हिंदुस्तानी लड़की की बीएफ

छवि स्रोत,बीएफ फिल्म देखनी

तस्वीर का शीर्षक ,

మలయాళం సెక్స్ ఫిలిం: हिंदुस्तानी लड़की की बीएफ, तब मैं भाभी के पास गया और भाभी के कोमल पैर को पकड़ कर माफी मांगने लगा.

बीएफ पिक्चर दिखाओ बीएफ बीएफ

पैंटी पूरी तरह गीली हो चुकी थी और इसी बात से मेरी भी मस्ती कुछ बढ़ गई थी, मैंने दीदी के बूब्स से अपने फेस को हटा लिया और दीदी की पैंटी की तरफ हो गया और हाथ से पैंटी को पकड़ कर उतारने लगा. आरती की सेक्सी बीएफथोड़ी देर इंतज़ार करने के बाद मुझे लगा कि शायद सोनी नहीं आने वाली है.

उन्होंने खुद अपने हाथों से मेरा बॉक्सर निकाला नहीं, बल्कि मेरे लंड को ऊपर से ही पकड़ कर हिलाने लगीं. बीएफ सेक्स ओपन सेक्सफिर मैंने उसके होंठों को ऐसे चूमने लगा जैसे जैसे पूरा भरा आइसक्रीम कोन चूसते हैं.

क्या मेरे से तुझे प्यार तो नहीं हो गया?मैं- हाँ प्यार हो गया है ज़ायरा.हिंदुस्तानी लड़की की बीएफ: मेरे गुस्सा करने पर कहीं मुझे भी ये लोग मार पीट न देवें, तो मैंने तय किया कि अभी मेरा गुस्सा करना ठीक नहीं है.

फिर उसकी पूरी बॉडी टाइट हो गई थी और उसने अपनी टाँगें एकदम से कस ली थीं.ज़ायरा- सच सच बता कि कितनी गर्लफ्रेंड हैं तेरी?मैं- कसम से भाभी… एक भी नहीं है यार.

बीएफ बीएफ इंग्लिश में - हिंदुस्तानी लड़की की बीएफ

जब सुपारे के पास का हिस्सा बचा, तब तक उसकी शर्म और घृणा जा चुकी थी.अगले ही पल सुरेश ने रमेश से कहा- भैया, मैं काजल की चूत में अपना लंड डाल कर उसको चोदना चाहता हूँ.

यानि सैंडल, ड्रेस, ब्रा एंड पैंटी, नेलपॉलिश, लिपिस्टिक, पूरा मेकअप का सामान मतलब सब कुछ था, जो कि लड़की को जरूरत पड़ती हैं. हिंदुस्तानी लड़की की बीएफ इस बार उसकी चीख पहले से भी तेज थी, लेकिन मुँह में लंड होने की वजह से उतनी तेज नहीं निकली, लेकिन उसकी आँखों से निकलने वाले आंसू सारी कहानी खुद ही कह रहे थे.

संजय शर्मा, वो अमृतसर से है, उसका ट्रान्सफर दिल्ली में हुआ है और बेचारे के कोई रिश्तेदार भी यहां नहीं हैं, तो वो मुझसे रहने के लिए कोई ठिकाने लिए पूछ रहा था.

हिंदुस्तानी लड़की की बीएफ?

पल भर के लिए मुझे बहन पर बड़ा गुस्सा आया, लेकिन मैंने खुद पे काबू कर लिया. ये कह कर अवी अन्दर चला गया और थोड़ी देर बाद आया और साउंड सिस्टम में रोमांटिक गाने की टोन बजा दिया. क्योंकि पदमा की चीख निकल गई और मैंने उसे दर्द से दांतों को दबा कर लंड सहन करते हुए देखा.

हम जैसे लेटे थे, हमसे अच्छे से नहीं हो पा रहा था तो मैंने उसको बिस्तर के किनारे लगा के उसकी गांड के नीचे तकिया लगाया और खुद नीचे बैठ करके अच्छे से चूत चाटने लगा।अब पूरा मजा आ रहा था उसको भी और मुझे भी… उसकी चूत का स्वाद खट्टा सा था. मैंने अमित को एसएमएस किया- हाँ अमित, अवी ने हाँ कहा है अब बताओ मुझे क्या कब और कैसे करना है?अमित- एक लड़का है सैम तुम्हें उसकी गर्लफ्रेंड 15-20 दिन के लिए बनना है बस. मैं- दिव्या रहती है, मैं कैसे लगा पाऊँगी?अमित- तुमको जब समय मिले तो मेरे कमरे पर 20 मिनट मालिश करवाने आ जाया करना बस फिर देखना क्या कमाल हो जाएगा.

