खून निकलती हुई बीएफ

छवि स्रोत,कैटरीना कैफ की चुदाई वाली बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

बांग्लादेशी बफ: खून निकलती हुई बीएफ, उस दिन पापा को ऑफिस के किसी काम से बाहर जाना था और अगले दिन ही वापिस आना था.

फुल्ल बीएफ

वो भी मुझसे इतनी अधिक खुश रहने लगी थी कि वो हमेशा मेरा इन्तजार करती थी. बीएफ हिंदी हिंदी सेक्सीचूंकि मैं हर लड़की की इज्जत करता हूँ… सो उस लड़की की खूबसूरत दिखती फोटो की तारीफ़ करने लगा.

मैं मज़ा लेने लगी और दस मिनट बाद भाई ने सलवार को उतारने की कोशिश की. साल की लड़की की बीएफ सेक्सीमैंने जीभ रगड़ कर क्लिट को अच्छे से घिसा और चुत को ऐसे चूसने लगा, जैसे कोई बर्फ का गोला चूस रहा होऊं.

मैंने रानी के कान के पीछे अपनी जीभ गीली करके फिराई तो रेखा रानी कसमसाई.खून निकलती हुई बीएफ: मेरे पूछने पर भाबी ने बताया कि चाची आजकल पास में अपने भांजे की बहू से मिलने जाती हैं.

अंकल ने पूछा- अक्सर लड़कियां कैब में आती हैं?मैंने कहा- नहीं, हमारे ऑफिस में लड़कियां डे शिफ्ट करती हैं और मैं नाइट में गाड़ी चलाता हूं.मैंने विवेक के हाथ में कामिनी का हाथ दिया और बोला- मेरी कामिनी को खुश कर दीजिए.

बीएफ बीएफ वीडियो चाहिए - खून निकलती हुई बीएफ

यह सोचकर मेरी चूत गीली हो गयी।घर पहुंचने के बाद भी दीदी जीजा जी से बात नहीं कर रही थी.मेरे प्रिय पाठको, रिश्तों में चुदाई की मेरी सेक्स कहानी के पहले भागपुत्र वधू की सुहागरात-1में आपने पढ़ा कि मैंने अपनी पत्नी की मृत्यु के पश्चात् अपने बेटे की शादी की.

मैंने भी अपने टांगें खोल दीं और चुत चटवाने का मजा लेने लगी ‘आआआहह ओह…’मैं अपनी कामुक आवाज़ को अपने मुँह में ही रहने की कोशिश करती रही. खून निकलती हुई बीएफ इस प्रक्रिया में मेरे को मुश्किल से 3 मिनट लगे होंगे और हम दोनों अपने कपड़े पहन कर अपने अपने घर चले आए.

उहह… स्सस्स…”फिर मैं नीचे लेट गई और मेरी टांगें पीछे करके उसने मेरी फिर से चुदाई शुरू कर दी.

खून निकलती हुई बीएफ?

अन्तर्वासना की कृपा से लंड को खड़ा कर देने वाली और चूत में उंगली करने को मजबूर कर देने वाली कामुक कहानियां यहाँ पर पढ़ने और लिखने को मिल जाती हैं. फिर वो मुस्करा कर जाने लगी, मैं मन ही मन दुखी हुआ कि आगे का दरवाजा हमेशा खुला हुआ रहने से मैं उसे छू भी नहीं सकता. मैंने गाड़ी साइड में लगा दी और वह भैया उतरा और किराया देकर चला गया.

वो पूरा एक घंटा तक मेरी चुत का बाजा बजाता रहा और जब उसने मुझे छोड़ा, तो मेरी चुत पूरा फूल कर पकौड़ा बन चुकी थी. दादा भी झांसी बस स्टैंड में भी बहुत प्रतिष्ठित थे, बहुत सारे लोग उन्हें सलाम राम राम कर रहे थे. आंटी जी ने फिर मेरे लंड को चूसना शुरू कर दिया और मेरी गांड में अपनी उंगली डाल दी.

मैंने इसका अर्थ यह लगाया कि वो कहना चाहती तो है चूत निवास मगर शर्म से पूरा चूत निवास ना बोल कर सिर्फ निवास कह रही थी. वो गाड़ी से उतरा और पीछे वाली सीट पे आ गया, एक झटके से उसने मेरा हाथ पकड़ के अपनी ओर खींचा. अंकुश की मम्मी के जाने के बाद इतने साल से मैं भी अकेला रोज़ रात को अपने हाथ से ही काम चला रहा हूँ.

मैं- तो भैया?भाभी- वो कहां… बस अपना काम निकालते हैं और बंद कर लेते हैं. उस दिन अर्पिता ने स्कर्ट पहनी हुई थी, जो पानी के कारण ऊपर हो रही थी.

