देसी हिंदी बीएफ ब्लू

छवि स्रोत,रानी मुखर का सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

गांव घर की सेक्सी: देसी हिंदी बीएफ ब्लू, मेरा लंड पूरा नपा तुला आठ इंच लंबा और इंची टेप से लंड की गोलाई नापी जाए, तो ये पांच इंच मोटा है.

सेक्सी वीडियो फुल हड देहाती

अंधेरे में कुछ दिखाई तो नहीं दे रहा था अंदर मगर अपने हाथ से मैंने उसकी पैंटी को खींच कर उसे पूरी नंगी कर दिया. सेक्स हॉट सेक्सी वीडियोसाली, तेरी इतनी हिम्मत हो गई कि तू गैर मर्द को मेरे ही घर में बिस्तर पर ले आई.

मुझे यूं घूरता हुआ देख कर भाभी बोलीं- क्या हुआ … ऐसे क्या देख रहे हो … मुझमें कोई कमी दिख रही है क्या?मैंने पलट कर जवाब दिया- भाभी आप में कोई कमी ही तो नहीं दिख रही है, यही तो समस्या है. गांव की लड़कियों की नंगी सेक्सी वीडियोमैंने उनकी चीख पर ध्यान ही नहीं दिया और अपना बचा हुआ आधा लौड़ा दूसरे झटके में अन्दर घुसा दिया.

इसलिए मुझे घर और कॉलोनी में सभी लोग काफी भोला समझते थे और मैं था भी.देसी हिंदी बीएफ ब्लू: फिर उसने मेरे पीछे आकर उसने हाथ से अपने लिंग के सुपारे को पकड़ कर मेरी योनि में गपा दिया.

आपको मेरी यह लड़की की चुदाई कथा कैसी लगी आप मुझे ईमेल आईडी पर मैसेज करके बतायें.फिर कई मिनट तक मेरी चूत को चोदने के बाद उसने मेरी चूत में ही अपना माल छोड़ दिया.

छोटी लड़की को चोदा सेक्सी वीडियो - देसी हिंदी बीएफ ब्लू

हम दोनों कभी एक दूसरे को किस कर रहे थे तो कभी एक दूसरे को जोर से गले लगा रहे थे.फिर मैंने डॉली की चूत की तरफ अपना हाथ बढ़ाया और उसकी चूत पर अपना हाथ रख दिया.

साँसों को थामते हुए धीरे धीरे जब वो अलग हुए, तो लगा कि दोनों में किसी प्रकार की शक्ति बाकी नहीं रही. देसी हिंदी बीएफ ब्लू मैं- ओ हां … मैंने सुना था कि तेरा बॉयफ्रेंड था, जिससे तेरा ब्रेकअप हो चुका है … और ये जो वरुण है, उसके साथ तेरा कुछ है क्या?रुचि- अरे यार मेरा उसके साथ कुछ नहीं है … वो बस मेरा दोस्त है.

इसी बीच वो फिर से चार्ज हो गई और गांड उठा उठा कर लंड के मजे लेने लगी.

देसी हिंदी बीएफ ब्लू?

मैंने उसकी टांगों को फैला दिया और उसके चूचों को पीते हुए अपना लंड उसकी पानी छोड़ रही चूत पर रगड़ने लगा. फिर भाभी ने अपने कपड़े उतार लिये और नंगी होकर बल्लू की गोद में आकर बैठ गई. दूसरी बात ये कि निर्मला राजशेखर का संभोग में परस्पर साथ नहीं दे पाती थी.

उन्होंने मुझे यह करता देख कर पीछे धक्का दिया और कहा- मैं तेरी मॉम हूं. इस पर वो सुझाव देती है कि उसके पति यानि जो रिश्ते से मेरे देवर की भूमिका में था, उसके साथ संभोग करके अपनी कामेच्छा की पूर्ति कर ले. उन्होंने अपने मुँह में भरे मेरे लौड़े के पानी को मेरे होंठों से लगा दिया और मैंने भी उनकी चूत का पानी जो मेरे मुँह में था, दोनों का पानी मिल गया और सारा पानी लौड़े का और चूत का, मेरे मुँह में था.

