बिहारी के बीएफ

छवि स्रोत,बीएफ सेक्सी वीडियो एचडी हिंदी में

तस्वीर का शीर्षक ,

ससस सेक्स वीडियो: बिहारी के बीएफ, मैं हाथ से मसाज करने लगी… उसका हाथ मेरे पीछे से मेरे चूतड़ पे गया और उसने एक ज़ोर का थप्पड़ मारा और कहा- नाइस एस बेबी… आई लाइक इट!फिर उसने मेरा ब्लाउज खोला और ब्रा भी निकाल दी.

सेक्सी बीएफ खपाखप वाला

हो भी क्यों ना! आखिर हमें अपनी खर्च की गई शक्तियों को पुनर्जीवित जो करना था. बीएफ हिंदी में नया वालाइससे अमृता (काल्पनिक नाम) थोड़ी नाराज़ सी हो गई और घर पर थोड़ा नखरे वाला व्यवहार करने लगी.

पर थोड़ी मोटी थीं। उनका भरा मांसल शरीर, भरी-भरी गोल चुचियाँ, मस्त मोटी गाण्ड और गोल से पेट को देख कर तो अच्छे ख़ासे बुड्डों का भी लंड खड़ा हो जाए। जब वो अपनी गांड को मटका-मटका कर चलती थीं. बीएफ और सेक्सी वीडियोबस अब चोदने की तड़प थी और उसे भी चुदने की चुल्ल हो गई थी।घर मैं ज्यादा लोग होने के कारण मैं अपने ही घर में रिस्क नहीं लेना चाहता था.

टांगों को हल्का सा चौड़ा किया और थोड़ा झुक कर उसकी चूत को चाटने लगा मुँह में लार भर के… चूत में ढेर सारा तरल अमृत था.बिहारी के बीएफ: और फिर दीदी बाथरूम चली गई और थोड़ी देर बाद कपड़े पहन कर आई तो मैंने देखा कि ब्रा और पेंटी उनके हाथ में ही थी.

और वो भी खुद लंगड़ाते हुए रसोई की तरफ चल दी।मैं उठा और उसके पीछे रसोई आ गया और दर्द के बारे में पूछा तो बोली- मजा लेने के लिये कुछ तो चुकाना ही पड़ेगा।‘तुम ऑफिस जाओगी?’‘हाँ बिल्कुल!’ वो बोली.मैं तो बस अब अगले दिन का इंतज़ार कर रहा था कि कब भईया काम पे जायें और मैं भाभी की चुदाई करूँ.

बीएफ फकाफक - बिहारी के बीएफ

ऐसे ही हब्शी का लंड हिल रहा था।मिरर में मैडम के उठे हुए चूतड़ों को हाइ हील में देख कर वेटर ने आपा खो दिया और उसने आव देखा ना ताव.मेरे रोकने की कोशिश के बाद तो उन्होंने रुकने की बजाय अपनी हरकत को और भी अधिक तेज कर दिया… अपने होंठों व जीभ के साथ साथ वो अब अपने हाथ से भी मेरे लंड को ऊपर नीचे हिलाने लगी.

यह एक वायर्ड माउस था, उसने एक कंडोम खोल कर माउस पर चढ़ाया और उसे अपनी चूत पर फिराने लगी. बिहारी के बीएफ एकदम पागल हो जाती हूँ।मेरे द्वारा खिलाई गई वियाग्रा का असर उस पर होने लगा था। उसका लंड तनता ही जा रहा था। उसने अचानक से मेरी कमर को दोनों हाथों से कस कर पकड़ा और मेरी ‘आह्ह.

10 मिनट बूब्स चूसने के बाद मैंने उनकी पूरी साड़ी निकाली, अब वो सिर्फ़ रेड कलर की पेंटी में थी.

बिहारी के बीएफ?

प्लीज़।मैं बोला- ठीक है।हम दोनों सो गए।शनिवार की सुबह जब दादी माँ बाथरूम में गईं तो उसने मुझे आज किस करके उठाया।वो स्कूल ड्रेस में थी. रंग सावला और सेक्स के लिए हमेशा तैयार रहता हूँ। लेकिन अपने लंड की इच्छा लड़कियों से कहने से हमेशा झिझकता रहा हूँ। मुझे हमेशा चुदाई ही पसंद है. ऐसा नहीं कि मैडम उससे चुदना नहीं चाह रही थी, मैडम अगर प्यार से बोलती, उसे गाली ना देती वो मैडम को पूरा मजा देकर चोदता लेकिन मैडम की गाली ने उसे गुस्सा दिला दिया.

तो मेरा भी चुदाई करने को बहुत मन करता था, पर मैं सबसे पहले अपने कज़िन के साथ ही चुदना चाहती थी।एक दिन मेरी फ्रेंड ने कहा- यार तू इतनी मस्त माल है. मुझे समझ नहीं आया तो आपके पास पानी लेने आया हूँ।भाभी मेरी मासूमियत पर हंसने लगीं और उन्होंने कहा- अरे हाँ, मैंने अभी आपको उनके साथ ही देखा था इसलिए मैं भी वही सोच रही थी कि आपको कहीं तो देखा है. उसने मुझे अपने पास बुलाया!मैंने पहले कभी भी सेक्स नहीं किया था इसलिए मैं थोड़ा डर रहा था!लेकिन ब्लू फिल्म देखने के कारण मुझे सब पता था.

और रमा उसका जोश बढ़ा रही थी- हाँ ऐसे ही आ… आ… आह… उम्म… चोद… और तेज़ चोद… फाड़ के प्यास बुझा दे अपनी माँ की चूत की आह… कितने. मेरी बुआ मेरे गाँव में ही रहती थी, उनकी लड़की प्रिया मेरे से 4 साल बड़ी थी, मस्त माल थी वो, बड़ी बड़ी चुची, मस्त गांड… पर मैंने कभी उसे सेक्सी नजर से देखा नहीं था।मैं बीमार था इसलिए वो मुझे देखने मेरे घर आई थी. जिससे वो कुछ नॉर्मल हो गई।फिर मैं धीरे-धीरे झटके देने लगा और वो दर्द से चिल्लाने लगी- अहह मर गई.