मैं ये सब बातें अभी सोच ही रहा था कि तभी उसने अपना लंड मेरी गांड के छेद पर रख दिया.

फिर मैंने पढ़ाई के साथ साथ जॉब करने की सोची और काफी ढूँढने के बाद मुझे एक जॉब मिली, लेकिन उसमें भी मेरा खर्च पूरा नहीं हो रहा था… क्योंकि ये जॉब मुझे मात्र 15000 ही दे रही थी.

तभी बालू बोला- अब तो बता दे वन्द्या, कितनों से चुदवाई हो आज तक?दोनों तरफ मेरे लन्ड घुसे थे, मैं फुल जोश में थी तो सब कुछ सच सच बता दिया, मैं बोली- जिसने भी मांग लिया मुझसे और बोल दिया कि चोदने दोगी उसे आज तक मना नहीं किया! मम्मी कसम और समय पर आ गया तो चुदाई करवा लेती हूं, किसी को मना नहीं करती। करीब 200 लोग मुझे चोद चुके हैं, उन में से कुछ ही को मैं जानती हूं. इस पर वो बोली- मैं आपको कैसे दिखा सकती हूँ?मैंने कहा- जब उस लड़के का पूरा लंड ले सकती हो, तो मुझे सिर्फ अपनी चूत नहीं दिखा सकती, अगर ये बात को राज रखना है, तो तुम्हें मुझे यकीन दिलाना ही होगा कि तुमने अभी तक चुदाई नहीं की है. क्योंकि वो पापा की सेक्रेटरी थी, इसलिए वो बहुत समय उनके साथ ही रहती थी.

मुझे शांत लेटा देख कर वो भी मेरे बाजू में आ कर बैठ गई और मुझे किस करने लगी. उसके गोरे गोरे स्तनों पर निप्पल ऐसे लग रहे थे जैसे खीर से भरे से भरे कटोरे के बीच में बादाम रख दिए हो।मैं काफी देर तक उसके स्तन मसलता और चूसता रहा। कुछ मिनट बाद वो एक तड़प के साथ शांत हो गई। उसका एक बार स्खलन हो गया था। वो प्यार भरी आँखों से मुझे निहार रही थी. मैंने भाभी को बैठने के लिए कहा तो वो गेट के कोने में टेक लगा कर खड़ी हो गई.

कुछ देर बाद मैंने उसके लंड को मुँह में ले लिया और मस्त होकर चूसने लगी.

अब आगे:यही सोचते हुए मैं खड़ा हुआ और सीढ़ियों से चढ़ते हुए अस्पताल की तीसरी मंजिल पर बने पब्लिक टोयलेट की ओर जाने लगा. कामुकता से परिपूर्ण मेरी यह कहानी आपको कैसी लग रही है?मुझे सबकी प्रतिक्रिया का बेसब्री से इंतज़ार रहेगा. मैंने कहा- अंकल मेरी गांड भी लड़कियों जैसी ही है, तभी तो आप जैसे चोदू मिल जाते हैं और मैं गांड मरवा लेता हूं.

अब तक आपने पढ़ा था कि अशोक ने मुझे बड़ी रकम का ऑफर दिया था जिसे मैंने स्वीकार कर लिया था. सोनिया- भैया ये गलत है अगर किसी को पता लग गया तो बहुत बेइज्जती होगी. मुझे अपने आप को कंट्रोल करना बहुत ज़रूरी था… मेरी आवाज नहीं निकल रही थी लेकिन फिर भी मैंने कहा- हाँ यार भैया… बहुत सख्त है आपकी छाती तो… किसी पत्थर जैसी मज़बूत है।इसके जवाब में वो कहने लगे- मैंने सर्वेश को भी समझाया था कि ये जिम और सिक्स पैक के चक्कर में मत पड़… लेकिन उसको तो बस फिल्में देख देख कर हीरो ही बनना है… पागल है.

खैर अब यह उनका रोज़ का काम हो गया था, मुझसे अपनी चूत चटवाना और मेरी फुद्दी चाटना.

अब उसकी भी मज़ा आने लग गया था और वो भी मज़े से लंड ले रही थी और चुदाई का मज़ा ले रही थी।उसने कहा- जीतू, और जोर से चोदो! इतने दिनों से क्यों तड़पा रहे थे!और मैं उसे और ज़ोर से चोदने लगा. शावर से ठंडा पानी निकलते ही कामिनी विवेक से चिपक गई और बोली- बहुत बद्तमीज हो यार.

खून निकलती हुई बीएफ किसी तरह रात निकल गई और मैं सुबह तक सोती रही, मुझे भैया ने जगाया तब मैं ज़गी. चाची ने मुस्कुराते हुए कहा- तो क्या हो गया? तूने मेरी चूत की चुदाई कर डाली तो इससे मेरी चूत की साइज़ छोटी थोड़े ही न हो गई? तू ये तो बता कि मेरी चूत चोदने में मज़ा आया कि नहीं?मैंने कहा- हाँ चाची, मज़ा तो बहुत आया.

