देहाती लड़की के साथ बीएफ

छवि स्रोत,एचडी में ब्लू फिल्म सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

किसके सेक्सी: देहाती लड़की के साथ बीएफ, उसने मेरे से कहा- मिस्टर संदेश हम लोग थोड़ा सा ड्रिंक कर लेते हैं, फिर आप मेरी सेवा में लग जाइएगा.

हिंदी बीएफ हिंदी ब्लू

आप वहां कुछ ना कहना ओके!मोना- अच्छा ठीक है नहीं बोलूँगी, अब चल नहा ले जल्दी से. चूत लंड का बीएफफिर उन तीनों को पेशाब आई और उन्होंने मुझसे कहा कि तुम काफ़ी प्यासे हो गए हो और हम सब तेरे मुँह में ही मूतना चाहेंगे.

मैंने ‘हाँ’ में सर हिलाया तो आगे कहने लगीं- प्लीज़, यह बात अपने अंकल (यानि उनके पति) को मत बताना. आदिवासी का बीएफ सेक्सीअपनी गोरी जाँघों पे खुद हाथ घुमाते हुए वो बोली- नहीं ऐसा नहीं अंकल, मैं नहीं बोल सकती.

कोई 5 मिनट तक चाटने के बाद एकदम से उसने मेरे मुँह पे लात मारी और मैं नीचे गिर गया.देहाती लड़की के साथ बीएफ: तो ये थी दोस्तो मेरी लम्बे लंड से चुत चुदाई के मजे की कहानी, उम्मीद करती हूँ कि आपको पसंद आएगी.

अमित के हर धक्के के साथ माया के गले से चीख निकल रही थी, जो उस्मान के होंठों से दब जा रही थी.समझी… और उसके बाद तुझे बताऊँगा कि हम लड़के तेरी माँ को कैसे छेड़ते थे.

हिंदी बीएफ साड़ी - देहाती लड़की के साथ बीएफ

पूरा लंड पेलने के बाद मैं रुक गया और विनीता के रसीले होठों को चूमते हुए उसे सांत्वना दी कि अभी सब ठीक हो जाएगा और तुम मजे लोगी.संजय ने पूजा की गांड के छेद पर अच्छे से थूक लगाया, फिर अपनी एक उंगली उसमें घुसेड़ने लग गया, वो वाकयी बहुत टाइट गांड थी… मगर धीरे-धीरे उसने उंगली अन्दर घुसा ही दी.

और सोचता था कि इसे कैसे चाटूं।कुछ दिनों बाद वो किराएदार आंटी जाने लगी। तब उसने मुझसे माफी मांगी और उसने कहा- तुम्हें जो कुछ करना है कर लो!मैंने आंटी की चूत चोद दी।चोदना ही होता. देहाती लड़की के साथ बीएफ क्योंकि अंकल कुछ दिन बाद आए थे तो चुदाई तो पक्के में होनी थी।आंटी कैसे चुदेंगी.

उधर मैंने अपने लंड से झांटें साफ़ कीं और लंड पर क्रीम आदि लगा कर उसे चमकाया और लंड को लेकर अपने मन में बुदबुदाया कि कुछ दिन और रुक जा भोसड़ी के … बस जल्दी ही तुझे तेरी चुत मिल जाएगी.

देहाती लड़की के साथ बीएफ?

गोल घूम कर नीता का उन तंग कपड़ों में ढका जिस्म देख कर वो बोला- वाह बेटी, क्या अच्छी दिखती हो इन कपड़ों में तुम. मैंने उसे सीधा लेटाया, उस के पैर ऊपर किए और लंड उसकी चूत के मुँह पर टिका कर एक ज़ोर दार झटका लगा दिया. सुरेश- ससससीईई… काआआ…ज…ल…अब काजल ने उसका अंडरवियर भी नीचे खिसका दिया और सुरेश का टनटनाता हुआ लंड बाहर आ गया.

अब तो मैं अपनी बहन की चुदाई के सपने को किसी ना किसी तरह पूरा करने की कोशिश करने लगा. मेरी कहानी पसंद करने के लिए के लिए मैं आप सबको धन्यवाद करना चाहता हूँ. मैंने शिशिर को गुस्से से देखा तो वह मुस्कुराने लगा और खुद भी एक छोटी सी बुक निकाल कर पढ़ने लगा.

मैं उसकी नाइटी उठा कर चूची पीने लगा, मैं जीभ उसकी चूची के चारों तरफ फिरा रहा था. उसने सेक्सी स्टाइल में मेरी टी-शर्ट निकाली, मेरी पैंट उतारी… मेरा अंडरवियर उतारते ही लंड देखते ही वो पीछे हट गई. मैंने ऐसा ही किया, पर मैं नासमझ था सो लंड कहाँ चुत में घुसने वाला था.

