बीएफ एचडी विदेशी

छवि स्रोत,సెక్స్ వీడియో హైదరాబాద్

तस्वीर का शीर्षक ,

कॉलेज वाली सेक्सी मूवी: बीएफ एचडी विदेशी, मैं तो बस उनकी चूची चूसने की सोच कर गर्म हो गया और मेरा लंड मोनिका के मुँह में अन्दर तक जाने लगा.

2 साल की लड़की की सेक्सी वीडियो

मेरे कड़क झटकों के कारण भाभी को मजा आने लगा और वह मुझे किस करने लगीं. ब्लू फिल्म सेक्सी वीडियो एचडी हिंदीमैं नीचे से उसकी पैंटी को नाक से और होंठों से रगड़ रहा था और वो भी अपनी चूत जोर लगा कर मेरे मुँह पर रगड़ रही थी.

मैं उसके मम्मों को दबाने लगा और ड्रेस के ऊपर से ही उसके मम्मों को किस करने लगा. अमीर खान सेक्सीवो बोली- खुद से खड़े होने में तो दिक्कत हो रही है, मालिश कैसे करूंगी!मैंने कहा- किसी से करवा लेना.

अन्नू ने अपनी जीभ पूरी घुसा दी और साथ ही एक उंगली घुसा कर उसका दाना मसलने लगा।रूपा बिस्तर पर मचलने लगी, उसकी आहें निकाल रही थीं।आह उहह की आवाजों से कमरा गर्म हो गया।रूपा अब अन्नू का मोटा और लंबा लंड चखना चाह रही थी।जल्दी तो थी नहीं!रूपा ने यह महसूस कर लिया था कि अन्नू बिस्तर में आकाश से बीस ही बैठेगा और उसका लंड तो घोड़े जैसा है.बीएफ एचडी विदेशी: उनकी कुहनी मम्मी के दूध से छू रही थी या यूं कहूँ कि चाचा एक साथ मम्मी के होंठों को सहला भी रहे थे और अपनी कुहनी से मम्मी के मम्मे मसल से रहे थे.

साड़ी, गाउन जो भी उसने पहनी हो, उसे उठाता था और बस जानवर जैसे लंड पेल देता था.दूसरा हाथ मैंने उसकी गर्दन में डाला और अपने लंड को उसकी चुत पर सैट करके जैसे ही झटका मारा, लंड फिसल गया.

मराठी सेक्सी हिंदी बीपी - बीएफ एचडी विदेशी

इस बात के बेसिस पर मैं कह सकती हूं उस वक्त उसका लंड 7 इंच का रहा होगा.वो फिर से सिसकने लगी- उई ईईईई आह ईईई ईईआ आआह हह म्मम उउऊऊ ऊऊऊई माआआ आआह!अब मैंने लण्ड को चूत में फंसाया और झटका मारा.

मैं और खुश हो गया और जोश में आकर गपागप गपागप तेज़ी से लंड चुत के अन्दर-बाहर करने लगा. बीएफ एचडी विदेशी फच फच की आवाज और तेज हो गई और मैं आह ओहहह करके चाची को जोश में जोर जोर से चोदने लगा।अब मेरे लंड पर सख्ती बढ़ने लगी थी और तभी मैंने आह हहह आह हह करके वीर्य की पिचकारी छोड़ दी और घोड़ी बनी चाची के ऊपर चिपक कर लेट गया.

लॉक डाउन में मुझे वर्क फ्रॉम होम मिल गया था तो घर का सारा काम ही मुझे करना पड़ता था क्योंकि कोविड के डर से कामवाली बाई वगैरह को हटा दिया था.

बीएफ एचडी विदेशी?

मैं अपने माता पिता की एकलौता पुत्र होने के कारण गांव में और रिश्तेदारों में भी मेरा बहुत अच्छा सा वर्चस्व हो गया था. लेकिन इससे पहले कि हम दोनों और कुछ कर पाते, उनके बच्चों की आवाज आ गई. अपने एक हाथ से उसके दोनों हाथों को पकड़ा और दाहिने हाथ से लंड को सहारा दिया.

मैंने उससे पूछा- ऐसे क्यों देख रही हो?वो मुस्कुरा दी और कहने लगी- क्या देख नहीं सकती?मैंने हंस कर कहा- देख क्यों नहीं सकती … मगर मुझे लगा कि पता नहीं क्या बात है, जो तुम मुस्कुरा रही हो. उसने आँखें बंद करते हुए कहा- ओह, तो हमारे लेखक साहब शायर भी हैं और साथ में मसाज भी अच्छी देते हैं, बहुप्रतिभाशाली!मैं मानो तैयार बैठा था … मैंने कुछ नहीं कहा. उसका लोड़ा सीधा मेरी बच्चेदानी से टकराया।फिर मुझे वो पूरे जोश से चोदने लगा.