खून निकलती हुई बीएफ लाला बड़ा मादरचोद आदमी था, वैसे तो मैं उसे जब तब घिसती रहती थी… लेकिन वो थुलथुल टाइप का था इसलिए मुझे मालूम था कि ये मेरे मतलब का नहीं है. अब मेरी तरक्की हो जाएगी शायद मैं किसी दूसरे शहर में भी जा सकता हूँ.

मैंने अपने दोस्त (जिसने मुझे यह सुझाव दिया था) के पास से मैंने डिपाजिट की रकम का इंतज़ाम करके डिपाजिट की रकम जमा कर दी.

खेसारी के सेक्सी

क्लब विजय नगर के एरिया में था, लेकिन पहले हम राजवाड़ा, सर्राफा होते हुए फिर क्लब पहुँचे. तभी एक दिन अचानक मेरा ध्यान उसकी गांड पर से खिसके हुए शर्ट पर गया, जिसके कारण उसकी रेड लैगी में उसकी गांड की पूरी शेप नजर आ रही थी. नताशा अब तक सोफे चेयर पर बैठ कर मंद-2 मुस्कुराते हुए शेम्पेन की चुस्कियां लेने लगी थी.

मैंने गरम लोहे पर चोट मारी- क्यों अलका जी, चूत निवास बोलने में आपको शर्म आती है… जब नाम है तो वही बोलना पड़ेगा न. उन्होंने अपने दोनों हाथों से मेरे गर्दन को मजबूती से पकड़ी हुई थी और मैंने उनकी कमर को।प्रियंका मेरे गाल को अपनी दांतों से पकड़ती हुई तेजी से स्खलित हो गई, उनकी गरमा गर्म चूत के रस का अहसास मेरे लिंग पर हो रहा था. कुछ देर बाद जब नहीं घुसा तो लंड को चूत पर रगड़ने लगी और फिर अपने होंठों में होंठ डाल दिए.

अपने भैया से बोलना कि वो मेरे माता पिता से सबके सामने बोले कि उससे बड़ी भारी ग़लती हुई है और वो सबसे माफी माँगता है जबकि वो माफी माँगने के लायक नहीं है.

मैं बाहर ही रह गया… कपड़े आदि पहन कर तैयार हो गया और दीदी कमरे में चली गई. चूत में पूरा लंड घुसा कर उसका ध्यान मेरे मम्मों पर गया मगर वहाँ तो अभी अच्छी तरह से कुछ निकला ही नहीं था. मैं मन ही मन सोच रहा था कि मॉम नवीन के जाने की खबर सुन कर शॉक हो गई हैं.

भाई बस भाबी को चुप कराने में लगे हुए थे, लेकिन भाबी चुप होने का नाम ही नहीं ले रही थीं. मुझे बाद में पता चला कि सर की वजह से प्रिंसिपल की बेटी को गर्भ ठहर गया था. एरिक की जीभ के स्पर्श से नताशा उत्तेजना से कांपने लगी और उसने बाएँ हाथ से अपनी चूत के क्लिट को सहलाना शुरू कर दिया.

और ये तो आप भी जानते हैं कि बढ़िया माल को छोड़ कर कौन कम बढ़िया आइटम पर ध्यान देता है. मुझे भी मजा आ रहा था लेकिन उसकी गांड टाइट थी इसलिए मैं ज्यादा देर नहीं रोक पाया.

कविता ने उस से कहा- अगर जीतू के दिल में थोड़ा सा भी कुछ होगा तो वो मुझ से ज़रूर बात करेगा!फिर मैं अपने घर आ गया।मैंने उस को उस दिन कोई कॉल नहीं किया. उस समय शीनू की माँ कुछ काम से आईं तो बुआ ने बातों बातों में उसको बताया कि सनी की तबियत खराब है. मैंने चारों ओर देखा सभी लड़कियों ने सेक्सी कपड़ों में थीं लेकिन किसी के भी चूचे और गांड दीदी जितने बड़े नहीं थे.

न जाने कब से अन्तर्वासना पर भाई बहन की चुदाई की कहानी पढ़ कर तेरे लंड से चुदने का मन बनाया हुआ था.

फिर वो उस आदमी से बोला- तुम नीचे लेट जाओ, यह तुम्हारे ऊपर चढ़ कर तुम्हारा लंड चूत में खुद ही डालेगी, जिससे पता लगेगा कि यह तुमको चोद रही है… ना कि तुम इसको. प्रिया ने हया-वश अपने वक्ष के आगे अपनी बाहों का क्रॉस बना कर सर झुका लिया। मैंने प्रिया का चेहरा उस की ठोढ़ी के नीचे उंगली लगा कर उठाया तो प्रिया ने शर्म के मारे आँखें बंद कर ली. अब विशाल मुझे काफी तेज झटके देने लगा और कुछ ही देर में उसके लंड ने अपना पानी मेरी फुद्दी में छोड़ दिया.

