टोरी में पढ़ें:ओह्ह्ह्ह … अब समझा बेटी मेरा लंड बहुत लम्बा और मोटा है इसीलिए पहली बार लेने में तुम्हें तकलीफ हो रही होगी मगर जैसे ही तुम अगली बार मेरा यह लंड अपनी चूत में ले लोगी तुम्हारा दर्द ख़त्म हो जाएगा क्योंकि फिर तुम्हारी चूत में यह अपनी जगह बना लेगा. शबनम बोली- मुझे लग रहा है कि सीमा और राजीव अंडरगारमेंट्स पहन कर आये हैं. लगभग 5 मिनट तक रीमा के मुँह को चोदने के बाद राहुल के लंड का पूरा वीर्य रीमा के मुँह में गिर गया.

लंड के अन्दर घुसते ही मैंने भी आव देखा न ताव … तुरंत राजधानी एक्सप्रेस की गति को पकड़ लिया.

मुझे उस पर रहम तो आ रहा था लेकिन अगर मैं लंड को बाहर निकाल देता तो फिर दोबारा डालने में बहुत मुश्किल हो जाती. जब वन्दना हमारे बारे में सब जानती है और तुम्हें भी पता है कि मैं अभी कुछ देर पहले वन्दना को चोद चुका हूं. मैंने ऐसे ही उसके पीछे से अपने दोनों हाथ आगे डाल कर उसके दोनों रसीले आम पकड़ लिए और अपने लंड को पीछे से ही उसकी चुत में चिपका दिया.

मैंने अपने लंड के पानी से उसकी चुत भर दी और हांफते हुए उसके ऊपर ही ढेर हो गया. मैंने उसे पीछे बिठा लिया और चलने लगा। कई बार बीच में ठोकर आने की वजह से वो उछल कर मेरे पास ही सरक आई थी. पापा पूछने लगे कि तुम दोनों दरवाजा बंद करके क्या कर रहे थे तो भाई ने बहाना बना दिया कि दरवाजा बंद नहीं था बल्कि अटक गया था.

जब तुम अपने भाई के साथ सब कुछ कर चुकी हो तो अपने इस पिता पर भी थोड़ी दया कर दो.

5 इंच की हाईट और 32-28-32 के टाईट फिगर के ऊपर झोले जैसा ढीला-ढाला गुलाबी रंग का कुरता और ढीली पजामी पहन कर कॉलेज गई थी. इतिहास जानने से अच्छा तो यही था कि रिया के मादक जिस्म का भूगोल जाना जाए.

हिंदी में फुल सेक्सी बीएफ ”रात को फोन स्विच ऑफ क्यों कर दिया था?”वो सर … बैटरी लो थी तो अपने आप हो गया था. गुड्डी कुछ न बोली और जैसा मैंने कहा था वो बिस्तर पर एक साइड को सरक गयी.

हिंदी में फुल सेक्सी बीएफ उसने अपने थूक से मेरा पूरा लन्ड गीला कर दिया जिससे उसके थूक की तारें बनने लगी. करीब पांच मिनट की चुदाई के बाद मेरी बीवी बोली- मेरा फिर से होने वाला है.

मेरी चुदाई की कहानी के पिछले भाग में आपने अभी तक पढ़ा था कि कुछ हालत और कुछ शरीर की जरूरतों के वजह से मैं और जेठजी रसोई में ही चुदाई का मज़ा लेने लगे थे और जेठजी मुझे कई आसनों में चोदने के बाद अब अपनी गोद में उठा कर चोद रहे थे.

एचडी सेक्सी बीएफ वीडियो सेक्सी

मैं अपने एक हाथ से बीवी की गांड दबाते हुए दूसरा हाथ ऊपर मम्मों की तरफ ले गया. मैं तेरे भाई को सारी बात अभी सच-सच बता दूंगा कि तू किस-किस से अपनी चूत चुदवाने वाली है. पर ये तय था कि अगर मर्दों को लड़कियों ने उकसाया तो कसर कोई छूटेगी नहीं.

अब तो स्थिति ये हो गई थी कि जब तक हम दोनों एक दूसरे को टच नहीं कर लेते थे, जी ही नहीं भरता था. अपने बैग से मैंने वैसलीन निकाली और ढेर सारी क्रीम उसकी गांड और कूल्हों पर लगा दी. फिर भाभी जी ने कहा कि जो औरत सामने गेट पर खड़ी है मैं उसे भी अपने साथ ही लेता चलूं और उसे रास्ते में छोड़ दूं तो मैंने उनकी बात मान ली.

