बीएफ सेक्स वीडियो सेक्स सेक्स

छवि स्रोत,न्यू हीरोइन फोटो

तस्वीर का शीर्षक ,

इंडियन सेक्सी हीरोइन की: बीएफ सेक्स वीडियो सेक्स सेक्स, एक दिन मुझे उसका मैसेज जीमेल पर आया कि ‘हैलो अगम मैंने तुम्हारी कहानी पढ़ी और मुझे काफी अच्छी लगी.

सेक्सी फुल एचडी वीडियो

इससे अमर का लंड अब कोई नॉर्मल लंड नहीं रह गया था बल्कि वो एक मोटे और कड़क लोहे की रॉड के जैसे बन गया था. న్యూ సెక్స్ వీడియోरात को जब मैं सो रही थी तो मुझे सपना आया कि मेरा पुराना बॉयफ्रेंड दीपक मेरे गले में बांहें डाले हुए है.

भाभी के गुलाब गाल और रसीले होंठों को देख कर किसी का भी लंड खड़ा हो जाएगा. सेक्सी शॉट हिंदीमैंने उनको किस कर लिया और उसको दिलासा दी कि घबराने की जरूरत नहीं है.

मैंने तब तक इतना बड़ा लंड लिया नहीं था तो मेरी गांड चिरने को हो गई थी.बीएफ सेक्स वीडियो सेक्स सेक्स: जिससे मीरा से बर्दाश्त नहीं हुआ और उसने अपनी सारी शर्म छोड़ कर अपने एक हाथ से रितेश का लंड उसके पैन्ट के ऊपर से पकड़ लिया और उसे बाहर से ही सहलाने लगी.

चूंकि सोनू की चूत मरवाने की फैंटसी बहुत दिनों से थी अतः आज एक ही दिन में वह सारी चीजें करना चाहती थी जो उसने अपने मम्मी पापा की चुदाई में देखी थी.मैंने लंड हटाया और उसकी चूत में उंगली डालकर उसकी चूत का चिकना पानी निकाला.

नई नई सेक्सी वीडियो - बीएफ सेक्स वीडियो सेक्स सेक्स

मैंने घड़ी की तरफ देखा, तब पता चला कि मुझे यहां आए करीब चार घंटे हो गए थे.काफी देर तक चुदाई होने के बाद निशा अपने हाथ से इशारा करने लगी कि वो शांत होने वाली है पर मैं उसकी बात समझे बिना उसकी चुदाई किए जा रहा था.

वो कभी लिंग दाएं, तो कभी बांए, तो कभी ऊपर, तो कभी नीचे करके मेरे योनि द्वार को ढूंढने लगा. बीएफ सेक्स वीडियो सेक्स सेक्स एकदम से हुए दर्द से पूजा चीखी और बोली- आह … मर गई … थोड़ा धीरे धीरे चोदो ना यार ….

” सर निश्चिंत बैठे हुए थे, ये सोच कर कि मेरी ‘सहेली’ है तो मेरे ही जैसी होगी.

बीएफ सेक्स वीडियो सेक्स सेक्स?

वो भी मेरे गले में बांहें डाले मेरे से एकदम चिपक गयी। उसे वैसे ही लेकर मैं कुर्सी पर बैठ गया। वो मेरे गले में बांहें डाले हुए थी. मम्मा मेरा लंड मुँह में लेकर चूसने लगीं और 2-3 मिनट में मैं भी झड़ गया. तभी उन्होंने दूसरा झटका मारा, तो मैं दर्द से बिलबिला उठी, मेरी आंखों के आगे अँधेरा छा गया, मुझे कुछ नहीं दिख रहा था, मेरी आंखें बंद हो चुकी थीं.

उन दोनों की चुदाई चल रही थी कि इतने में कोई बाहर कोई आ गया और उनको चुदाई बीच में ही रोकनी पड़ी. कुछ बातें ऐसी भी हैं, जो करने से औरत खुद पर काबू नहीं रख पाती, बेकाबू हो जाती है. मैंने कहा- जब इसकी बहनों पर हाथ मारोगे तब यह रोएगी नहीं क्या?वो बोला- मैंने कब इसकी बहन को कुछ किया है.

इस तरह से यह एक एक शब्द जो मैंने लिखा है, सब सच वैसा का वैसा ही हुआ था. आप अपने सुझाव या शिकायत मुझे मेरी मेल आईडी[emailprotected]पर कर सकते हैं. जैसे ही वह बेड से उठी, वीर्य उसकी चूत से निकल कर उसके दोनों पटों पर बहने लगा.

