घर में बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी बीएफ नौकरानी की

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्स ब्लू व्हिडिओ: घर में बीएफ, वे दोनों मेरी बात पर हैरान हो गए कि मैंने कब उनको रोते हुए देखा या सुना.

स्टार बीएफ

वह सिर्फ एक हादसे के जैसा था और उसके बाद भाभी ने भैया को अपने पास नहीं फटकने दिया. बीएफ सेक्स व्हिडिओ पिक्चरमैं चुप हो गया और सोचा की ड्रिंक्स करते हुए पूछूंगा, तभी बात खुल कर हो पाएगी.

उसको पता था कि अगर वो मेरे कहे अनुसार काम करेगी तो उसे पैसे मिलेंगे इसलिए वो वैसा ही कर रही थी जैसा कि मैं उसको बता रहा था. हिंदी बीएफ एक्स एक्स एक्स सेक्सीमैंने फिर भी उससे कहा कि नहीं मुझे रात से कोई फर्क नहीं पड़ता है, मैं चला जाऊंगा.

राजवीर के शब्दों में- तो मेरे प्यारे दोस्तो, अब समय आ गया है श्लोक के मुंह से याराना के चौथे दौर की पहली घटना सुनने का, जब मेरी बीवी रीना मेरे साले श्लोक के साथ अहमदाबाद में थी.घर में बीएफ: मैंने उस अनुभूति का आनंद लेते हुए अपनी आँखें बंद कर ली थी।मैं फ़िर से नीचे की ओर झुकी, इस बार मैंने उसका पूरा लंड मेरी चुत में लिया। उसके बड़े लंड से मेरी पूरी चुत फैल गयी थी और उसका टोपा मेरी बच्चेदानी से टकरा रहा था।मैं वैसे ही ऊपर नीचे होने लगी.

पूजा चिहुँक पड़ी- ओह्ह … अमित आई लव यू … चोदो मुझे … और चोदो!मैंने भी उसकी कमर को कस लिया और तेज तेज झटके मारते हुए बोला- पूजा.फिर उसने कहा- ठीक है अम्मी हम दोनों यहीं चाय पिएंगे … पर पहले मैं पेशाब कर लूँ.

बीएफ बीएफ साड़ी वाला - घर में बीएफ

मैंने मौके को संभालने के लिए कुछ बोलना चाहा, लेकिन इससे पहले ही हंसिका ने बोला कि अच्छा हुआ कि आपने पास वाला फ्लैट लिया है, कम से कम कोई बोलने वाला तो मिलेगा, नहीं तो दिल्ली में लोगों को यह भी नहीं पता होता कि पास में कौन रह रहा है.पहले तो आप लोगों का बहुत शुक्रिया, जिन्होंने मेरी पिछली सेक्स कहानीदोस्त की मम्मी को चोदापढ़ी और सराहना की.

अंकित ने नीचे झाँक कर देखा तो तो उसका पूरा का पूरा लंड शबनम की चूत के अन्दर था और चूत के मुहाने पर केवल उसकी गेंदें दिख रही थी. घर में बीएफ उसने शुरू की आधी लाइन जब बोली थी, तब मेरा लंड चूत की फांकों में घस्सा मार रहा था और बाद में ‘आह मर गई.

मैंने कारण पूछा, तो दीदी ने कहा- तेरे लंड में जान है और दूसरी बात मैं तुझसे एकदम से खुली हुई हूँ.

घर में बीएफ?

ये कहानी उस दौरान की है, जब मैं अपने फ्रेंड्स के साथ मनाली ट्रिप के लिए गई थी. उसके बात करने के अंदाज़ से लग रहा था कि वो थोड़ी मस्ती के मूड में है. उसने मुझे जगह और टाइम बताया मैं अपनी कामवाली को अपने बेबी को कुछ घंटे का ध्यान रखने के लिए कह कर चली गई.

अब आगे:कार में म्यूजिक बज रहा था, करीबन आधे घंटे बाद हम चित्रा के घर पर पहुंच गए थे. हालाँकि पंखा लगा कर सोते थे कि अगर रात में बिजली आये तो कुछ तो हवा का आनंद मिले. वो अब कभी मेरे लंड को चूसती, कभी मेरे लंड को अपने चूचों के बीच रख कर आगे पीछे करती.