चूंकि मैं अब अपनी ससुराल के शहर में था, तो मेरी बीवी अपनी माँ के साथ ज्यादा जाती रहती थी. मैंने कॉल किया, तो मेरे कुछ बोलने से पहले ही वह बोल उठी- कहां थे अब तक? कितने फोन किए … सुबह कुछ करने नहीं दिया, तो क्या नाराज हो गए?फिर मैंने उसे समझाया कि मैं नाराज नहीं हुआ हूं … मैं तुम्हारा ही वेट कर रहा था और मुझे कब नींद आ गई, पता ही नहीं लगा. लेकिन मेरे जोर देने पर फिर वो मान गई, बोली- अगर दर्द हुआ तो निकाल देना.

उस वक़्त काव्या मेरे सीने पर थी, उसकी चुचियां मेरे सीने पर दबी हुई थीं. मैंने उसकी बात को टालते हुए कह दिया कि इस बारे में हम कल बात कर लेंगे अब थोड़ी कैमिस्ट्री की पढ़ाई कर लेते हैं.

तो मैंने देखा उसका अंडरवीयर भी खराब था, उसने उतार दिया व धोकर सूखने डाल दिया.

एक दिन मैंने उनको देखा तो मेरा दिल आ गया उन पर … मैं उनसे प्यार करने लगा और सेक्स कमैंने अन्तर्वासना की कई कहानियां पढ़ी हैं, तो सोचा क्यों न अपनी कहानी भी शेयर की जाए.

मैं जब अपनी दुकान में बैठा हुआ था तो उस वक्त मेरे पास वर्मा जी आ गए।वर्मा जी हमारे कॉलोनी में ही रहते हैं, वे रिटायर हो चुके हैं. मैंने अपने कपड़े उतारने शुरू किये और किरण ने अपने कपड़े उतारने शुरू कर दिये. मेरी शादी के 4 साल बाद भी आज भी ऐसा लगता है, जैसे अभी भी हमारी नई नई शादी हुई है.

उसने मेरी तरफ देखा, तो मैंने उसके मम्मों को दबाकर बोला- जा कपड़े पहन ले. जैसे ही उन्होंने मेरे खड़े लौड़े को देखा, तुरंत ही लंड को अपने हाथों में ले लिया और सहलाने लगीं. उसके बाद मैंने फिर से उसको अपने नीचे ही लिटा लिया और ऐसे ही उसकी बुर की चुदाई करने लगा.

जब वो शांत हुई तो मैंने धीरे से उसकी चूत में धक्के देने शुरू कर दिये.

इसके बाद कुछ समय आराम करने के बाद जब मैं जागी, तो कान्तिलाल मेरे साथ सम्भोग करने को आतुर हो रहा था. इसके बात शुरुआत में हमने फोन पर बात करनी शुरू की, फिर न जाने कब हमारी वीडियो कॉल पर भी बातें होने लगीं, इसका अहसास ही नहीं हुआ. कभी मैं अपनी जुबान उसके मुँह में डाल देती और वो चूसता, तो कभी वो मेरे मुँह में अपनी जुबान डाल देता और मैं चूसती.

वैसे भी हम दोनों एक ही कॉलेज में पढ़ते थे तो मुझे इस बात के बारे में सोचने की ज्यादा जरूरत भी नहीं थी. उसने मेरी ब्रा फाड़ दी और मेरे बड़े बड़े मम्मों को अपने मजबूत हाथों से दबाने लगा. आप हमसे प्यार करती हैं तो आ जाना।वो कुछ नहीं बोली।मैं ऊपर इंतजार करने लगा.

दीदी की गांड फैलने लगी और धीरे-धीरे करके लंड को आगे धकेलते हुए मैंने उसकी गांड में लंड को घुसा दिया.

तो मैंने कुछ इंतजाम किया और उसे मैंने अपने शहर जाने वाली बस में बिठा दिया. मैंने दीदी के रूम में जाकर दीदी को बड़े प्यार से कहा- दीदी मेरे पास एक रास्ता है … जिसमें आपकी चूत को चुदाई का मजा भी आएगा और हम पैसे भी कमा सकते हैं.

देसी हिंदी बीएफ ब्लू मैंने अंतरा की चूत को सहलाया और अपनी बहन को नंगी करके चित लिटा दिया. कांतिलाल ने मेरे चूतड़ों को ऐसे चूमना और काटना शुरू कर दिया कि मेरी सिसकियां रोके नहीं रुक रही थीं.

