बुड्ढों की सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी पिक्चर वीडियो ओपन सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ अंग्रेजी फिल्म: बुड्ढों की सेक्सी बीएफ, दीदी की पैंटी के ऊपर फूली हुई नाजुक सी गांड को देख कर, दीदी के खूबसूरत बदन में खो गया था.

शालीमार सवेरा गेम रिजल्ट

भैया बीच बीच में भाभी के मम्मों को पकड़कर ज़ोर से दबाकर मजा ले रहे थे. निरहुआ रिक्शावाला वीडियो मेंफिर मैंने सलईका की पैंटी के ऊपर से ही बुर में हाथ लगाया तो उसकी पैंटी बुर के पानी से गीली हो गई थी.

आंटी ने मुझसे पूछा- क्या हुआ बेटा?तो मैंने कहा- आंटी, मुझे आपकी चूत चाटना तो अच्छा लगता रहा है लेकिन चूत का पानी पीना अच्छा नहीं लगा. गुजराती सेक्सी वीडियो मेंलंड घुसते ही भाभी के मुँह से जोर की चीख निकली- आआंआह … हाय बेदर्दी ने मार डाला … आंह साले तू इंसान के भेष में क्या खच्चर है माँ के लवड़े … जो इतना बड़ा लंड लगा रखा है.

मैं- मामीजी, किसी इंसान से पूछे बिना हम कैसे पता चलेगा कि उसके मन में क्या हलचल हो रही है.बुड्ढों की सेक्सी बीएफ: तभी मुझे लगने लग गया कि शिवानी के मन में अब चुदने के लिए लड्डू फूट रहे हैं.

मैंने उससे कहा- क्या है बे … बच्चे को क्यों परेशान कर रहा है?मेरी चौड़ी छाती, गठीला बदन और हाईट देखकर वो सब वहीं ठिठक गए थे.वो कैसे पूरी हुई?नमस्कार दोस्तो, आज जो सेक्स कहानी मैं आप सबको सुनाने जा रहा हूँ, वो आज से चार साल पहले की है और ये मेरे जीवन की बिल्कुल सच्ची सेक्स कहानी है.

खुदा गवाह फुल मूवी - बुड्ढों की सेक्सी बीएफ

चुदाई के बाद हम दोनों ने कपड़े सही किए और एक दूसरे की बांहों में सो गए.अभी मुझे मालूम नहीं था कि इसकी चुत की ओपनिंग हो चुकी है या मैं करूंगा.

लेकिन मैं अपनी सेक्सी बीवी को किसी गैर मर्द के नीचे देखना चाहता था. बुड्ढों की सेक्सी बीएफ अब वो मस्ती से गांड उठाती हुई चुत में लंड ले रही थी- आह आह मजा गया बॉस … क्या मस्त लंड है तुम्हारा … आह और जोर से चोदो मेरे सरताज … आह.

अब आगे नोनवेज सेक्सी स्टोरी:सावी- अरे मेरी जान देखो ना … कैसे तन कर खड़ा है.

बुड्ढों की सेक्सी बीएफ?

पापा ने अंकल से हां बोल दी और मैं अगले दिन से सपना को साइकिल पर पीछे बैठा कर अपने साथ स्कूल ले जाने लगा. दोस्तो, शालिनी भाभी की मदमस्त जवानी को देख कर मेरा लंड चुदाई के लिए मचल उठा था. जिस स्लीपर बस में हम चढ़े, उसमें बैठने की एक ही सीट मिल सकी और जाना भी जरूरी था।अपनी सास को मैंने नींद की गोली दी, वो खाकर चादर ओढ़कर सो गई।मैं पास की सीट में गांड सटाकर खड़ी हो गई।मैंने पीठ से खुली गुलाबी कुर्ती पहनी हुई थी जिसमें लाल ब्रा से मेरी चूची बाहर निकलने को हो रही थी।नीचे लाल पैंटी और काली पजामी पहनी हुई थी.

उमैय्या अब भी कुछ नहीं बोली, तो मैंने सोचा कि ये तो पूरी गर्म हो गयी लगती है. मैंने हिम्मत करके मालूम किया कि फौजिया क्या तुम्हारा कोई बीएफ है!उसने मुस्कुराते हुए कहा कि अरे तुम भी जानते हो जीएफ बीएफ के बारे में?मैंने कहा- हां यार, मैं भी आखिर एक लड़का हूं. मैं युवाओं से यही कहना चाहता हूँ कि आजकल की खुली जिन्दगी में लगभग हर लड़की और लड़का शादी के पहले सेक्स कर लेता है.

