एचडी बीएफ भेजें

छवि स्रोत,बीएफ सेक्सी भाषा हिंदी

तस्वीर का शीर्षक ,

गुजरात का वीडियो सेक्सी: एचडी बीएफ भेजें, पर रजत ने जरा सी भी दया नहीं दिखाई और लंड को जड़ तक पहुंचा ही दिया.

बीएफ सेक्सी देहाती देसी

कुछ देर में ही वो गर्म हो गयी और मेरे लंड को पैंट के ऊपर से ही ज़ोर ज़ोर से मसलने लगी. मोटा औरत के बीएफ वीडियोमैं सोच रहा था कि एक दुल्हन, जो दो दिन बाद किसी और की बांहों में होती, आज मेरी बांहों में थी.

आप उसकी इस देहयष्टि से अनुमान लगा सकते हैं कि अलका एक ऐसी महिला थी जिसको देख कर किसी भी मर्द का लंड फड़फड़ा कर खड़ा हो जाए. नंगा सेक्सी वीडियो बीएफकिसी के घर में जाता हूं तो मौका पाकर बाथरूम में टंगी ब्रा और पैंटी को सूंघने का मौका नहीं छोड़ता.

लंड अन्दर घुसाता, तो भाभी चिल्ला देतीं, फिर जैसे ही लंड बाहर आता, तो उनकी सिसकारियां मस्त हो जातीं.एचडी बीएफ भेजें: डंडा उस कुत्ते के पीठ पर पड़ा … तो दर्द से बिलबिला उठा लेकिन तब तक दूसरा कुत्ता वार की तैयारी कर रहा था.

अब मैं आपको सुनाऊंगा कि कैसे मेरी गर्लफ्रेंड और मैंने अपने दोस्त के घर में चुदाई की.आपकी कांखों से आती मादक खुशबू मुझे पागल बनाती थी। आप के बदन की खुशबू लेने के लिए मैं आपके पीछे बैठता था।छीईई …”इसमें छी क्या दीदी, आपकी गर्म जवानी थी ही ऐसी!”और क्या क्या किया है तूने मेरे पीठ पीछे?”आपके चूचे आपकी उम्र की लड़कियों से काफी बड़े थे। स्कूली ड्रेस में आपके तने हुए चूचों को देख कर मेरा लन्ड खड़ा हो जाता था।”अच्छा जी!” मैंने कहा.

देखने वाला बीएफ वीडियो - एचडी बीएफ भेजें

मैंने तेल की शीशी से तेल निकाल कर हथेली पर लिया और उसकी बॉडी को मसाज देने लगा.माई को तो कभी पूरा चोद नहीं सका … आया है बड़ा बेटी को अजमाने … चोद भोसड़ी के … देखती हूँ कौन पहले झड़ता है.

सीमा नीचे मेरे लौड़े पर गांड में लंड डलवा कर बैठ रही मुस्कान की गांड को ध्यान से देख रही थी. एचडी बीएफ भेजें मैं उसे देख कर आश्चर्यचकित होकर उसकी ओर बढ़ा … और पलंग पर जाकर उसके पास बैठ गया.

हम लोग आपस में बातें ना के बराबर कर रहे थे, बस एक दूसरे की मन की बात को सुन और समझते हुए प्यार कर रहे थे.

एचडी बीएफ भेजें?

जैसा कि आपको पता है मुझे चुदाई से पहले मुझे चुत चाटना बहुत ज्यादा पसंद है. मम्मी ने कहा- तो जाओ, स्वीटी आंटी के साथ चले जाओ … और उन्हें लखनऊ की फेमस जगहों पर घुमा लाओ. संजू और प्रियंका ने नाईटी पहन ली और मैंने और नीरज ने पैन्ट और गंजी डाल ली.

मैंने खिड़की का पर्दा उठा कर बाहर देखा तो पाया कि अभी तो बारिश बंद थी लेकिन रह-रह कर यहां-वहां कौंधती बिजलियाँ इस बात का ऐलान कर रही थी कि अब होने वाली बरसात बहुत धुआंधार होगी … ठीक वैसे ही जैसे वसुंधरा के वापिस चैतन्य होने भर की देर है और फिर उस के बाद … आज की रात जो हमारे बीच अभिसार होगा, वो अविश्वसनीय रूप से अद्वीतीय होगा, जिसे मरते दम तक न मैं भूल पाऊंगा … न वसुंधरा. और अभी तो सिर्फ औपचारिकता चल रही है, भाई साहब भाभी जी।वैसे तो शीराज के सामने मैं उसका नाम भी ले लेता हूँ। मगर जब तक अगली कोई इशारा नहीं देती मैं कैसे बेतकल्लुफ़ हो जाऊँ. चाची भी सिसकारियाँ भर रही थी- आ … उ … ई …और कह रही थी- आई लव यू अनिकेत!इस तरह से उसके मुंह से आवाज आ रही थी.