देसी हिंदी बीएफ ब्लू जब पूरी साड़ी ऊपर तक आ गई तो मैं अपने पैरों को उसकी जांघों से घिसने लगा. उसकी चुसाई इतनी तेज थी कि अगर मैं उसको दो मिनट और न हटाता तो मेरा माल उसके मुंह में ही निकल जाना था.

मैंने उससे पूछा- मैं भी झड़ने वाला हूँ अपना माल कहाँ गिरा दूं?तो वो बोली- आज मेरी जिंदगी का सबसे खूबसूरत और यादगार दिन है आज तो आप अपना माल मेरी चूत में ही गिरा दो!यह सुनकर मैंने अपनी पिचकारी को उसकी चूत में ही छोड़ दिया और उसकी फुद्दी मेरे गर्म माल से भर गई.

माधुरी नंगी फोटो

शुरू में तो वो उसके लंड पर कूद रही थी लेकिन कुछ देर के बाद जब उनका सेक्स खत्म हुआ तो उससे चला भी नहीं जा रहा था. हम सब उन्हें देखकर जहां हंसने लगी थी, वहीं वो लोग हमें देख अचंभित होने के साथ कामुक भी होने लगे थे. रवि इतना अधिक उत्तेजित था कि उस झटके के पल भर बाद ही वो तेज़ी से धक्के मारते हुए आगे बढ़ने लगा.

फिर कुछ देर के बाद उसकी मॉम से बात करने के बाद इमरान और मैं ऊपर छत पर खेलने के लिए चले गये. वैसे भी आजकल अधिकतर सीजेरियन विधि द्वारा ही बच्चे का जन्म होता है तो कम से कम तीन महीने तो टांकों पर कोई जोर नहीं पड़ना चाहिए. जैसे ही लंड बाबा, चूत बेबी से टच हुआ, मेरी जानू ने अपने हाथ से पकड़ कर उसे रास्ता दिखा दिया.

मैं ऐसे बारी-बारी करने लग गया और आंटी भी जोर जोर से सिसकारियां लेने लेने लग गई।अब मैंने मेरे एक हाथ से आंटी की चूत को सहलाना शुरू कर दिया.

फिर मैंने बिना अंडरवियर के ही लोअर पहन लिया और नीचे जाकर खाना खाया और कुछ देर बाद फिर ऊपर आकर अपने कमरे में लेट गया।भाबी भी नीचे सारा काम निपटा कर दादी को खाना खिला कर और अपनी छोटी गुड़िया को और अपने आप खाना-वाना खाकर मेरे लिए एक गर्म दूध का गिलास उस में हल्दी डालकर लेकर आई. चूंकि उसकी चुत बहुत गीली भी थी, इसलिए मेरा लंड भी एकदम फिसलते हुए उसकी चुत में घुस गया. मगर जब उसने अपना लंड भाभी की फुद्दी में डाला, भाभी की तो चीख ही निकाल गई- अरे … आह उस्मान भाई धीरे!मगर उसे तो जैसे कोई जन्नत की हूर मिल गई हो और वो उसे जल्द से जल्द चोद कर अपनी हवस मिटा लेना चाहता था।बस दो चार घस्सों में ही उसने अपना लौड़ा भाभी की चूत में घुसा दिया। मोटा, लंबा और खुरदुरा लंड लेकर भाभी खुश थी।उस्मान तेरा औज़ार तो बहुत तगड़ा है.

लेकिन बाद में रात में सोते हुए जब मुझे बहन का नंगा जिस्म याद आता है तो अपने ऊपर शर्मिंदगी भी होती है कि मैं ये क्या कर रहा हूँ. डॉक्टर साहब मेरे करीब आये, मेरा मुँह खोलकर देखा और फिर अचानक मेरे होंठों पर अपने होंठ रखकर अपनी जीभ मेरे मुँह में डाल दी. और यहां तुम खुद ही मेरा लंड खाने लगीं?वो बोली- हां आई तो मैं इसी लिए थी कि आपसे अपनी बेटी को बचा लूँ, मगर जब आपकी वीडियो देखी, तो मैंने जाना कि मेरे शौहर के पास तो कुछ भी नहीं है.

एक दिन की बात है जब मां ने मुझसे अपने साथ मार्केट में चलने के लिए कहा. वो पिछले 10 मिनट से हमारी सारी कारस्तानी पर ध्यान लगा कर देख रही थी.