हमने कुछ देर रेस्ट किया और फिर से यशिमा का हाथ मेरे लंड से खेलने लगा.

मैं बोली- क्यों नहीं, अगर आपको अच्छा लगता है तो मुझे कोई प्रोब्लम नहीं!बॉस खुश हो गए और मेरे होंठों पे एक चुम्मा किया और कहा- तुम कितनी अच्छी हो यार!सब लोगों को बॉस ने वहीं रोका और सबके लिए एक एक गिलास वाइन और बनाई और अब इस बार बॉस सोनम के पास चले गए, अपने हाथ से उसको वाइन पिलाने लगे और उनका दोस्त मेरे पास आ गया और मुझे वाइन पिलाने लगा. बाद में जब मैं उसकी जिंदगी में आयी और मयूर को भी उसकी माशूका की तरह टाइम देने लगी. मैं टैग को निकालते हुए बोला- ओ माय गॉड इसे उतारने में कैसे भूल गया!सोनिया- इसीलिए तो मैं तुम्हें चम्पू बुलाती हूं.

लेकिन 15-20 मिनट बाद इनके बॉस फिर से तैयार हो गए।मैंने उनसे कुछ देर रुकने के लिए कहा लेकिन वे नहीं माने, मुझे उल्टा लेटा कर मेरी चूत में अपना लंड डाल दिया और मुझे चोदने लगे. मैं- तुम जैसी खूबसूरत लड़की को छोड़ कर वो चूतिया दूसरी के साथ ऐसा कैसे कर सकता था. फिर मेरे हस्बैंड हम सबके लिए कुछ ठंडा लेकर आए और हमने फिर आराम किया.

फिर मैंने भी अपना परिचय दे दिया। इससे ज्यादा उससे कोई बात नहीं हुई और फिर उसका स्कूलआ गया और वो उतर कर जाने लगी. मैं चाची के चूचों को पीने और काटने में लग गया, जिससे चाची गर्म होना शुरू हो गईं.

मैंने पूजा को गोद में उठाया और बेडरूम में लाकर बिस्तर में पटक दिया अब मैंने उसका लोवर निकाल उसकी चूत में चाटना शुरू कर दिया. धीरे धीरे उसने अपना पूरा लंड नीता की चूत में अंदर डाल दिया और चुदाई करने लगा. दो मिनट तक मुठ मरवाने के बाद उन्होंने मेरी पैंटी को खींच कर अलग कर दिया और फिर मेरे ऊपर टूट पड़े.

दोस्तो, उनके उन रसीले बोबों का प्रथम बार मसलने का आनन्द आज भी महसूस कर पा रहा हूँ.

आशीष ने पूछा- क्यों, ऐसा कैसे हुआ?मैं बोली- किस्मत से उसी वक्त मवेशियों को चारा डालने के लिए चरवाहा वहां पर आ गया था. बिन पानी की तरफ हॉट भाभी तड़पने लगीं ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’उनके मुँह से गालियों का अम्बार लग गया- आह बहन के लौड़े मैं कोई रंडी हूँ … जो इस तरह लौड़ा पेल दिया … धीरे चोद मादरचोद. उसके बाद नेहा ने मेरी टीशर्ट उतारनी शुरू कर दी और मेरी छाती को चूमने लगी.

आप सभी के द्वारा अपने लंड हिलाने और चुत सहलाने के बाद मिलने वाले सुकून से आपकी दुआओं के जरिए मुझ तक आपका प्यार पहुंच जाएगा. तुमने मुझे उस सुहागदिन में बहुत चोदा और मैंने भी अपनी चूत जमकर चुदवाई थी.

आह्ह्ह … चाटो मेरे राजा … बहुत तड़पाया है तुमने … आज खा जाओ मेरी चूत … बना लो मुझे अपनी रानी …” मैं मस्ती के मारे बड़बड़ाने लगी थी. फिर ऐसे ही मैंने लंड फंसाए फंसाए ही उसे अपने ऊपर गिरा लिया और उसकी बगलों को चूमने चाटने लगा. नीरू तुम भी एक ही सांस में खींच जाओ पेग!यह बोल कर मैं बिल्कुल नंगा हो गया.