मैंने कहा- मैं जानना चाहता हूँ कि जो आपके पति ने कहा, उसमें आपकी भी मर्जी शामिल है?उसने कहा- जी हां. मैंने उनसे कुछ भी नहीं बोला, मैं भी उनका साथ देने लगा और हम दोनों फ्रेंच किस करने लगे. करीब पांच मिनट तक यही चलता रहा, फिर संजय ने मुझे घुमा कर दीवार से चिपका दिया और पीछे से मुझे अपनी बांहों में भर कर मेरे चूचों को दबाते हुए फिर से मेरी गरदन को चूमना शुरू कर दिया.

नीचे उसका लंड मेरी गांड की दरार में घुसता हुआ महसूस हुआ, जो बड़ा हो रहा था. मेरी ताई ने एक साड़ी पहन रखी थी, उनका ब्लाउज काफी टाइट था, जिसमें उनकी चूचियाँ बाहर की तरफ आ रही थीं.

दीदी- देखो सन्नी, मैं करण की बेहन हूँ तो तुम्हारी भी बहन हुई ना! क्या तुम अपनी बहन को ऐसे बदनाम करते कभी?मैं जानबूझ कर नाटक करते हुए बोला- मेरी बहन ऐसा कोई काम नहीं करती कभी, और अगर करती तो मैं उसकी जान ले लेता.

पर वो किसी काम के सिलसिले में बाहर गया हुआ था और मेरी आदत लगभग रोज ही चुत चुदाई की हो गयी थी.

उधर सुरेश अंकल, वह मेरी चूत के दीवाने थे, वो उधर मेरी चूत पर पूरा लंड डाले. वो अब थकने लगी तो मैंने लन्ड बाहर निकाल कर फिर से तेल में लन्ड और गांड भिगो कर अंदर तक डाल दिया. पर आज जब वह ख्याल आता है मैं उसकी चूत को याद करके मुठ जरूर मारता हूँ.

मैं बोली- अंकल, कोई आ गया तो मैं मुंह दिखाने लायक नहीं बचूंगी!तब भाभी के पापा बोले- अरे, तुम ये गीला शर्ट पहने हो, इसे चेंज करना ही है ना!मैंने सोचा कि ये ठीक बोल रहे हैं, मैंने ओ के बोला तो भाभी के पापा ने मेरा शर्ट ऊपर खींच के उतार दिया. फिर रोहण और मैं फ्रेश हुए और इस तरह हमने दुबई में पूरे 10 दिन तक चुदाई की थी और फिर हम भारत वापिस आ गए।अगले दिन मैं आफिस गयी और सब लोग मुझे ही देख रहे थे क्योंकि मेरी मांग में सिंदूर था। सब मेरे बारे में ही बात कर रहे थे. मंजरी ने मना कर दिया कि वो शादी में नहीं जाएगी, पुलकित ने भी कह दिया कि उसका जाना ठीक नहीं लगेगा.

मैंने दीदी की तरफ देखा, मानो वो पूछ रही थी कि अब मुझे क्यों तड़पा रहे हो? लंड को चूत में क्यों नहीं घुसाते?लेकिन मैं चुपचाप लंड को चूत के ऊपर वाले लिप्स पर रगड़ रहा था.

अब मोना का वजन 50 के करीब आ गया था और मेरी बीवी का फिगर भी पहले जैसा दिखने लगा था जो कि जो सबके लंड खड़े कर दे. वो लंड कहते समय थोड़ा सा उचक गईं लेकिन 10 मिनट की चुदाई में मेरा माल निकल गया. मैं भी देख लूंगा, आपको ये लौंडा मैंने दिलाया है, जिसकी गांड का आपने मजा लिया.

मयूरी धीरे से गम्भीरतापूर्वक ऐसे सामान्य लहजे में बोली, जैसे कुछ हुआ ही नहीं हो- पापा. मैं छाया के होंठ पर अपने होंठ रख कर 10 मिनट तक चुम्बन करता रहा, फिर मैंने छाया भाभी के धीरे धीरे सारे कपड़े उतार दिए. ”ऐसे कैसे मानूं, हाँ अगर तुम ये कहती कि तुम मेरी सेक्स पार्टनर बन गई हो, ऐसा मानो.

छाया जोर से चिल्ला पड़ी- उई माँ री… आह!मैं पूछा- क्या हुआ? चिल्लाई क्यों?वो बोली- मेरे पति का छोटा सा ही है.

वो मेरी बांहों में बिन पानी की मछली की तरह तड़प रही थी और मेरे हाथ उसके नंगे जिस्म को सहला रहे थे. मैं- मैंने एक कमरा भी सितारा होटल में 201 नंबर का बुक करवा लिया है.

