मुठ मारने वाला बीएफ

छवि स्रोत,கணவன் மனைவி செக்ஸ் வீடியோ

तस्वीर का शीर्षक ,

बनारसी सेक्सी पिक्चर: मुठ मारने वाला बीएफ, भाभी ने अपना नाईट गाउन निकाल दिया और एकदम नंगी हो गई और मुझसे कहने लगी- मेरी चूचियों को पियो.

सेक्सी दो हिंदी में

तुम जल्दी घर वापस लौट आओ।बुआ से मैंने तुरंत जाने की आज्ञा मांगी तो रीना दीदी भी ‘मां की तबीयत बिगड़ी है’ सुनकर साथ चलने को तैयार हो गई।शाम तक बड़ी मुश्किल से मैं अपने घर रीना के साथ पहुंच गया और मित्र कीबाईक लेकर दोनों मम्मी से मिलने अस्पताल गए।अस्पताल में मम्मी को बीमार देख दीदी बहुत दुखी हो गई और खूब देखभाल करती रही।सदर अस्पताल में रात्रि आठ बजे के बाद किसी अभिभावक को रुकने की इजाजत नहीं होती. बीपी सेक्सी वीडियो हिंदीमेरी इंडियन सेक्स हिंदी कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा था किअब आगे की इंडियन सेक्स हिंदी कहानी:रात को दो बार छोटी वाली लड़की की चुदाई करने के बाद मैं सो गया.

कुछ देर के बाद आराम से ऊपर नीचे होने लगी और डिल्डो उसकी गांड में आसानी से जाने लगा. ब्लू पिक्चर हिंदी में भेजेंचुदने के बाद वो बोली- बहुत दमदार मर्द हो यार तुम तो, रात को भी कितना चोदा, अभी भी मन नहीं भर रहा है.

तो मैंने भी सोचा कि अगर मेरी कोई फ्रेंड फ्री होगी तो उसे घर बुला लूंगी.मुठ मारने वाला बीएफ: इस दौरान मैं बोला- रीना, तुम कितना मस्त चुदवाती हो यार … मैं तो तुमको जिन्दगी भर यूं ही चोदता रहूँ.

जिससे मुझे पता चला कि मेरा दोस्त बिजनेस में बहुत व्यस्त रहता है और अपना वक्त काटने के लिए रीना सामाजिक कार्य एवं किटी पार्टी में व्यस्त रहती है.अनीता अनुभवी खिलाड़ी थी, उसने मेरे लंड को खींचतान कर पैन्ट से बाहर करने की कोशिश की.

ब्लू फिल्म सेक्सी वाली हिंदी में - मुठ मारने वाला बीएफ

अब एक बार फिर से लंड और चूत थाम कर बैठिये क्योंकि मैं अपनी सेक्सी कहानी को आगे बढ़ाने जा रही हूं.शीला के गोर चिकने पांवों में पतली सी पायल थी पर नीचे तलुवे गंदे हो रहे थे.

उसकी आंखों के सामने रवि के चेहरे पर रिया को देख कर नाचती वो हवस बार बार सामने आ रही थी कि कैसे रवि उसकी बेटी की चूत और गांड को चोद रहा था. मुठ मारने वाला बीएफ प्यास दोनों तरफ ही लगी थी लेकिन दोनों ही जैसे पहल होने का इंतजार कर रहे थे.

एक दिन सुमीना के बेटे की तबियत बिगड़ गयी और मैं उसे इलाज के लिए अस्पताल ले गया.

मुठ मारने वाला बीएफ?

भाभियां तो पहले से ही लंड की शौकीन होती हैं लेकिन कुंवारी लड़की लंड को चूसने या चाटने में बहुत नखरे करती है. मैं पहले ही बस स्टैंड में उसका इंतजार कर रहा था। वह हरे रंग का सलवार सूट पहन कर आई थी। वैसे मैं पहली कहानी में भी उसके जिस्म का वर्णन कर चुका हूं लेकिन नये पाठकों के लिए एक बार फिर से बता देता हूं. हमारे बीच तब सिर्फ मां बेटे का ही रिश्ता था … लेकिन आज की बात अलग थी.

अगर मेरे शौहर ने मुझे छोड़ भी दिया तो कोई बात नहीं मैं अपना खुद का बिज़नेस चला लूंगी. मैं अभी कुछ समझ पाता कि अचानक से वे दोनों ननद भाभी मुझ पर टूट पड़ीं. मेरी व्याकुलता बढ़ गई मैं उनके लंड को पहली बार देखने जा रही थी।यही हॉट सेक्स चुदाई स्टोरी लड़की की सेक्सी आवाज में सुनें.