मैंने बाहर निकलने की कोशिश की तो अर्पिता बोली- लंड को अभी अन्दर ही रहने दो. लगभग 20 मिनट की चुदाई के बाद हम दोनों पूरी तरह से पसीने में हो गए थे.

तो मैंने अपने हाथ से उसके मुँह को दबा दिया और धीरे-धीरे उसकी चूत चोदने लगा.

फिर सागर ने पूछा- अगला प्लान क्या है?मैं बोली- अगले हफ्ते में मीना के पति ऑफिस के काम से 3 दिन के लिए बाहर जा रहे हैं, तब मैं उसको बच्चों के साथ यहाँ बुलाने वाली हूँ.

माँ की चुत को बहुत देर तक चोदा पर मेरा लंड अब भी सतत चुदाई में लगा हुआ था. यश नीचे लेट गया और मैं उसके ऊपर उलटी खड़ी होकर उसके लंड को अपनी चूत में ले लिया. वो सिहर कर बोलीं- क्या कर रहे हो अवि?मैंने कहा- मेम, क्या मैं आपके पूरे शरीर की मालिश कर सकता हूँ… मुझे एक मौका दे दीजिए प्लीज़!वो मेरी बांहों में खुद को ढीला छोड़ते हुए बोलीं- ठीक है… लेकिन मैं जैसा कहूँगी वैसा ही करना.

अन्तर्वासना पर हिन्दी सेक्स स्टोरीज पढ़ने वाले मेरे प्यारे दोस्तो, मेरा नाम राहुल है. नेहा की चूत से उसकी जवानी का रस बह रहा था और उसकी चूत से निकल रहे रस से मनोज के टट्टे तक भीग गए थे. मुझे अपने पर पूरा विश्वास था कि मैं इसकी अकड़ अपने लंड से ढीली कर दूंगा.

एक बार दिल कर रहा था कि इसको सारी बात बता दूं, फिर सोचा अगर इसे पता चल गया कि मैं किसी और से चुदकर आया हूं या किसी और का लंड चूसकर आया हूं तो कहीं ये भी मुझे रंडी कहकर दुत्कार न दे, और मैं रवि को किसी भी कीमत पर खोना नहीं चाहता था.

मैंने अपनी आंखें खोलीं, चाचाजी ने मुझे कामुक नजरों से घूरते हुए मेरी चुत पे चिकोटी काटी. और तुझे क्या लेना-देना कि मैं क्या कर रहा हूँ, क्या चाहता हूँ? तू तेरा काम कर. अब मैंने उसकी कमीज को ऊपर कर दिया और निकालने लगा, मैंने उससे कहा- साथ दो मेरा.

मैंने भी अपनी टी-शर्ट निकाल दी और ऊपर से में पूरा नंगा हो गया क्योंकि मैं बनियान नहीं पहनता था. उसकी चूचियाँ उछल उछल कर उसकी फ्राकनुमा कुर्ती से बाहर कूद कर आ जातीं तो मैं अपने दोनों हाथों से उन्हें मसल कर चूस रहा था. आज तक खुद माया को नहीं पता था कि ये जगह उसको इतना उत्तेजित कर सकती है.

सामान्य दिनों में आंटी लाइट ऑफ करके सोती हैं लेकिन उस दिन बल्ब जल रहा था। मैंने झाँकने की कोशिश की.

मैं अपने दोनों ममेरे भाइयों के साथ कुछ स्टडी में व्यस्त हो गया और मामा जी के 9 बजे रात ड्यूटी पर जाने का इंतजार करता रहा. रूपा अब कोई भी ऐतराज़ किये बिना पप्पू को अपने जिस्म को मसलने देते हुए बोली- हाय रब्बा, कितना बेशरम है तू, बाप रे कैसी गंदी बात करता है? हम पति पत्नी तो बच्चों के सोने के बाद ही करते हैं ये सब… अगर बहुत रात हो जाये तो ये खेल कई दिनों तक खेलते भी नहीं हैं.

देहाती लड़की के साथ बीएफ मैं उसे बेड के एकदम नज़दीक ले आया, मेरी वाइफ ने अनजान बनते हुए पूछा- कहां चले गए थे? और अब ये लाइट बंद करो प्लीज़!मैंने कहा- करता हूँ यार… तुम बहुत मस्त लग रही हो, रोशनी में तुम्हें इस तरह पूरी नंगी देखने का मज़ा ही कुछ अलग ही है. थोड़ी देर बाद जय ने एक उंगली मेरी चुत में डाल दी और अन्दर बाहर करने लगा.