मैंने घबराकर पिंकी की ओर देखा कि कहीं उसके साथ भी ऐसा ही तो नहीं कर दिया. वैसे भी मैं अपने कॉलेज का हीरो था, पर मैंने अब तक कभी किसी लड़की को भाव नहीं दिया.

फिर अपने दोनों हाथों में मेरा लंड पकड़कर ऊपर नीचे सहलाकर मलहम लगाने लगी.

चूतड़ों को नचा-नचा कर आगे-पीछे की तरफ धकेलते हुए लंड को अपनी बुर में लेते हुए सिसिया रही थी शारदा चाची.

!!! ” एक गगनभेदी चीख़ वसुन्धरा के मुंह से फ़ूट पड़ी और वसुन्धरा मुझे अपने ऊपर से हटाने के लिए संघर्षरत हो उठी. जब तक मम्मी पापा और भाई नहीं आ गए, तब तक हर रोज रूपा मुझसे चुदवाने लगी. पीछे से आशीष मेरे दोनों दूध भी पकड़ कर पूरी ताकत से कसके दबाने लगा.

मैंने उसको इशारा किया और वो तुरंत मेरी गोदी में आकर बैठ गयी उसने अपनी चूत मेरे लौड़े पर टिकाई और जोर लगाया, परन्तु लौड़ा अन्दर नहीं जा रहा था. हम दोनों ने एक दूसरे को ओरल सेक्स देने के बाद एक दूसरे को किस किया और उसके बाद चुदाई की कबड्डी शुरू होने की स्थिति बन गई. मेरी भावनाओं को समझते हुए वो मुझे रोक ना पाईं और मुझे जाते हुए देखती रहीं.

उसने मेरी चूत को भी अच्छे तरीके से वैक्स कर दिया था!वैक्सिंग के बाद मैंने शावर लिया.

सर ने अचानक मेरे हाथ के नीचे से अपना हाथ निकाला और मेरा दायां स्तन अपनी हथेली में ले लिया. मैं एक फ़िल्मी गाना गा रहा था- तुम अगर मिल जाओ तो जमाना छोड़ देंगे हम. मेरे पति का लंड मेरी चुत में जिस मस्ती से अन्दर बाहर हो रहा था, उससे मेरी चुत से ‘पचपच.

राजे, कुछ देर गहरी गहरी सांसे ले कुत्ते … नहीं तो झड़ जायगा … हाँ ऐसे ही … और ले इसी तरह गहरी सांस. मैं उत्सुकता से प्रतीक्षा करने लगी कि कब वो मेरी योनि में लिंग प्रवेश कराएगा. ये कहानी मेरी और मेरे पड़ोस में रहने वाली लड़की परी (बदला हुआ नाम) की है.

ऐसे में जब नीचे जोर से पटेल मेरी चुत चाटना शुरू रखा, तो मेरी चुत में कुछ हरकत सी होने लगी और अब मेरे बदन में आज पहली बार एक नई फीलिंग आई.

जब आरती की माँ कुछ जानना चाहा तो मैंने धीरज की बहुत ही तारीफ की और उनके मन में ऐसे लड़के को अपना दामाद बनाने की इच्छा होने लगी. फिर रोहन और जॉन भी बेड पर आ गये और मेरे मुंह में दोनों ने फिर से एक साथ लंड डाल दिये.

बीएफ सेक्स वीडियो सेक्स सेक्स पर जैसे ही मेरा हाथ मेरी साड़ी के अन्दर घुसा, चुत पर उगे हुए हल्के हल्के बालों ने मेरा रास्ता रोक दिया. उसकी मस्त चूचियों को कभी मैं मुंह के अंदर भर लेता तो कभी निप्पलों पर अपनी जीभ चलाने लगता.

बीएफ सेक्स वीडियो सेक्स सेक्स वो पूछने लगी- आंटी कब आएंगी वापस?मेरा जवाब सुनकर उसने एक-दो बात इधर-उधर की ही की और फिर वो अपने घर चली गई. मैंने अपने दोनों हाथों से उसकी कमर को पकड़ रखा था ताकि लंड गांड में ही रहे बाहर ना आए.

रवि मेरा अच्छा दोस्त बन गया। रवि की बहन का नाम सुषी था और वो 22 साल की थी। सुषी के बारे में आप को बताऊं तो सुषी का फिगर शायद 32-28-34 का होगा। उसकी हाइट 5 फीट 5 इंच की थी.