पर दीदी भी कोई दुश्मन तो थी नहीं, वो जानती थी कि कुछ ही पल में मनु खुद उछल उछल कर चूत में डिल्डो लेने लगेगी. यह सुनकर मैं और नीरज ने एक साथ बोला- क्या…अ…अ … तुम दोनों के लंड सहन कर लोगी?वो मुस्कुराई और बोली- कोई शक?वो उठी और मुझे पीठ के बल बेड पर लेटने को बोली. उनकी घमासान चुदाई ने मुझे निस्तेज कर दिया और मैं कामरस त्यागने पर विवश हो गई.

लेकिन इस पर मनु ने कहा- यार, उस दिन हमारे घर मेहमान आ रहे हैं, मैं कहीं नहीं जा पाऊंगी. वैसे हमें ऐसी छेड़खानियां कम ही झेलनी पड़ती थीं, क्योंकि हमसे और बड़ी लड़कियां, जो हमारे ही स्कूल की होती थीं, उनके साथ छेड़खानी ज्यादा होती थी.

मैं अपने हाथों से मम्मों को छुपा रही थी और जांघों से अपनी चुत को छुपा रही थी.

फिर आंख मारते हुए बड़े आराम से उसके लंड को मुँह में अन्दर ले लिया और चूसने लगी.

अनिषा बोली- मैं आजकल सहेली के ससुर जी … औरदूध वाले से सेक्स के मजेकर रही हूँ. पर बदकिस्मती से रवीना के पिता की तबियत खराब की खबर आई और रवीना को तीन चार दिनों के लिए अपने घर जाना पड़ा. ”अजीत की आंखों में एक अजीब सी चमक आ गयी।ज़रूर! मैं आपकी ये इच्छा पूरी करूँगा.

इस खेल के दौरान एक बार नीरज गिर गया था, तो एक बार आलिया अपनी टीम के बदले समुद्र की तरफ भागने लगी थी. आलिया कामुक आवाजें कर रही थी- आहह उह आह!कुछ देर मम्मों का मजा लेने के बाद मैंने उसकी गीली पैंटी भी निकाल दी और आलिया की चुत को चाटने लगा. अब आगे:एक दो पल बाद उसने मेरा टॉप उतार दिया और मेरा शॉर्ट्स भी निकाल दिया.

भैया अब ज़ोर ज़ोर से लंड पेलने लगे थे दीदी की बुर में भैया का लंड ताबड़तोड़ अन्दर बाहर होता हुआ दिख रहा था.

फिर धीरे धीरे मैंने उसे दुपट्टे के ऊपर लिटाया जिससे उसका कुर्ता ख़राब न हो।उसके कुर्ते की चेन खोलकर मैं उसके दूध के कलशों पर अपनी जीभ से मालिश करने लगा. तो प्रीति भी बोल पड़ी- राज भैया, शीला को लेकर आइए!मैंने प्रीति को पहले ही शीला के बारे में बता दिया था. नीरज- मतलब!मैं- जब हमने पहली बार यह अदला-बदली का खेल शुरू किया था, तब से हम इस परिस्थिति से अच्छी तरह से वाकिफ हैं … लेकिन इस बार थोड़ा ज्यादा मुश्किल होने वाला है.

मैंने अपनी हथेली की पोजीशन घुमाई और अपनी उंगलियां नीचे की ओर रखते हुए कप सा बना कर हौले से, वसुंधरा की पैंटी बिल्कुल मध्य में टिका दी. मैंने अपने पैर बिस्तर के निचले सिरे पर मज़बूती से जमाये, वसुंधरा के ऊपरी होंठ को अपने होठों में दबाया और दो-तीन बार अपनी कमर ऊपर-नीचे करते-करते अपने शरीर के निचले हिस्से को नीचे की ओर एक ज़ोर का धक्का दिया. उसने जोर से मेरी गांड पर थप्पड़ मारा, मैं एआईईईई करके हल्का सा चीखी। फिर उसने ऐसे ही 2-3 थप्पड़ और लगाए.

दिव्या ने भी बताया कि उसकी बोट पर जो लड़का था वो भी उसके साथ मस्ती करना चाह रहा था मगर दिव्या ने कुछ नहीं किया.