फिर मैंने कहा- लेकिन मुझे भूखी शेरनी के साथ अनुभवी सलाहकार भी चाहिए. मैं वापिस आ गया और केतली से बड़ा सा घूंट पीकर गले के नीचे उतार लिया. और मैं जानती हूँ कि हम जिस सोसायटी में रहते हैं वो भी ज्यादा मुश्किल नहीं है। पर मैंने वैभव को कहा कि मेरी सहेली संदीप की बहुत बड़ी फैन है, वो हमारी शादी में शामिल रहेगी उसे हमारी शादी का उपहार समझकर संदीप का लिंग दे देते हैं.

मैंने उसी पल एक धक्का दे दिया और मेरा लंड उसकी फुद्दी में एक इंच घुस गया. इतनी जोर जोर से चोदो कि तुम्हारा लण्ड मेरी बच्चेदानी के अन्दर घुस जाये.

चाचा का लण्ड चूसते हुए हम उसकी खाल आगे पीछे कर रहे थे और चाचा हमारी चूत पर हाथ फेर रहे थे.

वो मुझसे अपने प्रेम का इजहार कर रही थी और मैं उसके साथ बात कर रहा था.

तुमने मुझे भी गंदा कर दिया न … अब जल्दी करो अगर करना हो तो, देखो देर हो रही है. कल तो वैसे भी संडे है इसलिए कोई जल्दी नहीं है, देर से उठेंगे, मैं भी आराम से ही उठूंगी. इसीलिए मैं भी जानूबझकर बार-बार हल्की नीचे झुक जाती थी ताकि उसको मेरी चूचियां देखने के लिए तड़पा सकूं.

मेरे बूब्स से खेलने के बाद कमल ने मेरे पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया और उसे नीचे सरका कर मेरी टांगों से अलग करवा दिया. मैं बुरा नहीं मानूंगी।तुम्हें तो कई अच्छे से अच्छे लड़के मिल सकते हैं. तभी नेहा बोली- उसके लिए हम दोनों ही काफी हैं, गोरी की जरूरत नहीं है.

वो बियर का स्वाद लेते हुए मेरे कान के पास मुँह लाकर बोली- थैंक्स फूफाजी, बियर से मजा आ गया … लेकिन आज बियर की जगह व्हिस्की या रम पीने को मिल जाती, तो ठंड लगनी कम हो जाती.

मैं अपने लंड की मुठ मारने के लिए तड़प उठा था लेकिन मेरे टाइट शॉर्टस और अंडरवियर इस कार्य में बाधा बन रहे थे इसलिए मैं शॉर्ट्स के ऊपर से ही उन सेक्सी मॉडल्स को देख कर लंड को मसल और सहला रहा था. ‘उफ्फ उफ्फ्फ आह कितने अन्दर तक पेल रहे हो अंकल … आह उई … धीरे करो न … मैं बस जा रही हूँ … आह अंकल मैं आ गई … बस. मैं उसे रोकते हुए बोला- कैसी बात कर रही हो? तुमने ऐसा कैसे सोच लिया कि मैं तुम्हें छोड़ दूंगा? मैं भी तुमसे बहुत प्यार करता हूँ.

”अरे नहीं मेरी जान … तुम्हारे बापू को इन सब बातों की हवा तक नहीं लगेगी। अगर तुम्हारा भी देखने का मन हो तो मैं भी तुम्हें अपना सब कुछ दिखा सकता हूँ. मेरे लिए बाथटब में रोमांस करना भी एक नया अनुभव था, नेहा किसी जलपरी की भांति मुझसे लिपटकर छटपटा रही थी. उसने कुछ कहा तो नहीं, पर चेहरे के हाव-भाव से पता चल रहा था कि जैसे कह रही हो कि रुक क्यों गए, चोदो मुझे.

फिर थोड़ी देर बाद उसने मुझे घोड़ी बना दिया और पीछे से मेरी चूत मारने लगा.

पहली बार मैंने इतना एन्जॉय किया वरना मेरे पति तो चार झटके लगा कर मुँह ढक कर सो जाते थे. मैंने तेरे दादा जी को बोला है अब इसे दफा करो और जवान भैंसा रखो, पर वे सुनते ही नहीं.

मुठ मारने वाला बीएफ उसका पूरा बदन, उसकी चूचियां, पेट, पीठ, गांड, जांघ सब जगह लाल निशान थे. मेरी सफ़ेद दाढ़ी से तुम दोनों पर कौन शक करेगा कि तुम चुदने जा रही हो.

मुठ मारने वाला बीएफ मैं तेजी से चूत के दाने को चाटने लगा। मैं जानता था कि किसी भी पल मुझे अब वो मीठा अमृत मिलने वाला है जिसके लिए मैं इतना तरस गया था. उसे पैसे की तो कोई दिक्कत है ही नहीं क्योंकि राजेश उसे अच्छा वेतन और इनाम देता रहता है.

