बीएफ सेक्स दिखाएं वीडियो

छवि स्रोत,देहाती आदिवासी सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

చెన్నై సెక్స్: बीएफ सेक्स दिखाएं वीडियो, उनकी काम वाली बाई ने उनके लड़के को नानी के पास छोड़ देने के लिए कह दिया.

सेक्सी वीडियो बताओ जल्दी

बंध्या तेरी गांड को तो फाड़ कर आज चोद चोद कर पूरी जन्नत का मज़ा तुझे दे दूंगा. सेक्सी वीडियो बताइए बीपीसाकेत भैया समझ गए कि ये खुद से नहीं उतारेगी … उन्हें ही कुछ करना होगा.

वो आंख मारते हुए बोली- अच्छा जी ऐसा है क्या?मैंने स्माइल दी और बोला- हां रे …फिर मैं अंकल और आंटी जी से भी मिला. बीना की सेक्सीजब चाची नीचे झुक कर कुछ उठातीं, तो मुझे उनकी फूली हुई गांड मस्त लग रही थी.

कोमल की इस बात पर संजय ने कहा- बच्चों वाला ताश का गेम मैं नहीं खेलने वाला, कुछ पैसे या शर्त लगे, तो ही पत्ते बटेंगे, वर्ना गप्पें मारकर ही टाईम काट लेते हैं.बीएफ सेक्स दिखाएं वीडियो: आशीष ने बताया कि जिस त्रिपाठी परिवार में शिल्पा दीदी बहू बनकर जा रही थी उनका आशीष के घर में भी निमंत्रण और आना जाना था.

कह कर मधुर हंसने लगी।मुझे कुछ समझ नहीं आया। पता नहीं मधुर क्या बताना चाह रही है।फिर पता है सानिया ने क्या बोला?”क्या?”वह बोली- दीदी … आप मुझे भी अपने पास यही रख लो। मैं रोज घर का सारा काम भी कर दूँगी और रात को आपके पैर भी दबा दिया करुँगी.कुछ देर बातें होने पर मैंने भी उनको अपने बारे में बता दिया कि मैं भी शादीशुदा हूं.

सेक्सी रखो - बीएफ सेक्स दिखाएं वीडियो

अमन- ठीक है … तो उसमें बुराई क्या है … वीडियो तो मुझे भी पसंद आया है.मैं उसकी चूत को अपनी जीभ से पूरा ऊपर से नीचे तक फेरते हुए चाट रहा था.

काफी सारी बड़ी-बड़ी चट्टाने हैं जो दूर तक फैली हुई दिखाई पड़ती हैं. बीएफ सेक्स दिखाएं वीडियो दीपा ने पूरे मन से मनोज का लंड चूसना शुरू किया और वो मनोज को जल्दी ही इस स्थिति में ले आई कि मनोज चीखने लगा- मेरा निकलने वाला है.

फिर उसने मुस्कुराकर पूछा- अब बोलो कैसी जगह है?मैंने कहा- यह जगह तो बहुत अच्छी है.

बीएफ सेक्स दिखाएं वीडियो?

वो तो भला हो कि रास्ते में उसके मम्में सिर्फ दबे, टॉप उतरी नहीं! वर्ना उनके लंड तो रास्ते में ही खाली होने को तैयार थे. मैं उसको तुम्हारे साथ सेक्स के लिए कैसे तैयार करूंगी?वो बोले- वो तुम्हारा काम है. कुछ मिनट बाद जब हम दोनों अलग हुए, तो मैं अपनी भाभी से आंखें नहीं मिला पाया.

घटना जो मेरे साथ हुई उसको मैंने अपने पाठकों को रीयल हिंदी सेक्स स्टोरी के रूप में बताने का सोचा. थोड़ी देर बाद मैंने उसे खड़ी होने को कहा तो वो बोली- रोक क्यों दिया जीजू? बहुत मजा आ रहा था तुम्हरा केला चूसने में!मैं बोला- डार्लिंग, मुझे भी तो तुम्हारी चूत के पानी को चखना है. मैं दो पल उसको अपना हुस्न दिखाने के बाद बोली- हो गया देखना … अब मैं जाऊँ?उसने मुझे फिर से अपनी तरफ खींच कर मेरे मम्मों पर हाथ रख दिए.