साथ ही अपनी टांगों से मैंने उनके पैर और ज्यादा फैला दिए और उनकी चोटी खोल दी. ” नीलम ने अपने ससुर के लंड को आगे पीछे करते हुए कहा।बेटी तुम्हें मुझ पर भरोसा नहीं है? मैं कह रहा हूँ तुम्हें बहुत मजा आएगा। चलो मेरी खातिर एक बार इसे चूमकर देखो. इसके बाद मैं इंस्ट्रूमेंटल म्यूजिक बजाने लगा और हम दोनों कपल के तरह डांस करने लगे.

अब तो कुछ यूं हो गया था कि मैं अपनी सहेली से तो थोड़ी ही देर बात करती थी, मोहन भैया से ही ज्यादा बात करना पसंद करने लगी थी. उसने फुसफुसा कर कहा- अब्बू ने अम्मी जान … ऐसा मजा कभी नहीं दिया होगा.

हम मिल सकते हैं क्या?मैं थोड़ा सहम सी गई परंतु उसे मेरी हमेशा हेल्प की थी तो मैंने बस हां कर दी.

मैं झड़ने वाली हूँ।” थोड़ी देर बाद उसने थरथराते हुए स्वर में कहा।मैंने धक्कों की गति तेज कर दी; कमरे में ‘थप-थप’ की आवाज गूँजने लगी और वह चरम पर पहुंचती सिसकारने लगी।थोड़े और धक्कों के बाद मुझे उसकी योनि में कसाव महसूस हुआ और फिर वह अकड़ गयी, मुझे भी उन्हीं पलों में स्खलन की सुखद अनुभूति हुई और मैंने उसे कस कर दबोच लिया।हम दोनों गहरी-गहरी साँसें लेने लगे और मैं उससे अलग हट कर फैल गया।मजा आ गया.

तो मैं बता देना चाहता हूँ कि मैं यहाँ पार्थ (बदला हुआ नाम) के नाम से कहानियां लिखता हूँ. जब मैं चूत की तरफ बढ़ा, तो देखा कि उसकी चूत का पानी और सीरप दोनों मिक्स हो गए थे, जिसमें से एक मादक खुशबू आ रही थी. ”मैं सच कह रहा हूँ। अगर कोई इन कपड़ों में तुम बाज़ार चली जाओ तो लोग तुम्हारी खूबसूरती को देखकर गश खाकर गिर पड़ेंगे.

वो कभी मेरे लंड को चूसती, कभी उसके टोपे पर अपनी जीभ फेर कर उसे चाटती. मैंने तब पूजा की चूची दबाते हुए बोला- पूजा रानी, मैं अब तुम्हें कुत्ते की तरह पीछे से चोदना चाहता हूँ. साथ ही उसने अपनी दोनों टांगें खोल कर मेरे दोनों ओर लपेट लीं और मुझे भी बिठा लिया.

सोनिया ने उसके लंड के सुपारे को जीभ से चाटा और एकदम से लंड को मुँह में भर लिया.

वो मुझको देख कर मुस्कुराई, मैं भी मुस्कुराया और उसके पीछे पड़े बेड पर बैठ गया. मैंने भी अब उसका हाथ पकड़कर उसको अपनी तरफ खींच लिया, जिससे वो बुरी तरह घबरा गयी. एक सप्ताह बाद संजना ने मुझे अपने घर बुलाया और कहा कि कोई सरप्राइज भी है.

वह मुझे कस के पकड़े हुए थी … शायद ऐसे कह रही हो कि वह मुझे कभी छोड़ना भी नहीं चाहेगी. मैंने उससे बात की, तो ये पक्का हो गया कि ये सोना वही लड़की थी, जिसका रिश्ता मेरे लिए आया था, पर दादा के देहांत के टाइम के बाद आगे बात नहीं हुई थी. अब हमें जब भी मौका मिलता, हम चुदाई का ये खेल, खेल लेते और बहुत मज़े करते.

पूजा के मम्मे को ब्रा के ऊपर से दबा कर मैंने उसकी ब्रा खुद ही निकाल दी.

मैं भी बाद में सिस्कारियां लेने लगी और मैंने उनसे छूटने का प्रयास करना बंद कर दिया. यह कहते हुए उन्होंने मेरे लंड को अपने हाथों से सैट करके अपनी चुत के दरवाजे पर लगा लिया.

घर में बीएफ अब जहां पर मसाज की बात आ जाती है तो वहां पर फिर सेक्स की बात भी हो ही जाती है. मैं उसकी चूची पीते हुए उसे चोदने लगा और वो दूसरे लड़के का लंड सहलाने लगी.

