डब्ल्यू डब्ल्यू एक्स बीएफ बीएफ

छवि स्रोत,12 साल की लड़की सेक्सी वीडियो हिंदी में

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी देहाती नया: डब्ल्यू डब्ल्यू एक्स बीएफ बीएफ, मम्मी भी पूछने लगीं- क्या हुआ?भाबी ने कहा- कुछ नहीं मम्मी जी … मैं कोई सपना देख रही थी.

ज्यादा सेक्सी होली

मैंने ये सब इसलिए किया था क्योंकि मुझे मालूम था कि पायल ने अपनी सहेली को सब बता ही दिया होगा कि आज क्या होने वाला था. सेक्सी पिक्चर वीडियो गांड मारने वालीन्यूड इंडियन वाइफ सेक्स कहानी के पिछले भागमेरी बीवी को मेरा दोस्त पसंद आ गयामें अब तक अपने जाना था कि मेरी बीवी के बाजू में मेरा दोस्त बैठ गया था और वो दोनों एक दूसरे के होंठों से होंठ लगा कर चूमाचाटी करने लगे थे.

मैंने शांत भाव से पूछा- पहले उसके पिता से तो पूछ लो, वो मुझे पसंद करते हैं कि नहीं. सेक्सी वीडियो दिखाएं लड़कियों काअब उसका मन गांड मारने से भर गया था तो उसने फिर जल्दी से शिल्पा को चित लेटा दिया.

हुआ यों कि कॉलेज खत्म होने के बाद में एक कॉम्पटीशन का एग्जाम देने अजमेर गया था.डब्ल्यू डब्ल्यू एक्स बीएफ बीएफ: उसमें पूछा गया था कि क्या पहले भी बॉडी मसाज कर चुके हो? मैंने मना कर दिया लेकिन साथ ही लिख भी दिया कि पहली बार में ही पूरी कोशिश करूंगा कि पूरी संतुष्टि दे सकूं.

उसके ऊपर दोस्ती का जो सुरूर हमने नक्की लड़ा कर बनाया था यह असर उसका भी था कि वो दोनों ही अपने टीशर्ट को उतार कर अपने स्तनों का माप देने के लिए हमारे सामने ही तैयार हो गईं.मैंने पूछा- आप पेपर नहीं देख रही हैं?तब उन्होंने थोड़ा उदास होकर कहा- नहीं, मेरे ससुर बहुत बीमार हैं … इसलिए मैं जल्दी घर चली जाती हूँ.

सेक्सी लडकीयो की चुदाई - डब्ल्यू डब्ल्यू एक्स बीएफ बीएफ

फिर वो लंड पर आई और उसने पहले लंड के टोपे को मुँह में लेकर चूसना शुरू किया.हम लोगों का जीवन बड़ा सुखमय व्यतीत हो रहा था लेकिन चार साल पहले कुछ ही दिनों के अन्तराल पर हम दोनों के साथ अचानक घटी घटनाओं ने हम दोनों का जीवन छिन्न भिन्न कर दिया.

पति के स्वर्गवास के बाद कभी सेक्स की इच्छा तो नहीं हुई, पर वो कहते हैं ना 30 से 40 की उम्र में शरीर में वासना अधिक बढ़ जाती है. डब्ल्यू डब्ल्यू एक्स बीएफ बीएफ मेरी गांड फटने के वजह से और भीगने के वजह से मुझे बुखार आ गया, तो मैं दो दिन स्कूल नहीं आयी.

मगर मेरे मन में डर भी था कि कहीं कुछ उल्टा हो जाये और फिर सब गड़बड़ हो जाये.

डब्ल्यू डब्ल्यू एक्स बीएफ बीएफ?

वो छटपटा रही थी- आहहहह आई … उउउइइइ … ओह्ह्ह्ह बहुत दर्द हो रहा है … प्लीज इसे बाहर निकाल लो … मुझे नहीं चुदना तुमसे … तुम बहुत जालिम हो … यह क्या लोहे की गर्म रॉड घुसा डाली है तुमने मुझमें … आह निकालो इसे … प्लीज बहुत दर्द हो रहा है … मैं दर्द से मर जाऊंगी … प्लीज निकालो इसे …उसकी आंखों से आंसू की धारा बह निकली. साथ में भाभी की चुत पर मस्त क्लिट को भी अपने दांतों से हल्के हल्के से काट कर रहा था. जब कुछ देर इसी तरह से बीत गयी तो वो मेरी चूत के पास पहुंच गई और चूत को खोल कर देखने लगी.

हाय तौबा … बचा लो मां … मुझे बचा लो … आईईईई ओओओह हाययययय मैं मर गई रे!बस इसी के साथ संगीता के भोसड़े का गर्म गर्म झरना फूट पड़ा. मुझे बहुत बुरा लग रहा था, तभी मुझे उल्टी हो गयी।फिर रोहित ने अपना लिंग और मेरी चूत को कपड़े से साफ किया. मैं दो घंटे पहले ही वहां पहुंच गयी और मैंने पूरी सोसायटी का जायजा लिया.