मैं और वो दोनों मिल कर भैया के लंड को ऐसे चूस रहे थे, जैसे वो लंड नहीं, एक लॉलीपॉप हो. और फिर मेरी चूत में से फच्च … फच्च … कर के एक फव्वारा छूट गया और 2-3 फव्वारे और छोड़ती हुई एकदम ढीली पड़ गयी और बेड पे सीधी होके हाथ आगे फैला के लेटती चली गयी।उधर सचिन भी मेरी लबालब भरी चूत में फच्च फच्च करते हुए आखिरी झटके मारने लगा और एकदम से उचक के अपना वीर्य मेरी चूत में भरता हुआ मेरी कमर पे ही निढाल होकर गिर गया। फिर वो लंड निकाल के मेरे बगल में आकर गिर गया. लेकिन जो था, यही था और बहुत चाहते हुए भी वो खुद की कोई मदद नहीं कर सकती थी.

ऐसा कहते हुए वो अब जोर जोर से अपना लौड़ा मेरी चूत में घुसा घुसा कर धक्के मारने लगा. ऐसे ही करते-करते मेरे चाचा के लड़के यानि कि मेरे भाई को मेरे बारे में पता लग गया कि मैं किरायेदार लड़के को पसंद करती हूँ और उससे रात भर बातें करती रहती हूं.

मैंने पूछा- कितने?उसने कहा कि आप अपना नंबर दो, मैं आपको फ़ोन करके बताऊँगी कि कितने साल हुए हैं.

तभी उसने मेरे लंड को मुँह से निकाला और मुझसे पूछा कि पहला कौन सेक्स करेगा?मैंने कहा कि तुम ही पहले कर लो.

बोल रहा था- आह हहह मेरी रंडी … मेरी जान … मेरी रखैल है तू … साली तेरी बुर का भोसड़ा बन दूंगा … मेरी जान बहनचोद।फिर उसने लन्ड बुर से निकाल कर कंडोम पहना और फिर से चुदाई शुरू कर दी. यह कहते हुए मैंने लंड को एक और झटका दे दिया और उसकी चोटी को पीछे से ऐसे पकड़ लिया, जैसे मैं उसकी सवारी कर रहा हूँ. हालांकि अभी हम दोनों के बीच सामन्य बातचीत से आगे कोई दूसरे किस्म की बातचीत नहीं हो सकी थी.

उसकी चूत टाइट थी, परन्तु गीली थी, अन्दर डालने में ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ी. कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि दोनों सेठों ने मेरी चूत और गांड की चुदाई शुरू कर थी. परमीत ने पहले कभी बीयर नहीं पी थी, हमें पता था कि वो ये सारी बातें हार की चिढ़ में बोले जा रही थी.

वो तो जैसे झटका देने लगीं और मेरे बालों को पकड़ कर अपनी चूत को मेरे मुँह पर लगा कर गांड से धक्का देने लगीं.

मैंने बिना देर किये उसके लंड के सुपारे को अपनी जीभ से चाट लिया और उसको अपने होंठों में दबा लिया. आशीष के बारे में मां को बताते हुए मैंने याद दिलाया- मां, आशीष वही कोटेदार की बहन का बेटा है. जब भाभी उससे मिलने के लिए पहुंची तो वह पहले से ही वहां पर भाभी का इन्तजार कर रहा था.

वो इतनी गर्म हो गयी थी कि उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपने कपड़ों के ऊपर से ही चूत पर रख दिया था. अब महेश ने ज्योति की चूत के रस में से सना हुआ लंड अपनी बेटी की कुँवारी गांड के छेद पर टिका दिया. इतने में ही दूसरा धक्का भी लग गया और लंड बुर को फाडता हुआ पूरा अन्दर तक चला गया.

हम दोनों ने गाड़ी में एक बार 2-3 मिनट तक चुम्बन किया और घर की ओर चल पड़े.

पहली बार इतने हट्टे कट्टे मर्द का लंड अपनी गांड पर लगते हुए मैंने महसूस किया था. इधर परमीत ने बीयर खत्म करते ही जोश में कहा- ओए बस इतनी सी शर्त थी, ये तो बच्चों का काम था.

बीएफ सेक्स दिखाएं वीडियो ये बोल कर मैं कपड़ों के ऊपर से ही उनकी गांड में धक्के मारने लगा और झुक कर उनके चुचे भी दबाने लगा. कुछ देर बाद मैंने देखा कि उसे ठंड लग रही थी और शायद वो चादर लाई नहीं थी.