भाभी ने अनजान बनते हुए पूछा- क्यों?मैंने कुछ सोच कर कहा- पहले मिलो तो सही … फिर जब अन्दर लोगी तो पता चल जाएगा कि क्यों रो रही हो. वो मेरे सामने पूरी नग्न पड़ी थी और अब तक मेरे कपड़ों का एक बटन भी नहीं खुला था. यह देसी वाइफ सेक्स कहानी मेरी मम्मी और चचा की शादी के बाद उनकी पहली रात की है.

एक एक्सिडेंट में मेरे अब्बू जी चल बसे, जिससे मैं और मेरी अम्मी दोनों अकेले रह गए. इधर मैंने भी होंठों को चूसकर सुमन डार्लिंग को कुतिया बना दिया और पीछे से अपना लंड चूत में डाल दिया.

वह बाहर बाहर से लंड चाट रही थी, पर मुझे कुछ भी महसूस नहीं हो रहा था.

हम दोनों अपने काम के प्रति वफादार रहते थे और इसी लिए हम दोनों की अच्छी बनती थी.

‘आहह उम्म महह फक मी साली रांड … आह चोद मां की लवड़ी …’हम दोनों मस्त होने लगी थीं और अपनी चूत की आग बुझाने में मगन हो चुकी थीं. जब दूसरा पैर आगे रखतीं, तो पहला नीचे उतर कर दूसरे के नीचे रगड़ जाता था. मैंने अनिल से कहा- तुम अपनी मॉम को बता देना और मैं भी अपनी मॉम से कह दूंगा.

मैंने नाश्ता खत्म किया और ज्योति की मालिश करने के लिए उसे बेड पर लिटा दिया. दस मिनट चुदाई के बाद भाभी की चुत ने पानी छोड़ दिया, लेकिन मेरा लंड खड़ा था. मैंने फिर एक बार आवाज लगाई तो वो बोली- जीजू आपको ही चेंज करना पड़ेगी.

अब आगे रियल भाभी फक स्टोरी:दोस्तो, मैं इधर आपको बता देना चाहता हूँ कि मेरी स्वाति भाभी घर में हमेशा गाउन ही पहनती हैं.

तीन महीने बाद चुदाई का मौका मिल रहा था, वो भी दीप्ति जैसी मादक हसीना के साथ सेक्स करने का मौका मिला था तो मैं आज कोई कमी नहीं रहने देना चाहता था. अब मैं उससे चुदना चाहती थी, मैं उसके लंड का अंतर अपने पति से करने लगी थी. मेरे पास कोई जवाब नहीं होने पर मैंने कहा- मैं दीपक बोल रहा हूँ दीदी, सौम्य से बात करनी है।उस पर उसने चौंकते हुए कहा- सौम्य या सौम्या?मैंने जवाब में कहा- सौम्य, दीदी मैं उसका मैनेजिंग डायरेक्टर बोल रहा हूँ, वो मेरे यहाँ ही जॉब करता है।सॉरी रॉंग नंबर!” ये बोल कर उसने फ़ोन काट दिया.

मैंने भी रश्मि के हाथ पर अपना हाथ रख कर हल्की आवाज में उससे ‘थैंक्स …’ कहा. साथियो, मैं रिशांत जांगड़ा आपको अपनी मम्मी के दूसरे विवाह के बाद हुई उनकी चाचा जी के साथ सुहागरात का रसभरा वाकिया सुना रहा था. मैं उन्हें और परेशान नहीं करना चाहता था, मैं खाना खाकर अपने कमरे में लेट गया.

मुझे गांड मरवाने का शौक था तो सोचा कि इससे कमाई भी क्यों ना की जाए.

अलोन वाइफ वांट सेक्स … सुहागरात के बाद पति विदेश चला गया तो दुल्हन को पति के लंड की याद तो आनी ही है. पर मैं उस पर ध्यान नहीं देता था।एक दिन वो मेरे घर पर आई तो उस टाइम मेरे घर पर मैं अकेला था और फोन में यूट्यूब पे वीडियो देख रहा था।उसने पूछा- शैलेश, तुम्हारी मम्मी कहाँ है?तो मैंने कहा- वो तो बाहर गई हुई हैं.