बीपी सेक्सी बीएफ

रोहन- लेकिन अगर तुम बिजी हो, तो शाम को पार्क में कैसे आ पाओगी?सोनिया- अरे तुम उसकी फ़िक्र मत करो … मैं मैनेज कर लूंगी.

उसके गीले बदन के साथ लगते ही मेरा लंड एकदम से खड़ा होना शुरू हो गया. करीब दस मिनट बाद संजना के आने की आवाज सुनकर मैं फिर से खड़ा होकर अन्दर झांकने लगा. आशीष ने पूछा- क्यों, ऐसा कैसे हुआ?मैं बोली- किस्मत से उसी वक्त मवेशियों को चारा डालने के लिए चरवाहा वहां पर आ गया था.

उस वक्त टीवी में सेक्स जैसी कुछ आवाज हो रही थी तो आशीष ने सोचा कि मैं अपने जीजा से चुदवा रही हूं. जब मैं उनके कपड़ों के पास पहुंचा तो वापस आते हुए भाभी ने मुझे देख लिया. सेक्सी वीडियो बीएफ एडल्टफिर सुनील ने अपना हाथ उसके मम्मों की ओर बढ़ाना चाहा तो दीपा ने हाथ पकड़ लिया पर पेट से हटाया नहीं.

उसके बाद मैं उसके गालों पर, गर्दन पर और उसके चेहरे को हर जगह चूमने और चाटने लगा. कहानी के प्रथम भाग में आपने पढ़ा था कि मुझे अपने साढ़ू के इलाज के लिए अमेरिका में अपनी साली के साथ जाना पड़ा.

कुछ देर बातें होने पर मैंने भी उनको अपने बारे में बता दिया कि मैं भी शादीशुदा हूं. उसकी चूत टाइट थी, परन्तु गीली थी, अन्दर डालने में ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ी. उस वक्त किसी के फोन में जरा सा भी पोर्न देख लेते थे, तब तो पूछो ही मत कि चूत का हाल क्या होता था.

जब भी मैं छुट्टियों में अपने गांव जाता था तो मेरी बुआ मेरे सामने अपनी साड़ी को जांघों तक उठा कर बैठ जाती थी. जेठजी से नज़र मिलते ही मुझे शर्म आ गयी और मैंने अपनी नजरें नीचे कर लीं. मैंने कहा- चाची प्लीज अब ये शर्म को छोड़ कर मजा करो, क्यों अपने आप पर और मुझे पर इतना जुल्म कर रही हो.

मैं बस इंतजार कर रही थी उनका लंड अपनी चूत में लेने का।बॉस ने मुझे ऐसे ही किस करते करते मेरी चूत में लंड डाल ही दिया.

” ज्योति को आज तक ये बात समझ नहीं आई थी कि मर्द लोगों को औरत की गांड चाटने में क्या मज़ा आता है. ” (काम की देवी)ये सब तो उसने नशे में कहा … लेकिन नशे में अकसर लोग मन की बातें कह जाते हैं.

चुत चुदायी भी एक ऐसा नशा होता है … जो लंड के स्खलन के बाद ही उतरता है. वह भी पता नहीं क्यों? हालांकि मुझे जब भी जिसने चोदा यही बोला कि बंध्या तेरी चूत बहुत टाइट है. उसने मेरी चूत पर हाथ फेरते हुए कहा- अरे नहीं जान … मेरे लिए तो तेरी यही काफी है.

मैंने उसको बोल दिया- अगर उसको मेरा लंड लेना है तो उसको मेरे पास आना पड़ेगा. रिया ने अगले कुछ पल अपनी जुबान सिर्फ जॉली के टोपे पर फिराने में इस्तेमाल किये. चाची ने मेरी ओर देखा और मुझे आंख मारते हुए कहा- अब दर्द कैसा है?मैं दांत निकालते हुए हंस दिया.

हिंदी में फुल सेक्सी बीएफ मैंने उसकी जांघों पर हाथ फेरते हुए उसकी स्कर्ट उतार दी और उसके चूतड़ों को चूसने और चाटने लगा. मैं- ठीक है भैया …ये कह कर मैंने भाबी के पैरों को फैलाया और उनकी बुर की फांकों में अपना मुँह लगा कर लपर-लपर चाटने लगा.

