देहाती लड़की बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,मारवाड़ी देसी राजस्थानी सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ सेक्सी साउथ मूवी: देहाती लड़की बीएफ सेक्सी, !मैं- जी ठीक है।चाचाजी ने अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया। मुझे उनका हब्शी लंड चूसने में बड़ा मजा आ रहा था। हम दोनों 69 में आ गए.

पंजाबी सेक्सी अच्छा

मेरी बुआ मेरे गाँव में ही रहती थी, उनकी लड़की प्रिया मेरे से 4 साल बड़ी थी, मस्त माल थी वो, बड़ी बड़ी चुची, मस्त गांड… पर मैंने कभी उसे सेक्सी नजर से देखा नहीं था।मैं बीमार था इसलिए वो मुझे देखने मेरे घर आई थी. हिंदी सेक्सी वीडियो पुलिसमयंक अपने घर की छत पर ले गया और मुझे उन औरतों के बारे में बताने लगा कि उसका नाम यह है, उसका नाम यह!करीब तीन चार औरतों का समूह आता था पांच से छः बजे के बीच और हम उन औरतों को लेट्रिन जाते देखते थे.

यह बोलते बोलते वो मेरे काफ़ी नज़दीक आ गई और मैं कुछ समझ पाऊँ… उससे पहले उसने अपना हाथ मेरी जाँघों पर रख दिया और कहने लगी- प्लीज़ सर्टिफिकेट दे दो, आप जो बोलेंगे, वो मैं करूँगी. सेक्सी सेक्सी इंग्लिश हिंदीऐसे में चुदाई तो हो नहीं सकती थी, बस मस्ती करते-करते घर आ गए।अब मेरे दिन बदल गए थे.

मैं अब कहाँ रुकने वाला था, मैं उसकी जवानी में झटके लगाते हुए बोला- लंड की रानी तो बता न, किस किस का कैसे लिया लंड? ये ले और झटका आह ले बहनचोद.देहाती लड़की बीएफ सेक्सी: भाभी को और मजा आने लगा, भाभी ने अपनी टांगें खोलते हुए कहा- अब मुझसे सहा नहीं जा रहा है.

तो उसके शरीर की सुगंध से मेरे अन्दर कुछ-कुछ होने लगता।उसके साथ डांस करते-करते मेरा लंड खड़ा होकर उससे टच होने लगा।जब उसको महसूस हुआ तो वो भी गर्म होने लगी.चुदाई की गति और ताक़त अब काफी बढ़ चुकी थी, नताशा के मुंह से काफी तेज सिसकारियां निकल रही थी.

सेक्सी इंडियन ब्लू पिक्चर सेक्सी - देहाती लड़की बीएफ सेक्सी

बस चाट मुझे!’ और फिर मैंने भाभी को पूरी ताक़त से चाटना शुरू कर दिया.सब अपने में मस्त हैं।यह बोलते हुए मैंने उसके गालों पर किस कर दिया।वो बोली- चलो कहीं बैठते हैं।हम दोनों वहीं समुद्र के किनारे भीड़ से दूर रेत पर बैठ गए। अब हमें दूर-दूर तक कोई नहीं दिख रहा था.

लेकिन मुझे उनकी हर बात पसंद आ रही थी।फिर भाभी की आवाजें तेज होने लगीं ‘आआह. देहाती लड़की बीएफ सेक्सी दस मिनट की बुर फाड़ चुदाई के बाद मेरा माल निकलने वाला हो गया था, तो उसे मुझे पूरी तरह से जकड़ लिया और मेरा पूरा वीर्य उसकी बुर में ही निकल गया।इस तरह हमने मजे से बुर की चुदाई की, फिर अलग हुए और एक-दूसरे को साफ़ किया। अंजलि ने मुझको प्यार करते हुए खूब गालियां भी दीं कि इतनी खतरनाक तरह से कोई चोदता है क्या?मैं हंसने लगा.

अब मैंने अपना माल उसकी फुदी में छुटा दिया पर मेरा माल बाहर निकल आया.

देहाती लड़की बीएफ सेक्सी?

तब मुझे शान्ति मिली।अब मेरे मन में चाहत जोर पकड़ रही थी और मैं किसी भी तरह चाची की चुदाई करना चाहता था। इसलिए मुझे आप सब दोस्तों से मदद चाहिए कि मैं उन्हें कैसे चोदूं. मैं भी फालतू लोगों का खाना नहीं ख़ाता।मैं बिस्तर पर लेट गया।उसने कहा- मेरा गुस्सा खाने पर क्यों दिखा रहे हो, खाना खा लो चुपचाप!मैंने कहा- मैं बाहर होटल पर जाकर खा लूँगा।उसने कहा- खाना तो आपको खाना ही पड़ेगा।वो रोटी का टुकड़ा तोड़कर मेरे मुँह में डालने लगी। मैंने तभी उसे अपनी बांहों में भर लिया और कहा- प्लीज़ दिव्या, बताओ तुम मेरे साथ ऐसा क्यों कर रही हो?उसने कहा- सुशान्त जो हमारे बीच हुआ. मैं भाभी के ऊपर आ गया और ब्लाउज खोल कर उनकी चूचियाँ आज़ाद कर दी और निप्पल चूसने लगा, फिर भाभी का चेहरा प्यार से पकड़ कर उनको चूमने लगा.

सामने खड़ी रह कर बोलीं- कैसी लग रही हूँ?मेरे मुँह से जल्दी से निकला- एकदम पटाखा।तो आंटी हंसने लगीं और उन्होंने कहा- अरे पागल, मेरी साड़ी कैसी है ये पूछा. तभी मधु भाभी आ गईं, वो मुझसे बोलीं- प्रिया नहीं है क्या?प्रिया मेरी वाइफ का नाम है।मैंने कहा- वो बाज़ार गई है. उम्म्ह… अहह… हय… याह…मैंने घबरा कर उसके मुँह पर हाथ रख कर फिर से धक्का लगाया तो मेरा पूरा लंड अन्दर चला गया।अबकी बार मैंने हाथ रखा हुआ था.