डॉक्टर साहब पूछने लगे- क्या अब भी शौक रखते हैं?मैं चुप रहा, फिर मुस्करा दिया. मैं भी उसके पजामे में हाथ डाल कर उसके चूतड़ छूने की कोशिश कर रहा था. बॉस अगले दिन शिफ्ट हो गया और उसने शायद अपने पेरेंट्स को कुछ दिनों के लिए बुला लिया था.

मगर आप सभी जानते होंगे कि किसी भी लड़की या औरत के साथ संबंध बनाना उसके चाहने पर ही बनाना चाहिए, ऐसा मेरा मानना है. सेक्स से ध्यान भटकाने के लिए मैं कॉर्स करने लगी।मेरे सास ससुर ने भी मेरा साथ दिया कुछ साल में मुझे रेलवे में टिकट काउंटर पर नौकरी मिल गई।मैंने तय किया कि अब गांव जाकर चुदाई नहीं कराऊंगी.

उसने जोर जोर से किलकारियां सी मारते हुए मुझे कसके पकड़ लिया और अपनी चुत के रस से रह रह कर मेरे लंड को नहलाना शुरू कर दिया.

अब समय था पूरा लंड अंदर तक डालने का; तो मैंने धीरे धीरे रफ्तार तेज कर दी और एकदम से जोर लगा कर अपना पूरा लन्ड उसकी चूत में डाल दिया.

मगर मैं ऊपर से बोल रही थी- उन्ह … यह क्या कर रहे हो?वो कुछ नहीं बोला और मम्मों को जोर जोर से दबाने लगा. मैं- भाभी, अभी कुछ सोचा नहीं है … लेकिन हां मेरा मन है कि उसके साथ शादी जरूर करूंगा. अगले दिन दोपहर को मीरा मेरे घर आई और बोली- विजय, मैं सारी रात सो नहीं पाई हूँ.

मां उनके दोस्तों को खाना खिलाने के लिए मुझे वहीं छोड़ कर रसोईघर में चली गई थी. पर उन लोगों ने ये तय किया कि अभी इस विषय में कोई जल्दीबाजी नहीं … अभी आपस में आत्मीयता और बढ़ने दो. हालांकि कुछ भी हो सकता था तो मैंने भाभी से दोस्ती करने से शुरुआत करने का तय कर लिया था.

पूरी तरह से चुदने के बाद मैंने फिर उससे कहा- तुमने बताया नहीं, कौन है … जो तुम्हारे दिमाग में घूम रही है?उसने कहा- तुम्हारी ननद अनन्या.

मगर अगले दिन‌ मैं कॉलेज जाने‌ लगा, तो बस स्टॉप ‌पर वो मुझे फिर से वहां मिल‌ गयी. थोड़ी देर बाद उसने कहा- ज़ोर-ज़ोर से करो … बहुत मज़ा आ रहा है … आहह … आहह … उम्म्ह … ह्म्म्म्म … आआह्ह ह्हहह्ह … फाड़ दो आअज … मेरी चूत को … उफ्फ्फ़ … ह्म्म्म जोर से … तेज्ज … मज़ा आ रहा है. विजय बोला- नहीं शालू, तुम मेरी मेहमान हो और मैं तुम्हारी इतनी सेवा करूंगा कि तुम मेरे मेहमानवाजी की कायल हो जाओगी.

मैंने अब निप्पल को छोड़कर उनके स्तन के नीचे के हिस्से को ऊपर उठाया और उसके नीचे की त्वचा को चाटने लगा. उसके कोमल से बदन का स्पर्श मेरे अंदर वासना की चिंगारी पैदा कर रहा था. दूसरी तरफ मेरा बहुत मन कर रहा था और अभी भाभी सेक्स के लिए तैयार नहीं थीं.

अपनी बायीं हथेली में थोड़ी सी शहद लेकर मैंने दायें हाथ के अंगूठे से रेखा की गांड के चुन्नटों पर शहद लगा दी और धीरे धीरे मसाज करने लगा.

अब जब मैं मंजिल के करीब पहुंचने वाला था तो मैंने मालू को घोड़ी बना दिया और पीछे से उसकी चूत में अपना लण्ड पेल दिया. मै तो सोच रहा था कि शायरा का दो बार रस निकल गया है और वो इस लम्बी चुदाई से थक भी गयी होगी.

डब्ल्यू डब्ल्यू एक्स बीएफ बीएफ जब पहली बार मैंने अपनी गर्लफ्रेंड के साथ सेक्स किया था, उसके बाद ऐसा मजा मुझे आज आया था. नंगा होने के बाद जब मैं रजाई में घुसा तो साली ने लंड को हाथ में पकड़ कर कहा- अरे बाप रे! इतना बड़ा! इतना मोटा.

