बीएफ सेक्सी चुदाई वाली नंगी

छवि स्रोत,राम सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

गढ़ा सेक्सी वीडियो: बीएफ सेक्सी चुदाई वाली नंगी, अब मीना ने अपनी कमर को तेजी से ऊपर उठना शुरू कर दिया, शायद अब वो झड़ने वाली थी!उसकी बढ़ती ही सिसकारियाँ मुझे और अजय दोनों को बेचैन कर रही थी, उसकी साँसें जितनी तेजी से अंदर बाहर हो रही थी, उतनी ही तेजी से उसके स्तन भी गतिमान हो ऊपर नीचे हो रहे थे! तभी मीना ने अजय के लन्ड को छोड़कर मुझे अपने ऊपर खींच लिया और मेरे कान गर्दन पर काटने लगी.

माधुरी नंगी फोटो

ये सुनकर मेरी मम्मी बोलीं- ये आप क्या बोल रहे हैं … मैं अपने बेटे से, नहीं कभी नहीं … लेकिन क्या सच में आप अपनी मम्मी को चोद चुके हैं?मैं बोला- हां मेरी मम्मी बहुत अच्छी हैं. इंडियनएक्सएक्सएक्समेरे नंगे नितम्ब अब ‘सर’ की आँखों के सामने थे और योनि ‘पिंकी’ के सामने.

मैंने अब अपनी दो उंगलियां जागृति मेम के मुँह में दे दीं जिनमें उनकी चुत का रस लगा हुआ था. पंजाबी लड़कियों की चुदाईमेरा दिमाग चकरा गया कि ये घर क्यों आने को बोल रही हैं, जबकि प्लान तो कुछ और है.

रात को करीब एक बजे के लगभग मेरी नींद खुली तो मैं पेशाब करने के लिए बाथरूम में गयी.बीएफ सेक्सी चुदाई वाली नंगी: पहले तो वह अलग होने लगी लेकिन मैंने उसको बांहों में ले लिया और उसको किस करने लगा.

अमर ने पिंकी को चूमते हुए पूछा- पिंकी तुम पैंटी नहीं पहनती हो क्या?पिंकी ने कहा- जीजू, मुझे पता था कि हम दोनों को आज मौका मिलेगा … इसलिए आज मैंने पैंटी पहनी ही नहीं.उसने मेरे लंड को अपने हाथ में पकड़ लिया और बोली- इसको मैं शांत कर देती हूँ.

एक्स एक्स सेक्स वीडियो दिखाएं - बीएफ सेक्सी चुदाई वाली नंगी

मैंने कहा- कोई बात नहीं, वैसे भी अब रूम पर जाकर मुझे सोने के सिवाए कोई काम नहीं है.वो अपना लंड मेरी चूत में डालने के लिए पोजीशन बदलने ही लगे थे कि मैंने अपने पैरों को सिकोड़ लिया.

साथ में उसकी चूचियों को पकड़ लिया और उसकी चूत की जबरदस्त चुदाई करने लगा. बीएफ सेक्सी चुदाई वाली नंगी इससे पहले कि वसुन्धरा के जिस्म में काम-विस्फोट हो जाए, मुझे इस काम-केलि की कमान अपने हाथ में लेनी थी.

पसीने की वजह से बग़लों में ब्लाउज और जांघों के बीच पैंटी चिपक कर बैठ गई थी.

बीएफ सेक्सी चुदाई वाली नंगी?

पूजा के चूचों को अपने हाथों से भींचा और धक्कों का जोर बढ़ता चला गया. मैं उनकी पीठ पर लगभग लटक ही गयी थी उनके धक्के मुझे बाथरूम के फर्श से हर बार उठाते और फिर धम्म से नीचे पटक देते. जाहिर सी बात है कि प्रीति अनगिनत लंड अपनी चूत में ले चुकी थी।पर फिर भी प्रीति ने अपने को मेंटेन कर रखा था।उसकी चूत पूरी मखमली थी और मम्मों का कसाव बरकरार था।प्रीति के पैर के नाखून भी कुछ लंबे और अच्छे से तराशे हुए थे।उसके जिस्म पर बाल का एक रोयाँ नहीं था और त्वचा बिल्कुल चिकनी रेशम जैसी थी.

जबकि अमर की बीवी को एक लड़की हो चुकी थी और जल्दी ही एक और बेबी होने को था. जब मैंने उसके कपड़ों को निकाला, तो मैं उसके शरीर की बनावट देखता ही रह गया. थोड़ी देर तक वैसे ही पड़े रहने के बाद मैं भी मौसी के पीठ की तरफ मुँह कर लिया.