रवि अब राजेश्वरी के साथ संभोग कर रहा था और कमलनाथ कविता के साथ लगा था. थोड़ी देर हुई थी और अंगिका मेरे आधे शरीर पर मानो कब्ज़ा सा कर चुकी थी. लेकिन मुझे यह बात बहुत बुरी लगी क्योंकि मैं अपने पति को धोका नहीं दे सकती.

पर मैंने किसी तरह कंट्रोल किया। फिर मैंने जाकर बाथरूम में मुठ मारी और फिर उनके साथ खाना खाया और सो गया।फिर शाम को बुआ ने बताया कि उनके पैर और पीठ में दर्द हो रहा है.

अब वो लाइन अभी मुझे याद नहीं हैं इसलिए आपको नहीं बता सकता हूँ।फिर तभी मेरे को थोड़ी शरारत सूझी और मैं उससे यह पूछने लग गया कि क्या कभी उसने किसी के साथ चुम्बन किया है?तो उसने कहा- नहीं. इसलिए उनकी सास ने मेरी माँ से कहा कि राकेश को कुछ दिनों के लिए रात को सोने को भेज देना क्योंकि घर में बहू अकेली रहेगी।रात को खाना खाने के बाद मैं उनके घर चला गया. मैंने बोला- हां … मेरा लंड भी छह इंच का ही है, लेकिन मेरी टाइमिंग बहुत ज़्यादा है.

मैंने खेलना चालू किया, जिससे में खेलते खेलते दो हजार से बीस हजार तक पहुंच गई. मैं नजर नीचे करके चाय पीता रहा और वह मेरे सामने ही टेबल साफ कर रही थी तो उनके मम्मों के दर्शन होने लगे.

तभी मकान मालिक की आवाज आई और अलग होकर अपने कपड़े पहनने लगी और वहां से जल्दी से बाहर निकल गई. उसने मेरी पैंटी को जांघ के बगल से हाथ लगाकर एक तरफ कर दिया, जिससे मेरी चूत दिखने लगी. मैंने खेलना चालू किया, जिससे में खेलते खेलते दो हजार से बीस हजार तक पहुंच गई.

जी सेक्स वीडियो

अब तो मुझे एहसास होने लगा था कि मेरी योनि से पानी रिसते हुए मेरी एक टांग जो जमीन पर थी, उसकी जांघों की तरफ बहने लगा.

इसको तो अगर बाज़ार में बेचने जाएंगे, तो लोग कितने भी रुपये देने के लिए तैयार हो जाएंगे. मैं उसके मम्मों को अपनी जीभ से चाटने लगा ‘सर्र सरर … सपप्प पप्प …’ मैं उसके एक दोनों मम्मों को अपने मुँह में लेकर बारी बारी से एक एक करके चूसने लगा. जब उसने फोन रखा तो मैंने पूछा- क्या हुआ? सब ठीक है तो आपके घर में?वो बोली- मेरे घर में तो सब ठीक है.

फिर एक दिन की बात है कि मैं अपने दोस्त के रूम पर उसके साथ टीवी पर फिल्म देख रहा था. फिर मैंने उसकी चुत की फांकों में सुपारा फंसाया और एक इंच लौड़ा पेल डाला. सनी लियोन का सेक्सी पिक्चर वीडियोकुछ देर के लिए दीदी चुप हो गयी और फिर कहने लगी कि मुझ पर लाइन मारने का कोई फायदा नहीं है.

हॉट वाइफ स्टोरी में पढ़ें कि मेरी सेक्सी बीवी का गोरा रंग, मटकती गांड, तने बोबे देख सबके लंड अकड़ जाते हैं. सौ एकड़ जमीन थी उसकी लगभग। घर के आस पास बहुत सारे आम के बगीचे थे और बगीचे से बाहर खेत ही खेत थे.

उसके मुँह से लंड चूत चुदाई जैसे खुले शब्द सुनकर मेरे लंड को ताकत मिल गई थी. वो हल्के हल्के से अपने दांत मेरी पीठ पर गड़ाते हुए लिंग को थोड़ा बाहर निकालता और जोर से झटका मार देता. कुछ हल्के फुल्के धक्कों में उसका लिंग मेरी योनि में सरकते हुए मेरी योनि के भीतर जाने लगा.