देहाती लड़की के साथ बीएफ और माँ रोते हुए बोलीं- बच्चे, पागल और पशु से नहीं शर्माना चाहिए बेटी माया. मैंने उसकी चुत को छुआ, वो मना कर सकती थी, गुस्सा भी हो सकती थी मगर उसने तो मज़े लिए और वो झड़ी भी.

वो बेचैन होने लगी और मेरे लैंड को मेरी पैन्ट के ऊपर से ही पकड़ने लगी.

कामुकता सेक्सी वीडियो

मैं हंस कर बोला- बहुत फड़क रही है चूत तेरी, क्यों ठरकी हो रही है साली. ये सब सुरेश और काजल के लिए उम्मीद के बिल्कुल विपरीत था, पर जल्दी ही दोनों संभल गए और मौके की नज़ाकत को समझ गए. मेरी बहन भी भूखी शेरनी की तरह लंड को निहारने लगी और मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी.

ऐसे ही एक जोड़े को देख कर जब रूपिका ने महेश को देखा तो वो भी उसी को देख रहा था, दोनों की आँखें मिली और दोनों ही थोड़ा झेंप गए यह सोच कर कि सामने वाले ने हमारी सोच को पढ़ लिया होगा।दोनों एक कोने में बैठ गए। दोनों के ही दिल जोरों से धड़क रहे थे. मैं शायद आधा सोया हुआ ही था कि तभी मुझे लगा कि किसी ने मेरा हाथ उठा कर मामी के पेट पर रख दिया. घर के सब लोग बाहर बाजार जाने वाले थे, मुझे जैसे ही पता चला कि नेहा दी नहीं जा रही हैं, सो मैंने भी जाने से मना कर दिया.

मेरा लंड कभी भांजी की गांड में जाता तो कभी अपनी सगी बेटी की गांड में घुसता.

मेरे मोहल्ले की मेरी एक बेस्टफ्रेंड है अल्का, वो कॉलेज के थर्ड ईयर में है. वैसे तो मैं काफी बोल्ड थी पर पता नहीं क्यों मैं बॉयफ्रेंड बना कर उससे अपनी चूत चुदवाने में अपनी सहेलियों से पीछे रह गई. वो शादी शुदा था और उसकी बीवी सुरैया ख़ातून जो मेरी भाभी थी, वो भी एकदम मस्त माल थी.

न्यू ईयर भी आना वाला था, तो मैंने सोचा क्यों ना मैं आरती हो प्रपोज कर दूँ. उसने जैसे ही 69 की पोजीशन को बदला, लड़की झट से उसे खींच कर उसके लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी. हैलो दोस्तो, मैं राहुल कुरुक्षेत्र से एक बार फिर आपकी सेवा में हाजिर हूँ.

चाचा जी बस आँखें बंद कर के मोन कर रहे थे और मेरे बालों में हाथ डाल कर अपने लंड पर दबा रहे थे. अब शमशेर ने सुपारा चूत के छेद पर रखा और कमर का एक झटका लगाया तो सुपारा सरसराता चूत में दाखिल हो गया.

फिर मैंने भाभी को बेड पर बैठाया और उनका ब्लाउज़ पूरी तरह से निकाल दिया. उन्होंने अपने होंठों को मिलाकर एक गोल घेरा बना लिया, जिसके बीच में अतुल का लंड फंसा था जिसे वो दोनों मज़े से चूसने लगी थीं. इन सबकी बातें सुनकर टीना के पैरों तले ज़मीन निकल गई, भले ही वो खुले ख्यालों वाली लड़की थी मगर ऐसे किसी की लाइफ बर्बाद करना उसके बस की बात नहीं थी.

वो दिन तो ऐसे ही बीत गया था और हम दोनों दोस्त वापिस आ गए,एक सप्ताह बाद फिर मैं उधर किसी काम से गया तो मैंने मन में सोचा कि क्यों ना आंटी से मिलता चलूँ, शायद कुछ नजारा देखने को मिल जाए!मैंने जैसे ही डोरबेल बजाई, आंटी ने दरवाजा खोला, आंटी मुझे देख कर बहुत खुश हो गईं, उन्होंने मुझे अन्दर बुलाया, अन्दर अंकल को न देख कर मैंने पूछा- अंकल कहाँ पर हैं?उन्होंने बताया कि अंकल काम पर गए हैं.

वो सीत्कार तो कर रही थी लेकिन अपनी गांड हिला कर मेरा साथ भी दे रही थी. मैंने यह कहते हुए उसकी गांड को ऊपर उठाया, यहाँ तक कि मेरा लंड खिंचता हुआ टोपी तक बाहर आ गया. मैं अपनी पेन्ट के ऊपर से अपना हाथ डाल कर अपनी चूत में उंगली करने लगी.

