बीएफ फिल्म चुदाई करते हुए

छवि स्रोत,बीपी हिंदी सेक्सी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

421 का सेक्सी वीडियो: बीएफ फिल्म चुदाई करते हुए, दोस्तो, मैं संजू आर्यन कुमार एक बार फिर से आप लोगों के लिए एक नई और सच्ची कहानी के साथ हाजिर हूँ.

जंगल की बीएफ पिक्चर

मैंने अपने मम्मों को ढकने की भी नाकाम कोशिश की, पर अंकल को पता चल गया था कि मेरी क्या इच्छा है. ब्लू सेक्सी बीएफ वीडियोजाने से पहले मम्मी ने अंकल से कहा- हमे आपके साथ बहुत अच्छा लगा, बहुत मज़ा आया, कल की रात हमेशा याद रहेगी.

वो भी कहीं से तेल की शीशी उठा कर ले आयी और मेरी चूत की मालिश करने में जुट गयी. शादी के वॉलपेपरकुछ देर में जब वो कुछ नार्मल हुई, तो मैंने अपना लंड लगभग सुपारे तक बाहर निकाला, बस एक इंच लंड चूत के अन्दर रहने दिया.

मैंने कहा- सॉरी भाभी, आपका नम्बर सेव नहीं था इसलिए मैंने आपको पहचाना नहीं.बीएफ फिल्म चुदाई करते हुए: अचानक पिंकी जाग गई, मैंने फटाफट अपना हाथ बाहर निकाला और दूसरी तरफ मुँह करके सोने का नाटक करने लगा.

साउथ इंडियन सेक्स कहानी में पढ़ें कि मेरी जॉब चेन्नई में लगी तो मेरे रूम के पास रहने वाली एक हसीना मुझे पसंद आ गयी.अभी तक जिन लोगों ने चूत नहीं चाटी है मैं उनको बताना चाहता हूँ कि दुनिया का असली मज़ा चूत चाटने में ही है.

ತ್ರಿಬಲ್ ಎಕ್ಸ್ ಓಪನ್ - बीएफ फिल्म चुदाई करते हुए

हॉट बॉलीवुड सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैंने एक नई अभिनेत्री को डायरेक्टर के साथ उसका लंड चूसते देख लिया.एक बार तो मैंने ध्यान से उनकी चूत को देखा, फिर कपड़े के ऊपर से उनकी चूत पर अपना मुँह रख दिया.

गरम भाभी बस सेक्स कहानी का अगला भाग:जयपुर की मस्त चालू भाभी की चुदाई यात्रा- 4. बीएफ फिल्म चुदाई करते हुए मैंने फिर पूछा- रात को ऐसा क्या देखकर आई हो?सोनू कहने लगी- पापा ने मम्मी की बहुत जबरदस्त चुदाई की.

कितना सुहावना मौसम था, हम दोनों भाग कर एक पेड़ के नीचे खड़े हो गए और मैंने वहां उसे गुलाब का फूल निकालकर प्रपोज कर दिया.

बीएफ फिल्म चुदाई करते हुए?

जैसे ही निशा की चूत में एक उंगली डाली, वो ऊपर की तरफ हो गई और उसने एक जोर की सिसकारी ली. मगर मुझे बाद में पता लगा कि वो तो मेरे भाई की पूरी दीवानी बन गई थी चुदवा कर … और उसको कहा करती थी- अब तुम ही मेरे सैंया बनो शादी करके मुझसे. और मैं इधर सन्जू को किस करते जा रहा था।एकाएक मैंने सन्जू को नाईटी उतारने को कह कर उसकी नाईटी ऊपर से उतार दी, अब सन्जू की चूची पूरी तरह से नंगी थी और काफी आकर्षक लग रही थी, पूरी गोरी गोरी और टाईट, उसके निप्पल पूरे टाईट हो गये था।रोहित उसे कुछ देर निहारता रहा फिर उसकी एक चूची को अपने मुंह में डाल लिया.

यही सब सोच सोच कर मेरा मन मौसी की तरफ आकर्षित होने लगा और मैं मौसी को चोदने का सपना देखने लगा. अपने बाप की तारीफ सुन कर मैं खुश हो गया कि पापा भी चुदाई के माहिर खिलाड़ी हैं. मैंने सोनू की टांगों की तरफ जाकर दुबारा सोनू की टांगों को उसके घुटनों पर मोड़ा.