हीरोइन की नंगी फोटो

उसने मेरी चूत को एक कपड़े से साफ़ किया और उसके बाद वो अपना लंड मेरी चूत में डाल कर मुझे चोदने लगा. लेकिन जब भी नया लण्ड मिलता है तो ऐसा लग रहा है कि पहली बार चुद रही हूं. जब इसको चुदने की इतनी प्यास लगी है तो बिना कंडोम के करवाने में क्या दिक्कत है.

मैं भी उसे गटक गयी और लण्ड का टोपा चाटने लगी।तब वहां से चली।बस इसी में थोड़ा देर हो गयी।अम्मी बोली- ठीक है रेहाना … पर ये तो बता कि उसका लण्ड कितना बड़ा है?मैंने कहा- लण्ड तो बड़ा मोटा तगड़ा है. हां इतना पता चला कि उसका आदमी अब वो मजा नहीं देता था, जो कभी दिया करता था. मैंने भाभी का हाथ पकड़ते हुए कहा- भाभी, पहले हमसे तो रंग लगवा लो, फिर नहा लेना.

भीतर जाकर वाशरूम का दूसरा दरवाजा और कुंडी भी खोल दी जो वाशरूम के अंदर से ही खुलता और बंद होता है.

मैं रूम में जाकर बैठ गया और शीतल घुटनों के बल चलती हुई रूम में आने लगी थी. अब मैंने अपना लंड धीरे से मायरा की चुत पर टिकाया और एक झटके में पेल दिया. हमारी जीभें एक दूसरे के मुँह में एक दूसरे के रस का मजा लेने लगी थीं.

अचानक से मेरी आंखों पर सामने से आ रही बस की लाइट पड़ी और मेरी तंद्रा भंग हो गई. जब गांड मराने की इच्छा होती है, तो बिना मराए चैन नहीं पड़ता है … और फिर मन पसन्द लंड गांड में जाए, तो क्या कहना. कुछ ही देर में उसका दर्द मजा में बदल गया और अब वो अपनी कमर उठा उठा कर चुदाई का मजा ले रही थी.

ब्वॉय्स और गर्ल्स के लिए हॉस्टल भी नए बना दिए गए थे … जो कि स्टूडेंट्स की संख्या से काफी बड़े और ज्यादा कमरों वाले थे. अब संगत का असर कब तक नहीं होता, रिम्पी की दोस्ती का असर मेरे ऊपर भी होने लगा और मैं भी रिम्पी के साथ रहते रहते उसके भाई कुलीन से पट गयी.

उसे मेरी चुदाई में बहुत मजा आ रहा था क्योंकि मेरी गांड एकदम टाईट थी. अब आगे गरम भाभी बस सेक्स कहानी:मैंने अपना चेहरा उसके कंधे से हटाकर बिल्कुल उसके गाल के पास अपना गाल कर टच कर दिया. एक बार मैंने उसे गर्म करके चोद दिया तो उसे चुदाई में मजा आया और वो लंड मांगने लगी.

दिलिया उन्हें पीछे करते हुए मेरी छाती पर अपने हाथ रख देती थी मैंने भी अपने चूतड़ उठा कर उनका साथ दिया.

इधर यह मेरी पहली कहानी है, इसलिए कोई भूल दिखे, तो मुझे माफ़ कर देना. भाभी ने जैसे ही मेरा हाथ गले में डाला, मेरा हाथ उनके चूचों पर चला गया. मैंने अपनी मम्मा की चूत की फांक पर अपना लंड रखा और एक झटके से लंड को अन्दर दबा दिया.

पापा ने मेरी टांगों को पकड़ा और दस-बारह धक्के बहुत ही जोरदार तरीके से लगा दिये. मैंने सोनू के दोनों चूचों को अपने हाथ से दबाया और एक झटके में पूरा लंड अंदर बैठा दिया.

चूमने के कारण उन्हें गुदगुदी होने लगी, तो वो अपनी कमर ऊपर नीचे करने लगीं. अब आगे हॉट भाभी Xxx चुदाई कहानी:सरिता मेरे पास आकर मेरे गले में अपने हाथ डालकर और अपने दोनों पांव फैलाकर मेरी जांघों पर बैठ गयी. उसने पिंकी भाभी की चुत में 7-8 पिचकारियां छोड़ दीं और पिंकी के ऊपर ही ढेर हो गया.