मेरी चुदाई की कहानी आज से 3 साल पहले की है। मैं कॉलेज में एक लाइब्रेरियन हूँ। उस वक्त फर्स्ट इयर में नए-नए एड्मिशन हुए थे। उनमें से एक लड़का था राजवीर…मेरा नाम राखी है. तीन बार ऐसे हुआ तो मुझे गुस्सा आ गया।मैंने फिर से बुर के मुख पे अपना लौड़ा रखा और दबाया, थोड़ा सा लौड़ा उसकी बुर के अंदर गया तो वो चिल्लाई और मुझे हटाने की कोशिश करने लगी लेकिन मैं उससे चिपका रहा. आज से मैं आपका पति हुआ और आप मेरी पत्नी हुईं।मैंने चाची को बिस्तर पर बैठाया और खुद बैठा.

दरअसल कॉलेज के दिनों में मुदस्सर की छत पर तो कभी मेरी छत पर मैंने उससे काफी गांड मरवाई थी. मैं ऊपर आया और अपना लंड उसके होंठों पे रखा, वो बिना कुछ बोले चूसने लगी, बहुत अच्छी तरह चूस रही थी.

देख कर लगा कि जीवन धन्य हो गया मेरा!लंड या लुल्ली… वो टाइट हो गई थी.

और ज़ोर से चूस… मुझे मालूम है तू कितनी इस लंड की दीवानी है, चूस… चूस साली रांड… चूस!और तभी भाभी के लंड चूसने की आवाज़ और तेज़ हो गई.

तभी बापू की आवाज़ आई- साले हरामी, तेरी ही वजह से मेरी बेटी का ये हाल हुआ है, आज तुझे जड़ से ही काट दूँगा. ऐसे तो बिना चुदाई के ही निकल जाएगा। ठीक है चल आज तू चोद… अब तेरा लंड भी एकदम तैयार है और मेरी चुत भी!’उसने बदमाशी से अपनी गोल-गोल मुलायम चूची मेरे सीने पर दबा कर हंस कर कहा।मैंने झट से उसको मुँह में लेकर चूस लिया और काट लिया।वो हाई… कर उठी- उफ़…साला… जंगली बहुत बदमाश हो गया है दो ही दिन में. उसने फिर से दो उंगलियाँ मेरी चुत में डाल दी और अंदर बाहर करने लगा, मैं उसके वार सहन नहीं कर सकी और मेरा बदन अकड़ने लगा, मैंने अपने पैर भींच लिए पर उसका काम बिना रुके चालू था, मैं पीछे लेट के फिर से झड़ने का मजा लेने लगी, मेरे पैर अभी भी पलंग के नीचे थे.

वो तड़पने लगी, जोर जोर से चिल्लाने लगी- प्लीज बसंत, धीरे आईई मैं मर गई… हहहह धीरे! बसंत धीरे! अह्ह्ह्ह! हहह!मैं उसकी चूत को चूसता रहा और उसके बूब्स को भी दबाता रहा. फिर रोमेश ने अलमारी के ऊपर रखी वेसलीन की शीशी देखी, उसने लेकर उसमें से वैसलीन अपनी उंगली पर लगा ली और फिर एक उंगली लौंडे की गांड में डाल दी, अंदर बाहर करता रहा, फिर गोल गोल घुमाने लगा. तोली ने मुस्कुरा कर मेरी तरफ देखा और फिर अपने लंड से मेरी पत्नी की चूत को चोदते हुए ही मेरी उंगलियों के ऊपर अपनी दो उंगलियाँ उसकी गांड में डाल कर अन्दर-बाहर करने लगा.

मैं पूरे जोश में था।हम दोनों एक-दूसरे को फिर किस करने लगे।इसके बाद आंटी बोलीं- जो भी करना है जल्दी कर लो.

तभी भाई ने कहा- मेरा लिंग चूसो ना?हालांकि मैं जानती थी कि लिंग चूसना और योनि चाटना कामुक सेक्स का हिस्सा है फिर भी मैंने एक बार मना किया तो भाई ने गिड़गिड़ाते हुए कहा- तुम चूसोगी तो मैं भी चाटूंगा. चूंकि मैं एक मध्यम परिवार से था तो मज़बूरी में उसी स्कूल में पढ़ना पड़ा था. 30 बजे उसका मेसेज आया- क्या तुम सच में मेरे साथ रात गुज़ारना चाहते हो?मैंने कहा- हाँ!तो बोली- ठीक है, चलो दी तुमको आज की रात! क्या करोगे मेरे साथ?उस रात को हमने ज़बर्दस्त सेक्स चैट करी.

यह मुझे बहुत अजीब लग रहा था, परन्तु मैंने इसका विरोध नहीं किया।मुझे भी थोड़ा मजा सा रहा था. पर तबियत ख़राब होने के कारण मेरा ख्याल रखने के लिए ताई जी ने पिंकी को मेरे साथ सोने को बोल दिया।मैं ऊपर चौबारे में सोता था जो गेस्ट रूम की इस्तेमाल करते थे… जहाँ 2 बिस्तर लगे थे।पिंकी मेरे से 3 साल बड़ी थी तथा घर वालों की नज़र में मैं अभी भी बच्चा ही था।रात में जब हम दोनों सो रहे थे तो मैंने उससे डर लगने का बहाना बना कर अपने बिस्तर पर आने को कहा। शायद उसका भी मन मुझसे चुदने का था. साथ ही चाची के भूरे कलर के निप्पलों को काट देता।चाची मजा लेते हुए बोलीं- आराम से कर.

तुमको जब मैंने अपने लबों से पहली बार लबबद्ध किया, तो तुमने अपने लबों के चुम्बन से मुझे मेरी ही जैसी तुम्हारी हसरतों का अहसास करवाया.

एक दिन मुझे एक 35 वर्ष की औरत का मैसेज आया, मैसेज में उसने मुझसे मेरे लंड का साईज़ पूछा और मेरी बॉडी के बारे में पूछा. कमरे की खिड़की से आ रही हल्की सी रोशनी में कामरस से सराबोर मेरी प्यारी वंदु की प्यारी मुलायम चूत बिल्कुल चमक सी रही थी.

देहाती लड़की बीएफ सेक्सी तो मैं टॉप ले कर भागने लगा। वो मेरे पीछे नंगी ही दौड़ी।जब वो मेरे पीछे दौड़ रही थी तो उसकी चुची ऊपर-नीचे होते हुए बड़ा सेक्सी सीन बना रही थीं. वाह क्या गांड थी गरमागरम… जैसे ही मेरा लंड जोहा की गांड में सटा, वह चिहुंक उठी, जोहा के कसमसाते हुए दोनों चूतड़ों ने मेरे लंड को जकड़ लिया, उसने अपने चूतड़ों को जोर से दबोच लिया और पीछे पलट कर मुझे देखा… और फिर पलट के सोने लगी.

