फुल सेक्सी बीएफ पंजाबी

छवि स्रोत,ऑफिस के बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी बीएफ भाई बहन वाली: फुल सेक्सी बीएफ पंजाबी, किशोर दूसरे मजदूरों से बोला- तुम सब गोदाम से सीमेंट की बोरी भर कर ट्रैक्टर में लाओ, ट्रैक्टर गोदाम में कब से खड़ा है.

बीएफ पिक्चर हिंदी में भेजो

फिर उन्होंने साड़ी के ऊपर से मेरी चूत में अपनी उंगली को डाल दिया और चूत सहलाने लगे. बीएफ चुदाई साड़ीउन्होंने गाड़ी अन्दर लगाई और फिर हम दोनों उतर कर घर के अन्दर चले गए.

इसलिए मैं जब भी चाचा के घर जाता तो चाची मेरे साथ ही वक़्त बितातीं, मेरे साथ ही खेलती रहती थीं. मुसलमान वाला बीएफमैंने पूनम का पल्लू नीचे गिराया और ब्लाउज के ऊपर से पीठ को चूमते हुए पूनम के मम्मों को मसलने लगा था.

अब मैं बाईस साल का हट्टा कट्टा मर्द था गोरा माशूक था, पर बहुत दिनों से लंड के दीदार नहीं हुए थे.फुल सेक्सी बीएफ पंजाबी: दीदी भी समझ गई और खुद के घुटनो को मोड़ कर बेड से लगा कर तेजी से कमर को ऊपर नीचे करने लगी जिस से लंड बिल्कुल सीधा चूत में जाने लगा लेकिन दीदी की स्पीड स्लो थी.

फिर मैंने मामी को होंठों पर बहुत किस किया और उन्होंने भी मुझे बहुत किस किया.उसका शरीर एकदम भरा हुआ, मस्त मोटे मोटे नितंब, पूरी 36 30 38 की फिगर होगी.

बीएफ सेक्सी हिंदी में फिल्म - फुल सेक्सी बीएफ पंजाबी

वो मोनिका को डराने लगा कि फ़ोन कॉल रिकॉर्डिंग दे दूंगा और मैसेज आदि भी दिखाने की कहने लगा, साथ ही मोनिका के भाई को देखने की धमकी देने लगा.वह मेरे पीठ को चाटते हुए मेरे कूल्हों को चाटने लगे, मेरे पैरों को चाटते हुए होठों से चूमते हुए मेरे पैर के एड़ी तक को चाटने लगे, मैं बिल्कुल तड़पने लगी.

मैं बोला- काश यह तुम्हारी पहली चुदाई होती… मैं तुम्हारी सील तोड़ पाता. फुल सेक्सी बीएफ पंजाबी बीस मिनट बाद अब वो झड़ने वाली थी, सो चिल्लाने लगी- चोद और जोर से चोद मादरचोद.

मुझे बहुत ही अच्छा लगा, क्या रुई की तरह उसका गोल गोल चूचा मुझे मस्त अहसास दिला गया था.

फुल सेक्सी बीएफ पंजाबी?

अदिति बेटा तेरे बदन की पोर पोर दुखने लगेगी और बुरी तरह थक जायेगी तू और मेरी तो कमर ही अकड़ जायेगी उठते बैठते. और कैसे मेरा पूरा बदन पुरुष के स्पर्श से काँप रहा था, मुझे अजीब सा मजा आ रहा था, ऐसा मुझे आज तक नहीं लगा था इसलिए मैंने उसे नहीं रोका।सिल्ली बिल्कुल भी सिल्ली नहीं था, कुत्ता मेरा मम्में चूसते हुए अपने लन्ड की मेरी चूत पर रगड़ रहा था और रगड़ता जा था, मुझे स्वर्ग जैसा मजा आ रहा था. फिर वो चुप होकर बेड पर पैर खोल कर लेट गईं और कहने लगीं- मुझे छोड़ दो, ये सब ठीक नहीं है.

शांत होने के बात वो उठी और मेरे लंड पे आइसक्रीम लगाके मेरा लंड चूसने लगी. अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरीज डॉट काम पर मेरी पहली कहानीमेरी पहली बार गांड चुदाईप्रकाशित होने पर मुझे काफी सारे प्रोत्साहित करने वाले ईमेल मिले। मुझे अपने विचार भेजने के लिए मैं उन सभी पाठकों का धन्यवाद करता हूँ. मुझे मेरी भाभी की पैंटी पर मेरा वीर्य गिराना है, और वो पेंटी मेरी भाभी हाथ में लेकर पूरा वीर्य चाट जायें!41.

स्वाति को निकिता और अकाउंटेंट के सारे कारनामे पता हैं क्योंकि उसके पूरे ऑफिस में सीसी कैमरे लगवा रखे हैं. अब उसकी आवाज़ बदल चुकी थी और उउई उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह उउई जैसी आवाज़ निकलने लगी थी!अब मैं सुहागरात मनाने के लिए बिल्कुल तैयार था, मैं उसे उठा कर उसकी मॉम के बेड पे ले गया जहां वर्षों पहले उसकी माँ ने सुहागरात मनाई होगी!मैंने उसे बेड पर फेंका. आरती तू बहुत लकी है, मस्त चोदो आप तीनों! इसे रंडी बनना है, आरती बहुत बड़ी माल है, और चोदो, तीनों एक साथ जोर से डालो इसकी चूत में… बहुत चोदो!और अपना लंड हाथ में लिए ऊपर नीचे करने लगे.

