पंजाबी बीएफ हिंदी मूवी

छवि स्रोत,भाभी की चूत वाली

तस्वीर का शीर्षक ,

देहाती सेक्सी बिडीओ: पंजाबी बीएफ हिंदी मूवी, मेरे साथ मेरा एक साथी रहता था, जो अपनी गर्लफ्रेंड के लिए बाजार में स्थित एक गिफ्ट कॉर्नर से गिफ्ट वगैरह लिया करता था.

सेक्सी बीएफ सन 2021

मामी एकदम से चिल्ला उठीं और बोली- आह मर गई … बहुत दर्द हो रहा है बाहर निकालो अपना लंड. हिंदी लड़की की बीएफमुझे तो वैसे मॉम पर बहुत गुस्सा आ रहा था कि साली मुझे कभी कुछ नहीं दिखाती और इन लौंडों के सामने अपनी पूरी दुकान खोल कर चुदवा रही है.

प्रीत का लंड शायद अपने पूरे तनाव में आ चुका था और वो उसको मेरी गांड पर जोर जोर से चुभा रहा था. वीडियो बीएफ दिखाओमैंने उनकी जांघों से धीरे धीरे चुसाई करते करते चूत का रास्ता ले लिया.

अगर आपने मेरी बात को अनदेखा किया तो आपको भी हमें अस्पताल में भर्ती करवाना पड़ेगा.पंजाबी बीएफ हिंदी मूवी: मैंने फिर से पूछा कि ये तो आपकी गांड की खुजली की बात हुई, पर आपको मेरे बारे में किसने बताया था?उन्होंने बताया कि जब मैंने उस लौंडे की गांड मारी थी, तब गांड मरवाते वक्त उस लौंडे ने मुझसे आपके लंड की तारीफ़ कर दी थी.

सुमन की चूत पंकज के लंड के भीषण प्रहारों से लाल हो गयी थी और झाँट भरी चूत से बहकर पंकज का वीर्य सुमन की गाँड के रास्ते नीचे बिस्तर तक धीरे धीरे टपक रहा था।सुमन ने उसी अवस्था में अपनी दोनों बाँहें फैला कर जैसे कुछ याद सा करते हुए मुझे अपनी तरफ़ बुलाया।मैं तो इसी इंतज़ार में था ही … तुरंत ही आगे बढ़कर अपनी ताज़ा रगड़ रगड़कर चुदी हुई बीवी की चूत में मैंने अपना लंड घुसा दिया.वहाँ जाने के पहली रात को ही मैं घर से बाहर जाकर खेत में जिस पड़ोसी के साथ पकड़ी गई थी.

हद ब्लू फिल्म - पंजाबी बीएफ हिंदी मूवी

मैं भी मूत कर आया और गाड़ी स्टार्ट करते हुए बोला- पेंटी तो मैचिंग डाली है तुमने ड्रेस के साथ!उसे शराब का नशा हो गया था तो वो फ्रॉक को ऊपर उठा कर बोली- ठीक से देख लो जीजू … किसने मना किया है.शायरा जितनी सुन्दर थी … उतनी ही तीखी मिर्ची की‌ तरह तेज और खुर्राट भी थी.

मैंने उसे समझाया कि चुत एक अंधा कुआं जैसी होती है, जो सब कुछ अपने अन्दर समा सकती है. पंजाबी बीएफ हिंदी मूवी सेल्सगर्ल- मैम एक बार देख तो लीजिए हमारे यहां का कलेक्शन और वैरायटी बहुत ही अच्छा है.

मैंने बिना कुछ कहे, हाथ हटा कर अपने लंड को फिर से उसमें घुसाने की कोशिश की … और लंड अन्दर चला गया.

पंजाबी बीएफ हिंदी मूवी?

जैसे ही वो नीचे गया, तो मैंने झट से रंगोली का हाथ पकड़ा और उससे बोला- रंगोली तू मुझे बहुत पसंद है, मेरी गर्लफ्रेंड बनेगी?वो भी फटाक से बोली- भैया पर किसी को पता चल गया तो?मैंने कहा- किसी को पता नहीं चलेगा, मैं सब संभाल लूंगा. प्रियंका- कमीनी नखरे तो ऐसे दिखा रही है … जैसे तुझे तेरा जीजू बिना चोदे ही छोड़ देगा. वहां मुझे मौका मिला गांव की जिन्दगी जीने का और खेत वाले लड़कों के कसरती जिस्म का मजा लेते हुए चुदने का!ये लोग वाकयी में ही बहुत मजबूत और सख्त होते हैं.