दोनों अब एक दूसरे को पूरी ताकत के साथ पकड़ कर लंबी लंबी सांस ले रहे थे. अब वो मस्ती से सिसकारियां लेने लगी थी- उम्म्म … आह … उम्मम … ओहहमैंने अपने झटकों की स्पीड और बढ़ा दी. मैंने कंपाउंड गेट खटखटाया, तो चाची ने मुझे देखा और पूछा- आप कौन हैं?मैं- जी मैं राज का दोस्त हूँ.

मुझे ऐसा महसूस हो रहा था, जैसे जिंदगी की सारी खुशियां मुझे मिल गई हों.

वो मेरी तरफ देख कर हंस पड़ी- तुम बहुत बदतमीज हो … जगह का तो ख्याल किया करो. इन दिनों मैं फेसबुक का काफी ज्यादा इस्तेमाल करता था और गर्लफ्रेंड बनाने के लिए तड़फ रहा था.

रात में मैंने युक्ता और शोभा की चूचियों और चूत के बारे में सोच कर मुट्ठ मारी. विशाखा के मुँह से ‘उम्म्ह … अहह … हय … ओह … आहो उई उई’ की आवाजें निकल रही थीं. उनके जाते ही मैंने दरवाजे को कुन्डी लगाई और अन्दर आकर देखा तो प्रिया खाना बना रही थी.

हमारी बातें अभी खत्म भी नहीं हुई थीं कि 4 मर्द कमरे में आ गए और हम चुप हो गए. मॉम जोर जोर से आवाज निकाल रही थीं- आह आई … और जोर से दबा कर पी … आई … पी ले बेटा … यह तेरे लिए ही हैं. मैं कई दिनों तक चाची के घर में रहा लेकिन फिर हमको चुदाई का मौका नहीं मिल पाया.

देसी हिंदी बीएफ ब्लू उसका मूसल किस्म का लंड पहले झटके में ही आधे से ज्यादा चूत के भीतर चला गया. इस बीच उसने न जाने कितनी बार पानी छोड़ दिया होगा … कुछ मालूम ही नही चला.

भाभी वाली सेक्सी

उसके बाद वीजू वंदना के कमरे की तरफ गया लेकिन वंदना भाभी ने अंदर से दरवाजा बंद कर लिया था. मैंने उसको लंड चूसने के लिए कहा लेकिन उसने लंड चूसने से भी मना कर दिया. पांच मिनट बाद ही मेरे लंड से चुदते हुए वो सिसकारने लगी- आह्ह विक्की … आई लव यू … जोर से करो … मजा आ रहा है … आह्ह … आह्ह … उफ्फ … आह्ह। जानू चोद दे … आज से मैं तेरी हूं.

मैंने संगीता मेम को उठा कर अपने ऊपर लिटाया और उनकी चूत में मेरी जीभ दुबारा घुस गयी. वो बोली- भैया रहने दो ना प्लीज़।मैं कहाँ रुकने वाला था, आगे बढ़ते हुए मैंने अपनी जीभ उसकी चूत के दाने पे लगा दी।इतना कुछ वो बर्दाश्त नहीं कर पाई और मेरा लंड मुँह में लेकर चूसने लगी। जबकि उसने पहले ऐसा कभी नहीं किया था। वो पास में खड़ी होकर मेरा लंड चूस रही थी जबकि मैं लेटे-2 उसकी चूत को चाट रहा था।काफी देर तक हम दोनों इसी हालत में एक दूसरे के साथ मजे लेते रहे. छत्तीसगढ़ी चोदी चोदा सेक्सी वीडियोहम दोनों ही एक दूसरे की आंखों में देखे जा रहे थे। तभी अंकल ने एक उंगली मेरी गांड के छेद में लगा दी और रगड़ने लगे।मैंने अपनी आंखें बड़ी करते हुए अंकल की ओर देखा.

राज मेरे नीचे से बोल रहा था- पारुल जोर से कूद!वो जितना तेज करने को बोलता, मैं उतना ही जोर से उछलने लगती और जोर जोर से मेरी सिसकारियां निकल रही थीं.

उसके बाद मैं उठ गया और उसके मुंह को अपनी तरफ करके उसके होंठों को चूसने लगा. संभोग न केवल शारीरिक संतुष्टि के मार्ग था … बल्कि मानसिक तनाव से भी दूर करने का साधन था.