मगर हमारा कोई सगा रिश्तेदार तो था नहीं, बस गाँव में चाचा जी ही थे जिनके साथ हमारे अच्छे सम्बन्ध थे। मैं तो खुश हो रहा था कि अब गाँव से सुमन या फिर रेखा भाभी में से कोई आयेगा. आंटी ने चूसते हुए लंड को रगड़ कर खड़ा कर दिया और सीधी होकर चुदाई की पोज़िशन में झुक कर बैठ गईं.

मेरे भैया ने देखा तो उनका मुँह खुला का खुला रह गया और कहा कि क्या लग रही है मेरी गुड़िया.

उसके कूल्हे बिल्कुल नरम और सख्त से थे जो धक्के लगने के कारण लाल से हो गए थे.

वो बोला- भाभी, ये कैसे निकलता है?अपने दूध मसलते हुए मैं बोली- जब औरत का मन चुदवाने का होता है, तब ये निकलता है।वो बोला- आपका भी मन चुदवाने का कर रहा है?मैंने कहा- हाँ! पर मुझे कौन चोदेगा, तेरे भईया भी नहीं हैं।‌‌वो बोला- भाभी, मैं आपको चोद देता हूँ अगर आप कहो तो?मैंने अपने पेटीकोट का नाड़ा खोला, उसे नीचे गिरा कर नंगी हो गयी, उसने भी अपने कपड़े उतार लिए. उसकी देखा देखी रेखा ने भी मेरे लंड को उसके मुँह से छीन कर अपने मुँह में ले लिया. वो मेरे छाती के बालों से खेलती रही और बोली- आज तुमने मुझे बहुत मजा दिया है.

जिसको मैं सीनियर लड़कों को उंगलियों पर नचाना समझती थी, वह अब समझ आ रहा था. तभी 2 मिनट बाद ही मुझे लगा कि मेरा काम होने वाला है और मैंने जल्दी से लंड को चूत से निकाला और लंड ने चूत से निकलते ही दीदी की पीठ पर पानी की तेज-2 पिचकारियाँ मारना शुरू कर दिया और दीदी की पूरी पीठ मेरे स्पर्म से भर गई, मैं साइड पर गिर गया और तेज तेज साँसें लेने लगा. बहुत दिनों के बाद समझ आया कि जब तक हिम्मत नहीं करूँगा तब तक तो हाथ से ही काम चलाना होगा.

पंजाबी होने की वजह से पूरा भरा बदन, दूध सा साफ़ रंग, भारी भारी चूचे और उससे भी भारी कूल्हे, गद्देदार दिखने वाली चुत, थोड़ा भारी पेट और उसमें भी गहरी नाभि, जिसमें समझो मैं पूरा खो ही गया था.

मैं उठ गया और उसे नीचे बिठा कर उसके बाल पकड़ कर जानवरों की तरह उसके मुँह को चोदना शुरू कर दिया और अगले ही पल मेरा लावा उसके मुँह में उगलने लगा. यह देखते साथ ही मेरा लंड 90 डिग्री में खड़ा हो गया, कामुकता के अधीन हो कर मेरा मन किया कि अपनी बहन को पकड़ कर पूरी नंगी करके वहीं छत पे लिटा कर उसके मम्में चूस लूं, उसकी चुत चुदाई कर दूँ. जब शीशे में मम्मों को गौर से देखा तो जैसे लाल टमाटर रखे हों दोनों बूब्स इतने लाल हो गए थे.

मेरीनौकरानी की चूतपर छोटे छोटे बाल था, जैसे उसने 3-4 दिन पहले ही चूत के बाल साफ़ किये हों. बस मैंने रज़ाई में अन्दर हाथ डाला और धीरे धीरे कच्छे में हाथ घुसेड़ कर लंड मसलने लगी, सहलाने लगी. फिर वो बोली- अब रोने से क्या होगा रवि, तुम मेरे पति हो इसलिए मैं आनन्द को एक रात धोखा दे रही हूँ.

स्कूल से कॉलेज पहुँचते पहुँचते मैं एक नंबर की झूठी और नकचड़ी और फैशनबाज़ हो चुकी थी.

दिव्या तो मुझसे बहुत अच्छी है और मुझमें क्या है… कुछ भी तो ख़ास नहीं है. अमित- तो बताओ मुझे मिनी को गले से लगाने के लिए क्या करना होगा?मैं- ज्यादा कुछ नहीं.

फुल सेक्सी बीएफ पंजाबी उसके बाद मैंने कहा- गर्लफ्रेंड से अब शादी करने का टाइम आ गया और मैंने मामी की माँग भरी, मंगलसूत्र पहनाया और फिर मैं बाहर से खाना ले आया. चचा जान बहुत मजाकिया किस्म के आदमी हैं इसलिये मेरी उनसे बहुत बनती थी.