डब्ल्यू डब्ल्यू एक्स बीएफ बीएफ फिर वो धीरे धीरे लूसी की चूत की ओर मुंह ले गया और उसकी चूत को चाटने लगा. मैं कुर्सी पर बैठा तो उसने एक निवाला मेरी तरफ बढ़ाया!ज़ारा- लो खाओ!मैं- थोड़ा प्यार से खिला दो यार!ज़ारा- प्यार से ही खिला रही हूं जान!मैं- इतना प्यार?ज़ारा- कम है? थोड़ा बेलन मिला दूं?मैं- नहीं! मेरे लिये काफी है!मैंने वो निवाला खाया और एक उसे खिलाकर खाना शुरु कर दिया.

मैं- श्वेता दीदी कहां है?दीदी- वो घर गई है … तैयार होने के लिए … तुम भी जल्दी तैयार हो जाओ.

कॉलेज की बीपी सेक्सी

राहुल- क्या करूं जान तुम महीने में एक बार तो मौका देती हो, वो भी तब जब विक्रम तुम्हें चोद ले … उसके बाद. मैंने अपने दोनों हाथ अब संजना की कमर पर रख दिये और उसकी कमर को जकड़ के पीछे से तेजी से धक्के देने लगा जिससे संजना की सिसकारियां चीखों में बदल गई थी. उसके वहां उतरने से मैं खुश हो गया था मगर जब उसे दूसरी तरफ जाते देखा, तो दिल फिर से मायूस हो गया.

उसने बोतल में से थोड़ा सा तेल मेरी गांड पर टपकाया और उंगली की मदद से तेल को मेरी गांड में भर दिया. न्यासा बोली- क्या हुआ? अभी तक तुम्हारा मेरे इन मोटे चूचों से मन नहीं भरा क्या?मैंने उसे चूम कर हां कहा और फिर से उसके निप्पल चूसने लगा. ऑफिस के कई लोग मुझे चोदना चाहते थे, लेकिन हिम्मत नहीं हुई किसी के साथ कुछ करने की … पर पता नहीं मैंने तुम में ऐसा क्या देखा कि तुम्हें मना नहीं कर पायी.

न्यासा उठने लगी, तो मैंने उसे अपने ऊपर दबा लिया और ऊपर नीचे करने लगा.

उसका जोश देखकर मैं भी धीरे धीरे अपने धक्कों की गति को तेज़ करने लगा, जिससे शायरा की गर्म सिसकारियां भी तेज हो गईं. उसके सिहरने का कारण था कि अनिल की उंगली उसकी चूत के अन्दर पहुंच चुकी थी. उस बंदे ने तीन चार जगह फोन घुमा कर हमारे लिए पास ही के एक होटल में ठहरने की व्यवस्था करवा दी.

पास में खड़ी दिव्या ने भाई को नीचे से नंगा होकर मेरी चूत में लंड डालते हुए देखा तो वो भी अपनी जीन्स को निकाल कर अपनी चूत में उंगली करने लगी. मैंने न्यासा की गांड में लंड आगे पीछे करना चालू किया, तो कुछ ही झटकों में उसकी गांड ने मेरे लंड के हिसाब से अपनी जगह बना दी और एक साथ गांड और चुत में लंड चलने लगे. वो भी मुझे चूमता हुआ कह रहा था- ना जाने कबसे आपको चोदने की लालसा लिए मैं मरा जा रहा था!उसने अपनी मम्मी की चूत को इतने मस्त तरीके से चूसा कि मैं 10 मिनट में ही झड़ गई.

वो बोली- उस साले कुत्ते मेरे बीएफ ने मुझे इतनी देर कभी नहीं चोदा और मुझे इतना मज़ा भी कभी नहीं आया था. कुछ दिन के बाद पति ने पूछा- प्रीत योगा कैसा करवा रहा है?तो मैंने भी उनको कह दिया- बहुत अच्छा करवा रहा है.

चाची- नहीं रहने दे, तू तो मेरा आशिक़ है … तुझे जैसा मन करता है, वैसे कर ले, मैं तो तेरी हूँ. कुछ मिनट बाद सर ने मेरे मुँह से अपना लंड निकाल लिया और फिर से मेरी चुत चाटने लगे. फिर यूं ही दिन निकलने लगे, अब मेरी निगाहें चाची के जिस्म को टटोलने लगी थीं.

उसने मेरी सेक्स स्टोरी के बारे में पूछा कि ये सेक्स स्टोरी रियल है या फेक है.

मगर अगले दिन‌ मैं कॉलेज जाने‌ लगा, तो बस स्टॉप ‌पर वो मुझे फिर से वहां मिल‌ गयी. वो मेरी चूत के होंठों पर उंगली फिरा रहा था और मेरे जिस्म में करंट सा दौड़ रहा था. जिससे वो बिन पानी की मछली को जैसे अचानक से पानी मिल जाए, जैसी हो गई … और मेरे होंठों को लगातार चूसने लगी.