बीएफ एचडी विदेशी वो बड़बड़ाते हुए बोलीं- आज इनको अच्छे से मसल दो … बहुत परेशान करते हैं. फिर महेश ने मेरी मम्मी को बेड पर बैठाया और उनके पीछे आकर पीछे से उनको अपनी गोद में बैठा लिया.

बीएफ एचडी विदेशी वो दीदी को गालियां देने लगे- साली रांड मादरचोद … जैसे चोद रहा हूँ … चुदवा ले वरना अभी तुमको होटल के स्टाफ से चुदवा कर तेरी सारी गर्मी निकलवा दूंगा मां की लौड़ी … कुतिया … रंडी … बस आज तू रात भर ऐसे ही चुदेगी. वो बड़बड़ाते हुए बोलीं- आज इनको अच्छे से मसल दो … बहुत परेशान करते हैं.

मैं भाभी को पटाने के चक्कर में कभी उन्हें मूवी दिखाने तो कभी शॉपिंग कराने ले जाता था और वो मुझे कभी भी मना नहीं करती थीं.

बाप ने बेटी को चोदा बीएफ वीडियो

थोड़ी देर चोदने के बाद सुनील मेरी चूत पर आ गया और नीरज मुंह में आ गया और फिर से मेरी चुदाई शुरू कर दी. मेरी बहन इतनी बड़ी चुदक्कड़ है कि कभी कभी तो लगता है कि मैं भी उसके ऊपर चढ़ जाऊं. अब मैंने उस देसी यंग गर्ल को एक स्माइल दी और आंख मारी, तो वो थोड़ी खुश हुई.

दोस्तो, ये सेक्स कहानी का वो हिस्सा था, जो मैंने पहले नहीं लिखा था. और कभी-कभी एक साथ भी करेंगे दूसरों के साथ! हम सेक्स की वजह से कभी अलग नहीं होंगे। हम एक दूसरे की फ्रीडम में कभी कोई रुकावट नहीं बनेंगे। इसी थिंकिंग से हम खुश रहेंगे। हम फ्री सेक्स में विश्वास करते हैं।मैंने सोचा ऐसे भी मॉडर्न इंडियन हैं।तभी तपिश बोला- यार, आज थोड़ी जान पहचान बढ़ी है. मैंने भी उसकी लेगिंग्स को उतार दियाअब वो मेरे सामने सिर्फ निक्कर पहने थी, बाक़ी पूरी नंगी थी.

मैं चौंक गया क्योंकि मैं रेस्टारेंट में अपनी जिप बंद करना ही भूल गया था.

दीप्ति मेरी तरह एकदम नग्न अवस्था में सो रही थी जिससे मेरा मूड फिर से बनने लगा. वो बड़ा सभ्य लड़का था।अब मैं छत पे कपड़े सुखाने को अजय को भेज दिया करती थी जिसमे मेरी ब्रा और पैंटी भी होती थी।वो भी बड़े प्यार से मेरे ब्रा पैंटी को सुखाता था।एक दिन मुझे अपनी एक सहेली के यहाँ जाना था. दीप के साथ लम्बे लम्बे किस करने से ही मेरी चूत में पानी आना शुरू हो गया.

थोड़ी देर चलने के बाद सबके घुटनों में दर्द होने लगा, तो सब लोग बैठ गए. ये सुनकर उसने अपनी ब्रा खोलकर एक तरफ रख दी और दोनों हाथों से अपनी चूचियों को छुपाने लगी. ये बात मुझे बाद में पता चली थी कि मर्द के आगे जितनी ज्यादा चिल्लाओ, उसकी स्पीड उतनी ही बढ़ जाती है.

वो दोनों सोसाइटी के गेट पर चली गईं क्योंकि दोनों की ड्यूटी शुरू हो गई थी. फिर उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया तो मैंने उसकी चूत का सारा पानी पी लिया.

दोस्तो, अपनी देसी सिस्टर सेक्स कहानी के अगले भाग में मैं आपको आगे की घटना लिखूँगा. उसके कमरे में सिंगल बैड था पर उसकी चौड़ाई ज्यादा थी तो रवीना ने एक तकिया मुझे दिया और हम दोनों ने रजाई ओढ़ ली. मैंने उससे पूछा- कहां निकालूं?वो बोली- क्या निकालोगे?मतलब वो समझ ही नहीं पाई थी कि मैं क्या पूछ रहा हूँ.

