बीएफ सेक्सी कॉलेज

छवि स्रोत,बीएफ इंग्लिश सेक्सी हिंदी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी वीडियो हिंदी भाषा: बीएफ सेक्सी कॉलेज, मगर सुमन तूने नए वाले ड्रेस क्यों नहीं पहने?सुमन- पहनना तो मुझे ही है, पापा मगर आज नहीं उसका सही वक़्त आएगा तब मैं पहनूंगी.

बीएफ सेक्सी एचडी इंडियन

अन्तर्वासना के पाठक पाठिकाओं को नमस्कार!मैं रसिया बालम आप पाठकों के लिये अपनी नई कहानी लाया हूँ. हिजड़ा वाली बीएफबस, मैंने आगे का दाव खेला और उसको बोला- देख मानसी, मैं ऐसा कुछ नहीं कर सकता.

खाना तो हो गया अब अपनी रसीली चुत का रस भी पिला दे।मोना- आ जाओ मेरे गोपू. सनी लियोन की चुदाई की बीएफअब तक की इस सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा कि संजय की मुँहबोली भांजी पूजा संजय के साथ सोने की जिद करने लगी।अब आगे.

उनके नर्म गालों पर हाथ फेरा अंगूठे से उनके होंठ फैलाए और झुक कर किस करने लगा। भाभी की आँखें बंद थीं। मैं उन्हीं की स्टाइल में ही किस कर रहा था। फिर उन्होंने मेरा हाथ पकड़ा और खींच कर अपने मम्मों पर रख दिया और ऊपर से थोड़ा दबा दिया। मेरे लिए इतना इशारा काफ़ी था.बीएफ सेक्सी कॉलेज: अब मैं भगवान से प्रार्थना करने लगा कि हे भगवान बचा ले… ये मेरे पीछे क्यों पड़े हैं और मुझसे क्या चाहते हैं… मेरे पास तो कुछ ऐसा है भी नहीं.

मेरे ओके बोलते ही वो अपने बेड पर घोड़ी बन गई और सलवार खोल कर उन्होंने अपनी गांड मेरी तरफ कर दी.जब मैं दीपा के घर अचानक उसे ढूँढते हुए उसके घर चली गई। दोपहर का समय था घर में सुनसान था। मैंने दरवाजा धक्का मारा और अन्दर आ गई.

सेक्स बीएफ बीएफ फिल्म - बीएफ सेक्सी कॉलेज

और मुझे क्यों बुरा लगेगा, आपने मदद का ही कहा है।सुधीर- मुझे भी तुम ही कहो, इससे नज़दीकियां बढ़ती हैं।मोना- अच्छा ये बात है तो चलो आज नज़दीकियां बढ़ा ही लेते हैं, मुझे भी तुम अपना टेलेंट दिखाओ।सुधीर- ओह.अब मैं उनके पेट पे किस करता हुआ नीचे पहुंचा और चाची की चूत पर होंठ रख कर एक जोरदार किस की, वो बुरी तरह तड़प उठीं और उन्होंने मेरे बालों को पकड़ लिया.

मैंने जब आँख खोली तो देखा कि मामा आज मुझसे पहले ही जाग गये थे और मेरी चुची सहला रहे थे. बीएफ सेक्सी कॉलेज आप सबको नमस्कार, मेरा नाम कृष्णा है और मैं नागपुर महाराष्ट्र से हूँ.

खैर 10-12 दिन ऐसे ही बीत गए और एक दिन भगवान ने मेरी सुन ली, हमारे रिलेशन में एक शादी पड़ी जिसमें मम्मी को जाना था, चूंकि जिस लड़की की शादी थी वो मेरी बहन की सहेली भीथी तो वो भी जा रही थी.

बीएफ सेक्सी कॉलेज?

एक-दूसरे को काट रहे थे, हमें इस बात की कोई परवाह नहीं थी कि हम कहाँ हैं. मैंने कहा- क्या हो गया दीदी? आप मुझे ऐसे क्यूँ देख रही हो?दीदी मुस्कुराती हुई बोली- मैं अपनी सविता को देख रही हूँ जो पता नहीं कब जवान हो गई!मैं मुस्कुरा दी. गोपाल- तुझे और कोई काम नहीं है क्या… जो सीधे पैर दबाने लग जाती है?नीतू- सॉरी जीजू… वो उस टाइम मैं आपके पैर ठीक से नहीं दबा पाई थी.

मैंने अपने खड़े लंड को उसकी गांड के छेद के सामने लगा दिया, चाची बोली- अब धीरे से पेलना!पर मैंने एक जोरदार धक्के के साथ अपना पूरा लंड उसकी गांड में एक ही धक्के में पेल दिया. उधर शायद फूफा जी के लंड पर भी मेरे होंठों का नशा चढ़ने लगा… फूफा जी का लंड धीरे धीरे अकड़ना शुरू हो गया था और 7 इंच से 8 इंच और फिर 9 इंच का हो गया. अजय स्पीड से धक्के दे रहा था। अब फ्लॉरा भी उसका साथ देने लगी गांड को हिला-हिला कर चुदने लगी।अजय- आह.

पर मैंने देखा कि कोई मेरी तरफ आ रहा है।मैं बुदबुदाया- अरे ये तो सविता है. इस बार बाथरूम में माला के नग्न शरीर के भरपूर दीदार हो जाने के कारण मेरा लिंग तन कर खड़ा हो गया था जिसे ना तो मैंने छिपाने की और ना ही दबाने की चेष्टा करी. उनके ब्लाउज का आगे का एक बटन खुला हुआ था जिसके कारण उनकी चूचियाँ एकदम बाहर की ओर निकली हुई दिख रही थीं.

