हिंदी वाला सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,सेक्स फिल्म हिंदी एचडी

तस्वीर का शीर्षक ,

बिहारी गाने सेक्सी: हिंदी वाला सेक्सी बीएफ, [emailprotected]सेक्सी चाची चुदाई कहानी का अगला भाग:मेरी छिनाल चाची की सेक्स कहानी- 2.

अंग्रेजी सेक्स पिक्चर वीडियो

उसे अब भी यकीन नहीं था कि मैंने उसकी चुत को चोद कर इतनी चौड़ी कर दी है. रानी २७ कांटेक्ट मस्तीभाभी का पेट इतना खूबसूरत तरीके से ऊपर नीचे हो रहा था कि मेरे दिमाग में खुराफाती आईडिया आ गया.

जब मैंने उसकी चूत के ऊपर अपनी मुँह लगाया तो वो सिहर उठी और मेरे सिर को अपनी चूत में दबाने लगी; साथ ही अपने बूब्स को भी दबाने लगी. स्कूल गर्ल सेक्सइसके बाद मैंने अपना लंड मां के मुँह में दे दिया और मां ने उसे चूस कर खड़ा कर दिया.

रंडी ने अपने भोपे (चूंचे) सबको पिला पिला कर दूध का टेंकर बना रखे हैं.हिंदी वाला सेक्सी बीएफ: नवीन के लंड को हुर्रेम ने फटाक से अपने मुँह में गले तक घुसा लिया, जिससे नवीन की कामुक सीत्कार निकल गई.

ममता- जब से आपने घर की सेक्स कहानी सुनाई, तब से मेरी चूत में आग लगी हुई है … ये देखो.मैं- सागर मैं समझ सकती हूं कि प्यार के बिना ज़िन्दगी कैसे अधूरी हो जाती है। मैं यही ज़िन्दगी जी रही हूं। और मैं नहीं चाहती कि तुम ऐसे ज़िन्दगी जियो.

मां बेटे की सेक्सी कहानी - हिंदी वाला सेक्सी बीएफ

अफ़रोज़- क्यों आपा?मैं- अरे यार, तू अपनी ज़िंदगी की पहली चुदाई अपनी ही बहन की कर रहा है और उसी बहन की, जिसकी चुत को तू जाने क़ब से चोदना चाहता था.हम लोग नई नई जगह जाते, वहां की आंगनबाड़ी आशा की मदद से जानकारी लेते और आसपास घूम भी लेते।ऐसे काम करते करते पता नहीं चला कब एक महीना बीत गया।एक बार हम काम के लिए एक नगर गए तो वहां की आशा छुट्टी पर थी.

मगर हरीश किसी कसाई की तरह सुम्मी की चुत को फाड़ता रहा और पूरा लौड़ा चुत में पेवस्त कर देने के बाद वो जोर जोर से झटके मारने लगा था. हिंदी वाला सेक्सी बीएफ लंड चुत में लेते ही मामी बहुत तेज़ी से मेरे लंड के ऊपर उछलने लगी थीं और अजीब अजीब सी आवाजें निकाल रही थीं.

मनीष ने भी उसकी चूत अपने वीर्य से भर दी।शिखा समझ गयी कि मनीष क्यों परेशान है; उसने हँसते हुए कहा- मत घबराओ, हम दोनों ने ही कॉपर टी लगवा रखी है।रात के 3 बज गए थे।दीपा वशरूम से फ्रेश होकर आई और बाहर जाते हुए बोली- अब तुम दोनों सो जाओ, मुझे भी नींद आ जाएगी.

हिंदी वाला सेक्सी बीएफ?

उन्होंने मुझे बांहों में दबोचा और मेरे होंठों को चूमना शुरू कर दिया. नियाशा एक पक्की रंडी की तरह मेरे लंड को पूरा अपने मुंह में ले जाती और मैं तो जैसे आसमान में उड़ रहा था. मेरी मम्मी ने मुझे जाने की परमिशन दे दी और ये भी कहा- यदि रात ज्यादा हो जाए, तो उधर ही रुक जाना.

आपको मेरी इंडियन रंडी देसी कहानी कैसी लगी, प्लीज़ मुझे मेल करना न भूलें. ताजमहल देखने तरह तरह के देसी विदेशी सैलानी अपने अपने रंग में मस्त एन्जॉय कर रहे थे. अदिति की चूत से झरती वो विशिष्ट गंध मुझे चुदाई के लिए व्याकुल करने लगी तो मैंने अधीरता से बहू की चूत के होंठ खोल लिए और अपनी दाढ़ी बहू की चूत के खांचे में रगड़ने लगा.