बच्चों के हाथ पैर में पसीना आना

पहले तो थोड़ी देर मैंने उनके चूतड़ों को हाथ से मसला, फिर अपने मुँह से उनके चूतड़ों को चूमने लगा.

इस कहानी में मैं अपनी सहेली से दोस्ती की और हम दोनों में इतनी अधिक दोस्ती हो गयी कि मैं अपनी सहेली के भाई से चुद गयी. फिर जब कभी उसका कोई ब्वॉयफ्रेंड उसके घर आ जाता, तो रिम्पी मेरे सामने ही अपने उस ब्वॉयफ्रेंड को किस कर लेती थी. मैंने धक्का मारके अंकल से छूटने की कोशिश भी की, लेकिन मर्द की बांहों से छुटकारा पाना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन होता है.

ठंडी का मौसम उस पर गर्म चाय और पकौड़े मन प्रसन्न करने के लिए और क्या चाहिये. चूंकि मेरा काम मसाज का था इसलिए मेरे जमीर ने मुझको उनकी मसाज करने को भी अन्दर ही अन्दर मना कर दिया था. 10 साल लड़की के सेक्सी वीडियोउस एक बूंद के गिरते ही वो मेरे स्तनों के ऊपर गिर पड़ा और हाँफते हुए सुस्ताने लगा.

अंकल का स्वभाव अच्छा था, तो मैंने उनको सब कुछ बता दिया और अंकल मेरे पास आकर बैठ गए. मैं मामी को खींच कर अपने ऊपर ले आयी और अपने ऊपर लेटा लिया और उनकी दोनों चूचियों को बाहर निकाल लिया.

अब मैंने भी बेशर्म होने की सोची और खड़े खड़े ही स्कर्ट के अन्दर हाथ डालकर मेरी पैंटी उतारकर अंकल के हाथ में थमा दी. कुछ ही पल बाल भैया ने लंड को भाभी के मुंह से निकलवा दिया और उसके गीले होंठों पर फिराने लगे. मैंने एक हाथ उसकी कमर में डालकर उसे सहारा दिया और दूसरे हाथ से अपना लंड पकड़ कर सुपारे को चूत के छेद पर रगड़ने लगा.

मैंने मम्मी से कहा कि आपकी आंखों की पट्टी हटा दूँ?वो बोलीं- हां ठीक है. तब नीरजा दर्द से कराहते हुए बोली- साली बच्ची नहीं है, तो आ जा अन्दर … लेकर देख अपने भईया का … कितना मोटा लेकर बैठा है ये … साली सोनू रंडी, तूने मरवा दिया आज … मेरा भईया ऐसे हैं वैसे हैं … बहुत अच्छे हैं … इससे सैटिंग करके देख … खुश रहेगी. पापा का बिजनेस अच्छा चलता था, तो बचपन से ही हमें किसी चीज की कमी नहीं थी.

खाना खाने के बाद वो बेड पर लेट गयी और उसने मुझसे भी बोला- आ जा इधर यहां आकर ही सो जा, बाहर बहुत गर्मी हो रही है.

ये मुझे इसलिए मालूम हो गया था क्योंकि मुझे कई बार बाथरूम में मूली और गाजर मिलती थी. उसके कंधे मैंने अपने हाथों से पकड़े हुए थे, क्योंकि मुझको पता था कि क्या होने वाला था.

मैंने सच में उससे इस वक्त भी यही झूठ बोली, तब वह और मुझे कस के पकड़ के रगड़ने लगा. दूजे! यह मौका ही ठीक नहीं था, प्यार सहज़ भाव से किया जाता है और जल्दी-जल्दी योनि-भेदन कर स्खलित होना तो निरी पशुता है. श्वेता ने मुझे बताया था कि शुभी पहले भी अपने बॉयफ्रेंड के साथ चुद चुकी है.

जैसे ही मैंने अपना हाथ उसके लंड पर रखा, मुझे अहसास हो गया कि इसका लंड भी धीरज से कम नहीं है. लेकिन अब वसुन्धरा को इस से कोई ऐतराज़ नहीं था, वो कभी अपनी उँगलियों के पोरुओं से मेरे मेरे प्री-कम से सने हुए लिंग-मुंड को दबाती और कभी अपनी उंगलियों की गोलाई में मेरे लिंग को दबा दबा कर लिंग की जड़ तक ले जाती और मैं अपने बाएं हाथ से वसुन्धरा की पेशानी से लेकर वसुन्धरा का सर धीमे-धीमे सहला रहा था. मन कर रहा था कि अंजलि को अभी चोद दूँ, पर कुछ सोच कर छोड़ दिया और सो गया.