मैं धीरे धीरे उसके करीब जाने लगा और उससे बात करने की कोशिश करने लगा. मुझे देखते ही वो फिर से हड़बड़ा गयी थीं और पास में रखा टॉवल उठा कर खुद को ढक लिया था और गुस्से में बोलने लगी- यहां क्या करने आया? और आने से पहले दरवाजा नॉक करके अन्दर आना चाहिए था ना!मैं उनकी पैंटी की तरफ इशारा करते हुए बोला- सॉरी मौसी, पर मुझे नहीं मालूम था कि आप रूम में ये करने आई थीं. मेरे होंठ कल्पना भाभी के होंठों के साथ उलझे हुए थे और मेरा हाथ उनके चूचों पर था.

मुझे आंटी ने अपने पास बुलाया, मुझे बांहों में भरा, मेरे गालों को चूमा और बोलीं- बड़ा अच्छा गिफ्ट लायी है अपने अंकल के लिए, भारी चूतड़, भरी भरी चुचियां, मस्त माल है तेरी मम्मी. तभी आंटी ने कहा- अभी थोड़ा रुकना गौरव … मुझे कुछ सामान भी ऊपर रखवाना है.

अगले दिन हमारी आंखें मिलीं तो इस बार इन आंखों में एक अलग सा ही अहसास था.

एक दिन फिर से मैंने जब उसे किसी और तीसरे लड़के के साथ पकड़ा जो मेरा दोस्त था, तो मुझसे बर्दाश्त नहीं हुआ और हम दोनों अलग हो गए.

इस कहानी को मैं अपने पाठक की जुबानी ही आप सबके साथ साझा कर रहा हूं. वो मुझे वाशरूम तक ले गए और वाशरूम के दरवाजे पर खड़े होकर अपना हाथ आगे किया और बोले. घर दिल्ली के सबसे बड़े और मशहूर हॉस्पिटल के पास ही है इसलिए आसानी रहेगी.

मैंने कटोरी उसके हाथ से ली और कटोरी में जीभ डाल कर पूरे दूध को चाट गया. पजामी की साइड से उसकी बड़ी सी गांड देखकर मेरा लंड पेंट में ही उफान मारने लगा. उस समय ठंड के दिन थे, इसलिए खिड़कियाँ भी बंद थीं और वो रात का सफ़र था.

कुछ दिन बाद बहन के एग्जाम भी पूरे हो चुके थे, तो मम्मी ने कहा- जाओ, अपनी दीदी को घर ले आओ.

मैं- चलिये तो फिर आप मुझे अपनी इच्छा बता दो, हो सकता है कि आपकी इच्छा पूरी करने में मैं आपका साथ दे दूँ. मैं अपने दोनों हाथ बीवी के चूतड़ों पर रखकर उसकी चुत को आराम से चोदने लगा. मैंने भी हां कहकर उनको गोद में उठाकर उनसे पूछते हुए उनके रूम में ले गया और वहां जाकर मैंने उनको बिस्तर पर गिराते हुए झट से उनके ऊपर चढ़ गया.

मैंने सच में उससे इस वक्त भी यही झूठ बोली, तब वह और मुझे कस के पकड़ के रगड़ने लगा. दरअसल बहुत दिनों के बाद इतने मोटे लंड से चुदने के कारण मेरी चूत से खून बाहर आ गया था. उसके पास बाइक थी और मैं उसके पीछे लड़कों की तरह से बैठ गई और हर झटके पर जानबूझ कर अपने मम्मों हो उसकी पीठ पर दबा देती.

मेरे 12वीं के पेपर खत्म हुए, तो गर्मी में अपने मामा के घर घूमने गया था.

मैं मम्मी मम्मी चिल्लाने लगी … तेजी से रोने लगी, पर आशीष ने मेरी गांड में अपना लंड रगड़ना और अन्दर बाहर करना जारी ही रखा. इस कारण उनकी चुत टाइट थी, मेरा मोटा लंड चुत में घुस ही नहीं रहा था.

बीएफ फिल्म चुदाई करते हुए कुछ देर तक जब उनकी तरफ से कोई हरकत नहीं हुई तो मैंने हिम्मत की और काम पर लग गया. फिर उसने मुझे सीधा खड़ा कर दिया और थोड़ा नीचे झुक कर अपने सीने को मेरे दूध तक लाया और अपने दोनों हाथ मेरी पीठ पे ले जा कर मुझे अपनी ओर खींचा.