हिंदुस्तानी लड़की की बीएफ मैंने फिर अपना लण्ड पूरी ताकत के साथ उसकी कुंवारी बुर में डाल दिया, वो बहुत ही जोर से चीखी लेकिन मैंने इसकी परवाह न करते हुए कई धक्के लगा दिए। उस बुर की सील टूट गयी थी, वो लगभग अधमरी से हो गयी थी, कुतिया वाली पोजीशन की वजह से हर धक्के के बाद वो आगे की तरफ गिर जाती. आपकी माया त्रिवेदी[emailprotected]इसके बाद क्या हुआ, इस कहानी में पढ़ें :गान्ड बची तो लाखों पाये.

हिंदुस्तानी लड़की की बीएफ सो गये क्या जानू… सॉरी राजा मैं लेट हो गयी आने में!” वो बोली और मेरे नंगे जिस्म को छाती से नीचे तक सहलाया और मेरे खड़े लंड पर अपनी नाजुक उंगलियाँ लपेट के इसे मुट्ठी में दबाया. इतने में मैंने महसूस किया कि दो लड़कियाँ जो उम्र में मुझसे छोटी लग रही थी, मुझे परेशान करने लगी, वो कभी मेरे ऊपर पानी डाल देती तो कभी एक दूसरी को धक्का मार कर मेरे ऊपर गिराती और फिर मेरे ऊपर हंसती.

कोठरी में बत्ती जलाई तो जली नहीं, शायद वहाँ का बल्ब कब का फ्यूज हो चुका था.

सेक्सी बीएफ वीडियो बिहारी

मेरा मन कर रहा था कि उनको नंगा देखूं लेकिन संकोचवश कह नहीं पा रहा था. इसलिए उन्होंने अपनी चाहत जताई थी कि कोई माकूल व्यक्ति किसी दूसरे शहर में मिले और उन्होंने मेरी कहानी पढ़ने के बाद सोचा कि मुझसे बात करें. मैंने कहा- क्या आप जानती हैं कि हम क्यों मिले हैं?तो उसने कहा- जी हां.

मैं आपको अपने जीवन की सच्ची घटना बताने जा रहा हूँ जो कि आज से 5 साल पहले की है. पर अगले दिन अभी मेरा मस्त मलंग लंड देसी बालाओं की और चुदाई करना चाहता, लेकिन बुआ से पकड़े जाने का डर हमेशा लगा रहता था. ”फिर एक दिन उसने मुझे अन्तर्वासना की साइट के बारे में बताया और मैं रोज कहानियाँ पढ़ने लगी। इसमें बहुत सी कहानियाँ मेरी जैसी लड़कियों की थीं.

इन सबसे निपट कर हम दोनों यूं ही बातें करते रहे कि शादी में क्या क्या होना है.

मैंने उनके चूतड़ के ऊपर के हिस्से से लेकर कमर तक अपनी उंगलियाँ धीरे धीरे फेरीं. दीदी ने भी जीभ बाहर निकाली, फिर हम दोनों जीभ से खेलने लगे, एक दूसरे की लार पीने लगे. ”साली, तेरी बेटी तो बहुत सेक्सी है, इसे तो दो दो लंडों से चोदना चाहिये.

थोड़ी देर में मैं उसके ऊपर आ गया और उसकी चुत में ले धकापेल चालू हो गया. कसम से नाईटी भाबी के जिस्म से चिपकी हुई थी और भाबी बहुत सेक्सी लग रही थीं. मेरा पूरा लंड भाभी की चूत में चला गया और पायल भाभी ज़ोर से चीखने लगीं.

मेरे ख्याल से प्रिया एक से ज्यादा बार पहले ही स्खलित हो चुकी थी लेकिन मैं अभी तक डटा हुआ था. उसकी चूत अभी तक पानी छोड़ रही थी, जिससे पूरे कमरे में पच पच की आवाज गूँज रही थी.

बेशक मंजरी की चूत भी पूरी गीली थी और पुलकित का लंड ‘पिच पिच’ की आवाज़ करता हुआ अंदर बाहर आ जा रहा था, मगर फिर भी मंजरी को काफी दर्द हो रहा था. देवर जी पूरे जोश में आ चुके थे और उन्होंने अपने लौड़े को चूत के निशाने पर लेते हुए धक्का लगा दिया. ये सुनकर मेरे दिल को बड़ी तसल्ली हुई क्योंकि इसी लिए तो मैंने ये सब प्लान किया था.

करीब आधे घंटे की चुदाई के बाद मेरा पानी निकलने को हुआ तो मैंने उसको कहा- क्या पसंद करोगी?इस पर रुबीना ने मुस्कुराते हुए अपने जिस्म पर आँखें लगा दीं, मैंने अपना लंड निकाला और मुठ मारते हुए अपना सारा पानी उसके पेट, सीने और मुँह पर गिरा दिया.