बीएफ सेक्स वीडियो सेक्स सेक्स वो ‘राज नहीं … राज नहीं …’ करती रही लेकिन इस ‘ना ना’ को मैंने अनसुना कर उंगली उसकी चूत में डाल कर उसे और उत्तेजित करना चालू कर दिया. इसके साथ साथ जो पाठक हैं उन्हें खुद ब खुद आभास हो जाता है कि कहानी सच है या झूठ.

एचडी सेक्स वीडियो डाउनलोड

पांच मिनट बाद मैं उसके ऊपर से उतरा तो देखा कि मेरा लंड उसके खून में सन चुका था. अब आगे:रीना को पट्टी बांधने के बाद कुछ पता नहीं चल सकता था कि अब कमरे में क्या हो रहा है?वह किसी को देख भी नहीं सकती थी।12:00 बजने में अब केवल 10 मिनट बाकी थे। वीणा और विक्रम दरवाजे के बाहर ही खड़े मेरी हरी झंडी का इंतजार कर रहे थे। मेरे निर्देशानुसार दोनों चुपचाप कमरे में आ गए। दोनों को प्लान के अनुसार कुछ बोलना नहीं था. वसुन्धरा ने तत्काल अपनी दोनों टांगें हवा में उठा कर मेरे लिंग का अपनी योनि के मुख पर स्वागत किया.

काफी देर तक उसके मम्मों को चूसने के बाद मैंने उसके पेट पर चूमना शुरू किया और उसकी नाभि में अपनी जीभ घुसा दी. एक तो वो अपने सास के साथ थ्री-सम करना चाहती है और दूसरा अपने सामाजिक पति के साथ चुदना चाहती है. सरस्वती मां का गानाजैसे ही डोरियां खुलीं, ब्लाउज नीचे गिर गया! उसने ब्रा नहीं पहन रखी थी और उसके गोरे-गोरे, सुडौल, बड़े-बड़े मम्मे मेरे सामने थे.

उन्होंने अपना हाथ पिंकी की जाँघ से नहीं हटाया।पिंकी के चेहरे से मुझे साफ लग रहा था कि वो पूरी तरह विचलित हो चुकी है मगर शायद पेपर करने का लालच या फिर उसकी उम्र या फिर दोनों ही कारण थे कि वह चुप बैठी अब भी लिख रही थी.

दूसरी तरफ मम्मा मेरे लंड को लॉलीपॉप की तरह मज़ा लेते हुए चूस रही थीं, हम दोनों जन्नत की सैर पर थे. मेरी जीभ लगते ही उन्होंने अपनी आंखें बंद कर लीं और मादक सिसकारियां लेने लगीं.

परंतु आज मेरी वजह से उनकी जिंदगी में थोड़ी बहुत खुशियां लौट आई थीं और मेरे लिए यह फक्र की बात थी कि मैं उनकी खुशियों का कारण बन सका था. खैर … फिर मैंने आंटी से कहा- जी आंटी बताइए, क्या काम था?उन्होंने कहा- मुझे बाज़ार से कुछ सामान मंगवाना था और अल्मारी के ऊपर अचार की बर्नियां रखी हैं, उन्हें उतरवाना था. उन्होंने घुटनों के बल बूथ कर मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगीं.

अब मेरे मन में भी एक जिज्ञासा पैदा होने लगी थी कि पापा मेरी माँ की चूत को किस तरह चोदते होंगे.

उनकी योनि रस से इतनी लबालब भरी थी कि जब जीभ को योनि से दूर ले जाता … तो कामरस का धागा दूर तक बन जाता. ‘और फेरों का क्या सौम्या डार्लिंग?’मेरी मम्मा- फेरे बाद में कर लेंगे, यहां आग कैसे जलाएंगे. भाईदूज वाले दिन लंड के सुपारे पर तिलक करवा कर वो मेरी चूत पेलता था और कहा करता था- देख ले साला यह लंड पूरा बहनचोद है.

मानवी चौधरीमैं हवस के सुरूर में भरा हुआ सा उसकी चूचियों को सहलाने लगा और अगले ही पल उसके कमीज को उठाकर उसके निप्पल्स पर अपने होंठ रख दिए. उसकी टाइट सी चूत को अपनी आंखों से निहारने की ख्वाहिश मेरे दिल में ही रह गयी.