अपनी बाइक मैंने ऑफिस में ही खड़ी रहने दी और रिक्शे से स्नेहा के घर से थोड़ी दूर उतर गया. ये साला कमीना कहीं फिर से तो तेरी चुदाई का नहीं बोल रहा ना?राजू- तो क्या हुआ.

मैं अभी उनकी गोरी गांड का मुयायना कर ही रहा था कि आंटी अपनी गांड को मेरे मुँह पर रगड़ने लगीं.

मैंने जकूज़ी से बाहर निकलते हुए पीटर से कहा- बच के रहना जान, आज तेरी खैर नहीं!पीटर ने मुझे पास खींचा, अपने दोनों हाथों से मेरे निप्पल जोर से खींचे और कहा- वो तो समय ही बताएगा कि आज किसका क़त्ल होगा.

अन्तर्वासना पर यह मेरी दूसरी सेक्स स्टोरी है।मेरा नाम रोहित उर्फ़ पेलेखान है, मेरी हाईट 5 फीट 4 इंच है और रंग सांवला है। मेरे लंड का साइज़ 7 इंच है, जो बहुत मोटा है।उस वक्त दीवाली का माहौल था. सुमन को यकीन हो गया कि मॉंटी अब पीछे नहीं देखेगा तो उसने अपने कपड़े निकाल दिए, अब वो सिर्फ़ ब्रा पेंटी में थी, उसके निपल्स एकदम हार्ड हो गए थे और चूत भी पानी-पानी हो गई थी. संजय ने टीना का मेमोरी कार्ड अपने मोबाइल में डाला और सुमन को वासना की आग में जलता देख कर पागल हो गया.

उसी शाम सुमित चला गया वापिस जम्मू कश्मीर अपनी ड्यूटी पर!बस यही विवरण है इस प्रकरण का. साथ में फुल बियर का भी इंतजाम हो तभी मज़ा आएगा।संजय ने ‘हाँ’ कह दी, तो सबके सब खुश हो गए।दोस्तो, टेंशन मत लो, ये टीना सच में रंडी टाइप की है, ये संजय की गर्लफ्रेंड जरूर है. अन्तर्वासना की टीम को प्रणाम जिनकी वजह से आप तक हिंदी सेक्स स्टोरीज पहुँच पाती हैं.

थोड़ी देर ऐसे ही रहने के बाद चाची मेरे ऊपर आ गईं और उन्होंने मेरा लंड चूस कर साफ कर दिया और मेरी छाती पे सर रख लिया.

हाँ आप सब अपने अपने विचार मुझे नीचे लिखे ई मेल पर अवश्य भेजें ताकि मैं आप सब की रूचि के अनुरूप इस गर्ल सेक्स स्टोरी का अगला भाग प्रस्तुत कर सकूं. मतलब चाची को सभी तरफ से मजा आ रहा था और उनके मुँह से आवाजें रुक ही नहीं रही थीं. मेरे मुंह में भी पानी आने लगा… और लंड में भी… मैं जल्दी से अपने लंड को झटके देने लगा और आखिर मैंने भी कुछ लम्बी धार अपनी अलमारी के अन्दर मार दी.

अब मैं उनके पेट पे किस करता हुआ नीचे पहुंचा और चाची की चूत पर होंठ रख कर एक जोरदार किस की, वो बुरी तरह तड़प उठीं और उन्होंने मेरे बालों को पकड़ लिया. लगभग 2 मिनट की चुसाई में ही मेरे माल निकलने जैसा होने लगा, मैंने कहा- अक्षिमा निकल जायेगा. पड़ोस वाली जवान भाभी को नंगी देख कर मेरा मन भाभी की चुत की चुदाई का हो गया.

उफ्फ़ क्या लंड था फूफा जी का… सोते वक़्त भी कितना बड़ा था!अब तो फूफा जी का लंड देखने को मैं और भी उतावली हो गई… मैंने फूफा जी की पैंट की ज़िप खोली और अंदर हाथ डाल कर देखा, फूफा जी ने कच्छा पहना हुआ था.

मैं उसको तेज तेज चोदने लगा और वो हर झटके में आह जैसी कामुक आवाज निकालने लगी और साथ ही नीचे से अपनी गांड उछाल उछाल कर चुदने लगी. मुझे इन्तजार था कि जैसे ही उसका दर्द कम हो और मैं उसकी चुत में झटके मारने स्टार्ट कर सकूँ.

बीएफ सेक्सी कॉलेज बोलो?सुमन तो बेचारी अभी तक कुँवारी थी मगर आज मॉंटी ने अपनी बातों से उसकी गांड फाड़ दी थी. मतलब चाची को सभी तरफ से मजा आ रहा था और उनके मुँह से आवाजें रुक ही नहीं रही थीं.

बीएफ सेक्सी कॉलेज डॉक्टर को भी अच्छा लगा, वह उचक उचक कर मेरे लंड की सवारी करती रही और एक बार और झड़ गई. ? मैंने तो किसी दोस्त को नहीं देखा, दरअसल गोपाल थोड़ा अजीब ही है। उसके इतने कोई खास दोस्त हैं भी नहीं.

मेरी खुशी का ठिकाना न रहा, मैंने झट से उसे निकाला और अपने चेहर पर रखकर लेट गया.