मैंने ऐसे ही लंड फंसाए रखा और दीदी के होंठों को, मम्मों को चूमने लगा, सहलाने दबाने लगा. मंजू- क्या हुआ? क्या देख रही है?ममता- कुछ नहीं मां आपका कप साईज 38-dd है और मैं गलती से 38-d ले आई हूँ. ’अब खड़ी रहो और मजे लो!”कहते हुए मैंने एक जोर का धक्का मारा तो बहार की बुर की झिल्ली फट गई, मेरा लण्ड खून से सन गया.

दादाजी- हां बोलो बेटा क्या हुआ?मैं- दादाजी मैंने झूठ बोलकर आपसे साइन करा लिए हैं. वह अपनी यूनिफार्म चेंज करने गया और मैंने भी प्लान के मुताबिक़ अपनी सलवार कमीज़ उतार दी.

अफ़रोज़- क्यों आपा?मैं- अरे यार, तू अपनी ज़िंदगी की पहली चुदाई अपनी ही बहन की कर रहा है और उसी बहन की, जिसकी चुत को तू जाने क़ब से चोदना चाहता था.

इसलिए मैंने बीच का रास्ता लिया और बनावटी ग़ुस्से से बोली- अरे ये क्या … तू तो ज़बरदस्ती करने लगा.

मैंने पेपर उनके हाथ से लिया और थैंक्यू दादा जी कह कर झट से उस पेपर की पिक लेकर रोहन अंकल को भेज दी. कहाँ गांव में लड़कियों से सुना था कि पति पहली रात को 3-3 बार हल्की करते हैं।मेरी चूत की चुदाई अधूरी रह गयी थी. भाभी तीनों से चुदवाने के बाद मेरे पास आकर लेट गईं और फिर से सो गईं.

तो उसने कहा- मेरे सिर्फ पापा हैं … और वो भी विदेश में रहते हैं, इसलिए मैं अकेली ही रहती हूँ. वो नहाकर तौलिया लपेट कर जैसे ही बाहर निकली, मैंने उसको खींच लिया और वहीं छोटी बैंच टाइप की टेबल लेटा दिया. उसके बाद ग्वालियर से दिल्ली तक की रेल यात्रा करीब पांच घंटे की होती है.

मेरी खातिर तुम इतना भी नहीं कर सकतीं?मेरी दीदी रमेश को मना कर रही थीं, पर रमेश ने दीदी को मना ही लिया.

उधर साहिल एकदम नंगा था और उस अलमारी के पीछे छुपकर अपने लौड़े को हिलाते हुए अपनी अम्मी की चुदाई देख रहा था. उस दिन फिर सासू के बीमार पड़ते ही हमें पूरा मौका मिला और मैंने गुलाब के लंड से चूत चुदवाई और बहुत दिनों बाद लंड की रगड़ से अभिभूत होकर मेरी चूत ने पानी छोड़ा।इससे पहले कई महीनों से में उंगलियों से ही पानी निकलवा रही थी।गुलाब से चुदकर मैं गर्भवती हुई और मेरी सास मुझसे खुश रहने लगी. नहाने के बाद अभय ममता को गोद में उठाकर बेडरूम में लाया और कपड़े पहना कर कहा- आज यहीं सो जा ना ममता … वैसे भी सब लोग सो चुके हैं.

उसने मुझसे पूछा- क्या तुमने अपने ब्वॉयफ्रेंड के साथ सेक्स किया था?मैंने उसे बताया कि हां किया है, लेकिन वो बस मुझे भोगना चाहता था. उसके बाद उन्होंने मेरे होंठों को चूमा था और मैंने कोई एतराज नहीं जताया था. गांड में लंड लेकर चुदने में कितना मजा आता है ये मुझे अपने दोस्त का लंड अपनी गांड में डलवा कर पता चला.

सेल्सगर्ल- मैं आई हेल्प यू मेम?नेहा- यस कुछ लेटेस्ट डिजाइन के ब्रा पैंटी सेट्स दिखाओ.

उसने भी मेरे लंड पर चॉकलेट लगाकर मेरे लंड को चूसा और मेरा पानी एक बार निकाल दिया. और इसके लिए अब्बू को मनाने में चाचा और चाची ने खूब ज़ोर लगाया था।कभी कभी मुझे चाची भी अपने साथ ले जाती थी और मैं और चाची दोनों मिल कर काम कर आती।ऐसे ही एक दिन मैं और चाची दोनों वीरेंदर सिंह तोमर के घर काम करने गई थी।ये जो तोमर साब हैं न … सिरे के ठर्की आदमी हैं। अक्सर चाची से कुछ न कुछ हंसी मज़ाक करते रहते थे.