सेक्स छोटी लड़की का

मेरी शादी को 2 महीने हो गये थे, अब मेरा लंड फड़फड़ा रहा था किसी नयी लड़की की बुर की सील तोड़ने के लिये!संयोग से मेरी साली जो 19 वर्ष की थी, जिसका नाम ऋतु था, वो एग्जाम देने मेरे घर आयी. फिर करीब और 10 मिनट की चुदाई के बाद रितेश और मीरा एक साथ ही झड़ गए. ये कह कर भाभी ने सामने की बेंच पर रखे अपने बैग्स अपने पास रख लिए और मेरे लिए जगह बना दी.

मैं चड्डी में खड़ा था मेरे सिक्स पैक और खड़ा लंड देखकर वो देखती ही रह गयी. सुबह उठ कर मैंने दोनों दिलिया, सारा और गुलाबो को अपनी कसम दी कि वह मेरे लंड के सूजने और न बैठने की बात खास कर परिवार में किसी को नहीं बताएंगी क्योंकि खानदान के लोग बेकार में फ़िक्र करेंगे. वसुन्धरा की योनि से निकलते काम-ऱज़ और मेरे लिंग से निकले प्री-कम के कारण मेरे लिंग का उसकी योनि में आवागमन थोड़ा आसान हो गया था.

अपना हाथ नीचे उसकी सलवार तक ले गया और धीरे-धीरे उसकी सलवार का नाड़ा खोल दिया. बस ब्यूटी पार्लर जाकर थोड़ा सा मेकअप करवा लो और स्टेप कट बाल कर लो. मैं बोली- आशीष मुझे छोड़ दो, जाने दो यह मत करो, मत करो मुझे बहुत दर्द हो रहा है … मैं मर जाऊंगी, ये तूने बहुत तेजी से क्या डाल दिया आशीष.

एक दिन मैं टेलर से अपने कपड़े लेने गया तो वहां एक साहब मुझे देखकर मुस्कुराने लगे. मैं उनके रसीले होंठों को आम की तरह चूस रहा था और भाभी मेरी जीभ चूस कर मज़े ले रही थीं.

भले ही मीरा ने अपने प्रेमी से पहले कई बार चुदवाया था और कई बार अपनी जवानी में ग्रुप सेक्स भी किया था.

सामने से उसकी क्लीवेज दिख रही थी और दूध जैसे गोरे रंग के उरोज़ों की थोड़ी झलक भी मिल रही थी. सट्टा सुपर पंजाबअब तो ऐसा मन कर रहा था कि चाहे जो हो जाए, आज तो इसकी चूत को चोद ही दूँ. सेक्सी वीडियो अंग्रेजी वीडियोमैंने राशि की गांड पर जोर से एक तमाचा मारा और उसकी गांड पर चिकौटी काटकर बोला- मेरी रसमलाई, आज से मिशन चूचे शुरू! दस दिन में तेरे चूचे डबल न कर दूं तो नाम बदल देना! चाहे ग्याहरवें दिन तेरी आशा भाभी से चूचों का कम्पिटीशन कर लेना, मैं और तेरे भैया रिजल्ट दे देंगे!इतना बोलकर मैंने उसकी गांड सहलाते हुए उसके चूचों को अपने होंठों से मसलना शुरू किया और राशि भी मेरा लंड एक हाथ से सहला रही थी. वह एक्ट्रेस उस नीग्रो का मूसल सा लंबा और काला लंड बड़े चाव से चूस रही थी और फिर वह नीग्रो उसे मस्ती से चोद रहा था.

अब सारी बात मेरी समझ में आना शुरू हो गयी थी कि आखिर क्यों मोनी ने मुझे कॉन्डोम लगाने से मना कर दिया और वह बिना गर्भ निरोधक के ही मेरा मूसल लंड अपनी चूत में लेने के लिए तैयार हो गई.

मैंने कहा- अगर तुम शुभी को मुझसे चुदवाओगी तभी मैं तुमसे बात करूंगा और तभी हमारा रिश्ता आगे बढ़ेगा. अब उसके दिमाग में कुछ और चलने का मुझे अंदेशा सा होने लगा था क्योंकि जब मैं उसके रूम पे जाती, तो वह टी शर्ट नहीं पहनता था, सिर्फ हाफ पैंट में ही रहता. वह बोली- नहीं, अगर चूत में करना है तो ठीक है नहीं तो फिर यहीँ पर बंद कर देते हैं सेक्स.