बीएफ सेक्स दिखाएं वीडियो उसकी गांड को अच्छी तरह से देखा और जांचा कि गांड कहां-कहां से और कितनी फटी हुई है. अब वो खुद ही अपने हाथों से अपनी चूत को खोल कर मेरे लंड को अन्दर आने का निमंत्रण दे रही थी और अपनी गांड पीछे करते हुए मेरे लंड को अपनी चुत में निगल रही थी.

मेरे अंदर आशीष को पाने के लिए ऐसा जुनून था कि मैं उसके लिए कुछ भी करने के लिए तैयार थी.

क्ष्क्ष्क्ष्क्ष्क्ष्क्ष्

हमने एक दूसरे को बांहों में भर लिया और होंठों को सटा करके स्मूच करने लगे. जीजा के साथ मेरी पिछली चुदाई कहानी थीजीजा का ढीला लंड साली की गर्म चूततीन बार जयपुर में और फिर मेरे जीजाजी जब मेरे गाँव आए थे तब किया था. इसके बाद उसने मेरे घर पर काफी बार आकर मेरी चुदाई की, मुझे उसके साथ बहुत मज़ा आता था.

दो दो पैग होने के बाद मैंने कहा- मेम चलो खाना खाने के बाद आप मेरे घर पर चलोगी?मेम बोलीं- नहीं … तुम आज मेरे घर चलो. उसने पूछा- अन्दर करने का रास्ता किधर है?मैंने उसकी उंगली को अपनी चूत पर रखा और कहा- ये है रास्ता … अब इसके आगे कुछ पूछा तो मैं तुम्हारा मर्डर कर दूंगी. जीजा के साथ मेरी पिछली चुदाई कहानी थीजीजा का ढीला लंड साली की गर्म चूततीन बार जयपुर में और फिर मेरे जीजाजी जब मेरे गाँव आए थे तब किया था.

कुछ ही देर में सुखविन्दर ने दूसरा ग्लास भी तैयार कर दिया, मगर उन्होंने कहा- मुस्कान, मैंने तुम्हारे लिए जो शर्ट मंगाया है, उसको पहन के दिखाओ जरा।मैंने पूछा- कौन सा शर्ट?तो वो किचन से वही शर्ट ले आये जो थैले में था और मुझे देकर बोले- लो जाओ जल्दी पहन आओ।मैंने उसे देखा तो वो एक जालीदार नाईट शर्ट था, बहुत ही छोटा।मैं बाथरूम में गई और उसे पहन लिया.

उसने झड़ते हुए ज़ोर ज़ोर से जब झटके दिए, तो मैं दुबारा उसके साथ झड़ गई. उसे घर छोड़ने से पहले एक मेडिकल शॉप पर लेकर गया और एक पेन किलर दे दिया ताकि उसका दर्द थोड़ा कम हो जाए. मैंने शालिनी की चूत पर अपना थूक लगाया और अपने लंड पर उनको थूक लगाने कहा.

मैंने कहा- डोंट वरी जानू … बिल्कुल आराम से डालूंगा तुमको मालूम भी नहीं चलेगा. हल्की चांदनी की रोशनी में हमारे दोनों के नंगे बदन खूबसूरत लग रहे थे. मुझे नहीं पता था फोन पर बात करके भी झड़ने में भी इतना ज्यादा मजा आ सकता है.

अब वह मेरे और उस लड़की के बीच में होने वाली जुगलबंदी को समझने लगी थीं. वो बोला- मैं तो मान लूंगा लेकिन पूरे गांव के लोग तुम्हारे बारे में यही बात करते हैं.

मैंने एक तौलिया भिगोया और रानी के शरीर और अपने लौड़े को अच्छे से साफ़ किया. लेकिन 15-20 मिनट बाद इनके बॉस फिर से तैयार हो गए।मैंने उनसे कुछ देर रुकने के लिए कहा लेकिन वे नहीं माने, मुझे उल्टा लेटा कर मेरी चूत में अपना लंड डाल दिया और मुझे चोदने लगे. मैंने पूरा लंड एक झटके में ही भाभी की चूत में घुसा दिया और मैं एकदम से उसकी चूत में झड़ने लगा.

मैंने विनय का हाथ पकड़ कर ऊपर खींच लिया और उसका लंड थोड़ी देर मुँह में लेकर चूस लिया.