30 से पहले नहीं आ पायेगा।नेहा बाइक पर बैठती हुई बोली- कहाँ चल रहे हो?रवि मुस्कुरा कर बोला- तुम्हारे घर!रास्ते से नेहा के कहने पर रवि ने समोसे लिए और दोनों घर पहुँच गए।घर के अन्दर आते ही रवि ने नेहा को कस के भींच लिया।नेहा हंसती हुई बोली- जल्दी क्या है, अभी तो दो घंटे तुम्हारी हूँ. उसने अपनी जाँघों को थोड़ा खोल दिया मैं उनके बीच में सैट हो गया।मैंने अब अपना दूसरा हाथ भी उसकी दूसरी चुची पर रख दिया.

मैंने हैलो कहा, उन्होंने भी हैलो कहते हुए बताया कि वे मेरे पड़ोसी हैं.

तो सुनीता ने कहा ‘अभी तक तो कोई नहीं है, आपकी कोई गर्लफ्रेंड है?सुनीता ने उसे झूठ बोल दिया था कि उसका कोई भी बॉयफ्रेंड नहीं है.

बाद में तो तुम जन्नत की सैर करोगी।ये कहते हुए मैंने अपना लंड उसकी बुर में लगा दिया और धीरे-धीरे डालने लगा। वो सहमी सी होकर लंड का मजा लेने लगी. पूरा लंड अन्दर डालो।’‘आज तेरी चुत की हालत बहुत खराब होने वाली है साली कुतिया. उधर नताशा अपने देवर का लंड अपने मुंह में लेकर चुभलाने लगी उम्म्ह… अहह… हय… याह…मेरी धर्मपत्नी ने राजू का लंड अपने दाएं हाथ से पकड़कर उसके टोपे को अपनी गुलाबी-गर्म जीभ से चाट लिया और फिर उसके अंडे सहलाते हुए, लंड को अपने मुंह में लेकर चूसने लगी.

मैं जब स्कूल में था, मेरे एक दोस्त ने जो मास्टर साहब से खुद गांड मरवाता था मुझे पटा कर मेरी पहली बार गांड मारी थी. मैं भी उसकी भावनायें समझता था इसलिए मैं भी उस पर आज अपनी पूरी मोहब्बत बरसाने को तैयार था. धीरे धीरे उसका शक यकीन में बदल गया कि अब मैं उसकी रूममेट को चोदता हूँ क्योंकि एक दिन रात को उससे अपनी रूममेट को फोन सेक्स करते हुए सुन लिया और अगले दिन मुझसे आकर सीधा पूछ लिया- तुम मेरी रूममेट के साथ सेक्स करते हो?मैं चुप रहा और वो समझ गई… फिर एकदम नशीली स्माइल देते हुए बोली- दोनों को एक साथ चोदोगे?मेरी ख़ुशी का तो कोई ठिकाना ही नहीं था.

मैं मनोज, उम्र 25 साल, बरेली में रहता हूँ। मैंने अन्तर्वासना की कहानियाँ बहुत पढ़ी, मैंने आज तक कई लड़कियों को चोद कर मजा दिया है.

समझ नहीं आ रहा था कि क्यूँ शर्मा रही है अब…अब वो सिर्फ पेंटी में थी, मैं उसके ऊपर आ गया फिर उसकी गर्दन पर, कन्धों पर, हाथों पर, पेट पर और सबसे ज्यादा चूचियों पर प्यार किया. उधर राजू ने भी मुठ मारनी शुरू कर दी थी, इधर तोली ने अपने मुठ मारते लंड को नताशा के मुंह के सामने कर दिया. उसके बाद वो चेंज करने चली गई, जब वो चेंज करके आई तो मैं उसको देखता रह गया, वो बहुत पतली सी नाइटी पहन कर आई थी जिसमें उसकी ब्रा और पेंटी एकदम साफ दिख रही थी.

मैंने उसके कपड़े उतारने के बाद देखा, सिर्फ़ ब्रा और कच्छी ही बची थी वो कच्छी भी चुत के पास से एकदम गीली थी, ऐसा लग रहा था कि किस करने में ही झड़ गई हो एक बार!मैं भी उसकी चुची को ब्रा से आज़ाद करके चूसने लगा और अपने हाथ को उसकी कच्छी के अन्दर डाल दिया. मैं एक टायर कंपनी में चीफ मैनेजर हूँ, मेरी वाइफ एक प्राइवेट बैंक में मैनेजर है. मैंने अपने लंड को पकड़ा और अपनी अपनी प्यारी बहना की मुलायम और गीली चूत पर रगड़ने लगा.

जब तक मैं नहा लेती हूँ।मैं भाभी के लिए नूडल्स लेने चला गया।जब मैं वापिस आया तो बिना दस्तक दिए उनके कमरे में अन्दर चला गया। अन्दर का नजारा देख कर मेरी आँखें फटी की फटी रह गईं। वो अपनी चुत के बालों को रेजर से साफ कर रही थीं। वो शायद गेट बंद करना भूल गई थीं.

हमारी शादी 3 साल पहले हुई थी, शादी के बाद मैंने ज्योति का ट्रान्सफर जयपुर करवा लिया था. इस प्रक्रिया में नताशा को अपने घुटनों से उठना पड़ा लेकिन उसके साथ-2 रूसी दढ़ियल भी अपनी स्थिति बदलता रहा और बिना लंड को गांड से बाहर निकाले नताशा को अपने ऊपर लिए-2 ही बेड पर लेट गया.

बिहारी के बीएफ ये गलत है?लेकिन उन्होंने मेरी एक न सुनी और मेरे ऊपर चढ़ कर मेरे होंठों को चूसने और चूमने लगीं। मौसी कहने लगीं- मेरी प्यास बुझा दे. एक दो मिनट बाद ही मैंने अपना हाथ उसकी चुत पर रख दिया और उसे गर्म करने लगा.

बिहारी के बीएफ और उसी दिन चाचा के वकील का फोन आ गया, उनको शहर भी जाना था और यह भी बहुत जरूरी था तो मुझसे चाचा ने कहा कि मैं खेतों में पानी दे दूँ. तुम लोगो को भी चोदना है भूमिका को?सबने कहा- हाँ।‘तो जैसा मैं बोलता हूं वैसा करना तभी हम लोग भूमि का गैंगबैंग कर पाएंगे.

इतने में मेरी बेल बजी, मैंने देखा कि यह तो रिया है, मैंने दरवाजा खोला, वो अंदर आ गई उसने मुझे लंच के लिए पूछा.