हिंदी वाला सेक्सी बीएफ मैंने उसे बाथरूम से बेड तक धक्के मारता हुआ ले गया और उसको बेड के किनारे से हाथ टिका कर घोड़ी बना दिया. मैं किस करते हुए मिहिका की गर्दन को चाटने लगा और उसकी ब्रा के ऊपर से ही एक चुची को चूसने लगा.

हिंदी वाला सेक्सी बीएफ भाभी- तुम आज पूरा दिन और पूरी रात के लिए मेरे गुलाम हो, निकालो इन्हें जल्दी से. अफ़रोज़- अच्छा आपा, अब वायदे के मुताबिक़ मैं लंड चुत से बाहर निकाल लेता हूँ.

काफी बार उन कहानियों को पढ़ कर मैंने लंड हिला कर रस टपकाया था और अब भी ये मेरा पसंदीदा शगल है.

चुनरी की साड़ी

मैंने धीरे से पूछा- प्रसाद में क्या देना होगा?एक ने कहा- हम हर रोज खीर बनाते हैं. कृति- आह … मेरे सरताज … अब मत तड़पाओ … उम्मह … मेरी चूत चोद दो … आह … मेरी कुंवारी चूत की सील तोड़ दो … आह. मुझे जसविंदर कहीं नहीं दिखाई दी तो मैंने उसे आवाज लगाई तो बाथरूम से बोली- बस एक मिनट में आई, आप बैठिये.

तुम्हें फुल मजा भी मिलेगा और बदले में वहां से तुम्हें कुछ और भी मिल जाएगा, जैसे तुम अपने उस साथी के साथ घूमने फिरने शॉपिंग आदि का लुत्फ भी उठा सकोगी. यह कामुक कहानी हमारे घर में एक दम्पत्ति किराये पर रहने आये किरायेदार की बीवी की है. चाची भी मधुमक्खी के काटे का दर्द भूल कर मेरी हरकतों का मजा ले रही थी शायद! वो सिसकारियां भर रही थी.

मैंने आंटी का गाउन ऊपर करके उनके चूचे दबाने शुरू कर दिए और मुँह लगा कर चूचुक चूसने लगा.

वो उसी हालत में मुझे पकड़ कर किस करने लगी जिससे मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया. चुत रसभरी हुई तो मेरा लंड फच्च फच्च फच्च करके अन्दर उसकी बच्चेदानी तक जाने लगा. पूनम ने मेरे कंधों पर अपने दांतों से हल्के से काटना शुरू कर दिया और इसके साथ ही वो अपने नाखूनों से मेरी पीठ को नौंचने भी लगी थीं.

अब मेरे पैर के पंजे और हथेलियां बिस्तर पर थीं, लंड बहूरानी की चूत में अन्दर बाहर हो रहा था इसके अलावा मेरे शरीर का कोई भी अन्य अंग बहू को टच नहीं कर रहा था. मेरी बहन सीधी पर कॉलेज में सबसे ज्यादा होशियार थी, नीता तेज लड़की थी, नीता ने मेरी बहन से दोस्ती की थी क्योंकि वो मेरी बहन की मदद से अपनी पढ़ाई पूरी करना चाहती थी. किस खत्म होने के बाद मिहिका बोली- पागल है होंठ सूज गए और सुबह कोई पूछेगा तो क्या बोलूंगी मैं!मैं बोला- ओके आगे से नहीं काटूंगा.

अदिति बेटा, पहले मुझे अपने ताजमहल के दर्शन तो कर लेने दे ना, तेरी चूत देखे हुए सवा साल से ऊपर हो गया. मौसी ने मेरे होंठों पर एक किस किया और अपनी नाईटी पहनकर बाहर चली गईं.

अब एक बार फिर से आपके सामने अपनी न्यू हॉट गर्ल्स सेक्स कहानी लेकर हाजिर हूं. [emailprotected]फैंटेसी सेक्स स्टोरी का अगला भाग:मॉम की गदरायी जवानी की काल्पनिक कहानी- 2. फिर मैं अपनी एक उंगली उसकी चुत की दरार पर फेरने लगा और पैंटी के ऊपर से ही चुत का दाना सहलाने लगा.

फिर अंकल ने उनसे कहा- अब मेरे कपड़े उतारो और मेरा लंड मुँह में लेकर शुरू हो जाओ.