ऐसे एक दूसरे के यौन अंगों से खेलते खेलते हम दोनों ही अपने अपने चरम की तरफ बढ़ रहे थे. पहले तो मेरा अपनी बहन के साथ कुछ करने का इरादा नहीं था, पर मैंने एक बार नींद में उसके चूचे दबा दिए थे और उसको एक बार मैंने मुठ मारते भी पकड़ लिया था. अब इसी पोज़ में मैं भाभी को 15 मिनट तक चोदता रहा और भाभी सिर्फ उम्म्ह ह्म्म्ह कर रही थी.

कुछ पतियों को स्त्री से संभोग में मज़ा ही नहीं आता, जिसके अनेक कारण हैं. वो हर समय गहरे गले वाला कुर्ता पहनती थी, जिससे उसके आधे मम्मे बाहर दिखते थे.

मैंने लंड बाहर निकाला तो चुत की सील टूटने की वजह से थोड़ा खून बाहर निकल आया.

तब मैंने उसकी गर्दन पर किस किया और एक छोटा सा लव बाइट भी कर दिया, जिससे वो और मचल उठी.

मैं- वो कैसे?उमैय्या- यार … देखो न तो मेरी गर्दन पर निशान है … और न ही तुम मुझसे कुछ पूछ रहे हो. बात उस टाइम की है, जब मेरी मम्मी घर गयी हुई थी, मेरी बड़ी बहन नीट की प्रिपरेशन कर रही थी और हम दो भाई और एक बहन कॉलेज में पढ़ रहे थे. कुछ देर के बाद मैंने अपना एक हाथ उसके पीछे ले जाकर उसकी मनमोहिनी गांड पर रख दिया और दबाने लगा.

मैंने एक निप्पल मुँह में भर लिया और अपनी तरफ खींचते हुए निप्पल को मींजा, तो वो सिहर गई. उसके सामने मुझसे भाभी का बात करने का कोई मकसद हल होने वाला नहीं था. फिर तुम अचानक अपने हाथ को अपनी पजामे में ले जाकर अपने लंड को पकड़कर ज़ोर से ऊपर नीचे करके हिलाने लगे.

मुझे उस वक्त चुदास चढ़ गई थी और मैं उसे इसी पोजीशन में चोदने की सोचने लगा.

मैंने चुत से लंड निकाल लिया और नफीसा आंटी की गांड में रगड़ना शुरू कर दिया. अब लाज शर्म को मैं अपने पैंट की जेब में रखते हुए भाभी को चुदाई की पोजीशन में लिटाने लगा. फिर मैंने आपको पहले भी कहा था कि मेरी भी कुछ जिस्मानी जरूरतें हैं, जिसे कोई औरत ही पूरी कर सकती है.

वो मेरी दोअर्थी बात का मर्म समझ गईं मगर तब भी वो बोलीं- तो चलो हाथ साफ़ करते हैं. मनीषा ने तकिया के नीचे से कंडोम निकाल कर मुझे दिखाया और बोली- रूको यार … ये कंडोम तो लगा लो, भूलो मत इसी कंडोम की वजह से आज तुम मेरे पास आए हो. भाभी की नजर मुझ पर पड़ी, उन्होंने मेरी नज़रों को देख लिया।फिर वह जल्दी से पलटी और झाड़ू रख कर भीतर चली गई.

धीरज- हां आंटी, आपको और आपकी बेटी को एक साथ चोदेंगे … रेट वही है न, जो उस दिन बताया था!मेरी अम्मी- नहीं रे … अभी काफी बढ़ गया है … समझ रहा है न!धीरज- ठीक है डार्लिंग! लेकिन तुम जींस टॉप पहनना और अपनी बेटी को स्कर्ट और मिडी पहनाना.