मामी बोलीं- राजा, अपना मोटा लंड डालोगे ना मेरी चूत में कि सुबह तक यही करते रहोगे?मैंने कहा- ठीक है मामी, लो अब लंड की बारी आ गई. गांवों में रात का खाना जल्दी होता है, सो हम सभी 8 बजे तक सो जाते हैं. काफी सोच विचार के बाद हमने हॉस्पिटल में ही मिलने का प्रोग्राम बना लिया.

उसकी समझ में आ गया कि लंड कोई ख़ास चीज नहीं होती … और मेरा मतलब हल हो गया. उन्होंने निराशा में मुझे ऊपर खींचने की कोशिश करी लेकिन फिर जब मैंने उनको मौका नहीं दिया तो उन्होंने अपने शरीर को ऊपर खिसका कर मेरे होंठों को अपने स्तनों से अलग कर दिया. वो मेरे लंड से चुदने के लिए मचल उठी थी, तो मैंने उसे अपने कमरे पर आने के लिए राजी कर लिया था.

मैं उसे मना करने लगी। मैं उसे गाली देने लगी- अरे … भोसड़ी वाले … मादरचोद … मत चोद ना! साले भड़वे!वो मेरी गाली सुन कर जोश और गुस्से में आने लगा. इस वज़ह से रोहित ने मेरी दीदी के यहाँ से कमरा खाली करके दूसरी जगह किराये पर कमरा ले लिया और दोनों भाई बहन साथ में रहने लगे.

वर्षों से मैं अन्तर्वासना मंच से जुड़ा हूँ, अंतरवासना मंच में मेरी कहानियों को आप सब पाठकों तक पहुंचाया।मेरी पिछली कहानी थीअस्पताल में मिली शादीशुदा लड़कीयह कहानी टीचर एंड स्टूडेंट सेक्स स्टोरी है.

एक नग्न गर्म औरत के जिस्म पर एक नग्न पुरुष चिपक जाए और कुछ न हो ऐसा सम्भव नहीं!मैंने पूजा के दोनों हाथों को पकड़ कर उसके सर से ऊपर कर दिया और बेतहाशा उसके गाल गर्दन को चूमने चाटने लगा.

मैं हाथ-मुंह धोकर आया तो तुरंत उसने एक कौर तोड़ कर हाथ में ले लिया. वो उसको जोर से काट रहा था और इसी उत्तेजना में मैं उस दूसरे वाले लड़के के लंड पर तेजी से मुंह चला रही थी. कुछ देर बाद मैंने उसे दोबारा से बेड से उठाया और उसे अपनी बांहों में ले कर अपनी छाती से उसके चुचों को दबा दिया और एक बार फिर मैंने अपनी जीभ उसके मुंह में दे दी.

मैंने अपने हाथ से पीछे लंड पकड़ना चाहा पर उसने मेरी कमर को पकड़ लिया था. घर पर उनकी पत्नी नीमा और एक लड़की पूजा और सबसे छोटा लड़का रोहित रहते थे. उसकी यह शर्म मुझे अब निकालनी थी … इसलिए मैंने भी अपने सारे कपड़े निकालकर बिल्कुल नंगा हो गया.

उसकी यहां बैंक में नौकरी लगे अभी एक‌ डेढ़ साल ही हुआ था और तब से ही वो यहां इस घर में किराये पर रह रही थी.

फिर मैंने बेरहमी से भाभी की चूत का मर्दन किया और पांच मिनट तक भाभी को रपट कर चोदा. वो लंड मसलते हुए बोली- साले की अकड़ तो देखो … ठीक से हाथ लगाया भी नहीं है और अकड़ना चालू कर दिया है. जितने दिन मैं वहां रही … उतनी रात मैंने गांव के अलग अलग लंड से चुदाई करवाई।मैं गांव के लड़कों के लिए मुफ्त की रण्डी थी। गाँव मेरे लिए स्वर्ग जैसा था।फिर मेरा समय खत्म हो गया और मुझे वापस शहर आना पड़ा।मैं अपने पर कंट्रोल करने लगी। अपने चूत में खीरा, मूली, बैगन डाल कर शांत करती.

मैंने भाभी जी की टांगें फैला कर उनको चुदाई की पोजीशन में लेटा दिया. मेरी खुजली मिटा दो आह!मैंने धक्के मारते हुए उसे चूमा और बोला- मज़ा आ रहा है न जान!उसने बोला- हां मेरे राजा बहुत मजा आ रहा है … और जोर से चोदो आह. मैं बहाने से उसकी पीठ पर हाथ फिरा रहा था और वो कुछ बोल भी नहीं रही थी.