पर फिर मेरी जिद पर उन्होंने मुझसे कहा- ठीक है अपनी तीनों बीवियां अपने साथ ही ले जाओ. मैं अपने घुटने के बल बैठकर सरिता की नाभि के आजू बाजू अपनी जीभ गोल गोल घुमाने लगा तो सरिता सिहर उठी. फिर मैं अपनी जीभ को कल्पना की चूत के दाने के पास ले गया, जो नीचे की तरफ था.

सुरभि ने एक दिन बताया कि उसके जीजा जी उसके ऊपर काफी शक करते हैं कि उसका किसी लड़के के साथ चक्कर है, इसलिए वो उसके साथ और उसकी दीदी के साथ काफी सख्त रहते हैं. एक बार जब मैं उनके घर गया, तो वहां न तो बंटी दिखा और न ही सलोनी मौसी दिखीं.

वो ‘ह्हाआ ह्ह्ह ऊओह्ह ह्ह आअह ह्ह्ह्ह …’ की मादक आवाजें निकाली जा रही थी.

वो मेरे हाथ से कटोरा लेती हुयी बोली- लगता है चुदाई के मामले आप बहुत दिमाग रखते हो?फिर नम्रता कुर्सी से उठी और वाशरूम की तरफ घूमी, लेकिन फिर अचानक मेरी तरफ घूमते हुए बोली- शरद मुझे भी तुम्हारी मलाई चाहिये.

मेरी मामी यानि धीरज की माँ कह रही थी- इन बातों का आप जानें … मुझे तो आप अपने लंड से खुश करो. मैंने देखा कि उसने अपनी नाइट ड्रेस वापस से पहन ली और फिर लाइट बंद करके अपने घर में अंदर चली गई. एलेक्स अपना लंड मेरे मुँह में डाल कर मेरी गर्दन आगे-पीछे कर रहा था.

मैंने अपनी दो उंगलियों से उसकी चूत के आसपास की भूरी फांकों को हटाया और देखा तो उसकी चूत का छेद, जिसमें मुझको अपना लंड डालना था, वो वैसा ही था, जैसे छेदों में अब तक मेरा लंड जा चुका था. क्या पता कितनों से चुद कर आई हो। मैंने उसके बालों को पकड़ कर अपना लंड उसके मुंह में ठूंस दिया और उसके मुंह को जोर जोर से चोदने लगा. मुझसे रहा नहीं गया और मैंने हाथ बढ़ा कर राधिका के एक मम्मे को मसल दिया, जिससे राधिका की गर्म आह निकल गई.

मतलब की राखी उसके लंड पर बँधी होती थी और मेरी चूत राखी बँधे लंड से चुदा करती थी.

बुर की दोनों फांकें एकदम फूली हुई थीं, जैसे पावरोटी एक दूसरे से चिपकी हुई हों. प्रिया मस्त होने लगी- आआह … आआहह … भैया … और तेज … और अन्दर … आआअहह … कस के चोद दीजिए मुझे आज … बहुत बड़ा लंड है आपका … अहह. फिर दिन में दस बजे भाभी प्लाट में भैंस बांधने आईं, तो मैं नीचे घर में चला गया.

राधिका और दिशा को ब्रा पेंटी में देखा कर सोनल ने भी अपना लंहगा निकाल दिया अब वो भी ब्रा पेंटी में मेरे सामने थी. उसने मेरे लंड पर हाथ रख कर कहा कि सिर्फ़ गले लगाने से तुम्हारा टाइट हो गया और तुम्हारे दोस्त के सामने तो मैं कपड़ों के बिना जाती हूँ, पर उसका टाइट तो छोड़ो, खड़ा ही नहीं होता. मैं हंसने लगा और मैंने सोनू से कहा- अब देखना, एक दो महीने बाद तुम्हारे ऊपर पूरा निखार आएगा और तुम्हारा शरीर और सुंदर होगा.

फिर उन्होंने जब मेरी सुपारे को बाहर निकालने के लिए खाल नीचे की, तो मुझसे बर्दाश्त नहीं हुआ और मेरे लंड ने अपना लावा उगल दिया … जो उनके पूरे चेहरे पर जा लगा और थोड़ा सा उनके मुँह में भी चला गया.

मैं माया भाभी की टांगों के बीच में घुटनों के बल आधा खड़ा होकर उसकी चूत में अपना लंड डाले नंगा खड़ा था. मैंने माया भाभी को खड़ा किया और उसकी पजामी और पैंटी दोनों एक साथ निकाल दी.