मैंने तुरंत झुक कर चूत को चूमना और चाटना शुरू किया; चूत चाटने से साली जी फुल मस्ती में आ गयी और अपनी ऐड़ियां बेड पर रगड़ने लगी.

सेक्सी पिक्चर चोदा चोदी

वो एकदम चिहुँक कर बोली- उईई दैया … चाट ले मेरी चूत … आह्ह … चाटे ले इसको … ऊईई अम्मा … आह्ह मेरी चूत।उसके इस पागलपन को देख कर मैं भी उसकी चूत में मजा देते हुए उसकी चूत को अच्छे से चाटने लगा. तो मैंने देखा कि वो कपड़े पहन कर जाने को तैयार थी।मैंने थोड़ी देर रुक कर आराम करने को कहा तो किट्टू ने मना कर दिया और जाने लगी।तो मैंने किट्टू को एक आखरी बार होंठों पर किस्स किया और जाने दिया।तो दोस्तो, ये थी मेरी और किट्टू की पहली चुदाई की कहानी। इस तरह से मामा ने भानजी को चोदा!यूँ तो मुझे बाद में भी कई मौके मिले जब मैंने किट्टू की ताबड़तोड़ चुदाई की. मैंने सर उठा कर पूछा- जान क्या लगाया है?उसने नशीली आंखों से मेरी तरफ देखा और बोली- अच्छा लगा?मैंने कहा- हां बड़ा मस्त स्वाद है … क्या लगाया है?उसने कहा- ये अल्कोहल मिक्स वाली लिक्विड जैली है, जो मैंने अपनी बड़ी बहन से ली थी.

उसने मुझसे पूछा- सही क्यों नहीं है?मैंने कहा- रुमित … मुझे तुम पसंद हो, पर ईशिता तुमको पसंद करती है. कुछ देर मैं भाभी के चिकने पेट पर लेटा रहा और धीरे धीरे लण्ड को चलाता रहा. शीला ने उसे टॉवल पकड़ाया तो राजेश ने उसे अंदर खींच लिया और शावर के नीचे खड़ी कर लिया.

मैंने भी सोचा कि कहीं भाभी को पता लग गया तो वह मुझे आज ही बाहर निकाल देगी और सारा खेल खत्म हो जाएगा.

हमें सोफे पर परेशानी हो रही थी तो मैंने उसको बोला- चल बेडरूम में चलते हैं. हम भी तो मिलें आपके दोस्त से।बीवी की ख्वाहिश पर रमेश बोला- ठीक है, कोशिश करुँगा. मैंने सूंघा और कहा- यह बिलकुल नया जूता है … कोई अच्छे से पहना हुआ जूता हो तो वो लगाओ … बहनचोद जूते में पांव की सुगंध आने में टाइम लगता है.

सरोज ने अपनी टांगों को थोड़ा और फैला लिया जिससे मैं उसकी दोनों जाँघों के बीच खड़ा हो कर लंड को चूत में चलाने लगा. भाभी शादी की रस्में पूरी होने के बाद पूल के पास कुर्सी पर बैठे हुए अपने मोबाइल में आधे घंटे से खोयी हुयी थीं. अब भाभी ने एकदम अपने हाथ मेरी कमर के चारों तरफ कस लिए और बोली- राजा, जोर जोर से करो, बहुत जोर से करो, चोद दो मेरी चूत को, मेरी प्यास बुझा दो, करो … जोर … जोर … से … मैं जोर जोर से लंड अंदर- बाहर करने लगा.

जब आधे से ज्यादा खीरा मेरी चूत में चला गया तो भाभी मेरे ऊपर चढ़ गई और उन्होंने खीरे को अपनी चूत के ऊपरी भाग पर लगा कर मेरे ऊपर जोर डाला तो खीरा मेरी चूत की गर्म दीवारों को फैलाता हुआ पूरा अंदर जा घुसा और भाभी की जांघें मेरी जांघों पर पूरी बैठ गई जिससे हम दोनों की चूतें आपस में चिपक गई और मेरी आनंद से सीत्कार निकल गई. इस बार रेशमा बोल पड़ी- तुम तो बड़े खिलाड़ी निकले … जरा बाकियों के बारे में भी तो बताओ.