फिर मैंने पूरी ताकत से एक और धक्का लगाया और लंड पूरा अन्दर समां गया और हम दोनों झड़ गए.

एक पेग मनोज ने दीपा के लिए भी बनाना चाहा तो दीपा ने मन कर दिया, बोली- तुम्हारे से ले लूंगी. मैंने अनीता को नीचे लिटाया और उसकी चूत को वहशियाना तरीके से पेलने लगा.

पंजाबी बीएफ हिंदी मूवी हां एक बात और भी है, जब तुम्हारी चुदाई मैं देखूँगी, तो तुमको भी अपने यार से करते हुए अपनी चुदाई दिखला दूँगी. तो पिंकी ने हैंड टॉवल से चूत को साफ़ किया और रवि से कहा- आओ जान, अब तुम इसे फाड़ो.

पंजाबी बीएफ हिंदी मूवी इस बार के झटके से उसकी चीख उसके गले में ही रह गई और उसकी आंखों से तेजी से आंसू बहने लगे. जिससे शायरा अब जोरों से सिसक उठी‌ और उसने अपने दोनों हाथों से मेरे सिर को पकड़ लिया.

सुगंधा भाभी ने मेरी जीएफ की चर्चा वापस छेड़ दी थी- वैसे तुम दोनों कितने समय से रिलेशन में हो?मैं- करीब एक साल से.

सेक्स वीडियो रेप

अगले ही पल मेरी नजर सामने दीवार पर लगी घड़ी पर पड़ी … तो शाम के 8 बज रहे थे. उसके रंग रूप में मैं इतना खो गया था कि कुछ देर तो बस उसे देखता ही रह गया, पर मेरे ऐसे देखने से शायरा शर्मा गयी और अपने हाथ पैरों को सिकोड़कर उसने अपने बदन को छुपा लिया. वो तेज स्वर में कह रहा था- साली मेरा निकलने वाला है … जल्दी से अपना मुँह खोल.

मगर दिव्या मेरी बात को नहीं सुन रही थी और मुझे गर्म करने में लगी हुई थी. मैं भी उनके पीछे पीछे चला गया और उनसे पूछने लगा- लाइये मैं आपको कुछ हेल्प कर देता हूँ. फिर उसने अपना मोबाइल नम्बर भी मुझे दे दिया और हम लोगों की फोन पर भी बातचीत होने लगी.

शायरा को मेरे साथ प्यार करके अच्छा लग रहा था … क्योंकि उसे प्यार वाला सेक्स चाहिए था, जिसमें पार्टनर की खुशी का भी ध्यान रखा जाए.

चोर को चोरी करते रंगे हाथ पकड़ लिया ज़ारा ने!मेरी प्यार सेक्स की कहानी पर अपने विचार लिखें. वो भी मुझे चूमता हुआ कह रहा था- ना जाने कबसे आपको चोदने की लालसा लिए मैं मरा जा रहा था!उसने अपनी मम्मी की चूत को इतने मस्त तरीके से चूसा कि मैं 10 मिनट में ही झड़ गई. रेखा बोली- कैसे हो?मैंने कहा- ठीक नहीं था, लेकिन शायद अब ठीक लग रहा है.

मेरा दावा है कि उसकी उस मस्तानी और वासना से भरी हुई चाल ढाल से किसी का भी लंड सलामी देने में लग जाए. उसने आंखें बंद कर लीं और मैं अपनी जीभ को चूत पर घुमा घुमा कर चूसने लगा. एक मालिक, जिसका नाम रमेश है, उसकी पत्नी का आरिषा और उनका लड़का राहुल रहते हैं.

मैंने उसे ऐसे ही रहने को बोला और कंडोम उतार कर डस्टबिन में फेंक कर एक कपड़े से उसकी गांड, चूत और जांघों को साफ किया. आज मुझे भी पता नहीं क्या हो गया था?शायद मैं भी ये तीन दिन खुलकर जीना चाहता था.

हम दोनों के बीच बातचीत बढ़ रही थी और साथ में हम दोनों अब खुलकर बात कर रहे थे. वह भी मुझे अपनी सारी बातें बताता था।अब वह पहले से भी ज्यादा खुल कर बात करने लगा था।जब मैं दीदी के यहाँ जाती तो वह मुझे किस करता. वो बोली- आकाश … तुम क्या देख रहे थे?मैं एकदम डर गया और बोला- इधर एक बिल्ली थी … उसे भगाने आया था.