बीएफ फिल्म चुदाई करते हुए नमस्ते दोस्तो, मैं कुमार सोलापुर से आपके लिये हमारी पति पत्नी की चुदाई की और एक नई सच्ची कहानी लेकर हाजिर हुआ हूँ. ”सोनम, लण्ड के रस में ही असली मज़ा है मेरी जान इसी से चेहरे पर निखार आता है और जवानी और खिल उठती है; तूने देखा तो है कि शादी के बाद लड़की कैसे खिल उठती है.

मैं उठ कर बैठ गयी और अंकल जी का लण्ड पकड़ लिया और इसकी फोरस्किन पीछे करके सुपारा बाहर निकाल कर हिम्मत जुटाई और अपने होंठ सुपारे पर रख दिए.

कुरान की सेक्सी

मेरे साथ मेरी तीनों बीवियां, सारा, ज़रीना और दिलिया थीं लेकिन सारा तो फ्लाइट में भी मुझे छोड़ने को तैयार नहीं थी. बल्कि भाभी को इतना मजा आ रहा था कि वह बड़े भैया के चूतड़ों को पकड़ कर अपनी गांड की तरफ धकेल रही थी. उसे देख कर लग ही नहीं रहा था कि ये शादीशुदा होगी या इसकी बेटी होगी.

थोड़ी देर चुप रहने के बाद और मेरे द्वारा दो तीन बार हाथ दबाने के बाद उसने बोलना शुरू किया. मैंने उसके चूतड़ों को अपने हाथों से सहारा दिया और उन्हें ऊपर नीचे करते हुए धीरे-धीरे सोनू को अपनी गोद में पूरा लंड फिट करके बैठा लिया. पाँचेक मिनट बाद अचानक वसुन्धरा ने अपने दोनों घुटने मोड़ कर अपनी दोनों टाँगें दाएं-बाएं फैला ली और अपने दोनों हाथों से मुझे आलिंगन में ले कर मेरी पीठ पर अपने दोनों हाथ कस दिए और मेरी ताल से ताल मिलाने लगी.

मैं पोर्न देखने में इतना तल्लीन हो गया था कि मुझे पता ही नहीं चला कि कब भाभी रूम के अन्दर आ गईं.

इसके बाद आशीष ने मेरी पिछवाड़े में हाथ लगाकर मुझे सीधे लिटा दिया और अब अपने हाथों से आशीष मेरे दोनों टांगों को चौड़ा किया. इस इन्सेस्ट कहानी के पहले भागतलाकशुदा माँ की अगन-1में आपने पढ़ा कि कैसे मैंने अपनी माँ और भी को सेक्स करते पकड़ा. मैंने भाभी से कहा- भाभी, ये तो ग़लत है, अपने मुझे नंगा कर दिया और आप कपड़ों में बैठी हो.

अचानक ही उसने मेरे सिर को जोर से अपनी चूत में दबा लिया और उसका बदन अकड़ना शुरू हो गया. ’हम तीनों ने अपनी चुचियों, जांघों, चूतड़ों, चूत और गांड पे उनका माल लगा लिया. मैं नहीं चाहता था कि अजय मीना के सामने आये और अजय को देख मीना बिना चुदे ही चली जाए.

मैंने उसके चूचों को ब्रा के ऊपर से ही क्लीवेज पर से चाटना शुरू कर दिया. अजय बोला- बस राज भाई, आज मेरा सपना साकार कर दो, बहुत तमन्ना है मेरी अपनी बीवी को किसी और से चुदवाते हुए देखने की! उसकी मस्त सिसकारियाँ सुनते हुए अपना लंड हिलाने का मेरा सपना आज पूरा कर दो.

तो अजय ने बताया कि उन दोनों ये पहले कभी नहीं किया, उनका पहली बार है, होटल में मीना उतना सुरक्षित नहीं महसूस करती जितना घर पर होगी. मैंने अंदर गये हुए लंड से पूजा की गर्म-गीली चूत की पूरी फील लेते हुए लंड को धीरे-धीरे अपने बेचैन तने हुए लौड़े को अंदर-बाहर किया तो आनंद के सागर में डूब गया. अगले ही पल मैंने उसकी शर्ट के सारे बटनों को खोल दिया और उसके एक चुचे को अपने मुँह में ले लिया.

सलोनी- पर आज तक मेरे से किसी ने कहा क्यों नही? मेरा भी दिल करता था कि कोई मेरी तारीफ करे.