अंकल बाहर आकर बोले- क्या हुआ … लेना नहीं है क्या?मम्मी बोलीं- नहीं, आपका बहुत बड़ा है मेरी फट जाएगी … मैं नहीं कर पाऊंगी. मैं- तुम बताओ कैसी चल रही है तुम्हारी लाइफ़?उमैय्या आंख दबाती हुई- ठीक है, पर तुम्हारी जैसे मस्त नहीं है.

बुड्ढों की सेक्सी बीएफ मेरा दोस्त थका हुआ था और उसने काफी विह्स्की पी रखी थी तो वो एकदम सो गया था. मैंने धीरे धीरे अपने कदम उसकी तरफ बढ़ाना शुरू कर दिए और उससे दोस्ती करनी शुरू कर दी.

बुड्ढों की सेक्सी बीएफ उसे भी लंड चूसने में मज़ा आने लगाउसने मेरा लंड करीब 3-4 मिनट तक चूसा तो मेरा वीर्य निकल आया. इस तरह मेरी मॉम ने अपनी चूत में उंगली करके उसका पानी निकाला और नहाकर साड़ी पहन कर बाहर आ गईं.

मेरी अन्तर्वासना की कहानी में पढ़ें कि मेरी रिश्ते की दीदी के साथ सेक्स की शुरुआत कैसे हुई.

बुलबुल शॉप

जुवैरिया आंटी देखने में एकदम मुनमुन सेन जैसी लगती हैं, वो बस कद से थोड़ा कम हैं. लेकिन शिवानी की कोशिश के चक्कर में मेरा लंड तो उसकी चूत के लिए तड़प रहा था. मैं तुमको इतना प्यार करूंगा कि तुमको सात दिन मालूम ही नहीं चलेंगे कि कब निकल गए.

आप मुझे मेल कर सकते हैं इस रोमांस सेक्स कहानी के रिव्यू जरूर दें ताकि मैं अपने लिखने की शैली को और बेहतर कर सकूं. लंड उनके गले तक जाने लगा था, जिससे ‘फच फच … गों गों …’ की आवाज निकल रही थी. पापा ने सनी लियोनी की चुत देख कर कहा- साली ने न जाने कितने लौड़े खा लिए होंगे.

मैं जब तक कुछ समझ पाता, वो मेरे ऊपर चढ़ कर बैठ गया और मेरे कपड़े उतारने लगा.

मैंने कभी कल्पना भी नहीं की थी कि मुझे चोदने के लिए ऐसी माल भी कभी मिल सकेगी. आप भी सोच रहे होंगे कि जब इतने टाइम से रिलेशन में था, तो अभी तक लौंडिया के साथ सेक्स क्यों नहीं किया. मैं खुद नीचे बैठ गया और प्रीति के होंठों को चूमने लगा, उसकी जीभ को अपने मुंह में लेकर चूसने लगा.

मेरा दोस्त गाड़ी ड्राइव करने लगा और वो अपनी अम्मी से बोला- अम्मी आप दोनों थक गए होंगे, तो आप पीछे के सीट पर आराम कर लो. दरवाजा बंद करके हम दोनों बेडरूम में पहुंचे तो बिस्तर पर गुलाब की पंखुड़ियों से दिल के आकार का फूल बना था. मैंने उसकी पैंटी पर नाक लगाई, तो उसकी चूत की मनमोहक खुशबू मुझे काम वासना के सागर में गोते खिलाने लगी.

तुम्हारी ये टाइट गांड मारकर ही तुझे रंडी ही बनाऊंगा साली … चल उस शीशे के सामने चल … दिखा दिखा कर तुझे रंडी बनाऊंगा. मैं उनके ‘बाद में बताती हूँ …’ का इन्तजार करने लगा मगर उस वक्त उसने मुझे कुछ भी नहीं लिखा.

वह दोनों तरफ अपनी टांगें रख कर उसे देखता हुआ सड़का मारने लगा।लण्ड ने सारा वीर्य उसकी चूचियों पर गिरा दिया।सबने बड़ी जोर से तालियां बजाईं।आठवीं पर्ची रूपेश ने निकाली. उसकी चूत का पानी बड़ा ही स्वादिष्ट था और मुझे भी अपने वासना का भूत सा सवार हो गया था. लंड चूसने से लेकर कभी कभी चुदाई करने तक की सारी हसरतों को पूरा करने के बाद मैं अपने शहर वापस आ जाती थी.