वह दाहिनी करवट से मेरी तरफ था, मुझे उसने करवट दिलाई, तो मैं उसके सामने बायीं करवट से हो गया था. अब मैंने बिंदु को कुतिया बना कर उस की चूत में अपना लंड डाल कर चोदा, वो बहुत खुश थी इस चुदाई से.

वो जैसे जैसे मेरी जाँघों पे अपना हाथ फेर रहा था, वैसे मेरी शरीर में अजीब सी अकड़न होने लगी. और आपके साथ…इतना कह कर मैं वहां से बाहर आ गया और उनके घर से निकल गया. सुबह लगभग चार बजे वो आशीष से बोलीं- जाओ अपने रूम में और किसी को कुछ भी भनक नहीं लगनी चाहिए कि आज यहाँ पर क्या हुआ है.

किन्नर सेक्सी वीडियो एचडी

सब कुछ कैमरे में रेकॉर्ड हो रहा था और ये सब दो तीन एंगल से हो रहा था क्योंकि कैमरे फिक्स किए हुए थे.

रिमझिम की चूत में पूरा लंड घुसा के मैंने उसे ऐसे चोदा कि उसकी आंखों में आंसू आ गए. कपड़े उतारते समय भाभी बोली कि रुको थोड़ी देर आप एक काम करो, किचन में जाओ और वहां से एक कोल्ड ड्रिंक की बोतल लेकर आओ. तत्काल मैंने अपने होंठों और जीभ का रुख अपने दायीं ओर मोड़ लिया और दोनों पर्वतों के बीच की घाटी को चुम्बनों से भरता हुआ और अपने मुंह के स्राव से गीला करता हुआ दूसरे पर्वतश्रृंग की ओर अग्रसर हुआ.

जब उसका लंड एकदम चिकना हो गया तो उसने अपना मोटा लंड मेरी खुली चुत में डाल दिया. ”मैंने अभी तक अपने कपड़े सही नहीं किए थे और भाईजान मुझे देखे जा रहे थे. बंगाली में बीएफ वीडियो मेंदिन बीतते गए, मैं अपना काम पूरी जिम्मेदारी से करता था लेकिन मुझे आज तक यह नहीं पता चला कि कंपनी का और इस आलीशान फार्म हाउस का आखिर मालिक कौन है। मैं जब भी किसी से पूछता तो मुझे कहते ‘धीरे-धीरे सब समझ जाओगे।’एक दिन दोपहर में मेरे पास कंपनी से फोन आया- फार्महाउस तैयार रखना, मैडम दो-तीन दिन के लिए आ रही है.

मेरा उसकी चुत को चाटने का तो मन कर रहा था, लेकिन बाल बहुत अधिक होने के कारण मजा नहीं आ पाया. मैं- सोनिया, चल ये बता मैं क्या करूँ? मेरा बहुत ज्यादा मन कर रहा है.

तो मैंने उस से कहा- मेरी गर्लफ्रैंड है, तो उस से आपको क्यों जलन हो रही है?उसने कुछ नहीं कहा और नाराज हो गयी. अब सब सोने के मूड में थे तो बस में बहुत हल्की ब्लू लाईट ही जल रही थी. मैं कल्पना कर रहा था कि इन ज़बरदस्त झटकों से रानी के चूचे किस प्रकार से नाच रहे होंगे.

आज दिखा दे मुझे लव करके…ओ बेबी बांहों में भर के…जो भी सोचा सपनों में,आज दिखा दे मुझे सब करके…तू इश्क है मेरा तू इश्क मेरा…तू ही मेरी रातों का नशा…वो मेरे सामने देख कर मुस्कुरा रही थीं. भाभी ने गुस्से में चिल्लाते हुए कहा- ये बात पहले याद नहीं आई बहन के लौड़े…उनके मुँह से ये सुनकर मेरे को अजीब लगा, लेकिन अभी मुझे ये सब सोचने का वक्त सही नहीं लगा. मेरा क्या होगा?तब वो लड़की बोलने लगी- क्या तुम भी चोदोगे?मैंने कहा कि और नहीं तो क्या, मैं यहां क्या चौकीदारी के लिए आया हूँ?वो लड़की मुझे मना करने लगी, तब मैं उसे मनाने लगा, लेकिन वो मानने को तैयार ही नहीं थी.

मैंने उन्हें किस करते हुए गोदी में उठा लिया, उन्होंने भी अपनी टाँगें मेरी कमर में कस दीं और गले में हाथ डाल के किस किए जा रही थीं.