धीरे से मैंने उसके कान में गर्म सांस छोड़ी, तो मुझे उसकी भी गर्म सांसें महसूस होने लगीं. मैंने सोच लिया था कि आज इसे एक बार चुदने देता हूं, फिर तो ये मेरी ही है.

एचडी बीएफ भेजें पर पता नहीं, मुझे उस दिन क्या हो गया था कि उसको तड़पाने में मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. रानी व्याकुल हो चली थी, वो चाहती थी कि लंड उसकी गांड में ठोक कर अच्छे से गांड मारूं.

एचडी बीएफ भेजें फिर मैंने जीजा जी की बात सुनकर ताबड़तोड़ चुदाई शुरू कर दी और दीदी जीजा जी की ओर देखकर सेक्सी स्माइल करने लगीं. रवि ने उसे फोन किया तो वो बोली कि वो शाम से ही फोन मिला रही है, रवि ने फोन नहीं उठाया.

चाची की चुचियां साफ़ ऊपर नीचे होती दिख रही थीं और उन्हें देखकर मैं उत्तेजित हो रहा था.

sunny लियोनी x

अगर किस्मत अच्छी हो तो एक आध मस्त लौड़ा चूसने के लिए भी मिल जाता है. वो बोली- क्या संजना … तुम औरत हो कि कोई सेक्स मशीन हो … बाप रे बाप इतनी सेक्स स्टेमिना. कविता को फोन मिलाया, आज पहली बार उसकी आवाज सुनी थी, बड़ी खनखनाती हुई मादक आवाज थी.

परमीत ने मेरे सर को पकड़ कर मेरे मुँह में अपनी जीभ को डाल दिया और हम चूमाचाटी के चरम सुख को पाने का प्रयास करने लगे. मैंने पहले कुर्ता निकाला तो उसने खुद ही अपने हाथ ऊपर करके मुझे सहयोग किया. दोनों ने ही चुदाई रोक दी और परमीत के जिस्म के हर हिस्से को ऐसे सहलाने लगे, जैसे किसी बच्चे को पुचकार रहे हों.

भाभी के मुँह में लंड का अहसास पाते ही मुझे तो मानो जन्नत मिल गई थी.

अब अगर गीत को कहानी पसंद आ गई और उसने मुझे सचमुच मिलने बुला लिया, तो उसकी चुदाई की कहानी बाद में लिखूँगा. जब हम दोनों उस कमरे के अन्दर आए, तो अन्दर जीजा जी अपनी बहन आलिया को बांहों में लेकर किस कर रहे थे. मेरी पीठ पर उसके चुचे रगड़ खा रहे थे, जिसका असर मेरे लंड पर हो रहा था.

चित्रा- हां चोद दे बहनचोद … आहह वैसे भी अब मेरी चुत चुद चुदकर पूरी खुल गई है. माफ़ करियेगा चूतनिवास जी, मैं आपको जानती नहीं हूँ इसलिए सुरक्षा के लिए ये करना चाहती हूँ … आपको इसमें ऐतराज़ है क्या?मैं बोला- नहीं, कोई ऐतराज़ नहीं है … एक मेरी भी शर्त है … और वह यह कि वो हमारी चुदाई की पूरी रिकॉर्डिंग करेगी और एक कॉपी मुझे भी देगी … ये मेरी सुरक्षा के लिए है … कहीं आप चुद कर मेरी शिकायत कर दें कि मैंने आपके साथ ज़बरदस्ती करी. मैं- बाबू, क्या मौसा जी का लफड़ा माई के साथ था क्या?इस अप्रत्याशित प्रश्न से बाबू घबरा गए.

प्रणीता मैडम के मुँह से सेक्सी आवाज में ‘ऊऊइ उई उई उह उह … माँ उई माँ. उसकी चुदाई की कल्पना में डूबा हुआ मैं बाइक चलाता रहा, मुझे पता ही नहीं चला कि कब उसका घर आ गया और वो बाइक से उतर गई.

मुझे उसने बताया कि उसको लड़के अच्छे लगते हैं, वो लड़कों का साथ पसंद करती है. मेरी पिछली कहानीभाई बहन ने जन्मदिन का तोहफा दियाको बहुत सारे लोगों ने पसंद किया था उसके लिए सभी का खुले दिल और फ़टी चुत से धन्यवाद।हीही हीही हीहीलेकिन मैं अपने काम में इतना व्यस्त हो गयी थी कि मुझे नई कहानी लिखने का वक़्त ही नहीं मिला। बहुत लोगों ने मुझे नई कहानी लिखने को कहा था।वक़्त ही नहीं मिलता था मेरी पिछली कहानी लगभग एक साल पहले आयी थी. एकाएक मैंने वसुंधरा को अपनी पकड़ से आज़ाद कर दिया और उससे ज़रा सा ऊपर उठ कर अपना सर उठ कर वसुंधरा को सर से पैर तक एक नज़र देखा.