मैं फड़फड़ाने लगी मगर उनका बदन मेरे ऊपर था।थोड़ी देर बाद वो लंड निकालकर बोले- शबनम कैसा लगा अपनी गांड का स्वाद?मैं लंड को चाटते हुए बोली- जेठ जी, मजा आ गया. मैंने आंटी का गाउन ऊपर करके उनके चूचे दबाने शुरू कर दिए और मुँह लगा कर चूचुक चूसने लगा. अफ़रोज़- आपा, मेरी किस्मत तो देखिए कितनी झांटू है … जिस चुत के लिए मैं इतने दिनों से तड़प रहा था, उसी चुत में मेरा लंड घुसा पड़ा है, पर मैं उसे चोद नहीं सकता.

और अपना हाथ बहूरानी की जांघ पर रख दिया और वहीँ रखे रहने दिया, फिर सहलाने लगा. मैंने उसे मस्त होते देखा तो लंड बाहर खींच कर फिर से एक जोर का झटका दे दिया और इस बार मैंने अपना पूरा लंड राजकुमारी कृति की बच्चेदानी तक पेल दिया.

मेरा पूरा लौड़ा अन्दर तक जाने से शन्नो रंडी की तरह खुश हो रही थी और आहहहह आहहहहह करके अपनी गांड पटक रही थी. ये तीनों मेरे भरोसे के आदमी हैं और पूरी तरह से संतुष्ट करने की ताकत भी रखते हैं. मैंने दोबारा सवाल किया- क्या आपको मेरे साथ ऐसा करना अच्छा लगा था?उस पर उन्होंने जवाब दिया था- अगर तुम्हें अच्छा लगा है, तो अच्छा … नहीं तो बुरा.

झारखंड आदिवासी

जब मैंने उसकी चूत के ऊपर अपनी मुँह लगाया तो वो सिहर उठी और मेरे सिर को अपनी चूत में दबाने लगी; साथ ही अपने बूब्स को भी दबाने लगी.

अफ़रोज़- सच आपा?मैं- हां … अच्छा एक बात बताऊं, तू इस बात का अफ़सोस ना कर कि तेरे पास सिर्फ़ एक ही बहन है. अब मेरी दोनों चूचियां ब्लाउज से आज़ाद खुली हवा में तनी थीं लेकिन मैंने उन्हें छिपाया नहीं बल्कि अपना मुँह उसके मुँह के पास ले जाकर अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए. अपनी टांगें फैला कर चाची ने मेरे सर को अपनी चुत पर दबाया तो मैं चुत पर थूक लगा कर चाटने लगा, जीभ अन्दर डालने लगा, उनकी क्लिट से खेलने लगा.

लंड के हमलों से शन्नो की चूत ने पानी छोड़ दिया और उसकी गीली चूत में लंड फच्च फच्च फच्च करके अन्दर बाहर होने लगा. उधर मंजू ने पैंटी भी ट्राई की, एक बार बार फिर से आईने के सामने ब्रा पैंटी में जाकर खड़ी हो गई. बिहारी सेक्सी वीडियो फिल्मसुनो बे सारे हिजड़ो, इधर आओ और हम दोनों के पैर छूकर अपनी गुलामी दिखाओ.

इस वक्त सादिका पूरी चुदासी लड़की की तरह आहें निकाल निकाल कर चुद रही थी. सुम्मी के साथ जो बात उसे हमेशा कष्टदायक थी, वो ये बात थी कि उसका पति उसे सारी खुशी दे रहा था लेकिन वक़्त नहीं देता था.

लूडो खेलते समय वो प्राची की गोटी के पीछे पड़ गया था और उसकी तीन गोटिया आउट कर दीं. मैंने अपने हाथों में कामिनी के दोनों संतरों को पकड़कर मसलना शुरू कर दिया था. फिर उसको साफ करने के लिए बाथरूम ले गया और वहां पर उसकी सफाई करते करते लंड एक बार फिर से खड़ा हो गया वो भी लंड को पकड़ कर सहलाने लगी.

शीना ने अपनी दोनों टांगें मेरी पीठ पर कैंची की तरह लपेट ली और अपनी गांड उठा कर मेरा साथ देने लगी. उसके सहलाने से मेरा लण्ड कड़क होने लगा तो जीनिया बेड पर बैठ गई और मेरा लण्ड अपने मुंह में लेकर मेरे चूतड़ों को अपनी बांहों के घेरे में लेकर अपनी ओर खींचा तो पूरा लण्ड उसके मुंह में चला गया. उसने मुझसे और पीने को कहा लेकिन तीन पैग के बाद तो मुझसे खड़ा भी नहीं रहा जा रहा था.

आयुषी अपनी गांड उठा कर अपनी चूत का पानी मेरे मुँह में दिए जा रही थी.