बुड्ढी औरतों का सेक्सी वीडियो

नौकरानी- अगर वो कहेगी कि मुझे चुदना है तो?मैं- तो मैं कह दूँगा तुझे जिससे चुदना हो चुद ले!नौकरानी- वाह रे छीनाल के जने… भोसड़ी वाले!और उसने अपनी चूत दिखाई और मुझे चटवाई. वो मुस्कुराते हुए बोली- वाउ यार मतलब मेरा आइडिया काम कर गया गुड, मगर तू अभी वो कपड़े मत पहनना, जब मैं कहूँ तब पहनना ओके!सुमन- अच्छा ठीक है दीदी मगर आप कुछ पार्टी की बात कर रही थीं. बाद में मैंने उन्हें घोड़ी बनाया और पीछे से लंड डालकर चोदने लगा और फट.

चलते-चलते जाखोद खेड़ा का साइन बोर्ड आ गया और उस पर लिखा था- 2 किलोमीटर. थोड़ी देर चुत चूसने के बाद संजय ने अपना लंड उसकी चुत में पेल दिया और ज़बरदस्त चुदाई करने लगा. मादरचोद धीरे धीरे इतराते हुए, बल खाते हुए, मटकती हुई मेरी तरफ बढ़ रही थी.

अन्दर से अज़गर जैसा भयानक लंड बाहर निकल पड़ा… जो पूरा तना हुआ किसी घोड़े के लंड जैसा लग रहा था.

मैंने थोड़ी देर में, बच्चे को चोकॉलेट दिया और उसकी माँ मुझ से पूछने लगी- आप कहाँ जायेंगे?मैं बोला- लास्ट स्टॉप. वैसे भी ये चूतनिवास अपनी बेगम जान अंजलि रानी से इतना गहरा प्रेम करता है कि यदि वो बोले कि राजे चलती ट्रेन के आगे कूद जा तो उसका ये गुलाम बिना कोई भी सवाल किये कूद जायगा. वो अपने मुंह से मादक आवाज़ें निकाल रही थी- आआह आआहहह हम्म्म उम्म्ह… अहह… हय… याह… और ज़ोर आहहह… और ज़ोर से ऊऊऊऊ आ… ईईई…उसकी ऐसी मादक आवाज़ें मुझे और दीवाना बना रही थीं.

नौकरानी- मतलब तू भी गंडिया है?मैं- हाँ थोड़ा थोड़ा!वो झिड़क के बोली- चल हट साले छिनाल के जने… मैं तो सोच रही थी कि तू मर्द है. इधर मम्मी अपने काम में व्यस्त रहती थीं तो पूरा दिन हम दोनों साथ रहते थे और बातें करते थे. मुझे बहुत बलवती इच्छा होने लगी थी कि मैं राजे से अपने पति सुमित के सामने चुदूँ.

तो कोमल ने सारे पर्दे लगा दिए जिससे कोई हमको देख न सके। फिर कोमल ने 30 मिनट रेस्ट किया और खाना बनाने लगे गई।मैंने मेरे अहमदाबाद वाले कपल को फोन किया और बताया कि मैं गुजरात में ही हूँ कल शायद अहमदाबाद आऊँगा, यदि आप लोग फ्री हो तो बिमलेश जी की और आपकी सेवा कर दूँगा. बुर गीली हो चुकी थी। उनका हाथ मेरी बुर पर था। अब अंकल ने अपनी उंगली मेरी बुर में डाल दी।‘उइइ.

मेरे तैयार होकर ऑफिस जाने के बाद वह दूसरे फ्लैट में काम निपटा कर फिर मेरे घर की सफाई आदि करती तथा मेरे कपड़े आदि धो कर सुखाने डाल देती. तब वो नहा रही थी, वो केवल पेटीकोट और ब्लाउज़ में नहा रही थी, उनका लाल कलर का पेटीकोट आधे से ज्यादा पानी से भीगा था और उनके बालों से पानी टपक रहा था जो उनके ब्लाउज से अंदर जा रहा था. ये देखो मेरा होमवर्क भी पूरा हो गया।संजय- बहुत अच्छी बात है अब क्या करोगी?पूजा- कुछ नहीं आप थोड़ा रेस्ट कर लो बाद में मुझे पढ़ा देना।संजय- नहीं पहले तुझे पढ़ाऊंगा.

लगभग दस मिनट की इस क्रिया से दोनों ही अत्यंत उत्तेजित हो गए और मेरे लिंग में से पूर्व-रस की कुछ बूँदें निकल गई और माला की योनि में से भी रस का रिसाव होने लगा.

बेचारी ने एक साल बाद आज चुदाई की है। एक साल में चुत चिपक कर सील बंद हो जाती है। फिर तुम सब के लंड है भी भारी-भरकम. तभी मैं उसके पास गया और धीरे धीरे उसके शरीर में हाथ फेरने लगा और उसके साथ ही बेड पर लेट गया. पहले ही अपने माँ-बाप को खो चुकी हूँ। अब गोपाल ही मेरी दुनिया है, वो चला गया तो मैं जीते जी मर जाऊंगी।साधु- भोलेनाथ की तुझपे बड़ी कृपा है इसी लिए मैं अपनी सिद्धि छोड़कर यहाँ तेरे पास आया हूँ बेटी.

मोहाली शिफ्ट होने के बाद हम दोनों ने मिलने का प्रोग्राम बनाया और मैंने पहली बार अपनी मानसी को देखा. एक दिन मेरे एक पक्के दोस्त राकेश ने कहा- क्यों ना हम सब लोग किसी रंडी को चोद कर आयें, ताकि थोड़ा रिलैक्स हो जायें।मैंने भी कभी किसी रंडी को नहीं चोदा था क्योंकि मैं उस लायक नहीं हूँ, मेरा लंड कह लो या लुल्ली बस मूतने के काम आती है.

