बीएफ सेक्सी हिंद

छवि स्रोत,हिंदी वीडियो वीडियो बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

देहाती वीडियो बीएफ एचडी: बीएफ सेक्सी हिंद, अब तक की इस देसी चूत की कहानी में आपने पढ़ा था कि सुमन मॉंटी से अपनी चूत चटवाने के लिए नंगी हो रही थी.

बीएफ नई साल की

’ कह कर चल दी!फिर हमारी मुलाकात होने लगी और वो जब भी मिलता, हज़ार, दो हज़ार, पांच हजार खर्च देता. हिंदी बीएफ गांव केयही सबके कारण मेरे वेतन से मेरा खर्च पूरा नहीं चल पा रहा था, तो हमारी एक कॉमन फ्रेंड ने रिया और मुझे एक एजेंसी से मिलवाया, जो उम्रदराज पुरुषों के लिए लड़कियां सप्लाई करने का काम करती थी.

वो तो क्रीम और बुर के रस की चिकनाई थी वरना ऐसे लौड़ा कभी नहीं घुसता. सेक्स फिल्म बीएफ हिंदीफिर मैंने उसके पीछे बैठकर उसके गले से कान तक पहले उंगली की, बाद में जीभ फिराने लगा और दोनों हाथ पेट से होकर टीशर्ट निकाल दी.

बातों के दौरान गुलफाम कली ने अपनी साड़ी उतार फेंकी थी और अब सिर्फ स्लीव लेस ब्लाउज और पेटीकोट में थी, बातों ही बातों में उसने अपना पेटीकोट भी उतर दिया, उसकी काले रंग की पेंटी आगे से दिख रही थी लेकिन पीछे की तरफ पैंटी उसके मोटे चूतड़ों में बिल्कुल घुस गई थी.बीएफ सेक्सी हिंद: उफ़फ्फ़ जल ही जाएगा।संजय धीरे से बोला था और जोर से भी बोलता तो भी शायद पूजा ध्यान नहीं देती, वो तो अपने मज़े में आँखें बंद करके आहें भर रही थी।संजय- आह.

मैंने अपने कपड़े उतारने शुरू किये और कुछ ही देर में अपनी बहन के सामने बिल्कुल नंगा खड़ा हो गया.कोई नसीब वाला ही होगा जो अपना पोपट इसके पिंजरे में डालेगा और इसे अपनी रानी बनाएगा.

आलिया भट्ट का बीएफ वीडियो - बीएफ सेक्सी हिंद

मेरा ध्यान अब उसके लंड पर नहीं लग रहा था…वो फिर गुस्से में बोला- साली रंडी, मन भर गया क्या तेरा मेरा लंड पकड़ते-पकड़ते? नखरे मत कर और चुपचाप मेरी पैंट की चेन खोल!मैंने कुछ ना बोलते हुए चलती बाइक पर उसकी पैंट की जिप खोल दी.आँखों से पानी की धारा बह निकली, वो अपने आप की छुड़ाने की भरसक कोशिश कर रही थी मगर मुझे मालूम था कि पीटर की पकड़ से निकल पाना नामुमकिन है!पीटर के धक्के अब तूफानी हो गए थे, उसका लंड रिया की चुत में किसी पिस्टन की तरह अंदर बाहर हो रहा था.

जब मैं दूसरी खिड़की पर गया तो वहाँ से मेरी बहन का पिछवाड़ा पूरी तरह से साफ़ दिख रहा था. बीएफ सेक्सी हिंद जैसे ही उस आदमी ने अपना लंड निकाला, उसके लंड को देख कर ऐसा लगा कि मेरी बहन की गांड उसके लंड के लिए बिल्कुल ही परफेक्ट है.

मैडम ज़ोर-ज़ोर से ‘आहहा अम्म्म’ की आवाजें निकालकर चूत को उछाल-उछाल कर मेरे मुँह पर रग़ड़ रही थीं.

बीएफ सेक्सी हिंद?

उन्हें कॉल किया, पर कोई बाहर है, तो कोई कॉलेज में है और किसी का कोई और बहाना है, कोई नहीं मिल रहा था।यार ऐसा ही क्यों होता है कि जब हमें बहुत जरूरत होती है. मगर अबकी बार हम सब मिलकर ही मज़ा करेंगे।टीना की बात सुनकर सब खुश हो गए। अबकी बार तो दो चुत साथ होंगी. आदरणीय पाठको, यह मेरी पहली सच्ची सेक्सी कहानी है। अभी मेरी उम्र 21 साल है, मैं देखने में काफी आकर्षक हूँ। वैसे तो मैं सांवली और दुबली हूँ पर चेहरा आकर्षक है। मेरी कमर पतली है, पर चूतड़ चौड़े हैं.

उन्हें रयान भला लगा… पर वो बोले- पूरी कोठी की जिम्मेदारी तुम्हारी है. मैंने भी इस पर विचार करके हाँ कह दी और जाने की तारीख भी तय कर ली, नई दिल्ली-भोपाल शताब्दी से अपना आरक्षण भी करवा लिया. जैसे ही सुलेखा अपने कमरे में गई, रीना रानी ने आवाज़ लगाई- मम्मी मैं जा रही हूँ!सुलेखा ने भी आवाज़ लगा दी कि रीना अच्छा जा तू!रीना रानी झट से भाग के मेहमानों वाले कमरे में चली गई, मुझे बोल गई कि बाहर वाला दरवाज़ा आवाज़ करते हुए बंद कर दूँ ताकि सुलेखा समझे कि रीना गई.

सुधीर- सॉरी मैं ज़ज्बात में बह गया था।मोना- कोई बात नहीं हम अब दोस्त हैं. ‘अहहाह अहः अहः वो… उम्म्ह… अहह… हय… याह… ऊईई माँआआ ऊह्ह्ह्हो होहोह हाहाहा…’ वो पूरा मज़ा ले रही थी. क्योंकि माला एक टाँग सीधी और दूसरी टाँग ऊँची कर के सो रही थी इसलिए उसका पेटीकोट उसके घुटनों के ऊपर हट कर उसकी कमर तक सरक गया था और उसकी योनि और जघन-स्थल का क्षेत्र बिल्कुल नग्न हो रहा था.