फुल सेक्सी बीएफ पंजाबी सिमरन बहुत ही तेज दर्द के साथ बोली- हाय मम्मी, मर गई! वीशु जी मुझे बहुत दर्द हो रहा है, निकाल लो अपना लंड! मुझे नहीं चुदना!और वो दर्द से छटपटाने लगी. दूसरी ड्रेस थोड़ा ज्यादा नीचे तक थी, घुटनों से थोड़ा ऊपर और इसकी खासियत यह थी कि इसमें बाईं तरफ वाला हाथ पूरी तरह से कपड़े दे ढका हुआ था.

शायद वो मुझे अपने आप को मुझ को सौंप कर उसको इतना प्यार करने का तोहफा देना चाहती थी.

देसी लड़की का सेक्स

अब मैं उसके बाजू में आ गया और वापस उसको गर्म करने की कोशिश करता रहा. ” विक्रांत ने बुरा मानते हुए कहा।हा हा हा… तुम तो नाराज़ हो गए… मैं तो मजाक कर रही थी। मुझे भी तुम कहना ही अच्छा लगता है आखिर हम दोस्त हैं? हैं ना?”हां दोस्त तो हैं… अब मुझे आफिस के लिए सच में देर हो रही है… आफिस पहुँच के रिप्लाई करूँगा. इस झटके से माला थोड़ी हड़बड़ा गई और फिर उसने भी मौका देख कर पूजा को पूरी भिगो दिया.

सबसे आगे बाप मोहन लाल सोफे पर बैठा था और उसकी बहू और बेटी घोड़ी बनके उसका लंड चूस रही थीं. तभी सामने वाले यंग लड़का भी जोर से अपना मस्त लंड मेरी चूत में एक ही झटके में पूरा डाल दिया, मुझे लगा कि मर जाऊंगी, मेरी आँखों से आंसू निकलने लगे, बहुत दर्द हो रहा था, मुंह में लंड घुसा था इसलिए चिल्ला भी नहीं पा रही थी।अब मेरी चूत में गांड में और मुंह में तीनों जगह एक साथ लंड अन्दर बाहर हो रहे थे, बहुत तेज दर्द हो रहा था, सबके लंड बहुत बड़े और मोटे थे। जोर जोर से मुझे तीनों एक साथ चोदने लगे. और हम ड्राइंग रूम में आकर बैठ गए, बातें करने लगे!कुछ देर बाद मेरा दोबारा चुदाई का मन किया पर उसको ज़्यादा दर्द था तो अपनी जान को दर्द में मैं नहीं देख सकता था तो उसे मैंने बाइक से घर के पास छोड़ दिया।यह मेरी पहली स्टोरी थी बिना मिर्च मसाले के साथ… जो लिखा है, वही हुआ था, यही सत्य था.

साथ साथ मुझसे भी वादा किया कि वो दोनों भी मेरे सामने कभी नहीं लड़ेंगे.

अब धीरे धीरे मैंने उनकी साड़ी नीचे से उठाना शुरू कर दी क्योंकि मैंने अपनी सैंडिल से उनकी साड़ी का एक सिरा पकड़ रखा था. फिर मीना ने हिम्मत करके चाय टेबल पर रखी और सागर के पास बेड पर बैठ गई. उसके मुँह से हल्की हल्की कामुक सिसकारी निकल रही थी- उहह आअहह एस इस्स्स्स.

मेरी चाची जो खुद भी पूना के एक गाँव से ही थीं, उनकी उम्र कुछ 28 के आस पास थी, चाची के बाल लंबे घने हैं और कमर तक लहराते हैं. उसके बाद मैंने उसे सीधा किया और उसके ऊपर आ गया और उसके निप्पल को चूसने लगा. उनके साथ उनके सास ससुर, जेठ जेठानी, उनके बच्चे, देवर देवरानी, ननद सब रहते थे और कुछ कज़िन भी रहते थे.

फिर टॉप के अंदर हाथ डाल कर उसकी चूचियां मसली मैंने… फिर टॉप ऊपर करके उसकी चूचियो को ब्रा से निकाल कर चूसने लगा. कुछ ही पल में दीदी की चूत ने पानी छोड़ दिया और मैं पानी को ज़ुबान से चाटने लगा.

मैं तो इसलिए कह रही थी कि ताकि तुम भी जान जाओ कि ये सब क्या होता है. अपनी कहानी लिखने के बाद आप उसे एक अच्छा सा शीर्षक दे सकते हैं जो लुभावना लगे, पाठक बरबस ही आपकी कहानी को पढ़ने पर विवश हो जाय; बस इतना ध्यान रखिये कि आपकी कहानी का शीर्षक सड़कछाप या निम्नस्तरीय न लगे जैसे एवरेस्ट की चोटी पर चुदाई” इत्यादि. वो बार बार पलट कर मुझे देख रही थीं और कह रही थीं- भैया, आप थोड़ा पीछे खड़े हो जाओ.

फिर मैंने सर को जोर से अपनी बाहों में भर लिया और उम्म्ह… अहह… हय… याह… करने लगी। वो भी जोश में आकर मेरी चूत में जोर जोर से झटके दे कर मेरा चोदन करने लगे.