बीएफ सेक्सी चुदाई वाली नंगी ये वाकया करीब डेढ़ एक साल पुराना है, इसको मैंने अप्रैल में लिखना शुरू किया था मगर अपनी व्यस्तता के कारण पूरा नहीं कर पाया. फिर मैंने अपना अंतिम झटका उसकी चूत में मारा और लंड बाहर निकाल कर अपना माल उसके दोनों चूतड़ों पर गिरा डाला.

बीएफ सेक्सी चुदाई वाली नंगी उसके अगले दिन फिर अंकल जी आते दिखे, मैं पिछली सुबह की तरह ही खड़ी थी और उन्होंने मुझे अपने पीछे आने का इशारा कर दिया. यार मैं क्या बताऊं … मैं अभी उस वक्त का मंजर लिख रहा हूँ तो वही सब सीन सोच कर मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया है.

मैंने उसको वापस अपनी तरफ खींच लिया और उसको फिर से अपने नीचे लेटा लिया.

एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स देसी

मैं अपने शरीर पर के इन कामुक अंगों को छेड़ने लगी, तो उसका परिणाम तुरंत मेरी जांघों के बीच होने लगा. उसने मुझे कसके पकड़ा … तो उसके नाखून मेरी पीठ को काटने लगे, उसके नाखून पीठ में गड़ने लगे. 10 मिनट तक ऐसे से चोदने के बाद वो उठा और मुझे खींच के बिस्तर के बाहर ले गया मेरे होंठों को चूमते हुए उसने मेरे दोनों हाथ अपने गले में फंसा लिए और झटके से मेरे दोनों पैरो को पकड़ के उठा के अपनी कमर में फंसा लिए और लंड चुत में टिका कर एक बार में पूरा लंड अंदर पेल दिया.

फिर मैंने उनकी चूत को और देर तक चाटा, जिससे वो फिर से चुदासी हो गईं. मैंने उससे पूछा- तुम्हें कैसा लड़का पसंद है?उसने कहा- जो मुझे सबसे ज्यादा प्यार करे और मेरी हर ख्वाहिश को पूरी करे. एक दिन मुझे उसका मैसेज जीमेल पर आया कि ‘हैलो अगम मैंने तुम्हारी कहानी पढ़ी और मुझे काफी अच्छी लगी.

वसुंधरा की हवा में झूलती ओढ़नी, जो उसके जूड़े के साथ पिन की गयी थी, वसुंधरा के तेज़ी से गोल घूमने के कारण बार-बार दाएं-बाएं हो रही थी और इसी प्रक्रिया में वसुंधरा के आकर्षक, भरे-भरे और करीब-करीब अनावृत, गोरे-चिट्टे नितम्बों की मुझे रह-रह झलक मिल रही थी.

अपनी छाती से मैं उसके मोटे मोटे मम्मों को रगड़ रहा था और मेरा 8 इंच का भारी भरकम लौड़ा उसकी चिकनी चूत पर टच हो रहा था. तभी सोनिया ने गांड उठाते हुए मेरा लंड अपनी चूत की जड़ तक लिया और कहने लगी कि आह आज काफी दिनों बाद मुझे लंड का मजा मिला है. मैंने बात को संभालते हुए कहा- ठीक है, मगर तुमने मुझे पहले क्यों नहीं बताया ये सब?वह बोली- मैं तुमसे यही बात करना चाहती थी लेकिन तुमने मुझे बताने का मौका ही नहीं दिया.

मैं बहुत खुश हो गया कि आज पहली बार अपनी मौसी की लड़की की फुद्दी को छूने का मौका मिला है. मैं- तुमको प्यार करके ही बड़ा हो गया है ये!प्रिया- भैया और कस कसके कीजिए ना … आज एकदम गहरी कर दीजिए. हां, मगर 5-6 दिन में मुझे वापिस दे देना क्योंकि मैंने भाई की अलमारी से चुराई हैं.

इधर यह मेरी पहली कहानी है, इसलिए कोई भूल दिखे, तो मुझे माफ़ कर देना. बीवी ने बगल में रखी वैसलीन की डिब्बी मेरे हाथ में दे दी, जो उसने पहले से ही अपने पास ले रखी थी.