सर्विस सेंटर वाला इंजीनियर मोबाइल सुधार रहा था और हम दोनों बैठे थे.

अपनी इसी दिनचर्या की वजह से कल्पना भाभी के पति ड्यूटी से थक कर आते थे. इस बाइक की पीछे वाली सीट थोड़ी उठी हुई थी, जिस कारण से उनका मेरी तरफ ऊपर को आना स्वाभाविक था. हम दोनों काफी गर्म हो गए थे और एक-दूसरे को चुदाई का मज़ा दे रहे थे.

इसके बाद मैं ऑफिस निकल गया और हाफ टाइम से ही ऑफिस छुट्टी लेकर निकला आया. इसलिए मैंने चुत को कुछ ज्यादा ही चिकना कर दिया था ताकि मेरा लंड आसानी से चुत में अन्दर घुसता चला जाए.

अब आंटी केवल काले रंग की रेशमी ब्रा और पैंटी में मेरे सामने लेटी हुई थीं. वो दूसरे हाथ से अपने चुचे ऐसे सहला रही थीं, जैसे वो उनका हाथ न हो बल्कि उनके किसी प्रेमी का हाथ हो. लंड चुत में लेने से उसकी आस पूरी हो गई थी … कुतिया को तो लंड के रूप में पॉवर मिल गया कि दोनों हाथ बंधे होने के बाद भी उसने अपने पैर मेरी कमर के चारों ओर बांध लिए और लंड पर उछलने लगी.

xx तस्वीर

बस लंड ही चूसना मेरा मकसद था, तो मेरे लिए बस की इस तरह की सीट्स मुफीद थीं.

पापा ने सनी लियोनी की चुत देख कर कहा- साली ने न जाने कितने लौड़े खा लिए होंगे. फिर वो मदहोश निगाहों से मुझे देखती हुई मेरी शर्ट के बटन खोलने लगीं. मेरी हॉट मॉम- उह्ह ह्म्म्म हां बहुत दिनों से चुदी नहीं हूँ … इसलिए मेरी चूत भट्टी सी तप रही है … अह्ह अह्ह्ह.

मैं- हां मामीजी, मैं भी तो शिवानी को यही समझाने की कोशिश कर रहा हूँ. मैंने उसके हाथ चेहरे से हटाए और उसके होंठों को चूमने लगा; साथ साथ उसके चूचे दबाने लगा. ओरिजिनल मारवाड़ी सेक्सी वीडियोहम एक दूसरे के बिल्कुल बग़ल में बैठे थे तो मैं सीधा उसकी तरफ़ नहीं देख पा रहा था.

मुझे लगा कि अगर मैं कहूँगा कि मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है, तो वो सोचेगी कि मैं लूज़र हूँ, जो कि शायद मैं तब तक था भी. मैंने नफीसा आंटी को चोदते हुए उनसे कहा- नफीसा, मैं तुमको कंडोम के बिना चोदना चाहता हूं.

मेरे पड़ोस में एक लड़का किराए से रहता था, उसका नाम डब्लू था, मतलब उसको प्यार से डब्लू कहते थे. कमर के नीचे दो गोल मटोल उभरे हुए नितम्ब, जिनकी लचक देख हर मर्द अपनी नियत से फिसल जाए. फिर मैंने भी सर उठा कर उसे किस किया और उसे कमर से पकड़ कर लंड पर दबा दिया.

मैंने उससे कहा- तुम मेरे ऊपर अपनी चूत को मेरी मुँह के तरफ करके लेट जाओ. भाभी- आंह रवि … आज पूरा दूध चूस लो आह मुझे बहुत आग लग रही है … रवि मेरी जान … खा जाओ मुझे!फिर भाभी ने कहा- रवि, मुझे तुम्हारा लंड चूसना है. उसका हाथ अम्मी की पैंट के अन्दर था और अम्मी का हाथ जगप्रीत की जांघ पर था.

उन्होंने न तो मुझसे कुछ कहा और न ही अपनी गांड को लंड से हटाने की कोशिश की.

मैं लंड को उसकी चूत पर रखकर घिसा और उसकी आंखों में देखते हुए पूरी ताकत से धक्का दे मारा. बस बिस्तर पर बैठने से पहले अपनी बॉडी को टॉवल से पौंछ लेना, नहीं तो बिस्तर भी गीला हो जाएगा.