वो मेरे रूम में आई और मुझसे पूछने लगी- क्या बात है?मैंने उससे कहा कि भाभी आप बुरा मत मानना. लेकिन सबसे रिच, स्मार्ट, सेक्सी एंड इंटेलिजेंट होने के कारण कोई उससे कुछ बोलने की हिम्मत नहीं करता था. अंकित के बैठने से उसके पेट का सबसे निचला हिस्सा माया के दाने को रगड़ने लगा और माया अपनी गांड और जोर से हिलाने लगी.

उधर मुझे राजेंद्र अंकल ने जोर से मेरी चूत में उंगली अंदर बाहर करने लगे तो मैं सब भूल गई, मैं भी भाभी के पापा के होंठों को चूसने लगी. जब मैंने पीछे से देखा तो गीली मैक्सी से चाची की काली पेंटी साफ चमक रही थी.

”पर इस समय आरुषि कुछ सुन नहीं पा रही थी उसे लन्ड चाहिए था जो उसकी चूत की आग को बुझा सकता- छक्के के बाप, डाल भी दे अब… या तेरे से भी नहीं होगा?वो चिल्ला उठी. कुछ देर बाद हम डॉक्टर को चिंटू को दिखा कर मार्केटिंग के लिए चले गए. ज्यादातर पानी मैंने पी लिया, अजीब सा स्वाद था, पर उत्तेजना में मुझे इसका स्वाद पसंद आ गया.

पंजाबी वाली बीएफ

थोड़ी ही देर बाद भाभी ने भी मुझे गले पे किस करना शुरू कर दिया और बोलने लगीं- मैं तुमसे प्यार करती हूँ, पर किसी को पता चला तो मेरी बहुत बदनामी होगी.

वो चिल्लाने लगी- छोड़ बहन के लोड़े! फट जायेगी!मैंने उसकी बात न सुनते हुए उसकी चूत पर एक और धक्का मारा और अपना पूरा लंड पेल कर कर जोर जोर से अपनी बहन चोदने लगा. फिर एक दिन जब मैं घर में था और उनका बच्चा स्कूल गया हुया था, मैं उनके कमरे में गया. मैं एक बार टेस्ट करके देख लूँ कि ठीक से पढ़ाता है कि नहीं?मैंने कल्याणी तरफ़ देख कर इशारा किया- ये क्या है?कल्याणी ने टेबल के नीचे से मेरा लंड पकड़ा और कान में बोली- खिला दो ना माँ को भी.

मैंने झट से जाकर गेट बंद कर दिया और वापस आया तो देखा कि दीदी ने मैक्सी निकाल दी थी, वो सिर्फ़ ब्रा और पेंटी में थीं. फिर वो नीचे आ गया और उसने मेरी नाभि पर किस की फिर उसने मेरी साड़ी को थोड़ा ऊपर किया और मेरी चिकनी जांघों को चाटने लगा।फिर वो ऊपर आ गया, उसने मेरी साड़ी का पल्लू निकाल दिया और मेरी साड़ी उतार दी और मुझे चूमने लगा. बीएफ हिंदी देहाती सेक्सीवो बोली- हम्म… तो ये बात है जनाब… फिर अब तक मेरे को बोला क्यों नहीं तुमने?मैं बोला- बस मैं कहने से डरता था, कहीं तुम मना ना कर दो.

मैं पुणे में रहता हूँ और अभी सेकेंड ईयर में हूँ, उसी के साथ मसाज पार्लर में भी जॉब किया था, ताकि पढ़ाई के लिए थोड़े पैसे मिल जाएं. और इस बार मेरा लंड पूरा अंदर चला गया, होंठों पर होंठ होने के कारण वह आवाज नहीं निकाल पायी लेकिन मेरे हाथ उसके चेहरे पर होने पर मुझे पता चला कि वो रो रही है, उसकी आँखों से आँसू निकल रहे हैं.

मुझे लगा कि मेरा भी होने वाला है तो मैंने उससे पूछा कि कहां निकालना है?उसने कहा कि अन्दर नहीं निकलना. इतना जोर से चूत रगड़ रही थीं कि मुझे सांस लेने में दिक्कत हो रही थी. मक्खन की चिकनाई की वजह से लंड तो अन्दर दाखिल हो गया पर उसे दर्द होने लगा.

खैर मैंने जोया को औंधा किया, जिससे उसकी गांड का छेद मेरे सामने आ गया. और जैसे ही मैं ट्रेन से उतरा तो मेरे मोबाइल पे कॉल आया, उठाया तो मस्त लड़की की आवाज़ थी. मुझे गुस्सा आ गया लेकिन मैंने अपना गुस्सा दबा लिया और अपना लंड उसके मुंह में डाल कर आगे पीछे करने लगा.