मैंने कहा- डाल दूं क्या?वो बोली- हां, किसका इंतजार कर रहे हो?मैंने उसको थोड़ा सा झुकने के लिए कहा.

पांच फुट सात इंच लम्बी, छरहरा मस्त गेहुंआ बदन और दिलकश चूचुक जो शायद 36 D की ब्रा में फिट आते होंगे. मेरा लंड अपने रौद्र रूप में आने लगा था और जींस की वजह से मुझे परेशानी हो रही थी. उन्होंने लंड सहलाते हुए कहा- बोलो क्या समझना है?मैंने कुछ नहीं कहा और आंखों को उनके लंड पर ही गड़ाए रही.

संजय और परमीत दोनों पूरे कपड़ों में थे और संजय ने पेंट की जिप खोलकर लंड बाहर निकाल रखा था. अब मौका पाकर वो घर में भी शुरू हो जाता था। विशाल के रूप में मुझे अपनी प्यासी चूत का परमानेंट इलाज मिल गया था.

अब मुझे सच में दर्द हो रहा था मगर मैं फिर भी बर्दाश्त कर रही थी क्यूंकि ऑफिस में ऐसे किसी ने मेरे साथ कभी नहीं किया था. इस बार उन्होंने मेरे मुँह की तरफ लंड किया तो मुझे उनके लंड पर प्यार आ गया और मैंने मकान मालिक का लंड अपने मुँह में लेकर चूसना शुरू कर दिया. उसने कहा- मैं जैसे ही गेट खोलूं और मम्मी पापा अन्दर आ जाएं, तुम जाकर मेरी कार में बैठ जाना.

हिंदी क्सक्सक्स बीडीओ

चार खूबसूरत जवान लड़कियों का एक साथ ऐसा उन्माद भरा खेल … सचमुच वो पल लाजवाब था.

मुझे इतना भी पता था कि आमिना की जिन्दगी में अगर मैं कदम रखूंगा तो उसका ध्यान बल्लू से हट जायेगा. और मन करे तो देख के मुट्ठी मार लियो या आकर तू भी चोद लियो।ऐसे ही हम गन्दी गन्दी बातें करने लगे कभी गीता के बारे में तो कभी छाया के बारे में।कहानी जारी रहेगी. मैंने ध्यान दिया कि उन दोनों लड़कों (जिन्होंने उस दिन रूम में पट्टी बिछाई थी) में से एक लड़का आया था.

उससे फ़ोन पर तो मेरी रोज़ बात हो ही रही थी, तो उसकी चिंता भी साफ़ झलक रही थी. नेहा- आह … अमित उह … जब से तू शादी में आया, तेरे अलावा मुझे कुछ नहीं दिख रहा है. पंजाबी सेक्सी पंजाबी सेक्सी बीएफमैं मध्य प्रदेश के इंदौर शहर में रहता हूँ और एक प्राईवेट आई टी कंपनी में इंजीनियर हूँ.

मैंने मैडम की तरफ देखा, तो मैडम ने अपनी बांहें पसार कर अपने आगोश में ले लिया. मेरे भाई भी चुदाई में काफ़ी तगड़े हैं, ये तो आज दीदी की चुत चुदाई से साबित हो रहा था.

ऐसे अस्पष्ट शब्द बोलती हुई सीमा की चूत ने फिर से पानी छोड़ दिया जिससे मेरे टट्टे तक भीग गए. अपने लंड को उसने मेरी चुत पर रखा और एक ही धक्के में अपने लंड का टोपा अन्दर डाल दिया. आंटी ने कहा- बहुत रात हो जाएगी घर पहुँचते पहुँचते!उन्होंने एक कागज निकाल कर उसपर अपने घर का एड्रेस लिख दिया और बोली- अगर चाहो तो मेरे यहाँ रुक सकते हो, मैं अकेली ही रहती हूँ।इतना सुनकर तो मेरी खुशी का ठिकाना ही नहीं रहा.

दो दिन बाद संडे आ गया और राहुल से बात हुई तो वो भला ऐसा मौका कहां छोड़ने वाला था. अब संजय ने कहा- तुम दोनों आपस में ही लगी रहोगी, तो हमारा क्या होगा?उसकी आवाज से हमारी मदहोशी टूटी और हम खड़े हुए. उसने घड़ी की तरफ देखा और बोला- घर नहीं जाना क्या तुझे?मैंने कहा- ब.