यह कहते हुए चाचाजी खड़े से होते हुए अपनी सीट पर बैठ गए, जो आगे चाची ने भी देखा. लेकिन बहूरानी को जगाने का दिल नहीं किया सो चुपके से बहूरानी के आगोश से निकलने लगा.

सुमन- आह… आह… पापा एमेम मेरी जान निकल रही है ओफ्फ… एयेए…गुलशन जी ने सुमन को बहलाया कि वो आराम से करेंगे. नयना भी कोई कम शैतान नहीं थी, वो भी अपने चचेरे भाई के साथ ऐसे ही सेक्सी किताबें पढ़ती थी और उसके साथ मस्ती करती थी. हम दोनों भी काफी गर्म हो चुके थे और मेरा लंड एकदम से टाइट हो रहा था.

किन्नरों की सेक्सी पिक्चर वीडियो

संजय- अबे साली, तू उसका नाम ले लेकर सबको तड़पाएगी या हमें उसका दीदार भी करवाएगी?फ्लॉरा- टेंशन मत लो यारो, ये है हमारी नई दोस्त बरखा और इनके ब्वॉयफ्रेंड अतुल.

इस बार मैंने नेहा को अपनी गोद में अपनी तरफ मुँह करके बिठाया और उसके मम्मों को चूसने लगा. क्या हुआ है तुझे?उसने मेरा हाथ झटका और एक जोरदार मुक्का मेरी छाती पर मार कर चली गई. मैं वैसलीन की शीशी लाया और अपने लंड और उनकी गांड पर पूरा मल कर लगा दी.

मामी को असीम आनन्द की अनुभूति हो रही थी जिससे उनकी आँखें बंद होने लगीं. बीच में रोक कर मैंने उसे आज का प्लान समझा कर वहीं सोने की सख्त हिदायत दे डाली. सेक्सी भाभी ब्लू फिल्मउसकी उम्र 32 साल है और उसको 2 लड़के हैं, एक 5 साल का और दूसरा 3 साल का.

एक दिन सुमन भाभी थोड़ी अपसेट सी दिखीं, मैंने उनसे पूछा तो उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया. हम लोगों की चुम्मा चाटी की आवाजें केबिन में गूँज रही थीं लेकिन हमें किसी की परवाह नहीं थी.

मैंने कहा- आप दोनों कह रही थीं कि चुत होती है, ये क्या काम करती है?माँ ने मुझे लिटा दिया और मेरे लंड को चूसने लगीं. और 6 इंच का लटकता लंड… बताओ अब क्या कमी थी उसमें… दिल तो कर रहा था कि उसका एक फोटो खीच लूँ. उस दिन हमें गाँव के 2 लड़कों ने देख लिया और आते जाते उसको ताने मारने लगे, फिर मेरे धमकाने और समझाने पर रुके.

मैं उसके रूम में जाने के लिए सेकेंड फ्लोर पर गई तो उसके कमरे में से म्यूजिक बजने की आवाज आ रही थी. तभी उसने एक ज़ोर की आह भरी और अपना पूरा वजन मेरे मुँह पर देते हुए लंड गले के टाँसिल तक घुसा दिया. मुझे कुछ असहज लगा, मैं उससे दूर जाने को बोली, मगर वो नहीं माना तो मैंने महेश से कहा और महेश ने उसको हटा दिया.

वो बोला- क्यों, अच्छा नहीं लग रहा है?मैंने कहा- बहुत अच्छा लग रहा है.

फिर ससुर जी ने मम्मी की चुत पर अपनी जीभ रख दी और वे जीभ को मम्मी की चुत में अन्दर-बाहर कर रहे थे. एक रात जब मेरी आँख खुली तो भाभी रात को मेरी तरफ आकर भैया के ऊपर दूसरी टांग डाल कर सो रही थी। उनका एक पट नीचे मेरी तरफ था और गाण्ड आधी उघड़ी हुई थी। उस रात भाभी ने एक बहुत ही छोटा सा नाईट गाउन पहना था। उस गाउन के आगे के बटन खुले थे जिससे उनके मम्मे भी आधे बाहर निकले हुए थे.

कभी किसी लड़की को बिना कपड़ों के नहीं देखा था, तो बस लड़की के नंगे जिस्म की कल्पना ही थी. कुछ देर बाद अचानक मुझे लगा कि आंटी का बदन अकड़ रहा है और फिर लगा जैसे आंटी ने जैसे बिस्तर पे पेशाब कर दी हो, मेरा पूरा लंड रेनू आंटी की पेशाब से भीग गया. जैसे जैसे वो मेरा लंड मुँह में अन्दर ले जाती, उसकी जीभ की गर्माहट मुझे अपने लंड पर महसूस होती.