मैंने भाभी से कहा- तो मैं भाभीजी आपको क्या बोलूँ?भाभी ने कहा- तुम भाभी ही बोलो.

भाभी ने उठते हुए मुझे पकड़ा और मेरे लंड को जोर से अपनी चूत पर दबा दिया और कहा- मुझे भी चुदना है तुझसे. मेरी इंडियन सेक्स कहानी के पिछले भागबीवी को उसके बॉस के कमरे में छोड़ा चुदाई के लिएकामिनी धीरे से विवेक से बोली- दरवाजा भी बंद करोगे या.

थोड़ी देर चूत चाटने पर दीदी का पानी छूट गया और सारा पानी बेड और मेरे मुँह पर आ गया. मुझे पता ही नहीं चला कब गेट खुला कब भाभी के पापा गाड़ी में अंदर आ गये. अब मैं ये सोच रही थी कि यहाँ 500 ही मिल रहे हैं और वहाँ मैं 40 हजार कमा चुकी हूँ.

फिर मैंने उसकी पेंटी भी निकाल दी और अब वो पूरी तरह से नंगी हो चुकी थी. जिस पटरे के पीछे मैं था, मुझसे दो कदम की दूरी पर मम्मी और फूफा जी थे. मेरा सिर उसने अपनी चुत पर इतना तेज दबा दिया कि मानो वो मेरा सिर ही अपनी चुत में ले लेगी.

हिंदुस्तानी लड़की की बीएफ आओ अन्दर बैठो, अच्छी लग रही हो यार…अवी मस्त लग रहा था, मैंने भी कहा- तुम भी अच्छे लग रहे हो. मैं उनके पास जा कर बैठ गया और फिर हिम्मत करके मैंने भाभी से बात करना स्टार्ट किया.

लखनऊ बीएफ

मैं चाचा को बोलती थी कि हम चुदाई कैसे करें, घर पर कोई न कोई रहता था. अभी 5 मिनट ही हुए होंगे कि उसकी बुर से सफेद सफेद सा पानी निकालने लगा, मुझे कुछ सूझ ही नहीं रहा था, मैं तो वो रस पूरा चाट गया. अब मुझे सेक्स स्टोरी लिखने का काफ़ी टाइम बाद मौका मिला तो सोचा आज कुछ मजेदार लिखता हूँ.

फिर एक दिन जब मैं घर में था और उनका बच्चा स्कूल गया हुया था, मैं उनके कमरे में गया. आनन्द वापस उसे किस करने लगा, फिर उसके स्तनों के बीच में बनती रेखा को चूमने लगा. बीएफ सेक्सी मराठी पिक्चरसो मैं पानी में ही कमर तक खुद को डुबोये खड़ा रहा।मधु ने मुझसे कहा- आओ अब क्या पानी में ही खड़े रहोगे?मुझे कुछ भी समझ नहीं आ रहा था कि मैं क्या कहूँ।तभी उसने मेरा हाथ पकड़ा बाहर खीच लिया तथा वो आगे चलने लगी। मैं उसके पीछे-पीछे चलने लगा। मुझे अब भी बहुत अजीब सा लग रहा था.

तीन बजे तक मैं घर आ गई और अमित के यहाँ जाने के लिए मैं तैयार होने लगी.

चूँकि भैया अच्छा ख़ासा कमा लेते थे तो रुबीना के परिवार में भी किसी को कोई ऐतराज नहीं था. कैसे भी करके मैंने उसका हाथ हटाए और उसे काबू में किया, लंड वापस उसकी चुत पर लगाया.

कभी कभी वो मुझे किस भी कर रहे थे और हमारी चुदाई की कामुक आवाजें कमरे में गूंज रही थी. मैं तो जैसे सातवें आसमान पर उड़ रहा था, पहली बार मेरा कोई लंड चूस रही थी, मुझे बहुत मजा आ रहा था. बीस मिनट तक कमरे के कुछ चक्कर लगाने के बाद दीदी उतर गईं और उन तीनों को रिहा किया.

मैं पूरा का पूरा उसे पी गया, मुझे एक अजीब सी मदहोशी आने लगी और मेरा लंड और तन गया.

मेरे पास खिसक आने से बहूरानी की जांघें खुल गयीं थीं और उसकी पैंटी में से चूत की झलक दिखने लगी थी. यह कह कर उसने मेरा हाथ पकड़ लिया पर मैंने हटाते हुए पूछा- कहां चल रहे हो?अवी ने बताया कि उसके घर पर. बहुत मोटा है इस नीग्रो हब्शी का… अपनी मासूम बच्ची को बचा ले राधिका.