किस के साथ ही साथ मैंने अपने हाथों से उसके मम्मों और शरीर को सहलाना शुरू कर दिया.

मैंने बाइक पर उसके पीछे बैठते हुए कहा- चल ना लंडर, मैं नहीं आने वाला इस सड़े से जिम में. चूंकि यह मेरी पहली सेक्स स्टोरी है इसलिए अगर कोई गलती हो जाये तो माफ करना.

इसलिए उसने अपना लंड झटके से बाहर निकाला और रवीना के पेट पर अपना सारा माल गिरा दिया. वह जैसे मुझे अपने आगोश में लेना चाहता था या मुझमें समा जाना चाहता था. मुझे तो ऐसा भी लगने लगा जैसे कि मैं सेक्स एडिक्ट हूँ।यह कोई बीमारी तो नहीं बस हमेशा एक भूख सी लगी रहती है सेक्स की।तो इस वजह से मैं हमेशा अपने फोन में फ्री सेक्स कहानी और अंतर्वासना साइट पढ़ती रहती थी.

वो तो कम्बल लम्बा कर के उसके अंदर हो गयी और रवि से बोली- लाईट बंद कर दो और तुम भी सो जाओ. मैंने चाची से बात करते करते धीरे से अपना हाथ उनके हाथ पर रख दिया और हाथ सहलाने लगा. उसकी चिकनी टांगों के बीच में त्रिभुज जैसे छोटी सी पैंटी के अन्दर उसकी फूली सी चुत छिपी थी.

एचडी बीएफ भेजें ममता ने प्रकाश से कहा- चलो चेंज कर लो, थोड़ी देर सोते हैं, कल तो छुट्टी है. हम दोनों पूरा जोर लगा कर अपनी बहनों को चोद रहे थे और वो दोनों कामुक आवाजें कर रही थीं- आहह आह या ओह आहह.

देशीसेक्स

चाटते चाटते चूत पर अपने मुँह को रख कर बोले- अरे कल तक यहां संड़ाध मारता था … आज खुशबू … माशाअल्लाह आज तो मजा आ गया. रवीना ने एक बार फिर सिप किया क्योंकि उसे ये लग रहा था कि शायद इससे कुछ गर्मी मिल जायेगी. मैंने दीदी की गांड से लंड निकालकर दीदी को हटाया और आलिया के दोनों पैरों को ऊंचे करके आलिया की गांड में लंड पेल दिया.

सुबह मैं फ्रेश हुई और नहा धोकर खाने की तैयारी कर ही रही थी कि मकान मालिक फिर से आ गए. इसके बाद हम चारों अपने अपने पार्टनर के पास गए और उनके ऊपर चढ़कर उनके होंठों को चूमने लगे. आगरा बीएफ वीडियोअब मौका पाकर वो घर में भी शुरू हो जाता था। विशाल के रूप में मुझे अपनी प्यासी चूत का परमानेंट इलाज मिल गया था.

वो कसमसाई और बोली- आह थोड़ा धीरे … दर्द करता है न!पर मैंने उसकी एक ना सुनी और उसे चूसता रहा.

सच कहूं तो दोस्तो, इतना टाइम साथ में रहने से और साथ में काम करने से मेरे दिल में जेठजी के लिए एक सॉफ्ट कार्नर बन गया था. गलती किससे नहीं होती, पर उसके इस तर्क ने मुझे अन्दर तक तोड़ कर रख दिया था.

मैंने उनकी लेगिंग्स और टॉप उतारने की कोशिश की, तो उन्होंने मुझे मना नहीं किया. मैंने उसकी पेंटी, खोल कर साइड में फेंक दी और लंड उसकी चुत पर रगड़ा, पर मुझे महसूस हुआ कि उसकी चुत बिल्कुल बन्द है और छोटी सी बहुत प्यारी है. सिल्क की चूत मेरे चाटने से गीली थी तो लण्ड आराम से अपना रास्ता बना के पिस्टन की भांति उसकी चूत में अंदर बाहर होने लगा.

शीला मेमसाब की मालिश करती थी तो वो पूरे कपड़े उतार कर नंगी होकर उससे मालिश करवातीं, अपनी चूत रगड़वातीं.

मैं कमरे में जाने के लिए हुआ ही था कि उसने मुझे आवाज दी और बोली- क्या आप मेरे साथ अस्पताल तक चल सकोगे. मुझे तो अपनी आंखों पर विश्वास ही नहीं हो रहा था कि चूत और गांड दोनों के फट जाने के बावजूद परमीत आनन्द लेने लगी थी और उनका साथ देने लगी थी. पर मैं पहल करने में घबरा रहा था कि मेरे सूने जीवन में इतने सालों के बाद बहार आई है, कहीं वो फिर पतझड़ में ना बदल जाए.