मैं लंड की टोपी को अपनी बेटी के होंठों से लगाते हुए बोला- रेखा मेरी गुड़िया मेरी प्यारी सी बेटी. सभी अपने अपने स्वर्गलोक जिसका दर्शन करने के लिए मर्द हमारी चाकरी करते हैं, को अपनी सलवारों से आजाद करो. मैं यही चाहता था कि विनीता को उसकी चुदाई के बाद ऐसा ही महसूस हो कि उसने भावुकता में चुदवा लिया है न कि दवा के असर से.

देहाती लड़की के साथ बीएफ इधर हमारे पास ही मनोज ने सोनिया को घोड़ी बना लिया था और उसके ऊपर से उसकी चूत में अपना लंड डाल रहा था. चाचाजी मेरे होंठ गाल गरदन कान हर जगह चुम्बनों की बौछार कर रहे थे- शाहीन मेरी जान.

ब्लू फिल्म वीडियो सेक्सी ब्लू

उसने मम्मी को घोड़ी बना कर खुद घोड़े की तरह मम्मी के पीछे आ गया और अपने मोटे सुपारे को चूत के छेद पर रख कर धक्का मारा कि मम्मी का मुँह तो जमीन पर टिक गया. अब मैं उसकी गांड से टच नहीं हो रहा था लेकिन अक्षरधाम से भीड़ एकदम चढ़ी और फिर उससे चिपकना मेरी मजबूरी हो गया. रंजु ने गजब का साहस दिखाया और हम दोनों भाई के बीच आकर बेड पर जम गई और मोबाइल पर चलती फिल्म दिखाने को कहा.

एक जोरदार शॉट के साथ मैं उसकी चूत में झड़ने लगा और वो भी मेरे ही साथ झड़ने लगी. उसने तुम्हें अपनी बेटी नहीं माना ना… अब उसकी सग़ी बेटी के साथ ऐसा करूँगा कि वो समझ जाएगा कि बेटी का दर्द क्या होता है. गुजराती बीएफ पिक्चरतो मैंने बोला- भाभी जान, क्या देख रही हो? क्या भैया नहीं दिखाते हैं.

मैं अर्चना की चूत को चूसने लगा और अपनी जीभ को उसकी चूत के बीच डाल कर काम रस को चाटने लगा.

फिर मैंने अपने लंड पर भी बहुत सारी कोल्ड क्रीम लगाई और लंड को उस की गांड पर फेरने लगा. किसी कुंवारी चूत की सील देखना अब मेरे अनुभव में शुमार हो गया था, तो मैंने उसकी पैक सील चूत खोल कर देख ली थी.

आज उसके उरोज कुछ ज्यादा ही सेक्सी लग रहे थे। मैंने जब उन पर हाथ रखा. मैंने भी अपनी टी-शर्ट निकाल दी और ऊपर से में पूरा नंगा हो गया क्योंकि मैं बनियान नहीं पहनता था. अब दोनों भाई बहनों के मन में कुछ और ही ख्याल आने लगा था, दोनों को ही अभी तक सेक्स नसीब नहीं हुआ था और शायद यही बात दोनों को बेकाबू किये जा रहे थी.

हालांकि उसने कई बार ब्लू फिल्मों में इस तरह की चुदाई देखकर सोचा था कि अपने पति के साथ किसी एक का लंड अपनी गांड में भी लेकर सैंडविच बन कर चुदना चाहेगी.

मैं समझ गया कि मामा अपना लंड मामी के मुँह में दे चुके हैं क्योंकि उनकी आवाजें थोड़ी कम हो गई थीं. मैं बोला- स्टाफ में वॉड ब्वॉय तो हैं, कोई जरूरत होगी तो आप उससे बोल देना, वो मुझे बुला लेगा. इधर मामी फिर से दोनों टांगें ऊपर कर तैयार थीं, मैंने अर्चना की चूत से गीला लंड खींचा और मामी की चुत में पेल दिया और जोर जोर से चोदने लगा.

সেক্স ভিডিও মেइधर जो मेरी चुत चोद रहा था, उसने पानी छोड़ा तो तुरंत उसकी जगह नए लंड ने ले ली. वैसे भी नशे की खुमारी और उत्तेजना में मुझे चुदाई करने के अलावा कुछ नहीं सूझ रहा था.

भोजपुरी सेक्सी गाना वीडियो एचडी

’ जैसी आवाजें, मैं इसमें नहीं डाल रहा हूँ, क्योंकि सेक्स हमेशा लंड और चूत का खेल नहीं होता, कभी-कभी प्यार का प्रतीक भी होता है. मैंने कहा- क्या मैं आपकी नुन्नू छू सकता हूं?चाची बोलीं- नहीं, मैंने कहा था ना कि सिर्फ दिखाऊँगी और कुछ नहीं. बोल वो मवाली लड़के क्या छेड़ते हैं तुझे? क्या बोलते हैं तेरी यह गदराई गोरी जवानी देख कर?नीता ने फिर पप्पू का हाथ अपने जिस्म से हटाया.