मैंने कहा- बहुत देर बाद आई हो?उसने कहा- काम था!मैंने कहा- अच्छा!फिर वो बोली- थोड़ा सामान दे दो!मैंने कहा- बताओ?उन्होंने एक रेड कलर की लिपस्टिक, क्रीम, पाउडर वगैरा लिया, मेरे मन में आया कि लगता है प्लान फेल हो गया, वो ब्रा और पैन्टी नहीं ले जाएँगी!इतना सोच रहा था कि रज़िया आपा बोली- जोड़ दो, टोटल कितने पैसे हुए हैं?यह सुन कर तो मैं अन्दर ही अन्दर उदास सा हो गया. अमित- इट्स ओके सन्नी, अच्छा बोलो क्या काम है तुमको?सन्नी- सर, मैं एक लड़की को लाइक करता हूँ, लेकिन बात कैसे करूँ, नहीं जानता, डर लगता है. पापाजी नमस्ते, कैसे हैं आप?”आशीर्वाद, मैं बिल्कुल ठीक हूं अदिति बेटा, तू कैसी है?”मैं भी ठीक से हूं पापा जी!”बेटा, रानी कह रही थी कि तुझे मुझसे कोई बात करनी है?” मैंने कहा.

मैं मना करने लगी, मगर दोनों नहीं माने, रोहण ने गाऊन के ऊपर से सहलाना शुरू कर दिया. उतनी भी चिंता की बात नहीं है मैडम, आपकी कार में स्टेपनी तो होगी ही ना?”मेरा जवाब सुन कर मुझे उनमें थोड़ी राहत दिखी.

उसके साथ जो भी मसला रहा हो लेकिन अभी उसके लिपटने पर मेरा शैतान खड़ा होने लगा. तभी वो भी मेरे सामने टेबल पर चढ़ गईं और बिल्कुल मेरे सामने ही उनके चूचे आ गए. एक तो मॉम वैसे ही पूरा दिन बाहर रहती थीं और जब शाम में घर में रहती थीं उस वक़्त उनके साथ बहन ज़्यादा वक़्त बिताती थी.

દેશી ભાભી સેક્સ વીડીયો

मैंने पूनम को देखा तो पूनम का भीगा हुआ बदन मुझे मदहोश कर रहा था क्योंकि भीगने से उसकी साड़ी उसके बदन से ऐसे चिपक गई थी, जैसे लड़का लड़की सेक्स के टाइम चिपके हुए होते हैं.

और सिमरन तूने अभी अभी देखा कि वीशु बिना रुके कैसे चोदता है।इतना सुनते ही सिमरन ने मेरा लंड अपने हाथ में ले लिया और उसे आगे पीछे करके हिला हिला कर सहलाने लगी. दोस्तो, मेरे जीवन में सिमरन ही एक ऐसी लड़की है जिसकी चूत या गांड में अपना लंड फ्री ऑफ़ कॉस्ट देता हूँ क्योंकि उससे मैं धंधा नहीं करता. मैं भी उसके मुँह में लंड पेलते हुए उसका सिर पकड़ कर आगे पीछे हो रहा था.

वो रमेश की तरफ देखते हुए पूछने लगी- भैया?रमेश- हाँ…काजल- भाभी ने ये क्यों कहा कि उनको ख़ुशी है कि हमारे ‘इस घर में भी…’ इतना खुलापन आ गया है? क्या उनका ‘इस घर में भी…’ का मतलब ये तो नहीं कि उनके पुराने घर यानि कि मायके में भी ये सब होता है?रमेश को काजल की ये बात एकदम सही लगी, पर मयूरी ने कभी अपने मायके के बारे में ऐसा कुछ बताया तो नहीं था. तभी मैंने अपना लंड भाभी की चूत से बाहर निकाले बिना पूरा बाहर खींच लिया और फिर दोगुनी ताकत से दूसरा जोरदार धक्का लगा दिया. रोमांटिक बीएफ सेक्स वीडियोबोलो आरती, घुसाऊं लंड तेरी गांड में?मैं बोली- हां अंकल चोद दो मेरी गांड! और जहां जहां मन हो, सब जगह लंड डालो न!अंकल बोले- चल उठ आरती, मैं नीचे होकर तेरी गांड में घुसा दूं!जो अंकल चूत में डाले थे, बोले- ठीक है, तू आ जा और इसकी गांड में डाल दे, और मैं इसकी चूत में डाल कर चोदता रहूंगा.

और तुम बताओ कि यहाँ सब कैसा रहा? और कल की प्लानिंग में कोई दिक्कत तो नहीं हुई?अमित- नहीं यार. फिर उसने बोला- भाई कुछ पढ़ा दो, समझ नहीं आ रहा!वो कुर्सी पे बैठी थी, मैं पीछे से गया और उसको पढ़ाने लगा और मेरा चेहरा उस की गर्दन के पास था, बार बार उस की गरदन को भी चूम रहा था और अपना हाथ उसके जांघ पे रख कर सहला रहा था.

फिर जबसे मैंने एक बार माँ और बेटे की चुदाई का वीडियो देख लिया तब से तो बस मैं अपनी मॉम को लेकर कामुक हो गया था, मुझमें बहुत ज्यादा सेक्स फीलिंग यानि वासना आनी शुरू हो गई थी. करीब दस मिनट चलने के बाद पुलिस की गाड़ी रास्ता छोड़ कर कच्चे रास्ते पे मुड़ गयी. अब सलमा ने दोनों पैरों को चौड़ा किया तो सुनील की तरह शिशिर भी उसकी चुत पर झुकता चला गया.