घर में बीएफ उसके होंठ दांतों तले दबे हुए थे और आंखों में सिर्फ सेक्स की लालसा दिख रही थी. तब मैडम ने कहा- अब शुरू करोगे भी … या नहीं?ये सुनते ही संतोष ने मैडम को अपनी बांहों में जकड़ लिया और क़िस करने लगा.

फिर मैंने खुद फोटोज को जूम करके देखा तो मेरी चुत फूली हुई पाव रोटी की तरह दिख रही थी.

भोजपुरी सेक्सी बीएफ गाने

अब वो कभी मेरी गांड में अपना लंड डालता था और कभी मेरी चूत चुदाई करने लगता था. अगले दस मिनट तक ऐसे ही चुदाई और चुसाई का खेल चला और फिर हम दोनों ही साथ में झड़ गये. मोहन भैया ने ऐसे ही एक दिन बातों बातों में मुझसे मेरा फोन नम्बर ले लिया था.

हम दोनों ने साथ नहाया और मैंने भाभी को शॉवर के नीचे घोड़ी बना कर चोदा. जब तक दिन में 2-4 बार हमारी बात नहीं हो जाती थी, न तो उसे चैन आता था और न ही मुझे चैन आता था. उसने मुझे किसी मिमयाती बकरी की तरह खींच कर डॉगी बना दिया और राहुल की तरह सीमान्त ने भी अपना लंड मेरी गांड में डाल दिया.

औय्य … क्या है चल हट …” कहते हुए वो अब सीधा नीचे भाग गयी।कहानी जारी रहेगी.

मैंने इशारे से पूछा- मैं आ जाऊं वहां?तो उसने शर्मा कर हां में सिर हिलाया और अन्दर भाग गई. मैंने उनको रूम पर लड़की लाते हुए भी देखा था लेकिन मैं इग्नोर कर देती थी. कोई पांच मिनट बाद वो मुझसे अपना लंड छुड़ाते हुए मेरे चुत की तरफ आ गया.

लगभग 15 मिनट डॉगी स्टाइल में चोदने के बाद उसे नीचे लिटा कर उसके पैर अपने कंधे पर रखकर मैं घचाघच पेलने लगा उसको और वो चुदाई का मजा लेने लगी. बस ऐसे ही हम हर रविवार को मिलते रहे … ताकि वो मुझसे कुछ ज्यादा फ्रेंडली हो जाए. उस दिन वो मेरी साड़ी ब्लाउज़ की तारीफ करने लगे- उज्ज्वला आज तुम्हारी साड़ी बहुत अच्छी जंच रही हैमैं- थैंक्यू सर.

मैंने कहा- प्लीज छोड़ो मुझे … ये क्या कर रहे हो?वो बोला- तुम्हें प्यार कर रहा हूँ. इस तरह से धीमे धीमे करने पर वो दोनों ज्यादा देर एक दूसरे का आनंद ले पाएंगे.

मैडम ने कहा- सॉरी बोलने से कुछ नहीं होगा … इसका एक ही रास्ता है बस!मैम ने अपनी बात आधी कह कर छोड़ दी थी. मैं मैडम की जांघ सहलाने लगा और धीरे धीरे मैं उसकी चूत को और सहलाते हुए चूत में उंगली डालने लगा और वह ‘आ आहा … आई ईई उउउ आआ आ …’ करने लगी. ”तुम मेरा दिल नहीं बहला सकती क्या?” महेश ने ज्योति को अपनी बातों में फंसाने की कोशिश की.

मैं बस मन्त्रमुग्ध सा दीदी को देखता ही रह गया और मेरे मुँह से सिर्फ ‘वाओ … क्या माल लग रही हो.

उफ … क्या कसरती बदन था उसका … चौड़ा भरा हुआ सीना … उसपे छोटे छोटे निप्पल्स, मजबूत बाहें। लगता है रोज जिम जाता होगा, पेट पर भी कोई चरबी नहीं, मजबूत जांघें … एकदम पहलवानों की तरह बदन था उसका।मैंने भी अपनी टीशर्ट उतार दी, नितिन की आँखें जैसे उसके सर से बाहर निकलने वाली थी. एक माला और गुलाब लेकर आधे घंटे के बाद मैंने कमरे का दरवाजा खोला, तो अन्दर का नज़ारा बदला हुआ था. शायद वह भी झड़ने के करीब पहुंच गया था।कुछ देर दनादन धक्के देने के बाद उसका बदन भी अकड़ने लगा, उसने कंडोम नहीं लगाया था तो मैंने उसके कमर पर थपथपाते हुए उसे बाहर निकलने का इशारा किया। नितिन ने तेज दो चार धक्के लगाए और अपना लंड बाहर निकालकर हिलाने लगा.