बीएफ सेक्सी वीडियो सेक्सी बीएफ वीडियो

एकदम से लंड घुसने से वो चिल्लाने लगी- आहह मांम्मह … मर गई निकालो … दर्द हो रहा है. मेरे चेहरे को अभय अपने हाथ से पकड़ कर मेरे मुंह में अपना मुंह रख कर मेरे होंठों को चाटने लगा. मैंने कभी सपने में भी नहीं सोच था कि पहली चूत इस तरह मिलेगी और इतनी स्पेशल होगी.

पढ़ाई का डर, रैगिंग का डर, अजनबी माहौल … इस सबको समझने में थोड़ा वक्त तो लगता ही है. कुछ देर तक सोचने के बाद मैंने रसोई के दरवाजे से झांक कर देखा, तो जेठजी हाल में नहीं दिखे. बीएफ सेक्सी जिम वालीइस बात से सब औरतें भी वाकिफ होती हैं इसलिए सब मेरी तरफ देख कर मुस्करा रही थीं.

मैंने अपनी जान के संतरे जैसे चूचे उसकी कमीज के ऊपर से ही मसलने शुरू कर दिये.

फिर मैं उठा और अपना लंड देखकर उनको दिखाते हुए बोला कि इसका क्या होगा?वो आंखों में रंडियों जैसी चमक लाते हुए बोलीं- ला इसे … मैं अभी इसे ढीला करती हूँ … पूरा सबक सिखा दूंगी. दोस्तो, आपका स्वागत है मेरी रीयल सेक्स कहानी के दूसरे भाग में।कहानी के पहले भागजवान लड़की की सेक्स कहानी-1में आपने पढ़ा कि किस तरह मैंने पूजा और सुखविन्दर की चुदाई का कार्यक्रम बना दिया.

इधर मैंने गांड के छेद का अहसास करते ही दबाव बना दिया, तो मेरा सुपारा बीवी की गांड के अन्दर प्रवेश कर गया. फिर उससे सहन नहीं हुआ तो बोली- अब मत तड़पाओ, डाल भी दो!तो मैंने अपना 6 इंची मोटा गोल टोपी वाला लंड एक ही झटके में नीता की चूत में अंदर डाल दिया, वो मस्ती से तड़पने चीखने लगी और वहशी तरीके से प्रिन्स का लंड और गोलियाँ चूसने चाटने लगी. इसलिए मैंने माहौल को हल्का बनाने के लिए जेठजी से बात करने का फैसला किया- क्या सोच रहे है भैया?मेरे सवाल के बाद जेठजी कुछ देर तक मेरे चेहरे को देखते रहे और फिर अपना सर नीचे कर लिया.

मैं तुम्हें नहीं बता सकता कि मैं कितना खुश हूं और मेरे लिए तुम्हारा ये मैसेज कितना कीमती है.

मौका देख कर सुनील ने भी दीपा के पैर अपनी गोदी से हटाये और खुद सरककर आगे हो गया और अब सीधे अपने हाथ दीपा कि नंगी जाँघों पर फिराते फिराते उसकी शॉर्ट्स के मुहाने तक पहुँच गया. चट्टानों के कारण वहां पर एकांत और आड़ से काफी अच्छा माहौल बन जाता है. श्वेता दीदी- तो कहां जा रही हो?तब दीदी धीरे से आवाज में बोली- मैं टॉयलेट जा रही हूं.

9 साल की लड़कियों की बीएफक्या रात भर करोगे?”तो क्या … आज रात न मैं सोऊँगा, न तुमको सोने दूँगा. अब उससे रहा नहीं गया तो उसने मेरी पैंट के ऊपर से ही लंड पकड़ लिया और मसलने लगी.

सेक्स ब्लू फिल्म सेक्स फिल्म

मैंने भी सुहास की फ्रेंची पकड़ कर नीचे खींच दी और उसे भी नंगा कर दिया. मैंने उसके होंठों को छूकर अपनी उंगलियां एक तरफ से दूसरी तरफ तक और फिर वापस उसी तरफ से आते उंगलियों को घुमाते हुए उसके होंठों को सहलाया. मैंने पूछा- कितने?उसने कहा कि आप अपना नंबर दो, मैं आपको फ़ोन करके बताऊँगी कि कितने साल हुए हैं.