मैंने उसको फिर से अपनी तरफ खींचा और अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए. अब जोया विवेक का लंड पकड़ कर तेजी से आगे पीछे करके हिलाने लगी और उसने माल खाने के लिए अपना मुँह खोल लिया.

कुछ ही देर बाद भाभी अपने घर आ गईं, तो मुझे समझ आ गया कि भाभी का घर पार्क के पास में ही है. वैसे भी मीठा खाने से ज्यादा, उसे चूसने और चाटने में ज्यादा मजा आता है. न्यूड वाइफ सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैं कई बार अपने पति के दोस्त से चुद चुकी थी लेकिन मन नहीं भरा था। मैंने अगली रात को फिर से ताश की बाजी लगवायी और …यह कहानी सुनें.

जब मैं भाभी की नाभि को चूस रहा था, तो भाभी का पेट बहुत मस्ती से ऊपर नीचे हो रहा था. वो उस पल कहना तो बहुत कुछ चाहती थीं पर शायद उनको अभी अपनी सांसें काबू में करनी थी. हम दोनों का संभोग करीब 15 मिनट तक चला और इस तरह हम दोनों एक दूसरे को संतुष्ट करके झड़ गए.

हिंदी वाला सेक्सी बीएफ चुत का रस टपक कर मेरे मुँह में समाने लगा; मैंने पूरा रस चाट लिया और चाची की चुत साफ़ कर दी. थोड़ी देर लंड को चूत में लिए बैठी रही और कमर हिलाते हुए संभलने की कोशिश करती रही.

डी नाम वाले लोग प्यार में कैसे होते हैं

मैंने मम्मी की मस्ती देख कर उनकी चूत पर हाथ लगा दिया और उनकी कमर पर बंधी तौलिया को खींच कर अलग कर दिया. बस थोड़ा परेशान तो करते थे, पर हॉस्टल में हम भी उनके साथ मस्ती करते थे … तो सब चलता रहता था. अगली बार Xxx मामी से शादी करके मैंने उनकी चुदाई का मजा लिया और उनकी कुंवारी बहनों की सील तोड़ चुदाई का मजा कैसे लिया … वो सब मैं अगली सेक्स कहानी में लिखूंगा.

मुझे आया देख कर पूनम बुआ पानी ले आईं और फिर मेरे साथ ही सोफे पर बैठ गईं. मुझे लगा कि ये फिर चंदा मांगेंगेतभी एक ने कहा- भाभी आपने चंदा नहीं दिया तो क्या हुआ, आपको पूजा में तो आना चाहिए था. हाथ का टैटू फोटोमैंने एक को अपने हाथ में ले लिया और मसलने लगा और दूसरे के ऊपर मुँह रख दिया.

बहू ने मेरे ऊपर आकर चुदाई की कमान संभाल ली और बे अपने हिसाब से अपनी पसंद के अनुसार चूत को मेरी झांटों पर रगड़ रगड़ कर घिस्से लगाने लगीं, धक्के मारने लगीं.

फिर मैंने उसे बांहों में लेकर अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए और चुम्बन करना शुरू कर दिया. वो खुली दुकान का मतलब नहीं समझ सकी और सवालिया निगाहों से मुझे देख कर बोली- इसका क्या मतलब हुआ?मैंने उसे बिस्तर पर बिठाया और उसकी गोद में अपना सर रख कर लेट गया.

ये बोल ही रही थी मैं … कि सागर ने बचा हुआ लंड भी चूत में पेल दिया।इस बार तो मैं बदहवास सी हो गई; मेरी आँखों से आंसू आ गए।अचानक से सागर मेरे होंठों को चूसने लगा और लंड मेरी की चूत में डाले रखा. पापा जी, ताजमहल घुमते घुमते थक गयी मैं तो ऊपर से आपने मुझे बेड पर झुका कर चुदाई का एक राउंड करवा दिया. चाची मुस्कुराते हुए बोलीं- सोहेल तू चिंता मत कर, मैं हूँ न!मैंने लंड चुत से निकाला और चाची मेरे लंड को चूसने चाटने लगीं.

दोस्तो, क्या बताऊं … क्या होंठ थे उसके … इतने मुलायम कि मन कर रहा था कि उसे खा जाऊं.

रमेश बोला कि कौन सी शर्त?दीदी ने बोला कि मैं समीज उतारूं, तब तुम मेरे चुचों पर हाथ रख कर उन्हें ढांप देना. मगर मैंने समझ लिया था कि दीदी के दर्द को अगर खत्म करना है तो धकापेल मचानी ही होगी. मैंने उसे उठाकर बिस्तर पर लिटा दिया और उसके ऊपर लेट गया, उसकी चूत में जोर से धक्का लगाया.