फिर मैं जैसे ही अपने कपड़े उठाने के लिए नीचे झुकी, उसने अपना लौड़ा मेरी गांड में डाल दिया. मगर हिम्मत करके उसने पूछा कि क्यों?रवि बोला कि मैं किसी पार्टी के साथ अभी वहां आया था, तेरी गाड़ी पार्किंग में देखी.

मेरी धमकी से वो डर गया और बोला- सर मम्मी को मत बोलना, वो बहुत मारेंगी. आह … जूली का पेटीकोट नीचे गिर गया था और एक लाल रंग की नई नकोर पैंटी में उसका वो त्रिकोण मुझे पागल कर ही रहा था कि तभी जूली ने अपने मम्मों पर लटके ब्लाउज को भी तिरस्कृत कर दिया. तेरे दिए हुए 70000 से कर्ज़ा उतरा है, तब जाकर कुछ राशन पानी मिला है.

किस करते हुए दिखाइए

मैं अपनी बीवी के साथ जब ससुराल पहुंचा था, तो उस वक्त रात भी काफी हो चुकी थी.

मैंने ना‌ तो टिकट‌‌ व पैसों को उठाया … और ना ही अपने पर्स को उठाया. वंदना ने रूम बुकिंग के बारे में रेसेप्शननिस्ट से बात की तो बोली- आपका रूम नंबर 202 है और वो खुला ही है. एक पल रुकने के बाद मैंने उसकी टी-शर्ट को उठा कर उसके मम्मों को नंगा कर दिया.

कुछ देर बाद उसका लंड चूसने की मेरी बारी थी … मैंने उसका बड़ा सा लंड एक ही बार में अपने गले तक उतार दिया. उसके पति के घर में और कोई रहने वाला तो था‌ नहीं, इसलिए नौकरी‌ लगने के बाद से वो यहां आकर रहने लग गई. सेक्सी वीडियो भेजो गणेशमैं खुद हैरान था कि मेरा लौड़ा उस दिन नसों के एक्स्ट्रा फूलने से बहुत ही बड़ा, मोटा और विकराल लग रहा था.

लेकिन पता नहीं वह सच बोल रही थी कि झूठ?या फिर पहले से ही दोनों की प्लानिंग थी?दोस्तो, आप लोगों को क्या लगता है? आप लोग मुझे मेल करके बताना।जब उसकी मामा की लड़की अन्दर कमरे में गयी तो उसकी नजर मेरी पुरानी वाली ब्रा पैंटी पर पड़ी. मगर वो साला ठहरा 55 साल का बुड्डा और मैं 27 साल की माल दीखने वाली लड़की जिसकी हवस सिर्फ एक जवान मर्द ही मिटा सकता था.

बड़े बड़े स्तन थे उनके और वो इतने टाइट ब्लाऊज पहनती थी कि बटन टूटने को हुए रहते थे. मेरे गहरे गले वाले कुरते से मेरे बड़े बड़े चूचे देख कर कोई भी फिसल जाता था, तो ये तो सर ही थे. अब मैंने उसको घुमाया और उसकी पीठ को अपनी ओर करके उसकी ब्रा को खोलने लगा.

5 मिनट वो मेरे लंड को अपनी फुदी के अंदर बाहर करती रही।अब मैंने उसे रोका और अपने ऊपर लिटा लिया। मैं यास्मीन की गांड दबा रहा था और उसके होंठ चूस रहा था।यास्मीन की गांड बहुत सेक्सी थी. वो पूरा लंड अपने मुँह में घुसाना चाह रही थी, लेकिन लंड लम्बा था, तो उसके गले तक पहुंच कर रुक जा रहा था. मैंने उसे कहा आंख मारते हुए गाने बोल सुनाए- तारीफ करूं क्या उसकी … जिसने तुम्हें बनाया है.

इस पर वो तड़प कर रह गये और पास आकर गिड़गिड़ाते हुए बोले- जान, ऐसा मत कर! बहुत दिनों का प्यासा हूँ.

उसने अपनी टांगों को मेरी कमर से लपेट दिया और मुझे जोरदार चुम्मा दिया. इसलिए उस मूवी से मैं अब इतना प्रभावित हो गया कि मैं खुद को इमरान हाशमी और शायरा को मल्लिका शेरावत समझ‌ने लगा.

आज रंगोली को कमरे में आया देख कर मेरी चुदाई की मुराद पूरी होते दिखने लगी थी. मेरा मन होने लगा कि अभी इसी समय यास्मीन को आगे झुकाकर गांड पकड़ कर अपना लंड चूत में डाल दूँ।मैंने काफी चूतें मारी हैं लेकिन आज तक इस बिरादरी की किसी लड़की की फुदी नहीं मारी।उसका फिगर 36 – 30 – 36 थी, जो मुझे बाद में पता लगा।इस तरह हर शनिवार और रविवार को मैं जाने लगा. तुम अब से मेरी रांड बनकर ही रहोगी … ले मादरचोद … और फैला अपनी चूत को … अभी तो तेरी चूत मारने के बाद तेरी गांड भी मारूंगा साली.