यह बोलते अचानक ही मेरे हाथ दी की कमर के पीछे चले गए और मैं उनकी कमर को सहलाने लगा. एक हाथ से नीता की गोरी जाँघें और दूसरे से सीना सहलाते हुए नेक किस करते हुए पप्पू बोला- देख नीता, जब तक तू मुझे नहीं बताती कि वो लड़के क्या छेड़ते हैं तुझे, मैं तुझे नहीं छोड़ूँगा, ऐसे ही तेरा जिस्म सहलाता रहूँगा. फिर बस 7:00 पर रवाना हुई, थोड़ी देर बाद मैंने पीछे से महसूस किया कि किशोर एकदम से मेरे से टच होते हुए खड़ा था.

मैंने अपने लंड को फिर से तेल लगाया और सोनिया की गांड के ऊपर रखा, सोनिया को आगे से मनोज ने पकड़ रखा था. मैंने उससे कहा- ये सब करने को तेरा वो तैयार होगा?वो बोली- तुझे देख कर कौन मना करेगा जानी?फिर उसने एक फोन मिलाया और उसने मेरे बारे में उससे बात की, उसे मेरी पिक दिखाई. अपनी विजय पर फूलता हुआ मैं उसे उठा कर उसके बेडरूम में ले गया और कुछ ऊपर से उसके बेड पर छोड़ दिया.

हम एकदम खड़े हो गए। चूंकि मेरा लण्ड खड़ा था अतः मैं बाथरूम में चला गया और भाभी नीचे सीढ़ियों में दरवाजा खोलने चली गई।उस दिन भैया जल्दी 5 बजे ही आ गए थे। मैं कुछ देर बाद, जब लण्ड बैठ गया, तब बाहर निकला. इतना बड़ा लंड… देवर जी, अपनी भाभी पर रहम करो… मैं तुम्हारी सगी भाभी हूँ, कोई पराई नहीं!मैंने भाभी की बात सुनी पर मैंभाभी की चूत मेंबेरहमी से ठोकरें लगाता ही गया.

मैं उठी और भाग कर जीजू के पास पहुंची और गुस्से में पूछने लगी- ये क्या है जीजू… कौन है ये आदमी और ये यहाँ क्या कर रहा है?जीजू मुस्कुराते हुए बोले- यही तो है सरप्राइज!तभी वो आदमी उठ कर मेरी तरफ आया.

आंटी और मैं मार्केट गए, वहां हमने सामान खरीदा और बाद में आंटी मुझे अंडरगार्मेंट की दुकान में ले गईं. चोदा चोदी एक्स एक्स एक्स बीएफकुछ देर वो ऐसे ही पड़े रहे, उसके बाद उन्होंने गांड मारनी शुरू की और दे दनादन पेलते रहे. भाभी की ठुकाईऐसी पोजीशन में भी बदन में अजीब सी सनसनाहट, सुरसुरी होती रहती है और फिर एक स्थिति ऐसी आ जाती है कि दोनों पार्टनर मिसमिसा कर लिपट जाते हैं और चूत लंड की लड़ाई होने लगती है. इस बार गुलशन जी ने सुमन को गोद में उठा लिया और हवा में उसकी चुदाई की.

इस बार लगभग मेरा पूरा लंड उनकी चूत में उतर गया और फिर से ममता जी के मुँह से एक घुटी घुटी चीख निकल गयी.

वो बस मादक सिसकारियां लेती रही और उसने पापा को कह दिया कि आप जो करना चाहते हो करो… अब नहीं रोकूंगी. जीजाजी ने बुआ को स्टोर रूम में जगह के बारे में बताया, बुआ स्टोर रूम में बिस्तर लगाकर खाना खाने चली गयी. मैं और जोर से भाभी की चूत में धक्के देता रहा, भाभी की चूत चुदाई करता रहा.

वो बोला- तो क्यों तड़पा रही हो काजल, दिखा दे ना अब?काजल मुस्कुराते हुए- पक्का?अब दोनों की साँसें तेज हो रही थीं, धड़कनें बढ़ गई थीं और एक दूसरे को लेकर ख्याल बदल चुके थे. अब जैसे उसके हाथ ऊपर जाते तो उंगली लंड को टच हो जाती और गोपाल सिहर जाता. जैसे ही पप्पू उसके सामने आया तो वो बोली- उफ्फ ओहह, तुम क्या कर रहे थे सड़क पे ऐसे? कोई देखेगा तो क्या सोचेगा? आज मेरी सहेली ने मुझे उसके नये घर बुलाया था, इसलिए मैं उसके घर जा रही हूँ.