मैं चाहती थी कि लंड चूसते-चूसते परमीत की गांड फट जाए और उसके लिए अनुभवी लंड जरूरी था. मैं सोच रहा था कि जब हम सब परिवार के सदस्य, सिर्फ दादा और दादी को छोड़ कर कानपुर जाएंगे … तो सबसे पहले मैं सभी से अच्छे से मिलूंगा और प्रणाम करूंगा. घर वालों के सोने के बाद मैं उसको मिसकॉल कर दिया करती थी और वो फिर मुझे कॉल किया करता था.

उस दिन अमृता को पता चला कि उसकी मौसी के पेट में वो जो बच्चा है वो किसका है. ऐसा नहीं था कि मेरे पास उनके अलावा कोई और महिला मित्र नहीं थी लेकिन कई बार कुछ ऐसा दिख जाता था कि मुठ मारनी ही पड़ती थी. मेरी चूत से काफी पानी निकल चुका था और मैं अब झड़ने के करीब पहुंच चुकी थी क्योंकि उसके लंड के धक्के चूत की गहराई तक जाकर मुझे चूत में मजा दे रहे थे.

जब मैंने उनकी इस तड़फ को और भी बढ़ाने का प्रयास किया, तो मोसी से सहन नहीं हुआ और वो मुझे पलटते हुए मेरे ऊपर चढ़ गईं. कुछ देर बाद वो मुझसे बोली कि ज़रा ऐसे हो जाओ, मुझे भी मूवी देखनी है.

प्रतिस्पर्धा की इस दौड़ का फायदा उठाकर उन दोनों ने एक ही बिस्तर पर अपनी बीवियों के स्तनों को चूसा और उनकी चूत में उंगली की.

करीब 20-25 जोरदार धक्कों के बाद एक लंबी आह के साथ ही जेठजी ने अपना सारा रस मेरी चूत में ही छोड़ दिया. पिक्चर सेक्सी बीएफ पिक्चर सेक्सीइधर मेरा ब्लाउज और ब्रा भी उतर चुकी थी और वो मेरे दोनों स्तनों पे टूट चुका था. छोटी लड़की का बीएफ सेक्सी वीडियोतू मुझसे पहले भी कहीं चुदवा चुकी है। अशीष ने बोला था कि आज मुझसे पहले तू लौड़ा अपनी चू़त में ले चुकी है. मैं ज्यादा कुछ बात नहीं कर पाई मामी से … बस जल्दी जल्दी खाना खाकर कमरे में चली आयी.

फिर मैंने भी एक झटके में उसे नीचे लिटाया और उसके ऊपर आकर उसे हर जगह किस करने लगी.

आंटी- साले तुम मर्द लोग तो अपना माल हमारे मुँह में छोड़ते हो और तुम हमारा माल नहीं लोगे. अमित- मैं कुछ करूँ अगर तुम बुरा न मानो तो?मैं स्खलन के अंतिम पड़ाव पर था तो न बोलने का सवाल ही नहीं था. तब मुझे लगा कि हाँ ये तो सिद्धू है जो छोटा सा लड़का था मेरे शादी के वक़्त में.

उसकी चूत की चुदाई होने के बाद उसको भी अहसास हो गया था कि उस दिन अगर वो मेरी बात मान लेती तो आज मेरे मोटे लंड से चुदकर अपनी चूत को खुश कर रही होती. मेरी लाल कलर के ब्रा में मेरे आधे से ज्यादा चूचे बाहर से ही झलक रहे थे. कमरे में घुप्प अँधेरा हो गया तो दीपा बोली- वाशरूम का दरवाजा हल्का सा खोल दो, थोड़ी रोशनी आ जाएगी.

बीएफ बांग्ला वीडियो

कुछ देर तक मैं धीरे-धीरे अपने लंड को उसकी गांड में ऐसे ही फंसाये हुए उसको किस करता रहा. अब चारों ब्रांडेड कपड़ों के शोरूम में घुस गयीं और चारों ने ही मिनी स्कर्ट और अलग अलग तरह के टॉप लिए. मेरे इस तरह चूत चाटने से वन्दना इतनी चुदासी हो गयी कि उसने मेरा सर पकड़ कर अपनी चूत पर दबा दिया और आहह आहह करने लगी.