मैं और दिव्या जीन्स खोल कर बैठ गई और भाई ने भी अपनी पैंट की जिप खोल ली और हमारे साथ ही नीचे बैठ कर मूतने लगे. क्योंकि इतने समय में आप अनुमान लगा सकते हैं कि मैंने कितने नए लोगों को अपनी चूत के महासमुद्र में गोते लगाने दिए होंगे?और कितने ही नए-नए ताजा-ताजा कड़क लौड़ों का अमृत पिया होगा।मेरी कहानियों को पढ़कर मेरे चाहने वालों के हजारों मेल और मैसेज आते हैं, मैं सब का रिप्लाई नहीं दे पाती. मैं चूत को अपनी जीभ से रगड़ रहा था। पहले जीभ को ऊपर से नीचे लाता, फिर नीचे से ऊपर लेकर जाता.

डब्ल्यू डब्ल्यू एक्स बीएफ बीएफ एक लड़की से सेक्स करने में मुझे जब अधिक मजा आता है, जब उसका पति सामने हो और वो अपनी बीवी को मुझसे चुदते हुए देख रहा हो. उसे जोर की पेशाब आई थी और वो पेशाब करने के बाद आकर मेरे बगल में लेट गई।कुछ समय बाद हमने फिर से एक लंबी चुदाई की और फिर सो गए।अगले दिन हम दोनों वापस आने शहर लौट आये।इस तरह हम लोग चुदाई का मौका मिलते ही एक दूसरे की इच्छाओं को पूरा करने लगे। बल्कि यों कहें कि हम डेली सेक्स का मौक़ा निकाल लेते थे.

हिंदी सेक्सी छोड़ि छोड़ा

मैंने मना किया तो बोलीं- क्यों डर लग रहा है क्या मुझसे?मैंने कहा- नहीं मामी, ऐसी कोई बात नहीं है … मैं आपके पास ही सो जाऊंगा. दोपहर करीब बारह बजे वापस आया और खाना खाकर लेट गया!मैं- ज़ारा, मुझे नींद आ रही है तुम मुझे तीन बजे उठा देना!ज़ारा- क्यों कहीं जाना है?मैं- हां मिलना है किसी से!ज़ारा- किससे मिलना है?मैं- यार एक तो तुम आजकल सवाल बहुत ज्यादा करने लग गयी हो!ज़ारा- मैं तो बस ऐसे ही पूछ लेती हूं! आप ही आजकल चिड़चिड़े हो गये हो!मैं- छोड़ो तुम! बस मिलना है किसी से!ज़ारा- फाईनेंसर से?पकड़ा गया. सास जैसे ही घोड़ी बनी तो मैंने अपने लंड पर थूक लगाया और पीछे से उंगली करके सास की गांड में भी थूक लगा दिया.

मेरी लंबाई कम थी, तो मेरे लिए ये आसान था कि मैं उस कामुक स्थान तक आसानी से पहुंच सका. देसी Xxx स्टोरी में पढ़ें कि मैं और बहन एक दूसरे के गर्म जिस्म से ओरल सेक्स का मजा ले चुके थे. सेक्सी मूवी ऑडियो मेंमैंने अपने लंड को उसकी चुत के छोटे से छेद में जैसे ही प्रवेश करवाया.

मैंने पहले तो शायरा की नाभि पर किस करके उसके बदन में गुदगुदी पैदा की ताकि चूत पर जाते ही उसका मूड खिल जाए.

जब मैंने देखा कि सरनी की फुद्दी गीली हो चुकी है और मेरे लंड को अन्दर जाने में ज्यादा दिक्कत नहीं होगी, तो मैंने किस करते करते अपने लंड को सरनी की फुद्दी पर सैट कर दिया. दोस्तो, इस पारिवारिक चुदाई की गन्दी स्टोरी के अगले भाग में चूत चुदाई का रस और भी ज्यादा छलकेगा.

दोनों के ही मुंह से कामुक सिसकारियां निकलने लगी थीं ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ जब मैं झटका देता तो साली जवाब देते हुए गांड को मेरी तरफ धकेलती. रामू आरिषा के ऊपर आने लगा तो भाभी ने रामू की छाती पर अपना पैर रखा और नीचे किस करने का इशारा किया. तो मैंने कहा- जब अन्धेरा हो जाता है तो चुत और लंड का एक ही रिश्ता होता है, उन दोनों को मॉम बेटा, बहन भाई कुछ नहीं समझ आता है.

तुम टीवी बंद करो, चलो कुछ बात करते हैं, ऐसा मौका बहुत कम मिलता है।मेरे सामने अभी भी भाभी का ब्रा-पेंटी वाला लुक आ रहा था।मैं बोला- ठीक है।और टीवी बंद कर दिया।हम बातें करने लगे.