उसको शुरू में तो अच्छा नहीं लग रहा था, पर एकाएक उसे मजा आने लगा … और वो अपने चेहरे पर भी मेरी पेशाब की धार मजे से लेने लगी.

इस शादी से उसके परिवार के लोग भी काफी खुश थे और मैं भी बहुत खुश था कि सुधा के जैसी लड़की मेरे जीवन में आई. गर्म और सेक्स से भरपूर मजा लेते हुए मैंने भी सोचा कि क्यों ना मैं भी अपनी एक वास्तविक घटना को सास दामाद Xxx कहानी का रूप देकर आप लोगों के साथ साझा करूं. मैं बंद होती पानी की मोटर की तरह शिथिल होता चला गया और मेरे वीर्य का प्रवाह तेज गति से कम होता चला गया.

फिर मैंने अपने होंठों को उसकी चूत में लगा दिया और उसका रसपान करने लगा. फिर वो सब मेरे ऊपर टूट पड़े और मेरे दोनों बचे कपड़े भी खोल कर फेंक दिए.

मैंने देर ना करते हुए उनकी चुत में अपना मुँह लगा दिया और उनकी चुत चाटने लगा. अब आशा को भी मजा आने लगा तो वो भी अपनी गांड उठा उठा कर मेरा लन्ड अंदर लेने लगी. उसको भी मैंने अपने जाल में फंसाया और उसे भी अपनी चुत चाटने वाला बना लिया.

सेक्सी मुंबई की

जैसे ही भाबी ने मुझे अपनी बांहों में लिया, मैंने जवाब देते हुए उनके मम्मों को हाथ में पकड़ना चाहा.

हमें एक दूसरे से किसी बात ने बांधे रखा था, तो वो हमारी बेटी की चाहत ने. चाची- तुझे तो दर्द नहीं हो रहा न … तू तो कुछ भी बोलेगा … यहां मेरी जान जा रही है. सन्नी उसकी चूत चाटने लगा और मैं अपना लंड उसके मुँह में ज़ोर से डालने लगा.

छत पर बढ़िया धूप थी तो मैंने धूप में बैठे रह कर उसे देखने का फैसला कर लिया. मैंने सबसे पहले अंशिका को अपने पास बुलाया और उसके मम्मों को किस किया, उसके निप्पलों को चूसना शुरू कर दिया. ತೆಲುಗು ಸೆಕ್ಸ್ ವೀಡಿಯೋಗಳುइसी बीच एक दिन अचानक से मम्मी का तबीयत ज्यादा बिगड़ गई, तो हम लोग बहुत घबरा गए.

मैं उसके लंड को अपने चूत के अन्दर लेने के लिए इस कदर व्याकुल हो गई थी कि मैं नहाते समय भी डॉक्टर के लंड को जब भी मौका पाती, अपनी चूत से रगड़ देती. यह सुनते ही वो मेरे एकदम नजदीक आ गई और मेरी आंखों में अपनी वासना भरी आंखों से देख कर बोली- हां तो करिए ना तारीफ.

उन्होंने मुझसे मेरा अकाउंट नंबर लिया और एक घंटे बाद मेरे मोबाइल पर मैसेज आया कि मेरे खाते में पांच हजार रूपए आ गए हैं. उसके बाद हमने कपड़े ठीक किये और बिना अंडरवियर के ही अपने अपने कपड़े पहन लिये. प्रीति ने अपना चेहरे को ऊपर किया, मेरा लंड 7 इंच लम्बा और तीन इंच मोटा था.

फिर मैंने सोचा कि रोहित के साथ उसकी मामा की लड़की भी है तो वह क्या कर लेगा।वहाँ पर मेरे साथ उसके मामा की लड़की भी होगी इसलिए वह कुछ नहीं कर पायेगा. शायरा के चेहरे पर तो फिलहाल गरमाहट की ऐसी लाली छा गयी थी जैसे कि अभी उसके गालों से खून बाहर निकल आएगा और गर्दन से नीचे उसकी तेज चलती हुई सांसों के साथ उसकी चूचियां तो भी बदस्तूर ऊपर नीचे हो रही थीं. मामी इतनी खूबसूरत हैं कि रोज ही मेरा मन उनको चोदने को करता था मगर अफ़सोस था कि मैं मामी को नहीं पा रहा था.

तो नीरू दर्द के कारण आगे को हो गई और उसकी गांड में से मेरी उंगली निकल गयी.