उसके बाद अरशी ने खुद ही अपने हाथ से मेरा लंड पकड़ लिया और अपनी टांगों को मेरी गांड पर लपेट कर मेरे लंड को अपनी बुर के छेद पर रखवा दिया. उनके दोनों चूतड़ जब थिरक रहे थे, तो ऐसा लग रहा था … मानो एक दूसरे से बातें कर रहे हों. भाभी बोलने लगीं- मेरे पति काम के सिलसिले में ज्यादातर बाहर ही रहते हैं और वे मुझे ज्यादा वक्त नहीं दे पाते हैं.

उन दोनों के लंड एकदम से तन कर भाभी के जिस्म में जैसे घुसने को बेताब लग रहे थे.

मैंने आंटी को अपना लंड मुंह में लेने के लिए कहा तो वो कहने लगी कि मुझसे लंड मुंह में नहीं लिया जायेगा. फिर उसने अपनी कुर्ती और पजामी उतारी और जब पजामी पहनने के लिए वो नीचे झुकी तो फिर से उसका ध्यान शायद चौकी के नीचे गया लेकिन उसने अनदेखा कर दिया. गर्भावस्था के नौ माह में महिला को तरह तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है.

सेक्सी ब्रा पॅंटी सेटअगर आंटी ने मेरी यह हरकत इमरान को बता दी तो शायद मैं इमरान के घर पर भी नहीं आ पाऊँगा उसके बाद। इसलिए मैं आंटी को सॉरी बोलने के लिए चला गया. कुछ देर बाद मैंने अपना हाथ डॉली की जींस में डाल दिया और उसकी चूत में उंगली करने लगा.

क्सक्सक्स बीफ

मेरी हालत ऐसी हो गई थी कि मेरे हाथ स्वयं कभी मेरे स्तनों पर … या योनि पर चले जा रहे थे. इतने में ही मेरी नजर गेट पर पड़ी। गेट पर उसकी ननद खड़ी हमें देख रही थी और अपने बोबे दबा रहा थी. मेरा जोश और ज्यादा तेज हो गया तो मैं और तेजी से उसकी चूत की चुदाई करने लगा.

भाभी ने उनका साथ देते हुए अपनी कमीज को हाथ ऊपर करते हुए निकलवा दिया. सबकी कामुक अवस्था देख मेरी उत्तेजना जरा भी कम नहीं हो रही थी, जबकि मैं फिलहाल अकेली थी. मेरा सोचना था कि उसकी मदमस्त चूचियों और उठी हुई गांड को देखकर कोई भी अपना लंड हिला लेगा.

मैंने उसकी बुर को हाथ से रगड़ा और अपना लंड उसकी बुर के मुंह पर लगा दिया और उसके ऊपर लेट गया. जैसे ही मेरा लंड अन्दर गया, मुझे ऐसा लगने लगा कि उसकी चुत में ज्वालामुखी फटने वाला हो. भाभी समझ गई कि उनकी गांड को चोदने की तैयारी हो चुकी है इसलिए वो उठने लगी लेकिन सोनू ने भाभी के सिर को पकड़ लिया और अपने लंड पर दबाते हुए उसको लंड चुसवाता रहा.

मैं पूरी तरह झड़ कर शांत होने लगी थी और कमलनाथ ने भी इसी वजह से शायद अपनी गति धीमी कर दी थी. इधर भाभी की गांड भी बल्लू के लंड पर उछलने के लिए बेताब हुई जा रही थी.

मैंने उनको एक नजर भरके देखा, उनको देखा क्या, बस ये समझ लो कि ब्लाउज के ऊपर से उनके बोबे खा जाने वाली नजरों से देखा.

क्या देखा था मैंने?दोस्तो, मेरा नाम अभि है और मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ. स्कूली लड़कियों के सेक्सीमां मुझसे कई बार अपनी ब्रा और पैंटी के सेट को दिखा कर पूछ लेती थी कि कौन सा रंग सही रहेगा और मैं मां की मदद भी कर दिया करता था. जान्हवी कपूर सेक्सी वीडियोकुछ देर चूत चाटने के बाद उन्होंने मुझे खड़ा किया और मुझे होंठों किस करने लगीं. आंटी की बड़ी सी काली चूत बेपर्दा होती हुई देख कर मेरे अंदर एक अलग ही रोमांच पैदा हो रहा था.