पीछे से राज ने मेरे हाथ पकड़ लिए और कमलेश ने एक धक्का दे मारा, लेकिन लंड फिसल गया. दोनों की सहमति के बाद मैंने धीरे-धीरे उसकी चूत में लंड को हिलाना शुरू किया. तुम टीवी बंद करो, चलो कुछ बात करते हैं, ऐसा मौका बहुत कम मिलता है।मेरे सामने अभी भी भाभी का ब्रा-पेंटी वाला लुक आ रहा था।मैं बोला- ठीक है।और टीवी बंद कर दिया।हम बातें करने लगे.

निरव सेक्सी व्हिडिओइस भाग में सब पाठिकाओं की चुत पानी छोड़ने वाली है और सब पाठकों के लंड पानी छोड़ने वाले हैं. तभी उन्होंने मुझे दूसरा झटका दिया और बोले- सेक्स करने के लिए बॉयफ्रेंड की जरूरत नहीं होती.

ब्लू पिक्चर सेक्सी पिक्चर दिखाएं

आह, विजय, ये क्या कर रहे हो?”अंगूठा धीरे धीरे गांड के अन्दर बाहर करते हुए मैंने कहा- अपनी रानी की गांड को शहद चटा रहा हूँ. शिवम कहने लगा कि उसको उसी दिन से शक हो गया था और फिर उसने विवेक और मेरी चुदाई की वीडियो बनानी शुरू कर दी थी. भाभी कहने लगी- आआह्ह … ओईह्हह … हम्मम्म म्मम्मम … चूसो राहुल … मेरी चूत को … साली मुझे बहुत तड़फाती है.

फिर रोहित का फोन नम्बर भी बदल गया।इसके अलावा और भी बहुत घटनाएं हुई वह फिर कभी बताऊँगी अगर आप लोग कहोगे तो!दोस्तो, मेरी ये घटना कैसी लगी आप लोग मेल करके जरूर बताना. अपने लन्ड को मैंने 2-3 बार चूत पर रगड़ा और धीरे-धीरे डालने लगा।डालते ही मुझे समझ आ गया कि यह उसका पहली बार है क्योंकि इतना अनुभव तो था कि मैं पहचान सकूं।उसे भयानक दर्द हो रहा था मगर मैंने भी उसे प्यार से किस करना चालू रखा।अंगूठे से उसके क्लिटोरिस को सहलाते सहलाते मैंने उसकी चूत में गप से आधा लन्ड डाल दिया. नमस्कार मेरे प्यारे दोस्तो और पाठको, कैसे है आप सब?उम्मीद करती हूँ कि सब मजे में होंगे, ऐसे ही खुश रहिए और मजे करते रहिए!मैं सुहानी चौधरी आप सबका अपनी अगली कहानी में स्वागत करती हूँ। आप सबसे निवेदन है कि कृपया कहानी को पूरा पढ़िये!हो सकता है मैं आप सबके ई-मेल का तुरंत रिप्लाई नहीं कर पाऊँ, क्योंकि मैं 3-4 दिन में चेक करती हूँ.

अब मैंने नीता को बताया कि पास के ही शहर में एक बहुत अच्छा मसाजर है, वो मेरा बहुत अच्छा दोस्त है, वो हमारी मदद कर सकता है. इसके जवाब में मेरी राँड बीवी ने अपने घुटनों के बल पर होकर अपनी चूचियों को पूरा नीचे पंकज की छाती में दबा दिया और उसके दोनों हाथों को दोनों तरफ़ फैला कर पंकज की हथेलियों को अपनी हथेलियों में जकड़ लिया. अनीता जब अपनी चूत को ऊपर लाती, तब मैं ऊपर से जोर लगा कर उसकी चूत में अपना लंड घुसेड़ देता.

ज़ोर से चोदो, फाड़ दो मेरी चूत को!” ज्योति ने अचानक अपने पिता से ज़ोर से चिल्लाते हुए कहा।महेश को भी इसी मौके की तलाश थी. ऑफिस के कई लोग मुझे चोदना चाहते थे, लेकिन हिम्मत नहीं हुई किसी के साथ कुछ करने की … पर पता नहीं मैंने तुम में ऐसा क्या देखा कि तुम्हें मना नहीं कर पायी.

मैं उनके ऊपर घुटने मोड़ कर बैठ गया और थूक लगा कर लंड का सुपारा डॉक्टर साहब की गांड पर टिका दिया.

मेरा मन एक बार उसका चेहरा देखने को कर रहा था लेकिन मुँह दूसरी साइड होने के कारण मैं नहीं देख पा रहा था. सेक्सी वीडियो ब्लू पिक्चर चुदाई वालीउसकी चुत की गर्मी और चुत की फांकों पर लगा उसका खारा कसैला रस, मुझे एक अलग ही मजा दे रहा था. पश्चिम बंगाल के सेक्सी वीडियो”अपनी हथेली में बची हुई सारी शहद मैंने अपने लण्ड पर चुपड़ दी और लण्ड का सुपारा रेखा की गांड के गुलाबी चुन्नटों पर रख दिया. इधर मैं प्रीति को उंगली से लगातार चोदे जा रहा था और वो ज़ोर से सीत्कार कर रही थी- ये तूने क्या कर दिया … आह अब मुझसे रहा नहीं जा रहा है … जल्दी से चोद दो … मेरी चूत में आग लग रही है.