पार्टी में मेरी सहेली ने भी मेरी बड़ी तारीफ़ करते हुए कहा था कि तू खुशनसीब वाली है जो इतना सेक्सी और हॉट जिस्म पाया है. तो मैंने सिमरन की तरफ इशारा किया तो गीतांजलि ने कहा- अगर आपका लंड इसे पसंद आया तो ये भी अपनी चूत की सील तुड़वा लेगी. अब एड्रिआना ने मुझे बिस्तर पर धकेला और मेरे कपड़े मेरे जिस्म से आजाद करने लगी.

बड़ी कामुक गंध आ रही इथी उसकी चूत से… मैंने अपनी जीभ से उसकी चूत को छुआ और फिर चूत को चाटने लगा.

मैं ऐसे भाग्यवान देवरों को बधाई देता हूँ और भगवान से प्रार्थना करता हूँ कि मेरी और मेरे जैसे अन्य देवरों की सभी तमन्नाएं पूरी करें!मैं चाहता हूँ किदेवर भाभी की कामवासना और चुत चुदाईअनवरत चलती रहे इस संसार में!मुझे आशा है अधिकाँश देवर मेरी बातों से सहमत होंगे. इधर सुनील मेरी चुत में अपने मोटे लम्बे लंड को पुक्क पुक्क अन्दर बाहर कर रहा था और मैं हर धक्के के साथ सिसक रही थी.

मामी ने बोला- यार, आज इतना ही बाकी कल… मैं घर का काम करके तेरे को फोन करूंगी, तब सब कुछ कर लेना. उसकी चूत देखकर मेरी आह्ह निकल गई, उसकी चूत एकदम लाल सूज कर पावरोटी जैसी हो गई थी. मैंने अपनी पैंटी को नीचे कर दिया और ननदोई जी मेरी चूत को अपनी जीभ से चाटने लगे.

मेरे पति दो दिन के बाद दस दिन के लिए अमेरिका जा रहे हैं, उनके जाने के बाद मैं तुम्हे फोन करके बुलाऊँगी, तब सिर्फ हम दोनों दिन रात चुदाई का मजा लेंगे. अन्नू भाभी मेरा लंड चूसने लगीं और कुछ मिनट तक लंड चूसने के बाद मैं अपना लंड अन्नू भाभी की चूत पर ले गया और भाभी की चूत टटोलने लगा. ऑफिस के बाद दारु पीना और लेस्बियन सेक्स करना इतना ही काम बचा था हमारे पास.

फुल सेक्सी बीएफ पंजाबी मैंने भी अपनी स्पीड बढ़ा दी और मैं भाभी को शताब्दी एक्सप्रेस की स्पीड से पेलने लगा. फिर मैं अपना हाथभाभी की पैंटीके अन्दर डाल कर अपनी उंगलियां उनकी चूत के अन्दर डाल कर उसे सहलाने लगा.

सेक्सी अभिनेत्री

इसके बाद रेणुका भाभी की कमर में हाथ डाल कर उनके होंठों को किस करने लगा. मैंने सिगरेट जलाई और पार्किंग में टहल रहा था कि किसी ने बहुत ही मधुर आवाज में मुझे ‘एक्सक्यूज़ मी. मैंने हर रोज सुमन मामी को चोदा और अब जब भी गाँव आता हूं तो सुमन मामी को जरूर चोदता हूंये मेरी दूसरी चुदाई की कहानी है, जो मैंने आपको बताई.

ऐसे ही अब हमारे बीच प्यार की शुरूआत हो गई थी मगर उस किस के बाद दोबारा मौका नहीं मिला. मेरा हाथ उसकी चूची को जोर जोर से दबा रहा था और मेरी चड्डी के अंदर वाला लंड उसकी पैंटी के अंदर की चूत से रगड़ रहा था. मुसलमानों बीएफवास्तव में मैं खुद को यकीन दिलाने की कोशिश कर रहा था कि ये हुस्न की मल्लिका अब मेरी ही है, उस पर मेरा पूरा हक है।हम दोनों के शरीर से पसीने आने लगे थे, रोयें खड़े हो चुके थे। तभी मैंने हल्के झटकों का प्रवाह किया, इससे लिंग लगभग आधे से ज्यादा योनि में समा गया और अब तनु ने खुद अपनी कमर को आगे धकेल दिया और हाथ आगे बढ़ाकर मेरी कमर अपनी ओर खींच ली.

मैं अन्दर गया तो उस ने मुझे काउच (सोफे) पर बैठने के लिए कहा और मेरे लिए किचन से जूस ले आई.

मैंने अंजलि दीदी की गांड में उंगली कर कर के उसे ज्यादा उत्तेजित कर दिया था, अब हम दोनों भाई बहन रियल सेक्स के लिए एकदम तैयार थे. मुझे आपका लंड अपनी चूत में चाहिये पापा …जल्दी से पेल दो मेरी चूत में!” बहूरानी जी अब भयंकर चुदासी होकर निर्लज्ज होने लगी थी और यही मैं चाहता था.

मैं वो ड्रेस पहन कर अमित के सामने आ गई तो अमित बड़ी तेजी से उठा और मुझे आगे से ही मेरे गले से लग गया. मुझे बहुत मजा आ रहा था और अनुष्का के मुख से सिसकारियाँ निकल रही थी- उम्म्ह… अहह… हय… याह…कुछ मिनट बाद मेरा भी होने वाला था, मैंने बोला- मेरा रस निकलने वाला है. फिर मुझे तो रात का इंतजार था और मैं खाना खा कर मम्मी को बोल कर भाभी के यहाँ चला गया.