फिर अपना दांया हाथ बीवी के गोरे चूतड़ों पर रख कर बांये हाथ से अपनी पैन्ट और चड्डी को एक साथ निकाल दिया. उसके बाद जब तक विशाल भैया वापस नहीं आये भाभी मेरे लंड से मजे लेती रही. कुछ देर में एकदम से अकड़ गई और शायद झड़ गई, लेकिन मैं धकापेल चुदाई में लगा रहा.

भाभी की नजरें मेरे लंड के उभार पर थोड़ी सी रुक गईं क्योंकि मैंने अंडरवियर नहीं पहना था तो लंड का पूरा आकार साफ़ दिख रहा था. मैं मामी को खींच कर अपने ऊपर ले आयी और अपने ऊपर लेटा लिया और उनकी दोनों चूचियों को बाहर निकाल लिया.

पहली बार के रोमांस की मेरी कहानी में अब तक आपने पढ़ा कि मेरी सहेली सोनम ने मेरी आशीष से बढ़ती आशिकी को समझ लिया था. मैं आपका रवि खन्ना, एक बार फिर हाजिर हूँ अपने जीवन की सच्चाई के साथ. छह फिट की हाइट और कसरती बदन, चौड़ा सीना और सपाट पेट की वजह से वह अपनी उम्र से ज्यादा यंग दिख रहे थे.

राजस्थानी सेक्सी राजस्थानी वीडियो

मैंने उनसे पूछा कि क्यों झड़ गईं … औरत तो इतनी जल्दी नहीं झड़ती है?उन्होंने कहा- अगर तेरे जैसा कोई चूत चाटने वाला मिले तो मैं क्या कर सकती हूँ.

वैसे ही उसके मुँह से तेज तेज आह … निकलता हुआ मुझे बहुत अच्छा लग रहा था. इस घटना के बाद मैं हमेशा मौके की तलाश में रहने लगा कि कब मौका मिले और मैं मौसी को फिर से वैसे ही देख सकूं. मैं मस्ती के सागर में पूरी तरह डूब चुकी थी और अब किनारे तक जाना चाहती थी.

पानी निकलने के बाद भी वो बस चुत चाट रहा था तो मैं कुछ ही देर में फिर से गर्म हो चुकी थी. एक दिन ऊपर वाले ने मेरी हालत को समझा और मुझे चुदाई के सुख से रूबरू करवा दिया. मराठी चूत की चुदाईजैसे ही मेरी बीवी मुझ पर बैठ गई, मेरा पूरा लंड उसकी गांड में घुस गया.

नींद में भी उसकी गांड जवाब दे रही थी और मेरी उंगलियों की मसाज से अपना सिकुड़ा हुआ मुंह फैला देती थी. सरिता कुछ जोर से सीत्कारने लगी- ऊंई मां आआ … हा हा हं हुं हर्षद आहिस्ता डालो ना … मुझे दर्द हो रहा है.

उसने भी मुझे और मेरे खड़े लंड को देखा और शरमा कर मुझसे दोबारा लिपट गयी. दीदी अपनी टांगें पूरी खोल कर मेरी जीभ से चूत चटाई का मजा ले रही थी. सच कहूं तो मुझे ये सब करने में डर लग रहा था लेकिन मजा भी बहुतआ रहा था.

पिंकी भी अमर से ऐसे लिपट गई जैसे कोई सांप किसी पेड़ के तने पर लिपट जाता है. सन्जू की चूची का कुछ भाग ही उसके मुंह में आया क्योंकि वो बड़ी-बड़ी थी।अब रोहित चूची को जैसे पीने ही लगा और मैं सन्जू को लगातार किस करते जा रहा था, कभी उसके होंठ, कभी जीभ, कभी गर्दन, कभी कान पर और सन्जू पूरी आहें भर रही थी।रोहित लगभग 5 मिनट तक सन्जू की दोनों चूची को जीजान से चूसता रहा. इस बार उसने मुझे जल्द ही चोद कर लंड झाड़ दिया और हम दोनों का पानी निकल गया.

उसके बाद जब तक विशाल भैया वापस नहीं आये भाभी मेरे लंड से मजे लेती रही.

इसके बाद मैंने अपने दोनों हाथ उनके पायजामे की इलास्टिक पर रख दिए और उसमें अपनी उंगली फंसा दीं. जब तक मैं उनके मायके के घर पर रहा, मैंने उनको बहुत बार चोदा और उनको अपनी चुदाई से संतुष्ट किया और उसके बाद मैंने उनको कई बार अपने घर पर भी चोदा और बहुत मज़े किए.