मैंने उसको देखा तो उसने मुझे देखके स्माइल दी, मैंने भी हल्की सी स्माइल दे दी, क्योंकि वो काफी अच्छा लड़का लगा मुझे।उसकी उम्र लगभग 20 साल होगी।फिर उसने कुछ कहा … पर मुझे कुछ सुनाई नहीं दिया ट्रेन के शोर की वजह से।मैंने कहा- बोलो क्या कहा?फिर उसने कहा- इधर कैसे आज? अकेली? पहचाना नहीं मुझे?मैंने कहा- नहीं तो?वो बोला- मैं सिद्धार्थ हूँ, तुम्हारे पड़ोस में तो रहता हूँ.

कभी हल्के हल्के से जीभ फिरातीं और कभी कभी ज़ोर ज़ोर से लंड चूसने लगतीं.

तभी मैंने देखा कि संजय जीभ से अपने होंठों को ऐसे चाट रहा है, जैसे उसे उसका शिकार मिल गया हो. आशा मासी का फिगर मैं क्या बताऊँ आपको … सच में मेरी मासी बहुत ही मस्त माल हैं. विवाह बीएफखुले आसमान के नीचे जांटी (खेजड़ी के पेड़) के नीचे बालू मिट्टी में उन दोनों भाभियों की चूत मार कर मुझे मजा आ गया था.

पिंकी की चूत में जितनी बार वो गया होगा, उससे ज्यादा तरह तरह के डिलडो गए होंगे. अब चारों ब्रांडेड कपड़ों के शोरूम में घुस गयीं और चारों ने ही मिनी स्कर्ट और अलग अलग तरह के टॉप लिए. वो आह आह करने लगी और ‘अंदर तक अपनी जीभ डालो … जानू खा जाओ मेरी चूत के दाने को!’ ऐसा बोलने लगी.

फिर वो फव्वारे की तरह झड़ गईं और दीदी की चुत से ढेर सारा पानी निकल गया. सारे सीनियर पंद्रह दिन पहले से ही बहुत मेहनत से उत्सव की तैयारी कर रहे थे.

पर शमिता के दर्द को अनदेखा करके मैं रुका नहीं और अपना पूरा लंड चूत के अन्दर पेल कर धक्के पर धक्का देता रहा.

इससे पहले वो कुछ समझती, उनकी साड़ी और पेटीकोट पीछे से कमर तक आ गए।मामी ने अपने हाथ से मुझे रोकने की कोशिश की पर बुआ की नजर उन पर पड़ते ही वो संभल गयी और टीवी पर चल रही वीडियो की बातों में शामिल होने लगी।यह देख मैं और भी कॉन्फिडेंट हो गया।अब मैं थोड़ा पीछे हो गया तो मामी को थोड़ा सा सुकून मिला. उन्होंने भी देर ना करते हुए लंड को चूत में घुसा दिया और हचक कर चुत चोदने लगे. मैंने तकिया को हटा कर अपनी कमर के पीछे रख दिया और बोला- लो देखो … शर्म कहाँ पर दिख रही है?पूजा- हट बेशर्म!कहते हुए बाहर रसोई में चली गयी.

नई इंडियन बीएफ परी मैम ने गालियां निकालनी शुरू कर दीं- आआआ माँ मर गई … मादरचोद फाड़ डाली रे मेरी … साला कमीना …मैंने उनकी चिल्लपौं पर कोई ध्यान नहीं दिया और परी मैम को ताबड़तोड़ चोदता रहा. गांड से उसको अपनी ओर खींच कर लंड को उसकी चुत पर ओर जोर से रगड़ने लगा.

जब मैं उसके घर के बाहर पहुंचा, तो मैंने इधर उधर देखा और उनके घर के कंपाउंड में दाखिल हो गया. मैंने अपना नम्बर उसे देते हुए उसका नम्बर मांग लिया लेकिन उसने अपना नम्बर देने से मना कर दिया. मेरे हाथ उसके पैरों से चल कर उसकी जांघों से होते हुए उसकी पैंटी तक पहुंच रहे थे.