मैंने पूछा- कहाँ तक जाना है?‘मुझे कुछ किलोमीटर दूर एक छोटा सा गाँव है. थोड़ी दारू भी लगाए था, उसकी भी ताकत थी। नहीं तो इतनी देर में तो दो या तीन निपट जाते।मेरे बगल की खाट वाले भी जाग गए. हम दोनों बहुत अच्छे दोस्त बन गए थे, वो शायद मुझे पसंद करने लगी थी पर उसको यह नहीं पता था कि मैं भी उसको पसंद करता हूं.

हॉट सेक्स एचडी वीडियो

सुमित राजे और मेरी चुदाई का पूरा दृश्य देखकर सचमुच बहुत ज़्यादा उत्तेजना का शिकार हो गया था और शायद फरीदा भी चुदासी हो गई थी.

तुम जब चाहो मुझे चोद सकते हो, परन्तु अभी कुछ दिन बाद, क्योंकि मेरी चूत अभी बुरी तरह से दुःख रही है. मामी ‘आ हह हां आह आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… अहह हह हा’ की आवाज़ कर रही थी. बीच में ही वह मेरे मदनमणि को अपने दांतों से हल्का सा काटती तो मेरी सिसकारी छूट जाती.

शायद मैं रात को बंद करना भूल गई होऊंगी और आपको पता है ना सोते टाइम मुझे ज़्यादा कपड़े पसंद नहीं।जॉय- अरे तो मत पहना कर. जरा कंट्रोल में रहना।साहिल- बात तो समझ में आ गई मगर वो खुद कैसे बोलेगी उसका क्या प्लान है?संजय ने विस्तार से सबको अपनी स्कीम बताई और कैसे सबको एक्टिंग करनी है. बीएफ सेक्स सेक्स हिंदी मेंकुछ देर बाद मैंने भी 10-12 तेज तेज धक्के मार कर उसकी चूत में अपनी पिचकारियाँ चला दीं.

क्या बातें हो रही हैं सब मिलकर मेरी कोई बुराई तो नहीं कर रहे ना!वीरू- अरे, तुम्हारे अन्दर बुराई वाली बात ही कहाँ है, जो करेंगे. मुझे थोड़ा थोड़ा दर्द हो रहा था पर आकाश ने मुझे पीछे से कस कर पकड़ रखा था जिससे मैं छुड़ा भी नहीं पाई!अब आकाश ने तो शुरू में ही तेज़ तेज़ धक्के मारने चालू कर दिए.

कभी वो अपने बेटे के मित्र से चिपक कर बातें करती तो कभी उनसे हंसी-मजाक किया करती। वे लड़के भी 18-19 साल के फस्ट ईयर के छात्र थे, बेटे के दोस्त होने से कोई कुछ नहीं कहता। कभी वो भी आंटी-आंटी कह कर घुल-मिल कर बातें करते, मजाक करते।एक दिन की बात है. मुझे टीवी की तरफ देखकर रफीक की तरफ देखा तो रफीक बोला- राजेश तुम सोच रहे होंगे कि मुझे सबीना को तुमसे चुदवाते देख हैरानी क्यों नहीं हो रही. मैंने थोड़ा नॉर्मल होते हुए जवाब दिया- ठीक है जी, मैं ला दूँगा!सभी बात करने लगी- सैम, तेरे काम करने का थोड़ा हम लोगों को भी बेनेफिट हो जाता है, डिस्काउंट जो मिल जाता है.

’ मैं बोला और मैडम के पीछे आ गया, दोनों चूची दबाने लगा और लंड पीछे गांड के दरार पे फंसा कर रगड़ने लगा. आपको ऐसी बात कहते शर्म नहीं आती?मैंने कहा- जब पूछने वाले को शर्म ही नहीं. वो कभी उसको किस करता तो कभी कपड़ों के ऊपर से अनिता के मम्मों को दबाते.

तभी छेद में से ऋतु को अपनी तरफ देखते हुए मैं पास गया तो उसने पूछा- क्या तुम्हारा हो गया?मैंने जवाब दिया- हाँ और तुम्हारा?वो मुस्कुरा कर बोली- हाँ मेरा भी!मैंने कहा- मुझे तो बड़ा ही मजा आया!ऋतु बोली- मुझे भी… चलो अब नीचे नाश्ते पर मिलते हैं!और यह कह कर वो अपनी गांड मटकती हुई बाथरूम में चली गई.

पूजा कुछ सोचते हुए बोली- चलो वो तो ठीक है, पर क्या तुम अपने भाई के सामने नंगी हो सकती हो?ऋतु- उसे अपने सामने मुठ मारता हुए देखने के लिए तो मैं ये सब कर ही सकती हूँ… ये कोई बड़ी बात नहीं है और जब हम दोनों करेंगे तो मुझे इसमें ज्यादा शर्म भी नहीं आएगी. बहुत दिनों बाद आने के लिए माफी चाहती हूँ मगर मैं किसी काम में फंस गई थी इसलिए नई कहानी नहीं ला पाई.