एचडी फुल मूवी सेक्सीफिर बहूरानी ने अपने पांव मेरी कमर में लपेट कर मुझे अपनी बांहों के घेरे में बांध लिया जैसे उसे डर था कि मैं कहीं लंड को उनकी चूत से बाहर न निकाल लूं. गोविन्द को राजेश समझ कर डाक्टर बोला- हो सकता है राजेश कि बिंदु को किसी और ने यानि किसी टेढ़े लंड वालेमर्द ने चोदाहो.

మీనా సెక్స్ వీడియో

अब अफ़रोज़ के लंड को याद करके मैं अपनी चुत में उंगली अन्दर बाहर करने लगी. मेरे काफी जोर लगाने पर भी लण्ड आगे नहीं गया तो मैंने बहार की चूचियां छोड़ दीं और सीधे खड़े होकर उसकी कमर पकड़ ली और धीरे धीरे धक्के मारने लगा. उसके घर वाले भी जानते हैं।मैं सोच में पड़ गयी- इतना बड़ा धोखा?इतने में ही सुन्दर ने मेरी साड़ी खींची और मैं घूमती गई.

न जाने क्यों उसी समय एफएम पर गाना बजने लगा ‘होंठों से छू लो तुम, मेरा गीत अमर कर दो …’ जिसे सुन कर बुआ मुझसे कहने लगीं. एक दिन रात को करीब आठ बजे कुच्ची मेरे पास आया और बोला- आज शब्बो से मिलने जाना है, तैयार रहना. हमारे बीच प्रेम की बातें होने लगी थीं मगर अब तक हम दोनों ने एक दूसरे के साथ शारीरिक सम्बन्ध नहीं बनाए थे; हालांकि मैं उससे चुदने के लिए मन बना चुकी थी.

आप सभी लोग अपने प्यारे सन्देश मुझे[emailprotected]पर भेजें।अब आप सभी मुझसे अपने विचार फेसबुक पर भी साझा कर सकते हैं।माउथ सेक्स कहानी का अगला भाग:मौसी की जेठानी की प्यास बुझाई- 5. मैंने कहा- ऐसे कैसे मालूम पड़ेगा भाभी … कि मैं आपको टैं बुलवा देता हूँ कि आप मुझे टैं बुलवा दोगी. हम 69 की पोजीशन में आ गए; दोनों एक दूसरे के अंगों को चूसने चाटने लगे।वो तो लंड को लोलीपॉप के जैसे चूसने लगी और गपागप अंदर तक ले रही थी।उसकी चूत ने नमकीन पानी छोड़ दिया; अब उसकी चूत गीली हो गई थी।मैंने उसे उठाकर बिस्तर पर सीधा लिटा दिया उसके ऊपर आ गया.

मगर मैंने समझ लिया था कि दीदी के दर्द को अगर खत्म करना है तो धकापेल मचानी ही होगी. चाची बोलीं- वाह सोहेल, तू तो अपने अहमद चाचा से आगे निकला, इतनी देर तो तेरे चाचा चोद ही नहीं पाते हैं.

नीचे मेरा कड़क लंड उसकी चूत के पास टक्कर मार रहा था, पर मुझे अभी मिहिका को और गर्म करना था.

कमरे का दरवाजा और खिड़की बंद थी, तो मैं पीछे वाले खिड़की के पास गया. हिंदी सेक्सी अंग्रेजी वीडियोमैंने उसके हाथ से मोबाइल ले लिया और उसमें एक कहानी निकाली, जिसमें भाई बहन के सेक्स भरे संवाद थे. सेकसी मारवाड़ी विडियोमैं- आपको पसंद है क्या ये गाना?पूनम बुआ- ह्म्म्म … ऐसी कोई बात नहीं है … पर अच्छा लगता है. मेरे मुंह से बहुत तेज़ सिसकारियां निकलने लगीं और मैं अपने हाथों से उनके मुंह को पकड़ कर अपनी गांड के अंदर घुसाने लगा और साथ ही सिसकारते हुए बोल रहा था- आह्ह … और अंदर … आह्ह … और अंदर तक डालो अंकल!वो भी जैसे मेरी गांड को खाने ही वाले थे.

उसने मेरे कपड़े भी उतार कर नंगा कर दिया।हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गए और चूसने लगे.