वो दर्द से थोड़ा सा चिल्लाई तो मैं रुक गया और उसके मम्मों को, जो कि बहुत बड़े और मस्त थे, चूसने लगा.

मंजरी को भी पता था कि वो उसका रिश्ते में भाई लगता है तो दोनों की शादी होना मुश्किल है. अब मेरी सोच बदल चुकी है और मुझे किसी से कोई गिला नहीं दोस्तो… जिंदगी है मजे लेने के लिए!मेरी इस हिंदी एडल्ट स्टोरी पर ईमेल जरूर करें. इसलिए सबसे बढ़िया बात ये कि जो करना चाहो, बिंदास करो, कुछ पाप नहीं होता.

बीएफ डाउनलोड डाउनलोडमैंने कहा- करो तो?वो बोली- ओके लाओ… क्या तुम्हारे सामने ही चेक करूँ!मैंने दोनों ब्रा उसे दे दी उसे और वो अन्दर रूम में लेकर चली गई और कुछ देर बाद बाहर आई मैंने गौर से देखा तो शर्ट से उसके बूब्स साफ दिख रहे थे. मैंने धीरे से उनके मम्मों को अपने होंठों में भर लिया और उन्हें चूसने लगा.

ब्लू ब्लू फिल्म वीडियो

अब उसका लंड बाहर आ गया था उसका लंड कम से कम 8 या 9 इंच का लम्बा और 3. धीरे धीरे टाइम निकलता गया और करीब 2 महीने के बाद कॉलेज में एग्जाम शुरू हुए, तो उस एग्जाम में मेरी तबीयत खराब हो गई थी, जिससे मैं एग्जाम की तैयारी नहीं कर पाई थी. सिराज के मुँह से आवाजें निकलने लगी, उसके दूसरे साथी ने मेरीचुत में उंगलीडाली और मेरे एक निप्पल की वो भँभोड़ने लगा.

यह जो सेक्सी स्टोरी मैं आपको बताने जा रहा हूँ, यह बात लगभग एक साल पहले की है, जब मैं इंजीनियरिंग के प्रथम वर्ष में था. ” उसने बेशर्मी से मेरी बात का जवाब दिया।लेकिन अब हम छोटे बच्चे नहीं रहे!” मैंने टोका।तो क्या हुआ?” मेरी बहन ने लापरवाही से जवाब दिया. हम दोनों की ज़ुबान आपस में लड़ने लगी थी, दीदी की चूत ने पानी छोड़ना शुरू कर दिया था जिस का एहसास मुझे अपनी लंड से हल्का सा ऊपर पेट पर होने लगा था, मेरे भी लंड ने अब अपना विकराल रूप धारण कर लिया था और दीदी की चूत में जाने को मचलने लगा था.

रोजाना भाभी एक अजीब सी उदासी लिए रहती थीं, जिसे मैं उनके साथ हँसी मजाक करके दूर करने की कोशिश में लगा रहता था. आंटी लोगों ने बस बुक करवा रखी थी क्योंकि फंक्शन की जगह काफ़ी दूर थी. ब्रा उसके जंबो साइज़ के मम्मों को सम्भालने की बेकार कोशिश कर रहा था और पट्टीनुमा पेंटी तो जैसे उसकी चूत और गांड की दरारों में खो ही चुकी थी.

फिर खाना खाने के बाद जब मैं वापस आई तो अमित को एक एसएमएस किया- हां जी, अब बताइए?अमित- खा चुकी आप खाना?मैं- हां खा चुकी हूँ. मैं फिर भाभी के गाल पर क़िस करने लगा तो भाभी ने कहा- सनी, यार मान जाओ… कोई आ जाएगा.

कुछ देर में ही मेरी चुत से फ़व्वारा चलने लगा और मेरे साथ ही सुनील के लंड की पिचकारी भी चल गई.

मैंने पूछा- भाभी ये योनि क्या होती है और वीर्य कैसे निकलता है?भाभी ने कहा- दो मिनट रुक मैं तुझे अभी समझाती हूँ. बीएफ बिहार सेक्स वीडियोअब मैंने पूनम को पलटाया और उसको लिप किस करने लगा और लिप किस करते हुए उसके गले को चूमते हुए उसकी ब्रा के ऊपर से उसके मस्त मम्मों पर मेरा मुँह आ गया. बीएफ पिक्चर बीएफटीआज मैंने गुस्से में उसका नाड़ा तोड़ दिया और कहा कि आज खेल करके ही जाऊंगा. शायद उसके विचार भारत के लिए बहुत अच्छे थे और वो मुझसे मेरे भारत के बारे में बहुत कुछ जानना चाहती थी.

वहां के एक प्रोफ़ेसर ने मुझे बुलाया और कहा- नक़ल करनी है तुम्हें?मैंने हां कह दिया.