मेरे पास सिवाए उसके हिसाब से चलने के कोई और चारा नहीं था पर मैं एक बार पक्का करना चाहता था कि मैं और वो एक ही स्तर पर हैं या नहीं. आज जब उसको देखा तब भी मेरी नजर में बच्ची ही लगी, लेकिन वो अब बड़ी हो चुकी है, पूरे 18 की! और दोपहर से शाम तक जो हुआ, पूछ मत यार मेरी क्या हालत हुई है!टीना- ओह गॉड अब समझी कुछ ना कुछ गड़बड़ तो हुई है. मेरा मन तो कर रहा था कि इसके होंठों को खा जाऊं।मैं अंकिता को किस करते हुए.

तभी नीलम तो झड़ गई ‘पण्डित जी…’ कहते हुए पण्डित को कस कर पकड़ लिया और एकदम पस्त हो गई, फिर कहा- बस अब रात में कर लेना।पता नहीं पण्डित कैसे मान गया और एकबारगी उसके होठों को कुछ देर चूसने के बाद रात का वादा लेकर छोड़ दिया।नीलम उठ कर अपने ब्लाउज को ठीक कर बैठी ही थी कि पण्डित ने अपनी धोती में से अपना फनफनाता लंड निकाल कर नीलम के सामने कर दिया. इस चाची सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा कि चाची के बीमार होने पर मैंने उनकी सेवा की और मुझे चाची की चुदाई का मौक़ा भी मिला. ‘आआआ… क्लास! मजेदार… बड़े शानदार तरीके से तुम मेरी ओवरी में घुसे हो जान! सुपर… बस अब ऐसे ही दोनोंमेरी चुदक्कड़ चूतको चोदते रहो…’ मेरी हमसफ़र के मुंह से इतनी अश्लील बात इतने नेचुरल तरीके से निकली और वो दुबारा उत्तेजना से अपने लंड को सहलाते स्वान का लंड चूसने लगी.

बीएफ सेक्सी कॉलेज आप चेंज करो, मैं अभी फ्रेश हो जाती हूँ।गोपाल- जान ये कमरे का हाल ऐसे क्यों है? चादर नीचे पड़ी है सब अस्त-व्यस्त सा है. पर अमन ने 15 मिनट से ज्यादा नहीं चुदवाया। फिर दोनों ने मेरा लंड चूस-चूस कर ठंडा कर दिया और अमन ने मेरा पूरा माल मुँह में ले कर बाहर थूक दिया।अब तक रात के 12:15 बज चुके थे.

जानवरों का सेक्सी एचडी वीडियो

मेरा मुँह उनकी चुत पर ढक्कन की तरह फिट था सो मैं धीरे-धीरे करके दीदी की चुत का माल पीता गया. फिर उसने अपने लब बंद कर लिए और अन्दर ही अन्दर अपनी जीभ मेरे लंड के चारों तरफ फिराने लगी. ये बात मैं समझती भी थी, पर किसी से कहना कभी ठीक नहीं लगा।मैं अन्तर्वासनासेक्स स्टोरीजपढ़ती थी तो मुझे सेक्स नॉलेज पूरी थी.

आकाश मुझे सीधा बेडरूम में ले गया और जाते ही मुझे पीछे से पकड़ कर मेरे गले पर किस करने लगा. बन जा तू भी काका के लंड की दीवानी।ये दोनों छज्जे से उतर कर काका की छत पर आ गए थे। उस वक़्त काका अपने चरम पे थे और मोना की टाँगें उठा कर उसकी ज़बरदस्त चुदाई कर रहे थे। वैसे उनको आवाज़ सुनाई दे गई थी कि राजू और राधा ठीक उनके पीछे आ गए हैं।मोना- आह. करवा चौथ का सेक्सी बीएफफिर आकाश एक एक कर मेरे ब्लाउज के हुक खोल दिये और ब्लाउज निकाल कर अलग फेंक दिया और मेरी चुचियों को ब्रा को बिना खोले नीचे सरका कर बाहर निकाल लिया फिर मुझे दीवार के साथ लगा कर मेरी चुचियों को अपने मुंह में भर लिया और जोर जोर से चूसने लगा.

मेरी नज़र जब मामा जी लंड पे पड़ी, मैं सहम सी गयी, इस बार सबसे ज़्यादा विशाल और मोटा लग रहा था, एकदम कड़ा सा ऊपर की ओर तना हुआ था.

पर सोने का अभिनय कर रहे थे।फिर एक जोरदार धक्के के साथ चिपक कर रह गया. गुलशन जी ऊपर से नीचे अनिता को निहार रहे थे, वो किसी अप्सरा से कम नहीं लग रही थी.

उसने जो सोचा, वही हुआ भी, उसके चिपकते ही गुलशन जी के लंड में तनाव आने लगा. इससे हम दोनों को इन्फेक्शन हो जाएगा।वो अधचुदी मन मसोस कर रह गई।ऑफिस से आते समये गुप्ता जी बोले- तो आज फिक्स है ना?मैंने बोला- गुप्ता जी उसका मेंसिस आज पूरी तरह से क्लियर नहीं हुआ. वो लड़की जैसे ही शावर के नीचे जाकर गाना गुनगुनाते हुए साबुन धोकर घूमी तो उसकी चीख निकल गई.

तुम जब चाहो मुझे चोद सकते हो, परन्तु अभी कुछ दिन बाद, क्योंकि मेरी चूत अभी बुरी तरह से दुःख रही है.

क्या बातें हो रही हैं सब मिलकर मेरी कोई बुराई तो नहीं कर रहे ना!वीरू- अरे, तुम्हारे अन्दर बुराई वाली बात ही कहाँ है, जो करेंगे. काका का भारी भरकम शरीर अब राधा को बोझ लगने लगा था। उसने काका को हटने के लिए कहा और काका जब उठा फच्च की आवाज़ के साथ लंड चुत से बाहर निकल आया और साथ में खून और दोनों का मिला-जुला रस भी बाहर आ गया। नीचे बिछी चादर पे खून का धब्बा बन गया. इस काम में लड़कियों को उम्रदराज लोगों की यौन आवश्यकताओं को पूरा करना होता था और बदले में भरपूर पैसा मिलता था.