मैंने बड़ी आँखों से उन्हें देखा क्योंकि किसी ने भी उनकी बातों का हल्का सा भी विरोध नहीं किया था. ई …” की आवाज के साथ उसने मेरे सिर को छोड़कर तुरन्त ही दोनों हाथों से अपनी चूचियों को छुपा लिया.

अपनी बहू की बात सुनकर महेश चुप हो गया।अब बताओ कैसा लगा मेरा चुम्मा?” नीलम ने नीचे झुके हुए ही अपने ससुर के लंड को देखते हुए कहा. उसकी बात सुनकर मैं एन्ट्री गेट पर चला गया और पास चैक करके स्टाफ को अन्दर भेजने लगा. आपको मेरी ये सेक्स कहानी कैसी लगी, मुझे मेल से जरूर बताएं या कमेंट करें.

वीडियो की बीएफ हिंदी में

पहले मैंने अपना हाथ उसके पेट के बीच में रखा और कमीज़ को हल्के से ऊपर कर दिया.

मैंने जैसे ही धक्का लगाया, मेरे लंड का टोपा उसकी चूत में घुस गया, पर दर्द के मारे उसके आंखों से आंसू आ गए. उसका लंड वाकई में ही बहुत बड़ा था जैसा कि मैंने बाकी लड़कियों से उसके बारे में सुन रखा था. अब वो कभी मेरी गांड में अपना लंड डालता था और कभी मेरी चूत चुदाई करने लगता था.

इस तरह से धीमे धीमे करने पर वो दोनों ज्यादा देर एक दूसरे का आनंद ले पाएंगे. जैसे ही मैंने थोड़ा सा जोर लगाया और मेरे औजार का टोपा ही इसके छेद में घुसा कि ये जोर जोर से चिल्लाने लगी. हिंदी ओपन बीएफ सेक्सीआप सभी मुझे मेल जरूर करना कि कैसी लगी मेरी और भाभी की चुदाई की कहानी.

मैं रूठ कर अपने कमरे में घुस गया था और आलिया की बेचैनी का मजा लेते हुए सो गया. मेरा काम खुद उसको संतुष्ट करना था और उसके लिए नई नई लौंडियां ढूँढ कर लाने का हो गया था.

अपनी जरूरतों के अनुसार जब भी मौका मिले, इसका आनन्द उठाया जा सकता है. उसके शहर में रहने के कारण मेरी सोनी से फोन पर काफी देर देर तक बातें होने लगीं. पर आप तो लाइट बंद करके मुझे कुछ देखने नहीं देते, मैं कैसे सीख लूंगा?फिर हमने खूब मजाक किया और हंसते रहे।मौसम अब भी खराब था.

उसने अपने होंठों को गिलास से लगा कर जब सिप गटका, तो मुझे वासना में शराब का घूंट उसकी गर्दन में उतरते हुए दिख रहा था. मैं उसके पास जाने के लिए उठा ही था कि तभी वो फिर से वहीं जाने लगी … जिधर हम दोनों का प्रेमालाप हुआ था. उसने डरते हुए मुंह खोल दिया और सुपारा चाट के मुंह में भर लिया और कोई आधे मिनट तक चूसती रही.

आलिया की चुत में लंड घुसते ही, वो जोर से चिल्ला उठी- ओह माँ … मर गई … निकाल, निकाल इसे …आलिया की चीख सुनकर मैंने लंड बाहर निकाल लिया.

बहुत देर तक उसके होंठों को चूसने के बाद मेरा दिल भी कर रहा था कि मैं उसके लण्ड पर हाथ रख दूँ. मेरी बीवी मेरे निप्पलों को चूस रही थी और अपनी चुत मेरे लंड पर जोर से रगड़ रही थी.

कुंवर साहब की 70 की उम्र में भी उनका भारी शरीर और बड़े लंड के धक्के मैं झेल रही थी. मैंने उसके नाजुक अंगों को सहलाना शुरू किया तो वह भी वासना में डूबने लगी।मुझे लगा कि वह सेक्स करने से पहले मुझे कमरे में जल रही लाइट बंद करने को कहेगी क्योंकि उसी कमरे में हमारे बगल में रवि लेटा हुआ था जो सेक्स के वक्त मेरी पत्नी को एकदम नंगी देख सकता था।मगर मेरी पत्नी ने मुझे लाइट बंद करने को नहीं कहा।मैंने रोशनी में ही उसे प्यार करना जारी रखा. पर मेरी किस्मत अच्छी थी कि मुझे अपने पास रशीद के खड़े होने का अहसास हुआ.