पहली चुदाई की कहानी कैसी लगी दोस्तो? मज़ा आया न? यदि हाँ तो इस कहानी का हॉट और तड़कता पार्ट 2 जल्दी ही लिखूंगा. मैंने पिंकी को दिखाने के लिए उनका हाथ पकड़ लिया- छोड़ दो ना सर प्लीज़!बहुत प्लीज सुन ली तेरी, अब चुपचाप मेरी प्लीज़ सुन ले. मनोज सर धीरे से बोले- साली रंडी पहले मुझे गर्म करती है, फिर चोदने भी नहीं देती.

मैं सुबह उठा तो देखा कि अंजलि नहाकर तैयार हो गयी थी, क्योंकि उसको कॉलेज जाना था.

मैंने उनसे ऊंची आवाज में पूछा- क्या हुआ चाची?उनके मोबाइल में कुछ समस्या आ गई थी, जिसे वो मुझे दिखाना चाहती थीं. उसने मेरे परिवार के बारे में जानकारी ली और मेरे परिवार की हैसियत जानकर वो मुझसे प्रभावित हो गई, लेकिन तब भी उसने मुझसे मेरे डैड से बना कर चलने की सलाह दी. यह कह कर वो चादर में पलट कर औंधी हो गई और उसने रितेश से चादर उठाने का इशारा किया.

मैं भी इनडायरेक्टली उसके तरफ ही इशारा किया करती, जिससे वह कुछ करने के लिये पहल करे. मेरी बात सुन कर शायद उसे ख़ुशी हुई और उसे भी अपनी मर्दानगी पर गर्व हुआ, वो बोल पड़ा- मजा गया सारिका जी, आप जैसी कामुक औरत मैंने आज तक नहीं देखी, काश प्रीति भी आप जैसी होती!उसने कुछ देर अपने लिंग को मेरी योनि में टिकाए हुए हल्के हल्के हिलाता रहा और फिर धीरे धीरे उसने धक्के मारने शुरू किए.

कुछ देर बाद मैंने उससे कहा- थोड़ी देर के लिए मेरे घर पर चलो, फिर तुम अपने घर चली जाना. मेरी समझ में आ गया कि इसे पहली चुदाई में बहुत दर्द होना है और ये समय अभी ठीक नहीं था. अब रोहन का लंड मेरी गांड में था और जॉन का लंड मेरी चूत में और एलेक्स का मेरे मुँह में.

मसाज वाली चुदाई

वो मेरी छत की तरफ देखती हुई चली गईं … मगर उस समय मैं उनके सामने नहीं आया.

अगर तुम्हारा दिल कर रहा है देखने को तो तुम मुझे यह देख कर कल वापिस कर देना, मैं इसे वहीं पर रख दूंगी जिससे उसे कुछ नहीं पता लगेगा. मैंने कहा- नहीं, उससे पहले तुमको भी वैसे ही करना पड़ेगा जैसे मैंने किया. मैं जानता था कि अगर पहले दिन की तरह इसकी चूत ने पानी छोड़ दिया तो आज भी मेरे खड़े लंड के साथ धोखा हो जाएगा.

नाम तो सुना ही होगा आप लोगों ने? अगर नहीं भी सुना है तो भी कोई बात नहीं. इस बार कोई देर ना करते मैंने उसे नंगी कर दिया और मैं भी नंगा हो गया. हिंदी में चुदाई वाली पिक्चरअब हम तीनों खाना भी साथ में खाते थे और कभी-कभी मैं उनके रूम पर ही सो जाता था.

मुझे आशा है कि मेरी बाकी कहानियों की तरह इस सेक्स कहानी को भी अपने कच्छे में हाथ डालकर लंड को पकड़ कर ही पढ़ेंगे और लड़कियां, भाभियां भी अपनी सलवार, लैगी या पैंटी में हाथ डाल कर गर्म चुत को ठंडा करेंगी. पत्नियां घूँघट की आड़ में अपने पतियों के साथ संसर्ग करने जाती थीं और उनके सेक्स करने का अंदाज काफी छुपा छुपा सा रहता था.

क्योंकि धीरज मेरी चूत में ही अपने लंड का पानी निकाला करता था और कहता था कि पूरा मज़ा चुदाई का लेना है तो चुदाई के समय कोई सावधानी ना करो. फिर मैंने पूरी ताकत से एक और धक्का लगाया और लण्ड पूरा अंदर समां गया और हम दोनों झड़ गये. अमर ने कहा- भाभी तुम्हारा हब्बी तुमको कितनी देर तक चोदता है?पिंकी- वो तो बस 3-4 मिनट में ही ढेर हो जाता है और वो भी स्लो स्पीड में.