देहाती लड़की बीएफ सेक्सी तो मीता ने मेरी चुत में एक उंगली डाल दी और कहने लगी- कैसा लगता है?मुझे थोड़ी अजीब सा लग रहा था पर मज़ा भी आ रहा था।तभी वो उठी और कपबोर्ड से लकड़ी का एक गोल डंडा लेकर आई, मैंने देखा कि वो काफ़ी बड़ा था लगभग सवा फुट लम्बा सवा इंच व्यास का… उसके किनारे भी गोल थे।मीता बोली- ले इसे मेरी चूत में डाल!मैं चौंक गई. ‘आ उहह… आराम से करो… उउउहह… औच्च मत करो… अमित अमित!’मैंने कहा- यार छुटने वाला है!कहती- बाहर निकालो!मैंने कहा- अंदर… एक बार!कहती- नहीं, निकालो… आई डोंट वॉंट तो टेक एनी चान्स, आई डोंट वॉंट तो हॅव एनी चाइल्ड!मैंने बहुत मनाया, वो मानी नहीं, कहती- यू नो इट, मुझे नहीं करवाना बच्चा! या चान्स लेना!मैंने निकाला और चूत पे गिरा दिया.

यह कहानी कुछ साल पुरानी है जब मैंने कोचिंग सेंटर जाना शुरू किया था.

गांड मारने का सेक्स

मेरी तकलीफ उसके समझ में आ गई, एकाएक उसने मेरा हाथ छुड़ा लिया और मेरी तरफ पीठ करके खड़ा हो गया, मेरे दोनों हाथ पकड़ के उसने मुझे अपने पीछे से खींचा और मेरा हाथ उसके लिंग पर रखा, मैं उसको पीछे से पूरी चिपकी हुई थी, मेरे स्तन उसके पीठ में गड़ गए थे. दोनों चैट के लिए अलग अलग क्रेडिट खर्च होने थे तो मैंने पहले वीडियो चैट ही चुना. मैं वहीं नहीं रुका… धीरे-धीरे अपनी जीभ की नोक को उसी तरह उसकी नाभि से रगड़ते हुए नीचे की तरफ़ बढ़ने लगा.

राजू ने उठ कर बैठते हुए अपनी भाभी को चौपायों पर बैठाते हुए उसके चूतड़ अनातोली की दिशा में कर दिए और मुंह अपनी तरफ!तोली ने मेरी वाइफ की चूची चूसना बंद कर उसके चूतड़ों के पीछे जाकर उसकी सफ़ेद चड्डी नीचे को सरका दी और झुक कर उसकी गांड चाटने लगा. भाभी ने मुझे कस के पकड़ लिया और मुझे रुकने का इशारा किया… पर अब मैं कहाँ रुकने वाला था, मैंने एक और धक्का लगाया तो भाभी की आँखों में आँसू आ गए- मादरचोद… हरामजादे मेरी चुत है… आराम से चोद ले मादरचोद. चाची मेरे पास आई और बैठ गई, उन्होंने मुझसे पूछा कि मैंने आज बाथरूम में क्या किया?मैं समझ गया, मुझे लगा कि आज फिर से क्लास लगने वाली है लेकिन उसके बाद कुछ ऐसा हुआ कि मैं हैरान हो गया.

पूरा नहीं जा पा रहा था। फिर भी मैं उसका लौड़ा पूरा ज़ितना अन्दर ले सकती थी, लिया और चूसने लगी।अब हम दोनों ही पगला गए थे। चुदासी आवाजों का शोर तेज हो गया था।मैंने कहा- बस जानू.

तुम मुझे कंपनी दे दो।फिर हम दोनों पंडाल के बाहर गार्डन की तरफ अंधेरे में आ गए। थोड़ी दूर जाने के बाद मुझे टॉयलेट महसूस हुई, मैंने आंटी से कहा- हम वापस चलते हैं. लेकिन आराम से। मैंने महसूस किया कि वियाग्रा के असर से उसका जोश भी बढ़ गया था।अचानक वो चिल्लाई- ढंग से दबा साले. माँ ने कहा कि अब उनका बेटा ही डैड की कमी पूरी कर रहा है और वो खुश हैं.

उसके खूंटे जैसे लौड़े का गोलगप्पे जैसा टोपा नताली की गांड में घुसते और बाहर निकलते हुए भचा-भच की मधुर ध्वनि कर रहा था, जिसको सुन कर मैं इतना उत्तेजित हो उठा, कि मैंने अपना लंड पकड़ कर राजू का लंड चूसती उसकी भाभी के मुंह में घुसेड़ दिया. मैं अब कहाँ रुकने वाला था, मैं उसकी जवानी में झटके लगाते हुए बोला- लंड की रानी तो बता न, किस किस का कैसे लिया लंड? ये ले और झटका आह ले बहनचोद. कुछ पल को रुक कर मैंने अपनी स्थिति को एडजेस्ट किया और कोमल को भी संभालने का मौका दिया.

मेरा तो लंड ही खड़ा हो गया।मेरे अन्दर जाते ही वो खड़ी हो गई। वो मेरे लिए पानी लेकर आई और फिर कोल्डड्रिंक लेकर आई। मैं धीरे-धीरे शिप करते हुए कोल्डड्रिंक पीने लगा और उससे बातें करने लगा। कुछ ही देर में मैं उसके साथ मस्ती करने लगा।इतना करने के बाद वो रोने लगी कि एक तुम हो जो मुझे बात-बात पर हंसाते हो और एक मेरा पति है जो मुझे मारता है।मैंने बोला- जानू मैं हूँ ना तेरा पति. उसके खूंटे जैसे लौड़े का गोलगप्पे जैसा टोपा नताली की गांड में घुसते और बाहर निकलते हुए भचा-भच की मधुर ध्वनि कर रहा था, जिसको सुन कर मैं इतना उत्तेजित हो उठा, कि मैंने अपना लंड पकड़ कर राजू का लंड चूसती उसकी भाभी के मुंह में घुसेड़ दिया.