फिर जैसे ही उनकी ब्रा खोलकर उनके शरीर से अलग की, दोनों कबूतर फड़फड़ा कर मेरे सामने लहराने लगे.

छोटी बहू रानी बोली- तो अब कौन से रोजे टूट गए तेरे हरामी … गांव चल कर भी चोद लियो. लिटाने से उसकी स्कर्ट और ऊपर हो गई और मुझे उसकी काली पैंटी की हल्की सी झलक मिलने लगी. इस बार वो सुनिधि को घूर घूर कर देख रहा था। उसने सुनिधि को देख हल्की सी मुस्कुराहट दी, फिर वो चला गया।अगले दिन सुनिधि को मैंने पूरा बेड पर नंगी लेटने को कहा और ऊपर से चादर उढ़ा दी।इस बार मैंने उसको खाना देने के लिए बुलाया।मैं चड्डी में था।वो आदमी आया।मैंने उसको अन्दर बुलाया.

मैं हमेशा की तरह अपने सारे कपड़े उतार कर एक टॉवल कमर पर लपेट कर बाथरूम में आ गया. सबसे बड़ी बात तो ये कि एक इक्कीस साल की लड़की की जिस तरह से चुदाई हो रही थी, वो सबसे मस्त लग रही थी.

तभी अचानक से मेरे छोटे मियां भी नैना की चूत की गहराई में खो गए और झटकों के साथ मेरा सारा गर्म गर्म लावा नैना की चूत में समा गया था. वहां पहुंचकर भाभी अपने सहेलियों के साथ घुल-मिल गईं और मैं और भैया उनके दोस्तों के साथ खड़े रहकर बातचीत करने लगे. पर कुछ देर तक चले वाद विवाद में उसने याद दिलाया कि मैंने ही बोला था सोच लिया.

बीएफ फिल्म हिंदी में बढ़िया वाली

नैना- पर ऐसा कैसे संभव है अनुराग जी … और आनन्द!मैं- उसकी तुम चिन्ता न करो, मैं अभी कोई प्रबन्ध देखता हूँ.

उस दिन के बाद से मैंने अपने घर में लड़कों को आने ही नहीं देता था, जिस कारण मेरी कई बार लड़ाई भी हो गयी थी. मैंने बैग एक तरफ रखा, कपड़े उतारे और पंखा चालू कर अपने बेड में लेट गया।अब बारी थी उसको सॉरी लिखने की!पर किस तरह?ये समझ नहीं आ रहा था।लिखते मिटाते कुछ सोचने की मशक्कत के बाद मैंने लिखा- माफ़ कीजियेगा, आपका नंबर मेरे फ़ोन पर पता नहीं कैसे सेव था. एक दिन उसने मुझसे कहा- साब, दूध ठीक लग रहा है या नहीं?मैंने कहा- हां तुम्हारा दूध बढ़िया है.

मैंने हंसते हुए कहा- ओह अच्छा … प्यार करता है तू मुझसे!वो बोला- हां रिंकी दीदी. जब मेरे सारे कपड़े निकल गए, तब मेरे गोल मटोल छोटे छोटे अमरूदों की साइज़ के मम्मे देख कर वो मचल गया. मारवाड़ी चूड़ियांमैंने चिढ़ते हुए कहा- कुछ ज्यादा गंदा नहीं हो गया?वो मेरी गांड को अपने दोनों हाथों से दबाते हुए बोला- अभी तो मैंने शुरू किया है भोसड़ी के … आगे आगे देख, मैं क्या क्या करता हूँ.

अब उस्ताद जी ने बाबा जी को इशारा किया कि वो अपना लंड मेरी गांड में पेल दें. लेकिन अभी तक वो किसी से भी नहीं पटी और ना ही उन्हें कोई चोद पाया है।हमारे मोहल्ले में उनके जैसी कोई और माल नहीं है जो भी उन्हें देखता है, उसके लण्ड में तूफान आ जाता है।इसलिये हर कोई उन्हें अपने लंड की सवारी करवाना चाहता है।पहले मैंने कभी भी भाभी को गन्दी नजर से नहीं देखा था.

मैडम- साले तुझे तो सब मालूम है … अब तक कितनी चुत चोद चुका है?मैंने कहा- मैडम आप पहली हो. कभी कभी सुबह सुबह निकिता मुझे गुड मॉर्निंग बोलने मेरे रूम पर आने लगी. मैं समझ गया कि उसकी सील टूट चुकी है पर मेरे लंड में भी दर्द होने लगा था.