चुदाई हो जाने के बाद वो मुझसे बोली- जिस दिन तुम मुझे पहली बार दिखे थे, मेरा दिल तुम पर आ गया था. तब मैंने कुछ सोचा और डिल्डो को जमीन पर खड़ा करके उस पर अपनी चूत टिका कर बैठने लगी. दीपा ऐसा कर भी रही थी, पर एक दिन धोखा होते होते बचा, तब से दीपा ने ऐसा करने से मना कर दिया.

घर में बीएफ मैंने चुत के ऊपर से ही उनकी रोएंदार चूत को सहलाना शुरू कर दिया और अपनी दोनों उंगलियों से उनकी चूत की फांकों को जितना हो सकता था, खोल दिया. थोड़ी ही देर में फिर से कमरे में मादक सिसकारियां फैलने लगीं, जो थोड़ी ही देर में चीखों में बदल गईं.

बीएफ सेक्स वीडियो आंटी

मैं उसे तेज तेज झटके मारते हुए चोदने लगा और साथ साथ में किसी और मर्द से चोदने के लिए उत्तेजित करने लगा. इस तरह से धीमे धीमे करने पर वो दोनों ज्यादा देर एक दूसरे का आनंद ले पाएंगे. कुछ देर तक लंड को चुसवाने के बाद उसने अपने लंड को मेरे मुंह से बाहर निकलवा दिया.

थोड़ी देर बाद मैंने भाभी जी की तरफ देखा, तो उनको मुस्कुराते हुए पाया. वो आगे बोलती ही जा रही थी:और सुन … तेरी चुत में जो खुजली होती है, वो तो तेरी मां को पता होते हुए भी वो चुप ही रहती है. बीएफ सेक्सी औरत वालीराज का लंड मेरे मुंह में था और उसके मुंह से कामुक सिसकारियां निकल रही थीं.

रात को मैंने दोबारा से फोन किया तो वो उसने फोन पर बात की और मैंने उससे मिलने के लिए कहा.

मैंने अपना हाथ उसके कूल्हों पर रखा और उसे और तेज करने का इशारा किया।उसके तेज हो रहे धक्कों से मेरे अंदर एक तूफान बनने लगा था, मैं भी नीचे से अपनी कमर उठाकर उसके धक्कों से ताल मिलने लगी थी।आखिरकार मेरा सब्र टूटा और मैं उसके होठों को अपने होठों में पकड़ते हुए फिर से झड़ने लगी, मेरा पूरा बदन थरथरा रहा था। नितिन भी उसी जोश से मुझे किस करते हुए मेरा साथ दे रहा था, उसने भी अपने धक्कों की गति तेज कर दी थी. पूजा अब नशे में झूम चुकी थी मैंने उसे बिस्तर में लेटा दिया, पूजा ने मुझे चूमा और उपहार के लिए मुझे धन्यवाद देने लगी.

वे पहले तो एकदम अचरज में पड़ गए, फिर मुस्करा उठे- शाबाश! तुम यार … वाकई मराना जानते हो, लंड का मजा लेना जानते हो. फिर मैंने समीरा से कहा- तू मुझे ये सब मम्मी पापा को ना बताने के लिए क्या देगी?उसने बोला- मैं पैसे दे सकती हूँ, मेरी किसी सहेली से आपकी सैटिंग करा सकती हूं. मनोज ने एक दो बार कहा भी कि जब सुनील तेरी चूत चाटेगा तो उसे देखने में बहुत मजा आएगा.

उसके पास खड़े होने से उसके शरीर से पसीने की बहुत नशीली महक आ रही थी.

सोनिया- थैंक गॉड, तुम ऑनलाइन आ गए आख़िरकार … मैं आधे घंटे से वेट कर रही थी. मेरी उससे सारे स्टाफ के सामने बहस हुई, तो मुझे बड़ी ज्यादा बेइज्जती सी महसूस हुई. जब वो अपने घर गई, तो साथ में उसकी बेटी जिद करके मेरी बेटी को भी अपने घर ले गयी.