उसके कंधों को भी दांतों से हल्के हल्के काटा और धीरे धीरे किस करते हुए उसकी कमर तक पहुंच गया.

आंटी एक पल के लिए तो सकपका गईं, फिर उन्होंने अपनी ननद को कमरे में आने को कहा, वो गर्म लौंडिया कमरे में आ गई. मैंने अपने आपको रोकते हुए अपना लंड चूत से बाहर खींचा और देखा कि मेरे लंड पर हल्का हल्का खून लगा हुआ था. मैंने उसकी चूत को चूसना शुरू कर दिया तो वो मेरे बालों को सहलाने लगी.

पांच-सात मिनट तक उसकी चूत की चुदाई मैंने उसी तरह की और फिर मैंने उसको उठने के लिए कहा. फैमिली सेक्स की हॉट स्टोरी में पढ़ें कि कैसे मेरे परिवार में मैं और मेरी अम्मा ही थे. एक दिन इसी फिराक में मैं स्टोर रूम में पहुंच गया यह देखने के लिए कि वहां छिपने के लिए कोई जगह है भी या नहीं.

बिहारी छोडा छोड़ि

तभी एक पुलिस वाला आया और मौसी से बोला- नया माल लाई हो मौसी!ऐसा बोल कर उसने मेरी बीवी को खड़ा किया और उसके मम्मे दबा दिए. रमा और रवि लड़की के चाचा और चाची बन गए और मैं अकेली बची, तो मैं लड़की की माँ बन गई. 5 मिनट बाद वो भी मेरा पूरा साथ देने लगी, अचानक एक आवाज आई- उम्म्ह … अहह … हय … ओह … मैंने पलट कर देखा तो मेरा दोस्त शोभा की चूचियों को बाहर निकाल कर उसके निप्पल को जोर जोर से चूस रहा था.

मैंने उसकी गांड भी बहुत मारी अपने लंड से! मैंने उसकी बुर और गांड को कली से फूल बना दिया.

उसकी चूत की फांकों से रगड़ खाते हुए मेरे उस्ताद को आनंद की असीम अनुभूति होने लगी.

वहां काफी भीड़ थी, देर लगती देख पापा मुझे छोड़कर बैंक चले गए और कह गये कि तुम्हारा काम हो जाये तो मुझे फोन करना. रमा ने मुझसे कहा कि मैं यहां की खास मेहमान हूँ … इसलिए मैं ही केक काटूँ. सेक्सी फोटो सेक्सी वीडियो फोटोजिस प्रकार से वो धक्के मार रही थी, उससे उसके चूतड़ बहुत लुभावने दिख रहे थे.

उन चारों लड़कों ने उसे मेरे सामने ही किस किया और उसने भी ना नहीं बोला. अचानक मेरा पैर उसकी टांगों के बीच में चला गया और उसकी टांगों से टकराने लगा था. मैं तेजी से उसके बूब्स पर मुंह लगाकर चूसने लगा और उसने मेरे सिर को अपने स्तनों पर दबा लिया.

मैंने धीरे-धीरे मैक्सी को ऊपर उठाना शुरू किया और कमर तक मैक्सी ऊपर कर दी. उसने मुझे कांतिलाल के साथ ही रहने को कहा और फिर मुझे एक नए तरह के कपड़े दे दिए.

फिर एकदम से आंटी दरवाजा खोल कर अंदर आ गई और उन्होंने मुझे ब्लू फिल्म देखते हुए अपने लंड को हिलाते हुए देख लिया.

मेरा लंड भी पूरा कड़क हो गया था और अब मैं उसकी चूत मारने के लिए और ज्यादा इंतजार नहीं कर सकता था. एक दिन मैं कॉलेज में दोस्तों के साथ मस्ती कर रहा था, तो मेरा दोस्त रोहण भारद्वाज, मुझसे बात करने लगा. एकदम कैंची की भांति कांतिलाल ने अपनी टांगों को कविता के साथ फंसा लिया.

लंड चूत की सेक्सी हिंदी आंटी ने एक बार मेरे लंड की तरफ देखा और फिर बोली- मैं तुम्हारे लिए कुछ खाने के लिए लेकर आती हूं. मैंने उसके बदन को सहलाना शुरू कर दिया और उसने भी मेरे शरीर को सहलाना शुरू कर दिया.