पिंकी बोली- तुमने उसके अंदर हाथ डाला था क्या?तो धीरज हंस पड़ा- क्यों किसी ने शिकायत की क्या?पिंकी बोली- हाँ शबनम कह रही थी कि सिर्फ हाथ ही डाला लंड नहीं. अब क्या कर दिया मैंने?उस समय जैसे मेरे दिमाग में कई सारे ख्याल आ गए थे.

खैर … कुछ देर मकान मालकिन से बातें करने के बाद मैं भी अपना पर्स लेकर अपने कमरे में आ गया. मेरे दोस्त की सिस्टर चुपचाप मम्मे चुसवाने के मज़े ले रही थी और अपने हाथों से मेरे बालों को सहला रही थी. दोस्तो, आपको मेरी यह पहली चुदाई की कहानी कैसी लगी मुझे मेरे ईमेल पर बतायें.

वो मुझे देख कर मुस्कुराई और चाय रख कर जाने लगी तो मैंने उसे पकड़ कर उसके होंठ चूम लिए. बल्कि सिर्फ सुपारे को ही कुछ देर चुत के अन्दर बाहर किया, जिससे मैं और तड़प उठी. सीमा ने फिर अपना राग अलापा, बोली- एक बार मेरी सुन लो … सच बताना कि उस रात तुम्हारे साथ कौन था, क्या ये तुमने अपने पति को बताया या पति ने तुम्हें बताया … तुम सबको कसम है सच सच बताना?सबने कसम खाकर बताया कि न तो उन्होंने बताया और न ही उनके पतियों ने पूछा.

पंजाबी बीएफ हिंदी मूवी वहां मुझे मौका मिला गांव की जिन्दगी जीने का और खेत वाले लड़कों के कसरती जिस्म का मजा लेते हुए चुदने का!ये लोग वाकयी में ही बहुत मजबूत और सख्त होते हैं. मैं- चाची आपके बदन में मुझे सबसे पसंद आने वाली जगह कौन सी है? पता है आपको?चाची- नहीं.

सेक्सी वीडियो गांड मारी

मैंने अपनी पोजिशन ले ली और अपने खड़े लंड को भाभी की मखमल जैसी चुत पर सैट कर दिया. कसम से कह रहा हूँ मुझे तो कोई उम्मीद भी नहीं थी‌ कि‌ इतना कुछ हो जाने के बाद शायरा मुझसे कभी बात भी‌ करेगी. मैं कहा- क्या लाऊं आपके लिए?रेखा- क्या ला सकते हो?मैंने- अपना दिल और लंड.

मैं जितनी बार चुदती … मेरे मम्मे और चूतड़ उतने बड़े होते जाते।शुरुआत में मेरा शरीर ऐसा नहीं था. चूंकि मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूं और इस पर कहानियां पढ़ कर मनोरंजन करता रहता हूं, इसी दृष्टि से इस कहानी को भी रचा गया है. चोदने वाला सेक्सी वीडियो दिखाइएउस एक घंटे में उसने हर तरीके से मुझे चोदा, मेरी चूत का तो बाजा बजा दिया था।अब हमें एक घंटे से भी ज्यादा हो चुका था.

मैं भी कानपुर में पढ़ाई करता हूं तो मैं भी छुट्टियों में घर गया हुआ था। सब मजे में एक दूसरे के साथ मस्ती करते हसी मजाक करते घूमते फिरते। छुट्टियां अच्छी बीत रही थी.

दो तीन धक्के लगाए … फिर बोला- तकलीफ तो नहीं हो रही … वरना निकाल लूं?मैं चुप रहा, तो बोला- अब थोड़ा सहन करना. फिर वो सब मेरे ऊपर टूट पड़े और मेरे दोनों बचे कपड़े भी खोल कर फेंक दिए.

वैसे इसके लिए मैंने अपनी भाभी को फोन करके बताया भी … मगर भैया के बिना वो भी कुछ नहीं कर सकती थीं. हम सभी लोगों ने मतलब मैं, मेरी पत्नी और मेरी सास ने साथ में बैठ कर खाना खाया. इसलिए उसकी चुत व चुत के आसपास अब पूरा गीला गीला और चिपचिपा हो गया था.

अगर आप दोनों खुश हैं तो तीसरे आदमी के साथ सेक्स करने में कोई बुराई नहीं है।मुझे तो कुछ समझ ही नहीं आ रहा था.