ट्रिपल एक्स बीएफ पिक्चरकृपया सही सलाह ही देनाआपका अपनाप्यार के गम में डूबाविशू तिवारी[emailprotected]il. फिर वो मुझे किस करते हुए मेरी कमर पर बैठ गयी … पेट से नीचे चुत के ठीक ऊपर.

चुदाई वाली फिल्म दिखाओ बीएफ

मैं बीच बीच में अपनी सास मोहिनी की गांड पर चांटे भी मारे जा रहा था, जिससे वो और ज़्यादा तड़प उठ रही थीं- आह दामाद जी … अओर मारो अपनी सास को … अपनी बीवी की माँआ चोद दो आज … उफ्फ़. पांच मिनट तक वह मेरे लण्ड को चूसती रही और मैं उसके मुँह को चोद रहा था, फिर मेरा वीर्य निकल गया जो आधा उसके मुँह में गिरा और आधा उसके बूब्स पर।अब मैंने उसको बेड पर लिटाया और उसके नीचे तकिया लगाया जिससे उसकी चुत ऊपर उठ गयी। फिर मैंने पहले उसकी चुत पर उंगलियां घुमायी तथा एक उंगली उसके चुत में डाल दी जिससे वह चिहुँक उठी. हाँ … उस दिन के बाद से मैं तुम्हारे बारे में सोचना बंद ही नहीं कर पायी.

मुझे बहुत मज़ा आता है, जब लड़की के नंगे चूचे मेरी नंगी छाती पर टच करते हैं. उनकी तारीफ़ सुनकर मुझे बड़ा मस्त सा लगा और मैंने सोच लिया कि अब मैं और भी हॉट से दिखने वाली ड्रेस पहन कर आया करूंगी. मेरे मुँह से बस ‘अहह अह्ह्हम उहह अह्ह्ह अह्ह्ह और चूसो मादरचोदो …’ निकल रहा था.

मुझे इस तरह से खुद को देखते हुए रचना बोली- क्या हुआ भैया … ऐसे क्या देख रहे हो?मैं बोला- कुछ नहीं छोटी … तू तो बहुत बदल गयी … एकदम से भर गई … तू तो बड़ी हॉट लगने लगी. मैं उसकी टी-शर्ट में हाथ सरकाता हुआ उसके पेट पर फेर रहा था और अपने होंठों से उसके पेट और नाभि को चूम रहा था. मेरी भी आँखों में नींद नहीं थी तो मैं वहीं बैठ कर उनसे बात करने लगा और साथ साथ मोबाइल में सर्फिंग करता रहा.

उसकी सांसें कुछ पल के लिए रुक गईं और जब लंड बाहर आया, तब उसकी लार में सना हुआ था. भाभी जी लंड की मोटाई से तड़फ उठीं और चिल्लाने लगीं ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’मैंने पूछा- क्या हुआ आप तो खेली खाई हो?भाभी जी ने बताया- शराब पीने के लत ने मुझे मेरे पति संतुष्ट ही नहीं कर पाते थे, इसलिए उन्होंने मुझे महीनों से छुआ ही नहीं है.

कई लोग अपने लंड का साइज़ बताते हैं कि उनका लंड घोड़े से भी बड़ा है और शेर की तरह दिन भर चोद सकते हैं.

मैं उसको ढूंढने लगा, पर वो कहीं मिली ही नहीं, शायद वो अपने अंकल से मिलने गयी होगी. नाभि बीएफमैंने उसके दोनों हिप्स को अच्छे से सहलाया और उन पर खूब चपत लगाईं फिर बीच की दरार खोल कर देखा. बीएफ सेक्सी व्हिडीओ हिंदी मेस्कूल की ऊपरी बिल्डिंग में एक कंप्यूटर रूम था, जहां पर स्कूल के काम के लिए मुझे जाना पड़ता था. मगर रोज दिमाग में यही बात घूमती रहती थी कि उस दिन बाथरूम में मेरे चूचे किसने दबाये! यह बात मुझे अन्दर ही अन्दर बहुत परेशान कर रही थी.

लड़का मस्त है, मेरा तो दिल उस पर कई बार आया था … मगर उसने कोई घास ही नहीं डाली.

गांव के सारे लोग तुझे रंडी समझते हैं और सोचते हैं कि तू धंधा करती है. मैंने देखा कि उसकी चूत से पानी निकल रहा था, जिससे उसकी चड्डी पूरी गीली हो गई थी. चूँकि हमारे बुआ जी की मृत्यु कई साल पहले ही हो गयी थी, तो उनकी बेटियां गर्मियों में अक्सर अपने ननिहाल यानि हमारे घर आती थी.