आंटी ने एक स्टूल किचन की स्लैब के पास रखा और कहा- गौरव इसके ऊपर चढ़ कर ऊपर सेल्फ से अचार की बर्नियां उतार दो. सच कहूं वो मेरे नीचे लेटी ऐसी लग रही थी, मानो हाथी के नीचे कुतिया लेटी हो. अब मैं उसके मम्मों को दबा रहा था और वह मेरे होंठों को चूसते हुए ‘ऊंह … ऊंह …’ की आवाज कर रही थी.

तो एक छोटी सी मीठी कराह के बाद मीरा अपनी कमर उछाल कर रितेश का साथ देने लगी.

मगर मेरी हिम्मत नहीं हुई कि उसके साथ कुछ गलत करुँ … पर दिल नहीं मान रहा था. आज मेरे होंठों को पहली बार आशीष ने किस किया, मेरे होंठों को चूमने वाला पहला मर्द आशीष ही है.

एक पल के लिए तो मैं हतप्रभ रह गया और उसके बाद मैं सर झटकते हुए पानी पीने चला गया. मैंने कहा- क्या घुसा दूँ?वो बोली- अपना लण्ड मेरी बुर में घुसा कर फाड़ दो. मैं सब कुछ भूल के बस उसकी चूत में लंड के धक्के पे धक्के दिए जा रहा था.

दूसरी बार लंड को हाथ में पकड़ा और जोर-जोर से उकडू बैठ कर हिलाने लगा. मैंने भी अपने हाथ से राधिका के बाल पकड़ लिए और पूरे लंड को उसके गले तक पेल कर मुँह चोदन में जुट गया. मम्मी की टांगें हवा में उठ गई थीं- आआह उईईई … चोदो आआह मजा आ रहा है … आआह बढ़ा दो मेरी चूत का नाप … मेरे राजा … आआह.

बीएफ सेक्सी चुदाई वाली नंगी मैं बहुत असमंजस की स्थिति में था और चुपचाप बैठ के मन ही मन बस भाभी को गाली दे रहा था और सोच रहा था कितना अच्छा मौका था और ये अपनी सहेली को लेकर आ गयी।खैर रश्मि से मेरा परिचय कराते हुए भाभी ने कहा- रश्मि तुमसे मिलने के लिए आई है. बारह बजे प्राची ने होटल के बाहर आकर मुझे कॉल किया और मुझे दरवाज़ा खोल कर रखने को बोला.

मा ने बेटे का लैंड चूसा

फिर मैं कार ले आया और कार का दरवाजा खोल कर रिया को बिठा कर उसके बाजू में बैठ गया. उसके बदन की हरकतों से मुझे साफ पता लगने लगा था कि मोनी अब मेरे लंड की चुदाई का आनंद लेने लगी है. इधर मैं भी किसी सख्त मोटे लंबे लंड की तलाश में थी जिससे शादी कर सकूँ.

किंतु यदि अपने ही संतोष में संतुष्ट रहते हैं तो फिर सामने वाले की इच्छाओं के साथ यह बेईमानी हो जाती है. उसकी चूत पर हल्के हल्के बाल थे, मैंने उसकी चुत को बड़े मजे से चूसा और फिर उसको अलग कर दिया. রাজস্থানী সেক্স ভিডিওपत्नियां घूँघट की आड़ में अपने पतियों के साथ संसर्ग करने जाती थीं और उनके सेक्स करने का अंदाज काफी छुपा छुपा सा रहता था.

आपको मेरी यह कहानी कैसी लगी, इसके बारे प्लीज कमेंट करके जरूर बतायें और अगर आप मुझसे मैसेज पर बात करना चाहते हैं तो मेल करें.

चूत में पानी भर जाने से मेरे पति का लंड मेरी नाजुक कोमल गुलाबी चुत में आसानी से अन्दर बाहर होने लगा था. मैंने एक बार भईया की तरफ देखा, तो पाया वो नशे ओर नींद के आगोश में थे.

तभी वह दूसरा जो पटेल का दोस्त अपना लंड रगड़वा रहा था, वह बोला- ले बंध्या, मेरा लंड चूस!वो मेरे होंठों के पास मुँह में अपने लंड को रगड़ने लगा. मैंने उससे पूछा- लास्ट टाइम एमसी कब आई थी?वो बोली- बस दो तीन दिन बाद आने वाली है. जीजा- साली जी, तुम्हारी चूत में तो जन्नत का मज़ा है, चाटने दो ना! और तुम भी जवानी का मजा लो.