मैं भी ज़ोर ज़ोर से चिल्लाने लगी- आह चोदो मुझे … आह सर फ़क मी फास्ट प्लीज …कुछ देर की चुदाई के बाद उन्होंने मेरे गांड के छेद को खूब अच्छे से चाटा और मेरी दोनों टांगों को अपने कंधे पर रख कर लंड मेरी गांड में घुसाने लगे. मैं तेजी से उसकी बुर में उंगली कर रहा था, जिससे नीरजा की बुर ने पानी छोड़ दिया. जैसे ही उसका हाथ मेरी चूत से लगा, मेरे शरीर में करंट सा दौड़ गया और ना चाहते हुए भी मैं उसके बस में होती चली गयी.

इस दृश्य को देखकर मैं भी खुद को रोक न पाया और मैंने अपनी सौतेली बेटी की उस पैंटी पर अपना माल निकाल दिया जिसे मैं पूरे लाइव सेक्स चैट सेशन में अपने पास रखे हुए था.

अगले दिन सुबह मां के डिस्चार्ज हो जाने के बाद मुकेश भाभी और मां को लेकर जाने लगा, तो भाभी मुझे बहुत हसरत भरी नज़रों से देख रही थीं. और तू बेअक्ल, दिमाग से बिल्कुल खाली है क्या? तेरे को समझ नहीं आता कि तेरी ये जवान साली इस मौके का फायदा उठा कर तुझसे चुदवाना चाहती है. रुमित ने मुझसे पूछा- क्या सोच रही हो?मैंने कहा- यार एक लोचा हो गया.

फिर एक दिन उसने अपने पति के दोस्त और कुछ लोगों से अपनी चुदाई की भूख को शांत करवा लिया. मुझे बहुत से तरीके मिले जिससे कि एक इन्सान अपनी सेक्स लाइफ का पूरा मजा ले सकता है.

वो रस्सी खोलने की ज़िद मचाने लगी थी और चुदाई के लिए लगभग रोने सी लगी कि उसे दर्द हो रहा है. इस टीचर सेक्स स्टोरी के अगले भाग में मैं आपको अपने रंडी बनने की कहानी को आगे लिखूंगी. मैंने दो बार उनकी जमकर चुदाई की और सुबह के पांच बजे हम एक ही रजाई में एक दूसरे से लिपट कर सो गए.

सेक्सी कहानी चुदाई

उसके मुँह से इतना सुनकर मैं उसकी चुचियों को ब्रा के बाहर से चूमने और चूसने लगा.

कुछ ही मिनटों के बाद वो कार जोर जोर हिलने लगी और लगभग 20 मिनट तक हिलती ही रही. मैं तो कभी भी उनके होते हुए आपको ना तो मैसेज करूंगा और ना ही मिलूंगा. वो मेरे नंगे चुचे देख कर बोल उठा- सॉरी … सॉरी … आशना … तुम दोनों ने देर कर दी थी, तो मैं ऐसे ही घूम गया था.

प्रिय पाठक पाठिकाओ, उम्मीद है कि मेरी पिछली सभी कहानियों की तरह यह कहानी भी आपकी अपेक्षाओं पर खरी उतरी होगी और लड़की की सेक्सी घांड की कहानी पढ़ते हुए सबने अपनी अपनी रूचि अनुसार पूरा आनंद लिया होगा. मैंने अपनी लार को उसके लंड की शाफ्ट पर फैला दिया और उसको पूरा चिकना कर लिया. क्सक्सक्स मूवी वीडियोदेख मैंने कहा था ना मज़ा आयेगा … अभी देखे जा … कितना ज़्यादह मज़ा आने वाला है.

तब तक के लिए आप लोग अपने इस प्यारी हॉट चुदक्कड़ लेखिका को इजाजत दें. ए (प्रथम वर्ष) में ब्रा पहनना शुरू किया था।मेरे पड़ोस में एक लड़की रहती है, वो कक्षा नौ में पढ़ती है और उसकी ब्रा का साइज 32 सी है जबकि उसकी ये उम्र समीज पहनने की है बहुत मोटे स्तन हैं उसके।दोस्तो, हमारे यहां बन्दर आ जाते हैं और खाने पीने की चीजें या कपड़े इत्यादि ले जाते हैं.

पूरे कमरे मैं मानो बस फच फच की आवाज़ और सिसकारियों की आवाज ही आ रही थी. मम्मी की पतली सी कमर, सेक्सी नाभि और गीली हुई पड़ी माँ की चुत, जो रोशनी में चमक रही थी. इस रस से भरी ऎसी ही एक सेक्स कहानी का मजा आप मेरी पिछली कहानीरिसेप्शनिस्ट की कुंवारी चूत का भेदनपढ़ कर ले सकते हैं.