मां- अआह हहहह उम्म …मैंने अपनी जीभ मां की चूत में डाल दी और चूत को अपनी जीभ से चोदने लगा. मैंने कहा- देखो फ़लक, थ्योरी में तो तुम बुरी तरह से फेल हो गई हो, हाँ अगर प्रैक्टिकल में पास हो गई तो देखते हैं. अब मेरे भाई को यक़ीन हो चुका था कि मैं उसका राज़ नहीं खोलूंगी, इसलिए उसने अपनी टांगें खोल दी थीं ताकि मैं उसका लंड ठीक से पकड़ सकूं.

मैं- ऐसी क्या बात है?यामिना- क्या बताऊँ, सर, अब आपसे क्या छिपाना है, इसकी उम्र ही ऐसी है, यह हर वक्त मोबाइल में गंदी फिल्में देखती रहती है, कल जब यह अपने कमरे में बैठी मोबाइल देख रही थी तो एक हाथ से अपनी जाँघों के बीच के हिस्से को धीरे धीरे सहला रही थी, एक रात को इसकी तरह तरह की सेक्सी आवाजें आ रहीं थीं, मैंने उठकर देखा तो यह अपने गाउन में हाथ डालकर उंगली से लगी हुई थी. जोया ने अपना सिर हां में हिला दिया, तो मैंने अपना हाथ उसके मुँह से हटा लिया. कृपया करके अपने सुझाव मुझे मेल जरूर करें और कोई गलती हुई तो क्षमा करें.

माय फादर्स नेम

अब सर की स्पीड बढ़ गई और थोड़ी देर बाद सर चिल्लाये- आह आह शबनम मैं आ गया … आहह ओह. बुआ हल्की हल्की खांसती हुई मेरे लंड को निगलने की कोशिश में लगी थीं. इस तरह मैंने अपने ही दोस्त साहिल शाह की अम्मी को उसके सामने रात रात भर चोदा.

शाम के आठ बजे के करीब हम दोनों स्नान करके फिर से तरोताजा हो लिए थे.

अब सागर मेरे पास बेड पर आ गया और मेरे मुंह पर बैठ कर अपना लंड मेरे मुँह में दे दिया.

मेरी ईमेल आईडी है[emailprotected]सेक्स विद सिस्टर इन लॉ की कहानी जारी रहेगी. अंकल अपनी उम्र का लिहाज ना करते हुए चोरी चोरी से मेरे दोनों दूध घूर कर देख रहे थे. वीडियो सेक्स गर्लमैंने चड्डी के अन्दर हाथ डालकर चुत पर हाथ फेरा तो दीदी की चुत एकदम क्लीन थी.

तभी शन्नो बोली- राज, तुम मुझे अन्दर नहीं बुलाओगे क्या?मैंने होश में आते हुए उसे अन्दर किया दरवाजा बंद करके लाइट चालू कर दी. मां मुझे उदास देख बोलीं- बेटा तू चिंता मत का … मैं रात में आ कर तेरा हथियार अपने हाथों से शांत कर दिया करूंगी. मेरे लंड ने चूत में सैट होना शुरू कर दिया, दो चार झटकों के बाद उसकी चूत ने लंड को घोंटना चालू कर दिया.

अदिति बेटा, इस जीन्स टॉप में तो तू 21-22 साल की कॉलेज की स्टूडेंट सी लग रही है. मैं- तुमने उसे सबकुछ अच्छे से समझा दिया न?यामिना- मैंने उसे समझा दिया है कि यदि आप उससे खुश हुए तो नौकरी पक्की होगी, अब आगे आप देख लेना, मैं तो उसकी माँ हूँ, इतना ही कह सकती थी.

मैं उठा और बाथरूम में जाकर अपना लंड साबुन से धोया क्योंकि बिना कंडोम के पहली बार मैंने किसी की गांड चुत चुदाई और संभोग किया था.

मेरे पति मेरे साथ नहीं रहते थे तो मेरी चुत में चींटियां सी रेंगती रहती थीं. तभी मेरे एक दूसरे दोस्त का फोन आया और उसने मुझे किसी काम से जल्दी आने को बोला. जब 1 घंटे बाद मेरी नींद खुली तो फ़ातिमा वैसे ही मेरे नीचे सो रही थी.

सैक्सस्टोरी बुआ अभी भी गहरी और लम्बी सांसें ले रही थीं और अपनी पूरी सुध में नहीं थीं इसलिए शायद चाह कर भी कोई विरोध नहीं कर पा रही थीं. शन्नो की कामुक आवाजें बढ़ने लगीं और वो उम्म आह उह करके गांड आगे पीछे करने लगी.