वो पापा से बोला करती थीं कि कुछ खाया करो, वरना यह तुम्हारा लंड कहीं काम से ना चला जाए. कुछ देर बाद आदमी के लंड ने पानी छोड़ दिया और वो भाभी के ऊपर ही ढेर हो गया. इस पैकेट में माल के साथ तुमको अपने अनुभव शेयर करना होगा, जो इसमें रखा हुआ है.

चुदाई वीडियो बीएफ बीएफ

अब मैंने उसकी ओढ़नी को उसके सीने से हटा दिया और उसे मदमस्त निगाहों से निहारने लगा. आलिया- अब बहुत हुआ यार … ओपन द डोर … वरना मैं तुम्हारी मॉम को सच में कॉल कर दूंगी. जरा धीरे से … फट जाएगी आ… आ… आ… ब… स… थोड़ा … रूको!पर मामा जी नहीं रुके, वे जोश में थे.

उस शाम को घर वाले कहीं बाहर गये हुए थे और हम दोनों घर में अकेले थे.

बिक्कू फोन को उठाने के लिए चला तो मैंने उसके लंड को हाथ में पकड़ लिया.

उई मां उउह … उच्च हहह … लगती है यार … जरा धीरे दबाओ न …”मैंने इतने करीब से किसी नंगी भाभी को सेक्स करते कभी नहीं देखा था. मैंने अपनी मैक्सी कूल्हों तक उठा दी थी … ताकि रशीद मेरी गोरी चौड़ी गांड देख ले. बीएफ सेक्सी वाली पिक्चरमैंने उनकी कमर में हाथ डाल कर उन्हें अपने पास खींच लिया और एक ही सिप में पूरा गिलास पी लिया.

मैंने सोचा था कि शायद रशीद झड़ने वाला है, पर इसके साथ ही उसने फिर से मेरी बुर में लौड़ा पेल दिया. अगर ऐसी बात है तो मैं तैयार हूँ मगर एक बार फिर से शान्त मन से दिमाग से सोचना तुम्हारे पास अगले 24 घंटे का समय है. उसने डरते हुए मुंह खोल दिया और सुपारा चाट के मुंह में भर लिया और कोई आधे मिनट तक चूसती रही.

मैं ‘ठीक है’ बोल कर अपने काम में लग गई।शाम साढ़े 6 बजे मैं तैयार हो गई एक गुलाबी रंग की हल्की सी साड़ी और उस पर काले रंग का ब्लाउज पहनी थी। ब्लाउज पीछे से गहरे गले का था जिसमे से मेरी गोरी पीठ मस्त दिख रही थी,7 बजे दरवाजे की घंटी बजी. उनके बाद परवीन आंटी की चूत में एक असली और एक नकली लंड एक साथ पेल कर उनकी चूत का भोसड़ा बना दिया था.

लंड के सुपारे से भाभी जी की चूत के दाने को छेड़ने लगा और चूत की फांकों पर लंड घिसने लगा.

परीशा के इस तरह से दर्द के कारण बिलबिलाने से मुकुल राय भी घबरा गया, उसने परीशा की ओर देखा, उसकी बंद आँखों से आँसू बह कर उसके गालों पर आ रहे थे।बेटी मैं बाहर निकाल लेता हूँ. दस मिनट के बाद मैं बाथरूम में अपने शरीर को साफ करने गयी और शॉवर लेने लगी. उसने अपना मुँह फिर से दबा लिया, तो मैंने इस बार कुछ ज्यादा ही जोर लगा दिया.

ससुर बहू की बीएफ सेक्सी हिंदी रूम में आ कर वन्दना ने मेरे सारे कपड़े उतार दिए और खुद भी वो ब्रा और पैंटी में हो गयी. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:दो प्यासे मर्दों ने चूत गांड चोद दी-2.

कौन सी रात? तुम क्या कह रहे हो मुझे नहीं पता?” नेहा ने घबराहट में हकलाते हुए कहा‌ और बिस्तर से उठकर खड़ी हो गयी. वह पागलों की तरह अपने ससुर के लंड से बातें कर रही थी।एक और चुम्मा चाहिए? छी … तुम तो बहुत गंदे हो, अच्छा ठीक है अभी देती हूं. उनकी इस तरह की तारीफों से मुझे अच्छा लगा और मैं उनसे खुल कर बात करने लगी थी.