ऐसे चोदने में उसकी चूत काफी टाइट लग रही थी, तो थोड़ी देर में मैं थकने लगा. मेरे थोड़ा कहने पर उसने अपने कुर्ते के बटन खोल कर को थोड़ा ढीला कर दिया. मैं बुआ की तरफ देखने लगा तो बुआ बोली कि मेरे बदन के दो अंगों को तो उस दिन तूने छुआ भी नहीं था.

क्योंकि एक तो इस होली में मैंने स्वीटी आंटी के साथ मस्त होली खेली और होली खेलने के दौरान हीं हम दोनों ने संभोग किया. ” महेश ने इस बार अपना हाथ अपनी बेटी की जाँघ पर उसके कपड़ों के ऊपर से ही रखते हुए कहा।अपने पिता की बात सुनकर ज्योति का सिर शर्म से झुक गया और वह बगैर कुछ बोले चुप होकर बैठी रही।क्या हुआ बेटी? बोलो न … तुमने तो अपने भाई के साथ ही प्रोग्राम सेट कर लिया?” महेश ने ज्योति की जाँघ पर अपने हाथ को फेरते हुए कहा।पिता जी मुझसे गलती हो गई.

अब दीपा क्या कहती … उसकी चूत तो चुदने के लिए बेताब थी पर दीपा मनोज से ये नहीं कह सकती थी कि तुम जाओ मैं तो पहले चुदुंगी. उसका अभी भी अपने दोनों हाथ ऊपर उठा कर अपने मम्मों को सहलाना दबाना चालू ही था. उसका चेहरा पूरा लाल हो गया था लेकिन उसके चेहरे पर अब एक संतुष्टि अलग से दिखाई दे रही थी.

किन्नर sex

उफ़ क्या हसीं चेहरा, उसको देखते ही लगा कि ‘हाँ यही तो है वो जिसे मेरा दिल ढूंढ रहा है.

नायरा बेक फ्लोटिंग कर रही थी तो राजीव नीचे से उसके चूतड़ सहला रहा था. मुझे पूरा यकीन है आप लोगों का हाथ अपने आप अपने लंड पर चला गया होगा. उसका एक हाथ मेरी माँ की चुत पर चला गया और उसी वक्त मैंने माँ की पेंटी नीचे कर दी.

8 फीट है और मेरे औजार यानि कि मेरे लंड की लम्बाई 6 इंच और खड़ा होने के बाद लंड की मोटाई 2. लेकिन एक बात अब भी पक्के तौर पर कह सकती हूँ कि शान का लंड खूब मोटा था. కాలేజ్ స్టూడెంట్స్ సెక్స్ వీడియోमैं भी मज़े से चूत चाट रहा था।नित्या ने मचलते हुए अपनी पूरी टांगें पसार दीं और कहने लगी- प्लीज़ … चाट और जोर-जोर से चाट ना.

दीपा की बड़ी आफत … पहले तो मनोज ने चूम चूम कर उसकी लिपस्टिक खराब कर दी… फिर वो सिगरेट लेने के लिए इधर उधर हुआ तो सुनील ने होंठ जड़ दिए. हालांकि कॉलेज में प्रथम वर्ष होने की वजह से थोड़ा नियम से रहती थी, पर उसके स्वभाव में कोई खास परहेज देखने को नहीं मिला.

सोनिया- मेरे पास आ जाओ ना … तुम्हारी प्यास बुझाने के लिए मेरे पास बहुत सारा पानी है … आओ और जी भर के पियो. उसने अब गुलाबी रंग टाइट निक्कर और सन्तरी रंग की स्पोर्ट्स ब्रा पहनी हुई थी और वोडका की चुस्की ले रही थी. जिससे उसका लंड भी गर्मी महसूस करने लगा और पैंट के ऊपर से दिखने लगा.

मैंने उसके होंठों पर अपने होंठों को लगा दिया … और अगले ही पल हटा भी लिए. मैंने जानकार से कहा कि जल्दी ही कोई लेडी डॉक्टर भेज दे ताकि मेरी साली की फटी हुई गांड की सिलाई की जा सके. मेरा लंड ठंडा होने जा रहा था, उसे सबा ने चूस-चूस कर फिर खड़ा कर दिया था.

मैंने पूछा- क्या ख्याल है गुड्डी? फोड़ दूँ तेरी सील आज … क्यों जवानी बर्बाद किये जा रही है?वो बोली- राजे, मुझे सोचने का समय दे … मुझे सचमुच बहुत डर लगता है … तुम दोनों करो अपना काम … अगर मेरा डर कम हो गया तो देखूंगी … तब तक के लिए अपना हाथ जगन्नाथ.