शायद वो इस तरह से लंड को चूस नहीं पा रही थी … या लंड पूरा हलक के अन्दर तक जा रहा था. यह सुन कर मनोज को भी जोश चढ़ गया और उसने एक ही धक्के में अपना लंड उसकी चूत में घुसेड़ दिया और लगा उछलने. उसकी जीभ मेरे मुंह में आ रही थी और मैं उसके मुंह में जीभ देकर किस का मजा ले रही थी.

सनी लियोन के बीएफ चाहिएउसकी फोटो मैंने उसकी डीपी में देखी हुई थी, तो मैं उसे झट से पहचान गया. मुझे रहा न गया और मैं एक बार फिर बोली- डॉक्टर, इस चूत का भी इलाज कर दीजिए.

विडमेट चैनल

देखते ही देखते आरिषा की चुत ने पानी छोड़ दिया, जिसे रामू पूरा पी गया. उसके मुँह से ये सुनकर मुझे ऐसा लगा, जैसे बिना मौसम के बरसात होने लगी हो. और फिर मैं कपड़े पहन कर वापस निकलने लगा। मैंने यास्मीन को गले लगाया, उसकी चूचियाँ दबायी, उसकी गांड सहलायी और किस करके बाहर निकल गया।बाद में हमने कई बार सेक्स किया.

अंदर दाखिल होकर नवीन ने कहा- यस मैडम!सबसे पहले मैंने उसको आंखें बंद करने के लिए कह दिया. उधर से बहुत ही मीठी सी आवाज आई- नमस्कार विकी जी …मैंने भी नमस्कार करते हुए उनका नमस्ते स्वीकार किया और औपचारिक रूप से फोन में शुरूआती बातें होती हैं. वो बोली- ऊ मां … जीजू ये तो फोटो से बहुत ज्यादा बड़ा है … मैं तो मर ही जाऊँगी.

अब आगे की हॉट बुर हिंदी कहानी:मैं- प्रोग्राम कैसा रहा?बिन्नी- ए-वन प्रोग्राम था. उसने लंड मेरे मुंह में डाल दिया- ले स्वाद चख अपनी चूत का और मेरे लन्ड के रस का!लन्ड छोटा हो रहा था. सच बताऊं यह जिंदगी में पहली बार था, जब मैं किसी औरत के स्तनों को सामने से देख रहा था.

रामू थोड़ा पीछे को होने लगा, तभी आरिषा भाभी ने उसे कसके पकड़ लिया और बस वो दोनों एक दूसरे के होंठों का रस पीने लगे. Email id –[emailprotected]नंगी लड़की के जिस्म की कहानी का अगला भाग:गर्लफ्रेंड की सहेलियों संग रासलीला- 6.

मगर भैया की मर्जी के बिना मैं भी क्या कर सकता था … इसलिए मेरी यही दिनचर्या बन गयी.

उस एक घंटे में उसने हर तरीके से मुझे चोदा, मेरी चूत का तो बाजा बजा दिया था।अब हमें एक घंटे से भी ज्यादा हो चुका था. ब्लू पिक्चर सेक्सी पिक्चर हिंदीमैं चाहता तो उन दोनों को कॉल करके रोक सकता था, लेकिन अब कोई फायदा नहीं था … क्योंकि अब तक तो शिल्पा की चुत में राहुल का लंड कई बार घुस ही चुका था. ब्लू हिंदी में फिल्मअंधेरी वेस्ट पर एक शादीशुदा औरत की बस मिस हो गई थी, वो बस भी इसी ट्रावेल्स एंजेसी की बस थी. विजय, मेरी जान, तुम अभी तक कहाँ थे? मेरे राजा, तुम्हारा लण्ड है या कामदेव का हथियार? मैं तो पिछले सात आठ साल से चुदी ही नहीं.

मैंने उत्तेजना में उसको कई चांटे भी लगाए … मगर वो इसके मजे ले रही थी और प्यार से चुदने में मेरा साथ दिए जा रही थी.

उसने एक और झटका दे दिया जिससे संजू की चूत को चीरते हुए उसका लंड आधा से ज्यादा अन्दर घुस गया. मेरा मन कर रहा था कि अभी पति के पास जाकर उनसे लिपट जाऊं और उनकी गोद में बैठ जाऊं नंगी होकर … लेकिन पति की तबीयत सही नहीं थी और वह अलग रूम में क्वॉरेंटाइन हो गए. फिर मैंने उसकी पेंटी को शरीर से अलग किया, तो देखा चुत की झांटें नदारद थीं पूरी चुत के बाल बड़े ही करीने से शेव किये गए थे, बस चुत की फांकों के ऊपर थोड़े से बाल एक मखमली त्रिभुज के आकर में बने हुए थे, जो काफी अच्छे लग रहे थे.