बीएफ फुल सेक्सी एचडी वीडियोतो मेरा लण्ड अन्दर ही नहीं जा रहा था तो मैंने एक जोर का झटका मारा और लगभग आधा लण्ड अन्दर चला गया तो वो जोर से चिल्लाई मगर तभी मैंने उसके होंठ पर अपने होंठ रख दिए और उसके ऊपर लेट गया और उसके होंठ चूसता रहा। कुछ देर बाद वो भी मेरे होंठ चूसने लगी। फिर मैंने अपना लण्ड और अन्दर डाला जो थोड़ी दिक्क़त के साथ अन्दर चला गया। उसकी चूत से गर्म-गर्म खून आने लगा। शायद उसने नहीं देखा. छोड़ना मत फाड़ ड़ालो इसे…पाँच मिनट इस तरह चोदने के बाद मैंने उन्हें घुमा दिया और पीछे से उनकी चुत मारने लगा.

बीएफ फिल्म मूवी हिंदी में

कि तभी एकदम कविता मेरे पास आई और मुझे चुपके से एक लैटर मेरे हाथ में दिया और फिर हँसती हुई चली गयी. कमरे के बीच में दयाल, राकेश और सतीश नंगे होकर घुटनों के बल बैठे हुए थे. यह कहानी मेरी और मेरी सेक्सी चाची की है, जो दिखने में बहुत मस्त हैं.

दीदी- देखो सन्नी, ये ग़लत कर रहे हो तुम, बात सिर्फ़ लंड चूसने की हुई थी और अब तुम…मैंने दीदी को बीच में ही चुप करवा दिया- दीदी मैं समझ सकता हूँ कि आप क्या बोल रही हो, लेकिन डरो नहीं, मैं कुछ नहीं करूँगा, मैं तो बस हल्की सी मस्ती कर रहा हूँ, बाकी का काम मैं आपकी मर्ज़ी के बिना नहीं करूँगा. अब मैंने भाभी की चुत पर जीभ लगा दी, जीभ का अहसास पाते ही वो सिहर उठीं और ‘श. फिर मैंने चॉकलेट के टुकड़ा उठाया और उसकी बुर के दाने पर रगड़ा तो वो मना करने लगी, वो बोली- वहां नहीं.

कुछ मिनट लंड चुसवाने के बाद मैंने अपना लंड उसकी चुत की दरार पर रखा. यही सोच कर मैं उसके करीब गया और धीरे से उससे बोला- सोनी, मैं जानता हूँ कि तुमने कल के लिए मुझे अभी तक माफ़ नहीं किया है, इसलिए आज दोपहर को 2 बजे मैं तुम्हें तुम्हारे कॉलेज के बाहर मिलूँगा, फिर हम लंच करने किसी अच्छे से होटल में जाएँगे. चाची मस्ती में आँख बंद किए हुए थीं और दोनों हाथों की मुट्ठी ज़ोर से बंद किए हुए थीं.

’ कर रही थीं, पर एक बार लंड मुँह में लेने के बाद वह लंड को मुँह में अन्दर बाहर करने लगीं. थोड़ी ही देर में भाभी को राहत महसूस होने लगी और वो अपनी कमर को उठाने लगीं.

एक दिन मैं उसी के साथ अपने कमरे में बैठी थी कि मैंने उससे कहा- यार कहीं घुमाओगी नहीं.

मैं कॉलेज से शाम को 4 बजे तक आ जाता था और दीदी के ऑफिस का टाइम भी 5 बजे का था लेकिन अब वो 8 बजे के पहले नहीं आती थीं. न्यू हिंदी बीएफ एचडीयह सुन कर रमेश, सुरेश और काजल को मयूरी पर बड़ा ही गर्व महसूस हुआ और उन्होंने राहत की साँस ली. 16 साल लड़की का बीएफ वीडियोमैंने कहा- चुपचाप बैठ जा, वरना यहीं बवाल करने लगूंगा, आज मेरा दिमाग़ बहुत खराब हो गया है. माया अंकित की गांड अपनी उंगली से चोदने लगी और अंकित ज्यादा देर टिक ना सका.

अचानक प्रिया ने मेरे सर के पीछे के बाल अपने बाएं हाथ में कस कर जकड़ लिए और दाएं हाथ से अपना वक्ष पकड़ कर निप्पल बिलकुल मेरे होंठों पर रख दिया.

मैं उनकी फैमिली के साथ हिल मिल गया था, इस कारण मुझे भी अब अकेला महसूस नहीं होता था. मैं आपके लंड को बहुत प्यार करती हूँ और आपके लंड के बिना एक पल भी रहने का मन नहीं करता है. मैं बोल पड़ा कि आप मुझे चोदने दो बदले में मैं आपको पैसे भी दे दूंगा.