वीडियो हिंदी बीएफ वीडियो हिंदी

जो बाद में किसी कॉलेज की सहेली से पता करने पर पता चला कि यह शराब की गंध थी।खैर अस्थाई तौर पर परेशान जरूर हुई. मैं लाती हूँ।फिर मामी अपनी और मेरी खीर लेकर आईं।मामी खीर खाते-खाते बोलीं- आज खीर कितनी मस्त बनी है, एकदम चाट-चाट कर खाने का मन कर रहा है।इसी तरह उसने मेरा सारा माल ख़ाकर उठीं और जाते-जाते बोलीं।‘कई दिनों के बाद ऐसी खीर खाई और बहुत खाने का मन कर रहा है. मैं बोला- सॉरी बुआ जी, ग़लती से हो गया!इस पर वो बोली- कोई बात नहीं, ऐसा हो जाता है.

मैं मौसी की चुदाई किये जा रहा था और मैंने अपना माल मौसी की चूत में ही छोड़ दिया. मैंने पहले तो अपने लंड को उसकी चूत पर थोड़ा घिसा जिससे लंड गीला हो जाए फिर उसकी चूत की पंखुड़ियों को थोड़ा फैलाया और धीरे से उसकी चूत में अपने लंड को अंदर घुसा दिया. लेकिन मैं कहाँ रुकने वाला था। मैंने अपनी स्पीड बढ़ाई और अपने काम में पूरी मस्ती से लग गया।कुछ पलों के बाद वो भी बुर की चुदाई का मजा लेने लगी।मैंने उसे कई तरह से चोदा.

वो नई-नई किताबें लाता था और मुझे दिखाता!तो बस अब क्या था… मुठ बहुत मार चुके थे, एक दिन हिम्मत करके मैं मयंक से बोला- थ्योरी बहुत हो गई.

तय यह हुआ कि मैं होस्टल में न रहकर चाचा के घर में रहकर इंजिनियरिंग के चार साल बिताऊँगा. उसकी जवानी और उसका काम भी वैसा ही था। उसने अपने एटिट्यूड से सारे ज़माने से दुश्मनी मोल ले रखी थी।उसके बारे में मैंने कई किस्से सुने. यह मुझे तब पता लगा जब हमारी कामवाली ने मेरे स्मार्ट फोन में इसी तरह से XXXi या XXXy सर्च किया तो गूगल ने उसे क्सक्सक्सई से सम्बन्धित परिणाम दिखाए.

कहानी का हर हिस्सा एक दूसरे से जुड़ा हुआ है, इसलिए आप कहानी का कोई भी भाग पढ़ने से ना चूकें!कहानी कैसी लगी, आप अपनी राय इस पते पर दे सकते हैं. मेरी सेक्सी कहानी : जिस्म की वासना-1सुनीता अपने बीते जीवन की सेक्सी कहानी मुझे बता रही थी कि जब वो कॉलेज में थी तो वो बहुत ही सेक्सी बन कर रहती थी, और लड़कों की फाड़ कर रखती थी, मतलब कि शोर्ट ड्रेस पहनती थी और अक्सर बड़े बड़े मम्मे दिखा कर लड़कों के लंड खड़े करके रखती… अक्सर लड़के उसे बोम्ब कह कर छेड़ते थे, उसे भी इस छेड़छाड़ में मज़ा आता था. टीवी, फ्रिज वगैरह।भैया मुझे दूसरे माले पर ले गए।जब मैं कमरे देख रहा था, तभी भैया को उनके ऑफिस से कॉल आया और वो अपने ऑफिस के लिए चले गए। फिर मैं भी नीचे ताऊ जी और ताई जी से मिलने आ गया। उनके पास थोड़ी देर रहने के बाद भाभी का मैसेज आया कि कहाँ पर हो??मैंने रिप्लाइ किया कि नीचे ताऊ जी के साथ हूँ।उनका रिप्लाइ आया- ओके.

मैंने डोरबेल बजाई और मैडम ने दरवाजा खोला- आज तो छुट्टी है… कोई नहीं आया है!मैं- मुझे नहीं मालूम था, सॉरी. अब मेरी बारी थी, मैंने उसका हाथ अपने लंड पर रखा और उसका हाथ पकड़ के चड्डी के ऊपर से ही सहलाने लगा.

मेरी पिछली सेक्सी कहानीगर्लफ्रेंड की सहेली की चूत चुदाई की सेक्सी कहानीमें मैंने आपको बताया कि मैंने कैसे अपनी गर्लफ्रेंड की रूममेट को चोदा. वो बुझी हुई थी, बोली- साले ने मुझसे पैसे ले लिए और कह रहा था कि और पैसे चाहिए।मैंने कहा- मत दो. मौसी ने कहा- तू तो बहुत बड़ा खिलाड़ी है… मौसी को एक बार में ही ठण्डी कर दिया.

तो क्यों ना मिल कर बुझा ली जाए?उन्होंने कहा- तुझे तेरे घर से इसी लिए तो लाई हूँ।फिर मैंने धीरे से भाभी को क़िस करना चालू किया.

5” मोटा। मैं उसका हब्शी लंड देख कर डर गई।फिर वो मेरी पेंटी के ऊपर से मेरी चुत सहलाने लगा। मैं वासना से पागल हो रही थी। वो मेरे सामने था. जब मैं 12वीं क्लास में पढ़ता था वो 25 साल की थी और उसकी शादी नई नई हुई थी. पहले तो मैंने मना किया, फिर उनके ज़ोर देने पर मैं भी बेड पर बैठ गया.

डर के मारे मैं चुपचाप लेटी रही।‘साली रांड, तेरा पति भूखा है और तू सो रही है?’ बापू ने शराब की गंध वाली गरम सांसें छोड़ते हुए कहा. यह मेरा पहली बार था और वो भी किसी जिगोलो के साथ पहली बार कर रही थी तो मैंने उसे हाँ बोल दिया.

’ की आवाज निकालने लगी।मैंने विक्की को झटका देकर अलग किया और बिस्तर से उतर कर खड़ी हो गई। मैं उसके सामने एकदम नंगी खड़ी थी, वो मुझे देख रहा था उसकी नजरें मेरी चूत में खुजली मचा रही थी।मैंने उसकी टी-शर्ट उतार दी और उसे लिटा दिया, फिर उसकी छाती को चूमते हुए उसकी पैंट खोली और अंडरवियर के साथ उतार दी।उसका लंड मेरी आँखों के सामने था. शादी का टाइम करीब आने लगा और मैं अपनी फैमिली के साथ वहां पहुंच गया. हम दोनों एक-दूसरे को प्यार करने लगे।उस दिन घर पर कोई ना होने की वजह से हमें कोई डर नहीं था.