मेरा ध्यान बस अब उसकी चूत की रसीली फांकों के बारे में ही जा रहा था. वो रोज करीब नौ बजे कॉलेज जाने के लिये निकलती है। मैं भी करीब उसी वक्त निकलता हूँ. घर पर खाना बनाने के लिए कोई नहीं था इसलिए नीलू मौसी को ही बुला लिया था हमने। जब वो हमारे घर पर आई तो मैंने उन पर इतना गौर नहीं किया.

एक्सएक्सएक्स hindi video

अपने लंड के सुपारे को उसकी चूत के मुँह पर सैट किया और हल्के से धक्का लगा दिया. उस समय मेरा कॉलेज शुरू होने वाला था और मैं घर पर उन दिनों फ्री ही रहता था. वो तुरंत उठ कर रसोई में गया और लैम्प जला कर दूसरे बेड रूम की ओर जाने लगा.

मेरे पास यही एक मौका था, तो मैंने शिफा के सारे चेहरे को चाट डाला और उसके ब्लाउज़ में हाथ डाल कर उसके मम्मे दबा दिए. वो जब-जब प्लेट में खाना डालने के लिए झुकती तो मैं भाभी के कबूतरों को अंदर तक ताड़ जाता था.

उसकी माँ भी मेरी तरफ देखती तो थी लेकिन उसकी तरफ से मुझे अभी कुछ इस तरह का कोई भी संकेत नहीं मिल पा रहा था जिससे कि मुझे पता लग सके कि वो भी मेरे साथ कुछ करना चाहती है या नहीं.

थोड़े इंतजार के बाद उसने मेरी योनि के मुख से सुपारा रगड़ा और फिर जोर के झटके के साथ लिंग फिसलता हुआ मेरी बच्चेदानी से जा टकराया. उसने मुझे सोफे पर बैठने को कहा और मुझे जांघें फैला कर योनि खोल देने का निर्देश दिया. उसके बाद मैं पूरा लंड पेल कर अपनी बहन अंतरा की झटके देते हुए चुदाई करने लगा.

मैंने जैसे ही परी की चूत में अपनी जीभ घुसाई, उसको तो जैसे करेंट लग गया हो … वो मस्ती से चिल्लाने लगी- आह … अब नहीं रहा जाता … घुसा दो … मेरी चूत में अपना लंड … फाड़ दो इसे … चोदो मुझे चोदो. फिर उसने मुझसे कहा कि मैं अभी कुछ देर कमरे में आराम कर लूं, फिर जब वो मुझे बुलाएगी, तब बताए हुए कमरे में जाना. मैं शुरू में तो थोड़ा शरमाई, पर बाकी औरतों के कहने पर मैंने हां बोल दिया.

निर्मला ने वहां रखी खाली बियर की बोतलों में पानी भर दिया और फिर उसे रस्सी से बांध दिया.

देसी हिंदी बीएफ ब्लू: मेरी कद काठी बहुत ही मस्त है, जिस कारण बहुत सी लड़कियां मुझ पर मरती भी हैं. मम्मी बोलीं- इतने से तेरे पापा की कमी पूरी नहीं होगी … तुम्हें बहुत मेहनत करनी पड़ेगी.

मुझे कविता ने छोटी सी बोतल में कुछ दिया और कहा कि शराब नहीं पी सकती, तो कम से कम फ्रूटबियर तो पियो. जब हालत ऐसे हों कि किसी भी तरफ से कोई भी आ सकता हो, तो पसीने छूट जाते हैं. मैंने उसकी चूत में अपनी जीभ को कुछ अन्दर तक डाल कर चाटना शुरू किया.

यानि कविता और कांतिलाल को पहली बार संभोग के दृश्य दिखाना था, जिसमें कुंवारी कविता और कांतिलाल का कौमार्य भंग होने था.

शकूर को इस बात का पता नहीं था कि उसकी बहन मेरे रूम में आकर मुझसे बुर चुदवाती है. मैंने पीछे भाभी की गांड के छेद पर लंड लगाया और उसकी गांड में लंड को धकेल दिया. मैंने बोला- तौलिया की जगह उसे तुम अपनी साड़ी खोल कर दे दो … उसी से पौंछ लेगा.