!यह सुन कर मेरी हिम्म्त बढ़ी और मैं धक्के लगाने लगा। अब चाची ज़ोर-ज़ोर से ‘आअहह. टीवी देख-देख कर मैं बोर हो गया था तो सोचा बहनोई के डैस्कटॉप में कुछ पोर्न साइट्स देख लेता हूँ।मैंने डेस्कटॉप ऑन किया तो सोचा एक बार शादी की पिक्स देखी जाएं।मेरे बहनोई की बहन एकदम टंच माल थी. मेरे दरवाजा खोलते ही वो डर गई।मैं उसके पास खड़ा हो गया। मैं मौके का फ़ायदा उठाना चाहता था इसलिए मैंने उससे कहा- तू नंगी क्यों नहा रही है?तो बोली- गर्मी लग रही थी।मैंने गुस्से से उसे डांटते हुए कहा- तेरी मम्मी से कहूँगा कि तू नंगी होकर दरवाजा खोलकर नहा रही थी.

मैंने स्टार्ट किया सेक्स चैट तो उसको अच्छा नहीं लगा और उसने कहा- मुझको अच्छा नहीं लग रहा!तो मैं अपनी वौइस रिकॉर्ड करके उसको भेजने लगा.

मेरी बहन की चूत गीली होने लगी।फिर वैभव ने भूमिका की दोनों टाँगें अपने कंधे पर रखीं और उसकी टाइट चूत में अपना लंड घुसाने लगा। भूमिका कामुकता भरी आवाज़ में ‘हम्म हम्म. बस मुझे करने दो।तब भी उसने कुछ नहीं बोला और मैं उसे किस करने लगा। इस बार उसने आना-कानी नहीं की. मेरे घर के सामने मुझसे तीन साल बड़ी एक महिला रहती थी जिन्हें मैं दी कह कर बुलाता था, उन्होंने आज तक शादी नहीं की, सुना था कि किसी से प्यार करती थीं और उसने शादी कहीं और कर ली थी जिसकी वजह से उन्होंने शादी नहीं की.

उसने सफ़ेद ब्रा और नीली पेंटी पहनी थी… क्या बताऊँ क्या मस्त लग रही थी मेरी बहन बिकिनी में!अब मैंने उसकी ब्रा पेंटी भी उतार दी और उसके दूध पीने लगा और उसको चूत भी चाटी. ऐसा हो नहीं सकता था। मैं भी ऑफिस से आया और नहा-धो कर तैयार हो कर चल पड़ा।मैं ठीक 7 बजे उसके घर पर आ गया था। उसने दरवाजा खोला.

’ की आवाज़ से और अपने हाथ से उसका सिर घुमाने लगी। उसके बाद वो खड़ा हो गया और उसने मुझे अपना लंड चूसने को कहा।मैंने पहले तो लंड चूसने से मना किया, लेकिन फिर उसके और मेरी फ्रेंड के कहने पर लंड चूस लिया, मुझे सच में बहुत मजा आया।फिर मेरे कजिन ने मुझे लिटा कर मेरी चुत का बाजा बजा दिया. मतलब अपनी बहन की चूत चुदाई!मैंने दोपहर ही कंडोम के 10 पीस के 5 पैकेट ले लिए ताकि एक महीने तक चुदाई का मजा लिया जा सके।इसी के साथ में मैंने जैली भी ले ली और नीनू के लिए गर्भनिरोधक गोलियां भी ले लीं। आज मेरा दिन काटे नहीं कट रहा था. तभी बस वाले ने एक मोटेल में बस रोकी, बोला- बस 10 मिनट रुकेगी, फिर सीधे पूना रुकेगी।लाइट जल चुकी थी, हम दोनों ही अपनी दुनिया से निकल कर वास्तविकता में आ चुके थे पर कोमल नज़र नहीं मिला रही थी.

सेक्स वीडियो रानी

मेरी मम्मी को मार्केट जाना था तो मम्मी ने मुझसे कहा- मैं थोड़ी देर में वापस आ जाऊंगी, तुझे चाय पीनी हो तो संध्या को बोल देना, वह बना देगी!मैंने कहा- ठीक है!मम्मी के जाने के ठीक बाद ही संध्या फिर से मेरे यहाँ आ गई और मुझे परेशान करने लगी.

!पहले तो मैं डर गया लेकिन मैंने अपने ऊपर संयम किया क्योंकि वो मेरी बॉस थी।तभी उसने अपनी चूत खुजाते हुए मुझसे कपड़े उतारने के लिए कहा। मेरा लंड खड़ा सा होने लगा था तो तिरछी निगाह से मेरे हिनहिनाते हुए घोड़े को देखा और कहा- हम्म. वो रात भी बहुत जल्दी आई, मैं अकेला कमरे में लेटा हुआ फोन पर चैटिंग कर रहा था. अः अह’गुरु जी का हाथ कुछ गहराई में उतरा पर तभी बाहर आ गया, रमा का सारा बदन गर्म हो रहा था वो समझ नहीं पा रही थी कि वो इतनी कामोत्तेजना क्यों महसूस कर रही है, अब बस वो यही चाहती थी की गुरूजी मालिश करते रहें और उसके हर एक अंग की करें।‘उसके साथ तुमने कभी सम्भोग नहीं किया?’ गुरु जी ने उसकी गांड को ज़ोर से दबाते हुए पूछा.

वो सिर्फ़ ब्रा और पैंटी में थी। चाँद की रोशनी में क्या मस्त माल लग रही थी वो. लेकिन सहलाने से मन को सुकून नहीं मिला और मन में शैतानी जन्म लेने लगी. चोदा चोदी सेक्सी फिल्म दिखाएंभाभी के थोड़ा सा उठ जाने की वजह से मेर लंड व उनकी चूत में थोड़ा सा फासला हो गया था और अब मेरे धक्के लगाने से मेरा लंड उनकी चूत में अन्दर बाहर होने लगा‌। संगीता अब भी कराह रही थी, उन्होंने मेरे कंधों को जोरों भींच रखा था और मेरे धक्को के साथ साथ वो ‘अआहँ… बस्सस… इई… श्शश… अआहँ… इई…श्शश…अआहँ…’ की आवाज कर रही थी मगर मैं रुका नहीं और नीचे से अपने कूल्हे तेजी से उचका उचका धक्के लगाता रहा.

चूस-चूस कर उसके मम्मों को लाल कर दिए।मैं नीचे आया और उसकी चुत को चाटने लगा. पर मैं डर के मारे सोने के एक्टिंग किए हुए पड़ा था, जैसे मैं नींद में हूँ।मुझे डर सता रहा था कि अन्नू मेरी बहन सिमी को सब कुछ बता देगी। इसलिए मैं बाहर ही नहीं गया।विदाई होने के बाद सिमी अन्नू के साथ अन्दर आई और मुझे उठाने लगी, तो मुझे उठना पड़ा। मैं अन्नू से नजर नहीं मिला पा रहा था, पर सिमी मेरी बहन मुझसे नॉर्मली बात कर रही थी.