फिर वो मेरे पूरे पेट को चूमते हुए मेरी नाभि तक आया और उसके कुछ देर बाद उसने मुझे सबसे आगे वाली टेबल पर बिठा कर मेरी स्कर्ट को उतार दिया. उनके होंठ रस से भरे जैसे लग रहे थे … जैसे ये मेरे चूसने के लिए ही बने थे. इस तरह हमारी दोस्ती गहरी होती चली गयी।अगर कभी दीदी को किसी सामान की जरूरत पड़ती या कुछ भी मंगाना होता तो रोहित लाकर दे देता.

गंदा गंदा गंदा वीडियो

फिर जब 27 जुलाई को मैं 9:30 बजे कॉलेज पहुंचा, तो पार्किंग में ही श्रेया मैडम मिल गईं. मैंने भाबी से पूछा- भाबी मैंने क्या गलती कर दी थी!भाबी- मैं तुम्हें कितना जगाने की कोशिश की मगर तुम जागे ही नहीं. फिर मैंने दोनों हाथों को उसके चूतड़ों पर रख कर उसे उठाने लगा और अन्दर बाहर करने लगा.

अब आगे:मैं ट्यूशन पढ़ा कर कमरे पर आया, तब से ये सोच सोच कर पागल हुए जा रहा था कि आज रात सील पैक चूत खोलने का मौका मिलेगा.

दर्द और जलन की वजह से मेरा हाल बुरा हो चुका था, आंख से आंसू आ गए थे.

इतना कहना था कि रकुल मेरे पास आई और अपने होंठों को मेरे होंठों से लगा दिया और आंखें बंद कर लीं।मैंने उसके होंठों को चूसना शुरू किया और एक लम्बा चुम्बन उसे किया। उसके गोरे गाल शर्म से लाल हो गये थे।सीमा और नील के आने के डर से वो वहां से निकल गयी।अब अगले दिन से मैंने नोटिस किया कि रकुल अब अपने हाथ पर निशान बनाना भूलने लगी थी. जैसे ही उनका हाथ मेरे लंड पर लगा, मुझे अजीब सी फीलिंग हुई, मुझे ऐसा लगा कि जैसे पूरे शरीर में करंट दौड़ गया हो. सेक्सी बीएफ चलने वालामैंने इस बार फिर उसके हाथ फंसा लिए और बाल पकड़ कर उसके मुँह में उसकी ब्रा ठूंस दी.

ठण्ड के समय अन्धेरा भी जल्दी हो जाता है, 7 बजे तक मैंने देखा कि हमारे कॉलोनी में सन्नाटा पसर गया था, उस दिन ठण्ड भी बहुत ज्यादा ही थी. चाय बनाते वक़्त मैंने उससे कहा- तुम जबसे दिल्ली गई हो, बहुत खूबसूरत हो गई हो. चूंकि हम लोग अन्तर्वासना की सेक्स स्टोरी को पढ़ कर एक दूसरे से परिचित हुए थे इसलिए हम दोनों के बीच हर तरह की बात होने लगी.

कुछ देर तक मुझे प्रिंसिपल की टेबल पर चोदने के बाद अभिषेक खुद जाकर प्रिंसिपल की कुर्सी पर बैठ गया और मुझे अपनी गोद में उठा कर मुझे अपने खड़े लंड पर गांड के बल बिठा लिया. मगर भाबी की फुद्दी पर भी दरवाजा लगा था, मेरा मतलब वो पैंटी पहनी हुई थीं.

सपना आहें भरने लगी थी।अब मेरे अंडरवियर को अंशिका ने उतार दिया। उसके बाद मैंने अंजू की चूत के अंदर जीभ डाली.

फिर उसने कहा- अब इतनी बातें हो गई तो बता दो क्या चल रहा है दिमाग में?उसने मजाकिया लहजे में ही पूछा. मैंने कहा- हां यार, इसको पता नहीं है कि इसकी अकड़ निकालने वाली सभी मुँह में लेकर सारी अकड़ ढीली कर देगी. तो वो बोले- बेटी तो नहीं हो ना!फिर मैंने मन मन में सोचा कि साला बुड्ढा सच में बहुत हरामी है.