मैं टयूशन पढ़ने एक टीचर के पास जाता था, उनका घर मेरे घर से थोड़ी दूरी पर था. पर अमन ने 15 मिनट से ज्यादा नहीं चुदवाया। फिर दोनों ने मेरा लंड चूस-चूस कर ठंडा कर दिया और अमन ने मेरा पूरा माल मुँह में ले कर बाहर थूक दिया।अब तक रात के 12:15 बज चुके थे.

हम नेहा के घर पहुंची तो वहाँ नेहा और उसके मम्मी पापा ने हमारा बहुत अच्छे से स्वागत किया.

वो बोला- लंड को बाहर निकाल ले!मैंने चलती बाइक पर उसके लंड को अंडरवियर के कट से बड़ी मुश्किल से निकालते हुए उसकी चेन के बाहर लाकर आजा़द कर दिया.

मेरा मुँह उनकी चुत में लगते ही उन्होंने अपना सर तकिया में दबा लिया. फिर मेरा लंड खड़ा होने लगा- क्यों, भैया नहीं करते है क्या?रीना- वो सूरत में रहते है और 6 महीने में एक बार आते है. साबुन लगते वक्त मेरे मम्मे रोहित के शरीर से रगड़ खा रहे थे।मैंने रोहित से कहा- रोहित, अब मेरी छाती पर साबुन लगाने की तुम्हारी बारी है.

अब ऐसा नहीं करूँगी प्लीज़ छोड़ दो।दोस्तों संजय का लंड एकदम लोहे जैसा सख़्त हो गया था. स्वान के किसी हैट जितने चौड़े टोपे को अपने मुंह में भरने की खातिर मेरी जान को अपना मुंह फाड़ कर खोलना पड़ रहा था! कुछ देर बाद मुझे बीवी की चूत में घुसने की इच्छा हुई, जहाँ पहले से ही एंड्रयू का लंड तबाही मचाये हुए था, और मैं बिना किसी शर्मो लिहाज के एंड्रयू के लंड की बगल में अपना लंड लगा कर अन्दर को ठूंसने लगा. यह कहानी सिर्फ मनोरंजन के लिय लिखी गई है, इससे किसी व्यक्ति और नाम से कोई सम्बन्ध नहीं है.

मेरे द्वारा पाँच-छह बार ऐसा करने पर माला ने जो की काफी देर से सिसकारियाँ ले रही थी एक जोर की सीत्कार मारी और उसकी योनि में से गर्म गर्म रस का रिसाव हो गया.

मैं एकदम भौंचक्का रह गया था और शीघ्रता से अपने लंड को अपनी https://www. उसने मेरी बहन के कंधे पर हाथ रख कर उनकी चूचियों को दबाने के लिए जैसे ही हाथ को नीचे किया, मेरी बहन मुस्कुराते हुए बोलीं- अभी से क्यों बेचैन हो रहे हो, अभी तो पूरी रात बाक़ी है. मुझे एक प्लान सूझा, मैंने भी पेट खराब होने का बहाना किया और शादी में नहीं गया.

बहुत जलन हो रही है, पता नहीं आज इतनी खुजली कैसे हो गई।टीना- अरे कुछ नहीं मेरे सोना. ‘क्लास! हाँ… ऐसे! ऐसे, ऐसे, ऐसे… कितना मजा आ रहा लड़को तुम लोगों के साथ!! तुम लोगों के लंड इतने बड़े-बड़े हैं… पहले तो मैं इतने बड़े लंड देख कर डर ही गई थी… लेकिन अब मुझे इनसे प्यार हो गया है!!’ मेरी प्राणप्यारी ने अपने दिल की बात मुस्कुराते हुए शर्मा कर कह डाली. मोना मन में सोच रही थी- वाह गोपाल तुम्हारी हिम्मत की दाद देनी होगी.

ले संभाल मेरे मूसल को।इतना कहकर काका ने लंड चुत पे टिकाया और जोर का झटका मार दिया.

डार्लिंग चीज़!’ उत्तेजना के आधिक्य में रुस्लान गहरे-गहरे धक्के लगाता नताशा की मुस्कराहट देखता हुआ बड़बड़ाने लगा और नतालिया की गांड में घुसा उसका लंड मानो अब मेरी पत्नी के मुंह से बाहर निकलने को हो रहा था!‘यस. हवस की आग में झुलसती हुई मैं ज़ोर से चिल्लाई- हरामी कुत्ते आज दम निकालेगा मेरा कमीने… चोद जल्दी से… उठ भोसड़ी वाले, चोद मेजर साहिब की बीवी को… हाय हाय हाय कोई बचाओ इस जंगली से… अहःअहःअहःअहः… चोद मादरचोद… फ़ौरन उठ जा साले!मैं तेज़ तेज़ अपनी टाँगें लहरा रही थी.

बीएफ सेक्सी हिंद मैं थोड़ा सा शरमा रही थी लेकिन उसी समय उन्होंने मेरी सलवार का नाड़ा खींच दिया और एक ही झटके में मेरी सलवार को नीचे उतार दिया, अब मेरे नीले रंग की पेंटी को भी उतारने लगी, मैंने उनको मना किया, मैं बोली- भाभी, आप रहने दो, मुझे बहुत शर्म आ रही है. मैंने झट से तौलिया लपेट कर पूछा- क्या है दीदी?सीमा- अरे छोटू, ताई ने कहा था, तुम जब आओ तो चाय के लिए पूछ लेने के लिए?मैं- तुम बना दो, मैं आता हूँ.