आते वक्त मैंने एक मोबाइल लिया जिसमें सीक्रेट तरीके से फ़ोन रिकॉर्ड हो सके और किसी को पता न चले. मैंने उस चिपचिपे जूस को विक्की और अपने लंड पे लगाया, फिर अपनी उंगली से रोशनी की गांड में ढेर सारा जूस डाल दिया ताकि विक्की की ककड़ी आसानी से उसमें घुस जाए. ब्लाउज झीना होने के कारण सुमित को गोरे गोरे मम्मों की झलक मिल रही थी और उसका लंड पेन्ट फाड़ के बाहर आने को तैयार था.

सेक्सी पिक्चर बीएफ चुदाई वाली

तो तभी मैंने अपना सुपारा घुसेड़ दिया और अन्दर-बाहर करने लगा और उसे भी मजे आने लगे।मैंने जैसे ही झटके से अन्दर डाला तो वो छटपटाने लगी और लण्ड निकालने को कहने लगी।जब वो चुप हुई तो मैं फिर से डालने लगा. अब वो दोनों हाथ को जमीन पर रख कर सिर्फ मुँह से मेरे लंड को चूस रही थीं. लण्ड पूरा अन्दर तक ठेल दिया। मेरी आँखों में पानी आ गया। मैं रोने लगी.

माया नहा कर बाहर निकली और एक सेक्सी सी मैक्सी पहन कर बेडरूम में घुस गई.

मित्रो, अन्तर्वासना के जिन पाठक पाठिकाओं ने मेरी पूर्व की कहानियाँ नहीं पढ़ी हैं उनके मन ये जिज्ञासा जरूर होगी कि हम ससुर बहू के मध्य यौन सम्बन्ध कैसे स्थापित हो गये?इसके लिए मेरी लिखी सबसे पहली स्टोरीअनोखी चूत चुदाई की वो रातको पढ़ सकते हैंफिर भी अत्यंत संक्षेप में मैं यहाँ पूरा वाकया दोहराता हूँ कि मेरी बहूरानी अदिति और मेरे बीच अनैतिक चुदाई के सम्बन्ध कैसे स्थापित हुए.

पर इस बार उसकी चूत हल्की चिपचिपा रही थी, मैं उसकी चूत में अपनी एक उंगली डाल कर अंदर बाहर करने लगा और कविता की सीत्कारें आ…ह आह आह… आवाज तेज हो गयी. तभी दीदी ने मेरे हाथ को छोड़ दिया और मेरे लंड को हाथ में पकड़ लिया फिर लंड पर हाथ को ऊपर नीचे करने लगी, मैंने भी मौका देखा और दीदी के ऊपर चढ़ गया। दीदी ने मुझे हैरानी से देखा मैंने भी सर हिला कर इशारा किया कि मैं कुछ नहीं करूँगा जब तक आप नहीं बोलोगी. नंगी औरत का बीएफमैं भी घर से पूरा रेडी होकर निकल गया और होटल पहुंच कर रूम नंबर 5 का दरवाज़ा खटखटाया.

सब लोग पार्टी का मजा लेने में व्यस्त थे और मैं सपना को ढूंढ रहा था. लेकिन मैंने आगे बढ़ कर उसके कंधों पर हाथ रखा और उसकी आँखों में देखते हुए बोला कि भाभी आप मुझे अच्छी लगती हो, क्या आप मुझे दोगी?ममता ने हकलाते पूछा- क्या?अब मेरी भी हिम्मत बढ़ गई थी. लगभग 5 मिनट के किस के बाद मैंने देखा कि मोना मुझे खाने की नजर से देख रही है.

दस मिनट की चुदाई के बाद आनन्द ने लिंग को बाहर निकल कर मोना की योनि के ऊपर अपने वीर्य की पिचकारी डाली. तो एक दिन जब मुझे ठीक लगा मैंने सानिया से पूछ ही लिया- मैंने उस दिन ट्रेन में जो भी किया तुम्हारे साथ… तो तुम्हें वो बुरा लगा था क्या?मेरे इस मेसेज से फिर 2 दिन तक सानिया का कोई जवाब नहीं आया।फिर तीसरे उसका मेसेज आया- गुड मॉर्निंग!तो मैंने फिर वही बात पूछ ली.

उसी वक्त मेरा टॉवेल खुल कर नीचे गिर या और वरुण ने अपनी शॉर्ट और अंडरवीयर कब निकाल दिया, वो मुझे पता ही नहीं चला.

उस दिन हम दोनों ही घर में थे, इसलिए मैंने और भाभी ने जल्दी खा लिया. मैं कई बार मोना को फैंटसी की बारे में बात करना चाहता, पर वो हर बार मना कर देती ओर कहती कि तुम पागल हो गए हो. मेरी पिछली देसी कहानीफुफेरी बहनों की रंगरेलियाँ और चुत चुदाईमैं गांव में अपनी फुफेरी बहनों की चुत चुदाई में उनके भाई के साथ शामिल था.