फिर आपके मतलब का एक वीडियो भी है जिससे वो नामर्द आपकी मुट्ठी में आ जाएगा. पता नहीं क्यों पर मुझे उस डॉक्टर का ये व्यवहार जरा भी पसंद नहीं आया. हम दोनों कराह रहे थे ‘आआह ह ऊऊह्ह …’कुछ देर में वह फिर घूमी और अपनी पीठ मेरी ओर कर दी.

नागालैंड के सेक्स वीडियो

मेरी सैलरी बहुत ही कम थी, मात्र 10000 रूपए मिलते थे, जिसमें से 3000 मेरा पीजी का किराया खाना आदि का लगता था और बचते थे 7000, जिनको मैं अपने घर पर दे दिया करता था. आप सभी का दिल से आभार प्रकट करते हुए एक नयी कहानी आपके समक्ष प्रस्तुत करता हूं. मैं अभी उन्हें देख ही रहा था, तभी उस लड़की के पापा ने मुझे बुलाया और कहा- बेटा क्या आप हमारी थोड़ी हेल्प कर दोगे?मैंने हां में सर हिलाकर उनकी मदद करने लगा.

उसने मेरी चुत को हाथ से सहलाया और चुत के नीचे से अपना हाथ डाल के मेरी गांड तक ले गया.

मुझसे क्यों शरमा रहे हो? अभी तो हम दोनों के अलावा यहाँ पर कोई भी नहीं है.

मैं ऑफिस जाने के लिए घर से निकला तो मुझे जानकारी हुई कि स्कूटी की ब्रेक काम नहीं कर रहे हैं. उन अंकल जी को मैं जाते हुए पीछे से देखती रही जब तक वे आँखों से ओझल न हो गए. तेरी आज्ञा का यो काजलघर दिल्ली के सबसे बड़े और मशहूर हॉस्पिटल के पास ही है इसलिए आसानी रहेगी.

वो अब रेड कलर की ब्रा और ब्लैक कलर की पैंटी में थी 36डी साइज के बूब्स को मैं ब्रा के ऊपर से ही मसलने लगा, वो आंखें मूंदे हुए बस बड़बड़ाये जा रही थी. मैंने जोर-जोर से लंड को हिलाना शुरू कर दिया और उनकी चूत को चोदने के बारे में सोच कर मुट्ठ मारने का मजा लेने लगा. तुम्हारा लंड बहुत जोरदार है और मेरी चूत तो तुम देख ही चुके हो, यह भी तुम को मस्त रखेगी.

आज मैंने पहली बार किसी लड़की को पूरा नंगी देखा था और वो तो एकदम जन्नत की हूर लग रही थी, उसके गोल-गोल छोटे-छोटे मम्मे क्या मस्त लग रहे थे. उसकी चूत में जाते हुए लंड का घर्षण मुझे उसकी चूत को फाड़ने के लिए मजबूर कर रहा था.

उसकी चूत पर हल्के हल्के बाल थे, मैंने उसकी चुत को बड़े मजे से चूसा और फिर उसको अलग कर दिया.

हम दोनों के बीच में तकिया रखकर भावना वहीं बेड पर मेरे साथ में लेट गई।उसके पास लेटते ही मेरा लंड खड़ा हो गया. किस करते करते मैंने प्रिया की साड़ी उठाई, उसने नीचे पेटीकोट नहीं पहना था. अब निशा ने मेरे लोअर को नीचे कर दिया और मेरे लंड को पकड़ कर आगे पीछे करने लगी.

सेक्स वीडियो कार्टून में स्नेहा बोली- हां हां, ये मुझे भी जानना है!मैंने उन दोनों को बायो के विषय में कुछ समझाया और उनकी उस समस्या को पूरे विस्तार से समझाना शुरू किया. अच्छी तरह से देख कर मैं रूम से बाहर आया और रूम के बाहर ताला लगाकर खिड़की से रूम के अन्दर आ गया.

मैंने भी बिना देर किए उनकी बुर में अपना पूरा 7 इंच का लंड घुसेड़ दिया. दिल्ली से भुवनेश्वर करीब 30 घंटे की यात्रा थी और ट्रेन भी करीब 10 घंटे लेट थी. मैं मम्मी मम्मी चिल्लाने लगी … तेजी से रोने लगी, पर आशीष ने मेरी गांड में अपना लंड रगड़ना और अन्दर बाहर करना जारी ही रखा.