इस पर अमर भी उसका साथ ठीक उसी तरह से देने लगा, जैसे पिंकी उसको चूस रही थी.

वो कहने लगी- क्या कर रहे हो रोहन … मुझे रहा नहीं जाता प्लीज़!मैंने उसकी बातों पर ध्यान नहीं दिया और उंगली में चूतरस लगाकर उसके मुँह में अपनी उंगली डालकर उसे चखाया. मेरी चूत को चाटने के बाद उसने मुझे घोड़ी बना दिया और अपना लंड मेरी चूत में डालने लगा. अब मैं और प्रिया एक दूसरे की आंखों में देख रहे थे और मैं प्रिया को धकापेल चोदता जा रहा था.

ब्लू पिक्चर हिंदी में देखने वालीमेरी इस हसरत पर पाण्डे जी बोले कि उसके पीछे तो पूरी कम्पनी लगी हुई है. पापा बोले- वाह मेरी रानी, क्या चूत है तुम्हारी! मेरे लंड ने तेरे भोसड़े को खोल दिया.

इंडियन बीएफ नई

इसलिए मैंने उसके होंठों पर अपने होंठों को पर लगा दिए और चूसने लगा ताकि इसकी आवाज बाहर न निकले. फिर मैंने धीरे से महसूस किया कि उसने मेरी ज़िप खोल दी और अंडरवियर को हटा दिया. लोगों का ध्यान कार्य से हट गया और फ्री रहते हुए वासना पूर्ति के अलावा कुछ ज्यादा सोच ही नहीं पा रहे थे.

मेरी बात सुनते ही वो भी बोल दिया- हाँ सारिका जी, अब हो जाएगा, आप तैयार रहो. जब ये फोन आया, तो उस आवाज से मुझे ये बिल्कुल भी नहीं लगा था कि वो इस उम्र की औरत होंगी. एक महीने बाद भाभी दिन में ही अपने पति के साथ क्लीनिक पर आ गयी और घूंघट की आड़ से मुस्कराने लगी.

अपनी पिछली कहानीदोस्त की बहन की चुदाने की चाहतमें मैंने बताया था कैसे ज्योति को मैंने बीच गांव में चोदा था. वे कहने लगे- चलो घर पर चलकर मस्ती करते हैं, मैं यहीं पास में ही अकेला रहता हूँ. मैं- सही कहा आपने … तो क्या आप फिर से तैयार है मज़ा लेने के लिए?सहमति में कल्पना ने सर हिलाया.

पूजा के मुँह से हल्की मदमस्त सी चीख निकली और वो मोबाइल छोड़ कर बेड पर गिर गई. जैसे जैसे मेरा लन अंदर बाहर हो रहा था वैसे वैसे मुझे आनंद आ रहा था और सरनी नीचे पड़ी बहुत कामुक आवाजें निकाल रही थी.

मेरी रियल सेक्स स्टोरी आपको मस्त लगी? प्लीज़ मुझे मेल करना और कमेंट करना न भूलना.

फिर मैंने डॉक्टर के कहने मुताबिक दवा ली और रिया की कमर में लगाना चालू कर दी. पंजाबी सेक्सी एक्स एक्स एक्सपूजा ने पोज बदल लिया, अब वो बेड पर घुटनों पर हो कर कुतिया बन कर खड़ी हो गई. चुदाई की सेक्सी कहानियांमेरे कांख वाली त्वचा, एकदम कोमल है, वहां पर हाथ लगते ही मुझे गुदगुदी होने लगती थी. दस मिनट तक उसके मुंह को चोदने के बाद मैंने अपना सारा माल उसके मुंह में ही निकाल दिया.

देसी गर्लफ्रेंड की Xxx कहानी मेरे पड़ोस में रहने वाली एक लड़की की है.

तुम्हें तो कोई काम नहीं है ना?मैं बोला- नहीं यार, मैं तो यहाँ अकेला ही रहता हूँ. वो भी पहले पहल तो एकदम से सिहर गई और फिर अपनी टांगें खोल कर मेरे सर को अपनी चूत पर दबाते हुए ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ की आवाजें करने लगी. वह मुझसे बुरी तरह से नाराज हो गई थी। अब मुझे रीनल से सच्चा प्यार होने लगा था। लेकिन उसने कभी मेरी एक बात नहीं मानी.