दुभाषिये ने शायद बताया था कि गांड चुदाई करने के कारण लंड को चेक करना भी जरूरी है. मैंने देर ना करते हुए कहा- इस बुरे वक़्त में आपने जो मुझ पर अहसान किया है, मैं कैसे चुकाऊंगा.

मैंने उससे कान में पूछा- कहां निकालूं?उसने अन्दर ही निकलने को बोला- मैं तुम्हारा बीज अपने अन्दर महसूस करना चाहती हूं. मैंने अपनी फेसबुक की नकली वाली आई-डी पर महिला का ही नाम लगा रखा था. मैं- खाने चल रहे हैं या खाना यहीं लेकर आऊं?जेठजी- दो मिनट बैठो ना जस्सी … फिर खाना खाते हैं ना!मेरी समझ में आ गया कि अब जेठजी के मन से सारी हिचकिचाहट दूर हो गयी है और हो सकता है कि कुछ देर बाद फिर से मेरी चुदाई हो जाए.

जिसके कारण वो लोग भाग गये और वो मेरे साथ छेड़खानी के अलावा कुछ नहीं कर पाये. मैं बार-बार देख रहा था कि वह दोस्त मेरी बीवी के नंगे जिस्म को पकड़ रहा था. मैंने आंटी की चूत के चारों ओर अपनी जीभ से परिक्रमा करना शुरू कर दिया.

बीएफ सेक्स दिखाएं वीडियो ऐसा नहीं था उसको अपने पति से प्यार नहीं था या वो उनसे नफरत करती थी. पांच मिनट के बाद ही ऐसा लगने कि अब पापा झगड़े के कगार पर पहुंच गये हैं.

नंगा नाचो

तुम बोलो क्या बात करनी थी?कुमार मेरे हाथ को पकड़ कर बोला- आई लव यू तन्नू. थोड़ी देर तक तो दीदी शांत रही, फिर अचानक उनका हाथ पकड़ कर बाहर की ओर खींचकर बोली- क्या कर रहे हो साकेत … ये सब गलत है … आपको तो सिर्फ बात करनी थी न. आदी बेड से उठ कर मेरे पास आया और बोला- दीदी, कुमार भैया को घर कब बुलाओगी.

ऐसा लग रहा था मानो एक मशीन के दो छेदों में दो पिस्टन एक साथ अन्दर बाहर हो रहे हों. ऐसे ही रात के 9 बज चुके थे, बाहर मेरे कालोनी का माहौल भी शान्त हो चुका था।सुखविन्दर ने मुझे कहा- अब किसी के आने का डर नहीं है, चलो अन्दर रूम में ही खाना खाते हैं।और हम तीनों अन्दर बैडरूम में गए. मिया खलीफा सेक्सी इमेजजब मोसी ने मुझे अपने करीब करते हुए मुझे चूमा, तो मुझे उनके मम्मों के निप्पलों चुभने लगे.

फिर हम वापस गाड़ी से झील के किनारे किनारे लगभग 1 किलोमीटर दूर आ गए थे.

दोस्तो, मेरा मानना है कि कुंवारी चूत को जितना गर्म करके खोला जाये उतना ही कम दर्द होता है. उधर जवाब कोमल ने दिया- तू तो जानती है न कि मैंने संजय का लंड कितनी बार अपनी चूत में लिया है, मुझे परमीत को अच्छे से सबक सिखाना था.

अपना सारा बोझ उन पर डाल भाभी को अपनी बांहों में लेकर बेतहाशा चुम्मों की बौछार लगा दी. मैंने उठ कर अपना टॉप उतार दिया और विनय ने जल्दी से मेरी स्कर्ट के साथ ही मेरी पेंटी को निकाल दिया. अभी तक मेरी माँ के मेरी बुआ के साथ लेस्बियन और मेरे चाचाओं के साथ यौन सम्बन्धों की कहानी के पहले भागमेरी मम्मी की जवानी की कहानी-1में पढ़ा कि मेरी मम्मी मुझे अपनी जवानी की, वासना की कहानी सुना रही थी.

मैं कई बार जब मेन गेट से होकर गुजरती थी तो वो गेट पर ही खड़ा होता था.