उमैय्या के हाथ मेरे बालों पर थे और वो पूरे जोश में मुझे किस कर रही थी. जैसा कि आपको पता है कि मुझे साई नाम का एक आदमी पुणे में मिला था, वो 35 साल का था. शायद वो इस बात को समझता था कि पहला दिन है और अभी से ही कोई गड़बड़ हो जाएगी तो न उसे मेरी अम्मी मिलेंगी और न ही मैं.

वॉवो क्या मस्त लौड़ा है तेरा! ये तो मेरी माँ का भोसड़ा भी फाड़ डालेगा. मेरे पड़ोस में एक लड़का किराए से रहता था, उसका नाम डब्लू था, मतलब उसको प्यार से डब्लू कहते थे. एक बार मैं किसी काम से मेरठ गया मुझे वहां के बाजार में मोबाइल के सर्विस सेन्टर जाना था.

बुड्ढों की सेक्सी बीएफ वो टिफिन लेकर डाइनिंग टेबल पर बैठ गई और बोली- तू भी साथ में खा ले!मैंने कहा- नहीं, मैं घर से खाकर आया हूँ. झड़ते समय मेरी आंखें बंद हो गई थीं और मैं मानो समाधि की मुद्रा में चला गया था.

शायरी भेजिए

इसी बात को लेकर मैं अपनी नई दुल्हन की चुदाई कहानी का अगला भाग लेकर हाजिर हूँ. कुछ देर ऐसे ही रहने के बाद हम दोनों एक दूसरे को बांहों में भरे सोफे पर लेट गए और थकान की वजह से ऐसे ही हमारी आंख लग गयी. मैंने भी कहा- बिल्कुल … वो आदमी ही क्या, जो औरत को खुश ना कर सके!आंटी मुस्कुरा दीं.

ट्रेवल सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैं अपनी सास को लेकर रात की बस से लम्बी यात्रा कर रही थी. मौसी बोलीं- अब पांचवीं कब निपटाएगा?मैंने भी उनकी आंखों में आंखें डालकर कहा- जब आप बोलो. इंडियन सेक्सी सेक्सीमैंने पहली बार अचानक से देखा था, उसके बाद कोशिश करने लगा था कि जब भाभी नहाने जाएंगी, तब ही मैं भी टॉयलेट जाऊं, जिससे घर वालों को शक न हो.

कैसी लगी आपको मेरी सास दामाद Xxx कहानी? मेल और कमेंट्स दोनों में बताएं.

वैसे तो मैंने नफीसा आंटी को अब तक सैकड़ों बार चोद लिया है, लेकिन एक बार बड़ा मजा आया था. नफीसा आंटी ये सुनकर मेरे लौड़े को ऐसे चूसने लगी थीं, जैसे उसमें रसमलाई लगी हो.

मैं खुद वहीं सोफे पर बैठ गया और एक सिगरेट सुलगा कर उन्हें देखने लगा. मैं उठ कर उसके पास गया और उसे अपनी बांहों में लेकर धीरे से लंड उसकी टांगों में रगड़ते हुए कहा- इससे ही पूछ लो ना … कैसी लग रही हो. वो धीरे धीरे जींस के ऊपर से मेरी गांड दबाने लगे जिससे मैं गर्म होने लगा.

मैंने भी देर नहीं की और उसकी क़मर को टाइटली पकड़ कर उसके होंठों को अपने होंठों के बीच जकड़ लिया.

सासू मां ने अपनी टांगें फैला दीं और बोलीं- अब मत तड़पाओ … प्लीज़ जल्दी से अपने मूसल को मेरे अन्दर डाल दो. मन तो कर रहा था कि उसके दोनों मम्मों को पकड़ लूं, पर थोड़ा सावधानी से. वहां मैंने एक दो पीस बिकिनी के निकलवा लिए और मेघना से ट्राई करने ट्रायल रूम में भेज दिया.

जिस्म की भूखअभी आप लोग मुझे मेल करके बताएं कि आपको मेरी ये गुजराती भाभी सेक्स कहानी कैसी लगी. वो मेरे फोन में देखती हुई बोली- फिर फोन में क्या कर रहे हो … व्हाट्सैप चला रहे हो?मैंने बोला- मैं व्हाट्सैप नहीं चलाता … हम दोनों बस कॉल करते हैं.