मैंने थोड़ा गुस्से के साथ कहा- क्या कह रहे हो आप?मैं ऐसा इसलिए किया ताकि उसे लगे कि मैं उससे गुस्सा हो गई हूँ. थोड़ी देर बाद मॉम ने मुझ से आ कर बोला कि उनके सर में दर्द हो रहा है और वो अपने रूम में सोने जा रही हैं. लड़का बोला- इसके साथ वाले जागे तो?वो बोली- मैं कह दूंगी टॉयलेट गई है.

तब मैंने शीशे में अपने आपको देखा, मेरी चूचियां अभी भी हल्की लाल थीं और सूजी लग रही थीं. अब ट्रेन स्टेशन पर रुक गयी, वहाँ काफ़ी अंधेरा था हमारे कोच में!आरजू ने विनीत से बोला- बाहर देखो, कोई है क्या?विनीत ने अच्छी तरह देखा और बोला- कोई नहीं है!तब आरजू मुझसे बोली- गेट तक ऐसे ही चलो!वो एकदम कुतिया बन गयी, मेरा लंड उसकी चूत में था और वो बाहर गेट तक ऐसे ही आई, मुझे शर्म लग रही थी पर अच्छा भी लग रहा था कि एक पति के सामने उसकी पत्नी दूसरे कालंड ले रही थी. ये महेश तुझे क्या बोल रहा था और इतनी जल्दी में दिव्या के साथ कहां गया है?सुदेश- वो यार महेश बोला कि दिव्या को अपना घर दिखाने जा रहा हूँ, तुम सब मत आना.

मोटी औरतों की चुदाई वीडियो

मैं अपनी जीभ से उनकी जांघ को, तो कभी उनकी चूत को चाटता, इससे उनकी हालात खराब हो रही थी. दाहिनी तरफ कमर पर एक बहुत पतली पट्टी नीचे आई थी और जहां से पैंटी स्टार्ट होती है, वहीं पर नीचे मिली थी. अपने दाने और मम्मे पर हुए इस हमले से माया पिघलने लगी- आआह्ह्हह आआआअह्ह्ह.

अन्दर मेम साब थीं तो करीब 32 साल की, पर सच में बहुत ही खूबसूरत थीं.

उन्होंने गाड़ी अन्दर लगाई और फिर हम दोनों उतर कर घर के अन्दर चले गए.

मैंने देखा मीना लंड साफ करते वक़्त अपना मुँह लंड के एकदम पास लेकर उसको सूँघ रही थी. सच पूछो दोस्तो तो मेरा लंड तो खड़ा होने लगा था अपनी सेक्सी बहन को देख कर! मैंने फटाफट उठते लंड पर कम्बल रख लिया ताकि उस को पता ना चले कि मेरा हीरो सलामी ठोक रहा है. मराठी बीएफ फुल सेक्सीतब मैंने सोचा कि क्यों ना इसको गर्म किया जाये तो मैंने बहुत हिम्मत करके हल्के से अपनी उंगलियों से उसके कान के जस्ट पीछे सहलाया, इससे वो और रिलेक्स हो कर पीछे सीट पर सहारा लगा कर मेरी उंगलियों पर अपने सिर का बल दे कर बैठ गयी.

अब तक की मेरी इस इंडियन सेक्स कहानी में आपने जाना था कि अमित ने मेरे साथ चिपक कर खूब किस किये मेरे मम्मों को मींजा और अपने लंड का माल मेरी टांगों में निकाल कर अपनी उंगली से मुझे वीर्य का स्वाद चखा गया, मैं सोने का नाटक करती रही. 8-10 धक्के भयंकर गति से लगाने के बाद ओमार रुक गया और अपना लंड बाहर निकाल सहलाने लगा. मंजरी शायद पुलकित से भी ज़्यादा उत्तेजित थी, क्योंकि पुलकित एक बार स्खलित हो चुका था, मगर मंजरी नहीं हो पाई थी.

रात को मामी के नाम की मुठ मारी और आधी रात तक मामी को चोदने के बारे में सोचता रहा और बाद में सो गया. अब वो बोली- मेरे राजा भैया, आज तृप्त कर दे अपनी बहन रानी को!मैं अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ने लगा.

पापा को ऑफिस से छुट्टी न मिलने की वजह से वो हमारे साथ नहीं जा पाये थे.

उसकी बात सुन के माया को होश आया के वो क्या कर रही थी और उसका चेहरा शर्म से लाल हो गया. वो सर बोले- आरती, तेरी बातें सुन कर सब चोदने वाले दुगना इकसाईटेड हो जाते हैं और पागल कर देती है तू! मैं अब गया!और वो पूरा घुसेड़ कर गांड में लंड का वीर्य गर्म गर्म गिराने लगे और ‘ऊं हहह वोहह हहह आरती… तू बेस्ट है!’ उठ गये।ऐसे चुदाई हुई मेरी पहली ही बार में!कैसे लगी मेरी सत्य कहानी का एक एक शब्द सच है. तभी पीछे से माँ ने आवाज़ लगाई कि वो मार्किट जा रही हैं और घर पर कोई नहीं है, तो घर का ध्यान रखना और इतना बोल कर वो चली गईं.

सेक्सी भेजो बीएफ रूपिका ने दूसरा पेग बनाया… फिर तीसरा… महेश पर शराब अपना असर करने लगी थी पर रूपिका बिल्कुल होश में थी. वह मेरी और देख कर बोली- ओह शिशिर देखो ना सुनील और सबीहा को कैसे मज़े से चोद रहा है.