ऐसे ही किस करते हुए मैंने उसे उसके बेड पर पटक दिया और उसकी कुर्ती को ऊपर कर दिया. मैंने देवर की तरफ देखा तो वो भी सो रहा था, लेकिन उसका लंड अभी भी कड़क ही दिख रहा था. ये तुम्हारी चूत थोड़ा कसी हुई है न … तो ये मेरे लंड को भी थोड़ा दर्द दे रही है.

मम्मी पूरे लंड को चाटते, चूसते हुए सुपारे के चारों तरफ बनी लाइन पर अपनी जीभ फिराने लगीं.

कोई भी लड़का मुझे देख कर अपने लंड की लार टपकाए बिना नहीं रह सकता था. तभी मैंने देखा उसके आर्मपिट में बाल थे, मैंने पूछा- इन्हें साफ नहीं करती क्या?वो कुछ नहीं बोली, बस उसकी आंखों में वासना के नशे की खुमारी चढ़ गई थी.

मैं- कोई बात नहीं, मीना में बस डर रहा था कि कहीं तुम मुझे गलत न समझ लो. और फिर जब दीप ने अपने लंड का टोपा मेरी गांड में घुसा, मेरे तो मुंह से चीख निकल गई. बाथरूम में नीता ने दीप का लंड अपने हाथों से पकड़ कर उसे पेशाब करवाया और फिर मुझे भी कहा.

कुछ देर बात करने के बाद शिवानी ने अपनी दीदी से कहा- आप भी बैठो न दीदी. मैंने कुक्कू का सर बालों से पकड़ा हुआ था और लंड अन्दर बाहर मुँह में पेल रहा था. मैंने कॉपी जमा की और एक बार उसकी तरफ देख कर आंख मारी और मैं कैंटीन पर उसका इंतज़ार करने लगा.

बीएफ एचडी विदेशी मैंने उनका कुर्ता निकालना शुरू किया तो उन्होंने भी मेरा साथ देने के लिए दोनों हाथ ऊपर कर दिए. कुछ देर बाद मैं दीप्ति के ऊपर से हट गया और कंडोम को डस्टबिन में फेंककर दीप्ति के पास लेट गया.

प्रियंका चोपड़ा वीडियो बीएफ

एक मिनट बाद लंड ने मेरी मॉम की चुत में जगह बना ली थी और राहुल मेरी मॉम की चुत में लंड पेलने लगा. फिर वो मेरी बीवी की चूत की फांकों को अपने हाथ से फैला फैला कर देखने लगा. मेरी चूत पहले से ही गीली हो चुकी थी; उसकी उंगली फिसल कर फटाक से अन्दर चली गई.

उसके स्तन में गांड का इलाज कराने हम डॉक्टर के पास गए तो डॉक्टर ने मेरी बीवी की चूचियां दबाकर देखी. मैं- बोलो क्या?अनन्या- तुम मुझे पसंद करते हो क्या?मैं- हां … करता हूं. हीरोइन का नंगा फोटोफिर मैं भी अपना आपा खो बैठा और जोरदार पिचकारी से अपना पानी उसकी गर्म चूत में भर दिया.

मेरे लंड को अपने हाथ से पकड़ कर अपनी मुँह में डाल लिया और रंडी की तरह लंड चूसने लगीं.

उससे उसे भी मजा आने लगा।और कभी हम घर पर अकेले होते तो सेक्स चैट भी करते थे।वो कितनी देखने में सुंदर थी, उतनी ही ज्यादा सेक्सी बातें भी करती थी।एक दिन उसका फोन आया तो मैंने उसे एक मैंने कहा- आज तुम किसी अलग कमरे में सोना. मैंने बोला- मेरी छोड़िए भाभी, आप बहुत सेक्सी और हॉट मस्त माल लग रही हैं.

मैंने मोनिका को बहुत बार समझाया और उससे कोमल दीदी से बात करने को बोला. उनकी चूचियाँ का साइज भी 38 है।नेहा दीदी घर पर हाफ पैन्ट और टी शर्ट में ही रहती हैं. बुआ नशीली आवाज में बोलीं- पूरा मजा लेना है क्या?मैंने उनकी तरफ देखा तो बुआ ने अपने मम्मों पर डाला हुआ दुपट्टा हटा कर एक तरफ रख दिया.

अब देर ना करते हुए मैंने कहा- तो मैं क्या करूं … तुम मुझसे क्या चाहते हो?अब विशु भी पूरी तरह से मेरे मन को समझ गया था कि मैं क्या चाहती हूँ.