मैं हँसता रहा और गांड मारता रहा।यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!थोड़ी देर बाद वो शांत हो गई और मजा लेने लगी।मैंने सही मौका देख कर फिर से एक जोरदार शॉट के साथ पूरा लंड पेल दिया. उसकी अधखुली आँखों में देखते हुए मैंने अपनी पोज़ीशन को एक बार फिर से ठीक किया और उसकी कमर को थाम कर अपने लंड को जड़ तक बाहर निकल कर धीरे-धीरे झटके देने शुरू किए. मैं बता नहीं सकती कि मुझे कैसी मस्त फ़ीलिंग हो रही थी।मैंने उसके कान में कहा- जान अब बर्दाश्त नहीं होता.

फिर उन्होंने कहा- चल अब शुरू कर असली खेल!मैंने भी देर न करते हुए अपने लंड पे थोड़ा थूक लगाया और उसकी चूत में पेल दिया. अब उसके मुख से आवाज़ें आने लगी थी लेकिन कूलर की आवाज़ की वजह से सिर्फ मुझे ही पता चल पा रहा था. ’क़रीब ढाई घंटे के सफर के बाद हम दार्जीलिंग में अपने पहले से बुक किये हुए रूम में प्रवेश कर चुके थे.

’ की आवाज़ निकल रही थी। इसी बीच में माँ सख़्त होने लगीं और फिर वही सफेद पानी उनकी चुत से निकला, जो मेरे मुँह पर आ गिरा।अब माँ थोड़ी ढीली हुईं और खड़ी हो गईं। माल झड़ने के बाद भी उन्हें चैन ना था.

’ मेरी पत्नी मुदस्सर का टोपा अन्दर जाते ही बुरी तरह से दर्द से बिलबिला उठी और अपनी गांड वापस खींचने लगी लेकिन मुदस्सर ने उसकी पतली कमर कसकर पकड़ी हुई थी. जब मैं ज़्यादा नाराज़ होने लगा तो वो एक रंडी की तरह अपना पेटिकोट ऊपर करके और अपनी टाँगें चौड़ी कर के बोली- लो कर लो जो करना है!मुझे समझ ही नहीं आ रहा था कि मैं क्या करूँ?थोड़ी देर बाद मैं भी चुपचाप सो गया और वो भी.

और मेरे घर में तो माल नहीं दो एटम बम हैं।जो पुराने पाठक हैं या जिन्होंने मेरी कहानियां पढ़ रखी हैं. क्लास कुछ लड़के दोस्त बने, वो हमेशा क्लास में पीछे ही पीछे वाली सीट में बैठते थे. ’ की आवाज़ निकाल रही थीं। थोड़ी देर बाद मौसी चुदाई में मेरा साथ देने लगीं।अब मैंने उनकी टांगें हवा में उठा दीं और अपना लंड पूरा का पूरा मौसी की चूत में पेल दिया। वे भी मेरा साथ दे रही थीं।बिस्तर भी ‘चींचीं.

’ की आवाज आने लगी। मैं चाची को धकापेल चोदता रहा।चाची बोलीं- राकेश थोड़ा रुक जाओ, मुझे तकलीफ हो रही है।लेकिन मैं चाची को चोदता रहा। मेरा लिंग भी कड़क होकर दर्द करने लगा. रीना ने गहरे हरे रंग का सूट पहना था और सफ़ेद चुन्नी थी, मैंने नीली कमीज और जीन्स पहनी थी. ’ निकली, तो मैं डर गया और उसे छोड़ दिया।मैंने सोमी की तरफ देखा, वो मुझे देखते हुए मुस्कुरा रही थी, मुझे लगा कि सोमी भी चुदना चाहती है।कुछ देर बाद मैं सोमी के पास गया और उससे ‘सॉरी.

देहाती लड़की बीएफ सेक्सी मेरी इस हिंदी सेक्स स्टोरी पर अपने मेल भेजना न भूलिएगा।[emailprotected]आप मुझे फ़ेसबुक पर भी संपर्क कर सकते हैं. सुबह हमने साथ नाश्ता किया और उसने मुझे बस स्टॉप पे छोड़ दिया, उसके बाद वो अपनी ड्यूटी पर चला गया.

बहु के साथ सेक्सी वीडियो

‘क्या बताऊँ दीदी इस आदमी से तो तंग आ गई हूँ, मैं आज तो पूरे 93 दिन हो गए. तो पता चला कि हम लोगों को डाउनसाइड में जाने की जरूरत है, वहाँ बहुत सारे एजेंट्स यही काम करते थे।हम लोग एक शॉप पर पहुँचे और पूछताछ करने लगा, तभी एक ग्रुप और उस शॉप पर आया और सेम चीज के लिए पूछताछ करने लगा। कमाल की बात ये थी कि वो ग्रुप कोई और नहीं था. भाभी आगे से अपनी उंगली लाकर अपनी चूत का दाना रगड़ने लगी, वो ज़ोर से हाँफ रही थी.

हम दोनों तो बस एक दूसरे की आँखों में ही खोये हुए थे और वंदना के हाथ मेरे शॉर्ट्स को नीचे खींचने का असफल प्रयास कर रहे थे लेकिन शॉर्ट्स था कि मेरे बिल्कुल खड़े और सख्त लंड पे आकर अटक गया था. बहुत दर्द करने लगी थी।इसके बाद तो उसके साथ चुदाई का खेल कई बार हुआ और अब भी होता है. जल सेक्सीदोस्तो, आपको भी पहली बार की गांड मराई याद होगी!वैसे तो हर बार की गांड मराई याद रहती है, मजा याद रहता है, दर्द याद रहता है.

विक्की भी शादीशुदा है। उसकी शादी भी मेरी शादी के 2 महीने बाद हुई थी लेकिन आज भी हम दोनों आपस में चुदाई करते हैं। विक्की बहुत स्मार्ट है और एक बॉडीबिल्डर भी है, उसका अपना जिम है।मैं- हैलो विक्की, कहाँ हो आज?विक्की- घर पर ही हूँ।मैं- मुझसे मिलने नहीं आओगे?विक्की- यार क्या कहूँ, साली बीवी कहीं भी नहीं आने-जाने देती।मैं- अपनी बीवी के आते ही मुझे अलग कर दिया!विक्की- नहीं यार ऐसा नहीं है.