चूंकि मुझे ये समझ आ गया था कि इसको मेरा और किंजल का मालूम चल गया है और ये मुझसे चुदना चाहती भी है. वो मेरी बात समझते हुए बोलीं- अच्छा ये बात है … वैसे तुम किसी लड़की को पसंद करते हो?मैं बोला- अभी तक तो नहीं … मगर आपके जैसी कोई हो, तो बताना. एकदम से मैंने अपना हाथ अपनी लॉअर में से निकाला और फोन एक तरफ फेंक दिया.

इंग्लिश फिल्म सेक्सी फिल्म

उनकी इस बात से मेरे चेहरे पर थोड़ी मुस्कान आ गई और मेरी टेंशन खत्म हो गई. उनकी जकड़ इतनी कसी हुई थी कि मुझे सांस लेने में भी दिक्कत होने लगी थी. उसको देखते ही मैंने उसको मन ही मन में उसको पटाने की कोशिश करने का सोच लिया था.

एक लौंडा मेरे मम्मों को चूस रहा था और एक नीचे मेरी चूत को चूस रहा था. चाची मस्ती में आवाज निकालने लगीं- इस्स आईईईई और तेज रगड़ो ऊईईईई ईईई … दो लंड से चुदने में मज़ा आ रहा है … उफ्फ … आह आह ओह आह उईइ आहह.

मगर मैंने देखा कि उसकी गांड का छोटा सा छेद बड़ा हो गया था और लपलप कर रहा था.

चाची के घर के सामने वाली खिड़की हमारे घर के सामने ही खुलती थी जिसे चाची ने आज मम्मी की सुविधा के लिए खोल दिया था. दीदी बोलीं- चल मैं आज तुझे चुदाई का मज़ा दूंगी, लेकिन किसी को बताना मत … और ये जो तूने अभी था वो समझ ले कि देखा ही नहीं था. मैंने उसको उस रात 12 बजे तक पढ़ाया, इसके बाद मैं अपने घर आकर सो गया.

पर थोड़ी जबरदस्ती से इस इंकार और इकरार के खेल में मज़ा दोगुना हो जाता है. मैंने उससे कहा- क्या मुझे अपनी जवानी से खेलने दोगी?वो बोली- खेल तो रहे हो. केस के बारे में बताते हुए ही उसने एकदम से मेरी पीठ पर हाथ फेर दिया.

वह ओके बोल कर फंक्शन में बिजी हो गई और मैं छत पर चला गया और परमा के आने का इंतजार करने लगा.

हिंदी वाला सेक्सी बीएफ: मेरा बेटा मेरे स्तनों से दूध बहुत कम ही पीता था, जिस वजह से मेरे स्तनों में दूध भरा रहता था और दर्द रहने लगा था. मैं प्राची का फ़ोन लेकर बाथरूम में चली गई और उसके लंड के फोटो देखते हुए अपनी चुत रगड़ने लगी.

कुछ ही देर बाद भाभी अपने घर आ गईं, तो मुझे समझ आ गया कि भाभी का घर पार्क के पास में ही है. उसने मेरी पैंटी भी उतार दी और अपने होंठों को जैसे ही मेरी चूत पर रखा, मेरी आह निकल गयी. वो बोले- सहलाओ इसको जान!मैं धीरे धीरे सहलाने लगी उनके लंड को!वो मेरे दूध को दबाने लगे.

लंड अन्दर लेते ही मां ने अपनी टांगें चौड़ा दीं और मेरे नाम की सिसकारियां लेने लगीं- आंह विशुऊऊऊ अह आह!मैं मां के ऊपर पूरा लेट गया और पूछा- क्या दर्द हो रहा है जान?मेरी मां रज्जी- नहीं हम्म्म्म …मैं- मजा आया!मेरी मां रज्जी कुछ नहीं बोलीं और उन्होंने आंख बंद करके मेरी पीठ पर हाथ रख दिया.

अब आगे स्टेप मॉम सन सेक्स स्टोरी:अब हम दोनों एक दूसरे का हाथ पकड़ कर उंगलियों में उंगलियां फंसाए हुए एक-दूसरे की आंखों में आंखें डालकर देखने लगे. दादी जी- हां बेटा, रश्मि के आते ही मैं उसको सब बता दूंगी … पर तेरे उस नामर्द बाप, यानि मेरे बेटे को तू कुछ मत बताना, वो जब आएगा तो सब कुछ अपनी बीवी से ही सुन लेगा … ठीक है?मैं- ठीक है दादी जी. मैंने चूमते चूमते उसकी चोली खोल कर ब्लाउज़ उतार दिया और ब्रा में चूचियों को दबाने लगा.