लंड को रगड़ रगड़ के सहलाते हुए लंड की सफाई होने से मुझे ये लग रहा था कि कहीं मेरा पानी उनके मुँह पर न फिक जाए. इस दौरान मैं सोनू को जगह-जगह पर चूमता रहा, इससे उसको पूरी संतुष्टि मिल गई. दुनिया की नजर में तो मैं सीधा-सादा लड़का हूँ मगर चूतों का दीवाना हूँ.

मैं- इसे कुछ कहते भी हैं या बस इशारे में बताते है इसके बारे में?कल्पना- पुसीउसने इंग्लिश में नाम बताया. जिससे मीरा से बर्दाश्त नहीं हुआ और उसने अपनी सारी शर्म छोड़ कर अपने एक हाथ से रितेश का लंड उसके पैन्ट के ऊपर से पकड़ लिया और उसे बाहर से ही सहलाने लगी. दोस्तो, मुझको देखने से लगा जैसे उसकी चूत उसकी नाभि से लेकर उसकी गांड के छेद तक चिरी हो.

बीएफ फिल्म चुदाई करते हुए उन्होंने मुझसे पूछा- तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है?मैंने मना कर दिया, तो वो बोलीं- तभी. कल्पना- कहां?मैं समझ गया कि ये क्या सुनना चाहती है मेरे मुँह से, फिर भी मैंने भी उन्हें और तड़पाने का सोच लिया- अभी थोड़ी देर पहले ही आपने बोला ना कि आपके पैरों के बीच दर्द कर रहा है, तो वहीं सिकाई करनी पड़ेगी ना.

राधा वाला सेक्सी वीडियो

फिर डॉक्टर ने स्टेथोस्कोप से उसको चैक किया और कहा कि मैं तुम्हें एक दवाई लगा देता हूं. मौसी भी मेरे पति की तरफ आकर्षित हो गईं। उसके मन में आया कि जब मैं रीमा के पति का लण्ड अपनी बुर में क्यों न पेलूं? मैं तो पेलूँगी।शाम को मैंने मौसी से कहा- यार, आज मैं तेरे पति का लण्ड पियूँगी।वह बोली- मैं भी तेरे पति का लण्ड पियूँगी. वे बोलीं- मैं भी देखूं क्या पढ़ता है तू?मम्मी ने नाइटी के ऊपर स्वेटर पहना हुआ था.

लेकिन भाइयो, क्या मम्मे थे उसके … साले एकदम मुसम्मी जैसे गोल और कड़क थे. मैंने कहा- आंटी कहिए ना, मैं आपके लिए क्या कर सकता हूँ?आंटी ने कहा- बेटा तेरा दोस्त आजकल बहुत उदास रहता है और हमें कुछ बताता भी नहीं है. बीएफ दिखाइए हिंदी वीडियोअब मैं खुद को थोड़ा एडजस्ट करके अपने दांतों से उनकी पैंटी के इलास्टिक को पकड़ लिया और धीरे धीरे नीचे सरकाने लगा.

लगभग 5 मिनट तक एक दूसरे को चूसते रहने के बाद जब दोनों की सांसें चढ़ने लगीं, तब हम अलग हुए.

तू मेरी बात लिख ले, तेरे से ज्यादा गंडमरी लंड लेने वाली गांड चुदवाने वाली दूसरी कोई नहीं होगी. उनको लगा था कि मैंने उसके सामने नंगी होने का ड्रामा किया था ताकि अंकल मेरी पैसे से मदद कर दे.

उसने बोला- मेरे पापा ने आपको क्या पैसे दे दिए?मैंने कहा- नहीं … कोई बात नहीं, नहीं देंगे, तो भी चलेगा. मैं तो पूरा गर्म हो चुका था और उसके होंठों का रस पीने में मग्न हो चुका था. लंड बीवी के थूक से काफी चिकना हो गया था, इसलिये मेरा लंड मेरी बीवी के चुत में झट से पूरा अन्दर तक घुस गया.

साउथ इंडियन सेक्स के बाद अब उसने अपने कपड़े पहने और मैंने भी अपने बॉक्सर और टी-शर्ट को पहन लिया.