देसी चुदाई वीडियो देसी ब्रा खोलकर मैंने पीछे से उसकी नर्म नर्म चूची पकड़ लीं और फिर उनको हल्के हल्के दबाने लगा. मेरे चुदक्कड़ साथियो, आपको मेरी गर्लफ्रेंड Xxx कहानी कैसी लगी … अपनी राय से मुझे अवगत कराएं.

मैंने कहा- चलो देखता हूँ … होटल चलोगी?वो बोली- न बाबा … उधर मुझे डर लगता है. अंकल धीरे धीरे मॉम के बदन को चूसने लगे और उनकी पैंटी के ऊपर से चुत को सूंघने लगे. वो एकदम नंगी मेरी गोद में थी और बहुत ही प्यार भरी नजरों से मुझे देख रही थी.

हस्तमैथुन से नुकसान

अंकल मॉम की चूत को चाटे जा रहे थे और मॉम पागलों की तरह बोले जा रही थीं- हां मेरे राजा … खा जाओ भोसड़ी के मेरी चूत … आह डाल दो अपनी जीभ पूरी अन्दर … और तेज कर मान के लौड़े आह और तेज … आह आह आह. उसके बाद चाची ने अपनी ब्रा खोली और उनके चुचे ब्रा से बाहर निकल कर उछलने लगे. ऐसा करने से बिन्नी की पकौड़ा सी चूत मेरे लण्ड के सामने आ गई और मैं बुरी तरह से उसकी चूत की ठुकाई करने लगा.

कोई साढ़े दस बजे मेरी आँख खुली, मैं नहा कर तैयार हुआ तो आशा मेरे कमरे में चाय लेकर आई. इस समय भाभी को आराम करने की जरूरत थी और मैं उनको ज्यादा तंग करना नहीं चाहता था.

मैं- इतनी शानदार चुदाई के बाद भी आप मूड में आ गईं चाची … कैसे?चाची- तुमने तो गांड मारी है … चुत कैसे ठंडी होगी … आग लगी है अन्दर.

तभी दीदी बोली- आज क्या हो गया है तुम्हें … ऐसा क्यों कर रहे हो? तबीयत तो ठीक है तुम्हारी. मैं- तुमने मुझे जगाया क्यों नहीं?ज़ारा- पहले चाय पी लें?मैं- ठीक है ले आओ!मैं अंदर चला गया, कपड़े बदले. एक मिनट रुक कर मैंने भाभी की कमर पकड़ कर दूसरा झटका दे दिया और इस बार मेरा पूरा लंड भाभी की चुत में जड़ तक चला गया था.

उसकी तरफ से कोई विरोध नहीं हुआ … तो मैं समझ गया कि शायद उसकी गांड भी चुद चुकी थी. अब मेरे हाथ उसके बूब्स पर पहुंच गये और मैं उसकी चूचियों को दबाने लगा. चुत का दाना उत्तेजना के कारण फूलकर किशमिश के जितना बड़ा और सख्त हो रहा था जिससे वो अच्छे से मेरी जीभ के सम्पर्क में आ गया.

हम दोनों में बिना बात नहीं हो रही थी, बस एक दूसरे की धड़कन से ही बात कर रहे थे.

पंजाबी बीएफ हिंदी मूवी: इसलिए मैं कभी टीवी पर चल रहे उस गर्मागर्म सीन को‌ तो कभी शायरा को देखने लगा. रात को मैंने बीवी को नींद की दवा खिलाने का जिम्मा सास को दे दिया और उन्होंने दूध में मिला कर मेरी बीवी को नींद की दवा पिला दी.

मैंने भाभी को अपनी तरफ घुमाया और उनकी एक चूची को अपने मुँह में ले लिया. न्यासा ने उठकर मेरे लंड से कंडोम निकाल कर कचरे के डब्बे में डाल दिया और मेरे लंड को अपनी लार से गीला करने लगी. दोपहर का समय था, हम खाना खाकर टीवी देख रहे थे कि तभी मॉम को मिष्टि आंटी का कॉल आया.

मैं- भाभी आजकल एक तो मुश्किल से पटती है … तीन-चार कहां से सैट हो पाएंगी.

मेरे शब्द उसे और वहशी बना रहे थे, उसका भी शरीर अकड़ने लगा, उसके पैरों के कंपनों को मैं महसूस कर रही थी. मैं उसे बाहर उसकी गाड़ी तक छोड़ कर आया और अगली बार जल्दी ही मिलने की आशा के साथ हम दोनों ने विदा ली. उनकी स्कर्ट उनके घुटने से थोड़ी ऊपर थी, जिससे उनकी मोटी मोटी जांघें साफ़ दिखाई दे रही थीं.