बीएफ के बारे में जानकारीज़रूर!”उनके जाने के बाद मैंने कपड़े पहने, अपनी पसंद के … टाइट जीन्स और टॉप।अभी मैं घर जाने का सोच रही थी कि डॉक्टर शोभा आ गयी।तेरी शक्ल देख के लग रहा है कि बिल्ली ने मलाई खा ली।”मैं बस मुस्कुरा दी. अभी मेरी उम्र 37 साल है लेकिन कोई भी मुझे देख कर यह नहीं कह सकता कि मेरी उम्र 37 साल है.

सेक्स ब्लू फिल्म फोटो

वो ब्रा के ऊपर से ही मेरे बूब्स दबाने लगी, फिर उसने मुझे हग किया और अपने हाथ पीछे ले जाकर मेरी ब्रा खोलने लगी तो मैंने भी उसकी ब्रा उतार दी. मैंने पहले वसुंधरा के माथे पर एक चुंबन लिया, फिर बारी-बारी दोनों आँखों पर, फिर दोनों कपोलों पर, नाक की फ़ुनगी पर और फिर मैं ज़रा सा रुक गया. जिससे उनके मजेदार चुचे, सेक्सी पेट और कमर मुझ पर महसूस होने शुरू हो गए.

इसकी दो वजहें थी, एक तो वो मेरा भाई था और दूसरा उसका लंड खड़ा ही नहीं होता था. मैंने एक राउंड फिर से आंटी की चूत मारी और इस बार दोनों साथ में झड़े. बस अभी हम दोनों ही बच्चा नहीं चाहते थे क्योंकि अभी हम लोग किराये के मकान में रहते हैं और जब हमारा खुद का घर होगा, तब हम बच्चे के बारे में सोचेंगे.

लेकिन दूधवाले ने नीचे से मेरी चुत देख ली थी, वो बोला- मेमसाहब आपकी नाइटी से संगम घाट दिख रहा है. हम चारों भी सिर्फ निक्कर में थे, इसलिए उन चारों को ऐसा लगा कि हम उनकी चुदाई करेंगे. इस दौरान मैं दो बार झड़ चुकी थी। मुझसे और बर्दाश्त नहीं हो रहा था, मैंने बोल दिया- तरुण, प्लीज़ डाल दो।तभी मैंने तरुण के लंड को चूस कर थूक से सराबोर कर दिया और दोबारा घोड़ी बन गयी.

ये देख कर मैं उसके पास जाकर लेट गया और उसकी टी-शर्ट के अन्दर हाथ डाल कर उसके मोम्मे सहलाने लगा. भाभी के सारे कपड़े उतारने के बाद मैंने उन्हें गले लगा लिया और एक किस की.

पूरा लंड गांड में घुसेड़ने के बाद वो रुक गया और मेरे ऊपर झुक कर पीछे से मेरे दूध दबाने लगा.

एक मिनट बाद मैंने देखा कि वही खूबसूरत अंकल वहां वापस आकर अपनी बाइक पार्क कर रहे हैं. हिंदी में बीएफ सेक्सी एचडीवो भी पागलों की तरह आवाज करती हुई मेरे मुंह को अपने बूब्स पर दबाती रही. बीएफ ब्लू फिल्म हिंदी मूवीउस वक्त शालू और सोनिया जवानी की दहलीज पर ही थीं … लेकिन दोनों ही अपनी उम्र से कहीं ज्यादा मस्त दिखाई देती थीं. उसके बाद फिर हम एक दूसरे से अलग हुए … तो मैंने देखा सुरभि की आंखों में ख़ुशी के आंसू थे.

अनिषा बोली- मैं आजकल सहेली के ससुर जी … औरदूध वाले से सेक्स के मजेकर रही हूँ.

शाम को होटल वापस आते हुए हमने दारू (रम) की बोतल साथ ले ली क्योंकि ठंड बहुत थी तो रात को उसकी जरूरत पड़नी ही थी. मैंने उसे बताया था कि जब तू कमोड पर बैठा करे, तो फ्रेश होने के बाद गांड में उंगली किया कर, इससे तेरी गांड को आदत हो जाएगी. नीचे मेरे हाथों की उंगलियां वसुंधरा की नाभि के नीचे, योनि के आसपास सितार बजाने में व्यस्त थी.