मैंने इधर एक दूसरी कंपनी ज्वाइन कर ली और इस कंपनी ने मुझे वहीं एक सोसाइटी में रहने की लिए फ्लैट दे दिया. मेरी जवानी की कहानी के दूसरे भाग में आपने पढ़ा कि मेरी चूत में उंगली करने के बाद सर ने मुझे पेपर करने की परमिशन दे दी थी. उसने मेरा एक हाथ से मुँह दबा दिया और मेरी टांगें चौड़ी करने लगा कि तभी कोई आदमी टॉर्च लिए उधर से आ रहा था.

सेक्स ऑंटी सेक्स ऑंटीवो वही स्टूल पे बैठ गया और मैं भी बेड से पैर लटका के बैठ गयी।मैंने कहा- घर तो बहुत अच्छा है, अच्छा सजाया हुआ है. इसका असर हमेशा हमारे मंथली बजट पर पड़ता, इसलिए नितिन हमेशा कमाई बढ़ाने के लिए प्रयास करता रहता था.

सेक्सी वीडियो छोड़ै

आह्ह … क्या गुलाबी चूत थी साली की!मैंने उसकी टांगों को थोड़ी सी खोल कर देखा तो उसकी चूत का मुंह खुल गया जिसमें से गीला पदार्थ बाहर आ रहा था. कुछ ने सुधार करने के लिए भी कहा जिसका मैं उन सभी मित्रों का हृदय से आभारी हूं. रूम में जाते ही जागृति मेम ने रूम बंद किया और हम दोनों किस करने लगे.

वो भी एक अच्छी आदर्श महिला की सोच को समझती हुई उन असहाय और मजबूर महिलाओं के साथ मेरा सम्भोग करना जायज मानती हैं. मैंने सोचने लगा कि अगर सफल हो गया, तो मौसी की चुत मिल जाएगी और अगर फेल हो गया था, तो देखा जाएगा. भाभी मेरे सामने बहुत बार इशारे करतीं, मुझे छू लेती थीं, पर तब भी मेरे दिल में उनके लिए कोई ग़लत ख्याल नहीं आया था.

उसे शायद यह सब करना ठीक नहीं लगा लेकिन मेरे समझाने पर वह समझ गई और फिर मान गई. तू खुद ही चली आई, वो भी ऐसा मौका दे दिया कि मैं अपनी इच्छा पूरी कर लूं. वो झट से मेरी कमर के दोनों तरफ टांगें डाल कर ऐसे बैठ गई, जिससे मेरा लंड उसकी चूत से रगड़ने लगा.

मेरा लंड हल्का सा केले सा मुड़ा हुआ था और उसका सामने वाला गुलाबी टोपा आगे से नुकीला था. मैंने सोनू की चूत को देखा तो पता चला कि उसने चूत के जो रोयें थे वे भी साफ कर रखे थे और उसकी चूत आज कुछ थोड़ी सी फूली हुई लग रही थी.

पति के सामने जेठ जी का लंड चूसने में शर्म तो आएगी ही।वीणा की इस बात पर हम चारों की हँसी एक बार फिर कमरे में गूंज उठी।मैं- तो ठीक है.

मैंने धीरे से उसकी गांड को अपनी हथेलियों में लेकर हाथों में भरने की कोशिश की और धीरे से उसके नर्म चूतड़ों को दबाने लगा. वीडियो सेक्सी चुदाई वीडियोमैं बेड पर जाकर उसके चूचों पर टूट पड़ा और उनको दबाते हुए उसके होंठों को चूसने लगा. गांड मारते हुए बताइएअगर अब ये मेरी सच्ची कहानी आशीष भी पढ़ेगा, तो उसे मैं जो कभी नहीं बतायी, आज बता दे रही हूं कि मेरी सील कब और कैसे टूटी. हम फिर किस करने लगे, कभी मैं उसका ऊपर का होंठ चूसता कभी नीचे का तो कभी जीभ से जीभ मिला कर जीभ चूसते.

’मैंने अंकल का लंड मुँह में लिया और उनके चूतड़ों को अपनी बांहों के घेरे में ले लिया.

मैं कभी उनके मम्मे को सहलाता, तो कभी मसल देता और मुँह से भी कभी प्यार से चूसता जाता, तो कभी हल्के से काट लेता, जिससे उनकी कभी तेज स्वर में सिसकारियां निकल जातीं, तो कभी आह निकल जाती. उसकी गांड को मैंने कैसे चोदा उसके बारे में मैं अपनी अगली कहानी में बताऊंगा. निशा बोली- अभी नहीं, शिल्पा को अच्छे से सो जाने दो … अभी ऐसे ही काम चलाओ.