अंग्रेजी हिंदी सेक्सी बीएफ

मेरे मुँह से भी अब सिसकारियाँ निकलनी शुरु हो गई थी और मैंने अपने हाथ उनकी कमर के दोनों तरफ से ले जाकर उनके सिर को पकड़ लिया.

पर आज मैं अलग मूड में आया था। मैं आज उसको हर आसन में चोदना चाहता था। इसलिए मैंने उसे डॉगी स्टाइल में आने को कहा और पीछे से जाकर उसकी गर्मा-गर्म चुत में लंड पेल दिया।वो लंड घुसते ही जोर से चिल्लाई- उई. अब मैं तेरा ही मजा लूँगा। जाकर बोल देना सबको मैं किसी से नहीं डरता।आंटी डर गईं और बोलीं- राहुल मत कर ऐसा प्लीज़. फिर कुछ दूर चलने के बाद उसने कहा- कहीं अकेले ले चलो जहाँ कोई न हो!तो मैंने कहा- ये मेरा शहर तो है पर मुझे ऐसी किसी जगह के बारे में नहीं पता!उसने कहा- ठीक है, तब हम स्कूटी पर चलते चलते ही बातें करते हैं.

फिर उन्होंने एक सिगरेट को लाइटर से जला लिया और कश लेने लगीं।मैं उनको मस्ती से देख रहा था।अचानक सोनिया मैडम बोलीं- ऐसे क्या दिखेगा. उसके धक्के तेज होने लगे थे, उसका शरीर अकड़ने लगा था, वो झड़ने के बहुत करीब था, और फिर उसने अपना गर्म गर्म लावा मेरी चुत में छोड़ दिया, मैं भी बर्दाश्त नहीं कर सकी और उसके साथ ही झड़ गई, उसने थोड़े धक्के और लगाये, फिर मेरे पैर अपने कंधों से नीचे ला कर मेरे ऊपर ढेर हो गया. बुर वाला बीएफमैं- क्या हुआ अंजलि?अंजलि- कुछ नहींमैं- कुछ तो हुआ है, तुम मेरे से शेयर कर सकती हो और विश्वास करो यह बात मेरे और तुम्हारे बीच में ही रहेगी, एक अच्छे दोस्त की तरह!पर अंजलि शांत रही.

जैसे ही मेरा लण्ड प्रतिभा की गांड में गया, उसकी चीख निकल गई और फिर धीरे धीरे उसे मजा आने लगा, और थोड़ी देर के बाद मैं उसकी गांड में झड़ गया।उस रात मैंने प्रतिभा की 5 बार चुदाई की, 2 बार प्रतिभा की गांड मारी और 3 बार चुत…प्रतिभा इस बीच कई बार झड़ चुकी थी और उसका पति मनोहर कई बार मुट्ठ मार चुका था. मैं भी उसका साथ देने लगा, धीरे धीरे उसके जीभ को चाटने लगा! कभी कभी वो मेरे होंठों को काट लेती थी… मुझे बहुत अच्छा लग रहा था! हम दोनों की लार एक दूसरे के मुख में थी!हमने 10 मिनट तक किस किया, फिर उसने मेरा शर्ट निकाला, मैंने बनियान नहीं पहना था.

रूबी करीब 21 साल की तो होगी ही?’अमिता ने मुदस्सर को चूमते हुए कहा- रूबी मेरी ननद… वह तो अभी सिर्फ 21 साल की है।‘हमने अपना प्यार और चुदाई का सफर जब शुरू किया था. मैं बिस्तर पर ढेर हो गई- साली रांड, अपने बाप से चुदेगी… बाप को नरक में भेजेगी? अब देख मैं तेरा क्या हाल करता हूँ।’ बापू ने मेरी टांगों को पकड़ते हुए कहा. मैंने उसको अपना प्लान समझाया और वो राजी हो गई, नेहा कहने लगी- यह बात थी तो पहले बोलना था!और एक बार हम फिर चोदा चोदी में लग गये.

उसने अन्दर ब्रा नहीं पहनी थी।वो बोली- मेरे मम्मे कब से तुम से चुसवाने के लिए मचल रहे थे।मैंने उसके दूध को एक-एक करके दबाना शुरू किया। गर्म मम्मों पर मेरे हाथों के अहसास से वो तो अपनी आँखें बंद किए बस कहे जा रही थी- अह. उसका लंड चुत पर रगड़ने लगा और कुछ ही देर में मामा ने मेरी चुत में लंड घुसा दिया. शनिवार को मयंक की मम्मी और मयंक मेरे घर आए और मेरी मम्मी को मना लिया और मैं उनके साथ चला गया.

मैंने रीना को रम का एक पेग कोल्ड ड्रिंक मिला कर हाथ में दिया और कहा- इसको पीकर देखो, मज़ा आएगा, बहुत अच्छा ड्रिंक है.

’वो दोनों अपनी पहाड़ी भाषा में बात कर रहे थे।राजू ने धीरे से अपना हाथ चोली के ऊपर उसकी चूची पर रख दिया और उसके सुन्दर मुस्कराते चेहरे को देख रहा था. फिर मैंने उसे नीचे लिटाया और खुद उसके ऊपर आ गया, एक बार फिर उसकी चूत को चूस कर अपना लंड उसकी चूत पर सेट किया और जोर से एक झटका मार कर पूरा लंड एक बार में ही लगभग अन्दर कर दिया.

फिर मैं वापिस अपने घर आ गया तो मुझे भाभी का फ़ोन आया कि वो माँ बनने वाली हैं और घर में सब बहुत खुश है. खाने के बाद सोने चले गए।चाची ऊपर कमरे में सोने गईं, तो मैं भी पढ़ने के बहाने ऊपर चला आया।अब ऊपर मैं और चाची थे। मैं चाची के कमरे में घुस गया, चाची ने दरवाजा बंद कर लिया, अब चाची कपड़े उतारने जा रही थीं।मैं उनके करीब गया और चाची से बोला- आपने आज मेरी पूजा की है. उनके जाने के थोड़ी देर बाद रेखा बुआ जी बोलीं- सुंदर, सोफे पर तो तुम्हें ठंड लग जाएगी, तुम भी यहाँ बेड पर ही बैठ जाओ.