मेरी मॉम ने मुँह खोल कर उस लड़के का लंड मुँह में ले लिया और उसका सारा माल निगल लिया.

सास जैसे ही घोड़ी बनी तो मैंने अपने लंड पर थूक लगाया और पीछे से उंगली करके सास की गांड में भी थूक लगा दिया. गर्लफ्रेंड- क्यों?मैं- आज तुमने खुद आकर किस किया है इस वजह से मैं देख रहा हूँ कि आज सूरज किस दिशा से उगा है. उसके बाद भाई नीचे ही बैठ गये और दिव्या ने उसको नीचे लेटा कर उसके लंड पर उछलना शुरू कर दिया.

चुत में कामरस का रिसाव पहले ही हो चुका था, जो लंड को चिकनाई प्रदान करने लगा था. मेरी नजरें चिपक गयी उसकी चूचियों पर।उसने अचानक मेरी तरफ देखा और वो समझ गयी कि मैं क्या देख रहा हूँ, वो मुस्कुरायी और अपने टॉप को थोड़ा खिसकाया और लिखने लगी।अब उसकी चूचियों का दीदार नहीं हो रहा था तो मेरी नजर उसकी गांड पर गयी।टाइट जीन्स पर उसकी गांड की गोलाई ने मेरे लंड को खड़ा कर दिया. चलो तुम नीचे आओ मैं ऊपर से करता हूं!ज़ारा- नहीं, आज तो मैं ही चोदूंगी.

मुठ मारने के नुकसान

तभी आंटी बोलीं- ठीक है प्रिया … मैं जाती हूं … घर में बहुत सारा काम पड़ा है. चुदाई में मज़ा जितना ज़्यादा आता है, चूत से पानी भी उतना ही ज़्यादा निकलता है. जब मैंने चड्डी उतार कर देखा, तो चूत का मुँह ऐसे खुल और बंद हो रहा था … जैसे कि वो किसी चीज़ को निगलना चाहता हो.

ये उसकी ताजगी भरी जवानी का एक नमूना था, जिसने मुझे मस्त कर दिया था.

जब जब उसने रंग बदला, तब तब मुझे उसे नंगा करके वही मार दोहरानी पड़ती थी.

जब भाभी नॉर्मल हुईं … तो उन्होंने कमर हिलाकर मुझे लंड आगे पीछे करने को कहा. मैंने मुक्के चलाये, उसको नौंचा, लेकिन उनके ऊपर कोई फर्क नहीं पड़ रहा था. सेक्सी फिल्म लड़की लड़कियों कीमैंने सबसे पहले अंशिका को अपने पास बुलाया और उसके मम्मों को किस किया, उसके निप्पलों को चूसना शुरू कर दिया.

मेरी चूत पर रोएं जितने बाल थे क्योंकि कुछ दिन पहले ही मैंने अपनी चूत चिकनी की थी. चल उठ देर हो रही … कॉलेज नहीं जाना क्या?स्नेहा एक मॉर्डन जमाने की वो लड़की है, जिसे इस सबसे कोई परहेज नहीं था. मैं आइसक्यूब को ठीक उसके होंठों के ऊपर से छुलाता हुआ घुमा रहा था, जिससे लंड की गर्मी से पिघलती बर्फ का पानी उसके होंठों पर जाने लगा.

काफी देर तक ऐसा चलते रहने से मेरी चूत ने पानी छोड़ दिया और डॉक्टर का वीर्य मेरे पेट के ऊपर आ गया था. ”भाभी, आप क्या कह रही हैं कि मैं? मेरा मतलब मैं सीमा के साथ?”हाँ, विजय.

कभी होंठों पर, कभी गाल पर, कभी कान पर, कभी गरदन पर … मैंने उसे बहुत चूमा … सच में बड़ा मज़ा आ रहा था.

थोड़ी ही देर में मैंने एक तेज झटके के साथ उसके मुँह में अपना सारा वीर्य खाली कर दिया. फिर मैं बाथरूम जाने के लिए उठा तो देखा सास के कमरे से मोबाइल में वीडियो चलने की आवाज आ रही थी. तभी अचानक अनामिका जोश में आ गई और उसने पूरा लंड गप्प से अन्दर कर लिया.

अरे सेक्सी वीडियो यार मैं बोला- अभी जब तुम अपनी चूत में उंगली कर रही थी तो क्या तब शर्म नहीं आ रही थी?तो वो बोली- साहब जी, मेरी शादी को आठ साल हो गए और शादी के दो साल बाद मैं यहां आ गयी. प्रीति जिंटा जैसी खूबसूरत कद काठी होने के बावजूद उसकी शादी नहीं हो पा रही है क्योंकि एक तो वो हल्का सा लंगड़ा कर चलती है, दूसरे गोपाल की शारीरिक स्थिति को देखकर लोग मना कर देते हैं.