भयानक लंड के उसके छेदों की चुदाई शुरू हो चुकने के बावजूद अभी तक उसकी चड्डी उसके पैरों में ही फंसी हुई थी और नताशा के पैरों को पूरी तरह नहीं फैलने दे रही थी, इसलिए राजू अपने हाथ बढ़ा कर उसकी चड्डी निकालने लगा. वो लेट गई।इस बार मैंने उसकी चूत में उंगली करना शुरू कर दी, साथ ही उसकी गांड में भी उंगली की, ताकि गांड मारते वक्त वो ज्यादा नखरे ना करे। क्योंकि मेरा तो पहले से ही उसकी गांड मारने का प्लान था। मेरा भी जोश अब सातवें आसमान पर पहुंच चुका था मैंने चुदाई शुरू कर दी। उसकी चूत टाइट थी.

इसलिए दर्द हो रहा है, तू रुक मैं अभी इसका इलाज कर देती हूँ।ये कहकर उन्होंने बाजू के ड्रावर खोल और कंडोम निकाला और मेरे लंड पर लगा दिया, अब आंटी ने कहा- सेक्स करने में अब नहीं होगा दर्द. एक तो मेरी सीट पर आकर बैठ गए हैं और हट नहीं रहे हैं।उसने कहा- कोई बात नहीं. आंटी बोली- ये क्या कर रहा है?मैं डर कर बोला- कुछ नहीं!और वहाँ से चला आया.

मुझे बहुत मजा आ रहा था। यह मेरे साथ पहली बार हो रहा था।करीब 10 मिनट तक उन्होंने मेरा लंड चूसा। मैं भी उनकी चुत चाटे जा रहा था.

नताली इंतजाम देख कर मुस्कुराई, फिर मुझे आंख मार कर बनावटी तौर पर उह-आह करने लगी. उन्होंने मुझसे कहा कि वह कई सालों से प्यासी हैं, वो मुझसे चुदना चाहती है. तो उसने छेद को भींच कर बंद कर लिया।अब मैं उसकी गांड के छेद को जीभ से चूसने लगा और धीरे-धीरे उसमें एक उंगली डाल दी। उसे थोड़ा दर्द हुआ.

नाचते हुए सेक्सी वीडियोनंगी भाभी बाथरूम में फिसल पड़ी और मैंने उन्हें बाथरूम से नंगी उठा कर कमरे में लाया. लेकिन आज टाइम ज्यादा नहीं था। अगर कोई आ जाता तो खड़े लंड पर धोखा हो जाता।मैंने जल्दी से उसकी चूत पर लंड सैट किया.

न्यू इंडियन एक्स वीडियो

और टाइट हो गया। मुझसे रहा न गया तो मैं बाथरूम में जाकर उसके नाम की मुठ मार कर आया और सो गया।अब मैं जब भी पोर्न देखता या मुठ मारता. फिर हम दोनों 69 पोजीशन में आ गये… मैं उसकी चूत को चाट रहा था और वो मेरे लंड को चूस रही थी… बहुत मजा आ रहा था. आप कौन?उसने कहा- मैं सुदीप हूँ मेरी माँ ने आपसे बात की थी ना कल शाम को.

मुझे बॉल मिल गई तो मैं उसके बॉल देने उसके घर चला गया।मैं जब बॉल देने गया तो जल्दबाजी में मैं हाफ पैंट में ही चला गया था। वहाँ जाने पर उसकी मम्मी गेट पर खड़ी थीं वो मैक्सी पहने हुई थीं। उनके खड़े होने के अंदाज से उनकी गांड निकली हुई दिख रही थी. उसकी हो ज़ा।लेकिन मैंने कहा- हमारे रिश्ते का अंजाम नहीं है।उसको भी पता है लेकिन कहती- कोशिश करके देखा जाए?मैंने कहा- जितना साथ लिखा है, उतना समय अच्छे से बिताएँगे। इस रिश्ते को लोग नहीं समझ सकते. 2 दिन बाद उसका फ़ोन आया, उसने बताया कि उसका पति काम के सिलसिले में शहर से बाहर जा रहा है 4 दिन के लिए… वो 3 दिन बाद जाने वाला था तो उसने मुझे बोला कि वो चार दिन मैं उसके साथ उसके घर पे ही रहूँ!मैं बहुत खुश हुआ क्योंकि मेरा उसे चोदने का सपना अब पूरा होने वाला था.

बीच बीच में कभी उसके हाथ को पकड़ता, कभी कमर में हाथ डाल देता तो कभी उसकी बाँहों को सहला देता. जैसे ही संगीता आई, गगन भागते हुए कमरे से बाहर चला गया और उसने बाहर से दरवाजा बंद कर दिया। मैं धीरे से पीछे से निकला. मैंने एक पेइंग गेस्ट होम में रूम लिया है।यह सेक्स स्टोरी मैं जो आपको सुनाने जा रहा हूँ.

मैं उसकी नरमाहट का मजा ले रहा था और सोच भी रहा था कि दीदी इतनी मोटी और बड़ी चुची को कैसे सम्भालती है।कुछ देर ऐसा करने के बाद उसका हाथ भी मेरे लंड पर लोअर के ऊपर से ही घूमने लगा। उसने मेरे लंड पर हाथ डाला मतलब मैं समझ गया कि अब उसको चुदने का मन हो गया है।दोस्तो, कैसी लग रही है सुरभि की जवानी. उसकी चूत नहीं।उसने नीचे खुद को देखा और शर्मा कर कमरे में चली गई। फिर वो तैयार होकर नीचे आई और बाइक पर बैठ गई।मेरी हालत खराब हो रही थी.

मैंने अपनी रूम मेट को फोन पर कहा- सुरभि, शायद आज मैं होस्टल नहीं आ पाऊँगी.

उसने मेरी तरफ सर से लेकर पाँव तक गौर से देखा और मुस्करा कर पूछा- आर यू रीतिका?मैंने कहा- येस!उसने हाथ मिला कर मुझसे ‘हाय’ कहा, उसका नाम बताया एंड्री… मुझे अंदर आने को कहा और दरवाजा बंद कर दिया. wonderwall सेक्सीमैंने मौसी का शर्ट निकाला और उनके ऊपर लेट गया तो मौसी ने कहा- बेटा, मेरे चुचों का सारा दूध पी ले… 4 साल हो गए, किसी ने इनको नहीं पिया है. सपना चोधरी सेक्सीहम दोनों इतनी ठण्ड में भी पसीने से तरबतर हो रहे थे और मेरे धक्के बढ़ते ही जा रहे थे, आज मैं रुकने वाला नहीं था. मैं समझ गया कि अब यह झड़ने वाली है, मैं और कस के धक्के मारने लगा और वो वक़्त आ गया कि जब हम दोनों झड़ गये.