वो भी पूरा मस्त हो गई थी अपनी चुत में मेरा लंड पिलवा के!सुबह उठा तो उसने मुझे 5000 रुपये दिए, बोली- वापस नहीं चाहियें… बस जब बोलूँ आ जाना मेरी प्यास बुझाने… और पैसे जितने भी कम पड़ें, मुझ से ले लेना!दोस्तो, अब वहाँ मेरी मस्ती थी… चुत और पैसा दोनों मिल रहा था…लड़की की चुत में लंड डाल कर चोदा चोदी की मेरी पहली हिंदी चुदाई स्टोरी कैसी लगी, जरूर बताइयेगा![emailprotected]. ‘हाँ आज एक बात बतानी है तुमको!’‘तो चल अपने अड्डे पर चलते हैं!’ पिंकी ने पानी की टंकियों की तरफ इशारा करते हुए कहा।‘पिंकी तुझे पता है मेरी टयूशन वाली दीदी कितनी अच्छी है? मेरी मदद भी करती है और चॉकलेट भी दी खाने को!’‘क्या मदद की?’‘दीदी ने मेरे तम्बूरे को ताकतवर बनाया!’‘ओ ये तम्बूरा क्या होता है?’ पिंकी ने हैरान होते हुए पूछा. उनकी 18 साल की एक लड़की और 12-13 साल का लड़का है। उनके पति किसी मार्केटिंग जॉब में हैं.

बिहारी के बीएफ उसका किस करने का अंदाज़ आज भी मेरा लंड खड़ा कर देता है।थोड़ी ही देर में किस करते-करते हमारे कपड़ों ने भी हमारा साथ छोड़ दिया। हमारी किस करीब दस मिनट तक चली। उसके बाद बारी थी, उसके रसीले मम्मों की. दोस्तो, सुनीता की रंगरेलियाँ बढ़ती रही, यहाँ तक कि उसने अपने बॉस और सेक्यूरटी गार्ड तक के लंड का रस भी चख लिया था.

सेक्सी बीएफ सेक्सी ब्लू फिल्म

पर काला भी नहीं था।मेरा तो उस पर दिल ही आ गया था। मैं रोज उसको देखती थी। मेरा मन करता था कि कब ये मुझसे बात करे। वो रोज लाइब्रेरी के सामने से निकल जाता. जिंदगी में पहली बार मैंने चूत देखी… वो भी दो दो एक साथ!यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!लंड महाराज फिर से खड़े हो गये. मैं भी उसकी भावनायें समझता था इसलिए मैं भी उस पर आज अपनी पूरी मोहब्बत बरसाने को तैयार था.

फिर रोहित फ्रिज से कुछ कोल्ड ड्रिंक लेकर आया और किचन से साथ में नमकीन वगैरह… दोनों कोल्ड ड्रिंक पीने लगे और साथ साथ आपस में एक दूसरे को होंठों पे किस भी कर देते और प्यार से एक दूसरे के होंठों को चूमते हुए कोल्ड ड्रिंक पीने से दोनों को मजा भी आ रहा था. कोमल- आउच… क्या कर रहे हैं आप?मैंने देखा कि उसके चूतड़ पर एक लाल रंग का खून का थक्का जम सा गया है. xxx.iii सेक्सी बीएफएक बार हम चुदाई करके निकले तो एक पड़ोसन लड़की अपने यार के साथ चुदाई करके निकली और हमारा सामना हो गया.

मैं उस वक़्त ज्यादातर समय फ़ेसबुक और इंस्टाग्राम पे देता था, दिन भर ऑनलाइन रहना मेरी आदत थी.

और टाइट हो गया। मुझसे रहा न गया तो मैं बाथरूम में जाकर उसके नाम की मुठ मार कर आया और सो गया।अब मैं जब भी पोर्न देखता या मुठ मारता. हम दोनों कुछ देर तक वैसे ही पड़े रहे… फिर मैडम खड़ी हुई और मेरे लंड को चूसने लगी.

नताशा भी बड़े प्यार के साथ अपने देवर के वीर्य को अपने मुंह में लेकर सटकती रही. वो मेरी चुची को दबा रहा था उसका काला हाथ मेरे गोरे बदन पे जैसे दूध में मक्खी हो, ऐसा लग रहा था. वो अपने फ्रेंड सर्कल के साथ रिवर राफ्टिंग और कैपेनिंग करने आई थी।हम सब लोग बड़े अच्छे से एक-दूसरे से बात कर रहे थे। उसी ग्रुप में एक दूसरी लड़की, जिसका नाम मोनिका था.

एक्सपीरियंस की कमी कह लो या जल्दबाजी… फोरप्ले के नाम पे बस इत्ता ही हुआ… ना मैंने उसकी चूत चाटी ना ही उसने मेरा लंड चूसा।मैंने थोड़ा सा थूक उसकी चूत पर लगाया और फिर चूत को उंगली से सहलाया.

‘ये क्या है?’ मेरा मुंह खुला का खुला ही रह गया, बहुत मोटा और काला लिंग था उसका, अभी नॉर्मल था फिर भी 5 इंच का था, पूरा खड़ा हो गया तो कितना मोटा होगा मैं सोचने लगी. और अब खेल स्टार्ट कर देना चाहिए।मैंने धीरे से उसकी गांड पर हाथ रख दिया उम्म्ह… अहह… हय… याह… और उससे बात करने लगा।दीदी की चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!उसने मेरा हाथ अपनी गांड से हटा दिया. ’‘हा हा हा, रमा ये असली मर्द का लंड है… पर आज तुम्हें देख ये कुछ अधिक ही तन गया है अब मुझसे और सब्र नहीं होता अब तुम्हारा चोदन करना ही होगा… तुम तैयार हो न?’‘जी गुरूजी आप जो करेंगे, वही ईश्वर की कृपा होगी.

ट्रिपल सेक्स बीएफ चुदाईअन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार!यह मेरी पहली कहानी है लड़की की बुर की चुदाई की. 30 बजे रात को मैं अपने घर आ गया।मेरे घर के सामने एक कार खड़ी थी। मैं दरवाजे के पास गया.