एक्स एक्स वीडियो एक्स एक्स बीएफ वीडियोआप मेरी चीख तो दबा दोगे मगर वहाँ बहुत दर्द होगा और मेरी चाल भी बदल जाएगी, इससे कहीं मेरी मॉम को पता ना लगा जाए. मैं गोवा से हूँ, अब यहाँ मुंबई शिफ्ट हो गए हैं, सो मैंने यहाँ एड्मिशन ले लिया।विक्की- फर्स्ट ईयर हो?फ्लॉरा- नो 3र्ड ईयर.

सट्टा मटका लीव

इसी तरह मेरी नेहा भी किसी से कम नहीं है, नेहा भी अपने जिस्म को फिट रखती है, और नेहा की एक ख़ास बात ये है कि वो लंड को चूसते हुए अपने मुंह में झड़वाना पसंद करती है, दूसरा सेक्स में हर तरह से मेन्टेन हो जाती है, मतलब उसे किसी भी तरह से सेक्स करना या सेक्सी बातें करने में दिक्कत नहीं आती और सोसाइटी में आम लोगों की तरह से सभ्य तौर पे विचरना भी खूब जानती है, उसकी यही अदाएं मुझे अच्छी लगती हैं. ये मज़ा इसकी सज़ा बन जाएगी।पूजा- क्या सोचने लगे आप आओ ना।संजय ने दरवाजा बंद किया और कल की तरह लाइट ऑफ कर दी।पूजा- वाउ मामू आप ग्रेट हो. मैंने मौका देखा और बाल्कोनी के दरवाजे पर गई और अपने सीधे हाथ से उसके लंड को रगड़ मार के निकलने लगी.

थोड़ी देर पहले वो नशे में कह रही थी कि तुम्हें मुझसे भगा ले जाएगी, तेरे साथ जबरदस्ती करेगी, मगर अब लगता है कि तेरा लंड देखकर इसकी फट गयी है. मॉंटी- दीदी आज सुमन दीदी ने पहले मेरा इलाज किया, फिर मैंने उनका किया उसमें बहुत मज़ा आया मुझे. तो कोई नहीं मिल रहा था।कल दिन में FB पर मैसेज भी पोस्ट की और कुछ रिप्लाई भी आए.

वो आगे बोली- लेकिन वो भी पहली बार सिर्फ तुम्हारे लिए… तब तुम अपने दोस्तों को नहीं बुलाओगे… फिर बाद में हम तय करेंगे कि आगे क्या करना है. मैं अब तेजी से अपना लंड उसके मुंह में आगे पीछे करने लगा और अब मैं उसका मुंह चोद रहा था. कभी कभी मेरे निप्पल को काट लेता और मैं दर्द के मरे सिहर सी जाती मगर मुझे मजा भी आ रहा था।धीरे धीरे वो निचे की तरफ चला गया और मेरी चूत को चाटने लगा.

मैं- आहह क्या मस्त चूसते हो तुम भाई बहन… काश तुम दोनों एक साथ इसको चूसते, यार तुम कहो तो आज सबीना को तेरे सामने ही चोद दूँ और तुम भी उसकी चूत और मेरे मस्ताना के मिलन का चाट कर आनन्द ले सकते हो. अभी स…सपने मैं तुम्हें चोद रहा था तो पानी निकल गया, इतने में तत… तुम आ गईं… तो मैंने सोचा तुम नाराज़ हो जाओगी… इसलिए मैंने साफ कर दिया और ऐसे ही सो गया.

मैं लेट तो नहीं हुई ना!सबने फ्लॉरा को हाय कहा और संजय ने कहा कि वो बिल्कुल टाइम पे आई है।फ्लॉरा- वैसे आप ही सब यहाँ हो.

मैंने पूछा- भैया कहाँ हैं?तो भाभी बोलीं- भैया ड्यूटी गए हैं और रात को आ पायेंगे. सेक्सी बीएफ वीडियो पिक्चर हिंदीमैं अपने बेड पर आकर बैठ गया और संकुचाते हुए अपनी जींस और चड्डी को उतार दिया और मुठ मारना शुरू किया. कामवाली बाई की बीएफ वीडियोजीन्स, टी शिर्ट्स, शॉर्ट्स, निकर, टॉप, गाउन, मिनी स्कर्ट, शॉर्ट स्कर्ट. मुझमे जोश बढ़ता जा रहा था, मैं मौसी के बदन को अपने हाथों में भर भर के दबा रहा था.

अचानक हुए इस हमले से मैं पूरी तरह से हिल गई और ‘आआईई उम्म्ह… अहह… हय… याह… भोसड़ी के मार डाला मादरचोद आआह्ह ह्ह्ह…’ ही बोल पाई.

मैंने फिर से छेद में झाँका तो देखा कि दोनों अपनी किताबें समेट रही हैं. अब उसने बिना कुछ सोचे मेरी बहन की चुत में लंड को पेलने के लिए एक जोर का झटका दे मारा. हम दोनों की बातों का सिलसिला करीब एक साल चला और फिर वो मौका आया जिसका हम दोनों को ही बेसब्री से इंतज़ार था.