फिर सर ने मेरी शर्ट और ब्रा को उतार कर साइड में रख दिया और मेरी चुचियों को मुँह लगा कर पीने लगे. उसकी कामुक और उतावला कर देने वाली बातें जानकर और उसकी सेक्सी फोटो देख कर मेरी वासना भड़क गयी. उसकी लगभग 4 फुट की कच्ची दीवार थी जिसमें एक लकड़ी का छोटा सा गेट लगा था.

हां, आपके अमूल्य कमेंट्स की प्रतीक्षा रहेगी ताकि अगली कहानी में और सुधार ला सकूं.

फिर शांत होकर तय समय के अनुसार मैं 2 बजकर 15 मिनट पर उनके घर पहुंच गया. फिर मैंने लंड को सैट किया और एक ज़ोरदार धक्के से पूरा लंड चुत पेल दिया.

मैंने बाकी हसीनाओं से कहा- समय रहा तो मैं तुम सबके साथ भी समय बिताना चाहूंगा. वहां जाते ही उसने मुझे बिस्तर पर धक्का दिया और आकर मेरे ऊपर लेटकर मुझे किस करने लगा और मेरे बूब्स दबाने लगा. उन्होंने कहा- अरे मेरा प्यारा देवर नाराज हो गया … मैं तो मजाक कर रही थी.

किसी में क्लीवेज दिख रहा था, तो किसी में निकर में से उसकी चिकनी जांघें।मगर ये पिक्स मैं रोज़ रोज़ तो उसके मोबाइल पर देख नहीं सकता था. उसने मेरी पीठ को सोफे से सटा दिया और फिर मेरी जांघों को फैलाते हुए मेरी दोनों टांगों को खोल दिया. पायल अपनी सहेलियों के नाचने के लिए उकसाते हुए माहौल बनाने में लगी थी.

मुठ मारने वाला बीएफ निशा ने, जिसका कि मैं एक एक अंग चूम चुका था, बड़ा सा घूंघट लेकर मुझे नमस्ते कह कर बाहर वाले कमरे में बैठने को कहा. उसके साथ ही उसकी छोटी बेटी यानि कि सरोज की छोटी बहन गीतिका बैठी थी.

सेक्सी ब्लू पिक्चर हिंदी सेक्सी

वो मेरे लंड को हाथ में पकड़ कर बहुत सेक्सी अंदाज़ में लौड़ा चूसे जा रही थी. जैसे ही झुकी उस सेक्सी गर्ल की टीशर्ट के अंदर मुझे अंदर तक उसके बूब्स के दर्शन हो गये. और इस तपिश को मेरा लण्ड जैसे किसी पुरुस्कार की तरह ग्रहण कर रहा था।मेरे लण्ड ने भी किट्टू की चूत के सम्मान में अपना सारा माल उसकी चूत में भर दिया।किट्टू अपार दर्द और थकान से चूर जैसे वहीं पर ढेर सी हो गयी थी.

रात को 10 बजे करीब रवि नैन्सी के पास आया और बोला- आपने मुझे क्यों बुलाया था. मैंने धीरे से उनके चूतड़ों पर हाथ रखा और भाभी की तारीफ करते हुए बोला- भाभी, आप तो अपनी दोनों बेटियों से ज्यादा हॉट और सेक्सी हो. मुसलमानी सेक्सी वीडियो हिंदीएक बार मैंने अपनी ऑफिस अकाउंटेंट को दो मर्दों से कार में चुदती देखा.

लग रहा था कि इंद्रलोक की अप्सरा मेनका ने धरती पर अवतार लेकर जन्म लिया हो और जिसकी कामुकता और सुंदरता को मैं लफ़्ज़ों में बयां करना चाहूं तो शायद मेरे लफ्ज़ कम पड़ जाएं.

मैंने उसे पहले दिन से ही नोटिस करना शुरू कर दिया था और वो शुरू से ही मुझे घूर कर देखा करता था. आ गए! चलो अपना सामान निकाल लो और मसाज शुरू करो क्योंकि मुझे एक मीटिंग अटेंड करनी है, उसके लिए मुझे फ्रेश माइंड चाहिए और 5 बजे तक मुझे फ्री कर दो.

मैं- आंटी … क्या मैं आपकी ड्रेस को उठाकर आपकी गांड में लंड लगा लूं? चमड़ी से चमड़ी मिलेगी तो गर्मी अपने आप आ जायेगी. चुत चुदाई से पहले जीभ से चुदना तो मुझे बहुत पसन्द है … लेकिन इस समय मेरी चूत को जीभ की नहीं, मोटे लंड की जरूरत थी. संजय की उंगलियाँ गीत की चूत के अंदर बाहर हो रही थीं और गीत मज़े से तडप रही थी.

बस इतना बता दूं कि साली जी से लंड चुसवाने के बाद पूरे दम से उसकी चुदाई की फिर एक बार उसकी गांड मारने का भी मज़ा लिया.