बीएफ सेक्सी हिंद मैंने उसकी छाती पर टी-शर्ट के बटनों में अपनी नाक को ले जाकर गहरी सांस भरते हुए उसको सूंघा और अपना सिर उसके सीने पर रख दिया और उसकी छाती को चूमने लगा. मैं उन्हें धीरे-धीरे मज़े ले-ले कर पेलने लगा। फिर मैंने पीछे से उनकी चूची पकड़ी और उन्हें जोर-जोर से चोदने लगा। उनकी आहें सिसकारियाँ मेरी रफ़्तार बढ़ा रही थीं। मैं देसी भाभी को जम कर चोदने लगा।कोई 5-6 मिनट की ताबड़तोड़ चुदाई से वो झड़ गईं और निढाल होकर लेट गईं।मैं उन्हें अपने झड़ने तक के लिए कहने लगा- चोदने दो ना निशा प्लीज.

मैडम देखने में काली थी, वो मेरे माँ के उम्र की ही होगी, मुखड़ा थोड़ा देखने में अच्छा लगता था.

बीपी सेक्सी हॉट वीडियो

आज सुबह से जानवरों और खेतों को नहीं देखा है उन्हें भी कल सुबह से ही देखना होगा. ऊपर आया तो मैडम सीधी होकर लेटी हुई थी, ऊपर से चूची के कुछ भाग नजर आ रहा था. अगर यहाँ पर कोई भी लड़का किसी लड़की को किस करता है या फिर हाथ फेरता है तो लड़की एक मिनट के अन्दर उस उसकी बांहों में आ जाती है।फिर उसने मेरी पेंटी उतार दी और मेरी बुर को किस करने लगा। वो अपनी जीभ मेरी बुर के अन्दर डाल कर उसे चूसने लगा और मैं पागल होने लगी।ये सब कुछ मेरे साथ पहली बार हो रहा था। मेरा भाई मेरी बुर को बहुत जोर-जोर से किस करने लगा। पता नहीं मुझे क्या होने लगा मैं पागल होने लगी.

शराब का सुरूर छा रहा था और पीटर की उंगलियाँ मेरी चुत और गांड में भूकंप मचा रही थी. फ़िर भाभी बोलीं- बाप रे इतना मोटा लंड!दोस्तो शायद मुठ मारने के कारण मेरा लंड कुछ बड़ा हो गया है. नमस्ते दोस्तो, मैं जाह्नवी एक बार फिर से अपनी एक नई xxx हिंदी स्टोरी लेकर आई हूँ.

मैंने भी अपनी पूरी ताकत से उसके बोबे दबाये, मुझे सच में इस खेल में बड़ा मज़ा आ रहा था.

इंडियन सेक्स: फौजी अफसर की बदमाश बीवी-1पति के सामने अपने चोदू यार से चुदने इंडियन चूत चुदाई कहानी!राजे ने अगले दिन दोपहर 2. हम दोनों टीवी पर आमिर खान की पीके फिल्म देखने लगे।लम्बे सोफे पर मेरी साली पेट के बल लेट कर टीवी पर फिल्म देख रही थी, सो उसकी दोनों चूचियाँ दब कर बाहर को निकल रही थीं। मैं करीब दस मिनट से उसे देख रहा था।मेरी साली है भी बड़ी ही खूबसूरत. कल से भी ज़्यादा मज़ा आ रहा है उम्म्ह… अहह… हय… याह… उफ़ जोर-जोर से हिलाओ ना आह.

‘हां अशोक ब ब्बब्ब बहुत!’‘जोर से लंड चाहिए अपनी गांड में?’‘हां… अशोक हाँ ये ये जोर अब मजा आ आ स आ रहा है. तभी रफीक ने सबीना की चूत में दो उंगली घुसा कर चूत रस से गीली करके सबीना की गांड को चाटते हुए धीरे धीरे दोनों उंगली सबीना की गांड में घुसा कर अंगूठा चूत में घुसा के चूत और गांड को चाटते हुए उंगली और अंगूठे को सबीना की चूत और गांड में धीरे धीरे आगे पीछे हिलाने लगा. वो मुझे सीधे ही उसके बेडरूम में ले गई और मेरा लंड निकाल कर लंड चूसने लगी.

सेक्स की बातें वो कभी छेड़ती भी तो मैं ‘हाँ हूँ…’ करके बात ख़त्म कर देता था. मैंने भी उसकी मैक्सी जाँघों तक खिसका दी, नीचे से वो एकदम नंगी थी; उसकी गर्म गर्म चूत को मैं सहलाने लगा.

मामा जी भी मेरी कान में बोले- तुम भी आज शाम से रात की चुदाई तक सू सू रोक कर रखना. अपने आप सब समझ आ जाएगा।दोस्तो यहाँ तो सब हमने देख लिया। चलो अब वहाँ गाँव का चक्कर लगा आते हैं।काका ने रात भर राधा की चुत का जो बैंड बजाया था. अब हम जब भी किसी महिला से मिलते हैं तो पहले उसका एच आई वी टेस्ट करते हैं, फिर उसकी सहायता करते हैं।दोस्तो, इस कहानी में शायद सेक्स से भरपूर शब्द न हों लेकिन भावनायें बहुत हैं।आगे और भी बहुत कहानी हैं, आपके प्रोत्साहन के बाद लिखूँगा।अन्तर्वासना का बहुत बहुत धन्यवाद.

जब पूरा जवान होगा तब तो इसका लंड घोड़े जैसा हो जाएगा। पता नहीं किस लड़की के नसीब में ऐसा तगड़ा लंड लिखा होगा।साथियो, आप मेरी इस सेक्स स्टोरी पर कमेंट्स मर्यादित भाषा में ही करें।[emailprotected]कहानी जारी है।.