सेक्सी सेक्सी फोटो फोटो

मैं भी तेरी माँ के आने के पहले तुझे इतना चोदना चाहता हूँ कि उसके बाद कोई कमी ना रह जाए और फिर हम जब भी छुप कर मिलें तो तुम्हें तकलीफ़ नहीं सिर्फ़ मज़ा मिले. अब तो आंटी ने अपने गाउन के बाकी बटन भी खोल दिए और आंटी पूरी नंगी मेरे सामने लेटी हुईं, अपने मम्मे मुझसे चुसवा रही थीं. मेरे होंठों का वार सहन नहीं कर सकी और मेरीबहन की बुरसे मूत निकल गया.

तभी अंकल ने बोला- यार, यह तो सच माल है, रियल में रो रही है, हम लोग सोचे थे कि यह आरती बहुत चुदवाई हुई है, पर हम लोग गलत हैं यार, इसकी चूत तो बहुत टाइट है, सच में रो रही है, ऐसा करो गाड़ी किसी होटल रिसोर्ट या ढाबे पर लगाओ, इसको सब लोग एक साथ चोदेंगे.

फ़िक्र मत कीजिये अगर ये सब नहीं बताऊंगा तो कहानी बनेगी कैसे?आइये आगे बढ़ते हैं.

जब वो चुदासी औरत मेरी टर्म्ज़ आंड कंडीशन जानने को बेताब थी, तो मैंने उनको अपनी सारी शर्तें बता दीं. सुमन- बस बस सांस लो… एक साथ मत बोलो मेरे प्यारे मॉंटी… इसे चुदाई कहते हैं. एक्स एक्स गर्ल सेक्सी वीडियोइसी क्रम में उसकी नाइटी उठ गई और मेरा हाथ सीधे उसकी चूत पर चला गया.

कुछ देर बाद मैंने उसका एक निप्पल अपने मुंह में लिया और उसको चूसने लगा. जैसे ही वापस घर आया और अन्दर सामान लेकर जा रहा था तो देखा कि वो अन्दर वहीं बैठी हुई थी. मैंने तुरंत पीछे देखा और मेरी नजर उस लड़की पर गई, जिसे मैंने सुबह आते से ही देखा था.

अब गाए:उस रात की चुदाई के बाद मैं नीलेश जीजू से करीब एक महीना नहीं मिली क्योंकि वो अपने ऑफिस के काम में बिजी हो गए थे. मैंने उनसे पूछा- मैडम आपका बाथरूम कहाँ पर है, अब पहले मैं आपकी चुत की साफ-सफाई कर दूँ.

देसी कहानी का पिछला भाग :रिश्तेदारी में आई लड़की को पटा कर चोदा-1अब तक की देसी कहानी में आपने पढ़ा था कि मैंने नेहा को वाइन पिला कर मदमस्त कर दिया था और खुद टॉयलेट के बहाने बाहर आ गया था ताकि वो पास में रखे मेरे मोबाइल में पॉज की हुई ब्लू फिल्म को देख सके.

झड़ने के बाद मैं विनीता के ऊपर ही तब तक लेटा रहा, जब तक कि मेरा लंड सिकुड़़ कर बाहर नहीं आ गया. कुछ ही देर में मेरे लौड़े में जान आने लगी थी, तो मैंने खड़े होकर अपना लंड फिर से नेहा के मुंह में डाल दिया. सामने से आती हुई गाड़ी की रोशनी में चाचाजी अपनी हवसी नजरों से मुझे घूर रहे थे.

मराठी हिंदी बीएफ लेकिन अंकल यह दाग धब्बे कैसे हैं इस शॉर्ट्स पर?नीता के पूरे नंगे जिस्म की झलक देख कर पप्पू का लंड और तन गया. प्लीज मुझे जरूर बताइएगा और अपने कमेंट्स जरूर लिखें ताकि मैं आपको अपने और गांव वालीबुआ की लड़की की चुदाईकी कहानी सुना सकूँ.

फ्रीज़ तो उसके पीछे ही था, फिर भी मैं गया और फ्रीज़ से सब्जी निकाली और उसके पीछे खड़ा रहके सिर्फ़ हाथ उसके आगे किया, तो मेरा हाथ उसके मम्मों से छू गया. ये कहते हुए पप्पू अपने दूसरे हाथ को रूपा के नंगे पेट पे रखते हुए बोला- इस वक्त सहेली के घर क्या काम निकाला तूने?किसी के देखने के डर से रूपा जल्दी जल्दी पप्पू के आगे चलते हुए सड़क से ज़रा उतर के सुनसान जगह में एक पेड़ के पीछे जाके खड़ी हो गई. मैं विजय के आंड मुँह में भरकर चूसती तो उसकी ‘आह्ह आह्ह…’ सुनकर मुझे भी अच्छा लगता.