नैन्सी ने फटाफट चूत साफ़ करी और फ्लश चला दिया और गाउन डाल कर बाहर आ गयी. मैंने महसूस किया तो पाया कि कोच सर बाकी लड़कियों के मुक़ाबले मुझ पर कुछ ज़्यादा ध्यान दे रहे थे. उसके बाद हम 69 की पोजीशन में आये और वो मेरे लंड को चूसने लगी, मैं उसकी चूत को चाटने लगा.

कामवाली बाई सेक्सीमैंने वैसे ही मीता के माथे को चूम लिया और धीरे से उसको अपने ऊपर से हटा कर बगल में लिटा दिया. जब वो आयी तो …अन्तर्वासना के सभी पाठकों का एक बार फिर से स्वागत है.

पॉर्न व्हिडिओस

उसके बाद मैंने उसकी टांगों को फैला दिया और उसकी गांड के छेद पर आसपास रगड़ा. वो चुदाई वाला प्यार नहीं … बल्कि देवर भाभी वाला स्नेह प्रेम!हाँ वो अलग बात है कि अब भाभी की झिझक और शर्म कम हो गयी है. अगर सैट हो जाती तो कसम से पूरी रात चोदता।भाभी को बस में उल्टियाँ होने लगती हैं.

पीछे से टाईट लोअर में से मेरी भरी हुई गांड भी एकदम मस्त दिख रही थी. वो मेरे लंड को हाथ में पकड़ कर बहुत सेक्सी अंदाज़ में लौड़ा चूसे जा रही थी. चूंकि घर पर मैं मेरे लोअर के नीचे अंडरवियर नहीं पहनता और मैं भी उस वक्त वैसे ही उठकर आ गया था, इसलिए उन तीनों को इतने छोटे और तंग कपड़ों में देखकर मेरा लण्ड हरकत करने लगा था.

मैं अपनी जीभ से रीना की चुत के दाने को चाटता, उसे जीभ की नोक से कुरेदता, अपने दोनों होंठों के बीच ले कर दाने को जोर से दबाकर खींचता हुआ मजा ले रहा था. मेरे मुँह से आई … आई … आई … भाभी जी क्या कर रही हो? यहां तो बहुत मजा आया. आंटी मुझे अपनी बांहों में समेटे हुए मेरे बालों को सहलाने लगीं … और मेरे माथे पर चूमने लगीं.

करीब दस मिनट तक हम दोनों के बीच कमसिन रंजु अपनी चूत और गांड बचाने की गुहार करती रही. मुझे यकीन है कि उन्होंने तुम्हारे साथ कोई जबरदस्ती नहीं की होगी, सब तुम्हारी मर्जी से हुआ होगा, है न?वानी उठ गयी और उसने अपनी चूत से लंड निकाल कर सामने की ओर मुंह कर लिया और दोबारा से चूत में लंड लेकर बैठ गयी.

मैंने उसकी भाषा को समझते हुए मन में सोचा कि अभी लंड और दारू का नशा ज्यादा चढ़कर बोल रहा है.

कुछ देर मुझे भींचे रहने के बाद भाभी ने मुझे ढीला छोड़ दिया और फिर हाथ से हल्के से धक्का देकर अपने ऊपर से उतरने का इशारा किया. देसी चुदाई इंडियनमेरी गर्लफ्रेंड की चुदाई की कहानीपहाड़ी पर खूबसूरत गर्लफ्रेंड का कौमार्य भंगको आप लोगों ने बहुत सराहा था. गुजराती एक्स एक्स एक्स वीडियोकुछ देर बैठे रहने के बाद वो लंड को चुत में लिए हुए कमर को गोल गोल घूमने लगी … जैसे चकिया का मूठा पकड़ कर गेहूँ पीस रही हो. वो मेरे लण्ड को सहलाते हुए बोली- आज का क्या प्लान है, आज क्या नया करोगे डार्लिंग?उसके इस अंदाज से मेरे पूरे शरीर में करंट दौड़ गया.

मुझे प्यास लगी तो मैं घर के पिछले दरवाजे से अंदर घुसा जो किचन में जाता था.

उसका ये कामुक अंदाज देख कर मैंने भी अपने तने हुए लंड को हाथ में ले लिया और मुठ मारने लगा. साथ ही मैं अपनी एक उंगली उसकी गर्म चूत के अन्दर बाहर भी करने लगा था. मैं इस समय एकदम से चूत का भूत बन गया था और उसकी चूत को जोर से चूसने में लगा था.