अब हम दोनों के होंठ मिल गए थे और बहुत ही आनन्द के साथ हम एक दूसरे कर होंठों को चूसने लगे थे- मुऊऊऊआह … अह … पुच. मृगनयनी तो वह थी, पर उसकी ठोड़ी के बीच में हल्का गहरापन … उसकी मोरनी जैसी सुराहीदार गर्दन और सुंदर रेशमी केश उस अपसरा को और भी लाजवाब बना रहे थे. झांटें बनाने के बाद चाची ने खड़े होकर चड्डी ऊपर करते हुए पहन ली और साया भी ठीक से पहन लिया.

क्सक्सक्स भाई बहन

धीरे धीरे मामी भी मेरा साथ देने लगी और हम एक दूसरे के होठों को अपने होठों में लेकर चूसने लगे।मैं एक हाथ से उनके मोटे मोटे बूब्स को दबाने लगा और दूसरा हाथ उनकी सलवार के अंदर डालकर उनकी चुत की फांकों को अपने हाथों से रगड़ने लगा. उफ़ क्या मखमल सा अहसास था … शर्ट के ऊपर से भी कमर में जो मांस था वो बहुत गुन्दाज़ था. उसने अपने बदन को दबाते हुए मेरे अस्सी किलो के भार से एक चूं तक न की थी.

जिससे मेरा लंड उसकी गांड से छूने लगा और थोड़ी ही देर में रगड़ खाने से मेरा लंड खड़ा हो गया.

मुझे इतना मजा आ रहा था कि पूछो मत!प्रीति बड़बड़ाते हुए कह रही थी- आह आह … राआजा चोद कर फाड़ दो अपनी इस कुतिया चूत को! आह आंआंआं चोओदो अंह!मैं बहुत बुरी तरह से प्रीति की चुदाई में डूबा था.

शायद यह उसका पेशा था, इसलिए हो सकता है कि वो सब इन बातों पर ध्यान न देता हो. अविनाश- एक बात समझ नहीं आ रही कि औरतें गांड मरवाने पर इतना क्यों चिल्लाती हैं. बीएफ सेक्सी फिल्म करने वालीये महसूस करते ही मैं उठ गया और पास रखा खोपरे का तेल उठा कर मैंने अपने लंड पर बहुत सारा तेल लगा लिया.

लड़का उसे बिस्तर पर लेटा कर उसके बदन को चूमते हुए बुर सहलाते हुए होंठों को चूमते चूमते उसकी बुर में उंगली डाल कर मज़ा देने लगा. डैड- जब मैंने तुझे पहले रिया के बारे में बताया, तब तो तुमने नहीं बताया था. मैंने कहा- अच्छा साली, तो बोल अब किस से ठुकना है? किससे मरवानी है तूने?वो तुरंत बोली- ये डिसीजन आप लोग लो, हमें तो बस मज़ा चाहिए.

अविनाश- चित्रा, आज तुम किसके साथ सोना पंसद करोगी, अपने भाई के साथ या अपने पति के साथ?जीजा जी की बात सुनकर हम चारों मुस्कराने लगे. एक पल सोचने के बाद मैंने अपने कपड़े पहन लिए और रसोई में जाकर फ्रिज से पानी की बोतल निकाल कर पानी पीते हुए अपने रूम में आ गया.

तब चाची कह रही थी- अनिकेत, तुम्हें पता है, मेरा बच्चे बंद होने का ऑपरेशन नहीं हुआ है.

उन्होंने अगला बड़ा घूँट भरके मेरे मुँह से अपना मुँह लगा कर पिला दिया. दूर से देखने पर ऐसे लग रहा था जैसे वो उसकी गांड में लंड को घुसा रहा हो. मैं उसके मम्मों को ऊपर से दबाने लगा, तो वो उनको अपने हाथों से ऊपर उठा कर मेरा साथ दे रही थी.

सेक्सी बीएफ इंडिया हिंदी मैंने कहा- अगर तुम मुझे अच्छी नहीं लगी होती तो मैं तुम्हें मूवी दिखाने के लिए नहीं लेकर आता. जैसे ही मैंने उसकी पीठ पर हाथ घुमाया तो मैंने महसूस किया कि उसके कुर्ते में पीछे की तरफ चेन लगी हुई थी और उसने ब्रा नहीं पहनी थी।लेकिन सामने से देखने पर उसके बूब्स ऐसे नहीं लग रहे थे कि उसने ब्रा न पहनी हो मैंने उसकी तरफ थोड़ा आश्चर्य से देखा तो वो मुस्कुराकर मेरे सीने से लग गयी।मैंने प्यार से उसका चेहरा उठाया और उसके नर्म मुलायम होंठों का रसपान करने लगा।रोजी की साँसें तेज होने लगीं थीं.