तब मैं बोला- अभी ठीक हो जाएगा रूपा … जरा सब्र कर ये पहली बार है न इसी लिए तुझे दर्द हो रहा है … अगली बार से तुझे बस मजा ही आएगा. ये कह कर उसने कदम आगे बढ़ाया तो वो लड़खड़ा गई और उसके मुँह से निकला- आउच …मैं- क्या हुआ?रिया- मुझे कमर में दर्द हो रहा है … आउच … कमर की नस चढ़ गई शायद … मुझे बहुत दर्द हो रहा है. ‘आह्ह उह्ह … उम्म …’ क्या मस्त अहसास था वो … शायद हम दोनों का पहला अहसास था.

बीएफ सेक्सी च

कल जब मैं तुम्हें प्यार कर रहा था तो तुम्हें मजा नहीं आया क्या?वह बोली- हाँ, आया तो था. हॉट बॉलीवुड सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैंने एक नई अभिनेत्री को डायरेक्टर के साथ उसका लंड चूसते देख लिया. शादी के बाद से ही मेरी नजर तुम्हें चोदने में थी और आज तुम हाथ लगी हो.

मगर मुझे यह भी डर था कि मेरी चूत जो पूरी तरह से फ़टी हुई है और जब लड़के को पता लगेगा कि उसको चुदी चुदाई चूत मिल रही है तो वो शायद मुझ से पूरी तरह से मस्ती ना करे.

मैंने तत्काल वसुन्धरा के दोनों पैर अपने कन्धों पर टिकाये और अपने लिंग-मुण्ड को अपने दाएं हाथ में लेकर वसुन्धरा की योनि की पंखुड़ियों को ज़रा सा खोल कर योनि के ऊपर भगनासा तक घिसने लगा.

अब भाभी बोली- कोई बात नहीं, मैं इन 10 दिनों में तुझे पूरा चोदू बना दूंगी. उसकी बात मैं समझ गया और मैंने अपनी उंगलियाँ उसकी चूत में डालीं और उसको अपनी उंगलियों से चोदने लगा. ભાભી ના સેકસી વીડિયોउसने कहा- किस बात पर ध्यान लगा रहे थे … और क्या बात है, आजकल तुम मुझसे बात ही नहीं कर रहे हो.

जैसे जैसे मौसी अपनी चूत में उंगली करती जातीं, वैसे वैसे मेरा लंड अकड़ने लगा. यह सुन कर वो हवस से मुस्कुराने लगीं और उन्होंने अपनी टांगें किसी रंडी की तरह ही खोल दीं. मेरा लंड झिल्ली तक पहुँच चुका था मेरा लण्ड हायमन से टकरा रहा था और जब उसने उसे भेदकर आगे बढ़ना चाहा तो गुलाबो चिल्लाने लगी- दर्द हो रहा है … मैं मर जाऊँगी.

मुझे लड़कियों के जी-स्पॉट के बारे में काफी पता था तो मैं शीतल की चूत में थोड़ा अन्दर घुमा घुमा कर उंगली पेलने लगा. हालांकि कुछ लोगों को यह बेहूदा लगे मगर सबकी अपनी-अपनी पसंद होती है.

शर्म भी नहीं आती इसको! जिससे तिलक लगवाया, उसी की चूत में घुस कर पानी छोड़ता है.

वो भी कहीं से तेल की शीशी उठा कर ले आयी और मेरी चूत की मालिश करने में जुट गयी. कुछ देर रगड़ने पर निशा बोली- यश अब डाल भी दो यार … कितना तरसाते हो तुम!मैंने निशा की चूत पर अपना लंड रख कर हल्के से धक्का मारा. वह मेरे लौड़े के टोपे को अपने होंठों के अन्दर भरकर ऐसे चूसने लगी जैसे वह कोई लॉलीपॉप चूस रही हो.

হিন্দি ব্লু সেক্স एक और बात … हर लड़की में एक शक्ति होती है जो गॉड गिफ्ट होती है कि वो लड़के की आंखों में देख कर चेहरे के भाव से, बॉडी लैंग्वेज से कुछ पल में समझ लेती है कि लड़का उसके प्रति क्या सोच रहा है और सलोनी भी समझ गई कि मैं क्या सोच रहा हूँ. उस हसीना का नाम सुप्रिया था लेकिन सब उसे प्यार से वेलम्मा बुलाते थे.

हम दोनों डर के मारे एक दूसरे की आंखों में देखने लगे कि अचानक सबसे आगे की सीटों की एक लाइट ऑन हो चुकी थी. मेरी रगड़ाई में कभी लंड उसकी चूत पर जोर से लग जाता, तो वो कराहने लगती. मीरा तो पहले से इतनी गर्म हो चुकी थी कि रितेश के 3-4 मिनट चाटने से ही वो एकदम से झड़ गयी.