वो बार बार कॉल पर कॉल करती रही तो फिर आखिर में मुझे उसकी कॉल उठानी पड़ी. अगर मैं दिन में ये ड्रेस पहन कर निकलती, तो लोग मुझे देख कर छोड़ते ही नहीं. फिर हमने एक ही तौलिया अपने तन पर लपेट लिया और धीरे धीरे एक दूजे को चूमते चाटते हुए एक दूसरे के शरीर को पोंछा। इसके बाद मैंने उसे अपनी गोद में उठा लिया.

इंडियन सेक्सी चूत चुदाई

थोड़ी देर यूं ही उसके मम्मों से खेलने के बाद मैंने उसकी साड़ी पैरों से ऊपर पेट तक सरका दी. प्रीति ने कहा- मुझे ठंड लग रही है, यहां पर वोडका या विस्की मिल जायेगी?मैं बोला- तुम रुको, मैं अभी लेकर आता हूं. मैंने जाते ही पूछा- क्या हुआ?सरोज भाभी बोली- कुछ नहीं हुआ, पहले तुम बैठो.

2-3 मिनट के अंदर ही यूपीआई से पेमेंट हो गयी और एक मैसेज से पुष्टि के द्वारा चैट सेशन बुक हो गया.

भाभी ने मेरी टांगें चौड़ी की, मेरे मोटे पटों को थोड़ी देर सहलाया और जिस प्रकार से आदमी औरत को चोदता है उस पोजीशन में आकर अपनी चूत को मेरी चूत पर लभैंसा और रगड़ना शुरू कर दिया.

पर उसमें भी हमारा यानि कि ईशिता, रुमित, भार्गव, तुषार और मैं … हम पांच लोगों का अलग ही ग्रुप है. अपना एक पाँव मैंने बेड पर रखा और तिरछा हो कर भाभी की चूत में लंड पेलने लगा. ब्लू पिक्चर सेक्सी फिल्म वीडियोतू चुपचाप देखती रह बस।उसके बाद मैं उसके साथ खड़ा हो गया और बोला- ये तेरे बाल कितने सुनहरे हैं.

मुझे पता है कि मेरा बेटा अपनी मां की चुदाई करने में बहुत रुचि रखता है वरना वो रोज अपनी मां की पैंटी में अपना मुठ का माल नहीं निकालता। अपने लंड को मेरी चूत पर लगा दो बेटा, अब मैं गर्भवती नहीं हो सकती हूं. ये सोचकर मैंने ट्राइ मारने का फ़ैसला किया, लेकिन सलीके से … ताकि भाभी को बुरा ना लगे. मैं बेफिक्र नंगी लेटी थी, तो जल्दी से उठ कर बैठ गई और इधर उधर देखने लगी.

शर्मिष्ठा मुझे देखकर बहुत खुश हुई और उसने मेरी तबियत के बारे में पूछा. कई बार उसको बाहर के गंदे भैंसा मिल जाते हैं जिन्हें कोई बीमारी होती है, इसलिए पशुशाला में ही भैंसा रख लिया जाता है.

अगर तुम तैयार हो तो अभी वॉशरूम में जाओ और अपना अंडरवियर उतार कर मुझे लाकर दो.

मूत कर, अपना लंड अच्छे से धो कर आया।अंदर आकर देखा, लवी बिस्तर पर सीधी सो रही थी. वो धीरे से बोली- और पास आ जाओ फिर!उसका इतना कहना था कि मैंने उसके चेहरे को हाथ से ऊपर उठाया और उसकी गर्दन को पकड़ कर उसके होंठों को चूसना शुरू कर दिया. अब तो आप समझ ही गए होंगे कि वक्ष नोकदार ही था और नितम्ब भी काफी उभरा हुआ था.

नंगी चूची मेला ग्राउंड में दीवाली के करीब पन्द्रह बीस दिनों तक मेला भरता था, बाकी दिनों खाली पड़ा रहता. जीजू, मन कर रहा है कि एक बार और, फिर तो आज दीदी आ ही जायेंगी फिर करने को नहीं मिलेगा न!” साली जी कुछ दुखी स्वर में बोली.

मैं उठने लगा तो उसने मुझे बिस्तर पर गिरा दिया और पूरे बदन को चूमने लगी।मैंने उससे पूछा- मन नहीं भरा क्या?वो बोली- नहीं … जीजू।वो फिर से मेरे लंड को सहलाने लगी. भाभी जी मेरे पास आकर बेड पर बैठ गईं, तो मैंने उन्हें अपने बाजू में लिटा लिया. मेरी भी ज़िंदगी अब पहले से बेहतर हो गयी थी। फिर जब भी कभी बाज़ार से कोई सामान लाना होता तो मैं ड्राइवर के साथ जा कर ले आती.