हिंदी में सेक्सी शायरी

उनके पति ज्यादातर बाहर रहते थे क्योंकि उनका ट्रेवल एजेंसी का काम था. कुछ देर के बाद मैंने अपना एक हाथ उसके पीछे ले जाकर उसकी मनमोहिनी गांड पर रख दिया और दबाने लगा. भाभी ने मुझे देखा और मुस्करा कर अपनी चुन्नी नीचे कर दी जिसकी वजह से मुझे भाभी के उठे हुए पहाड़ों में प्रवेश करने वाली बड़ी गहरी और संकरी गली के दीदार होने लगे.

उसने मेरे करीब आकर मेरे सिर के बालों को सहलाते हुए कहा- आने में कोई परेशानी तो नहीं हुई?उसका हाथ मेरे बालों को सहला रहा था तो मेरा कलेजा हलक के बाहर आने लगा था. मैंने पूछा- कैसा लगा टेस्ट!शमा- हूँउ … कुछ खास नहीं … बस ठीक ठीक है. इस बमपिलाट झटके से मैं चीख पड़ी- आह मादरचोद मर गई … आह भोसड़ी फाड़ दी कमीन ने आह!मैं चीख रही थी और काशिफ मजे से मेरी चुत लिए जा रहा था.

खैर उसने एक जंप सूट पहन लिया क्योंकि अगर कुछ और पहनती तो विजय कहता कि आज रात को ये सब क्यों पहन रही हो. करीब 5-6 मिनट के बाद मैंने उसे बेड पर उल्टा लिटा दिया और उसकी कमर को मसलने लगा. पापा अपने रूम में टीवी देख रहे थे, मुझे लगा कि मुस्कान भी उधर ही टीवी देख रही होगी इसलिए मैंने अपने रूम में जाते हुए अपनी टी-शर्ट को उतार दिया.

मैंने उठते हुए पूछा- क्या हुआ!उन्होंने खड़ी होकर मुझे जबरन नीचे लिटा दिया और मेरे ऊपर आकर मेरे लंड को पकड़ कर आगे पीछे करने लगीं. ख़ास इसी काम के लिए मुझे ऑफिस भी जाना पड़ा था, वरना मैं अभी कुछ दिन आराम करने के मूड में था.

मुझे भाभी की चुत चोदने में बहुत मज़ा आ रहा था और भाभी को मुझसे ज्यादा मज़ा आ रहा था.

ऐसे ही लंड चूस चूस कर भाभी ने मेरे लौड़े का पानी निकाल दिया और पूरा वीर्य गटक गईं. चक्की चक्की दाल निकालमेरी अम्मी और बहन सिसकार रही थीं ‘ऊऊऊ … उम्महा … ऊऊऊऊऊ …’चारों इस समय दो जोड़े बना कर किसिंग पर किसिंग किए जा रहे थे. इंडियन सेक्सी फुल एचडी वीडियोइस समय हम दोनों को नहीं पता था कि हम कैसे कैसे और क्या क्या कर रहे हैं. मैंने भी अपने मोबाइल में कॉल रिकॉर्डिंग चालू करके अपना फोन को फ़ोन म्यूट में लगा दिया.

मेरा 3 इंच मोटा लवड़ा फूल कर कुप्पा हो रहा था जिससे वो कोमल के मुँह में आ नहीं रहा था.

भाभी बोल उठी- बाबू मेरी शादी को दो साल हो गए हैं, लेकिन अभी तक मैं सिर्फ 8 से 10 बार ही चुदी हूँ. रास्ते में दीदी को नींद लगने सी लगी या वो सोने का ड्रामा करने लगीं. दस मिनट तक चुत चुदाई करने के बाद मेरा वीर्य झड़ने लगा तो मैंने लंड निकाल कर उसके पेट पर ही झाड़ दिया.

वो पूरे जोर से चिल्ला रही थी- आह मजा आ गया आह चोदो भईया … मुझे मस्त कर दो … मेरी गांड को फाड़ दो. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था और भाभी भी धीरे धीरे ‘आ उ आ ई आ ऊ आई उ …’ करने लगीं. मेरी हॉट मॉम- अच्छा … अगर तुम्हें मेरी जैसी सेक्सी औरत मिल जाए, तो तुम क्या करोगे?विकी- मामी, मैं तो पूरी रात उसका बिस्तर गर्म करूंगा और पूरी रात उसे मजा दूंगा.