थोड़ी देर ऐसे ही नहाने के बाद हम तीनों नंगे की बाथरूम से बाहर आ गए और आकर बिस्तर पर लेट गए. तू चिंता न कर … मैं खुद तेरा लण्ड उसकी चूत में पेल दूँगी। मुझे उसकी सहेलियों से मालूम हो गया है कि वह कॉलेज के लड़कों से चुदवाती है। जब लड़कों से चुदवाती है तो तेरे जैसे मरद से तो दौड़ कर चुदवा लेगी। वह भी भोसड़ी वाली लण्ड की उतनी ही शौक़ीन जितनी मैं. वो- मालकिन थोड़ा पीने को पानी मिलेगा!मैं- हां देती हूं, अन्दर आ जाओ.

हिंदी सेक्सी वीडियो एचडी एक्स एक्सअब वो कल्पेश के ऊपर चढ़ी थी और रमेश पीछे से उसकी गांड में लंड पेल रहा था. ऐसा कहते हुए मैंने उसका लोअर नीचे कर दिया और देखा कि विशु ने अंडरवियर नहीं पहना था इस वजह से उसका लंड एकदम से मेरे सामने आ गया.

सेक्स पिक्चर सेक्सी बीएफ

बल्कि यूं कहूँ कि अपने सामने विशु को मुठ मारते देख मैं खुद को ही रोक नहीं पा रही थी. मेरे दादा जी नौकरी में थे इसलिए वो 10 बजे चले जाते और 5 बजे तक वापस आते थे. तभी भाभी अचानक से जोर जोर से सांसें लेने लगीं और कहने लगीं- आंह और जोर से अह्ह्ह … अह्ह्ह … मैं गई.

उसने मुझसे कहा- तुमने कपड़े क्यों नहीं पहने?मैंने कहा- मेरे कपड़ों तेल लग जाता, इसलिए उतार दिए. वो कुछ खुश सी लगने लगी थी, जिसका अहसास मुझे उसकी गांड के पीछे को होने से चला. अब वो मेरे चुचे चूस रहे थे, मुझे दर्द हो रहा था मगर अच्छा भी लग रहा था.

‘उममम्म … मुउउउह … आआह …’‘ओह्ह्ह उंहन … उंह … उंहन … सुडुप्प … सुडुप्प … अम्म्मम्म … पुच … पुच. उसके बाद मैंने उससे खुद को छुड़ाकर अलग किया और उसका लोअर निकाल दिया. तो मैंने उससे कहा- तुम कंडोम लगा लो!उसने कहा- मेरी जान, चिंता मत कर … हम दोनों ने अपना ऑपरेशन करा रखा है.

वो जोर से चिल्लाई और कहने लगी- उई मां मर गई … इसे निकालो, बहुत दर्द हो रहा है. मैंने भी लंड पेलते हुए कहने लगा- हां अम्मी, मुझसे आपका दुःख देखा नहीं जाता था.

रश्मि ने झटके से अपना हाथ मेरे लंड पर रख दिया, उसकी इस हरकत से मैं हक्का-बक्का रह गया.

उधर आकाश का रिश्ता भारत में एक नामी कॉलेज से सॉफ्टवेयर इंजीनीयरिंग की हुई रूपा के साथ तय हुए एक साल से ऊपर हो गया था।कुछ तो कोविड के चलते और कुछ आकाश की टालमटोली में शादी टलती रही।आकाश की माँ ने कई बार आकाश से यहाँ तक पूछा कि अगर ये रिश्ता उसे पसंद नहीं है, तो मना कर देते हैं. नाशिक कॉल गर्लदोस्तो, मेरा नाम गौरव है। मेरी उम्र 28 साल है। मैं उत्तर प्रदेश के एक छोटे से गांव का रहने वाला हूं।आज मैं आपको अपने जीवन की एक पुरानी घटना बताने जा रहा हूं। यह देसी गर्ल Xxx कहानी मेरी चचेरी बहन से सेक्स की है. सेक्सी चुदाई चुदाई सेक्सअब तक हम दोनों हांफते हुए पसीने में तरबतर एक दूसरे के ऊपर ही पड़े थे और उसी अवस्था में सो गए. मदन ने सबको बताया कि आप सबको एक बंद गाड़ी में आंख पर पट्टी बांधकर बिठाया जाएगा.

उसने भी अपनी गांड मेरे लंड पर घिस कर मुझे और भी ज्यादा बेकाबू कर दिया.