बन्ना बीएफ

‘आहह सक्षम और तेज प्लीज, आहहह और तेज, उम्म्ह… अहह… हय… याह… इस चूत की प्यास बुझा दो, काफी दिनों से प्यासी है मेरी सहेली… और जोर से चोदो!मेरी स्पीड उसके आहें भरने से बढ़ती जा रही थी. क्योंकि मॉम और डैड शादी में बाहर चले गए थे। भाई पढ़ने के लिए चला गया और मैं घर पर अकेली थी।मैंने सोचा कि क्यों ना नेहा को बुला लूँ, टाइम पास हो जाएगा। फोन किया तो वो आ गई और उसने फिर वही मजाक करना चालू कर दिया।अचानक वो बोली- मैं अभी घर से आती हूँ।इतना कह कर वो चली गई।उसके जाते ही भाई का दोस्त राहुल मेरे भाई को खोजने आ गया।मैंने कहा- घर पर कोई नहीं है. कब मेरे हाथ उसकी चुची पर चले गये, पता ही नहीं चला… इतनी नर्म मुलायम चुची थी उसकी… जन्नत का अहसास दिला रही थी.

!इस पर उन्होंने कहा कि वो बीएससी ग्रेजुएटेड हैं, वो मुझे अच्छे से समझा सकती हैं।मॉम ने भी इस बात पर प्रसन्नता जाहिर की।मैंने कहा- ठीक है. और सब अलग अलग फ्लेवर का कंडोम लाना।’सब चले गए और मैं संडे की प्लानिंग करने लगा, भूमि को भी प्लान समझा दिया कि क्या करना है। संडे को ठीक आठ बजे तीनों ठरकी पहुंच गए मेरे घर. कार में बैठकर हमें करीब 15 मिनट इंतजार करनी पड़ी और राजू अपना बैग लादे पहुँच गया.

पहले मैंने बाथरूम में घुस कर शावर लिया और टीशर्ट-शॉर्ट्स पहन कर चोर रास्ते से राजू के कमरे में पहुंचा. और फिर दीदी बाथरूम चली गई और थोड़ी देर बाद कपड़े पहन कर आई तो मैंने देखा कि ब्रा और पेंटी उनके हाथ में ही थी. उसने अन्दर ब्रा नहीं पहनी थी।वो बोली- मेरे मम्मे कब से तुम से चुसवाने के लिए मचल रहे थे।मैंने उसके दूध को एक-एक करके दबाना शुरू किया। गर्म मम्मों पर मेरे हाथों के अहसास से वो तो अपनी आँखें बंद किए बस कहे जा रही थी- अह.

मेरा हाल भी लगभग वैसा ही था… हम दोनों इतनी देर से अपने अंदर उबल रहे लावे को संभाल रहे थे लेकिन अब शायद वो फूटने वाला था. मैं उसके कहने पर पिंक ट्रांसपेरेंट साड़ी पहनी थी और रेड ब्लाऊज जिसने मेरी चुची को कस के जकड़ रखा था और मैंने साड़ी इतनी नीची बांधी थी, जहां से मेरे चूतड़ों की दरार शुरू होती थी, इससे पेट और मेरी कमर पूरी नंगी थी.

प्रिय अन्तर्वासना पाठकोमई 2017 में प्रकाशित हिंदी सेक्स स्टोरीज में से पाठकों की पसंद की पांच सेक्स कहानियाँ आपके समक्ष प्रस्तुत हैं…मैं अपने परिवार में सबसे छोटा लड़का हूँ, इस घटना से पहले मैंने कोई सेक्स नहीं किया, किसी ने मुझे अपने पुट्ठे पर हाथ भी नहीं रखने दिया.

वहाँ पर मौसी और उनकी बेटी नीना थी, मौसी कोई 40 साल की होंगी और नीना 18 साल की थी. सनी लियोन एक्स एक्स एक्स बीएफ एचडीफिर उसने एक दिन बताया कि उनको कोई बच्चा नहीं है, काफी कोशिश की परंतु नहीं हो पाया।मैंने कहा- मुझसे आप क्या चाहती हो?तो उसने कहा- क्या आप मेरे साथ कोशिश कर सकते हो? क्या पता आपसे कुछ हो जाये!’मैंने कहा- क्यों नहीं… परंतु कब और कहाँ… और कैसे होगा!तो उन्होंने कहा- वो मैं हैंडल कर लूँगी… आपका जो भी होगा, मैं आपको दूंगी. एक्स एक्स बीएफ एचडी चुदाईम्म्ह… अहह… हय… याह…’ये सब आवाजें वो शायद सुन रही थी।काफ़ी देर तक मैं देखता रहा. तीन बार ऐसे हुआ तो मुझे गुस्सा आ गया।मैंने फिर से बुर के मुख पे अपना लौड़ा रखा और दबाया, थोड़ा सा लौड़ा उसकी बुर के अंदर गया तो वो चिल्लाई और मुझे हटाने की कोशिश करने लगी लेकिन मैं उससे चिपका रहा.

जिससे वो पागल सी हो गई थी।वो भी मेरे लंड को पकड़ कर हिला रही थी। फिर मैंने लंड को मुँह में लेने का कहा तो मानो वो इसी बात का इन्तजार कर रही थी। उसने लपक कर मेरे लंड को अपने मुँह में भर लिया और चूसने लगी थी। मुझे तो जैसे चरम आनन्द मिल रहा था।वो लंड को जोर-जोर से हिला रही थी। मैं झड़ने वाला हो गया था और मैं उसके मुँह में ही झड़ गया.

मैं हँस पड़ी यह बात सोच कर!विकास- हंसी क्यों?मैं- ऐसे ही।फिर लंड को चूस के खड़ा करके मैं लेट गई, इस बार मेरे ऊपर लेट के लंड को बुर में घुसाया और होंठ मेरे होंठों पर रख कर चुम्मा चाटी करने लगा, लंड से बुर में धक्का मार कर पेल रहा था और हाथ से चुची को मसल रहा था. कोमल- मेरा भी हो गया!मैं- क्या?कोमल- हाँ, मेरा भी दो बार हो गया!मैं- सच?कोमल- हाँ. चाचा जी बोले- घबराने की बात नहीं है, तुम जिस गाँव में हो, मेरे एक मित्र भी इसी गाँव में रहते हैं, तुम लोग उनके घर चले जाओ.