भोजपुरी बीएफ सेक्सी भोजपुरी बीएफ सेक्सी मुझे अपनी बहू की कैमल टो बहुत सेक्सी लगी तो मैंने अपना स्मार्ट फोन निकाल कर उसकी पैंटी की एक फोटो खींच ली. मैं बोला- हां ये सही है मैं आपको चोदना चाहता था पर डायरेक्टली नहीं पूछ पा रहा था इसलिए दोस्त का नाम लेकर बात की थी.

वो दिल्ली में बड़ी पुलिस अफसर थी पर विक्रांत को बहुत साल पहले से चाहती थी. मैं भी दीदी की पीठ पर हाथ को बड़े प्यार से अपनी उंगलियाँ खोल कर सहला रहा था. भाभी की चुत चुदाई की यह रियल स्टोरी तब की है, जब मैं फर्स्ट ईयर में था.

बीएफ वीडियो में बढ़िया

पहले माथे… फिर नाक… फिर गाल और अंत में उनके गुलाबी होंठों पर आ गया. हालांकि मैं गांव में ये सब करने नहीं गई थी, लेकिन मेरे वापस आने के पहले की बात है कि अंजू ने मुझसे कहा- दीदी, आज शाम को अपनी एक ड्रेस मुझे दे देना. अब तो धक्के मार कर अपनी चाची की चूत दोबारा ढीली कर दे!तो बस धकापेल चुदाई का मंजर शुरू हो गया.

क्या हुआ अदिति बेटा?”कुछ नहीं पापा जी, अब और नहीं, नहीं तो खुद को रोक नही पाऊँगी. मैं उसके लंड को किस करने लगी और उसके लंड के सुपारे को मुँह में लेकर चाटने और चूसने लगी.

विक्की बोला- सर, पिंकी का तो जूस निकलता जा रहा है, अब तो बोतल भी भरने वाली है.

उसके बड़े बड़े चूचे मानो कपड़े फाड़ कर बाहर आने की कोशिश कर रहे थे. अब हम दोनों फोन पर बातें करने लगे, पहले प्यार भरी बातें, फिर रोमांटिक बातें और उसके बाद सेक्स की बातें भी फोन पर होने लगी. ’मैंने देर ना करते हुए उसकी ब्रा उतार दी जिससे उसके सफ़ेद कबूतर उछल कर आज़ाद हो गए.

अभी तक मेरी सेक्सी स्टोरी में आपने पढ़ा कि विक्रांत ने अकीरा से वादा किया था कि वो अपनी नई सेक्रेट्री को अपना लंड दिखाएगा. मैं बोल पड़ा कि आप मुझे चोदने दो बदले में मैं आपको पैसे भी दे दूंगा. वहां देखा कि एक कमरे में कविता की मम्मी और कुछ औरतें सोयी हुई थी और दूसरे कमरे में मकविता और उसकी बहनें सोयी हुई थी.

एक शनिवार की दोपहर मैंने कहा- वरुण बेटे, यहां आज कितनी गर्मी है, सोचती हूँ कि नहा लूँ.

हिंदुस्तानी लड़की की बीएफ: मम्मी ने भाभी को बोल दिया था कि मैं घर पर अकेला हूँ तो मेरा ध्यान रखें. मेरी गर्मी के आगे वो टिक नहीं पाया और उसने मेरी चुत अपने पानी से भर दी.

क्या बोलेगी तू कि तूने पिंकी की चूत जला दी?”रोशनी भी अब रोकर सॉरी बोलने लगी. इसे आप यहाँ से download करें!भारतीय लड़कियों से हिंदी अंग्रेजी और स्थानीय भाषाओं में सेक्स चैट, वीडियो सेक्स चैटिंग करने के लियेसेक्स चैट, विडियो चैटपर आयें और सेक्स की मजेदार बातें करके, नंगी जवान कामुक लड़कियों को देख कर मजा लें!. मैं दीदी की बुर सहलाने लगा, दीदी की बुर एकदम गीली हो चुकी थी, दीदी बोलीं- देखो अमित हम जो कर रहे हैं, ये सही नहीं है.

मैं जल्दी से उसके ऊपर चढ़ गया ओर अपना एक हाथ उसके मम्मों पर रख कर दूसरा हाथ उसकी चुत पर फेरने लगा.

घर के आसपास वाले केमिस्ट मुझे जानते थे तो कहीं दूर वाली दूकान से कंडोम खरीदने का सोचा मैंने. मैंने 69 की अवस्था में होते हुए अपना लंड उनके मुख के पास किया और उसे उनके होंठों से छुआ दिया. किशोरियों या टीन गर्ल्स जैसी कमनीयता या आभा, ग्लो, दीप्ति या नूर कुछ भी कह लो; उसके जिस्म के अंग अंग से छलक रहा था.