एचडी सील पैक

मैंने देर न करते हुए भाभी की टांगों को फैलाया और अपने लंड को उनकी चूत में उतार दिया. दिन भर घूमने के बाद जब हम सब वापस घर आए तो सब लोग बहुत ज्यादा थक चुके थे. और एक हाथ से वो अपनी बुर के दाने को सहला रही थी और मस्त आवाज आ रही थी- अम्म्म अहम्म … आह … हो … उफ़!ऐसी आवाज करते करते वो बेड पर लेट गई और अपनी बुर में तेज़ तेज़ उंगली चलाने लगी.

पर जिस तरह से चांद में भी एक दाग लगा होता है … उसी प्रकार मेरी बड़ी दीदी पूर्णिमा की शादी के कुछ दिनों के बाद ही उसकी जिदगी में दाग लग गया था; उसका तलाक हो गया था, जो हमारे परिवार के लिए एक बहुत ही दुख भरी खबर थी.

भाभी ने भी मुझे आंखों से प्यार से देखा और अपने होंठों से वैसा ही एक चुबंन उछाल दिया.

अब ये चड्डी बदलेगी तब इसकी भोदी भी देख लूंगा, भले ही ये कैसे भी छुपाए. फिर मैंने लंड चुत से निकाला और नफीसा आंटी को सोफे पर घोड़ी बनाते हुए झुका दिया. सोला साल की लडकी का सेक्स व्हिडीओमेरी माँ की चुदाई की कहानी में पढ़ें कि कैसे मेरे दोस्त ने मेरी अम्मी और मेरी बहन को एक साथ बुक किया सेक्स के लिए.

दोस्तो, मुठ मारना, गंदी फ़िल्में देखना … मुझे बड़ा अच्छा लगता था लेकिन आज तक मैंने कभी किसी लड़की की चूत नहीं चोदी थी. [emailprotected]हिंदी हॉट कहानी कहानी का अगला भाग:ढलती उम्र में अदल बदल- 4. ये वाली राइड करीब 15 मिनट की राइड थी और इसमें लोग भी ज्यादा थे, तो अपना नम्बर आने तक के लिए हम दोनों को वेट करना पड़ा.

मैंने तुरंत पूछ लिया- पहले कभी किसी का वीर्य खाया है!वह बोली- हां … मगर तब भी मुझे बहुत उल्टियां होती थीं. मैंने उनकी तरफ देख कर कहा- अब फिर से करूं?चाची बोलीं- नहीं … अब रात को करूंगी … आज तेरे चाचा को अम्मी के साथ बाहर जाना है.

दरवाजा खुला तो भाभी मेरे सामने लाल रंग के जोड़े में दुल्हन बनी खड़ी थीं.

ऊपर की फ्लोर में एक दूसरी फैमिली थी, जिसमें दो भाई और दो बहनें थीं. मैंने लंड पर थोड़ा ज्यादा सा थूक लगाया और उसकी चूत पर रखकर रगड़ना शुरू कर दिया. मैंने उसकी चुत के दाने के ऊपर उंगली रगड़ने लगा … इससे वो एकदम से पिघल गई और हम दोनों झड़ने लगे.

हिंदी भाषा की सेक्सी वीडियो एक दिन ऐसे ही मैं अपनी बालकनी में खड़ा था कि तभी मेरी नज़र बगल की बालकनी पर गई. आपको मेरी ये इंडियन विलेज़ सेक्स कहानी कैसी लगी मुझे मेल करके जरूर बताएं.

मैंने वहीं पड़े कपड़ों में से उसका एक दुपट्टा उठा लिया और उसका एक हाथ बांध दिया. मैंने एक उंगली दोस्त की मम्मी की चूत में डाल दी और आगे पीछे करने लगा और उनकी चूत चाटने लगा. लोग सही कहते हैं कि नव यौवन से परिपूर्ण लड़की की चूत चोदने से पहले ही लंड पिघल जाता है और मेरे लंड के साथ भी यही हाल हो रहा था.