एडल्ट वीडियो बीएफ

मुझे अब क्या करना चाहिए और क्या नहीं … यही सब सोचते सोचते मैं देर तक जागती रहती. जब वो चल कर जा रही थीं, तो उनकी गांड एकदम ऐसे मटक रही थी, जैसे दो बॉल आपस में हिल रही हों. मैंने उसके मोमे दबाये, चूचियों को चूसा और सारा की चुत में उंगली करने लगा.

एक घंटे बाद हम दोनों फिर से चुदाई में लग गए और उस दिन मैंने अपनी बहन की 3 बार चुदाई की. मैं- वैसे तो मैं तैयार हूं … लेकिन आज फिर तुम अपने पति से बात करो, शायद कोई बात बन जाए.

और इससे पहले वसुन्धरा कोई प्रतिक्रिया करती, फ़ौरन अपने लिंग को वसुन्धरा की योनि से वापिस बाहर खींच लिया लेकिन लिंग की योनि के अंदर आने-जाने की प्रक्रिया में मेरे लिंग-मुण्ड की जो योनि की दीवारों पर रगड़ लगी उसके कारण वसुन्धरा की उत्तेजित योनि ने और काम-रस उगल दिया.

मैं उसे समझाने की हर संभव कोशिश करने लगा कि सब अन्जाने में हुआ है और सीमा समझकर मैंने उसकी बीवी वीणा के साथ मदहोशी में ये कांड कर दिया. मेरा लंड उसके गले तक फंसाने के लिए मैं उसके बालों को पकड़ कर पूरा जोर लगा देता था. इस समय दिशा की पीठ मेरी छाती से लगी थी और मेरे दोनों हाथ उसके तने हुए चूचों की चटनी बनाने में लगे थे.

जिस पोजीशन में मेरे पापा, मम्मी को चोदते हैं, उसी पोजीशन में तुम मुझे चोद रहे हो, वह भी ऐसे ही टांगे उठा-उठा कर चोदते हैं. मैंने कहा- कोई बात नहीं, मैं तुमसे पैसे नहीं मांग रहा हूं, जब आपके पास होंगे तब दे देना या मत देना, हम दोनों को भुवनेश्वर पहुँचना है, इस समय इसके अलावा और कोई रास्ता नहीं है. आआआ … आह्ह … पापा मैं आने वाली हूँ, तेजी से करो पापा ओह्ह … मैं बस होने वाली हूँ पापा उफ्फ … मैं अपनी चूत को पापा के लंड के धक्के के जवाब में ऊपर उछाल रही थी.

हॉट गर्लफ्रेंड सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि मैंने कैसे अपनी क्लास की सेक्सी लड़की को पटाया.

बीएफ सेक्सी चुदाई वाली नंगी: भाई बहन Xxx स्टोरी के पहले भागमामा की बेटी की अन्तर्वासना जगाई, फिर चुदाईमें आपने अब तक पढ़ा था कि मेरी बहन प्रिया बाथरूम में मेरे साथ नंगी थी और चुदने के लिए मचल रही थी. मेरे मुँह से मीनाक्षी भाभी सुन कर प्राची हंसने लगी और मीनाक्षी भाभी भी मुस्कुरा दी.

इसी दौरान मैंने बातों बातों में भाभी से पूछ लिया- आज रात को कहां सोओगी?इस पर माया ने कहा- क्यों क्या इरादा है?अब मेरे दिमाग भी अच्छी तरह आ गया कि ये भी लंड लेने की फ़िराक में है. उसके बाद मैंने अपनी बीवियों और सालियों को गुलाबो के साथ अपनी पहली चुदाई की कहानी सुनाई और रात को दिलिया के साथ सुहागरात मनाई. थोड़ी देर तक जब मैंने कोई हरकत नहीं की, तो उन्होंने अपनी आंखें खोलीं.

दोस्तो, यह मेरी सच्ची सेक्स कहानी हैहम आज भी बातें करते हैं, मिलते हैं, सम्भोग करते हैं.

उसको देख कर ऐसा लग रहा था कि आसमान से कोई परी ज़मीन पर आकर उतरी हो. उसके पास बाइक थी और मैं उसके पीछे लड़कों की तरह से बैठ गई और हर झटके पर जानबूझ कर अपने मम्मों हो उसकी पीठ पर दबा देती. हॉट बॉलीवुड सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैंने एक नई अभिनेत्री को डायरेक्टर के साथ उसका लंड चूसते देख लिया.