मुझे बहुत मजा आ रहा था, मैं उस के लबों को चूस रहा था, चूचे दबा रहा था और बहन की चूत सहला रहा था.

और उस लड़के की बाइक साइड से कट मारती हुई निकल गई।वो लड़की इस हादसे की कारण दूर जा कर गिरी. हर झटके में भूमि की हल्की चीख निकलने लगी- भाईईए…मैं काफी देर तक चोदता रहा. उसकी ख़ुशी उसकी चूत के जरिए मेरे लंड तक बार-बार पहुँचती रही।पड़ोसन जवान लड़की की चुत चुदाई की इस कहानी पर आप सभी के विचारों का मेरी ईमेल पर स्वागत है।[emailprotected].

काफ़ी देर चुदाई के बाद वो थक गई लेकिन मुझसे बड़े हॉट तरीके से लिपटी रही. यह हिंदी चुदाई की सेक्सी कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!‘ऐ गली मत दो न!’ मैंने उसे रिक्वेस्ट की तो वो हंस कर बोला- मजा आता है… तुमको भी आ रहा है!वो मेरे ब्रा के हुक्स खोलते हुए बोला, मैं उसका साथ दे रही थी. फिर तो मेरे दिन काटने मुश्किल होते जा रहे थे। मैं दिन में 3 बार उसके नाम की मुठ मारता।फिर दो दिन बाद अचानक से उसका कॉल आया और बोली- कल मेरे घर में कोई नहीं रहेगा।यह बात सुनते ही मेरा लंड खड़ा हो गया.

સેકસી પીચર હિન્દી મે

कुछ देर ऐसा करने के बाद वो सरककर मेरे और पास आई और अपने मम्मे को पकड़कर मेरे मुंह से सहलाने लगी. मैं 4 साल से हिंदी में चुदाई की कहानी की बेस्ट साईट अन्तर्वासना को पढ़ रहा हूँ।जवानी में सबकी गर्लफ्रेंड होती है. ऐसे में उसने मुझे एकदम कस के पकड़ा और बोला- रीतिका आई एम कमिंग!और मुझे एकदम कस के पकड़ के उसका पानी छोड़ दिया.

मेरी यह कहानी मेरी एक पिछली सेक्सी कहानीट्रेन में आर्मी अफ़सर के साथ चूत लंड की मस्तीकी ही अगली कड़ी है, पढ़ें और मजा लें.

वो बात नहीं है देव, आपका लंड काफी बड़ा है, इससे मुझे दर्द हो रहा है।मैंने मामी से कहा- आप लंड को मुँह में लेकर चूसो ताकि ये गीला हो जाए.

पर तुमने तो मेरे आने से पहले ही खेल खत्म कर लिया!भाभी की ये बात सुन कर मुझे बहुत अच्छा लगा।फिर मैंने मुस्कुरा कर कहा- आग इस तरफ़ भी है. मेरा लंड लोहे सा कड़क हो गया था। मैंने उसकी चुत पर अपने लंड को खूब रगड़ा, उसकी चुत का पानी मेरे लंड पर लग गया. कच्ची कली फिल्म सेक्सी’ मैं मादक सीत्कार करने लगी।वो अपने मुँह से मेरी पेंटी उतारने लगा।फिर वो मेरी पेंटी उतारते-उतारते चूत को चूसता रहा.

पहली बार ही लिख रहा हूँ, इससे पहले बस मैं आप सबकी स्टोरी पढ़ कर मुठ मारता रहता था, साथ ही मैं सोचता था कि मैं भी अपनी स्टोरी लिख डालूं।इसी प्रेरणा से आज मैं लिख पाया हूँ। मुझे कोई ग़लती हो जाए, तो माफ़ करना साथियो!मेरी हिंदी चुदाई स्टोरी मेरी चाची की चुदाई की है. हसीन भाभी के साथ सुहाना सफ़र और चोदा चोदी-1अब तक आपने सुहाना भाभी संग चोदा चोदी की कहानी में पढ़ा कि सुहाना भाभी मेरे ऑफिस में मेरे साथ थीं और अब मैं उनको चोदने की तैयारी में था।अब आगे. पर मैंने अब अपने हाथ फेरने का एरिया बढ़ाना चालू कर दिया, ऊपर उसके चूचों पर हाथ लगाना शुरू कर दिया और नीचे उसका पजामा छूने लगा.

आंटी इससे पहले कोई गाली दें इससे पहले मैं उनको होंठों को अपने मुँह में लेकर किस करने लगा।तो आंटी ने मेरा सर जोर से अपने मुँह में धकेल लिया। मैंने भी आखिरी बार अपना लंड जोर से आंटी की चूत में पेल दिया और मेरा माल अन्दर जाने लगा। पर कुछ ही सेकण्ड में मुझे वही माल बाहर आना चाहता हो, ऐसे लगने लगा. फिर मैंने स्वीटी से कहा- मुझे तुम्हारी चूत चाटनी है!तो उसने मना किया लेकिन मैं कहाँ मानने वाला था… बिना समय गंवाए मैं घूम गया, हमने चादर ओढ़ ली, अब मैंने अपना काम शुरू कर दिया.

अब हम तीनों चुदाई में थक चुके थे… हम तीनों ऐसे ही सो गये और जब सुबह आँख खुली तो दुबारा चुदाई में लग गये.

फिर उसके मम्मी पापा ने उसकी शादी कर दी, उसके बाद वो मुझे कभी नहीं मिली. ‘रमा तो कितनी लंबाई है हमारे लंड की?’‘गुरु जी 12 इंच’‘ठीक अब मोटाई का नाप लो’‘हाय इतनी तो मेरी बाजु भी मोटी नहीं है. नताली इंतजाम देख कर मुस्कुराई, फिर मुझे आंख मार कर बनावटी तौर पर उह-आह करने लगी.