बबली बोल रही थी- ऊऊम्म्मम … मेरे राजा … कहां थे यार इतने दिनों से … तुमने कभी कोई पहल क्यों नहीं की … वरना आज तक तो हम दोनों न जाने कितनी बार चुदाई कर चुके होते … और शायद मैं तुम्हारी औलाद की माँ भी बन गई होती. साकेत भैया ने आंखें बंद कर लीं और अपना दोनों हाथ पीछे करके अपनी कमर को ऊपर नीचे करने लगे. वो मेरे अंडरवियर को हटा कर अपना टाइट लंड मेरी गांड में लगा कर सोता था.

इंडियन देशी सेक्सीउसने जब टॉप पहन कर अपनी गोरी नंगी बांहें ऊपर कीं तो टॉप के अंदर नीचे से उसकी ब्रा झाँक गयी. मैं- जब मैंने ये रिपोर्ट पढ़ी थी, तो मुझे बहुत दुख हुआ था और मैं रोने लगी क्योंकि इस हिसाब से तो मैं कभी मां नहीं बन सकती थी.

पाकिस्तानी सूट

बस फिर क्या था सुहास ने मुझे अपनी गोद में उठाया और मुझे पूल में ले गया. हम दोनों यानि मैं और उनके ससुर जोश में आ गए और सेजल दीदी के कपड़े फाड़ कर उनके शरीर के अलग करने लगे. मैं बिल्कुल दुल्हन की तरह तैयार हुई और जब बाहर आई, तो प्रतीक ने मुझे देखते ही एक प्यारा सा चुम्बन किया ताकि मुझे अहसास हो जाए कि वो हर वक्त मेरे साथ है.

और उधर अमित पूजा की चूत को ऐसे चाट रहा था मानो सारा माल पी जायेगा उसका!तभी मुझे महसूस हुआ कि अमित के दोनों हाथ मेरी जाँघों पर आ गये हैं और उसने पूजा की चूत के साथ साथ मेरे लन्ड पर भी अपनी जीभ चलानी शुरू कर दी. इस बच्चे की चाहत के चलते हम दोनों एक दूसरे से बहुत प्यार भी करने लगे थे. तुम लोग कहाँ हो?पार्क में!”पार्क में? क्यों? क्या कर रहे हो?”तेरी दीदी मेरी चूत चाट रही है और तेरी मम्मी उपिन्दर का लौड़ा चूस रही है.

तभी दरवाजा खुलने की आवाज सुनकर श्वेता दीदी कमरे से बाहर आ गई और दीदी से पूछने लगी- क्या हुआ प्रिया … कहां जा रही हो?दीदी- कुछ नहीं. आज तुम भी ये जान लो की परमीत पक्की सरदारनी है और सरदारनी किसी चैलेंज से पीछे नहीं हटती. यह आइडिया शबनम का था जिसने अपने साथ चारों के लिए वाइब्रेटर, सिगरेट और बियर रखनी थीं.

मैं बोला- यार, मैंने भी कई भाभियों के साथ सेक्स किया है, लेकिन उन सबमें से तुम्हारे साथ सेक्स करने में बड़ा मजा आया. ” महेश ने मौके का फ़ायदा उठाते हुए अपनी बहू को जोर से अपनी बांहों में दबाते हुए कहा। नीलम को अपने ससुर से गले लगते ही अहसास हो गया था कि उसने गलती कर दी है क्योंकि महेश से गले लगते ही उसका लंड जो उस वक्त भी बिल्कुल तना हुआ था वह आगे से नीलम की चूत पर टक्कर मारने लगा।पिता जी मुझे माफ़ कर दें.

भाभी ने अपनी टांगें खोलीं और आंखों से ही अपनी चूत में लंड डालने का इशारा कर दिया.

वो भी चाची और बेटा की सेक्स स्टोरी निकाल कर और मेरे रूम में चला गया. इंडियन सेक्सी व्हिडिओ सेक्सी व्हिडिओहमने पहले परमीत को घर छोड़ा, फिर मनु के घर से बहुत दूर गाड़ी रूकवा ली. सेक्सी एचडी बीपी व्हिडिओजैसे ही मैंने सुनीता की चड्डी निकाली, तो देखा कि उसकी चूत पर बड़ी बड़ी झांटें थीं, जो उसके पानी से पूरी गीली हो रही थीं. वो बोलने लगी- इतना मजा तो मुझे मेरे पति के साथ नहीं आया, जितना कि आज तुम्हारे साथ आया है.