हमको सेक्सी पिक्चर

क्या इस जमाने में इस तरह की लड़की हो सकती है, जो तीन घंटे किसी मर्द को झेल सके?उदहारण मेरे सामने था. फिर हम लोग तैयार हुए, हमने अपने नंबर एक्सचेंज किए और बाईक से उसके घर के लिए निकल पड़े. वो बोलीं- बहनचोद, मेम क्यों बोलता है… अभी मैं तेरी रंडी हूँ मादरचोद… जितना गन्दा से गन्दा बोल सकता है… बोल हरामी…मेरी तो समझो निकल पड़ी थी.

सेक्स कहानी का पहला भाग :इश्क विश्क प्यार व्यार और लम्बा इन्तजार-1सेक्स कहानी का दूसरा भाग :इश्क विश्क प्यार व्यार और लम्बा इन्तजार-2जैसा कि आपने पिछली कहानी में पढ़ा था कि मैं मोनिका को होटल में ले गया और वहां हम दोनों ने मन भर कर चुदाई की, जिससे मोनिका की शिकायत मेरे लिए खत्म हो गई. कुछ देर बाद लंड को चुत के छेद पर लगाकर दबाया तो उसका 1/4 लंड मेरी गीली चुत के अन्दर चला गया.

मैंने भी बिना देर किए लौड़े को उसकी बुर के छेद पर रखा, एक हल्का धक्का दे मारा.

मुस्कुराते हुए रूपा बोली- तू मेरी बेटियों के बारे में जानने के लिए बेताब है… यह मैं जानती हूँ पप्पू… तो सुन, मेरी एक बेटी हॉस्टल में पढ़ती है और दूसरी घर में रहती है. मैं रागिनी की चुची को चूसता हुआ पेट और नाभि को चाटते हुए अपना मुँह सीधे रागिनी की जांघ पर रख कर चूमते हुए मेरा मुँह सीधे उसकी जांघों से होता हुआ चूत पर आ गया. लेकिन जब अर्चना दूसरे कमरे में जाते हुए पीछे मुझे देखते हुए हंस रही थी.

उस पूरी रात हम दोनों ऐसे ही एक दूसरे की बांहों में एक दूसरे को प्यार करते हुए पड़े रहे, नंगे ही सो गए और जब सुबह उठा तो मेरा लंड खड़ा था, मैंने शीतल दीदी… ओह दीदी नहीं शीतल को जगाया और एक बार चुदाई की. चाची की चूत और नंगी टांगें देख कर मेरा लंड फनफनाने लगा, मैं बोला- चाची अपनी नुन्नू में मेरा नुन्नू डालने दीजिये ना. मैंने उसके साथ ऑफिशियल मामले निपटाये और इधर-उधर की बातों के बाद उसके पिछले दौरे में दिये गए डिनर की भरपूर तारीफ की.

आज की घटना से मेरा नजरिया बदल गया था, अब मैं हर वक़्त प्लान बनाने लगा कि कैसे उनकी चूत और गांड से खेला जाए.

देहाती लड़की के साथ बीएफ: पापा- दोनों साथ में करेंगे तो ज़्यादा मज़ा आएगा और वैसे भी मैं तुम्हें एक अलग मज़ा देने वाला हूँ मेरी जान. उनकी चुची चूसने में मुझे बहुत मजा आता था क्योंकि मेरी मम्मी और बहन की चूचियां छोटी छोटी थीं.

तो मैं उस की टाँगों के बीच गया और बहन की चूत का मुँह खोल कर देखने लगा. मैंने उनके दोनों चूतड़ों को हाथ से फैला कर हल्का धक्का दिया तो इस बार मेरा लंड लगभग दो इंच उनकी गांड में घुस गया. मैं एक बार जिस किसी लेडी का मसाज कर देता हूँ, वो मुझे कभी भूल नहीं सकती.

उसने सामने पड़े एक नैपकिन से हाथ पोंछा तो सुगंधा ने पूछा- तुम्हारा रूमाल किधर गया?मेरी गुलाबो चौंकते हुए बोली- अरे लगता है कि प्रसाद खरीदते समय दुकान पर छूट गया है.

आज का दिन मेरे लिए सच में बहुत अच्छा था, मेरे पास तीन तीन माल जैसी लड़कियां थीं. उसका नाम ऋतु (बदला हुआ) है, उम्र 19 साल, मेरे ही गाँव के पास में रहने वाली, फैमिली रिलेशन्स के चलते हमें एक-दूसरे से मिलने की पूरी छूट थी. शिवानी ने अपने हाथ जोर से बेड पर जमा रखे थे, मैंने अपनी छाती उस की कमर पर टिका दी और लंड अंदर करने की कोशिश करने लगा.