हम दोनों एक-दूसरे के नंगे जिस्मों पर निढाल पड़े थे। जैसे ही टाइम देखा, तो जल्दी-जल्दी कपड़े पहने और वहाँ से निकल पड़े। वे दोनों पूरे रास्ते मेरे लंड को दबाते रहे. और फिर भाग कर ऊपर अपने कमरे में आ गया, छेद में से झांक कर देखा तो ऋतु कपड़े बदल रही थी नीचे जाने के लिए. ’मैंने उसके चूचे मुँह में लेकर एक जोर का धक्का दिया तो मेरा लंड लगभग आधा अन्दर चला गया.

मीन्स सेक्स का ना?टीना- हाँ फ्लॉरा कुछ ऐसा ही समझो।फ्लॉरा- ओ माय गॉड 5 लड़कों के साथ तुम अकेली. जिनके पति उनको माँ ना बना सके और मैंने उनकी गोद भर दी तो इस हिसाब से मेरे कई बच्चे हुए ना.

मगर पूजा की बुर इतनी टाइट थी कि संजय को बहुत ताक़त लगानी पड़ रही थी. ’मैंने उसके चूचे मुँह में लेकर एक जोर का धक्का दिया तो मेरा लंड लगभग आधा अन्दर चला गया. स्वान तो काफी पहले से मुठ मारने में लगा हुआ था और सबसे पहले वही झड़ गया.

चूत की चुदाई मोटे लंड से

तो उनके मुँह से अजीब सी आवाजें आ रही थीं।मैंने भी इस मौके का फ़ायदा उठाने का सोचा। मैंने धीरे से अपना 7 इंच बड़ा लंड शार्ट्स से बाहर निकाला और ऐसे ही खुला छोड़ दिया ताकि मेरी मामी मेरा लंड देख सकें।मामी ने अपनी ब्रा-पेंटी पहनी और मैं सोया हूँ कि नहीं, ये देखने के लिए मेरी तरफ़ मुड़ीं, उनकी आँखें सीधा मेरे लंड पर पड़ीं।मामी की इस हरकत को मैं देख रहा हूँ.

मैं बिना कपड़े पहने स्नान कर रहा था, तो मुझे लगा कि कोई बाथरूम के गेट पर है और मुझे स्नान करते देख रहा है. तेरा तो काफ़ी बड़ा है।फिर मैंने उनकी टांगें फैला दीं। दीदी की चुत पर हल्के से बाल थे. पेट पर बैठा होने के कारण नताशा को हिल पाना जरा मुश्किल होने के कारण एंड्रयू ने उसके चूतड़ों के नीचे अपनी हथेलियाँ रख दी और इसके बाद हमारी हीरोइन आसानी के साथ आगे-पीछे होते हुए एंड्रयू के लंड को अपने मलद्वार के अन्दर-बाहर करवाने लग गई!नताशा की तेज गति को देखते हुए एंड्रयू ने अपनी हथेलियां थोड़ा ऊपर उठा लीं, और नताशा के धक्कों के मार्ग को कुछ कम कर दिया.

अब तू ये बता तुझे क्या-क्या काम करना आता है?नीतू- दीदी, मुझे चाय बनानी आती है मगर खाना बनाना नहीं आता. मुझे देख कर वो डर गईं और अपना हाथ बाहर निकाल कर गुस्से से बोलीं- तुमको सवाल दिए थे. जंगल वाला बीएफ वीडियोरिया हलक से जोर लगाकर चीखी और साथ ही दर्द पे काबू करने के चक्कर में उसने मुझे एक जोर का चांटा मार दिया.

मैं भी उसका पूरा साथ दे रही थी और मेरे मुंह से सिसकारियाँ निकल रही थी, मुझे तो खूब मजा आ रहा था. मेरी रंडी बहनिया, मेरी कुतिया!और ऐसा कहते हुए मैंने अपनी जीभ उसकी बुर में ठेल दी.

मैं पहले ही बता चुकी हूँ कि उसने यह शर्त रख दी थी कि जब वो मेरे साथ हो तब सुमित सिर्फ देखेगा, न तो छुएगा और न ही नज़दीक आने की चेष्टा करेगा. मैं उन्हें धीरे-धीरे मज़े ले-ले कर पेलने लगा। फिर मैंने पीछे से उनकी चूची पकड़ी और उन्हें जोर-जोर से चोदने लगा। उनकी आहें सिसकारियाँ मेरी रफ़्तार बढ़ा रही थीं। मैं देसी भाभी को जम कर चोदने लगा।कोई 5-6 मिनट की ताबड़तोड़ चुदाई से वो झड़ गईं और निढाल होकर लेट गईं।मैं उन्हें अपने झड़ने तक के लिए कहने लगा- चोदने दो ना निशा प्लीज. जब से मेरा मन आपसे चुदाई करने को तड़प रहा है। मैं आपके लंड के लिए बेकरार हो गई हूँ अंकल चोदो मुझे भी.

पर मैंने थोड़ा प्रेशर दिया तो मान गईं और मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर किसी लॉलीपॉप की तरह चूसने लगीं. मेघा को मेरी कामुक निगाहों से पता चल गया था कि वो बहुत सेक्सी लग रही है. वो मेरे बूब्स पर नज़र गड़ाते हुए बाल्कोनी के पास दरवाजे पर खड़ा हो गया.

इधर हमारी साइड पे आपस में मग्न अरमान खड़ा हो गया, उसने अपना अंडरवियर और बनियान उतार दी थी, नेहा अल्फ नंगी होकर नीचे बैठी अरमान के टटों को पकड़ कर उन्हें सहला रही थी और उन पर केक लगा रही थी.

सख्त भी बहुत है।मैंने फिर से उसका हाथ हटा दिया। अब वह मेरे पिछवाड़े अपना खड़ा लंड रगड़ रहा था. उसकी बुर से खून का रिसाव संजय ने साफ महसूस किया, जो उसके लंड से टकराता हुआ बाहर आ रहा था.