इस मौके को इस तरह संकोच में जाया मत करो और इनकी वाइफ को भी बोल दो कि वो भी जल्दी से चेंज कर लें.

सुनील आज्ञाकारी बच्चे की तरह दीपा की गोरी गोरी नाजुक उंगलियाँ दबाने लगा. संजू रोहित की आंखों में झांक कर मुस्कुराते हुए बोली- वाकयी में बहुत एक्सपर्ट हो गए हो. अब आगे की कहानी:मैं सिगरेट और शराब लेकर नंगे बदन ही बेड पर आकर बैठ गया था.

दोस्तो, आपका स्वागत है मेरी रीयल सेक्स कहानी के दूसरे भाग में।कहानी के पहले भागजवान लड़की की सेक्स कहानी-1में आपने पढ़ा कि किस तरह मैंने पूजा और सुखविन्दर की चुदाई का कार्यक्रम बना दिया. मैं मोसी की नाभि पर होंठों से किस करने लगा … तो वो एकदम से तड़प उठीं. संजू रोहित के लंड को पागलों की तरह चूस रही थी, शायद उसने किसी भी कीमत पर उसे खड़ा करने की ठान ली थी.

लडके का फोटो

हॉट सेक्सी देसी गर्ल की चूत पर लंड को रख कर मैंने एक शॉट मारा लेकिन लंड फिसल गया. मेरा पूरा ध्यान उन दोनों लोगों की तरफ था और मुझे पता भी नहीं लगा कि उसने मेरी साड़ी उठा ली है और मेरी चड्डी में हाथ डाल दिया है. सुनील बेसुध सोया पड़ा था पर बिल्कुल नंगा … उसका लंड देख कर दीपा को मजा आ गया.

लेकिन मोना मेरा लंड चूसने से मना कर रही थी, क्योंकि ये सब उसके लिए पहली बार था, शायद इसीलिए उसे अच्छा नहीं लग रहा था.

ऐसे में मैं मना कैसे कर सकती हूं?उसने मुझे किस किया और बोला- तुम वर्जिन हो तो तुम्हें थोड़ा दर्द होगा, बर्दाश्त कर लेना.

सुबह उसकी बेटी ने हम तीनों को जगाया … तब हम सब हड़ाबड़ा कर जागे और अपने कपड़े पहने. मेरी बीवी के नंगे चूचों को देख कर अब मेरे डॉक्टर दोस्त को भी यही शरारत सूझी और उसने भी अपनी बीवी की ब्रा को निकलवा दिया. फुल एचडी सेक्सी वीडियो नेपालीअगले दो दिनों तक मैंने हॉट भाभी की चूत को उसी होटल में रात में जमकर चोदा.

उनके धक्कों की तीव्रता इतनी अधिक हो गई थी कि एक दो बार तो मेरा सर भी रसोई की दीवार से टकरा गया. ज्योति ने पहले भी अपने बाप का लंड अपनी चूत में लिया था लेकिन उसके बाप के लंड से उसको अभी भी भय लगता था क्योंकि उसका लंड था ही इतना मोटा. वो खाने के लिए साथ में पार्सल लाया था, उसने मुझे ऑफर किया, मैंने भी ज्यादा कुछ खाया नहीं था इसलिए उसको हाँ कह दिया।रात के करीब नौ बजे होंगे, वो मेरी बर्थ पे आया और मैंने भी बैठ के उसके लिए थोड़ी जगह कर दी.

भाभी की भरी हुई चूचियों के निप्पलों को बारी बारी से मसल और सहला रहा था. ”मेरी जान … पहली बार में थोड़ा दर्द होता है उसके बाद तो बस एक मीठी और मदहोश करने वाली चुनमुनाहट सी ही होती है और अगले कई दिनों तक उसकी याद रोमांचित करती रहती है.

कुछ देर बाद मैं उनकी गांड पर हाथ फेरने लगा तो परी मैम ने अपनी पेंटी भी निकालने का कह दिया.

पहले मैंने उसकी चुत को दो उंगलियों से खोला और लंड का सुपारा अन्दर फंसाने लगा. इधर हनी ने मुझे उत्तेजित होते देखा तो उसने अपने सारे कपड़े निकाल कर दूर फेंक दिया. अब आगे:थोड़ी देर हम ऐसे ही लेटे रहे, फिर ये मेरे बूब्स दबाते हुए बोले- आज तुम रंडी बनने वाली हो।मैं कुछ न बोली.