मैंने वो पकड़ कर प्रियंका की पूरी गांड और चूत पर घुमाया और अपनी चूत में उंगली करने लगी. अब मैं भी बड़े गुमान से कह सकती हूँ कि मैं भी ग़ैर मर्दों के लंड का मज़ा ले रही हूँ. इस सच्ची सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपनी गर्लफ्रेंड को सारी रात चोदा.

वहां पहुंचकर भाभी अपने सहेलियों के साथ घुल-मिल गईं और मैं और भैया उनके दोस्तों के साथ खड़े रहकर बातचीत करने लगे. मैं रोज़ की तरह मम्मी के कमरे में जाकर लेट कर सोने का नाटक करने लगा था. कुक्कू वासना से मेरी तरफ देखने लगी थी, उसकी चुत में आग लग चुकी थी ऐसा साफ़ नजर आ रहा था.

नंगी बीएफ वीडियो दिखाओ

बल्कि एक दो बार तो मैंने महसूस किया कि जितना झटका लगता था, वो उससे कुछ ज्यादा ही उछल कर मेरी पीठ से अपने मम्मे रगड़ देती थी. नीरज बिस्तर पर लेट गया, उसने मुझे अपने ऊपर लेटा लिया और मेरी चूत में अपना लंड डाल दिया. अपनी सुहागरात के उस दर्द को याद करते करते कब मेरा हाथ अनायास ही मेरी नाईट सूट के अन्दर चला गया और मेरी हाथ की बड़ी उंगली मेरी चूत में जा घुसी.

ये सुन कर मुझे थोड़ा मजा आने लगा कि भाभी तो रात भर के लिए रेडी हो गई है.

लेकिन स्कूल पूरा करने और जवानी की दहलीज में होने के कारण वो अब और भी ज्यादा गदरा गई थीं.

वो मेरी मम्मी के गालों में, गले पर किस करने लगे और उनके होंठ को अपने होंठों से काटने लगे. मैंने कहा- दीदी, मेरे हाथ में इतना जादू तो है ही कि तुम्हारे दर्द को भुला दूंगा. ఇండియా పాకిస్తాన్मुझे मेरे मुंह में एक गर्म धार महसूस हुई तो मैं समझ गयी कि सलीम ने मूतना शुरू कर दिया है.

फिर जब मैंने इधर देखा और सेक्स कहानियां पढ़ीं, तो मेरा मन सेक्स करने का होने लगा. जब मैंने देखा कि उनके दर्द में आराम हो गया है और वो खुद से कह रही हैं कि जानू प्लीज अब चोदो और जोर से चोदो. फिर मैंने जैसे भी करके अपना लंड भाभी की चूत में पूरा का पूरा घुसा दिया.

मैंने कहा- मेरी बीवी को सुहागरात में अपने पति से क्या चाहिए?भाभी कुछ शरारती अंदाज में बोलीं- आज मुझे मेरे पति का लंड अपनी चूत में चाहिए. घर पर दीदी के अलावा उनके 2 बच्चे हैं जो अभी बहुत छोटे हैं; एक 6 साल है तो दूसरा 4 साल का.

फिर तीसरे लड़के ने आकर उन दोनों लड़कों को बोला, तो वो दोनों लड़कों ने रानी के पैर को पकड़ कर हवा में खींच लिया.

वो धक्के तो नहीं लगा रही थीं, पर लंड को चूत में अन्दर रगड़ रही थीं. दोस्तो, मैं अक्की आपको अपनी बहन की दमदार चुत चुदाई की कहानी में स्वागत करता हूँ. मैंने मिक्की से हां करते हुए कहा- हां मिक्की, मेरी इस इच्छा को तू पूरी करेगी तो मैं तेरा बड़ा अहसान मानूँगा.

दूल्हा दुल्हन वाली मेहंदी ये आज तक कभी नहीं हुआ था कि मुठ मारने के बाद इतनी जल्दी मेरा लंड फिर से तैयार हो गया हो. कल्पेश अब बिंदास हो गया और मीरा के मम्मों को उसकी मिनी के ऊपर से ही दबाते हुए मजा लेने लगा.

मेरा मुँह बंद मत करना … फाड़ दी तुमने … आह मेरे बाप के लौड़े … जरा बाहर तो निकाल हरामी. चूंकि मैं एक गरीब फैमिली का हूँ इसलिये छोटे क्लास के बच्चों को अपने घर ट्यूशन दिया करता था. अब वो मेरे लंड को पकड़ कर उसकी मोटाई और लम्बाई का अंदाज़ा लगा रही थी.