तभी स्वान नेगोरी की गांडसे लंड बाहर निकाल कर उसके मुंह में जाने की इच्छा जताई, और एंड्रयू ने दोस्त की इच्छा का सम्मान करते हुए अपना लंड मेरी वाइफ के मुंह से बाहर निकाल लिया. अब उस आदमी ने बिस्तर से उठ कर मेरी बहन को बिस्तर पर लेटने के लिए बोला. बहन ने जीजा जी से पूछा- कब जाना है?जीजा जी ने बताया कि उनको शनिवार को एक दिन के लिए जाना है.

तब कोई नहीं मिलता। बिना जरूरत के समय इतने लोग संपर्क करते हैं कि अभी आ जाओ, मेरे पास जगह है और लौंडे भी ऐसे होते कि उनके नाम से ही मुँह में पानी आ जाए। पर जब मुझे करना हो. अर्ध-नग्न माला जब मेरे पास से बाहर निकलने लगी तब मैंने थोड़ा से आगे सरक कर अपने लोहे जैसे सख्त लिंग को उसके जिस्म के साथ रगड़ने दिया. चलो एक काम करते हैं, मैं जाकर उससे पूछती हूँ कि क्या वो हमारे सामने मुठ मारने को तैयार है और उसके बदले में क्या चाहिए.

बीएफ सेक्सी हिंद वो तो जैसे तैयार ही बैठी थी मेरा फोन सुनने के लिये… ‘हाय अंकल जी, जल्दी से आ जाओ अब!’‘अरे आ तो गया ही हूँ लेकिन आना कहाँ है, भोपाल तो मैं पहली बार आया हूँ मुझे यहाँ का कुछ नहीं पता!’‘अंकल जी, आप एक नंबर प्लेटफोर्म के बाईं तरफ वाले गेट से बाहर आ जाओ, फिर किसी ऑटो वाले से मेरी बात कराओ, मैं उसे समझा दूंगी कि कहाँ आना है. अक्सर रात को मैं घर के लिए बस पकड़ता था और सुबह थक घर पहुँच जाता था.

इंडिया का सेक्स

एक साल तक तो मैं उसके स्टडी सेंटर पर जाता रहा, इसके बाद मैं उसके घर पर बनी क्लास मे जाने लगा जहाँ पर बैच टाइम सुबह 7:00 था. मैं देख ही रहा था कि अचानक उस लड़के ने मुझे दोबारा देख लिया और उसने लड़की से कहा कि वो सीधी होकर बैठ जाए तो लड़की सीधी होकर आराम से पीठ लगाकर बैठ गई. घर पहुँचते ही मेरी नजरें तो मेरी कजिन निधि को ही ढूँढ रही थीं क्योंकि वो बहुत सेक्सी थी.

मैं बोला- क्या हुआ, दर्द किया क्या?‘अरे बाबू, अब कोई मुझे नहीं चोदता, चूत सिकुड़ गयी है, थोड़ा धीरे धीरे चोदो, तुम्हारा लंड एडजस्ट हो जायेगा. मगर चड्डी नहीं होगी तो आपके कपड़े गंदे होंगे ना?संजय- अरे मेरे होंगे तो होने दे. डिलीवरी सेक्सी बीएफबाहर मेरा दोस्त आया था जिसे मेरी मुंबई की प्रोजेक्ट रिपोर्ट की एक प्रतिलिपि चाहिए थी जिसके अनुसार वह भी अपने प्रोजेक्ट रिपोर्ट लिख सके.

ऋषिका ने उसकी ओर हाथ बढ़ाया और बोली ‘फ्रेंड्स…’रयान ने भी गर्मजोशी से हाथ मिलाया और बोला ‘येस्स्स… फ्रेंड्स!’रयान ने ऋषिका के माथे पर एक प्यारा सा किस किया….

करीब 6-7 मिनट बाद मुझे लगा मेरा होने वाला है, तो मेरी स्पीड बढ़ गई, चाची भी गांड उठा कर मेरा साथ देने लगीं. और फिर भाग कर ऊपर अपने कमरे में आ गया, छेद में से झांक कर देखा तो ऋतु कपड़े बदल रही थी नीचे जाने के लिए.

फाड़ दे आज मेरी चूत को… अहह्ह हाह… जोर से चोद… साले दम नहीं है क्या! अहह्ह मेरे राजा, मैं झड़ने वाली हूँ!फिर थोड़े धक्कों बाद मैं कांपती हुई शांत हो गई. अब मेरी चूत में जलन होने लगी तो मैंने यह बात रोहन को बताई तो उसने मेरी चूत से लंड निकाल लिया और मेरी गांड में डाल दिया. इतने में बबिता मेरे तरफ देख कर बोली- अच्छा सैम, मेरे लिए भी एक लिपस्टिक ला देना, पैसे मैं अभी दे देती हूँ.

तभी भाभी ने एकदम फ्री माइंड से पूछ लिया- तुम्हारी कोई गर्ल फ्रेंड है क्या?मैंने बोला- नहीं, मेरी किसी लड़की से कोई स्टोरी नहीं है, उसी बात का तो रोना है.

मैंने पूछा- खून कैसे?तो वो बोलीं- मेरे उनसे तो सील तक नहीं टूटी थी जो तुमने तोड़ दी…फिर क्या था एक बार और हुआ प्रोग्राम, उसके बाद मैं अपने घर आ गया. मैंने भी मौका ना गँवाते हुए कहा- चलिए आप कभी मेरे काम आ जाना, सिंपल!और हंस दिया. पूजा ने गहरी सांस लेते हुए कहा- ये सच में डिल्डो के मुकाबले कुछ ज्यादा ही है और इसे देखने में भी कितना मजा आ रहा है.