एक्स एक्स हिंदी में सेक्सी

इस होम सेक्स में चुदाई का आलम ये था कि राजेश कि कभी आँख रात को तीन बजे भी खुल गयी और लंड अगर तन्ना रहा होता तो वो शीला को पकड़ लेता. निष्ठा की गांड में मेरा पूरा लंड समा चुका था और मैं धीरे धीरे लंड को अन्दर बाहर करते हुए उसकी गांड मारने लगा था. कई बार तो कोचिंग बंद रहती मगर वो जरूर आता।मैं समझ गई कि ये मुझे लाइन मारता है। उसकी निगाहें बस मेरी छत पर ही टिकी रहती थी।अपने जिस्म की आग से मजबूर मेरे अंदर भी उसके प्रति सुगबुगाहट होने लगी.

चाय पीने के बाद स्वरा कप किचन में रखकर वापस आई तो मैंने उससे पूछा- साफ सफाई और शैम्पू करने के बाद कैसा फील कर रही हो?अच्छा लग रहा है, खुद को कॉन्फीडेंट फील कर रही हूँ. पार्टी के लिए कोरमा का पहले से सुबह ही आर्डर दे दिया था, बस लेने जाना था व तंदूरी रोटियां भी लाना थीं.

कुछ ही देर में उससे बर्दाश्त नहीं हुआ तो नैना उछलते हुए गालियां देने लगी- मादरचोद आह … साले लंड क्यों पलता … भैन के लौड़े … आह और जोर से … आह आह … चोद न भोसड़ी के … आह मैं आज से तेरी रंडी, रखैल … सब कुछ हूं.

चूँकि सरोज का कद मुझसे काफी छोटा था इसलिए लण्ड चूत के क्लिटोरियस को बुरी तरह से रगड़ रहा था. मनजीत के गले और चूचियों पर ऐसे बीसों निशान बनाने के बाद मैंने मनजीत को पलटा दिया और उसकी गर्दन व पीठ पर ऐसे निशान बनाने लगा. धीरे-धीर हम एक दूसरे के करीब आने लगे। एक दिन उन्होंने अपनी एक इच्छा जताई.

मैं भी उनकी चुचियों को मसलकर बोला- अदिति, अब मेरा लंड सिर्फ तुम्हारा ही है. खुद मेरा और सलहज का सामान उठाने के लिए मैंने बस के स्टाफ को बोला कि यह सामान लेकर हमारे साथ आओ. दादी बोली- ये अब खस्सी हो गया है, बस ऐसे ही करता रहेगा, निक्कमा कहीं का.

हंसकर मैंने कहा- अच्छा मेरी जान जैसी मेरी मालकिन की आज्ञा … चल अब तेरी सील तोड़ ही देता हूँ.

मुठ मारने वाला बीएफ: और वो व्यक्ति उसका दलाल और वैभव की बातचीत से लग रहा था कि वो नियमित ग्राहक है. ” सानिया ने कहा तो जरूर पर मुझे लगता है अब यह दर्द उसके लिए असहनीय नहीं रहा है।मैंने उसके गालों और होंठों पर फिर से चुम्बन लिया और फिर उसकी बंद आँखों पर भी चुम्बन लिया। मेरे ऐसा करने से उसके शरीर में झनझनाहट सी होने लगी थी।सानू जान मेरी प्रियतमा … अपनी आँखें खोलो.

मैं अपनी लाइव बाप बेटी की चुदाई विडियो सेक्स चैट सेशन का अनुभव आपको बताना चाहता हूं. उसे कुछ तो करना पड़ेगा डैड को रोकने के लिए।सोच कर वो बोली- सेठ, मेरी चूत की कीमत ही सिर्फ दस हज़ार है. इस टीचर सेक्स स्टोरी के अगले भाग में मैं आपको अपने रंडी बनने की कहानी को आगे लिखूंगी.

तो सुनील ने कहा- क्यूँ डर रही हो? देखो दूर दूर तक सिर्फ खुला असामान ही तो है.

इसलिए कुछ लोग हम लोगों के पास आए और बोले- अगर आप लोगों को चुदना है … तो होटल जाकर चुदो ना. तभी उन्होंने मेरी टी-शर्ट के और अन्दर हाथ डाल दिया और पहले एक हाथ से मेरे मम्मे को पकड़ा और फिर दूसरे हाथ में भी थाम लिया. अनीता ने कहा- अच्छा वो तो रेशमा थी!मैंने कहा- नहीं, वो तो काव्या थी!अनीता ने तुरंत कहा- तुमने कैसा जाना?मैंने कहा- पहली बात तो उसकी हाइट कम है और धंधे में पहला दिन है … तो संकोच और हया का स्वाद भी उसके चुंबन में था.