फिर आंटी कामवासना से पागल होकर जोर जोर से चिल्लाने लगी- चोद दो मुझे… उम्म्ह… अहह… हय… याह… फाड़ दो मेरी चुत को!आंटी की ऎसी बातें सुनकर मैं भी और ज्यादा जोश में आ गया और आंटी के नंगे बदन के ऊपर आकर मैंने अपना 8 इंच लम्बा लंड आंटी की चूत में डाल दिया और धीरे धीरे अंदर बाहर करने लगा. मैंने उससे गोद में उठाया किस करते हुए और पूल (ट्यूब वेल) की तरफ ले गया.

विशाल भैया और वैशाली भाभी, दोनों काफी पढ़े लिखे और खुश मिजाज कपल थे, उनका प्रेम विवाह हुआ था. मैं मज़ा लेने लगी और दस मिनट बाद भाई ने सलवार को उतारने की कोशिश की. मैं- नहीं मेरी जान, सेक्स में नयापन कभी ख़त्म नहीं होता, हम हर बार कुछ नया करेंगे और हर आसन में चुदाई करेंगे, बस तुम मेरा साथ देती रहना!अर्पिता- धत! मैं सिर्फ तुम्हारी हूँ, तुम्हें चाहती हूँ, जो बोलोगे वो करुँगी, इस चूत के मालिक तुम हो, जैसे चाहो इस्तेमाल करना, यह देखो तुम्हारे नाम की जो मेहँदी लगाई थी उसका रंग अभी भी कम नहीं हुआ है.

मैं टॉप के ऊपर से दीदी के चूचे दबाने लगा और दीदी जींस के ऊपर से मेरा लंड मसलने लगीं. वो मुझसे पूछने लगी- क्या ये आपकी बर्थ है?मैंने बोला- हां मैडम, इसमें एक बर्थ मेरे लिए है. नीना ने हम दोनों को घंटे भर आराम करने के लिए शोरगुल न करने और शांति के साथ होम वर्क करते रहने को कहा.

खून निकलती हुई बीएफ अंकल मेरे लंड को पैंट के ऊपर से सहलाने लगे, मेरा लंड खड़ा हो गया था और मुझे मजा आने लगा. ये मेरी अन्तर्वासना पर पहली चुदाई कहानी है, मैं आशा करता हूँ कि आपको मेरी कहानी पसंद आएगी.

सेक्सी वीडियो नंगी फिल्म सेक्सी

काफी देर तक ऐसा ही चलता रहा, फिर मेरा माल निकल गया और मैं भाभी के ऊपर निढाल होकर पड़ा रहा।जब मैं उठा तो देखा कि माल निकलने के कारण मेरी पैंट भी गीली हो चुकी थी. फिर मैंने मंजू को बोला- देखो जान, उस आदमी ने तो तुम्हारी गांड पे नाखून चुभा दिए और जोर जोर से थप्पड़ जड़ दिए!जो जो मैं कर रहा था, वही किसी और के नाम से मंजू को बोल रहा था और वो झड़ने को तैयार थी. इसके साथ ही उसका माल मेरे गले और मुंह में भर गया और होंठों से टपकने लगा.

मैंने भी उसकी चूची के निप्पल को खींचते हुए गाली दी- साली रंडी, आ जा आज तेरी चूत का भोसड़ा बना दूँ. मैंने उनकी चुत और अच्छे से चूसी और फिर उनके ऊपर आकर उन्हें किस करने लगा. सेक्सी बीएफ बीएफ सेक्सी बीएफ एचडीइतना कह कर मैंने दोनों हाथों से रानी के उरोज पकड़ लिये और उन्हें भींचे भींचे ही धक्के पे धक्का लगाने लगा.

फिर अचानक से उसने लंड को जड़ से पकड़ लिया और उस पर चुम्मियों की बरसात कर डाली.

यह देख मुझे भी जोश आ गया और मैं उसको गपागप की आवाज के साथ चोदने लगा. मेरा इतना ज्यादा माल निकला कि वो पूरा रस पी ही नहीं पाई और बहुत सारा वीर्य उसके शरीर पर गिर गया.

मेरी मॉम की अपने नौकर के साथ मस्तचुदाई की हिन्दी कहानीके लिए आपके ईमेल आमंत्रित हैं. अब भैया की बारी थी, भैया ने भाबी को पकड़ा और भाबी का भी टॉप फाड़ कर भैया उनके मम्मों को दबाने लगे. कोई देख ना ले, इसलिए मैंने अपना न्यूज़ पेपर ऐसे लगा लिया कि सामने से ना दिखे.

जब वो वॉक करती तो वो कभी उसके गांड पे हाथ मारता तो कभी उसके मम्मों पे हाथ फेरता.