मैं अब नीचे सिर्फ़ कच्छी में खड़ी थी और अगले ही पल कच्छी भी नीचे सरक गयी. पर आजाद मम्मे रखने का मतलब था, मर्दों को खुली दावत … इसलिए मैंने ब्रा पहनना तय किया. मैं नींद में होने का नाटक करते हुए बोला- ह्म्म्म, क्या हुआ?मौसी- थोड़ा उधर सरको, मुझे भी यहीं सोना है, बाकी कहीं जगह ही नहीं है.

सेक्सी वीडियो इंडियन जबरदस्त

उसकी चीख निकलने से पहले ही मेरे मुँह के ढक्कन ने उसकी चीख को दबा दिया. बस दो प्यासों की तरह एक दूसरे की जिस्म की अग्नि को बुझाए जा रहे थे. उसने मुझे अपने दोनों पैरों से लॉक कर लिया और ऊपर नीचे होकर मेरा साथ देने लगी.

उस वक्त ऐसा लग रहा था कि मेरी बहन कितनी मादक है जो अपने भाई को इतना मजा दे रही है.

मैंने अस्पताल पहुंच कर रिया को सहारा देकर नीचे उतारा और कहा- तुम यहीं रुको … मैं कार पार्क करके आता हूं.

धीरे-धीरे वह इसकी आदी होने लगती है और वहीं से मर्द और औरत के जिस्मानी रिश्तों में मिठास कम होता चला जाता है जो वक्त के साथ बिल्कुल ही खत्म हो जाता है. टीवी में एक लड़का लड़की के ऊपर चढ़ा हुआ था और वो दोनों सेक्स कर रहे थे. सेक्सी बीएफ एचडी हिंदीजैसे ही वो अपने सूट को उतारने को हुई, वैसे ही दरवाजा खटखटाने की आवाज़ आयी.

फिर मैंने सुषी के आंसू पोंछ दिये और उसको फिर से किस करना शुरू कर दिया. वह सही वक्त पर पार्क में आ गई और उसके पार्क में आते ही मौसम ने भी हमारा बहुत साथ दिया. उसने मेरी तरफ देखा और धीरे से अपनी जीभ मेरे गुलाबी नुकीले टोपे पर फेरी.

तो मैंने बोला- भाभी, जल्दी से झोटे का डंडा पकड़ कर लाइन में लगा दो. उसके पास बाइक थी और मैं उसके पीछे लड़कों की तरह से बैठ गई और हर झटके पर जानबूझ कर अपने मम्मों हो उसकी पीठ पर दबा देती.

परंतु बाद में धीरे धीरे वो अब लंड को गपा गपा करके पूरा अन्दर लेने लगी थीं.

वहां सोनम, उसकी बड़ी मम्मी की बेटी थी और एक और सोनम की पड़ोस की लड़की थी. उसके बाद ना जाने मैंने अपनी देसी गर्लफ्रेंड की कितनी बार मेरे रूम पर … और उसके घर पर चुदाई की, खूब मजे लिए. टी आ गया क्या? फिर बातों ही बातों में पता चला कि उसको भी भुवनेश्वर जाना है कोई एग्जाम देने, दोस्तो बहुत काली थी वो, पर उसमें एक नशा था.

वीडियो एचडी बीएफ उसकी चमड़ी इतनी नर्म, मुलायम, नाजुक और पारदर्शी थी कि उसकी फूली हुई नसें साफ़ नज़र आ रही थीं. उन्होंने जल्दी से अपनी चैन खोली और अपना गोरा मोटा लंड बाहर निकाल लिया.

तुम जब हर रविवार को हमारे घर पर आते हो तो तुम्हें देखते ही मेरी चूत बिलबिलाने लगती है. मेरी भाभी, हमारे सामने वाले घर में रहती थीं, उनका हमारे यहां आना जाना लगा रहता था. सोनल के मुँह से लौड़े पर बैठने का सुनकर मेरे लौड़े ने एक बार तुनकी मार कर ख़ुशी जाहिर की कि शायद उसका नम्बर चूत में घुसने का आ गया है.