जिससे मैं चुदना चाहती थी।ये चुदाई सिर्फ़ अपनी फ्रेंड की वजह से हो पाई थी. कब हमें नींद आ गई, हमें पता भी नहीं चला!लगभग 5 बजे मैं उठा, रिया को भी उठाया, उसको लम्बी किस की. एक बार आधी रात को मेरी गर्लफ्रेंड का फोन आया और उसने मुझे दुबारा फोन सेक्स चैट करवाने को बोला.

बीएफ सेक्सी ब्लू फिल्म देहाती

मुझे आज तुम सब कुछ दे दो।मैं उनकी पूरी बॉडी पर किस करने लगा।वो भी मुझे चूमते हुए ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ की आवाजें निकालने लगीं।मेरे मुँह से भी लगातार सिसकारियाँ निकल रही थीं। उनकी गर्म सांसों से मैं पागल हुआ जा रहा था।वो मेरे मुँह में जीभ डाल कर मेरी जीभ चूसने लगीं। हम दोनों बहुत ज़्यादा गरम हो गए थे।मैंने धीरे से गायत्री आंटी का ब्लाउज उतार दिया. डबलरोटी जैसे फूली और गीली चुत देख कर मैं तो उस पर टूट पड़ा।मैं उसकी चुत का पानी चाट रहा था. ‘क्या कर रहे हो, पेंटर घर में है!’ मैंने पेंटर के डर से मेरे पति को दूर धकेल दिया.

बुआ ने पूछा- भाईजान, आपको कैसे पता चला कि मैं पड़ोसियों से चुदती हूँ?अब्बू बोले- मैंने तुझे पड़ोस के विकास के साथ उसकी छत पर देखा था, तुम लोग दीवार के पीछे खड़े थे, वो तेरी चूत में उंगली कर रहा था और तू उसका लंड पकड़ कर हिला रही थी.

जाते समय वो बोली- रात को कभी आ जाया करो तो मेरी प्यास बुझ जाया करेगी.

कोमल भी चूतड़ उछालने लगी थी मेरे हाथों का सपोर्ट उसके रिदिम को बरकार रखे था ‘आ…ह आआआ आआआ… हुम्म हुम्म्म्म!’फच्च फच्च फच्च फच्च फच्च फच्च की कुछ आवाज़े कमरे में गूंजने लगी… कभी फच्च फच्च फच्च तो कभी पट पट पट… एक न थमने वाला शोर!मैंने उसको थोड़ा अपनी ओर खींचा ओर थोड़ा उठ कर उसकी चूची को मुँह में भर के चूसने लगा. जितना वीर्य मेरी प्यारी पत्नी के मुंह या जीभ पर गिरा, उसने सारा का सारा सटक लिया लेकिन इसके अतिरिक्त उसके चेहरा भी वीर्य से सना पड़ा था और बहुत ही सुन्दर लग रहा था. एक्स एक्स बीएफ चूत चुदाई’ की आवाज़ें हो रही थीं, लेकिन मैं चाची को चोदे जा रहा था।चाची भी मजा लेकर, मस्त होकर बराबर अपनी कमर को उचका कर लंड के धक्के का जवाब, अपनी कमर उचका कर अपनी चुत से दे रही थीं।फिर एकदम से मैंने अपने लंड को बाहर निकाला और उन्हें बिस्तर के किनारे झुका कर चोदने लगा। आगे हाथ करके मैं चाची के दोनों बोबों को मसल रहा था और नीचे से मेरा लंड उनकी चुत चोद रहा था।चाची मज़े में चुदते हुए तान छेड़ रही थीं- ह्ह.

उसकी सीईई ईईई… उम्म्ह… अहह… हय… याह… सस्स्स स्स्स्सरर… निकल रही थी, वो मेरे बाल कस कर पकड़े हुए थी और कभी पीठ पर नाखूनों से खरोंचती थी. मैं दौड़ कर अपने कमरे में चला गया। मैं चाहता था कि वो खुद मुझसे चुदवाने आएं। जबकि वो सोच रही थीं कि मैं उन्हें चोदने जाऊँ।कुछ ही देर में मामी एकदम पागल हो गई थीं। उस वक्त पहले आप. बहुत ज़ोर से चूस रहा था, उसका मुँह इतना बड़ा था कि उसमें मेरी पूरी की पूरी चुची चली गई.

मैं जब स्कूल में था, मेरे एक दोस्त ने जो मास्टर साहब से खुद गांड मरवाता था मुझे पटा कर मेरी पहली बार गांड मारी थी. ’‘ओह! ऐसा, तो आप बोलिए… मैं करुँगी न आपके लिए!’‘अमिता, मैं तुमको किसी गैर मर्द से चुदते हुए देखना चाहता हूँ!’‘ऐसा क्यों? धत.

पहली बार ही लिख रहा हूँ, इससे पहले बस मैं आप सबकी स्टोरी पढ़ कर मुठ मारता रहता था, साथ ही मैं सोचता था कि मैं भी अपनी स्टोरी लिख डालूं।इसी प्रेरणा से आज मैं लिख पाया हूँ। मुझे कोई ग़लती हो जाए, तो माफ़ करना साथियो!मेरी हिंदी चुदाई स्टोरी मेरी चाची की चुदाई की है.

जब जाने का वक़्त आया तो हम दोनों ही बेचैन हो गए…कोमल ने अपने पापा को बताया कि देर होने के कारण बस छूट गई है तो आशीष सर अपनी कार से छोड़ने आ रहे है… और फिर रात के अँधेरे में हम दोनों ने कार में भी दो बार सेक्स किया. चूत चुदाई के शौक से मेरे काल गर्ल बनने की सेक्सी कहानी-1होटेल बहुत बड़ा था, मैं रिसेप्शन पर गई, रूम नंबर 418 बताया, रिसेप्शन की लड़की ने मुस्कुराते हुए मुझे रूम तक जाने का रास्ता बताया. बात आई-गई हो गई।फिर मैं एक दिन कुछ शॉपिंग करने के लिये मैं मॉल में गया तो बाइक पार्क करने लगा। तभी मुझे वही लड़की फिर से दिखी शायद उसने भी मुझे देख लिया था।वो आई मेरे पास और बोली- कैसे हो आप?यार मैं तो उसको देखता ही रह गया.