मैंने लन्ड उसकी चुत से निकाल दिया और उसकी चुत की दरार पर रगड़ने लगा, इसके साथ साथ उसके बूब्स दबाने लगा वो जोश में थी तो लंड निकलने से परेशान हो चली… ऊपर से उसकी चुत के बाहर लन्ड की रगड़ और चूचियों का चूसा जाना उससे बर्दाश्त नहीं हुआ, वो कहने लगी- संजू अंदर डालो प्लीज़!मैंने उससे पूछा- पहले ये बताओ कि कल रात मज़ा आया?उसने फिर मेरी बात को अनसुना कर दिया और अंदर डालने को कहने लगी. यह बात अभी 6 महीने पहले की है, जब मैं, मेरा भाई और मेरी मम्मी, मौसी के यहाँ कुछ दिनों के लिए गए थे. एक बन्दे ने मुझे एक नए प्रकार के एजेंसी घोटाले के बारे में बताया है.

बीएफ फुल एचडी हिंदी आवाज मेंबड़ी प्रसन्नता हुई, मैं साशा हूँ और ये मेरी वा… दोस्त नताशा है!” मैंने पता नहीं क्यों नताशा को अपनी वाइफ कहते कहते अपनी जबान काट ली, और उसका परिचय अपनी गर्लफ्रेंड के रूप में दिया. उस दिन मेरा मूड थोड़ा ऑफ था क्योंकि उस दिन मेरे 18000 रुपये खो गए थे.

सेक्सी हिंदी वीडियो मारवाड़ी

आंटी बोली- चलो मेरे साथ मेरे घर पर!मैं बोला- नहीं आंटी, मैंने बस की टिकट नेट से बुक कर रखी है तो मैं नहीं जा सकता. उसके बाद मैंने पायल भाभी की फुल बॉडी मसाज़ की, जिसमें कम से कम 2 घंटे लगते हैं. भाभी भी मुझे मम्मे मसलवाते हुए देख रही थीं और मुस्कुरा रही थीं मेरा डर भी खत्म हो गया था.

हल्के हल्के काले भूरे बाल उसकी बुर को मानो सबकी वासना भरी नजर से उसे बचाने के लिए पहरा दे रहे थे. जब भी मौका मिलता, वो पापा को अपने मम्मों की नुमाइश करवाती और अपनी टांगों को पूरी तरह से वैक्स कर भी दिखाती. हम जैसे वहां पहुंचे, दी ने मुझसे कहा- आज मैं तुमसे बहुत सारी बातें करूँगी.

मैंने सोचा कि कहीं आंटी वो झाग वाली बात न मालूम हो और मुझे रात को उसी बात को लेकर डांटेगी तो नहीं. यहां कोई प्यार व्यार नहीं होता, सब एक दूसरे के जिस्म का मज़ा लूटने आते हैं. मैंने कहा- भाभी, मैं आपको उस हालत में देख कर वो चीज़ नहीं भूला पाऊंगा और ना मैं वो भूलना चाहता हूँ.

यह कहानी शुरू होती है, जब मैं बिजनेस मीटिंग के लिए नॉएडा के सेक्टर-18 में गया था. जैसे ही हम घर पहुँचे, मैंने देखा मेरे घर पर ताला लगा है, मेरी माँ और पापा मेरे किसी रिश्तेदार के घर गए थे और मेरे पास घर की दूसरी चाभी नहीं थी.

मैंने बहुत सोचा कि अब मैं क्या करूँ? उसका इरादा क्या है, ये मैं समझ चुकी थी.

तभी मेरा ध्यान, हमारे लाइन से अलग खड़े कुछ लड़कों पर गयी, वो बहुत ध्यान से मुझे घूर रहे थे. मोटी चूत सेक्सी बीएफयह सब देख कर मुझे उस के ऊपर बहुत गुस्सा आया और मैंने उसको बहुत कुछ सुनाया. एक्स एक्स एक्स एक्स वीडियो एचडी बीएफफिर मैंने उसके होंठों पर रखा मेंगो का पीस मुँह में लेकर उसे किस करने लगा आहह उमम्म… किस करते करते कुछ मेंगो उसके मुँह में दे दिए, जिसे वो निगल गई. मैंने वासना भरी आवाज में उससे लिपट कर कहा- अभी तो मैं ही काफ़ी हूँ तुम्हारा ईमान बिगाड़ने को, उसके बाद में कुछ और सोचना.

पर तभी अचानक मुझे याद आया कि आज मोन्टी का बर्थडे है और इसलिये मुझे इतनी जल्दी बुलाया; मैं उसे हर बर्थडे पर विश करती हूँ.

जब हम अपने रूम में आए तो वो बोला यार तुम्हारी माँ तो सच में बहुत जबरदस्त सेक्सी हैं. मैं अपनी शादीशुदा लाइफ में बहुत खुश हूँइस साइट पर ये मेरी पहली सेक्स स्टोरी है. मैंने आगे कहा- किरण कह रही थी कि काफी दिन से साथ में डिनर नहीं हुआ.