मोना- देख नीतू, वैसे तो सारा काम मैं अकेले ही करती हूँ मगर कभी-कभी बीमार होती हूँ तो मुश्किल हो जाती है. मैं चुपचाप उठा और अपना पायजामा उतार कर खड़ा हो गया और अपने लंड के ऊपर हाथ रखकर आगे पीछे करने लगा. थोड़ी देर बाद मैं सो गई लेकिन अचानक रात को किसी हलचल से मेरी नींद खुल गयी.

हिन्दी सेक्सी विडियों

साइकिल पर बैठते समय उसकी कुर्ती ऊपर चढ़ गई जिससे उसकी सफ़ेद सलवार के अन्दर से उसकी गुलाबी जांघों और सफ़ेद पेंटी की झलक मिली जिसे देखकर ही चित्त प्रसन्न हो गया. उसने मुझे अपने बॉयफ्रेंड के बारे में बताया जो बेंगलूरु में एक कंपनी में जॉब पर था और उसको कम टाइम देता था. उसकी आँखों में छाई हुई हलकी हलकी लाली दर्शा रही थी कि वो बहुत उत्तेजित थी.

’ की आवाज़ों से उसे अपना और अधिक दीवाना बना रही थी।देवर भी पूरा जोश में आ गया, वो कभी मेरी चूत में लंड घुसेड़ता.

तब मामा ने अपने दोनों हाथ से मेरे दोनों चूतड़ कस कर पकड़ कर फैला दिए और मेरी गांड के छेद को जीभ से सहलाने लगे.

नमस्ते दोस्तो, आप सबका बहुत-बहुत धन्यवाद, आपको मेरी सेक्स स्टोरीशादी के तीन साल बाद सुहागरात की चुदाईपसंद आई और मुझे आप सभी के बहुत सारे ईमेल भी मिले, पर मुझे खेद है कि मैं सभी को जबाव नहीं दे पाई, इसके लिए माफ़ी चाहती हूँ. गुलशन- अरे कुछ नहीं होगा भला चोदने से कोई मरता है क्या? मैंने कहा ना… बस आज सहन कर ले, फिर मज़ा ही मज़ा है… तू बोलेगी तब आगे चोदूंगा ठीक है. www com बीएफमनोज बहुत तेज तेज सुलेखा की चूत पे अपनी जीभ चला रहा था, मैंने भी वैसे ही तेजी से रुचिका की चूत पे अपनी जीभ चलानी शुरू कर दी.

उसकी पेंटी के पास आ गया और पेंटी के ऊपर से ही उसकी चुत को सहलाने और किस करने लगा। फिर मैंने उसकी पेंटी उतार कर एक साइड में फेंक दी और उसकी चुत पर एक प्यारा सा चुम्बन किया और उसकी चुत के दाने को चाटने लगा।वो- आआहह. उस टाइम मैंने टाल दिया कि अभी वो लोग भी होली में व्यस्त होंगे इसलिए मैं शाम को उसके साथ यह बात छेड़ूँगी. मैं मान गयी और मामा जी का लंड चूसने लगी, मामा जी का लंड इतना मोटा था कि सिर्फ़ टोपा ही मेरे मुँह में जा पा रहा था.

जमीला अब मेरा लण्ड और रफीक की गांड भी चाटने लगी तो रफीक ने पीछे मुड़कर देखा तो जमीला मुस्करा दी. यदि आपको एतराज़ न हो तो क्या यह संभव होगा?राजे- ज़रूर संभव होगा मोना… लेकिन मेरी कुछ शर्तें हैं… तुम्हारा हस्बैंड साथ में हैं क्या? हैं तो फोन को स्पीकर पे लो और उनसे बात करवाओ.

बस ऐसे ही लेटी रहने दो मुझे!’ वो बोली और अपनी चूत एक दो बार रगड़ी मेरे लंड पे और फिर शान्त होकर लेटी रही.

अब तू ये बता तुझे क्या-क्या काम करना आता है?नीतू- दीदी, मुझे चाय बनानी आती है मगर खाना बनाना नहीं आता. यह सुनते ही रफीक ने पीछे मुड़कर देखा तो सबीना नंगी खड़ी है, उसकी चिकनी चूत बिना बालों के चमक रही है और उसके बड़े मम्मे कड़क हो रहे हैं. मैं जानता था कि पूजा अब झरने वाली है, कुछ ही समय में वो झड़ गई और बेड पर बेहाल हो गई.

सेक्सी बीएफ चुदाई हिंदी आवाज में ’‘मैडम आप सोई नहीं हैं, आप सो जाईये मैं सब देख लूँगा!’‘सुबह से तबीयत सही नहीं है इसलिए नींद नहीं आ रही है!’‘जा जाकर एक ठंडी बीयर ले आ!’‘क्या कह रही हो मैडम?’‘क्यों कुछ गलत कह दिया क्या… जा कर लेकर आ!’मैं नीचे जा कर थोड़ी दूर पर दूकान से एक बीयर की बोतल ले आया. उसने रिया का बदन थोड़ा टेढ़ा किया तो रिया की चुत मेरे मुँह के सामने आ गयी.

सच में राहुल भी एकदम मस्त था यार। अमन से किसी भी लिहाज से कम नहीं था।अब ना तो मेरे से कण्ट्रोल हो रहा था और ना ही उन दोनों से. तो वो बोला- मेरा नाम आकाश है, और आप अपना नाम बता दो तो जान पहचान हो जाएगी!मैं उससे कुछ बोले बिना वहाँ से आगे चल दी और वो मेरे पीछे पीछे लगा रहा, मैं जहाँ जाती वो भी मेरे पीछे वहीं आ जाता. रिया एक उम्दा सा, ट्रांसपैरंट, बेबीडॉल नाइटी और पैरों में हाय हील पहन कर, बेड पे सेक्सी मुद्रा में बैठी थी.