बिहार की बीएफ पिक्चरमैंने बड़ी उत्सुकता से पूछा- तो यहाँ से बाहर निकलने वाली सभी लड़कियाँ क्या चुदवाती हैं?वो बोला- अरे नहीं रे पगले, ज़्यादातर तो अपने दोस्तों के साथ ही होती हैं, हम तो कोई एक ढूंढते हैं, जो अकेली हो. अब वो मुझसे सट कर बैठ गईं और अपने बोबे मेरी बाजू से लगा कर रेडियो को देखने लगीं। मैं उनके सख़्त बोबे अपनी बाजुओं पर दबते हुए साफ़ महसूस कर रहा था.

नंगे सेक्सी व्हिडिओ

उसके लिए तो ये नई बात थी, बस वही उसको भारी पड़ गई और वो अपने चरम पर पहुँच गई. मुझे इस बात का आभास हो गया था कि छेद से मेरी बहन और और उसकी सहेली बारी-बारी से मुझे देख रही हैं. मैंने उनकी टाँगें खोल दीं और मेरा चिकना 7 इंच का लंड आंटी की चुत पर रगड़ने लगा।आंटी- ओईई.

आगे मेरी चुत ने और क्या क्या गुल खिलाए, यह जानने के लिए मेरी अगली कहानी का इंतज़ार करें. बॉस ने अपने सारे कपड़े फटाफट उतार फेंके और मेरे सिरहाने आकर मेरे गालों पर अपना गरमागरम लंड फिराने लगा. जो सोया हुआ था। मैंने अंदाज लगाया कि करीब 8 इंच का होगा। मैंने अन्दर जाने से पहले गिरने का नाटक किया और मेरे हाथ ने सीधे उनके लंड को पकड़ लिया.

फिर हम दोनों अलग हुए, मामा जी फ्रेश होने बाथरूम चले गये, मैं पूरे कपड़े पहन कर किचन में चाय नाश्ता बनाने लगी. दोस्तो, हमने तीनों कपल्स का एक वटसएप ग्रुप है, उसमें हम बहुत मस्त चैट करते हैं और एक दूसरे के पार्टनर को खूब चुदाई की बातें करके तरसाते हैं, ये समझो कि हम वहाँ खुल्लम खुली चुदाई चैट करते हैं जो कि हम तीनों कपल्स के बीच ही होती है. मगर अजय इनके अलग होते ही बिस्तर पर चढ़ गया और लंड गांड में पेल दिया।फ्लॉरा इस अचानक हमले के लिए तैयार नहीं थी मगर अजय ने उसकी कमर को कसके पकड़ा हुआ था, जिससे वो आगे ना गिर सके।फ्लॉरा- उफ़ जान लेने का इरादा है क्या सालों.

’‘मैडम आप सोई नहीं हैं, आप सो जाईये मैं सब देख लूँगा!’‘सुबह से तबीयत सही नहीं है इसलिए नींद नहीं आ रही है!’‘जा जाकर एक ठंडी बीयर ले आ!’‘क्या कह रही हो मैडम?’‘क्यों कुछ गलत कह दिया क्या… जा कर लेकर आ!’मैं नीचे जा कर थोड़ी दूर पर दूकान से एक बीयर की बोतल ले आया. मैं- आहह क्या मस्त चूसते हो तुम भाई बहन… काश तुम दोनों एक साथ इसको चूसते, यार तुम कहो तो आज सबीना को तेरे सामने ही चोद दूँ और तुम भी उसकी चूत और मेरे मस्ताना के मिलन का चाट कर आनन्द ले सकते हो.

गुलशन जी को लगा कि उनका लंड पैन्ट फाड़ कर बाहर आ जाएगा और सुमन को पता चल जाएगा कि उसका अपना बाप उसके जिस्म की गर्मी से पागल हो रहा है.

उसने कहा – ‘क्यो नहीं, चलो मेरे रूम में चलते है… राहुल मुझे अपने कमरे में ले गया. एक्सप्रेस बीएफऐसी ही लेटी रहने दो मुझे!’‘लेकिन अभी मेरा पानी तो निकला ही नहीं ना’ मैंने शिकायत की. बीएफ चुदाई सेक्सी मूवीअन्तर्वासना के पाठक पाठिकाओं को नमस्कार!मैं रसिया बालम आप पाठकों के लिये अपनी नई कहानी लाया हूँ. मुँह में पर्फ्यूम छिड़का ताकि बदबू ना आए और पापा को छोड़ने चला गया। तब पता लगा कि साथ में पूजा के पापा भी जा रहे हैं मगर तब भी उसने कोई सवाल ना किया और उनको छोड़ कर जब वो वापस आ गया तो उसकी नज़र दीदी और पूजा पर पड़ी, जो साइड में आराम से सोफे पर बैठी हुई थीं।संजय- अरे दीदी, आप इस वक़्त यहाँ? सब ठीक तो है ना और पूजा तुम अभी तक जागी हो क्या बात है?शारदा- अरे मैं लेकर आई हूँ यहाँ.

मैं बोली- नहीं, कॉल गर्ल नहीं चोदनी!कुछ देर तक सोचने का ड्रामा करके मैंने कहा- पीछे की लाइन वाले बंगले में मेजर इक़बाल की वाइफ फरीदा है, वो मेरी बहुत अच्छी सहेली बन गई है.

ऋतु ने सारा रस ऐसे पिया जैसे जूस पी रही हो और फिर वो खड़ी हो गई… उसका पूरा चेहरा भीगा हुआ था. मैडम घर में पजामा और कुरता पहनती है, और क्लिनिक में साड़ी पहन कर जाती है. वह शाम को मेरे आने से पहले ही धुले हुए सूखे कपड़ों को प्रेस करने के लिए धोबी को दे आती थी और मेरे घर आते ही मुझे चाय बना कर देती तथा रात के लिए मेरा खाना बना कर अपने घर चली जाती.

उसके बूब्स की बात तो पड़ोस में सभी आंटी करती थी क्योंकि ये बातें एक आध बार मैंने सुनी थी. पूजा- ऐसा कुछ नहीं होगा, चुदाई के साथ आप मेरी पढ़ाई का भी पूरा ध्यान रखते हो. उसने बताया- इससे एक तो सफाई रहेगी, दूसरे करते वक्त तुम्हें तकलीफ़ नहीं होगी, तीसरा तुम्हारा लिंग लम्बा तथा मोटा हो जाएगा.