वीडियो डाउनलोड 2020

जब वो कुछ शांत हुई, तो मैंने उसकी चूचियों को मसलते हुए उसके होंठों को अपने होंठों के बीच दबा लिया. मेरी बहन उसकी गांड उठ कर मेरी जीभ को अपनी चुत में काफी अन्दर तक लेना चाह रही थी. तभी मैंने उसे वहीं के वहीं फर्श पर नीचे गिरा दिया और शिवानी के ऊपर चढ़कर उसे अपनी बांहों में जकड़ कर लपेट लिया.

मेरा मन दीदी को चोदने की पतंगें उड़ा रहा था कि कब वो मेरे लंड के नीचे आएं और मैं उनकी पैंटी की पर्दा हटाकर दोनों के सारे शर्म संकोच की देहरी को लांघ जाएं और बिस्तर के उन्मुक्त गगन में उड़ उड़ कर चुदाई के मीठे रस का रसपान करें. अब आगे न्यू सेक्स लाइफ स्टोरी:संजीव के घर पहुँचकर उसने बाहर से ही ऋतु को फोन किया तो ऋतु बोली कि उसने उसे छत पर से देख लिया है और वो गेट खोलने आ ही रही है।विजय ने एक फोन संजीव को भी कर दिया कि वो जल्दी ही आ जाये।संजीव बोला- मुझे तो घर पहुँचते पहुँचते एक घंटा लग ही जाएगा.

मैंने पूछा- क्यों?भाभी बोलीं- देख नहीं रहे हो मेरी हालत कैसी हो गई है … मुझसे चला भी नहीं जा रहा है.

अब हमारे बीच मैडम की तरफ से आप वाला सम्बोधन समाप्त हो गया था और जान व तुम शुरू हो गया था. उनकी निगाहें बताती थीं कि वो मुझसे चुदने को बड़ी बेचैन थीं, पर उन्होंने अपने मुँह से मुझे कभी कहा नहीं. वो चुत पसार कर लेट गईं और मैं स्कूटी के बीच में जो जगह होती है, उसमें खड़ा हो गया.

मैंने भी तेज तेज शॉट मारे और उसी चुत से लंड बाहर निकाल कर उसके पेट पर अपना रस निकाल दिया. मैंने उसकी चुत पड़ लंड सैट कर दिया और उससे आंख के इशारे से पूछा- रेडी हो?कोमल बहुत गर्म हो गई थी, उसने खुल कर कहा- हां … यार जल्दी से डाल दो … अपना लंड मेरी चुत में … फाड़ दो मेरी चुत … बहुत आग लगी है. मॉम ने मुझसे अपनी चार सहेलियां चुदवा ली हैं मगर मेरे दोस्तों से चुदने में मॉम को कुछ बदनामी का डर था.

मम्मी ने बोला- तू आगे की तरफ खड़ा हो जा … मैं अभी फ्रेश होकर आती हूँ.

बुड्ढों की सेक्सी बीएफ: वो इतना कहकर मुस्कुराने लगी और मेरे पास से उठ कर क्लासरूम में चली गई. 00 बजे भाभी ने मुझे बादाम गिरी वाला दूध पीने को दिया और बोलीं कि आज तुम 10.

ये कहते हुए राजेश जी तीन गिलास भर दिए, पर दीदी ने वाइन पीने से मना कर दिया. खैर … जो कुछ भी हुआ था, उसी को याद करते हुए मैं लंड को मसलने लगा और थोड़ी देर बाद अपने कमरे में आकर सो गया. उनकी नजर मेरे फूलते लौड़े पर गई तो मुस्करा कर बोलीं- मैं क्या करूं राज … मुझे किसी लंड ही नहीं मिलता.

हमने समंदर के किनारे एक रिसॉर्ट बुक कर लिया।छुट्टी होते ही हम वहां चली गयी.

कुछ ही पलों में उसके लंड से प्रीकम आने लगा था, जिसके कारण लौड़े की जगह पर अंडरवियर गीला हो गया था. धीरज बोला- सबीना कहां है?अम्मी ने सबीना को आवाज दी तो सबीना रसोईघर से बाहर आ गयी. दिन में बहुत सारी सवारियों को अपनी बाइक पर बिठाकर उनको उनकी मंजिल तक पहुंचाता हूं.