ब्लू फिल्म दिखाएं देसी

तुम्हारी चूचियां तो कमाल हैं जान … इतनी खूबसूरत … इतनी बड़ी बड़ी, इतनी सॉफ्ट … मुझे तो शब्द ही नहीं मिल रहे हैं कि मैं तुम्हारी उन चूचियों से मिले मजे को कैसे बताऊं. मैंने कहा- मैं विश्वास दिलाता हूं कि ये बात मैं किसी से नहीं कहूंगा. सोनिया- बहुत बदमाश हो तुम … न जाने क्या-क्या करवा रहे हो मुझसे … इतनी शर्म आ रही है मुझे.

आंटी हंस कर बोलीं- कोई बात नहीं … मुझे नेहा ने फ़ोन पर सब बता दिया था. फिर मैंने रीता की टांगों को खोल कर उसकी चूत पर जीभ को रख दिया तो उसने अपनी टांगें घुटने से मोड़ कर ऊपर कर ली और वो अपनी चूत को चाटने के लिए कहने लगी.

एक दिन मेरी गर्लफ्रेंड रूम पर नहीं थी तो उसकी एक सहेली मेरे रूम पर आई.

फिर जब क्लास खत्म हुई तो सबके जाने के बाद वो मेरे पास आई और मुझे थैंक्स बोलते हुए हग करने लगी. तो बोले- चलो किसी दिन पार्टी हो जाये फार्म हाउस में!मैं बोली- मतलब?अरे तुम दोनों को पार्टी दूँगा मैं और रात में तुम्हारी चुदाई भी!”मैं बोली- और सोनम?सोनम को भी कर लूंगा अगर वो तैयार हुई तो!”ओके सर … मैं सोनम से पूछ कर बताऊँगी. रूम में गया तो वहां की लाईट जल रही थी और मस्त हल्की हल्की महक आ रही थी, जो मेरा उत्साह बढ़ा रही थी.

मैंने तकिया को हटा कर अपनी कमर के पीछे रख दिया और बोला- लो देखो … शर्म कहाँ पर दिख रही है?पूजा- हट बेशर्म!कहते हुए बाहर रसोई में चली गयी. इससे पहले के भाग में आपने पढ़ा कि मेरे यार आशीष ने मेरे साथ फोन पर बात की तो मैंने उसे सारी बात बता दी. आप लोगों के ईमेल आने के बाद ही मैं अपनी अगली कहानी लिखना शुरू करूंगा.

मैंने कभी सपने में भी नहीं सोच था कि पहली चूत इस तरह मिलेगी और इतनी स्पेशल होगी.

हिंदी में फुल सेक्सी बीएफ: उन्होंने मेरी रस से तर हो चुकी चड्डी को भी बड़े स्वाद लेते हुए चाटा. आज जिस औरत के बारे में बताने जा रहा हूं वो उन सब में से बिल्कुल अगल है। मैंने उससे पहले किसी लड़की या औरत में वैसी बात नहीं देखी थी। मुझे 3 महीने हो चुके थे उस जगह फिर भी केवल इक्का दुक्का लोग ही मुझे पहचानते थे। मेरा ऑफिस करीब पांच किलोमीटर की दूरी पर था और इसी वजह से मैंने एक बाइक ले ली थी.

मेरी चूत की इतनी ठुकाई की, इतनी ठुकाई की कि अगले दिन सुबह उठी तो मेरे पांव नहीं उठ रहे थे. शबनम ने उस दिन से पहले अंकित के बारे में कुछ भी नहीं सोचा था, जिस दिन फुटबॉल खेलने के बाद वो उसके बेटे आतिफ से मिलने घर आया था. ऐसा नहीं था उसको अपने पति से प्यार नहीं था या वो उनसे नफरत करती थी.

उसने पूछा- अन्दर करने का रास्ता किधर है?मैंने उसकी उंगली को अपनी चूत पर रखा और कहा- ये है रास्ता … अब इसके आगे कुछ पूछा तो मैं तुम्हारा मर्डर कर दूंगी.

” (अपनी रंडी को चोदिए मेरे मालिक)उम्मम हम्मम्म यसस … आहहहह फ़क मी लाइक होर. बांए हाथों ने मम्मों को थाम लिया था और संजय के कारनामों की तरह ही निप्पल को उमेठने लगे थे. चार दिन के टूर में दो दिन तो हम कपल्स ट्रैवल कंपनी के मार्गदर्शन में ही घूमे लेकिन फिर बाकी के दो दिनों में हमें अपनी मर्जी से मन मुताबिक कहीं भी घूमने की आजादी थी.