एक्स एक्स एक्स देहाती वीडियो

दस मिनट तक चूसने के बाद पूजा का शरीर अकड़ने लगा और वो मेरे चेहरे को अपनी चूत में दबाने लगी. Sc की पढ़ाई हेतु भोपाल के एक प्रसिद्ध कालेज में प्रथम वर्ष में प्रवेश ले लिया. पर वो मेरे दोस्त की मम्मी थी इसलिए मेरे मन में कभी गलत इरादा नहीं आया.

अब मैंने अपने आप को पीटर के हवाले कर दिया और आँखें बंद करके गांड मरवाने का मजा लेने लगी.

बीच में एक दिन को ऋषिका का पति कुशल भी आया, वो भी स्मार्ट पर्सनालिटी का रंगीन तबियत का आदमी था तो तीनों ने साथ ही बाहर डिनर लिया… रात को देर तक तीनों गप्पें मारते रहे.

इस टाइम, सब ठीक तो है ना?गुलशन- अरे सब ठीक है, आज मेरी बेटी ने मुझसे बात नहीं की तो मेरा दिन अच्छा नहीं गुजरा. उसी रात डिनर के टाइम ऋतु ने मम्मी पापा से कहा कि उसकी सहेली पूजा कल रात यहीं पर रहेगी क्योंकि उनकी परीक्षाएं आ रही है और वो उसकी तैयारी करना चाहती हैं. सेक्सी बीएफ चुदाई वीडियो दिखाओथोड़ी देर हम लेटे, फिर मेरा लंड तैयार हो गया, मैंने उनकी चूत में अपना लंड रखा और एक झटका दिया पूरा लंड चूत में चला गया.

चाची बोली- बेटा अशोक, सब ठीक है न?मैं- हाँ चाची, सब ठीक है… कुछ दिन में ठीक हो जायेगी आप!फिर मैंने सीमा को कहा- सीमा दीदी, अब चाची को घर ले जाओ, मैं शाम में आकर देख लूँगा, और इंजेक्शन दे दूँगा!मैं रिक्शा ले आया और चाची और सीमा को घर भेज दिया. मैंने सोचा यही मौका है, मैंने उनके ब्लाउज से साड़ी हटाई और ब्लाउज के बटन खोलने लगा. शुरू में तो उसने ना ना की लेकिन मैंने प्यार से लंड पर उसी के हाथों शहद लगवाया फिर उसे लंड से शहद चटवाया; इस तरह उसकी लंड मुंह में लेने की झिझक मैंने दूर की.

अंत में बची लड़की की निगाहें जब मुझसे मिली तो वो हौले से मुस्कुरा दी और पीछे सर करके लेट गई. मेरे मुख में उसका चूचुक जाते ही उसके मुख से पहली सिसकारी निकली- आह प्रतीक प्लीज!और हम दोनों बेड पर गिर गए.

सुमन आ रही है वो सुन लेगी।अनीता- हाँ मेरी बातें तो आपको बकवास ही लगेंगी ना, अच्छा मैं चलती हूँ, मुझे तो नई ब्रा लेनी है, आप जाओ अपनी प्यारी बेटी के साथ।गुलशन- रूको तुम सही कह रही हो, सुमन को भी नई ब्रा-पेंटी ले लेनी चाहिए। मैं पानी लेकर वहाँ खड़ा हो जाऊंगा, तुम उसको साथ ले जाना और जो चाहिए उसको दिला देना।अनीता- ये हुई ना बात.

मैं समझ गई कि ये मेरे भाई का ही हाथ है। वो मेरे मम्मों को मसल रहा था।मैं खुद इस दिन का इंतजार कितने दिनों से कर रही थी. तुझे एक ना एक दिन किसी से तो शादी करके चुदवाना ही होगा, तो मेरे से क्यों नहीं? तेरी माँ को तूने देखा था ना. थोड़ी देर में मैंने सारा माल पेंटी में छोड़ दिया और पेंटी को साफ़ करके टाँग दी, थोड़ी देर बाद में नहाकर बाहर आ गया.

शिल्पी राज का बीएफ सेक्सी अब मैंने देखा कि चाची कुछ नहीं बोली तो मेरी हिम्मत और बढ़ गई, मेरा लंड टाईट हो गया था, मैं उसे चाची के हाथ के पास सटा कर चाची की चूची को दबाने लगा. हम ऐसे कैसे जाएँगे?काका ने उसको बता दिया कि आज कोई उठने वाला नहीं, फिर वो राधा को पकड़कर आराम से ले गया। इधर मोना और राजू अपने काम में लग गए थे।दोस्तो मज़ा आ रहा है ना.

कुछ लोग तो मुझे मकान का चौकीदार या मालिक समझने लगे थे।जो भी नए लोग आते, मैं उन्हें कमरे दिखाता और उनसे किराया लेकर मकान मालकिन को दे आता. मेरे भीतर से कुछ बह के निकल गया है जो मुझे हरदम बेचैन किये रहता था. अब मेरी जीभ मेरे होठों पर बाहर निकल आई और उसने भी भांप लिया कि मैं उसके लंड को चूसना चाहता हूँ.

एन एक्स सेक्सी वीडियो

दोस्तो, हमने तीनों कपल्स का एक वटसएप ग्रुप है, उसमें हम बहुत मस्त चैट करते हैं और एक दूसरे के पार्टनर को खूब चुदाई की बातें करके तरसाते हैं, ये समझो कि हम वहाँ खुल्लम खुली चुदाई चैट करते हैं जो कि हम तीनों कपल्स के बीच ही होती है. क्या गजब की गोरी और चिकनी गांड थी उसकी… मैं ताबड़तोड़ पीछे से चोद रहा था कि अचानक लंड फिसल कर बाहर आ गया और उसकी गांड में घुसने लगा. अब मैं भगवान से प्रार्थना करने लगा कि हे भगवान बचा ले… ये मेरे पीछे क्यों पड़े हैं और मुझसे क्या चाहते हैं… मेरे पास तो कुछ ऐसा है भी नहीं.