गले का टैटू

मन में पूजा की चूत में लंड को डाला तो लंड ने नीचे बहते हुए पानी में थूक दिया. फिर मैंने उसकी टी-शर्ट को थोड़ा खिसका कर अन्दर हाथ डाल दिया और उसकी कमर को धीरे-धीरे सहलाने लगा. मैंने अपनी मम्मा की चूत की फांक पर अपना लंड रखा और एक झटके से लंड को अन्दर दबा दिया.

उस रात सुबह तीन बजे तक हमारी चुदाई चली।उसके बाद पूजा की चूत की पूजा करने के लिए मेरे वासनामयी लौड़े ने कौन-कौन से जतन किये वह सब मैं आपको आगे की कहानियों में बताऊंगा. मैंने बोला- ऐसा नहीं है मम्मा, आप सच में बहुत खूबसूरत हो … इतनी कि मैं आपसे शादी कर लूं.

मैं दूध पी रहा था, तब वो अपनी चूत देख कर बोली- बाबू सूज गई है … देखो ना!ये बोल कर उसने मेरे सामने अपनी नन्हीं सी चूत रख दी.

शायद उसकी छोटी और कड़क चूत चाटने कर मुझको मजा आ रहा था, तभी मैं बारी बारी से उसकी दोनों संतरे जैसी गुलाबी फांकों को अपने होंठों में लेकर चूसने लगा. अब आगे भाई बहन Xxx स्टोरी:मैं- प्रिया, कुछ खाने का मन है?प्रिया ने मुस्कुराते हुए अपनी टांगें खोल दीं- आज इसे खा लो जी भरके!मैंने देखा कि उसकी चूत पर एक भी बाल नहीं था. इस बार मुझे नहीं पता कि अनजाने में या जानबूझ कर आंटी ने अपना हाथ मेरे लंड से छुलवा दिया.

बदले में मोनी ने भी अपनी जीभ की हरकत दिखाई और उसने भी मेरा साथ देना शुरू कर ही दिया. फिर भाभी पानी लाकर मेरे पास आकर बैठ गईं और हम दोनों बातें करने लगे. पाण्डे जी बोले- तू क्या चाहता है कि मैं उससे कहूँ जा कर कि विशू को तू अच्छी लगती है और वो तुझे चोदना चाहता है?मैं बोला- पाण्डे जी, वह आपका काम है लेकिन कुछ भी करके मेरी सेटिंग करवा दो.

लाइट और टीवी भी उसने खुद बंद किया और ऐसा करते ही मेरे अंदर वासना का भूत सवार हो गया.

बीएफ सेक्स वीडियो सेक्स सेक्स: कुछ ही देर में उसके चेहरे पर कुछ अजीब से भाव आए और एकदम से वो ढीली पड़ने लगी. एक दिन रिम्पी ने मुझे अपने घर बुलाया, तो मैं उससे मिलने के लिए उसके घर गयी.

एक दिन भाभी मुझसे बोली- आप भी इंजीनियर हो, तो सुरभि को कभी कभी किसी सब्जेक्ट में हेल्प कर दिया करो. लेकिन दिल में एक खुशी भी थी कि चलो इसी बहाने मैंने पम्मी आंटी को नंगी तो देख लिया. उसने भी अपनी चूत खोल दी और मेरी उंगली को चूत सहलाने के लिए चुदास जाहिर कर दी.

एक बार जब सारा मेरे लण्ड को सहला रही थी तो डॉक्टर जूली से उसकी नज़रें मिलीं और दोनों मुस्कुरा दीं.

करीब 15-20 मिनट बाद मौसी भी उसी कमरे में आईं और मम्मी को झकझोरते हुए कहने लगी- जीजी, अपने लिए जगह बना लिए और मेरे बारे में सोची ही नहीं. मतलब जितनी देर में एक मालगाड़ी बंद फाटक से निकलती है और फाटक खुलता है, उतनी देर में हम दोनों की क्रॉसिंग चुदाई हो जाती है. मैंने उसके हाथों को चूम लिया।स्थिति सामान्य पाकर मैं हल्के-हल्के धक्के लगाने के बारे में सोचने लगा और मैं स्थिति को भांप कर धीरे से हल्के धक्के लगाने चालू किये।प्रीति ने सिसकारियाँ लेना शुरू कर दिया- आहह … उम्म … ओहह … हूम्मम … याहहह.