अलका ने कुछ ही देर लंड सहलाया होगा, मैंने उसको लंड चूसने को कहा, जिसे सुनते ही अलका के चेहरे की जैसे हवाइयां उड़ गईं. वो बोला- क्या हुआ? इतनी जल्दी झड़ गयी? अभी तो पूरा गया भी नहीं, निकाल लूँ क्या?मैंने कहा- हम्म्म. संजय ने भी नाचते हुए अपने कपड़े उतार दिए और वो भी ब्रीफ में ही रह गया.

पूरी नंगी वीडियो

परमीत ने भी डिल्डो का दूसरा सिरा अपनी चूत में सैट किया और मुझे चोदने लगी. अब दिव्या की गांड पीछे से चुद रही थी और आगे से उसका मुंह भी चोदा जा रहा था. मैंने उनकी गालियों को नज़रअंदाज़ करते हुए लंड थोड़ा बाहर निकाला और फिर से एक जोरदार धक्के के साथ पूरा लंड उनकी चूत में पेल दिया.

जब पति की आंख खुलती है, तब वो देखता है कि उनकी बीवी अपने पति के पास एक ही बेड पर किसी और से चुदवा रही है और उसको चोदने वाला उसका भाई था. उसने कुछ दूर पीछे हटकर अपने हाथ कमर पर बंधी हुई डोरी पर रखे और अपनी कमर पर बंधी हुए डोरी के एक सिरे को पकड़कर खींच कर खोल दिया.

स्वीटी आंटी की कोई प्रतिक्रिया न देखते हुए मैंने उनकी जांघ को आहिस्ता आहिस्ता रगड़ना शुरू कर दिया.

मुझे लगा था कि शादी के बाद मेरे पति से मुझे बहुत सुख मिलेगा लेकिन मेरी मन की इच्छा मेरे मन में ही रह गयी. कुछ ही देर बाद उस का जिस्म अकड़ने लगा और वसुंधरा के मुंह से अजीब-अजीब सी आवाजें निकलने लगी. कोई बीस मिनट की चुदाई के दौरान वो तीन बार झड़ी, तब मेरा झड़ने को हुआ तो मैंने उससे पूछा- कहां निकालूं?वो बोली- मेरी चुत में ही निकालो … मैं गोली खा लूंगी.

मैंने डिनर की बात खत्म की और उसको 9 बजे नॉएडा के सेक्टर 18 पर मिलने को बोला. शक तब हुआ जब मेरा लंड तेरी चूत में आराम से नहीं घुसा, तब लगा कि कुछ तो गड़बड़ है. मैंने कहा- ठीक है, चलो!मेरी आँखों में तो वही बस वाला ही लम्हा आए जा रहा था कि कैसे मैं आंटी के इतने करीब था यार!पूरे रास्ते मेरे दिल में सिर्फ और सिर्फ आंटी ही का ख्याल रहा.

मैंने उस एप पर पहले फोल्डर पर पैड लिख कर देखा, लेकिन उत्तर गलत हो गया.

एचडी बीएफ भेजें: प्रीति की चूत से पानी निकल रहा था जिससे मेरा लंड पूरी तरह से भीग चुका था और आराम से प्रीति की चूत में आ जा रहा था. उसकी ये लाज मुझे ऐसी लगी, जैसे वो अपने आपको मुझमें कहीं छुपा रही हो.

मनु की चूत की दीवारें दीदी की चूत के मुकाबले आपस में थोड़ी चिपकी हुई सी थीं और कामोत्तेजना कि वजह से चूत का सांस लेना स्पष्ट नजर आ रहा था. उसने एक कैमरा तीन टांगों वाले स्टैंड पर सेट किया हुआ था और कैमरे के पीछे खड़ी हुई हमें देख रही थी. कहानी शुरू करने से पहले मैं आप सबको अपने फैमिली के सभी सदस्यों का परिचय दे देती हूं.

मीना ने इतरा कर कुणाल से कहा- आप ये क्या कर रहे हैं?कुणाल बोला- हुस्न का मौका मुआयना कर रहे हैं.

वैसे मुझे भी अमित से चुदने का मन कर रहा है … काफ़ी दिन से उसका लंड नहीं चाटा है. ये सुनकर मैं थोड़ा रुकी, फिर बोली- अच्छा … तुम्हें सब पता है, तो कुछ बोले क्यों नहीं … छिप छिप कर मेरी चुदाई देखते हो तुम?मेरे मुँह से चुदाई शब्द सुनकर वो चुप हो गया. राहुल- आप कहीं जा रही हो क्या?मैं- हां, मैं अपनी फ्रेंड के यहां जा रही हूँ.