தமிழ் நடிகை செக்ஸ் படங்கள் होंठों को चूसते चूसते मैंने उसकी टी-शर्ट को हटा दिया, अब वो मेरे सामने ब्रा में थी. शादी वाले माहौल में घर महमानों से भरा रहता है … इसका मामी जी को ख्याल रहेगा.

मैंने बॉस के लंड को चूसते हुए विनय का लंड हिलाना शुरू कर दिया और विनय पीछे से मेरे टॉप को उठा कर मेरी चूचियों को मसलने लगा था. मैं कभी कुमार के साथ चुद लेती थी, कभी विक्की के साथ … मैं दोनों से चुदवाती थी. कुंवारी लड़की की चुदाई की कहानी के पहले भागभाभी ने कुंवारी लड़की की चूत चुदवा दी-1में अपने पढ़ा कि मेरे पड़ोस की भाभी की चुदाई मैं करता था.

भाई बहन की सेक्सी स्टोरी

इस तरह से मैं बार बार झड़ने के करीब पहुंच कर धक्के लगाना बंद कर देता था. मैं उसके दूध मसलने लगा, तो वो फिर से लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी. रिया के थूक से गीला हुआ लौड़ा, अब उसके होंठों से हलक तक फिसल रहा था.

मैंने अपनी चूचियों को दबाते हुए लंड पूरा अंदर तक घुसेड़ना शुरू कर दिया. इधर उनके दोस्त भी मुझे अपनी बांहों में पा कर कण्ट्रोल नहीं कर पा रहे थे, उनका मुसल जैसा लंड पैंट को फाड़कर बाहर आने को हो रहा था.

साकेत भैया ने दीदी का हाथ फिर से पकड़ा और अपने लंड पर रख दिया, पर दीदी ने फिर से हाथ हटा लिया.

अब आज की कहानी की बात करते हैं जो मर्दों के लौड़े की प्यासी एक सेक्सी भाभी की गर्म चूत की स्टोरी है. फिर मैंने धीरे से दूसरी बार धक्का मारा और लगभग पूरा लंड उसकी चूत में घुसा दिया. निधि जोर जोर चीखने लगी।काफी देर चुदायी के बाद निधि झड़ गई।नित्या बोली- रात भर निधि की चूत चुदायी की, अभी भी इसी की की.

चाची ने कहा- हरामखोर मेरे सारे कपड़े निकाल दिए और खुद ने कुछ ना निकाला. शबनम शिकायत करती तो कहता कि चूस चूसकर इन्हें नायरा के मम्मों जैसा ही बनाना चाहता हूँ. ’ का इशारा कर दिया।वन्दना ने सारा सामान लाकर बेड पर रख दिया और खुद भी मेरे और नीरू के सामने चौकड़ी मार कर बैठ गयी.

तो बॉस उठे और होम थिएटर में मस्त तेज़ संगीत लगा दिया और हम सबको डांस करने के लिए कहा.

बीएफ सेक्स दिखाएं वीडियो: वो दोनों मेरी चूत और गांड को पेलते हुए मुझे गंदी गंदी गालियां दे रहे थे. इसका मतलब ये था कि सभी छात्र छात्राओं के लिए स्कूल के लिए एक अवसर उपलब्ध हुआ था.

आज तुम भी ये जान लो की परमीत पक्की सरदारनी है और सरदारनी किसी चैलेंज से पीछे नहीं हटती. मैं अपने पिताजी को अन्दर लेकर गई और उनके बिस्तर पर लेटाते समय उनकी नजर मेरी चूचियों पर चली गई और वो मुझे किस करने लगे. मैं कभी उसके होंठों को अपने मुंह में भर कर चूस कर रहा था तो कभी अपनी जीभ को उसके मुंह के अंदर डाल रहा था.

इससे पहले भी मैंने मोटे और लम्बे लंड देखे हुए थे लेकिन विवेक के लंड के साइज वाला औजार पहली बार मैं देख रही थी.

इससे उनके शरीर में जैसे करंट दौड़ गया, उन्होंने एकदम से ‘आई … आह … करके मादक सीत्कार भरी. तो वह मान गई और काफी देर इधर-उधर घूमने के बाद मैंने पार्क के काफी अन्दर जाकर एक जगह देखी. अपने फौलादी हाथों से मेरे चूचों को मसलते हुए मेरे होंठों को काटने लगे.