दो तीन बार तो इतनी जोर से काटा कि दांतों के निशान पूरी रात भर बने रहे और दूसरे दिन भी नजर आते रहे. बस आप सभी से एक इल्तिजा है कि आप किसी महिला मित्र का नम्बर मांगने की जिद न किया करें… आप सिर्फ एक कहानी समझ कर ही इसका आनन्द लें. मैंने उससे पूछा- तेरी शादी कब हुई और ये सब क्या है?उसने मुझे सब बताया कि वो किसी लड़के से प्यार करती थी और उसने उसी के कोर्ट में शादी कर ली, किसी को नहीं बताया है.

सेक्सी का नंबर चाहिए

अशोक किसी दूसरे शहर नहीं गया, वहीं किस फ़ार्महाउस में ले गया और बोला- अब यह तुम्हारा एक हफ्ते का घर है. यह पहला मौका था जब मैं किसी लड़की के साथ पूल में था और फार्म हाउस पे कोई नहीं था. पापा ने पीछे से आकर अपना पूरा लंड एक ही झटके में बिंदु माँ की चूत में घुसेड़ दिया और फिर धक्के पर धक्का मारने लगे पापा आगे को झटका मारते थे और बिंदु माँ पीछे को अपनी गांड पापा के लंड पर मारती थीं.

भाबी मेरे हाथ को दबाते हुए बोलीं- बोलो ना… क्या बोलना है?मैंने भाबी को ‘आई लव यू सविता…’ बोला.

मैंने उसके होंठों पे उंगली रखी और पूछा- यहाँ किस किया?उसने हाँ में सर हिलाया.

मैंने कई बार हटाया, बाद में तंग आकर मैंने उसके पैर को हटाना छोड़ दिया. उनकी गांड से अपना लंड निकाला और उनके हैंडकफ खोल दिए, वो ज़मीन पे गिर गईं. बीएफ साड़ी वाला चोदा चोदीतू पूरा लंड बाहर निकाल कर इसकी चूत को किस करके चूस, अपना लंड भी इसके मुँह में डाल कर इससे चुसवा.

तभी चाचा जी ने कहा- मुझे अभी जाना होगा, उनके कंपनी का क्न्साइनमेंट आने वाला है. मुझे अब मौसी की चुत का रस पीने की लत लग गई थी और उनकी हर सुबह चुत चाटने की आदत मुझे इतनी अधिक लग गई थी कि बिना चुत चाटे मुझसे रहा ही जा रहा था. फिर इस वक्त रोशनी भी कम थी… इसलिए मुझे उसको पहचानने में जरा देर लगी- माफ करना भाई पहचानने में देर हुई.

जिसके चलते बाद में बारी बारी से हम तीनों की सारी आजादियां खत्म हो गईं और हम तीनों की एक एक करके शादी हो गई. इस बीच जैसे ही डॉक्टर की नज़र नीना की चूत पर गयी तो वह एकदम से उछल पड़ा.

कामिनी की आवाज आ रही थीं ‘आआह्ह… आअह्ह क्या पेल रहे हो… क्या लौड़ा है मेरी जान…’विवेक में चुदाई का जबरदस्त स्टैमिना था.

जब हम दोनों ने होश संभाला तो वो ऊपर से बिल्कुल नंगी हो चुकी थीं और मेरी शर्ट खुली हुई थी और पैन्ट भी बस उतरने को थी. सिमरन ने उसे फ़ोन पर सुबह ही बता दिया था कि वह एक बड़ी कंपनी के अफ़सर के साथ गाड़ी में लिफ्ट लेकर आ रही है. मैं- मैं अभी अभी आयी… और क्या भाभी गंदी मूवी देखती हो?भाभी- नहीं रे… आज मन कर रहा था तेरे भैया तो है नहीं… इसीलिए मूवी देख रही थी.

सेक्सी बीएफ वीडियो ब्लू सेक्सी अब मैं एक हाथ से उसके चुचे दबा रहा था और दूसरे हाथ को उसकी पैंटी में डालकर चूत सहलाने लगा. मैंने सोचा कहीं ऐसा ना हो कि भाईजान डर जाएं और फिर मुझे मज़ा ही ना मिले इसलिए मैंने उनको अपनी सग़ी बहन को चोदने की हिम्मत बढ़ाने के लिए तैयार करने के इरादे से कहा- ओह्ह.

वास्तव में नीना ने मुझे चुदाई का ऐसा चस्का लगा दिया है, जो इस उम्र में भी जब तक एक राउंड चुदाई न कर लिया जाय, नींद कोसों दूर रहती है. ब्लैक ब्रा में ऋतु के दूध से चमकते गोरे गोरे मम्मे बहुत सुंदर लग रहे थे. उसने अपने ब्लाउज का ऊपर का एक बटन भी खुला रखा था, जिससे उसके स्तन काफी बाहर को झांकते हुए दिख रहे थे.