जब मैं उसकी चूत से पैंटी को हटाने लगा तो उसने अपनी आंखें बंद कर लीं. फिर अब जब काफी दिन के बाद लॉकडाउन थोड़ा खुला तो मैंने अपने पति से अपना वजन घटाने के बारे में बात की. वो रोज मेरी तरफ ऐसे देखता था जैसे अक्सर लड़की को पटाने वाले लड़के देखते हैं.

सेक्सी वीडियो म्यूजिक वीडियो

मुझे किस करते करते कब उनका हाथ मेरे मम्मों पर चला गया था, मुझे पता नहीं चला. मैंने न्यासा के सिर को पकड़ कर अपने लंड को उसके मुँह में गले तक पेलने लगा. वो इस समय घुटने के बल बैठकर मेरी बीवी की नाभि और कमर को चाट और चूस रहा था.

शिवानी ने मुझे नंगी ही रहने को कहा और खुद वो बाथरूम से एक शेविंग किट लेकर आई. मैं उठी और मैंने अपने प्यारे डॉक्टर के होंठों को चूम कर उसे थैंक्यू कहा और अपने कपड़े पहन लिए.

तब जानकार ने समझाते हुए कहा कि अगर आपको यहां पर रहना तो आपको पानी की जगह पर ये ही इस्तेमाल करनी होगी.

कुछ देर तक मुझे प्रिंसिपल की टेबल पर चोदने के बाद अभिषेक खुद जाकर प्रिंसिपल की कुर्सी पर बैठ गया और मुझे अपनी गोद में उठा कर मुझे अपने खड़े लंड पर गांड के बल बिठा लिया. यूं ही चूसते चूमते मेरा एक हाथ उसके आमों से खेल रहा था, तो दूसरे हाथ से उसकी मखमली मलाईदार चुत को सहला रहा था. थोड़ी देर में दोनों एक दूसरे की ओर धक्के लगाने लगे और सिसकारते हुए चुदाई का मजा लेने लगे.

तो दोस्तो, मेरी कॉलेज गर्ल को डॉक्टर ने चोदा सेक्स कहानी आपको कैसी लगी. फिर भाई ने अपनी जीन्स को थोड़ा नीचे कर दिया जिससे उनका लंड पूरा मेरी चूत में अच्छी तरह से जाने लगा. सील टूटते ही सरनी एकदम से छटपटाने लगी, उसके मुँह से तेज चिल्लाने की आवाज निकलने को हो रही थी, मगर मुझे पहले से ही मालूम था, इसलिए मैंने उसके होंठों को अपने होंठों से दबा रखा था.

मैं अपनी चूचियों को दबा कर मस्त हो रही थी ‘हम्म्म … आह अह …’ की आवाजें मुंह से निकलने लगी थी।फिर मैं उसके लन्ड की तरफ मुड़ गई। लेट के मैं उसकी जींस की हुक खोलने लगी.

डब्ल्यू डब्ल्यू एक्स बीएफ बीएफ: ये मुंबई में रहती है और चुदाई में अपनी मां से दो नहीं चार कदम आगे है. उसकी चुत में से भी रह रह कर हल्का नमकीन स्वाद वाला पानी बहने लगा … जिसे मैं चाटता रहा.

क … कुछ नहीं सर … आपको बहुत-बहुत बधाई हो सर!”थैंक यू प्रेम!”सर, यहाँ अब कौन आएगा?”यह तो पता नहीं … पर प्रेम मैंने तुम्हारे नाम की सिफारिश कर दी है। प्रमोशन के साथ इनक्रिमेंट भी मिलेगा। मुझे लगता है 2-3 दिन में कन्फर्मेशन का मेल आ जाएगा. मैं किसी भरोसेमंद आदमी के साथ ही यह सब करना चाहती थी और ऊपर से कोरोनावायरस का भी डर था. मैंने जल्दी जल्दी में नाश्ता किया और अपने कमरे मैं ड्रेस चेंज करने लगा.

शाम को ऑफिस बंद होने से पहले वो मेरे पास आकर बोली- कल चलना और घर पर बोल कर आना कि कुछ देर हो सकती है.

मैं किसी भरोसेमंद आदमी के साथ ही यह सब करना चाहती थी और ऊपर से कोरोनावायरस का भी डर था. शीना बिल्कुल कामुक लग रही थी इस अवतार में!और संजना हम दोनों की ठुकाई देखकर अपनी चूत में उंगली कर रही थी, वो पूरे चरम पर पहुंच गई थी. शायरा की परेशानी को देखकर मैंने उसे एक तरफ होकर लेटने को कहा और मैं खुद उसके पीछे लेट गया.