पर मैंने थोड़ा प्रेशर दिया तो मान गईं और मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर किसी लॉलीपॉप की तरह चूसने लगीं. फिर आबिदा ने कहा- अब मुझसे रहा नहीं जाता, प्लीज़ अब मुझे चोद दो जल्दी… प्लीज़ अब कंट्रोल नहीं होता!आबिदा ने अलमारी से कण्डोम का पैकेट निकाला और उसमें से एक कण्डोम निकालकर मेरे लंड पर लगाया.

वो उठकर जाना चाहती थी मगर मैंने उसे फिर से दबोच लिया और उसकी गर्दन व गालों पर चुम्बनों की झड़ी लगा दी।पिंकी कसमसाने लगी और ‘ओय… अब…बस्सस… बहुत हो गया… ह्हाँ…! प्लीज… छोड़ मुझे… अब जाने दे…’ कहते हुए अपने आप को छुड़ाने का प्रयास करने लगी मगर मैं कहाँ मानने वाला था अभी तक जो सुख मैंने उसको दिया था आज उसे सूद समेत वापस भी तो लेना था।कहानी जारी रहेगी.

मैंने सीमा को इशारे से माँ के प्रवचन सुनने जाने के बारे में पूछा, इशारा से ही सीमा ने भी नहीं जाने के बारे में बताई. इतने में बबिता भाभी बोली- सैम हेलो सैम, सो गया क्या?मैं बिल्कुल शांत पड़ा रहा. मगर दिन की रोशनी अलग ही होती है ना, कितना भी लाइट बुझाओ थोड़ा बहुत तो दिख ही जाता है।जैसा संजय ने कहा.

मैं भी मान गया, फिर मैंने शालू को बोला- तुमने मेरे साथ चीटिंग की है. दोनों मस्ती में होने लगे… वो चुसवाने की और मैं चूसने की!5-7 मिनट तक उसके लंड को मैंने खूब चूसा, कभी उसके आँडों को और कभी उसकी झाटों को… लेकिन वो था कि झड़ने का नाम ही नहीं ले रहा था. मेरी जीभ और होंठ उसकी बुर में रगड़ कर एक घर्षण पैदा कर रहे थे और मुझे ऐसा लग रहा था कि मैं किसी गर्म मखमल के गीले कपड़े पर अपना मुंह रगड़ रहा हूँ.

‘अंकल जी मेरे तो हाथ दुखने लगे… अब आप खुद कर लो जो करना है!’ वो अपने हाथ एक दूसरे से दबाती हुई बोली.

बीएफ सेक्सी हिंद: गोपाल- आह… बहुत अच्छे… हाँ ऐसे ही करो… आह… ओह नीतू तुम सच में बहुत अच्छी हो… तुम्हें एक नहीं… दो आईसक्रीम लेकर दूँगा. तुझे पसंद आए बस वो ले ले।बस फिर क्या था, उसने और भी कपड़े ट्राई किए, कुछ स्कर्ट्स भी लिए। सुमन के दिमाग़ में लन्दन की लड़की की इमेज थी तो उसने कुछ सेक्सी शॉर्ट स्कर्ट्स और टॉप भी ले लिए।गुलशन जी बस इधर-उधर घूम रहे थे, उनको नहीं पता था कि सुमन क्या-क्या ले रही है। जब काफ़ी देर हो गई तो वो सुमन के पास गए और उससे पूछा- कितना टाइम लगेगा?सुमन- बस हो गया पापा.

एक बार तो मन किया कि ये मेरी बाहों में नंगी ही तो पड़ी है, मैं भी कपड़े उतार के पूरा नंगा हो जाऊं और टांगें खोल के लंड पेल दूं इसकी चूत में… बुरा मानेगी तो मान जाय मेरी बला से. पहले तो उसे गुस्सा किया- इतनी रात को आया और ऊपर से पीकर आया है। तेरे पापा को पता लग गया तो पता है ना क्या होगा।संजय ने अपनी मॉम को मीठी-मीठी बातों से फुसला लिया, झूठ कह दिया कि दोस्त की बर्थडे पार्टी थी. क्या कड़क चूचे थे और एक बार उसकी स्कर्ट भी पूरी ऊपर को हो गई तो उसकी सफ़ेद पेंटी में छुपी उसकी फूली हुई चुत भी उसको दिखी। बस दोस्तों शैतान दिमाग़ में आने के लिए ये बहुत था।अब संजय गुदगुदी के बहाने उसके जिस्म से खेलने लगा.

बेचारी ने एक साल बाद आज चुदाई की है। एक साल में चुत चिपक कर सील बंद हो जाती है। फिर तुम सब के लंड है भी भारी-भरकम.

गोपाल- अच्छा ये बात है… तो चल अबकी बार अच्छे से दबा… और जहाँ मैं कहूँ, तुम वहीं दबाना… ठीक है!नीतू- ठीक है जीजू… आप बताओ कहाँ दबाऊं?गोपाल ने अपने ऊपर चादर डाल ली और नीतू को कहा कि हाथ अन्दर डालो और जैसे मैं कहूँ वैसे दबाती जा. और हम सुबह निकलेंगे तो एक बार सुबह भी वीट लगा लुंगी तो बिल्कुल चिकनी हो जायेगी। तुम आबू रोड आकर फोन कर लेना।मैंने कहा- ठीक है!फिर फोन रख दिया. ’‘आआआह… समीर आज मेरी प्यास बुझा देना… मुझे भी बहुत अच्छा लग रहा है.