जैसे मेरे को पूरी मस्ती चढ़ गई थी, वैसे ही दीदी का भी बुरा हाल हो गया था, वो पागलों की तरह मेरे लिप्स को काटने और चूसने में लगी हुई थी, ऐसा लग रहा था कि मैं दीदी को नहीं, दीदी मेरे को चोद रही थी. [emailprotected]कहानी का अगला भाग :मेरी रशियन बीवी दो लंडों से खेली-2. तो मैंने भाभी से कहा- भाभी इसमें तो कोई छेद नहीं है?भाभी बोलीं- पगले जब इसमें अभी तक कोई लंड घुसा ही नहीं.

dehati एक्सएक्सएक्स

मेरा नाम सनी है, ये कहानी उस टाइम की है, जब मैं अपने इस फ्रेंड राकेश के पढ़ाई करता था. उसने धीरे से एक और झटका लगाया और इस बार उसका लंड काजल की चूत में पूरा घुस गया. सबने होली खेलना शुरू किया और म्यूज़िक पर डांस भी शुरू हुआ, बीच बीच में सब अपने अपने पैग भी ले रहे थे.

मैंने धीरे धीरे अपनापूरा लंड उसकी चूत मेंडाल दिया और थोड़े बाद वो अपनी कमर हिलाने लगी. मैंने सिर्फ इतना ही कहकर सॉरी बोला- ओके भाभी अब इस बार ध्यान रखूँगा.

आपका लेखन मौलिक और सामयिक हो बस!जब आपकी कहानी पूरी हो जाए तो उसे कुछ दिनों के भूल जाइये और इसके बारे में कुछ न सोचिये.

सुभाष की शादी फिक्स होने के बाद उसकी शादी का सारा अरेंजमेंट मैंने ही किया क्योंकि सुभाष की फैमिली ओर मेरी फैमिली के रिलेशन बहुत ही अच्छे हैं. अब मोहन लाल ने काजल को अपने पास बुलाया और कहा- बेटी, अपने बाप का लंड अपने चूत में लेगी न?काजल- पापा, आज आप पूरी तरह से बेटीचोद बन जाओ. अमित- तू तो सच में बच्चा है सन्नी… अगर मोबाइल पर वीडियो नहीं बनाने देती तो मोबाइल को कहीं ऐसी जगह छुपा दो जहाँ उसको पता नहीं चले, या कोई छोटा हॅंडीकॅम यूज़ करो इस काम के लिए, फिर सब ठीक हो जाता है.

करीब पांच मिनट तक चोदने के बाद मैं चरम सीमा पर पहुँच गया और उस से बिना कुछ बोले उसकी चूत में ही झड़ गया. इस बार भाभी ने कहा कि एक काम कर मेरे दोनों दूध पकड़ कर मेरे होंठ चूस और ला, तेरा लंड मैं पकड़कर अपनी चूत के छेद पर लगाती हूँ. मेरी बीवी ब्लू फ़िल्म का नाम सुन कर चिढ़ जाती थी, आज वो ही देख रही थी.

आखिरकार मैंने अपनी आंखें बंद करके चाचा जी को ग्रीन सिगनल दिया, जिसे समझते हुए चाचा जी ने अपने दोनों हाथों को मेरे बालों में डालते हुए मेरे कांपते हुए होंठों पे अपने होंठ रख दिए और चूसना शुरू कर दिया.

फुल सेक्सी बीएफ पंजाबी: रूचि जी एक तीस बत्तीस साल की आकर्षक महिला थीं, उन्होंने सफ़ेद रंग की गोल गले की टीशर्ट पहनी थी और नीचे ब्लू कलर की जीन्स, जो उन्हें और आकर्षक बना रही थी. मॉम बाहर सोसायटी, पड़ोस के लोगों से और ऑफिस में बिल्कुल ऐसे रिएक्ट करती हैं जैसे हम दोनों सच में हज़्बेंड वाइफ हैं और वो बेटी हमारी औलाद है.

उतनी भी चिंता की बात नहीं है मैडम, आपकी कार में स्टेपनी तो होगी ही ना?”मेरा जवाब सुन कर मुझे उनमें थोड़ी राहत दिखी. उसने मेरे निक्कर को पकड़ा और निकाल के मेरे लंड को अपने हाथों में ले लिया. क्या मैं तुझे पसंद नहीं?मैंने उसका लंड पैन्ट से निकाल कर हिलाया, मुँह में लेकर चूम लिया.

अब थोड़ा बताएं कि उनके बीच सेक्स सुनियोजित है या अचानक बिना किसी योजना के हो गया.

और मेरी दूसरी चूची उसके हाथ में थी, वो उसे मसल रहा था, जोर से हाथ में दबा रहा था।फिर मैंने अपनी चूची अपने बेटे के मुंह से निकाली, उसके हाथ से अपनी दूसरी चूची छुड़वाई और फ्रेश होने बाथरूम में चली गयी।और जब मैं बाथरूम से बाहर आई तब तक रोहण भी उठ कर बैठ गया था. पिंकी को बहुत डर लग रहा था, लेकिन अब वो अपनी बात से पीछे भी नहीं हट सकती थी. अब हमें होश आया तो जल्दी से कपड़े पहने और उसके बाद हमने मेज को साफ़ किया.