डब्ल्यूडब्ल्यूई हिंदी सेक्सी वीडियो

एक रात को मैं फ़ोन पे मेरी गर्लफ्रैंड से बात कर रहा था तो एक अनजान नंबर से बार बार कॉल आ रही थी, और मेरा फ़ोन वेटिंग में आ रहा था, अनजान नंबर था तो मैंने भी ज्यादा ध्यान नहीं दिया. अभी मैं झड़ता तो 10 मिनट लंड को तैयार होने में फिर से लगते, तो इसलिए मैंने सोचा कि अभी चूत चोदना सही रहेगा. मैंने कहा- कैसे?उन्होंने कहा कि इतने हैंडसम हो और कोई जीएफ नहीं है!मैंने मुस्कुरा कर कहा- अभी तक आपके जैसी कोई मिली नहीं है.

मैंने उसका कामरस जो मेरे हाथों में था पहले सूंघा, जिसकी गंध बिल्कुल 25 साल की लड़की के कामरस के समान थी. उनके बेटे को कभी मैं अपनी गाड़ी में घुमाता, कभी साईकल पर बिठा कर उसे घुमाता रहता था.

लेकिन मैंने समय की नज़ाकत को समझते हुए उसे यूनिवर्सिटी चलने को कहा और फिर हम दोनों बाइक से उसके कॉलेज जा ही रहे थे कि रोड पर गड्ढे होने के कारण मैंने उसे पकड़ने को कहा.

मेरी पहली चुदाई की कहानीपतिव्रता बीवी की गैर मर्द से चुदाईको काफ़ी लोगों ने पसंद किया और मुझे मेल भी भेजे. तुम चाहो तो ऐसे ही और 100-200 धक्के लगा सकते हो… और मुझे वो भी कम पड़ेंगे! खैर जैसी तुम्हारी इच्छा… अब मुझे एरिक का लंड चूसने में डिस्टर्ब मत करो. मैंने गाड़ी साइड में लगा दी और वह भैया उतरा और किराया देकर चला गया.

ऐसा करते हम दोनों 69 के पोजीशन में आ गये। हम दोनों एक दूसरे के मुख में झड़ चुके थे, फिर मैं उठ सीधा हुआ और अपना लंड भाभी की चूत रख दिया. आह… उह… डार्लिंग…मैं उसके बूब्स की टोपियों को काट रहा था, कितना मजा आ रहा था। उसने अपने नाखून मेरी पीठ पर गड़ा दिये आह… उम्म्ह… अहह… हय… याह… आहहह… या… यस…वो सिसकारियां भर रही थी और पुकार रही थी- अब डाल दो… जानू औऱ सब्र नहीं होता। मार ही डालोगे क्या तड़पा तडपाकर…मैं उसे क्या कहता कि मैं कितना तड़प रहा हूँ…उसने मेरा लण्ड पकड़ लिया मेरा 6. पहले उसने मना किया कि मैंने सुना है कि गांड में ज्यादा दर्द होता है.

मेरी आयु 18 साल की थी और मैं +2 की परीक्षा के बाद मामाजी के घर गया था.

खून निकलती हुई बीएफ: वो आज ऑफिस में भी मुझसे चुदवाना चाहती थी मगर मैंने उस को कोई लिफ्ट नहीं दी. उधर भाभी को भी थोड़ा पता लगा कि उनकी गांड में कुछ सख्त सा आइटम चुभ रहा है, तो वो मेरी तरफ घूम गईं और मुझसे सॉरी बोलने लगीं.

मेरा लंड उस टाइम पर सो रहा था और मुझे मालूम ही नहीं था कि वह क्या करने वाले हैं. हा… हाँ, यहीं यहीं… और करो… यस! जोर से करो… यहीं हाँ यहीं… ओ गॉड!… आह हाय सी… ई. वैसे तो मैं एकदम सील पैक माल हूँ, पर चुदने की ललक सील तोड़ने में लगी हुई है.

अभी मेरे लंड का टोपा ही उसकी गांड में गया था कि वह जोर जोर से चिल्लाने लगी.

मगर जब दूसरी बार उसने मुझे पूरी तरह से चोद लिया और पानी निकालने ही वाला था तो बोला- बोल कुतिया तेरी चुत को हरी-भरी कर दूं या चुपचाप इस अमृत को पिएगी?मैं बहुत डर गई थी इसलिए बोली- हां, पी लूंगी मगर प्लीज अन्दर ना करिए. यह बात आंटी ने भी नोटिस कर ली थी।बात शुरू करने के लिए आंटी ने पूछा- क्या करते हो?मैंने आंटी को सब कुछ बता दिया कि क्या करता हूँ, कहाँ से हूँ. मेरे घर वाले मुझ पर यकीन करते थे सो उन्होंने भी मुझसे कुछ नहीं कहा.