बीएफ इंदौर

उनकी गांड पर मैंने एक जोर का झटका मारा, मेरा आधा लंड अन्दर चला गया. शादी खूब अच्छी तरह से धूमधाम से हुई; हां कम्मो को चोदने का मौका दुबारा नहीं मिल सका. मुझे भयंकर पीड़ा हो रही थी, ऐसा लग रहा था कि किसी ने गर्म सरिया मेरी चूत में घोम्प दिया हो.

फिर जब उसकी माँ आ गईं … तो मैं उसके पास बैठ कर पढ़ाई की बातें करने लगा. उसने अशोक की शर्ट के बटन खोल दिए औऱ उसकी छाती के बालों में हाथ फेरते हुए बोली- राजा जिस काम के लिए बुलाया, वो तो यहीं होगा.

मेरे पूछने पर उन्होंने बताया कि ये खुशी के आंसू है … आज तक उनके पति ने उन्हें ऐसा यौन सुख कभी नहीं दिया था … जो आज मुझसे मिला.

मैंने भी थोड़ा जोर उसके सिर पर लगाया और लंड को उसके गले में उतार दिया. ” महेश ने सीधा होते हुए कहा।जी पिता जी!” नीलम ने सिर्फ इतना कहा और धीरे धीरे चलते हुए बेड पर जा लेटी।हेश भी बेड पर चढ़कर अपनी बहू के साथ जा लेटा। उसका लंड ज़ोर के झटके खा रहा था।बेटी अब तो हमने एक दूसरे को नंगा देख ही लिया है तो शर्म कैसी। लेकिन हमें समीर को जलाने के लिए थोड़ा और आगे बढ़ना होगा. जहां उनके काटने के वजह मुझे खून आ रहा था, वहां आंटी चूसने लगीं और बोलने लगी- तूने तो दीदी को भी चोदा है ना?मैं- आपको कैसे पता?हिना- अगर मैं घर आती हूँ, तो दीदी कहीं नहीं जाती हैं.

जिसमें मैंने सिर्फ एक चीज़ का प्रयोग बिल्कुल नहीं किया है … और वो है झूठ. उसकी भी हालत खराब थी, हमने उसे सेक्स का खेल दिखाया जिसमें खूब मजा आया और रवि को सेक्स का खेल दिखाते हुए उसे सताने में बहुत मजा आया।यह खेल अगली कई रातों तक चला. संजना आगे बोली- और देखो भगवान ने आज मुझे यह मौका दे ही दिया कि मैं अपना यह ख्वाब भी पूरा कर सकूं.

हालाँकि मन में एक चोर था जो बार बार उसी तरफ देखने के लिए जोर मार रहा था.

घर में बीएफ: जैसे ही मैंने गेट खोला, तुरंत पीछे से आवाज आई- अरे विनय तुम कब आये?विनय और मैं पीछे मुड़े. सुमोना जब भी मेरे साथ होती तो मैं बहुत खुश होता। मैं उसे अपने साथ अपने कॉलेज भी ले कर जाने लगा था और अपने दोस्तों से भी मैंने उसे मिलवा दिया था।उसे भी सब कुछ पता था कि मेरे दिल में उसके लिए क्या है.

तभी निशा भाभी ने करवट ली जिससे उनकी जामुनी ब्रा साफ दिखाई देने लगी. अगर तुम मेरे बताये अनुसार चलती रही तो तुम्हारा पति तुम्हारी विधवा ननद को छोड़ कर तुम्हारी ही बांहों में होगा. अब बिक्कू ने मेरी चूचियों से मुंह को हटा लिया और अपनी पैंट को खोलने लगा.

जैसे ही अंकित के हाथ शबनम के पूरे शरीर पर घूमने लगे, वह कमजोर महसूस करने लगी.

मैंने लंड को उसकी चूत में दबाते हुए पूछा- कैसा लग रहा है मेरी जान?वो एक लम्बी सी सांस भरते हुए बोली- बस पूछो मत, ऐसे ही प्यार करते रहो मुझे।बस मुझे इतना ही तो सुनना था. आपने मुझे सही रास्ता दिखाया है, जिससे घर वालों की तरफ़ मेरी जिम्मेदारी भी बनी रहे और मेरा आत्मसमान भी बना रहे. सीमान्त जैसे ही मेरे सामने आया, मैं उसके लंड का टोपा ऊपर करके उसका लंड देखने लगी.