मराठी रियल सेक्स

इस सब का किसी को भी पता नहीं था कि हम ये सब बहुत कुछ सच में करते थे. अब वो कमसिन कली बिना कपड़ों के मोना के सामने थी, जिसे देख कर मोना हैरान हो गई कि इतना कसा हुआ बदन और एकदम बेदाग, कहीं पर कोई भी निशान तक नहीं था. मैं इतना अधिक उत्तेजित हो गया था कि अपनी हथेलियाँ नताशा की चूत के ऊपर टिका कर जोर-2 से उसकी गांड में धक्के लगाने लगा.

मैं एक बार उसके हालचाल पूछने गया तो वो अपनी कमर पर आयोडेक्स लगा रही थी जिससे उसे दिक्कत हो रही थी. अब जमीला भी गर्म हो रही थी तो मैंने रफीक की गांड से मस्ताना निकाला और रफीक को बेड पर एक पलटी मारने को कहा तो दोनों ने पलटी मारी, अब रफीक नीचे और जमीला ऊपर आ गई और अब मैंने जमीला को कंडोम पैकेट पकड़ा कर कंडोम बदलवाया.

ये बात है तो ड्रेस और चप्पल से क्या होगा, उसको और कुछ भी चाहिए होगा ना!अनीता ने ये बात सामने अंडरगार्मेंट्स के डिपार्टमेंट को देख कर कही थी, जिसे बाप और बेटी दोनों समझ गए।गुलशन- सुमन एक काम करो ये बहुत सामान हो गया है, ये सब बैग मुझे दो और मेरे लिए एक पानी की बोतल ले आओ.

नहीं मानना तो मत मानो! चलो घर चलते हैं अब!’ मैंने थोड़ा झुंझला कर कहा. मेरी नंगी गांड को देखकर दूसरे दोस्त ने मेरी गांड पर हाथ फिराना शुरु कर दिया. मुझे चाची के होंठों में व्यस्त हुए अभी पाँच मिनट ही हुए थे जब उन्होंने मेरे एक हाथ को पकड़ कर अपने एक स्तन और दूसरे हाथ को अपने जघन-स्थल पर रख दिया.

मगर उन फटे पुराने कपड़ों में भी वो खिलता हुआ गुलाब नज़र आ रही थी, जिसे देख कर मोना की आँखों में चमक आ गई और उसने मीना को थैंक्स कहा. आंटी मस्त होकर गांड को पीछे करके मेरा साथ देने लगीं और चिल्लाने लगीं- व्हाट ए लंड यार. अब आप जान ही गए कि चुदक्कड़ तो मैं पहले से ही थी लेकिन शादी के बाद बहुत बंधन हो गया.

लगातार करते रहते हैं जब तक कि लंड का रस न छूट जाए!’‘अरे वाह… लाओ बाहर निकालो अपना पेनिस, वो तो मैं अभी कर देती हूँ!’ वो खुश होकर बोली.

बीएफ सेक्सी कॉलेज: फिर मैं बाहर गया, तार पर उनके कपड़े सूख रहे थे, ब्लाउज के नीचे उनकी ब्रा लटकी थी, मैंने ब्रा उतारी और बाथरूम से उनकी पेंटी ले आया फिर उनको पहन कर मुठ मारी और मज़े किये. हमारी पार्टनर ने ख़ुशी के साथ तीसरे लंड को अपने मुंह में ले लिया और चटकारे लेकर उसे अपनी नर्म-गर्म-गुलाबी जीभ से चूसने लगी.

मगर काका की उम्र को देख कर उसको थोड़ा शक हुआ तो वो काका को उकसाने के लिए बोली- रहने दो काका. उसकी लाइफ बर्बाद हो रही है। किसी अच्छे डॉक्टर को उसे दिखाना चाहिए।राजू- भाभी मैं पहले अच्छा ख़ासा मर्द था मगर ये गंदी आदत की वजह से मैं ऐसा हो गया। अब कोई डॉक्टर इसे ठीक नहीं कर सकता है।मोना- पागल है तू. टीवी ऑन करने के बाद वो मेरी बहन के ऊपर चढ़ गया और मेरी बहन की गांड में अपने लंड को पेल दिया.

किसी को पता लग गया तो सब मेरी जान निकाल देंगे।राजू- अरे मेरी प्यारी भाभी.

अगले दिन सुबह ही चंडीगढ़ में एक होटल फाइनल किया, उसका कमरा ऑनलाइन बुक किया और मानसी को फ़ोन करके मंगलवार का प्रोग्राम फाइनल किया क्योंकि उसकी ड्यूटी कुछ ऐसी थी कि छुट्टी मंगलवार को ही मिल रही थी. तब तक संजय ने लंड गांड में डाल दिया था। एक दर्द की लहर फ्लॉरा के पूरे जिस्म में दौड़ गई।संजय अब ‘दे घपाघप. हाथ लगा के देख!पूजा ने अपनी चुत पर हाथ लगा कर देखा वो भी कामवासना में जल रही थी।पूजा- हाँ मामू, मेरी फुन्नी भी गरम हो रही है मगर ये ऐसे गर्म क्यों है?संजय- अरे भोली गुड़िया जब मेरी फुन्नी और तेरी फुन्नी आपस में मिलती हैं ना.