बीएफ सेक्स औरत

जब मुझे लगा कि मेरा होने वाला है तो मैंने लंड बाहर निकाल लिया और माल बेड पर गिरा दिया. मैंने कहा- फिर से बोलो न?वो बोली- बात समझ, दीदी की शादी से पहले उन्होंने तुझसे दूर जाना चाहा, तो तुमने आखिरी बार सेक्स करूंगा बोल कर दो दिन किया … और आज फिर तू शुरू हो गया. दीप्ति मुस्कुराई- अच्छा जी!फिर जैसे ही हम दोनों कमरे के अन्दर आए, मैंने दरवाज़ा बंद कर दिया और दीप्ति की अपनी ओर खींच लिया.

इसलिए देख ले … आज देख ले इस हीरोइन को! जिसके साथ सेक्स करने का हिंदुस्तान का लगभग हर मर्द सपने देखते हैं, वो आज मेरे लन्ड से खेल रही थी।दाइशा जी ने अपने दोनों हाथों को मेरे कमर में चारों ओर कस लिया और खुद ही अपने चेहरे को मेरे लन्ड पर घिसने लगी. मैं उनको उनके घर छोड़ आया क्योंकि मुझे मेरे ऑफिस से बॉस का फोन आया था.

जैसे मैं चढ़ा, मुझे उसकी चूत की गर्मी, मेरे लोवर के ऊपर से ही मेरे लंड पर महसूस होने लगी.

मैं अन्दर गया तो बुआ कुछ नहीं बोलीं और मेरे लिए खाना लगा कर चली गईं. मैंने तुरंत ही उससे कॉल हिस्ट्री खोलने को बोला तो गुस्सा करते हुए बोली- तुमने मुझे दिया ही क्या है. मैंने अनजान बनते हुए कहा- क्या हुआ फैसल? किस बात की सॉरी कह रहे हो?उसने रात में मेरी बांहों में सोने के लिए माफ़ी मांगी और कहा- भाभी जान, वो मेरा आपकी उससे लड़ गया था.

मैं भी उस पर लाइन मारता रहता था पर दो महीने कोशिश करने के बाद भी मैं उसको पटा नहीं सका. इसमें मुझे भी फायदा है कि घर की लड़की ऑफिस में होगी, तो किसी बात की टेंशन नहीं रहेगी. कुछ देर बाद प्रियंका मेरे करीब आ गयी और उसने अपना पैर मेरे पैरों के बीच में फंसा दिया.

मैंने कहा- अभी खुश कर दूँ क्या?वो बोलीं- नहीं, अभी जल्दी जल्दी में मजा नहीं आएगा.

बीएफ एचडी विदेशी: लंड जब अन्दर बाहर होने लगा तो नीता की चूत पानी पानी हो गई और नीता के मुंह से हल्की हल्की आहें निकलने लगी. ‘आउम्म … आउउम्म … हाह्ह्ह … ओह रेखा … मुह्ह्ह … मुह्ह … तुम्हारा ये गर्म बदन का स्पर्श मुझे बावला सा कर रहा है, मैं तुम्हारे बदन के आगोश में पूरी तरह से समा जाना चाहता हूं मेरी जान.

उसकी उंगली मेरी चूत में बोरिंग कर रही थी और उसके होंठ मेरे होंठों का रस पी रहे थे।मैं चुदाई के सागर में गोते लगाने लगी।उसने मेरा नाड़ा खोल दिया, मैंने फटाक से अपना पायजामा खोल दिया. मैंने उसकी चूत पर लंड टिकाया और धक्का दे दिया लेकिन चुत टाईट होने के कारण लंड फिसल गया. उसके बाद क्या हुआ?लेखक की पिछली कहानी थी:भाभी के साथ रोमांस भरे सेक्स की कहानीनमस्कार दोस्तो, मेरा नाम आरव है और मेरी उम्र 22 साल है.

रात में उसने मैसेज करके कहा कि तुम्हें फेमडम पसंद है ना, वहीं करेंगे.

पीछे से लगे हुए लड़के ने रानी की गांड से लंड निकालकर चूत में डाल दिया. उस्ताद जी की धोती व लंगोटी को खोलते ही उनका नौ इंच का काला लंबा अजगर सा लंड मेरी आंखों के सामने था. मेरे साथ हंसी मजाक करने वाला कोई नहीं था जिससे मैं घर में बोर होती थी.