बीएफ सेक्सी हिंदी जंगल में तो उसके शरीर की सुगंध से मेरे अन्दर कुछ-कुछ होने लगता।उसके साथ डांस करते-करते मेरा लंड खड़ा होकर उससे टच होने लगा।जब उसको महसूस हुआ तो वो भी गर्म होने लगी. सुनीता ने अजीत का लंड पकड़ कर उसके सुपारे की स्किन को पीछे किया और अपने मुँह में भर लिया।सुनीता जोर-जोर से लंड चूसने लगी, उधर अजीत ने भी सुनीता की चुत को खोल कर उसे चाटना शुरू कर दिया।इससे पूरा माहौल गरम और सेक्सी हो गया था। उन दोनों की कामुक आवाजें भी वातावरण को मादक बना रही थीं ‘आआहह.

फिर मैंने मेरी पूरी बांह से उनके अंगों को पुश करना स्टार्ट कर दिया. और वो अब गर्म हो गई है… तुमने देखा ना कैसे अपनी चूत को मसल रही थी! अगर किसी और के साथ कुछ उल्टा सीधा किया तो प्रॉब्लम होगी. तब मुझे शान्ति मिली।अब मेरे मन में चाहत जोर पकड़ रही थी और मैं किसी भी तरह चाची की चुदाई करना चाहता था। इसलिए मुझे आप सब दोस्तों से मदद चाहिए कि मैं उन्हें कैसे चोदूं.

मुंबई के बीएफ हिंदी

तब तोली ने सावधानीपूर्वक अपने तेल चुपड़े लंड को गांड के छेद से सटा कर आहिस्ता-2 अन्दर कर दिया. और बातें होने लगीं, तभी मुझे उसका नाम मालूम हुआ था।इस तरह रात हो गई तो हमने मिलकर खाना खाया।अब तब हमारी बहुत बातें हो रही थीं तो सब यही समझने लगे कि वो मेरी गर्लफ्रेंड है, पर तब तक ऐसा नहीं था। दोस्तों एक बात बता दूँ. वो भी अजीत को नेकेड देख कर हॉट हो गई थी, पर हम अभी भी किसिंग की एक्टिंग कर रहे थे।यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!अब अजीत और सुनीता 69 की पोज़िशन में हो गए.

प्लीज़ मैं आपको हर्ट करना नहीं चाहता था। आपको चाहिए तो आप अभी आवाज दे दो, पर प्लीज़ कुछ बात कीजिए ना प्लीज़. तो आंटी ने दरवाजा खोला। इस वक्त वो गाउन पहने हुए थीं। मैं उन्हें गाउन में देख कर दंग रह गया.

दो तीन दिन काम बहुत तेजी से होता रहा, मोहन आकर काम देख जाता था, पर मुझसे काम ही बात होती थी, मेरी डांट की वजह से वो सीधा हो गया था, पर उसकी नजर अब भी मेरे बदन पर होती थी.

‘आहह हहह बहुत अच्छा लग रहा है… और जोर से… आहह मेरी जान, तुम मुझे बहुत मजा दे रहे हो!’हम दोनों जमीन पर केवल उस चादर के ऊपर थे जिसमें सुहाना और साहिल की यादें थी और मैं घुटने के बल उसकी चूत चुदाई कर रहा था, अब मेरा घुटना दर्द करने लगा, तो मेरी स्पीड कम हो गई. मेरे एक बार ही मना करने पर मान गए। मैं जानती हूँ कि तुम्हारे क्या अरमान हैं. वो जब भी मेरी गांड पे टकराता, ठप ठप की आवाज़ आती थी, इतनी जोर से आवाज़ आ रही थी कि सारा कमरा उसकी आवाज़ से गूंजने लगा.

वहाँ मैंने भाभी को साफ़ किया और वापिस बिस्तर पे लेटा दिया और खुद भी लेट गया. फिर वो बोली- पहली बार इस तरह से चुदवाया… पर मजा बहुत आया, ऐसा लगा जैसे पहली बार चुद रही हूँ!अब तक मैंने कई बार निशा को चोद दिया है. तो क्यों ना मिल कर बुझा ली जाए?उन्होंने कहा- तुझे तेरे घर से इसी लिए तो लाई हूँ।फिर मैंने धीरे से भाभी को क़िस करना चालू किया.

रमेश के लंड की गिर रही धार को चुदने की माहिर सुनीता ने ऐसे सम्भाला के उसका पूरा का पूरा वीर्य अपनी जीभ पे ले लिया और चटखारे लेती हुई रमेश की जवानी का सारा रस पी गई.

बिहारी के बीएफ: फिर तो जब मेरी बीवी घर वापस नहीं आई तब तक हम रोज़ चूत चुदाई करने लगे. मोटे मोटे बाहरी होंठों के अंदर से उसके पतले पतले अंदर के होंठ जैसे झांक कर बाहर का नजारा देखना चाहते हों.

इससे माँ को मौका मिल जाता अपने आशिक को बुला कर चूत चुदाई का और मैं माँ की चुदाई की वीडियो बनाना चाहता था. तो मैंने सोचा कि ये सही समय है और मैंने अपने लैपटॉप में एक xxx सेक्स वीडियो चला दिया और स्क्रीन उनकी तरफ कर दिया और खुद भी उनके बगल में बैठ गया और हम दोनों वीडियो देखने लगे।वीडियो में एक लड़का और एक लड़की थे, लड़का अपना लंड लड़की से चुसवा रहा था. उसने अपनी हथेली दिखा कर उनका अभिवादन किया, जिसका मेरे दोनों सम्बन्धियों ने अपनी हथेलियाँ हिला कर जवाब दिया.

रात को मेरी नींद अचानक खुली, मुझे प्यास लगी थी, मैं पानी पीने के लिए नीचे गया.

उनकी चूत बिल्कुल गीली हो गई थी। फ़िर उनकी चूत में अपनी उंगली डाल कर अन्दर-बाहर करता रहा।भाभी अपनी मादक आवाजें ‘ऊह आह. मेरा भी छूटने वाला था, माही की कमर को पकड़ मैं और जोरों से धक्के लगा रहा था. मैंने आलोक से अपने साथ मीरगंज चलने को कहाँ पर उसने मना कर दिया तो मैंने उससे मीरगंज का जाने का और चुदाई के लिए लड़की लेने का तरीका पूछा.