औरत औरत सेक्सी वीडियो

इन्दु- मुझसे भी ज्यादा जरूरी काम है क्या?मैं- नहीं यार, लेकिन शादी वाले घर में सौ काम होते हैं।मैं अब ये सोच रहा था कि शारदा चाची और उनका भाई अकेले स्टोर में क्या कर रहे होंगे. अगर मैं अपना हाथ पर मुंह पर नहीं देती तो शायद मेरी इतनी जोरदार चीख निकलती कि पूरी बस के गोरे रात को 3: 00 बजे जग जाते. उसका हाथ जैसे ही मेरी चूत पर आया, मेरे मुंह से एक जोर की आह हह की आवाज निकल गई.

वो बोले- कितने दिन से गांड नहीं मरवाई है?मैंने कहा- इस बार काफी लम्बा समय हो गया है और मैं बहुत ज्यादा प्यासा हूँ. फिर वो मेरे पास आयी और बोली- क्या हुआ?मैंने उससे कहा- कुछ नहीं यार मैं तो घायल हो गया हूँ.

वो जोर-जोर से सीत्कारने लगीं- हां आह आह मजा आ गया … औरजोर से चोदो मुझे… आंह और तेज और तेज़.

इधर काम-संवेदनाएँ फिर सिर उठाने लगी थी और मेरे लिंग में फिर से तनाव आना शुरू हो गया था. सबको खुली छूट मिलेगी ना अब तो?” मैडम ने शिकायती लहजे में सर से कहा।सर ने हंसते हुए अपना पूरा जबड़ा ही खोल दिया- हा हा हा … आप भी कमाल करती हैं मैडम … ये सेंटर और आपको कभी भूल सकता हूँ क्या? यहाँ तो मुझे तोहफे पर तोहफे मिल रहे हैं. उस रात सुबह तीन बजे तक हमारी चुदाई चली।उसके बाद पूजा की चूत की पूजा करने के लिए मेरे वासनामयी लौड़े ने कौन-कौन से जतन किये वह सब मैं आपको आगे की कहानियों में बताऊंगा.

उन्होंने मुझे वापिस बुलाया और पूछा- शाम को कितने बजे फ्री होते हो?मैं कुछ समझा नहीं तो उन्होंने बोला- सरनी का कुछ काम है स्टडी का. मैंने अनजान बनते हुए कहा- मैं कहां मुँह मार रहा था?कल्पना भी शायद समझ गईं कि मैं उन्हें परेशान कर रहा हूँ, अंत में हार मानते हुए बोलीं- मेरी बुर के आसपास का एरिया दर्द कर रहा है. फिरर वैसे ही उठा के मुझे पलंग पर पटक दिया और कूद के वो भी पलंग में आ गया.

इसके बाद बहुत सारी घटनाएं मुझे लिखने का मन है, जो लगातार जल्दी जल्दी घटी थीं, किस तरह से मैं आशीष के प्यार में पागल होकर बिगड़ती गई और आशीष मुझे बिगाड़ता रहा.

बीएफ फिल्म चुदाई करते हुए: मम्मी बार बार अपने पल्लू को ऐसे सही कर रही थीं कि वो जल्द ही फिर गिर जाए. क्या पता कितनों से चुद कर आई हो। मैंने उसके बालों को पकड़ कर अपना लंड उसके मुंह में ठूंस दिया और उसके मुंह को जोर जोर से चोदने लगा.

जब भी लंड बाहर निकालता, उनके मुँह से सिसकारी निकलती और जब झटके से अन्दर डालता, तब उनकी आह बाहर आ जाती. तभी आशीष ने पूरी ताकत से एक जोरदार झटका मेरी चुत में मारा और उसका आधा से भी ज्यादा लौड़ा, मेरी चुत में फच्च से घुस गया. दरवाजे पर कान लगा कर ध्यान से सुना तो यकीन और पक्का हो गया कि ये लोग पक्का चुदाई ही कर रहे थे.

मैं- तुमको प्यार करके ही बड़ा हो गया है ये!प्रिया- भैया और कस कसके कीजिए ना … आज एकदम गहरी कर दीजिए.

इसके बाद उसने बोला- अंश, अब मुझसे रुका नहीं जाता, तुम मेरी चूत में अपना लंड डालकर मुझे चोद दो. पापा बोले- क्या हुआ? तू रो क्यूं रही है?मैंने कहा- पापा आप नहा-धो कर फ्रेश हो जाओ. आप मुझको जानते है … मैं शरीर से हट्टा कट्टा हूँ और 5 फुट 10 इंच का जवान लड़का हूँ.