लेडीस की सेक्सी फोटो दोस्तो, मेरी पिछली कहानीकहानी प्यार विश्वास और सेक्स कीको अपना प्यार देने के लिए आप सभी का शुक्रिया! आपकी प्रतिक्रियाओं के लिए तहे दिल से आप सभी का आभार और प्रेम!दोस्तो, अमृता के साथ एक साल तक मैंने दिल्ली साथ जॉब की और इस दौरान हमने सेक्स का भरपूर आनन्द भी लिया. नेहा ने आते ही उसे हग किया और उसे जूस का गिलास देते हुए बोली- जूस पी लो और फटाफट फ्रेश हो जाओ।आशु बोला- इतनी जल्दी क्यों?तो नेहा बड़े स्टाइल से बोली- आज तुम्हारा दोस्त भी तो आ रहा है पीछे पीछे, अब उसके सामने तुम वाशरूम में हुए और मुझे अकेला देख कर उसकी नीयत खराब हो गई तो?आशु हंस कर बोला- उसकी नीयत तो बाद में खराब होगी, मुझे तो तुम्हारी नीयत खराब दिख रही है.

साली की चुदाई का मेरा काम तो आसान हो गया था।दो दिन तो रोज ऐसे ही चलता रहा और तीसरे दिन शाम को 5 बजे के आस-पास, मेरी वाइफ अपनी पुरानी सहेली से मिलने उसके घर गई हुई थी. फिर उनके उपर मैं घोड़ा स्टाईल में हो गया और अपना लंड उनके होठों पर रगड़ने लगा. बड़ी बहन को पटाया और छोटी चुद गई-1दोस्तो, मेरी गर्लफ्रेंड की छोटी बहन अब तक की चुदाई की कहानी आपको अच्छी लगी और आपने मुझे अपने प्यार भरे मेल भेजे, इसके लिए आप सभी का शुक्रिया।अब आगे.

एक्स एक्स एक्स सेक्सी देहाती वीडियो

मैं शिफाली तुम्हारी मेल का इन्तजार कर रही हूँ।[emailprotected]लेस्बीयन कहानी जारी है।. यह सेक्सी स्टोरी फोन पर दोस्त बनी एक महिला के साथ सेक्स की है, उसके साथ ही मैंने अपने जीवन का पहला सेक्स किया था. !इस पर उन्होंने कहा कि वो बीएससी ग्रेजुएटेड हैं, वो मुझे अच्छे से समझा सकती हैं।मॉम ने भी इस बात पर प्रसन्नता जाहिर की।मैंने कहा- ठीक है.

मराठी मुलगी की प्यासी चूत में लंड की सेक्सी कहानी-3हम दोनों का दिल अभी भरा नहीं था. पर क्या हुआ?उसने मेरी फैमिली के बारे में बताया कि इनकी फैमिली हमारे यहाँ फेमस है.

मैंने फिर से उसे गर्म कर दिया और अब वो कह रही थी- प्लीज सैम… ज़ल्दी से डाल दो प्लीज…यह हिंदी चुदाई की सेक्सी कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!और मैंने भी देर ना करते हुए उसे बेड पर सीधा लेटाया और अपना लंड उसके चूत के ऊपर रगड़ने लगा.

अब मैं रुका हुआ था, वो अपनी मोटी गांड आगे पीछे कर रही थी और आह्ह हयेः ह्ह्ह्ह हुहुहुहुम्म कर रही थी और घच घच घच घच पूरे कमरे में गूँज रही थी. मेरा घर नई मुम्बई खारघर में 3 बैडरूम का एक फ्लैट है जो 11th फ्लोर पर है. तोली घुटनों पर खड़ी नताशा के पीछे, घुटनों पर ही खड़ा होकर लगभग आधा लंड उसकी कमर को पकड़ कर अपनी ओर खींचते हुए गांड में पेल रहा था.

वे सारा दिन काम करते हैं, तुम उन्हें समय पर खाना बनाकर देना आदि आदि।मैं भी यही जवाब देती कि अम्मी मैं यह सब कर रही हूँ। फिर वह कहतीं कि ठीक है. थोड़ी देर बाद मैडम नहा कर आई और वाइट शर्ट और स्कर्ट पहनी थी जो घुटनों तक थी. हालांकि उसकी शादी भी हो गई है। लेकिन बेचारा उसका पति उसके लिए कुछ कर ही नहीं पाता, सो मेरी चुदाई बदस्तूर जारी है।दोस्तो, इस सेक्सी कहानी के बारे में फीडबैक जरूर करना।आपका दोस्त राज सिंह[emailprotected].

तुमको अच्छा लगेगा और मैं जानता हूँ कि तुमको भी जरूरत है…कोमल- नहीं.

देहाती लड़की बीएफ सेक्सी: 30 बजे मैं अपने घर में बेठा था और निशा को चोदने के बारे में सोच रहा था कि कैसे पटाऊँ उसे… मेरा दिमाग खराब हुआ आज तो कुछ करके आऊँगा. ‘ओउच…’फिर उसने बैठने को कहा, फिर चुन्नी उतारी, बहुत चूमा और फिर मुझे लिटा कर पजामी उतार दी और पेंटी भी.

उसको अपने पीछे बिठाया और मेरे दोस्त ने उसकी एक्टिवा उठा ली। हम हॉस्पिटल पहुँच गए. वो कह रही थी कि 2 साल से किसी के साथ किया नहीं तो चुत थोड़ी टाइट हो गई है. मैंने उसे बेड पर लेटाया और उसकी कमीज़ उतारी… मेरे तो होश उड़ गये… इतनी सुंदर चूची!वो मेरे कपड़े उतरने लगी.

बस आज भी मैं उसका इंतज़ार कर रहा हूँ… काश वो फिर से सर्टिफिकेट लेने आ जाए…प्रिय पाठको, आप मुझे ज़रूर बतायें कि आपको मेरी यह सच्ची सेक्स कहानी कैसे लगी![emailprotected].

क्योंकि मैं उसको देर तक चोदना चाहता था।मैंने धीरे-धीरे स्पीड को बढ़ाया, मेरा लंड पिस्टन की तरह अन्दर-बाहर हो रहा था, ‘छप. ’ रमा ने राहुल से कहा जो कच्छे की टांग से बाहर झांक रहे अपने लिंग की तरफ इशारा कर रहा था।‘चल जाकर नहा ले, ज्यादा बातें मत बना वरना स्कूल के लिए लेट हो जायेगा. मैंने आज पहली बार किसी की नग्न चूचियाँ देखी थी, उसने मुझे उन्हें मुंह में लेकर चूसने को कहा जैसा ब्लू फिल्म में चल रहा था।मैं पागलों की तरह उन्हें चूसने लगा, मुझे बहुत अच्छा लगा, मैं दूसरी चूची को दबाने लगा.